Are you the publisher? Claim or contact us about this channel


Embed this content in your HTML

Search

Report adult content:

click to rate:

Account: (login)

More Channels


Channel Catalog


Channel Description:

This is my Real Life Story: Troubled Galaxy Destroyed Dreams. It is hightime that I should share my life with you all. So that something may be done to save this Galaxy. Please write to: bangasanskriti.sahityasammilani@gmail.comThis Blog is all about Black Untouchables,Indigenous, Aboriginal People worldwide, Refugees, Persecuted nationalities, Minorities and golbal RESISTANCE.

older | 1 | .... | 3 | 4 | (Page 5) | 6 | 7 | .... | 303 | newer

    0 0

    Foreign investors bond with India, close in on $5.5-billion T-bill quota

    Aparna Iyer | Mumbai | Updated: Feb 19 2014, 15:54 IST
    SUMMARYAt the weekly auction on Tuesday, the cut-off yield on the 91-day Treasury bill was even higher at 9.11%.
    At the weekly auction on Tuesday, the cut-off yield on the 91-day Treasury bill was even higher at 9.11%. Reuters

    dian bonds are once again a favourite with foreign institutional investors (FIIs). The first 11 sessions of February have seen FIIs buy $1.6 billion worth of bonds, a strong run rate, data from the Securities and Exchange Board of India (Sebi) show. The purchases come on the back of a net $2 billion in January.

    FIIs are, however, betting almost exclusively at the short end of the curve, snapping up high-yielding treasury bills; as on February 17, FIIs had exhausted 99% of the $5.5-billion investment limit in T-bills.

    “Much of the money into the bond market appears to be coming into the short-term bonds and treasury bills,” Ananth Narayan G, head, global markets, Standard Chartered Bank, told FE.

    The yield on treasury bills has been ruling at around 9% since January, while the yield on the most liquid benchmark 10-year 8.83%, 2023 government bond has been around 8.75% levels.

    At the weekly auction on Tuesday, the cut-off yield on the 91-day Treasury bill was even higher at 9.11%. Equally important, the one-month offshore non-deliverable forward (NDF) dollar/rupee premium has dropped to levels of 20-30 paise over the last 45 days. “It’s a low-risk arbitrage trade and, therefore, it may continue as long as offshore hedging is conducive,” said Hitendra Dave, head, global markets, HSBC.

    In the government bonds category, 76% of the $14.5-billion investment has been exhausted while in corporate bonds, FIIs hold a mere $14 billion out of the total available $51-billion limit.

    The Reserve Bank of India (RBI) has been making efforts to encourage more long-term money into the bond market. In January, the central bank had increased the investment limit for long-term foreign investors in government bonds by $5 billion to $10 billion, effectively reduced the limit available for short-term investments by the same margin. Last week, the RBI reduced the sub-limit of FII investment into short-term commercial paper by $1.5 billion.



    0 0

    P. Chidambaram slams Budget 2014 critics, says saved Indian economy

    SUMMARYP. Chidambaram swats away controversies, says powered economy, hints he may be next FM.
    Asked how he saw the reaction to his Budget that it is populist, P. Chidambaram shot back why should I react to the reaction in media. (PTI)

    "To put it plainly, over the last couple of years we are trying to do a rescue act like every other government in the world is doing. I am at pains to emphasise that we are not alone.

    "Every Finance Minister says that he is engaged in a rescue act. Therefore what I did in 2013 Budget and what I have proposed in the 2014 interim Budget must be seen as part of getting back growth when the economy in the world is fragile and I think we have succeeded in a fair measure," P. Chidambaram said in an exclusive interview here.

    He said the economy has "clawed back" to 4.4 per cent in Q1, 4.8 per cent in Q2 and going by the CSO's estimate a minimum of 5.2 per cent in Q3 and Q4 taken together for the half year is likely.

    "Very few countries have been able to do this over the last 18 months. Therefore while I am not entirely pleased with what we have been able to achieve, I must emphasise that we have achieved our goals in fair measure and going forward if the governments follow the 10-point agenda that I have laid down towards the end of my speech, we will get back to the high growth path," he said when asked how he would define his Budget.

    When told that his critics would say the problems in India are not only due to international situation, he said, "I did not say that either. But the problems in India and the problems in every country of the world are largely due to the international situation."

    P. Chidambaram acknowledged that in the past some stakes had been made.

    Asked what they were, P. Chidambaram referred to economist T N Srinivasan who had written a monograph which said the first stimulus package was perhaps necessary, but deeper analysis may have shown that the second and third stimulus packages were not necessary.

    "But that is a judgement he makes in hindsight. Given the circumstances then, given the data available then, a decision was taken to have three stimulus packages in succession.

    "There were clearly benefits out of the 3 packages. The growth rate was above 8 per cent. But the downside was that the fiscal deficit limits were breached and inflation went almost out of control. In hindsight some things are clear. But what human beings don't have is luxury of hindsight," he said.

    Asked what in hindsight went wrong, P. Chidambaram said, "In hindsight I would have said despite the slowdown, despite the threat of a slowdown perhaps we should have stuck to the fiscal consolidation path with only some minor or temporary relaxation. That is in hindsight."

    Asked what his successor would inherit, he said, "he will inherit an improved economy, a more stable economy and an economy that is growing. He will also inherit a world that is turbulent."

    Reacting to reactions to his vote on account budget, he said, "a vote on account is usually expected to be a non-event. But the reactions to the Budget mean that we must have done something to catch the imagination of both our supports as well as our critics. The points we have made in the Budget have gone home."

    P. Chidambaram said the points made in the Budget have not gone unnoticed. "I am pleased with the fact that the points that I have made have gone home. They have not gone unnoticed. The worst thing that can happen to either a politician or to an event is that it goes unnoticed."

    To a question on criticism of the money spent on subsidies, the Minister said it was a matter of political philosophy and one can debate why should there be subsidies.

    "But a vast majority of the people of the country nt food prices to be lower, want kerosene prices to be lower. And a political government is after all a government of the people and one has to respond to the demands of the people."

    Answering a query on the raising of the cap on supply of subsidised cooking gas (LPG) and whether it was guided by the demand raised by Congress vice president Rahul Gandhi, P. Chidambaram said there were demands from every section of Parliament.

    "You saw the clamour from every section of Parliament. You saw the clamour at AICC session. How do you simply brush aside or reject the demand of the people. After all they are the ones who elect you. No government descends from heaven and says I dont care for the wishes of the people," he said.

    When told that Gandhi made the demand in AICC, P. Chidambaram said, "The demand came from the floor."

    The government, he said, had raised the quota of subsidised cylinders from 6 to 9 in January last year without any AICC session because there were demands.

    "Because the government is a government of representatives of the people, represent what that people want and No government can say I will not pay heed to the demands of the people," he said.

    Asked about criticism that the excise duty relief had come in too late for the struggling sectors, the Minister said last year the principal challenge was winning investor confidence and reassuring analysts and rating agencies that "we are going to put the economy back on more stable foundations."

    So, he said, there was no room for any kind of tax concessions last year.

    However, recent data, specially of last 5 months "clearly points to a decline in manufacturing, capital goods and consumer durables. Once the data is available, we take action. I firmly believe, one must have data before one takes decisions," P. Chidambaram said.

    When told that critics say that he has left a "headache" for his successor, he said in a lighter vein "who knows, I may be my own successor."




    0 0

    अमरकांत जी के अवसान के बहाने बची हुई पृथ्वी की शोकगाथा

    पलाश विश्वास


    पृथ्वी अगर मुक्त बाजार संस्कृति से कहीं बची है तो इलाहाबाद में।पिछले दिनों हमारे फिल्मकार मित्र राजीव कुमार ने ऐसा कहा था। दूसरे फिल्मकार मित्र और उससे ज्यादा हमारे भाई संजय जोशी से जब उनकी पुश्तैनी सोमेश्वर घाटी पर फिल्म बनाने की बात कही हमने तो दिल्ली में बस गये संजू ने भी कहा कि उसका वजूद तो इलाहाबाद में ही रचा बसा है।


    मैं इलाहाबाद में 1979 में तीन महीने के लिए रहा और 1980 में दिल्ली चला गया।लेकिन इन तीन महीनों में ही इलाहाबाद के सांस्कृतिक साहित्यिक परिवार से शैलेश मटियानी जी,शेखर जोशी जी,अमरकांत जी,नरेश मेहता जी, नीलाभ, मंगलेश, वीरेनदा,रामजी राय,भैरव प्रसाद गुप्त और मार्कंडेय जी की अंतरंग आत्मीयता से जुड़ गया था।


    अमरकांत जी और भैरव प्रसाद गुप्त जी की वजह से माया प्रकाशन के लिए अनुवाद और मंगलेश के सौजन्य से अमृत प्रभात में लेखन मेरे इलाहाबाद ठहरने का एकमात्र जरिया था।


    मैं शेखर जोशी जी के 100 लूकर गंज स्थित आवास में रहा तो इलाहाबाद के तमाम साहित्यकारों से गाहे बगाहे मुलाकात हो जाती थी।


    भैरव जी,अमरकांत जी और मार्कंडेय जी के अलावा शैलेश जी के घर आना जाना लगा रहता था।यह आत्मीयता हमें छात्र जीवन में ही आदरणीय विष्णु प्रभाकर जी से नसीब हुई तो बाद में बाबा नागार्जुन और त्रिलोचन जी से।


    ये तमाम लोग और उनका साहित्य जनपद साहित्य की धरोहर है,जिसका नामोनिशान तक अब कहीं नहीं है।


    त्रिलोचन जी के निधन पर हमने लिखा था कि जनपद के ाखिरी महायोद्धा का निधन हो गया।तबभी अमरकांत जी थे।


    दूधनाथ सिंह की भी इस दुनिया में खास भूमिका रही है।इनके अलावा तो भी लूकरगंज मे ंही बसते थे।

    इलाहाबाद विश्विद्यालय में हिंदी में डा.रघुवंश और अंग्रेजी में डा. विजयदेव नारायण साही और डा. मानस मुकुल दास थे।अमृत प्रभात में मंगलेश को केंद्रित एक युवा साहित्यिक पत्रकार दुनिया अलग थी।


    अमृत राय की पत्रिका कहानी और महादेवी वर्मा की हिंदुस्तानी तब भी छप रही थीं।


    शैलेश जी विकल्प निकाल रहे थे तो मार्कंडेय जी कथा।


    दरअसल इलाहाबाद के साहित्यकारों को हमने नैनीताल मे ंविकल्प के माध्यम से ही जाना था।अमरकांत जी की कहानी,शायद जिंदगी ौर जोंक पहलीबार वहीं पढ़ा था।


    आज जो लिख रहा हूं अमरकांत जी के बारे में, यह भी अरसे से स्थगित लेखन है। मैं न साहित्यकार हूं और न आलोचक।साहित्य के क्षेत्र में दुस्साहसिक हस्तक्षेप हमारी औकात से बाहर है।


    लेकिन इलाहाबादी साहित्य केंद्र के नयी दिल्ली और भोपाल स्थानांतरित हो जाने के बावजूद जो लोग रच रहे थे, जिनमें हमारे इलाहाबाद प्रवास के दौरान तब भी जीवित महादेवी वर्मा भी शामिल हैं,उनके बारे में मैं कायदे से अब तक लिख ही नहीं पाया।

    शैलेश मटियानी के रचना संसार  पर लिखा जाना था,नही हो सका।


    शेखर जी के परिवार में होने के बावजूद उनके रचनाक्रम पर अब तक लिखा नहीं गया।


    हम अमृतलाल नागर और विष्णु प्रभाकर जी के साहित्य पर भी लिखना चाहते थे,जो हो न सका।


    दरअसल इलाहाबाद छोड़कर दिल्ली जाने के फैसले ने ही हमें साहित्य की दुनिया से हमेशा के लिए बेदखल कर गया। हम पत्रकारिता के हो गये।


    फौरी मुद्दे हमारे लिए ज्यादा अहम है और साहित्य के लिए अब हमारी कोई प्राथमिकता बची ही नहीं है।


    अंतरिम बजट से लेकर तेलांगना संकट ने इलाहाबादी साहित्यिक दुनिया के भूले बसरे जनपद को याद करने के लायक न छोड़ा हमें।


    वरना हम तो नैनीताल में इंटरमीडिेएड के जीआईसी जमाने से कुछ और सोचते रहे हैं। मोहन कपिलेश भोज का कहना था कि नये सिरे से लिखना और रचना ज्यादा जरुरी नहीं है, बल्कि जो कचरा जमा हो गया है,उसे साफ करने के लिए हमें सफाई कर्मी बनना चाहिए।


    इस महासंकल्प को हम लोग अमली जामा नहीं पहुंचा सकें।न मैं और न कपिलेश।फर्क यह है कि नौकरी से निजात पाने के बाद वह कविताएं रच रहा है और साहित्यिक दुनिया से अब हमारा कोई नाता नहीं है।


    आज जो भी कुछ लिखा रचा जा रहा है,उनमें से बहुचर्चित प्रतिष्ठित ज्यादातर चमकदार हिस्सा मुक्त बाजार के हक में ही है।


    साठ के दशक में स्वतंत्रता के नतीजों से हुए मोहभंग की वजह से जितने बहुआयामी साहित्यिक सांस्कृतिक आंदोलन साठ के दशक में हुए ,अन्यत्र शायद ही हुए होंगे।


    लेकिन धर्मवीर भारती, कमलेश्वर, रादेंद्रयादव, मोहन राकेश,ज्ञानरंजन से लेकर नामवर सिंह और केदारनाथ सिंह की बेजोड़ गिरोहबंदी की वजह से उस साहित्य का सिलसिलेवार मूल्यांकन हुआ ही नहीं।


    वह गिरोहबंदी आज संक्रामक है और पार्टीबद्ध भी।


    अमरकांत अब तक जी रहे थे, वह वैसे ही नहीं मालूम पड़ा जैसे नियमित काफी हाउस में बैठने वाले विष्णु प्रभाकर जी के जीने मरने से हिंदी दुनिया में कोई बड़ी हलचल नहीं हुई।


    वह तो लखनऊ में धुनि जमाये बैठे,भारतीय साहित्य के शायद सबसे बड़े किस्सागो अमृतलाल नागर जी थे,जो नये पुराने से बिना भेदभाव संपर्क रखते थे और इलाहाबाद से उपेंद्रनाथ अश्क भी यही करते थे।


    उनके बाद बाबा नागार्जुन और त्रिलोचन शास्त्री के बाद विष्णु चंद्र शर्मा ने दिल्ली की सादतपुर टीम के जरिये संवाद का कोना बचाये रखा।


    शलभ ने मध्य प्रदेश के विदिशा जैसे शहर से दिल्ली और भोपाल के विरुद्ध जंग जारी रखा।


    लेकिन इलाहाबाद तो नईदिल्ली और भोपाल से सत्तर के दशक में ही युद्ध हार गया और एकाधिकारवादी तत्व हिंदी में ही नहीं,पूरे भारतीय साहित्य में साहित्य अकादमी,ज्ञानपीठ, रंग बिरंगे पुरस्कारों,बाजारु पत्रिकाओं और सरकारी खरीद से चलने वाले प्रकाशन संस्थानों के जरिये छा गये।


    आलोचना बाकायदा मार्केटिंग हो गयी।


    साहित्य भी बाजार के माफिक प्रायोजित किया जाने लगा।हिंदी,मराठी और बांग्ला में जनपद साहित्य सिरे से गायब हो गये और जनपदों की आवाज बुलंद करने वाले लोग भी खो गये।


    अब भी जनपद इतिहास पर गंभीर काम कर रहे सुधीर विद्यार्थी और अनवर सुहैल जैसे लोग बरेली और मिर्जापुर जैसे कस्बों से साठ के दशक के जनपदों की याद दिलाते हैं।


    बांग्ला में यह फर्क सीधे दिखता है जब साठ के दशक के सुनील गंगोपाध्याय मृत्यु के बाद अब भी बांग्ला साहित्य और संस्कृति पर राज कर रहे हैं। माणिक बंद्योपाध्याय, समरेश बसु और ताराशंकर बंदोपाध्याय के अलावा तमाम पीढ़ियां गायब हो गयी और बांग्ला साहित्य और संस्कृति में एकमेव कोलकातावर्चस्व के अलावा कोई जनपद नहीं है।हिंदी में डिटो वही हुआ। हो रहा है।


    मराठी में थोड़ी बेहतर हालत है क्योंकि वहा मुंबई के अर्थ जागतिक वर्चस्व के बावजूद पुणे और नागपुर का वजूद बना हुआ है। शोलापुर कोल्हापुर की आवाजें सुनायी पड़ती हैं तो मराठी संसार में कर्नाटकी गुलबर्गा से लेकर मुक्तिबोध के राजनंद गांव समेत मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात,राजस्थान, गोवा तक की मराठी खुशबू है।


    जनपदों के सिंहद्वार से ही कोई अचरज नहीं कि मराठी में ही दया पवार और नामदेव धसाल की अगुवाई में भारतीय दलित साहित्य का महाविस्फोट हो सका।


    हिंदी में दलित साहित्य का विस्तार उस तरह भी नहीं हो सका जैसे पंजाबी में।


    बांग्ला में तो खैर जनपदीय साहित्यिक भूगोल के सिरे से गायब हो जाने के कारण सही मायने में दलित साहित्य का कोई वजूद है ही नहीं।


    जनपदों का महत्व जानना हो तो दक्षिण भारतीय भाषाओं में खासकर तमिल, कन्नड़ और तेलुगु के साहित्य संसार को देशना चाहिए जहां हर जनपद साहित्य और सस्कृति के स्वशासित केंद्र हैं।


    ओड़िया और असमिया से लेकर मणिपुरी और डोगरी तक मे ंयह केंद्रीयकरण और बाजारु स्वाभाव नहीं है ,न कभी था।


    यह फर्क क्या है ,उसे इसतरह से समझ लें कि बिहार में बांगाल साहित्य का कभी बड़ा केंद्र रहा है।विभूति भूषण,सुबोध राय,सतीनाथ भादुड़ी से लेकर शरत तक का बिहार से नाता रहा है।


    अब भी बिहार और झारखंड से लेकर त्रिपुरा और भारत के दूसरे राज्यों में भी बांग्ला में रचनाकर्म जारी है लेकिन कोलकतिया साहित्य उनकी नोटिस ली ही नहीं जाती।


    इतना वर्चस्ववादी है बांग्ला का पश्चिमबंगीय साहित्य। दूसरी भारतीय भाषाओं की क्या कहे जहां बांग्ला जनपदों तक की कोई सुनवाई नहीं है।


    इसके विपरीत बांग्लादेशी साहित्य पूरी तरह विकेंद्रित है।


    जहां हर जनपद की आवाज रुप रंग रस के साथ मौजूद है।जहां हर बोली में उत्कृष्ट साहित्य लिखा जा रहा है।


    जो देश भाषा के नाम पर बना जहां बांग्लाभाषा के नाम पर लाखों लोगों ने कुर्बानी दी और आज भी दे रहे हैं,वहां बांग्ला नागरिक समाज तमाम आदिवासी भाषाओं को मान्यता दिलाने की लड़ाई लड़ रहे हैं जबकि हमारे विश्व विद्यालयों से लेकर विश्व पुस्तक मेले तक में आदिवासी भाषा और साहित्य के प्रति कोई ममत्व नहीं है।


    जनपदीय साहित्य के कारण ही बंगाल में सहबाग आंदोलन संभव है क्योंकि कट्टरपंथ के विरुद्ध वहा ंके साहित्यकार,पत्रकार और बुद्धिजीवी जब तब न सिर्फ सड़कों पर होते हैं, न सिर्फ आंदोलन करते हैं बल्कि अपनी जान की कुर्बानी करने को तैयार होते हैं।


    शायद इस महादेश के सबसे बड़े कथाकार अख्तराज्जुमान इलियस का समूचा लेखन ही जनपद साहित्य है।


    भारत में जनपदों के ध्वंस,कृषिजीवी समाज,अर्थव्यवस्था,प्रकृति और पर्यावरण की हत्यारी मुक्तबाजार  की संस्कुति ही रचनात्मकता का मुख्य स्वर बन गया है ौर इसके लिए भारतीय भाषाओं के तमाम साहित्यकार,पत्रकार, शिक्षक और बुद्धिजीवी समान रुप से जिम्मेदार हैं।हम हिंदी समाज का महिमामंडन कर रहे होते हैं हिंदी समाज के लोक,मुहावरों और विरासत को तिलाजलि देते हुए। हमने हमेशा दिल्ली,मुबंई और भोपाल के तिलिस्म को तरजीह दी और जनपदों के श्वेत श्याम चित्रों का सिरे से ध्वंस कर दिया है।


    राजनीति अगर इस महाविध्वंस का पहला मुरजिम है तो उस जुर्म में साहित्यिक सांस्कृतिक दुनिया के खिलाफ भी कहीं न कहीं कोई एफआईआर दर्ज होना चाहिए।


    बाबासाहेब अंबेडकर ने कहा है कि पढ़े लिखे लोगों ने सबसे बड़ा धोखा दिया है। मौजूदा भारतीय परिदृश्य में रोज खंडित विखंडित हो रहे देश के लहूलुहान भूगोल और इतिहास के हर प्रसंग,हर संदर्भ और हर मुद्दे के सिलसिले में यह सबसे नंगा सच है,जिसका समाना हमें करना ही चाहिेए।


    हमारे मित्र आनंद तेलतुंबड़े से आईआईटी खड़गपुर में हैं और उनसे निरंतर संवाद जारी है।इसी संवाद में हम दोनों में इस मुद्दे पर सहमति हो गयी कि पढ़े लिखे संपन्न लोगों ने नाम और ख्याति के लिए अंधाधुंध जिस जनविरोधी साहित्य का निर्माण किया और मीडिया में जो मिथ्या भ्रामक सूचनाएं दी जाती हैं,और उनका जो असर है, उसके चलते देश जोड़ो असंभव है और देश बेचो ब्रिगेड इतना निरंकुश है और इस तरह के भ्रामक रचनाकर्म और सूचनाओं से रोज ब रोज मजबूत हो रहा है जनसंहारक तिलिस्म।


    नयी शुरुआत से पहले इस ट्रैश डिब्बे की सफाई और साहित्य सांस्कतिक संदर्भो,विधाओं और माध्यमों को, सौंदर्यशास्तत्र को वाइरस मुक्त करने के लिए रिफर्मैट करना अहम कार्यभार है।


    सहित्य में जनपदों के सफाये की शोकगाथा इलाहाबाद के ध्वंस के साथ शुरु हुई। अमरकांत जी का अवसान उनके कृतित्व व्यक्तित्व की विवेचना से अधिक इसी सच के सिलसिले में ज्यादा प्रासगिक है।


    हिंदी का बाजारवाद का मतलब यह था कि प्रेमचंद के बजाय हिंदी दुनिया शरत चंद्र को पलक पांवड़े पर बैठाये रखा,निराला और हजारी प्रसाद द्विवेदी का मूल्यांकन रवींद्र छाया मे ंहोता रहा और अमडत लाल नागर को ताराशंकर के मुकाबले कोई भाव नहीं दिया गया।


    बल्कि हुआ यह भी बांग्ला में जिन दो बड़े बाजारु साहित्यकार शंकर और विमल मित्र को गंभीर साहित्य कभी नहीं माना गया, उन्हीं को हिंदीवालों ने सर माथे पर बैठाये रखा जबकि महाश्वेतादी और नवारुण भट्टाचार्य के अलावा हिंदी साहित्य की चर्चा तक करने वाला बंगाल में कोई तीसरा महत्वपूर्ण नाम है ही नहीं।


    अमरकांत जी के अवसान  के बाद दरअसल ध्वस्त जनपदों की यह शोकगाथा है,जिसमें इलाहाबाद का अवसान सबसे पहले हुआ।काशी विद्यापीठ के बहाने काशी फिरभी जीने का आभास देती रही है।इसी वजह से हिंदी दुनिया को अमरकांत जी के अवसान के बाद साठ दशक के बाद शायद पहलीबार मालूम चला कि वे जी रहे थे और लिख भी रहे थे।


    अमरकांत जी पर लिखना विलंबित हुआ और लिख भी तब रहा हूं जबकि आज शाम ही दिल्ली से तहेरे भाई अरुण ने फोन पर सूचना दी की हमारी सबसे बड़ी दीदी मीरा दीदी के दूसरे बेटे सुशांत का निधन भुवाली सेनेटोरियम में हो गया और अभी वे लोग अस्पताल नही ंपहुंच पाये हैं।


    बचपन में हमारी अभिभावकमीरा दीदी को फोन लगाया तो संगीता सुबक रही थीं।

    उसके विवाह की सूचना देते हुए उसके पिता हमारे सबसे बड़े भांजे शेखर ने फोन पर धमकी दी थी कि अबके नहीं आये तो फिर कभी मुलाकात नहीं होगी।


    बेटी के विवाह के तीन महीने बीतते न बीतते सर्दी की एकरात बिजनौर दिल्ली रोड पर मोटरसाईकिल से जाते हुए सुनसान राजमार्ग पर ट्रक ने उसे कुचल दिया और समय पर इलाज न होने की वजह से उसका निधन  हो गया।


    संगीता को अपने चाचा के निधन पर अपने पिता की भी याद आयी होगी।


    हमें तो अपने भांजे की मृत्यु को शोक इलाहाबाद के शोक में स्थानांतरित नजर आ रहा है।


    पद्दोलोचन ने दो दिन  पहले ही फोन पर आगाह कर दिया था। इसलिए इस मौत को आकस्मिक भी नहीं कह सकते।


    आज ही पहाड़ से तमाम लोग भास्कर उप्रेती के साथ घर आये थे। आज ही राजेंद्र धस्माना से भाई की लंबी बात हुई है। जनपदों की आवाजों के मध्य हम बंद गली में कैद हैं और उन आवाजों के जवाब में कुछ कहने की हालत में भी नहीं हैं।


    पद्दो ने याद दिलाया कि करीब पैंतीस साल पहले प्रकाश झा ने गोविंद बल्लभ पंत पर दूरदर्शन के लिए फिल्म बनायी थी,जिसकी शूटिंग बसंतीपुर में भी हुई।पिताजी हमेशा की तरह बाहर थे,लेकिन उस फिल्म में बंसंतीपुर के लोग और हमारे ताउजी भी थे।


    जनपद हमारे मध्य हैं लेकिन हम जनपदों में होने का सच खारिज करते रहेते हैं जैसे हम खारिज करते जा रहे हैं जनपद और अपना वजूद।

    Unlike·  · Share· 4 hours ago·

    BBC Hindi

    प्रेमचंद की परंपरा के हिंदी कहानीकार अमरकांत का आज निधन हो गया. उन्हें ज्ञानपीठ, साहित्य अकादमी, सोवियत लैंड नेहरू और व्यास सम्मान जैसे कई पुरस्कार मिले थे. पढ़िए पूरी ख़बर

    http://bbc.in/1gb7LcB

    Like·  · Share· 5573856· 2 hours ago·

    निधन 15 फरवरी पर यही होगी सच्ची श्रद्धांजलि

    अगर आप सच में हमारे समय के महत्वपूर्ण कथाकार अमरकांत को हमेशा के लिए अपना बनाए रखना चाहते हैं तो एक उनकी एक कालजयी कहानी 'डिप्टी कलेक्टरी' जरूर पढ़िए। बेरोजगारों के फ़ौज वाले इस देश में बेटों के कन्धों पर बेहतरी के सपने लादकर मां -बाप कैसे सवार होते हैं और उनमें से ज्यादातर की नियति क्या होती है, उसका विवरण पढ़ आप खुद कहेंगे कि सच में अमरकांत सदी के साहित्यकार हैं.…


    डिप्टी कलेक्टरी

    शकलदीप बाबू कहीं एक घंटे बाद वापस लौटे। घर में प्रवेश करने के पूर्व उन्होंने ओसारे के कमरे में झाँका, कोई भी मुवक्किल नहीं था और मुहर्रिर साहब भी गायब थे। वह भीतर चले गए और अपने कमरे के सामने ओसारे में खड़े होकर बंदर की भाँति आँखे मलका-मलकाकर उन्होंने रसोईघर की ओर देखा। उनकी पत्नी जमुना, चैके के पास पीढ़े पर बैठी होंठ-पर-होंठ दबाये मुँह फुलाए तरकारी काट रही थी। वह मंद-मंद मुस्कुराते हुए अपनी पत्नी के पास चले गए। उनके मुख पर असाधारण संतोष, विश्वास एवं उत्साह का भाव अंकित था। एक घंटे पूर्व ऐसी बात नही थी।


    बात इस प्रकार आरंभ हुई। शकलदीप बाबू सबेरे दातौन-कुल्ला करने के बाद अपने कमरे में बैठे ही थे कि जमुना ने एक तश्तरी में दो जलेबियाँ नाश्ते के लिए सामने रख दीं। वह बिना कुछ बोले जलपान करने लगे।

    जमुना पहले तो एक-आध मिनट चुप रही। फिर पति के मुख की ओर उड़ती नज़र से देखने के बाद उसने बात छेड़ी, "दो-तीन दिन से बबुआ बहुत उदास रहते हैं।"


    "क्या?"सिर उठाकर शकलदीप बाबू ने पूछा और उनकी भौंहे तन गईं। जमुना ने व्यर्थ में मुस्कराते हुए कहा, "कल बोले, इस साल डिप्टी-कलक्टरी की बहुत-सी जगहें हैं, पर बाबूजी से कहते डर लगता है। कह रहे थे, दो-चार दिन में फीस भेजने की तारीख बीत जाएगी।"


    शकलदीप बाबू का बड़ा लड़का नारायण, घर में बबुआ के नाम से ही पुकारा जाता था। उम्र उसकी लगभग 24 वर्ष की थी। पिछले तीन-चार साल से बहुत-सी परीक्षाओं में बैठने, एम०एल०ए० लोगों के दरवाजों के चक्कर लगाने तथा और भी उल्टे-सीधे फन इस्तेमाल करने के बावजूद उसको अब तक कोई नौकरी नहीं मिल सकी थी। दो बार डिप्टी-कलक्टरी के इम्तहान में भी वह बैठ चुका था, पर दुर्भाग्य! अब एक अवसर उसे और मिलना था, जिसको वह छोड़ना न चाहता था, और उसे विश्वास था कि चूँकि जगहें काफी हैं और वह अबकी जी-जान से परिश्रम करेगा, इसलिए बहुत संभव है कि वह ले लिया जाए।


    शकलदीप बाबू मुख्तार थे। लेकिन इधर डेढ़-दो साल से मुख्तारी की गाड़ी उनके चलाए न चलती थी। बुढ़ौती के कारण अब उनकी आवाज़ में न वह तड़प रह गई थी, न शरीर में वह ताकत और न चाल में वह अकड़, इसलिए मुवक्किल उनके यहाँ कम ही पहुँचते। कुछ तो आकर भी भड़क जाते। इस हालत में वह राम का नाम लेकर कचहरी जाते, अक्सर कुछ पा जाते, जिससे दोनों जून चौका-चूल्हा चल जाता।


    जमुना की बात सुनकर वह एकदम बिगड़ गए। क्रोध से उनका मुँह विकृत हो गया और वह सिर को झटकते हुए, कटाह कुकुर की तरह बोले, "तो मैं क्या करूँ? मैं तो हैरान-परेशान हो गया हूँ। तुम लोग मेरी जान लेने पर तुले हुए हो। साफ-साफ सुन लो, मैं तीन बार कहता हूँ, मुझसे नहीं होगा, मुझसे नहीं होगा, मुझसे नहीं होगा।"

    जमुना कुछ न बोली, क्योंकि वह जानती थी कि पति का क्रोध करना स्वाभाविक है।


    शकलदीप बाबू एक-दो क्षण चुप रहे, फिर दाएँ हाथ को ऊपर-नीचे नचाते हुए बोले, "फिर इसकी गारंटी ही क्या है कि इस दफ़े बाबू साहब ले ही लिए जाएँगे? मामूली ए०जी० ऑफिस की क्लर्की में तो पूछे नहीं गए, डिप्टी-कलक्टरी में कौन पूछेगा? आप में क्या खूबी है, साहब कि आप डिप्टी-कलक्टर हो ही जाएँगे? थर्ड क्लास बी०ए० आप हैं, चौबीसों घंटे मटरगश्ती आप करते हैं, दिन-रात सिगरेट आप फूँकते हैं। आप में कौन-से सुर्खाब के पर लगे हैं? बड़े-बड़े बह गए, गदहा पूछे कितना पानी! फिर करम-करम की बात होती है। भाई, समझ लो, तुम्हारे करम में नौकरी लिखी ही नहीं। अरे हाँ, अगर सभी कुकुर काशी ही सेवेंगे तो हँडिया कौन चाटेगा? डिप्टी-कलक्टरी, डिप्टी-कलक्टरी! सच पूछो, तो डिप्टी-कलक्टरी नाम से मुझे घृणा हो गई है!"

    और होंठ बिचक गए।


    जमुना ने अब मृदु स्वर में उनके कथन का प्रतिवाद किया, "ऐसी कुभाषा मुँह से नहीं निकालनी चाहिए। हमारे लड़के में दोष ही कौन-सा है? लाखों में एक है। सब्र की सौ धार, मेरा तो दिल कहता है इस बार बबुआ ज़रूर ले लिए जाएँगे। फिर पहली भूख-प्यास का लड़का है, माँ-बाप का सुख तो जानता ही नहीं। इतना भी नहीं होगा, तो उसका दिल टूट जाएगा। यों ही न मालूम क्यों हमेशा उदास रहता है, ठीक से खाता-पीता नहीं, ठीक से बोलता नहीं, पहले की तरह गाता-गुनगुनाता नहीं। न मालूम मेरे लाड़ले को क्या हो गया है।"अंत में उसका गला भर आया और वह दूसरी ओर मुँह करके आँखों में आए आँसुओं को रोकने का प्रयास करने लगी।


    जमुना को रोते हुए देखकर शकलदीप बाबू आपे से बाहर हो गए। क्रोध तथा व्यंग से मुँह चिढ़ाते हुए बोले, "लड़का है तो लेकर चाटो! सारी खुराफ़ात की जड़ तुम ही हो, और कोई नहीं! तुम मुझे ज़िंदा रहने देना नहीं चाहतीं, जिस दिन मेरी जान निकलेगी, तुम्हारी छाती ठंडी होगी!"वह हाँफ़ने लगे। उन्होंने जमुना पर निर्दयतापूर्वक ऐसा जबरदस्त आरोप किया था, जिसे वह सह न सकी। रोती हुई बोली, "अच्छी बात है, अगर मैं सारी खुराफ़ात की जड़ हूँ तो मैं कमीनी की बच्ची, जो आज से कोई बात..."रुलाई के मारे वह आगे न बोल सकी और तेज़ी से कमरे से बाहर निकल गई।


    शकलदीप बाबू कुछ नहीं बोले, बल्कि वहीं बैठे रहे। मुँह उनका तना हुआ था और गर्दन टेढ़ी हो गई थी। एक-आध मिनट तक उसी तरह बैठे रहने के पश्चात वह ज़मीन पर पड़े अख़बार के एक फटे-पुराने टुकड़े को उठाकर इस तल्लीनता से पढ़ने लगे, जैसे कुछ भी न हुआ हो।


    लगभग पंद्रह-बीस मिनट तक वह उसी तरह पढ़ते रहे। फिर अचानक उठ खड़े हुए। उन्होंने लुंगी की तरह लिपटी धोती को खोलकर ठीक से पहन लिया और ऊपर से अपना पारसी कोट डाल लिया, जो कुछ मैला हो गया था और जिसमें दो चिप्पयाँ लगी थीं, और पुराना पंप शू पहन, हाथ में छड़ी ले, एक-दो बार खाँसकर बाहर निकल गए।


    पति की बात से जमुना के हृदय को गहरा आघात पहुँचा था। शकलदीप बाबू को बाहर जाते हुए उसने देखा, पर वह कुछ नहीं बोली। वह मुँह फुलाए चुपचाप घर के अटरम-सटरम काम करती रही। और एक घंटे बाद भी जब शकलदीप बाबू बाहर से लौट उसके पास आकर खड़े हुए, तब भी वह कुछ न बोली, चुपचाप तरकारी काटती रही।


    शकलदीप बाबू ने खाँसकर कहा, "सुनती हो, यह डेढ़ सौ रुपए रख लो। करीब सौ रुपए बबुआ की फीस में लगेंगे और पचास रुपए अलग रख देना, कोई और काम आ पडे।"


    जमुना ने हाथ बढ़ाकर रुपए तो अवश्य ले लिए, पर अब भी कुछ नहीं बोली।


    लेकिन शकलदीप बाबू अत्यधिक प्रसन्न थे और उन्होंने उत्साहपूर्ण आवाज में कहा, "सौ रुपए बबुआ को दे देना, आज ही फ़ीस भेज दें। होंगे, ज़रूर होंगे,बबुआ डिप्टी-कलक्टर अवश्य होंगे। कोई कारण ही नहीं कि वह न लिए जाएँ। लड़के के जेहन में कोई खराबी थोड़े है। राम-राम!... नहीं, चिंता की कोई बात नहीं। नारायण जी इस बार भगवान की कृपा से डिप्टी-कलक्टर अवश्य होंगे।"


    जमुना अब भी चुप रही और रुपयों को ट्रंक में रखने के लिए उठकर अपने कमरे में चली गई।


    शकलदीप बाबू अपने कमरे की ओर लौट पड़े। पर कुछ दूर जाकर फिर घूम पड़े और जिस कमरे में जमुना गई थी, उसके दरवाज़े के सामने आकर खड़े हो गए और जमुना को ट्रंक में रुपए बंद करते हुए देखते रहे। फिर बोले,"गलती किसी की नहीं। सारा दोष तो मेरा है। देखो न, मैं बाप होकर कहता हूँ कि लड़का नाकाबिल है! नहीं, नहीं, सारी खुराफ़ात की जड़ मैं ही हूँ, और कोई नहीं।"


    एक-दो क्षण वह खड़े रहे, लेकिन तब भी जमुना ने कोई उत्तर नहीं दिया तो कमरे में जाकर वह अपने कपड़े उतारने लगे।


    नारायण ने उसी दिन डिप्टी-कलक्टरी की फीस तथा फार्म भेज दिये।


    दूसरे दिन आदत के खिलाफ प्रातःकाल ही शकलदीप बाबू की नींद उचट गई। वह हड़बड़ाकर आँखें मलते हुए उठ खड़े हुए और बाहर ओसारे में आकर चारों ओर देखने लगे। घर के सभी लोग निद्रा में निमग्न थे। सोए हुए लोगों की साँसों की आवाज और मच्छरों की भनभन सुनाई दे रही थी। चारों ओर अँधेरा था। लेकिन बाहर के कमरे से धीमी रोशनी आ रही थी। शकलदीप बाबू चौंक पड़े और पैरों को दबाए कमरे की ओर बढ़े।


    उनकी उम्र पचास के ऊपर होगी। वह गोरे, नाटे और दुबले-पतले थे। उनके मुख पर अनगिनत रेखाओं का जाल बुना था और उनकी बाँहों तथा गर्दन पर चमड़े झूल रहे थे।


    दरवाजे के पास पहुँचकर, उन्होंने पंजे के बल खड़े हो, होंठ दबाकर कमरे के अंदर झाँका। उनका लड़का नारायण मेज पर रखी लालटेन के सामने सिर झुकाए ध्यानपूर्वक कुछ पढ़ रहा था। शकलदीप बाबू कुछ देर तक आँखों को साश्चर्य फैलाकर अपने लड़के को देखते रहे, जैसे किसी आनंददायी रहस्य का उन्होंने अचानक पता लगा लिया हो। फिर वह चुपचाप धीरे-से पीछे हट गए और वहीं खड़े होकर ज़रा मुस्कराए और फिर दबे पाँव धीरे-धीरे वापस लौटे और अपने कमरे के सामने ओसारे के किनारे खड़े होकर आसमान को उत्सुकतापूर्वक निहारने लगे।


    उनकी आदत छह, साढ़े छह बजे से पहले उठने की नहीं थी। लेकिन आज उठ गए थे, तो मन अप्रसन्न नहीं हुआ। आसमान में तारे अब भी चटक दिखाई दे रहे थे, और बाहर के पेड़ों को हिलाती हुई और खपड़े को स्पर्श करके आँगन में न मालूम किस दिशा से आती जाती हवा उनको आनंदित एवं उत्साहित कर रही थी। वह पुनः मुस्करा पड़े और उन्होंने धीरे-से फुसफुसाया, "चलो, अच्छा ही है।"


    और अचानक उनमें न मालूम कहाँ का उत्साह आ गया। उन्होंने उसी समय ही दातौन करना शुरू कर दिया। इन कार्यों से निबटने के बाद भी अँधेरा ही रहा, तो बाल्टी में पानी भरा और उसे गुसलखाने में ले जाकर स्नान करने लगे। स्नान से निवृत्त होकर जब वह बाहर निकले, तो उनके शरीर में एक अपूर्व ताजगी तथा मन में एक अवर्णनीय उत्साह था।


    यद्यपि उन्होंने अपने सभी कार्य चुपचाप करने की कोशिश की थी, तो भी देह दुर्बल होने के कारण कुछ खटपट हो गई, जिसके परिणामस्वरूप उनकी पत्नी की नींद खुल गई। जमुना को तो पहले चोर-वोर का संदेह हुआ, लेकिन उसने झटपट आकर जब देखा, तो आश्चर्यचकित हो गई। शकलदीप बाबू आँगन में खड़े-खड़े आकाश को निहार रहे थे।


    जमुना ने चिंतातुर स्वर में कहा, "इतनी जल्दी स्नान की जरूरत क्या थी? इतना सबेरे तो कभी भी नहीं उठा जाया जाता था? कुछ हो-हवा गया, तो?"


    शकलदीप बाबू झेंप गए। झूठी हँसी हँसते हुए बोले, "धीरे-धीरे बोलो, भाई, बबुआ पढ़ रहे हैं।"


    जमुना बिगड़ गई, "धीरे-धीरे क्यों बोलूँ, इसी लच्छन से परसाल बीमार पड़ जाया गया था।"


    शकलदीप बाबू को आशंका हुई कि इस तरह बातचीत करने से तकरार बढ़ जाएगा, शोर-शराबा होगा, इसलिए उन्होंने पत्नी की बात का कोई उत्तर नहीं दिया। वह पीछे घूम पड़े और अपने कमरे में आकर लालटेन जलाकर चुपचाप रामायण का पाठ करने लगे।


    पूजा समाप्त करके जब वह उठे, तो उजाला हो गया था। वह कमरे से बाहर निकल आए। घर के बड़े लोग तो जाग गए थे, पर बच्चे अभी तक सोए थे। जमुना भंडार-घर में कुछ खटर-पटर कर रही थी। शकलदीप बाबू ताड़ गए और वह भंडार-घर के दरवाजे के सामने खड़े हो गए और कमर पर दोनों हाथ रखकर कुतूहल के साथ अपनी पत्नी को कुंडे में से चावल निकालते हुए देखते रहे।


    कुछ देर बाद उन्होंने प्रश्न किया, "नारायण की अम्मा, आजकल तुम्हारा पूजा-पाठ नहीं होता क्या?"और झेंपकर वह मुस्कराए।


    शकलदीप बाबू इसके पूर्व सदा राधास्वामियों पर बिगड़ते थे और मौका-बेमौका उनकी कड़ी आलोचना भी करते थे। इसको लेकर औरतों में कभी-कभी रोना-पीटना तक भी हो जाता था। इसलिए आज भी जब शकलदीप बाबू ने पूजा-पाठ की बात की, तो जमुना ने समझा कि वह व्यंग कर रहे हैं। उसने भी प्रत्युत्तर दिया, "हम लोगों को पूजा-पाठ से क्या मतलब? हमको तो नरक में ही जाना है। जिनको सरग जाना हो, वह करें!"


