Are you the publisher? Claim or contact us about this channel


Embed this content in your HTML

Search

Report adult content:

click to rate:

Account: (login)

More Channels


Channel Catalog


Channel Description:

This is my Real Life Story: Troubled Galaxy Destroyed Dreams. It is hightime that I should share my life with you all. So that something may be done to save this Galaxy. Please write to: bangasanskriti.sahityasammilani@gmail.comThis Blog is all about Black Untouchables,Indigenous, Aboriginal People worldwide, Refugees, Persecuted nationalities, Minorities and golbal RESISTANCE.

older | 1 | .... | 222 | 223 | (Page 224) | 225 | 226 | .... | 303 | newer

    0 0


    Haryana – 14 year old Dalit Boy killed by cops for theft of pigeons #WTFnews

    -- 

    Another  killed in Haryana, cops booked

    ,TNN | Oct 22, 2015, 06.33 PM IST

    Dalit boy charged with theft found dead in Haryana, family accuses cops

    Dalit boy charged with theft found dead in Haryana, family accuses cops
    CHANDIGARH: Barely two days after two dalit children were burnt alive in a Haryana village, a 14 year-old boy was allegedly killed by cops hours after he was questioned for theft of pigeons in Sonipat's Gohanapolice station on Wednesday.

    The body of Govinda was found near his home at a vacant plot inGovindpura locality of Gohana on Thursday morning but the family members blamed cops for his death. The police have lodged an FIR against two cops of Gohana police station under murder charges after local residents blocked a road and local railway track for more than three hours which affected the train and transport services.

    Deputy superintendent of police Satish Kumar, who is looking after law and order situation at Gohana after the incident, told TOI that FIR has been registered against Subhash and Ashok — both assistant sub inspector (ASI) of police — on the complaint of deceased's brother Gautam.


    The deceased Govinda. (TOI pic by Manoj Dhaka)

    The police said that Gautam had produced Govinda in connection with theft of pigeons from his neighbourer. Police sources claimed that both parties had also reached on a compromise after their dialogue at the police station.

    However, Govinda's family members alleged that he was killed by the cops. "The cops had even taken Rs 10,000 as bribe also from us to release him. But they did not release him," said Gautam while talking to the local media.

    Soon his family members and other protesters gathered on Gohana-Jullana road on Thursday morning. First, they blocked road and then shifted to the railway track. Sources said that the police used force to disperse the protesters when they were blocking road and railway track. However, the cops had to run away from the spot following retaliation by the protesters.

    The police officials have termed it a case of hanging, though, they have avoided on reaching on any conclusion before a probe into the matter.

    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    A beef lynching in Kashmir went unnoticed in India, like the continued violence and repression

    Mukta Passi

     

    Just as Kashmir is coming to terms with yet another brutal end to an innocent life, this time lynching of the young Zahid, many in  are aloof of this ghastly crime. The level of outrage seems to shrink as the information descends from the valley. The horrific stories of tragic end, the cries of young men and  and the wailing of grief-stricken Mothers of Kashmir have constantly failed to get empathetic ears in. Their trauma and pain somehow don't get registered to our collective conscience. Be it the killing of 3 year old Burhan or this heinous lynching; life carries on in  even when the Kashmiris try to make peace with their predicament. They have learnt to mourn and contain their rage as deaths usually come with the restrictions of a curfew.

    Kashmir, India's 'Atoot Ang' has always been extremely important to our sense of nationalism. Protecting it is our national pride and we expect the inhabitants of the valley to oblige us in our daily endeavour to uphold our sovereignty, which is under constant threat. The only problem is that we are not aware of the repercussions of turning someone's courtyard into a battlefield. We don't know what it means to live in one of the world's most densely militarized zones. Watching the news channels at prime time showing how Kashmir is suffering at the hands of a few leaders who are on a pay roll of  is a far cry from the tragedy that is unfolding there every day. This one-sided, beaten to death narrative is further alienating the youth that has grown up seeing the mass uprisings and the subsequent brazen use of force on them which has taken the death toll to 90,000.

    It would be immature to assume that the Kashmiris have accepted democracy with open arms given the highest turnout of voters ever recorded in J&K. Upon being enquired, the inhabitants of places with the highest turnout shared that the primary reason they came out to vote this time, without being pressurized, was to elect someone to take care of their water, electricity and other basic needs. The 'healing touch' strategy of PDP's  has a long way to go to win the faith of Kashimiris. Jumping at every statement; pressurizing the central and the state  every night on national debates to tighten their grip on the various leaders of other parties, who have a following in the region, will only enrage the masses. Shaming the leaders of different parties is a sure shot way to widen the trust deficit. This will have serious repercussions on the relationship between the Indian state and the people of Kashmir, especially the youth; educated young men and women who are aware of all the constitutional rights which they have always been devoid of. Our rhetorical and spiteful view of Kashmiris who express themselves is only adding more fodder to the fire, making it burn more intensely.

    We live in a different world of 24 hour news coverage and due to its nature of focusing on a particular story for long; it ends up forming strong opinions. The youth of Kashmir have often being demonized as stone-pelters and disloyal enemies of the state. In order to bridge the divide it is important to interact with them and get acquainted with their side of the story instead of shunning them every time they state their demands. It is important to take into account that student councils are not allowed in Kashmir. The youngsters are spied upon; all their accounts on social networking sites are constantly under surveillance. In this claustrophobic atmosphere the young minds and voices are getting stifled under fear psychosis.

    A nation that takes pride in being the world's largest democracy owes a huge debt to the people of Kashmir, who have been bearing the excesses of the Indian armed forces for long. The real voices from the valley have always been drowned under the vociferous call for nationalism. The stories of violent deaths don't see the light of the day, and if they do, they get added to the ever-increasing statistics of collateral damage.

    Peace is a two way street. A huge part of the valley's population is already wary of the government and its many broken promises. The brutal use of power on local inhabitants and  violations have left an indelible mark on their psyche. Now that insurgency has gone down, it is important to let the people of Kashmir feel secure and part of a civil society with a free claim to their rightful liberties. The civilians are languishing for a normal life, with all its simple pleasures that are taken for granted in other parts of India.

    Acknowledging the loss and empathizing with those who have suffered the consequences of many years of mismanagement, use of brute force and sheer ignorance will go a long way in at least setting a steady ground for dialogue. The entire history of Kashmir has been concealed by a generous dabbing of the claim to fight the terror movement and to protect the peace. This tactic has obscured the destruction of the very spirit of Kashmir. A history of resistance crippled by lack of the very basic of civil liberties is a far cry from 'normalcy'. We are fighting for Kashmir by not giving the much needed attention to the Kashmiris who have suffered heinous human rights violations, which have been condemned by the various humanitarian watchdogs like International Commission of Jurists, Amnesty International and Human Rights Watch. Appalling crimes like mass rapes, mass killings and forced disappearances have escaped our legal and moral scanner all in the name of counter-insurgency.

    Kanun Poshpora Mass Rape Case, The Gawkadal Massacre and theSopore Massacre, 1993 are some of the accounts of atrocious attacks on many innocent civilians who not only bore the brunt of armed forces, but are also still waiting for justice.

    (Photo courtesy: Wasim Andrabi/ HT Photo)

    In photo: Victims of the Kanun Poshipora gang rape demonstrating in Srinagar in 2013.
    The investigations that gave clean chit to the army drew criticism from Watch,  Department of Justice and Human Rights Watch, which wrote:

    "While the results of the examinations by themselves could not prove the charges of rape, they raised serious questions about the army's actions in Kunan Poshpora. Under the circumstances, the committee's eagerness to dismiss any evidence that might contradict the government's version of events is deeply disturbing. In the end, the committee has revealed itself to be far more concerned about countering domestic and international criticism than about uncovering the truth."

    Not to forget, the 8000 missing men and boys whose families are still awaiting their return, extra-judicial killings and reports of extortions rackets run by Police who ask for bribes from the families of young men threatening to implicate them of false charges.

    (Photo courtesy: APDP Kashmir)

    In Photo: Parveena Ahangar, a Srinagar- based woman who heads the Association of the Parents of Disappeared Persons is addressing various families struggling to bring back their family members. Her own son has been untraceable after being arrested by the Indian army in 1990.

    To achieve the much sought-after normalcy, there is an urgent need to take humane steps to make the civilians feel as valued members of a civic society whose aspirations matter. Kashmiris must be heard instead of being judged and handed with a predicament.

    There is a need for both the state and the central government to work in tandem to address this long impending humanitarian crisis by showing great resolve. Due to the imposition of draconian laws like AFSPA, PSA and many others providing legal impunity to the forces, the very right to a dignified existence is under perpetual threat. Constant checks, harassment (both physical and verbal) meted out to all makes the very simple job to go out to work an arduous task. AFSPA can be revoked in areas where insurgency has reduced to a small percentage in order to curb casualties. Following the example of Tripura would be a good approach where the state increased the number of local police stations instead of deploying the army. People generally have more faith in the local policemen rather than on a force comprising of men mostly from other states of India.

    Secondly, use of non-lethal weapons to crush protests must be a norm which should be adhered to. As per Manan Bukhari, a prominent RTI activist from the valley, "Almost 350 people particularly the youth have received Pellet injuries since the Pellet Gun was introduced in Kashmir during the 2010 agitation". Hundreds of youngsters have lost their eyesight due to the use of these infamous pellet guns.

    (File Photo of Hamid Ahmad Bhat who got suffered severe injuries after being hit by a pellet gun)

    Kashmir requires immediate attention. A single incident has the ability to blow up into fire as the spirit of Kashmir has been brutally crushed for so long. Every day adverse treatment of the local population has been pushing the Kashmiris towards the edge. The moment they reach their tipping point, the lid to a bubbling cauldron will go off, culminating in a legacy of bloodshed. It has happened in the past. Out of the many recent protests, the mass demonstrations of 2010 have been the bloodiest, where the use of overpowering force was unleashed on huge gatherings out on the streets protesting for their freedom. It ended up taking the lives of at least 125 teenagers. The protests started after the encounter of three young men from their Nadihal Village, however it later gained momentum and the entire valley was engulfed in the movement for Azadi. Now curfews are imposed every year during the death anniversaries of the victims to prevent unrest due to any impulsive  march.

    The voices from Kashmir that have been strangulated by a strategic use of military power combined with appointed leaders should be heard. There is an immediate need to acknowledge that the treatment meted out to Kashmir is a blot on our democracy and Kashmiris have merely been used as pawns by various political parties.

    It is about time to take inspiration from the Father of our Nation, who very succinctly shared one of the most profound teachings on peace.

    "There is no way to peace, peace is the way."

    Violence is a vicious circle and we can't afford to run in loops endangering more lives in the process.

    Mukta is a graduate in English literature from Miranda HouseDelhi University and have worked as a voice and accent trainer with IBM-Daksh. Presently she is working as a writer with Women's Web.

    http://www.indiaresists.com/beef-lynching-in-kashmir-went-unnoticed-but-that-has-been-routine-for-india/

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0



    After writers , now sociologists join protest over Dadri Lynching , Murder of Scholars



    मैदान छोड़ना नहीं, पीठ दिखाना नहीं, फासीवाद हारने लगा है!
    देश को जोड़ लें,दुनिया जोड़ लें,कोई अकेला भी नहीं है!
    दाभोलकार,पनसारे और कलबुर्गी के हत्यारे,बाबरी विध्वंस,भोपाल गैस त्रासदी.देश विदेश दंगों और आतंकी हमलों,सिखों के नरसंहार,गुजरात के दंगों,सलवा जुड़ुम और आफस्पा,टोटल प्राइवेटेजाइशेन,टोटल विनिवेश,टोटल एफडीआी के सौदागर तमाम हारने लगे हैं,हमारा यकीन भी कीजिये।


    जिनने इस महादेश को कुरुक्षेत्र के मैदान में तब्दील कर दिया जो धर्म कर्म के नाम असत्य और अधर्म,अहिंसा और भ्रातृत्व के बदले हिंसा और नरसंहार,विश्वबंधुत्व के बदले  हिंदुत्व का ग्लोबल एजंडा और भारत तीर्थ की विविधता,वैचित्र्य के बदले गैरहिंदुओं के सफाये से देश को हिंदू बनाने के उपक्रम से कृषि,व्यवसाय और उद्योगधंधों की हत्या करके विदेशी पूंजी और विदेशी हितों के दल्ला बनकर महान  भारत देश की हत्या का राजसूय यज्ञ का आयोजन कर रहे थे। बाबुलंद ऐलानिया जिहाद जो  छेड़े हुए थे राष्ट्र के विवेक,सत्य, अहिंसा,न्याय,शांति समानता के बदले समरस मृत्यु उत्सव के नंगे कार्निवाल में हर मनुष्य को बंधुआ कंबंध बनाने के लिए हिंदू राष्ट्र के नाम पर। अंध राष्ट्रवाद के उन्मादी मुक्तबाजारी आवाहन के साथ।गौर से देख लो भइये,उनके रथ के पहिये धंसने लगे हैं।

    अरविंद केजरीवाल,आप हमारी सुन रहे हैं तो दिल्ली में तीनों महापालिकाओं के सफाई कर्मचारियों को न्याय दिलाने के लिए तुरंत पहल करें!आपके लिए ऐतिहासिक मौका है।देश की राजधानी में अछूतों और बहुजनों की सुनवाई नहीं है एकसौएक दिन के धरने और अब हड़ताल के बावजूद क्योंकि लोकतंत्र भी मूक वधिर है।
    पलाश विश्वास

    After writers , now sociologists join protest over Dadri Lynching , Murder of Scholars

    n the wake of the ongoing  by  and artists over the's response to incidents of violence and intolerance, a group of sociologists have expressed their disquiet at the PM's 'late response' and his failure to assert that the rule of law will be defended

    socio2

    Statement by Sociologists on the Need to Maintain Constitutional and Academic Freedoms

    We, as sociologists and concerned citizens, feel extremely concerned about the lynching at Dadri, and the murders of scholars and thinkers like MM Kalburgi, Narendra Dabholkar, Govind Pansare and others, and wish to register our strong protest.

    We are not just shocked by Prime Minister Narendra Modi's late response, but also by the implications of the victim-blaming statement he made. To say that 'Hindus and Muslims should not fight each other but should fight poverty instead' puts the onus for peace and fighting poverty entirely on civil society and communities and absolves the state of any responsibility for both. As Prime Minister, he should have asserted that the state would defend the rule of law.

    In a country with some 4693 communities and over 415 living languages, each community is bound to have its own customs, including dietary choices. Individuals may also follow practices different from the ones followed by the majority of their community. Any attempt to impose a uniform belief or practice, on either individuals or communities, is antithetical to the freedom enshrined in the Constitution. It is the state's responsibility to ensure this freedom.

    Further, as scholars, we are extremely worried about the implications of these recent developments for our ability to study and write about different life ways, and to critically analyse society, including social phenomena like .

    SIGNED (in alphabetical order)

    Janaki Abraham, University of Delhi
    Anuja Agrawal, University of Delhi
    Yasmeen Arif, University of Delhi
    Mahuya Bandyopadhyay, University of Delhi
    Xonzoi Barbora, Tata Institute of Social Sciences– Guwahati

    Amita Baviskar, Institute of Economic Growth
    Pratiksha Baxi, Jawaharlal Nehru University
    Jyothsna Belliappa, Azim Premji University
    Anjali Bhatia, University of Delhi
    Reema Bhatia, University of Delhi

    Vasundhara Bhojvaid, University of Delhi
    Anuj Bhuwania, South Asian University
    Rita Brara, University of Delhi
    Anand Chakravarti, rtd. University of Delhi
    Roma Chatterji, University of Delhi
    Ruchi Chaturvedi, University of Cape Town

    Radhika Chopra, University of Delhi
    Dia Da Costa, University of Alberta
    Ajay Dandekar, Shiv Nadar University
    Ankur Datta, South Asian University
    Satish Deshpande, University of Delhi

    Vincent Ekka, Jawaharlal Nehru University
    Tanweer Fazal, Jamia Millia Islamia
    Shalini Grover, Institute of Economic Growth
    Radhika Gupta, Max Planck Institute, Göttingen
    Chandan Gowda, Azim Premji University

    Rajesh Kamble, University of 
    Sasheej Hegde, University of Hyderabad
    Rudolf C Heredia, Independent Researcher, Mumbai
    Farhana Ibrahim, Indian Institute of Technology – Delhi
    Surinder S. Jodhka, Jawaharlal Nehru University
    Kalpana Kannabiran, Centre for Social Development

    Ravinder Kaur, Indian Institute of Technology-Delhi
    Sakshi Khurana, V. V. Giri National Labour Institute
    Ravi Kumar, South Asian University
    Satendra Kumar, Lucknow
    C. Lakshmanan, Madras Institute of Development Studies

    Amman Madan, Azim Premji University
    T. N. Madan, Institute of Economic Growth
    Nissim Mannathukkaren, Jawaharlal Nehru University
    Nayanika Mathur, University of Cambridge
    Deepak Mehta, Shiv Nadar University

    Gayatri Menon, Azim Premji University
    Arima Misra, Azim Premji University
    Radhika Mongia, York University
    Geetha Nambissan, Jawaharlal Nehru University
    Balmurli Natarajan, William Paterson University

    Tiplut Nongbri, Jawaharlal Nehru University
    Rajni Palriwala, University of Delhi
    Amrita Pande, University of Cape Town
    Sujata Patel, University of Hyderabad
    Tulsi Patel, University of Delhi

    Shilpa Phadke, Tata Institute of Social Sciences- Mumbai
    Purendra Prasad, University of Hyderabad
    Meena Radhakrishna, formerly of Delhi University
    Ratheesh
    Raka Ray, University of California at Berkeley
    D. R. Sahu, University of Lucknow

    Savyasaachi, Jamia Millia Islamia
    Manisha Sethi, Jamia Millia Islamia
    Hira Singh, York University
    Alito Siquira, University of 
    G. Srinivas, Jawaharlal Nehru University

    Sanjay Srivastava, Institute of Economic Growth
    V. Sujatha, Jawaharlal Nehru University
    Nandini Sundar, University of Delhi
    Ravi Sundaram, Centre for the Study of Developing Societies
    Renny Thomas, University of Delhi

    Patricia Uberoi, Centre for the Study of Developing Societies
    Carol Upadhya, National Institute of Advanced Study
    Divya Vaid, Jawaharlal Nehru University
    Sudha Vasan, University of Delhi
    A. R. Vasavi, Bangalore

    Susan Visvanathan, Jawaharlal Nehru University
    Anurekha Chari Wagh, University of Pune
    Virginius Xaxa, Tata Institute of Social Sciences– Guwahati


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0



    मैदान छोड़ना नहीं, पीठ दिखाना नहीं, फासीवाद हारने लगा है!
    देश को जोड़ लें,दुनिया जोड़ लें,कोई अकेला भी नहीं है!
    दाभोलकार,पनसारे और कलबुर्गी के हत्यारे,बाबरी विध्वंस,भोपाल गैस त्रासदी.देश विदेश दंगों और आतंकी हमलों,सिखों के नरसंहार,गुजरात के दंगों,सलवा जुड़ुम और आफस्पा,टोटल प्राइवेटेजाइशेन,टोटल विनिवेश,टोटल एफडीआी के सौदागर तमाम हारने लगे हैं,हमारा यकीन भी कीजिये।



    जिनने इस महादेश को कुरुक्षेत्र के मैदान में तब्दील कर दिया जो धर्म कर्म के नाम असत्य और अधर्म,अहिंसा और भ्रातृत्व के बदले हिंसा और नरसंहार,विश्वबंधुत्व के बदले  हिंदुत्व का ग्लोबल एजंडा और भारत तीर्थ की विविधता,वैचित्र्य के बदले गैरहिंदुओं के सफाये से देश को हिंदू बनाने के उपक्रम से कृषि,व्यवसाय और उद्योगधंधों की हत्या करके विदेशी पूंजी और विदेशी हितों के दल्ला बनकर महान  भारत देश की हत्या का राजसूय यज्ञ का आयोजन कर रहे थे। बाबुलंद ऐलानिया जिहाद जो  छेड़े हुए थे राष्ट्र के विवेक,सत्य, अहिंसा,न्याय,शांति समानता के बदले समरस मृत्यु उत्सव के नंगे कार्निवाल में हर मनुष्य को बंधुआ कंबंध बनाने के लिए हिंदू राष्ट्र के नाम पर। अंध राष्ट्रवाद के उन्मादी मुक्तबाजारी आवाहन के साथ।गौर से देख लो भइये,उनके रथ के पहिये धंसने लगे हैं।


    अरविंद केजरीवाल,आप हमारी सुन रहे हैं तो दिल्ली में तीनों महापालिकाओं के सफाई कर्मचारियों को न्याय दिलाने के लिए तुरंत पहल करें!आपके लिए ऐतिहासिक मौका है।देश की राजधानी में अछूतों और बहुजनों की सुनवाई नहीं है एकसौएक दिन के धरने और अब हड़ताल के बावजूद क्योंकि लोकतंत्र भी मूक वधिर है।
    पलाश विश्वास

    Dalits Media Watch

    News Updates 22.10.15

    Crimes against Dalits rose 19% in 2014, murders rose to 744 - The Times Of India

    http://timesofindia.indiatimes.com/india/Crimes-against-Dalits-rose-19-in-2014-murders-rose-to-744/articleshow/49488994.cms

    Dalits' rise upper castes' envy in Haryana - The Times Of India

    http://timesofindia.indiatimes.com/india/Dalits-rise-upper-castes-envy-in-Haryana/articleshow/49488949.cms

    Conversion only way to tackle threat from upper caste people - Mail Today

    http://indiatoday.intoday.in/story/conversion-only-way-to-tackle-threat-from-upper-caste-people/1/503966.html

    Uthapuram tense as Dalits offer prayers in temple - The Hindu

    HTTP://WWW.THEHINDU.COM/NEWS/CITIES/MADURAI/UTHAPURAM-TENSE-AS-DALITS-OFFER-PRAYERS-IN-TEMPLE/ARTICLE7791274.ECE

    Do the Vedas order killing of those who burn Dalits alive and force them to enter the gutters to perish? - Meri News

    HYPERLINK "http://www.merinews.com/article/do-the-vedas-order-killing-of-those-who-burn-dalits-alive-and-force-them-to-enter-the-gutters-to-perish/15910634.shtmlhttp://www.merinews.com/article/do-the-vedas-order-killing-of-those-who-burn-dalits-alive-and-force-them-to-enter-the-gutters-to-perish/15910634.shtml

     

    Please Watch:

    Ambedkar Legacy Debate –

    The Newshour Debate: Congress and RSS tug of war (13th April 2015)

    https://www.youtube.com/watch?v=xr1-wyesydk

     

    Note: Please find attachment for DMW Hindi (PDF)

     

    The Times Of India

     

    Crimes against Dalits rose 19% in 2014, murders rose to 744

    http://timesofindia.indiatimes.com/india/Crimes-against-Dalits-rose-19-in-2014-murders-rose-to-744/articleshow/49488994.cms

     

    Bharti Jain,TNN | Oct 22, 2015, 05.15 AM IST

     

    NEW DELHI: Even as Haryana reels from the gruesome murders of two dalit children who were burned alive on Tuesday, allegedly by upper caste men, new statistics show that crimes against dalits, or Scheduled Castes (SCs), rose 19 percent last year, on top of a 17 percent increase in 2013. 


