Are you the publisher? Claim or contact us about this channel


Embed this content in your HTML

Search

Report adult content:

click to rate:

Account: (login)

More Channels


Channel Catalog


Channel Description:

This is my Real Life Story: Troubled Galaxy Destroyed Dreams. It is hightime that I should share my life with you all. So that something may be done to save this Galaxy. Please write to: bangasanskriti.sahityasammilani@gmail.comThis Blog is all about Black Untouchables,Indigenous, Aboriginal People worldwide, Refugees, Persecuted nationalities, Minorities and golbal RESISTANCE.

older | 1 | .... | 184 | 185 | (Page 186) | 187 | 188 | .... | 303 | newer

    0 0

    International Day of the Victims of Enforced Disappearances
    30 August


    -"On this international day, I urge all Member States to ratify or accede to the Convention without delay, and I call on the States parties to the Convention to implement it. It is time for an end to all enforced disappearances."

    Secretary-General Ban Ki-moon

    unmarked graves

    Many victims of enforced disappearances remain in nameless graves. Credit: OHCHR

    Enforced disappearance has frequently been used as a strategy to spread terror within the society. The feeling of insecurity generated by this practice is not limited to the close relatives of the disappeared, but also affects their communities and society as a whole.

    Enforced disappearance has become a global problem and is not restricted to a specific region of the world. Once largely the product of military dictatorships, enforced disappearances can nowadays be perpetrated in complex situations of internal conflict, especially as a means of political repression of opponents. Of particular concern are:

    • the ongoing harassment of human rights defenders, relatives of victims, witnesses and legal counsel dealing with cases of enforced disappearance;
    • the use by States of counter-terrorist activities as an excuse for breaching their obligations;
    • and the still widespread impunity for enforced disappearance.

    Special attention must also be paid to specific groups of especially vulnerable people, like children and people with disabilities.

    On 21 December 2010, by its resolution 65/209 the UN General Assembly expressed its deep concern, in particular, by the increase in enforced or involuntary disappearances in various regions of the world, including arrest, detention and abduction, when these are part of or amount to enforced disappearances, and by the growing number of reports concerning harassment, ill-treatment and intimidation of witnesses of disappearances or relatives of persons who have disappeared.

    By the same resolution the Assembly welcomed the adoption of the International Convention for the Protection of All Persons from Enforced Disappearance, and decided to declare 30 August the International Day of the Victims of Enforced Disappearances, to be observed beginning in 2011.-
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    Maharashtra – 20 more farmers cry land grab of `2,000 crore

    farmerThese farmers have submitted complaints to Thane collector Ashwini Joshi after it was alleged that the tehsildar and his staff are trying to help the perpetrator

    Yogesh Pawar @powerofyogesh


    "We found that the tehsildar and his staff are trying to delay the case, so we approached Joshi," said Muddasir Ayub Varekar, who owns the largest tract (51 acres).

    "Seeing how the dna report put pressure on cops and revenue officials to accelerate Idris' case, we felt encouraged," Varekar said. Idris himself said the police had swung into action in his case. "For years when I went to the police, the way they spoke to me, I felt like I was the criminal. Now, after the report their demeanour has changed," he said.

    One of the trio against whom the FIR was lodged, Ashok D Kulkarni, has approached dna saying he himself is a victim.

    "Unhappy with irregularities, I legally dissociated from the firm, New Shree Swami Samartha Borivade Housing Company, in 2010. Yet, my signatures from old documents have been used to forge documents, which I am not even party to," said Kulkarni, who has moved both HC and SC.

    He has also filed another case in SC about a 21-acre parcel inVersova. "This land, owned by Apna Ghar Coop Housing Society, was sought to be redeveloped by his firm. He fraudulently misrepresented the society members, leading to a legal tangle," he said.

    Sources at tehsildar's office admitted that tehsildar Vikas Patil was under considerable pressure to help out Walawalkar. "There is still a move to fraudulently change the ownership of another 124-acre plot," said a source. dna is in possession of the request for this 'mutation entry' in the revenue register made on March 30. "They are trying to push for making the change before any inquiry begins."

    Patil was defensive when approached. "I can only say I will not allow anything illegal to happen."

     

     

    http://epaper.dnaindia.com/story.aspx?id=82008&boxid=32782&ed_date=2015-08-27&ed_code=820009&ed_page=7

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    Author Trevor Grant on How The Rajapaksa Regime Gets Away With Murder

    YouTubeAn interview with author Trevor Grant, he recently wrote an insightful book pertaining to the ongoing human rights violations in Sri Lanka- the book…

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    सच मानिये तो अब फिजां त्योहार मनाने की नहीं है।पहले फिजां ठीक कीजिये।
    बलात्कार संस्कृति के धारकों वाहकों की लगायी आग से देश धू धू जल रहा है।
    पलाश विश्वास

    गुजरात के एक करोड़ बीस लाख जनसंख्यावाले पाटीदार समाज  अपना मुख्यमंत्री ,पूर्व मुख्यमंत्री होने के बावजूद आरक्षण चाहिए तो हिंदू ह्रदय सम्राट के गुजरात पीपीपी माडल से आखिर किस किसका विकास हुआ,आरक्षण की प्रासंगिकता से बड़ा सवाल यही है कि गुजरात माडल का मुल्क बनाकर हम किस किस को आरक्षण देकर उन्हें बायोमेट्रिक स्मार्ट डिजिटल बाजार में क्रयशक्ति से लैस करें ताकि वह अपना विकास कर भी न सकें तो कमसकम जिंदा तो रहे,इस परगौर कीजियेगा 2020 और 2030 के लिए बेसब्र इंतजार से पहले।


    इबादत कोई करनी हो तो कयामतों से निजात पाने के लिए अपनी अपनी आस्था के मुताबिक इबादत करें।इबादत करनी हो तो इस लिए करें कि इंसानियत पर हो रहे हमलों के बावजूद मुल्क आबाद रहे।त्योहार मनाइये तो सबसे पहले साझा चूल्हों को सुलगाया भी करें।

    जिस महादेश में पत्रकारिता बलात्कार संस्कृति का धारक वाहक हो,जहां सुगंधित कंडोम का विकास हो और कुंभ मेले में भी कंडोम कम पड़ जाने से एड्स फैसने का खतरा हो,स्त्री न घर में और न बाहर सुरक्षित हो,स्वास्थ्यपतंजलि के हवाले हो और जान माल जल जंगल जमीन नागरिकता बाजार के हवाले हो,वह रक्षा बंधन के पाखंड के बावजूद अपनी अपनी मां,बहन, बहू और शरीके हयात के लिए आजादी के कुछ तंत्र मंत्र यंत्र भी ईजाद करें।

    अमलेंदु का शुक्रिया कि ठीक से बांग्ला न जानने के बावजूद समाद का ताजा आलेख मीडिया की बलात्कार संस्कृति के खिलाफ हस्तक्षेप में तुरंत लगा दिया।बंगाल का जो हिस्सा हमारे पास है,वह बलात्कार भीमि है और न्याय वहां राष्ट्रपति भवन और सुप्रीम कोर्ट भी दिलवा नहीं सकता।

    बंगाल जो हमने काट दिया या जो पाकिस्तान है,देश का बंटवारा करने वालों की सियासती कत्लेाम की वजह से,वहां भी रोज स्त्री बलात्कार की शिकार है।सियासत की बाजी पर हमने औरत को नंगी खड़ी कर दिया है।

    देश भूल चुकी है गुवाहाटी और मणिपुर की माताओ,बहनों को और मध्यभारत और कश्मीर हिंदुत्व के भूगोल में नहीं है।
    सबसे खराब बात तो यह है कि जिसे देवभूमि कहते अघाते नहीं है,उस हिमालय का भी खुल्लाआम कत्ल हुआ है।नदियों में बहता वह खून हमारे लिए लेकिन शीतल पेय है।

