Are you the publisher? Claim or contact us about this channel


Embed this content in your HTML

Search

Report adult content:

click to rate:

Account: (login)

More Channels


Channel Catalog


Channel Description:

This is my Real Life Story: Troubled Galaxy Destroyed Dreams. It is hightime that I should share my life with you all. So that something may be done to save this Galaxy. Please write to: bangasanskriti.sahityasammilani@gmail.comThis Blog is all about Black Untouchables,Indigenous, Aboriginal People worldwide, Refugees, Persecuted nationalities, Minorities and golbal RESISTANCE.

older | 1 | .... | 77 | 78 | (Page 79) | 80 | 81 | .... | 303 | newer

    0 0

    Black Resistance And How Guns Made The Civil Rights Movement Possible

    POSTED BY  ON TUESDAY, JULY 29, 2014 12:15 AM. UNDER BLOGFREEHAITIMOVEMENTHAITI PERSPECTIVES  


    Gaspar Yanga, Afrikan freedom fighter in Mexico, set up first free Black towns in Western Hemisphere

    Gaspar Yanga, Afrikan freedom fighter in Veracruz Mexico who set up first free Black territory in the Western Hemisphere

    The Afrikans fought back- A Bwa Kayimanresistance to white genocideFreeHaitiMovement posting

    Armed Resistance in the Mississippi Freedom Movement

    Armed Resistance in the Mississippi Freedom Movement

     

    Black August, Black resistance, Black self-defense, Robert F. Williams, Negroes with Guns. John Horse, Black Seminoles, Gullah Wars, Largest Afrikan Revolt in U.S. History and the untold stories for Black freedom in the United States, in Haiti and with Gaspar Yanga, Zimbi.

    Ezili Dantò of HLLN

    Ezili Dantò of HLLN/FreeHaitiMovement on Bwa Kayiman and The story of Cecile Fatiman, the historical Ezili Dantò, 1791/See Photos and Celebrating Bwa Kayiman 2014/ Gandhi's non-violence doctrine was founded on a base ofegregious  violence racism and sexism. (47:36 caste violence- Arundhati Roy; and The Myth of Mahatma Gandhi)

    Black Resistance In The Western Hemisphere And How Guns Made The Civil Rights Movement Possible

    ezili_HLLN1b
    Self-Defense is a human right. The right to self-determination is enshrined in national and international laws.

    Contrary to the white establishment spin, Black armed self-defense was an integral part of the civil rights era, especially in the southern U.S. States. The historical image that the majority of Afrikans during the Civil Rights period were non-violent, defenseless and passive in their acceptance of violence by white supremacists toward them is overplayed, every Martin Luther King day, to serve white supremacist interests. A far more balanced view of the US freedom movement would include the fact that armed Blacks with guns were an integral part of the 1960s period as well as the greater African resistance movements to enslavement and white supremacy.

    Black resistance to white genocide is an expression of the humanity within.Boukman's Prayer outlined this at the Bwa Kayiman war council in 1791 that began the Haiti revolution. African self-defense is Robert F. Williams, John Horse, theBlack Seminoles, the Gullah Wars and the little known, but largest revolt of the enslaved in U.S. history at Negro Fort in Florida. It's the Gaspar Yanga settlement in Yanga Veracruz Mexico. Yanga's Afrikan-liberated community was recognized in1609 by the Spaniards. It's the first territory in the Americas founded by free Black people who won their freedom in combat with their

    Caste and Capitalism
    Arundhati Roy: The Doctor and the Saint
    |
    The non-colonial narrative on Gandhi
    Gandhi, for the major part of his life:

    1) Was loyalty and worshiped British imperialism
    (2) Supported caste system insisted in the "lower castes"-India's indigenous population staying put, didn't believe in racial equality, and

    (3) was a virulent in his sexism and anti-African racism.Supported Apartheid for Africans in SA.
    Gandhi's non-violence doctrine was founded on a base ofegregious violence. (47:36 caste violence- Arundhati RoyThe Myth of Mahatma Gandhi by Dr. Velu Annamalai.

    How Guns Made the Civil Rights Movement Possible

    How Guns Made the Civil Rights Movement Possible

    European oppressors. In this case, the Spaniards in Mexico. These are a few of the untold stories for Afrikan freedom in the United States and in the Americas. Afrikans fought back.  Watch the videos researched for you in this Bwa Kayiman post, including the story of  Zumbi of Palmares, Brazil. Born in 1655, the Afrikan warrior Zumbi, led another early free and armedBlack community.

    When Martin Luther King's house was fire bombed, he got armed community protection for his family home afterwards whether he wished it or not. As Kwame Ture maintains, non-violence was a strategy for the majority of the active Black freedom fighters in the 1960s. Mostly to gain white liberal funds and strategic support. (Read the books: "This Nonviolent Stuff'll Get You Killed: How Guns Made the Civil Rights Movement Possible" by Charles E. Cobb, Jr. ; "We Will Shoot Back: Armed Resistance in the Mississippi Freedom Movement" by Dr. Akinyele Umoja and  Charles E. Cobb Jr. guest-blogging about "This Nonviolent Stuff'll Get You Killed" ; Dr. Velu Annamalai at The Myth of Mahatma Gandhi and watch on youtube Arundhati Roy: The Doctor and the Saint).

    Other good sources of information is to study the life of Robert Williams, who wrote the book "Negroes With Guns". Robert F. Williams is a mostly unherald Black leader, way ahead of his time, as you'll see in this little known interview (posted below). Produced in 1968, this important interview shows something we've learned in the Haiti struggle: The white liberal and the Marxist/Socialist, with few exception, despite avowals to the contrary (Like pharmaceutical industrial complex vampire Dr. Paul Farmer and his World Bank partner Jim Yong Kim, their Institute for Justice and Democracy in Haiti (IJDH) affiliates & interlocking NGO mafias in Haiti) WORK for and to maintain the global racist/imperialistic white supremacist status quo AGAINST Black self determination, liberation and independence.

    History shows the White liberal ultimately will conspire to destroy the Black revolutionary while raising funds, writing books, making movies for general consumption about the heroic white hero "in alliance with"or simply "saving" the Black victims of racism/white supremacy. Their god complex/narcissism, like their greed and psychopathic tendencies, know no bounds. Few, like Che Guevara willload a Black freedom fighter's guns. The brilliant freedom fighter Robert Williams, never an Uncle Tom for the socialist or capitalist, explains this in detail, if you're willing to hear.

    It's been said that, "when Black people resist, white liberals called it "treason". When white people do it, it's called the 'Tea Party.'"

    Click on videos:
    1. Negroes With Guns: Robert F. Williams-Let it Burn
    2. John Horse and the Black Seminoles: The Forgotten Rebellion: Black Seminoles (Gullah Wars – 1739 to 1858) and the Largest Slave Revolt in U.S. History. (See also,Johnhorse.com.)
    3. The Robert Williams Documentary (Negroes With Guns)
    4. Gaspar Yanga in Mexico and the first recognized Black-ruled territory in the Western Hemisphere, 1609
    5. Zumbi, Quilombo Palmares – Another early free and armed Black community. Palmares survived European enslavement up until 1694.When the Palmares free Afrikan territories were finally captured, 200 Palmarista Afrikan soldiers committed suicide rather than return to bondage. In an effort to demoralize and intimidate the Afrikans, General Zumbi was decapitated just as Boukman would be 100-years later in Haiti in a public execution and his head put on display.But instead, free and armed quilombos/marroon communities continued to exist in Brazil and the lore of Zumbi spread asmore maroons formed settlements in Brazil.The triumph of Boukman in Haiti also spread even after his decapitation by the French terrorist-slavers in October 1791. His bravery and that of over 200,000 Afrikans who died for freedom would usher in the creation of Ayiti/Haiti in 1804 – the only Black independent nation founded by enslaved Afrikans. Haiti is barely holding on to its own lands, culture, language and mineral wealth against the overwhelming force and low intensity warfarebeing carried out by the Euro-US capitalists, their white settler encroachments (tourists/investors) and a US military occupation behind UN colonial guns. Ironically, with modern-day Brazil, and the same forces Zumbi fought, as lead commander for the US-Euro recolonizers. The US-Euro insidious but unremitting low-intensity warfare to recapture Janjak Desalin's people, continue. The forms of slavery are different in the 21st century, but through language, education, academia, church/missionaries/NGOs, capital, media propaganda, big pharmaceutical, et al.. the white man put chains on the Black mind. But free Afrikans worldwide continue to fight white supremacy, fascism,Zionism and Arab enslavement.

    ***

    The story of John Horse, the Black Seminoles/Gullah Wars (1739 to 1858) and Black resistance in the US in general, remainconflated as one in the same with "the Indian Wars" as opposed to a distinct African resistance to white tyranny and all slavery, whether practiced by the US, the French, the Spanish or the Indian. The African "Negro Fort" in Florida, for instance, served as a "beacon of light to restless and rebellious slaves and was a precursor to the Underground Railroad, demonstrating that resistance to slavery arose decades before abolitionism became organized and influential.

    The story of John Horse and the Black Seminoles (Gullah Wars) has been largely untold, but it deserves to be remembered for a number of reasons:

    - These African manage to create the largest haven in the U.S. South for runaway slaves.
    – They led the largest slave revolt in U.S. history.
    – They secured the only emancipation of rebellious slaves prior to the U.S. Civil War.
    – They formed the largest mass exodus of enslaved Africans across the United States and, ultimately, to Mexico where they secured titles to their own lands.

    The story of Cecile Fatiman, the historical Ezili Dantò, 1791 and Bwa Kayiman, the Vodun war council and gathering that began the Haiti revolution, are also famously unknown Black resistance stories.

    "A people without the knowledge of their past history, origin and culture is like a tree without roots."– Marcus Garvey, (at Vodun, the Light and Beauty of Haiti, a Photo Essay)

    Ezili Dantò,
    July 28, 2014 on the anniversary of the first US occupation of Haiti
    Libète ou Lanmò – Liberty or Death
    "Like" the FreeHaitiMovement
    Share and participate in the conversations.

    The story of John Horse and the Black Seminoles (Gullah Wars)

    Gaspar Yanga in Mexico and the first Black ruled territory in the Americas, 1609

    Bwa Kayiman and The Story of Cecile Fatiman, the historical Ezili Dantò, 1791

    Palmares (Quilombo)

    *******************************************************
    Forwarded by Ezili's Haitian Lawyers Leadership Network
    *******************************************************

    The calvary is NOT coming, Ile a Vache.
    The calvary is NOT coming Haiti. Se mèt kò ki veye kò. Self-defense is a human right. Recall, General Toussaint Louverture thought he could negotiate with the imperialists, but his own sons were with Leclerc's armada come to bring slavery and colonialism back to Haiti. — Ezili Dantò, Haitian Lawyers Leadership Network (HLLN)/FreeHaitiMovement

    See Celebrating Bwa Kayiman 2014 and Photos
    ***************

    "The colonial marketplace called Haiti – which the World Superpower amuses itself with, by apportioning off, at will, to various nations and commercial allies – needs no more to be a Bush-Clinton dream place except to get rid of the recalcitrant African population and import a more submissive workforce. Maybe China or India have been approached to help in this next step? " -The Plantation called Haiti: Feudal Pillage Masking as Aid

    Related Posts


    0 0
  • 04/17/15--04:03: हमारी दुनिया तो आज भी सुखी लाला की तिजोरी में कैद है मदर इंडिया की बंदूक महाजनी सभ्यता के खिलाफ नहीं,आज भी अपनी सबसे अजीज औलाद के सीने को गोलियों से छलनी कर रही है। जल जंगल जमीन प्रकृति और पर्यावरण की लड़ाई तब भी सुखी लाला का बाल बांका नहीं कर सकती थी और आज भी केसरिया कारपोरेट राज के मिलियनर बिलियनर तबके के नरसंहार संस्कृति और बलात्कार संस्कृति से उत्पीड़ित मदर इंडिया विकास के लिए अपना ही घर उजाड़ अंध आस्था के महिमा मंडन में हमें देशभक्त बना रही है अंध धर्मोन्मादी। पलाश विश्वास
  • हमारी दुनिया तो आज भी सुखी लाला की तिजोरी में कैद है

    मदर इंडिया की बंदूक महाजनी सभ्यता के खिलाफ नहीं,आज भी अपनी सबसे अजीज औलाद के सीने को गोलियों से छलनी कर रही है।


    जल जंगल जमीन प्रकृति और पर्यावरण की लड़ाई तब भी सुखी लाला का बाल बांका नहीं कर सकती थी और आज भी केसरिया कारपोरेट राज के मिलियनर बिलियनर तबके के नरसंहार संस्कृति और बलात्कार संस्कृति से उत्पीड़ित मदर इंडिया विकास के लिए अपना ही घर उजाड़ अंध आस्था के महिमा मंडन में हमें देशभक्त बना रही है अंध धर्मोन्मादी।

    पलाश विश्वास


    1. मदर इंडिया 1957 - यूट्यूब

    2. Video for मदर इंडिया▶ 174:36

    3. www.youtube.com/watch?v=Vv032qeQvN0

    4. Apr 13, 2014 - Uploaded by Keshaw Kumar

    5. मदर इंडिया - 1957 उत्कृष्ट फिल्म कई कई 1958 पुरस्कार जीता था,सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री (नरगिस) सहित, सर्वश्रेष्ठ फिल्म, सर्वश्रेष्ठ निर्देशक (महबूब खान), 1.... बहुत ...

    कल फिर देख ली मदर इंडिया।


    सविता बाबू उत्तर प्रदेश और बिहार में लगातार हो रही बारिश और फसलों की तबाही की वजह से हमारी दुनिया में मचे हाहाकार से रूबरु होकर अपने मायके और ससुराल में मातम और खुशी में शरीक होकर जम्मू तवी एक्सप्रेस से लौटकर बांग्ला नववर्ष के सांंस्कृतिक कार्यक्रमों से निबटकर एक दफा फिर मुझे अनुशासित करने में लग गयी है।


    अब हर हाल में दोपहर को आहार और विश्राम का अनुशासन मानकर चलना पड़ रहा है।


    इसी बहाने कल दोपहर भोजन और विश्राम के मौके पर उनने हमारे लिए मदर इंडिया फिल्म लगा दी और फिर हम अपनी दुनिया में वापस लौट चले जो आज भी सुखी लाला की तिजोरी में कैद है।


    हम बिरजू की बगावत को तब डकैती मान रहे थे।


    अब फर्क सिर्फ यह है कि इस महाजनी सभ्यता की राजसत्ता के खिलाफ आवाज बुलंद करने वाले तमाम लोग या तो राष्ट्रद्रोही हैं या फिर माओवादी, आतंकवादी,उग्रवादी, अलगाववादी- और पूरा देश उन्हे मुठभेड़ में मारने का जश्न मना रहा है।


    जल जंगल जमीन प्रकृति और पर्यावरण की लड़ाई तब भी सुखी लाला का बाल बांका नहीं कर सकती थी और आज भी केसरिया कारपोरेट राज के मिलियनर बिलियनर तबके के नरसंहार संस्कृति और बलात्कार संस्कृति से उत्पीड़ित मदर इंडिया विकास के लिए अपना ही घर उजाड़ महिमा मंडन में हमें देशभक्त बना रही है अंध धर्मोन्मादी।


    मदर इंडिया की बंदूक महाजनी सभ्यता के खिलाफ नहीं,आज भी अपनी सबसे अजीज औलाद के सीने को गोलियों से छलनी कर रही है।


    हकीकत के आइने में देश का भूत भविष्य वर्तमान एकाकार है और हम फासिस्ट हिंदू  साम्राज्यवाद के धर्मोन्मादी प्रजाजन है।


    हमने बचपन में नैनीताल की तराई समेत उत्तर प्रदेश के तमाम शहरों में दीपक जलते देखा है,जो गांवों में घुप्प अंधेरे में कहीं जलता ही न था।वह दीपक घी से जलना था और घी किसानों के यहां सर्वत्र होता न था।


    केसरिया झंडों का वह उन्माद सातवें आठवें दशक तक भारत के देहात में कहीं नहीं दिखता था।


    तब देहात के लोग भारतीय जनसंघ को बनियों की पार्टी बताते थे।


    माफ कीजियेगा,बनिया कहने से उनका मतलब बनिया जाति नहीं था।वे जनसंघ को हिंदुत्व की आड़ में मुनाफाखोरों और कारोबारियों की पार्टी समझते थे।


    माफ कीजियेगा, तब लोक और आस्था के रंग आज के मुकाबले कही ज्यादा ईमानदार और पक्के थे।


    रीति रिवाज रस्म अदायगी में हिंदुत्व की आस्था अपनी जगह थी लेकिन हिंदुत्व की राजनीति देहात में दो कौड़ी की नहीं थी।


    तब भी देश के देहाती अपढ़ अधपढ़ लोगों ने प्रेमचंद की महाजनी सभ्यता न पढी थी और तब भी अर्थ शास्त्र पढञने और समझने वाले लोग मुट्ठीभर थे।लेकिन महाजनों का दीदार किये बिना किसानों की दिनचर्या तब असंभव थी।


    वह महाजनी सभ्यता किसानों के लिए रोज रोज की नरकयंत्रणा रही है।टीप छाप और चक्रवृद्धि सूद के तिलिस्म में कैद होते हुए भी अपनी जमीन हड़पने वालों को वे साफ साफ देख सकते थे।आज नहीं देख सकते क्योंकि महाजनी सभ्यता अब पीपीपी माडल गुजराती विकास का हिंदुत्व है।हिंदुत्व में एकाकार आस्था मुक्तबाजार है।


    बाकी देश में जो हो रहा था,वह तब हमने नहीं देखा होगा,लेकिन हमने तराई में सन 67 से लेकर सन 71 तक महाजनों के खिलाफ बगावत में खड़े हजारों बिरजू देखे हैं,जिन्होंने बंदूकें नहीं उठायीं,लेकिन अपनी बेदखल जमीन महाजनों की तिजोरी से निकालने की कोशिशें कीं,महाजनों के बही खाते जला दिये और हजारों की तादाद में तराई के जेलों में कैद कर लिये गये।


    तब हमारे कामरेड उनका नेतृत्व कर रहे थे और यूपी में हिमालय की तलहटी में अयोध्या बनारस से लेकर समूचे पूर्वांचल और नैनीताल की तराई और कुमायूं गढ़वाल के पहाड़ों तक में कम्युनिस्टों के गढ़ बने हुए थे।जो अब केसरिया राजमहल में तब्दील हैं।


    अब समूचे देहात में कृषि विध्वंस के महाश्मसान कमल ही कमल खिलाखिला रहे हैं और तन मन से पूरी तरह अमेरिकी मदर इंडिया की तकनीकी दक्षता,बाजारु फैशन की संतानें लोक और जड़ों से कटे हुए हवाहवाई ग्लोबल हिंदुत्व के बजरंगी हैं।


    गौर तलब है कि विभाजन के पहले तक,1964 तक अविभाजित भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव कामरेड पीसी जोशी अल्मोड़ा के ही थे।