    In addition, as many as 744 dalits were murdered last year, up from 676 in 2013. In Haryana alone, 21 dalits were murdered in 2014.

     

    According to statistics compiled by the National Crime Records Bureau (NCRB), crimes against SCs rose to 47,064 in 2014 from 39,408 in 2013. In 2012 there were 33,655 crimes against dalits, about the same as in 2011. 

    In fact, the rate of such crimes against SCs surpassed the national average in as many as 10 states in 2013 and 2014. The rate of crime is the number of crimes reported against SCs per one lakh of their population. In 2014, the rate of crime against dalits was 23.4 and in 2013 it was 19.57. 

     

    NCRB statistics show that 2,233 dalit women were raped in 2014, up from 2,073 in 2013, 1,576 in 2012, 1,557 in 2011, 1,349 in 2010 and 1,346 in 2009. Kidnappings and abductions also went up in these years, barring in 2012 when there was a marginal decline. Against 755 kidnappings/abductions in 2014, there were 628 in 2013, 490 in 2012, 616 in 2011, 511 in 2010 and 512 in 2009.

     

    The Times Of India

     

    Dalits' rise upper castes' envy in Haryana

    http://timesofindia.indiatimes.com/india/Dalits-rise-upper-castes-envy-in-Haryana/articleshow/49488949.cms

     

    Subodh Ghildiyal,TNN | Oct 22, 2015, 04.55 AM IST

     

    NEW DELHI: In the wake of the grisly Faridabad killings, Dalit activists wondered if the pictures of two charred infants could shake the nation's conscience like the picture of drowned Aylan Kurdi on a Mediterranean beach moved the world on the plight of Syrian refugees. 


    It is unlikely. But the query too was overlaid with cynicism, reflecting the weariness of a community bearing the brunt of recurring atrocities. Sunped under BJP follows the shameful trend set by Mirchpur and Gohana under Congress. 

    In Mirchpur and Gohana, altercations between Jats and Dalits resulted in mobs razing down and burning Dalit houses, medieval style. No one died in Gohana but 50 houses were torched by a 1,000-strong mob. But Mirchpur saw a lynch mob set on fire a handicapped girl and her grandfather in their house, like Faridabad. In Sunped, Rajputs settled scores with Dalits. 


    At the root of the brutal crimes is the newfound independence of Dalits and a questioning of the status quo. Observers say the brutal retribution inflicted by the upper castes is aimed to deliver a strong reminder to Dalits on who dominates socially. 


    Karamvir Baudh, an activist in Haryana, said, "Jobs and small businesses are a growing trend among SCs. Cars and good houses in their neighbourhoods are visible. They refuse to work in landlords' fields. It is enough of a provocation."

     If the fault lines existed for ages, its incendiary eruption in medieval lynchings and immolations in the last decade results from fearless assertion by Dalits riding on job reservations and market economy. 


    "The dominant peasant proprietors who were used to having their way are unable to take the resistance from Dalits. That is leading to brutality," said Yogendra Yadav, a sociologist with roots in Haryana. 


    The questioning of status quo is the trigger. And the oppressor changes with the turf, it could be Jats in Rohtak, Yadavs in Mahendragarh, Rajputs and OBC Rors in Yamunanagar. 


    Dr Gulshan, who heads the Ambedkar missionaries society in Rohtak, recounted how every atrocity was accompanied by the incredulous "ek SC ne aisa kar diya" — it could refer to refusal to work in landlords' fields or challenging the harassment of a Dalit girl. "In a wrestling game, the taunt is that you lost to a Dalit boy," he said, talking about provocation. 


    Sexual assault of Dalits has emerged as a new weapon to assert domination. Haryana, according to the NCRB, ranks seventh in assaults on SC women, fourth in sexual harassment, sixth in rapes.

     

    Mail Today

     

    Conversion only way to tackle threat from upper caste people

    http://indiatoday.intoday.in/story/conversion-only-way-to-tackle-threat-from-upper-caste-people/1/503966.html

     

    Ajay Kumar   |    |   Mail Today  |   Faridabad, October 21, 2015 | Posted by Dianne Nongrum | UPDATED 09:26 IST

     

    Following the attack on a Dalit family in Faridabad, the lower caste community feel they would be safer from the upper caste if they converted to Islam.

     

    A woman police officer in plain clothes inspects the house which was set on fire.

     

    The arson in Sunped village of Faridabad has created fear among people, especially the lower caste community, in the adjoining villages. Due to the continuous threat posed by upper castes, a section of people from the lower caste have expressed their desire to convert to Islam.

     

    "The upper caste people used to humiliate us over petty incidents like pulling out a mobile phone from the drain. They would often threaten and dishonour us and also the women from our community. We do not feel secure as the current government has failed to protect our pride. We have no other option than to convert to Islam," said Rohtash, a villager.

     

    "At least we know few leaders who represent the minority community. There is no leader for the lower caste here," Rohtash added.

     

    Villagers have demanded that Faridabad police commissioner Subhash Yadav be sacked as he has failed to control the law and order situation.

     

    "The district police and local administration have ignored us and our complaints," alleged another villager Ramesh Kumar.

     

    In adjoining Asawati village, a teenage girl was abducted by an upper caste youth and was later found unconscious in UP's Bulandshahr district. Despite a complaint of sexual assault at the Ballabhgarh police station, cops dismissed the matter saying that the girl had eloped with her boyfriend.

     

    "One of the reasons behind the police apathy is the majority of the upper caste people. Sunped village has a population of 1,400 with 75 per cent belonging to the upper caste community. They have strong political connections with local leaders," said another villager Sunil Kumar.

     

    The Hindu

     

    Uthapuram tense as Dalits offer prayers in temple

    HTTP://WWW.THEHINDU.COM/NEWS/CITIES/MADURAI/UTHAPURAM-TENSE-AS-DALITS-OFFER-PRAYERS-IN-TEMPLE/ARTICLE7791274.ECE

     

    S. SUNDAR

     

    Tension gripped Uthapuram when a garland offered by the Dalits to a pipal tree at the Muthalamman temple was pulled down by caste Hindus on Wednesday. A huge posse of police has been deployed in the village near Usilampatti as a precautionary measure.

     

    The Dalits preferred a police complaint against the caste Hindus for practising untouchability.

     

    The district administration had reversed its prohibitory order on celebration of the Muthalamman festival organised by the caste Hindus on Tuesday night after they pleaded for permission and agreed to allow the Dalits to offer worship at the temple.

     

    "We had given the orders on the condition that the rights of the Dalits to worship at the temple should be upheld," Usilampatti Revenue Divisional Officer M. Balasubramanian, said.

     

    After permission was given, an earthen idol of Muthalamman was brought in procession from Elumalai on Tuesday night. In the morning, the caste Hindu devotees brought 'mulaippari' and offered prayers.

     

    Later, some 40 Dalits led by C. Sankaralingam and Ponnaiah, came to the temple and worshipped the deity. Deeparathana and puja were performed by the priest amidst the 'kulavai' raised by the women devotees.

     

    Just as they were coming out, the Dalits put two garlands on the pipal tree on the temple premises and offered their prayers. Suddenly, over a dozen of caste Hindus present at the temple objected to it.

     

    Even as both sides started arguing over the issue and the police tried to pacify them, an unidentified person pulled down one of the two garlands and threw it on the ground.

     

    This angered the Dalits, including women, who squatted on the Elumalai Road. However, a large posse of police managed to remove them and took them to their hamlet. Meanwhile, the police restored the garland on the Pipal tree.

     

    While the caste Hindus demanded that the garlands be removed from the tree, Superintendent of Police Vijayendra Bidari said he could not allow any such thing and warned that those who tried to remove them would be arrested.

     

    Later, the earthen idol and the sprouts were taken in procession and immersed in a nearby water body amidst police security. However, Dalit leader Sankaralingam said R. Muniyandi lodged a complaint with the police against caste Hindus for pulling down the garland put by them at the pipal tree.

     

    Five vehicles set on fire

    Meanwhile, people of two different groups from Elumalai and nearby Athankaraipatti clashed while completing the Muthalamman festival ritual of breaking the earthen idols near Elumalai on Wednesday evening. The police said five motorbikes and a cargo vehicle were set on fire. 

     

     The problem started when a chappal was thrown from the crowd from one group at another.  It led to a clash following which the police chased them away. Even as the crowd was melting, unidentified persons set on fire the vehicles.   

     

     The Deputy Inspector General of Police, Anand Kumar Somani and the Superintendent of Police, Vijayendra Bidari, rushed to the spot.  

     

    Meri News

     

    the Vedas order killing of those who burn Dalits alive and

     force them to enter the gutters to perish?

    HYPERLINK "http://www.merinews.com/article/do-the-vedas-order-killing-of-those-who-burn-dalits-alive-and-force-them-to-enter-the-gutters-to-perish/15910634.shtmlhttp://www.merinews.com/article/do-the-vedas-order-killing-of-those-who-burn-dalits-alive-and-force-them-to-enter-the-gutters-to-perish/15910634.shtml

     

     

    Sankara Narayanan

     

    The death of two conservancy workers owing to asphyxiation last week when they were cleaning (rather forced to clean) an underground drainage at a housing colony in TN's Madurai was reported by the Hindu on Oct 21, 2015.

     

    In a similar incident occurred in 2009, a contract worker of the City Corporation died while removing blockage with two others without wearing protective gear. Another worker succumbed at a hospital two days later. Needless to say they were all Dalits.

     

    Though there has been a ban on manual scavenging under the Prohibition of Employment as Manual Scavengers and their Rehabilitation Act, 2013 and the earlier Act brought into the statute in 1993, there is little or no monitoring to prevent the practice and the consequent deaths.

     

    In Focus

    The corporations and municipalities across India have on rolls tens of thousands of contract workers who are required to remove blocks in the underground drainage system by entering into the drains through manholes. It is not uncommon to see conservancy workers unclogging manholes with sticks and rods without wearing shoes, gloves or masks.

     

    A conservancy worker admitted that they never receive these protective gears from their contractors. Many of the contractors either do not know about such protective gears or chose not to give them. This being the case for conservancy workers, their counterparts who clear dust and debris off roads also work without masks or gloves.

     

    Since the workers are engaged by the contractors, the municipal bodies do not take manual scavenging seriously. It is the duty of the municipal authorities to step in and ensure that manual scavenging is not practised and the workers wear the protective gears and use machinery. In many cases, families of the deceased workers do not get compensation for the loss of the breadwinner.

     

    It is not surprising that a Madurai Corporation official says that many workers do not wear the protective gear issued to them. If a worker dies in a factory for want of wearing necessary protective gear, can the factory owner plead not guilty because the worker failed to wear the gear though provided? Will the administration, police and court admit such a plea and let the factory owner off?

     

    Will the officer offer such an irresponsible response if his kith and kin are the conservancy workers? The administration must book the officers concerned in case of such deaths under the SC/ST Atrocity Act and treat the deaths as murders. If such proactive steps are taken, the killing of Dalits in gutters will vanish overnight. The crime committed by a law enforcer is much more serious than the one committed by an ordinary citizen. Not a single public servant is punished for such killings in all these years.

     

    Dalit family set afire

    According to the media reports, a Dalit family of four, including two children, was set afire inside their house allegedly by members of the Rajput community in Sonped village in Ballabgarh, Faridabaddistrict (Haryana), in the early hours ofTuesday.

     

    While Vaibhav (2 years) and Divya (10 months) died before reaching the Safdarjung Hospital in Delhi, their mother Rekha (22) admitted to the ICU with serious burns died later. Rekha's husband, Jitender (26), a medical attendant at a hospital, escaped with minor burns on his hands.

     

    The attack on the Dalit family has its history in the murder of three persons of the Rajput community on Oct 5, 2014 following an altercation over a mobile phone. Eleven members of Jitender's family were named in the case and are currently in jail. Two weeks ago, the accused had allegedly threatened Jitender's family with dire consequences if they did not leave the village.

     

    The police have booked 11 persons in the case and arrested three so far. "A case has been registered under the IPC and the SC & ST Act against 11 persons and three have been arrested," said a police official reportedly.

    This case will also follow the course of similar cases (Mass Dalit burning at Keezhavenmani village in TN's Thanjavur district in 1968, the massacre of Dalits by the landlord-controlled Ranvir Sena in the late 1990s in Bihar and the rape and murder of Priyanka Bhotmange and her mother at Kheirlanji in Maharashtra's Bhandara district in 2006), thanks to the obliging upper caste-friendly administration and court. Please note Haryana is now being ruled by a super Khap after another equally notorious Khap was booted out in the last election.

     

    Vedas order killing of sinners who kill cows

    A recent article in the RSS organ Panchjanya said, "The Vedas order killing of anyone who slaughters the cow. Cow slaughter is a big issue for the Hindu community. For many of us it's a question of life and death." The piece written by Vinay Krishna Chaturvedi adds, "But what should one say about those people and their leaders who, while living among 80 per cent Hindus, have no concerns for the majority sentiment."

     

    The Dalits burnt to death or murdered inside the gutters were also Hindus. Even the converted ones were earlier in the Hinduism. Chaturvedi, RSS and BJP are also living among 80 per cent Hindus. Why they have no concern for these Hindus?

     

    Chaturvedi must tell us whether there is any provision in the Vedas that orders killing of anyone who slaughters the Dalits either by burning them alive or killing them inside the gutters. If there is no such provision, is it not time for Chaturvedi and his patrons in the RSS to rewrite Vedas incorporating similar provision that mandates killing of the butchers of Dalits?

     

    Chaturvediji, please note the society "glorifies and remembers" such persons "martyred to prevent Hindu-slaughter."

     

    News monitored by AMRESH & AJEET


    .Arun Khote
    On behalf of
    Dalits Media Watch Team
    (An initiative of "Peoples Media Advocacy & Resource Centre-PMARC")

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    Zealots and bigots of all hues!!! Will you send your stormtroopers to teach this scientist a lesson for "hurting your religious feelings"? E. O. Wilson

    E. O. Wilson: You don't have to be an atheist to know that religion is harming the Earth.
    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Students in Rajasthan will not learn about iconic world leader Nelson Mandela, or read the works of celebrated romantic poet William Wordsworth, as the…

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    ओ.बी सी., एस. सी., एस.टी. के लोगों को अपने पूर्वजों के हत्यारे कौन थे? पता ही नही हैं, सभी लोग क्षेत्र रक्षक थे, जिन्हें ब्राह्मणों के प्रचार द्वारा राक्षस बना दिया । रावण, महिषासुर, मेघनाथ आदि सभी 85% के पुरखे थे और 3% आर्य विदेशी ब्राह्मणों के दुश्मन । 
    जिसे सत्य और असत्य इतिहास का पता नही वही आज शूद्र, दास, गुलाम और नीच है

    DevAnand Ranga India's photo.
    DevAnand Ranga India to भारतीय बहुजन समाज
    10 hrs · 

    जय भीम जी दोस्तो



    मैदान छोड़ना नहीं, पीठ दिखाना नहीं, फासीवाद हारने लगा है!
    देश को जोड़ लें,दुनिया जोड़ लें,कोई अकेला भी नहीं है!
    दाभोलकार,पनसारे और कलबुर्गी के हत्यारे,बाबरी विध्वंस,भोपाल गैस त्रासदी.देश विदेश दंगों और आतंकी हमलों,सिखों के नरसंहार,गुजरात के दंगों,सलवा जुड़ुम और आफस्पा,टोटल प्राइवेटेजाइशेन,टोटल विनिवेश,टोटल एफडीआी के सौदागर तमाम हारने लगे हैं,हमारा यकीन भी कीजिये।



    जिनने इस महादेश को कुरुक्षेत्र के मैदान में तब्दील कर दिया जो धर्म कर्म के नाम असत्य और अधर्म,अहिंसा और भ्रातृत्व के बदले हिंसा और नरसंहार,विश्वबंधुत्व के बदले  हिंदुत्व का ग्लोबल एजंडा और भारत तीर्थ की विविधता,वैचित्र्य के बदले गैरहिंदुओं के सफाये से देश को हिंदू बनाने के उपक्रम से कृषि,व्यवसाय और उद्योगधंधों की हत्या करके विदेशी पूंजी और विदेशी हितों के दल्ला बनकर महान  भारत देश की हत्या का राजसूय यज्ञ का आयोजन कर रहे थे। बाबुलंद ऐलानिया जिहाद जो  छेड़े हुए थे राष्ट्र के विवेक,सत्य, अहिंसा,न्याय,शांति समानता के बदले समरस मृत्यु उत्सव के नंगे कार्निवाल में हर मनुष्य को बंधुआ कंबंध बनाने के लिए हिंदू राष्ट्र के नाम पर। अंध राष्ट्रवाद के उन्मादी मुक्तबाजारी आवाहन के साथ।गौर से देख लो भइये,उनके रथ के पहिये धंसने लगे हैं।


    अरविंद केजरीवाल,आप हमारी सुन रहे हैं तो दिल्ली में तीनों महापालिकाओं के सफाई कर्मचारियों को न्याय दिलाने के लिए तुरंत पहल करें!आपके लिए ऐतिहासिक मौका है।देश की राजधानी में अछूतों और बहुजनों की सुनवाई नहीं है एकसौएक दिन के धरने और अब हड़ताल के बावजूद क्योंकि लोकतंत्र भी मूक वधिर है।
    पलाश विश्वास

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    RSS takes out rally in Jammu city with swords, guns DC says he is unaware about the rally Will enquire what happened on ground: IGP Syed Amjad Shah Jammu,…
    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!


    Mukesh Gautam's photo.


    मैदान छोड़ना नहीं, पीठ दिखाना नहीं, फासीवाद हारने लगा है!
    देश को जोड़ लें,दुनिया जोड़ लें,कोई अकेला भी नहीं है!
    दाभोलकार,पनसारे और कलबुर्गी के हत्यारे,बाबरी विध्वंस,भोपाल गैस त्रासदी.देश विदेश दंगों और आतंकी हमलों,सिखों के नरसंहार,गुजरात के दंगों,सलवा जुड़ुम और आफस्पा,टोटल प्राइवेटेजाइशेन,टोटल विनिवेश,टोटल एफडीआी के सौदागर तमाम हारने लगे हैं,हमारा यकीन भी कीजिये।


    जिनने इस महादेश को कुरुक्षेत्र के मैदान में तब्दील कर दिया जो धर्म कर्म के नाम असत्य और अधर्म,अहिंसा और भ्रातृत्व के बदले हिंसा और नरसंहार,विश्वबंधुत्व के बदले  हिंदुत्व का ग्लोबल एजंडा और भारत तीर्थ की विविधता,वैचित्र्य के बदले गैरहिंदुओं के सफाये से देश को हिंदू बनाने के उपक्रम से कृषि,व्यवसाय और उद्योगधंधों की हत्या करके विदेशी पूंजी और विदेशी हितों के दल्ला बनकर महान  भारत देश की हत्या का राजसूय यज्ञ का आयोजन कर रहे थे। बाबुलंद ऐलानिया जिहाद जो  छेड़े हुए थे राष्ट्र के विवेक,सत्य, अहिंसा,न्याय,शांति समानता के बदले समरस मृत्यु उत्सव के नंगे कार्निवाल में हर मनुष्य को बंधुआ कंबंध बनाने के लिए हिंदू राष्ट्र के नाम पर। अंध राष्ट्रवाद के उन्मादी मुक्तबाजारी आवाहन के साथ।गौर से देख लो भइये,उनके रथ के पहिये धंसने लगे हैं।
    Mukesh Gautam
    दो मासूम बच्चों को जला के मार देने की घटना पे तर्क देते हुए इस संवेदनशील घटना को कुत्तो को पत्थर मारने जैसी घटना बता रहे है देश के ये होनहार मंत्री।
    भाजपा को समर्थन करने वाले पासवान, मांझी, उदितराज और sc/st/obc भाजपा सांसद जैसे दलित नेताओ को चुल्लू भर पानी में डूब मरना चाहिए।
    कुछ तो शर्म करो।
    Truth Of Gujarat's photo.
    Truth Of Gujarat

    A message for VK Singh, Narendra Modi and other Indian politicians who use dog as a slur - via Siddharthya Roy

    ओ.बी सी., एस. सी., एस.टी. के लोगों को अपने पूर्वजों के हत्यारे कौन थे? पता ही नही हैं, सभी लोग क्षेत्र रक्षक थे, जिन्हें ब्राह्मणों के प्रचार द्वारा राक्षस बना दिया । रावण, महिषासुर, मेघनाथ आदि सभी 85% के पुरखे थे और 3% आर्य विदेशी ब्राह्मणों के दुश्मन । 
    जिसे सत्य और असत्य इतिहास का पता नही वही आज शूद्र, आदिवासी, मुलनिवासी दास, गुलाम और नीच है।

    इस पंचायत में हर जात के लिए अलग कुआं मध्यप्रदेश Edit रतीराम श्रीवास/टीकमगढ। बुन्देलखण्ड का अति पिछडा जिला टीकमगढ को भले ही अग्रेजो की गुलामी से छुटकारा मिल…

    Susanskriti Parihar's photo.