    जलता हुआ गुजरात हकीकत है बेहद संगीन जो तमाम चेहरे को और कत्लेाम के एजंडे को बेनकाब कर रहा है।बिना सत्ता की मदद के सियासत में उबाल लेकिन आता है और बिना हुकूमत की मर्जी के आंदोलन कहीं होता नहीं है।

    नर्मदा पर बंधे 800 मील लंबी राखी के बावजूद मजहबी सियासत के कारिंदों को शर्म लेकिन आती नहीं है।

    भारत के चैनलों और अखबारों को देखिये कि कुल मुद्दा यही है,देश का सबसे ज्वलंतमुद्दा भी यही है कि किसने किसके साथ कितनी बार कब कहां सेक्स किया और शादियां कितनी की है जबकि जनता दाने दाने को मोहताज है।अबाध पूंजी निवेश का राजकाज है और सबकुछ शेयर बाजार में झोंकर खुली लूट की छूट है।

    तीसरी जंग का सवाल इसीलिए साझा कर रहे हैं हम कि आज यह सबसे मौजूं सवाल है और हमने मजहब को भी कातिल बना दिया है।

    रब तो हमारे अब कोई और नहीं,राम का नाम झूठो लेते हैं,राम को बिना मतलब करोड़ों भलेमानुष,भली स्त्रियों की आस्था का माखौल बनाकर बदनाम कर रहे हैं जो लोग,सत्ता की बागडोर उन्हीं की हाथों में है और रक्षा बंधन हो या कोई तीज त्योहार किसी का भी,किसी मजहब का,वह अब खालिस कारोबार है।

    सच मानिये तो अब फिजां त्योहार मनाने की नहीं है।
    बलात्कार संस्कृति के धारकों वाहकों की लगायी आग से देश धू धू जल रहा है।

    पलाश विश्वास


    TEESRI JUNG NEWS

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Dear Brothers, Don't do This to Your Sisters on Raksha Bandhan #Vaw


    --  By – Aviral Virk
    Dear Brothers, Don't do This to Your Sisters on Raksha Bandhan
    No "honour" in killing. (Photo: SabGuru News)

    Murder is in the air. While not every case has the same stench of scandal as the Sheena Bora murder, a family turning on each other can often be about a regressive and patriarchal sense of family honour, rather than greed.

    As sisters tie Rakhis in exchange for a vow to be protected by their brothers, let's take a moment to remember those who cannot do the "honours" this year.

    Dear brothers, please do not do this to your sisters on this Raksha Bandhan.

    Phool Jehan

    Phool Jehan was beheaded by two of her brothers in broad daylight, on a street not too far away from their home in Shajahanabad, Uttar Pradesh on August 17.

    Phool Jehan's mortal remains. (Photo: Mail Today)
    Phool Jehan's mortal remains. (Photo: Mail Today)

    Gul Hassan and Nanhe Mian then paraded Phool's severed head around the village and left her body lying on the road. Her crime was to fall in love with a cousin, who in a complete mockery of justice was arrested by the police. Eleven days after the brutal murder, the two accused are still at large.

    Nilofer Bibi

    In a similar case in Kolkata, a 29-year-old garment trader Mehtab Alam decapitated his sister Nilofer Bibi, who had eloped and was living with a rickshaw puller.

    Mehtab dragged his sister out of her husband's house, and decapitated her with a sword. He then took the severed head to the police station, where he surrendered.

    Screenshot from the video showing Mehtab Alam on his way to the police station. (Photo: YouTube.com/SeyitYanar)
    Screenshot from the video showing Mehtab Alam on his way to the police station. (Photo: YouTube.com/SeyitYanar)

    This December 2012 incident is believed to be the first incident of "honour killing" in Kolkata.

    Neerja Kumari

    Six members of 19-year-old Neerja Kumari's family were involved in her murder. One of her two brothers used a sharp-edged knife to slit her throat, while the rest of them held her down. Her body was found in an open field in the Sujaganj police station area of Jaunpur. Her crime? She refused to end her affair, even after her family had fixed her marriage with someone else.

    Radha Meena

    In Rajasthan's class conscious Dholpur, Radha Meena dared to elope with a boy from the barber community. The Rajasthan Police, in fact, helped the family get the girl back, but she was murdered with the consent of the family.

    Bharti

    The 18-year old's throat was slit by her brother Amit, after he discovered the Clas XI student was having an affair with their neighbour. Bharti was dragged into the house when she returned home one day, and her throat was slit in front of their parents. The brother, then started a manhunt for the neighbour and attacked his family in the process. He expressed no regret for his actions, as his sister's affair, according to him, had "defamed the honour of the family".

    http://www.thequint.com/india/2015/08/28/dear-brothers-dont-do-this-to-your-sisters-on-raksha-bandhan

    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    নাম পরিবর্তন ?
    আজকে খবর এসেছে দিল্লির অভিজাত আওরঙ্গজেব রোডের নাম পরিবর্তন সিদ্ধান্ত নিয়েছে অরবিন্দ কেজরিওয়াল। এর বদলে নাম করা হবে 'এপিজে আবুল কালাম সড়ক'। জানা গেছে বিজেপি নেতাদের মতামত গ্রহণ করেই কাজটি করেছে কেজরিওলাল। (http://goo.gl/wf39t1)

    উল্লেখ্য ধর্মনিরপেক্ষ (?) সংবিধানের অধিকারী ভারতে মুসলিম নামককরণ পরিবর্তন এই প্রথম নয়, এর আগেও "মাদানীপুর"নাম পরিবর্তন করে "মেদেনীপুর", আহমদাবাদ"কে পরিবর্তন করে "এহেম্মেদাবাদ"করা হয়েছে। এছাড়া আলিগড়ের নাম পরিবর্তন করে 'হরিগড়'করারও দাবি জানিয়ে আসছে তারা।

    আমার মনে হয়, ভারতকে অনুকরণ করে বাংলাদেশের কিছু জেলারও কিছু নাম পরিবর্তন করা যেতে পারে। যেমন ---
    ১) নারায়ণগঞ্জ: হিন্দুদের ধর্মাবলম্বীদের প্রভু নারায়নের নাম অনুসারে এ নামকরণ। ঐ অঞ্চলে মুসলিম ক্ষমতা আমলে রাজধানী থাকলেও কোন মুসলিম নেতা/দরবেশের নাম না নিয়ে প্রভু নারায়নের নাম অনুসারে আঠারশ'শতাব্দীতে নামকরণ করা হয়।
    ২) গোপালগঞ্জ: নবগোপালের নাম অনুসারে। নবগোপাল ছিলো ব্রিটিশ বেনিয়া অনুগত জমিদার রাসমনির নাতী।
    ৩) ঠাকুরগাও : "ঠাকুরগাঁও"জেলার আদি নাম ছিল "নিশ্চিন্তপুর"। কয়েকশ'বছর আগে হিন্দু ঠাকুর/ব্রাহ্মণদের নাম অনুসারে জেলার নাম পরিবর্তন করা হয়।
    ৪) নরসিংদী: নরসিংহ নামক রাজা ব্রহ্মপূত্রের তীরে "নরসিংহপুর"নামক নগর স্থাপন করেছিলো। সেখান থেকেই নরসিংদী নামের উৎপত্তি। অনেকেই বীরশ্রেষ্ঠ ফ্লাইট লেফটেন্যান্ট মতিউর রহমানের জন্মভূমি হওয়ায় এর নাম পরির্তন করে "মতিগঞ্জ"রাখার দাবি তুলেছে।
    ৫) ব্রাহ্মণবাড়িয়া: আগে নাম ছিলো 'নাসিরনগর', ১৮৭৫ সালে পরিবর্তন করে ব্রাহ্মণবাড়িয়া করা হয়।
    ৬) লক্ষ্মীপুর : হিন্দুদের দেবী লক্ষীর নাম অনুসারে এর নামকরণ করা হয়।
    ৭) কক্সবাজার: ব্রিটিশ নৌদস্যু "হিরাম কক্স"নাম অনুসারে নামকরণ করা হয়। ব্রিটিশ গোলামী ভুলতে নাম পরিবর্তন করা জরুরী।
    ৮) ময়মনসিংহ: ষোড়শ শতাব্দীতে বাংলার স্বাধীন সুলতান সৈয়দ আলাউদ্দিন হোসেন শাহ তার পুত্র সৈয়দ নাসির উদ্দিন নসরত শাহ'র জন্য এ অঞ্চলে একটি নতুন রাজ্য গঠন করেছিলেন, সেই থেকেই "নসরতশাহী"বা "নাসিরাবাদ"নামের সৃষ্টি। কিন্তু পরবর্তীতে ময়মনসিংহ নামকরণ করা হয়।
    ৯) কিশোরগঞ্জ: "ব্রজকিশোর"মতান্তরে "নন্দকিশোর"নামক নাম থেকে কিশোরগঞ্জ'নামকরণ করা হয়েছে। মুঘল আমলে এই জেলার বাজিতপুর উপজেলা বিশ্বখ্যাত মসলিন তৈরির জন্য বিখ্যাত ছিল। তাই এ জেলার নাম "মসলিনপুর"রাখা যেতে পারে বলে দাবি তুলেছে অনেকে।