    हमारी दुनिया तो आज भी सुखी लाला की तिजोरी में कैद है।लेकिन इस मुक्त बाजारी तंत्र में बिजनेस फ्रेंडली राजकाज की बनिया भेष अब करोड़ टकिया फैशन है और विकास के फरेब में धर्म के तड़के का जो मुक्तबाजारी तंत्र यंत्र मंत्र का अर्थशास्त्र नरसंहारी है,उसे समझते नहीं है देहात के बहुजन बहुसंख्य कृषि से बेदखल लोग।

    कयामती मंजर जो है सो है कि

    आस्था न सिर्फ उन्माद है।

    आस्था राष्ट्रवाद है।

    आस्था अंध फासिस्ट सत्ता है।

    आस्था मुक्मल अर्थशास्त्र है।

    आस्था विधर्मियों का सर्वनाश और सफाया है।

    आस्था सांप्रादायिक हिंसा है।

    आस्था संपूर्ण निजीकरण है।

    आस्था संपूर्ण विनेवेश है।

    आस्था आलराउंड कारपोरेट राज है।

    आस्था आफसा है।

    आस्था परमाणु बम है। मिसाइल है और राष्ट्र का सैन्यीकरण है।


    आस्था सलवा जुड़ुम है और जल जंगल जमीन नागरिकता मानवाधिकार रोजगार आजीविका प्राकृतिक संसाधनों,बुनियादी जरुरतों और बुनियादी सुविधाओं से बेदखली है।


    आस्था अबाध विदेशी पूंजी है।संविधान की रोजाना हत्या है। लोकतंत्र, स्वतंत्रता, संप्रभुता समेत लोक गणराज्य का अवसान है आस्था।


    आस्था मुकम्मल मुक्तबाजारी महाजनी सभ्यता है तो आस्था अपनी ही संतान को गोली मारकर महाजनी सभ्यता के हक में खड़ी हो जाने को नियतिबद्ध उत्पीड़ित शोषित वंचित बेदखल मदर इंडिया भी है आस्था।


    मदर इंडिया की बंदूक महाजनी सभ्यता के खिलाफ नहीं,आज भी अपनी सबसे अजीज औलाद के सीने को गोलियों से छलनी कर रही है।


    जल जंगल जमीन प्रकृति और पर्यावरण की लड़ाई तब भी सुखी लाला का बाल बांका नहीं कर सकती थी और आज भी केसरिया कारपोरेट राज के मिलियनर बिलियनर तबके की नरसंहार संस्कृति और बलात्कार संस्कृति से उत्पीड़ित मदर इंडिया विकास के लिए अपना ही घर उजाड़ महिमा मंडन में हमें देशभक्त बना रही है अंध धर्मोन्मादी।


    कृपया हस्तक्षेप पर राम पुनियानी जी का आलेख तुरंत पढ़ लें।


    संघ परिवार के बाबा साहेब की विरासत को केसरिया बनाने के तंत्र मंत्र यंत्र का खुलासा करता है यह आलेख।कल ही हमने उन्हें सिलसिलेवार लिखने के लिए कहा था और अपनी उम्र और स्वास्थ्य की परवाह किये बिना उन्होंने आज से लिखना शुरु कर दिया है।


    हमने इतिहासकार रामचंद्र गुहा और एडमिरल भागवत से भी निवेदन किया है कि वे सच की परते खोलें।रामचंद्र गुहा सत्तर के दशक में हमारे शेखर पाठक के खास मित्र थे और पहाड़ के लिए नियमित लिखते रहते हैं।अपनी बहुत बड़ी हैसियत के बावजूद वे हमें भूले नहीं है।हमें उनके जवाब का इंतजार है और उम्मीद है कि एडमिरल भागवत भी खामोश नहीं रहेंगे।


    कल आदरणीय आनंद तेलतुंबड़े से हमने अपनी शंकाओं के समाधान के लिए लंबी बातचीत की और उनने साफ साफ कहा कि अंबेडकर ने कहीं भी संस्कृत को राजभाषा बनाने की बात नहीं की है।यह सरासर झूठ है।


    आनंद से हमारी बातचीत इस सिलसिले में लगभग रोजाना होती रही है और आनंद को पहले ही आशंका थी कि चूंकि अंबेडकर समय समय पर अलग अलग परस्परविरोधी वक्तव्य दे चुके हैं क्योंकि वे किसी विचारधारा में कैद न थे और समूची मानवता के लिए और खासतौर पर वंचित वर्ग के लिए उऩकी चिंता घनघोर थीं,तो उन वक्तव्यों को संदर्भ और प्रसंग से काटकर कोई भी कुछ भी व्याख्या कर सकता है।संघ परिवार बिल्कुल वही कर रहा है और हमें पहले से इसकी आशंका थी।


    बाबासाहेब कोई ईश्वर न थे।


    वे हाड़ मांस के इंसान थे और समाज के हर तबके के लिए गौतम बुद्ध के दर्शन के मुताबिक कल्याकारी समता और सामाजिक न्याय आधारित समाज की स्थापना उनके जीने का एकमात्र मकसद था।


    हम उनके कहे को जस का तस लेकर उनके आंदोलन के मुख्य उद्देश्य को भूल नहीं सकते।जाति उन्मूलन का एजंडा उनका मुख्य था और मनुस्मृति का दहन उनने किया,हिंदुत्व के ब्राह्मणवादी वर्ण वर्चस्व  के खिलाफ उनने कहा कि जनम पर चूंकि उनका हाथ नहीं रहा है,वे जनमे तो हिंदू हैं लेकिन वे हरगिज हिंदू रहकर मरेंगे नहीं और उनने हिंदू धर्म का परित्याग किया।


    इससे यह स्वयंसिद्ध है कि फासिस्ट हिंदू साम्राज्यवाद के वे कितने खिलाफ थे।


    जिन धर्मशास्त्रों की बुनियाद पर हिंदुत्व का यह तिलिस्म खड़ा है,उसके तमाम मिथकों और आख्यानों को परत दर परत बेनकाब करने वाले बाबासाहेब हिंदुत्व के एजंडे के मुताबिक काम करते रहे हैं,संघ परिवार के इस दावे का सच आप खुदै समझ लें।


    पुनियानी जी ने अपने अंग्रेजी आलेख में तमाम उद्धरणों के साथ इसका खुलासा किया है।इस आलेख का हिंदी अनुवाद भी हस्तक्षेप पर देर सवेर लगेगा।

    कृपया देखेंः

    Ambedkar's Ideology: Religion, Nationalism and Indian Constitution

    http://www.hastakshep.com/english/opinion/2015/04/17/ambedkars-ideology-religion-nationalism-and-indian-constitution



    मुसलमानों के खिलाफ संघ परिवार ने जो विषवमन बाबासाहेब के हवाले से किया,वह पाकिस्तान पर लिखे उनके आलेख के आधार पर हैं।ऐसे लांछन पहले भी लगाये गये हैं।


    आनंद तेलतुबड़े ने इसका जवाब बाकायदा एक पुस्तक लिखकर दिया है,जो हिंदी और मराठी समेत कई भारतीयभषाओं में अनूदित है।हमने वह पुस्तक इंटरनेट में लगाने वास्ते यूनिकोड में आनंद जी से मांगा है और उसके प्रासंगिक अंश भी हस्तक्षेप पर लगा दिये जायेंगे।


    गौर तलब है कि हमारी बहस वैकल्पिक मीडिया को लेकर चल रही थी।आनंद स्वरुप वर्मा के आलेख का यूनिकोड मिलते ही वह बहस फिर शुरु होगी।


    हम संवाद के किसी भी क्षेत्र से पीछे हट नहीं रहे हैं।


    हम लोग शुरु से अंबेडकर को ईश्वर बनाने की अस्मिता राजनीति के खिलाफ रहे हैं और अंबेडकर के जाति उन्मूलन के एजंडा और मेहनतकश तबके के लिए बनाये उनके श्रम कानून और संवैधानिक रक्षाकवच को ही अंबेडकरी आंदोलन का प्रस्थान बिंदू मानते हैं,जहां धर्म और जाति पहचान को खत्म करने से ही समता और समामाजिक न्याय की मंजिल साफ नजर आती है।


    अंबेडकर चूंकि राजनेता भी रहे हैं।इसलिए राजनीतिक परिस्थितियों के मद्देनजर वे जो भी कुछ कहते रहे हैं,उन सभी उद्धरणों को जस का तस उनकी विचाराधारा मान लाना आत्मघाती होगा।  


    बहुजनों को कुछ इसी तरह बाबासाहेब का अंधा अनुयायी बनाकर सत्ता में भागेदारी के लिए जो अस्मिता राजनीति खड़ी की गयी है,हमार समझ से बाबासाहेब के आंदोलन को वह खत्म ही कर रही है और इससे बिलियनर मिलियनर एक तबका बहुजनों में भी तैयार हो गया है जो नस्लवादी वर्णवर्स्वी शासकों के साथ मिलकर अपने ही स्वजनों के खून से अपनी सारी देह रंगे हुए हैं।यही तबका बाबासाहेब के आंदोलन के प्रस्थानबिंदू उनके जाति उन्मूलन के एजंडे पर किसी भी संवाद के खिलाफ है।


    संघ परिवार बहुजनों के इसी रामरथ पर सवार होकर बाबासाहेब का वध करके उनकी एक स्वर्ण प्रतिमा को हिंदुत्व के भव्य राममंदिर में स्थापित करने जा रहा है।


    इस सिलसिले में सबसे मजेदार वाकया विशाकापत्तनम माकपा पार्टी कांग्रेस से जारी एक प्रस्ताव है,जिसमें संदद का विशेष अधिवेशन बाबासाहेब की जयंती पर बुलाकर अनुसूचितों की समस्याओं पर बहस करने के लिए बुलाने की मांग की है।


    इस प्रस्ताव से ही बाबासाहेब के कृतित्व व्यक्तित्व और उनके आंदोलन के बारे में हमारे आदरणीय कामरेडों का नजरिया साफ हो जाता है।


    सवाल यह है कि जो संसद संविधान ,कानून का राज और लोकतंत्र से लेकर देश की संप्रभुता को गिरवी पर रखने वाली सत्ता पर अंकुश नहीं लगा पाती,जो संसद कानून बिगाड़ने और जनविरोधी जनसंहारी नीतियों सो कर्वदलीय सहमति से लगातार कारपोरेट और वैश्विक इशारों से पास करती रही है और वहां जो तथाकथित जनप्रतिनिधि हैं,वे कारपोरेट लाबिंग और कारपोरेटफंडिंग के टुकड़खोर हैं तो उस संसद में बाबासाहेब को याद करने से वोट बैंक साधने के सिवाय कौन और मकसद सध सकता है,हमारी समझ से परे हैं।


    भारतीय लोकतंत्र में अर्थव्यवस्था,संसाधनों और राजस्व के प्रबंधन से लेकर श्रम कानूनों से लेकर हिंदू कोड बिल ट्रेड यूनियनों को वैध बनाने से लेकर स्त्रियों के लिए मातृत्व अवकाश और काम के घंटे तक तय करने में जो बाबासाहेब की भूमिका रही है,उसके मद्देनजर उन्हें सिर्फ अनुसूचियों का नेता मानने वाले हमारे कामरेड कितने जनपक्षधर हैं,सवाल यही है।


    बाबा साहेब के स्मरण में अगर संसद का विशेष अधिवेशन बुलाने का ही लक्ष्य है तो उस अधिवेशन में बाबासाहेब के बनाये संविधान की रोज रोज हत्या के लिए हो रहे आर्थिक सुधारों और मुक्त बाजारी अश्वमेध पर बहस क्यों न हो और क्या इसके लिए नवउदावादी सत्ता तैयार होगी,सवाल यह है।


    हस्तक्षेप पर इस सिलसिले में मेरा अंग्रेजी मंतव्य जरुर देख लेंः

    What is the use of remembering DR BR Ambedkar, Comrade General Secretary?

    http://www.hastakshep.com/english/opinion/2015/04/17/what-is-the-use-of-remembering-dr-br-ambedkar-comrade-general-secretary



    मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

    मदर इण्डिया

    मदर इण्डिया.jpg

    मदर इण्डियाका पोस्टर

    निर्देशक

    महबूब खान

    निर्माता

    महबूब खान

    लेखक

    महबूब ख़ान

    वजाहत मिर्ज़ा

    एस अली रज़ा

    अभिनेता

    नर्गिस

    सुनील दत्त

    बलराज साहनी

    राजेन्द्र कुमार

    राज कुमार

    कन्हैया लाल

    कुमकुम

    चंचल

    मुकरी

    सिद्दीक़ी

    गीता

    संगीतकार

    नौशाद

    छायाकार

    फरेदूं ए ईरानी

    संपादक

    शमसुदीन कादरी

    प्रदर्शन तिथि(याँ)

    25 अक्तुबर 1957

    कार्यावधि

    172 मिनट

    देश

    भारत

    भाषा

    हिन्दी

    मदर इण्डिया (अंग्रेज़ी: Mother India, उर्दू: مدر انڈیا) १९५७ में बनी भारतीय फ़िल्म है जिसे महबूब ख़ान द्वारा लिखा और निर्देशित किया गया है। फ़िल्म में नर्गिस, सुनील दत्त, राजेंद्र कुमारऔर राज कुमारमुख्य भूमिका में हैं। फ़िल्म महबूब ख़ान द्वारा निर्मित औरत (१९४०) का रीमेक है। यह गरीबी से पीड़ित गाँव में रहने वाली औरत राधा की कहानी है जो कई मुश्किलों का सामना करते हुए अपने बच्चों का पालन पोषण करने और बुरे जागीरदार से बचने की मेहनत करती है। उसकी मेहनत और लगन के बावजूद वह एक देवी-स्वरूप उदाहरण पेश करती है व भारतीय नारी की परिभाषा स्थापित करती है और फिर भी अंत में भले के लिए अपने गुण्डे बेटे को स्वयं मार देती है। वह आज़ादी के बाद के भारत को सबके सामने रखती है।

    यह फ़िल्म अबतक बनी सबसे बड़ी बॉक्स ऑफिस हिट भारतीय फ़िल्मों में गिनी जाती है और अब तक की भारत की सबसे बढ़िया फ़िल्म गिनी जाती है। इसे १९५८ में तीसरी सर्वश्रेष्ठ फीचर फ़िल्म के लिए राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कारसे नवाज़ा गया था। मदर इण्डियाक़िस्मत (१९४३),मुग़ल-ए-आज़म (१९६०) और शोले (१९७५) के साथ उन चुनिन्दा फ़िल्मों में आती है जिन्हें आज भी लोग देखना पसंद करते हैं और यह हिन्दी सांस्कृतिक फ़िल्मों की श्रेणी में विराजमान है। यह फ़िल्म भारत की ओर से पहली बार अकादमी पुरस्कारोंके लिए भेजी गई फ़िल्म थी।[1


    फिल्म की शुरुआत वर्तमान काल में गाँव के लिए एक पानी की नहर के पूरा होने से होती है। राधा (नर्गिस), गाँव की माँ के रूप में, नहर का उद्घाटन करती है और अपने भूतकाल पर नज़र डालती है जब वह एक नई दुल्हन थी।

    राधा और शामू (राज कुमार) की शादी का ख़र्चा राधा की सास ने सुखीलाला से उधार लेकर उठाया था। इस के कारण गरीबी और मेहनत के कभी न खत्म होने वाले चक्रव्यूह में राधा फँस जाती है। उधार की शर्तें विवादास्पद होती है परन्तु गाँव के सरपंच सुखीलाला के हित में फैसला सुनाते हैं जिसके तहत शामू और राधा को अपनी फ़सल का एक तिहाई हिस्सा सुखीलाला को भारतीय रुपया५०० के ब्याज़ के तौर पर देना होगा। अपनी गरीबी को मिटाने के लिए शामू अपनी ज़मीन की और जुताई करने की कोशिश करता है परन्तु एक पत्थर तले उसके दोनों हाथ कुचले जाते है। अपनी मजबूरी से शर्मिंदा व औरों द्वारा बेईज़्ज़ती के कारण वह फैसला करता है कि वह अपने परिवार के किसी काम का नहीं और उन्हें छोड़ कर हमेशा के लिए चले जाता है। जल्द ही राधा की सास भी गुज़र जाती है। राधा अपने दोनों बेटों के साथ खेतों में काम करना जारी रखती है और एक और बेटे को जन्म देती है। सुखीलाला उसे अपनी गरीबी दूर करने के लिए खुद से शादी करने का प्रस्ताव रखता है पर राधा खुद को बेचने से इंकार कर देती है। एक तूफ़ान गाँव को अपनी चपेट में ले लेता है और सारी फ़सल नष्ट हो जाती है। तूफ़ान में राधा का छोटा बेटा मारा जाता है। सारा गाँव पलायन करने लगता है परन्तु राधा के मनाने पर सभी रुक कर वापस गाँव को स्थापित करने की कोशिश करते है।

    फ़िल्म कई साल आगे पहुँचती है जब राधा के दोनों बचे हुए बेटे, बिरजू (सुनील दत्त) और रामू (राजेंद्र कुमार) अब बड़े हो चुके है। बिरजू अपने बचपन में सुखीलाला के बर्ताव का प्रतिशोध लेने के लिए गाँव की लड़कियों को छेड़ना शुरू कर देता है, ख़ास कर सुखीलाला की बेटी को। इसके विपरीत रामू बेहद शांत स्वभाव का है और जल्द ही शादी कर लेता है। हालांकि अब वह एक पिता है पर उसकी पत्नी जल्द ही परिवार में मौजूद गरीबी का शिकार हो जाती है। बिरजू का ग़ुस्सा आख़िरकार ख़तरनाक रूप ले लेता है और उकसाने पर सुखीलाला और उसकी बेटी पर हमला कर देता है। उसे गाँव से निकाल दिया जाता है और वह एक डाकू बन जाता है। सुखीलाला की बेटी की शादी के दिन वह बदला लेने वापस आता है और सुखीलाला को मार कर उसकी बेटी को भगा ले जाने की कोशिश करता है। राधा, जिसने यह वादा किया था कि बिरजू किसी को कोई हानि नहीं पहुँचाएगा, बिरजू को गोली मार देती है जो उसकी बाँहों में दम तोड़ देता है। फ़िल्म वर्तमान काल में राधा द्वारा नहर खोले जाने पर लाल रंग के बहते हुए पानी से समाप्त होती है जो धीरे धीरे खेतों में पहुँच जाता है।

    http://hi.wikipedia.org/wiki/%E0%A4%AE%E0%A4%A6%E0%A4%B0_%E0%A4%87%E0%A4%A3%E0%A5%8D%E0%A4%A1%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%BE




    0 0

    RIHAI MANCH
    For Resistance Against Repression
    ---------------------------------------------------------------------------------
    हाशिमपुरा, मलियाना, मुरादाबाद और कानपुर सांप्रदायिक हिंसा पर जांच
    आयोगों की रिपोर्ट क्यों नहीं हुई सार्वजनिक, मुलायम दे जवाब - रिहाई मंच
    20 अपै्रल के मशाल मार्च और 26 अपै्रल के जनसम्मेलन के लिए चिकमंडी में
    हुई रिहाई मंच की नुक्कड़ सभा
    सम्मेलन में शामिल होंगे हाशिमपुरा, मलियाना और मुरादाबाद के पीडि़त