    "लो बिगड़ गईं,"शकलदीप बाबू मंद-मंद मुस्कराते हुए झट-से बोले, "अरे, मैं मजाक थोड़े कर रहा था! मैं बड़ी गलती पर था, राधास्वामी तो बड़े प्रभावशाली देवता हैं।"


    जमुना को राधास्वामी को देवता कहना बहुत बुरा लगा और वह तिनककर बोली, "राधास्वामी को देवता कहते हैं? वह तो परमपिता परमेसर हैं, उनका लोक सबसे ऊपर है, उसके नीचे ही ब्रह्मा, विष्णु और महेश के लोक आते हैं।"


    "ठीक है, ठीक है, लेकिन कुछ पूजा-पाठ भी करोगी? सुनते हैं सच्चे मन से राधास्वामी की पूजा करने से सभी मनोरथ सिद्ध हो जाते हैं।"शकलदीप बाबू उत्तर देकर काँपते होंठों में मुस्कराने लगे।


    जमुना ने पुनः भुल-सुधार किया, "इसमें दिखाना थोड़े होता है; मन में नाम ले लिया जाता है। सभी मनोरथ बन जाते हैं और मरने के बाद आत्मा परमपिता में मिल जाती है। फिर चौरासी नहीं भुगतना पड़ता।"


    शकलदीप बाबू ने सोत्साह कहा, "ठीक है, बहुत अच्छी बात है। जरा और सबेरे उठकर नाम ले लिया करो। सुबह नहाने से तबीयत दिन-भर साफ रहती है। कल से तुम भी शुरू कर दो। मैं तो अभागा था कि मेरी आँखें आज तक बंद रही। खैर, कोई बात नहीं, अब भी कुछ नहीं बिगड़ा है, कल से तुम भी सवेरे चार बजे उठ जाना।"

    उनको भय हुआ कि जमुना कहीं उनके प्रस्ताव का विरोध न करे, इसलिए इतना कहने के बाद वह पीछे घूमकर खिसक गए। लेकिन अचानक कुछ याद करके वह लौट पड़े। पास आकर उन्होंने पत्नी से मुस्कराते हुए पूछा, "बबुआ के लिए नाश्ते का इंतजाम क्या करोगी?"


    "जो रोज होता है, वहीं होगा, और क्या होगा?"उदासीनतापूर्वक जमुना ने उत्तर दिया।


    "ठीक है, लेकिन आज हलवा क्यों नहीं बना लेतीं? घर का बना सामान अच्छा होता है। और कुछ मेवे मँगा लो।"


    "हलवे के लिए घी नहीं है। फिर इतने पैसे कहाँ हैं?"जमुना ने मजबूरी जाहिर की।


    "पचास रुपए तो बचे हैं न, उसमें से खर्च करो। अन्न-जल का शरीर, लड़के को ठीक से खाने-पीने का न मिलेगा, तो वह इम्तहान क्या देगा? रुपए की चिंता मत करो, मैं अभी जिंदा हूँ!"इतना कहकर शकलदीप बाबू ठहाका लगाकर हँस पड़े। वहाँ से हटने के पूर्व वह पत्नी को यह भी हिदायत देते गए, "एक बात और करो। तुम लड़के लोगों से डाँटकर कह देना कि वे बाहर के कमरे में जाकर बाजार न लगाएँ, नहीं तो मार पड़ेगी। हाँ, पढ़ने में बाधा पहुँचेगी। दूसरी बात यह कि बबुआ से कह देना, वह बाहर के कमरे में बैठकर इत्मीनान से पढ़ें, मैं बाहर सहन में बैठ लूँगा।"


    शकलदीप बाबू सबेरे एक-डेढ़ घंटे बाहर के कमरे में बैठते थे। वहाँ वह मुवक्किलों के आने की प्रतीक्षा करते और उन्हें समझाते-बुझाते।


    और वह उस दिन सचमुच ही मकान के बाहर पीपल के पेड़ के नीचे, जहाँ पर्याप्त छाया रहती थी, एक मेज और कुर्सियाँ लगाकर बैठ गए। जान-पहचान के लोग वहाँ से गुजरे, तो उन्हें वहाँ बैठे देखकर आश्चर्य हुआ। जब सड़क से गुजरते हुए बब्बनलाल पेशकार ने उनसे पूछा कि 'भाई साहब, आज क्या बात है?'तो उन्होंने जोर से चिल्लाकर कहा कि 'भीतर बड़ी गर्मी है।'और उन्होंने जोकर की तरह मुँह बना दिया और अंत में ठहाका मारकर हँस पड़े, जैसे कोई बहुत बड़ा मज़ाक कर दिया हो।


    शाम को जहाँ रोज वह पहले ही कचहरी से आ जाते थे, उस दिन देर से लौटे। उन्होंने पत्नी के हाथ में चार रुपए तो दिए ही, साथ ही दो सेब तथा कैंची सिगरेट के पाँच पैकेट भी बढ़ा दिए।


    "सिगरेट क्या होगी?"जमुना ने साश्चर्य पूछा।


    "तुम्हारे लिए है,"शकलदीप बाबू ने धीरे-से कहा और दूसरी ओर देखकर मुस्कराने लगे, लेकिन उनका चेहरा शर्म से कुछ तमतमा गया।


    जमुना ने माथे पर की साड़ी को नीचे खींचते हुए कहा, "कभी सिगरेट पी भी है कि आज ही पीऊँगी। इस उम्र में मज़ाक करते लाज नहीं आती?"


    शकलदीप बाबू कुछ बोले नहीं और थोड़ा मुस्कराकर इधर-उधर देखने लगे। फिर गंभीर होकर उन्होंने दूसरी ओर देखते हुए धीरे-से कहा, "बबुआ को दे देना,"और वह तुरंत वहाँ से चलते बने।


    जमुना भौचक होकर कुछ देर उनको देखती रही, क्योंकि आज के पूर्व तो वह यही देखती आ रही थी कि नारायण के धूम्रपान के वह सख्त खिलाफ़ रहे हैं और इसको लेकर कई बार लड़के को डाँट-डपट चुके हैं।


    उसकी समझ में कुछ न आया, तो वह यह कहकर मुस्करा पड़ी कि बुद्धि सठिया गई है।


    नारायण दिन-भर पढ़ने-लिखने के बाद टहलने गया हुआ था। शकलदीप बाबू जल्दी से कपड़े बदलकर हाथ में झाडू ले बाहर के कमरे में जा पहुँचे। उन्होंने धीरे-धीरे कमरे को अच्छी तरह झाड़ा-बुहारा, इसके बाद नारायण की मेज को साफ किया तथा मेजपोश को जोर-जोर से कई बार झाड़-फटककर सफाई के साथ उस पर बिछा दिया। अंत में नारायण की चारपाई पर पड़े बिछौने को खोलकर उसमें की एक-एक चीज को झाड़-फटकारकर यत्नपूर्वक बिछाने लगे।


    इतने में जमुना ने आकर देखा, तो मृदु स्वर में कहा, "कचहरी से आने पर यही काम रह गया है क्या? बिछौना रोज बिछ ही जाता है और कमरे की महरिन सफाई कर ही देती है।""अच्छा, ठीक है। मैं अपनी तबीयत से कर रहा हूँ, कोई जबरदस्ती थोड़ी है।"शकलदीप बाबू के मुख पर हल्के झेंप का भाव अंकित हो गया था और वह अपनी पत्नी की ओर न देखते हुए ऐसी आवाज में बोले, जैसे उन्होंने अचानक यह कार्य आरंभ कर दिया था- "और जब इतना कर ही लिया है, तो बीच में छोड़ने से क्या लाभ, पूरा ही कर लें।" कचहरी से आने के बाद रोज का उनका नियम यह था कि वह कुछ नाश्ता-पानी करके चारपाई पर लेट जाते थे। उनको अक्सर नींद आ जाती थी और वह लगभग आठ बजे तक सोते रहते थे। यदि नींद न भी आती, तो भी वह इसी तरह चुपचाप पड़े रहते थे।


    "नाश्ता तैयार है,"यह कहकर जमुना वहाँ से चली गई।


    शकलदीप बाबू कमरे को चमाचम करने, बिछौने लगाने तथा कुर्सियों को तरतीब से सजाने के पश्चात आँगन में आकर खड़े हो गए और बेमतलब ठनककर हँसते हुए बोले, "अपना काम सदा अपने हाथ से करना चाहिए, नौकरों का क्या ठिकाना?"


    लेकिन उनकी बात पर संभवतः किसी ने ध्यान नहीं दिया और न उसका उत्तर ही।


    धीरे-धीरे दिन बीतते गए और नारायण कठिन परिश्रम करता रहा। कुछ दिनों से शकलदीप बाबू सायंकाल घर से लगभग एक मील की दूरी पर स्थित शिवजी के एक मंदिर में भी जाने लगे थे। वह बहुत चलता मंदिर था और उसमें भक्तजनों की बहुत भीड़ होती थी। कचहरी से आने के बाद वह नारायण के कमरे को झाड़ते-बुहारते, उसका बिछौना लगाते, मेज़-कुर्सियाँ सजाते और अंत में नाश्ता करके मंदिर के लिए रवाना हो जाते। मंदिर में एक-डेढ़ घंटे तक रहते और लगभग दस बजे घर आते। एक दिन जब वह मंदिर से लौटे, तो साढ़े दस बज गए थे। उन्होंने दबे पाँव ओसारे में पाँव रखा और अपनी आदत के अनुसार कुछ देर तक मुस्कराते हुए झाँक-झाँककर कोठरी में नारायण को पढ़ते हुए देखते रहे। फिर भीतर जा अपने कमरे में छड़ी रखकर, नल पर हाथ-पैर धोकर,भोजन के लिए चैके में जाकर बैठ गए।


    पत्नी ने खाना परोस दिया। शकलदीप बाबू ने मुँह में कौर चुभलाते हुए पूछा,"बबुआ को मेवे दे दिए थे?"

    वह आज सायंकाल जब कचहरी से लौटे थे, तो मेवे लेते आए थे। उन्होंने मेवे को पत्नी के हवाले करते हुए कहा था कि इसे सिर्फ नारायण को ही देना, और किसी को नहीं।


    जमुना को झपकी आ रही थी, लेकिन उसने पति की बात सुन ली, चौंककर बोली, "कहाँ? मेवा ट्रंक में रख दिया था, सोचा था, बबुआ घूमकर आएँगे तो चुपके से दे दूँगी। पर लड़के तो दानव-दूत बने हुए हैं, ओना-कोना, अँतरा-सँतरा, सभी जगह पहुँच जाते हैं। टुनटुन ने कहीं से देख लिया और उसने सारा-का सारा खा डाला।"


    टुनटुन शकलदीप बाबू का सबसे छोटा बारह वर्ष का अत्यंत ही नटखट लड़का था।


    "क्यों?"शकलदीप बाबू चिल्ला पड़े। उनका मुँह खुल गया था और उनकी जीभ पर रोटी का एक छोटा टुकड़ा दृष्टिगोचर हो रहा था। जमुना कुछ न बोली। अब शकलदीप बाबू ने गुस्से में पत्नी को मुँह चिढ़ाते हुए कहा, "खा गया, खा गया! तुम क्यों न खा गई! तुम लोगों के खाने के लिए ही लाता हूँ न? हूँ! खा गया!"


    जमुना भी तिनक उठी, "तो क्या हो गया? कभी मेवा-मिश्री, फल-मूल तो उनको मिलता नहीं, बेचारे खुद्दी-चुन्नी जो कुछ मिलता है, उसी पर सब्र बाँधे रहते हैं। अपने हाथ से खरीदकर कभी कुछ दिया भी तो नहीं गया। लड़का ही तो है, मन चल गया, खा लिया। फिर मैंने उसे बहुत मारा भी, अब उसकी जान तो नहीं ले लूँगी।"

    "अच्छा तो खाओ तुम और तुम्हारे लड़के! खूब मजे में खाओ! ऐसे खाने पर लानत है!"वह गुस्से से थर-थर काँपते हुए चिल्ला पड़े और फिर चौके से उठकर कमरे में चले गए।


    जमुना भय, अपमान और गुस्से से रोने लगी। उसने भी भोजन नहीं किया और वहाँ से उठकर चारपाई पर मुँह ढँककर पड़ रही। लेकिन दूसरे दिन प्रातःकाल भी शकलदीप बाबू का गुस्सा ठंडा न हुआ और उन्होंने नहाने-धोने तथा पूजा-पाठ करने के बाद सबसे पहला काम यह किया कि जब टुनटुन जागा, तो उन्होंने उसको अपने पास बुलाया और उससे पूछा कि उसने मेवा क्यों खाया? जब उसको कोई उत्तर न सूझा और वह भक्कू बनकर अपने पिता की ओर देखने लगा, तो शकलदीप बाबू ने उसे कई तमाचे जड़ दिए।


    डिप्टी-कलक्टरी की परीक्षा इलाहाबाद में होनेवाली थी और वहाँ रवाना होने के दिन आ गए। इस बीच नारायण ने इतना अधिक परिश्रम किया कि सभी आश्चर्यचकित थे। वह अट्ठारह-उन्नीस घंटे तक पढ़ता। उसकी पढ़ाई में कोई बाधा उपस्थित नहीं होने पाती, बस उसे पढ़ना था। उसका कमरा साफ मिलता, उसका बिछौना बिछा मिलता, दोनों जून गाँव के शुद्ध घी के साथ दाल-भात,रोटी, तरकारी मिलती। शरीर की शक्ति तथा दिमाग की ताजगी को बनाए रखने के लिए नाश्ते में सबेरे हलवा-दूध तथा शाम को मेवे या फल। और तो और, लड़के की तबीयत न उचटे, इसलिए सिगरेट की भी समुचित व्यवस्था थी। जब सिगरेट के पैकेट खत्म होते, तो जमुना उसके पास चार-पाँच पैकेट और रख आती।


    जिस दिन नारायण को इलाहाबाद जाना था, शकलदीप बाबू की छुट्टी थी और वे सबेरे ही घूमने निकल गए। वह कुछ देर तक कंपनी गार्डन में घूमते रहे,फिर वहाँ तबीयत न लगी, तो नदी के किनारे पहुँच गए। वहाँ भी मन न लगा, तो अपने परम मित्र कैलाश बिहारी मुख्तार के यहाँ चले गए। वहाँ बहुत देर तक गप-सड़ाका करते रहे, और जब गाड़ी का समय निकट आया, तो जल्दी-जल्दी घर आए।


    गाड़ी नौ बजे खुलती थी। जमुना तथा नारायण की पत्नी निर्मला ने सबेरे ही उठकर जल्दी-जल्दी खाना बना लिया था। नारायण ने खाना खाया और सबको प्रणाम कर स्टेशन को चल पड़ा। शकलदीप बाबू भी स्टेशन गए।


    नारायण को विदा करने के लिए उसके चार-पाँच मित्र भी स्टेशन पर पहुँचे थे। जब तक गाड़ी नहीं आई थी, नारायण प्लेटफार्म पर उन मित्रों से बातें करता रहा। शकलदीप बाबू अलग खड़े इधर-उधर इस तरह देखते रहे, जैसे नारायण से उनका कोई परिचय न हो। और जब गाड़ी आई और नारायण अपने पिता तथा मित्रों के सहयोग से गाड़ी में पूरे सामान के साथ चढ़ गया, तो शकलदीप बाबू वहाँ से धीरे-से खिसक गए और व्हीलर के बुकस्टाल पर जा खड़े हुए। बुकस्टाल का आदमी जान-पहचान का था, उसने नमस्कार करके पूछा, "कहिए, मुख्तार साहब, आज कैसे आना हुआ?"


    शकलदीप बाबू ने संतोषपूर्वक मुस्कराते हुए उत्तर दिया, "लड़का इलाहाबाद जा रहा है, डिप्टी-कलक्टरी का इम्तहान देने। शाम तक पहुँच जाएगा। ड्योढ़े दर्जे के पास जो डिब्बा है न, उसी में है। नीचे जो चार-पाँच लड़के खड़े हैं, वे उसके मित्र है। सोचा, भाई हम लोग बूढ़े ठहरे, लड़के इम्तहान-विम्तहान की बात कर रहे होंगे, क्या समझेंगे, इसलिए इधर चला आया।"उनकी आँखे हास्य से संकुचित हो गईं।


    वहाँ वह थोड़ी देर तक रहे। इसके बाद जाकर घड़ी में समय देखा, कुछ देर तक तारघर के बाहर तार बाबू को खटर-पटर करते हुए निहारा और फिर वहाँ से हटकर रेलगाड़ियों के आने-जाने का टाइम-टेबुल पढ़ने लगे। लेकिन उनका ध्यान संभवतः गाड़ी की ओर ही था, क्योंकि जब ट्रेन खुलने की घंटी बजी, तो वहाँ से भागकर नारायण के मित्रों के पीछे आ खड़े हुए।


    नारायण ने जब उनको देखा, तो उसने झटपट नीचे उतरकर पैर छूए। "खुश रहो, बेटा, भगवान तुम्हारी मनोकामना पूरी करे!"उन्होंने लड़के से बुदबुदाकर कहा और दूसरी ओर देखने लगे।


    नारायण बैठ गया और अब गाड़ी खुलने ही वाली थी। अचानक शकलदीप बाबू का दाहिना हाथ अपने कोट की जेब से कोई चीज लगभग बाहर निकाल ली, और वह कुछ आगे भी बढ़े, लेकिन फिर न मालूम क्या सोचकर रुक गए। उनका चेहरा तमतमा-सा गया और जल्दीबाजी में वह इधर-उधर देखने लगे। गाड़ी सीटी देकर खुल गई तो शकलदीप बाबू चैंक उठे। उन्होंने जेब से वह चीज निकालकर मुट्ठी में बाँध ली और उसे नारायण को देने के लिए दौड़ पड़े। वह दुर्बल तथा बूढ़े आदमी थे, इसलिए उनसे तेज क्या दौड़ा जाता, वह पैरों में फुर्ती लाने के लिए अपने हाथों को इस तरह भाँज रहे थे, जैसे कोई रोगी, मरियल लड़का अपने साथियों के बीच खेल-कूद के दौरान कोई हल्की-फुल्की शरारत करने के बाद तेज़ी से दौड़ने के लिए गर्दन को झुकाकर हाथों को चक्र की भाँति घुमाता है। उनके पैर थप-थप की आवाज के साथ प्लेटफार्म पर गिर रहे थे, और उनकी हरकतों का उनके मुख पर कोई विशेष प्रभाव दृष्टिगोचर नहीं हो रहा था, बस यही मालूम होता कि वह कुछ पेरशान हैं। प्लेटफार्म पर एकत्रित लोगों का ध्यान उनकी ओर आकर्षित हो गया। कुछ लोगों ने मौज में आकर जोर से ललकारा, कुछ ने किलकारियाँ मारीं और कुछ लोगों ने दौड़ के प्रति उनकी तटस्थ मुद्रा को देखकर बेतहाशा हँसना आरंभ किया। लेकिन यह उनका सौभाग्य ही था कि गाड़ी अभी खुली ही थी और स्पीड में नहीं आई थी। परिणामस्वरूप उनका हास्यजनक प्रयास सफल हुआ और उन्होंने डिब्बे के सामने पहुँचकर उत्सुक तथा चिंतित मुद्रा में डिब्बे से सिर निकालकर झाँकते हुए नारायण के हाथ में एक पुड़िया देते हुए कहा, "बेटा, इसे श्रद्धा के साथ खा लेना, भगवान शंकर का प्रसाद है।"


    पुड़िया में कुछ बताशे थे, जो उन्होंने कल शाम को शिवजी को चढ़ाए थे और जिसे पता नहीं क्यों, नारायण को देना भूल गए थे। नारायण के मित्र कुतूहल से मुस्कराते हुए उनकी ओर देख रहे थे, और जब वह पास आ गए, तो एक ने पूछा, "बाबू जी, क्या बात थी, हमसे कह देते।"शकलदीप बाबू यह कहकर कि, "कोई बात नहीं, कुछ रुपए थे, सोचा, मैं ही दे दूँ, तेजी से आगे बढ़ गए।"


    परीक्षा समाप्त होने के बाद नारायण घर वापस आ गया। उसने सचमुच पर्चे बहुत अच्छे किए थे और उसने घरवालों से साफ-साफ कह दिया कि यदि कोई बेईमानी न हुई, तो वह इंटरव्यू में अवश्य बुलाया जाएगा। घरवालों की बात तो दूसरी थी, लेकिन जब मुहल्ले और शहर के लोगों ने यह बात सुनी, तो उन्होंने विश्वास नहीं किया। लोग व्यंग में कहने लगे, हर साल तो यही कहते हैं बच्चू! वह कोई दूसरे होते हैं, जो इंटरव्यू में बुलाए जाते हैं!


    लेकिन बात नारायण ने झूठ नहीं कही थी, क्योंकि एक दिन उसके पास सूचना आई कि उसको इलाहाबाद में प्रादेशिक लोक सेवा आयोग के समक्ष इंटरव्यू के लिए उपस्थित होना है। यह समाचार बिजली की तरह सारे शहर में फैल गया। बहुत साल बाद इस शहर से कोई लड़का डिप्टी-कलक्टरी के इंटरव्यू के लिए बुलाया गया था। लोगों में आश्चर्य का ठिकाना न रहा।


    सायंकाल कचहरी से आने पर शकलदीप बाबू सीधे आँगन में जा खड़े हो गए और जोर से ठठाकर हँस पड़े। फिर कमरे में जाकर कपड़े उतारने लगे। शकलदीप बाबू ने कोट को खूँटी पर टाँगते हुए लपककर आती हुई जमुना से कहा, "अब करो न राज! हमेशा शोर मचाए रहती थी कि यह नहीं है, वह नहीं है! यह मामूली बात नहीं है कि बबुआ इंटरव्यू में बुलाए गए हैं, आया ही समझो!"


    "जब आ जाएँ, तभी न,"जमुना ने कंजूसी से मुस्कराते हुए कहा। शकलदीप बाबू थोड़ा हँसते हुए बोल, "तुमको अब भी संदेह है? लो, मैं कहता हूँ कि बबुआ जरूर आएँगे, जरूर आएँगे! नहीं आए, तो मैं अपनी मूँछ मुड़वा दूँगा। और कोई कहे या न कहे, मैं तो इस बात को पहले से ही जानता हूँ। अरे, मैं ही क्यों, सारा शहर यही कहता है। अंबिका बाबू वकील मुझे बधाई देते हुए बोले, 'इंटरव्यू में बुलाए जाने का मतलब यह है कि अगर इंटरव्यू थोड़ा भी अच्छा हो गया, तो चुनाव निश्चित है।'मेरी नाक में दम था, जो भी सुनता, बधाई देने चला आता।"


    "मुहल्ले के लड़के मुझे भी आकर बधाई दे गए हैं। जानकी, कमल और गौरी तो अभी-अभी गए हैं। जमुना ने स्वप्निल आँखों से अपने पति को देखते हुए सूचना दी।"


    "तो तुम्हारी कोई मामूली हस्ती है! अरे, तुम डिप्टी-कलक्टर की माँ हो न,


    जी!"इतना कहकर शकलदीप बाबू ठहाका मारकर हँस पड़े। जमुना कुछ नहीं बोली, बल्कि उसने मुस्की काटकर साड़ी का पल्ला सिर के आगे थोड़ा और खींचकर मुँह टेढ़ा कर लिया। शकलदीप बाबू ने जूते निकालकर चारपाई पर बैठते हुए धीरे-से कहा, "अरे भाई, हमको-तुमको क्या लेना है, एक कोने में पड़कर रामनाम जपा करेंगे। लेकिन मैं तो अभी यह सोच रहा हूँ कि कुछ साल तक और मुख्तारी करूँगा। नहीं, यही ठीक रहेगा।"उन्होंने गाल फुलाकर एक-दो बार मूँछ पर ताव दिए।


    जमुना ने इसका प्रतिवाद किया, "लड़का मानेगा थोड़े, खींच ले जाएगा। हमेशा यह देखकर उसकी छाती फटती रहती है कि बाबू जी इतनी मेहनत करते हैं और वह कुछ भी मदद नहीं करता।"


    "कुछ कह रहा था क्या?"शकलदीप बाबू ने धीरे-से पूछा और पत्नी की ओर न देखकर दरवाजे के बाहर मुँह बनाकर देखने लगे।


    जमुना ने आश्वासन दिया, "मैं जानती नहीं क्या? उसका चेहरा बताता है। बाप को इतना काम करते देखकर उसको कुछ अच्छा थोड़े लगता है!"अंत में उसने नाक सुड़क लिए।


    नारायण पंद्रह दिन बाद इंटरव्यू देने गया। और उसने इंटरव्यू भी काफी अच्छा किया। वह घर वापस आया, तो उसके हृदय में अत्यधिक उत्साह था, और जब उसने यह बताया कि जहाँ और लड़कों का पंद्रह-बीस मिनट तक ही इंटरव्यू हुआ, उसका पूरे पचास मिनट तक इंटरव्यू होता रहा और उसने सभी प्रश्नों का संतोषजनक उत्तर दिए, तो अब यह सभी ने मान लिया कि नारायण का लिया जाना निश्चित है।


    दूसरे दिन कचहरी में फिर वकीलों और मुख्तारों ने शकलदीप बाबू को बधाइयाँ दीं और विश्वास प्रकट किया कि नारायण अवश्य चुन लिया जाएगा। शकलदीप बाबू मुस्कराकर धन्यवाद देते और लगे हाथों नारायण के व्यक्तिगत जीवन की एक-दो बातें भी सुना देते और अंत में सिर को आगे बढ़ाकर फुसफुसाहट में दिल का राज प्रकट करते, "आपसे कहता हूँ, पहले मेरे मन में शंका थी, शंका क्या सोलहों आने शंका थी, लेकिन आप लोगों की दुआ से अब वह दूर हो गई है।"


    जब वह घर लौटे, तो नारायण, गौरी और कमल दरवाजे के सामने खड़े बातें कर रहे थे। नारायण इंटरव्यू के संबंध में ही कुछ बता रहा था। वह अपने पिता जी को आता देखकर धीरे-धीरे बोलने लगा। शकलदीप बाबू चुपचाप वहाँ से गुजर गए, लेकिन दो-तीन गज ही आगे गए होंगे कि गौरी कि आवाज उनको सुनाई पड़ी, "अरे तुम्हारा हो गया, अब तुम मौज करो!"इतना सुनते की शकलदीप बाबू घूम पड़े और लड़कों के पास आकर उन्होंने पूछा, "क्या?"उनकी आँखें संकुचित हो गई थीं और उनकी मुद्रा ऐसी हो गई थी, जैसे किसी महफिल में जबरदस्ती घुस आए हों।


    लड़के एक-दूसरे को देखकर शिष्टतापूर्वक होंठों में मुस्कराए। फिर गौरी ने अपने कथन को स्पष्ट किया, "मैं कह रहा था नारायण से, बाबू जी, कि उनका चुना जाना निश्चित है।"


    शकलदीप बाबू ने सड़क से गुजरती हुई एक मोटर को गौर से देखने के बाद धीरे-धीरे कहा, "हाँ, देखिए न, जहाँ एक-से-एक धुरंधर लड़के पहुँचते हैं, सबसे तो बीस मिनट ही इंटरव्यू होता है, पर इनसे पूरे पचास मिनट! अगर नहीं लेना होता, तो पचास मिनट तक तंग करने की क्या जरूरत थी, पाँच-दस मिनट पूछताछ करके...."

    गौरी ने सिर हिलाकर उनके कथन का समर्थन किया और कमल ने कहा, "पहले का जमाना होता, तो कहा भी नहीं जा सकता, लेकिन अब तो बेईमानी-बेईमानी उतनी नहीं होती होगी।"


    शकलदीप बाबू ने आँखें संकुचित करके हल्की-फुल्की आवाज में पूछा, "बेईमानी नहीं होती न?"


    "हाँ, अब उतनी नहीं होती। पहले बात दूसरी थी। वह जमाना अब लद गया।"गौरी ने उत्तर दिया।


    शकलदीप बाबू अचानक अपनी आवाज पर जोर देते हुए बोले, "अरे, अब कैसी बेईमानी साहब, गोली मारिए, अगर बेईमानी ही करनी होती, तो इतनी देर तक इनका इंटरव्यू होता? इंटरव्यू में बुलाया ही न होता और बुलाते भी तो चार-पाँच मिनट पूछताछ करके विदा कर देते।"


    इसका किसी ने उत्तर नहीं दिया, तो वह मुस्कराते हुए घूमकर घर में चले गए।


    घर में पहुँचने पर जमुना से बोले, "बबुआ अभी से ही किसी अफ़सर की तरह लगते हैं। दरवाजे पर बबुआ, गौरी और कमल बातें कर रहे हैं। मैंने दूर ही से गौर किया, जब नारायण बाबू बोलते हैं, तो उनके बोलने और हाथ हिलाने से एक अजीब ही शान टपकती है। उनके दोस्तों में ऐसी बात कहाँ?"


    "आज दोपहर में मुझे कह रहे थे कि तुझे मोटर में घुमाऊँगा।"जमुना ने खुशखबरी सुनाई।


    शकलदीप बाबू खुश होकर नाक सुड़कते हुए बोले, "अरे, तो उसको मोटर की कमी होगी, घूमना न जितना चाहना।"वह सहसा चुप हो गए और खोए-खोए इस तरह मुस्कराने लगे, जैसे कोई स्वादिष्ट चीज खाने के बाद मन-ही-मन उसका मजा ले रहे हों।


    कुछ देर बाद उन्होंने पत्नी से प्रश्न किया, "क्या कह रहा था, मोटर में घुमाऊँगा?


    जमुना ने फिर वही बात दोहरा दी।


    शकलदीप बाबू ने धीरे-से दोनों हाथों से ताली बजाते हुए मुस्कराकर कहा, "चलो, अच्छा है।"उनके मुख पर अपूर्व स्वप्निल संतोष का भाव अंकित था।


    सात-आठ दिनों में नतीजा निकलने का अनुमान था। सभी को विश्वास हो गया था कि नारायण ले लिया जाएगा और सभी नतीजे की बेचैनी से प्रतीक्षा कर रहे थे।


    अब शकलदीप बाबू और भी व्यस्त रहने लगे। पूजा-पाठ का उनका कार्यक्रम पूर्ववत जारी था। लोगों से बातचीत करने में उनको काफी मजा आने लगा और वह बातचीत के दौरान ऐसी स्थिति उत्पन्न कर देते कि लोगों को कहना पड़ता कि नारायण अवश्य ही ले लिया जाएगा। वह अपने घर पर एकत्रित नारायण तथा उसके मित्रों की बातें छिपकर सुनते और कभी-कभी अचानक उनके दल में घुस जाते तथा जबरदस्ती बात करने लगते। कभी-कभी नारायण को अपने पिता की यह हरकत बहुत बुरी लगती और वह क्रोध में दूसरी ओर देखने लगता। रात में शकलदीप बाबू चैंककर उठ बैठते और बाहर आकर कमरे में लड़के को सोते हुए देखने लगते या आँगन में खड़े होकर आकाश को निहारने लगते।


    एक दिन उन्होंने सबेरे ही सबको सुनाकर जोर से कहा, "नारायण की माँ, मैंने आज सपना देखा है कि नारायण बाबू डिप्टी-कलक्टर हो गए।"


    जमुना रसोई के बरामदे में बैठी चावल फटक रही थी और उसी के पास नारायण की पत्नी, निर्मला, घूँघट काढ़े दाल बीन रही थी।


    जमुना ने सिर उठाकर अपने पति की ओर देखते हुए प्रश्न किया, "सपना सबेरे दिखाई पड़ा था क्या?"


    "सबेरे के नहीं तो शाम के सपने के बारे में तुमसे कहने आऊँगा? अरे, एकदम ब्राह्ममुहूर्त में देखा था! देखता हूँ कि अखबार में नतीजा निकल गया है और उसमें नारायण बाबू का भी नाम हैं अब यह याद नहीं कि कौन नंबर था, पर इतना कह सकता हूँ कि नाम काफी ऊपर था।"


    "अम्मा जी, सबेरे का सपना तो एकदम सच्चा होता है न!"निर्मला ने धीरे-से जमुना से कहा।


    मालूम पड़ता है कि निर्मला की आवाज शकलदीप बाबू ने सुन ली, क्योंकि उन्होंने विहँसकर प्रश्न किया, "कौन बोल रहा है, डिप्टाइन हैं क्या?"अंत में वह ठहाका मारकर हँस पड़े।


    "हाँ, कह रही हैं कि सवेरे का सपना सच्चा होता है। सच्चा होता ही है।"जमुना ने मुस्कराकर बताया।


    निर्मला शर्म से संकुचित हो गई। उसने अपने बदन को सिकोड़ तथा पीठ को नीचे झुकाकर अपने मुँह को अपने दोनों घुटनों के बीच छिपा लिया।


    अगले दिन भी सबेरे शकलदीप बाबू ने घरवालों को सूचना दी कि उन्होंने आज भी हू-ब-हू वैसा ही सपना देखा है।


    जमुना ने अपनी नाक की ओर देखते हुए कहा, "सबेरे का सपना तो हमेशा ही सच्चा होता है। जब बहू को लड़का होनेवाला था, मैंने सबेरे-सबेरे सपना देखा कि कोई सरग की देवी हाथ में बालक लिए आसमान से आँगन में उतर रही है। बस, मैंने समझ लिया कि लड़का ही है। लड़का ही निकला।"


    शकलदीप बाबू ने जोश में आकर कहा, "और मान लो कि झूठ है, तो यह सपना एक दिन दिखाई पड़ता, दूसरे दिन भी हू-ब-हू वहीं सपना क्यों दिखाई देता, फिर वह भी ब्राह्ममुहूर्त में ही!"


    "बहू ने भी ऐसा ही सपना आज सबेरे देखा है!"


    "डिप्टाइन ने भी?"शकलदीप बाबू ने मुस्की काटते हुए कहा।


    "हाँ, डिप्टाइन ने ही। ठीक सबेरे उन्होंने देखा कि एक बँगले में हम लोग रह रहे हैं और हमारे दरवाजे पर मोटर खड़ी है।"जमुना ने उत्तर दिया।


    शकलदीप बाबू खोए-खोए मुस्कराते रहे। फिर बोले, "अच्छी बात है, अच्छी बात है।"


    एक दिन रात को लगभग एक बजे शकलदीप बाबू ने उठकर पत्नी को जगाया और उसको अलग ले जाते हुए बेशर्म महाब्राह्मण की भाँति हँसते हुए प्रश्न किया, "कहो भाई, कुछ खाने को होगा? बहुत देर से नींद ही नहीं लग रही है, पेट कुछ माँग रहा है। पहले मैंने सोचा, जाने भी दो, यह कोई खाने का समय है, पर इससे काम बनते न दिखा, तो तुमको जगाया। शाम को खाया था, सब पच गया।"


    जमुना अचंभे के साथ आँखें फाड़-फाड़कर अपने पति को देख रही थी। दांपत्य-जीवन के इतने दीर्घकाल में कभी भी, यहाँ तक कि शादी के प्रारंभिक दिनों में भी, शकलदीप बाबू ने रात में उसको जगाकर कुछ खाने को नहीं माँगा था। वह झुँझला पड़ी और उसने असंतोष व्यक्त किया, "ऐसा पेट तो कभी भी नहीं था। मालूम नहीं, इस समय रसोई में कुछ है या नहीं।"


    शकलदीप बाबू झेंपकर मुस्कराने लगे।


    एक-दो क्षण बाद जमुना ने आँखे मलकर पूछा, "बबुआ के मेवे में से थोड़ा दूँ क्या?"


    शकलदीप बाबू झट-से बोले, "अरे, राम-राम! मेवा तो, तुम जानती हो, मुझे बिलकुल पसंद नहीं। जाओ, तुम सोओ, भूख-वूख थोड़े है, मजाक किया था।"


    यह कहकर वह धीरे-से अपने कमरे में चले गए। लेकिन वह लेटे ही थे कि जमुना कमरे में एक छिपुली में एक रोटी और गुड़ लेकर आई। शकलदीप बाबू हँसते हुए उठ बैठे।


    शकलदीप बाबू पूजा-पाठ करते, कचहरी जाते, दुनिया-भर के लोगों से दुनिया-भर की बातचीत करते, इधर-उधर मटरगश्ती करते और जब खाली रहते, तो कुछ-न-कुछ खाने को माँग बैठते। वह चटोर हो गए और उनके जब देखो, भूख लग जाती। इस तरह कभी रोटी-गुड़ खा लेते, कभी आलू भुनवाकर चख लेते और कभी हाथ पर चीनी लेकर फाँक जाते। भोजन में भी वह परिवर्तन चाहने लगे। कभी खिचड़ी की फरमाइश कर देते, कभी सत्तू-प्याज की, कभी सिर्फ रोटी-दाल की, कभी मकुनी की और कभी सिर्फ दाल-भात की ही। उसका समय कटता ही न था और वह समय काटना चाहते थे।


    इस बदपरहेजी तथा मानसिक तनाव का नतीजा यह निकला कि वह बीमार पड़ गए। उनको बुखार तथा दस्त आने लगे। उनकी बीमारी से घर के लोगों को बड़ी चिंता हुई।


    जमुना ने रुआँसी आवाज में कहा, "बार-बार कहती थी कि इतनी मेहनत न कीजिए, पर सुनता ही कौन है? अब भोगना पड़ा न!"


    पर शकलदीप बाबू पर इसका कोई असर न हुआ। उन्होंने बात उड़ा दी-- "अरे, मैं तो कचहरी जानेवाला था, पर यह सोचकर रुक गया कि अब मुख्तारी तो छोड़नी ही है, थोड़ा आराम कर लें।"


    "मुख्तारी जब छोड़नी होगी, होगी, इस समय तो दोनों जून की रोटी-दाल का इंतजाम करना है।"जमुना ने चिंता प्रकट की।


    अरे, तुम कैसी बात करती हो? बीमारी-हैरानी तो सबको होती है, मैं मिट्टी का ढेला तो हूँ नहीं कि गल जाऊँगा। बस, एक-आध दिन की बात हैं अगर बीमारी सख्त होती, तो मैं इस तरह टनक-टनककर बोलता?"शकलदीप बाबू ने समझाया और अंत में उनके होंठों पर एक क्षीण मुस्कराहट खेल गई।


    वह दिन-भर बेचैन रहे। कभी लेटते, कभी उठ बैठते और कभी बाहर निकलकर टहलने लगते। लेकिन दुर्बल इतने हो गए थे कि पाँच-दस कदम चलते ही थक जाते और फिर कमरे में आकर लेटे रहते। करते-करते शाम हुई और जब शकलदीप बाबू को यह बताया गया कि कैलाशबिहारी मुख्तार उनका समाचार लेने आए हैं, तो वह उठ बैठे और झटपट चादर ओढ़, हाथ में छड़ी ले पत्नी के लाख मना करने पर भी बाहर निकल आए। दस्त तो बंद हो गया था, पर बुखार अभी था और इतने ही समय में वह चिड़चिड़े हो गए थे।


    कैलाशबिहारी ने उनको देखते ही चिंतातुर स्वर में कहा, "अरे, तुम कहाँ बाहर आ गए, मुझे ही भीतर बुला लेते।"


    शकलदीप बाबू चारपाई पर बैठ गए और क्षीण हँसी हँसते हुए बोले, "अरे, मुझे कुछ हुआ थोड़े हैं सोचा, आराम करने की ही आदत डालूँ।"यह कहकर वह अर्थपूर्ण दृष्टि से अपने मित्र को देखकर मुस्कराने लगे।


    सब हाल-चाल पूछने के बाद कैलाशबिहारी ने प्रश्न किया, "नारायण बाबू कहीं दिखाई नहीं दे रहे, कहीं घूमने गए हैं क्या?"


    शकलदीप बाबू ने बनावटी उदासीनता प्रकट करते हुए कहा, "हाँ, गए होंगे कहीं, लड़के उनको छोड़ते भी तो नहीं, कोई-न-कोई आकर लिवा जाता है।"


    कैलाशबिहारी ने सराहना की, "खूब हुआ, साहब! मंै भी जब इस लड़के को देखता था, दिल में सोचता था कि यह आगे चलकर कुछ-न-कुछ जरूर होगा। वह तो, साहब, देखने से ही पता लग जाता है। चाल में और बोलने-चालने के तरीके में कुछ ऐसा है कि... चलिए, हम सब इस माने में बहुत भाग्यशाली हैं।"


    शकलदीप बाबू इधर-उधर देखने के बाद सिर को आगे बढ़ाकर सलाह-मशविरे की आवाज में बोले, "अरे भाई साहब, कहाँ तक बताऊँ अपने मुँह से क्या कहना, पर ऐसा सीधा-सादा लड़का तो मैंने देखा नहीं, पढ़ने-लिखने का तो इतना शौक कि चौबीसों घंटे पढ़ता रहे। मुँह खोलकर किसी से कोई भी चीज़ माँगता नहीं।"


    कैलाशबिहारी ने भी अपने लड़के की तारीफ़ में कुछ बातें पेश कर दीं, "लड़के तो मेरे भी सीधे हैं, पर मझला लड़का शिवनाथ जितना गऊ है, उतना कोई नहीं। ठीक नारायण बाबू ही की तरह है!"


    "नारायण तो उस जमाने का कोई ऋषि-मुनि मालूम पड़ता है,"शकलदीप बाबू ने गंभीरतापूर्वक कहा, "बस, उसकी एक ही आदत है। मैं उसकी माँ को मेवा दे देता हूँ और नारायण रात में अपनी माँ को जगाकर खाता है। भली-बुरी उसकी बस एक यही आदत है। अरे भैया, तुमसे बताता हूँ, लड़कपन में हमने इसका नाम पन्नालाल रखा था, पर एक दिन एक महात्मा घूमते हुए हमारे घर आए। उन्होंने नारायण का हाथ देखा और बोले, इसका नाम पन्नालाल-सन्नालाल रखने की जरूरत नहीं, बस आज से इसे नारायण कहा करो, इसके कर्म में राजा होना लिखा है। पहले जमाने की बात दूसरी थी, लेकिन आजकल राजा का अर्थ क्या है? डिप्टी-कलक्टर तो एक अर्थ में राजा ही हुआ!"अंत में आँखें मटकाकर उन्होंने मुस्कराने की कोशिश की, पर हाँफने लगे।


    दोनों मित्र बहुत देर तक बातचीत करते रहे, और अधिकांश समय वे अपने-अपने लड़कों का गुणगान करते रहे।


    घर के लोगों को शकलदीप बाबू की बीमारी की चिंता थी। बुखार के साथ दस्त भी था, इसलिए वह बहुत कमजोर हो गए थे, लेकिन वह बात को यह कहकर उड़ा देते, "अरे, कुछ नहीं, एक-दो दिन में मैं अच्छा हो जाऊँगा।"और एक वैद्य की कोई मामूली, सस्ती दवा खाकर दो दिन बाद वह अच्छे भी हो गए, लेकिन उनकी दुर्बलता पूर्ववत थी।


    जिस दिन डिप्टी-कलक्टरी का नतीजा निकला, रविवार का दिन था।


    शकलदीप बाबू सबेरे रामायण का पाठ तथा नाश्ता करने के बाद मंदिर चले गए। छुट्टी के दिनों में वह मंदिर पहले ही चले जाते और वहाँ दो-तीन घंटे, और कभी-कभी तो चार-चार घंटे रह जाते। वह आठ बजे मंदिर पहुँच गए। जिस गाड़ी से नतीजा आनेवाला था, वह दस बजे आती थी।


    शकलदीप बाबू पहले तो बहुत देर तक मंदिर की सीढ़ी पर बैठकर सुस्ताते रहे, वहाँ से उठकर ऊपर आए, तो नंदलाल पांडे ने, जो चंदन रगड़ रहा था, नारायण के परीक्षाफल के संबंध में पूछताछ की। शकलदीप वहाँ पर खड़े होकर असाधारण विस्तार के साथ सबकुछ बताने लगे। वहाँ से जब उनको छुट्टी मिली, तो धूप काफी चढ़ गई थी। उन्होंने भीतर जाकर भगवान शिव के पिंड के समक्ष अपना माथा टेक दिया। काफी देर तक वह उसी तरह पड़े रहे। फिर उठकर उन्होंने चारों ओर घूम-घूमकर मंदिर के घंटे बजाकर मंत्रोच्चारण किए और गाल बजाए। अंत में भगवान के समक्ष पुनः दंडवत कर बाहर निकले ही थे कि जंगबहादुर सिंह मास्टर ने शिवदर्शनार्थ मंदिर में प्रवेश किया और उन्होंने शकलदीप बाबू को देखकर आश्चर्य प्रकट किया, "अरे, मुख्तार साहब! घर नहीं गए? डिप्टी-कलक्टरी का नतीजा तो निकल आया।"


    शकलदीप बाबू का हृदय धक-से कर गया। उनके होंठ काँपने लगे और उन्होंने कठिनता से मुस्कराकर पूछा, "अच्छा, कब आया?"


    जंगबहादुर सिंह ने बताया, "अरे, दस बजे की गाड़ी से आया। नारायण बाबू का नाम तो अवश्य है, लेकिन....."वह कुछ आगे न बोल सके।


    शकलदीप बाबू का हृदय जोरों से धक-धक कर रहा था। उन्होंने अपने सूखे होंठों को जीभ से तर करते हुए अत्यंत ही धीमी आवाज में पूछा, "क्या कोई खास बात है?"