    দেখা যাচ্ছে, অধিকাংশ নামকরণ করা হয়েছে ব্রিটিশ ক্ষমতা আমলে হিন্দু জমিদারদের নাম অনুসারে।
    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    দহগ্রাম-আঙ্গরপোতা : করিডোরে 'বন্দি' স্বাধীনতা

    ১৯৭৪ সালের ইন্দিরা-মুজিব চুক্তি অনুযায়ী তিনবিঘায় নিয়ন্ত্রণ বাংলাদেশের থাকার কথা।প্রকৃতপক্ষে তা হয়নি। এখনও তিনবিঘা করিডোরের নিয়ন্ত্রণ ভারতের কাছে।তিনবিঘায় ভারত এখনও যেভাবে নিয়ন্ত্রণ করছে, চুক্তি অনুযায়ী এ রকম নিয়ন্ত্রণের আইনগত সুযোগ তাদের নেই। প্রয়োজনে তারা সমঝোতার আলোকে ওভার পাস বা আন্ডার পাস করতে পারবে। 
     
     
    image
     
     
     
     
     
    করিডোরে 'বন্দি' স্বাধীনতা | | Samakal Online Version
    সাঁকোয়া তীরে বাঁশের মাচায় বসে গল্প করছিলেন তারা। তিস্তা থেকে দহগ্রামের ভেতর দিয়ে বয়ে যাওয়া একটা খালের নাম সাঁকোয়া। স্থানীয়
    Preview by Yahoo
     

    __._,_.___

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    জাসদ নেতৃদ্বয় : হাসানুল হক ইনু এবং আসম আব্দুর রব

    সমাজতান্ত্রিক বিপ্লবের প্রতি ১৯৭২-১৯৭৪ সাল পর্যন্ত বঙ্গবন্ধু শেখ মুজিব স্বৈরাচারী মনোভাব পোষণ করেছিলেন বলে হাসানুল হক ইনু জানান। একারণে তার দল জাসদ সেসময় কৃষক, কৃষিকর্মী, মজুর ও সাধারণ জনগণকে সরকারের বিরুদ্ধে আন্দোলনে উদ্বুদ্ধ করেছিল।আওয়ামী লীগের সরকার সেসময় সব বিরোধী রাজনীতি নিষিদ্ধ ও জনগণের অধিকার হরণ করেছিল বলেও তিনি স্পষ্টভাবে উল্লেখ করেন। 

    ১৯৭৪-৭৫ সালের দিকে রক্ষীবাহিনী জাসদ নেতা-কর্মীদের অমানবিকভাবে হত্যার নেশায় মেতে উঠলে জাসদ গণবাহিনী নামে একটি সশস্ত্র প্রতিরোধ বাহিনী গঠন করে।


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    জাবি ভিসি আনোয়ার চরমপন্থি নেতা

    61845_1

    জাহাঙ্গীরনগর বিশ্ববিদ্যালয় (জাবি) ভিসি প্রফেসর আনোয়ার হোসেনকে গণবাহিনীর সদস্য ও চরমপন্থি নেতা হিসেবে আখ্যা দিয়েছেন বিশ্ববিদ্যালয়ের আওয়ামীপন্থি শিক্ষকদের সংগঠন 'বঙ্গবন্ধুর আদর্শ ও মুক্তিযুদ্ধের চেতনায় বিশ্বাসী প্রগতিশীল শিক্ষক সমাজ'। সেই সঙ্গে আনোয়ার হোসেনকে দ্রুত জাহাঙ্গীরনগর বিশ্ববিদ্যালয় থেকে অপসারণ করার আহবান জানান তারা।

    সংবাদ সম্মেলনে লিখিত বক্তব্য পাঠ করেন সংগঠনের সাধারণ সম্পাদক ও সমাজ বিজ্ঞান অনুষদের ডিন প্রফেসর আমির হোসেন।বক্তব্যে বলা হয়, 'কথিত আছে যে, বঙ্গবন্ধুর নির্মম হত্যাকাণ্ডের পর  প্রফেসর আনোয়ার ট্যাংকের উপর দাঁড়িয়ে খুশিতে নেচেছিলেন। ২০১০ সালে প্রকশিত "মহান মুক্তিযুদ্ধ"ও ২০১২ সালে প্রকাশিত "৭ই নভেম্বর অভ্যুত্থানে কর্নেল তাহের"অধ্যাপক আনোয়ারের লেখা বই দুটি পড়লে যে কেউই বুঝতে পারবেন তিনি কতটা আওয়ামী ও বঙ্গবন্ধু বিরোধী মানসিকতা লালন করেন। চরমপন্থি রাজনীতি ও জাসদ গণবাহিনীর প্রাক্তন সদস্য আনোয়ার হোসেন ভারতীয় হাইকমিশনারকে অপহরণের চেষ্টার সঙ্গে জড়িত থাকায় পাঁচ বছর জেল খাটেন।'




    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0
  • 08/29/15--09:30: Blast from the past KaiKaus
  • Blast from the past

    KaiKaus


    "... Surwardy while treading to his political tavern in East Pakistan, used to go to the country side by small launches to address public and workers meetings in the process of organizing the party. 

    Surwardy once went to Gopalganj in a launch, along with Manik Mia, late Abdus Salam Khan, a prominent lawyer, who conducted and defended Sheikh Mujib in the famous Agartala Conspiracy Case, and others. In each small ghat the small launch stopped on the way, scores of political workers invariably used to converge and chant slogans glorifying the leaders inside the launch, and, also, in each of the anchoring assemblage, the first shout of the slogan without mistake picked up the name of great Sheikh as the foremost seraph to be eulogized. 

    Chanting on Surwardy in each such place necessarily was heard, but that came only in second spell after Sheikh Mujib, as if, as an after-thought. Surwardy, masterful in the alchemy of politics, seemed as if his intelligence initially failed to grasp the cunning degradation of himself, helplessly admitted in silence the extreme popularity of Mujib. 

    When such self-denudation happened ever and anon; Surawardy on one occasion, enquired of Maink Mia in wondering tone, as to what was going on !
    "Don't the people like me?" Surwardy seemed exergual.
    "People like money more than man." Manik Mia would jut out a jitter.
    "what that has got to do with the question?" Surwardy was now exasperated.
    "you see, Sir, Mujib is a benevolent and charitable person, particularly when it comes to spending other's money which, of course, always been the case. He doles out your money so generously to his chosen ones, that it results in such expletive gathering of workers, such as you see in every station and ghat. They are nothing but hand-picked hired lackeys of him, who had earlier been thoroughly tutored to chant your name second and his name first, in a bid to impress you, so that you give him more money, so that he can again use your money in his favor and again impress you. The cycle seems to be working fine, Sir."
    Manik Mia knew it too well.