    खबर है कि भीषण विरोध के आगे सर झुकाते हुए साहित्य अकादमी ने लेखकोंकी हत्या की दोटूक निंदा की है . सिर्फ निंदा ? देशव्यापी ऐतिहासिक प्रतिरोध केबाद ? देखना यह है कि अकादमी ने अपनी सुस्ती और लेखकों को अपमानित करने वाले बयानों पर कोई खेद प्रकट किया या नहीं . प्रोफेसर कलबुर्गी की शोकसभा का निर्णय लिया या नहीं. अभिव्यक्ति की आजादी की गारंटी के लिए कोई प्रस्ताव लिया या नहीं . आन्दोलन जारी है.

    One more Marathi writer return award...


    Rajendra Kapse's photo.
    Rajendra Kapse with Prakash Chandel and 2 others
    रामायण मे रावण की हत्या राम ने चैत्र मास की कृष्ण अमावस्या को की थी (रामायण युद्ध काण्ड ,१२४वा सर्ग,श्लोक १)
    फिर आज अश्विन माह की दशमी को कैसे रावण को मारने की बात कर रहे है 
    आज अशोक धम्म विजय दिवस है जिसका झूठा प्रचार करके ब्राह्मणीकरण कर दिया गया है ,या तो रामायण झूठी है या आज के दिन रावण के मरने की बात प्रचारित करने वाले मक्कार और झूठे है ।


    2 hrs · 

    एक कहावत है, 'जबरा मारे, रोने भी न दे'। केंद्र सरकार के मंत्री फिलहाल इसी नक्शे कदम पर चल रहे हैं। भाजपा शासित राज्य सरकारें और उनके अनुषंगी संगठन भी इस मामले में पीछे नहीं।

    एक तरफ देश के कमजोर और अल्पसंख्यक तबके को सुरक्षा व सम्मान से जीने नहीं मिल रही है। वहीं, इस पर सवाल करने पर हैरान करने वाले जवाब मिलते हैं। दादरी मसले पर केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा की बयानवाजी से हुआ घाव भरा भी नहीं था।

    दूसरे केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने हरियाणा के दलित परिवार के मासूम बच्चों की दर्दनाक मौत का माखौल उड़ाया है। देश को झकझोर देने वाले बल्लभगढ़ के घटनाक्रम की तुलना उन्होंने 'कुत्ते पर पत्थर मारने' से कर डाली। ऊपर से सवाल करने वाली मीडिया को पागल करार दिया। हैरानगी होती है, इस सरकार की संवदेनशीलता, अहंकार में डूबे मंत्रियों की बयानवाजी पर।

    लेकिन आम आदमी पार्टी आम लोगों का दमन बर्दाश्त नहीं करेगी। पार्टी हर उस जुल्म के खिलाफ लड़ती रहेगी, जहां आम आदमी के मौलिक अधिकारों को छीना जायेगा, उनकी आवाज दबाई जायेगी। इसी कड़ी में पार्टी ने न सिर्फ वीके सिंह के खिलाफ दिल्ली पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। बल्कि एससी/एसटी आयोग तक भी मामले को ले गयी है।

    Aam Aadmi Party's photo.
    इस साल साहित्य के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित बेलारूस की खोजी पत्रकार और नॉन फिक्शन (गैर काल्पनिक) लेखिका स्वेतलाना एलेक्सीविच की सबसे चर्चित किताब 'वॉयसेज फ्रॉम…
    Like   Comment   
    Comments
    Palash Biswas
    Write a comment...
    Loading...

    एक कहावत है, 'जबरा मारे, रोने भी न दे'। केंद्र सरकार के मंत्री फिलहाल इसी नक्शे कदम पर चल रहे हैं। भाजपा शासित राज्य सरकारें और उनके अनुषंगी संगठन भी इस मामले में पीछे नहीं।

    एक तरफ देश के कमजोर और अल्पसंख्यक तबके को सुरक्षा व सम्मान से जीने नहीं मिल रही है। वहीं, इस पर सवाल करने पर हैरान करने वाले जवाब मिलते हैं। दादरी मसले पर केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा की बयानवाजी से हुआ घाव भरा भी नहीं था।

    दूसरे केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने हरियाणा के दलित परिवार के मासूम बच्चों की दर्दनाक मौत का माखौल उड़ाया है। देश को झकझोर देने वाले बल्लभगढ़ के घटनाक्रम की तुलना उन्होंने 'कुत्ते पर पत्थर मारने' से कर डाली। ऊपर से सवाल करने वाली मीडिया को पागल करार दिया। हैरानगी होती है, इस सरकार की संवदेनशीलता, अहंकार में डूबे मंत्रियों की बयानवाजी पर।

    लेकिन आम आदमी पार्टी आम लोगों का दमन बर्दाश्त नहीं करेगी। पार्टी हर उस जुल्म के खिलाफ लड़ती रहेगी, जहां आम आदमी के मौलिक अधिकारों को छीना जायेगा, उनकी आवाज दबाई जायेगी। इसी कड़ी में पार्टी ने न सिर्फ वीके सिंह के खिलाफ दिल्ली पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। बल्कि एससी/एसटी आयोग तक भी मामले को ले गयी है।

    Aam Aadmi Party's photo.


    Retweeted GAURAV C SAWANT (@gauravcsawant):

    This is so unfair on your part. Expecting logical reasonable behaviour from agenda driven action of vested interests

    "3/n Writers murdered in Congress ruled Karnataka.Yet progressive writers not protesting in Karnataka coz its Congress ruled.Only target Modi"
    A group of Marathi writers today went to Mantralaya, the state secretariat here, to return their literary…

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0
  • 10/23/15--11:34: अपील कृपया एकजुट हो...(please share this post) छात्र विरोधी संगठनों पर्दाफाश हो रहा है..फेलोशिप के मुद्दे पर UGC पर धरना कर रहे aisa के साथियों को ABVP के गुंडों ने गलियां और धमकियां दीं। AVBP जो अपने को छात्र संगठन कहता है, छात्र विरोधी फैसलेनके बावजूद स्मृति ईरानी का पक्ष ले रहा है,,, UGC द्वारा नॉन-नेट फ़ेलोशिप पर किये गए फैसले को वापस लिए जाने की “अफवाहें” लगातार फैलाई जा रहीं हैंl ये “अफवाहें” एक साजिश है जो की छात्रों को भ्रमित करने के लिए की जा रही है और दिल्ली में आन्दोलन कर रहे छात्रों को कल विरोध प्रदर्शन के लिए बुरी तरह पीटा भी गया है l अपनी एकजुटता बनाएं रखें और अपने हक के लिए छात्र विरोधी नीतियों के खिलाफ आवाज़ उठाएंl

  • Kumar Gaurav with Shrimant Jainendra and 11 others

    अपील कृपया एकजुट हो...(please share this post)

    छात्र विरोधी संगठनों पर्दाफाश हो रहा है..फेलोशिप के मुद्दे पर UGC पर धरना कर रहे aisa के साथियों को ABVP के गुंडों ने गलियां और धमकियां दीं। AVBP जो अपने को छात्र संगठन कहता है, छात्र विरोधी फैसलेनके बावजूद स्मृति ईरानी का पक्ष ले रहा है,,,

    UGC द्वारा नॉन-नेट फ़ेलोशिप पर किये गए फैसले को वापस लिए जाने की "अफवाहें"लगातार फैलाई जा रहीं हैंl ये "अफवाहें"एक साजिश है जो की छात्रों को भ्रमित करने के लिए की जा रही है और दिल्ली में आन्दोलन कर रहे छात्रों को कल विरोध प्रदर्शन के लिए बुरी तरह पीटा भी गया है l 
    अपनी एकजुटता बनाएं रखें और अपने हक के लिए छात्र विरोधी नीतियों के खिलाफ आवाज़ उठाएंl



    मैदान छोड़ना नहीं, पीठ दिखाना नहीं, फासीवाद हारने लगा है!
    देश को जोड़ लें,दुनिया जोड़ लें,कोई अकेला भी नहीं है!
    दाभोलकार,पनसारे और कलबुर्गी के हत्यारे,बाबरी विध्वंस,भोपाल गैस त्रासदी.देश विदेश दंगों और आतंकी हमलों,सिखों के नरसंहार,गुजरात के दंगों,सलवा जुड़ुम और आफस्पा,टोटल प्राइवेटेजाइशेन,टोटल विनिवेश,टोटल एफडीआी के सौदागर तमाम हारने लगे हैं,हमारा यकीन भी कीजिये।


    जिनने इस महादेश को कुरुक्षेत्र के मैदान में तब्दील कर दिया जो धर्म कर्म के नाम असत्य और अधर्म,अहिंसा और भ्रातृत्व के बदले हिंसा और नरसंहार,विश्वबंधुत्व के बदले  हिंदुत्व का ग्लोबल एजंडा और भारत तीर्थ की विविधता,वैचित्र्य के बदले गैरहिंदुओं के सफाये से देश को हिंदू बनाने के उपक्रम से कृषि,व्यवसाय और उद्योगधंधों की हत्या करके विदेशी पूंजी और विदेशी हितों के दल्ला बनकर महान  भारत देश की हत्या का राजसूय यज्ञ का आयोजन कर रहे थे। बाबुलंद ऐलानिया जिहाद जो  छेड़े हुए थे राष्ट्र के विवेक,सत्य, अहिंसा,न्याय,शांति समानता के बदले समरस मृत्यु उत्सव के नंगे कार्निवाल में हर मनुष्य को बंधुआ कंबंध बनाने के लिए हिंदू राष्ट्र के नाम पर। अंध राष्ट्रवाद के उन्मादी मुक्तबाजारी आवाहन के साथ।गौर से देख लो भइये,उनके रथ के पहिये धंसने लगे हैं।

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    शाखाओं की शिक्षा

    Pratik Sinha's photo.
    Pratik Sinha

    गाय मारना पाप है, कृपया आदमी मारेँ!




    मैदान छोड़ना नहीं, पीठ दिखाना नहीं, फासीवाद हारने लगा है!
    देश को जोड़ लें,दुनिया जोड़ लें,कोई अकेला भी नहीं है!
    दाभोलकार,पनसारे और कलबुर्गी के हत्यारे,बाबरी विध्वंस,भोपाल गैस त्रासदी.देश विदेश दंगों और आतंकी हमलों,सिखों के नरसंहार,गुजरात के दंगों,सलवा जुड़ुम और आफस्पा,टोटल प्राइवेटेजाइशेन,टोटल विनिवेश,टोटल एफडीआी के सौदागर तमाम हारने लगे हैं,हमारा यकीन भी कीजिये।


    जिनने इस महादेश को कुरुक्षेत्र के मैदान में तब्दील कर दिया जो धर्म कर्म के नाम असत्य और अधर्म,अहिंसा और भ्रातृत्व के बदले हिंसा और नरसंहार,विश्वबंधुत्व के बदले  हिंदुत्व का ग्लोबल एजंडा और भारत तीर्थ की विविधता,वैचित्र्य के बदले गैरहिंदुओं के सफाये से देश को हिंदू बनाने के उपक्रम से कृषि,व्यवसाय और उद्योगधंधों की हत्या करके विदेशी पूंजी और विदेशी हितों के दल्ला बनकर महान  भारत देश की हत्या का राजसूय यज्ञ का आयोजन कर रहे थे। बाबुलंद ऐलानिया जिहाद जो  छेड़े हुए थे राष्ट्र के विवेक,सत्य, अहिंसा,न्याय,शांति समानता के बदले समरस मृत्यु उत्सव के नंगे कार्निवाल में हर मनुष्य को बंधुआ कंबंध बनाने के लिए हिंदू राष्ट्र के नाम पर। अंध राष्ट्रवाद के उन्मादी मुक्तबाजारी आवाहन के साथ।गौर से देख लो भइये,उनके रथ के पहिये धंसने लगे हैं।


    अरविंद केजरीवाल,आप हमारी सुन रहे हैं तो दिल्ली में तीनों महापालिकाओं के सफाई कर्मचारियों को न्याय दिलाने के लिए तुरंत पहल करें!आपके लिए ऐतिहासिक मौका है।देश की राजधानी में अछूतों और बहुजनों की सुनवाई नहीं है एकसौएक दिन के धरने और अब हड़ताल के बावजूद क्योंकि लोकतंत्र भी मूक वधिर है।
    पलाश विश्वास

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    CC News Letter 20 Oct - Two Young Dalit Children Burnt Alive In Haryana

    -- Dear Friend,

    If you think the content of this news letter is critical for the dignified living and survival of humanity and other species on earth, please forward it to your friends and spread the word. It's time for humanity to come together as one family! You can subscribe to our news letter here http://www.countercurrents.org/subscribe.htm. You can also follow us on twitter, http://twitter.com/countercurrents and on Facebook, http://www.facebook.com/countercurrents

    In Solidarity
    Binu Mathew
    Editor
    www.countercurrents.org


    Two Young Dalit Children Burnt Alive In Haryana
    By Countercurrents.org

    http://www.countercurrents.org/cc201015.htm

    Two young children from a Dalit family were burnt alive and their parents suffered injuries after their home in a Haryana village about 40 km from the Indian national capital New Delhi, was set afire allegedly by some persons from upper caste community deep in the night on Monday while the family were sleeping. Vaibhav, who was two-and-a-half years old, and his sister, 11-month-old Divya, died on the spot after the attackers allegedly poured petrol and set the house ablaze


    Lynch And Burn: Hindutva's Slaughter Methods
    By Megha Bahl & Sharmila Purkayastha

    http://www.countercurrents.org/pudr201015.htm

    Several incidents which have occurred on the heels of the Dadri lynching of September 30th demonstrate how the Hindutva agenda relies on mob violence. At the same time, the political success of the hate campaign has derived legitimacy from the Prime Minister's studied silence and been backed by comments such as those by the Union Minister, Mahesh Sharma, who described the Dadri incident as an "accident" or that by Chief Minister of Haryana, Manohar Lal Khattar, who stated, as recently as 15th October, that Muslims can reside in India provided they agree to give up eating beef


    Mighty Pen or Mightier Inkpot?
    By Parvin Sultana

    http://www.countercurrents.org/sultana201015.htm

    The might of the pen is pitted against the inkpot of mischief makers. Vandalizing book launches and press conferences is a direct violation of freedom of expression upholding which is the government's responsibility. The space for debate, discussion and deliberation is shrinking. Disagreement leads to violent consequences. Let a book be countered by another book, not an inkpot which is a coward's way out


    Europe Secretly Starts Imposing TTIP Despite The Public's Overwhelming Opposition
    By Eric Zuesse

    http://www.countercurrents.org/zuesse201015.htm

    The terms of Obama's proposed TPP 'trade' treaty with Asian countries won't be made public until the treaty has already been in force for at least four years. The terms of Obama's proposed TISA (Trade In Services Agreement) with 52 nations won't be made public until the treaty has already been in force for at least five years. Obama's proposed TTIP treaty with European countries has been so successfully hidden, that even the number of years it will be kept from the public isn't yet known. Hello, international fascism — all in secret, until too late for the public to do anything. But in Europe, things are being rushed, just in case secrecy breaks and the treaty fails to pass. The European Union is already secretly imposing provisions from the secret Transatlantic Trade and Investment Partnership (TTIP) treaty, even before anyone has signed it, and even before it has been formally approved in any nation


    Will The Crazed Neocons Bring Us Nuclear Winter?
    By Paul Craig Roberts

    http://www.countercurrents.org/pcr201015.htm

    As readers know, I have emphasized that the declared neoconservative intention of achieving global hegemony has resurrected the threat of nuclear armageddon as Russia and China are most definitely not going to submit, as every European country, the UK, Canada, Australia, New Zealand, Columbia, and Japan have submitted, to being Washington's vassals. The president of Russia and the president of China have made this completely clear. If the arrogance, ignorance and incompetence of the Western political systems permit the continuation of the crazed, totally unrealistic, neoconservative agenda, the planet will die


    Is Putin Iran's "Senior Partner" In Syria?
    By Franklin Lamb

    http://www.countercurrents.org/lamb201015.htm

    The Syrian people are the ones who in the past, present and future pay the price and hope that the carnage will end soon and that perhaps Russia and Iran can achieve the peace settlement that the USA and its allies could not


    Past Decade In Syria In 5 Minutes
    By David Swanson

    http://www.countercurrents.org/swanson201015.htm

    The accepted story in the United States of what's happened in Syria is just that, a story told to make narrative sense of something completely un-understood


    Are We An Experiment That Did Not Work?
    By David Anderson

    http://www.countercurrents.org/anderson201015.htm

    An increasingly damaged planet is crying out for sweeping and permanent change in the way we view our relationship to it. Our survival cannot take place without reinvention in all of the areas of our religious, social, economic and political thought. We are being called to experience a metamorphosis, a change in the way we think. If we resist, as Deepak Chopra is telling us: "We may be a human experiment that did not work."


    The Two Finger Test: Engendering Women
    By Nikita Azad

    http://www.countercurrents.org/nikita201015.htm

    The two-finger test is just an example of how democracy has failed immensely in providing justice to women, the gender; it is through the re-establishment of democracy only that gender oppression can be halted at the time of birth by engendering both the sexes to be each other's equals


    Dr R.M.Pal: Human Rights of The Most Marginalised
    Was His Uncompromising Passion
    By Vidya Bhushan Rawat

    http://www.countercurrents.org/rawat201015.htm

    The demise of Dr R M Pal at this crucial moment is a great blow to all the right thinking secular forces as we would often go to him and seek his advice on many issues confronting us. He was the man who always believed in the idea of a secular inclusive India and spoke regularly against the Hindutva's communalism. Though he is no longer with us, his writings will always inspire us to work for a secular democratic India. We promise to carry on his legacy for our better future
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!


    हमीं लाल हैं।हमीं फिर नील हैं।

    बाकी हिंदुत्व  महागठबंधन का फासिज्म है।

    अगर हम प्रभुवर्ग के गुलाम वफादार कुत्ते नहीं हैं तो अब भौंकने की बारी है।कयामत का मंजर बदलने की बारी है।कायनात की रहमतें बरकतें नियामतें बहाल करने का वक्त है।


    JAGO INDIA!Kejri refuses to release MCD Funds as VK Singh Exposed the APATHY against dogged Masses!

    पलाश विश्वास


    17 SEPT 2015 Nagarikatyer Nadi niye Mananiya griha mantri Sri Rajnath SINGH O Paribahan mantri Shri Nitin Gadkarir samne baktabya rakhchen Nikhil Bharat bangali Udbastu Samitir Sabhapati Dr.Subodh Biswas,Sange achen sri prasen raptan,dr ajit mallick,adv ambika ray,tapas ray,p gharami o nilima. amader dabi mene notification korechhaen . amra chai 2003 nagrikatyo ainer sangsodhan. se janyo agami 22 nov delhi avijan



    धन्यवाद वीके सिंह,मंत्री महाशय,यह सच खोलने के लिए कि हम आखिरकार कुत्ते हैं और हमें कुत्तों की मौत मार दिया जाये तो सत्ता को कोई ऐतराज नहीं है।हम यह समझा नहीं पा रहे थे।

    इस वीडियो में हमने ग्राम बांग्ला के कवि जसीमुद्दीन की कविता के विश्लेषण बांग्लादेशी आलोचक अबू हेना मुस्तफा कमाल की जुबानी पेश की है।इसमें बांग्ला कविता से ग्राम बांग्ला के बहिस्कार और साहित्य संस्कृति के नगरकेंद्रित बन जाने की कथा है।


    1793 में स्थाई भूमि बंदोबस्त कानून के तहत जो जमींदार वर्ग पैदा हुआ और1835 में भाषा विप्लव के तहत जो हिंदू मध्यवर्ग पैदा हुआ,उसके अवसान के गर्भ में पैदा हुआ हिंदुत्व का महागठबंधन और उन्हीं के स्वराज आंदोलन में शामिल होने से इंकार कर दिया महात्मा ज्योतिबा फूले और बंगाल में अस्पृश्यता मोचन के चंडाल आंदोलन के नेता गुरु चांद ठाकुर ने क्योंकि उन्हें मालूम ता कि मनुस्मृति शासन में आखिरकार हम कुत्ते बनकर जियेंगे और मरेंगे भी कुत्तों की तरह।


    हमने फिर सामाजिक यथार्थ के सौंदर्यसास्त्र की चर्चा की है और नवारुण भट्टाचार्य के उपन्यास कांगाल मालसाठ के छठें अध्याय के एक अंश का पाठ किया है,जो अछूतों और सर्वहारा वर्ग की मोर्चाबंदी के बारे में हैं।यह वीडियो आप जरुर देखेंःWhy I do quote Nabarun Bhattacharya?