    "कोई खास बात नहीं है। अरे, उनका नाम तो है ही, यह है कि ज़रा नीचे है। दस लड़के लिए जाएँगे, लेकिन मेरा ख्याल है कि उनका नाम सोलहवाँ-सत्रहवाँ पड़ेगा। लेकिन कोई चिंता की बात नहीं, कुछ लड़के को कलक्टरी में चले जाते हैं कुछ मेडिकल में ही नहीं आते, और इस तरह पूरी-पूरी उम्मीद है कि नारायण बाबू ले ही लिए जाएँगे।"


    शकलदीप बाबू का चेहरा फक पड़ गया। उनके पैरों में जोर नहीं था और मालूम पड़ता था कि वह गिर जाएँगे। जंगबहादूर सिंह तो मंदिर में चले गए।


    लेकिन वह कुछ देर तक वहीं सिर झुकाकर इस तरह खड़े रहे, जैसे कोई भूली बात याद कर रहे हों। फिर वह चैंक पड़े और अचानक उन्होंने तेजी से चलना शुरू कर दिया। उनके मुँह से धीमे स्वर में तेजी से शिव-शिव निकल रहा था। आठ-दस गज आगे बढ़ने पर उन्होंने चाल और तेज कर दी, पर शीघ्र ही बेहद थक गए और एक नीम के पेड़ के नीचे खड़े होकर हाँफने लगे।


    चार-पाँच मिनट सुस्ताने के बाद उन्होंने फिर चलना शुरू कर दिया। वह छड़ी को उठाते-गिराते, छाती पर सिर गाड़े तथा शिव-शिव का जाप करते, हवा के हल्के झोंके से धीरे-धीरे टेढ़े-तिरछे उड़नेवाले सूखे पत्ते की भाँति डगमग-डगमग चले जा रहे थे। कुछ लोगों ने उनको नमस्ते किया, तो उन्होंने देखा नहीं, और कुछ लोगों ने उनको देखकर मुस्कराकर आपस में आलोचना-प्रत्यालोचना शुरू कर दी, तब भी उन्होंने कुछ नहीं देखा। लोगों ने संतोष से, सहानुभूति से तथा अफ़सोस से देखा, पर उन्होंने कुछ भी ध्यान नहीं दिया। उनको बस एक ही धुन थी कि वह किसी तरह घर पहुँच जाएँ।


    घर पहुँचकर वह अपने कमरे में चारपाई पर धम-से बैठ गए। उनके मुँह से केवल इतना ही निकला, "नारायण की अम्माँ!"


    सारे घर में मुर्दनी छाई हुई थी। छोटे-से आँगन में गंदा पानी, मिट्टी, बाहर से उड़कर आए हुए सूखे पत्ते तथा गंदे कागज पड़े थे, और नाबदान से दुर्गंध आ रही थी। ओसारे में पड़ी पुरानी बँसखट पर बहुत-से गंदे कपड़े पड़े थे और रसोईघर से उस वक्त भी धुआँ उठ-उठकर सारे घर की साँस को घोट रहा था।


    कहीं कोई खटर-पटर नहीं हो रही थी और मालूम होता था कि घर में कोई है ही नहीं।


    शीघ्र ही जमुना न मालूम किधर से निकलकर कमरे में आई और पति को देखते ही उसने घबराकर पूछा, "तबीयत तो ठीक है?"


    शकलदीप बाबू ने झुँझलाकर उत्तर दिया, "मुझे क्या हुआ है, जी? पहले यह बताओ, नारायण जी कहाँ हैं?"

    जमुना ने बाहर के कमरे की ओर संकेत करते हुए बताया, "उसी में पड़े है।, न कुछ बोलते हैं और न कुछ सुनते हैं। मैं पास गई, तो गुमसुम बने रहे। मैं तो डर गई हूँ।"


    शकलदीप बाबू ने मुस्कराते हुए आश्वासन दिया, "अरे कुछ नहीं, सब कल्याण होगा, चिंता की कोई बात नहीं। पहले यह तो बताओ, बबुआ को तुमने कभी यह तो नहीं बताया था कि उनकी फीस तथा खाने-पीने के लिए मैंने 600 रुपए कर्ज लिए हैं। मैंने तुमको मना कर दिया था कि ऐसा किसी भी सूरत में न करना।"


    जमुना ने कहा, "मैं ऐसी बेवकूफ थोड़े हूँ। लड़के ने एक-दो बार खोद-खोदकर पूछा था कि इतने रुपए कहाँ से आते हैं? एक बार तो उसने यहाँ तक कहा था कि यह फल-मेवा और दूध बंद कर दो, बाबू जी बेकार में इतनी फ़िजूलखर्ची कर रहे हैं। पर मैंने कह दिया कि तुमको फ़िक्र करने की ज़रूरत नहीं, तुम बिना किसी चिंता के मेहनत करो, बाबू जी को इधर बहुत मुकदमे मिल रहे हैं।"


    शकलदीप बाबू बच्चे की तरह खुश होते हुए बोले, "बहुत अच्छा। कोई चिंता की बात नहीं। भगवान सब कल्याण करेंगे। बबुआ कमरे ही में हैं न?"


    जमुना ने स्वीकृति से सिर लिया दिया।


    शकलदीप बाबू मुस्कराते हुए उठे। उनका चेहरा पतला पड़ गया था, आँखे धँस गई थीं और मुख पर मूँछें झाडू की भाँति फरक रही थीं। वह जमुना से यह कहकर कि 'तुम अपना काम देखो, मैं अभी आया', कदम को दबाते हुए बाहर के कमरे की ओर बढ़े। उनके पैर काँप रहे थे और उनका सारा शरीर काँप रहा था, उनकी साँस गले में अटक-अटक जा रही थी।


    उन्होंने पहले ओसारे ही में से सिर बढ़ाकर कमरे में झाँका। बाहरवाला दरवाजा और खिड़कियाँ बंद थीं, परिणामस्वरूप कमरे में अँधेरा था। पहले तो कुछ न दिखाई पड़ा और उनका हृदय धक-धक करने लगा। लेकिन उन्होंने थोड़ा और आगे बढ़कर गौर से देखा, तो चारपाई पर कोई व्यक्ति छाती पर दोनों हाथ बाँधे चित्त पढ़ा था। वह नारायण ही था। वह धीरे-से चोर की भाँति पैरों को दबाकर कमरे के अंदर दाखिल हुए।


    उनके चेहरे पर अस्वाभाविक विश्वास की मुस्कराहट थिरक रही थी। वह मेज़ के पास पहुँचकर चुपचाप खड़े हो गए और अँधेरे ही में किताब उलटने-पुलटने लगे। लगभग डेढ़-दो मिनट तक वहीं उसी तरह खड़े रहने पर वह सराहनीय फुर्ती से घूमकर नीचे बैठक गए और खिसककर चारपाई के पास चले गए और चारपाई के नीचे झाँक-झाँककर देखने लगे, जैसे कोई चीज खोज रहे हों।


    तत्पश्चात पास में रखी नारायण की चप्पल को उठा लिया और एक-दो क्षण उसको उलटने-पुलटने के पश्चात उसको धीरे-से वहीं रख दिया। अंत में वह साँस रोककर धीरे-धीरे इस तरह उठने लगे, जैसे कोई चीज खोजने आए थे, लेकिन उसमें असफल होकर चुपचाप वापस लौट रहे हों। खड़े होते समय वह अपना सिर नारायण के मुख के निकट ले गए और उन्होंने नारायण को आँखें फाड़-फाड़कर गौर से देखा। उसकी आँखे बंद थीं और वह चुपचाप पड़ा हुआ था, लेकिन किसी प्रकार की आहट, किसी प्रकार का शब्द नहीं सुनाई दे रहा था। शकलदीप बाबू एकदम डर गए और उन्होंने कांपते हृदय से अपना बायाँ कान नारायण के मुख के बिलकुल नजदीक कर दिया। और उस समय उनकी खुशी का ठिकाना न रहा, जब उन्होंने अपने लड़के की साँस को नियमित रूप से चलते पाया।


    वह चुपचाप जिस तरह आए थे, उसी तरह बाहर निकल गए। पता नहीं कब से, जमुना दरवाजे पर खड़ी चिंता के साथ भीतर झाँक रही थी। उसने पति का मुँह देखा और घबराकर पूछा, "क्या बात है? आप ऐसा क्यों कर रहे हैं? मुझे बड़ा डर लग रहा है।"


    शकलदीप बाबू ने इशारे से उसको बोलने से मना किया और फिर उसको संकेत से बुलाते हुए अपने कमरे में चले गए। जमुना ने कमरे में पहुँचकर पति को चिंतित एवं उत्सुक दृष्टि से देखा।


    शकलदीप बाबू ने गद्गद् स्वर में कहा, "बबुआ सो रहे हैं।"


    वह आगे कुछ न बोल सकें उनकी आँखें भर आई थीं। वह दूसरी ओर देखने लगे

    Ak Pankaj shared आदिवासी साहित्य - Adivasi Literature's photo.

    आखिर विश्व पुस्तक मेला में आए हजारों टन कागजों के जरिए किसका साहित्य प्रमोट किया जा रहा है?

    हमारे संसाधन से आयोजन और हम ही बेदखल

    आखिर विश्व पुस्तक मेला में आए हजारों टन कागजों के जरिए किसका साहित्य प्रमोट किया जा रहा है?


    आदिवासी लेखकों की किताब का प्रकाशन नहीं

    और आदिवासी प्रकाशकों को भागीदारी से वंचित रखना कैसा लोकतंत्र है?

    Unlike·  · Share· 10 minutes ago·



    0 0

    अमरकांत जी के अवसान के बहाने बची हुई पृथ्वी की शोकगाथा

    पलाश विश्वास

    एक जरुरी नोटः आज स‌ुबह पुराने मित्र उर्मिलेश के फोन स‌े नींद खुली।मुझे स‌्मृतिभ्रंश की वजह स‌े इस आलेख में तथ्यात्मक गलतियों की आशंका ज्यादा थीं।


    आज स‌ुबह दुबारा इसके टुकड़े मोबाइल पाठकों के लिए फेसबुक पर दर्ज कराते हुए छिटपुट गलतियां नजर भी आयीं। यथासंभव दुरुस्त करके यह आलेख कुछ देर में रीपोस्ट करने वाला हूं।


    आपकी नजर में कोई गलती नजर आयें या कोई जरुरी बात छूटती नजर आये तो तुरंत मुझे 09903717833 पर  पोन करके या मेरी टाइम लाइन पर स‌ूचित कर दें।


    आपको महत्वपूर्ण लगे या नहीं,यह मसला बहुत अहम है।देश जोड़ने में बाधक जो स‌ाहित्यिक स‌ांस्कृतिक परिदृश्य है,हम उसपर स‌ंवाद स‌बसे पहले जरुरी ही नहीं,अनिवार्य मानते हैं।


    कोई जरुरी नहीं कि हम स‌ही हों।हम अगर गलत है तो आप हमें कृपया दुरुस्त कर दें।


    उर्मिलेश ने लिंक पर टिप्पणी करते हुए लिखा है कि पलाश ने बहुत अच्छा लिखा है।हम अपनी स‌ीमाएं जानते हैं।हम जानते हैं कि इस मुद्दे पर मुझसे बहुत बेहतर उर्मिलेश लिख सकते हैं।मंगलेश दा और वीरेनदा से लेकर हिंदी में अनेक लोग हैं जो यकीनन हमसे बेहतर लिख सकते हैं।


    तेभागा की वजह स‌े भूमिगत मेरे पिता किशोरवय में स‌न 1943 स‌े 45 के बीच कोलकाता भाग आये थे पूर्वी बंगाल के जैशोर की गृहभूमि स‌े।


    तब वे उत्तर 24 परगना के एक स‌िनेमाहाल में लोगों को स‌ीट पर बैठाने का काम करते थे। 1949 तक जबतक पूरा परिवार विभाजन के बाद इसपार नहीं आया, वे यही काम करते रहे।


    पूरा परिवार आ गया तो वे शरणार्थी आंदोलन में कूद पड़े।


    अपने कामरेडों स‌े उनकी इसलिए ठन गयी कि कम्युनिस्ट पार्टी शरणार्थियों को बंगाल स‌े बाहर दंडकारण्य और अंडमान भेजने के खिलाफ आंदोलन चला रहे थे,पर जोगेंद्र नाथ मंडल के स‌हयोगी पुलिनबाबू शरमार्थी नेता वीरेंद्र कृष्ण विश्वास की तरह शरणार्थियों के लिए होमलैंड चाहते थे और उनके नजरिये से  यह होम लैंड दंडकारण्य और अंडमान में बन स‌कता था,जिसे बनने स‌े कामरेडों ने रोक दिया।


    पिता का स‌ाहित्य और फिल्म के प्रति अगाध प्रेम था।सिर्फ अपने और हमारे लिए स‌ाहित्य खरीदने के लिए वे हर स‌ाल नैनीताल स‌े कोलकाता आते जाते रहे थे।


    मैं कक्षा एक में था तब तराई के बाघबहुल जंगल पार रुद्रपुर में मुझे साईकिल पर बिठाकर सिब्बल सिनेमा हाल में इवनिंग शो में फूल और पत्थर दिखाने ले गये थे।


    नैनीताल में जब मैं पढ़ रहा था,तो जब भी वे आते हर दफा वे मुझे फिल्में जरुर दिखाते थे।


    दिल्ली में 1974 में जब वे इंदिरा गांधी से मिलने मुझे नैनीताल से बुलाया तब भी वे फुरसत में मुझे फिल्म दिखाते रहे।


    अपढ़ पिता की साहित्य और फिल्म के प्रति जो रुचि थी,उसने उन्हें जुनून के हद तक जनप्रतिबद्ध बना दिया था और जीवन दृष्टि दी थी।जनपदों की ताकत में उनकी घनघोर आस्था थी।


    उर्मिलेश ने मुझसे फोन पर कहा कि जनपद साहित्य से तुम क्या कहना चाहते हो।


    दुर्भाग्य से हिंदी में ही जनपद साहित्य और बोलियों में लिखे साहित्य को आंचलिक बताकर अंडररेट करने का रिवाज है।विश्वसाहित्य में अन्यत्र ऐसा नहीं है।


    थामस हार्डी मूलतः जनपदों के लिए ही लिख रहे थे। शोलोखव की कुछ भी लिखा दोन नदी के प्रवाह के बिना पूरा नहीं होता।विक्टर ह्यूगो की क्लासिक रचनाओं में आंचलिकता भरपूर है।


    अंग्रेजी साहित्य ने तो विश्वभर के जनपदों को आत्मसात किया हुआ है,स्काटिश,आईरिश बोलियों के अलावा।


    बांग्ला में ताराशंकर बंद्योपाध्याय का समूचा लेखन लाल माटी इलाके का है तो विभूति भूषण विशुद्ध आरण्यक हैं।


    इलियस और दूसरे बांग्लादेशी साहित्यकार हाल फिलहाल की सेलिना हुसैन जनपदों की बोलियों में ठाठ से लिख रही हैं।


    लेकिन हमारे यहां फणीश्वर नाथ रेणु और शैलेश मटियानी जैसे साहित्यकार आंचलिक साहित्यकार कहलाते हैं।


    भाषा में कोई भी अपनी बोलियां डालें या अपनी माटी की सुगंध से सराबोर कर दें रचनाकर्म.स्त्री ,आदिवासी,दलित,पिछड़ों की बात कहें तो महानगरीय वर्चस्व उसे कोई न कोई लेबेल लगाकर मुख्यधारा से बाहर हाशिये पर धकेल देती है।


    अमृत लाल नागर जैसे कथाकार हिंदी दुनिया के लिए महज किस्सागो हैं।जबकि अन्य भाषाओं के कमतर लेखन को हम क्लासिक कालजयी तमगा देने से अघाते नहीं हैं।

    अपढ़ पिता से बेहतर साहित्य दृष्टि मेरी है नहीं।लेकिन जीवन दृष्टि के लिए सटीक इतिहास बोध,अर्थ व्यवस्था की समझ, साहित्य और दृश्य माध्यम में गहरी पैठ हम अनिवार्य मानते हैं।


    हम मानते हैं कि साहित्य,कला और सिनेमा का मौलिक सौंदर्यबोध की जमीन दरअसल जनपद है,महानगर नहीं।


    हिंदी के पतन का कारण अगर दिल्ली है तो पश्चिमबंगीय बांग्ला का पतन कोलकाता वर्चस्व से हुआ।


    बांग्लादेश में ढाका एक मात्र साहित्य संस्कृति केंद्र नहीं है।मराठी का केंद्र मुंबई नहीं है और न तमिल चेन्नै में केंद्रीकृत है। मदुरै,तिरुचि और तंजावुर वहां साहित्य के विकेंद्रित केंद्र हैं।


    जहां केंद्रीयवर्चस्व का शिकार नहीं है भाषा और साहित्य,वही भाषा जनभाषा है और साहित्य आम जनता का साहित्य,जिसके लिए किसी मेले ठेले की जरुरत होती नहीं है।

    राजनीति सत्ता दिला सकती है,लेकिन भाषा को जनभाषा नहीं बना सकती।हिंदी वाले यह सबक सीख लें तो बेहतर।


    हमने धर्मवीर भारतीसे लेकर विभूति नारायण राय तक हिंदी में  गिरोहबंदी को सिलसिलेवार देखा है और हम तमाम लोगों का उसका शिकार होते हुए भी देखते रहे हैं।देख रहे हैं।लेकिन हमने उसकी विशद चर्चा इसलिए नहीं की है क्योंकि इससे बहस गिरोहबंदी पर केंद्रित हो जायेगी जो बहुत से हिंदी के ग्लोबल धुरंधरों की अपार विशेषज्ञता हैं और वे तमाम माध्यमों में एक दूसरे के खिलाफ हर दिन तलवारे भांजते पाये जाते हैं।


    हम अपने आकाओं के खिलाफ खुलकार लिखते रहे हैं।दंश से हम नीले नहीं होते कभी चूकि हमारी जमीन ही नीली है।भीतर से हम लाल हैं तो लहू के रंग से डर भी नहीं लगता।


    मित्रों, इन दिनों लघु पत्रिकाओं में भी मैं नहीं छपता।शसोशल मीडिया में भी हस्तक्षेप के अलावा मेरी कोई जगह नहीं है।छपने और लगने की आकांक्षा से ऐसा जाहिर है कि नहीं लिख रहा हूं।अपने सरोकारों को जनकवायद बनाने का अब्यास मेरा लेखन है। मुझे न पुस्तकें छपवानी है ,न पुस्तक मेले की आत्ममुग्ध सेल्फी कहीं पोस्ट करनी है और न इतिहास में दर्ज होने की कोई मेरी औकात है।णुझे जैसा लगता है,बहुपक्षीय संवाद के जरिये उसकी जांच पड़ताल के लिए रोजनामचा जरुर ब्लागों में दर्ज करता हूं और उसे व्यापक जनसंवाद बनाने की गरज से फेसबुक में डालता हूं।वहां भी अघाते हुए मित्रों की लंबी कतार हैं,जो बिना बताये मुझे डीफ्रेंड करते रहते हैं।जो नये मित्र मिलते हैं,उन्ही की नींद हराम करता हूं रातदिन।


    पृथ्वी अगर मुक्त बाजार संस्कृति से कहीं बची है तो इलाहाबाद में।पिछले दिनों हमारे फिल्मकार मित्र राजीव कुमार ने ऐसा कहा था। दूसरे फिल्मकार मित्र और उससे ज्यादा हमारे भाई संजय जोशी से जब उनकी पुश्तैनी सोमेश्वर घाटी पर फिल्म बनाने की बात कही हमने तो दिल्ली में बस गये संजू ने भी कहा कि उसका वजूद तो इलाहाबाद में ही रचा बसा है।


    मैं इलाहाबाद में 1979 में तीन महीने के लिए रहा और 1980 में दिल्ली चला गया।लेकिन इन तीन महीनों में ही इलाहाबाद के सांस्कृतिक साहित्यिक परिवार से शैलेश मटियानी जी,शेखर जोशी जी,अमरकांत जी,नरेश मेहता जी, नीलाभ, मंगलेश, वीरेनदा,रामजी राय,भैरव प्रसाद गुप्त और मार्कंडेय जी की अंतरंग आत्मीयता से जुड़ गया था।


    अमरकांत जी और भैरव प्रसाद गुप्त जी की वजह से माया प्रकाशन के लिए अनुवाद और मंगलेश के सौजन्य से अमृत प्रभात में लेखन मेरे इलाहाबाद ठहरने का एकमात्र जरिया था।


    मैं शेखर जोशी जी के 100 लूकर गंज स्थित आवास में रहा तो इलाहाबाद के तमाम साहित्यकारों से गाहे बगाहे मुलाकात हो जाती थी।


    भैरव जी,अमरकांत जी और मार्कंडेय जी के अलावा शैलेश जी के घर आना जाना लगा रहता था।यह आत्मीयता हमें छात्र जीवन में ही आदरणीय अमृत लाल नागर और विष्णु प्रभाकर जी से नसीब हुई तो बाद में बाबा नागार्जुन और त्रिलोचन जी से।


    ये तमाम लोग और उनका साहित्य जनपद साहित्य की धरोहर है,जिसका नामोनिशान तक अब कहीं नहीं है।


    त्रिलोचन जी के निधन पर हमने लिखा था कि जनपद के आखिरी महायोद्धा का निधन हो गया।तबभी अमरकांत जी थे।


    दूधनाथ सिंह की भी इस दुनिया में खास भूमिका रही है।इनके अलावा उपेंद्र नाथ अश्क और उनके सुपुत्र नीलाभ, मंगलेश डबराल, वीरेन डंगवाल और डा. स‌ुनील श्रीवास्तव भी लूकरगंज में ही बसते थे।


    इलाहाबाद विश्विद्यालय में हिंदी में डा.रघुवंश और अंग्रेजी में डा. विजयदेव नारायण साही और डा. मानस मुकुल दास थे।अमृत प्रभात में मंगलेश को केंद्रित एक युवा साहित्यिक पत्रकार दुनिया अलग थी।


    अमृत राय की पत्रिका कहानी और महादेवी वर्मा की हिंदुस्तानी तब भी छप रही थीं।


    शैलेश जी विकल्प निकाल रहे थे तो मार्कंडेय जी कथा।


    दरअसल इलाहाबाद के साहित्यकारों को हमने नैनीताल में विकल्प के माध्यम से ही जाना था।अमरकांत जी की कहानी,शायद जिंदगी और जोंक पहलीबार वहीं पढ़ा था।शायद  कहानी दूसरी हो।मैं अंग्रेजी साहित्य का छात्र था ,हिंदी का नहीं।हमने जो पढ़ा लिखा छात्र जीवन में,वह या तो नैनीताल समाचार की टीम की वजह से,मोहन के कारण या अपने गुरुजी ताराचंद्र त्रिपाठी के अनुशासनबद्ध दिग्दरशन के तहत।


    आज जो लिख रहा हूं अमरकांत जी के बारे में, यह भी अरसे से स्थगित लेखन है। मैं न साहित्यकार हूं और न आलोचक।साहित्य के क्षेत्र में दुस्साहसिक हस्तक्षेप हमारी औकात से बाहर है।


    लेकिन इलाहाबादी साहित्य केंद्र के नयी दिल्ली और भोपाल स्थानांतरित हो जाने के बावजूद जो लोग रच रहे थे, जिनमें हमारे इलाहाबाद प्रवास के दौरान तब भी जीवित महादेवी वर्मा भी शामिल हैं,उनके बारे में मैं कायदे से अब तक लिख ही नहीं पाया।

    शैलेश मटियानी के रचना संसार  पर लिखा जाना था,नही हो सका।


    शेखर जी के परिवार में होने के बावजूद उनके रचनाक्रम पर अब तक लिखा नहीं गया।


    हम अमृतलाल नागर और विष्णु प्रभाकर जी के साहित्य पर भी लिखना चाहते थे,जो हो न सका।


    दरअसल इलाहाबाद छोड़कर दिल्ली जाने के फैसले ने ही हमें साहित्य की दुनिया से हमेशा के लिए बेदखल कर गया। हम पत्रकारिता के हो गये।


    फौरी मुद्दे हमारे लिए ज्यादा अहम है और साहित्य के लिए अब हमारी कोई प्राथमिकता बची ही नहीं है।


    अंतरिम बजट से लेकर तेलांगना संकट ने इलाहाबादी साहित्यिक दुनिया के भूले बसरे जनपद को याद करने के लायक न छोड़ा हमें।


    वरना हम तो नैनीताल में इंटरमीडिएड के जीआईसी जमाने से कुछ और सोचते रहे हैं। मोहन कपिलेश भोज का कहना था कि नये सिरे से लिखना और रचना ज्यादा जरुरी नहीं है, बल्कि जो कचरा जमा हो गया है,उसे साफ करने के लिए हमें सफाई कर्मी बनना चाहिए।


    इस महासंकल्प को हम लोग अमली जामा नहीं पहुंचा सकें।न मैं और न कपिलेश।फर्क यह है कि नौकरी से निजात पाने के बाद वह कविताएं रच रहा है और साहित्यिक दुनिया से अब हमारा कोई नाता नहीं है।


    आज जो भी कुछ बहुचर्चित पुरस्कृत लिखा रचा जा रहा है,उनमें से प्रतिष्ठित ज्यादातर चमकदार हिस्सा मुक्त बाजार के हक में ही है।


    साठ के दशक में स्वतंत्रता के नतीजों से हुए मोहभंग की वजह से जितने बहुआयामी साहित्यिक सांस्कृतिक आंदोलन साठ के दशक में हुए ,अन्यत्र शायद ही हुए होंगे।


    लेकिन धर्मवीर भारती, कमलेश्वर, रादेंद्रयादव, मोहन राकेश,ज्ञानरंजन से लेकर नामवर सिंह,विभूति नारायण राय और केदारनाथ सिंह की बेजोड़ गिरोहबंदी की वजह से उस साहित्य का सिलसिलेवार मूल्यांकन हुआ ही नहीं।


    वह गिरोहबंदी आज संक्रामक है और पार्टीबद्ध भी।


    अमरकांत अब तक जी रहे थे, वह वैसे ही नहीं मालूम पड़ा जैसे नियमित काफी हाउस में बैठने वाले विष्णु प्रभाकर जी के जीने मरने से हिंदी दुनिया में कोई बड़ी हलचल नहीं हुई।


    वह तो लखनऊ में धुनि जमाये बैठे,भारतीय साहित्य के शायद सबसे बड़े किस्सागो अमृतलाल नागर जी थे,जो नये पुराने से बिना भेदभाव संपर्क रखते थे और इलाहाबाद से उपेंद्रनाथ अश्क भी यही करते थे।


    उनके बाद बाबा नागार्जुन और त्रिलोचन शास्त्री के बाद विष्णु चंद्र शर्मा ने दिल्ली की सादतपुर टीम के जरिये संवाद का कोना बचाये रखा।


    शलभ ने मध्य प्रदेश के विदिशा जैसे शहर से दिल्ली और भोपाल के विरुद्ध जंग जारी रखा।

    कोलकाता का हिंदी केंद्र और नागपुर का मध्यभारतीय हिंदी केंद्र हिंदी दिवसों के आयोजन ,राजभाषा अभियान और हिंदी मेलों के मध्य कब विसर्जित हो गया,हिंदी वालों को पता ही नहीं चला।कोलकाता से अब दर्जनों हिंदी अखबार निकलते हैं जैसे दक्षिण बारत से भी विज्ञापनी संस्करण निकलते हैं जिनमें मुक्त बाजारी अश्लील फिल्म टीवी के अलावा साहित्य और कला के लिए कोई स्पेस ही नहीं है।


    लेकिन इलाहाबाद तो नईदिल्ली और भोपाल से सत्तर के दशक में ही युद्ध हार गया और एकाधिकारवादी तत्व हिंदी में ही नहीं,पूरे भारतीय साहित्य में साहित्य अकादमी,ज्ञानपीठ, रंग बिरंगे पुरस्कारों,बाजारु पत्रिकाओं और सरकारी खरीद से चलने वाले प्रकाशन संस्थानों के जरिये छा गये।


    आलोचना बाकायदा मार्केटिंग हो गयी।जयपुर साहित्य उत्सव के जरिये अर्थशास्त्री,समाजशास्त्री और राजनेता भाषाओं का श्राद्धकर्म कर्मकांडी स्थायीभाव के साथ करते हुए वसंत विलाप साध रहे हैं।


    साहित्य भी बाजार के माफिक प्रायोजित किया जाने लगा।हिंदी,मराठी और बांग्ला में जनपद साहित्य सिरे से गायब हो गये और जनपदों की आवाज बुलंद करने वाले लोग भी खो गये।


    अब भी जनपद इतिहास पर गंभीर काम कर रहे सुधीर विद्यार्थी और अनवर सुहैल जैसे लोग बरेली और मिर्जापुर जैसे कस्बों से साठ के दशक के जनपदों की याद दिलाते हैं।दूसरे लोग भी हैं। खासकर मध्यप्रदेश,छत्तीसगढ़,झारखंड और राजस्तान में उनकी संख्या कोई कम नहीं है।लेकिन साहित्य के दिल्ली दरबार तक उनकी दस्तक पहुंचती ही नहीं है।


    बांग्ला में यह फर्क सीधे दिखता है जब साठ के दशक के सुनील गंगोपाध्याय मृत्यु के बाद अब भी बांग्ला साहित्य और संस्कृति पर राज कर रहे हैं। माणिक बंद्योपाध्याय, समरेश बसु और ताराशंकर बंदोपाध्याय के अलावा तमाम पीढ़ियां गायब हो गयी और बांग्ला साहित्य और संस्कृति में एकमेव कोलकातावर्चस्व के अलावा कोई जनपद नहीं है।हिंदी में डिटो वही हुआ। हो रहा है।


    मराठी में थोड़ी बेहतर हालत है क्योंकि वहा मुंबई के अर्थ जागतिक वर्चस्व के बावजूद पुणे और नागपुर का वजूद बना हुआ है। शोलापुर कोल्हापुर की आवाजें सुनायी पड़ती हैं तो मराठी संसार में कर्नाटकी गुलबर्गा से लेकर मुक्तिबोध के राजनंद गांव समेत मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात,राजस्थान, गोवा तक की मराठी खुशबू है।


    जनपदों के सिंहद्वार से ही कोई अचरज नहीं कि मराठी में ही दया पवार और नामदेव धसाल की अगुवाई में भारतीय दलित साहित्य का महाविस्फोट हो सका।


    हिंदी में दलित साहित्य का विस्तार उस तरह भी नहीं हो सका जैसे पंजाबी में।


    बांग्ला में तो खैर जनपदीय साहित्यिक भूगोल के सिरे से गायब हो जाने के कारण सही मायने में दलित साहित्य का कोई वजूद है ही नहीं। बांग्ला में तो दया पवार,नामदेव धंसाल,ओमप्रकाश बाल्मीकि और कंवल भारती जैसे नाम बाकायदा निषिद्ध और प्रतिबंधित है।दलित,बहुजन मूलनिवासी शब्दों का बहिष्कार है। हम क्या कहें,कामरेड रेज्जाक अली  मोल्ला, नजरुल इस्लाम और अब डा. अमर्त्य सेन भी यही कह रहे हैं। विडंबना यही है कि अभूतपूर्व चामत्कारिक स्वीकारोक्तियों के बावजूद यथा स्थित बदलने के लिए कहीं कोई हलचल नहीं है।


    जनपदों का महत्व जानना हो तो दक्षिण भारतीय भाषाओं में खासकर तमिल, कन्नड़ और तेलुगु के साहित्य संसार को देशना चाहिए जहां हर जनपद साहित्य और सस्कृति के स्वशासित केंद्र हैं।


    ओड़िया और असमिया से लेकर मणिपुरी और डोगरी तक में यह केंद्रीयकरण और बाजारु स्वाभाव नहीं है ,न कभी था।


    यह फर्क क्या है ,उसे इसतरह से समझ लें कि बिहार में बांगाल साहित्य का कभी बड़ा केंद्र रहा है।विभूति भूषण,सुबोध राय,वनफूल,सतीनाथ भादुड़ी से लेकर शरत तक का बिहार से नाता रहा है।


    अब भी बिहार और झारखंड से लेकर त्रिपुरा और भारत के दूसरे राज्यों में भी बांग्ला में रचनाकर्म जारी है लेकिन कोलकतिया साहित्य उनकी नोटिस ली ही नहीं जाती।


    इतना वर्चस्ववादी है बांग्ला का पश्चिमबंगीय साहित्य। दूसरी भारतीय भाषाओं की क्या कहे जहां बांग्ला जनपदों तक की कोई सुनवाई नहीं है।


    इसके विपरीत बांग्लादेशी साहित्य पूरी तरह विकेंद्रित है।


    जहां हर जनपद की आवाज रुप रंग रस के साथ मौजूद है।जहां हर बोली में उत्कृष्ट साहित्य लिखा जा रहा है।


    जो देश भाषा के नाम पर बना जहां बांग्लाभाषा के नाम पर लाखों लोगों ने कुर्बानी दी और आज भी दे रहे हैं,वहां बांग्ला नागरिक समाज तमाम आदिवासी भाषाओं को मान्यता दिलाने की लड़ाई लड़ रहे हैं जबकि हमारे विश्व विद्यालयों से लेकर विश्व पुस्तक मेले तक में आदिवासी भाषा और साहित्य के प्रति कोई ममत्व नहीं है।


    जनपदीय साहित्य के कारण ही बंगाल में शहबाग आंदोलन संभव है क्योंकि कट्टरपंथ के विरुद्ध वहां के साहित्यकार,पत्रकार और बुद्धिजीवी जब तब न सिर्फ सड़कों पर होते हैं, न सिर्फ आंदोलन करते हैं बल्कि अपनी जान की कुर्बानी करने को तैयार होते हैं।


    शायद इस महादेश के सबसे बड़े कथाकार अख्तराज्जुमान इलियस का समूचा लेखन ही जनपद साहित्य है।


    भारत में जनपदों के ध्वंस,कृषिजीवी समाज,अर्थव्यवस्था,प्रकृति और पर्यावरण की हत्यारी मुक्तबाजार  की संस्कुति ही रचनात्मकता का मुख्य स्वर बन गया है ौर इसके लिए भारतीय भाषाओं के तमाम साहित्यकार,पत्रकार, शिक्षक और बुद्धिजीवी समान रुप से जिम्मेदार हैं।हम हिंदी समाज का महिमामंडन कर रहे होते हैं हिंदी समाज के लोक,मुहावरों और विरासत को तिलाजलि देते हुए। हमने हमेशा दिल्ली,मुबंई और भोपाल के तिलिस्म को तरजीह दी और जनपदों के श्वेत श्याम चित्रों का सिरे से ध्वंस कर दिया है।


    राजनीति अगर इस महाविध्वंस का पहला मुरजिम है तो उस जुर्म में साहित्यिक सांस्कृतिक दुनिया के खिलाफ भी कहीं न कहीं कोई एफआईआर दर्ज होना चाहिए।


    बाबासाहेब अंबेडकर ने कहा है कि पढ़े लिखे लोगों ने सबसे बड़ा धोखा दिया है। मौजूदा भारतीय परिदृश्य में रोज खंडित विखंडित हो रहे देश के लहूलुहान भूगोल और इतिहास के हर प्रसंग,हर संदर्भ और हर मुद्दे के सिलसिले में यह सबसे नंगा सच है,जिसका समाना हमें करना ही चाहिए।


    हमारे मित्र आनंद तेलतुंबड़े से आईआईटी खड़गपुर में हैं और उनसे निरंतर संवाद जारी है।इसी संवाद में हम दोनों में इस मुद्दे पर सहमति हो गयी कि पढ़े लिखे संपन्न लोगों ने नाम और ख्याति के लिए अंधाधुंध जिस जनविरोधी साहित्य का निर्माण किया और मीडिया में जो मिथ्या भ्रामक सूचनाएं दी जाती हैं,और उनका जो असर है, उसके चलते देश जोड़ो असंभव है और देश बेचो ब्रिगेड इतना निरंकुश है और इस तरह के भ्रामक रचनाकर्म और सूचनाओं से रोज ब रोज मजबूत हो रहा है जनसंहारक तिलिस्म।


    नयी शुरुआत से पहले इस ट्रैश डिब्बे की सफाई और साहित्य सांस्कतिक संदर्भो,विधाओं और माध्यमों को, सौंदर्यशास्तत्र को वाइरस मुक्त करने के लिए रिफर्मैट करना अहम कार्यभार है।


    सहित्य में जनपदों के सफाये की शोकगाथा इलाहाबाद के ध्वंस के साथ शुरु हुई। अमरकांत जी का अवसान उनके कृतित्व व्यक्तित्व की विवेचना से अधिक इसी सच के सिलसिले में ज्यादा प्रासगिक है।


    हिंदी का बाजारवाद का मतलब यह था कि प्रेमचंद के बजाय हिंदी दुनिया शरत चंद्र को पलक पांवड़े पर बैठाये रखा,निराला और हजारी प्रसाद द्विवेदी का मूल्यांकन रवींद्र छाया में होता रहा और अमृत लाल नागर को ताराशंकर के मुकाबले कोई भाव नहीं दिया गया।


    बल्कि हुआ यह भी बांग्ला में जिन दो बड़े बाजारु साहित्यकार शंकर और विमल मित्र को गंभीर साहित्य कभी नहीं माना गया, उन्हीं को हिंदीवालों ने सर माथे पर बैठाये रखा जबकि महाश्वेतादी और नवारुण भट्टाचार्य के अलावा हिंदी साहित्य की चर्चा तक करने वाला बंगाल में कोई तीसरा महत्वपूर्ण नाम है ही नहीं।


    अमरकांत जी के अवसान  के बाद दरअसल ध्वस्त जनपदों की यह शोकगाथा है,जिसमें इलाहाबाद का अवसान सबसे पहले हुआ।काशी विद्यापीठ के बहाने काशी फिरभी जीने का आभास देती रही है।इसी वजह से हिंदी दुनिया को अमरकांत जी के अवसान के बाद साठ दशक के बाद शायद पहलीबार मालूम चला कि वे जी रहे थे और लिख भी रहे थे।


    अमरकांत जी पर लिखना विलंबित हुआ और लिख भी तब रहा हूं जबकि आज शाम ही दिल्ली से तहेरे भाई अरुण ने फोन पर सूचना दी की हमारी सबसे बड़ी दीदी मीरा दीदी के दूसरे बेटे सुशांत का निधन भुवाली सेनेटोरियम में हो गया और अभी वे लोग अस्पताल नहीं पहुंच पाये हैं।


    बचपन में हमारी अभिभावक मीरा दीदी को फोन लगाया तो संगीता सुबक रही थीं।

    उसके विवाह की सूचना देते हुए उसके पिता हमारे सबसे बड़े भांजे शेखर ने फोन पर धमकी दी थी कि अबके नहीं आये तो फिर कभी मुलाकात नहीं होगी।


    बेटी के विवाह के तीन महीने बीतते न बीतते सर्दी की एकरात बिजनौर दिल्ली रोड पर मोटरसाईकिल से जाते हुए सुनसान राजमार्ग पर ट्रक ने उसे कुचल दिया और समय पर इलाज न होने की वजह से उसका निधन  हो गया।


    संगीता को अपने चाचा के निधन पर अपने पिता की भी याद आयी होगी।


    हमें तो अपने भांजे की मृत्यु को शोक इलाहाबाद के शोक में स्थानांतरित नजर आ रहा है।


    पद्दोलोचन ने दो दिन  पहले ही फोन पर आगाह कर दिया था। इसलिए इस मौत को आकस्मिक भी नहीं कह सकते।


    आज ही पहाड़ से तमाम लोग भास्कर उप्रेती के साथ घर आये थे। आज ही राजेंद्र धस्माना से भाई की लंबी बात हुई है। जनपदों की आवाजों के मध्य हम बंद गली में कैद हैं और उन आवाजों के जवाब में कुछ कहने की हालत में भी नहीं हैं।


    पद्दो ने याद दिलाया कि करीब पैंतीस साल पहले प्रकाश झा ने गोविंद बल्लभ पंत पर दूरदर्शन के लिए फिल्म बनायी थी,जिसकी शूटिंग बसंतीपुर में भी हुई।पिताजी हमेशा की तरह बाहर थे,लेकिन उस फिल्म में बंसंतीपुर के लोग और हमारे ताउजी भी थे।


    जनपद हमारे मध्य हैं लेकिन हम जनपदों में होने का सच खारिज करते रहेते हैं जैसे हम खारिज करते जा रहे हैं जनपद और अपना वजूद।

    Unlike·  · Share· 4 hours ago·

    BBC Hindi

    प्रेमचंद की परंपरा के हिंदी कहानीकार अमरकांत का आज निधन हो गया. उन्हें ज्ञानपीठ, साहित्य अकादमी, सोवियत लैंड नेहरू और व्यास सम्मान जैसे कई पुरस्कार मिले थे. पढ़िए पूरी ख़बर

    http://bbc.in/1gb7LcB

    Like·  · Share· 5573856· 2 hours ago·

    निधन 15 फरवरी पर यही होगी सच्ची श्रद्धांजलि

    अगर आप सच में हमारे समय के महत्वपूर्ण कथाकार अमरकांत को हमेशा के लिए अपना बनाए रखना चाहते हैं तो एक उनकी एक कालजयी कहानी 'डिप्टी कलेक्टरी'जरूर पढ़िए। बेरोजगारों के फ़ौज वाले इस देश में बेटों के कन्धों पर बेहतरी के सपने लादकर मां -बाप कैसे सवार होते हैं और उनमें से ज्यादातर की नियति क्या होती है, उसका विवरण पढ़ आप खुद कहेंगे कि सच में अमरकांत सदी के साहित्यकार हैं.…


    डिप्टी कलेक्टरी

    शकलदीप बाबू कहीं एक घंटे बाद वापस लौटे। घर में प्रवेश करने के पूर्व उन्होंने ओसारे के कमरे में झाँका, कोई भी मुवक्किल नहीं था और मुहर्रिर साहब भी गायब थे। वह भीतर चले गए और अपने कमरे के सामने ओसारे में खड़े होकर बंदर की भाँति आँखे मलका-मलकाकर उन्होंने रसोईघर की ओर देखा। उनकी पत्नी जमुना, चैके के पास पीढ़े पर बैठी होंठ-पर-होंठ दबाये मुँह फुलाए तरकारी काट रही थी। वह मंद-मंद मुस्कुराते हुए अपनी पत्नी के पास चले गए। उनके मुख पर असाधारण संतोष, विश्वास एवं उत्साह का भाव अंकित था। एक घंटे पूर्व ऐसी बात नही थी।


    बात इस प्रकार आरंभ हुई। शकलदीप बाबू सबेरे दातौन-कुल्ला करने के बाद अपने कमरे में बैठे ही थे कि जमुना ने एक तश्तरी में दो जलेबियाँ नाश्ते के लिए सामने रख दीं। वह बिना कुछ बोले जलपान करने लगे।

    जमुना पहले तो एक-आध मिनट चुप रही। फिर पति के मुख की ओर उड़ती नज़र से देखने के बाद उसने बात छेड़ी, "दो-तीन दिन से बबुआ बहुत उदास रहते हैं।"


    "क्या?"सिर उठाकर शकलदीप बाबू ने पूछा और उनकी भौंहे तन गईं। जमुना ने व्यर्थ में मुस्कराते हुए कहा, "कल बोले, इस साल डिप्टी-कलक्टरी की बहुत-सी जगहें हैं, पर बाबूजी से कहते डर लगता है। कह रहे थे, दो-चार दिन में फीस भेजने की तारीख बीत जाएगी।"


    शकलदीप बाबू का बड़ा लड़का नारायण, घर में बबुआ के नाम से ही पुकारा जाता था। उम्र उसकी लगभग 24 वर्ष की थी। पिछले तीन-चार साल से बहुत-सी परीक्षाओं में बैठने, एम०एल०ए० लोगों के दरवाजों के चक्कर लगाने तथा और भी उल्टे-सीधे फन इस्तेमाल करने के बावजूद उसको अब तक कोई नौकरी नहीं मिल सकी थी। दो बार डिप्टी-कलक्टरी के इम्तहान में भी वह बैठ चुका था, पर दुर्भाग्य! अब एक अवसर उसे और मिलना था, जिसको वह छोड़ना न चाहता था, और उसे विश्वास था कि चूँकि जगहें काफी हैं और वह अबकी जी-जान से परिश्रम करेगा, इसलिए बहुत संभव है कि वह ले लिया जाए।


    शकलदीप बाबू मुख्तार थे। लेकिन इधर डेढ़-दो साल से मुख्तारी की गाड़ी उनके चलाए न चलती थी। बुढ़ौती के कारण अब उनकी आवाज़ में न वह तड़प रह गई थी, न शरीर में वह ताकत और न चाल में वह अकड़, इसलिए मुवक्किल उनके यहाँ कम ही पहुँचते। कुछ तो आकर भी भड़क जाते। इस हालत में वह राम का नाम लेकर कचहरी जाते, अक्सर कुछ पा जाते, जिससे दोनों जून चौका-चूल्हा चल जाता।


    जमुना की बात सुनकर वह एकदम बिगड़ गए। क्रोध से उनका मुँह विकृत हो गया और वह सिर को झटकते हुए, कटाह कुकुर की तरह बोले, "तो मैं क्या करूँ? मैं तो हैरान-परेशान हो गया हूँ। तुम लोग मेरी जान लेने पर तुले हुए हो। साफ-साफ सुन लो, मैं तीन बार कहता हूँ, मुझसे नहीं होगा, मुझसे नहीं होगा, मुझसे नहीं होगा।"

    जमुना कुछ न बोली, क्योंकि वह जानती थी कि पति का क्रोध करना स्वाभाविक है।


    शकलदीप बाबू एक-दो क्षण चुप रहे, फिर दाएँ हाथ को ऊपर-नीचे नचाते हुए बोले, "फिर इसकी गारंटी ही क्या है कि इस दफ़े बाबू साहब ले ही लिए जाएँगे? मामूली ए०जी० ऑफिस की क्लर्की में तो पूछे नहीं गए, डिप्टी-कलक्टरी में कौन पूछेगा? आप में क्या खूबी है, साहब कि आप डिप्टी-कलक्टर हो ही जाएँगे? थर्ड क्लास बी०ए० आप हैं, चौबीसों घंटे मटरगश्ती आप करते हैं, दिन-रात सिगरेट आप फूँकते हैं। आप में कौन-से सुर्खाब के पर लगे हैं? बड़े-बड़े बह गए, गदहा पूछे कितना पानी! फिर करम-करम की बात होती है। भाई, समझ लो, तुम्हारे करम में नौकरी लिखी ही नहीं। अरे हाँ, अगर सभी कुकुर काशी ही सेवेंगे तो हँडिया कौन चाटेगा? डिप्टी-कलक्टरी, डिप्टी-कलक्टरी! सच पूछो, तो डिप्टी-कलक्टरी नाम से मुझे घृणा हो गई है!"