    ... We have seen how he (Surwardy) backed Sheikh Mujib, yet, let me assure you, he had deep reservation about him ! Had he not died suddenly (according to some, mysteriously) in Beirut, he would have most certainly removed Sheikh Mujib from any party-post and install Shah Azizur Rahman instead, a late Prime Minister of Bangladesh (probably Ataur Rahman Khan knew about such a thought of Surwardy)."

    - Iqbal Ansari Khan / The Third Eye : Glimpses of the Politicos॥ 
    [ UPL - September, 1991 । P. 60-63 ]

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    modimask

    Gujarat Has Started the Process of Disowning Modi

    Future historians may trace the political meltdown ofNarendra Modi to the events this week in Ahmedabad and the rest of Gujarat

    Prime Minister Narendra Modi on Wednesday appeals for peace in Gujarat, says violence does not benefit anybody. Credit: PTI Photo/TV Grab

    Being the very smart man that he is, Narendra Modi will be the first to recognise — even if he does not acknowledge it publicly — that August 25, 2015, is the day when Gujarat finally started the process of disowning him. Future historians may even mark August 25 as the date when it all unravelled and the Modi political meltdown began. An over-statement? An exaggeration? A wishful fantasy?

    Consider this: from March 2002 to August 24, 2015, nobody, and that means nobody, other than Narendra Modi had been able to collect a crowd of five lakh people in any part of Gujarat. The last time such a large-scale mobilisation took place was way back in the mid-1970s, during the days of the Navnirman Andolan. The August 25 congregation, right there in the heart of Ahmedabad, took place despite Modi's wishes and his long-distance monitoring and micro-managing of everything political that goes on in Gujarat. And, not since 2002, has the Army been asked to come out in aid of the civil authority. Words in headlines like 'curfew', 'police firing', 'deaths' belonged to a bygone era, so we were told. The rockstar who mesmerised the suburban Gujaratis at Madison Square Garden has been upstaged by an upstart: a hitherto unknown Hardik Patel, who has the native Patels eating out of his hand.

    It is ironic that only 10 days ago, on Independence Day, the Prime Minister was using that grand pulpit at the Red Fort to exhort us to beware of the danger of 'casteism' and communalism. And then, a few days later, he was in Gaya, Bihar, showering goodies and special packages on that "bimaru" state, singing songs of his own politics of development, and preaching against the vendors of caste politics such as Nitish Kumar and Lalu Prasad Yadav. Now, on his own home turf, the caste calculations and demands have erupted gloriously.

    The backstory

    There is a context to this Patel eruption. And, it is necessary to recall that context.

    In 1981, it was the Patels of Khadia in downtown Ahmedabad who raised a violent voice against a new reservation regime. That agitation was directed at the newly elected Congress government, headed byMadhavsinh Solanki. The Congress had stormed back to power, riding on the KHAM strategy. The KHAM—Kshatriyas, Harijans, Adivasis, and Muslims—inclusive promise had yielded massive electoral dividends and Gujarat's political landscape was drastically re-arranged. The Patels were ejected from the commanding heights of Gujarat politics which they had occupied for many decades. In the 1985 Assembly elections, the Congress repeated its performance, consolidating its political dominance. The Patels again soon found an excuse to raise their voice against 'reservation'. This resentment among the upper castes, especially the Patidars, was easily shoehorned into the new Hindutva project. Over the years, the Hindutva forces patted themselves on the back for their ability to invoke the religious idiom to get the better of the caste-centric KHAM and its inclusive politics of social aggregation of the disadvantaged.

    Now, the same Patels are demanding reservation. Gujarat is back to the 1981 days.

    The end of the post-2002 era

    The Patels were and are at the core of the Modi constituency. They are vocal, aggressive and assertive in their sustained support at home and in the NRI portals for the post-2002 Modi and his narrative.

     

    The post-2002 Modi and BJP were able to enlist, enthuse and ensnare the Gujaratis in an epic battle in defence of Gujarati asmita. The Patidars applauded the new Hindu hriday samraat, first as he struggled against Vajpayee who chanted the strange mantra of  rajdharma. Then they cheered him as he locked horns with a Sonia Gandhi who levelled the maut ka saudagar charge, and next they sided with him against the 'vicious' UPA that would demand accountability in fake encounters.

    The Long March to Delhi ended on a triumphant note. The Hindu hriday samraat is the lord and master of all he surveys from Raisina Hill, the pseudo-secularists are licking their wounds, and even the judiciary seems disinclined to uphold secular values and practices. The majority in Gujarat has nothing to fear. Its 'protector' is the chief magistrate and sheriff. The intimidated Muslims have already retreated into their pitiful ghettos.

    The eruption in 2015 of Patidar violence from the same BJP strongholds of 2002 suggests that the objective conditions that propelled the Modi phenomenon in Gujarat became redundant with his election victory on May 16, 2014. Suddenly, the objective conditions that sustained the Modi phenomenon have melted away.  In pure realpolitik terms, the '2002' business has finally lost its power and raison d'etre. Even anti-Centrism, the main plank of the Modi phenomenon in Gujarat, got dismantled on May 24, 2014, when the new Prime Minister took his oath of office in the Rashtrapati Bhavan forecourt.

    What's left of the Gujarat model

    The all too obvious communal underpinning of the Modi project apart, the Patidar eruption demands a sober reassessment of all that we have been persuaded to believe about the Gujarat model of development.

    The thinness of the so-called Gujarat model now stands so demonstratively exposed. Those who questioned the claims made in its name were dubbed anti-Gujarat and damned as pseudo-secularists. The pain of deepening economic inequalities was never allowed to intrude into the 'vibrancy' optics. Rather, those at the receiving end of the harsh economic realities were palmed off with the Hindutva rhetoric and practices. Those realities have not vanished.

    Nobody, for example, was allowed to ask how many local Gujaratis had been given jobs in the famed Nano project at Sanand. For that matter, no one knows the terms of the agreement between the Gujarat government and the Tatas. All we have been told is how a pro-business, pro-market, pro-growth, pro-industrialisation Chief Minister had grabbed the opportunity to entice an entrepreneur, scorned by those backward looking politicians in West Bengal. That was the defining moment when the 'vibrancy' of the Modi model was reaffirmed and consecrated. Soon the captains of industry were queuing up in Ahmedabad to issue the certificate of good conduct to the then Chief Minister. The road to Delhi was mapped out.

    Before and after 2014, there was no dearth of cheer-leaders extolling the Modi phenomenon and its relevance, demanding that it be replicated throughout the country. The best and the brightest among the pundits proclaimed that India stood tutored in the new grammar of development, merit, growth, liberating modernity. An alternative reality emerged on August 25.