    लखनऊ 17 अपै्रल 2015। 20 अपै्रल को विधानसभा के समक्ष होने वाले मशाल
    मार्च और 26 अपै्रल, रविवार को होने वाले 'हाशिमपुरा जनसंहार: इंसाफ
    विरोधी प्रदेश सरकार के खिलाफ'सम्मेलन की तैयारी के तहत रिहाई मंच ने
    चिकमंडी मौलवीगंज में नुक्कड़ सभा की।

    सभा को संबोधित करते हुए रिहाई मंच के अध्यक्ष मुहम्मद शुऐब ने कहा कि
    हाशिमपुरा जनसंहार में आया फैसले का कानूनी के बजाए राजनीतिक है जिसमें
    राजनीतिक कारणों से 42 बेगुनाह मुसलमानों की हत्या के जिम्मेदार पुलिस
    वालों को जानबूझकर बचाया गया। जिसमें सबसे बड़ी भूमिका मौजूदा समाजवादी
    पार्टी की सरकार की रही है। जिसने कई बार सत्ता में होने के बावजूद दोषी
    पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाए प्रमोशन दिया और जांच
    के अपराध के अहम तथ्यों को मिटाया और इस मामले पर गठित जांच आयोगों की
    रिपोर्टों को लगातार दबाए रखा। उन्होंने कहा कि सपा की सरकारों ने ऐसा
    लगातार मुसलमानों को दहशतजदा रखने के लिए किया ताकि वो आरएसएस के मुस्लिम
    विरोधी एजेण्डे को पूरा कर सके। सरकार के इस इंसाफ विरोधी एजेण्डे के
    खिलाफ हम हाशिमपुरा, मलियाना, मुरादाबाद, कानपुर सांप्रदायिक हिंसा पर
    गठित जांच आयोगों की रिपोर्टों को सार्वजनिक करने की मांग को लेकर यह
    अभियान चला रहे हैं। उन्होंने कहा कि 26 अप्रेल को होने वाले सम्मेलन में
    हाशिमपुरा, मलियाना और मुरादाबाद के पीडि़त शामिल होंगे।

    रिहाई मंच नेता राजीव यादव ने कहा कि आगरा में चर्च पर हिंदुत्वादी
    तत्वों द्वारा किया गया हमला साबित करता है कि सपा सरकार में उनके हौसले
    बुलंद हैं क्योंकि सपा सरकार भाजपा के साथ गुप्त समझौते के तहत उनके
    खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करेगी।

    नुक्कड़ सभा को संबोधित करते हुए हाजी फहीम सिद्दीकी और सैय्यद वसी ने
    कहा कि हाशिमपुरा मामले में आए इंसाफ विरोधी फैसले पर सपा सरकार के
    मुस्लिम मंत्रियों और विधायकों की चुप्पी ने साबित कर दिया है कि यह
    मुस्लिम नेता मुसलमानों और इंसाफ के सबसे बड़े दुश्मन हैं। इस जनअभियान
    के तहत ऐसे नेताओं का पर्दाफाश किया जा रहा है। जनअभियान में शामिल खालिद
    कुरैशी, लक्ष्मण प्रसाद, फरीद खान ने बताया कि इस अभियान के तहत
    हाशिमपुरा समेत विभिन्न नाइंसाफियों के सवालों को जनता के बीच ले जाया जा
    रहा है। क्योंकि इंसाफ जब-जब कमजोर होता है तो लोकतंत्र खतरे में पड़ता
    है। यह मुहीम लोकतंत्र को बचाने की मुहीम है।

    नुक्कड़ सभा में वरिष्ठ रंगकर्मी आदियोग व शायर सलीम ताबिश ने जनअभियान
    में गीतों व शायरी के माध्यम से जनजागरुकता की। सभा का संचालन अनिल यादव
    ने किया।

    द्वारा जारी
    शाहनवाज आलम
    प्रवक्ता, रिहाई मंच
    09415254919
    ------------------------------------------------------------------------------
    Office - 110/46, Harinath Banerjee Street, Naya Gaaon Poorv, Laatoosh
    Road, Lucknow
    E-mail: rihaimanch@india.com
    https://www.facebook.com/rihaimanch

    0 0

    Taslima Nasrin asks whether any Hindu girl was being raped during Bangla New Year Celebration?

    আচ্ছা, পয়লা বৈশাখে সোহরওয়ার্দি উদ্যানের গেটের কাছে ৩০-৩৫টা ছেলে কয়েকটা মেয়েকে বীভৎসভাবে আক্রমণ করার সময়, ওই মেয়েদের যখন জীবনের ঝুঁকি নিয়ে বাঁচাচ্ছিল লিটন নন্দী, সুমন সেনগুপ্ত, আর অমিত দে, তখন পয়লা বৈশাখ উৎযাপন করার অপরাধে দেশের কোথাও হিন্দুদের কোনও মন্দির কি ভাঙা হচ্ছিল, কোনও হিন্দু বাড়িতে আগুন ধরানো হচ্ছিল, কোনও হিন্দু মেয়েকে ধর্ষণ করা হচ্ছিল? জাস্ট জানার জন্য।


    • Bhattacharyya Tutul while lulling, Mummy used to sing 'Dhana dhanye pushpe bhora, Amader ei basundhara' ---- I wake up to see my Mummy nowhere, That earth too disappear and Only an angry vlocano I'm lying on. (ঘুম পাড়াতে পাড়াতে মা গাইতেন, ধনধান্যে পুষ্পেভরা আমাদের এই বসুন্ধরা -- ঘুম ভাঙতেই দেখি মা নেই, সে পৃথিবীটা ও উধাও, কেবল এক উন্মুক্ত আগ্নেগিরির বিছানায় একা শুয়ে আছি. ) তবে আমি আশাবান সব পাল্টাবে, সব কিছু , পাল্টাতে হবেই।
      17 hrs · Like · 8
    • Susanta Bhattacharya Hindus should leave BD.
      13 hrs · Like · 1
    • Dibakar Chakraborty ছবি, ফুটেজ ইত্যাদি থেকে কুকুর গুলোকে শনাক্ত করে পেদিয়ে লম্বা করার আওয়াজ ওঠানো দরকার। বাংলাদেশের মিডিয়া সম্বন্ধে আমার ধারনা নেই। মিডিয়া এইসব ব্যাপারে এগিয়ে এসে জনমত সৃষ্টি করে সরকারের উপর চাপ সৃষ্টি করতে পারে। এমন প্রকাশ্য দিবালোকে সবার সামনে এত সাহস কিভাবে পায়, সমাজকে ভাবতে হবে। এটা একটা অশনি সঙ্কেত বাঙ্গালীর জন্য। খুব দুশ্চিন্তার বিষয়।
      8 hrs · Like · 4
    • Ranabir Bhattacharyya Taslima Nasreen যা বলেছেন! মুক্তিযুদ্ধ পরবর্তী বাংলাদেশ এতো ধর্মীয় অসহিস্নু হয়ে গেছে ভাবা যায় না। নারী এবং মুসলিম ব্যতীত সমস্তও মানুষের প্রাণ নিলামে উঠেছে। অবাক লাগে, এই নিয়ে হাসিনা বা খালেদা সবাই চুপ! সবাই ভোটের বাজারে মুনাফা নেবার অপেক্ষায়। কয়েক বছরের মধ্যে বাংলাদেশ হিন্দু- শূন্য হবে। পরের প্রজন্ম হয়তো আর বিশ্বাসই করবেনা যে বাঙ্গালদেশে হিন্দু ধর্মাবলম্বী মানুষরাও থাকতেন এক সময়। এটা কি কোন কোনভাবেই হিটলারের ethnic cleansing এর মতো নয়??

    অভিজিৎটা নেই। বুকের ভেতরটা হু হু করে।

    • Ranabir Bhattacharyya অভিজিতের মৃত্যুর বিচার হবে না। কে করবে বলুন Taslima Nasreen? প্রহসন চলছে সমগ্র বাংলাদেশ জুড়ে! মানুষ মারার খেলাটা বেশ জমে উঠেছে আর তার সাথ গণ-শ্লীলতাহানি!
      7 hrs · Like
    • Tanima Tasnin মানুষ কত কষ্ট হলে বলে বুকের ভেতরটা হু হু করে আর গুণের মত কিছু তথাকথিত সুশীল আসে পরোক্ষ ভাবে এসব হত্যাকে জায়েজ করতে!! আজিব মনে হয় যেন মুক্তমনা হয়ে আমি অপরাধী হয়ে গেছি আমারি সব দায়, আমাকেই লুকিয়ে লুকিয়ে চলতে হবে। তো এই দেশে যদি মুক্তমনের মানুষদের খালি লুকিয়ে বাঁচার পরামর্শ দেন তাহলে নিজের দায় অস্বীকার করতে পারবেন এরকম একটা জঙ্গী রাষ্ট্র গঠন করার জন্য? গুণ, ধর্ষনের জন্য যেরকম নারীর পোশাককে দায়ী করা হয় আপনার কমেন্টিও সেরকম হয়েছে।বাহ আপনাদের মত হজমি লেখকদের কারণেই এই দেশে মুক্তমত এখনো এত ট্যাবু!!
      7 hrs · Like · 4
    • ভোরের আলো ধর্ষণ, শ্লীলতাহানির জন্য যদি নারীর পোশাক দায়ী হয় তাহলে ম্যালেরিয়া রোগের জন্য মশা দায়ী নয়। দায়ী আমাদের ত্বক !
      6 hrs · Like · 1
    • Nripendra N Sarker নির্মলেন্দু গুণ - অভিজিৎকে ধর্মান্ধরা খুন করল। আওয়ামী লীগ সরকার চুপ মেরে গেল। নেত্রী হাসিনা অভিজিতের বাবার ছাত্রের স্ত্রী হিসেবে রাতের আঁধারে চুপিসারে অভিজিতের বাবাকে ফোন করলেন। এসবের মধ্যে একটা অন্যায় বা ভুলও তিনি খুঁজে পেলেন না। ভুল পেলেন অভিজিতের - স্ত্রীর হাত ধরে ঘুরাঘুরি করা ঠিক হয়নি। আওয়ামী সরকারকে কিছু বলতে না পারলে এসব সাধারণ কথা বলতে আইসেন না।

    ওয়াও। ফেসবুক ভেরিফাইড। দু'দিন আগে আমাকে এই আইডিতে লগইন করতে দিত না ফেসবুক। বলতো তোমার অ্যাকাউন্ট ডিসেবেল্ড। আর আজ কিনা ভেরিফাইড! না চাইতেই ভেরিফাইড। দু'দিন আগে ঝাঁটা মেরে বের করেছে ফেসবুক থেকে, আর আজ সাদরে আমন্ত্রণ জানিয়ে মণ্ডা মিঠাই খেতে দিচ্ছে। সবই মিডিয়ার কল্যাণে। মিডিয়াকে ফোর্থ এস্টেট বলা হয়, আমি তো ফার্ষ্ট এস্টেট বলি। ফেসবুকের বন্ধুরাও অবশ্য যথেষ্ট প্রতিবাদ করেছে। তারা মার্ক জুকারবার্গকে পর্যন্ত জানিয়েছে, আমার আইডি ফেরত চেয়েছে.

    প্রথম প্রতিবাদটা আমিই করেছিলাম টুইটারে। বলেছিলাম, 'স্টুপিড ইসলামিস্টরা রিপোর্ট করেছে বলে স্টুপিড ফেসবুক আমার আইডি ডিসেবল করে দিয়েছে'। ব্যস, মিডিয়ার চোখে পড়লো টুইট। অমনি ফোনের পর ফোন। ইন্টারভিউএর জন্য ছেঁকে ধরলো। চিরকাল আমি মিডিয়াকে তাড়িয়েছি। কিন্তু ইদানীং খুব ক্রাইসিসের সময় মিডিয়াকে আগের মতো তাড়াই না। কারণ আমার বা গুটিকয় আমাদের কোনও ক্ষমতা নেই লক্ষ জনের কাছে পৌঁছোনো। কিন্তু আমাদের ওপর যে নির্যাতন হয়, তা মানুষকে জানানো দরকার। এসব তো ইতিহাস। ইতিহাস আমরা একা একা্ জানলেই চলবে?

    ফেসবুক ফিরে পেয়েছি। প্রতিবাদ কাজে লেগেছে।

    আমার প্রতিবাদটা পড়ুন।

    'গত পরশু আমার ফেসবুক আইডি ভ্যানিশ করে দিয়েছে ফেসবুক কর্তারা। এই জঘন্য ব্যবহার নতুন নয়, এর আগেও একই কাণ্ড করেছে ফেসবুক। আইডি আর ফেরত দেয়নি। আইডি ভ্যানিশ করা মানে পেজ টেজ সহ পারসোনাল একাউন্ট গায়েব করে দেওয়া। আর একাউন্টের সঙ্গে যে সব ইমেইল বা মোবাইল ফোন জড়িত থাকে, সেগুলোকেও কালো তালিকাভুক্ত করে দেওয়া। ওই ইমেইল বা মোবাইল নতুন করে ফেসবুক একাউন্ট খুলতে আর ব্যবহার করা যায় না। যত ইমেইল আছে আমার, যত মোবাইল আছে, সবই ফেসবুক দ্বারা কালো তালিকাভুক্ত।

    আমাকে আমার নামে একাউন্ট খুলতে দেয়না ফেসবুক। তাই গতবার নামটা উল্টে, তসলিমা নাসরিনের জায়গায় নাসরিন তসলিমা লিখে আমাকে একাউন্ট খুলতে হয়েছিল। আমার নামটি কিন্তু অন্যদের ব্যবহার করতে দিচ্ছে ফেসবিক। এই নামে অন্যদের একাউন্ট খুলতে সুবিধে করে দিচ্ছে। একবার গুনে দেখেছিলাম তসলিমা নাসরিন নামে অন্তত একহাজার ফেক একাউন্ট আছে ফেসবুকে।

    যতবারই আমি ফেসবুকে একাউন্ট খুলেছি বা পেইজ শুরু করেছি, জনপ্রিয় হওয়ার সঙ্গে সঙ্গে সেসবের বিরুদ্ধে ধর্মান্ধ নারীবিরোধী সন্ত্রাসী জল্লাদরা ফেসবুকে রিপোর্ট করেছে। ফেসবুক পলিসি অত্যন্ত খারাপ একটা পলিসি। আমার শত্রুরা অনেকে মিলে রিপোর্ট করলেই আমি বাতিল হয়ে যাবো, ফেসবুক কর্তারা বিচার করবে না কে ভালো কে মন্দ। ফেসবুক কর্তারা আমার বাংলা স্ট্যাটাসগুলো অনুবাদ করে দেখবে না কী লিখি আমি? যারা আমার বিরুদ্ধে রিপোর্ট করে, তারা ফেসবুক কী কারণে ব্যবহার করে? ফেসবুককে তারা ধর্মীয় সন্ত্রাস ছড়ানোর উদ্দেশ্যে ব্যবহার করছে, ফেসবুককে তারা নারীবিদ্বেষ ছড়ানোর কাজে ব্যবহার করছে। ফেসবুক কোন পক্ষ নেবে, সমাজকে ধ্বংস করার কাজে যারা ফেসবুক ব্যবহার করে? নাকি সমাজকে নির্মাণ করার কাজে যারা ফেসবুক ব্যবহার করে?

    পূতিগন্ধময় বৈষম্যের সমাজকে যারা বদলাতে চায়, মানুষকে যারা সমতা, সমানাধিকার, মানবাধিকার ইত্যাদি বিষয়ে কথা বলে, যারা মানুষকে ভালো কাজের জন্য প্রেরণা দেয়, পুরুষতান্ত্রিক রক্ষণশীল গণ্ডমূর্খরা যাদের বিপক্ষে লাফায়, তাদের কোনও অধিকার নেই ফেসবুকে থাকার?

    ফেসবুক তবে কি শুধু অজাতশত্রুকেই চায়!যার বিরুদ্ধে রিপোর্ট করার কেউ নেই, যার লেখা সবারই সক্কলেরই পছন্দ হবে? ছিঃ ফেসবুক ছিঃ। আজ সারা পৃথিবীর মানুষ ফেসবুক ব্যবহার করছে।এটি কোনও ছোটখাটো প্রতিষ্ঠান নয়। আজ এই প্রতিষ্ঠানের আচার ব্যবহার সস্তা রোবোটের মতো।

    ফেসবুকে যত একাউন্ট আছে তসলিমা নাসরিন নামে, সব ফেক, সব নকল। এইসব ফেক একাউন্ট যারা বানিয়েছে, তারা মানুষকে ধোঁকা দেওয়ার জন্যই বানিয়েছে। মানুষ মনে করছে ওই একাউন্টগুলো বোধহয় আমার। আর তারা আমার কথা বলে তাদের নিজের কথা গেলাচ্ছে নিরীহ পাঠকদের। ফেসবুক কর্তাদের আমি অনেক বলেছি ওই ফেক একাউন্টগুলো বন্ধ করার জন্য। ফেসবুক বন্ধ করেনি। আমার রিপোর্টের কোনও মূল্য নেই। শুভবুদ্ধিসম্পন্ন মানুষের রিপোর্টে কোনও ফল পাওয়া যায় না। আরগানাইজড মৌলবাদী শক্তিই জিতে যায় ফেসবুকের এই অদ্ভুত পলিসিতে। ফেসবুক আমার নামে তৈরা করা ফেক একাউন্ট বন্ধ করতে নয়, বরং আমার আসল একাউন্ট বন্ধ করার জন্য উদগ্রীব। এর কারণ একটিই, আমার বিরুদ্ধে মৌলবাদীদের ধর্মীয় অনুভূতিতে আঘাত লাগার কমপ্লেইন যায়।

    দুই বাংলায় সরকার আমার উপস্থিতি নিষিদ্ধ করেছে, আমার বই নিষিদ্ধ করেছে, পত্র পত্রিকা আমার লেখা নিষিদ্ধ করেছে, প্রকাশকরা আমার বই প্রকাশ বন্ধ করেছে, সেকারণে ফেসবুকই ছিল ভরসা। ফেসবুকেই নিষেধাজ্ঞা আর সেন্সরশীপের বিরুদ্ধে আন্দোলন গড়ে তুলেছি। ফেসবুকেই আমার সমস্ত মত আমি প্রকাশ করছিলাম। আমার ফেসবুকের বন্ধু এবং অনুসারীদের প্রায় সবাই ছিল বাঙালি। বাংলাদেশ এবং পশ্চিমবঙ্গের বাঙালি। তারা অত্যন্ত আগ্রহের সঙ্গে পড়ছিল আমার লেখা। দ্রুত অনুসারীর সংখ্যা বাড়ছিল। দ্রুত জনপ্রিয় হয়ে উঠেছিল আমার ফেসবুকের লেখাগুলো। যারা আমার লেখা পড়ার সুযোগ পায় না, ফেসবুকের মাধ্যমে তারা সেই সুযোগটা পেয়েছিল। পৃথিবীতে আর কোনও লেখক এত ব্যানিং আর এত সেন্সরশিপের শিকার নয়। এক আমিই। আমারই প্রবেশ নিষেধ সবখানে। এখন, শেষ আশ্রয়, সামাজিক যোগাযোগের মাধ্যম ফেসবুকেও কি আমার প্রবেশ নিষেধ?চিরকালের জন্য?