    और होंठ बिचक गए।


    जमुना ने अब मृदु स्वर में उनके कथन का प्रतिवाद किया, "ऐसी कुभाषा मुँह से नहीं निकालनी चाहिए। हमारे लड़के में दोष ही कौन-सा है? लाखों में एक है। सब्र की सौ धार, मेरा तो दिल कहता है इस बार बबुआ ज़रूर ले लिए जाएँगे। फिर पहली भूख-प्यास का लड़का है, माँ-बाप का सुख तो जानता ही नहीं। इतना भी नहीं होगा, तो उसका दिल टूट जाएगा। यों ही न मालूम क्यों हमेशा उदास रहता है, ठीक से खाता-पीता नहीं, ठीक से बोलता नहीं, पहले की तरह गाता-गुनगुनाता नहीं। न मालूम मेरे लाड़ले को क्या हो गया है।"अंत में उसका गला भर आया और वह दूसरी ओर मुँह करके आँखों में आए आँसुओं को रोकने का प्रयास करने लगी।


    जमुना को रोते हुए देखकर शकलदीप बाबू आपे से बाहर हो गए। क्रोध तथा व्यंग से मुँह चिढ़ाते हुए बोले, "लड़का है तो लेकर चाटो! सारी खुराफ़ात की जड़ तुम ही हो, और कोई नहीं! तुम मुझे ज़िंदा रहने देना नहीं चाहतीं, जिस दिन मेरी जान निकलेगी, तुम्हारी छाती ठंडी होगी!"वह हाँफ़ने लगे। उन्होंने जमुना पर निर्दयतापूर्वक ऐसा जबरदस्त आरोप किया था, जिसे वह सह न सकी। रोती हुई बोली, "अच्छी बात है, अगर मैं सारी खुराफ़ात की जड़ हूँ तो मैं कमीनी की बच्ची, जो आज से कोई बात..."रुलाई के मारे वह आगे न बोल सकी और तेज़ी से कमरे से बाहर निकल गई।


    शकलदीप बाबू कुछ नहीं बोले, बल्कि वहीं बैठे रहे। मुँह उनका तना हुआ था और गर्दन टेढ़ी हो गई थी। एक-आध मिनट तक उसी तरह बैठे रहने के पश्चात वह ज़मीन पर पड़े अख़बार के एक फटे-पुराने टुकड़े को उठाकर इस तल्लीनता से पढ़ने लगे, जैसे कुछ भी न हुआ हो।


    लगभग पंद्रह-बीस मिनट तक वह उसी तरह पढ़ते रहे। फिर अचानक उठ खड़े हुए। उन्होंने लुंगी की तरह लिपटी धोती को खोलकर ठीक से पहन लिया और ऊपर से अपना पारसी कोट डाल लिया, जो कुछ मैला हो गया था और जिसमें दो चिप्पयाँ लगी थीं, और पुराना पंप शू पहन, हाथ में छड़ी ले, एक-दो बार खाँसकर बाहर निकल गए।


    पति की बात से जमुना के हृदय को गहरा आघात पहुँचा था। शकलदीप बाबू को बाहर जाते हुए उसने देखा, पर वह कुछ नहीं बोली। वह मुँह फुलाए चुपचाप घर के अटरम-सटरम काम करती रही। और एक घंटे बाद भी जब शकलदीप बाबू बाहर से लौट उसके पास आकर खड़े हुए, तब भी वह कुछ न बोली, चुपचाप तरकारी काटती रही।


    शकलदीप बाबू ने खाँसकर कहा, "सुनती हो, यह डेढ़ सौ रुपए रख लो। करीब सौ रुपए बबुआ की फीस में लगेंगे और पचास रुपए अलग रख देना, कोई और काम आ पडे।"


    जमुना ने हाथ बढ़ाकर रुपए तो अवश्य ले लिए, पर अब भी कुछ नहीं बोली।


    लेकिन शकलदीप बाबू अत्यधिक प्रसन्न थे और उन्होंने उत्साहपूर्ण आवाज में कहा, "सौ रुपए बबुआ को दे देना, आज ही फ़ीस भेज दें। होंगे, ज़रूर होंगे,बबुआ डिप्टी-कलक्टर अवश्य होंगे। कोई कारण ही नहीं कि वह न लिए जाएँ। लड़के के जेहन में कोई खराबी थोड़े है। राम-राम!... नहीं, चिंता की कोई बात नहीं। नारायण जी इस बार भगवान की कृपा से डिप्टी-कलक्टर अवश्य होंगे।"


    जमुना अब भी चुप रही और रुपयों को ट्रंक में रखने के लिए उठकर अपने कमरे में चली गई।


    शकलदीप बाबू अपने कमरे की ओर लौट पड़े। पर कुछ दूर जाकर फिर घूम पड़े और जिस कमरे में जमुना गई थी, उसके दरवाज़े के सामने आकर खड़े हो गए और जमुना को ट्रंक में रुपए बंद करते हुए देखते रहे। फिर बोले,"गलती किसी की नहीं। सारा दोष तो मेरा है। देखो न, मैं बाप होकर कहता हूँ कि लड़का नाकाबिल है! नहीं, नहीं, सारी खुराफ़ात की जड़ मैं ही हूँ, और कोई नहीं।"


    एक-दो क्षण वह खड़े रहे, लेकिन तब भी जमुना ने कोई उत्तर नहीं दिया तो कमरे में जाकर वह अपने कपड़े उतारने लगे।


    नारायण ने उसी दिन डिप्टी-कलक्टरी की फीस तथा फार्म भेज दिये।


    दूसरे दिन आदत के खिलाफ प्रातःकाल ही शकलदीप बाबू की नींद उचट गई। वह हड़बड़ाकर आँखें मलते हुए उठ खड़े हुए और बाहर ओसारे में आकर चारों ओर देखने लगे। घर के सभी लोग निद्रा में निमग्न थे। सोए हुए लोगों की साँसों की आवाज और मच्छरों की भनभन सुनाई दे रही थी। चारों ओर अँधेरा था। लेकिन बाहर के कमरे से धीमी रोशनी आ रही थी। शकलदीप बाबू चौंक पड़े और पैरों को दबाए कमरे की ओर बढ़े।


    उनकी उम्र पचास के ऊपर होगी। वह गोरे, नाटे और दुबले-पतले थे। उनके मुख पर अनगिनत रेखाओं का जाल बुना था और उनकी बाँहों तथा गर्दन पर चमड़े झूल रहे थे।


    दरवाजे के पास पहुँचकर, उन्होंने पंजे के बल खड़े हो, होंठ दबाकर कमरे के अंदर झाँका। उनका लड़का नारायण मेज पर रखी लालटेन के सामने सिर झुकाए ध्यानपूर्वक कुछ पढ़ रहा था। शकलदीप बाबू कुछ देर तक आँखों को साश्चर्य फैलाकर अपने लड़के को देखते रहे, जैसे किसी आनंददायी रहस्य का उन्होंने अचानक पता लगा लिया हो। फिर वह चुपचाप धीरे-से पीछे हट गए और वहीं खड़े होकर ज़रा मुस्कराए और फिर दबे पाँव धीरे-धीरे वापस लौटे और अपने कमरे के सामने ओसारे के किनारे खड़े होकर आसमान को उत्सुकतापूर्वक निहारने लगे।


    उनकी आदत छह, साढ़े छह बजे से पहले उठने की नहीं थी। लेकिन आज उठ गए थे, तो मन अप्रसन्न नहीं हुआ। आसमान में तारे अब भी चटक दिखाई दे रहे थे, और बाहर के पेड़ों को हिलाती हुई और खपड़े को स्पर्श करके आँगन में न मालूम किस दिशा से आती जाती हवा उनको आनंदित एवं उत्साहित कर रही थी। वह पुनः मुस्करा पड़े और उन्होंने धीरे-से फुसफुसाया, "चलो, अच्छा ही है।"


    और अचानक उनमें न मालूम कहाँ का उत्साह आ गया। उन्होंने उसी समय ही दातौन करना शुरू कर दिया। इन कार्यों से निबटने के बाद भी अँधेरा ही रहा, तो बाल्टी में पानी भरा और उसे गुसलखाने में ले जाकर स्नान करने लगे। स्नान से निवृत्त होकर जब वह बाहर निकले, तो उनके शरीर में एक अपूर्व ताजगी तथा मन में एक अवर्णनीय उत्साह था।


    यद्यपि उन्होंने अपने सभी कार्य चुपचाप करने की कोशिश की थी, तो भी देह दुर्बल होने के कारण कुछ खटपट हो गई, जिसके परिणामस्वरूप उनकी पत्नी की नींद खुल गई। जमुना को तो पहले चोर-वोर का संदेह हुआ, लेकिन उसने झटपट आकर जब देखा, तो आश्चर्यचकित हो गई। शकलदीप बाबू आँगन में खड़े-खड़े आकाश को निहार रहे थे।


    जमुना ने चिंतातुर स्वर में कहा, "इतनी जल्दी स्नान की जरूरत क्या थी? इतना सबेरे तो कभी भी नहीं उठा जाया जाता था? कुछ हो-हवा गया, तो?"


    शकलदीप बाबू झेंप गए। झूठी हँसी हँसते हुए बोले, "धीरे-धीरे बोलो, भाई, बबुआ पढ़ रहे हैं।"


    जमुना बिगड़ गई, "धीरे-धीरे क्यों बोलूँ, इसी लच्छन से परसाल बीमार पड़ जाया गया था।"


    शकलदीप बाबू को आशंका हुई कि इस तरह बातचीत करने से तकरार बढ़ जाएगा, शोर-शराबा होगा, इसलिए उन्होंने पत्नी की बात का कोई उत्तर नहीं दिया। वह पीछे घूम पड़े और अपने कमरे में आकर लालटेन जलाकर चुपचाप रामायण का पाठ करने लगे।


    पूजा समाप्त करके जब वह उठे, तो उजाला हो गया था। वह कमरे से बाहर निकल आए। घर के बड़े लोग तो जाग गए थे, पर बच्चे अभी तक सोए थे। जमुना भंडार-घर में कुछ खटर-पटर कर रही थी। शकलदीप बाबू ताड़ गए और वह भंडार-घर के दरवाजे के सामने खड़े हो गए और कमर पर दोनों हाथ रखकर कुतूहल के साथ अपनी पत्नी को कुंडे में से चावल निकालते हुए देखते रहे।


    कुछ देर बाद उन्होंने प्रश्न किया, "नारायण की अम्मा, आजकल तुम्हारा पूजा-पाठ नहीं होता क्या?"और झेंपकर वह मुस्कराए।


    शकलदीप बाबू इसके पूर्व सदा राधास्वामियों पर बिगड़ते थे और मौका-बेमौका उनकी कड़ी आलोचना भी करते थे। इसको लेकर औरतों में कभी-कभी रोना-पीटना तक भी हो जाता था। इसलिए आज भी जब शकलदीप बाबू ने पूजा-पाठ की बात की, तो जमुना ने समझा कि वह व्यंग कर रहे हैं। उसने भी प्रत्युत्तर दिया, "हम लोगों को पूजा-पाठ से क्या मतलब? हमको तो नरक में ही जाना है। जिनको सरग जाना हो, वह करें!"


    "लो बिगड़ गईं,"शकलदीप बाबू मंद-मंद मुस्कराते हुए झट-से बोले, "अरे, मैं मजाक थोड़े कर रहा था! मैं बड़ी गलती पर था, राधास्वामी तो बड़े प्रभावशाली देवता हैं।"


    जमुना को राधास्वामी को देवता कहना बहुत बुरा लगा और वह तिनककर बोली, "राधास्वामी को देवता कहते हैं? वह तो परमपिता परमेसर हैं, उनका लोक सबसे ऊपर है, उसके नीचे ही ब्रह्मा, विष्णु और महेश के लोक आते हैं।"


    "ठीक है, ठीक है, लेकिन कुछ पूजा-पाठ भी करोगी? सुनते हैं सच्चे मन से राधास्वामी की पूजा करने से सभी मनोरथ सिद्ध हो जाते हैं।"शकलदीप बाबू उत्तर देकर काँपते होंठों में मुस्कराने लगे।


    जमुना ने पुनः भुल-सुधार किया, "इसमें दिखाना थोड़े होता है; मन में नाम ले लिया जाता है। सभी मनोरथ बन जाते हैं और मरने के बाद आत्मा परमपिता में मिल जाती है। फिर चौरासी नहीं भुगतना पड़ता।"


    शकलदीप बाबू ने सोत्साह कहा, "ठीक है, बहुत अच्छी बात है। जरा और सबेरे उठकर नाम ले लिया करो। सुबह नहाने से तबीयत दिन-भर साफ रहती है। कल से तुम भी शुरू कर दो। मैं तो अभागा था कि मेरी आँखें आज तक बंद रही। खैर, कोई बात नहीं, अब भी कुछ नहीं बिगड़ा है, कल से तुम भी सवेरे चार बजे उठ जाना।"

    उनको भय हुआ कि जमुना कहीं उनके प्रस्ताव का विरोध न करे, इसलिए इतना कहने के बाद वह पीछे घूमकर खिसक गए। लेकिन अचानक कुछ याद करके वह लौट पड़े। पास आकर उन्होंने पत्नी से मुस्कराते हुए पूछा, "बबुआ के लिए नाश्ते का इंतजाम क्या करोगी?"


    "जो रोज होता है, वहीं होगा, और क्या होगा?"उदासीनतापूर्वक जमुना ने उत्तर दिया।


    "ठीक है, लेकिन आज हलवा क्यों नहीं बना लेतीं? घर का बना सामान अच्छा होता है। और कुछ मेवे मँगा लो।"


    "हलवे के लिए घी नहीं है। फिर इतने पैसे कहाँ हैं?"जमुना ने मजबूरी जाहिर की।


    "पचास रुपए तो बचे हैं न, उसमें से खर्च करो। अन्न-जल का शरीर, लड़के को ठीक से खाने-पीने का न मिलेगा, तो वह इम्तहान क्या देगा? रुपए की चिंता मत करो, मैं अभी जिंदा हूँ!"इतना कहकर शकलदीप बाबू ठहाका लगाकर हँस पड़े। वहाँ से हटने के पूर्व वह पत्नी को यह भी हिदायत देते गए, "एक बात और करो। तुम लड़के लोगों से डाँटकर कह देना कि वे बाहर के कमरे में जाकर बाजार न लगाएँ, नहीं तो मार पड़ेगी। हाँ, पढ़ने में बाधा पहुँचेगी। दूसरी बात यह कि बबुआ से कह देना, वह बाहर के कमरे में बैठकर इत्मीनान से पढ़ें, मैं बाहर सहन में बैठ लूँगा।"


    शकलदीप बाबू सबेरे एक-डेढ़ घंटे बाहर के कमरे में बैठते थे। वहाँ वह मुवक्किलों के आने की प्रतीक्षा करते और उन्हें समझाते-बुझाते।


    और वह उस दिन सचमुच ही मकान के बाहर पीपल के पेड़ के नीचे, जहाँ पर्याप्त छाया रहती थी, एक मेज और कुर्सियाँ लगाकर बैठ गए। जान-पहचान के लोग वहाँ से गुजरे, तो उन्हें वहाँ बैठे देखकर आश्चर्य हुआ। जब सड़क से गुजरते हुए बब्बनलाल पेशकार ने उनसे पूछा कि 'भाई साहब, आज क्या बात है?'तो उन्होंने जोर से चिल्लाकर कहा कि 'भीतर बड़ी गर्मी है।'और उन्होंने जोकर की तरह मुँह बना दिया और अंत में ठहाका मारकर हँस पड़े, जैसे कोई बहुत बड़ा मज़ाक कर दिया हो।


    शाम को जहाँ रोज वह पहले ही कचहरी से आ जाते थे, उस दिन देर से लौटे। उन्होंने पत्नी के हाथ में चार रुपए तो दिए ही, साथ ही दो सेब तथा कैंची सिगरेट के पाँच पैकेट भी बढ़ा दिए।


    "सिगरेट क्या होगी?"जमुना ने साश्चर्य पूछा।


    "तुम्हारे लिए है,"शकलदीप बाबू ने धीरे-से कहा और दूसरी ओर देखकर मुस्कराने लगे, लेकिन उनका चेहरा शर्म से कुछ तमतमा गया।


    जमुना ने माथे पर की साड़ी को नीचे खींचते हुए कहा, "कभी सिगरेट पी भी है कि आज ही पीऊँगी। इस उम्र में मज़ाक करते लाज नहीं आती?"


    शकलदीप बाबू कुछ बोले नहीं और थोड़ा मुस्कराकर इधर-उधर देखने लगे। फिर गंभीर होकर उन्होंने दूसरी ओर देखते हुए धीरे-से कहा, "बबुआ को दे देना,"और वह तुरंत वहाँ से चलते बने।


    जमुना भौचक होकर कुछ देर उनको देखती रही, क्योंकि आज के पूर्व तो वह यही देखती आ रही थी कि नारायण के धूम्रपान के वह सख्त खिलाफ़ रहे हैं और इसको लेकर कई बार लड़के को डाँट-डपट चुके हैं।


    उसकी समझ में कुछ न आया, तो वह यह कहकर मुस्करा पड़ी कि बुद्धि सठिया गई है।


    नारायण दिन-भर पढ़ने-लिखने के बाद टहलने गया हुआ था। शकलदीप बाबू जल्दी से कपड़े बदलकर हाथ में झाडू ले बाहर के कमरे में जा पहुँचे। उन्होंने धीरे-धीरे कमरे को अच्छी तरह झाड़ा-बुहारा, इसके बाद नारायण की मेज को साफ किया तथा मेजपोश को जोर-जोर से कई बार झाड़-फटककर सफाई के साथ उस पर बिछा दिया। अंत में नारायण की चारपाई पर पड़े बिछौने को खोलकर उसमें की एक-एक चीज को झाड़-फटकारकर यत्नपूर्वक बिछाने लगे।


    इतने में जमुना ने आकर देखा, तो मृदु स्वर में कहा, "कचहरी से आने पर यही काम रह गया है क्या? बिछौना रोज बिछ ही जाता है और कमरे की महरिन सफाई कर ही देती है।""अच्छा, ठीक है। मैं अपनी तबीयत से कर रहा हूँ, कोई जबरदस्ती थोड़ी है।"शकलदीप बाबू के मुख पर हल्के झेंप का भाव अंकित हो गया था और वह अपनी पत्नी की ओर न देखते हुए ऐसी आवाज में बोले, जैसे उन्होंने अचानक यह कार्य आरंभ कर दिया था- "और जब इतना कर ही लिया है, तो बीच में छोड़ने से क्या लाभ, पूरा ही कर लें।"कचहरी से आने के बाद रोज का उनका नियम यह था कि वह कुछ नाश्ता-पानी करके चारपाई पर लेट जाते थे। उनको अक्सर नींद आ जाती थी और वह लगभग आठ बजे तक सोते रहते थे। यदि नींद न भी आती, तो भी वह इसी तरह चुपचाप पड़े रहते थे।


    "नाश्ता तैयार है,"यह कहकर जमुना वहाँ से चली गई।


    शकलदीप बाबू कमरे को चमाचम करने, बिछौने लगाने तथा कुर्सियों को तरतीब से सजाने के पश्चात आँगन में आकर खड़े हो गए और बेमतलब ठनककर हँसते हुए बोले, "अपना काम सदा अपने हाथ से करना चाहिए, नौकरों का क्या ठिकाना?"


    लेकिन उनकी बात पर संभवतः किसी ने ध्यान नहीं दिया और न उसका उत्तर ही।


    धीरे-धीरे दिन बीतते गए और नारायण कठिन परिश्रम करता रहा। कुछ दिनों से शकलदीप बाबू सायंकाल घर से लगभग एक मील की दूरी पर स्थित शिवजी के एक मंदिर में भी जाने लगे थे। वह बहुत चलता मंदिर था और उसमें भक्तजनों की बहुत भीड़ होती थी। कचहरी से आने के बाद वह नारायण के कमरे को झाड़ते-बुहारते, उसका बिछौना लगाते, मेज़-कुर्सियाँ सजाते और अंत में नाश्ता करके मंदिर के लिए रवाना हो जाते। मंदिर में एक-डेढ़ घंटे तक रहते और लगभग दस बजे घर आते। एक दिन जब वह मंदिर से लौटे, तो साढ़े दस बज गए थे। उन्होंने दबे पाँव ओसारे में पाँव रखा और अपनी आदत के अनुसार कुछ देर तक मुस्कराते हुए झाँक-झाँककर कोठरी में नारायण को पढ़ते हुए देखते रहे। फिर भीतर जा अपने कमरे में छड़ी रखकर, नल पर हाथ-पैर धोकर,भोजन के लिए चैके में जाकर बैठ गए।


    पत्नी ने खाना परोस दिया। शकलदीप बाबू ने मुँह में कौर चुभलाते हुए पूछा,"बबुआ को मेवे दे दिए थे?"

    वह आज सायंकाल जब कचहरी से लौटे थे, तो मेवे लेते आए थे। उन्होंने मेवे को पत्नी के हवाले करते हुए कहा था कि इसे सिर्फ नारायण को ही देना, और किसी को नहीं।


    जमुना को झपकी आ रही थी, लेकिन उसने पति की बात सुन ली, चौंककर बोली, "कहाँ? मेवा ट्रंक में रख दिया था, सोचा था, बबुआ घूमकर आएँगे तो चुपके से दे दूँगी। पर लड़के तो दानव-दूत बने हुए हैं, ओना-कोना, अँतरा-सँतरा, सभी जगह पहुँच जाते हैं। टुनटुन ने कहीं से देख लिया और उसने सारा-का सारा खा डाला।"


    टुनटुन शकलदीप बाबू का सबसे छोटा बारह वर्ष का अत्यंत ही नटखट लड़का था।


    "क्यों?"शकलदीप बाबू चिल्ला पड़े। उनका मुँह खुल गया था और उनकी जीभ पर रोटी का एक छोटा टुकड़ा दृष्टिगोचर हो रहा था। जमुना कुछ न बोली। अब शकलदीप बाबू ने गुस्से में पत्नी को मुँह चिढ़ाते हुए कहा, "खा गया, खा गया! तुम क्यों न खा गई! तुम लोगों के खाने के लिए ही लाता हूँ न? हूँ! खा गया!"


    जमुना भी तिनक उठी, "तो क्या हो गया? कभी मेवा-मिश्री, फल-मूल तो उनको मिलता नहीं, बेचारे खुद्दी-चुन्नी जो कुछ मिलता है, उसी पर सब्र बाँधे रहते हैं। अपने हाथ से खरीदकर कभी कुछ दिया भी तो नहीं गया। लड़का ही तो है, मन चल गया, खा लिया। फिर मैंने उसे बहुत मारा भी, अब उसकी जान तो नहीं ले लूँगी।"

    "अच्छा तो खाओ तुम और तुम्हारे लड़के! खूब मजे में खाओ! ऐसे खाने पर लानत है!"वह गुस्से से थर-थर काँपते हुए चिल्ला पड़े और फिर चौके से उठकर कमरे में चले गए।


    जमुना भय, अपमान और गुस्से से रोने लगी। उसने भी भोजन नहीं किया और वहाँ से उठकर चारपाई पर मुँह ढँककर पड़ रही। लेकिन दूसरे दिन प्रातःकाल भी शकलदीप बाबू का गुस्सा ठंडा न हुआ और उन्होंने नहाने-धोने तथा पूजा-पाठ करने के बाद सबसे पहला काम यह किया कि जब टुनटुन जागा, तो उन्होंने उसको अपने पास बुलाया और उससे पूछा कि उसने मेवा क्यों खाया? जब उसको कोई उत्तर न सूझा और वह भक्कू बनकर अपने पिता की ओर देखने लगा, तो शकलदीप बाबू ने उसे कई तमाचे जड़ दिए।


    डिप्टी-कलक्टरी की परीक्षा इलाहाबाद में होनेवाली थी और वहाँ रवाना होने के दिन आ गए। इस बीच नारायण ने इतना अधिक परिश्रम किया कि सभी आश्चर्यचकित थे। वह अट्ठारह-उन्नीस घंटे तक पढ़ता। उसकी पढ़ाई में कोई बाधा उपस्थित नहीं होने पाती, बस उसे पढ़ना था। उसका कमरा साफ मिलता, उसका बिछौना बिछा मिलता, दोनों जून गाँव के शुद्ध घी के साथ दाल-भात,रोटी, तरकारी मिलती। शरीर की शक्ति तथा दिमाग की ताजगी को बनाए रखने के लिए नाश्ते में सबेरे हलवा-दूध तथा शाम को मेवे या फल। और तो और, लड़के की तबीयत न उचटे, इसलिए सिगरेट की भी समुचित व्यवस्था थी। जब सिगरेट के पैकेट खत्म होते, तो जमुना उसके पास चार-पाँच पैकेट और रख आती।


    जिस दिन नारायण को इलाहाबाद जाना था, शकलदीप बाबू की छुट्टी थी और वे सबेरे ही घूमने निकल गए। वह कुछ देर तक कंपनी गार्डन में घूमते रहे,फिर वहाँ तबीयत न लगी, तो नदी के किनारे पहुँच गए। वहाँ भी मन न लगा, तो अपने परम मित्र कैलाश बिहारी मुख्तार के यहाँ चले गए। वहाँ बहुत देर तक गप-सड़ाका करते रहे, और जब गाड़ी का समय निकट आया, तो जल्दी-जल्दी घर आए।


    गाड़ी नौ बजे खुलती थी। जमुना तथा नारायण की पत्नी निर्मला ने सबेरे ही उठकर जल्दी-जल्दी खाना बना लिया था। नारायण ने खाना खाया और सबको प्रणाम कर स्टेशन को चल पड़ा। शकलदीप बाबू भी स्टेशन गए।


    नारायण को विदा करने के लिए उसके चार-पाँच मित्र भी स्टेशन पर पहुँचे थे। जब तक गाड़ी नहीं आई थी, नारायण प्लेटफार्म पर उन मित्रों से बातें करता रहा। शकलदीप बाबू अलग खड़े इधर-उधर इस तरह देखते रहे, जैसे नारायण से उनका कोई परिचय न हो। और जब गाड़ी आई और नारायण अपने पिता तथा मित्रों के सहयोग से गाड़ी में पूरे सामान के साथ चढ़ गया, तो शकलदीप बाबू वहाँ से धीरे-से खिसक गए और व्हीलर के बुकस्टाल पर जा खड़े हुए। बुकस्टाल का आदमी जान-पहचान का था, उसने नमस्कार करके पूछा, "कहिए, मुख्तार साहब, आज कैसे आना हुआ?"


    शकलदीप बाबू ने संतोषपूर्वक मुस्कराते हुए उत्तर दिया, "लड़का इलाहाबाद जा रहा है, डिप्टी-कलक्टरी का इम्तहान देने। शाम तक पहुँच जाएगा। ड्योढ़े दर्जे के पास जो डिब्बा है न, उसी में है। नीचे जो चार-पाँच लड़के खड़े हैं, वे उसके मित्र है। सोचा, भाई हम लोग बूढ़े ठहरे, लड़के इम्तहान-विम्तहान की बात कर रहे होंगे, क्या समझेंगे, इसलिए इधर चला आया।"उनकी आँखे हास्य से संकुचित हो गईं।


    वहाँ वह थोड़ी देर तक रहे। इसके बाद जाकर घड़ी में समय देखा, कुछ देर तक तारघर के बाहर तार बाबू को खटर-पटर करते हुए निहारा और फिर वहाँ से हटकर रेलगाड़ियों के आने-जाने का टाइम-टेबुल पढ़ने लगे। लेकिन उनका ध्यान संभवतः गाड़ी की ओर ही था, क्योंकि जब ट्रेन खुलने की घंटी बजी, तो वहाँ से भागकर नारायण के मित्रों के पीछे आ खड़े हुए।


    नारायण ने जब उनको देखा, तो उसने झटपट नीचे उतरकर पैर छूए। "खुश रहो, बेटा, भगवान तुम्हारी मनोकामना पूरी करे!"उन्होंने लड़के से बुदबुदाकर कहा और दूसरी ओर देखने लगे।


    नारायण बैठ गया और अब गाड़ी खुलने ही वाली थी। अचानक शकलदीप बाबू का दाहिना हाथ अपने कोट की जेब से कोई चीज लगभग बाहर निकाल ली, और वह कुछ आगे भी बढ़े, लेकिन फिर न मालूम क्या सोचकर रुक गए। उनका चेहरा तमतमा-सा गया और जल्दीबाजी में वह इधर-उधर देखने लगे। गाड़ी सीटी देकर खुल गई तो शकलदीप बाबू चैंक उठे। उन्होंने जेब से वह चीज निकालकर मुट्ठी में बाँध ली और उसे नारायण को देने के लिए दौड़ पड़े। वह दुर्बल तथा बूढ़े आदमी थे, इसलिए उनसे तेज क्या दौड़ा जाता, वह पैरों में फुर्ती लाने के लिए अपने हाथों को इस तरह भाँज रहे थे, जैसे कोई रोगी, मरियल लड़का अपने साथियों के बीच खेल-कूद के दौरान कोई हल्की-फुल्की शरारत करने के बाद तेज़ी से दौड़ने के लिए गर्दन को झुकाकर हाथों को चक्र की भाँति घुमाता है। उनके पैर थप-थप की आवाज के साथ प्लेटफार्म पर गिर रहे थे, और उनकी हरकतों का उनके मुख पर कोई विशेष प्रभाव दृष्टिगोचर नहीं हो रहा था, बस यही मालूम होता कि वह कुछ पेरशान हैं। प्लेटफार्म पर एकत्रित लोगों का ध्यान उनकी ओर आकर्षित हो गया। कुछ लोगों ने मौज में आकर जोर से ललकारा, कुछ ने किलकारियाँ मारीं और कुछ लोगों ने दौड़ के प्रति उनकी तटस्थ मुद्रा को देखकर बेतहाशा हँसना आरंभ किया। लेकिन यह उनका सौभाग्य ही था कि गाड़ी अभी खुली ही थी और स्पीड में नहीं आई थी। परिणामस्वरूप उनका हास्यजनक प्रयास सफल हुआ और उन्होंने डिब्बे के सामने पहुँचकर उत्सुक तथा चिंतित मुद्रा में डिब्बे से सिर निकालकर झाँकते हुए नारायण के हाथ में एक पुड़िया देते हुए कहा, "बेटा, इसे श्रद्धा के साथ खा लेना, भगवान शंकर का प्रसाद है।"


    पुड़िया में कुछ बताशे थे, जो उन्होंने कल शाम को शिवजी को चढ़ाए थे और जिसे पता नहीं क्यों, नारायण को देना भूल गए थे। नारायण के मित्र कुतूहल से मुस्कराते हुए उनकी ओर देख रहे थे, और जब वह पास आ गए, तो एक ने पूछा, "बाबू जी, क्या बात थी, हमसे कह देते।"शकलदीप बाबू यह कहकर कि, "कोई बात नहीं, कुछ रुपए थे, सोचा, मैं ही दे दूँ, तेजी से आगे बढ़ गए।"


    परीक्षा समाप्त होने के बाद नारायण घर वापस आ गया। उसने सचमुच पर्चे बहुत अच्छे किए थे और उसने घरवालों से साफ-साफ कह दिया कि यदि कोई बेईमानी न हुई, तो वह इंटरव्यू में अवश्य बुलाया जाएगा। घरवालों की बात तो दूसरी थी, लेकिन जब मुहल्ले और शहर के लोगों ने यह बात सुनी, तो उन्होंने विश्वास नहीं किया। लोग व्यंग में कहने लगे, हर साल तो यही कहते हैं बच्चू! वह कोई दूसरे होते हैं, जो इंटरव्यू में बुलाए जाते हैं!


    लेकिन बात नारायण ने झूठ नहीं कही थी, क्योंकि एक दिन उसके पास सूचना आई कि उसको इलाहाबाद में प्रादेशिक लोक सेवा आयोग के समक्ष इंटरव्यू के लिए उपस्थित होना है। यह समाचार बिजली की तरह सारे शहर में फैल गया। बहुत साल बाद इस शहर से कोई लड़का डिप्टी-कलक्टरी के इंटरव्यू के लिए बुलाया गया था। लोगों में आश्चर्य का ठिकाना न रहा।


    सायंकाल कचहरी से आने पर शकलदीप बाबू सीधे आँगन में जा खड़े हो गए और जोर से ठठाकर हँस पड़े। फिर कमरे में जाकर कपड़े उतारने लगे। शकलदीप बाबू ने कोट को खूँटी पर टाँगते हुए लपककर आती हुई जमुना से कहा, "अब करो न राज! हमेशा शोर मचाए रहती थी कि यह नहीं है, वह नहीं है! यह मामूली बात नहीं है कि बबुआ इंटरव्यू में बुलाए गए हैं, आया ही समझो!"


    "जब आ जाएँ, तभी न,"जमुना ने कंजूसी से मुस्कराते हुए कहा। शकलदीप बाबू थोड़ा हँसते हुए बोल, "तुमको अब भी संदेह है? लो, मैं कहता हूँ कि बबुआ जरूर आएँगे, जरूर आएँगे! नहीं आए, तो मैं अपनी मूँछ मुड़वा दूँगा। और कोई कहे या न कहे, मैं तो इस बात को पहले से ही जानता हूँ। अरे, मैं ही क्यों, सारा शहर यही कहता है। अंबिका बाबू वकील मुझे बधाई देते हुए बोले, 'इंटरव्यू में बुलाए जाने का मतलब यह है कि अगर इंटरव्यू थोड़ा भी अच्छा हो गया, तो चुनाव निश्चित है।'मेरी नाक में दम था, जो भी सुनता, बधाई देने चला आता।"


    "मुहल्ले के लड़के मुझे भी आकर बधाई दे गए हैं। जानकी, कमल और गौरी तो अभी-अभी गए हैं। जमुना ने स्वप्निल आँखों से अपने पति को देखते हुए सूचना दी।"


    "तो तुम्हारी कोई मामूली हस्ती है! अरे, तुम डिप्टी-कलक्टर की माँ हो न,


    जी!"इतना कहकर शकलदीप बाबू ठहाका मारकर हँस पड़े। जमुना कुछ नहीं बोली, बल्कि उसने मुस्की काटकर साड़ी का पल्ला सिर के आगे थोड़ा और खींचकर मुँह टेढ़ा कर लिया। शकलदीप बाबू ने जूते निकालकर चारपाई पर बैठते हुए धीरे-से कहा, "अरे भाई, हमको-तुमको क्या लेना है, एक कोने में पड़कर रामनाम जपा करेंगे। लेकिन मैं तो अभी यह सोच रहा हूँ कि कुछ साल तक और मुख्तारी करूँगा। नहीं, यही ठीक रहेगा।"उन्होंने गाल फुलाकर एक-दो बार मूँछ पर ताव दिए।


    जमुना ने इसका प्रतिवाद किया, "लड़का मानेगा थोड़े, खींच ले जाएगा। हमेशा यह देखकर उसकी छाती फटती रहती है कि बाबू जी इतनी मेहनत करते हैं और वह कुछ भी मदद नहीं करता।"


    "कुछ कह रहा था क्या?"शकलदीप बाबू ने धीरे-से पूछा और पत्नी की ओर न देखकर दरवाजे के बाहर मुँह बनाकर देखने लगे।


    जमुना ने आश्वासन दिया, "मैं जानती नहीं क्या? उसका चेहरा बताता है। बाप को इतना काम करते देखकर उसको कुछ अच्छा थोड़े लगता है!"अंत में उसने नाक सुड़क लिए।


    नारायण पंद्रह दिन बाद इंटरव्यू देने गया। और उसने इंटरव्यू भी काफी अच्छा किया। वह घर वापस आया, तो उसके हृदय में अत्यधिक उत्साह था, और जब उसने यह बताया कि जहाँ और लड़कों का पंद्रह-बीस मिनट तक ही इंटरव्यू हुआ, उसका पूरे पचास मिनट तक इंटरव्यू होता रहा और उसने सभी प्रश्नों का संतोषजनक उत्तर दिए, तो अब यह सभी ने मान लिया कि नारायण का लिया जाना निश्चित है।


    दूसरे दिन कचहरी में फिर वकीलों और मुख्तारों ने शकलदीप बाबू को बधाइयाँ दीं और विश्वास प्रकट किया कि नारायण अवश्य चुन लिया जाएगा। शकलदीप बाबू मुस्कराकर धन्यवाद देते और लगे हाथों नारायण के व्यक्तिगत जीवन की एक-दो बातें भी सुना देते और अंत में सिर को आगे बढ़ाकर फुसफुसाहट में दिल का राज प्रकट करते, "आपसे कहता हूँ, पहले मेरे मन में शंका थी, शंका क्या सोलहों आने शंका थी, लेकिन आप लोगों की दुआ से अब वह दूर हो गई है।"


    जब वह घर लौटे, तो नारायण, गौरी और कमल दरवाजे के सामने खड़े बातें कर रहे थे। नारायण इंटरव्यू के संबंध में ही कुछ बता रहा था। वह अपने पिता जी को आता देखकर धीरे-धीरे बोलने लगा। शकलदीप बाबू चुपचाप वहाँ से गुजर गए, लेकिन दो-तीन गज ही आगे गए होंगे कि गौरी कि आवाज उनको सुनाई पड़ी, "अरे तुम्हारा हो गया, अब तुम मौज करो!"इतना सुनते की शकलदीप बाबू घूम पड़े और लड़कों के पास आकर उन्होंने पूछा, "क्या?"उनकी आँखें संकुचित हो गई थीं और उनकी मुद्रा ऐसी हो गई थी, जैसे किसी महफिल में जबरदस्ती घुस आए हों।


    लड़के एक-दूसरे को देखकर शिष्टतापूर्वक होंठों में मुस्कराए। फिर गौरी ने अपने कथन को स्पष्ट किया, "मैं कह रहा था नारायण से, बाबू जी, कि उनका चुना जाना निश्चित है।"


    शकलदीप बाबू ने सड़क से गुजरती हुई एक मोटर को गौर से देखने के बाद धीरे-धीरे कहा, "हाँ, देखिए न, जहाँ एक-से-एक धुरंधर लड़के पहुँचते हैं, सबसे तो बीस मिनट ही इंटरव्यू होता है, पर इनसे पूरे पचास मिनट! अगर नहीं लेना होता, तो पचास मिनट तक तंग करने की क्या जरूरत थी, पाँच-दस मिनट पूछताछ करके...."

    गौरी ने सिर हिलाकर उनके कथन का समर्थन किया और कमल ने कहा, "पहले का जमाना होता, तो कहा भी नहीं जा सकता, लेकिन अब तो बेईमानी-बेईमानी उतनी नहीं होती होगी।"


    शकलदीप बाबू ने आँखें संकुचित करके हल्की-फुल्की आवाज में पूछा, "बेईमानी नहीं होती न?"


    "हाँ, अब उतनी नहीं होती। पहले बात दूसरी थी। वह जमाना अब लद गया।"गौरी ने उत्तर दिया।


    शकलदीप बाबू अचानक अपनी आवाज पर जोर देते हुए बोले, "अरे, अब कैसी बेईमानी साहब, गोली मारिए, अगर बेईमानी ही करनी होती, तो इतनी देर तक इनका इंटरव्यू होता? इंटरव्यू में बुलाया ही न होता और बुलाते भी तो चार-पाँच मिनट पूछताछ करके विदा कर देते।"


    इसका किसी ने उत्तर नहीं दिया, तो वह मुस्कराते हुए घूमकर घर में चले गए।


    घर में पहुँचने पर जमुना से बोले, "बबुआ अभी से ही किसी अफ़सर की तरह लगते हैं। दरवाजे पर बबुआ, गौरी और कमल बातें कर रहे हैं। मैंने दूर ही से गौर किया, जब नारायण बाबू बोलते हैं, तो उनके बोलने और हाथ हिलाने से एक अजीब ही शान टपकती है। उनके दोस्तों में ऐसी बात कहाँ?"


    "आज दोपहर में मुझे कह रहे थे कि तुझे मोटर में घुमाऊँगा।"जमुना ने खुशखबरी सुनाई।


    शकलदीप बाबू खुश होकर नाक सुड़कते हुए बोले, "अरे, तो उसको मोटर की कमी होगी, घूमना न जितना चाहना।"वह सहसा चुप हो गए और खोए-खोए इस तरह मुस्कराने लगे, जैसे कोई स्वादिष्ट चीज खाने के बाद मन-ही-मन उसका मजा ले रहे हों।


    कुछ देर बाद उन्होंने पत्नी से प्रश्न किया, "क्या कह रहा था, मोटर में घुमाऊँगा?


    जमुना ने फिर वही बात दोहरा दी।


    शकलदीप बाबू ने धीरे-से दोनों हाथों से ताली बजाते हुए मुस्कराकर कहा, "चलो, अच्छा है।"उनके मुख पर अपूर्व स्वप्निल संतोष का भाव अंकित था।


    सात-आठ दिनों में नतीजा निकलने का अनुमान था। सभी को विश्वास हो गया था कि नारायण ले लिया जाएगा और सभी नतीजे की बेचैनी से प्रतीक्षा कर रहे थे।


    अब शकलदीप बाबू और भी व्यस्त रहने लगे। पूजा-पाठ का उनका कार्यक्रम पूर्ववत जारी था। लोगों से बातचीत करने में उनको काफी मजा आने लगा और वह बातचीत के दौरान ऐसी स्थिति उत्पन्न कर देते कि लोगों को कहना पड़ता कि नारायण अवश्य ही ले लिया जाएगा। वह अपने घर पर एकत्रित नारायण तथा उसके मित्रों की बातें छिपकर सुनते और कभी-कभी अचानक उनके दल में घुस जाते तथा जबरदस्ती बात करने लगते। कभी-कभी नारायण को अपने पिता की यह हरकत बहुत बुरी लगती और वह क्रोध में दूसरी ओर देखने लगता। रात में शकलदीप बाबू चैंककर उठ बैठते और बाहर आकर कमरे में लड़के को सोते हुए देखने लगते या आँगन में खड़े होकर आकाश को निहारने लगते।


    एक दिन उन्होंने सबेरे ही सबको सुनाकर जोर से कहा, "नारायण की माँ, मैंने आज सपना देखा है कि नारायण बाबू डिप्टी-कलक्टर हो गए।"


    जमुना रसोई के बरामदे में बैठी चावल फटक रही थी और उसी के पास नारायण की पत्नी, निर्मला, घूँघट काढ़े दाल बीन रही थी।


    जमुना ने सिर उठाकर अपने पति की ओर देखते हुए प्रश्न किया, "सपना सबेरे दिखाई पड़ा था क्या?"