    If the Gujarat model of development was so successful, so transformative, so revolutionary, how could a 22-year-old become the fulcrum for a caste-centric mobilisation? And why should Bihar buy into the presumably post-caste 'development' rhetoric?

    http://thewire.in/2015/08/28/gujarat-has-started-the-process-of-disowning-modi-9454/

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    हिंसा के लिए अमित शाह ज़िम्मेदार:हार्दिक पटेल

    आंदोलन के दौरान हिंसा के लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह जिम्मेदार हैं।यह आरोप पाटीदारों के नेता हार्दिक पटेल ने लगाए हैं।पटेल ने अहमदाबाद में पुलिस कार्रवाई में मारे गए लोगों के परिवारों से मुलाकात की है।अहमदाबाद और उत्तर गुजरात के पालनपुर गढ (बनासकांठा) में कर्फ्यू लगा हुआ है। अहमदाबाद में अब निकोल-बापूनगर व रामोल में कर्फ्यू है।शेष छह इलाकों में हालात सामान्य होने के चलते कर्फ्यू हटा लिया गया है।वहीँ शिवसेना ने पाटीदार आंदोलन को लेकर बीजेपी पर निशाना साधा है।शिवसेना ने कहा 'मोदी खुद भीड़ खींचने वाले नेता हैं।लेकिन हार्दिक पटेल किंग बनकर उभरा है। मराठियों को भी ओबीसी आरक्षण मांगना चाहिए।इस आंदोलन से गुजरात के विकास की सही तस्वीर सामने आई है।



    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    मोदी सरकार का कारनामा!17 रुपए/किलो विदेशों को बेचकर देश के लिए 45 रुपए/किलो में ख़रीदा प्याज़


    नई दिल्ली।आंखों में आंसू लाने वाले प्याज को इस साल देश से बाहर महज 17-28 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से भेजा गया लेकिन अब उसी प्याज को 45 रुपये प्रति किलोग्राम की दर से लाने की तैयारी की जा रही है।दूसरी तरफ शुक्रवार को देश की थोक मंडियों में प्याज के दाम 10 रुपये प्रति किलोग्राम तक गिरे।प्याज के थोक कारोबारियों के मुताबिक प्याज की कीमतों में गिरावट का रुख शुरू हो गया है और अब इसमें गिरावट होती रहेगी क्योंकि प्याज की आवक मांग के मुकाबले अधिक होती जा रही है।हाल ही में प्याज की आसमान छूती कीमतों पर काबू के लिए सरकार ने सार्वजनिक कंपनी एमएमटीसी के जरिए 10000 टन प्याज आयात करने का फैसला किया।एमएमटीसी की तरफ से जारी टेंडर बृहस्पतिवार को खोला गया और फिलहाल 1000 टन प्याज 685 डॉलर प्रति टन की दर से आयात करने का फैसला किया गया।एक डॉलर का मूल्य 65 रुपये मानने पर भी आयातित प्याज की कीमत 44.5 रुपये प्रति किलोग्राम होगी। इसके अलावा इनकी ढुलाई लागत व अन्य खर्चे को शामिल किया जाए तो यह कीमत 50 रुपये प्रति किलोग्राम तक चली जाएगी।दिलचस्प बात यह है कि इस साल जून-जुलाई के दौरान 80000-100000 टन प्याज का निर्यात किया गया और इसकी कीमत 17-28 रुपये प्रति किलोग्राम थी। 26 जून से पहले तक प्याज निर्यात का न्यूनतम मूल्य मात्र 250 डॉलर प्रति टन था जो कि लगभग 18 रुपये प्रति किलोग्राम होती है।26 जून से प्याज के न्यूनतम निर्यात मूल्य को बढ़ाकर 425 रुपये प्रति किलोग्राम कर दिया गया जो लगभग 28 रुपये प्रति किलोग्राम होता है।सरकार ने अब प्याज के न्यूनतम निर्यात मूल्य को 700 डॉलर प्रति टन कर दिया है, लेकिन थोक कारोबारियों का कहना है कि प्याज का अधिकतर निर्यात जुलाई तक कर दिया गया।प्याज के थोक कारोबारियों के मुताबिक अगले दो-तीन दिनों में प्याज की खुदरा कीमत 50 रुपये किलोग्राम के स्तर पर आ जाएगी।खुदरा बाजार में प्याज की कीमत 80 रुपये तक चली गई है।आजादपुर मंडी में भी प्याज की आवक उठाव के मुकाबले अधिक रही।



    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    काशी विश्वनाथ मंदिर के चढ़ावे में चोरी कर-कर के पुजारी-लिपिक-सेवादार बने करोड़ पति

    वाराणसी।काशी विश्वनाथ मंदिर के चढ़ावे में बडे़ घोटाले खुलने वाले हैं।पता चला है कि कमिश्नर के आदेश पर कलेक्ट्रेट में खोले गए कार्यालय में संपत्ति और चढ़ावा के रिकॉर्ड पहुंचाने में कर्मचारियों के हाड़ इसलिए कांप रहे हैं कि उनमें करोड़ों की हेराफेरी की गई है।सोने-चांदी के अलावा नगदी चढ़ावा, भोग, आरती और निर्माण के मद में लूटखसोट से पुजारियों, लिपिकों और सेवादारों ने करोड़ों रुपये की संपत्ति जुटाई है।मंदिर प्रबंधन से जुड़े तमाम कर्मचारियों की इस कदर तूती बोलती है कि उनको कोई मनचाही जगह से हटा नहीं सकता है।उनमें से कई तो अफसरों की ट्रांसफार, पोस्टिंग की ताकत रखते हैं।सावन में भोग-प्रसाद, आरती की व्यवस्था तो इनके लिए कमाने का खास मौसम होता है।श्रद्धालुओं के दान और चढ़ावे में बंदरबांट का सिलसिला पुराना है।देश के तमाम प्रसिद्ध मंदिरों में तो व्यवस्थाएं सुधार ली गई हैं।विश्वनाथ मंदिर की हुंडियों की गिनती में जमकर हेराफेरी हो रही है।यह गोलमाल इस हद हो रहा है कि इस पर नियमित निगरानी के लिए जब रिकॉर्ड तलब किए गए तो 1983 में मंदिर के अधिग्रहण के बाद अब तक का रिकॉर्ड गायब कर दिया गया।सिर्फ बाबा की संपत्तियों के अलावा चढ़ावे के रिकॉर्ड की जांच करा ली जाए तो यहां के गोलमाल की पोल खुल सकती है।नौ फरवरी, 2015 को हुई न्यास परिषद की बैठक में दान-चढ़ावा रजिस्टर बनाने का प्रस्ताव पहली बार लाया गया लेकिन उस पर भी अमल नहीं हुआ। मामूली मानदेय पाने वाले मंदिर के कर्मचारियों के पास करोड़ों की संपत्ति कहां से आई, सवाल अक्सर उठता रहा है।इसकी शिकायत मिलने पर एक कर्मचारी की संपत्ति की जांच सतर्कता आयोग से कराई गई थी, जिसमें चौंकाने वाली कई जानकारियां सामने आईं।पता चला है कि मंदिर में दैनिक वेतनभोगी के रूप में बेल पत्ती फेंकने के लिए लगाए गए कर्मचारी ने भी करोड़ों रुपये की जमीन और मकान खरीद लिए हैं।इस कर्मचारी की मंदिर में तैनाती के बाद करोड़ों की संपत्ति बनाने की यह जांच रिपोर्ट जुलाई 2005 में ही निदेशक सर्तकता सीबी राय ने प्रमुख सचिव को भेजी थी, लेकिन यह पत्रावली ही गायब करा दी गई।अब किसी वरिष्ठ अफसर से दोबारा जांच कराने को एक न्यासी ने ही पत्र लिख दिया है।चालू महीने की शुरुआत में कुछ पुजारियों की सीसीटीवी फुटेज पकड़े जाने और उन पर कार्रवाई करने के बाद अब एक पर एक भांडा फूटने लगा है।एक चढ़ावे में हिस्सेदारी को लेकर दो गुटों में बंटे पुजारी और लिपिक ही एक-दूसरे की जड़ें खोदने पर तुले हुए हैं।एक तबका इन खुलासों पर पानी डालने में ऊपर तक एड़ी-चोटी का जोर लगाए हुए है तो दूसरा वर्ग मंदिर की व्यवस्था सुधारने के लिए पसीना बहा रहा है।अब होता क्या है, इसे लेकर लोगों की निगाहें कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण पर टिकी हुई हैं।चढ़ावे में करोड़ों की हेराफेरी के अलावा सावन में हुए गोलमाल और नियमों को ताक पर रखकर की गई नियुक्तियों में हुए लाखों रुपये के घोटाले की शिकायतें मुख्यमंत्री के अलावा मंडलायुक्त से की जा चुकी हैं।मंडलायुक्त शनिवार की शाम चार बजे विश्वनाथ मंदिर के अर्चकों, लिपिकों और सेवादारों की बैठक लेंगे। वह मंदिर में उत्पन्न ताजा स्थिति की समीक्षा करेंगे।पुजारियों ने दक्षिणा लेने पर रोक न लगाने का ज्ञापन भी उन्हें सौंपने का मन बनाया है।कलेक्ट्रेट में खोले गए कार्यपालक समिति के कार्यालय से संबद्ध लिपिक शुक्रवार को भी नहीं पहुंचे। हालांकि परिचारक के रूप में इस दफ्तर से संबद्ध किए गए सेवादार गणेश तिवारी ने दोपहर बाद ज्वाइन कर लिया।सिर्फ परिचारक के दफ्तर में पहुंचने की वजह से अभी वहां कामकाज शुरू नहीं कराया जा सका है।फाइलें भी मंदिर के कार्यालय से स्थानांतरित नहीं कराई जा सकी हैं।