    মৌলবাদী অপশক্তি সমাজটাকে দখল করে নিচ্ছে, কে দেশের ভেতর থাকবে, কে বেরিয়ে যাবে, কে বেঁচে থাকবে, কাকে মরতে হবে এই সিদ্ধান্ত তো এরা নিচ্ছেই। এই মৌলবাদী সন্ত্রাসীরা ফেসবুকেও খুব অ্যাকটিভ। অরগানাইজড। মনে হচ্ছে এরা ধীরে ধীরে দখল করে নিচ্ছে ফেসবুক। এরা সিদ্ধান্ত নিচ্ছে কে ফেসবুকে থাকবে, কে থাকবে না। ফেসবুক কর্তাদের বুদ্ধিসুদ্ধি বলে কিছু নেই। এটুকু বোঝার ক্ষমতা নেই যে তারা সন্ত্রাসীদের অঙ্গুলি হেলনে চলছে'।

    Like · Share


    0 0

    बीरपुर लच्‍छी: जुल्‍मतों और इंसाफ़ के बीच ठिठकी जि़ंदगी

    (बीते मार्च की आखिरी तारीख को उत्‍तराखण्‍ड के रामनगर स्थित बीरपुर लच्‍छी गांव में चल रहे आंदोलन से लौटते वक्‍त 'नागरिक' अखबार के संपादक मुनीष और उत्‍तराखण्‍ड परिवर्तन पार्टी के महासचिव प्रभात ध्‍यानी पर खनन-क्रेशर माफिया ने जानलेवा हमला किया था। इसके बाद दिल्‍ली में एक बड़ा प्रदर्शन हुआ और उत्‍तराखण्‍ड परिवर्तन पार्टी ने एक बैठक रखी जिसमें तय हुआ कि एक तथ्‍यान्‍वेषी दल गांव में जाकर हालात का जायज़ा लेगा। अप्रैल की 12-13 तारीख को पांच सदस्‍यीय तथ्‍यान्‍वेषी दल इस इलाके में गया जिसका नेतृत्‍व 'समकालीन तीसरी दुनिया' के संपादक आनंद स्‍वरूप वर्मा कर रहे थे और जिसके सदस्‍य थे पत्रकार सुरेश नौटियाल, अजय प्रकाश, भूपेन सिंह, अभिषेक श्रीवास्‍तव और सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्‍ता रवींद्र गढि़या। तथ्‍यान्‍वेषी दल की प्राथमिक रिपोर्ट 13 अप्रैल की शाम स्‍थानीय अखबारों को जारी कर दी गयी थी। उसी शाम बीरपुर लच्‍छी के दो क्रेशर परिसरों पर छापा मारकर पुलिस ने उन्‍हें सीज़ कर दिया। तथ्‍यान्‍वेषी दल की विस्‍तृत रिपोर्ट अभी नहीं आयी है। इस स्‍वतंत्र ज़मीनी रिपोर्ट का तथ्‍यान्‍वेषी दल की आधिकारिक रिपोर्ट से कोई संबंध नहीं है -मॉडरेटर


    अभिषेक श्रीवास्‍तव 


    ''संपन्न रामनगर इलाके का एक गांव बीरपुर लच्छी... कोई भी 10th पास नहीं... लोग इन्हें बुक्सा कहते हैं। यह पूछने पर कि आप लोगों की जमीन कहां गई, कुछ उम्रदराज लोगों ने बताया कि बड़े हाथ-पैरों वाले लोगों ने धारा 229 में अपने नाम करा ली। इन्हें इस धारा के बारे में ज्यादा नहीं पता है। मुझे यही पता था कि sc/st वालों की जमीन और लोग अपने नाम नहीं करा सकते हैं। मैंने कहाआप लोगों ने शराब पीकर कागज पर अंगूठा लगा दिया। फिर भी मैं जानने की कोशिश कर रहा हूं कि जमीन के मालिक मजदूर कैसे बन गए।''


    ये शब्‍द उत्‍तराखण्‍ड के नैनीताल स्थित रामनगर के शहर कोतवाल कैलाश पंवार के हैं। पंवार पिछले तीस साल से ज्‍यादा समय से पुलिस की नौकरी बजा रहे हैं। वे 1980 में जवाहरलाल नेहरू विश्‍वविद्यालय से पढ़कर निकले तो सीधे पुलिस में भर्ती हो गए। पहले एसटीएफ में हुआ करते। पिछले लंबे समय से थानेदार हैं। जिला दर जिला नाप कर ऊब गए हैं। वापस एसटीएफ में जाना चाहते हैं। थानेदार के पद से हटाए जाने की उनकी दरख्‍वास्‍त पिछले छह महीने से मुख्‍यालय में लंबित पड़ी है। उन्‍हें इस बात का दुख है कि बीरपुर लच्‍छी नामक गांव में कोई भी दसवीं पास नहीं है। फेसबुक पर 12 अप्रैल को यह पोस्‍ट लिखते वक्‍त वे 24 मार्च, 2015 की उस बदकिस्‍मत तारीख का जाने या अनजाने से जि़क्र नहीं करते जब नौवीं की परीक्षा पास कर के हाईस्‍कूल में गयी 17 साल की आशा की असमय मौत हो गयी। उसकी मौत के साथ यह आशा भी दफ़न हो गयी कि इस गांव से अगले साल एक लड़की हाईस्‍कूल पास कर लेगी।

    आशा: 24 मार्च को मौत 
    कैलाश पंवार अगर 23 मार्च के पहले इस गांव में हो आए होते तो शायद आशा बच जाती और उन्‍हें यह पोस्‍ट लिखने की ज़रूरत नहीं पड़ती। ऐसा नहीं है कि उन्‍हें मालूम नहीं था कि इस गांव में क्‍या हो रहा है। पेड़ों पर पड़े गोलियों के पुराने निशान, लोगों के डम्‍पर से कुचले हाथ, हथेलियों में लगे छर्रे और कभी गांव की जीवनदायिनी रही लेकिन आज सूख चुकी बाहिया नदी पिछले दो साल से इस बात की गवाही दे रहे हैं कि यहां सब कुछ ठीक नहीं चल रहा था। बावजूद इसके किसी अप्रिय घटना का इंतज़ार करने की मानसिकता और व्‍यवस्‍थागत जटिलताओं ने मिलकर एक लड़की की जान ले ली। 


    कहानी बिलकुल फिल्‍मी है। उत्‍तराखण्‍ड की तराई में एक छोटा सा खूबसूरत गांव है। कुछ मासूम आदिवासी लोग हैं जिनकी संख्‍या साढ़े तीन सौ के आसपास बतायी जाती है। करीब दस साल पहले यहां एक बाहरी आदमी का प्रवेश होता है। जाने किन नियमों के तहत उसे कुछ ज़मीनें मिल जाती हैं। वह इस ज़मीन पर पत्‍थर तोड़ने वाला क्रेशर का प्‍लांट लगाता है। पास की कोसी नदी से पत्‍थर लाए जाने शुरू हो जाते हैं। पत्‍थरों को ढोने के लिए डम्‍पर और ट्रक की ज़रूरत पड़ती है। आसपास के गांवों-कस्‍बों के कुछ लोग डम्‍पर खरीद लेते हैं। धीरे-धीरे डम्‍परों और ट्रकों की संख्‍या बढ़ने लगती है। पहले तो गांव वालों को कुछ खास समझ में नहीं आता। कारोबार चलता जाता है। फिर यहां की बाहिया नदी में रोड़ी-पत्‍थर बहाए जाने लगते हैं। धीरे-धीरे डम्‍परों के लिए पक्‍का रास्‍ता बनने लगता है। गांव के नक्‍शे में ऐसे किसी रास्‍ते का जि़क्र कभी नहीं था। जैसे-जैसे यह धंधा फलता-फूलता जाता है, इसमें बेईमानी और भ्रष्‍टाचार की जड़ें मज़बूत होती जाती हैं। 

    गांव का नक्‍शा: जहां खेत थे, वहां आज डम्‍परों के चलने के लिए अवैध सड़क है 

    एक बार की रॉयल्‍टी कटाने वाले डम्‍पर तीन-तीन चक्‍कर लगाने लगते हैं। वन विभाग द्वारा मंजूर लदान से तीन गुना लदान डम्‍परों पर किया जाता है और मुनाफे की राशि चौतरफा बंटती जाती है। धीरे-धीरे इस कारोबार का एक शिकंजा-सा कसता चला जाता है। 2012 में भारी बारिश होती है और बाहिया नदी उफान पर आ जाती है। इसमें दो भैंसें बह जाती हैं। अनपढ़ आदिवासियों को तब जाकर अंदाज़ा होता है कि उनके संसाधनों से कैसा खिलवाड़ किया जा रहा था। इसके बाद उनके भीतर असंतोष पैदा होता है। गांव वाले क्रेशर का विरोध करने लगते हैं। चूंकि व्‍यवस्‍था के सारे अंगों को इस विरोध से खतरा था, इसलिए इसे मिलजुल कर दबाने का फैसला लिया जाता है। यही फैसला 1 मई, 2013 को यानी ठीक दो साल पहले मजदूर दिवस के दिन गांव में अचानक ज़लज़ला बनकर उतरा। बीरपुर लच्‍छी को क्रेशर मालिक के गुर्गों ने घेर लिया।

    डम्‍पर से कुचला गया एक ग्रामीण का हाथ

    कहानी वाकई फिल्‍मी है- क्रेशर मालिक एक हाथ में मोबाइल फोन और दूसरे में रिवॉल्‍वर लेकर गांव में घुस जाता है। उसके इशारे पर गांव की झोंपडि़यों में आग लगा दी जाती है। औरतों को घरों से बाहर निकाल-निकाल कर पीटा जाता है। लोगों पर खुलेआम गोलीबारी की जाती है। भारी संख्‍या में लोग घायल होते हैं। उन्‍हें अस्‍पताल में भर्ती कराया जाता है जहां महिला समाख्‍या की टीम उन्‍हें लगे ज़ख्‍मों का वीडियो बनाती है, जिसके चलते बर्बरता की तस्‍वीरें निकलकर सामने आ पाती है। क्रे‍शर मालिक को थोड़े समय के लिए जेल होती है लेकिन जैसा कि हमेशा होता आया है, वह छूट जाता है। वह इसीलिए छूटता है जिस वजह से दूसरे रसूखदार लोग इस देश में छूट जाते हैं- क्‍योंकि वह कांग्रेस का एक असरदार नेता है और कांग्रेस की सरकार में राज्‍यमंत्री रह चुका है। नाम है सोहन सिंह ढिल्‍लों।

    राज्‍य में एक बार फिर कांग्रेस की सरकार है। ढिल्‍लों हालांकि मंत्री नहीं हैं, लेकिन रसूख़ ऐसा है कि 1 मई, 2013 के हमले के सिलसिले में उनके ऊपर कायम मुकदमे को वापस लेने का सरकारी आदेश पिछले ही महीने जारी किया जा चुका है। इस आदेश की प्रति जिलाधिकारी कार्यालय से 13 मार्च, 2015 की तारीख में जारी की गई। इसका जि़क्र करने पर नैनीताल के नौजवान जिलाधिकारी दीपक रावत पूरे आत्‍मविश्‍वास के साथ कहते हैं, ''मैंने अपने समूचे कार्यकाल में कोई भी मुकदमा वापस लेने की संस्‍तुति नहीं दी है। मैं इतने साल से कलेक्‍टरी कर रहा हूं, लेकिन आज तक मेरे पास मुकदमा वापस लेने के जितने भी मामले आए हैं, मैंने उन्‍हें लौटा दिया है। आप अपने फैक्‍ट्स दोबारा जांचें। ऐसा हो ही नहीं सकता। मैंने ऐसे किसी काग़ज़ पर दस्‍तख़त नहीं किए हैं।'' तकनीकी रूप से भले यह बयान झूठ हो लेकिन एक मायने में उनकी बात सही भी है। दरअसल, गांव वालों ने 1 मई, 2013 की घटना के सिलसिले में दर्ज मुकदमे में से अपना नाम हटवाने की दरख्‍वास्‍त सरकार से की थी। हुआ यह कि पलट कर मुकदमा वापसी की जो संस्‍तुति आई, उसमें निर्दोष गांव वालों की जगह आरोपी ढिल्‍लों पर लगा  मुकदमा वापस लेने की बात लिखी हुई है। ऐसा हुआ कैसे, कोई नहीं जानता।

    सवाल और भी हैं जिनका जवाब किसी के पास नहीं है। किसी ने जवाब खोजने की कोशिश भी नहीं की। आशा की मौत एक मामूली हादसा भर नहीं थी। यह लंबे समय से उलझे हुए सवालों के जवाब न खोजे जाने का नतीजा थी। बीते 23 मार्च को आशा एक दुकान से कुछ सामान खरीद कर लौट रही थी कि बगल से गुज़र रहे एक डम्‍पर से एक पत्‍थर गिरकर उसके सिर पर आ लगा। गांव वाले उस पत्‍थर को संजो कर रखे हुए हैं। आशा की मां हमें वह पत्‍थर दिखाती हैं, तो उनके पास कहने को कुछ नहीं होता। कम से कम 15 किलो का वह पत्‍थर खुद आशा की मौत की कहानी कह रहा है। घटना के बाद आशा को तुरंत सरकारी अस्‍पताल ले जाया जाता है। वहां से उसे ए‍क निजी अस्‍पताल में रेफर कर दिया जाता है। अगले दिन आशा की मौत हो जाती है। आक्रोशित गांव वाले फैसला लेते हैं कि अब किसी भी डम्‍पर को अपनी ज़मीन से वे नहीं गुज़रने देंगे। गांव के नक्‍शे में जहां से चक रोड शुरू होती है, ऐन उस जगह गांव वाले गड्ढा खोदकर बैठ जाते हैं। बिलकुल इसी जगह पर आशा का दाह संस्‍कार किया गया था। बात प्रशासन तक पहुंचती है। गांव वालों को लिखित आश्‍वासन दिया जाता है कि अगले दस दिनों के भीतर ज़मीन की पैमाइश होगी और पता लगाया जाएगा कि कहां सड़क है और कहां खेत हैं। हम 12 अप्रैल को बीरपुर लच्‍छी पहुंचे थे। उस दिन भी राजस्‍व विभाग द्वारा की गई पैमाइश का चूने से बना निशान सड़क पर साफ दिख रहा था। उसमें कहीं भी सड़क नहीं थी। जो सड़क मौजूद थी, वह वास्‍तव में खेत थे जिन्‍हें ढिल्‍लों ने डम्‍परों की आवाजाही के लिए पाट दिया था।

    आबादी के बीच डम्‍परों की आवाजाही के लिए बनाई गई अवैध सड़क 

    इस पैमाइश से पहले ही डम्‍पर मालिकों और क्रेशर मालिक के दबाव में प्रशासन ने गांव वालों के किए गड्ढे को जबरन भरवा दिया था। हमने एसडीएम सुरेंद्र सिंह जंगपांगी से पूछा था कि अगर आपकी पैमाइश के मुताबिक वहां सड़क नहीं थी और सिर्फ खेत थे, तो आपने गड्ढा क्‍यों भरा। उनका जवाब था, ''कोई भी व्‍यक्ति सड़क पर गड्ढा नहीं कर सकता। उसे तो भरना ही होगा।'' हमने फिर पूछा कि वहां तो सड़क थी ही नहीं, वो तो खेत था। वे बोले, ''हां, हम देखेंगे।'' हमने कहा कि आप तो नाप-जोख कर चुके, अब देखना क्‍या बचा है। वे पूरी बेशर्मी से बोले, ''जी, पुरानी फाइलें हैं। निकाल कर देखनी होंगी। हम देखेंगे।''

    मुनीष, संपादक 'नागरिक' 
    देखने-दिखाने के इस आश्‍वासन ने क्रेशर मालिकों का मन इतना बढ़ा दिया कि गांव वालों को उनके विरोध प्रदर्शन में रामनगर से 31 मार्च को समर्थन देने गए दो व्‍यक्तियों पर धारदार हथियारों से जानलेवा हमला बोल दिया गया। जिस दिन गांव वाले गड्ढा खोदकर धरने पर बैठे थे, उन्‍हें समर्थन देने के लिए शहर से 'नागरिक' अख़बार के संपादक मुनीष कुमार और उत्‍तराखण्‍ड परिवर्तन पार्टी के महासचिव प्रभात ध्‍यानी बीरपुर लच्‍छी आए थे। वे अपनी मोटरसाइकिल से जब लौट रहे थे तब उनके ऊपर कुछ लोगों ने जानलेवा हमला किया। मुनीष का टैब और मोबाइल छीन लिया गया। हेलमेट पहने होने के कारण उन्‍हें तो सिर पर चोट नहीं आयी लेकिन ध्‍यानी का सिर फूट गया। मुनीष बताते हैं कि उन्‍हें बाज सिंह नाम के एक व्‍यक्ति से पहले ही पता चल चुका था कि उस दिन असली योजना इन दोनों को बंधक बना लेने की थी, लेकिन संयोग से जब क्रेशर और डम्‍पर वाले दोपहर का भोजन कर रहे थे तभी ये दोनों गांव से निकल लिए थे, लेकिन बाद में रास्‍ते में घेर लिए गए।

    प्रभात ध्‍यानी, उपपा
    शहर कोतवाल की मानें तो इस मामले में सात लोगों को अब तक गिरफ्तार किया जा चुका है जिसमें मुख्‍य आरोपी प्रीति कौर नाम की एक महिला है। इस महिला के बारे में क्रेशर वाले एक कहानी बताते हैं जबकि गांव वाले दूसरी कहानी कहते हैं। क्रेशर मालिक कांग्रेसी नेता सोहन सिंह ढिल्‍लों और उनके गुर्गों का अपने बचाव में कहना है कि गांव से लौटते वक्‍त मुनीष और ध्‍यानी की मोटरसाइकिल से प्रीति कौर नाम की महिला को टक्‍कर लग गयी थी जिसके बाद स्‍थानीय लोगों ने प्रतिक्रिया में दोनों पर हमला बोल दिया। वे एक बात यह नहीं बताते कि इस महिला का पति बच्‍चन सिंह, ढिल्‍लों का ही डम्‍पर चलाता है और घटना के दिन से ही वह फ़रार चल रहा है। इसका मतलब यह निकलता है कि महिला को एक ढाल के तौर पर सामने रखकर यह हमला मुनीष और प्रभात पर किया गया था। कोतवाल पंवार कहते हैं, ''हमने सोहन सिंह ढिल्‍लों पर धारा 120बी के तहत आपराधिक षडयंत्र का मुकदमा किया है लेकिन सिर्फ इस आधार पर हम उन्‍हें नहीं उठा सकते।''