    जागो भारत तीर्थ।सच कहा है वीके सिंह ने।गुस्सा न करें और सोचें कि कैसे हम इतिहास,भूगोल,विरासत से बेदखल प्रभु के गुण गाते हुए दाल रोटी से भी बेदखल हैं और कुत्तों की मौत मारे जा जा रहे हैं।हमारी स्त्रियां बलात्कार की शिकार हैं और हमारे बच्चे बंधुआ मजदूर हैं।हर जरुरत सेवा और इंसानियत से भी बेदखल।यह जागरण का वक्त है।


    इस फासिज्म के मुकाबले इंसानियत के भूगोल में गौतम बुद्ध के पंचशील के पुनरुत्थानकी जरुरत है।हमीं लाल हैं।हमीं फिर नील हैं।बाकी हिंदुत्व का महागठबंधन का फासिज्म है।अगर हम प्रभुवर्ग के गुलाम वफादार कुत्ते नहीं हैं तो अब भौंकने की बारी है।कयामत का मंजर बदलने की बारी है।कायनात की रहमतें बरकतें नियामतें बहाल करने का वक्त है।


    कुत्तों की मौत नहीं चाहिए तो इंसान बनकर दिखाइये।इस वोट बैंक में तब्दील बहुजन समाज को अब पहचान,अस्मिता,जाति ,धर्म ,नस्ल के तमाम दायरे तोड़कर एकी फीसद सत्तावर्ग के खिलाप निनानब्वे फीसद के जागरण का यही सहीसमय है।इस मनुस्मृति शासन के खिलाफ रीढ़ सीधी करके खड़ा होने का वक्त है।तभी राजनीति,राजनय और अर्थव्यवस्था पटरी है।


    दलितों के सारे राम अब हनुमान हैं और खामोश हैं।

    बाबासाहेब के नाम दुकाने जो चला रहे हैं,वे सारे लोग खामोश हैं।

    हमारे सांसद,मंत्री,विधायक वगैरह वगैरह खामोश हैं और हम कुत्तों की जिंदगी जीते हुए कुत्तों की मौत मर रहे हैं।


    दिल्ली में जब सफाई कर्मियों की सुनवाई नहीं है।तो समझ लीजिये कि यह संसद और यह केंद्र सरकार ,राज्य सरकारें,सांसद विधायक किसके लिए हैं।समझ लीजिये,फिर कश्मीर,मणिपुर और पूर्वोत्तर,मध्यभारत में लोकतंत्र का किस्सा ,कानून के राज का माहौल कैसे नरसंहार ,सलवा जुड़ुम और आफस्पा है


    दिल्ली में शरणार्थियों की रैसली होगी नवंबर में और देश के कोने कोने से लोग आयेंगे।असुरक्षा बोध की वजह से मुसलमानों की तरह सत्ता वर्ग के संरक्षण के बिना वे जी नहीं सकते और वे मोबाइल वोट बैंक हैं।दिल्ली में भाजपा और आरएसएस के नेता मंच पर होंगे।हम वहां हो ही नहीं सकते ।लेकिन हम अपने लोगों की हर लड़ाई में शामिल हैं और रहेंगे।

    What a baleful religion.


    "... Attackers said his writings were anti-Hindu as he talked about the caste system ..."


    Now Dalit youth burnt to death in Yamunanagar - Press Trust of India, Yamunanagar  October 23, 2015   http://www.business-standard.com/article/pti-stories/now-dalit-youth-burnt-to-death-in-yamunanagar-115102300650_1.html

    Close on the heels of two Dalit children being burnt alive in Faridabad, a 21-year-old Dalit youth was allegedly burnt to death by a former village head and his family members here over some old rivalry, police said today. The incident took place in Daulatpur village of the district on Tuesday. An old rivalry is suspected to be the reason behind it, police said.


    Sonepat victim's family refuses to cremate boy's body after CM Khattar claims it was suicide - Jagriti Chandra, CNN-IBN, Oct 23, 2015http://www.ibnlive.com/news/india/sonepat-victims-family-refuses-to-cremate-boys-body-after-cm-khattar-claims-it-was-suicide-1155386.html

    The family of the Sonepat victim on Friday refused to cremate the 15-year-old Dalit boy's body after Chief Minister Manohar Lal Khattar claimed it was a suicide. Two police officers have even been booked for murder in the case of the death of the boy who was charged with theft of a pigeon. Khattar has ruled out any caste conflict in the death of the boy in Gohana town in Sonepat district. The Chief Minister has claimed that it was a case of suicide.


    In The Dead of the Night, Hatred Burns Asad Ashraf, Tehelka, Issue 44, Volume 12, 31. 10. 2015 http://www.tehelka.com/2015/10/in-the-dead-of-the-night-hatred-burns/

    Two Dalit children were killed in Faridabad district when their house was set on fire. A close at the tragedy and its aftermath.  


    Faridabad case threatens to go the Khairlanji way - Subodh Ghildiyal, TNN | Oct 23, 2015, 04.51 AM IST http://timesofindia.indiatimes.com/india/Faridabad-case-threatens-to-go-the-Khairlanji-way/articleshow/49499262.cms

    NEW DELHI: Even before the dust settles, the gruesome burning of dalit infants in Sunped village is being dubbed a case of personal enmity of two families and not a caste crime. Faridabad has an echo of the horrific Khairlanji massacre in Maharashtra (2006) in which courts ruled it was a grotesque crime but not dictated by victims' caste identity - not a crime under Prevention of Atrocities Act (POA). The moot question is where does a crime against a dalit stop being a "dalit atrocity" and become a general offence?


    Young Dalit writer targeted in Davanagere Mohit M. Rao, The Hindu, Bengaluru, October 23, 2015 http://www.thehindu.com/news/national/karnataka/young-dalit-writer-targeted-in-davanagere/article7793036.ece?homepage=true

    Attackers said his writings were anti-Hindu as he talked about the caste system A young Dalit writer was attacked by a group of men for his writings against the caste system perceived to be "anti-Hindu", at Davanagere in Central Karnataka early on Thursday.


    Caste – India's curse - Mari Marcel Thekaekara, New Internationalist (Blog), October 22, 2015 http://newint.org/blog/2015/10/22/indias-curse/

    Another day, another Dalit death. We must hang our heads in shame It's been a nasty, brutish week. On the heels of 2 little girls being raped, India awoke to another horror story: just outside Delhi, 2 Dalit children, aged 9 months and 2.5 years, were cold-bloodedly burnt to death in a ghastly tale of revenge and caste hatred.


    Dalits attacked in Dehradun temple - Piyush Shrivastava, Mail Today, Lucknow, October 23, 2015 http://indiatoday.intoday.in/story/dalits-attacked-in-dehradun-temple/1/505418.html

    The cops accepted the complaint only when a large number of Dalits, led by Jabbar Singh, a local Dalit leader sat on dharna at the police station.  


    Temple Fest Turns Violent in Madurai, Dalit Vehicles Burnt by Caste Hindus By Pon Vasanth Arunachalam Published: 23rd October 2015http://www.newindianexpress.com/states/tamil_nadu/Temple-Fest-Turns-Violent-in-Madurai-Dalit-Vehicles-Burnt-by-Caste-Hindus/2015/10/23/article3092733.ece

    MADURAI:Tension prevailed in Elumalai and Athankaraipatti villages after at least four vehicles belonging to Dalits from the latter village were torched by caste Hindus and few others were injured in a clash that broke out on Wednesday evening at a temple festival. The villages, located around 60 km west of Madurai, were celebrating the Muthalamman temple festival.


    Dalit cousins assaulted by supporters of Jat candidate, 1 critical Pankul Sharma, TNN | Oct 23, 2015, 07.28 AM IST http://timesofindia.indiatimes.com/city/meerut/Dalit-cousins-assaulted-by-supporters-of-Jat-candidate-1-critical/articleshow/49499822.cms

    MEERUT: Supporters of a Jat candidate for village head allegedly assaulted two Dalit cousins who refused to support the candidate late on Wednesday night. The victims, one of who is in critical condition, are in hospital while an FIR has been filed against four assailants. 


    Haryana Dalit attacks: 7-fold jump in 3 govts - Manoj C G, Indian Express, New Delhi, October 22, 2015 http://indianexpress.com/article/india/india-news-india/haryana-dalit-attacks-7-fold-jump-in-3-govts/

    The major cases of violence include lynching of five Dalits in Dulina village in Jhajjar district in 2002, burning down of Dalit houses in Gohana in 2005 and burning alive of a physically challenged girl and her septuagenarian father in Mirchpur in 2010.

    Data available with the National Crime Records Bureau (NCRB) show a seven-fold increase over 15 years in the number of incidents of crime against Scheduled Castes in Haryana.


    आज तक

     - ‎5 घंटे पहले‎

    देश में दलितों पर बढ़ते हमलों के खिलाफ रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (आरपीआई) ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. पार्टी ने मांग की है कि दलितों को आत्मरक्षा के लिए हथियार दिए जाएं. आरपीआई के अध्यक्ष रामदास अठावले ने नागपुर में कहा कि अगर पुलिस और सरकार दलितों पर हमले नहीं रोक सकतीं तो इन्हें आत्मरक्षा के लिए दलितों को हथियार का लाइसेंस देना चाहिए. उन्होंने कहा कि 'पहले भी दलितों पर हमले हो रहे थे और अब भी ये जारी हैं. इसलिए दलितों के पास अपनी आत्मरक्षा करने के अलावा कोई और विकल्प नहीं है.' अठावले और आरपीआई के कार्यकारी अध्यक्ष उत्तम खोबरागडे ने हरियाणा के फरीदाबाद .


    Opportunity lost!Kejriwal refuses to allot funds to MCD, asks BJP to quit civic corporations!Sanitary workers on strike in Delhi might not have ears whatsoever for hearing grievances,their plight during this festive session and Killings continue.Suicides continue.

      साहित्य अकादमी के बाहर लेखकों के खिलाफ लेखकों ...

      दैनिक भास्कर-22/10/2015

      साथ ही वे इस प्रदर्शन के जरिए साहित्यकारों पर बढ़ते हमलों की तरफ अकादमी का ध्यान खींचना चाहते हैं। वहीं दूसरी ओर ... कर्नाटक के देवेनगेरे में एक दलितसमुदाय के लेखक पर कास्ट सिस्टम के खिलाफ लिखने पर हमला किया गया है। लेखक का ...

      बीबीसी हिन्दी की दलितों पर बढ़ते हमलों के खिलाफ के लिए कहानी चित्र

      भाजपा राम मंदिर बनाएगी लेकिन कब : उद्धव ठाकरे

      बीबीसी हिन्दी-22/10/2015

      शिव सेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने मुंबई में दशहरा के दिन सहयोगी दल भारतीय जनता पार्टी पर जमकर हमला बोला है. उन्होंने गोवध, मंहगाई और फ़रीदाबाद मेंदलितों की हत्या समेत कई मुद्दों पर भाजपा को घेरा. शिवाजी पार्क से दिए अपने भाषण में उद्धव ठाकरे ने तंज कसते हुए कहा, "गाय नहीं मंहगाई, गोवध की बजाएबढ़ते दामों पर बात ... उन्होंने अपने भाषण में पाकिस्तान को भी निशाना बनाया और कहा कि जैसे राम ने रावण के खिलाफ़ युद्ध छेड़ा था, वैसे ही पाकिस्तान के खिलाफ कदम उठाने चाहिए.

      Janwarta की दलितों पर बढ़ते हमलों के खिलाफ के लिए कहानी चित्र

      दलित का घर जलाने की CBI जांच होगी: बच्चों के ...

      दैनिक भास्कर-21/10/2015

      दबंगों के हमले में अपने बेटे और बेटी को खो चुके जितेंद्र नाम के दलित शख्स ने दोनों बच्चों का अंतिम संस्कार करने से ... बढ़ते तनाव के मद्देनजर हरियाणा केसीएम मनोहरलाल खट्टर ने बुधवार को होने वाला सुनपेड गांव का दौरा टाल दिया। ... बच्चों की लाश को सड़क पर रखकर बैठे परिजनों की मांग थी कि जब तक आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई नहीं होगी तब तक वे ...

      पलपल इंडिया की दलितों पर बढ़ते हमलों के खिलाफ के लिए कहानी चित्र

      मायावती का प्रहार, कहा- बीजेपी के राज में ...

      पलपल इंडिया-23/10/2015

      हाल के दिनों में दलितों के उत्पीड़न व हत्या की घटनाओं को लेकर BSP सुप्रीमो मायावती ने बीजेपी पर हमला बोला है. मायावती ने कहा है ... उनका बयान पूरे देशके दलितों के मान सम्मान के खिलाफ है. हमारी ... हंगामा बढ़ने के बाद हरियाणा सरकार ने इस मामले की जांच सीबीआई से कराने की सिफारिश की.

      पंजाब केसरी की दलितों पर बढ़ते हमलों के खिलाफ के लिए कहानी चित्र

      फरीदाबाद हत्याकांड पर दिए बयान को लेकर घिरे वीके ...

      पंजाब केसरी-22/10/2015

      सभी राजनीतिक दलों ने सिंह की टिप्पणी को लेकर उन पर जुबानी हमले करने शुरू कर दिए हैं। ... आप के वरिष्ठ नेता आशुतोष ने कहा कि एससी-एसटी एक्ट केतहत गिरफ्तारी की मांग करते हुए सिंह के खिलाफ एक प्राथमिकी ... हरियाणा में दो दलित बच्चों को जिंदा जलाए हत्या पर केंद्रीय मंत्री समेत भाजपा के कुछ नेताओंके द्वारा दिए गए ... हालांकि विवाद बढ़ने के बाद वी.

      khaskhabar.com हिन्दी की दलितों पर बढ़ते हमलों के खिलाफ के लिए कहानी चित्र

      मुस्लिम हमलों में घृणा मुहिम:CPM

      khaskhabar.comहिन्दी-22/10/2015

      नई दिल्ली। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी ने कहा है कि अल्पसंख्यकों पर लगातारबढते हमलों की वजह सिर्फ असिहष्णुता नहीं है बल्कि यह मुसलमानों के खिलाफलगातार चलाए जाने वाले अभियान का नतीजा है। इसके लिए राष्ट्रीय ...

      आज तक की दलितों पर बढ़ते हमलों के खिलाफ के लिए कहानी चित्र

      कन्‍नड़ लेखक ने भी छोड़ी साहित्य अकादमी

      आज तक-11/10/2015

      उन्होंने बताया, मैंने कलबुर्गी की हत्या की निंदा करते हुए इस मुद्दे पर अकादमी की चुप्पी को लेकर इस्तीफा दिया है. उन्‍हें बोलना चाहिए था और ऐसे कार्यों के खिलाफअपनी निंदा जाहिर करनी चाहिए थी. ... उनकी गवर्नमेंट ब्राह्मण कन्नड़ में प्रथमदलित आत्मकथा है जिसे कर्नाटक साहित्य अकादमी पुरस्कार मिला है. ... लगातार लेखकों के बढ़ते विरोध के बीच साहित्य अकादमी ने कहा है कि वह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के पक्ष में है और कहीं भी किसी भी लेखक या कलाकार पर हमले की ...

      कटघरे में संघ नहीं 'जनता की सामूहिक चेतना ' है

      hastakshep-18/10/2015

      ... खाने की अफवाह फैलाकर साम्प्रदायिक उन्मादियों द्वारा एक मुस्लिम परिवार पर हमला करके 50 वर्षीय एखलाक नाम के व्यक्ति ... इसलिए, दादरी की घटना भारतीय राजनीति और उसके द्वारा निर्मित जनता और उसकी सामूहिक (जिसमें निश्चित तौर पर मुसलमान ... पर सवाल उठाती है जिसके चुनावी महोत्सव में मुसलमानों के खिलाफ हिंसा और जनसंहार सबसे जरूरी चढ़ावा बन गया है। ... दूसरे, दलितों के साथ होने वाले भेद भाव और हिंसा को रोकने के लिए बनाए गए दलित ऐक्ट की तरह मुसलमानों केसाथ होने ...

      Jansatta की दलितों पर बढ़ते हमलों के खिलाफ के लिए कहानी चित्र

      'मोदी चाहे तो भागवत को भारत रत्न दे, लेकिन मैं ...

      Jansatta-29/09/2015

      लालू प्रसाद ने ट्वीट किया, ''मोदी आरक्षण खत्म करने के लिए मोहन भागवत को भारत रत्न दे लेकिन पिछड़ों, दलितों, गरीबों ... मोदी और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत पर सीधा हमला बोलते हुए कहा कि वह चुप नहीं बैठेंगे और पिछड़ों, दलितोंऔर गरीबों के ... चाहे संयुक्त राष्ट्र में जाकर उनके खिलाफ याचिका दे दें, वह आरक्षण बढ़ने और जातीय जनगणना के आंकड़े प्रकाशित ...

        दलितों का मंदिर प्रवेश आंदोलन : दिमागी गुलामी ...

        hastakshep-13/10/2015

        सिख समाज पैसे से मजबूत जरूर है, लेकिन धार्मिक नेतृत्व के चलते उनका बहुत नुक्सान भी हुआ है और अभी भी सिख अपने धार्मिक कठमुल्लाओं के खिलाफ ... जब धार्मिक विचारधारा और उसमें व्याप्त कुरीतियां, अन्धविश्वास, जातिवाद, छुआछूत पर हमला नहीं होगा, तो मंदिर ... जौनसार क्षेत्र का राजनैतिक नेतृत्व अपने को आदिवासी कहता है लेकिन यहाँ के दलितों पर हो रहे अत्याचार और ... आजदलित हिन्दू केवल उनकी आबादी बढ़ने के लिए हैं, अन्यथा हिन्दू व्यवस्था में उनका कोई सम्मान नहीं है।

        पेट्रोल पंप ने 51 रुपए ज्यादा लिए, कोर्ट ने 5000 ...

        Nai Dunia-24/09/2015

        मंडला(ब्यूरो)। जिला उपभोक्ता फोरम ने एक पेट्रोल पंप संचालक को ट्रांसपोर्टर से 51.50 रुपए अधिक लेने के मामले में 5000 रुपए चुकाने के आदेश दिए हैं। मामला 2014 का है। पीड़ित का आरोप था कि पेट्रोल पंप से उसने ट्रक में डीजल डलवाया ...

        Nai Dunia की दलितों पर बढ़ते हमलों के खिलाफ के लिए कहानी चित्र

        अपनों से ही हैं जहां की खुशियां...

        Nai Dunia-24/09/2015

        माता-पिता अथवा घर के बुजुर्ग भी वही हैं और आप भी वही हो, बस दो पीढ़ियों केबीच उम्र के बढ़ते रहने पर थोड़ा-सा फेरबदल नजरिए तथा सोचने-समझने का होने लगता है। कई बार चाहते हुए भी घर के तमाम सदस्य व्यस्तताओं की वजह से आपस में खुलकर ...

        हिंदुत्व के आतंक का दौर

        hastakshep-02/10/2015

        हकीकत यह है के मुसलमानो पर हमले होते रहेंगे ताकि उनके दलित विरोधी, आदिवासी विरोधी और पिछड़ा विरोधी नीतियों और कानूनों पर ... छोटे कस्बों और गाँव में अफवाहों के जरिये दलितों और पिछड़ों को मुसलमानों के खिलाफ खड़ा करो।

        जहर मिलता रहा, जहर पीते रहे, रोज मरते रहे, वोट करते रहे ...

        Bhadas4Media-05/10/2015

        और खुद लोग जो एक छोटी सी वजह से इस तरह की गंभीर बीमारी के शिकार हो जा रहे हैं, जिनको वोट देते हैं, उन पर दबाव क्यों नहीं बनाते कि वे ... थोड़ा आगे बढ़ने पर मिली सियामनी देवी। ... पिछले चुनाव में इनके खिलाफ जदयू ने एक मुस्लिम उम्मीदवार को मैदान में उतारा था, इस उम्मीद में कि इस क्षेत्र में ... पेयजल विभाग के संसाधनों पर गांव की दबंग जातियां हर बार कब्जा कर लेती हैं और दलित, गरीब-गुरबों के हाथ में कुछ नहीं आता। ... मगर फ्लोराइड ने एक बार फिर गांव के बच्चों पर हमला कर दिया है।

        गर्भवती महिला की मौत, हॉस्पिटल में पिटे परिजन

        अमर उजाला-28/09/2015

        कर्मचारियों-डॉक्टरों के अलावा बाहरी गुंडों को भी बुलाकर परिजनों पर रॉ़ड से हमला किया गया। ... हॉस्पिटल में हंगामा बढ़ने पर कीडगंज थाना पुलिस पहुंची। ... बंसल समेत कई डॉक्टरों-कर्मचारियों के खिलाफ इलाज में लापरवाही से मौत, मारपीट, गालीगलौज और दलित उत्पीड़न का केस लिखकर शालू का शव पोस्टमार्टम ...

        एनडीटीवी खबर की दलितों पर बढ़ते हमलों के खिलाफ के लिए कहानी चित्र

        अमेरिका ने आतंकी हमले पर दुनियाभर में अपने ...

        एनडीटीवी खबर-29/07/2015

        वाशिंगटन: अमेरिका ने आतंकवाद के बढ़ते खतरे को देखते हुए अपने नागरिकों को भारत सहित विश्वभर में आतंकवाद ... के हितों खासकर पश्चिम एशिया, उत्तर अफ्रीका, यूरोप और एशिया के खिलाफ बदले में किए जाने वाले हमलों के बढ़नेकी ...

        Deutsche Welle की दलितों पर बढ़ते हमलों के खिलाफ के लिए कहानी चित्र

        आईआईटी में जगह बनाने वाले दलित भाइयों पर हमला

        Deutsche Welle-23/06/2015

        आईआईटी में जगह बनाने वाले दलित भाइयों पर हमला. भारत के प्रतिष्ठित तकनीकी संस्थान आईआईटी में जगह बनाने वाले उत्तर प्रदेश के दलित भाइयों को केंद्र और राज्य सरकार से मदद के एलान के बाद नई मुसीबत झेलनी पड़ रही है. उनके घर पर रविवार को हमले के ...

        बीबीसी हिन्दी की दलितों पर बढ़ते हमलों के खिलाफ के लिए कहानी चित्र

        तुर्की आईएस को बचा रहा है: कुर्द नेता

        बीबीसी हिन्दी-09/08/2015

        कुर्द लड़ाकों के संगठन पीकेके के नेता चेमिल बेइक ने तुर्की पर आरोप लगाया है कि वो कुर्दों पर हमले कर 'इस्लामिक स्टेट' को ... कि उन्हें लगता है कि राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप एर्दोआन चाहते हैं कि आईएस कुर्द लड़ाकों को आगे बढ़ने से रोकने में सफल हो जाए. ... कुर्द संगठन पीकेके ने सीरिया और इराक में आईएस चरमपंथियों के खिलाफ महत्वपूर्ण जीत हासिल की है, लेकिन कई पश्चिमी ... सोनीपत में दलितकी 'पुलिस हिरासत में मौत'.


      Khabar IndiaTV की दलितों पर अत्याचार के लिए कहानी चित्र

      दलित पर कहर

      Jansatta-20/10/2015

      हरियाणा के एक गांव में एक दलित परिवार पर जो कहर बरपा वह स्तब्ध कर देने वाला है। ... कई लोगों का मानना है कि निजी झगड़ों को भी दलितों के खिलाफ हिंसा का मामला मान लिया जाता है और दलितों पर अत्याचार के आंकड़ों में बढ़ोतरी ...