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    'तिरुपति तिरुमला मंदि'र की कुल संपत्ति 'मुकेश अबांनी'की कुल दौलत से ज़यादा है

    1-देश के 4 बड़े मंदिरों (तिरुपति, शिर्डी साईं बाबा, सिद्धि विनायक और काशी विश्वनाथ) की एक दिन की औसत कमाई 8 करोड़ रुपए है।
    2-अकेले तिरुपति तिरुमला मंदिर की कुल संपत्ति (1.30 लाख करोड़) देश के सबसे अमीर इंसान मुकेश अबांनी की कुल दौलत (फोर्ब्स 2015 के मुताबिक 1.29 लाख करोड़) से ज्यादा है।
    3- देश के मंदिरों के पास कुल 22 हजार टन (करीब 20 लाख क्विंटल) सोना है जो अमेरिकी गोल्ड रिजर्व (8133.5 टन) का ढाई गुना और भारतीय गोल्ड रिजर्व (557.7 टन) का 4000 गुना है।
    4-मंदिरों के इस स्वर्ण भंडार की कीमत करीब 50 लाख करोड़ रुपए है।इसे लोगों में बाटने पर देश के हर नागरिक को 40 हजार रुपए मिलेंगे।
    इन मंदिरों के पास आखिर पैसा आता कहां-कहां से है.. और ये इतने पैसे का करते क्या हैं?देश के 4 बड़े मंदिरों (तिरुपति, शिर्डी साईं बाबा, सिद्धि विनायक और काशी विश्वनाथ) 
    कंटेंट सोर्स:चारों मंदिरों की ऑडिट रिपोर्ट। सुप्रीम कोर्ट द्वारा एक मंदिर के खजाने की जांच के लिए बनाई कमेटी के चेयरमैन और पूर्व कैग विनोद राय। कर्नाटक के पूर्व देवस्थान (Muzrai) मंत्री प्रकाश बब्बाना हुकेरी। तिरुपति तिरुमला ट्रस्ट के चीफ अकाउंट ऑफिसर एस. रविप्रसादन, सिद्धि विनायक मंदिर ट्रस्ट के चेयरमैन नरेंद्र मुरारी राणा, काशी विश्वनाथ मंदिर के डिप्टी सीईओ वी. के. द्विवेदी, सुप्रीम कोर्ट के सीनियर लॉयर विराग गुप्ता, गोपाल सुब्रमण्यम की मंदिर पर आधारित रिपोर्ट और इंटरनेट रिसर्च।
    डिस्क्लेमर इस खबर और वीडियो का मकसद किसी भी धर्म की भावनाओं को आहत करना या उन्हें टारगेट करना नहीं है। हम सभी धर्मों का बराबर सम्मान करते हैं।


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    CC News Letter 29 August - Kandhamal: A Shame To Secular Polity Of India

    Dear Friend,

    If you think the content of this news letter is critical for the dignified living and survival of humanity and other species on earth, please forward it to your friends and spread the word. It's time for humanity to come together as one family! You can subscribe to our news letter here http://www.countercurrents.org/subscribe.htm. You can also follow us on twitter, http://twitter.com/countercurrents and on Facebook, http://www.facebook.com/countercurrents

    In Solidarity
    Binu Mathew
    Editor
    www.countercurrents.org

    Kandhamal: A Shame To Secular Polity Of India
    By Binu Mathew

    http://www.countercurrents.org/mathew290815.htm

    Kandhamal is described as the Kashmir of Odisha. It is one of the most beautiful places in India I ever visited. With rolling hills and forests interspersed with lush green paddy fields, flowing rivulets and ponds and a cool breeze blowing Kandhamal is a beholders delight. I may call it a paradise on earth! Beneath all this beauty there is turbulence, fear and a paralysing anxiety that grip the people living in this so called 'paradise'. For the Christian minorities who belong mostly to Adivasi and Dalit communities Kandhamal is a living hell


    Casualties Of "Fortress Europe": Refugees Dead On Land And Sea
    By Marianne Arens and Patrick Martin

    http://www.countercurrents.org/martin290815.htm

    The death toll among desperate refugees fleeing war zones in the Middle East and Africa continues to mount, with horrifying scenes that go beyond anything seen in Europe since World War II. The vast majority of these refugees are seeking to escape violence unleashed on their homes and families by the imperialist powers, above all the United States, with its accomplices including France, Britain, Germany, Italy, Spain and the Netherlands


    An Operator's Guide To Trump's Racism
    By Mateo Pimentel

    http://www.countercurrents.org/pimentel290815.htm

    This brief "operator's guide" highlights a few parallels between Trump, the 2016 United States presidential hopeful, and other outspoken racist figures of America's past. Hopefully, this short and largely incomplete survey will elucidate some of the historical underpinnings of Trump's current bigoted agenda. Readers will note that, as with many race-related social ills today, Trump's racist and xenophobic agenda clearly bears much in common with the all too often bigoted American past


    North Dakota Approves Drones With Rubber Bullets, Tasers,
    Pepper Spray, Tear Gas, Sound Cannons For Domestic Use
    By Robert Barsocchini

    http://www.countercurrents.org/barsocchini290815.htm

    North Dakota has become the first state to approve government use of drones equipped with "less than lethal weapons", including "rubber bullets, pepper spray, tear gas, sound cannons, and Tasers"


    Lebanon – What If It Fell?
    By Andre Vltchek

    http://www.countercurrents.org/vltchek290815.htm

    Beirut is burning; it is hurt, angry and uncertain about its own future. A Revolution? A rebellion? Who are those men, stripped from their waist up, muscular, throwing stones at the security forces in the center of Beirut? Are they genuine revolutionaries? Are they there in order to reclaim so badly discredited "Arab Spring"? Or did they come here in a show of force, because the West is paying them? If the Lebanese state collapses, ISIL could move in, and occupy at least a substantial part of Lebanon. That would suit the West's interests, and those of Turkey, as well as the Gulf States


    The Sexual Politics of Meat: 25 Years Later
    By Mickey Z. Interviews Carol J. Adams

    http://www.countercurrents.org/adams290815.htm

    In her 1990 classic, The Sexual Politics of Meat, Carol J. Adams introduced the concept of "the absent referent," e.g. behind every meal of meat is an absence: the death of the animal whose place the meat takes


    Tackling The IS Tentacles In India
    By Sazzad Hussain

    http://www.countercurrents.org/hussain290815.htm

    The publicity of the IS through the social media is the reason behind the reported incidents of Indian Muslim youths joining that dreaded terror group operating in Syria and Iraq. The Indians are now following their European, Australian and American counterparts to join the outfit, mostly because of it glorification and romanticization in the social media. Thus it is important that the Indian state should initiate some measures to reverse this dangerous trend. Promoting the pluralistic character of the nation and Sufism in a great way could be one step in tackling this prevailing trend


    Renaming Aurangzeb Road
    By Shamsul Islam

    http://www.countercurrents.org/islam290815.htm

    If we want to rename roads named after bigots of Indian history why not rename roads named after Shankaracharya and the Scindias and many others?