    आशा की मौत के बाद इस गांव में 28 मार्च को पुलिस का पहरा लगा दिया गया था। दो पाली में पूरे 24 घंटे यहां आइआरबी के छह जवान तैनात हैं। इन्‍हीं में से एक सिपाही सुरेंद्र सिंह बताते हैं कि गांव वाले बहुत डरे हुए हैं जबकि सोहन सिंह के लोग धड़ल्‍ले से मोटरसाइकिलों पर घूम रहे हैं। सुरेंद्र हमें आशा के घर ले जाते हैं जहां उनका छोटा भाई राकेश और पांच बहनें मौजूद हैं। उनकी मां उस वक्‍त खेतों में गयी हुयी थी। राकेश हमें गांव का नक्‍शा और आशा की तस्‍वीर दिखाता है। गांव के नक्‍शे में जिस जगह चक रोड है, वहां आज दो डम्‍परों के गुज़रने के लायक चौड़ी सड़क पाट दी गई है। घटना के बाद से गांव की आबादी के बीच होकर जाने वाली इस सड़क पर गाडि़यों का आवागमन हालांकि सरकारी आदेश के चलते बंद है, लेकिन डम्‍पर और ट्रकें अब भी चल रहे हैं। राकेश बताता है कि ये डम्‍पर दिलबाग सिंह पुरेवाल नाम के एक व्‍यक्ति के हैं। उसका फार्म हाउस राकेश के घर के ठीक पीछे हैं। दिलबाग सिंह को क्रेशर चलाने का लाइसेंस साल भर पहले मिला है। उसने भी ढिल्‍लों की ही तरह खेतों में अपने डम्‍परों के लिए अपना निजी रास्‍ता बना लिया है। यह रास्‍ता गांव की आबादी के पीछे से निकलता है।

    आशा की पांच बहनें हैं और एक छोटा भाई है 

    लोग बताते हैं कि बीरपुर लच्‍छी दो हिस्‍सों में बंटा हुआ है। दूसरे हिस्‍से को बीरपुर तारा कहते हैं जो ''नीचे'' है। बीरपुर लच्‍छी और बीरपुर तारा के बीच की दूरी तकरीबन पांच मिनट की है। इसके बीच तकरीबन सैकड़ों एकड़ ज़मीन पर पुरेवाल और ढिल्‍लों का कब्‍ज़ा है। बीरपुर तारा के रास्‍ते में एक गांव वाला हमें बायीं ओर की ज़मीन दिखाकर कहता है, ''यही बाहिया नदी है।'' हमें नदी कहीं नहीं दिखती। गांव में आगे जाकर एक छोटा सोता दिखता है, तब समझ में आता है कि यहीं कहीं एक नदी हुआ करती होगी। गुम हो चुकी इस नदी की गवाही गांव में आबादी के बीच बने दो पुल देते हैं जो कम से कम 30 फुट चौड़े हैं। चलते-चलते खेतों के बीच जिला नैनीताल की सरहद खत्‍म हो जाती है। ''यहीं से जिला उधमसिंहनगर लगता है'', एक गांव वाले ने बताया। उसने कहा, ''बाहिया नदी नैनीताल और उधमसिंहनगर को बांटती थी। आज नदी ही खत्‍म हो चुकी है।''

    बाहिया नदी: अवैध डम्पिंग से यह नदी सूख कर इस तरह दिखती है 
    बीरपुर तारा में हमारी मुलाकात लाल गमछा डाले ग्राम प्रहरी अमर सिंह मेहरा से होती है। मेहरा बहुत मुखर इंसान हैं। वे हमें पूरे गांव में चल रही अवैध गतिविधियों के बारे में समझाते हैं। वे बताते हैं कि उनके पिता कभी यहां के ग्राम प्रहरी हुआ करते थे। उसके बाद यह पद उन्‍हें मिल गया। इसके एवज में सरकार से उन्‍हें 12000 रुपये सालाना मिलते हैं। इसके अलावा वे डेयरी का फार्म चलाते हैं क्‍योंकि उनकी खेती की ज़मीन दलदल में तब्‍दील हो चुकी है। हमने पूछा कि ग्राम प्रहरी होने के नाते उन्‍होंने क्‍या किया था जब गांव में दो साल पहले गोलियां चल रही थीं। वे बोले, ''मैंने तुरंत सारे अधिकारियों को फोन घुमा दिया था।'' ''फिर क्‍या हुआ?'' ''होना क्‍या है साहब, कहीं से कोई मदद नहीं मिली। सब साले कहते रहे कि इनको बताओ, उनको बताओ। सिस्‍टम है सर, मेरे करने से क्‍या होता है।'' हमने उनसे पूछा कि बुक्‍सा जनजाति के लोग यहां कब से रह रहे हैं। उन्‍होंने जवाब दिया, ''साहब, मैं पहाड़ी हूं। बुक्‍सा नहीं।'' मेहरा इस गांव में इकलौते पहाड़ी हैं। पहाड़ी से उनका आशय सामान्‍य श्रेणी से है, जनजाति से नहीं।

    यह बात अपने आप में दिलचस्‍प है कि बुक्‍सा जनजाति के गांव का ग्राम प्रहरी गैर-जनजातीय है। इससे भी गंभीर बात हालांकि यह है कि बीरपुर लच्‍छी गांव की ज़मीनों का हस्‍तान्‍तरण गैर-जनजातियों को कर दिया गया है, जो कि कानूनन मुमकिन नहीं होना चाहिए। गांव वालों से जब इस बारे में सवाल किया गया तो उन्‍होंने वही जवाब दिया जिसका जि़क्र कोतवाल ने अपनी फेसबुक पोस्‍ट में किया है- धारा 229 के तहत ज़मीनें ली गयी हैं। यह धारा 229 क्‍या बला हैइस बारे में एसडीएम जंगपांगी लगातार चुप रहे। उन्‍होंने बस एक जवाब दिया, ''पुराने काग़ज़ात हैं। देखना होगा।'' हमने पूछा कि क्‍या यह गांव पांचवीं अनुसूची में आता हैएसडीएम हमारी ओर देखते रहे, उनके मुंशी ने पलट कर सवाल किया, ''आप वन अधिकार कानून की बात कर रहे हैं क्‍या?'' हमने फिर पूछा, ''क्‍या आप संविधान की पांचवीं अनुसूची समझते हैंक्‍या यहां पेसा कानून लागू है?'' दोनों ने अज्ञानता में मुंह बिचका दिया। पंवार भी मानते हैं कि यहां की ज़मीन गैर-जनजाति को नहीं दी जा सकती। वे कहते हैं, ''पता नहीं 2006 में किसने किसके साथ मिलकर यहां क्‍या किया था। यह तो जांच का विषय है। पता नहीं कौन-कौन इस खेल में शामिल है?''

    गांव के बीच खुलेआम पुरेवाल क्रेशर का कारोबार 12 अप्रैल तक जारी था 
    जिले के डीएम दीपक रावत से जब हमने कहा कि आदिवासियों की ज़मीन तो बाहरियों को नहीं दी जा सकती है, तो वे बीच में टोकते हुए बोले, ''दी नहीं, बेची नहीं जा सकती।'' ''हां, बेची ही सही, तो फिर कैसे दूसरे लोगों के पास चली गयी?'' कुछ देर तक अनभिज्ञता जताने के बाद उन्‍होंने कहा, ''हां, एक तरीका है। अगर किसी आदिवासी ने लोन लिया हो और चुका नहीं सका हो तो उसकी ज़मीन नीलाम ज़रूर की जा सकती है।'' इस बातचीत में उन्‍होंने दो बार हमें दुरुस्‍त करते हुए ''बेचने'' शब्‍द पर ज़ोर दिया। उनके कहने का आशय था कि आदिवासी अपनी ज़मीन गैर-आदिवासी को ''बेच'' नहीं सकता, कानून यह कहता है। हमने धारा 229 का जि़क्र किया जिसके बारे में हमने गांव वालों से सुना था, तो वे इस सवाल को टाल गए।

    सभी पक्षों से बातचीत कर के यह तय रहा कि आदिवासियों ने अपनी ज़मीन स्‍टोन क्रेशर के लिए कम से कम ''बेची'' तो नहीं है क्‍योंकि यह कानूनन वैध नहीं है। फिर आदिवासियों की ज़मीन दूसरों के पास गयी कैसे न तो पुलिस को पता, न प्रशासन को और न ही जिलाधिकारी को। एक बड़ा बहाना इस मामले में यह सामने आता है कि हर अधिकारी यह कहता पाया जाता है कि ''मुझे तो कुछ ही दिन हुए हैं यहां आए... ।'' डीएम ने कहा, ''मुझे तो चार महीने ही हुए हैं। मुझसे पहले जो था आप उससे पूछिए।'' एसडीएम, जो संभवत: रामनगर के पुराने कारिंदे हैं, उनका हर सवाल पर एक ही जवाब होता है, ''देखते हैं।'' पेसा और पांचवीं अनुसूची का नाम तक यहां के राजस्‍व अधिकारियों को नहीं मालूम। आदिवासियों की ज़मीन दूसरों को गयी कैसे, इसका इकलौता जवाब पंवार के फेसबुक पोस्‍ट की आखिरी पंक्ति में देखा जा सकता है, ''फिर भी मैं जानने की कोशिश कर रहा हूं कि जमीन के मालिक मजदूर कैसे बन गए।''

    बीरपुर लच्‍छी की उम्‍मीद: शहर कोतवाल कैलाश पंवार 
    कम से कम एक अधिकारी इस जिले में है जो सवालों के जवाब खोजने की कोशिश कर रहा है। जिस दिन 13 अप्रैल को हमारी मुलाकात जिलाधिकारी से हुई, उस शाम रामनगर से मुनीष का फोन आया कि गांव में छापा पड़ गया है और ढिल्‍लों के स्‍टोन क्रेशर को सीज़ कर दिया गया है। हम नैनीताल से एक उम्‍मीद लेकर दिल्‍ली की ओर निकल पड़े। देर शाम रुद्रपुर के पास पहुंचते-पहुंचते एक और फोन आया। बताया गया कि दिलबाग सिंह पुरेवाल का क्रेशर भी सीज़ कर दिया गया है। इसके बाद मेरे मोबाइल पर आशा के भाई राकेश का एक एसएमएस आया, ''जनांदोलन की पहली जीत। ढिल्‍लों का क्रेशर सीज़।'' अगले दिन पंतनगर से एक पुराने साथी ललित सती से संपर्क हुआ जिन्‍होंने बताया कि रामनगर के लोग कोतवाल कैलाश पंवार को इस कार्रवाई का श्रेय दे रहे हैं। पंवार की फेसबुक टाइमलाइन पर मित्रता के अनुरोध बढ़ते जा रहे हैं और उन्‍हें खूब बधाइयां मिल रही हैं। यह ठीक भी है।


    मैंने पंवार से बातचीत के अनौपचारिक दौर में जो इकलौता और आखिरी सवाल पूछा था, वो यह था कि अगर आप सही और गलत के बारे में जानते हैं तो कुछ करते क्‍यों नहींवे मुस्‍करा कर बोले थे, ''मैं चाहूं तो कल ही ठोंक दूं लेकिन...।'' 'लेकिन' के बाद उन्‍होंने क्‍या कहा, यह बताने की ज़रूरत नहीं है क्‍योंकि वाक्‍य का पहला हिस्‍सा उन्‍होंने हूबहू सच कर के दिखा दिया है। बीरपुर लच्‍छी के लोग तो यही चाहेंगे कि इस बयान के अगले हिस्‍से में ''सिस्‍टम'' के बारे में उनके कोतवाल ने जो बात कही थी, वह सच ना साबित हो। सदिच्‍छा के आगे ''सिस्‍टम'' कभी-कभार घुटने भी टेक देता है, फिलहाल तो रामनगर की दीवारों पर लिखी इबारत यही कह रही है। 

    रामनगर के एसडीएम कार्यालय पर 13 अप्रैल को हुए प्रदर्शन का बैनर 


    0 0

    भारतीय इतिहास का पुनर्लेखन क्‍यों?



    इतिहास का पुनर्लेखन एक ऐसा विषय है जिसकी ज़रूरत को भारतीय राजनीति में वामपंथी से लेकर दक्षिणपंथी तक दोनों धड़े बराबर महसूस करते रहे हैं, हालांकि यह मसला दक्षिणपंथी धड़े के दिल के कुछ ज्‍यादा करीब रहा है। जब-जब देश में दक्षिणपंथी सरकार आयी है, इतिहास के पुनर्लेखन पर नए सिरे से बहस खड़ी की गयी है। इसमें दिक्‍कत सिर्फ नीयत की है। यदि अब तक का इतिहास-लेखन सेलेक्टिव रहा है, तो उसके बरअक्‍स जैसा इतिहास लेखन करने की मांग हो रही है, वह भी अपनी नीयत में साफ़ नहीं है। सुविधाजनक चयन की यह समस्‍या ही मामले का राजनीतिकरण करती रही है। पिछले दिनों सुभाष चंद्र बोस की कुछ गोपनीय फाइलें डीक्‍लासिफाई किए जाने के बाद एक बार फिर केंद्र की दक्षिणपंथी सरकार और वामपंथियों के एक तबके की ओर से इतिहास के पुनर्लेखन की मांग उठायी गयी है। सामान्‍यत: गैर-अकादमिक लोकप्रिय लेखन करने वाले पत्रकारव्‍यालोक ने इस मसले पर कुछ प्रकाश डालने की कोशिश की है।  - मॉडरेटर 


    व्‍यालोक
    http://www.junputh.com/2015/04/blog-post_56.html


    बर्ट्रेंड रसल के बारे में एक कहानी है। कहानी क्याअरबन लेजेंड है। वह अपने कमरे में बैठे इतिहास की पुस्तक लिख रहे थे। अचानकगली में शोर हुआ। शोरबढ़ता ही गया। रसल कमरे से निकले और गली की ओर भागे। पहला आदमी जो दिखाउससे पूछा तो पता चला किसी ने किसी को गोली मार दी है। रसल आगे बढ़े। दूसरे व्यक्ति से पूछा। उसने कहा,अरे...आपको पता नहींएक आदमी ने दूसरे को चाकू मार दिया है। रसल अब तक भीड़ के पास आ गए थे। भीड़ को चीरते हुए वह जब घटनास्थल तक पहुंचेतो देखा कि दो आदमियों में मामूली झड़प हो गयी थी।

    रसल उसी वक्त वापस लौटे और उन्होंने अपनी पांडुलिपि को कचरे में फेंक दिया। उन्होंने इसके पीछे वजह यह बतायी कि जब मैं अपने ज़िंदा रहतेचार कदम दूर अपनी गली में एक ही घटना के चार रूप पा रहा हूंतो हजारों साल पहले क्या हुआयह कैसे कह सकता हूंयह हालांकि कथा है और इसकी सत्यता पुष्ट नहीं हैपर इतिहास-लेखन सचमुच इस कड़वे सच की ओर इशारा तो करता ही है। खासकरतब तो औरजब आप भारत जैसे देश के इतिहास की बात करेंजो रवींद्रनाथ ठाकुर के शब्दों में मानवता का महासमुद्र है।

    ज्ञान की किसी भी शाखा की तरहइतिहास का भी सबसे जरूरी तत्व सत्य की तलाश है। इसके लिए तथ्यों और तत्वों की सम्यक व निर्मम आलोचना जरूरी है। किसी भी तरह का पूर्वग्रहइतिहास को देखने की हमारी दृष्टि को धुंधला कर सकता है। हरेक राष्ट्र का इतिहास तो दरअसल पूरी दुनिया के इतिहास का हिस्सा हैलेकिन जब कोई अपना प्रभुत्व स्थापित करने के लिए एकतरफा सबूतों और तथ्यों को प्रस्तुत करता हैतो उसके साथ ही इतिहास-लेखन के उस दौर पर भी सवाल उठ जाते हैं। यही बात किसी खास समुदायक्षेत्र या धर्म आदि के बारे में भी कही जा सकती है।

    मौजूदा दौर में भी भारत के इतिहास-लेखन की प्रवृत्ति पर सवाल उठे हैंइसकी शृंखला को दुरुस्त करने की मांग उठी है और यह जायज ही उठी है। इतिहास का पुनर्लेखन आख़िर क्यों ज़रूरी हैइसे समझना ही होगा। इतिहास का पुनर्लेखन दो ही कारणों से होता है। यह अतीत की घटनाओं की अनुचित व्याख्याओं को दुरुस्त करने के लिए अनिवार्य हैतो कई बार यह विचारधारा के स्तर पर हुई चूक को दुरुस्त करने के लिए भी जरूरी होता है। प्लेटो ने लिखा था कि कहानियां सुनाने वालों के हाथों में सत्ता होती है। इस कथन का आशय क्या हैक्या यह नहीं कि इतिहास हमारा सत्ताधारी वर्ग ही लिखता है। क्या यह नहीं मान लेना चाहिए कि सत्ताधारी वर्ग जब भी इतिहास लिखेगातो वह शोषितों को फुटनोट पर तो क्याहाशिए में भी जगह नहीं देगा।

    आधुनिक भारत का इतिहास भी मुख्यतः उन ब्रिटिश विद्वानों की देन हैजिनकी मुख्य दिलचस्पी इस देश के राष्ट्रीय गौरव को ख़त्म कर देने में थी। इसके साथ हीभारत में इतिहास की समझ और उसके लेखन के प्रति समझ और पश्चिमी इतिहासकारों के बोध के अंतर को भी समझना होगा। विदेशियों ने भारतीय इतिहास और ऐतिहासिक दृष्टिकोण को अनदेखा किया। अपने औपनिवेशिक हित के कारण अंग्रेज भारतीय धार्मिक ग्रंथोंदंतकथाओं और पौराणिक ग्रंथों आदि में उपलब्ध ऐतिहासिक तथ्यों के साथ न्याय करना तो दूर,उन्होंने उसे उपहास का पात्र बना दिया। भारत को उपनिवेश बनाना उन्हें उचित ठहराना था,इसलिए भारतीय इतिहास तथा साहित्य को हीन साबित करना उन्हें जरूरी लगता था।

    उपनिवेशवादी अंग्रेज लेखकों ने भारत के इतिहास और साहित्य को नकार कर ही अपनी सत्ता के खिलाफ विद्रोह को दबाया। इतना ही नहींउन्होंने भारतीयों में इतनी हीन भावना भर दी कि बाद में भी जो इतिहासकार हुएउन्होंने भी अपनी एकांगी और अधूरी दृष्टि से ही भारतीय इतिहास को लिखा। अंग्रेजों और उनके बाद उनके पिट्टुओं का लिखा भारत का साहित्यिकसामाजिकसांस्कृतिक जो भी इतिहास हैवह एकांगी और भ्रम पैदा करनेवाला है।