    "सबेरे के नहीं तो शाम के सपने के बारे में तुमसे कहने आऊँगा? अरे, एकदम ब्राह्ममुहूर्त में देखा था! देखता हूँ कि अखबार में नतीजा निकल गया है और उसमें नारायण बाबू का भी नाम हैं अब यह याद नहीं कि कौन नंबर था, पर इतना कह सकता हूँ कि नाम काफी ऊपर था।"


    "अम्मा जी, सबेरे का सपना तो एकदम सच्चा होता है न!"निर्मला ने धीरे-से जमुना से कहा।


    मालूम पड़ता है कि निर्मला की आवाज शकलदीप बाबू ने सुन ली, क्योंकि उन्होंने विहँसकर प्रश्न किया, "कौन बोल रहा है, डिप्टाइन हैं क्या?"अंत में वह ठहाका मारकर हँस पड़े।


    "हाँ, कह रही हैं कि सवेरे का सपना सच्चा होता है। सच्चा होता ही है।"जमुना ने मुस्कराकर बताया।


    निर्मला शर्म से संकुचित हो गई। उसने अपने बदन को सिकोड़ तथा पीठ को नीचे झुकाकर अपने मुँह को अपने दोनों घुटनों के बीच छिपा लिया।


    अगले दिन भी सबेरे शकलदीप बाबू ने घरवालों को सूचना दी कि उन्होंने आज भी हू-ब-हू वैसा ही सपना देखा है।


    जमुना ने अपनी नाक की ओर देखते हुए कहा, "सबेरे का सपना तो हमेशा ही सच्चा होता है। जब बहू को लड़का होनेवाला था, मैंने सबेरे-सबेरे सपना देखा कि कोई सरग की देवी हाथ में बालक लिए आसमान से आँगन में उतर रही है। बस, मैंने समझ लिया कि लड़का ही है। लड़का ही निकला।"


    शकलदीप बाबू ने जोश में आकर कहा, "और मान लो कि झूठ है, तो यह सपना एक दिन दिखाई पड़ता, दूसरे दिन भी हू-ब-हू वहीं सपना क्यों दिखाई देता, फिर वह भी ब्राह्ममुहूर्त में ही!"


    "बहू ने भी ऐसा ही सपना आज सबेरे देखा है!"


    "डिप्टाइन ने भी?"शकलदीप बाबू ने मुस्की काटते हुए कहा।


    "हाँ, डिप्टाइन ने ही। ठीक सबेरे उन्होंने देखा कि एक बँगले में हम लोग रह रहे हैं और हमारे दरवाजे पर मोटर खड़ी है।"जमुना ने उत्तर दिया।


    शकलदीप बाबू खोए-खोए मुस्कराते रहे। फिर बोले, "अच्छी बात है, अच्छी बात है।"


    एक दिन रात को लगभग एक बजे शकलदीप बाबू ने उठकर पत्नी को जगाया और उसको अलग ले जाते हुए बेशर्म महाब्राह्मण की भाँति हँसते हुए प्रश्न किया, "कहो भाई, कुछ खाने को होगा? बहुत देर से नींद ही नहीं लग रही है, पेट कुछ माँग रहा है। पहले मैंने सोचा, जाने भी दो, यह कोई खाने का समय है, पर इससे काम बनते न दिखा, तो तुमको जगाया। शाम को खाया था, सब पच गया।"


    जमुना अचंभे के साथ आँखें फाड़-फाड़कर अपने पति को देख रही थी। दांपत्य-जीवन के इतने दीर्घकाल में कभी भी, यहाँ तक कि शादी के प्रारंभिक दिनों में भी, शकलदीप बाबू ने रात में उसको जगाकर कुछ खाने को नहीं माँगा था। वह झुँझला पड़ी और उसने असंतोष व्यक्त किया, "ऐसा पेट तो कभी भी नहीं था। मालूम नहीं, इस समय रसोई में कुछ है या नहीं।"


    शकलदीप बाबू झेंपकर मुस्कराने लगे।


    एक-दो क्षण बाद जमुना ने आँखे मलकर पूछा, "बबुआ के मेवे में से थोड़ा दूँ क्या?"


    शकलदीप बाबू झट-से बोले, "अरे, राम-राम! मेवा तो, तुम जानती हो, मुझे बिलकुल पसंद नहीं। जाओ, तुम सोओ, भूख-वूख थोड़े है, मजाक किया था।"


    यह कहकर वह धीरे-से अपने कमरे में चले गए। लेकिन वह लेटे ही थे कि जमुना कमरे में एक छिपुली में एक रोटी और गुड़ लेकर आई। शकलदीप बाबू हँसते हुए उठ बैठे।


    शकलदीप बाबू पूजा-पाठ करते, कचहरी जाते, दुनिया-भर के लोगों से दुनिया-भर की बातचीत करते, इधर-उधर मटरगश्ती करते और जब खाली रहते, तो कुछ-न-कुछ खाने को माँग बैठते। वह चटोर हो गए और उनके जब देखो, भूख लग जाती। इस तरह कभी रोटी-गुड़ खा लेते, कभी आलू भुनवाकर चख लेते और कभी हाथ पर चीनी लेकर फाँक जाते। भोजन में भी वह परिवर्तन चाहने लगे। कभी खिचड़ी की फरमाइश कर देते, कभी सत्तू-प्याज की, कभी सिर्फ रोटी-दाल की, कभी मकुनी की और कभी सिर्फ दाल-भात की ही। उसका समय कटता ही न था और वह समय काटना चाहते थे।


    इस बदपरहेजी तथा मानसिक तनाव का नतीजा यह निकला कि वह बीमार पड़ गए। उनको बुखार तथा दस्त आने लगे। उनकी बीमारी से घर के लोगों को बड़ी चिंता हुई।


    जमुना ने रुआँसी आवाज में कहा, "बार-बार कहती थी कि इतनी मेहनत न कीजिए, पर सुनता ही कौन है? अब भोगना पड़ा न!"


    पर शकलदीप बाबू पर इसका कोई असर न हुआ। उन्होंने बात उड़ा दी-- "अरे, मैं तो कचहरी जानेवाला था, पर यह सोचकर रुक गया कि अब मुख्तारी तो छोड़नी ही है, थोड़ा आराम कर लें।"


    "मुख्तारी जब छोड़नी होगी, होगी, इस समय तो दोनों जून की रोटी-दाल का इंतजाम करना है।"जमुना ने चिंता प्रकट की।


    अरे, तुम कैसी बात करती हो? बीमारी-हैरानी तो सबको होती है, मैं मिट्टी का ढेला तो हूँ नहीं कि गल जाऊँगा। बस, एक-आध दिन की बात हैं अगर बीमारी सख्त होती, तो मैं इस तरह टनक-टनककर बोलता?"शकलदीप बाबू ने समझाया और अंत में उनके होंठों पर एक क्षीण मुस्कराहट खेल गई।


    वह दिन-भर बेचैन रहे। कभी लेटते, कभी उठ बैठते और कभी बाहर निकलकर टहलने लगते। लेकिन दुर्बल इतने हो गए थे कि पाँच-दस कदम चलते ही थक जाते और फिर कमरे में आकर लेटे रहते। करते-करते शाम हुई और जब शकलदीप बाबू को यह बताया गया कि कैलाशबिहारी मुख्तार उनका समाचार लेने आए हैं, तो वह उठ बैठे और झटपट चादर ओढ़, हाथ में छड़ी ले पत्नी के लाख मना करने पर भी बाहर निकल आए। दस्त तो बंद हो गया था, पर बुखार अभी था और इतने ही समय में वह चिड़चिड़े हो गए थे।


    कैलाशबिहारी ने उनको देखते ही चिंतातुर स्वर में कहा, "अरे, तुम कहाँ बाहर आ गए, मुझे ही भीतर बुला लेते।"


    शकलदीप बाबू चारपाई पर बैठ गए और क्षीण हँसी हँसते हुए बोले, "अरे, मुझे कुछ हुआ थोड़े हैं सोचा, आराम करने की ही आदत डालूँ।"यह कहकर वह अर्थपूर्ण दृष्टि से अपने मित्र को देखकर मुस्कराने लगे।


    सब हाल-चाल पूछने के बाद कैलाशबिहारी ने प्रश्न किया, "नारायण बाबू कहीं दिखाई नहीं दे रहे, कहीं घूमने गए हैं क्या?"


    शकलदीप बाबू ने बनावटी उदासीनता प्रकट करते हुए कहा, "हाँ, गए होंगे कहीं, लड़के उनको छोड़ते भी तो नहीं, कोई-न-कोई आकर लिवा जाता है।"


    कैलाशबिहारी ने सराहना की, "खूब हुआ, साहब! मंै भी जब इस लड़के को देखता था, दिल में सोचता था कि यह आगे चलकर कुछ-न-कुछ जरूर होगा। वह तो, साहब, देखने से ही पता लग जाता है। चाल में और बोलने-चालने के तरीके में कुछ ऐसा है कि... चलिए, हम सब इस माने में बहुत भाग्यशाली हैं।"


    शकलदीप बाबू इधर-उधर देखने के बाद सिर को आगे बढ़ाकर सलाह-मशविरे की आवाज में बोले, "अरे भाई साहब, कहाँ तक बताऊँ अपने मुँह से क्या कहना, पर ऐसा सीधा-सादा लड़का तो मैंने देखा नहीं, पढ़ने-लिखने का तो इतना शौक कि चौबीसों घंटे पढ़ता रहे। मुँह खोलकर किसी से कोई भी चीज़ माँगता नहीं।"


    कैलाशबिहारी ने भी अपने लड़के की तारीफ़ में कुछ बातें पेश कर दीं, "लड़के तो मेरे भी सीधे हैं, पर मझला लड़का शिवनाथ जितना गऊ है, उतना कोई नहीं। ठीक नारायण बाबू ही की तरह है!"


    "नारायण तो उस जमाने का कोई ऋषि-मुनि मालूम पड़ता है,"शकलदीप बाबू ने गंभीरतापूर्वक कहा, "बस, उसकी एक ही आदत है। मैं उसकी माँ को मेवा दे देता हूँ और नारायण रात में अपनी माँ को जगाकर खाता है। भली-बुरी उसकी बस एक यही आदत है। अरे भैया, तुमसे बताता हूँ, लड़कपन में हमने इसका नाम पन्नालाल रखा था, पर एक दिन एक महात्मा घूमते हुए हमारे घर आए। उन्होंने नारायण का हाथ देखा और बोले, इसका नाम पन्नालाल-सन्नालाल रखने की जरूरत नहीं, बस आज से इसे नारायण कहा करो, इसके कर्म में राजा होना लिखा है। पहले जमाने की बात दूसरी थी, लेकिन आजकल राजा का अर्थ क्या है? डिप्टी-कलक्टर तो एक अर्थ में राजा ही हुआ!"अंत में आँखें मटकाकर उन्होंने मुस्कराने की कोशिश की, पर हाँफने लगे।


    दोनों मित्र बहुत देर तक बातचीत करते रहे, और अधिकांश समय वे अपने-अपने लड़कों का गुणगान करते रहे।


    घर के लोगों को शकलदीप बाबू की बीमारी की चिंता थी। बुखार के साथ दस्त भी था, इसलिए वह बहुत कमजोर हो गए थे, लेकिन वह बात को यह कहकर उड़ा देते, "अरे, कुछ नहीं, एक-दो दिन में मैं अच्छा हो जाऊँगा।"और एक वैद्य की कोई मामूली, सस्ती दवा खाकर दो दिन बाद वह अच्छे भी हो गए, लेकिन उनकी दुर्बलता पूर्ववत थी।


    जिस दिन डिप्टी-कलक्टरी का नतीजा निकला, रविवार का दिन था।


    शकलदीप बाबू सबेरे रामायण का पाठ तथा नाश्ता करने के बाद मंदिर चले गए। छुट्टी के दिनों में वह मंदिर पहले ही चले जाते और वहाँ दो-तीन घंटे, और कभी-कभी तो चार-चार घंटे रह जाते। वह आठ बजे मंदिर पहुँच गए। जिस गाड़ी से नतीजा आनेवाला था, वह दस बजे आती थी।


    शकलदीप बाबू पहले तो बहुत देर तक मंदिर की सीढ़ी पर बैठकर सुस्ताते रहे, वहाँ से उठकर ऊपर आए, तो नंदलाल पांडे ने, जो चंदन रगड़ रहा था, नारायण के परीक्षाफल के संबंध में पूछताछ की। शकलदीप वहाँ पर खड़े होकर असाधारण विस्तार के साथ सबकुछ बताने लगे। वहाँ से जब उनको छुट्टी मिली, तो धूप काफी चढ़ गई थी। उन्होंने भीतर जाकर भगवान शिव के पिंड के समक्ष अपना माथा टेक दिया। काफी देर तक वह उसी तरह पड़े रहे। फिर उठकर उन्होंने चारों ओर घूम-घूमकर मंदिर के घंटे बजाकर मंत्रोच्चारण किए और गाल बजाए। अंत में भगवान के समक्ष पुनः दंडवत कर बाहर निकले ही थे कि जंगबहादुर सिंह मास्टर ने शिवदर्शनार्थ मंदिर में प्रवेश किया और उन्होंने शकलदीप बाबू को देखकर आश्चर्य प्रकट किया, "अरे, मुख्तार साहब! घर नहीं गए? डिप्टी-कलक्टरी का नतीजा तो निकल आया।"


    शकलदीप बाबू का हृदय धक-से कर गया। उनके होंठ काँपने लगे और उन्होंने कठिनता से मुस्कराकर पूछा, "अच्छा, कब आया?"


    जंगबहादुर सिंह ने बताया, "अरे, दस बजे की गाड़ी से आया। नारायण बाबू का नाम तो अवश्य है, लेकिन....."वह कुछ आगे न बोल सके।


    शकलदीप बाबू का हृदय जोरों से धक-धक कर रहा था। उन्होंने अपने सूखे होंठों को जीभ से तर करते हुए अत्यंत ही धीमी आवाज में पूछा, "क्या कोई खास बात है?"


    "कोई खास बात नहीं है। अरे, उनका नाम तो है ही, यह है कि ज़रा नीचे है। दस लड़के लिए जाएँगे, लेकिन मेरा ख्याल है कि उनका नाम सोलहवाँ-सत्रहवाँ पड़ेगा। लेकिन कोई चिंता की बात नहीं, कुछ लड़के को कलक्टरी में चले जाते हैं कुछ मेडिकल में ही नहीं आते, और इस तरह पूरी-पूरी उम्मीद है कि नारायण बाबू ले ही लिए जाएँगे।"


    शकलदीप बाबू का चेहरा फक पड़ गया। उनके पैरों में जोर नहीं था और मालूम पड़ता था कि वह गिर जाएँगे। जंगबहादूर सिंह तो मंदिर में चले गए।


    लेकिन वह कुछ देर तक वहीं सिर झुकाकर इस तरह खड़े रहे, जैसे कोई भूली बात याद कर रहे हों। फिर वह चैंक पड़े और अचानक उन्होंने तेजी से चलना शुरू कर दिया। उनके मुँह से धीमे स्वर में तेजी से शिव-शिव निकल रहा था। आठ-दस गज आगे बढ़ने पर उन्होंने चाल और तेज कर दी, पर शीघ्र ही बेहद थक गए और एक नीम के पेड़ के नीचे खड़े होकर हाँफने लगे।


    चार-पाँच मिनट सुस्ताने के बाद उन्होंने फिर चलना शुरू कर दिया। वह छड़ी को उठाते-गिराते, छाती पर सिर गाड़े तथा शिव-शिव का जाप करते, हवा के हल्के झोंके से धीरे-धीरे टेढ़े-तिरछे उड़नेवाले सूखे पत्ते की भाँति डगमग-डगमग चले जा रहे थे। कुछ लोगों ने उनको नमस्ते किया, तो उन्होंने देखा नहीं, और कुछ लोगों ने उनको देखकर मुस्कराकर आपस में आलोचना-प्रत्यालोचना शुरू कर दी, तब भी उन्होंने कुछ नहीं देखा। लोगों ने संतोष से, सहानुभूति से तथा अफ़सोस से देखा, पर उन्होंने कुछ भी ध्यान नहीं दिया। उनको बस एक ही धुन थी कि वह किसी तरह घर पहुँच जाएँ।


    घर पहुँचकर वह अपने कमरे में चारपाई पर धम-से बैठ गए। उनके मुँह से केवल इतना ही निकला, "नारायण की अम्माँ!"


    सारे घर में मुर्दनी छाई हुई थी। छोटे-से आँगन में गंदा पानी, मिट्टी, बाहर से उड़कर आए हुए सूखे पत्ते तथा गंदे कागज पड़े थे, और नाबदान से दुर्गंध आ रही थी। ओसारे में पड़ी पुरानी बँसखट पर बहुत-से गंदे कपड़े पड़े थे और रसोईघर से उस वक्त भी धुआँ उठ-उठकर सारे घर की साँस को घोट रहा था।


    कहीं कोई खटर-पटर नहीं हो रही थी और मालूम होता था कि घर में कोई है ही नहीं।


    शीघ्र ही जमुना न मालूम किधर से निकलकर कमरे में आई और पति को देखते ही उसने घबराकर पूछा, "तबीयत तो ठीक है?"


    शकलदीप बाबू ने झुँझलाकर उत्तर दिया, "मुझे क्या हुआ है, जी? पहले यह बताओ, नारायण जी कहाँ हैं?"

    जमुना ने बाहर के कमरे की ओर संकेत करते हुए बताया, "उसी में पड़े है।, न कुछ बोलते हैं और न कुछ सुनते हैं। मैं पास गई, तो गुमसुम बने रहे। मैं तो डर गई हूँ।"


    शकलदीप बाबू ने मुस्कराते हुए आश्वासन दिया, "अरे कुछ नहीं, सब कल्याण होगा, चिंता की कोई बात नहीं। पहले यह तो बताओ, बबुआ को तुमने कभी यह तो नहीं बताया था कि उनकी फीस तथा खाने-पीने के लिए मैंने 600 रुपए कर्ज लिए हैं। मैंने तुमको मना कर दिया था कि ऐसा किसी भी सूरत में न करना।"


    जमुना ने कहा, "मैं ऐसी बेवकूफ थोड़े हूँ। लड़के ने एक-दो बार खोद-खोदकर पूछा था कि इतने रुपए कहाँ से आते हैं? एक बार तो उसने यहाँ तक कहा था कि यह फल-मेवा और दूध बंद कर दो, बाबू जी बेकार में इतनी फ़िजूलखर्ची कर रहे हैं। पर मैंने कह दिया कि तुमको फ़िक्र करने की ज़रूरत नहीं, तुम बिना किसी चिंता के मेहनत करो, बाबू जी को इधर बहुत मुकदमे मिल रहे हैं।"


    शकलदीप बाबू बच्चे की तरह खुश होते हुए बोले, "बहुत अच्छा। कोई चिंता की बात नहीं। भगवान सब कल्याण करेंगे। बबुआ कमरे ही में हैं न?"


    जमुना ने स्वीकृति से सिर लिया दिया।


    शकलदीप बाबू मुस्कराते हुए उठे। उनका चेहरा पतला पड़ गया था, आँखे धँस गई थीं और मुख पर मूँछें झाडू की भाँति फरक रही थीं। वह जमुना से यह कहकर कि 'तुम अपना काम देखो, मैं अभी आया', कदम को दबाते हुए बाहर के कमरे की ओर बढ़े। उनके पैर काँप रहे थे और उनका सारा शरीर काँप रहा था, उनकी साँस गले में अटक-अटक जा रही थी।


    उन्होंने पहले ओसारे ही में से सिर बढ़ाकर कमरे में झाँका। बाहरवाला दरवाजा और खिड़कियाँ बंद थीं, परिणामस्वरूप कमरे में अँधेरा था। पहले तो कुछ न दिखाई पड़ा और उनका हृदय धक-धक करने लगा। लेकिन उन्होंने थोड़ा और आगे बढ़कर गौर से देखा, तो चारपाई पर कोई व्यक्ति छाती पर दोनों हाथ बाँधे चित्त पढ़ा था। वह नारायण ही था। वह धीरे-से चोर की भाँति पैरों को दबाकर कमरे के अंदर दाखिल हुए।


    उनके चेहरे पर अस्वाभाविक विश्वास की मुस्कराहट थिरक रही थी। वह मेज़ के पास पहुँचकर चुपचाप खड़े हो गए और अँधेरे ही में किताब उलटने-पुलटने लगे। लगभग डेढ़-दो मिनट तक वहीं उसी तरह खड़े रहने पर वह सराहनीय फुर्ती से घूमकर नीचे बैठक गए और खिसककर चारपाई के पास चले गए और चारपाई के नीचे झाँक-झाँककर देखने लगे, जैसे कोई चीज खोज रहे हों।


    तत्पश्चात पास में रखी नारायण की चप्पल को उठा लिया और एक-दो क्षण उसको उलटने-पुलटने के पश्चात उसको धीरे-से वहीं रख दिया। अंत में वह साँस रोककर धीरे-धीरे इस तरह उठने लगे, जैसे कोई चीज खोजने आए थे, लेकिन उसमें असफल होकर चुपचाप वापस लौट रहे हों। खड़े होते समय वह अपना सिर नारायण के मुख के निकट ले गए और उन्होंने नारायण को आँखें फाड़-फाड़कर गौर से देखा। उसकी आँखे बंद थीं और वह चुपचाप पड़ा हुआ था, लेकिन किसी प्रकार की आहट, किसी प्रकार का शब्द नहीं सुनाई दे रहा था। शकलदीप बाबू एकदम डर गए और उन्होंने कांपते हृदय से अपना बायाँ कान नारायण के मुख के बिलकुल नजदीक कर दिया। और उस समय उनकी खुशी का ठिकाना न रहा, जब उन्होंने अपने लड़के की साँस को नियमित रूप से चलते पाया।


    वह चुपचाप जिस तरह आए थे, उसी तरह बाहर निकल गए। पता नहीं कब से, जमुना दरवाजे पर खड़ी चिंता के साथ भीतर झाँक रही थी। उसने पति का मुँह देखा और घबराकर पूछा, "क्या बात है? आप ऐसा क्यों कर रहे हैं? मुझे बड़ा डर लग रहा है।"


    शकलदीप बाबू ने इशारे से उसको बोलने से मना किया और फिर उसको संकेत से बुलाते हुए अपने कमरे में चले गए। जमुना ने कमरे में पहुँचकर पति को चिंतित एवं उत्सुक दृष्टि से देखा।


    शकलदीप बाबू ने गद्गद् स्वर में कहा, "बबुआ सो रहे हैं।"


    वह आगे कुछ न बोल सकें उनकी आँखें भर आई थीं। वह दूसरी ओर देखने लगे

    Ak Pankaj shared आदिवासी साहित्य - Adivasi Literature's photo.

    आखिर विश्व पुस्तक मेला में आए हजारों टन कागजों के जरिए किसका साहित्य प्रमोट किया जा रहा है?

    हमारे संसाधन से आयोजन और हम ही बेदखल

    आखिर विश्व पुस्तक मेला में आए हजारों टन कागजों के जरिए किसका साहित्य प्रमोट किया जा रहा है?


    आदिवासी लेखकों की किताब का प्रकाशन नहीं

    और आदिवासी प्रकाशकों को भागीदारी से वंचित रखना कैसा लोकतंत्र है?

    Unlike·  · Share· 10 minutes ago·



    0 0

    आदिवासी कार्यकर्ता 'सोनी सोरी', इंफोसिस के पूर्व सदस्य वी बाला 'आप' में शामिल
    Thursday, 20 February 2014 18:19

    नई दिल्ली। आदिवासी कार्यकर्ता सोनी सोरी और इंफोसिस बोर्ड के पूर्व सदस्य वी बाला आम आदमी पार्टी (आप) में शामिल हो गए हैं।

    उच्चतम न्यायालय ने हाल में सोनी को जमानत पर रिहा किया है। सोनी पर आरोप है कि उन्होंने सितंबर 2011 में ''संरक्षण धन''के तौर पर एक कंपनी से वसूली रकम माओवादियों तक पहुंचाने में मदद की। उन्हें पांच अन्य मामलों में बरी कर दिया गया है।

    सोनी ने पार्टी के फेसबुक पेज पर लिखा, ''मेरी रुचि राजनीति में कभी नहीं रही। मैं एक सामान्य जीवन जीना चाहती थी। लेकिन पुलिस हिरासत में यातना और अत्याचार ने मेरा पूरा नजरिया और सोचने का तरीका बदल दिया।''

    उन्होंने कहा, ''अब मैं चुनाव लड़ना चाहती हूं और आप के जरिए प्रणाली को बदलना चाहती हूं।''

    हालांकि आप ने अभी तक यह घोषणा नहीं की है कि पार्टी सोनी को चुनाव का टिकट देगी। पार्टी ने पूर्व में इस बात को खारिज कर दिया था कि सोनी को छत्तीसगढ़ के बस्तर से लोकसभा चुनाव में उम्मीदवार के तौर पर उतारने की योजना पर बात चल रही है।

    पार्टी ने इंफोसिस के पूर्व सीएफओ वी बाला के आप का सदस्य बनने के निर्णय का जिक्र करते हुए पोस्ट में कहा, ''सॉफ्टवेयर दिग्गज इंफोसिस के बोर्ड सदस्य के तौर पर इस्तीफा देकर कॉरपोरेट जगत में हलचल मचाने वाले बाला आप में शामिल हो गए हैं।''

    पार्टी ने कहा, ''उन्होंने :बाला: इंफोसिस में दो दशक से अधिक समय बिताया, जहां उन्होंने मुख्य वित्तीय अधिकारी, बोर्ड सदस्य और हाल में इसकी भारतीय कारोबार की इकाई, बीपीओ और फिनेकल के प्रमुख समेत कई भूमिकाएं संभाली।''

    इसके अलावा मणिपुर-त्रिपुरा कैडर के 1967 बैच के सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी बी एल वोहरा के साथ लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) एच एस पनाग और लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) टी के चड्ढा पार्टी में शामिल हो गए हैं।


    0 0

    Please do not make a Kashmir in the North east,Mr Prime Minister in waiting!

    Palash Biswas

    We should welcome that Prime Ministerial candidate Narendra Modi condemned the recent attacks on students of the North East.But he kept silence on Armed Forces Special Power Act in attempt to harvest lotus in the excluded geography of the nation subjected to military repression and racial apartheid.


    Modi opened his eye floodgates to sympathize with the killed young student in New Delhi,but he failed to express his support to Irom Sharmila.


    May be,I might be wrong. I have no prejudice or pride.


    I just failed to listen whether Mr Modi did say anything about Irom Sharmila`s prolonged hunger strike demanding to end the AFSPA rule in the North east.


    I have doubts about the fertility potential of Hindutva despite the blooming lotus hype projected by media round the clock.


    In Arunachal,his speech as the most potential prime ministerial candidate,perhaps as the next prime minister disappointed.His tone and text are exclusive in nature.


    It has very serious security implications in the context of Indo Sino border dispute and in reference to non Hindu demography of the tribal mongoloid North East.


    However,Narendra Modi tried his best to extend Gujarat to North East marketing  his well branded  hate campaign of high equity value provoking North Eastern sentiments.


    It is very very dangerous.


    It proves that the Hindutva brigade is not least concerned with the North East people and their fight against Delhi`s Military rule.


    North East seems to be yet another Kashmir for the Shafron agenda which wants a complete geography without caring for either the history or the demography.It is Hindutva point of view n Kashmir reflected in Modi unilateral hate campaign in the North East.


    It is blessing that the Hindutva failed to have any major impact in the North East despite its omnipresence in the largest state Assam under constant turmoil.


    I am unaware of the fact whether Mr Modi did ever had any stand on NorthEast subjected to racial apartheid or military rule.


    We,however,know Modi`s Sanghi policies on Kashmir.


    For me, Modi seems to replicate Kashmir in the North East.


    I am least concerned who would be the next prime minister as it would make no difference whatsoever as the polity is unofficially captured by bipolar Hindutva Politics with the reign always remaining in the hands of the ruling monopolistic hegemony.


    Unless the system is not changed,no change is possible.


    While our best of friends and activists countrywide joined Kejriwal Brigade and Mr Kejriwal has clarified that he in not against capitalism.


    The total revolution seems to be aborted midway as the AAP thinks tanks have been indulged in wooing the foreign investors.


    I feel quite disappointed for my respected dear friends whom I refrain to criticize as I know very well that we have to fight against the military rule, repression, displacement, destruction all round and economic ethnic cleansing just after the elections.


    My wife Sabita had stopped to see TV news while Chandrashekhar was the prime minister just because of his socialist hypocricy.


    I am afraid that provided Modi becomes the next prime minister we have to skip all fragments and forms of corporate media.Modi campaign has been transformed in an omnipotent hate campaign to provoke blind religious nationalism and we may not bear with.


    Just go through the content and rethink about your option.


    Please.


    Bharatiya Janata Party's prime ministerial candidate Narendra Modi on Saturday launched a scathing attack on the ruling UPA government, saying 2014 General Elections will mark the beginning of the end of the Congress party and India will be free from its rule.


    Addressing a rally in Assam's Silchar, Modi attacked the Congress and said that he has never seen an anti-incumbency wave as now. “This wave is going to become a tsunami and the Congress will not be seen in any corner of the country," the BJP leader exhorted.


    As the crowds cheered, Modi said that Assam is blessed with natural resources and has everything which can make it a developed state. When the BJP leader asked the crowd who looted the state, those people assembled at the venue shouted 'Congress'.


    He appealed to the people to vote for the BJP and said that there must not be any trace of Congress in Assam after the elections.


    The country needs a government that is sensitive to the issues of the people of the northeastern states, said BJP's prime ministerial candidate Narendra Modi Saturday.

    "The country needs a government that is ready to take initiatives for their development," said Modi at a rally in Pasighat town.

    He said that the state "has every potential to be world's environment capital because of the natural resources in the state".

    He added: "Herbal medicine, horticulture and handicraft can make the state overcome the issues of unemployment and poverty as it is the sector which has till now has given employment to most number of people."

    Attacking the Congress government in the state, he said it had done nothing towards water resource management and solar energy.

    "Dynasty, nepotism, casteism will not help the state to come out of the problems the people here are undergoing," he added.

    Modi said he was a firm believer in development.

    "The lotus will shine in all the states and bring prosperity and progress in the state," said Modi while referring to his party's symbol.

    He also said that Arunachal Pradesh was an integral part of India.

    "There is no power in the world that can snatch Arunachal Pradesh from India," he said.



    Modi said, “Next to Assam is Bangladesh and next to Gujarat is Pakistan. Due to Bangladesh people in Assam are troubled and due to me Pakistan is worried."


    Raising the contentious issue of illegal immigrants in Assam, the Gujarat Chief Minister stressed on sending back the immigrants to the neighbouring country.


    He accused the Tarun Gogoi government in state of playing vote bank politics. The Gujarat CM further said that the BJP will end the detention camps after coming to power.


    Modi stressed on giving a good life to the Hindus coming from other countries. The BJP's PM candidate said, “Be it any nation, if a Hindu is troubled then there is only one place and that is India where the Hindus can come and we will not treat them the same way as they are treated elsewhere."


    Modi stressed on giving proper health facilities, quality education and job opportunities to the children of tea garden workers.


    If BJP comes to power the party will develop facilities for tea-traders and tea-gardens, Modi said.


    Mocking Tarun Gogoi, Modi told the huge gathering that the Assam Chief Minister suffers from sleepless nights when he learns that the Gujarat CM is coming to the state for a rally.


    “The CM came to Silchar few days ago and promised many things which have been not happening for years," Modi said. He asked the people not to trust the Congress.


    He also accused Gogoi of being insensitive and reminded the audience that during the 2012 Assam floods Gogoi was in the US and after that he travelled to Japan.


    Taking a dig at Dr Manmohan Singh, Modi said that the Prime Minister is an MP from Assam but has never done anything for the state.


    The BJP leader said that the infiltrators who have come to Assam for political purposes must be sent back to where they belong.


    The BJP's PM candidate said that the people from the North-east are good at sports and laid emphasis on opening a sports University in the region.


    No power in world can snatch away our territory: Modi in Arunachal


    Raising the poll pitch in the Northeast ahead of crucial Lok Sabha elections, Bharatiya Janata Party's prime ministerial candidate raked up the issue of Nido Taniam's death.


    Addressing a rally in Arunchal Pradesh's Pasighat, Modi said that he has come to the state with a heavy heart as a son of this land was killed in the national capital last month.


    The Gujarat Chief Minister said that he prays to the god to bless Nido's family.


    In an apparent attempt to attract the northeastern voters, the BJP leader said that the blood which runs in the people of this region is the same that runs in his veins.


    Raking up the 1962 war, Modi said that during the war people of Arunachal didn't come under pressure from China, and the call of 'Jai Hind' reverberates in this land.


    He praised the Arunachal people for standing firm against China's repeated pressure tactic. “No power in this world can snatch away our territory,” Modi asserted.


    "China should shed its expansionist policy and forge bilateral ties with India for peace, progress and prosperity of both the nations," the BJP PM candidate said.


    "I swear in the name of this soil that I will never allow the state to disappear...Breakdown and to bow down," Modi said to a thunderous applause from people gathered near the mighty Siang River.


    Laying emphasis on his pet slogan of development, the Gujarat Chief Minister said that he was a firm believer in development and will only focus on this and not on dynasty, nepotism and casteism.


    Modi stressed on bringing development to the northeastern state and said that BJP has embraced the development model and will continue to move ahead with the same agenda..


    Modi exhorted that Lotus (BJP's poll symbol) will shine in all the northeastern states and there will be prosperity and progress in the region.


    In order to attract the young voters, Modi asked why the GenX is unhappy here and why they have to leave their homeland and go out in search for employment.


    The BJP leader said that he was in Arunachal with the message of development and asked the people gathered in the rally, “Can we trust the Government in Delhi?”


    He said that a government which is sensitive to the problems in every part of this state and listens to the people should be in power.


    The BJP's PM candidate further stressed on improving the water resource management in the Northeast.


    imputes from Zeenews

    Bangladeshis troubling northeast due to wrong governance: Modi


    Due to wrong governance, illeggal Bangladeshis are causing trouble for the people of the northeastern states, but due to governance in Gujarat, Pakistan has been facing problems,BJP prime ministerial candidate Narendra Modi said here Saturday.

    "Due to the Bangladeshi people and incorrect governance, the people of the northeastern states are in trouble. But due to governance in Gujarat, Pakistan is now in awkward position," the Gujarat chief minister said at a 'Naba Chetana' (fresh consciousness) rally here. It was his third in the northeast on Saturday after Pasighat in Arunachal Pradesh and Silchar in Assam

    Praising the erstwhile Tripura kings for keeping the state in the Indian Union, the BJP leader said that composers Sachin Dev Barman and Rahul Dev Barman, who hailed from Tripura, had achieved nation glory through their works.

    "The people of Gujarat voted BJP (Bharatiya Janata Party) in power for three times, but the people of Tripura have been facing tremendous sufferings though they voted the Left Front many times," he added.

    "Left parties always want to keep the people in backward so that they remain their followers," he added.

    Criticising the possible formation of a Third Front, the BJP leader said it was always formed before the general elections but collapsed after that.

    "Only the BJP's model can make the country progress. This was proved by the Atal Bihari Vajpayee-led government at the center," the Gujarat chief minister said adding that the agricultural growth in his state was ten percent, the highest in the country.



    0 0

    Sanjay Joshi interviewed on Cinema of Resistance

    কর্পোরেটের টাকায় নয়, জনগণের চলচ্চিত্র উত্‍সব হয় তাঁদেরই চাঁদায়

    সর্বত্র এই উত্‍সব ছড়িয়ে দেওয়ার চেষ্টা চলছে৷ দেশের ছোটো শহরে, গ্রামে, শিল্পাঞ্চলে৷ জানালেন সঞ্জয় যোশী৷ আলাপে সৌমিত্র দস্তিদার 

    সৌমিত্র দস্তিদার: আপনি তো অন্য ধারার ছবি নির্মাতাদের কাছে এখন সবচেয়ে গুরুত্বপূর্ণ ব্যক্তি৷ মূল ধারার বাইরে গিয়ে তাদের ছবি বিপণন ও প্রদর্শনের এক বিকল্প পরিসর তৈরি করে দিয়েছেন৷ 

    সঞ্জয় যোশী: এ ভাবে বলবেন না৷ এটা একটা সম্মিলিত প্রয়াস৷ অনেকে মিলে এই ভাবনাটা ভেবেছি ও সবাই মিলে কাজটা একটু একটু করে করার চেষ্টা করি৷ তবে যতটা ভাবি, তার সিকিও এখনও করে উঠতে পারিনি৷ 

    এই ভাবনা বা প্রেরণা কী ভাবে পেলেন? 

    আমি অনেক দিন ধরেই জনসংস্কৃতি মঞ্চের সঙ্গে যুক্ত৷ সক্রিয় কর্মী৷ ওই সংগঠনটি ভাকপা মালে অর্থাত্‍ সি পি আই এম এল লিবারেশন-এর সাংস্কৃতিক সংগঠন৷ ২০০৫-এ এলাহাবাদে এক সম্মেলনে যাই৷ সেখানে সংস্কৃতির বিভিন্ন মাধ্যম নিয়েই কথাবার্তা হচ্ছিল৷ আমার ভাবনায় ছিল নতুন প্রজন্মকে টানতে সিনেমা খুবই গুরুত্বপূর্ণ মাধ্যম৷ জনসংস্কৃতি নেতৃত্বকে বিষয়টি বোঝাই৷ তারাও খুব উত্‍সাহী হন৷ ওই সময় থেকেই সিনেমা অফ রেজিস্টান্স-এর জন্ম৷ 

    তা হলে কী এটা বলা যায় যে আপনাদের সংগঠনও লিবারেশনেরই শাখা সংগঠন? 

    না, তা একেবারেই নয়৷ বরং বলতে পারেন জনসংস্কৃতি মঞ্চের সঙ্গে আমাদের যোগ আছে৷ তা সে তো গণসংগঠন৷ নির্দিষ্ট রাজনৈতিক দলের সঙ্গে আমাদের প্রত্যক্ষ সম্পর্ক নেই৷ আমাদের সঙ্গে তো প্রচুর তথ্যচিত্র নির্মাতা বা অন্য ধারার পরিচালক যাদের অনেকে লিবারেশনের রাজনীতির সমর্থন করেন না, তারাও তো আছেন৷ নব্বই দশকের যে নয়া উদারবাদী অর্থনীতি এ দেশে জন্ম নিয়েছে, তার প্রভাবে দেশে ধনী-দরিদ্রের পার্থক্য প্রকট হচ্ছে৷ কৃষি শিল্পে সঙ্কট তীব্র হচ্ছে৷ জল, জঙ্গল, জমিন থেকে আদিবাসী জনজাতির লোকে উচ্ছেদ হচ্ছে৷ পাশাপাশি সারা ভারতে প্রতিরোধ আন্দোলনও জোরালো হচ্ছে৷ এই প্রতিরোধী ভারত যাদের ক্যামেরায় ধরা দিচ্ছে আমরা তাদের পাশে আছি৷ থাকবও৷ 

    আপনাদের মূল কৃতিত্ব কি অন্য ধারার ফিল্মমেকারদের বিপণন নেটওয়ার্ক গড়ে তোলা? 

    দেখুন, সেই কাজটা কিন্ত্ত অন্য দু'একটা সংগঠনও করছে৷ দিল্লির ম্যাজিক ল্যান্টার্ন, কৃতী আরও কেউ কেউ আছে- যারা ডিভিডি বিক্রি বা স্ক্রিনিং-এরও ব্যবস্থা করে দেয়৷ আমরা কিন্ত্ত সেখানেই থেমে নেই৷ যেহেতু আমরা গণ-আন্দোলনকে বিকশিত করতে সিনেমাকে ব্যবহার করছি তাই শুধু বছরে একটা উত্‍সব বা নির্দিষ্ট কিছু ডি ভি ডি বিক্রি না করে আমরা লাতিন আমেরিকান অন্য ধারার সিনেমা পরিচালক ফ্রান্সিস বিররি যেমন বলতেন 'অ্যাকটিভ সিনেমার জন্যে চাই অ্যাকটিভ দর্শক'৷ আমরা এই ক'বছরে দেশের বিভিন্ন শহরে সে রকম দর্শকও অল্প হলেও তৈরি করতে পেরেছি৷ সিনেমা অফ রেজিস্ট্যান্স-এর সেটাই সবচেয়ে বড়ো কৃতিত্ব৷ 

    এ কথাটা অবশ্য আমাদের বন্ধু সঞ্জয় কাকও বলেছেন, যে যোশীরা এমন সব জায়গায় সিনেমাকে নিয়ে গিয়েছে যেখানে সে অর্থে ভালো সংস্কৃতির কোনও পরিসরই ছিল না৷ সঞ্জয় এ-ও বলেছে যে ছোটো ছোটো শহরে ওই উত্‍সব যখন হয় তখন সত্যি সত্যি গোটা এলাকা কোন জাদুমন্ত্রে যেন জেগে ওঠে৷ দূরদূরান্ত থেকে লোকে সিনেমা দেখতে আসে৷ ডিভিডি কেনে, সব মিলিয়ে মেলা মেলা পরিবেশ৷ জনগণের উত্‍সব৷ তাই? 

    একশো ভাগ সত্যি৷ দু'হাজার ছয় থেকে উত্‍সব করছি৷ এখন চোদ্দ সাল৷ এই ন'বছরে কোথায় না কোথায় পৌঁছেছি৷ গোরখপুর, ভিলাই, আজমগড়, বেরিলি, নৈনিতাল, বালিয়া, লখনৌ, উদয়পুর, এলাহাবাদ৷ এক গোরখপুরেই জনগণের দাবিতে দু'দুবার উত্‍সব করেছি৷ প্রথম বারের অভিজ্ঞতা এখনও মনে আছে৷ গো-বলয়ের ও সব জায়গা সবাই জানেন দক্ষিণপন্থী৷ নব্য হিন্দুত্ববাদীদের শক্ত ঘাঁটি৷ ছবি দেখাবার জায়গাই পাওয়া কঠিন৷ আমাদের কর্মীরাও চিন্তায় ছিলেন কাজটা করা যাবে কি না৷ হিন্দু যুব ব্রিগেড হুমকিও দিয়ে রেখেছিল- এখানে এ সব চলবে না৷ কিন্ত্ত আমরা সাহস করে দেখিয়ে ছিলাম- জনগণ সঙ্গে থাকলে সব কিছুই সম্ভব৷ শতধারা নামে একটি সংগঠন তথ্যচিত্রের উত্‍সব করছে যাদবপুরের ইন্দুমতী সভাঘরে৷

    এত এত উত্‍সবে আপনারা টাকা পান কী ভাবে? 

    এটা খুব গুরুত্বপূর্ণ প্রশ্ন৷ আমরা কখনও কোনও কর্পোরেট স্পনসরশিপ নিই না৷ আক্ষরিক অর্থে জনগণের উত্‍সব করি জনগণের কাছ থেকে চাঁদা তুলে৷ আমাদের কর্মীরা জানে অনেক জায়গায় বিভিন্ন কর্পোরেট সংস্থা মোটা টাকা দেওয়ার লোভ দেখিয়েছে, আমরা প্রত্যাখ্যান করেছি৷ মনে আছে, আজমগড়ে কী ভাবে উত্‍সব করব ভাবছি, সেখানকার ধর্মনিরপেক্ষ নামী ডাক্তাররা সব শুনে বললেন আমরা আছি তোমরা এগিয়ে যাও৷ ভালো সংস্কৃতির চর্চা হলে আমাদের শহরের সুনাম বাড়বে৷ মিডিয়ার দৌলতে কাইফি আজমির শহরকে এখন লোকে জানে ডাকাতদের, স্মাগলারদের জায়গা বলে৷ কতটা সুনাম ফেরাতে পেরেছি জানি না কিন্ত্ত প্রগতির সঙ্গে সামান্য হলেও একটা হাওয়া তুলতে পেরেছি৷ 

    কাইফি আজমির কথায় মনে পড়ে গেল আপনারা তো সিনেমার পাশাপাশি কবিতাকেও সমান গুরুত্ব দিচ্ছেন৷ 

    আমরা আই পি টি-এর সোনার যুগের মতো শিল্পসাহিত্যের সব প্রগতিশীল ধারাকেই সমান প্রয়োজনীয় মনে করি৷ সিনেমা অফ রেজিস্ট্যান্স আসলে ম্যাকডোনাল্ডাইজেশন ও দক্ষিণপন্থী সংস্কৃতির বিপরীতে জনগণের শ্রমজীবীর সংস্কৃতির পাশে৷ যা উন্নত সমাজ নির্মাণে ভূমিকা নেয়৷ আমরা সিনেমা উত্‍সবের সঙ্গেই ছোটো ছোটো চারটে বইও বের করেছি৷ তার দুটো সিনেমা নিয়ে৷ অন্য দু'টি কবিতার৷ আরও কিছু লেখা, গদ্য পদ্য প্রবন্ধও আগামী দিনে করার ইচ্ছে আছে৷ কিছু কাজও এগিয়েছে৷ 

    আপনারা শুনেছি ছোটো শহরের পাশাপাশি গ্রাম ও শিল্প এলাকাতেও ছবি দেখান? 