    Hacking Resistance! Ambedkar-Periyar Study Circle Facebook, Gmail, Smail Hacked
    By Ambedkar-Periyar Study Circle-IITM

    http://www.countercurrents.org/iitm290815.htm

    On 24.08.2015 afternoon (2.50 pm) APSC Facebook, Gmail and Smail (student mail inside the IITM campus provided by administration of IITM) accounts were hacked. The same day (24th August 2015) by night we recovered the password for Gmail and Facebook account. From the last account activity, we found that the IP address of the computer used to steal the password is from within the IITM campus. Again by 25th morning (11.21 am) both the Gmail and Facebook accounts were hacked, we are unable to recover Gmail, Smail and Facebook. The alternate email id and verification phone number that we provided to recover passwords also been changed

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    पटना ! राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने भारतीय जनता पार्टी ..

    विदेश

    नाइजीरियाई विमान दुर्घटनाग्रस्त, 7 मरे

    नाइजीरियाई विमान दुर्घटनाग्रस्त, 7 मरे

    29, AUG, 2015, SATURDAY 09:55:39 PM

    लागोस ! कादुना राज्य में शनिवार को नाइजीरियाई वायुसेना (एनएएफ) का एक डोर्नियर-228 विमान एक सैन्य छावनी में दुर्घटनाग्रस्त हो गया। इस हादसे में सात लोगों की मौत हो गई। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के अनुसार, वायुसेना के एक अधिकारी ने कहा 

    खेल

    खेल रत्न से नवाजी गईं सानिया

    29, AUG, 2015, SATURDAY 09:33:41 PM

    नई दिल्ली ! सर्वोच्च विश्व वरीयता प्राप्त महिला युगल टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा को शनिवार को देश के सर्वोच्च खेल पुरस्कार राजीव गांधी खेल रत्न से सम्मानित किया गया। सानिया के अलावा निशानेबाज जीतू राय और हॉकी गोलकीपर पी. आर. 

    प्रादेशिकी

    भाजपा को पटककर पीठ में धूल लगाना है : लालू

    29, AUG, 2015, SATURDAY 10:08:51 PM

    पटना ! राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) पर शनिवार को जमकर निशाना साधते हुए कहा कि राज्य के 'डीएनए' पर टिप्पणी करने वालों (भाजपा) को पटककर ..

    अर्थजगत

    एक हफ्ते में कम होंगे प्याज के दाम : पीयूष

    29, AUG, 2015, SATURDAY 09:20:04 PM

    वाराणसी ! केंद्रीय ऊर्जा मंत्री पीयूष गोयल ने यहां शनिवार को कहा कि एक सप्ताह के भीतर प्याज की कीमतें कम होनी शुरू हो जाएंगी। पीयूष ने काशी के मीरापुर बसही स्थित भगवान दास विद्यालय में मुस्लिम महिलाओं के अलावा अन्य महिलाओं से 

    

    सम्पादकीय

    Clicking moves left

    मोदी के सामने पटेल

    28, AUG, 2015, FRIDAY 04:04:14 AM

    प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का गृह राज्य गुजरात इस वक्त अशांति और अस्थिरता के दौर से गुजर रहा है। अपने मुख्यमंत्रित्व काल में गुजरात के विकास की ऐसी कहानी उन्होंने गढ़ी 

    धार्मिक जनगणना और सियासी लाभ

    27, AUG, 2015, THURSDAY 10:10:49 PM

    देश के महापंजीयक व जनगणना आयुक्त ने मंगलवार को 2011 की धर्मआधारित जनगणना के आंकड़े जारी किए, जिसके मुताबिक हिंदुओं की आबादी में 0.7 प्रतिशत की दर से गिरावट आई है, जबकि मुस्लिमों 

    नसबंदी कांड के कितने दोषी?

    27, AUG, 2015, THURSDAY 12:40:23 AM
    Author Image

    नसबंदी कांड की न्यायिक जांच रिपोर्ट को स्वीकार करते हुए राज्य सरकार ने 13 महिलाओं की मौत के लिए जिम्मेदार डाक्टरों व दवा निर्माता कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई करने का फैसला 

    प्याज के आंसू

    26, AUG, 2015, WEDNESDAY 11:44:16 PM

    भारत में प्याज के दाम एक बार फिर आसमान छू रहे हैं। राजनीति और कारोबार की कुटिल चालें प्याज की परतों की तरह धीरे-धीरे खुल कर आम आदमी को आंसू बहाने पर मजबूर कर रही हैं। दूध, फल, 

    छात्र राजनीति भी हुई बराबरी की

    26, AUG, 2015, WEDNESDAY 01:08:33 AM
    Author Image

    छात्र संघ चुनाव सामान्य झड़पों के बीच शांतिपूर्ण सम्पन्न हो गए। इन चुनावों में छात्र संगठनों का उत्साह देखने लायक था और प्रतिदंद्विता ऐसी की हर हाल में चुनाव जीतना ही है। 

    Clicking moves right

    ताजा वीडियो

    आलेख

    Clicking moves left

    पाटीदार आंदोलन के बहाने व्यूह रचना

    29, AUG, 2015, SATURDAY 11:52:45 PM
    Posted by:पुष्परंजन

    पुष्परंजन : जनता दल (यूनाइटेड) के अध्यक्ष शरद यादव कई बार अपनों को भी खरी-खरी सुनाने से परहेज नहीं करते। बुधवार को सहरसा में दिये बयान में शरद यादव ने कहा 

    जनगणना के आंकड़े और सांप्रदायिक खेल

    29, AUG, 2015, SATURDAY 11:49:27 PM
    Author Image
    Posted by:राजेंद्र शर्मा

    राजेंद्र शर्मा : संघ-भाजपा की नरेंद्र मोदी सरकार ने अब जनगणना के आंकड़ों को भी अपने सांप्रदायिक खेल की गोटी बना दिया है। मंगलवार, 25 अगस्त की शाम अचानक जि�

    चुनौतियों के बीच विक्रमसिंघे सरकार

    29, AUG, 2015, SATURDAY 11:47:09 PM
    Posted by:अन्य

    अरविंद जयतिलक : आम चुनाव में श्रीलंका की जनता ने रानिल विक्रमसिंघे के हाथ भविष्य की कमान सौंप दी है। उन्हें चौथी बार देश का प्रधानमंत्री होने का गौरव प��

    भारत की विशाल जनसंख्या एक वरदान?

    28, AUG, 2015, FRIDAY 04:01:27 AM
    Posted by:इंदिरा मिश्र

    इन्दिरा मिश्र : आजादी के समय भारत की जो जनसंख्या 36 करोड़ थी, आज वह 121 करोड़ हो गई है। आज चिन्ता का बड़ा विषय यह है, कि लोगों से एक ओर 30-30 लाख रुपया सालाना कमाने

    विकास रातों रात नहीं हो जाता

    28, AUG, 2015, FRIDAY 03:58:10 AM
    Posted by:अन्य

    एल. एस. हरदेनिया : स्वतंत्रता के अड़सठ वर्ष पश्चात जब हम अभी तक की महायात्रा का मूल्यांकन करते हैं तो गरीबी, भुखमरी, निरक्षरता, स्वास्थ्य सेवाओं का अभाव ��

    Clicking moves right

    ई-पेपर

    हमारे कॉलमिस्ट

    फोटोगैलरी

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    মুজিব হত্যা - ইনু ও এরশাদ
    Part -2 তে দেখা যাচ্ছে ইনু ও এরশাদের কর্মকান্ডঃ 


    Part-2 : https://youtu.be/IiyHSDD5ZP0 (Latest )