      Nai Dunia की दलितों पर अत्याचार के लिए कहानी चित्र

      लालू ने फिर भरी हुंकार, कहा भाजपा शासन में ...

      News Track-23/10/2015

      जिसमें उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के शासनकाल में दलितों पर अत्याचार हो रहा है। पूर्व केंद्रीय मंत्री लालूप्रसाद यादव ने कहा कि आखिर देश में यह सब क्या हो रहा है। उन्होंने ट्विटर पर ट्विट कर कहा कि जुबान में हड्डी तो ...

      Jansatta की दलितों पर अत्याचार के लिए कहानी चित्र

      'आत्मरक्षा के लिए दलितों को दो हथियार' : RPI

      Jansatta-3 घंटे पहले

      देश में दलितों पर बढ़ते हमलों के खिलाफ रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (आरपीआई) ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। ... मुंबई में खोबरागडे ने कहा कि सिंह के खिलाफ दलितों पर अत्याचार रोकने से जुड़े कानूनों के तहत मामला दर्ज किया जाए.

      haribhoomi की दलितों पर अत्याचार के लिए कहानी चित्र

      हरियाणा: दलितों पर अत्याचार को लेकर भड़कीं बसपा ...

      haribhoomi-23/10/2015

      मायावती ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि बीजेपी, कांग्रेस या फिर अन्य किसी विरोधी पार्टी की सरकार रही हों, इनमें दलितों के प्रति जातिवादी मानसिकता है। उस परचलकर दलितों के साथ बड़े पैमाने पर शोषण और अपमान होता रहा है।

      News18 Hindi की दलितों पर अत्याचार के लिए कहानी चित्र

      'दलितों पर अत्याचार नहीं रोक पा रही वसुंधरा राजे ...

      News18 Hindi-29/09/2015

      बसपा पदाधिकारियों ने सरकार पर दलितों पर हो रहे अत्याचारों को रोक पाने में नाकाम रहने के आरोप लगाए. ... वहीं बसापा के दौसा जिलाध्‍यक्ष रामकिशन जाटव ने कहा कि अगर राजस्‍थान सरकार दलितों के विरोधी रुख को ही अपनाये रही तो इसके ...

      पंजाब केसरी की दलितों पर अत्याचार के लिए कहानी चित्र

      प्रदेश में दलितों पर दबंगों अत्याचार बढ़े : तंवर

      पंजाब केसरी-12/10/2015

      करनाल (कमल मिड्ढा) : बजिदा गांव में पहुंचे कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष अशोक तंवर ने कहा कि प्रदेश में दलित ओर पिछड़ा वर्ग सुरक्षित नहीं है। सी.एम. सिटी में भी जब दलित सुरक्षित नही है तो प्रदेश का क्या हाल होगा। यहां पर दलितों पर ...

      पिछड़ों दलितों पर कब थमेगा जुल्मों का सिलसिला ...

      दैनिक भास्कर-9 घंटे पहले

      ओबीसीब्रिगेड के राष्ट्रीय संगठन महामंत्री गजानंद सोनी ने देश-प्रदेश में पिछड़ों दलितों पर हो रहेअत्याचार की घटनाओं की कड़ी निंदा करते हुए कहा है कि आखिर पिछड़ों दलितों पर हो रहे अत्याचार कब रुकेंगे उन्होंने कहा कि ...

    A civil society delegation that included activists and senior gandhians visited Sunped village of Haryana today. This delegation includes Swami Agnivesh…

    Delhi Chief Miniter Arvind Kejriwal has refused to allot funds to three municipal corporations of the city saying the central government has not given enough funds to the state government.

    All three corporations, ruled by BJP, are asking for funds from the state government. In the state assembly, Kejriwal said, "give us at least Rs 6000 crore or Rs 7000 crore. Rs 325 crore is like a charity to the people of Delhi. Yesterday, Finance Minister told us that Central government had to give us Rs 6000 crore for the allotment to local bodies of Delhi, they didn't give us even that. Give us the money and we will give it to the municipal corporations.


    Irom Sharmila, a woman from Manipur is completing 15 years of her hunger protest on 2nd Nov. She is observing fast as a form of protest since the year 2000 (when she was about 28 years old), and she had started it just after Malom massacre where Assam rifles had fired upon local civilians who were waiting at a bus stand in Malom, Imphal (Manipur) and all were killed. Irom decided to register her protest because incidents of torture and killings were common in Manipur and in the veil of the powers under AFSPA, nothing could be done against culprit security personals. PL SIGN PETITION


    Irom Sharmila, a woman from Manipur is completing 15 years of her hunger protest on 2nd Nov. She is observing fast as a form of protest since the year 2000 (when she was about 28 years old), and she had started it just after Malom…



    झारखंड में 2011 से दशहरा के दिन महिषासुर शहादत दिवस मनाया जा रहा है.


    हरियाणा के फरीदाबाद में दलित-मासूमों की हत्या : वेद और मनुस्मृति के बहाने राजनीति करने…

    बल्लभगढ़-क्या यह निजी और पारिवारिक रंजिश है ? क्या इसका जातिगत भेदभाव से कुछ लेनादेना नहीं है ?और इसके साल भर बाद , पुलिस सुरक्षा के बावजूद , अगर मलिकारों को छुप कर आगजनी करनेका मौक़ा मिल गया तो क्या यह महज एक सुरक्षा -चूक थी?

    The protest Many noted writers and poets have returned their Sahitya Akademi awardsThis comes in the wake of the killing of Kannada writer MM Kalburgi by…


    0 0


    इस दरिन्दगी को क्या कहा जाये ? यह किस ख़ाने में रखी जा सकेगी ? घटना घाज़ियाबाद (उ.प्र.) के मोदीनगर इलाके की है.

    In a bizarre set of event, a 26-year-old dead woman was gangraped by three in Ghaziabad's district, after digging her
    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!


    https://youtu.be/yjOnYEWSz3Q



    Silent Protest March of Writers to Sahitya Academy, Delhi. 
    कलमकारों-कलाकारों का ख़ामोश जुलूस
    ------------------------------------------
    ख़ामोशी की भी जुबां होती है 
    ज़ुल्मी उससे भी ख़ौफ़ खाता है 
    हमारी आज़ादी की हिफ़ाज़त 
    हम ख़ामोशी से भी करना जानते हैं 
    और उतनी ही अच्छी तरह हम जानते हैं
    तुम्हारे कानों के परदे फाड़ देने वाली एकजुट आवाज़ में 
    इंक़लाब के नारे लगाना और आज़ादी के तराने गाना।



    हमीं लाल हैं।हमीं फिर नील हैं।

    बाकी हिंदुत्व  महागठबंधन का फासिज्म है।



    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    https://youtu.be/yjOnYEWSz3Q



    Silent Protest March of Writers to Sahitya Academy, Delhi. 
    कलमकारों-कलाकारों का ख़ामोश जुलूस
    ------------------------------------------
    ख़ामोशी की भी जुबां होती है 
    ज़ुल्मी उससे भी ख़ौफ़ खाता है 
    हमारी आज़ादी की हिफ़ाज़त 
    हम ख़ामोशी से भी करना जानते हैं 
    और उतनी ही अच्छी तरह हम जानते हैं
    तुम्हारे कानों के परदे फाड़ देने वाली एकजुट आवाज़ में 
    इंक़लाब के नारे लगाना और आज़ादी के तराने गाना।



    हमीं लाल हैं।हमीं फिर नील हैं।

    बाकी हिंदुत्व  महागठबंधन का 


    फासिज्म है।


    मेरे लेखको! किसका इंतज़ार है और कब तक?

    Posted by Reyaz-ul-haque on 10/24/2015 04:25:00 PM


    दलितों-मुसलमानों और लेखकों पर फासीवादी हमलों और हत्याओं के विरोध में लेखकों द्वारा पुरस्कार लौटाए जाने और अपना सख्त विरोध दर्ज कराने के संदर्भ में कैच के सीनियर असिस्टेंट एडीटर, कवि, गायक और चित्रकार पाणिनि आनंद का लेख. अनुवाद: अभिषेक श्रीवास्‍तव
     

    इसमें कोई संदेह नहीं है कि भारत के लेखकों और कवियों ने साहित्‍य अकादमी से मिले पुरस्‍कार (और एक मामले में पद्मश्री) लौटा कर इतिहास बनाया है। 

    यह इसलिए और ज्‍यादा अहम है क्‍योंकि पुरस्‍कार लौटाने वाले लेखक किसी एक पंथ या विचारधारा के वाहक नहीं हैं, वे किसी एक भाषा में नहीं लिखते और किसी जाति अथवा धर्म विशेष से नहीं आते। इनका खानपान भी एक जैसा नहीं है। कोई सांभरप्रेमी है, कोई गोबरपट्टी का वासी है तो कोई द्रविड़ है। 

    ये सभी अलग-अलग पृष्‍ठभूमि से आते हैं। इनकी संवेदनाएं भिन्‍न हैं और इनकी आर्थिक पृष्‍ठभूमि भी भिन्‍न है। बावजूद इसके, ये सभी एक सूत्र से परस्‍पर बंधे हुए हैं। यह सूत्र वो संदेश है जो ये लेखक सामूहिक रूप से संप्रेषित करना चाहते हैं, ''मोदीजी, हम आपसे अहमत हैं, हम आपकी नाक के नीचे आपकी विचारधारा वाले लोगों द्वारा अभिव्‍यक्ति की आज़ादी पर किए जा रहे हमलों से आहत हैं।''

    कैसे सुलगी चिन्गारी

    इस ऐतिहासिक अध्‍याय की शुरुआत कन्‍नड़ के तर्कवादी लेखक एम.एम. कलबुर्गी की हत्‍या से हुई थी।   

    इस घटना के सिलसिले में हिंदी के प्रतिष्ठित लेखक उदय प्रकाश के साथ पत्रकार और प्रगतिशील कवि अभिषेक श्रीवास्‍तव की बातचीत हो रही थी। कलबुर्गी और उससे पहले नरेंद्र दाभोलकर व गोविंद पानसारे की सिलसिलेवार हत्‍या पर दोनों एक-दूसरे से अपनी चिंताएं साझा कर रहे थे। नफ़रत और गुंडागर्दी की इन घटनाओं के खिलाफ़ दोनों एक भीषण प्रतिरोध खड़ा करने पर विचार कर रहे थे। 

    उदय प्रकाश इस बात से गहरे आहत थे कि साहित्‍य अकादमी ने कलबुर्गी की हत्‍या पर शोक में एक शब्‍द तक नहीं कहा। उनके लिए एक शोक सभा तक नहीं रखी गई। प्रकाश कहते हैं, ''आखिर अकादमी किसी ऐसे शख्‍स को पूरी तरह कैसे अलग-थलग छोड़ सकती है जिसे उसने कभी अपने सबसे प्रतिष्ठित पुरस्‍कार से नवाज़ा था? यह तो बेहद दर्दनाक और हताशाजनक है।'' 

    फिर उन्‍होंने विरोध का आगाज़ करते हुए पुरस्‍कार लौटाने का फैसला लिया और अगले ही दिन इसकी घोषणा भी कर दी। इस घोषणा के बाद दिए अपने पहले साक्षात्‍कार में उदय ने कैच को (''नो वन हु स्‍पीक्‍स अप इज़ सेफ टुडे'', 6 सितंबर 2015) इसके कारणों के बारे में बताया था और यह भी कहा था कि दूसरे लेखकों को भी यही तरीका अपनाना चाहिए।

    विरोध का विरोध

    अब तक कई अन्‍य लेखक और कवि अपने पुरस्‍कार लौटा चुके हैं। बीते 20 अक्‍टूबर को दिल्‍ली के प्रेस क्‍लब ऑफ इंडिया में आयोजित लेखकों व कवियों की एक प्रतिरोध सभा ने अभिव्‍यक्ति की आज़ादी पर हमले की कठोर निंदा की। 

    फिर 23 अक्‍टूबर को कई प्रतिष्ठित लेखकों, कवियों, पत्रकारों और फिल्‍मकारों की अगुवाई में एक मौन जुलूस साहित्‍य अकादमी तक निकाला गया और उसे एक ज्ञापन सौंपा गया। 

    इनका स्‍वागत करने के लिए वहां पहले से ही मुट्ठी भर दक्षिणपंथी लेखक, प्रकाशक और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता जमा थे जो ''पुरस्‍कार वापसी तथा राजनीतिक एजेंडा वाले कुछ लेखकों द्वारा अकादमी के अपमान'' का विरोध कर रहे थे। 

    साहित्‍य अकादमी के परिसर के भीतर जिस वक्‍त ये दोनों प्रदर्शन जारी थे, मौजूदा हालात पर चर्चा करने के लिए अकादमी की एक उच्‍चस्‍तरीय बैठक भी चल रही थी। 

    बैठक के बाद अकादमी ने एक संकल्‍प पारित किया जिसमें कहा गया है: ''जिन लेखकों ने पुरस्‍कार लौटाए हैं या खुद को अकादमी से असम्‍बद्ध कर लिया है, हम उनसे उनके निर्णय पर पुनर्विचार करने का अनुरोध करते हैं।''

    और सत्‍ता हिल गई

    जिस देश में क्षेत्रीय भाषाओं के लेखक और कवि इन पुरस्‍कारों से मिली राशि के सहारे थोड़े दिन भी गुज़र नहीं कर पाते, वहां ''ब्‍याज समेत पैसे लौटाओ'' जैसी प्रतिक्रियाओं का आना बेहद शर्मनाक हैं।

    राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ और उसकी अनुषंगी संस्‍थाओं के सदस्‍यों और नेताओं की ओर से जिस किस्‍म के भड़काने वाले बयान इस मसले पर आए हैं, उसने यह साबित कर दिया है कि लेखक सरकार का ध्‍यान इस ओर खींचने के प्रयास में असरदार रहे हैं। 

    और हां, जेटलीजी, जब आप कहते हैं कि यह प्रतिरोध नकली है, तो समझिए कि आप गलत लीक पर हैं। लेखक दरअसल इससे कम और कर भी क्‍या सकता है। सत्‍ता प्रतिष्‍ठान के संरक्षण में जिस किस्‍म की बर्बरताएं की जा रही हैं, हर रोज़ जिस तरह एक न एक घटना को अंजाम दिया जा रहा है और देश का माहौल बिगाड़ा जा रहा है, यह एक अदद विरोध के लिए पर्याप्‍त कारण मुहैया कराता है।

    अब आगे क्‍या?

    लेखकों व कवियों के सामने फिलहाल जो सबसे अहम सवाल है, वो है कि अब आगे क्‍या? 

    यह लड़ाई सभी के लिए बराबर सम्‍मान बरतने वाले और बहुलता, विविधता व लोकतंत्र के मूल्‍यों में आस्‍था रखने वाले इस देश के नागरिकों तथा कट्टरपंथी गुंडों के गिरोह व उन्‍हें संरक्षण देने वाले सत्‍ता प्रतिष्‍ठान के बीच है। 

    इस प्रदर्शन ने स्‍पष्‍ट तौर पर दिखा दिया है कि लेखक बिरादरी इनसे कतई उन्‍नीस नहीं है, लेकिन अभी लेखकों के लिए ज्‍यादा अहम यह है कि वे व्‍यापक जनता के बीच अपनी आवाज़ को कैसे बुलंद करें। ऐसा महज पुरस्‍कार लौटाने से नहीं होने वाला है। यह तो फेसबुक पर 'लाइक' करने जैसी एक हरकत है जिससे कुछ ठोस हासिल नहीं होता। 

    एकाध छिटपुट उदाहरणों को छोड़ दें, तो बीते कुछ दशकों के दौरान साहित्‍य में कोई भी मज़बूत राजनीतिक आंदोलन देखने में नहीं आया है। कवि और लेखकों को सड़कों पर उतरे हुए और जनता का नेतृत्‍व किए हुए बरसों हो गए। 

    मुझे याद नहीं पड़ता कि पिछली बार कब इस देश के लेखकों ने किसानों की खुदकशी, दलितों के उत्‍पीड़न, सांप्रदायिक हिंसा और लोकतांत्रिक मूल्‍यों व नागरिक स्‍वतंत्रता पर हमलों के खिलाफ कोई आंदोलन किया था। वे बेशक ऐसे कई विरोध प्रदर्शनों का हिस्‍सा रहे हैं, लेकिन नेतृत्‍वकारी भूमिका उनके हाथों में कभी नहीं रही। न ही पिछले कुछ वर्षों में कोई ऐसा महान साहित्‍य ही रचा गया है जिसने किसी सामाजिक सरोकार को मदद की हो।

    पिछलग्‍गू न बनें, नेतृत्‍व करें

    एक लेखक आखिर है कौन? वह शख्‍स, जो समाज के बेहतर और बदतर तत्‍वों की शिनाख्‍त करता है और उसे स्‍वर देता है। 

    एक कवि होने का मतलब क्‍या है? वह शख्‍स, जो ऐसे अहसास, भावनाओं और अभिव्‍यक्तियों को इस तरह ज़ाहिर कर सके कि जिसकी अनुगूंज वृहत्‍तर मानवता में हो। 

    मेरे प्रिय लेखक, आप ही हमारी आवाज़ हैं, हमारी कलम भी, हमारा काग़ज़ और हमारी अभिव्‍यक्ति भी। वक्‍त आ गया है कि आप आगे बढ़कर चीज़ों को अपने हाथ में लें। 

    अब आपको जनता के बीच निकलना होगा और उसे संबोधित करना ही होगा, फिर चाहे वह कहीं भी हो- स्‍कूलों और विश्‍वविद्यालयों में, सार्वजनिक स्‍थलों पर, बाज़ार के बीच, नुक्‍कड़ की चाय की दुकान पर, राजनीतिक हलकों में, समाज के विभिन्‍न तबकों के बीच और अलग-अलग सांस्‍कृतिक कोनों में। 

    और बेशक उन मोर्चों पर भी जहां जनता अपने अधिकारों के लिए लड़ रही है- दिल्‍ली की झुग्गियों से लेकर कुडनकुलम तक और जैतापुर से लेकर उन सुदूर गांवों तक, जहां ज़मीन की मुसलसल लूट जारी है। 

    आपको उन ग्रामीण इलाकों में जाना होगा जहां बहुराष्‍ट्रीय कंपनियां संसाधनों को लूट रही हैं: उन राजधानियों व महानगरों में जाइए, जहां कॉरपोरेट ताकतों ने कानूनों और नीतियों को अपना बंधक बना रखा है और करोड़ों लोगों की आजीविका से खिलवाड़ कर रही हैं; कश्‍मीर और उत्‍तर-पूर्व को मत भूलिएगा जहां जम्‍हूरियत संगीन की नोक पर है। इस देश के लोगों को आपकी ज़रूरत है।

    सबसे कमज़ोर कड़ी

    इन लोगों के संघर्षों को महज़ अपनी कहानियों और कविताओं में जगह देने से बात नहीं बनने वाली, न ही आपका पुरस्‍कार लौटाना जनता की अभिव्‍यक्ति की आज़ादी को बहाल कर पाएगा। अगर आप ऐसा वाकई चाहते हैं, तो आपको इसे जीवन-मरण का सवाल बनाना पड़ेगा। आपको नवजागरण का स्‍वर बनना पड़ेगा। 

    ऐसा करना इसलिए भी ज़रूरी है क्‍योंकि सरकार अब इस सिलसिले की सबसे कमज़ोर कडि़यों को निशाना बनाने की कोशिश में जुट गई है। उर्दू के शायर मुनव्‍वर राणा, जिन्‍होंने टीवी पर एक बहस के दौरान नाटकीय ढंग से अपना साहित्‍य अकादमी पुरस्‍कार लौटा दिया था, कह रहे हैं कि उन्‍हें प्रधानमंत्री कार्यालय से फोन आया था और अगले कुछ दिनों में उन्‍हें मोदी से मिलने के लिए बुलाया गया है। 

    राणा एक ऐसे लोकप्रिय शायर हैं जिन्‍होंने सियासी मौकापरस्‍ती की फसल काटने में अकसर कोई चूक नहीं की है। उनके जैसी कमज़ोर कड़ी का इस्‍तेमाल कर के सरकार लेखकों की सामूहिक कार्रवाई को ध्‍वस्‍त कर सकती है। 

    ऐसा न होने पाए, इसका इकलौता तरीका यही है कि जनता का समर्थन हासिल किया जाए। लेखक और कवि आज यदि जनता के बीच नहीं गया, तो टीवी की बहसें और उनमें नुमाया लिजलिजे चेहरे एजेंडे पर कब्‍ज़ा जमा लेंगे। 

    जनता का समर्थन हासिल करने, अपना सिर ऊंचा उठाए रखने, इस लड़ाई को आगे ले जाने और पुरस्‍कार वापसी की कार्रवाई को सार्थकता प्रदान करने के लिए हरकत में आने का सही वक्‍त यही है। मेरे लेखको और कवियो, बात बस इतनी सी है कि अभी नहीं तो कभी नहीं। किसका इंतज़ार है और कब तक? जनता को तुम्‍हारी ज़रूरत है! 

    (मूल अंग्रेजी : कैच न्‍यूज़)


    https://youtu.be/yjOnYEWSz3Q

    Oscar Winner Lyricist and Film Director Gulzar says,returning awards is the only way to protest!


    Indian Cinema joins the writers, poets, artists,sociologists and scientists to sustain humanity and nature,inherent pluralism and diversity.


    Hope Big B, Rajanikant, Mohanlal, Adoor,Shabana and Javed Akhtar,Benegal,Nasir and Om Puri and Girish Karnad and others from Indian Cinema would join us sooner or later as Indian Cinema always dealt with the aesthetics of social realism beyond Satyajit Ray Ritwik Ghatak Mrinal Sen films.Raj Kapoor always represented the dreams and aspiration of real life while Mehboob made Mother India.