    নিশ্চয়৷ উত্তর ভারতের প্রত্যন্ত গ্রামে আমরা এম এস সথ্যুর 'গর্ম হাওয়া' দেখিয়েছি৷ মারুতি শ্রমিকদের ধর্মঘটের সময় আমরা প্রতিরোধের সিনেমা নিয়ে সঙ্গে থেকেছি৷ 

    এ বার কলকাতার পিপলস ফিল্ম ফেস্টিভ্যাল নিয়ে কিছু বলুন৷ 

    কলকাতায় এই পিপলস ফিল্ম ফেস্টিভ্যাল কনসেপ্টটাই নতুন৷ 

    একটু থামাচ্ছি৷ তার কারণ কনসেপ্টটা এ শহরেও ঠিক নতুন নয়৷ ডকুমেন্টারিওয়ালা বলে একটা সংগঠন এর আগে দু'হাজার ছয় সাত আটে রাজাবাজার, পার্ক সার্কাস বস্তি ও ময়দানে খোলা মাঠে পর্দা টাঙিয়ে অন্য ধারার সিনেমার উত্‍সব করেছে৷ তবে তা শুধুই ডকুমেন্টারি৷ এ ছাড়া লীলা মোচ্ছব ও আলতামিরাও কিন্ত্ত আপনাদের কাজটাই নীরবে করছে গত এক দেড় বছর ধরে৷ ডকুমেন্টারিওয়ালা এ বছরও ২৯ জানুয়ারি থেকে ৩ ফেব্রুয়ারি ত্রিকোণ পার্কে পর্দা টাঙিয়ে যৌনকর্মীদের সংগঠন দুর্বার মহিলা সমন্বয় কমিটির উত্‍সব- প্রতিবাদে নারী প্রতিরোধে নারী, রোজ এক ঘণ্টা ধরে বিকল্প ধারার তথ্যচিত্র দেখাচ্ছে৷ বোধ হয় এগুলো আপনার ঠিক জানা নেই৷ 

    ঠিকই৷ এত সব তথ্য আমাকে কেউ জানায়নি৷ তবে আমরা ২০, ২১, ২২ জানুয়ারি যাদবপুরে ত্রিগুণা সেন ভবনে যে উত্‍সব করেছি সকাল দশটা থেকে রাত ন'টা অবধি সেখানে তথ্যচিত্র, অন্য ধারার সিনেমার সঙ্গে দেশের বিভিন্ন রাজ্যে গণআন্দোলন নিয়ে সিরিয়াস সেমিনারও হয়েছে৷ উদ্বোধন করেছেন শমীক বন্দ্যোপাধ্যায়৷ এখানে পুরনো ক্লাসিকও দেখানো হয়েছে৷ আবার সাম্প্রতিক বিষয় নিয়েও একদম নতুন ছবিও রাখা হয়েছিল৷ রঞ্জন পালিত, বসুধা যোশীর ভয়েসেস ফ্রম বালিয়াপাল, শ্রীপ্রকাশ, মঞ্জিরা দত্ত, বিরজু টোপ্পোর ফিল্মের সঙ্গে সঞ্জয় কাক, মারুতি শ্রমিকদের সংগ্রাম ও সম্প্রতি ঘটে যাওয়া মুজফফরপুর গণহত্যা নিয়ে তৈরি নকুল সিং সোনির ডকুমেন্টারি, পস্কো কৃষক সংগ্রাম নিয়ে সূর্যশঙ্কর দাসের তথ্যচিত্রও দেখানো হয়েছে৷ আর একটা কথা৷ এই পিপলস ফেস্টিভ্যাল উত্‍সর্গ করা হয়েছিল বিশিষ্ট চিত্রশিল্পী জয়নুল আবেদিনের জন্ম শতবর্ষে তাঁকে শ্রদ্ধা জানিয়ে৷ 

    কলকাতায় বাজেট কত? 

    খুব বেশি হলে পঁচানব্বই হাজার থেকে এক লাখ৷ সবই কিন্ত্ত সেই জনগণের কাছ থেকে চাঁদা তুলে৷ 

    সঞ্জয় যোশী চলচ্চিত্রনির্মাতা ও বিকল্প চলচ্চিত্র আন্দোলনের সক্রিয় কর্মী 

    0 0

    नवउदारवाद से उपजी चुनौतियां

    Saturday, 22 February 2014 11:37

    प्रभात पटनायक

    जनसत्ता 22 फरवरी, 2014 : यूपीए सरकार और राजग सरकार और यहां तक कि 'तीसरे मोर्चे'की

    अल्पायु सरकार भी आर्थिक नीतियों के मामले में एक जैसी ही रहीं। आज भी, जब चुनावी विकल्प के रूप में राहुल गांधी और नरेंद्र मोदी का शोरशराबा हो रहा है, आर्थिक नीतियों के स्तर पर शायद ही कोई बुनियादी फर्क हो। सच्चाई तो यह है कि मोदी खुद इस बात पर जोर देते हैं कि उनमें 'शासन करने'की यूपीए के मुकाबले बेहतर क्षमता है, आर्थिक नीतियों के मामले में कोई बुनियादी अंतर नहीं, जिनसे अवाम की बदहाली दूर हो सके। इससे यही साबित होता है कि भूमंडलीकरण के इस दौर में अवाम के सामने आर्थिक नीतियों के स्तर पर वास्तविक विकल्प मौजूद नहीं है।

     

    इस बुनियादी तथ्य के अलावा इस युग में देश के वर्गीय ढांचे में कुछ ऐसे बदलाव आए हैं जिनकी वजह से भी विकल्प की ओर बढ़ पाने में दुश्वारी आ रही है। इन तब्दीलियों में एक बुनियादी तब्दीली यह है कि मजदूरों और किसानों की शक्ति में कमी आई है। चूंकि राज्यसत्ता की रीति-नीति तो वित्तीय पूंजी को खुश करने की है, इससे उसकी भूमिका बड़ी पूंजी के हमले से छोटे कारोबार और उत्पादन की रक्षा करने या मदद करने की नहीं रह जाती।

    इस असुरक्षा के माहौल में छोटे उत्पादक, मसलन किसान, दस्तकार, मछुआरे, शिल्पी आदि और छोटे व्यापारी भी शोषण की मार झेलने के लिए छोड़ दिए जाते हैं। यह शोषण दोहरे तरीके  से होता है। एक तो प्रत्यक्ष तौर पर बड़ी पूंजी उनकी संपदा जैसे उनकी जमीन वगैरह को कौड़ियों के मोल खरीद कर। दूसरे, उनकी आमदनी में गिरावट पैदा करके। इससे लघु उत्पादन के माध्यम से उनकी जिंदा बने रहने की क्षमता कम रह जाती है। अपनी आजीविका के साधनों से वंचित ये लोग काम की तलाश में शहरों की ओर पलायन करते हैं, इससे बेरोजगारों की पांत और बढ़ती जाती है।

    इसके साथ ही नवउदारवादी अर्थव्यवस्था में नए रोजगार भी सीमित ही रहते हैं, भले आर्थिक विकास में तेजी दिखाई दे रही हो। उदाहरण के तौर पर, भारत में ऊंची विकास दर के दौर में भी रोजगार की वृद्धि दर, 2004-5 और 2009-10 में, राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक 0.8 प्रतिशत ही रही। जनसंख्या की वृद्धि दर 1.5 प्रतिशत प्रतिवर्ष रही और इसे ही काम के लायक जनसंख्या की वास्तविक वृद्धि दर माना जा सकता है। इसमें उन लघु उत्पादकों को भी जोड़ लें जो अपनी आजीविका से वंचित हो जाते हैं और रोजगार की तलाश में शहर आ जाते हैं तो बेरोजगारी की विकास दर 1.5 प्रतिशत से ज्यादा ही ठहरेगी। उसमें केवल 0.8 प्रतिशत को रोजगार मिलता है, तो इसका मतलब यह है कि बेरोजगारों की रिजर्व फौज की तादाद में भारी मात्रा में इजाफा हो रहा है। इसका असर मजदूर वर्ग की सौदेबाजी की ताकत पर पड़ता है। वह ताकत कम हो जाती है।

    इस तथ्य में एक सच्चाई और जुड़ जाती है, यानी बेरोजगारों की सक्रिय फौज और रिजर्व फौज के बीच की अंतररेखा का मिट जाना। हम अक्सर सक्रिय फौज को पूरी तरह रोजगारशुदा मान कर चलते हैं, रिजर्व फौज को पूरी तरह बेरोजगार। मगर कल्पना कीजिए, सौ में नब्बे को रोजगारशुदा और दस को बेरोजगार मानने के बजाय, यह मानिए कि ये अपने समय के 9/10 वक्त तक ही रोजगार में हैं, इससे वह धुंधली अंतररेखा स्पष्ट हो जाएगी जिसे हम रोजगार में 'राशन प्रणाली'या सीमित रोजगार अवसर की प्रणाली के रूप में देख पाएंगे।

    दिहाड़ी मजदूर की तादाद में लगातार बढ़ोतरी हो रही है, स्थायी और अस्थायी नौकरियों में लगे लोग, या खुद कभी-कभी नए काम करने वाले लोग जो किसानों के पारंपरिक कामों से हट कर हैं, यही दर्शाते हैं कि रोजगारों में सीमित अवसर ही उपलब्ध हैं। बेरोजगारों की तादाद में बढ़ोतरी जहां मजदूरों की स्थिति को कमजोर बनाती है, वहीं रोजगार के सीमित अवसर इन हालात को और अधिक जटिल बना रहे हैं।

    'रोजगारों के सीमित होने के नियम'में तब्दीली के अलावा रोजगार पाने के नियम भी बदले हैं जिनके तहत स्थायी नौकरियों के बजाय ठेके पर काम कराने की प्रथा चल पड़ी है। हर जगह 'आउटसोर्सिंग'के माध्यम से बड़े ठेकदारों से काम लिया जाता है जो भाड़े पर वही काम कराते हैं जो पहले उस विभाग में स्थायी कर्मचारी करते थे (रेल विभाग इसका उल्लेखनीय उदाहरण है)। इससे भी मजदूरों की सौदेबाजी की, यानी हड़ताल करने की क्षमता में कमी आई है।

    दो अन्य तथ्य इसी दिशा का संकेत देते हैं। एक उद्योगों का निजीकरण, जो कि भूमंडलीकरण के दौर में तीव्र गति हासिल कर रहा है। यूनियन सदस्यों के रूप में मजदूरों का प्रतिशत पूरी पूंजीवादी दुनिया में प्राइवेट सेक्टर के मुकाबले पब्लिक सेक्टर में ज्यादा है। अमेरिका में जहां प्राइवेट सेक्टर में केवल आठ प्रतिशत मजदूर यूनियन सदस्य हैं, वहीं सरकारी क्षेत्र में, कुल संख्या का एक तिहाई यूनियन सदस्य हैं जिनमें अध्यापक भी शामिल हैं।

    सरकारी क्षेत्र का निजीकरण इस तरह यूनियन सदस्यता में कमी लाता है और इस तरह मजदूरों की हड़ताल करने की क्षमता कम होती जाती है। फ्रांस में पिछले दिनों कई बड़ी हड़तालें हुई हैं तो इसकी एक वजह यह भी है कि सारे विकसित पूंजीवादी देशों के पब्लिक सेक्टरों के यूनियनबद्ध मजदूरों की संख्या के मुकाबले फ्रांस में उनकी तादाद अब भी सबसे ज्यादा है।

    एक और कारक भी है, जिसे 'रोजगार बाजार में लचीलापनह्ण कहते हैं, जिसके द्वारा मजदूरों के एक सीमित हिस्से को (फैक्टरी में एक खास संख्या के मजदूरों से ज्यादा रोजगारशुदा होने पर) श्रम कानूनों के तहत जो सुरक्षा मिली हुई है (जैसे मजदूरों को निकालने के लिए तयशुदा समय का नोटिस देना), उसे भी खत्म करने की कोशिश चल रही है।

    यह अभी भारत में नहीं हो पाया है, हालांकि इसे लागू करवाने का दबाव बहुत ज्यादा है। 'रोजगार बाजार में लचीलापन'का यह दबाव कम अहम लग सकता है क्योंकि इसका असर सीमित मजदूरों की तादाद पर ही दिखाई दे सकता है, मगर इसका मकसद उन मजदूरों से हड़ताल करने की क्षमता छीन लेना है जो अहम सेक्टरों की बड़ी-बड़ी इकाइयों में काम कर रहे हैं और जिनकी हड़ताल-क्षमता सबसे ज्यादा है।

    ये तमाम तब्दीलियां यानी मजदूरों की संरचना में, सौदेबाजी की उनकी क्षमता में, कानून के तहत मिले उनके अधिकारों में आई तब्दीलियां मजदूर वर्ग की राजनीति की ताकत को कमजोर बनाने में अपनी भूमिका निभा रही हैं। ट्रेड यूनियनों के कमजोर पड़ने का असर स्वत: ही मजदूर वर्ग के राजनीतिक दबाव के कमजोर होने में घटित होता है, एक वैकल्पिक सामाजिक-आर्थिक समाधान आगे बढ़ाने की उसकी क्षमता भी कमजोर होती है, और उसके इर्दगिर्द अवाम को लामबंद करने में दुश्वारियां आती हैं। इस तरह कॉरपोरेट-वित्तीय पूंजी भूमंडलीकृत पूंजी से गठजोड़ करके जितनी ताकतवर होती जाती है, उतनी ही मजदूर वर्ग, किसान जनता और लघु उत्पादकों की राजनीतिक ताकत में कमजोरी आती है, वे गरीबी और जहालत की ओर धकेल दिए जाते हैं। भूमंडलीकरण का युग इस तरीके से वर्ग-शक्तियों के संतुलन में एक निर्णायक मोड़ ले आया है।

    इस परिवर्तन के दो अहम नतीजे गौर करने लायक  हैं। पहला, वर्गीय राजनीति में गिरावट के साथ 'पहचान की राजनीति'वजूद में आती है। दरअसल, पहचान की राजनीति एक भ्रामक अवधारणा है क्योंकि इसमें अनेक असमान, यहां तक एक दूसरे के एकदम विपरीत तरह के आंदोलन समाहित हैं। यहां तीन तरह के अलग-अलग संघटकों की पहचान की जा सकती है।

    एक, 'पहचान से जुड़े प्रतिरोध आंदोलन'जैसे दलित आंदोलन या महिला आंदोलन, जिनकी अपनी-अपनी विशेषताएं भी हैं। दूसरे, 'सौदेबाजी वाले पहचान आंदोलन'जैसे जाटों की आरक्षण की मांग, जिसकी आड़ में वे अपनी स्थिति मजबूत बना सकें। तीसरे, 'पहचान की फासीवादी राजनीति' (जिसकी स्पष्ट मिसाल सांप्रदायिक फासीवाद है) जो हालांकि एक खास पहचान-समूह से जुड़ी हुई है और दूसरे पहचान-समूहों के खिलाफ  जहरीला प्रचार करके उन पर हमला बोलती है।

    इस राजनीति को कॉरपोरेट वित्तीय पूंजी पालती-पोसती है और इसका वास्तविक मकसद उसी कॉरपोरेट जगत को मजबूती प्रदान करना होता है, न कि उस पहचान-समूह के हितों के लिए कुछ करना, जिनके नाम पर वह राजनीति संगठित होती है। जहां ये तीनों तरह की 'पहचान राजनीतियां'एक दूसरे से काफी जुदा हैं, वर्गीय राजनीति में आई कमजोरी का अहम असर उन सब पर है। इस तरह की राजनीति ऐसे किसी खास पहचान-समूह को 'पहचान के नाम पर सौदेबाजी की राजनीति'के माध्यम से एक उछाल प्रदान करती है जो अपने वर्गीय संगठनों के तहत कोई असरदार काम नहीं कर सकते। इस राजनीति से 'पहचान की फासीवादी राजनीति'को भी बल मिलता है क्योंकि कॉरपोरेट-वित्तीय अभिजात का वर्चस्व इस तरह की राजनीति को बढ़ावा देता है। जहां तक 'प्रतिरोध के पहचान आंदोलनों'का सवाल है, वर्गीय राजनीति के चौतरफा कमजोर पड़ने से उनमें भी प्रगतिशीलता का तत्त्व कमजोर हुआ है और इससे वे भी अधिक से अधिक 'सौदेबाजी की पहचान राजनीति'की ओर धकेल दिए गए हैं।

    कुल मिला कर, वर्गीय राजनीति में गिरावट से 'पहचान की राजनीति'के ऐसे रूपों को मजबूती हासिल हुई है जो व्यवस्था के लिए कोई खतरा पैदा नहीं करते बल्कि उलटे, अवाम के एक हिस्से को दूसरे के खिलाफ  खड़ा करके इस व्यवस्था के लिए किसी आसन्न चुनौती की संभावना को कमजोर ही करते हैं। इससे उस नई संरचना के विचार को आघात पहुंच रहा है जिसमें, देश के भीतर जाति आधारित सामंती व्यवस्था के तहत 'पुरानी व्यवस्था'को ढहा कर, उसकी जगह 'नई सामुदायिक व्यवस्था'की स्थापना पर बल था, जो कि हमारे जनतंत्र की मांग है।

    स्वाभाविक रूप से यह प्रश्न उठता है कि इन हालात में प्रगतिशील ताकतें क्या कर सकती हैं? हेगेलीय दर्शन से उलट और इतिहास का अंत वाले अंग्रेजी राजनीतिक अर्थशास्त्र से उलट, मार्क्स ने सर्वहारा को बदलाव के एजेंट के रूप में देखा था जो सिर्फ इतिहास को आगे नहीं ले जाता बल्कि खुद 'इतिहास के फंदे'से मानवजाति के निकलने की सूरत भी बनाता है।

    बावजूद इसके कि नवउदारवाद ने वर्गीय राजनीति को कमजोर किया है, जरूरत इस बात की है कि न सिर्फ मजदूरों को संगठित करने के लिए नए क्षेत्रों की ओर बढ़ा जाए, मसलन अब तक असंगठित रहे मजदूरों और घरेलू कामगारों को संगठित करना, बल्कि वर्गीय राजनीति के लिए नए किस्म के हस्तक्षेप भी किए जाएं।

    सबसे अधिक जिस चीज की जरूरत है, वह है नवउदारवाद के वैचारिक वर्चस्व को स्वीकार न करना। लोकतंत्र पर नवउदारवाद के हमले को रोकने और लोकतंत्र की हिफाजत से आगे समाजवाद के संघर्ष तक जाने के लिए नवउदारवादी वर्चस्व को नकारना और नवउदारवादी विचारों के खिलाफ  प्रति-वर्चस्व गढ़ने का प्रयास करना एक शर्त है। विचारों के इस संघर्ष में लेखकों की केंद्रीय भूमिका है।

     

    फेसबुक पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करें- https://www.facebook.com/Jansatta
    ट्विटर पेज पर फॉलो करने के लिए क्लिक करें- https://twitter.com/Jansatta

     


    0 0

    दाम तो गैस के बढ़ेंगे ही,अब मिलेगी भी नहीं,रसोई का दूसरा इंताम जरुर कर लें।

    एक्सकैलिबर स्टीवेंसविश्वास


    दाम तो गैस के बढ़ेंगे ही,अब मिलेगी भी नहीं,रसोई का दूसरा इंताम जरुर कर लें।25 परवरी को रसोई गैस हड़ताल का साझा आह्वान किया है आल इंडिया एलपीजी डिस्ट्रीब्यटर्स फेडरेशन और फेडरेशन आफ एलपीजी डिस्ट्रीब्यूटर्स आफ इंडिया ने।बंगाल में इस हड़ताल की पूरी तैयारी है।गैस वितरक तेल कंपनियों की ओर से गैस अनुशासन जारी करने के खिलाफ यह हड़ताल कर रहे हैं।


    रसोई गैस के रहते अब शायद रोसोी गैस में आग जलाने की जरुरत नहीं पड़ेगी।गैस आग बनकर झुलसाती रहेगी,ऐसा पुख्ता इंतजाम है।आपके बवाल के बावजूद पहली अप्रैस से गैस की कीमतों में होने वाला दोगुणा इजाफा रुक नहीं रहा है। न तेलमंत्री के खिलाफ जाती हुई दिल्ली सरकार के एफआईआर का कोई असर होने जा रहा है। तेलमंत्री मोइली ने साफ कर दिया है कि गैस की कीमतें तो बढ़कर रहेंगी।


    सब्सिडी खत्म करने का कार्यक्रम किस अंजाम तक पहुंचेगा,इसे साक्षात देखने और झेलने से पहले लोकसभा चुनाव है और उसके बाद नई सरकार की ओर से लोकलुभावन तमाम बंदोबस्त खत्म करने वाला बजट भी। लेकिन विनियंत्रित रसोई गैस नंदन निलेकणि के आधार पद त्यागकर संसदीय राजनीति में छलांगने और नकद सब्लिडी के लिए आधार लिंक की अनिवार्यता खत्म होने के बावजूद आम उपभोक्ता को कोई राहत नहीं देने वाली है।



    शायद रसोई संकट से निजात पाने के लिए आम लोगों की रोजमर्रे की नर्क जिंदगी के बहाने फास्ट फूड,रेडीमेड जंक फूड और होमडेलीवरी का कारोबार बढ़े और कुछ बेरोजगार युवाों को बेरोजगारी के आलम में रोजगार की नई दिशा भी मिले।


    लेकिन अप्रैल आने से पहले आधार संकट निपट जाने के बावजूद गैस का संकट फरवरी में ही कोहराम मचाने वाली है।


    आगामी 25 फरवरी से गैस वितरकों ने रसोई गैस हड़ताल का ऐलान कर दिया है।


    इसी महीने की 25 तारीख के बाद रसोई गैस की आपूर्ति में बाधा पहुंच सकती है। सरकार की हालिया नीतियों से परेशान एलपीजी डिस्ट्रीब्यूटरों ने अपनी मांगों के समर्थन में अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की घोषणा की है। पेट्रोलियम मंत्रालय अपनी तरफ से इन्हें मनाने की कोशिश कर रहा है। यह दीगर है कि इनकी अधिकांश मांगों को मौजूदा ही नहीं, कोई भी सरकार स्वीकार नहीं कर सकती। एलपीजी वितरक एजेंसियों की प्रमुख मांग यह है कि देश में रसोई गैस सिलेंडरों की एक ही कीमत होनी चाहिए। सब्सिडी व गैर-सब्सिडी का चक्कर खत्म किया जाना चाहिए।

    ऑल इंडिया एलपीजी डिस्ट्रीब्यूशन एसोसिएशन के महासचिव चंद्र प्रकाश का कहना है, देश की सभी 1,3500 एलपीजी एजेंसियां काम करना बंद कर देंगी। न बुकिंग की जाएगी और न ही पहले से बुक सिलेंडरों की आपूर्ति की जाएगी। सरकार ने एक ही सिलेंडर की तीन तरह की कीमतें तय कर रखी हैं। घरेलू उपयोग के लिए सब्सिडी वाले सिलेंडर की कीमत 400 से 450 रुपये के बीच है। घरेलू उपयोग के लिए गैर सब्सिडी वाले सिलेंडर की कीमत 1,240 से 1,275 रुपये के बीच है। कॉमर्शियल इस्तेमाल वाले सिलेंडर की कीमत 1,850 से 1,900 रुपये के बीच है। इससे न सिर्फ वितरक एजेंसियों, बल्कि ग्राहकों के बीच काफी भ्रम है। आए दिन गैस डिस्ट्रीब्यूटरों को ग्राहकों के गुस्से का शिकार होना पड़ रहा है। मार पीट होती है। कालाबाजारी भी होती है। इसे खत्म करने का एक ही तरीका है कि देश में एलपीजी सिलेंडरों की कीमत एक ही हो।



    इसी बीच भूतहा बुकिंग से बारह सब्सि़डी सिलिंडर की जिन्हें जरुरत ही नहीं पड़ती,उनके गैस सिलिंडर बंगाल भर मे इधर उधर हो रहे हैं।


    वितरकों की मिलीभगत से कारिंदों की चांदी है।


    अब समस्या है कि पहले ही बुकिंग हो जाने की वजह से नये सिरे से तत्काल बुकिंग होगी नहीं।हुई भी तो गैस मिलेगी नहीं।


    वैकलपिक बंदोबस्त फिर बिजली के रेगुलेटेड चूल्हा इंडक्शन है। लेकिन बिजली भी सस्ती हो नही रही है।


    गौरतलब है कि सरकार ने शुक्रवार को कहा कि उपभोक्ता अब बिना आधार खाते के एलपीजी सिलेंडर खरीद सकते हैं और इसके बारे में एक सप्ताह के भीतर आदेश जारी कर दिया जाएगा।जाहिर है कि सरकार इस मांग को स्वीकार नहीं कर सकती, क्योंकि इसका मतलब हुआ कि या तो सब्सिडी को पूरी तरह से हटा दिया जाए या फिर सभी को सब्सिडी दी जाए। खास तौर पर तब जब चुनाव सर पर है और सरकार ने आधार कार्ड के जरिये एलपीजी सब्सिडी देने की योजना इसलिए स्थगित की है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को सब्सिडी दी जाए। एलपीजी वितरकों की दूसरी मांग है कि उन्हें ऐसे सिलेंडर दिए जाएं जिनके साथ छेड़खानी करना संभव नहीं हो। इनका कहना है कि इसकी आड़ में निगरानी निरीक्षक काफी परेशान करते हैं। यह भी फिलहाल संभव नहीं है, क्योंकि पांच वर्ष पहले सरकार ने इस बारे में दो प्रस्तावों पर विचार किया था, लेकिन अमल के नाम पर कुछ नहीं हुआ। एजेंसियों की एक अन्य मांग है कि बाजार में खुले आम बिकने वाले तीन किलो और पांच किलो के छोटे सिलेंडरों पर रोक लगाई जाए। इन्होंने जल्द से जल्द नई गैस एजेंसियों को खोलने की भी मांग की है।


    लोकसभा में सौगत राय के पूरक प्रश्न के उत्तर में पेट्रोलियम मंत्री वीरप्पा मोइली ने एलपीजी को आधार कार्ड से अलग करने पर स्थिति स्पष्ट करते हए कहा कि एक सप्ताह के भीतर स्पष्टीकरण से संबंधित सर्कुलर जारी कर दिया जाएगा।


    मंत्री ने कहा कि जहां तक सीधे नकद अंतरण (डीबीटी) का सवाल है, कैबिनेट ने आधार खाते को एलपीजी सिलेंडर जाने से अलग करने का निर्णय किया है। अब सब्सिडी आधारित एलपीजी सिलेंडर बिना आधार के ही मिल सकेगा।



    0 0

    बहसतलब ,हम गुलाम प्रजाजन स्वतंत्र देश के स्वतंत्र नागरिक कब बनेंगे?कृपया खुलकर लिखें।


    पलाश विश्वास


    बहसतलब ,हम गुलाम प्रजाजन स्वतंत्र देश के स्वतंत्र नागरिक कब बनेंगे?कृपया खुलकर लिखें।

    कवियों को हमने कविता में रायदेने की छूट दे रखी है और मानते भी हैं हम कि हर बंद दरवाजे पर दस्तक के लिए कविता से बेहतर कोई हाथ नहीं। हम यह बहस आपकी राय मिलने के बाद ही समेटेंगे।

    बहस की पहली किश्त यह प्रस्तावना है।जिसे हम जारी कर रहे हैं।विषय विस्तार अगली किश्तों में होगा।


    हमारे परम मित्र आदरणीय आनंद तेलतुंबड़े का मानना है कि अंबेडकरी विचारधारा का मूल एजंडा जाति उन्मूलन है।समयान्तर के ताजा अंक में उनका लेख छपा है इसके अलावा इस अंक के तमाम लेख जीति समस्या पर केंद्रित है।गिरिराजकिशोर जी संपादित अकार के ताजा अंक में पुनर्वास कालोनियों के बच्चो का आत्मकथ्य है।जो एकदम ताजा बयार जैसी है इस अनंत गैस चैंबर में।विचारधारा की नियति पर लंबा मेरा आलेख जो उन्होंने वर्षों से लटका रखी है,इस करतब से उसका हिसाब बराबर कर दिया है गिरराज किशोर जी और अकार टीम ने।इन बच्चों की जुबानी मैं खुद को अभिव्यक्त होता हुआ महसूस कर रहा हूं रिटायर दहलीज पर


    अंबेडकरवादी विचारक तेलतुंबड़े की तर्ज पर हमारे गांधी वादी सामाजिक कार्यकर्ता ने भी लिखा है।वर्षों से सनी सोरी और दंडकारण्य के हक हकूक की लड़ाई लड़ रहे हिमांशु जी की मैं इसलिए भी तारीफ करता हूं कि सोनी सोरी के आप में शामिल होने के बावजूद उनकी वह आत्मीयता भंग नहीं हुई है।अब तक कारपोरेट राज और पूंजीबाद का सार्वाजनिक विरोद के जरिये वोटबैंक गणित ाधने वालों का पूंजीपरस्त आचरण हम देख चुके हैं।अगर केजरीवाल जुबानी तौर पर पूंजी वाद के हक में बात करें और जमीन पर कारपोरेट राज का विरोध,तो इसपर भी हमें पेट मरोड़ नहीं होना चाहिए।

    हिमांशु जी ने लिखा हैः

    जाति को तो मिटाना है भाई ,

    याद रखना जातिवाद को मजबूत करने वाला कोई काम नहीं करना है .


    जाति का विरोध करने वाले साथी जातिवादी घृणा फैलाने के आकर्षण में फंसने से बचें .


    इसमें मज़ा तो बहुत आता है लेकिन इससे हमारी जाति के लोगों की स्तिथी में कोई सुधार नहीं आता .


    मार्टिन लूथर किंग जब अश्वेतों की बराबरी की लड़ाई लड़ रहे थे तो उन्होंने श्वेतों के विरुद्ध घृणा का कोई भी वाक्य कभी नहीं बोला .


    बल्कि उस लड़ाई में बहुत बड़ी संख्या में गोरे भी शामिल थे .


    जब उनके एक साथी ने एक बार गलती से गोरी महिलाओं के विरुद्ध एक अपमानजनक गीत बनाया


    तो मार्टिन लूथर किंग ने उसे रोक दिया था .

    संचार क्रांति और तकनीक की वजह से अब मीडिया कारोबार कंडोम कवायद है। जिसमें जनप्रतिबद्धता,जनमत,विचारधारा,संवाद की कोई जगह नहीं है।भारतीय समाज में अखबार अब तक जनमत जनादेश निर्माण में अहम भूमिका निभाते रहे हैं लेकिन अब वे अखबार रंग बिरंगे कंडोम सुगंधित हैंं।


    जबकि भारतीय जनता कुल मिलाकर गुलामी की महाजनपद व्यवस्था है।हम सारे लोग प्रजाजन हैं।नागरिक बनने के लिए भी जाति उन्मूलनका एजंडा  प्रस्थानबिंदू बनना चाहिए।


    इसी सिलसिले में राज्यसभा चैनल में श्याम बेनेगल के धारावाहिक संविधान देखना भी प्रासंगिक हो सकता है।

    जनजागरण,सशक्ती करण,जन सुनवाई,जनहिस्सेदारी और वैचित्र के मध्यवैचित्र के सम्मान के साथ सामाजिक न्याय और समता आधारित समाज के निर्माण के लिए जाति उन्मूलन से बड़ा कोई एजंडा नहीं है।


    हमारे युवा साम्यवादी साथियों ने दशकों के बाद इस दिशा में पहल की है।अभिनव सिन्हा सत्यनारायण ने भी अलग से बहस छेड़ी है।अनेक बिंदुओं पर असहमति के बावजूद हम उनकी इस पहल का तहेदिल स्वागत करते हैं।सहमति का विवेक और असहमति का साहस ही संवाद का आधार होना चाहिए।


    बहसतलब इसबार यह है कि हम गुलाम प्रजाजन स्वतंत्र देश के स्वतंत्र नागरिक कब बनेंगे।


    आनंद तेलतुंबड़े ने अपने आलेख में बहुत साफ साफ लिखा हैः

    पिछले छह दशक के दौरान हम जाति उन्मूलन के आंबेडकर के सपने को पूरा कर पाने में न सिर्फ नाकाम रहे हैंबल्कि उस सपने से हम कोसों दूर भी चले आए हैं। आंबेडकर के तथाकथित शिष्य ही इस सपने को दफनाने में सबसे आगे रहे हैं जिन्होंने अपनी-अपनी पहचान के झंडे उसकी कब्र पर गाढ़ दिए हैं। ऊंची जातियों को तो अपने जातिगत लाभ बचाए रखने में दिलचस्पी हो सकती है, लेकिन निचली जातियों को स्वेच्छा से अपनी कलंकित पहचानें ओढ़े रखने में क्या दिलचस्पी हो सकती है?जाति उन्मूलन की आंबेडकरवादी दृष्टि अकेले निचली जातियों की बेहतरी के लिए नहीं इस्तेमाल की जानी थी,बल्कि यह अनिवार्यतः समूची भारतीय जनता के लिए बनी थी। जाति महज भेदभाव या उत्पीड़न का मामला नहीं है।यह एक ऐसा वायरस है जो समूचे राष्ट्र को अपनी जकड़़ में बांधे हुए है। भारत की हर बुराई और लगातार उसके पिछड़ेपन के पीछे मुख्य कारक यही वायरस है। इसे एक क्रांति से रेचन करके ही शरीर से निकाला जा सकता है। कोई भी ऊपरी सुधार इस वायरस को नहीं हटा सकताबल्कि एक संपूर्ण लोकतांत्रिक क्रांति ही जमे हुए वर्गों को उनकी जगह से खत्म करेगी और भारत के समाजवादी भविष्य का रास्ता प्रशस्त करेगी। क्रांति समर्थक ताकतों को यह बात पूरी तरह अपने भीतर बैठा लेने की जरूरत है कि जब तक दलित उनके साथ नहीं आएंगे तब तक क्रांति का उनका सपना पूरा नहीं हो पाएगा। इसी तरह जाति विरोधी दलितों के लिए ध्यान देने वाली बात यह है कि जब तक उनके वर्ग के लोग उनकी ताकत नहीं बनाते,तब तक जाति उन्मूलन का सपना पूरा नहीं हो सकता। इससे यह बात निकलती है कि इन दोनों खेमों को अपनी ऐतिहासिक गलतियां और भूल दुरुस्त करने के लिए एक समान सरोकार के इर्द-गिर्द साथ आकर रणनीति बनानी होगी।


    दलितों के लिए यह समझना रणनीतिक अपरिहार्यता है कि जाति सिर्फ सांस्कृतिक या धार्मिक मसला नहीं है बल्कि यह जीवन के हर पहलू के साथ गुंथी हुई है। अधिकतर दलित या तो खेत मजदूर के रूप में या फिर शहरी अनौपचारिक क्षेत्रों में कामगारों के रूप में मुश्किल से अपना पेट भर पा रहे हैं। उनका दलित होना उनकी आर्थिक स्थिति के साथ उलझा हुआ है। उनके ऊपर होने वाले उत्पीड़न से यह बात आसानी से समझी जा सकती है,जो उन्हें आतंकित कर घुटने टेक देने के लिए विवश करती है। कई मामलों में यह समर्पण दरअसल उच्च जातियों के वर्चस्व में आर्थिक और राजनीतिक लाभ को सुनिश्चित करता है,हालांकि वर्चस्व की ऐसी कार्रवाइयां उसी धर्म के लोगों द्वारा की जाती हैं जो दलित उत्पीड़ितों के वर्ग से ही आते हैं। ऐसे उत्पीड़न इसलिए संभव हो पाते हैं क्योंकि दलित वित्तीय रूप से कमजोर होते हैं,आर्थिक रूप से निर्भर,नैतिक रूप से खोखले और अपने वर्ग से असम्पृक्त होते हैं। इसीलिए आरक्षण की दवा उन्हें आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने के लिए दी गई है ताकि अपनी आजीविका के साधनों पर उनका नियंत्रण हो सके और वे किसी भी तरह के अन्याय का प्रतिकार करने में नैतिक रूप से मजबूत बन सकें व उच्च जातियों के लोगों के साथ वर्गीय एकजुटता कायम कर सकें। इसका निदान व्यवहारिक तौर पर वही है जो बाबासाहब आंबेडकर ने 1936 में अपने प्रसिद्ध लेख ''मुक्ति कौन पथे'' में प्रस्तुत किया था जिसमें उन्होंने इस आंदोलन के लोगों के धर्मांतण का तर्क मुहैया कराया था। पहला कदम उन्हें जमीन दिलवाना,गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दिलवाना और स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया करवाना होगा;दूसरा,संघर्ष में आस्था की वैचरिकता बहाली का होगा और तीसरा,अन्य जातियों के साथ वर्गीय एकजुटता कायम करना होगा। कार्यक्रम के स्तर पर विचारधारात्मक तैयारी और वर्ग एकजुटता को पहले होना होगा ताकि सशक्तीकरण के साधनों के लिए संघर्ष को प्रभावी तौर से चलाया जा सके।



    ऐसा वर्ग विरोधी और जाति विरोधी आंदोलनों को दोबारा गढ़ने से ही संभव होगा। एक तरफ दलित आंदोलन को जाति के मसलों पर संघर्ष करते हुए खुद को वर्ग की लाइन पर लाना होगा तो दूसरी ओर वाम आंदोलन को इस तरह से निर्देशित किया जाना होगा कि वह जाति के यथार्थ को पहचान सके और संघर्षरत दलितों के साथ एकजुटता कायम करने की जरूरत को महसूस कर सके। यह पहल हालांकि वाम आंदोलन की ओर से ही पूरे वैचारिक संकल्प के साथ की जानी होगी जो उसकी ओर से अब तक बकाया है तथा इस क्रम में खुद को सही मानने की अपनी प्रवृत्ति को उसे छोड़ना होगा। जैसा कि मैंने अपनी पुस्तक एंटी इम्पीरियलिज्म एंड एनिहिलेशन ऑफ कास्ट्समें लिखा था,एक बार इस प्रक्रिया की शुरुआत हो गई तो यह एक ऐसे सिलसिले में तब्दील हो जाएगी जिसका अंत बहुप्रतीक्षित भारतीय क्रांति में ही होगा। मुझे कोई और विकल्प नहीं दिखाई देता।


    हम आनंद से सहमत हैं लेकिन इस बहस को जनसुनवाई में तब्दील करना चाहते हैं ताकि आतमघाती राजनीति और कंडोम मीडिया के घन घटाटोप में कोई रोशनी की किरण हमेारे लिए नई दिशा खोल सकें।


    कृपया राय दर्ज करने से पहले आनंद का लिखा पढ़े जरुर।समयांतर का ताजा अंक नहीं मिला तो अभिषेक के जनपथ और मेरे ब्लागों में पूरा आलेख देख सकते हैं।

    http://antahasthal.blogspot.in/2014/02/blog-post_16.html


    हम फेस बुक वाल पर विश्वप्रसिद्ध कवि उदय प्रकाश की इस पोस्ट की तर्ज पर पहले ही उन सभी मित्रों से माफी मांगते हैं,जिनके मुखातिब हम हो नहीं पा रहे हैं,लाख कोशिशों के बावजूद,क्योंकि उनमें से ज्यादातर कंडोम से घिरे हुए हैं।

    कुछ दोस्तों से न मिल पाने के लिए क्षमा मांगते हुए

    February 23, 2014 at 3:42pm

    आप बिल्कुल भी आहत न हों

    क्योंकि बाहर निकलने के मामले में हमेशा से

    काहिल और लद्धड़ रहा हूं. आपको तो मेरे बारे में यह खूब

    पता ही है. अपनी गोदी में

    मैं अपनी नन्हीं-सी बेटी को किसी कदर

    संभाले हुए हूं. मेरे घुटनों पर चढ़ा हुआ है

    मेरा प्यारा-सा छोटा बेटा, जिसने

    बस अभी-अभी बोलना शुरू किया है

    और बाकी के सारे के सारे

    बेतहाशा बिना रुके बोले ही चले जा रहे हैं

    वे मेरे कपड़ों को पकड़ कर झूल रहे हैं और मेरे हर कदम पर

    मेरे साथ-साथ रेंगते हैं

    मैं अपने घर के दरवाज़े के बाहर बहुत दूर तक

    निकल ही नहीं पाऊंगा

    मुझे डर है , सचमुच बहुत खेद है, मैं

    आपके फाटक-दहलीज़ तक पहुंच ही नहीं पाऊंगा.

    बिल्कुल बुरा न मानें. मुआफ़ी.

    मेई-याओ चेन

    (अनु : उदय प्रकाश / केनेथ रेक्सरोथ के अंग्रेज़ी अनुवाद के आधार पर)



    जाति उन्मूलन से ही खत्म हो सकता है रंगभेद। थम सकाता है अश्वमेधी नरसंहार और जनपदों का सफाया।


    बहसतलब ,हम गुलाम प्रजाजन स्वतंत्र देश के स्वतंत्र नागरिक कब बनेंगे?कृपया खुलकर लिखें।

    संघ परिवार की कृपा से पत्रकारों गैरपत्रकारों की जो कूकूरगति हुई है,उसके बाद मीडिया का हिंदुत्व और नमोमय भारत निर्माण के लिए अतिशय मीडिया सक्रियता इस दुश्चक्र का तार्किक परिणाम है।


    पलाश विश्वास


    बहसतलब ,हम गुलाम प्रजाजन स्वतंत्र देश के स्वतंत्र नागरिक कब बनेंगे?