    भारतीयों की इतिहास-दृष्टि भी अलग थी। उन्होंने समय को केवल 'टाइममें न बांधकर'कालमें बांधा था। अधिकांश उलटफेर तो शब्दों को नहीं समझने की वजह से ही है। काल में सांस्कृतिक-सामाजिक आचार समाहित हो जाते हैं। इसीलिएभारतीय इतिहास-लेखन में अनायास ही तीन-चार सौ वर्षों तक की खाई भी आ सकती हैक्योंकि जब तक कुछ बड़ा सांस्कृतिक बदलाव नहीं होता थाभारतीय इतिहास अपनी गुंजलक में ही खोया रहता था। इसके अलावानामवरी से परहेज और श्रुति-परंपरा का होना भी भारतीय इतिहास-लेखन की भिन्नता में है। वेदों में जैसे नाम नहीं दिए गए हैंरचयिता केउसी तरह उनको श्रुति परंपरा से याद भी किया जाता था। इसीलिए भारतीयों ने न तो कभी ऐतिहासिक दस्तावेज लिखने में रुचि दिखाईऔर न ही उन्हें सहेजने में। इसका मतलब यह नहीं था कि भारतीयों ने इतिहास लिखा ही नहीं थाया उन्हें आता ही नहीं था।

    दरअसलअपनी औपनिवेशिक दृष्टि को जायज ठहराने के लिए अंग्रेजों ने सारा घालमेल किया। वह कोई महान जाति भी नहीं थेजैसा कि हमारे वामपंथी-कांग्रेसी मित्र बताते रहते हैं कि उनके आने के बाद ही असभ्य भारतीय सभ्य हुए। यहां तक कि रामविलास शर्मा भी उनको कोसते हुए लिखते हैः- "अग्रेजी राज ने यहाँ शिक्षण व्यवस्था को मिटाया,हिंदुस्तानियों से एक रुपए ऐंठा तो उसमें से छदाम शिक्षा पर खर्च किया। उस पर भी अनेक इतिहासकार अंग्रेजों पर बलि-बलि जाते हैं।" (सन सत्तावन की राज्य क्रांति और मार्क्सवाद,पृ. 67)

    भारतीय इतिहास का पुनर्लेखन सबसे जरूरी इसलिए है कि इसकी नींव ही सबसे बड़े झूठ पर रखी हुई है। वहयह कि आर्य भारत के मूल निवासी नहीं थे। दूसराकारण यह है कि इस इतिहास पर कोई भी सवाल उठाते ही आपको प्रतिक्रियावादीहिंदू राष्ट्रवादी और न जाने क्या-क्या कह दिया जाएगा। तीसराकारण यह है कि मिथकों के जवाब में हमें मिथक ही सुनाए गए हैं। चौथाकारण यह है कि तथ्यों और सबूतों की रोशनी में जब आप बात करेंगेतो वामपंथी-कांग्रेसी धड़े के तथाकथित इतिहासकार आपकी बातों का कोई जवाब देने ही नहीं आएंगे और आएंगेतो कहीं की ईंटकहीं का रोड़ा जोड़ेंगे। (यह लेखक जेएनयू का हैवह भी उस दौर काजब पहली एनडीए सरकार बनी थीइसलिए पाठक समझ सकते हैं कि वहां इतिहास के नाम पर कितनी बहस हुई होगी। बहरहालइस लेखक को अच्छी तरह याद है कि इतिहास के एक शोधार्थी ने जब आर्यन इनवेजन के मसले पर परचा लिखकर वामपंथी गुब्बारे की हवा निकाल दी थीतो एसएफआइ ने उसका जवाब देने के लिए देश के एक नामचीन इतिहासकार (?) को बुला लिया था...)...

    आर्यों के विदेशी होने का सारा मसला भाषा-वैज्ञानिक तरीके पर हैलेकिन यह न भूलें कि यह सिद्धांत विलियम जोंस ने दिया था और 17 वीं सदी से पहले इस सिद्धांत का कोई नामलेवा नहीं था। (भारत में अंग्रेजी राज की स्थापना के दौर से इसको जोड़ कर देखें)। दूसरीबात यह कि अगर आर्य कहीं बाहर से आए थेतो उन्होंने समस्त वेदों में कहीं भी एक बार अपनी जन्मभूमि को क्यों नहीं याद किया है?? एक बार तो बनता हैभाई। तीसरी बातवेदों में जिस मुंजवंत पर्वत का उल्लेख हैवह तो पंजाब में पायी जाती है (सारे संदर्भ,संस्कृति के चार अध्याय से)। चौथी और सबसे अहम बातप्रख्यात मार्क्सवादी इतिहासकार रामविलास शर्मा भी इस मिथ को तोड़ते हैः- वे लिखते हैं, "दूसरी सस्राब्दी ईस्वी पूर्व में जब बहुत-से भारतीय जन पश्चिमी एशिया में फैल गएतब ऐसा लगता हैउनमें द्रविड़ भी थे। इसी कारण ग्रीक आदि यूरोप की भाषाओं में द्रविण भाषा तत्व मिलते हैं यथा तमिल परि (जलना)ग्रीक पुर (अग्नि)तमिल अत्तन (पीड़ित होना)ग्रीक अल्गोस (पीड़ा)तमिल अन (पिता)ग्रीक अत्त (पिता)। यूरोप की भाषाओं में 12 से 19 तक संख्यासूचक शब्द कहीं आर्य पद्धति से बनते हैंकहीं द्रविड़ पद्धति से।" (भारतीय संस्कृति और हिंदी प्रदेशभाग २,पृ. 673) 

    पांचवी बात यह है कि अगर आर्य कहीं औऱ से यहां आए (जो अक्सर कहा जाता हैरूस या ईरान से आए) तो इतनी बड़ी यात्रा के दौरान कुछ तो अवशेष कहीं होने चाहिए। कहीं कोई हड्डीकोई राख। हालांकिकहीं कुछ नहीं है। छठी और अंतिम बातइस संदर्भ में यह है कि जब स्वराज प्रकाश गुप्त ने रोमिला थापर के इस सिद्धांत को चुनौती दी थीतो थापर ने उन्हें बौद्धिक जगत से बदर करवा दिया था। यह है इनके इतिहास-लेखन का सच।

    भारतीय इतिहास के पुनर्लेखन की जरूरत इसलिए भी है कि अंग्रेजों ने हमें जिस तरह से हीन-भावना से ग्रस्त कियाहम पर बर्बर और असभ्य होने की मुहर लगा दीहमें बताया कि उन्होंने हमें ज्ञान की रोशनी दीउससे उबर कर हमें अपनी सांस्कृतिक और राष्ट्रीय विरासत को सहेजने की जरूरत है।

    हमें सबसे पहले तो प्रश्न पूछने की जरूरत है। आखिरप्रश्न पूछने को मनाही करना किस इतिहास-लेखन का हिस्सा हैहमें यह मान लेने में हर्ज नहीं कि ताजमहल वही हैजो हमें बताया गया है....लेकिनअगर हम जानना चाहें कि आखिर शाहजहां के पहले के कागज़ातों में उसका उल्लेख क्यों हैताज के बाहरी हिस्से में लगे लकड़ी की कार्बन डेटिंग से उम्र 11वीं सदी पता चलती है और शाहजहां के दरबारी काग़जों में कहीं भी इससे संबंधित उल्लेख नहींकई यूरोपीय पुरातत्वविदों और आर्किटेक्ट ने इसको हिंदू मंदिर जैसा बताया हैतो इन सवालों तक को क्यों उड़ा दिया जाता है??  इन पर चर्चा करने और इनके सही या गलत जवाब देने से किसको और क्यों आपत्ति है। यहां यह बताना प्रासंगिक होगा कि आगरे के लाल किले को भी शाहजहां द्वारा बनाया बताया जाता रहा हैजबकि वह मूलतः सिकरवार राजपूतों ने बनाया था (यह भी यूपीए शासनकाल में लिखी एनसीईआरटी की किताब में बदला गया है)। (एनसीईआरटीसामाजिक विज्ञानकक्षा 7) जबतथ्यों के आलोक में यह जानकारी बदल सकती हैतो बाक़ी क्यों नहीं?

    इतिहास का पुनर्लेखन इसलिए जरूरी है कि हमें पता चल सके कि हमारे यहां स्त्री-शिक्षा की समृद्ध परंपरा रही है। हमारी ऋषिकाएं लोपाअपालाघोषा आदि-इत्यादि रही हैंजिन्होंने कई मंत्र लिखे हैं। हमें इतिहास फिर से लिखना चाहिए,ताकि पता चले कि मुरैना में चौंसठ योगिनी का एक मंदिर हैजिसे शिव-संसद कहते हैंजो नवी-दसवीं सदी का है और जो बिल्कुल उसी तरह का हैजैसी आज की भारतीय संसद। तोक्या यह मुमकिन है कि ल्युटयंस की 20 वीं सदी की इमारत की नकल 9वीं सदी के लोगों ने कर ली??

    हमें इतिहास फिर से लिखना चाहिएताकि झाँसी की रानी लक्ष्मीबाईरानी चेनम्मारानी अब्बक्का आदि के बारे में पता लगे। ताकिहम एक बार में यह मान लें कि हम किसको मिथक मानेंगे और किसे इतिहासयदि महाभारत मिथक हैतो फिर एकलव्य की कहानी भी मिथक क्यों नहीं...रामायण मिथक हैतो केवटशंबूक और शबरी की कहानी क्यों नहीं मिथक हैयदि ये मिथक नहीं हैं...तो सारा कुछ इतिहास क्यों नहीं है?

    हमें इतिहास फिर से लिखना होगा ताकि जान सकें कि गोवा के सभी हिन्दुओं का क्या हुआउनकी मूर्तियाँरहन सहन के तरीकेबर्तनजेवर जैसी कोई भी चीज़ वहां क्यों मौजूद नहीं है हमें 14 वीं सदी में मौजूद चोल राजाओं द्वारा बनायी गयी सूर्य घड़ी के बारे में जानने के लिए इतिहास को फिर से लिखना ही होगा। हमें नालंदावैशालीचोलपांड्यचालुक्य आदि राजाओंअपनी मूर्तियों-भित्तियोंशिल्पोंमहलों को उजागर करना ही होगा। हमें अपनी गौरवशाली परंपरा को याद करना होगाताकि हम बिना वजह हीन-भावना से ग्रस्त न रहें। ताकिभारत का शेक्सपीयर न कहा जाएब्रिटेन का कालिदास कहा जा सके। भारत का नेपोलियन नहींफ्रांस का समुद्रगुप्त कहा जा सके।

    हमें इतिहास को फिर से लिखना होगाताकि फिर किसी नेताजी की मौत पर परदा न डाला जा सकेताकिउस स्वातंत्र्यवीर की फिर से दो दशकों तक जासूसी न की जा सके...ताकि,हमारे नायकों का सही ढंग से चुनाव हो सके....ताकिहम जान सकें कि बर्मा की सीमा पर आइएनए यानी आज़ाद हिंद फौज के 2000 से अधिक सिपाही मारे गए थेऔर उनका उल्लेख तक आज भी नहीं होता है?

    क्या इन तथ्यों को झुठलाया जा सकता हैलिहाजाइतिहास के पुनर्लेखन की जरूरत तो है और हमें यह काम बहुत पहले ही शुरू कर देना चाहिए था। लेकिन सवाल यह है कि क्या मानव संसाधन विकास मंत्रालय विचारधारा के आग्रहों को परे रखते हुए खुले दिमाग से यह काम कर पाने में सक्षम हैहमेंफिलहाल किसी भी तरह के पूर्वाग्रह से मुक्त एक राष्ट्रीय इतिहास की जरूरत है।


    संदर्भः-

    संस्कृति के चार अध्याय रामधारी सिंह दिनकर

    0 0



    0 0

    Ratan Tata beats Ambani Brothers to mobilise India Inc support  for Obama`s Best friend!


    Whereas Reliance Industries Ltd (RIL) on Friday posted its biggest quarterly profit in seven years!


    Mukesh Ambani promoted Reliance Retail reported revenue growth of 31% on year at Rs 4,788 crore in the fourth quarter of fiscal 2015.

    Palash Biswas


    Ratan Tata beats Ambani Brothers to mobilise India Inc support  for Obama`s Best friend!


    In Mumbai, Cautioning the industry against getting "disillusioned so fast", top business leader Ratan Tata on Friday asked it to give 'support and opportunity' to Prime Minister Narendra Modi for delivering on his promises.


    Finance ministerArun Jaitley said on Friday that the government is committed to a transparent and predictable tax regime and views taxpayers as partners and not as potential hostages or victims.


    In his speech at the Peterson Institute for International Economics, Jaitley detailed the steps that the Narendra Modi government has taken to revamp the tax administration and make it non-adversarial.


    "But, let me highlight an action that has not received sufficient attention. This year two high court rulings went in favour of Vodafone and Shell, which the government did not contest, reflecting our commitment to not being adversarial," Jaitley said.


    On the other hand,Reliance Industries Ltd (RIL) on Friday posted its biggest quarterly profit in seven years with fourth quarter net income rising 10.8% to Rs 6,240 crore as earnings from refining crude increased.

    Net profit in Q4 jumped 10.8% to Rs 6,240 crore. This is the highest quarterly net profit for RIL since it clocked Rs 8,079 crore in profit in the third quarter of 2007-08.

    The company earned $10.1 for every barrel of crude it turned into fuels during the quarter (call it gross refining margin or GRM), compared with $9.3 a year earlier and $7.3 in the three months ended December 31, 2014.


    Mukesh Ambani promoted Reliance Retail reported revenue growth of 31% on year at Rs 4,788 crore in the fourth quarter of fiscal 2015. Strong growth in retail business came despite consumption slowdown and challenging macroeconomic environment. The company also maintained the distinction of being India's largest retailer with 2,621 stores across 200 cities and over 12.5 million square feet of retail space.

    For the 12 months ending fiscal 2015, the company's total revenue grew by 21.2% to Rs 17,640 crore while profit before depreciation, interest and taxes (PBDIT) for the year stood at Rs 784 crore. In terms of like-for-like (LFL) growth, it was up to 17% across various format sectors during the year. The company also consolidated its leadership position by adding added 930 stores and 0.9 million square feet of operating space in the year across the sectors.



    India Inc projected Narendra Modi as the Prime Minister of India long before RSS endorsed the idea.Mind you,Ambani Brothers took the initiative crossing the fences after ending the longest ever honeymoon since Indira regime with Congress as United States of America dumped Dr Manmohan Singh whom it inserted in Indian Politics as an incarnation of neoliberal reforms for multi dimensional mass destruction.


    Since Indian NRI prime Minister having ended his infinite election campaign leaving the Free Market fascist RSS Hindu imperialist agenda to the Bajrangi Brigade and giving up the minimum governance for making in a all India Gujarat and looking for nuclear disaster along with free flow of foreign capital to be imported to wipe out the agrarian indigenous aborigin excluded non Aryan Non Hindu population for cent percent Hindutvaand a Non Hindu Non Aryan free Hindu Rashtra ahead.


    Barrack Obama emerged his best ever friend beating every leader on RSS fold at home.Obama seems to be more pleased than all the protagonists of Hindutva with the bumper harvesting of lotus all over India.


    Rather RSS should have projected Obama as the Avtar inspite of some DR BR Ambedkar misquoting,misinterprating the best fighter for humanity after Gautam Buddha.


    But making in Amerika and selling of the Nation,its Golden bird is something related to high voltage blind nationalism and the Swadeshi faction inspired by Deen Dayal Upadhyaya would not allow Obama to become the Avtar of Vishnu.More over th Ambedkar ATM is most suitable to harvest mandate converting the majority as the permanent non citizen residents of Hinudva Hell.


    Thus,Barrack Obama is spared!DR BR Ambedkar,the man who converted to Buddhism to annihilate caste and targeted bothe Brahaminical hegemony as well as Capitalism both represented best by the fascist RSS, as the greatest enemies of Indian depressed class.He blasted all the Hindu holy scripts line by line and broke every Myth including Lord Rama.


    The Brahaminical RSS despite practicing brutal apartheid and inhuman untouchability claiming it to be SAMRASATA,inclusive diversity,chose  OBC Modi as the Prime Minister of India opting out its Brahaminical time tasted leaders and dumping Atal as well as Adwani to have the votes of OBC,SC and ST.


    RSS, aligned with zionist United States of America and Israel, is playing the card of vertical religious polarisation to accomplish the free market agenda of complete privatization,complete disinvestment,complete decontrol and complete deregulation.


    Very recently,RSS business friendly government succeeded to kill the labour laws made by DR. BR Ambedkar as the labour ministerin British India.


    DR.Amebdkar`s role in the constitution of Reserve Bank of India is recognised officilally.Having amended Banking Act to enhance votes of the private parties,RSS ensured the privatization of that reserve Bank and is all set to convert all PSBs into private holding companies.


    Not to mention reservation,not to mention Hindu Code Bill,not to mention fundamental rights and directive principles,even not to mention the Fifth and Sixth schedule and all the constitutional safeguards finished,the Parliament itself is manipulated to allow foreign interests and free flow of foreign capital,a continuous Bull Run,infinite recycle of Black Money to sustain the Manusmriti economics of exclusion and ethnic cleansing.Thus, incarnating the latest Avtar Ambedkar ,RSS made a Godse and savarkar of Ambedkar,killing the leader of entire humanity!


    Most recently Obama wrote the profile of Modi on Time magazine.The same man who denied VISA to Modi branding him no less than a war criminal against the humanity until India Incs and RSS joint venture to make India a joint peripherry of United States of America and Israel.Then Obama giving Modi clean chit in Gujarat genocide case pleased to visit India as the chief guest on Republic Day.Leaving India he spoke for freedom of religion missing in India.


    Now Modi happens to be the man of the moment for outgoing US President.Thus,no one else but Ratan tata takes over from Ambani brothers to stengthen the crown of the Kalki Avtar.




    Stating that the Modi government has not completed even one year in office, Tata said, "All of us should understand that it's a new government, and we need not get disillusioned and dissatisfied with so fast."


    The comments come at a time when various business leaders including HDFC chairman Deepak Parekh, Marico Group's Harsh Mariwala and the new CII president Sumit Mazumder have talked about a need for the new government's reform measures to start reflecting on the ground.


    "There's a great deal of hope in the inspirational leadership of Modi. He is still in the early stages of defining what he hopes to deliver a new India. The implementation hasn't really taken form this year. But we still have to give him the opportunity to implement what he has promised," Tata said in Mumbai.


    He was replying to a query on his views about the economy under the new regime during the convocation of the 'Mumbai International School of Business Bocconi'. Expressing confidence that the prime minister will deliver on his promises, Tata said "We're all hopeful that the country will move forward in the manner that Modi predicted. "We really need to support it if we need to have a new country and outlook both internationally as well as domestically."

    He added: "In short, we're all hopeful that the country will move forward in the manner that Modi predicted."


    Mazumder said Friday at a press conference in the national capital that the Modi government has taken forward reforms in various areas but issues like land acquisition were still coming across as key bottlenecks for implementation of large projects, while the industry has also been experiencing obstacles with regard to the Companies Act.


    Mazumder also highlighted that although progress has been made in reforming labour laws, a lot needs to be done, while there are "still certain factors which need to be resolved in the ease of doing business".