    Palash Biswas

      Gulzar
      Poet
      Sampooran Singh Kalra, known popularly by his pen name Gulzar, is an Indian poet, lyricist and film director. Born in Jhelum District in British India, his family moved to India after partition. Wikipedia
      BornAugust 18, 1934 (age 81), Dina, Pakistan
      Full nameSampooran Singh Kalra

    gulzar on Twitter

      Never thought a person's religion would be asked before his name: Lyricist Gulzar iexp.in/TWU200131

      Gulzar backs writers' protest, says 'never witnessed such intolerance'www.ndtv.com/india-news/g…

    We had New Wave Cinema in seventies and even now Bollywood films represent social realism with scientific special effects,folk rooted songs and stories and day to day life in different ways.


    Indian Cinema showcased universal fraternity and always spoke the language of love and peace,truth and nonviolence.This Indian Nation is still united and we owe much and more to our artists working in Cinema.


    Returning award only way to protest, Gulzar says!


    Noted lyricist Gulzar has come out in support of authors returning their Sahitya Akademi awards in protest of the growing religious intolerance in the country, saying this is the only way a writer can register protest.


    Many writers have returned their Akademi awards to protest the killing of Kannada writer MM Kalburgi and other growing instances of attacks on intellectuals.


    Gulzar, 81, said in Patna while the killing was not Akademi's fault, the authors wanted the institution to recognize and protest against the incident.


    "The murder that has hurt us all is somewhere the fault of the system/government ... Returning the award was an act of protest. Writers don't have any other way to register their protest. We have never witnessed this kind of religious intolerance. At least, we were fearless in expressing ourselves," Gulzar said.


    Expressing concern over the growing instances of communal intolerance, he rubbished claims that the writers decision to return the award was politically motivated.


    Rather I am ashamed of progressive,secular Bengal Intelligentsia which has not echoed the voice of dissent hithertoo except one young lady Mandakranta Sen.


    The 1793 Permanent Settlement Act enatcted by British Raj in the best interest of East India Company created this Bengali intelligentsia so much so hyped for its so called renaissance,has always been in support of the foreign rule,foreign capital and foreign interest.


    The indigenous,aborigine and folk roots in every sphere of life,in every medium and genre including art,literature and culture were uprooted with this turnaround and Bengali intelligentsia dubbed the first revolt of indigenous rulers from all over India as Chuar Vidroh,the revolt by the criminals just after the War of Plassy.


    Mirjafar had been the Nawab replacing Siraj,but Umi Chand and Jagat Seth Ruled Bengal and the new lot of landlords known as Zamindar,the new caste Hindu middle class uprooted the common people in every sphere of life.Europe opted for industrial production system and we were enslaved in a feudal production system and we never reached the stage of industrialization and Independent India ruled by Manusmriti hegemony killed the production system and Indian econonomy,Agrarian India,Indian retail business and small industries and Industries opting for free flow of foreign capital and foreign interests.This governance of fascism is all about economic reforms to kill Humanity and Nature bidding for Sale India.


    This criminal act is being glorified with blind religious nationalism which is fascism,racist apartheid and Ethnic cleansing! This is the Hindutva Agenda of genocide culture!This is the aesthetics and linguistics of hatred.


    I have spoken on this turnaround in my latest videom how the aesthetics became so urban and how Bengali intelligentsia had not supported the BHASHA Biplab in nineties,first struggle of freedom in 1957,Indigo Revolt,Santhal and Bheel and Munda insurrections.Not enough, the dubbed the original uprising right in 1750 to 1760 as Chuar Rebellion as a criminal offence and the original uprising of Indian peasantry led by Hindu,Muslim and Tribal leaders as sanyasi Vidroh.


    The demise of Zamindari was the inspiration of Swaraj or Ramrajya as it is well described in the novels of Tara Sahnkar Bandopathyaya with inherent hatred for the untouchables and tribal people.


    While it was Tagore only who represented pluralism and diversity,humanity and nature,the Bhatrat Tirth in his creative activism which protested  the racist apartheid blatant and brute,the untouchability and the discrimination.


    Because Tagore called himself Mantraheen,Bratya,Jatihara what means out caste and he wrote letters from Russia to describe the plight of toiling masses in India excluded from history,every sphere of life,society and economy!We never dared to discuss the aesthetics of social realism in Tagore`s life and works and his commitment to India and Indian people.


    Rather the Hatred Brigade defaces him with the charge of Sedition as Netaji had been titled with betrayal while he is the only Man who resisted Fascist and reactionary forces In India.


    Thus,Gandhi had been Killed and the killing continues till this day.


    Dr Ambedkar has been included as an incarnation of God Vishnu as Gautam Buddha has been to ensure the mind control mandatory for exclusion and ethnic cleansing.


    We stand rock solid.Apart from the RED and Blue majority masses in India,the offspring of Zamindari and indiscriminate urbanization killing the indigenous production system and Indian Economy,the ONE Percent ruling class has captured all resources and assets as the ninety percent masses are deprived of right to knowledge,right to arms,right to worship and right to property and the women are treated as SEX  Slaves and the children of these masses are treated as Bonded.


    Thanks VK Singh,the Minister in the Governance of Fascism  to speak the truth as the ruling hegemony, the children of antinational neoliberal fascist MAJHABI SIYASAT does treat the masses as dogs.We do live like loyal dogs enslaved and we die like dogs!


    The religious polarization is all about the ethnic cleansing of this ninety nine percent by the ONE percent rulers and we dare not to raise our voice of dissent.


    We are imprisoned in caste system and religious identities and are subjected to infinite displacement,infinite persecution and infinite repression in  a military state of Salwa Judum and AFSPA ruled by the marketing agents of thousands and thousands East India Company.


    They have nothing to do with the values,ideals,ethics and morals of religion.But they are misusing religion to kill the Majority in a Rape Tsunami.


    हमीं लाल हैं।हमीं फिर नील हैं।
    बाकी हिंदुत्व  महागठबंधन का फासिज्म है।
    अगर हम प्रभुवर्ग के गुलाम वफादार कुत्ते नहीं हैं तो अब भौंकने की बारी है।कयामत का मंजर बदलने की बारी है।कायनात की रहमतें बरकतें नियामतें बहाल करने का वक्त है।



    JAGO INDIA!Kejri refuses to release MCD Funds as VK Singh Exposed the APATHY against dogged Masses!
    पलाश विश्वास


    17 SEPT 2015 Nagarikatyer Nadi niye Mananiya griha mantri Sri Rajnath SINGH O Paribahan mantri Shri Nitin Gadkarir samne baktabya rakhchen Nikhil Bharat bangali Udbastu Samitir Sabhapati Dr.Subodh Biswas,Sange achen sri prasen raptan,dr ajit mallick,adv ambika ray,tapas ray,p gharami o nilima. amader dabi mene notification korechhaen . amra chai 2003 nagrikatyo ainer sangsodhan. se janyo agami 22 nov delhi avijan


    धन्यवाद वीके सिंह,मंत्री महाशय,यह सच खोलने के लिए कि हम आखिरकार कुत्ते हैं और हमें कुत्तों की मौत मार दिया जाये तो सत्ता को कोई ऐतराज नहीं है।हम यह समझा नहीं पा रहे थे।
    इस वीडियो में हमने ग्राम बांग्ला के कवि जसीमुद्दीन की कविता के विश्लेषण बांग्लादेशी आलोचक अबू हेना मुस्तफा कमाल की जुबानी पेश की है।इसमें बांग्ला कविता से ग्राम बांग्ला के बहिस्कार और साहित्य संस्कृति के नगरकेंद्रित बन जाने की कथा है।



    1793 में स्थाई भूमि बंदोबस्त कानून के तहत जो जमींदार वर्ग पैदा हुआ और1835 में भाषा विप्लव के तहत जो हिंदू मध्यवर्ग पैदा हुआ,उसके अवसान के गर्भ में पैदा हुआ हिंदुत्व का महागठबंधन और उन्हीं के स्वराज आंदोलन में शामिल होने से इंकार कर दिया महात्मा ज्योतिबा फूले और बंगाल में अस्पृश्यता मोचन के चंडाल आंदोलन के नेता गुरु चांद ठाकुर ने क्योंकि उन्हें मालूम ता कि मनुस्मृति शासन में आखिरकार हम कुत्ते बनकर जियेंगे और मरेंगे भी कुत्तों की तरह।



    हमने फिर सामाजिक यथार्थ के सौंदर्यसास्त्र की चर्चा की है और नवारुण भट्टाचार्य के उपन्यास कांगाल मालसाठ के छठें अध्याय के एक अंश का पाठ किया है,जो अछूतों और सर्वहारा वर्ग की मोर्चाबंदी के बारे में हैं।यह वीडियो आप जरुर देखेंःWhy I do quote Nabarun Bhattacharya?




    जागो भारत तीर्थ।सच कहा है वीके सिंह ने।गुस्सा न करें और सोचें कि कैसे हम इतिहास,भूगोल,विरासत से बेदखल प्रभु के गुण गाते हुए दाल रोटी से भी बेदखल हैं और कुत्तों की मौत मारे जा जा रहे हैं।हमारी स्त्रियां बलात्कार की शिकार हैं और हमारे बच्चे बंधुआ मजदूर हैं।हर जरुरत सेवा और इंसानियत से भी बेदखल।यह जागरण का वक्त है।



    इस फासिज्म के मुकाबले इंसानियत के भूगोल में गौतम बुद्ध के पंचशील के पुनरुत्थानकी जरुरत है।हमीं लाल हैं।हमीं फिर नील हैं।बाकी हिंदुत्व का महागठबंधन का फासिज्म है।अगर हम प्रभुवर्ग के गुलाम वफादार कुत्ते नहीं हैं तो अब भौंकने की बारी है।कयामत का मंजर बदलने की बारी है।कायनात की रहमतें बरकतें नियामतें बहाल करने का वक्त है।



    कुत्तों की मौत नहीं चाहिए तो इंसान बनकर दिखाइये।इस वोट बैंक में तब्दील बहुजन समाज को अब पहचान,अस्मिता,जाति ,धर्म ,नस्ल के तमाम दायरे तोड़कर एकी फीसद सत्तावर्ग के खिलाप निनानब्वे फीसद के जागरण का यही सहीसमय है।इस मनुस्मृति शासन के खिलाफ रीढ़ सीधी करके खड़ा होने का वक्त है।तभी राजनीति,राजनय और अर्थव्यवस्था पटरी है।



    दलितों के सारे राम अब हनुमान हैं और खामोश हैं।
    बाबासाहेब के नाम दुकाने जो चला रहे हैं,वे सारे लोग खामोश हैं।
    हमारे सांसद,मंत्री,विधायक वगैरह वगैरह खामोश हैं और हम कुत्तों की जिंदगी जीते हुए कुत्तों की मौत मर रहे हैं।



    दिल्ली में जब सफाई कर्मियों की सुनवाई नहीं है।तो समझ लीजिये कि यह संसद और यह केंद्र सरकार ,राज्य सरकारें,सांसद विधायक किसके लिए हैं।समझ लीजिये,फिर कश्मीर,मणिपुर और पूर्वोत्तर,मध्यभारत में लोकतंत्र का किस्सा ,कानून के राज का माहौल कैसे नरसंहार ,सलवा जुड़ुम और आफस्पा है



    दिल्ली में शरणार्थियों की रैसली होगी नवंबर में और देश के कोने कोने से लोग आयेंगे।असुरक्षा बोध की वजह से मुसलमानों की तरह सत्ता वर्ग के संरक्षण के बिना वे जी नहीं सकते और वे मोबाइल वोट बैंक हैं।दिल्ली में भाजपा और आरएसएस के नेता मंच पर होंगे।हम वहां हो ही नहीं सकते ।लेकिन हम अपने लोगों की हर लड़ाई में शामिल हैं और रहेंगे।
    What a baleful religion.


    "... Attackers said his writings were anti-Hindu as he talked about the caste system ..."


    Now Dalit youth burnt to death in Yamunanagar - Press Trust of India, Yamunanagar  October 23, 2015   http://www.business-standard.com/article/pti-stories/now-dalit-youth-burnt-to-death-in-yamunanagar-115102300650_1.html

    Close on the heels of two Dalit children being burnt alive in Faridabad, a 21-year-old Dalit youth was allegedly burnt to death by a former village head and his family members here over some old rivalry, police said today. The incident took place in Daulatpur village of the district on Tuesday. An old rivalry is suspected to be the reason behind it, police said.


    Sonepat victim's family refuses to cremate boy's body after CM Khattar claims it was suicide - Jagriti Chandra, CNN-IBN, Oct 23, 2015http://www.ibnlive.com/news/india/sonepat-victims-family-refuses-to-cremate-boys-body-after-cm-khattar-claims-it-was-suicide-1155386.html

    The family of the Sonepat victim on Friday refused to cremate the 15-year-old Dalit boy's body after Chief Minister Manohar Lal Khattar claimed it was a suicide. Two police officers have even been booked for murder in the case of the death of the boy who was charged with theft of a pigeon. Khattar has ruled out any caste conflict in the death of the boy in Gohana town in Sonepat district. The Chief Minister has claimed that it was a case of suicide.


    In The Dead of the Night, Hatred Burns Asad Ashraf, Tehelka, Issue 44, Volume 12, 31. 10. 2015 http://www.tehelka.com/2015/10/in-the-dead-of-the-night-hatred-burns/

    Two Dalit children were killed in Faridabad district when their house was set on fire. A close at the tragedy and its aftermath.  


    Faridabad case threatens to go the Khairlanji way - Subodh Ghildiyal, TNN | Oct 23, 2015, 04.51 AM IST http://timesofindia.indiatimes.com/india/Faridabad-case-threatens-to-go-the-Khairlanji-way/articleshow/49499262.cms

    NEW DELHI: Even before the dust settles, the gruesome burning of dalit infants in Sunped village is being dubbed a case of personal enmity of two families and not a caste crime. Faridabad has an echo of the horrific Khairlanji massacre in Maharashtra (2006) in which courts ruled it was a grotesque crime but not dictated by victims' caste identity - not a crime under Prevention of Atrocities Act (POA). The moot question is where does a crime against a dalit stop being a "dalit atrocity" and become a general offence?


    Young Dalit writer targeted in Davanagere Mohit M. Rao, The Hindu, Bengaluru, October 23, 2015 http://www.thehindu.com/news/national/karnataka/young-dalit-writer-targeted-in-davanagere/article7793036.ece?homepage=true

    Attackers said his writings were anti-Hindu as he talked about the caste system A young Dalit writer was attacked by a group of men for his writings against the caste system perceived to be "anti-Hindu", at Davanagere in Central Karnataka early on Thursday.


    Caste – India's curse - Mari Marcel Thekaekara, New Internationalist (Blog), October 22, 2015 http://newint.org/blog/2015/10/22/indias-curse/

    Another day, another Dalit death. We must hang our heads in shame It's been a nasty, brutish week. On the heels of 2 little girls being raped, India awoke to another horror story: just outside Delhi, 2 Dalit children, aged 9 months and 2.5 years, were cold-bloodedly burnt to death in a ghastly tale of revenge and caste hatred.


    Dalits attacked in Dehradun temple - Piyush Shrivastava, Mail Today, Lucknow, October 23, 2015 http://indiatoday.intoday.in/story/dalits-attacked-in-dehradun-temple/1/505418.html

    The cops accepted the complaint only when a large number of Dalits, led by Jabbar Singh, a local Dalit leader sat on dharna at the police station.  


    Temple Fest Turns Violent in Madurai, Dalit Vehicles Burnt by Caste Hindus By Pon Vasanth Arunachalam Published: 23rd October 2015http://www.newindianexpress.com/states/tamil_nadu/Temple-Fest-Turns-Violent-in-Madurai-Dalit-Vehicles-Burnt-by-Caste-Hindus/2015/10/23/article3092733.ece

    MADURAI:Tension prevailed in Elumalai and Athankaraipatti villages after at least four vehicles belonging to Dalits from the latter village were torched by caste Hindus and few others were injured in a clash that broke out on Wednesday evening at a temple festival. The villages, located around 60 km west of Madurai, were celebrating the Muthalamman temple festival.


    Dalit cousins assaulted by supporters of Jat candidate, 1 critical Pankul Sharma, TNN | Oct 23, 2015, 07.28 AM IST http://timesofindia.indiatimes.com/city/meerut/Dalit-cousins-assaulted-by-supporters-of-Jat-candidate-1-critical/articleshow/49499822.cms

    MEERUT: Supporters of a Jat candidate for village head allegedly assaulted two Dalit cousins who refused to support the candidate late on Wednesday night. The victims, one of who is in critical condition, are in hospital while an FIR has been filed against four assailants. 


    Haryana Dalit attacks: 7-fold jump in 3 govts - Manoj C G, Indian Express, New Delhi, October 22, 2015 http://indianexpress.com/article/india/india-news-india/haryana-dalit-attacks-7-fold-jump-in-3-govts/

    The major cases of violence include lynching of five Dalits in Dulina village in Jhajjar district in 2002, burning down of Dalit houses in Gohana in 2005 and burning alive of a physically challenged girl and her septuagenarian father in Mirchpur in 2010.

    Data available with the National Crime Records Bureau (NCRB) show a seven-fold increase over 15 years in the number of incidents of crime against Scheduled Castes in Haryana.

    आज तक  - ‎5 घंटे पहले‎
    देश में दलितों पर बढ़ते हमलों के खिलाफ रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (आरपीआई) ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. पार्टी ने मांग की है कि दलितों को आत्मरक्षा के लिए हथियार दिए जाएं. आरपीआई के अध्यक्ष रामदास अठावले ने नागपुर में कहा कि अगर पुलिस और सरकार दलितों पर हमले नहीं रोक सकतीं तो इन्हें आत्मरक्षा के लिए दलितों को हथियार का लाइसेंस देना चाहिए. उन्होंने कहा कि 'पहले भी दलितों पर हमले हो रहे थे और अब भी ये जारी हैं. इसलिए दलितों के पास अपनी आत्मरक्षा करने के अलावा कोई और विकल्प नहीं है.' अठावले और आरपीआई के कार्यकारी अध्यक्ष उत्तम खोबरागडे ने हरियाणा के फरीदाबाद .



    Opportunity lost!Kejriwal refuses to allot funds to MCD, asks BJP to quit civic corporations!Sanitary workers on strike in Delhi might not have ears whatsoever for hearing grievances,their plight during this festive session and Killings continue.Suicides continue.


    मेरे लेखको! किसका इंतज़ार है और कब तक?



    Silent Protest March of Writers to Sahitya Academy, Delhi. 
    कलमकारों-कलाकारों का ख़ामोश जुलूस
    ------------------------------------------
    ख़ामोशी की भी जुबां होती है
    ज़ुल्मी उससे भी ख़ौफ़ खाता है
    हमारी आज़ादी की हिफ़ाज़त
    हम ख़ामोशी से भी करना जानते हैं
    और उतनी ही अच्छी तरह हम जानते हैं
    तुम्हारे कानों के परदे फाड़ देने वाली एकजुट आवाज़ में
    इंक़लाब के नारे लगाना और आज़ादी के तराने गाना।


    हमीं लाल हैं।हमीं फिर नील हैं।
    बाकी हिंदुत्व  महागठबंधन 

    का 

    फासिज्म है।

    मेरे लेखको! किसका इंतज़ार है और कब तक?