     
    M.A.Mannan AZAD

    ----- Forwarded Message -----
    From: Shibly SA <shiblysa@hotmail.com>
    To: 
    Sent: Saturday, August 29, 2015 4:55 PM
    Subject: মুজিব হত্যা - ইনু ও এরশাদ


    Part -2 তে দেখা যাচ্ছে ইনু ও এরশাদের কর্মকান্ডঃ 


    Part-2 : https://youtu.be/IiyHSDD5ZP0 (Latest )




    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Current Feed Content

    • सूखे से निपटने कदम उठाए सरकार-माकपा

      Posted:Sat, 29 Aug 2015 19:43:22 +0000
      रायपुर। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने छत्तीसगढ़ में भयंकर सूखे की स्थिति पर चिंता व्यक्त करते हुए मांग की है कि मनरेगा में ग्रामीणों को व्यापक पैमाने पर काम दिया जाएं, किसानों द्वारा उत्पादित फसल...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • क्या कहते हैं जनगणना के धार्मिक आंकड़े-फर्जी आतंक पैदा करनेवालों पर नकेल

      Posted:Sat, 29 Aug 2015 19:17:55 +0000
      जनगणना में अल्पसंख्यक -सुभाष गाताडे 'लोकप्रिय स्तर पर लोगों के लिए इस हकीकत पर गौर करना या उसे जज्ब़ करना मुश्किल जान पड़ता है जब उन्हें बताया जाता है कि बहुसंख्यक मुस्लिम आबादी वाले इंडोनेशिया की...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • गीता प्रेस – मजदूरों के खून से धर्म के चेहरे की चमक

      Posted:Sat, 29 Aug 2015 18:29:39 +0000
      गीता प्रेस – धर्म के नाम पर मानव का शोषण  धर्म के नाम पर मानव का शोषण करने का यह मामला सदियों से चल रहा है। हद तो तब हो गयी जब गीता प्रेस के प्रबंधकगण कहते हैं कि पैसे की कमी नहीं है, तो दूसरी...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • আসুন তাদের লিস্টখানা আরেকবার দেখে নি ফরিদপুরের অরুণ গুহ মজুমদার ভারত থেকে ফিরে সাক্ষাৎকার দিলেন। বললেন- "আমি ন্যায্যমূল্যে বাড়ি বিক্রি করেছি।

      Posted:Sat, 29 Aug 2015 17:10:22 +0000
      অবশেষে ফরিদপুরের অরুণ গুহ মজুমদার ভারত থেকে ফিরে সাক্ষাৎকার দিলেন। বললেন- "আমি ন্যায্যমূল্যে বাড়ি বিক্রি করেছি। কেউ আমাকে নির্যাতন করেনি, বরং মুসলিমদের দ্বারা আমি সবর্দা উপকৃত হয়েছি। যারা আমকে পূজি...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • बलात्कार संस्कृति के धारकों वाहकों की लगायी आग से देश धू-धू जल रहा है।

      Posted:Sat, 29 Aug 2015 16:25:55 +0000
      सच मानिये तो अब फिजां त्योहार मनाने की नहीं है। पहले फिजां ठीक कीजिये। गुजरात के एक करोड़ बीस लाख जनसंख्या वाले पाटीदार समाज अपना मुख्यमंत्री, पूर्व मुख्यमंत्री होने के बावजूद आरक्षण चाहिए, तो हिंदू...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • As per law, name of Aurangzeb Road cannot be changed

      Posted:Sat, 29 Aug 2015 15:42:10 +0000
      New Delhi. Citizens For Democracy has said that as per law, name of Aurangzeb Road cannot be changed. In a joint statement Kuldip Nayar, President of 'CFD', Justice Rajindar Sachar (Retd.) Former...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • मनरेगा का होगा काम तमाम

      Posted:Sat, 29 Aug 2015 15:17:02 +0000
      अब यह 'रघुकुल रीत'ही बन गई है कि कानून को दरकिनार करो और 'मन की बात'करो। जब कोई प्रधानमंत्री 'मन का राजा'हो जाता है, तो संसद और संसदीय प्रक्रियाएं किस तरह दरकिनार हो जाती हैं, मनरेगा इसका स्पष्ट...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • ধর্ষণের সাংবাদিকতা বন্ধ হওয়া উচিতআত্মপক্ষ

      Posted:Sat, 29 Aug 2015 14:27:23 +0000
      Samad ibn Ghulam writes against Rapist journalism from Dhaka! ধর্ষণের সাংবাদিকতা বন্ধ হওয়া উচিতআত্মপক্ষ এবনে গোলাম সামাদ ২৯ আগস্ট ২০১৫,শনিবার, ০০:০০ খবরের কাগজের পাতা এখন ধর্ষণের সংবাদে পূর্ণ থাকে।...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • काली कमाई से सपा सरकार के मंत्रियों का 'आज और कल बन-संवर'रहा है

      Posted:Sat, 29 Aug 2015 09:00:19 +0000
      लोकायुक्त अधिनियम में संशोधन भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने के लिए – आइपीएफ समाजवादी सरकार का लोकतांत्रिक-संवैधानिक संस्थाओं और पारदर्शिता में भरोसा नहीं रह गया लखनऊ, 29 अगस्त। आल इण्डिया पीपुल्स फ्रंट...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • Oppression of women who defeated Naxalism continues, media remains silent

      Posted:Sat, 29 Aug 2015 00:10:43 +0000
      "…the struggle in India would continue so long as a handful of exploiters go on exploiting the labour of the common people for their own ends. It matters little whether these exploiters are purely...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • Vitamin D vital to fight bowel diseases

      Posted:Fri, 28 Aug 2015 17:49:35 +0000
      New Delhi. Wider use of vitamin D- fortified foods could help fight a range of bowel diseases, including cancer, as people around the world avoid the harmful rays of the sun, according to a New...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • UK researchers turn to seaweeds to develop new antibiotics

      Posted:Fri, 28 Aug 2015 15:48:07 +0000
      New Delhi. UK researchers are trying to use the antimicrobial properties of seaweeds from the country's coastline to develop a new generation of antibiotics in a bid to fight the growing threat...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • औरंगज़ेब रोड क्यों सावरकर के नाम की सड़क कलाम के नाम पर क्यों नहीं ?

      Posted:Fri, 28 Aug 2015 14:38:33 +0000
      नई दिल्ली नगर पालिका परिषद (एनडीएमसी) ने औरंगज़ेब रोड का नाम बदलकर एपीजे अब्दुल कलाम रोड कर दिया है। केजरीवाल ने ट्वीट किया, "मुबारक हो, एनडीएमसी ने औरंगज़ेब रोड का नाम बदलकर एपीजे अब्दुल कलाम...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • Sooraj Pancholi Confesses His Love For Alia Bhatt

      Posted:Fri, 28 Aug 2015 12:41:43 +0000
      Sooraj Pancholi Confesses His Love For Alia Bhatt Sooraj Pancholi, who is making his acting debut with "Hero", says he wants to romance Alia Bhatt as he admires her a lot. The post...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • Tamasha Trailer | Ranbir's Official Announcement | Exclusive

      Posted:Fri, 28 Aug 2015 12:17:33 +0000
      Tamasha Trailer | Ranbir's Official Announcement | Exclusive Ranbir Kapoor, who is waiting for the release of upcoming Tamasha, has denied the news that the makers of Tamasha are...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • अपनी बेबसियों का जरा भी अंदाजा नहीं है आपको

      Posted:Fri, 28 Aug 2015 11:55:37 +0000
      अपनी बेबसियों का जरा भी अंदाजा नहीं है आपको। आपने लकीरें देख लीं, खाली हाथ नहीं देखे अभी। नागरिक हैं भी और नागरिक नहीं भी हैं आप यकीनन। राशनकार्ड, पैन, आधार, डीएनए प्रोफाइलिंग से लेकर जान माल पहचान...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

older | 1 | .... | 184 | 185 | (Page 186) | 187 | 188 | .... | 303 | newer