    कृपया खुलकर लिखें।

    कवियों को हमने कविता में राय देने की छूट दे रखी है और यह मानते भी हैं हम कि हर बंद दरवाजे पर दस्तक के लिए कविता से बेहतर कोई हाथ नहीं।

    हम यह बहस आपकी राय मिलने के बाद ही समेटेंगे।

    बहस की पहली किश्त यह प्रस्तावना है।जिसे हम जारी कर रहे हैं।विषय विस्तार अगली किश्तों में होगा।


    हमारे परम मित्र आदरणीय आनंद तेलतुंबड़े का मानना है कि अंबेडकरी विचारधारा का मूल एजंडा जाति उन्मूलन है।समयान्तर के ताजा अंक में उनका लेख छपा है इसके अलावा इस अंक के तमाम लेख जाति समस्या पर केंद्रित है।


    गिरिराजकिशोर जी संपादित अकार के ताजा अंक में पुनर्वास कालोनियों के बच्चों का आत्मकथ्य है।जो एकदम ताजा बयार जैसी है इस अनंत गैस चैंबर में।विचारधारा की नियति पर लंबा मेरा आलेख जो उन्होंने वर्षों से लटका रखा है,इस करतब से उसका हिसाब बराबर कर दिया है गिरराज किशोर जी और अकार टीम ने।


    इन बच्चों की जुबानी मैं खुद को अभिव्यक्त होता हुआ महसूस कर रहा हूं रिटायर दहलीज पर


    अंबेडकरवादी विचारक तेलतुंबड़े की तर्ज पर हमारे गांधी वादी सामाजिक कार्यकर्ता ने भी लिखा है।वर्षों से सनी सोरी और दंडकारण्य के हक हकूक की लड़ाई लड़ रहे हिमांशु जी की मैं इसलिए भी तारीफ करता हूं कि सोनी सोरी के आप में शामिल होने के बावजूद उनकी वह आत्मीयता भंग नहीं हुई है।

    एक बात और,अब तक कारपोरेट राज और पूंजीबाद का सार्वाजनिक विरोध के जरिये वोटबैंक गणित साधने वालों का पूंजीपरस्त आचरण हम देख चुके हैं।अगर केजरीवाल जुबानी तौर पर पूंजीवाद के हक में बात करें और जमीन पर कारपोरेट राज का विरोध,तो इसपर भी हमें पेट मरोड़ नहीं होना चाहिए।कम से कम उनकी खातिर रिलायंस नियंत्रित मीडिया में भी गैस और तेल संकट के लिए कटघरे में है रिलायंस।

    जन हिस्सेदारी और जनसुनवाई,जवाबदेही की जो राजनीति शुरु करने की पहल हुई है,उसे चुनावी कामयाबी न भी मिले तो तो भी राजनीति की परंपरागत लीक तो टूटेगी ही।


    इसलिए हम बार बार मित्रों से कह रहे हैं कि बदलाव की जो जनआकांक्षा हैं,उसको दृष्टि में रखिये।चेहरों को नहीं।चेहरे फर्जी हो सकते हैं।पाखंडी और दगाबाज भी। लेकिन जनआकांक्षा का महाविस्फोट तो अब भी बहुप्रतीक्षित है,जो थोड़ा बहुत लीकेज हो रहा है,उसपर टोपी पहनाने की कवायद में कम से कम हमें शामिल नहीं होना चाहिए।


    आत्मघाती राजनीति और कंडोम मीडिया के दायरे से बाहर बुनियादी मुद्दों पर चर्चा,संवाद और बहस का समय है यह।


    सिंहद्वार पर दस्तक बहुत तेज है।

    जाग सको तो जाग जाओ भइये।


    इसी सिलसिले में हिमांशु जी ने लिखा है, वह अबतक जारी निरंकुश घृणा अभियान के विरुद्ध हमारी सोच का आवाहन है।

    जाति को तो मिटाना है भाई ,

    याद रखना जातिवाद को मजबूत करने वाला कोई काम नहीं करना है .


    जाति का विरोध करने वाले साथी जातिवादी घृणा फैलाने के आकर्षण में फंसने से बचें .


    इसमें मज़ा तो बहुत आता है लेकिन इससे हमारी जाति के लोगों की स्तिथी में कोई सुधार नहीं आता .


    मार्टिन लूथर किंग जब अश्वेतों की बराबरी की लड़ाई लड़ रहे थे तो उन्होंने श्वेतों के विरुद्ध घृणा का कोई भी वाक्य कभी नहीं बोला .


    बल्कि उस लड़ाई में बहुत बड़ी संख्या में गोरे भी शामिल थे .


    जब उनके एक साथी ने एक बार गलती से गोरी महिलाओं के विरुद्ध एक अपमानजनक गीत बनाया


    तो मार्टिन लूथर किंग ने उसे रोक दिया था .


    हिमांशु जी का यह मतव्य हमारी आंखें खुलने के लिए काफी है।

    संचार क्रांति और तकनीक की वजह से अब मीडिया कारोबार कंडोम कवायद है। जिसमें जनप्रतिबद्धता,जनमत,विचारधारा,संवाद की कोई जगह नहीं है।


    भारतीय समाज में अखबार अब तक जनमत जनादेश निर्माण में अहम भूमिका निभाते रहे हैं लेकिन अब वे अखबार रंग बिरंगे कंडोम सुगंधित हैंं।


    1977 में भारत सरकार के सूचना प्रसारण मंत्रालय के केसरियाकरण के साथ मीडिया का जो कंडोम कायाकल्प शुरु हुआ,वह अब फूल ब्लूम है। मजीठिया वेतन मान लागू करने में मूल दिक्कत आटोमेशन के बावजूद ठेके पर हुई भर्ती है,जिन्हें साठ फीसद देना होगा।


    केंद्र और राज्य सरकारों के वेतनमान में समान काम के लिए समान वेतन है।


    सेना में एक ही रैंक के लिए समान वेतनमान है।


    लेकिन एक ही संस्थान के अलग लग अखबारों में,अलग अलग संस्थानों में एक ही पद के लिए वेतनमान में जमीन आसमान का फर्क है।


    यह मानवाधिकार और न्याय के सिद्धांत के विरुद्ध है।समानता के विरुद्ध है। असंवैधानिक है।


    वाजपेयी सरकार के जमाने में मणिसाणा आयोग की सिफारिशों के तहत  पत्रकारों और गैरपत्रकारों के साथ इस अनंत अन्याय का आरंभ हुआ।


    केशरियाकरण के तहत जाति वर्चस्व की सारस्वत रघुकुल रीति जो चालू हुई सो हुई।टका सेर भाजी टका सेर खाजा जो हुआ सो हुआ। मीडिया में संपादक नामक संस्थान का अवसान  हो गया।अब घूमंतू विश्वपर्यटक संपादक जो हैं ,उनके और अखबार के बीच कोई संबंध रहा नहीं है। अखबारों में अब मैनेजरों की चलती है।और सारे पत्रकार गैरपत्रकार उनके पालतू गुलाम है।


    संघ परिवार की कृपा से पत्रकारों गैरपत्रकारों की जो कूकूरगति हुई है,उसके बाद मीडिया का हिंदुत्व और नमोमय भारत निर्माण के लिए अतिशय मीडिया सक्रियता इस दुश्चक्र का तार्किक परिणाम है।


    कुल  मिलाकर  भारतीय जनता कुल मिलाकर गुलामी की महाजनपद व्यवस्था है।


    हम सारे लोग प्रजाजन हैं।नागरिक कतई नहीं हैं।राजनीतिक अधिकार वोट देने तक सीमाबद्ध है। न जनसुनवाई है।न सशक्तीकरण है।न जागरण है।न आंदोलन है। न जनभागेदारी है।न जनसरोकार हैं।न जनपक्षधरता है।न कोई जवाबदेही है।


    सामाजिक आर्थिक गुलामी तो जस का तस है।

    कारपोरेट राज में तो मानवाधिकार सैन्य राष्ट्र और गिरोहबंद राजनीति के शिकंजे में है।


    हमारी राय है कि नागरिक बनने के लिए भी जाति उन्मूलनका एजंडा  प्रस्थानबिंदू बनना चाहिए।


    इसी सिलसिले में राज्यसभा चैनल में श्याम बेनेगल के धारावाहिक संविधान देखना भी प्रासंगिक हो सकता है।


    जनजागरण,सशक्ती करण,जन सुनवाई,जनहिस्सेदारी और वैचित्र के मध्य वैचित्र्य के सम्मान के साथ सामाजिक न्याय और समता आधारित समाज के निर्माण के लिए जाति उन्मूलन से बड़ा कोई एजंडा नहीं है।


    जाति उन्मूलन से ही खत्म हो सकता है रंगभेद। थम सकाता है अश्वमेधी नरसंहार और जनपदों का सफाया।


    अस्मिताओं के साथ न्याय और कुल मिलाकर अस्मिताओं का वजूद भी जाति वर्चस्व नस्ल वर्चस्व के अवसान के बिना असंभव है।


    हमारे युवा साम्यवादी साथियों ने दशकों के बाद इस दिशा में पहल की है।अभिनव सिन्हा सत्यनारायण ने भी अलग से बहस छेड़ी है।


    अनेक बिंदुओं पर असहमति के बावजूद हम उनकी इस पहल का तहेदिल स्वागत करते हैं।


    सहमति का विवेक और असहमति का साहस ही संवाद का आधार होना चाहिए।


    बहसतलब इसबार यह है कि हम गुलाम प्रजाजन स्वतंत्र देश के स्वतंत्र नागरिक कब बनेंगे।


    आनंद तेलतुंबड़े ने अपने आलेख में बहुत साफ साफ लिखा हैः


    पिछले छह दशक के दौरान हम जाति उन्मूलन के आंबेडकर के सपने को पूरा कर पाने में न सिर्फ नाकाम रहे हैंबल्कि उस सपने से हम कोसों दूर भी चले आए हैं। आंबेडकर के तथाकथित शिष्य ही इस सपने को दफनाने में सबसे आगे रहे हैं जिन्होंने अपनी-अपनी पहचान के झंडे उसकी कब्र पर गाढ़ दिए हैं। ऊंची जातियों को तो अपने जातिगत लाभ बचाए रखने में दिलचस्पी हो सकती है, लेकिन निचली जातियों को स्वेच्छा से अपनी कलंकित पहचानें ओढ़े रखने में क्या दिलचस्पी हो सकती है?जाति उन्मूलन की आंबेडकरवादी दृष्टि अकेले निचली जातियों की बेहतरी के लिए नहीं इस्तेमाल की जानी थी,बल्कि यह अनिवार्यतः समूची भारतीय जनता के लिए बनी थी। जाति महज भेदभाव या उत्पीड़न का मामला नहीं है।यह एक ऐसा वायरस है जो समूचे राष्ट्र को अपनी जकड़़ में बांधे हुए है। भारत की हर बुराई और लगातार उसके पिछड़ेपन के पीछे मुख्य कारक यही वायरस है। इसे एक क्रांति से रेचन करके ही शरीर से निकाला जा सकता है। कोई भी ऊपरी सुधार इस वायरस को नहीं हटा सकताबल्कि एक संपूर्ण लोकतांत्रिक क्रांति ही जमे हुए वर्गों को उनकी जगह से खत्म करेगी और भारत के समाजवादी भविष्य का रास्ता प्रशस्त करेगी। क्रांति समर्थक ताकतों को यह बात पूरी तरह अपने भीतर बैठा लेने की जरूरत है कि जब तक दलित उनके साथ नहीं आएंगे तब तक क्रांति का उनका सपना पूरा नहीं हो पाएगा। इसी तरह जाति विरोधी दलितों के लिए ध्यान देने वाली बात यह है कि जब तक उनके वर्ग के लोग उनकी ताकत नहीं बनाते,तब तक जाति उन्मूलन का सपना पूरा नहीं हो सकता। इससे यह बात निकलती है कि इन दोनों खेमों को अपनी ऐतिहासिक गलतियां और भूल दुरुस्त करने के लिए एक समान सरोकार के इर्द-गिर्द साथ आकर रणनीति बनानी होगी।


    दलितों के लिए यह समझना रणनीतिक अपरिहार्यता है कि जाति सिर्फ सांस्कृतिक या धार्मिक मसला नहीं है बल्कि यह जीवन के हर पहलू के साथ गुंथी हुई है। अधिकतर दलित या तो खेत मजदूर के रूप में या फिर शहरी अनौपचारिक क्षेत्रों में कामगारों के रूप में मुश्किल से अपना पेट भर पा रहे हैं। उनका दलित होना उनकी आर्थिक स्थिति के साथ उलझा हुआ है। उनके ऊपर होने वाले उत्पीड़न से यह बात आसानी से समझी जा सकती है,जो उन्हें आतंकित कर घुटने टेक देने के लिए विवश करती है। कई मामलों में यह समर्पण दरअसल उच्च जातियों के वर्चस्व में आर्थिक और राजनीतिक लाभ को सुनिश्चित करता है,हालांकि वर्चस्व की ऐसी कार्रवाइयां उसी धर्म के लोगों द्वारा की जाती हैं जो दलित उत्पीड़ितों के वर्ग से ही आते हैं। ऐसे उत्पीड़न इसलिए संभव हो पाते हैं क्योंकि दलित वित्तीय रूप से कमजोर होते हैं,आर्थिक रूप से निर्भर,नैतिक रूप से खोखले और अपने वर्ग से असम्पृक्त होते हैं। इसीलिए आरक्षण की दवा उन्हें आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने के लिए दी गई है ताकि अपनी आजीविका के साधनों पर उनका नियंत्रण हो सके और वे किसी भी तरह के अन्याय का प्रतिकार करने में नैतिक रूप से मजबूत बन सकें व उच्च जातियों के लोगों के साथ वर्गीय एकजुटता कायम कर सकें। इसका निदान व्यवहारिक तौर पर वही है जो बाबासाहब आंबेडकर ने 1936 में अपने प्रसिद्ध लेख ''मुक्ति कौन पथे'' में प्रस्तुत किया था जिसमें उन्होंने इस आंदोलन के लोगों के धर्मांतण का तर्क मुहैया कराया था। पहला कदम उन्हें जमीन दिलवाना,गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दिलवाना और स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया करवाना होगा;दूसरा,संघर्ष में आस्था की वैचरिकता बहाली का होगा और तीसरा,अन्य जातियों के साथ वर्गीय एकजुटता कायम करना होगा। कार्यक्रम के स्तर पर विचारधारात्मक तैयारी और वर्ग एकजुटता को पहले होना होगा ताकि सशक्तीकरण के साधनों के लिए संघर्ष को प्रभावी तौर से चलाया जा सके।



    ऐसा वर्ग विरोधी और जाति विरोधी आंदोलनों को दोबारा गढ़ने से ही संभव होगा। एक तरफ दलित आंदोलन को जाति के मसलों पर संघर्ष करते हुए खुद को वर्ग की लाइन पर लाना होगा तो दूसरी ओर वाम आंदोलन को इस तरह से निर्देशित किया जाना होगा कि वह जाति के यथार्थ को पहचान सके और संघर्षरत दलितों के साथ एकजुटता कायम करने की जरूरत को महसूस कर सके। यह पहल हालांकि वाम आंदोलन की ओर से ही पूरे वैचारिक संकल्प के साथ की जानी होगी जो उसकी ओर से अब तक बकाया है तथा इस क्रम में खुद को सही मानने की अपनी प्रवृत्ति को उसे छोड़ना होगा। जैसा कि मैंने अपनी पुस्तक एंटी इम्पीरियलिज्म एंड एनिहिलेशन ऑफ कास्ट्समें लिखा था,एक बार इस प्रक्रिया की शुरुआत हो गई तो यह एक ऐसे सिलसिले में तब्दील हो जाएगी जिसका अंत बहुप्रतीक्षित भारतीय क्रांति में ही होगा। मुझे कोई और विकल्प नहीं दिखाई देता।


    हम आनंद से सहमत हैं लेकिन इस बहस को जनसुनवाई में तब्दील करना चाहते हैं ताकि आतमघाती राजनीति और कंडोम मीडिया के घन घटाटोप में कोई रोशनी की किरण हमेारे लिए नई दिशा खोल सकें।


    कृपया राय दर्ज करने से पहले आनंद का लिखा पढ़े जरुर।समयांतर का ताजा अंक नहीं मिला तो अभिषेक के जनपथ और मेरे ब्लागों में पूरा आलेख देख सकते हैं।

    http://antahasthal.blogspot.in/2014/02/blog-post_16.html


    हम फेस बुक वाल पर विश्वप्रसिद्ध कवि उदय प्रकाश की इस पोस्ट की तर्ज पर पहले ही उन सभी मित्रों से माफी मांगते हैं,जिनके मुखातिब हम हो नहीं पा रहे हैं,लाख कोशिशों के बावजूद,क्योंकि उनमें से ज्यादातर कंडोम से घिरे हुए हैं।

    कुछ दोस्तों से न मिल पाने के लिए क्षमा मांगते हुए

    February 23, 2014 at 3:42pm

    आप बिल्कुल भी आहत न हों

    क्योंकि बाहर निकलने के मामले में हमेशा से

    काहिल और लद्धड़ रहा हूं. आपको तो मेरे बारे में यह खूब

    पता ही है. अपनी गोदी में

    मैं अपनी नन्हीं-सी बेटी को किसी कदर

    संभाले हुए हूं. मेरे घुटनों पर चढ़ा हुआ है

    मेरा प्यारा-सा छोटा बेटा, जिसने

    बस अभी-अभी बोलना शुरू किया है

    और बाकी के सारे के सारे

    बेतहाशा बिना रुके बोले ही चले जा रहे हैं

    वे मेरे कपड़ों को पकड़ कर झूल रहे हैं और मेरे हर कदम पर

    मेरे साथ-साथ रेंगते हैं

    मैं अपने घर के दरवाज़े के बाहर बहुत दूर तक

    निकल ही नहीं पाऊंगा

    मुझे डर है , सचमुच बहुत खेद है, मैं

    आपके फाटक-दहलीज़ तक पहुंच ही नहीं पाऊंगा.

    बिल्कुल बुरा न मानें. मुआफ़ी.

    मेई-याओ चेन

    (अनु : उदय प्रकाश / केनेथ रेक्सरोथ के अंग्रेज़ी अनुवाद के आधार पर)



    जाति उन्मूलन से ही खत्म हो सकता है रंगभेद। थम सकाता है अश्वमेधी नरसंहार और जनपदों का सफाया।

    দলিত উন্নয়নে পিছিয়ে বাংলা, মন্তব্য অমর্ত্যর


    बहसतलब ,हम गुलाम प्रजाजन स्वतंत्र देश के स्वतंत्र नागरिक कब बनेंगे?कृपया खुलकर लिखें।

    संघ परिवार की कृपा से पत्रकारों गैरपत्रकारों की जो कूकूरगति हुई है,उसके बाद मीडिया का हिंदुत्व और नमोमय भारत निर्माण के लिए अतिशय मीडिया सक्रियता इस दुश्चक्र का तार्किक परिणाम है।


    पलाश विश्वास


    बहसतलब ,हम गुलाम प्रजाजन स्वतंत्र देश के स्वतंत्र नागरिक कब बनेंगे?


    कृपया खुलकर लिखें।

    कवियों को हमने कविता में राय देने की छूट दे रखी है और यह मानते भी हैं हम कि हर बंद दरवाजे पर दस्तक के लिए कविता से बेहतर कोई हाथ नहीं।

    हम यह बहस आपकी राय मिलने के बाद ही समेटेंगे।

    बहस की पहली किश्त यह प्रस्तावना है।जिसे हम जारी कर रहे हैं।विषय विस्तार अगली किश्तों में होगा।


    हमारे परम मित्र आदरणीय आनंद तेलतुंबड़े का मानना है कि अंबेडकरी विचारधारा का मूल एजंडा जाति उन्मूलन है।समयान्तर के ताजा अंक में उनका लेख छपा है इसके अलावा इस अंक के तमाम लेख जाति समस्या पर केंद्रित है।


    डा.अमर्त्य सेन और आशीष नंदी जैसे लोग गाहे बगाहे जाति विमर्श पेश करते रहते हैं सत्ता का सुर साधते हुए और कारपोरेट पहल के तहत मुक्त बाजार के माध्यम से ही जाति उन्मूलन का रास्ता बताते अघाते नहीं। बांग्ला में बंगाल में दलितों के हाल पर उनके घड़ियाली आंसू भी पेश हैं।


    गिरिराजकिशोर जी संपादित अकार के ताजा अंक में पुनर्वास कालोनियों के बच्चों का आत्मकथ्य है।जो एकदम ताजा बयार जैसी है इस अनंत गैस चैंबर में।विचारधारा की नियति पर लंबा मेरा आलेख जो उन्होंने वर्षों से लटका रखा है,इस करतब से उसका हिसाब बराबर कर दिया है गिरराज किशोर जी और अकार टीम ने।


    इन बच्चों की जुबानी मैं खुद को अभिव्यक्त होता हुआ महसूस कर रहा हूं रिटायर दहलीज पर


    अंबेडकरवादी विचारक तेलतुंबड़े की तर्ज पर हमारे गांधी वादी सामाजिक कार्यकर्ता ने भी लिखा है।वर्षों से सनी सोरी और दंडकारण्य के हक हकूक की लड़ाई लड़ रहे हिमांशु जी की मैं इसलिए भी तारीफ करता हूं कि सोनी सोरी के आप में शामिल होने के बावजूद उनकी वह आत्मीयता भंग नहीं हुई है।

    एक बात और,अब तक कारपोरेट राज और पूंजीबाद का सार्वाजनिक विरोध के जरिये वोटबैंक गणित साधने वालों का पूंजीपरस्त आचरण हम देख चुके हैं।अगर केजरीवाल जुबानी तौर पर पूंजीवाद के हक में बात करें और जमीन पर कारपोरेट राज का विरोध,तो इसपर भी हमें पेट मरोड़ नहीं होना चाहिए।कम से कम उनकी खातिर रिलायंस नियंत्रित मीडिया में भी गैस और तेल संकट के लिए कटघरे में है रिलायंस।

    जन हिस्सेदारी और जनसुनवाई,जवाबदेही की जो राजनीति शुरु करने की पहल हुई है,उसे चुनावी कामयाबी न भी मिले तो तो भी राजनीति की परंपरागत लीक तो टूटेगी ही।


    इसलिए हम बार बार मित्रों से कह रहे हैं कि बदलाव की जो जनआकांक्षा हैं,उसको दृष्टि में रखिये।चेहरों को नहीं।चेहरे फर्जी हो सकते हैं।पाखंडी और दगाबाज भी। लेकिन जनआकांक्षा का महाविस्फोट तो अब भी बहुप्रतीक्षित है,जो थोड़ा बहुत लीकेज हो रहा है,उसपर टोपी पहनाने की कवायद में कम से कम हमें शामिल नहीं होना चाहिए।


    आत्मघाती राजनीति और कंडोम मीडिया के दायरे से बाहर बुनियादी मुद्दों पर चर्चा,संवाद और बहस का समय है यह।


    सिंहद्वार पर दस्तक बहुत तेज है।

    जाग सको तो जाग जाओ भइये।


    इसी सिलसिले में हिमांशु जी ने लिखा है, वह अबतक जारी निरंकुश घृणा अभियान के विरुद्ध हमारी सोच का आवाहन है।

    जाति को तो मिटाना है भाई ,

    याद रखना जातिवाद को मजबूत करने वाला कोई काम नहीं करना है .


    जाति का विरोध करने वाले साथी जातिवादी घृणा फैलाने के आकर्षण में फंसने से बचें .


    इसमें मज़ा तो बहुत आता है लेकिन इससे हमारी जाति के लोगों की स्तिथी में कोई सुधार नहीं आता .


    मार्टिन लूथर किंग जब अश्वेतों की बराबरी की लड़ाई लड़ रहे थे तो उन्होंने श्वेतों के विरुद्ध घृणा का कोई भी वाक्य कभी नहीं बोला .


    बल्कि उस लड़ाई में बहुत बड़ी संख्या में गोरे भी शामिल थे .


    जब उनके एक साथी ने एक बार गलती से गोरी महिलाओं के विरुद्ध एक अपमानजनक गीत बनाया


    तो मार्टिन लूथर किंग ने उसे रोक दिया था .


    हिमांशु जी का यह मतव्य हमारी आंखें खुलने के लिए काफी है।

    संचार क्रांति और तकनीक की वजह से अब मीडिया कारोबार कंडोम कवायद है। जिसमें जनप्रतिबद्धता,जनमत,विचारधारा,संवाद की कोई जगह नहीं है।


    भारतीय समाज में अखबार अब तक जनमत जनादेश निर्माण में अहम भूमिका निभाते रहे हैं लेकिन अब वे अखबार रंग बिरंगे कंडोम सुगंधित हैंं।


    1977 में भारत सरकार के सूचना प्रसारण मंत्रालय के केसरियाकरण के साथ मीडिया का जो कंडोम कायाकल्प शुरु हुआ,वह अब फूल ब्लूम है। मजीठिया वेतन मान लागू करने में मूल दिक्कत आटोमेशन के बावजूद ठेके पर हुई भर्ती है,जिन्हें साठ फीसद देना होगा।


    केंद्र और राज्य सरकारों के वेतनमान में समान काम के लिए समान वेतन है।


    सेना में एक ही रैंक के लिए समान वेतनमान है।


    लेकिन एक ही संस्थान के अलग लग अखबारों में,अलग अलग संस्थानों में एक ही पद के लिए वेतनमान में जमीन आसमान का फर्क है।


    यह मानवाधिकार और न्याय के सिद्धांत के विरुद्ध है।समानता के विरुद्ध है। असंवैधानिक है।


    वाजपेयी सरकार के जमाने में मणिसाणा आयोग की सिफारिशों के तहत  पत्रकारों और गैरपत्रकारों के साथ इस अनंत अन्याय का आरंभ हुआ।


    केशरियाकरण के तहत जाति वर्चस्व की सारस्वत रघुकुल रीति जो चालू हुई सो हुई।टका सेर भाजी टका सेर खाजा जो हुआ सो हुआ। मीडिया में संपादक नामक संस्थान का अवसान  हो गया।अब घूमंतू विश्वपर्यटक संपादक जो हैं ,उनके और अखबार के बीच कोई संबंध रहा नहीं है। अखबारों में अब मैनेजरों की चलती है।और सारे पत्रकार गैरपत्रकार उनके पालतू गुलाम है।


    संघ परिवार की कृपा से पत्रकारों गैरपत्रकारों की जो कूकूरगति हुई है,उसके बाद मीडिया का हिंदुत्व और नमोमय भारत निर्माण के लिए अतिशय मीडिया सक्रियता इस दुश्चक्र का तार्किक परिणाम है।


    कुल  मिलाकर  भारतीय जनता कुल मिलाकर गुलामी की महाजनपद व्यवस्था है।


    हम सारे लोग प्रजाजन हैं।नागरिक कतई नहीं हैं।राजनीतिक अधिकार वोट देने तक सीमाबद्ध है। न जनसुनवाई है।न सशक्तीकरण है।न जागरण है।न आंदोलन है। न जनभागेदारी है।न जनसरोकार हैं।न जनपक्षधरता है।न कोई जवाबदेही है।


    सामाजिक आर्थिक गुलामी तो जस का तस है।

    कारपोरेट राज में तो मानवाधिकार सैन्य राष्ट्र और गिरोहबंद राजनीति के शिकंजे में है।


    हमारी राय है कि नागरिक बनने के लिए भी जाति उन्मूलनका एजंडा  प्रस्थानबिंदू बनना चाहिए।


    इसी सिलसिले में राज्यसभा चैनल में श्याम बेनेगल के धारावाहिक संविधान देखना भी प्रासंगिक हो सकता है।


    जनजागरण,सशक्ती करण,जन सुनवाई,जनहिस्सेदारी और वैचित्र के मध्य वैचित्र्य के सम्मान के साथ सामाजिक न्याय और समता आधारित समाज के निर्माण के लिए जाति उन्मूलन से बड़ा कोई एजंडा नहीं है।


    जाति उन्मूलन से ही खत्म हो सकता है रंगभेद। थम सकाता है अश्वमेधी नरसंहार और जनपदों का सफाया।


    अस्मिताओं के साथ न्याय और कुल मिलाकर अस्मिताओं का वजूद भी जाति वर्चस्व नस्ल वर्चस्व के अवसान के बिना असंभव है।


    हमारे युवा साम्यवादी साथियों ने दशकों के बाद इस दिशा में पहल की है।अभिनव सिन्हा सत्यनारायण ने भी अलग से बहस छेड़ी है।


    अनेक बिंदुओं पर असहमति के बावजूद हम उनकी इस पहल का तहेदिल स्वागत करते हैं।


    सहमति का विवेक और असहमति का साहस ही संवाद का आधार होना चाहिए।


    बहसतलब इसबार यह है कि हम गुलाम प्रजाजन स्वतंत्र देश के स्वतंत्र नागरिक कब बनेंगे।


    आनंद तेलतुंबड़े ने अपने आलेख में बहुत साफ साफ लिखा हैः


    पिछले छह दशक के दौरान हम जाति उन्मूलन के आंबेडकर के सपने को पूरा कर पाने में न सिर्फ नाकाम रहे हैंबल्कि उस सपने से हम कोसों दूर भी चले आए हैं। आंबेडकर के तथाकथित शिष्य ही इस सपने को दफनाने में सबसे आगे रहे हैं जिन्होंने अपनी-अपनी पहचान के झंडे उसकी कब्र पर गाढ़ दिए हैं। ऊंची जातियों को तो अपने जातिगत लाभ बचाए रखने में दिलचस्पी हो सकती है, लेकिन निचली जातियों को स्वेच्छा से अपनी कलंकित पहचानें ओढ़े रखने में क्या दिलचस्पी हो सकती है?जाति उन्मूलन की आंबेडकरवादी दृष्टि अकेले निचली जातियों की बेहतरी के लिए नहीं इस्तेमाल की जानी थी,बल्कि यह अनिवार्यतः समूची भारतीय जनता के लिए बनी थी। जाति महज भेदभाव या उत्पीड़न का मामला नहीं है।यह एक ऐसा वायरस है जो समूचे राष्ट्र को अपनी जकड़़ में बांधे हुए है। भारत की हर बुराई और लगातार उसके पिछड़ेपन के पीछे मुख्य कारक यही वायरस है। इसे एक क्रांति से रेचन करके ही शरीर से निकाला जा सकता है। कोई भी ऊपरी सुधार इस वायरस को नहीं हटा सकताबल्कि एक संपूर्ण लोकतांत्रिक क्रांति ही जमे हुए वर्गों को उनकी जगह से खत्म करेगी और भारत के समाजवादी भविष्य का रास्ता प्रशस्त करेगी। क्रांति समर्थक ताकतों को यह बात पूरी तरह अपने भीतर बैठा लेने की जरूरत है कि जब तक दलित उनके साथ नहीं आएंगे तब तक क्रांति का उनका सपना पूरा नहीं हो पाएगा। इसी तरह जाति विरोधी दलितों के लिए ध्यान देने वाली बात यह है कि जब तक उनके वर्ग के लोग उनकी ताकत नहीं बनाते,तब तक जाति उन्मूलन का सपना पूरा नहीं हो सकता। इससे यह बात निकलती है कि इन दोनों खेमों को अपनी ऐतिहासिक गलतियां और भूल दुरुस्त करने के लिए एक समान सरोकार के इर्द-गिर्द साथ आकर रणनीति बनानी होगी।


    दलितों के लिए यह समझना रणनीतिक अपरिहार्यता है कि जाति सिर्फ सांस्कृतिक या धार्मिक मसला नहीं है बल्कि यह जीवन के हर पहलू के साथ गुंथी हुई है। अधिकतर दलित या तो खेत मजदूर के रूप में या फिर शहरी अनौपचारिक क्षेत्रों में कामगारों के रूप में मुश्किल से अपना पेट भर पा रहे हैं। उनका दलित होना उनकी आर्थिक स्थिति के साथ उलझा हुआ है। उनके ऊपर होने वाले उत्पीड़न से यह बात आसानी से समझी जा सकती है,जो उन्हें आतंकित कर घुटने टेक देने के लिए विवश करती है। कई मामलों में यह समर्पण दरअसल उच्च जातियों के वर्चस्व में आर्थिक और राजनीतिक लाभ को सुनिश्चित करता है,हालांकि वर्चस्व की ऐसी कार्रवाइयां उसी धर्म के लोगों द्वारा की जाती हैं जो दलित उत्पीड़ितों के वर्ग से ही आते हैं। ऐसे उत्पीड़न इसलिए संभव हो पाते हैं क्योंकि दलित वित्तीय रूप से कमजोर होते हैं,आर्थिक रूप से निर्भर,नैतिक रूप से खोखले और अपने वर्ग से असम्पृक्त होते हैं। इसीलिए आरक्षण की दवा उन्हें आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने के लिए दी गई है ताकि अपनी आजीविका के साधनों पर उनका नियंत्रण हो सके और वे किसी भी तरह के अन्याय का प्रतिकार करने में नैतिक रूप से मजबूत बन सकें व उच्च जातियों के लोगों के साथ वर्गीय एकजुटता कायम कर सकें। इसका निदान व्यवहारिक तौर पर वही है जो बाबासाहब आंबेडकर ने 1936 में अपने प्रसिद्ध लेख ''मुक्ति कौन पथे'' में प्रस्तुत किया था जिसमें उन्होंने इस आंदोलन के लोगों के धर्मांतण का तर्क मुहैया कराया था। पहला कदम उन्हें जमीन दिलवाना,गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दिलवाना और स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया करवाना होगा;दूसरा,संघर्ष में आस्था की वैचरिकता बहाली का होगा और तीसरा,अन्य जातियों के साथ वर्गीय एकजुटता कायम करना होगा। कार्यक्रम के स्तर पर विचारधारात्मक तैयारी और वर्ग एकजुटता को पहले होना होगा ताकि सशक्तीकरण के साधनों के लिए संघर्ष को प्रभावी तौर से चलाया जा सके।



    ऐसा वर्ग विरोधी और जाति विरोधी आंदोलनों को दोबारा गढ़ने से ही संभव होगा। एक तरफ दलित आंदोलन को जाति के मसलों पर संघर्ष करते हुए खुद को वर्ग की लाइन पर लाना होगा तो दूसरी ओर वाम आंदोलन को इस तरह से निर्देशित किया जाना होगा कि वह जाति के यथार्थ को पहचान सके और संघर्षरत दलितों के साथ एकजुटता कायम करने की जरूरत को महसूस कर सके। यह पहल हालांकि वाम आंदोलन की ओर से ही पूरे वैचारिक संकल्प के साथ की जानी होगी जो उसकी ओर से अब तक बकाया है तथा इस क्रम में खुद को सही मानने की अपनी प्रवृत्ति को उसे छोड़ना होगा। जैसा कि मैंने अपनी पुस्तक एंटी इम्पीरियलिज्म एंड एनिहिलेशन ऑफ कास्ट्समें लिखा था,एक बार इस प्रक्रिया की शुरुआत हो गई तो यह एक ऐसे सिलसिले में तब्दील हो जाएगी जिसका अंत बहुप्रतीक्षित भारतीय क्रांति में ही होगा। मुझे कोई और विकल्प नहीं दिखाई देता।


    हम आनंद से सहमत हैं लेकिन इस बहस को जनसुनवाई में तब्दील करना चाहते हैं ताकि आतमघाती राजनीति और कंडोम मीडिया के घन घटाटोप में कोई रोशनी की किरण हमेारे लिए नई दिशा खोल सकें।


    कृपया राय दर्ज करने से पहले आनंद का लिखा पढ़े जरुर।समयांतर का ताजा अंक नहीं मिला तो अभिषेक के जनपथ और मेरे ब्लागों में पूरा आलेख देख सकते हैं।

    http://antahasthal.blogspot.in/2014/02/blog-post_16.html


    हम फेस बुक वाल पर विश्वप्रसिद्ध कवि उदय प्रकाश की इस पोस्ट की तर्ज पर पहले ही उन सभी मित्रों से माफी मांगते हैं,जिनके मुखातिब हम हो नहीं पा रहे हैं,लाख कोशिशों के बावजूद,क्योंकि उनमें से ज्यादातर कंडोम से घिरे हुए हैं।

    कुछ दोस्तों से न मिल पाने के लिए क्षमा मांगते हुए

    February 23, 2014 at 3:42pm

    आप बिल्कुल भी आहत न हों

    क्योंकि बाहर निकलने के मामले में हमेशा से

    काहिल और लद्धड़ रहा हूं. आपको तो मेरे बारे में यह खूब

    पता ही है. अपनी गोदी में

    मैं अपनी नन्हीं-सी बेटी को किसी कदर

    संभाले हुए हूं. मेरे घुटनों पर चढ़ा हुआ है

    मेरा प्यारा-सा छोटा बेटा, जिसने

    बस अभी-अभी बोलना शुरू किया है

    और बाकी के सारे के सारे

    बेतहाशा बिना रुके बोले ही चले जा रहे हैं

    वे मेरे कपड़ों को पकड़ कर झूल रहे हैं और मेरे हर कदम पर

    मेरे साथ-साथ रेंगते हैं

    मैं अपने घर के दरवाज़े के बाहर बहुत दूर तक

    निकल ही नहीं पाऊंगा

    मुझे डर है , सचमुच बहुत खेद है, मैं

    आपके फाटक-दहलीज़ तक पहुंच ही नहीं पाऊंगा.

    बिल्कुल बुरा न मानें. मुआफ़ी.

    मेई-याओ चेन

    (अनु : उदय प्रकाश / केनेथ रेक्सरोथ के अंग्रेज़ी अनुवाद के आधार पर)



    দলিত উন্নয়নে পিছিয়ে বাংলা, মন্তব্য অমর্ত্যর

    Feb 20, 2014, 10.39AM IST




    এই সময়: বাংলার রাজনীতিতে এখন সমাজের অনগ্রসর শ্রেণির প্রতিনিধিত্ব কম থাকায় ক্রমশ যে ক্ষোভের স্বর জোরালো হচ্ছে, এবার তাতে গলা মেলালেন নোবেলজয়ী অর্থনীতিবিদ অমর্ত্য সেন৷ বুধবার কলকাতায় এক অনুষ্ঠানে তিনি স্পষ্টই বলেন, বাম শাসিত কেরালায় উচ্চ বর্ণের বিরুদ্ধে যে গণআন্দোলন গড়ে উঠেছিল, পশ্চিমবঙ্গে তেমনটা ঘটেনি৷ যে কারণে, শিক্ষা, স্বাস্থ্য-সহ অন্যান্য সামাজিক সুযোগগুলি সেখানে একেবারে নিচু তলা পর্যন্ত পৌঁছালেও, পশ্চিমবঙ্গে তা হয়নি৷ দুটি রাজ্যেই বামেরা দীর্ঘ সময় শাসন করলেও, যে উত্‍স থেকে এই দুটি রাজ্যে কমিউনিস্ট আন্দোলন গড়ে উঠেছে, সমস্যা রয়েছে সেখানেই৷


    সম্প্রতি এ রাজ্যে দলিতদের অধিকার নিয়ে সরব হয়েছেন বর্ষীয়ান সিপিএম নেতা আব্দুর রেজ্জাক মোল্লা৷ দীর্ঘ সাড়ে তিন দশকের বাম শাসনে এ রাজ্যে দলিত ও মুসলিমদের তেমন কোনো অগ্রগতি হয়নি বলেও, প্রকাশ্যেই ক্ষোভ উগড়ে দিয়েছেন এই প্রবীণ বাম নেতা৷ শুধু তাই নয়, সিপিএমের আর এক প্রবীণ নেতা কান্তি বিশ্বাসও একই দাবিতে সরব হয়েছিলেন৷ তাঁরও বক্তব্য ছিল, দলের নেত্ৃত্বে দলিত বা পিছড়ে বর্গের উল্লেখযোগ্য কোনো নেতা নেই৷ 'চাষার ব্যাটা' রেজ্জাক মোল্লা বা দলিত নেতা কান্তি বিশ্বাস যা বলে আসছিলেন, এদিন তারই সমর্থম মিলল নোবেলজয়ী অর্থনীতিবিদের কথাতেও৷ তিনি বলেন, এ রাজ্যে বাম নেতাদের প্রায় সকলেই উচ্চবর্ণের৷ আর উচ্চবর্ণের বিরুদ্ধে তেমন জেরালো কোনো গণ আন্দোলনও গড়ে তোলেনি বামেরা৷ অন্যদিকে, কেরালায় ইএমএস নাম্বুদিরিপাদ নিজে উচ্চবর্ণের প্রতিনিধি হলেও, কেরালায় বাম রাজনীতির অন্যতম বিষয় ছিল উচ্চবর্ণ-বিরোধী আন্দোলন৷ সেখানে সেই ধারার পরম্পরার কারণেই বিস্তার ঘটেছে শিক্ষার৷ শিক্ষিত মানুষ চেয়েছেন উন্নত স্বাস্থ্য পরিষেবা৷ যে কারণে, এই ক্ষেত্রগুলিতে সেখানে শুধু বিস্তার ঘটেছে তাই নয়, তার সুযোগ পৌঁছেছে একেবারে নিচুতলা পর্যন্ত৷

    কেরালাই শুধু নয়, তামিলনাড়ুতেও সিপিএমের আন্দোলনের অন্যতম অ্যাজেন্ডা উচ্চবর্ণ-বিরোধী আন্দোলন৷ দলিতদের দাবিতে আন্দোলন৷ বস্ত্তত পেরিয়ারের সময় থেকেই তামিলনাড়ুতে গড়ে উঠেছিল ব্রাহ্মণ্যবাদ-বিরোধী আন্দোলন৷ যে রাজনীতির পরম্পরা বহন করছে সে রাজ্যের প্রধান দুই দল-- ডিএমকে এবং এআইএডিএমকে৷ যে কারণে, সে রাজ্যেও স্বাস্থ্য ক্ষেত্রে উল্লেখযোগ্য অগ্রগতি ঘটেছে৷ কেরালাতেও বাম এবং কংগ্রেস স্বীকার করে নিয়েছে তাদের রাজনৈতিক ও সামাজিক পরম্পরা৷ যা এ রাজ্যে হয়নি৷


    কলকাতা গ্রুপের একটি কর্মশালা উপলক্ষে বুধবার কলকাতায় সাংবাদিকেদর মুখোমুখি হয়েছিলেন অমর্ত্য সেন৷ এশীয় দেশগুলির অভিজ্ঞতা নিয়ে দেশের স্বাস্থ্য ব্যবস্থার স্বাস্থ্য ফেরানো নিয়েই আয়োজিত হচ্ছে এই কর্মশালা৷ এই প্রসঙ্গে বাংলাদেশ, থাইল্যান্ড, চীন তো বটেই, অন্যান্য দেশগুলির তুলনায় এদেশের সম্ভাবনা যথেষ্ট উজ্জ্বল হলেও, পারফরম্যান্স অত্যন্ত খারাপ হওয়ায় অত্যন্ত বিরক্তি ও ক্ষোভ প্রকাশ করেন অমর্ত্য সেন৷ তার হিসাবে, এই বিষয়ে পশ্চিমবঙ্গ নিছকই মাঝারি মানের একটি রাজ্য৷ তবে তার দায়যে বর্তমান সরকারের উপর চাপানো যুক্তিযুক্ত নয়, এদিন তাও সাফ বলেন নোবেলজয়ী এই অর্থনীতিবিদ৷ কেরালা পারলেও,কেন পশ্চিমবঙ্গ পারল না, সেই প্রসঙ্গে একটি উত্তর দিতে গিয়েই এদিন দীর্ঘ বাম শাসিত দুই রাজ্যর প্রসঙ্গে এই কথাগুলি বলেন তিনি৷ অন্যদিকে, নালন্দা বিশ্ববিদ্যালয় নিয়েও এদিন খানিকটা ক্ষোভ প্রকাশ করেন অমর্ত্য সেন৷ তিনি বলেন, এটিকে একটি আন্তজার্তিক বিশ্ববিদ্যালয় হিসাবে গড়ে তোলার কথা ছিল৷ কিন্ত্ত এখন তাকে একটি কেন্দ্রীয় বিশ্ববিদ্যালয় হিসাবে গড়ে তোলার কথা বলা হচ্ছে৷ অথচ, মূল ধারণা অনুযায়ী আলোচনার ভিত্তিতে ইতিমধ্যেই ৫ টি দেশ এজন্য অর্থ সাহায্য করেছে৷ এটি বিশ্বাসঘাতকতারই সামিল৷ অন্য একটি প্রসঙ্গে তিনি বলেন, এখনো এদেশে বিদ্যুত্‍, গ্যাস ও গাড়ির জ্বালানিতে যে ভর্তুকি দেওয়া হয়, খাদ্য, পথ্য, পুষ্টির মতো ক্ষেত্রগুলিতে দেওয়া হয় তার চেয়ে কম৷




    0 0

    बतौर सांसद,विधायक अतिथि कलाकारों की भूमिका तो बताइये,दीदी!

    एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास



    ममता बनर्जी के प्रधानमंत्रित्व के दावे और उन्हें गांधीवादी नेता अन्ना हजारे के समर्थन से बाकी देश में कुछ असर हो या न हो,बंगाल में विपक्ष के सफाये की पूरी तैयारी है। लेकिन दीदी जिस तरह से राजनेताओं के बदले संसद और लोकसभा में कलाकारों, पत्रकारों और बुद्धिजीवियों को भेज रही हैं,उससे राजनीतिक संस्कृति ही बदलने जा रही है। पार्टी और सरकार पर पकड़ के लिहाज से इस रणनीति से दीदी की केंद्रीकृत सत्ता को किसी चुनौती की आशंका नहीं है।


    सोमेन मित्र आखिरी कद्दावर नेता थे,जिनकी छुट्टी हो गयी है। बाकी डूबते जहाज छोड़कर तृणमूल में अपना वजूद बचाने आये लोगों की कोई ऐसी हैसियत है ही नही कि वे कोई राजनैतिक चुनौती पेश करें।


    मुश्किल यह है कि दीदी सेलीब्रेटी को जनप्रतिनिधि बनाने की मुहिम मे जुटी हैं और ये तमाम लोग अव्वल तो पेशेवर व्यस्तता से निकलने की हालत में नहीं हैं और फिर वे आम जनता के बीच उनकी फौरी समस्याों को सुलझाने से लेकर संबंधित क्षेत्र में विकास कार्यक्रमों के कार्यन्वयन के लिहाज से फीसड्डी है।


    इससे कभी कभी भारी समस्या हो जाती है,जैसे सांसद कबीर सुमन के सात हुआ।सांसद कोटे के अनुदान खर्चने के मामले में पार्टी में असरदार राजनेताओं की उन्होंने नहीं सुनी तो नही सुनी।इसपर दीदी ने उन्हें बतौर सांसद अतिथि कलाकार बता दिया।इस पर कबीर को इतनी घनी आपत्ति हो गयी कि वे न केवल बागी हो गये,बल्कि तृणमूल की सांसदी पर बहाल रहते हुए दीदी पर सबसे तीखे हमला करने वाले हो गये।उनकी कला सीधे राजनीति में अनुदित हो गयी।


    कलाकार,पत्रकार या बुद्धिजीवी राजनीति नहीं करेंगे,इसकी कोई पुक्ता गारंटी नहीं है।शारदा फर्जीवाड़े मामले के रफा दफा हो जाने के बावजूद पत्रकार सांसद कुमाल घोष की वजह से शारदा कांड अब भी जिंदा है।


    बहरहाल दीदी के लिए बेहतर हालत यह है कि हर कोई कबीर सुमन या कुमाल घोष भी ह नहीं सकता।फिल्म स्टार तापस पाल और शताब्दी राय बेसुरा चलने लगे थे तो दीदी ने उन्हें उनकी औकात बता दी।मेगा स्टार मिथुन को लाकर उन्होंने बाकी लोगों को खामोश कर दिया है।जोगेन चौधरी जैसे सम्मानीय राज्यसभा से अब तृणमूल सांसद है।पूरी बंगाली फिल्म इंडस्ट्री दीदी के कबजे में हैं। प्रसेनजीत,देव से लेकरमुनमुन सेन तक कोई भी किसी का विकल्प बन सकता है।


    फिल्मों में नायक नायिका की केंद्रीय भूमिका निभाने वाले कलाकारों की लेकिन राजनीति में कोई भूमिका नहीं है।


    रायदिघी से विधायक चुने जाने के बाद पूरे ढाई साल से इलाके के लिए लापता फिल्मस्टार देवश्री राय को फिर दीदी ने अतिथि कलाकार बता दिया और इस पर देवश्री को कोई आपत्ति भी नहीं है।दीदी के मुताबिक कलाकार राजनेताओं के तरीके से जनता के बीच काम कर ही नहीं सकते और न इलाकों का विकास उनसे संभव है।उनका काम लेकिन मां माटी मानुष की सरकार कर रही है।इलाके का तेज विकास जारी है।


    सही है ,लेकिन बतौर सांसद,विधायक अतिथि कलाकारों की भूमिका तो बताइये,दीदी!



    0 0


    0 0

    जल मल एकाकार,गर्मी से पहले पेयजल खरीदने को मजबूर,अब तो आक्सीजन  भी खरीदना होगा


    एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास


    बंगाल के रोमांसप्रिय नागरिकों के लिए शीत उत्सव समाप्त प्राय है।वसंत की दस्तक होते न होते गर्मी की आंच सुलगने लगी है।बीच वसंत में ही नरकयंत्रणा की शुरुआत हो चुकी है।


    जल मल एकाकार,गर्मी से पहले पेयजल खरीदने को मजबूर हैं लोग।


    अब तो आक्सीजन भी खरीदना होगा,हालत ऐसी बन रही है। जलवायु और मौसम चक्र बदल रहे हैं तेज तेज। चावल और सब्जियों में आर्सेनिक हैं।गनीमत है कि आटा बाहर से आता है। मछलियां जिन पोखरो में पलती है,उसका जल भी आर्सेनिक।


    पिछले लोकसभा चुनावों से जो परिवर्तन सुनामी का सिलसिला है,उसके तहत बंगाल में पैंतीस साल के वाम शासन के अवसान के बाद मां माटी मानुष की सरकार सत्ता में हैं।पंचायतों के बाद नगर निगमों और नगरपालिकाओं की सरकारे भी बदल गयी हैं।पानीहाटी नगरपालिका में करीब चालीस साल बाद सत्ता दल बदला है। तो कोलकाता के बाद हावड़ा में भी लाल का सफाया हो गया है। लेकिन नागरिक सेवाओं के मामले में हाल बेहाल है।कुछ भी नहीं बदला है।


    महानगर कोलकाता ,माहनगर हावड़ा और उपनगरों में सत्ता बदल जाने के बावजूद नागरिक सेवाएं बेहतर होने  के लक्षण नहीं हैं। मौजूद हालात  जो बन रहे हैं और बने हुए हैं उससे परिस्थितयां बेलगाम हो जाने की ही आशंका है।


    पूर्व कोलकाता और पश्चिम कोलकाता ही नहीं, बारासात कल्याणी से लेकर बारुईपुर सोनारपुर तक अब महानगर है। भले ही वह कोलकाता नगर निगम से बाहर हो।


    इस व्यापक इलाके में बढ़ती हुई आबादी और महानगर  के सीमित दायरे में अंधाधुध बहुमंजिली निर्माण से सारी व्यवस्था टूटने के कगार पर है।


    आर्थिक बदहाली की वजह से नागरिक सेवाएं सुधारने के लिए नया निवेश असंभव  है।


    जलनिकासी अब एक बेहद असंभव समस्या हो गयी है। अब पेयजल की बारी है।


    कोलकाता और हावड़ा नगरनिगम इलाकों के अलावा उपनगरों में भी गर्मी हो या बरसात पेयजल संकट बना रहता है और नागरिक त्राहि त्राहि करते हैं।


    कोलकाता और उपनगरों में भी जलापूर्ति का सारा दारोमदार शताब्दी प्राचीन इंदिरा गांधी  पलता जल परियोजना पर निर्भर है।


    अब बंगाल में नदी प्रबंधन की बदहाल तस्वीर सुंदरवन और उत्तर बंगाल से कोलकाता तक स्थानांतरित होने लगी है। हुगली नदी के कगार कोलकाता में लगातार कट रहे हैं और जिसकी शिकार हो रही है पलता जलपरियोजना।


    कोलकाता नगरनिगम के इंजीनियरों के मुताबिक इसका कोई पुख्ता इंतजाम नहीं हो पाया तो पलता जलपरियोजना के गंगा गर्भ में समा जाने की आशंका है।


    पुख्ता इंतजाम राज्यसरकार कर नहीं सकती। इसके लिए केंद्रीय मदद की दरकार है।


    बंगाल में केंद्र में काबिज सत्तादल के नेताओं, मंत्रियों के राज्य नेतृत्व से जो मधुर संबंध हैं, उसके मद्देनजर समीकरण रातोंरात बदले बिना केंद्रीय मदद असंभव है। अब इंतजार कीजिये, इस बरसात या उस बरसात पलता परियोजना के अवसान का और सोचते रहे कि पीने को पानी कहां से मिलेगा!


    हावड़ा में जल मल एकाकार है।शुद्ध पेयजल के मोहताज हावड़ावासियों ने वाम दलों को हावड़ा बाहर कर दिया। लेकिन पेयजल की हालत सुधरी हो ऐसा नहीं है। चालीस साल बाद सत्ता बदल के बाद हफ्तों से पानीहाटी के सोदपुर इलाके में जल मल एकाकार है।पेयजल खरीदकर दिन बीता रहे हैं लोग।कहीं कोई सुनवाई नहीं है।तो सोनारपुर राजपुर नगर पालिका में भी लोग पचास पचास रुपये में पानी खरीद कर दिन गुजार रहे हैं। सोदपुर में टाला का पानी बीस रुपये भाव बिक रहा है।फर्क इतना है।


    नये कोलकाता लेकटाउन, राजारहाट, न्यू टाउन,साल्ट लेक तक गड़िया तक जो नये विकसित जनपद है,उसके लिए पेयजल सबसे बड़ी समस्या है।


    गौरतलब है कि बंगाल में उद्योग और कारोबार का हाल जो भी हो, शहरीकरण बहुत तेज हुआ है। इसमें कोई दो राय नहीं है। लेकिन नागरिक सेवाओं के बिना असुरक्षित शहरीकरण से तबाह हैं लोग, इसमें भी दो राय नहीं हो सकती। बंद कल कारखानों की जमीन पर आवासीय कालोनियां बन गयी हैं तो खेती की जमीन पर महानगर कोलकाता और हावड़ा, दुर्गापुर, मालदह, सिलीगुड़ी,आसनसोल जैसे बड़े शहरों के साथ साथ छोटे शहरों और कस्बों का बहुत तेज विस्तार हुआ है।


    जमीन और आवासीय परिसर की कीमतें आसमान छूने लगी हैं। कोलकाता का भूगोल उत्तर, दक्षिण, पूरब और पश्चिम चारों  तरफ विस्तृत हुआ है। कोलकाता से जुड़े हावड़ा, बारासात, बारुईपुर, सोनारपुर से लेकर कल्याणी तक अंधाधुंध शहरीकरण हुआ है। राजमार्गों के किनारे कहीं एक इंच जमीन खाली नहीं है। सर्वत्र निर्माण और विस्तार की धूम मच गयी है। यही हालत दुर्गापुर,मालदह, मुर्शिदाबाद, सिलीगुड़ी, शांतिनिकेतन और आसनसोल की है। लेकिन नगर निगमों और पालिकाओं की ओर से नये आवासीय इलाकों की बात तो रही दूर साल्टलेक, राजारहाट और लेकटाउन जैसे आवासीय इलाकों में जनसुविधाओं का पर्याप्त इंतजाम नहीं किया गया है।



    कोलकाता की अमरकथा तो विचित्र हैं ही।बार बार सत्ता बदल होते रहने के बाद भी पेयजल और निकासी की व्यवस्था दुरुस्त हो नही पा रही है।


    कोलकाता से लेकर उत्तर के समस्त नगरों से टाला से पानी सप्लाई होती है।वह पानी बेहतर है। लेकिन वह पानी ल्रवत्र पहुंच ही नहीं पाता।जो स्थानीय पंप लगाये गये हैं,ज्यादातर जलापूर्ति उन्हीं से होती है।


    मुश्किल यह है कि जहां टाला का पानी पहुंचता है और जहां वह पानी नहीं पहुंचता, निकासी बंदोबस्त की जर्जर दशा के लिए जल मल एकाकार होना आम बात है।


    पेयजल मिले भी तो बीमारी का सबब बन रहा है पानी और लोग खरीदकर पानी पी रहे हैं।

    नये कोलकाता में तो मिनरल वाटर की सप्लाई भी कम पड़ने की आशंका हो गयी है और शायद लोगों को शीतल पेय से ही प्यास बुझाने की नौबत आयेगी।


    जो नये आवासीय परिसर बन रहे हैं,उसे म्युटेशन,निर्माण से लेकर कम्पीलशन सर्टिफिकेट तक लेने की प्रक्रिया में इतने स्तरों पर इतने लोगों को खिला पिलाकर खुश करने की नौबत आती है कि नागरिक सेवाेंएं बहाल करने की कहीं कोई प्राथमिकता है नहीं।


    सड़कें हैं नहीं,परिवहन है नहीं और ऊपर से पेयजल भी नहीं है।


    जब पेयजल भी शुद्ध नहीं है और हरियाली की तबाही है।पेड़ अंधाधुंध काटे जा रहे हैं।नदी, नालों,पोखरों और तालाबों में नयी कंक्रीट सभ्यता की नींव डाली जा रही है तो उनके वाशिंदों के लिए स्वस्थ जीवन सबसे बड़ी चुनौती है।


    वाइरल बीमरियां चालू हो चुकी हैं।मलेरिया और डेंगु घात लगाकर बैठे है। आर्सेनिक से झुलस रहे हैं लोग। पेट और सांस की बीमारियों की चपेट में हैं कोलकाता से लेकर हावड़ा, सोनारपुर से लेकर बैरकपुर बारासात तक की दिन दूनी रात चौगुणी बढ़ती जाती शहरी आबादी।


    पानी  तो लोग खरीदकर ही पी रहे हैं। नारियल पानी भी महंगा है। मोबाइल टावरों की वजह से गांवों में भी नारियल बीमार है।शीतल पेय में रासायनिक है।


    अब तो जीने के लिए शायद आक्सीजन भी खरीदना होगा।


    अभी हालत यह है कि 'सिटी ऑफ जॉय' के नाम से मशहूर कोलकाता शहर में 70 हजार से अधिक लोगों के सर पर छत नहीं है।यहां तक कि उन्हें शुद्ध और सुरक्षित पेयजल, स्वच्छ प्रसाधन जैसी नागरिक सुविधायें तक उपलब्ध नहीं है।रोजाना इस शहर में नौकरी और रोजगार केलिए करीब एक करोड़ से ज्यादा लोगो की आवाजाही है। दिनभर रातभर कोलकाता में कामकाजी इस आबादी के लिए भी स्थाई आबादी के अतिरिकत शुद्ध पेयजल जुटाने की जि्मेवारी है कोलकाता नगरनिगम की। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार पेयजल ऐसा होना चाहिए जो स्वच्छ, शीतल, स्वादयुक्त तथा गंधरहित हो। कोलकाता नगर निगम (के.एम.सी) के अनुरक्षन में कोलकाता शहर का क्षेत्रफल 185 कि.मी.२ (71 वर्ग मील) है।हालांकि कोलकाता की शहरी बसावट काफ़ी बढ़ी है, जो २००६ में कोलकाता शाहरी क्षेत्र 1,750 कि.मी.२(676 वर्ग मील) में फैली है। इसमें १५७ पिन क्षेत्र है। यहां की शहरी बसावट के क्षेत्रों को औपचारिक रूप से ३८ स्थानीय नगर पालिकाओं के अधीन रखा गया है। इन क्षेत्रों में ७२ शहर, ५२७ कस्बे एवं ग्रामीण क्षेत्र हैं।कोलकाता महानगरीय जिले के उपनगरीय क्षेत्रों में उत्तर २४ परगना, दक्षिण २४ परगना, हावड़ा एवं नदिया आते हैं।इस पूरे इलाके की आबादी २ करोड २९ लाख है।


    विशेषज्ञों की राय है कि इस संकट से बचने का एकमात्र उपाय है कि पलता जलपरियोजना के दायरे में गंगा किनारे करीब दो किलमीटर इलाके में भूगर्ब में इंटरलाकिंग शीट पाइल यानी भूग्रभीय लौह प्राचीर बना दी जाये।नगर निगम ने इस आशय का फैसला भी कर लिया है। इस दीवाल की औसत उच्चता 30-35 फीट होनी है और इस परियोजना का खर्च आयेगा 119 करोड़ रुपये का। नगरनिगम के कोषागार से इतनी बड़ी रकम निकाली नहीं जा सकती और राज्य सरकार भी नही दे सकती। लिहाजा कोलकाता नगरनिगम ने केंद्र सरकार क दरख्वास्त भेजी है किकि केंद्रीय जवाहर लाल नेहरु शहरी विकास मिशन के मार्फत उसे यह राशि उपलब्ध करा दी जाये। अभ इतने बड़े मसले पर सर्वदलीय प्रयास के बिना कोई प्रगति तो होने से रही। बंगाल में दलबद्ध राजनीति बंगाल के हितों की कितनी खबर लेती है, यह बार बार साबित हो चुका है। अब सवाल है कि कोलकाता और उपनगरों में पेयजल संकट से बचने के लिए क्या नये ितिहास का निर्माण होगा और गौरतलब है कि इसी पर निर्भर है कोलकाता और उपनगरों में बहुआकांक्षित नागरिक जीवन का भविष्य।




    इतिहास पर उनका हर सुवचन हास्यास्पद है।अर्थशास्त्र पर उनके सारे तथ्य गलत हैं। विदेशनीति पर उनकी सिंहदहाड़ राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बेहद खतरनाक। चीन के खिलाफ जो मोर्चा उन्होंने खोल दिया है,वह न केवल नेहरु की ऐतिहासिक भूल की आत्मघाती पुनरावृत्ति है,बल्कि वाजपेयी की राजनयिक उपलब्धियों  का गुड़ गोबर हैं।


    पलाश विश्वास

    Navbharat Times Online

    राजनाथ सिंह दिल्ली में मिले मुस्लिम वोटरों से। कहा सॉरी... अगर हमसे कोई गलती हुई है तो माफ करें

    पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें लाइक और शेयर करें... http://nbt.in/Vb9ZWY


    ‪#‎rajnathsingh‬राजनाथ सिंह दिल्ली में मिले मुस्लिम वोटरों से। कहा सॉरी... अगर हमसे कोई गलती हुई है तो माफ करें  पूरी खबर पढ़ने के लिए क्लिक करें लाइक और शेयर करें... http://nbt.in/Vb9ZWY    #rajnathsingh

    Like·  · Share· 1,983313110· 5 hours ago· Edited·


    आदरणीय ईश मिश्र का जवाब आया है।उनका आभार।

    उन्होंने लिखा हैः

    उदितराज अपने रामराजी दिनों से ही एक धुर अवसरवादी और सत्ता लोलुप किस्म का व्यक्ति रहा है. जेयनयू में देवीप्रसाद त्रिपाठी का झोला ढोते हुए सीपीयम का झंडाबरदार था.1983 में त्रिपाठी के पतित होकर इंदिरा-ब्रिगेड में शामिल होने के उनके ज्सायातर चेले उधर-उधर भागना शुरू हो गये थे क्रेयोंकि वे राजनीतिक समझ से नहीं निजी संबंधों के आधार पर सीपीयम में थे. पिछले महीने अलीगढ़ एक सेमिनार में मुलाकात हुई और उसने मुझे दिल्ली तक  अपनी  लंबी गाड़ी में दिल्ली तक लिफ्ट दिया रास्ते में अपने एक समर्थक के घर गया. अपने समर्थकों को साथ उसा व्यवहार ऐसा था जैसे अंग्रेज हिंदुस्तानी कर्मचारियों के साथ करतो थे, बताया कि मायावती अपने पार्टी कार्यकताओं कोे नौकर-चाकर समझती है, मैंने मजाक किया कि इसीलिए तुम भी वैसा कर रहे हो तो बोला नहीं ये लोग श्रद्धा मे सम्मान करते हैं. पता नहीं किससे सुरक्षा के लिए उसे  दो बंदूकधारी  सुरक्षाकर्मी मिले हैं. रास्ते भर ड्रािवर और सुरक्षाकर्मियों को ऐसे डांटते आया जैसे वह सामंत हों और वे सब उसके नौकर. मुझे उसके भगवामय होने पर आश्चर्य नहीं हुआ. अलीगढ़ से दिल्ली तक मेरी दलित पक्षधरता की तारीफ करते हुए मुझे अपनी पार्टी में आने का प्रलोभन देता रहा. खैर, मैं तो एक साधारण जनपक्षीय शिक्षक हूंऔर मेरा काम अपनी सीमित शक्ति से जनवादी जनचेतना के प्रचार-प्रसार में योगदान करना है, बहुजन सत्ता के इन दलालों को खुद सबक सिखाएगा. इतिहास गवाह है कि संघ-परिवार एक दैत्याकार घड़ियाल है जो इन दलितवादियों को मनुवादी एजेंडे के निवाले में निगल जायेगा. हम वास्तविक वामपंथियों की औकात मोदी के फासीवादी  अभियान को रोक पाने की नबीं है, इसलिए फिलहाल, जैसा पलाश जी ने कहा हमें केजरीवाल की बधिया बिखेरने से बचना चाहिए, यद्यपि वह भी कारपोरेटी राजनीति का ही पक्षधर है किंतु फिलहाल उसने मोदियाये गिरोह में बेचैनी पैदा कर दी है. आगे देखा जायेगा. वक्त पार्टियों से बाहर के वामपंथियों के लिए आतममंथन और संगठित होने का है. पलाश भाई, आप इतना और इतना अच्छा लिखते हैं.



    संघ परिवार ने अपने लौह पुरुष लाल कृष्ण आडवाणी,देश की इसवक्त की शायद सबसे बेहतरीन वक्ता सुषमा स्वराज,तीक्ष्ण दिमाग अरुण जेटली जैसे दिग्गजों को ठुकराकर नरेंद्र मोदी की तर्ज पर जिस अदूरदर्शी व्यक्ति को भारत के भावी प्रधानमंत्री बतौर पेश किया है,वह देश की राष्ट्रीय सुरक्षा और आंतरिक सुरक्षा के संवेदनशील मुद्दों में ऐसे उलझ रहा है,जिसकी मिसाल नहीं है।


    उनका इतिहासबोध ऐसा कि कक्षा दो तीन में पढ़ने वाले बच्चों कोभी अवाक हो जाना पड़े।


    उनकी वाक्शैली ऐसी कि प्रवचऩ फेल।संवाद के बजाय जैसे वे सामने के हर शख्स को डांट डपट कर एक ही सुर में रटंति मुद्रा में सबक सिखा रहे हों।


    उनकी रैलियों के नाम ऐसे जैसे देशभर में राजसूय यज्ञ चल रहा हो और दसों दिशाओं में उनके अश्वमेध के घोड़े दौड़ रहे हों और हवा में तलवारें भांजते हुए खुली चुनौती दे रहे हों कि जिसने मां का दूध पिया हो मैदान में आकर दो दो हाथ आजमा लें।


    जनादेश मांगने का अंदाजा उनका ऐसा,जैसे अपने इलाके का मस्तान हप्तावसूली पर निकला हो।इतना आक्रामक।इतना अलोकतांत्रिक।प्रतिपक्ष के प्रति न्यूनतम सम्मानभाव भी नहीं।


    वे गुजरात का महिमामंडन करते हुए क्षेत्रीय अस्मिताओं का खुला असम्मान कर रहे हैं देशभर में,आजतक प्रधानमंत्रित्व के दावेदार किसी नेता ने ऐसा किया हो,साठ के दशक से मुझे याद नहीं है।हमने नेहरु,लोहिया और अंबेडकर को साक्षात नहीं देखा है और न सरदार पटेल को।


    राजनीति का पहला सबक विनम्रता है।राजनेता बाहुबलि नहीं होता।गणतंत्र में उसकी हैसियत जनसेवक की होती है।


    कांग्रेसी नेताों की बात तो छोड़ ही दें,आम तौर पर देशबर में लोग यह मानते हैं कि विचारधारा और धर्म कर्म चाहे जो हो संघी लोग बेहद विनम्र,संवाद कुशल और मीठे होते हैं।


    संघ के प्रचारक से प्रधानमंत्रित्व के स्तर तक उन्नीत व्यक्ति में संघ परिवार के आम प्रचारक के बुनियादी गुण सिरे से गायब हैं।


    अर्थशास्त्र का अभ्यास किये बिना अर्थशास्त्र पर जिस अंदाज में गुजरात माडल के दम पर वे बोलते हैं.ऐसी कुचेष्टा शायद सपने में भी वाजपेयी,आडवाणी,जेटली,राजनाथ और सुषमा स्वराज करें।


    संघ परिवार का अपना राजनीतिक,सामाजिक,सांस्कृतिक,आर्थिक दर्शन हैं,हममें से बहुत लोग उस केशरिया दर्शन के कठोर निर्मम आलोचक हैं।लेकिन गणतंत्र में पक्ष प्रतिपक्ष को अपना घोषणापत्र,विजन,दर्शन और परिकल्पनाएं पेश करने का पूरा अधिकार है।


    लेकिन तथ्यों से तोड़ मरोढ़ करने की इजाजत किसी गंभीर राजनेता को होती नहीं है। खासकर जो राष्ट्रीय नेतृत्व के दावेदार हों।


    बाकी देश को गुजरात बनना चाहिए या नहीं,देश तय करेगा,लेकिन तथ्यों को तोड़ने मरोढ़ने की जो दक्षता मोदी दिखा रहे हैं,वह हैरतअंगेज हैं।



    इतिहास पर उनका हर सुवचन हास्यास्पद है।अर्थशास्त्र पर उनके सारे तथ्य गलत हैं। विदेशनीति पर उनकी सिंहदहाड़ राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए बेहद खतरनाक।


    चीन के खिलाफ जो मोर्चा उन्होंने खोल दिया है,वह न केवल नेहरु की ऐतिहासिक भूल की आत्मघाती पुनरावृत्ति है,बल्कि वाजपेयी की राजनयिक उपलब्धियों का गुड़ गोबर हैं।


    स्मरणीय है कि भारतीय संविधान का मसविदा बाबासाहेब अंबेडकर ने जरुर तैयार किया है,लेकिन उसको अंतिम रुप देने में सभी पक्षों का सक्रिय योगदान रहा है।सहमति और असहमति के मध्य भारतीय लोक गणराज्य का निर्माण हुआ।तो केशरिया विमर्श की अभिव्यक्ति के हक को हम खारिज नहीं कर सकते।


    लेकिन भारतीय संविधान में घृणा अभियान की कोई गुंजाइश नहीं है।अपने समरसता के राष्ट्रीय दर्शन के बावजूद संघ परिवार की राजनीति का मुख्य हथियार असंवैधानिक अमानवीय हिंसा सर्वस्व घृणा ही है।मगर संघ परिवार के राष्ट्रीय नेता इस घृणा कारोबार के विपरीत उदार आचरण करते दीखते रहे हैं।


    पंडित दीन दयाल उपाध्याय और अटल बिहारी वाजपेयी जी की तुलना तो आज के संघी राजनेताों से की ही नहीं जा सकती,जो संघ और पार्टी के नेता बाद में थे,भारतीय नेता पहले,बल्कि संघ की आक्रामक केशरिया राजनीति का श्रेय जिन लालकृष्ण आडवाणी जी की है,वे भी अत्यंत संवाद कुशल, व्यवहारिक और संसदीय राजनेता हैं।


    खास बात तो यह है कि संवेदनशील मुद्दों पर संघी नेताओं के मत भले बाकी देश से अलग रहे हों ,उन्होंने तथ्यों से खिलवाड़ करने की बाजीगरी से हमेशा बचने की कोशिश की है।


    मसलन कश्मीर के मामले में, सशस्त्र सैन्य विसेषाधिकार कानून के बारे में संघ का पक्ष धर्मनिरपेक्ष भारत के प्रतिकूल हैं।वे धारा 370 का विरोध करते रहे हैं। श्यामाप्रसाद मुखर्जी और दीनदयाल उपाध्याय की मृत्यु भी इसी विरोध के मध्य हुई। लेकिन कश्मीर या पूर्वोत्तर की संवेदनशील परिस्थितियों का विस्तार देशभर में करने की उनकी रणनीति शायद नहीं थी।


    संघ परिवार का इंतजारी प्रधानमंत्री तो पूरे देश को या तो गुजरात का कुरुक्षेत्र बनाना चाहते हैं या फिर कश्मीर का कारगिल।


    हम संघ परिवार के प्रबल विरोधी हैं।


    हम जानते हैं कि धर्मोन्मादी राष्ट्रवाद का स्थायी भाव घृणासर्वस्व नस्ली सांप्रदायिक हिंसा है तो उसका सौंदर्यबोध अविराम युद्धोन्माद है।ऐसा युद्दोन्माद जिसमें भरपूर राजनीतिक हित हों,लेकिन राष्ट्रहित तनिक भी नहीं।


    हम जनादेश निर्माण में हस्तक्षेप करने की हालत में कतई नहीं हैं लेकिन हम यह कभी नहीं चाहेंगे कि हिटलर जैसा कोई युद्धोन्मादी देश की बागडोर संभाले।गणतंत्र में अगर जनादेश उनके पक्ष में हो तो हम उस युद्धोन्मादी सत्ता के खिलाफ लड़ेगे।यकीनन लड़ेगे साथी।लोकतांत्रिक तरीके से लड़ेंगे।लोकतंत्र और संविधान की रक्षा करते हुए जनादेश का सम्मान करते हुए लड़ेंगे साथी।


    लेकिन उस संधिकाल से पहले यह बेहद जरुरी है कि स्वंभू राष्ट्रहितरक्षक संघ परिवार तनिक अपनी अंतरात्मा से कुछ जरूरी सवाल पूछ ही लें।हमें जवाब देने की जरुरत नहीं है।हम तो उनके महामहिमों से लेकर छुटभैय्यों की तुलना में नितांत साधारण प्रजाजन हैं,नागरिक भी नहीं पूरी तरह।लेकिन हर संघी अपनी अंतरात्मा से पूछें कि वे कितने पक्के राष्ट्रभक्त हैं।


    स्वस्थ गणतंत्र के लिए बुनियादी मसला यही है कि नैतिकता की दुहाई देने वाला संघ परिवार अनैतिक कैसे है।


    हम तो सिरे से नास्तिक हैं,लेकिन स्वस्थ गणतंत्र के लिए बुनियादी मसला यही है कि धर्मराष्ट्र के सिपाहसालार इतने धर्मविरोधी कैसे हैं।


    राष्ट्रवादी संघपरिवार के प्रधानमंत्रित्व का चेहरा इतना राष्ट्रद्रोही कैसे है कि वे अरुणाचल में पूर्वोत्तर के राज्यों में गिने चुने संसदीयक्षेत्रों में कमल खिलाने की गरज से अटल बिहारी की गौरवशाली राजनय को तिलांजलि देकर नेहरु की तर्ज पर बाकायदा चीन के खिलाफ युद्धघोषणा कर आये।


    अगर नमोमय भारत बन ही  गया और परमाणु वटन उन्हींके हाथ में रहे तो कहां कब वे परमाणु बटन ही दाब दें, इसकी गारंटी तो शायद अब संघ परिवार भी नहीं ले सकता। पाकिस्तान के साथ ही नहीं, चीन समेत बाकी देशों के प्रति उनका यह युद्धोन्मादी रवैय्या भारत देश के लिए कितना सुखकर होगा,इसमें हमारा घनघोर संदेह है।


    हमने इंतजारी प्रधानमंत्री की अरुणाचल यात्रा पर हिंदी में अबतक नहीं लिखा,लेकिन उसी दिन अंग्रेजी में लिखा था,क्योंक तत्काल पूर्वोत्तर को संबोधित करना फौरी कार्यभार था।उसका अनुवाद पेश करना जरुरी नहीं है,लेकिन हमारा आशय समझने के लिए वह प्रसंग संदर्भित है,उसके कुछ अंश पेश कर रहे हैं,पूरा पाठपढ़ने के लिए कृपया मेरा ब्लाग देख लें।

    Please do not make a Kashmir in the North east,Mr Prime Minister in waiting!

    We should welcome that Prime Ministerial candidate Narendra Modi condemned the recent attacks on students of the North East.But he kept silence on Armed Forces Special Power Act in attempt to harvest lotus in the excluded geography of the nation subjected to military repression and racial apartheid.


    Modi opened his eye floodgates to sympathize with the killed young student in New Delhi,but he failed to express his support to Irom Sharmila.


    May be,I might be wrong. I have no prejudice or pride.


    I just failed to listen whether Mr Modi did say anything about Irom Sharmila`s prolonged hunger strike demanding to end the AFSPA rule in the North east.


    I have doubts about the fertility potential of Hindutva despite the blooming lotus hype projected by media round the clock.


    In Arunachal,his speech as the most potential prime ministerial candidate,perhaps as the next prime minister disappointed.His tone and text are exclusive in nature.


    It has very serious security implications in the context of Indo Sino border dispute and in reference to non Hindu demography of the tribal mongoloid North East.


    However,Narendra Modi tried his best to extend Gujarat to North East marketing  his well branded  hate campaign of high equity value provoking North Eastern sentiments.


    It is very very dangerous.


    It proves that the Hindutva brigade is not least concerned with the North East people and their fight against Delhi`s Military rule.


    North East seems to be yet another Kashmir for the Shafron agenda which wants a complete geography without caring for either the history or the demography.It is Hindutva point of view n Kashmir reflected in Modi unilateral hate campaign in the North East.


    It is blessing that the Hindutva failed to have any major impact in the North East despite its omnipresence in the largest state Assam under constant turmoil.


    I am unaware of the fact whether Mr Modi did ever had any stand on NorthEast subjected to racial apartheid or military rule.


    We,however,know Modi`s Sanghi policies on Kashmir.


    For me, Modi seems to replicate Kashmir in the North East.


    I am least concerned who would be the next prime minister as it would make no difference whatsoever as the polity is unofficially captured by bipolar Hindutva Politics with the reign always remaining in the hands of the ruling monopolistic hegemony.


    Unless the system is not changed,no change is possible.


    While our best of friends and activists countrywide joined Kejriwal Brigade and Mr Kejriwal has clarified that he in not against capitalism.


    The total revolution seems to be aborted midway as the AAP thinks tanks have been indulged in wooing the foreign investors.


    I feel quite disappointed for my respected dear friends whom I refrain to criticize as I know very well that we have to fight against the military rule, repression, displacement, destruction all round and economic ethnic cleansing just after the elections.


    My wife Sabita had stopped to see TV news while Chandrashekhar was the prime minister just because of his socialist hypocricy.


    I am afraid that provided Modi becomes the next prime minister we have to skip all fragments and forms of corporate media.Modi campaign has been transformed in an omnipotent hate campaign to provoke blind religious nationalism and we may not bear with.


    Just go through the content and rethink about your option.

    http://antahasthal.blogspot.in/2014/02/please-do-not-make-kashmir-in-north.html


    बहरहाल चीन ने बीजेपी के पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के 'विस्तारवादी सोच' वाले बयान को खारिज करते हुए कहा कि उसने किसी की एक इंच भी जमीन हड़पने के लिए कभी हमला नहीं किया।चीन को अरुमाचल का मसला नये सिरे से उठाने का अवसर दे दिया मोदी ने।


    क्या संघपरिवार ने संवेदनशील सीमाक्षेत्र में भारत चीन सीमा विवाद को चुनावी मुद्दा बनाने की रणनीति बनायी है,यह सवाल पूछा जाना चाहिए।


    चीन से संबंध सुधारने की अटल बिहारी वाजपेयी की निरंतर कोशिशों के परिमामस्वरुप आज 1962 के नेहरु के हिमालयी भूल से जो युद्ध हुआ,वह अतीत बन गया है,क्या संघ परिवार ने उस अतीत को दोहराने का ठेका नरेंद्र मोदी को दिया है,यक्षप्रश्न यही है।


    हर राष्टभक्त को यह सवाल करना ही चाहिए कि संवेदनशील राष्ट्रीयसुरक्षा के मुद्दों को सत्ता संघर्ष का मुद्दा बनने देना चाहिए या नहीं।इससे पहले ऐसी मारत गलती किसी संघी नेता ने भी की हो तो हमें मालूम नहीं।


    चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने मोदी की टिप्पणी पर सवालों का जवाब देते हुए कहा, 'आपने चीन द्वारा विस्तारवादी नीति अपनाने का जिक्र किया है। मेरा मानना है कि आप सभी देख सकते हैं कि चीन ने दूसरे देश की एक भी इंच जमीन पर कब्जा करने के लिए कभी कोई युद्ध नहीं छेड़ा है।' उन्होंने कहा कि हम हमेशा कहते रहे हैं कि हम शांतिपूर्ण विकास पथ के जरिए वास्तविक कार्रवाई करते हैं और हम अच्छा पड़ोसी होने तथा सहयोगी संबंध के प्रति प्रतिबद्ध हैं।


    उन्होंने 1962 के बाद चीन-भारत सीमा पर कोई बड़ा संघर्ष नहीं होने का जिक्र करते हुए कहा, 'सीमा से सटे इलाके में बरसों से कोई सशस्त्र संघर्ष नहीं हुआ है। इसलिए इस बारे में पुख्ता सबूत है कि वहां शांति बरकरार रखने में हम सक्षम हैं। यह द्विपक्षीय संबंध को आगे बढ़ाने के लिए बहुत अच्छी चीज है।'


    हुआ ने कहा, 'यह न सिर्फ दो लोगों के लिए, बल्कि समूचे क्षेत्र के लिए अच्छा है। हम अपने भारतीय समकक्ष के साथ काम करने की उम्मीद करते हैं।'


    गौरतलब है कि नरेंद्र मोदी ने शनिवार को अरुणाचल प्रदेश के पासीघाट में एक रैली में कहा था कि चीन को अपनी 'विस्तारवादी सोच' रोकनी चाहिए।


    हुआ ने मोदी की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कहा, 'सीमा के पूर्वी सेक्टर पर हमारा रुख साफ है। हम अपने पड़ोसी देशों के साथ अच्छा पड़ोसी और मैत्री संबंध विकसित करना चाहते हैं।' साथ ही हम वार्ता एवं परामर्श के जरिए प्रासंगिक विवादों और मतभेदों का हल करना चाहते हैं।


    गौरतलब है कि चीन अरुणाचल प्रदेश को तिब्बत का दक्षिणी हिस्सा होने का दावा करता है और यह दोनों देशों के बीच 4,000 किलोमीटर लंबी वास्तविक नियंत्रण रेखा पर विवाद का हिस्सा है। हुआ ने कहा कि फिलहाल चीन और भारत द्विपक्षीय संबंधों में अच्छी गति बनाए हुए हैं।


    भारत के इंतजारी प्रधानमंत्री न केवल पूरे देश को गुजरात बनाना चाहते हैं,बलिक वे इस देश के हर हिस्से को कश्मीर विवाद में तब्दील करने का खतरनाक खेल खेल रहे हैं।


    देश का जो होगा,वह होगा। हम मानते हैं कि भारत लोक गणराज्य है और जनादेश के तहत निर्वाचित सरकार को सत्ता सौंपने की जो स्वस्थ एकमात्र परंपरा है,उसका निर्वाह होना ही चाहिए।अतीत में 1977 में शंगियों ने केंद्र में गैरकांग्रेसवाद की आड़ में सत्ता संभाला है और अटल बिहारी वाजपेयी की अगुवाई में राजग गठबंधन ने भी पांच साल तक सत्ता की बागडोर संभाली है। राज्यों में संघी सरकारें इफरात हैं।सत्ता में जाने के बाद तो वाजपेयी को राजकाज के धर्म का निर्वाह ही करना पड़ा।


    छुट्टा के बजाय बंधा हुआ सांढ़ कम खतरनाक होता है।सत्ता की जिम्मेदारियां संघ परिवार को खुल्ला खेल खेलने से रोक भी सकती हैं।


    फिर लोकतंत्र में सभी विचारों का स्वागत होना चाहिए।


    चेयरमैन माओ भी सहस्र पुष्प खिलने के पक्ष में थे।धर्मोन्मादी राष्ट्रवाद पर कोई अकेली भाजपा का एकाधिकार नहीं है।


    गुजरात नरसंहार के बरअक्श हमारे सामने सिख नरसंहार की मिसाल भी है।


    लेकिन इतिहास साक्ष्य देगा और यकीनन देगा कि भले ही अमेरिका ने मोदी के प्रधानमंत्रित्व का अनुमोदन कर दिया है,भले ही कारपोरेट आवारा और दोस्ताना पूंजी दोनों नमोमयबारत निर्माण के लिए एढ़ी चोटी का जोर लगा रही हो,चाहे बाजार की सारी शक्तियां संघ परिवार के हिंदूराष्ट्र के पक्ष में लामबंद हो और मीडिया अति सक्रिय होकर रुक रुक कर हिमपात की तर्ज पर एक के बाद एक सर्वेक्षण प्रस्तुत करके मोदी के प्रधानमंत्रित्व की नींव ठोंक रहा हो,संघ परिवार ने देश का अहित किया हो या नहीं,अपने पांव कुल्हाड़ी जरुर मार ली है।


    संघ परिवार के इतिहास में इतना अगंभीर,इतना बड़बोला,राष्ट्रीय सुरक्षा के संवेदनशील मुद्दों के प्रति इतने खिलंदड़ और आंतरिक सुरक्षा के मामले में इतने अगंभीर नेतृत्व की कोई दूसरी मिसाल हों तो खोजकर शोधपूर्वक हमें जरुर इत्तला दें।


    हम गोवलकर जी की सोच के साथ असहमत रहे हैं।

    हम सावरकर को राष्ट्रनिर्माता नहीं मानते।

    हम श्यामा प्रसाद मुखर्जी के तीव्र आलोचक हैं।

    हम दीनदयाल उपाध्याय के पथ को भारत का पथ नहीं मानते।

    हम वाजपेयी जी के नरम उदार हिंदुत्व को कांग्रेसी धर्मनिरपेक्ष हिंदुत्व से कम खतरनाक नहीं मानते।

    हम लालकृष्ण आडवाणी की मंडल जवाबी कमंडलयात्रा और नतीजतन बाबरी विध्वंस के लिए आजीवन कठघरे में खड़ा करते रहेंगे।


    लेकिन इन नेताओं ने राष्ट्र हितों का ख्याल नहीं रखा हो,ऐसा अभियोग नहीं कर सकते।सांप्रदायिक राजनीति इन्होंने खूब की है।


    सन बयालीस में वाजपेयी जी की भूमिका को लेकर विवाद है।लेकिन स्वतंत्र भारत में राष्ट्रनेता बतौर उन्होंने कोई गैर जिम्मेदार भूमिका निभायी हो,ऐसा आरोप अनर्गल ही होगा।


    कुल मिलाकर राष्ट्रद्रोह का संघपरिवार में निजी विचलन और अपवादों के अलावा कोई राष्ट्रीय चरित्र नहीं रहा है।


    इसी प्रसंग में स्मरणीय है कि बांग्लादेश मुक्ति संग्राम के दौरान भारतीयसैन्य हस्तक्षेप से पहले विश्व समुदाय में इसके पक्ष में समर्थन जुटाने की जिम्मेदारी श्रीमती इंदिरा गांधी ने आदरणीय अटल बिहारी वाजपेयी जी को सौंपा था।


    हिंद महासागर में सातवें नौसैनिक बेड़े की मौजूदगी के बावजूद अमेरिका के शिकंजे से बांग्लादेश की स्वतंत्रता के सखुशल प्रसव के लिए जितनी बड़े कलेजे का परिचय दिया इंदिरा गांधी ने,आर्थिक नतीजों से बेपरवाह रहने के लिए अशोक मित्र जैसे अर्थशास्त्रियों ने जो भरोसा दिलाया,युद्धक्षेत्र में तीन दिन में पाक सेना को आत्मसमर्पण के लिए बंगाल में नक्सलवादी चुनौती से निपट रही भारतीय सेना ने जो उपलब्धि हासिल की है,उससे कम वजनदार नहीं है अटल बिहारी वाजयेयी जी की राजनय।


    अगर हम जैसे अपढ़ को आप इजाजत दें तो हम कहना चाहेंगे कि संजोग से अब भी जीवित और संघी हिंदू राष्ट्र में अप्रासंगिक बन गये माननीय अटल बिहारी वाजयपेयी जी ने भारतीय राजनय को जिस स्तर तक पहुंचाया,वहां से भारतीय राजनय की शवयात्रा ही निकली है।


    मेरे दिवंगत पिताजी का वाजपेयी जी से आजीवन मधुर संबंध रहा है और उनकी राय वाजयपेयी जी के बारे में बदली कभी नहीं बदली।राजनीति में वाजपेयी के नेतृत्व को मैं शायद सौ में से दस नंबर भी न दूं,लेकिन बतौर भारत के राजनयिक प्रतिनिधि और इस देश के सबको लेकर चल सकने वाले प्रधानमंत्री बतौर हम वाजपेयी जी की भूमिका ऐतिहासिक मानते हैं।


    अब वाजपेयी को भूलकर,लौहपुरुष रामरथी आडवानी को किनारे करके और सुषमा स्वराज की अनदेखी करके संघ परिवार भारत देश पर कैसा गैर जिम्मेदार प्रधानमंत्री थोंपने के लिए एढ़ी चोटी का जोर लगा रहा है,बाकी देश इस पर सिलसिलेवार विचार करें,इससे पहले नमोमय भारत निर्माण उत्सव मना रहे संघी इस पर सिलसिलेवार विचार कर ले तो वह राष्ट्र के लिए मंगलमय तो होगा ही और संघ की प्रासंगिकता बनाये रखने के लिए अनिवार्य भी।



    प्रतिक्रिया के लिए,फेसबुक वाल पर प्रासंगिक मंतव्य के लिए आभार


    Jagbir Shorot If a country wants to be a powerful state than it has to act like one. War is the extension of political thought.

    Jagbir Shorot

    8:09pm Feb 25

    Palash Biswas North east is nort east and not kashmir and China did not share any borders with India ever. It was only that Nehru committed the folly of legalising the Tibet occupation by China. If India has a strong defence and the will of the politician then this too can be revoked. We have till date no long term planning in defense . China great wall was built in a over 12 centuries, but the idea stayed. As far as economics is concerned the world has shown that he has done wonders with the state.



    Arun Goel

    8:02pm Feb 25

    lagta ha yeh koi pakistani hindu ID banakar FACEBOOK par ha