    Posted by Reyaz-ul-haque on 10/24/2015 04:25:00 PM

    दलितों-मुसलमानों और लेखकों पर फासीवादी हमलों और हत्याओं के विरोध में लेखकों द्वारा पुरस्कार लौटाए जाने और अपना सख्त विरोध दर्ज कराने के संदर्भ में कैच के सीनियर असिस्टेंट एडीटर, कवि, गायक और चित्रकार पाणिनि आनंद का लेख. अनुवाद: अभिषेक श्रीवास्‍तव
     

    इसमें कोई संदेह नहीं है कि भारत के लेखकों और कवियों ने साहित्‍य अकादमी से मिले पुरस्‍कार (और एक मामले में पद्मश्री) लौटा कर इतिहास बनाया है।

    यह इसलिए और ज्‍यादा अहम है क्‍योंकि पुरस्‍कार लौटाने वाले लेखक किसी एक पंथ या विचारधारा के वाहक नहीं हैं, वे किसी एक भाषा में नहीं लिखते और किसी जाति अथवा धर्म विशेष से नहीं आते। इनका खानपान भी एक जैसा नहीं है। कोई सांभरप्रेमी है, कोई गोबरपट्टी का वासी है तो कोई द्रविड़ है।

    ये सभी अलग-अलग पृष्‍ठभूमि से आते हैं। इनकी संवेदनाएं भिन्‍न हैं और इनकी आर्थिक पृष्‍ठभूमि भी भिन्‍न है। बावजूद इसके, ये सभी एक सूत्र से परस्‍पर बंधे हुए हैं। यह सूत्र वो संदेश है जो ये लेखक सामूहिक रूप से संप्रेषित करना चाहते हैं, ''मोदीजी, हम आपसे अहमत हैं, हम आपकी नाक के नीचे आपकी विचारधारा वाले लोगों द्वारा अभिव्‍यक्ति की आज़ादी पर किए जा रहे हमलों से आहत हैं।''

    कैसे सुलगी चिन्गारी

    इस ऐतिहासिक अध्‍याय की शुरुआत कन्‍नड़ के तर्कवादी लेखक एम.एम. कलबुर्गी की हत्‍या से हुई थी।  

    इस घटना के सिलसिले में हिंदी के प्रतिष्ठित लेखक उदय प्रकाश के साथ पत्रकार और प्रगतिशील कवि अभिषेक श्रीवास्‍तव की बातचीत हो रही थी। कलबुर्गी और उससे पहले नरेंद्र दाभोलकर व गोविंद पानसारे की सिलसिलेवार हत्‍या पर दोनों एक-दूसरे से अपनी चिंताएं साझा कर रहे थे। नफ़रत और गुंडागर्दी की इन घटनाओं के खिलाफ़ दोनों एक भीषण प्रतिरोध खड़ा करने पर विचार कर रहे थे।

    उदय प्रकाश इस बात से गहरे आहत थे कि साहित्‍य अकादमी ने कलबुर्गी की हत्‍या पर शोक में एक शब्‍द तक नहीं कहा। उनके लिए एक शोक सभा तक नहीं रखी गई। प्रकाश कहते हैं, ''आखिर अकादमी किसी ऐसे शख्‍स को पूरी तरह कैसे अलग-थलग छोड़ सकती है जिसे उसने कभी अपने सबसे प्रतिष्ठित पुरस्‍कार से नवाज़ा था? यह तो बेहद दर्दनाक और हताशाजनक है।''

    फिर उन्‍होंने विरोध का आगाज़ करते हुए पुरस्‍कार लौटाने का फैसला लिया और अगले ही दिन इसकी घोषणा भी कर दी। इस घोषणा के बाद दिए अपने पहले साक्षात्‍कार में उदय ने कैच को (''नो वन हु स्‍पीक्‍स अप इज़ सेफ टुडे'', 6 सितंबर 2015) इसके कारणों के बारे में बताया था और यह भी कहा था कि दूसरे लेखकों को भी यही तरीका अपनाना चाहिए।

    विरोध का विरोध

    अब तक कई अन्‍य लेखक और कवि अपने पुरस्‍कार लौटा चुके हैं। बीते 20 अक्‍टूबर को दिल्‍ली के प्रेस क्‍लब ऑफ इंडिया में आयोजित लेखकों व कवियों की एक प्रतिरोध सभा ने अभिव्‍यक्ति की आज़ादी पर हमले की कठोर निंदा की।

    फिर 23 अक्‍टूबर को कई प्रतिष्ठित लेखकों, कवियों, पत्रकारों और फिल्‍मकारों की अगुवाई में एक मौन जुलूस साहित्‍य अकादमी तक निकाला गया और उसे एक ज्ञापन सौंपा गया।

    इनका स्‍वागत करने के लिए वहां पहले से ही मुट्ठी भर दक्षिणपंथी लेखक, प्रकाशक और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता जमा थे जो ''पुरस्‍कार वापसी तथा राजनीतिक एजेंडा वाले कुछ लेखकों द्वारा अकादमी के अपमान'' का विरोध कर रहे थे।

    साहित्‍य अकादमी के परिसर के भीतर जिस वक्‍त ये दोनों प्रदर्शन जारी थे, मौजूदा हालात पर चर्चा करने के लिए अकादमी की एक उच्‍चस्‍तरीय बैठक भी चल रही थी।

    बैठक के बाद अकादमी ने एक संकल्‍प पारित किया जिसमें कहा गया है: ''जिन लेखकों ने पुरस्‍कार लौटाए हैं या खुद को अकादमी से असम्‍बद्ध कर लिया है, हम उनसे उनके निर्णय पर पुनर्विचार करने का अनुरोध करते हैं।''

    और सत्‍ता हिल गई

    जिस देश में क्षेत्रीय भाषाओं के लेखक और कवि इन पुरस्‍कारों से मिली राशि के सहारे थोड़े दिन भी गुज़र नहीं कर पाते, वहां ''ब्‍याज समेत पैसे लौटाओ'' जैसी प्रतिक्रियाओं का आना बेहद शर्मनाक हैं।

    राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ और उसकी अनुषंगी संस्‍थाओं के सदस्‍यों और नेताओं की ओर से जिस किस्‍म के भड़काने वाले बयान इस मसले पर आए हैं, उसने यह साबित कर दिया है कि लेखक सरकार का ध्‍यान इस ओर खींचने के प्रयास में असरदार रहे हैं।

    और हां, जेटलीजी, जब आप कहते हैं कि यह प्रतिरोध नकली है, तो समझिए कि आप गलत लीक पर हैं। लेखक दरअसल इससे कम और कर भी क्‍या सकता है। सत्‍ता प्रतिष्‍ठान के संरक्षण में जिस किस्‍म की बर्बरताएं की जा रही हैं, हर रोज़ जिस तरह एक न एक घटना को अंजाम दिया जा रहा है और देश का माहौल बिगाड़ा जा रहा है, यह एक अदद विरोध के लिए पर्याप्‍त कारण मुहैया कराता है।

    अब आगे क्‍या?

    लेखकों व कवियों के सामने फिलहाल जो सबसे अहम सवाल है, वो है कि अब आगे क्‍या?

    यह लड़ाई सभी के लिए बराबर सम्‍मान बरतने वाले और बहुलता, विविधता व लोकतंत्र के मूल्‍यों में आस्‍था रखने वाले इस देश के नागरिकों तथा कट्टरपंथी गुंडों के गिरोह व उन्‍हें संरक्षण देने वाले सत्‍ता प्रतिष्‍ठान के बीच है।

    इस प्रदर्शन ने स्‍पष्‍ट तौर पर दिखा दिया है कि लेखक बिरादरी इनसे कतई उन्‍नीस नहीं है, लेकिन अभी लेखकों के लिए ज्‍यादा अहम यह है कि वे व्‍यापक जनता के बीच अपनी आवाज़ को कैसे बुलंद करें। ऐसा महज पुरस्‍कार लौटाने से नहीं होने वाला है। यह तो फेसबुक पर 'लाइक' करने जैसी एक हरकत है जिससे कुछ ठोस हासिल नहीं होता।

    एकाध छिटपुट उदाहरणों को छोड़ दें, तो बीते कुछ दशकों के दौरान साहित्‍य में कोई भी मज़बूत राजनीतिक आंदोलन देखने में नहीं आया है। कवि और लेखकों को सड़कों पर उतरे हुए और जनता का नेतृत्‍व किए हुए बरसों हो गए।

    मुझे याद नहीं पड़ता कि पिछली बार कब इस देश के लेखकों ने किसानों की खुदकशी, दलितों के उत्‍पीड़न, सांप्रदायिक हिंसा और लोकतांत्रिक मूल्‍यों व नागरिक स्‍वतंत्रता पर हमलों के खिलाफ कोई आंदोलन किया था। वे बेशक ऐसे कई विरोध प्रदर्शनों का हिस्‍सा रहे हैं, लेकिन नेतृत्‍वकारी भूमिका उनके हाथों में कभी नहीं रही। न ही पिछले कुछ वर्षों में कोई ऐसा महान साहित्‍य ही रचा गया है जिसने किसी सामाजिक सरोकार को मदद की हो।

    पिछलग्‍गू न बनें, नेतृत्‍व करें

    एक लेखक आखिर है कौन? वह शख्‍स, जो समाज के बेहतर और बदतर तत्‍वों की शिनाख्‍त करता है और उसे स्‍वर देता है।

    एक कवि होने का मतलब क्‍या है? वह शख्‍स, जो ऐसे अहसास, भावनाओं और अभिव्‍यक्तियों को इस तरह ज़ाहिर कर सके कि जिसकी अनुगूंज वृहत्‍तर मानवता में हो।

    मेरे प्रिय लेखक, आप ही हमारी आवाज़ हैं, हमारी कलम भी, हमारा काग़ज़ और हमारी अभिव्‍यक्ति भी। वक्‍त आ गया है कि आप आगे बढ़कर चीज़ों को अपने हाथ में लें।

    अब आपको जनता के बीच निकलना होगा और उसे संबोधित करना ही होगा, फिर चाहे वह कहीं भी हो- स्‍कूलों और विश्‍वविद्यालयों में, सार्वजनिक स्‍थलों पर, बाज़ार के बीच, नुक्‍कड़ की चाय की दुकान पर, राजनीतिक हलकों में, समाज के विभिन्‍न तबकों के बीच और अलग-अलग सांस्‍कृतिक कोनों में।

    और बेशक उन मोर्चों पर भी जहां जनता अपने अधिकारों के लिए लड़ रही है- दिल्‍ली की झुग्गियों से लेकर कुडनकुलम तक और जैतापुर से लेकर उन सुदूर गांवों तक, जहां ज़मीन की मुसलसल लूट जारी है।

    आपको उन ग्रामीण इलाकों में जाना होगा जहां बहुराष्‍ट्रीय कंपनियां संसाधनों को लूट रही हैं: उन राजधानियों व महानगरों में जाइए, जहां कॉरपोरेट ताकतों ने कानूनों और नीतियों को अपना बंधक बना रखा है और करोड़ों लोगों की आजीविका से खिलवाड़ कर रही हैं; कश्‍मीर और उत्‍तर-पूर्व को मत भूलिएगा जहां जम्‍हूरियत संगीन की नोक पर है। इस देश के लोगों को आपकी ज़रूरत है।

    सबसे कमज़ोर कड़ी

    इन लोगों के संघर्षों को महज़ अपनी कहानियों और कविताओं में जगह देने से बात नहीं बनने वाली, न ही आपका पुरस्‍कार लौटाना जनता की अभिव्‍यक्ति की आज़ादी को बहाल कर पाएगा। अगर आप ऐसा वाकई चाहते हैं, तो आपको इसे जीवन-मरण का सवाल बनाना पड़ेगा। आपको नवजागरण का स्‍वर बनना पड़ेगा।

    ऐसा करना इसलिए भी ज़रूरी है क्‍योंकि सरकार अब इस सिलसिले की सबसे कमज़ोर कडि़यों को निशाना बनाने की कोशिश में जुट गई है। उर्दू के शायर मुनव्‍वर राणा, जिन्‍होंने टीवी पर एक बहस के दौरान नाटकीय ढंग से अपना साहित्‍य अकादमी पुरस्‍कार लौटा दिया था, कह रहे हैं कि उन्‍हें प्रधानमंत्री कार्यालय से फोन आया था और अगले कुछ दिनों में उन्‍हें मोदी से मिलने के लिए बुलाया गया है।

    राणा एक ऐसे लोकप्रिय शायर हैं जिन्‍होंने सियासी मौकापरस्‍ती की फसल काटने में अकसर कोई चूक नहीं की है। उनके जैसी कमज़ोर कड़ी का इस्‍तेमाल कर के सरकार लेखकों की सामूहिक कार्रवाई को ध्‍वस्‍त कर सकती है।

    ऐसा न होने पाए, इसका इकलौता तरीका यही है कि जनता का समर्थन हासिल किया जाए। लेखक और कवि आज यदि जनता के बीच नहीं गया, तो टीवी की बहसें और उनमें नुमाया लिजलिजे चेहरे एजेंडे पर कब्‍ज़ा जमा लेंगे।

    जनता का समर्थन हासिल करने, अपना सिर ऊंचा उठाए रखने, इस लड़ाई को आगे ले जाने और पुरस्‍कार वापसी की कार्रवाई को सार्थकता प्रदान करने के लिए हरकत में आने का सही वक्‍त यही है। मेरे लेखको और कवियो, बात बस इतनी सी है कि अभी नहीं तो कभी नहीं। किसका इंतज़ार है और कब तक? जनता को तुम्‍हारी ज़रूरत है!

    (मूल अंग्रेजी : कैच न्‍यूज़)










    https://youtu.be/yjOnYEWSz3Q

    Oscar Winner Lyricist and Film Director Gulzar says,returning awards is the only way to protest!


    Indian Cinema joins the writers, poets, artists,sociologists and scientists to sustain humanity and nature,inherent pluralism and diversity.


    Hope Big B, Rajanikant, Mohanlal, Adoor,Shabana and Javed Akhtar,Benegal,Nasir and Om Puri and Girish Karnad and others from Indian Cinema would join us sooner or later as Indian Cinema always dealt with the aesthetics of social realism beyond Satyajit Ray Ritwik Ghatak Mrinal Sen films.Raj Kapoor always represented the dreams and aspiration of real life while Mehboob made Mother India.

    Palash Biswas

      Gulzar
      Poet
      Sampooran Singh Kalra, known popularly by his pen name Gulzar, is an Indian poet, lyricist and film director. Born in Jhelum District in British India, his family moved to India after partition. Wikipedia
      BornAugust 18, 1934 (age 81), Dina, Pakistan
      Full nameSampooran Singh Kalra

    gulzar on Twitter

      Never thought a person's religion would be asked before his name: Lyricist Gulzar iexp.in/TWU200131

      Gulzar backs writers' protest, says 'never witnessed such intolerance'www.ndtv.com/india-news/g…

    We had New Wave Cinema in seventies and even now Bollywood films represent social realism with scientific special effects,folk rooted songs and stories and day to day life in different ways.


    Indian Cinema showcased universal fraternity and always spoke the language of love and peace,truth and nonviolence.This Indian Nation is still united and we owe much and more to our artists working in Cinema.


    Returning award only way to protest, Gulzar says!


    Noted lyricist Gulzar has come out in support of authors returning their Sahitya Akademi awards in protest of the growing religious intolerance in the country, saying this is the only way a writer can register protest.


    Many writers have returned their Akademi awards to protest the killing of Kannada writer MM Kalburgi and other growing instances of attacks on intellectuals.


    Gulzar, 81, said in Patna while the killing was not Akademi's fault, the authors wanted the institution to recognize and protest against the incident.


    "The murder that has hurt us all is somewhere the fault of the system/government ... Returning the award was an act of protest. Writers don't have any other way to register their protest. We have never witnessed this kind of religious intolerance. At least, we were fearless in expressing ourselves," Gulzar said.


    Expressing concern over the growing instances of communal intolerance, he rubbished claims that the writers decision to return the award was politically motivated.


    Rather I am ashamed of progressive,secular Bengal Intelligentsia which has not echoed the voice of dissent hithertoo except one young lady Mandakranta Sen.


    The 1793 Permanent Settlement Act enatcted by British Raj in the best interest of East India Company created this Bengali intelligentsia so much so hyped for its so called renaissance,has always been in support of the foreign rule,foreign capital and foreign interest.


    The indigenous,aborigine and folk roots in every sphere of life,in every medium and genre including art,literature and culture were uprooted with this turnaround and Bengali intelligentsia dubbed the first revolt of indigenous rulers from all over India as Chuar Vidroh,the revolt by the criminals just after the War of Plassy.


    Mirjafar had been the Nawab replacing Siraj,but Umi Chand and Jagat Seth Ruled Bengal and the new lot of landlords known as Zamindar,the new caste Hindu middle class uprooted the common people in every sphere of life.Europe opted for industrial production system and we were enslaved in a feudal production system and we never reached the stage of industrialization and Independent India ruled by Manusmriti hegemony killed the production system and Indian econonomy,Agrarian India,Indian retail business and small industries and Industries opting for free flow of foreign capital and foreign interests.This governance of fascism is all about economic reforms to kill Humanity and Nature bidding for Sale India.


    This criminal act is being glorified with blind religious nationalism which is fascism,racist apartheid and Ethnic cleansing! This is the Hindutva Agenda of genocide culture!This is the aesthetics and linguistics of hatred.


    I have spoken on this turnaround in my latest videom how the aesthetics became so urban and how Bengali intelligentsia had not supported the BHASHA Biplab in nineties,first struggle of freedom in 1957,Indigo Revolt,Santhal and Bheel and Munda insurrections.Not enough, the dubbed the original uprising right in 1750 to 1760 as Chuar Rebellion as a criminal offence and the original uprising of Indian peasantry led by Hindu,Muslim and Tribal leaders as sanyasi Vidroh.


    The demise of Zamindari was the inspiration of Swaraj or Ramrajya as it is well described in the novels of Tara Sahnkar Bandopathyaya with inherent hatred for the untouchables and tribal people.


    While it was Tagore only who represented pluralism and diversity,humanity and nature,the Bhatrat Tirth in his creative activism which protested  the racist apartheid blatant and brute,the untouchability and the discrimination.


    Because Tagore called himself Mantraheen,Bratya,Jatihara what means out caste and he wrote letters from Russia to describe the plight of toiling masses in India excluded from history,every sphere of life,society and economy!We never dared to discuss the aesthetics of social realism in Tagore`s life and works and his commitment to India and Indian people.


    Rather the Hatred Brigade defaces him with the charge of Sedition as Netaji had been titled with betrayal while he is the only Man who resisted Fascist and reactionary forces In India.


    Thus,Gandhi had been Killed and the killing continues till this day.


    Dr Ambedkar has been included as an incarnation of God Vishnu as Gautam Buddha has been to ensure the mind control mandatory for exclusion and ethnic cleansing.


    We stand rock solid.Apart from the RED and Blue majority masses in India,the offspring of Zamindari and indiscriminate urbanization killing the indigenous production system and Indian Economy,the ONE Percent ruling class has captured all resources and assets as the ninety percent masses are deprived of right to knowledge,right to arms,right to worship and right to property and the women are treated as SEX  Slaves and the children of these masses are treated as Bonded.


    Thanks VK Singh,the Minister in the Governance of Fascism  to speak the truth as the ruling hegemony, the children of antinational neoliberal fascist MAJHABI SIYASAT does treat the masses as dogs.We do live like loyal dogs enslaved and we die like dogs!


    The religious polarization is all about the ethnic cleansing of this ninety nine percent by the ONE percent rulers and we dare not to raise our voice of dissent.


    We are imprisoned in caste system and religious identities and are subjected to infinite displacement,infinite persecution and infinite repression in  a military state of Salwa Judum and AFSPA ruled by the marketing agents of thousands and thousands East India Company.


    They have nothing to do with the values,ideals,ethics and morals of religion.But they are misusing religion to kill the Majority in a Rape Tsunami.


    हमीं लाल हैं।हमीं फिर नील हैं।
    बाकी हिंदुत्व  महागठबंधन का फासिज्म है।
    अगर हम प्रभुवर्ग के गुलाम वफादार कुत्ते नहीं हैं तो अब भौंकने की बारी है।कयामत का मंजर बदलने की बारी है।कायनात की रहमतें बरकतें नियामतें बहाल करने का वक्त है।



    JAGO INDIA!Kejri refuses to release MCD Funds as VK Singh Exposed the APATHY against dogged Masses!
    पलाश विश्वास


    17 SEPT 2015 Nagarikatyer Nadi niye Mananiya griha mantri Sri Rajnath SINGH O Paribahan mantri Shri Nitin Gadkarir samne baktabya rakhchen Nikhil Bharat bangali Udbastu Samitir Sabhapati Dr.Subodh Biswas,Sange achen sri prasen raptan,dr ajit mallick,adv ambika ray,tapas ray,p gharami o nilima. amader dabi mene notification korechhaen . amra chai 2003 nagrikatyo ainer sangsodhan. se janyo agami 22 nov delhi avijan


    धन्यवाद वीके सिंह,मंत्री महाशय,यह सच खोलने के लिए कि हम आखिरकार कुत्ते हैं और हमें कुत्तों की मौत मार दिया जाये तो सत्ता को कोई ऐतराज नहीं है।हम यह समझा नहीं पा रहे थे।
    इस वीडियो में हमने ग्राम बांग्ला के कवि जसीमुद्दीन की कविता के विश्लेषण बांग्लादेशी आलोचक अबू हेना मुस्तफा कमाल की जुबानी पेश की है।इसमें बांग्ला कविता से ग्राम बांग्ला के बहिस्कार और साहित्य संस्कृति के नगरकेंद्रित बन जाने की कथा है।



    1793 में स्थाई भूमि बंदोबस्त कानून के तहत जो जमींदार वर्ग पैदा हुआ और1835 में भाषा विप्लव के तहत जो हिंदू मध्यवर्ग पैदा हुआ,उसके अवसान के गर्भ में पैदा हुआ हिंदुत्व का महागठबंधन और उन्हीं के स्वराज आंदोलन में शामिल होने से इंकार कर दिया महात्मा ज्योतिबा फूले और बंगाल में अस्पृश्यता मोचन के चंडाल आंदोलन के नेता गुरु चांद ठाकुर ने क्योंकि उन्हें मालूम ता कि मनुस्मृति शासन में आखिरकार हम कुत्ते बनकर जियेंगे और मरेंगे भी कुत्तों की तरह।



    हमने फिर सामाजिक यथार्थ के सौंदर्यसास्त्र की चर्चा की है और नवारुण भट्टाचार्य के उपन्यास कांगाल मालसाठ के छठें अध्याय के एक अंश का पाठ किया है,जो अछूतों और सर्वहारा वर्ग की मोर्चाबंदी के बारे में हैं।यह वीडियो आप जरुर देखेंःWhy I do quote Nabarun Bhattacharya?




    जागो भारत तीर्थ।सच कहा है वीके सिंह ने।गुस्सा न करें और सोचें कि कैसे हम इतिहास,भूगोल,विरासत से बेदखल प्रभु के गुण गाते हुए दाल रोटी से भी बेदखल हैं और कुत्तों की मौत मारे जा जा रहे हैं।हमारी स्त्रियां बलात्कार की शिकार हैं और हमारे बच्चे बंधुआ मजदूर हैं।हर जरुरत सेवा और इंसानियत से भी बेदखल।यह जागरण का वक्त है।



    इस फासिज्म के मुकाबले इंसानियत के भूगोल में गौतम बुद्ध के पंचशील के पुनरुत्थानकी जरुरत है।हमीं लाल हैं।हमीं फिर नील हैं।बाकी हिंदुत्व का महागठबंधन का फासिज्म है।अगर हम प्रभुवर्ग के गुलाम वफादार कुत्ते नहीं हैं तो अब भौंकने की बारी है।कयामत का मंजर बदलने की बारी है।कायनात की रहमतें बरकतें नियामतें बहाल करने का वक्त है।



    कुत्तों की मौत नहीं चाहिए तो इंसान बनकर दिखाइये।इस वोट बैंक में तब्दील बहुजन समाज को अब पहचान,अस्मिता,जाति ,धर्म ,नस्ल के तमाम दायरे तोड़कर एकी फीसद सत्तावर्ग के खिलाप निनानब्वे फीसद के जागरण का यही सहीसमय है।इस मनुस्मृति शासन के खिलाफ रीढ़ सीधी करके खड़ा होने का वक्त है।तभी राजनीति,राजनय और अर्थव्यवस्था पटरी है।



    दलितों के सारे राम अब हनुमान हैं और खामोश हैं।
    बाबासाहेब के नाम दुकाने जो चला रहे हैं,वे सारे लोग खामोश हैं।
    हमारे सांसद,मंत्री,विधायक वगैरह वगैरह खामोश हैं और हम कुत्तों की जिंदगी जीते हुए कुत्तों की मौत मर रहे हैं।



    दिल्ली में जब सफाई कर्मियों की सुनवाई नहीं है।तो समझ लीजिये कि यह संसद और यह केंद्र सरकार ,राज्य सरकारें,सांसद विधायक किसके लिए हैं।समझ लीजिये,फिर कश्मीर,मणिपुर और पूर्वोत्तर,मध्यभारत में लोकतंत्र का किस्सा ,कानून के राज का माहौल कैसे नरसंहार ,सलवा जुड़ुम और आफस्पा है



    दिल्ली में शरणार्थियों की रैसली होगी नवंबर में और देश के कोने कोने से लोग आयेंगे।असुरक्षा बोध की वजह से मुसलमानों की तरह सत्ता वर्ग के संरक्षण के बिना वे जी नहीं सकते और वे मोबाइल वोट बैंक हैं।दिल्ली में भाजपा और आरएसएस के नेता मंच पर होंगे।हम वहां हो ही नहीं सकते ।लेकिन हम अपने लोगों की हर लड़ाई में शामिल हैं और रहेंगे।
    What a baleful religion.