    The prime minister, as also other top government leaders, have asserted that all efforts are being made to improve ease of doing business.


    Meanwhile, media reports say that  Ashish Kumar, the head of India's statistics office, has faced two months of questioning about how a new way of measuring GDP created the world's fastest-growing major economy overnight.


    It's unlikely to end any time soon.


    Until early February, when Kumar's office changed the way it measures economic activity, India was enduring its weakest run of growth since the mid-1980s. Now it is outpacing China, having grown an annual 7.5 percent in the fourth quarter of last year.


    Policymakers were flummoxed by the statistical transformation, particularly as the revised data was released without a historical series, making it hard to put the number in context or understand what it was saying about the economy.


    "The day starts with a question and ends with a question," Kumar told Reuters. "Almost every week we keep getting queries from RBI and the finance ministry about the data."


    "We are trying to compile a historical series and hope to provide it by the end of December," he said.


    Until then, the questions may keep on coming - a state of confusion that is persisting to the point where it risks wrong-footing financial markets and even policymakers.The statistics office has set up an internal panel to audit the data and invited an International Monetary Fund team to review it. The IMF review starts on April 22.


    Last week, the Reserve Bank of India (RBI) pointed out several gaps in the new figures, which it said clouded an accurate assessment of the economy and could lead to poor policy.


    Others have been more scathing in their criticism. Morgan Stanley's Ruchir Sharma, for example, has called the new numbers a "bad joke" aimed at a "wholesale rewriting of history".


    The statistics office says the new calculation, which measures GDP by market prices instead of factor costs, is more in line with global practise and helps to better understand the structural changes taking place in the economy.


    The RBI and finance ministry agree, and aren't questioning the decision to change the methodology. But they can't reconcile the data with other indicators showing less vibrant growth.

    For example, the new, robust expansion doesn't correspond to subdued corporate earnings and weak industrial production - and statisticians disagree over the way a new data set is used.


    The statistics office attributes the divergence to the use of an improved database of hundreds of thousands of private companies. Previously, a small sample of large firms was used.


    But R. Nagaraj, an independent member of a government-appointed panel that first suggested using the companies database to calculate GDP, says the mismatch reflects a decision to extrapolate the new data instead of taking it as a straight reading of output.


    As a result, Nagaraj said, gross value addition in manufacturing is more than double the figure his panel's suggested methodology would have produced.


    Kumar, the head of the statistics office, said the rationale was to make the samples comparable over a period of time.


    "There has to be some benchmarking so that you compare the comparable," Kumar said. "We haven't come across any defect in our methodology."


    "We don't have any political agenda," Kumar said. "Whatever questions are coming, we are answering them."



    আহমদ শরীফের ডায়েরি #০৫

      Kai Kaus

    "... শেখ মুজিব বঙ্গবন্ধুর মর্যাদা এবং জাতির পিতার পরিচিতি নিয়ে ১০ই জানুয়ারি ১৯৭২ সনে ঢাকায় আসেন। উল্লেখ্য তিনি ১৯৭১ সনের ২৫শে মার্চ অবধি পাকিস্তানের প্রধানমন্ত্রী হওয়ার জন্যে আলোচনা চালিয়ে গেছেন। তরুণেরা তারুণ্যবশে আবেগ-বশবর্তী হয়ে স্বাধীনতার দাবি ও সঙ্কল্প তাকে দিয়ে জোর করে তার মুখে উচ্চারণ করিয়েছিল তার আপত্তি ও পরিব্যক্ত অনীহা সত্ত্বেও। তার বাড়িতেও ওরাই স্বাধীনতার পতাকা উড়িয়েছিল তার হাতেই। মানুষের বিশেষ করে বাঙালীর স্বভাব হচ্ছে হুজুগে। 

    শেখ মুজিব কিন্তু তার দলের লোকদের নিয়ন্ত্রণে ও শাসনে অনুগত রাখতে পারলেন না। তার রক্ষীবাহিনীর, তার অনুচর, সহচর, সহযোগীর লুন্ঠনে, পীড়ন-নির্যাতনে, অত্যাচারে, শাসনে-শোষণে দেশে দেখা দিল নৈরাজ্য, প্রতিষ্ঠিত হল ত্রাসের রাজত্ব। দেখা দিল দুর্ভিক্ষ, মরল লক্ষাধিক মানুষ। 

    এ সুযোগে উচ্চাশী মুশতাক ও অন্যরা হল ষড়যন্ত্রে লিপ্ত। অস্থিরচিত্ত ও অনভিজ্ঞ রাজনীতিক নীতি আদর্শেও হলেন অস্থির। ফলে মার্কিন যুক্তরাষ্ট্রের ইঙ্গিতে তার মুক্তিযোদ্ধা আওয়ামী লীগের একটি উচ্চাশী ক্ষুদ্রদল তাকে সপরিবার-পরিজন হত্যা করল। সম্ভবত: শেখ মণিই ভাবী শত্রু তাজউদ্দীনকে মুজিবের প্রতিদ্বন্ধী বলে মুজিবের কান-মন ভারী করে তাকে পদচ্যুত করিয়েছিল। রাজত্বটাও প্রায় পারিবারিক হয়ে উঠেছিল - সৈয়দ হোসেন, সারনিয়াবাদ, শেখ মণি, কামাল, জামাল তখন সর্বশক্তির আধার কার্যত।

    আজো শেখ মুজিব ও স্বাধীনতা বা মুক্তিযুদ্ধই শহুরে চাটুকারদের ও স্থূলবুদ্ধির লোকদের মুখে সগর্ব-সগৌরব উচ্চারিত। এর মধ্যে দেশ-মানুষ নেই। স্বদেশী স্বজাতি স্বধর্মী স্বভাষী স্বজনের শাসনে মানুষ স্বাধীন হয় না। মৌল মানবাধিকারে স্বপ্রতিষ্ঠ হলেই কেবল ব্যক্তি মানুষ স্বাধীন হয়। ভাত-কাপড়ে জন্মগত অধিকার পেয়ে দেহে-মনে-মগজে-মননে স্বাধীন থেকে জীবনযাপনের অধিকারই স্বাধীনতা। সে স্বাধীনতা চাইতে শেখেনি আমাদের মানুষ॥"

    - আহমদ শরীফ / আহমদ শরীফের ডায়েরি : ভাব-বুদ্বুদ ॥ [ জাগৃতি প্রকাশনী - ফেব্রুয়ারি, ২০০৯ । পৃ: ১৯৯-২০০ ]

    __._,_.___

    0 0

    केसरिया सुनामी की हवा भी लापता

    सत्ता के मुकाबले फिर खड़ा हुआ वाम तो कमल मुरझाने लगे बंगाल में

    दीदी का चुनावी ऐलान मुफ्त करेंगी कैसर का इलाज और दिल का आपरेशन

    एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास


    Mamata Banerjee

    I thought of sharing with all of you a few important initiatives that our Government have decided to take.

    After our huge success of Fair Price Medicine shops and Diagnostic Centres, the state government would soon make treatment of all types of cancer, cardiac problems and blood disorders completely free in state government-run hospitals and medical colleges.

    The services to be provided would include all types of medicines, radiation therapy, surgical procedures like open heart surgery, bypass surgery, repair and replacement of valves and insertion of different types of implants like stents and pace makers.

    The scope of treatment of blood disorders including blood cancer, thalassemia, alplastic anaemia, hemophilia, etc would also be enhanced to offer universal coverage.

    The programme will be launched very soon after tying up the logistics and other issues.


    बंगाल में मौसम बदलते न बदलते केसरिया सुनामी अब धीमी बयार भी नहीं रही।मीडिया जनाधार और धर्मोन्मादी ध्रूवीकरण की वजह से लोकसभा में मिले वोटों के प्रतिशत को बढ़ा चढ़ाकर जो मीडिया आगामी विधानसभा चुनावों में बंगाल में तीसरे विकल्प के तौर पर भाजपा को प्रोजेक्ट करने लगा था,उसने भी हथियार डाल दिये लगता है।


    अभी अभी रुपा गांगुली के ग्लेमर को अपराजेय ममता का विकल्प बनाने की जोर कोशशि भी हुई लेकिन कोलकाता नगर निगम के लिए आज हो रहे मतदान के दिन मीडिया ने ऐलान कर दिया कि लहलहाती कमल की फसल मुरझा गयी है।


    यूपी की तरह अतिवृष्यि या शिलावृष्टि बंगाल में अभी हुई नहीं है।आगे मानसून क्या हाल होगा बंग विजय के अश्वमेध अभियान का।


    मलेरिया या डीसेंट्री किस बीमारी का शिकार हो जायेगा केसरिया रंग,कहना मुश्किल है।


    बहरहाल मुकाबला अब सीधे वाम दलों और सत्तादल तृणमूल कांग्रेस के बीच है।केसरिया कहीं नहीं है।


    कोलकाता में आज दर्जनों जगह चुनाव संघर्ष लाइव है टीवी चैनलों पर।


    कहीं बम फट रहे हैं तो कहीं मीडियाकर्मियों पर हमले हो रहे हैं।तो कहीं गोली चल रही है।कहीं बूथ जाम है तो कहीं मारामारी है तो कहीं लाठीचार्ज है।


    कोलकाता अब कुरुक्षेत्र है और इस कुरुक्षेत्र में कल्कि वाहिनी का अता पता नहीं है।लहू से लथपथ तमाम चेहरे वामपंथी है।


    चुनाव जीते या हारे,सत्तादल को चुनौती देने का जनाधार और संगठन सिर्फ वामदलों के पास हैं।इसके उलट मीडिया,अकूत दौलत और उग्र धर्मोन्माद को छोड़ संघ परिवार के पास न संगठन है और न जनाधार।


    संगठन और नेतृत्व में मामूली फेरबदल से ही वाम का कायाकल्प होते दीख रहा है।वामदलों को अक्ल कब आयेगी कि नेतृत्व और संगठन में सभी वर्गों को समुचित प्रतिनिधित्व देने की हालत में नजारा जो बदलने वाला है,उसका अंदाजा लगायें।


    मैदान छोड़कर जो वामपक्ष ने खुल्ला खेल केसरिया बना दिया था, वह वाम के मैदान में आते ही सिरे से बदल गया है।


    गौरतलब है कि चुनावी सर्वेक्षणों के मुताबिक दूसरे स्थान के लिए भाजपा का मुकाबला माकपा से बताया जा रहा था।मसलन एसी नीलसन और एबीपी आनंद की ओर से कराए गए चुनाव पूर्व सर्वेक्षण में निगम की 144 सीटों में से 103 सीट तृणमूल की झोली में जाने का अनुमान है। जबकि तृणमूल के आंतरिक आकलन के अनुसार उसे 115 सीट मिलेंगी। ममता बनर्जी की पार्टी के लिए सबसे बड़ी चिंता उनकी पार्टी के बागी नेता ही हैं, जो कई वार्डों से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ रहे हैं।


    तृणमूल के एक वरिष्ठï नेता ने बताया, 'करीब 20 से अधिक वार्डों में बागी उम्मीदवार हैं और हम उम्मीद कर रहे हैं कि वे हमारे लिए मुश्किलें खड़ी नहीं करें। नगर निगम के इन चुनावों में इसके अतिरिक्त तृणमूल किसी अन्य बात को लेकर चिंतित नहीं है।' जबकि माकपा और भाजपा दूसरे स्थान के लिए लड़ रही हैं। महज एक पखवाड़ा पहले ही भाजपा को तृणमूल के लिए कड़ी चुनौती माना जा रहा था। लेकिन अब ऐसा लग रहा है कि वामदलों का प्रदर्शन भाजपा से अच्छा रहेगा।


    बाकी देश में भी वामपक्ष प्राक्षी लड़ाई छोड़कर पहले करें मैदान में उतरने का तो हाशिये पर खड़ा वामपक्ष फिर उठ खड़ा हो सकता है।


    इसी बीच बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने ऐन चुनाव से पहले अपने फेसबुक पेज के जरिये कैंसर के इलाज और दिल का आपरेशन मुफ्त कराने का ऐलान करके सनसनी फैला दी है।कोलकाता नगर निगम चुनाव के एक दिन पूर्व मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा चुनावी आचार संहिता के उल्लंघन का आरोप लगा है। विपक्ष का आरोप है कि मुख्यमंत्री ने सोशल मीडिया पर  शुक्रवार को राज्य में कैंसर का इलाज मुफ्त किये जाने के साथ हृदय रोगियों की बाइपास सर्जरी और ब्लड डिसऑर्डर के रोगियों का मुफ्त इलाज करवाने का वायदा करते हुए पोस्ट डाला, जो कि चुनावी आचार संहिता का साफ उल्लंघन है


    पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुक्रवार को घोषणा की कि सभी प्रकार के कैंसर, ह्वदय संबंधी समस्याएं और रक्त विकार का राज्य में सरकार संचालित अस्पतालों में पूरी तरह मुफ्त इलाज किया जा सकेगा।


    अपने फेसबुक पेज पर बनर्जी ने लिखा है, ""उचित मूल्य की दवा की दुकान और जांच केंद्रों में बड़ी सफलता मिलने के बाद राज्य सरकार शीघ्र ही सभी प्रकार के कैंसर, ह्वदय संबंधी समस्याएं और रक्त संबंधी विकार को राज्य सरकार संचालित अस्पतालों व मेडिकल कॉलेजों में पूरी तरह मुफ्त इलाज कराएगी।""

    बनर्जी ने कहा कि मुफ्त मुहैया कराई जाने वाली सेवा में सभी प्रकार की दवाएं, रेडिएशन थेरेपी, ओपन हार्ट सर्जरी, बाइपास सर्जरी, वाल्वों को दुरूस्त करने और बदलने जैसी सर्जिकल प्रक्रियाएं और विभिन्न प्रकार के उपकरण जैसे स्टेंट और पेस मेकर लगाने का काम शामिल होगा। उन्होंने कहा, ""रक्त कैंसर, थैलेसेमिया, अलप्लास्टिक अनीमिया, हेमोफीलिया इत्यादि रक्त विकारों के इलाज को सभी लोगों तक पहुंचाया जाएंगा।""


    गौरतलब है दीदी अब भी सितारों के भरोसे हैं और बेहद रणनीति के तहत उनने मतदान से ऐन पहले भाजपा की रुपा गांगुली की गिरफ्तारी न करने के लिए बाकायदा पुलिस से जवाब तलब करके मुकाबला लोकसभा चुनावों की तरह फिर तृणमूल बनाम भाजपा बनाने की भरसक कोशिश की।


    गौरतलब है कि कोलकाता नगर निगम चुनाव के अंतिम दिन तृणमूल सुप्रीमो व मुख्यमंत्री ममता बनर्जी गुरुवार को सुकांत सेतु से गरियाहाट और बाड़ीगंज फाड़ी से गोपालनगर तक जुलूस निकाला। जुलूस में कोलकाता के निवर्तमान मेयर शोभन चटर्जी, सांसद ,अभिनेता देव, सोहम, श्रावंती, सायंतिका सहित तमाम उजले सितारे शामिल थे।

    दीदी ने रैली के आरंभ में भाजपा नेता अभिनेत्री रूपा गांगुली पर हमला बोला।गौरतलब है कि रूपा गांगुली ने आरोप लगाया था कि गोपालनगर में चुनावी सभा को संबोधित करने के दौरान तृणमूल समर्थकों ने उनके साथ धक्का मुक्की की थी।

    दीदी ने कहा कि सभी पार्टियों के झंडे का सम्मान है। यदि कोई अपराध करता है, वह खुद ही उसके खिलाफ कार्रवाई का निर्देश देती हैं। उन्हें गिरफ्तार किया जाता है, लेकिन यदि कोई उन लोगों के झंडे को फाड़ता है, उसे पैर के नीचे रौंदता है, तो फिर उसे क्यों गिरफ्तार नहीं किया जायेगा।

    याद करें कि इसे पहले ममता बनर्जी सरकार ने विश्र्व हिंदू परिषद (विहिप) के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगडि़या के राज्य में प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया। कहा गया कि यदि तोगडि़या बंगाल में जल-थल या वायु मार्ग से भी प्रवेश करते हैं तो उनको गिरफ्तार कर लिया जाएगा। राज्य सरकार के गृह विभाग की ओर से ऐसा निर्देश सभी जिला प्रशासन को भेजा गया। लेकिन तोगड़िया ठीक वैेसे ही नहीं ाये जैसे पूर्व घोषणा के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह नहीं आये।



    0 0

    हम फिर मई दिवस मनाने की अपील कर रहे हैं।


    मेहनतकश तबके के हक हकूक की लड़ाई तेज करके ही चूंकि देश बेचो फासिस्ट फरेबी बजरंगियों से देश को बचाने की चुनौती है


    पलाश विश्वास

    हम फिर सड़कों,खेतों और बाजारों,कालेजों और विश्वविद्यालयों में मई दिवस मनाने की अपील कर रहे हैं।इस केसरिया कयामती मंजर में मिलियन बिलियनर सत्ता वर्ग से बाहर हर इंसान ,हर औरत की जिंदगी अब वंचित मेहनतकश की जिंदगी है।जितनीजल्दी हम मेहनतकश तबके के साथ अपनी अपनी पहचान खूंटी पर टांगकर लामबंद हो सकेंगे, उतनी ही तेजी से टूटेगा मुक्तबाजारी फासिस्ट जायनी जनसंहारी यह केसरिया हिंदू साम्राज्यवादी तिलिस्म।


    मेहनतकश तबके के हक हकूक की लड़ाई तेज करके ही चूंकि देश बेचो फासिस्ट फरेबी बजरंगियों से देश को बचाने की चुनौती है।


    हमारे साथ मीडिया नहीं है तो हमें खुद जिंदा मीडिया बनकर जन जागरण का थूफान खड़ा करना होगा।


    नगर महानगर कस्बे गांव से परचे निकालकर बुलेटिन छापकर देश भर में मेहनतकश तबके को सच से वाकिफ करना होगा,उनके बीच पहुंचना होगा और उन्हें संगठित करके देश व्यापी आंदोलन शुरु करना होगा।


    शुरुआत के लिए दुनियाभर की मेहनतकश तबके के खून से रंगे मई दिवस के अलावा कोई और बेहतर दिन रक्तनदियों के इस देश में हो नहीं सकता।


    जो भी पढ़ रहें हों हमारी यह अपील और हमसे सहमते हों तो न केवल हमारी यह अपील वे दसों दिशाओं में प्रसारित  करें बल्कि अपनी अपनी भाषा में स्थानीय हाल हकीकत और मुद्दे जोड़कर अपनी अपील अपना परचा,अपना बुलेटिन छापकर करें तो इस देस में बदलाव का बवंडर मई दिवस से ही उठेगा यकीनन।


    जिन बाबासाहेब को हिंदुत्व में समाहित करके भारत की अर्थव्यवस्था से नब्वे फीसद जनता को बहिस्कृत करके मुक्तबाजार के हिसाब से गैरजरुरी जनसंख्या,खासतौर पर विधर्मियों और गैर नस्ली लोगों के नरसंहार का आयोजन हैं,भारत में ब्रिटिश राज के वक्त श्रममंत्री बतौर मेहनतकश तबके के सारे हकहकूक उन्हीं बाबासाहेब के दिये हुए हैं।