    "... Attackers said his writings were anti-Hindu as he talked about the caste system ..."


    Now Dalit youth burnt to death in Yamunanagar - Press Trust of India, Yamunanagar  October 23, 2015   http://www.business-standard.com/article/pti-stories/now-dalit-youth-burnt-to-death-in-yamunanagar-115102300650_1.html

    Close on the heels of two Dalit children being burnt alive in Faridabad, a 21-year-old Dalit youth was allegedly burnt to death by a former village head and his family members here over some old rivalry, police said today. The incident took place in Daulatpur village of the district on Tuesday. An old rivalry is suspected to be the reason behind it, police said.


    Sonepat victim's family refuses to cremate boy's body after CM Khattar claims it was suicide - Jagriti Chandra, CNN-IBN, Oct 23, 2015http://www.ibnlive.com/news/india/sonepat-victims-family-refuses-to-cremate-boys-body-after-cm-khattar-claims-it-was-suicide-1155386.html

    The family of the Sonepat victim on Friday refused to cremate the 15-year-old Dalit boy's body after Chief Minister Manohar Lal Khattar claimed it was a suicide. Two police officers have even been booked for murder in the case of the death of the boy who was charged with theft of a pigeon. Khattar has ruled out any caste conflict in the death of the boy in Gohana town in Sonepat district. The Chief Minister has claimed that it was a case of suicide.


    In The Dead of the Night, Hatred Burns Asad Ashraf, Tehelka, Issue 44, Volume 12, 31. 10. 2015 http://www.tehelka.com/2015/10/in-the-dead-of-the-night-hatred-burns/

    Two Dalit children were killed in Faridabad district when their house was set on fire. A close at the tragedy and its aftermath.  


    Faridabad case threatens to go the Khairlanji way - Subodh Ghildiyal, TNN | Oct 23, 2015, 04.51 AM IST http://timesofindia.indiatimes.com/india/Faridabad-case-threatens-to-go-the-Khairlanji-way/articleshow/49499262.cms

    NEW DELHI: Even before the dust settles, the gruesome burning of dalit infants in Sunped village is being dubbed a case of personal enmity of two families and not a caste crime. Faridabad has an echo of the horrific Khairlanji massacre in Maharashtra (2006) in which courts ruled it was a grotesque crime but not dictated by victims' caste identity - not a crime under Prevention of Atrocities Act (POA). The moot question is where does a crime against a dalit stop being a "dalit atrocity" and become a general offence?


    Young Dalit writer targeted in Davanagere Mohit M. Rao, The Hindu, Bengaluru, October 23, 2015 http://www.thehindu.com/news/national/karnataka/young-dalit-writer-targeted-in-davanagere/article7793036.ece?homepage=true

    Attackers said his writings were anti-Hindu as he talked about the caste system A young Dalit writer was attacked by a group of men for his writings against the caste system perceived to be "anti-Hindu", at Davanagere in Central Karnataka early on Thursday.


    Caste – India's curse - Mari Marcel Thekaekara, New Internationalist (Blog), October 22, 2015 http://newint.org/blog/2015/10/22/indias-curse/

    Another day, another Dalit death. We must hang our heads in shame It's been a nasty, brutish week. On the heels of 2 little girls being raped, India awoke to another horror story: just outside Delhi, 2 Dalit children, aged 9 months and 2.5 years, were cold-bloodedly burnt to death in a ghastly tale of revenge and caste hatred.


    Dalits attacked in Dehradun temple - Piyush Shrivastava, Mail Today, Lucknow, October 23, 2015 http://indiatoday.intoday.in/story/dalits-attacked-in-dehradun-temple/1/505418.html

    The cops accepted the complaint only when a large number of Dalits, led by Jabbar Singh, a local Dalit leader sat on dharna at the police station.  


    Temple Fest Turns Violent in Madurai, Dalit Vehicles Burnt by Caste Hindus By Pon Vasanth Arunachalam Published: 23rd October 2015http://www.newindianexpress.com/states/tamil_nadu/Temple-Fest-Turns-Violent-in-Madurai-Dalit-Vehicles-Burnt-by-Caste-Hindus/2015/10/23/article3092733.ece

    MADURAI:Tension prevailed in Elumalai and Athankaraipatti villages after at least four vehicles belonging to Dalits from the latter village were torched by caste Hindus and few others were injured in a clash that broke out on Wednesday evening at a temple festival. The villages, located around 60 km west of Madurai, were celebrating the Muthalamman temple festival.


    Dalit cousins assaulted by supporters of Jat candidate, 1 critical Pankul Sharma, TNN | Oct 23, 2015, 07.28 AM IST http://timesofindia.indiatimes.com/city/meerut/Dalit-cousins-assaulted-by-supporters-of-Jat-candidate-1-critical/articleshow/49499822.cms

    MEERUT: Supporters of a Jat candidate for village head allegedly assaulted two Dalit cousins who refused to support the candidate late on Wednesday night. The victims, one of who is in critical condition, are in hospital while an FIR has been filed against four assailants. 


    Haryana Dalit attacks: 7-fold jump in 3 govts - Manoj C G, Indian Express, New Delhi, October 22, 2015 http://indianexpress.com/article/india/india-news-india/haryana-dalit-attacks-7-fold-jump-in-3-govts/

    The major cases of violence include lynching of five Dalits in Dulina village in Jhajjar district in 2002, burning down of Dalit houses in Gohana in 2005 and burning alive of a physically challenged girl and her septuagenarian father in Mirchpur in 2010.

    Data available with the National Crime Records Bureau (NCRB) show a seven-fold increase over 15 years in the number of incidents of crime against Scheduled Castes in Haryana.

    आज तक  - ‎5 घंटे पहले‎
    देश में दलितों पर बढ़ते हमलों के खिलाफ रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (आरपीआई) ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है. पार्टी ने मांग की है कि दलितों को आत्मरक्षा के लिए हथियार दिए जाएं. आरपीआई के अध्यक्ष रामदास अठावले ने नागपुर में कहा कि अगर पुलिस और सरकार दलितों पर हमले नहीं रोक सकतीं तो इन्हें आत्मरक्षा के लिए दलितों को हथियार का लाइसेंस देना चाहिए. उन्होंने कहा कि 'पहले भी दलितों पर हमले हो रहे थे और अब भी ये जारी हैं. इसलिए दलितों के पास अपनी आत्मरक्षा करने के अलावा कोई और विकल्प नहीं है.' अठावले और आरपीआई के कार्यकारी अध्यक्ष उत्तम खोबरागडे ने हरियाणा के फरीदाबाद .



    Opportunity lost!Kejriwal refuses to allot funds to MCD, asks BJP to quit civic corporations!Sanitary workers on strike in Delhi might not have ears whatsoever for hearing grievances,their plight during this festive session and Killings continue.Suicides continue.


    मेरे लेखको! किसका इंतज़ार है और कब तक?



    Silent Protest March of Writers to Sahitya Academy, Delhi. 
    कलमकारों-कलाकारों का ख़ामोश जुलूस
    ------------------------------------------
    ख़ामोशी की भी जुबां होती है
    ज़ुल्मी उससे भी ख़ौफ़ खाता है
    हमारी आज़ादी की हिफ़ाज़त
    हम ख़ामोशी से भी करना जानते हैं
    और उतनी ही अच्छी तरह हम जानते हैं
    तुम्हारे कानों के परदे फाड़ देने वाली एकजुट आवाज़ में
    इंक़लाब के नारे लगाना और आज़ादी के तराने गाना।


    हमीं लाल हैं।हमीं फिर नील हैं।
    बाकी हिंदुत्व  महागठबंधन 

    का 

    फासिज्म है।

    मेरे लेखको! किसका इंतज़ार है और कब तक?

    Posted by Reyaz-ul-haque on 10/24/2015 04:25:00 PM

    दलितों-मुसलमानों और लेखकों पर फासीवादी हमलों और हत्याओं के विरोध में लेखकों द्वारा पुरस्कार लौटाए जाने और अपना सख्त विरोध दर्ज कराने के संदर्भ में कैच के सीनियर असिस्टेंट एडीटर, कवि, गायक और चित्रकार पाणिनि आनंद का लेख. अनुवाद: अभिषेक श्रीवास्‍तव
     

    इसमें कोई संदेह नहीं है कि भारत के लेखकों और कवियों ने साहित्‍य अकादमी से मिले पुरस्‍कार (और एक मामले में पद्मश्री) लौटा कर इतिहास बनाया है।

    यह इसलिए और ज्‍यादा अहम है क्‍योंकि पुरस्‍कार लौटाने वाले लेखक किसी एक पंथ या विचारधारा के वाहक नहीं हैं, वे किसी एक भाषा में नहीं लिखते और किसी जाति अथवा धर्म विशेष से नहीं आते। इनका खानपान भी एक जैसा नहीं है। कोई सांभरप्रेमी है, कोई गोबरपट्टी का वासी है तो कोई द्रविड़ है।

    ये सभी अलग-अलग पृष्‍ठभूमि से आते हैं। इनकी संवेदनाएं भिन्‍न हैं और इनकी आर्थिक पृष्‍ठभूमि भी भिन्‍न है। बावजूद इसके, ये सभी एक सूत्र से परस्‍पर बंधे हुए हैं। यह सूत्र वो संदेश है जो ये लेखक सामूहिक रूप से संप्रेषित करना चाहते हैं, ''मोदीजी, हम आपसे अहमत हैं, हम आपकी नाक के नीचे आपकी विचारधारा वाले लोगों द्वारा अभिव्‍यक्ति की आज़ादी पर किए जा रहे हमलों से आहत हैं।''

    कैसे सुलगी चिन्गारी

    इस ऐतिहासिक अध्‍याय की शुरुआत कन्‍नड़ के तर्कवादी लेखक एम.एम. कलबुर्गी की हत्‍या से हुई थी।  

    इस घटना के सिलसिले में हिंदी के प्रतिष्ठित लेखक उदय प्रकाश के साथ पत्रकार और प्रगतिशील कवि अभिषेक श्रीवास्‍तव की बातचीत हो रही थी। कलबुर्गी और उससे पहले नरेंद्र दाभोलकर व गोविंद पानसारे की सिलसिलेवार हत्‍या पर दोनों एक-दूसरे से अपनी चिंताएं साझा कर रहे थे। नफ़रत और गुंडागर्दी की इन घटनाओं के खिलाफ़ दोनों एक भीषण प्रतिरोध खड़ा करने पर विचार कर रहे थे।

    उदय प्रकाश इस बात से गहरे आहत थे कि साहित्‍य अकादमी ने कलबुर्गी की हत्‍या पर शोक में एक शब्‍द तक नहीं कहा। उनके लिए एक शोक सभा तक नहीं रखी गई। प्रकाश कहते हैं, ''आखिर अकादमी किसी ऐसे शख्‍स को पूरी तरह कैसे अलग-थलग छोड़ सकती है जिसे उसने कभी अपने सबसे प्रतिष्ठित पुरस्‍कार से नवाज़ा था? यह तो बेहद दर्दनाक और हताशाजनक है।''

    फिर उन्‍होंने विरोध का आगाज़ करते हुए पुरस्‍कार लौटाने का फैसला लिया और अगले ही दिन इसकी घोषणा भी कर दी। इस घोषणा के बाद दिए अपने पहले साक्षात्‍कार में उदय ने कैच को (''नो वन हु स्‍पीक्‍स अप इज़ सेफ टुडे'', 6 सितंबर 2015) इसके कारणों के बारे में बताया था और यह भी कहा था कि दूसरे लेखकों को भी यही तरीका अपनाना चाहिए।

    विरोध का विरोध

    अब तक कई अन्‍य लेखक और कवि अपने पुरस्‍कार लौटा चुके हैं। बीते 20 अक्‍टूबर को दिल्‍ली के प्रेस क्‍लब ऑफ इंडिया में आयोजित लेखकों व कवियों की एक प्रतिरोध सभा ने अभिव्‍यक्ति की आज़ादी पर हमले की कठोर निंदा की।

    फिर 23 अक्‍टूबर को कई प्रतिष्ठित लेखकों, कवियों, पत्रकारों और फिल्‍मकारों की अगुवाई में एक मौन जुलूस साहित्‍य अकादमी तक निकाला गया और उसे एक ज्ञापन सौंपा गया।

    इनका स्‍वागत करने के लिए वहां पहले से ही मुट्ठी भर दक्षिणपंथी लेखक, प्रकाशक और अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता जमा थे जो ''पुरस्‍कार वापसी तथा राजनीतिक एजेंडा वाले कुछ लेखकों द्वारा अकादमी के अपमान'' का विरोध कर रहे थे।

    साहित्‍य अकादमी के परिसर के भीतर जिस वक्‍त ये दोनों प्रदर्शन जारी थे, मौजूदा हालात पर चर्चा करने के लिए अकादमी की एक उच्‍चस्‍तरीय बैठक भी चल रही थी।

    बैठक के बाद अकादमी ने एक संकल्‍प पारित किया जिसमें कहा गया है: ''जिन लेखकों ने पुरस्‍कार लौटाए हैं या खुद को अकादमी से असम्‍बद्ध कर लिया है, हम उनसे उनके निर्णय पर पुनर्विचार करने का अनुरोध करते हैं।''

    और सत्‍ता हिल गई

    जिस देश में क्षेत्रीय भाषाओं के लेखक और कवि इन पुरस्‍कारों से मिली राशि के सहारे थोड़े दिन भी गुज़र नहीं कर पाते, वहां ''ब्‍याज समेत पैसे लौटाओ'' जैसी प्रतिक्रियाओं का आना बेहद शर्मनाक हैं।

    राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ और उसकी अनुषंगी संस्‍थाओं के सदस्‍यों और नेताओं की ओर से जिस किस्‍म के भड़काने वाले बयान इस मसले पर आए हैं, उसने यह साबित कर दिया है कि लेखक सरकार का ध्‍यान इस ओर खींचने के प्रयास में असरदार रहे हैं।

    और हां, जेटलीजी, जब आप कहते हैं कि यह प्रतिरोध नकली है, तो समझिए कि आप गलत लीक पर हैं। लेखक दरअसल इससे कम और कर भी क्‍या सकता है। सत्‍ता प्रतिष्‍ठान के संरक्षण में जिस किस्‍म की बर्बरताएं की जा रही हैं, हर रोज़ जिस तरह एक न एक घटना को अंजाम दिया जा रहा है और देश का माहौल बिगाड़ा जा रहा है, यह एक अदद विरोध के लिए पर्याप्‍त कारण मुहैया कराता है।

    अब आगे क्‍या?

    लेखकों व कवियों के सामने फिलहाल जो सबसे अहम सवाल है, वो है कि अब आगे क्‍या?

    यह लड़ाई सभी के लिए बराबर सम्‍मान बरतने वाले और बहुलता, विविधता व लोकतंत्र के मूल्‍यों में आस्‍था रखने वाले इस देश के नागरिकों तथा कट्टरपंथी गुंडों के गिरोह व उन्‍हें संरक्षण देने वाले सत्‍ता प्रतिष्‍ठान के बीच है।

    इस प्रदर्शन ने स्‍पष्‍ट तौर पर दिखा दिया है कि लेखक बिरादरी इनसे कतई उन्‍नीस नहीं है, लेकिन अभी लेखकों के लिए ज्‍यादा अहम यह है कि वे व्‍यापक जनता के बीच अपनी आवाज़ को कैसे बुलंद करें। ऐसा महज पुरस्‍कार लौटाने से नहीं होने वाला है। यह तो फेसबुक पर 'लाइक' करने जैसी एक हरकत है जिससे कुछ ठोस हासिल नहीं होता।

    एकाध छिटपुट उदाहरणों को छोड़ दें, तो बीते कुछ दशकों के दौरान साहित्‍य में कोई भी मज़बूत राजनीतिक आंदोलन देखने में नहीं आया है। कवि और लेखकों को सड़कों पर उतरे हुए और जनता का नेतृत्‍व किए हुए बरसों हो गए।

    मुझे याद नहीं पड़ता कि पिछली बार कब इस देश के लेखकों ने किसानों की खुदकशी, दलितों के उत्‍पीड़न, सांप्रदायिक हिंसा और लोकतांत्रिक मूल्‍यों व नागरिक स्‍वतंत्रता पर हमलों के खिलाफ कोई आंदोलन किया था। वे बेशक ऐसे कई विरोध प्रदर्शनों का हिस्‍सा रहे हैं, लेकिन नेतृत्‍वकारी भूमिका उनके हाथों में कभी नहीं रही। न ही पिछले कुछ वर्षों में कोई ऐसा महान साहित्‍य ही रचा गया है जिसने किसी सामाजिक सरोकार को मदद की हो।

    पिछलग्‍गू न बनें, नेतृत्‍व करें

    एक लेखक आखिर है कौन? वह शख्‍स, जो समाज के बेहतर और बदतर तत्‍वों की शिनाख्‍त करता है और उसे स्‍वर देता है।

    एक कवि होने का मतलब क्‍या है? वह शख्‍स, जो ऐसे अहसास, भावनाओं और अभिव्‍यक्तियों को इस तरह ज़ाहिर कर सके कि जिसकी अनुगूंज वृहत्‍तर मानवता में हो।

    मेरे प्रिय लेखक, आप ही हमारी आवाज़ हैं, हमारी कलम भी, हमारा काग़ज़ और हमारी अभिव्‍यक्ति भी। वक्‍त आ गया है कि आप आगे बढ़कर चीज़ों को अपने हाथ में लें।

    अब आपको जनता के बीच निकलना होगा और उसे संबोधित करना ही होगा, फिर चाहे वह कहीं भी हो- स्‍कूलों और विश्‍वविद्यालयों में, सार्वजनिक स्‍थलों पर, बाज़ार के बीच, नुक्‍कड़ की चाय की दुकान पर, राजनीतिक हलकों में, समाज के विभिन्‍न तबकों के बीच और अलग-अलग सांस्‍कृतिक कोनों में।

    और बेशक उन मोर्चों पर भी जहां जनता अपने अधिकारों के लिए लड़ रही है- दिल्‍ली की झुग्गियों से लेकर कुडनकुलम तक और जैतापुर से लेकर उन सुदूर गांवों तक, जहां ज़मीन की मुसलसल लूट जारी है।

    आपको उन ग्रामीण इलाकों में जाना होगा जहां बहुराष्‍ट्रीय कंपनियां संसाधनों को लूट रही हैं: उन राजधानियों व महानगरों में जाइए, जहां कॉरपोरेट ताकतों ने कानूनों और नीतियों को अपना बंधक बना रखा है और करोड़ों लोगों की आजीविका से खिलवाड़ कर रही हैं; कश्‍मीर और उत्‍तर-पूर्व को मत भूलिएगा जहां जम्‍हूरियत संगीन की नोक पर है। इस देश के लोगों को आपकी ज़रूरत है।

    सबसे कमज़ोर कड़ी

    इन लोगों के संघर्षों को महज़ अपनी कहानियों और कविताओं में जगह देने से बात नहीं बनने वाली, न ही आपका पुरस्‍कार लौटाना जनता की अभिव्‍यक्ति की आज़ादी को बहाल कर पाएगा। अगर आप ऐसा वाकई चाहते हैं, तो आपको इसे जीवन-मरण का सवाल बनाना पड़ेगा। आपको नवजागरण का स्‍वर बनना पड़ेगा।

    ऐसा करना इसलिए भी ज़रूरी है क्‍योंकि सरकार अब इस सिलसिले की सबसे कमज़ोर कडि़यों को निशाना बनाने की कोशिश में जुट गई है। उर्दू के शायर मुनव्‍वर राणा, जिन्‍होंने टीवी पर एक बहस के दौरान नाटकीय ढंग से अपना साहित्‍य अकादमी पुरस्‍कार लौटा दिया था, कह रहे हैं कि उन्‍हें प्रधानमंत्री कार्यालय से फोन आया था और अगले कुछ दिनों में उन्‍हें मोदी से मिलने के लिए बुलाया गया है।

    राणा एक ऐसे लोकप्रिय शायर हैं जिन्‍होंने सियासी मौकापरस्‍ती की फसल काटने में अकसर कोई चूक नहीं की है। उनके जैसी कमज़ोर कड़ी का इस्‍तेमाल कर के सरकार लेखकों की सामूहिक कार्रवाई को ध्‍वस्‍त कर सकती है।

    ऐसा न होने पाए, इसका इकलौता तरीका यही है कि जनता का समर्थन हासिल किया जाए। लेखक और कवि आज यदि जनता के बीच नहीं गया, तो टीवी की बहसें और उनमें नुमाया लिजलिजे चेहरे एजेंडे पर कब्‍ज़ा जमा लेंगे।

    जनता का समर्थन हासिल करने, अपना सिर ऊंचा उठाए रखने, इस लड़ाई को आगे ले जाने और पुरस्‍कार वापसी की कार्रवाई को सार्थकता प्रदान करने के लिए हरकत में आने का सही वक्‍त यही है। मेरे लेखको और कवियो, बात बस इतनी सी है कि अभी नहीं तो कभी नहीं। किसका इंतज़ार है और कब तक? जनता को तुम्‍हारी ज़रूरत है!

    (मूल अंग्रेजी : कैच न्‍यूज़)