    श्रमिक संगठनों को वैध बनाया बाबासाहेब ने तो काम के गंटे बी उनने तय किये औरमहिलाओं को मातृत्व अवकाश से लेकर स्थाई नौकरी के कायदे कानून भी उन बाबासाहेब ने बनाये।


    बाबासाहेब को केसरिया रंग से पोतकर उन्हें नाथूराम गोडसे बनाने का खेल जो संघ परिवार कर रहा हैै,उसकी बिजनेस फ्रेंडली सरकार ने तमाम श्रम कानूनों को अबाध विदेशी पूंजी निवेश के तहत हजारों हजार ईस्ट कंपनियों के मुनाफे के लिए मेहनतकश तबके को बंधुआ मजदूर बनाने,संपूर्ण निजीकरण और रोजगार के मौकों से वंचित करने और बूखों मारने के लिए सिरे से खत्म कर दिया है।


    मिलियनरों बिलियनरों की संसद में श्रम कानूनों का कोई विरोध नहीं हुआ तो मेहनतकश तबके के स्वयंभू रहनुमा लालझंडे के दावेदारों और बाबासाहेब के अनुयायी होने का दावा करने वाले नीले झंडे के पहरुओं के लिए कम से कम मई दिवस से कोई बेहतर दिन नहीं हो सकता कि मेहनतकश तबके के हक हकूक की आवाज नये सिरे से देश भर में एक साथ उटायी जाये।


    अभी अभी अमाजेन, फ्लिप कर्ट,स्नैप डील,और अलीबाबा के खुदरा कारोबार दखल कर लेने के बाद ओला कंपनी ने चार अरब डालर की पूंजी देशी विदेशी निवेशकों से बटोरी है कि भारत के खुदरा बाजार से इस देश के कारोबारियों को बेदखल कर दिया जाये।थोक दरों पर किसानों की आत्महत्या खेती और देहात को मेहनतकश तबके में शामिल होकर रोज कुंआ खोदो रोज पानी पिओ की हैसियत में लाकर पटका है।


    रोजगार के लिए अब अति दक्ष अति कुशल चुनिंदे लोगों के अलावा मुक्तबाजार के संपूर्ण पीपीपी माडल परमाणु विध्वंस बुलेट विकास में मेकिंग इन में कोई जगह नहीं है।


    लिहाजा किसानों और मजदूरोे के अलावा इस देश के बच्चों,छात्रों,महिलाओं का भविष्य भी यही बेहिसाब तेजी से बढ़ती वंचित मेहनतकश दुनिया है।


    इस दुनिया को अब हिंदू साम्राज्यवाद के खिलाफ खड़ा ही होना है और मेहनतकश तबके की लड़ाई ,जल जंगल जमीन की लड़ाई से कतई अलहदा नहीं है।


    अब पूरे देश को जोड़कर हिंदू साम्राज्यवादी  कारपोरेट केसरिया के खिलाफ तमाम रंगों के इंद्रधनुष बनाकर लड़ने के सिवाय इस मृत्यु उपत्यका से बच निकलने का कोई रास्ता बचा नहीं है।



    आपको याद होगा कि हमने पिछले 26 नवंबर को संविधान दिवस मनाने  की अपील की थी।तब देशभर में हमारे साथियों ने संविधान दिवस मनाया।महाराष्ट्र और दूसरे राज्यों में गैर अंबेडकर अनुयायी भी हर साल संविदान दिवस मनाते हैं।


    महाराष्ट्र सरकार ने इसे राजकीय उत्सव बना डाला तो वहां बहुजनोंके संगठित होने का मौका हाथ से निकल गया।


    संविधान की मसविदा कमेटी के अध्यक्ष बाबासाहेब अंबेडकर हैं और इसलिए देश भर में बहुजन उनकी जयंती,उनके परानिर्वाण दिवस और उनकी दीक्षा तिथि मनाने की रस्म अदायगी की तरह सालों से संविधान दिवसे मनाते रहे हैं।


    संविधान और संप्रभुता,स्वतंत्रता और लोकतंत्र का कोई किस्सा इस भावावेग में होता नहीं है।अंबेडकरी आंदोलन केसरिया सुनामी की तरह ही अब तक भावनाओं का कारोबार रहा है और देश के आम लोगों,वंचित बहुजनों,स्त्रियों,बच्चों,किसानों,कर्मचारियों,छात्रों,युवाओं मजदूरों और समूचे मेहनतकश वर्ग के लिए वंचितों के साथ साथ बाबासाहेब की जो आजीवन सक्रियता रही है,उसकी कोई निरंतरता इसीलिए नहीं है।


    अंबेडकर के नाम भावनाओं पर आधारित पहचान की राजनीति से न सिर्फ बाबासाहेब के जाति उन्मूलन के एजंडे के विपरीत मनुस्मृति शासन एक तहत बहुजनों का संहार कार्निवाल बन गया है यह केसरिया कारपोरेट मुक्तबाजारी समय,बल्कि इसी आत्मघाती विचलन की वजह से हिंदुत्व सुनामी में सामाहित हैं अंबेडकरी आंदोलन और स्वयं अंबेडकर भी।


    हमने हस्तक्षेप पर संघ परिवार के झूठे दावों के खिलाफ बहुजनों और मुसलमानों से खासतौर पर लिखने का खुला न्यौता दिया हुआ है।


    मुसलमानों को इसलिए कि उनके खिलाफ बाबासाहेब के हवाले से इस्लाम मुक्त बारत के संघी एजंडा के तहत अभूतपूर्व घृणा अभियान छेड़ दिया गया है और बहुजनों से इसलिए कि वे बाबासाहेब के आंदोलन और विरासत के दावेदार है।


    अभी तक इन तबकों से कोई प्रतिक्रिया भी नहीं मिली है।


    जैसे कि बहुजन पलक पांवड़े बिछाये हिदुत्व के बव्य राममंदिर में बाबासाहेब की हत्या के बाद बाबासाहेब की स्वर्ण प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा का इंतजार ही नहीं कर रह कर रहे हैं,बल्कि कतारबद्ध है विष्णु भगवान के नये अवतार  की शास्त्रसम्मत पूजा अर्चना के लिए।


    हम फिर मई दिवस मनाने की अपील कर रहे हैं।मेहनतकश तबके के हक हकूक की लड़ाई तेज करके ही चूंकि देश बेचो फासिस्ट फरेबी बजरंगियों से देश को बचाने की चुनौती है।



    0 0

    Welcome new comrade General Secretary Sitaram Yechuri to lead Indian masses in Resistance against Fascist Free Market Mass Destruction and Kill Golden Bird missionary RSS Hindu Imperialism!

    Palash Biswas

    CPI (M) on Twitter

    "Comrade Sitaram Yechury has been elected by the Central Committee as the new General Secretary of the #CPIM."

    TWITTER.COM

    Welcome new comrade General Secretary Sitaram Yechuri to lead Indian masses in Resistance agaisnt Fascist Free Market Mass Destruction and Kill Golden Bird RSS Hindu Imperialism!


    Comrade Sitaram Yechury has been elected by the Central Committee as the new General Secretary of the CPI(M). At the meeting of the new Central Committee, Prakash Karat suggested the name of Sitaram Yechury, and S. Ramachandran Pillai seconded. The proposal was approved unanimously by the Central Committee


    Comrade Yechuri is the first General Secretary after Comrade PC Joshi,who despite belonging to Andhra,may speak Hindi very fluently.I dare to speak that CPIM has been missing the opportunity to address thee masses because every GS chose English to communicate.The huge communication gap should be wiped,we should hope for the better.


    Comrade Yechury knows the ground reality better than us as he has been in the Party Polit Bureau for long and should have the constant flow of grass root level feedback.


    It is better for Bengal as the new comrade GS represented Bengal in Rajya Sabha.


    It is not the Party,comrade GS,as a Nation,we the people face the challenges of survival as a free,sovereign and democratic country.Since 1991,the monopolistic aggression against Indian Nation is continued and ethnic cleansing hegemony has taken over the helms of the nation which is reduced to a joint periphery of US imperialism and Zionist Israel while the entire economy of India has been converted into a casino captured by Capitalism aligned with Hindu Imperialism.


    We have to fight against the fascist Hindu Imperialism which has declared a timeline to make India free from Islam and Christianty within 2021 and launched an unprecedented Ghar Wapasi Campaign to extend the Hindutva Hell losing!


    The rural agrarian  India faces a unprecedented displacement drive while FDI Raj has declared the agenda of total privatization,total disinvestment,total deregulation,total decontrol turning into selected depopulation agenda meaning ethnic cleansing which is all about this Hindu Imperialism.


    Let us,we the People of India celebrate May Day united rock solid to revive the killed production system,the killed democracy,the killed freedom,the killed constitution,the killed Golden Bird ie the aborigin mineral India abundant of natural resources,the killed environment,killed citizenship,killed civic and human rights.

    हम फिर मई दिवस मनाने की अपील कर रहे हैं।


    मेहनतकश तबके के हक हकूक की लड़ाई तेज करके ही चूंकि देश बेचो फासिस्ट फरेबी बजरंगियों से देश को बचाने की चुनौती है


    पलाश विश्वास

    हम फिर सड़कों,खेतों और बाजारों,कालेजों और विश्वविद्यालयों में मई दिवस मनाने की अपील कर रहे हैं।इस केसरिया कयामती मंजर में मिलियन बिलियनर सत्ता वर्ग से बाहर हर इंसान ,हर औरत की जिंदगी अब वंचित मेहनतकश की जिंदगी है।जितनीजल्दी हम मेहनतकश तबके के साथ अपनी अपनी पहचान खूंटी पर टांगकर लामबंद हो सकेंगे, उतनी ही तेजी से टूटेगा मुक्तबाजारी फासिस्ट जायनी जनसंहारी यह केसरिया हिंदू साम्राज्यवादी तिलिस्म।


    मेहनतकश तबके के हक हकूक की लड़ाई तेज करके ही चूंकि देश बेचो फासिस्ट फरेबी बजरंगियों से देश को बचाने की चुनौती है।


    हमारे साथ मीडिया नहीं है तो हमें खुद जिंदा मीडिया बनकर जन जागरण का तूफान खड़ा करना होगा।


    नगर महानगर कस्बे गांव से परचे निकालकर बुलेटिन छापकर देश भर में मेहनतकश तबके को सच से वाकिफ करना होगा,उनके बीच पहुंचना होगा और उन्हें संगठित करके देशव्यापी आंदोलन शुरु करना होगा।


    शुरुआत के लिए दुनियाभर की मेहनतकश तबके के खून से रंगे मई दिवस के अलावा कोई और बेहतर दिन रक्तनदियों के इस देश में हो नहीं सकता।


    जो भी पढ़ रहें हों हमारी यह अपील और हमसे सहमते हों तो न केवल हमारी यह अपील वे दसों दिशाओं में प्रसारित  करें बल्कि अपनी अपनी भाषा में स्थानीय हाल हकीकत और मुद्दे जोड़कर अपनी अपील अपना परचा,अपना बुलेटिन छापकर करें तो इस देश में बदलाव का बवंडर मई दिवस से ही उठेगा यकीनन।


    जिन बाबासाहेब को हिंदुत्व में समाहित करके भारत की अर्थव्यवस्था से नब्वे फीसद जनता को बहिस्कृत करके मुक्तबाजार के हिसाब से गैरजरुरी जनसंख्या,खासतौर पर विधर्मियों और गैर नस्ली लोगों के नरसंहार का आयोजन हैं,भारत में ब्रिटिश राज के वक्त श्रममंत्री बतौर मेहनतकश तबके के सारे हकहकूक उन्हीं बाबासाहेब के दिये हुए हैं।


    श्रमिक संगठनों को वैध बनाया बाबासाहेब ने तो काम के घंटे भी उनने तय किये और महिलाओं को मातृत्व अवकाश से लेकर स्थाई नौकरी के कायदे कानून भी उन बाबासाहेब ने बनाये।


    बाबासाहेब को केसरिया रंग से पोतकर उन्हें नाथूराम गोडसे बनाने का खेल जो संघ परिवार कर रहा हैै,उसकी बिजनेस फ्रेंडली सरकार ने तमाम श्रम कानूनों को अबाध विदेशी पूंजी निवेश के तहत हजारों हजार ईस्ट कंपनियों के मुनाफे के लिए मेहनतकश तबके को बंधुआ मजदूर बनाने,संपूर्ण निजीकरण और रोजगार के मौकों से वंचित करने और भूखों मारने के लिए सिरे से खत्म कर दिया है।


    मिलियनरों बिलियनरों की संसद में श्रम कानूनों  को खत्म करने का कोई विरोध,किसी किस्म का विरोध नहीं हुआ तो मेहनतकश तबके के स्वयंभू रहनुमा लाल झंडे के दावेदारों और बाबासाहेब के अनुयायी होने का दावा करने वाले नीले झंडे के पहरुओं के लिए कम से कम मई दिवस से कोई बेहतर दिन नहीं हो सकता कि मेहनतकश तबके के हक हकूक की आवाज नये सिरे से देश भर में एक साथ उठायी जाये।


    अभी अभी अमाजेन, फ्लिप कर्ट,स्नैप डील,और अलीबाबा के खुदरा कारोबार दखल कर लेने के बाद ओला कंपनी ने चार अरब डालर की पूंजी देशी विदेशी निवेशकों से बटोरी है कि भारत के खुदरा बाजार से इस देश के कारोबारियों को बेदखल कर दिया जाये।थोक दरों पर किसानों की आत्महत्या खेती और देहात को मेहनतकश तबके में शामिल होकर रोज कुंआ खोदो रोज पानी पिओ की हैसियत में लाकर पटका है।


    रोजगार के लिए अब अति दक्ष अति कुशल चुनिंदे लोगों के अलावा हमारे बच्चों के लिए संपूर्ण निजीकरण ,संपूर्ण विनिवेश,संपूर्ण विनियंत्रण,संपूर्ण विनियमन और संपूर्ण अबाध विदेशी पूंजी के कारपोरेटएफडीआई राज में बिना आरक्षण मुक्तबाजार के संपूर्ण पीपीपी माडल परमाणु विध्वंस बुलेट विकास में मेकिंग इन में कोई जगह नहीं है।


    लिहाजा किसानों और मजदूरोें के अलावा इस देश के बच्चों,छात्रों,महिलाओं का भविष्य भी यही बेहिसाब तेजी से बढ़ती वंचित मेहनतकश दुनिया है।जिसमें ग्रामीण भारत का महाश्मशान,बेदखल जल जंगल जमीन पहाड़ मरुस्थल रण,खुदरा बाजार,विस्थापितों और शरणार्थियों की गंदी बस्तियों से लेकर मध्यवर्ग के बसेरे तक को हिंदुत्व के इस फासीवादी मुक्तबाजारी विध्वंसक दावानल ने चारों तरफ से घेर लिए।सारा देश अब जलती हुई बुलेट ट्रेन है और इसमें से बच निकलने की सारी खिड़कियां और तमाम दरवाजे बंद हैं।


    इस दुनिया को अब हिंदू साम्राज्यवाद के खिलाफ खड़ा ही होना है और मेहनतकश तबके की लड़ाई ,जल जंगल जमीन की लड़ाई से कतई अलहदा नहीं है।हमारी सारी लड़ाई अब विदेशी अबाध पूंजी के ईस्ट इंडिया कंपनी कारपोरेट केसरिया राज और मुक्तबाजारी नस्ली वर्णवर्चस्वी हिंदू साम्राज्यवाद के खिलाफ है।


    अब पूरे देश को जोड़कर हिंदू साम्राज्यवादी  कारपोरेट केसरिया के खिलाफ तमाम रंगों के इंद्रधनुष बनाकर लड़ने के सिवाय इस मृत्यु उपत्यका से बच निकलने का कोई रास्ता बचा नहीं है।



    आपको याद होगा कि हमने पिछले 26 नवंबर को संविधान दिवस मनाने  की अपील की थी।तब देशभर में हमारे साथियों ने संविधान दिवस मनाया।महाराष्ट्र और दूसरे राज्यों में गैर अंबेडकर अनुयायी भी हर साल संविधान दिवस मनाते हैं।


    महाराष्ट्र सरकार ने इसे राजकीय उत्सव बना डाला तो वहां बहुजनों के संगठित होने का मौका हाथ से निकल गया।


    संविधान की मसविदा कमेटी के अध्यक्ष बाबासाहेब अंबेडकर हैं और इसलिए देश भर में बहुजन उनकी जयंती,उनके परानिर्वाण दिवस और उनकी दीक्षा तिथि मनाने की रस्म अदायगी की तरह सालों से संविधान दिवसे मनाते रहे हैं।


    संविधान और संप्रभुता,स्वतंत्रता और लोकतंत्र का कोई किस्सा इस भावावेग में होता नहीं है।अंबेडकरी आंदोलन केसरिया सुनामी की तरह ही अब तक भावनाओं का कारोबार रहा है और देश के आम लोगों,वंचित, बहुजनों, स्त्रियों, बच्चों, किसानों, कर्मचारियों, छात्रों,युवाओं मजदूरों और समूचे मेहनतकश वर्ग के लिए वंचितों के साथ साथ बाबासाहेब की जो आजीवन सक्रियता रही है,उसकी कोई निरंतरता इसीलिए नहीं है।


    अंबेडकर के नाम भावनाओं पर आधारित पहचान की राजनीति से न सिर्फ बाबासाहेब के जाति उन्मूलन के एजंडे के विपरीत मनुस्मृति शासन एक तहत बहुजनों का संहार कार्निवाल बन गया है यह केसरिया कारपोरेट मुक्तबाजारी समय,बल्कि इसी आत्मघाती विचलन की वजह से हिंदुत्व सुनामी में समाहित हैं अंबेडकरी आंदोलन और स्वयं अंबेडकर भी।


    हमने हस्तक्षेप पर संघ परिवार के झूठे दावों के खिलाफ बहुजनों और मुसलमानों से खासतौर पर लिखने का खुला न्यौता दिया हुआ है।


    मुसलमानों को इसलिए कि उनके खिलाफ बाबासाहेब के हवाले से इस्लाम मुक्त भारत के संघी एजंडा के तहत अभूतपूर्व घृणा अभियान छेड़ दिया गया है और बहुजनों से इसलिए कि वे बाबासाहेब के आंदोलन और विरासत के  वे सबसे बड़े दावेदार है।


    अभी तक इन तबकों से कोई प्रतिक्रिया भी नहीं मिली है।


    जैसे कि बहुजन पलक पांवड़े बिछाये हिदुत्व के बव्य राममंदिर में बाबासाहेब की हत्या के बाद बाबासाहेब की स्वर्ण प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा का इंतजार ही नहीं कर रह कर रहे हैं,बल्कि कतारबद्ध हैं विष्णु भगवान के नये बाबासाहेब अंबेडकर गोडसे सावरकर गोलवलकर अवतार समरस  की शास्त्रसम्मत पूजा अर्चना के लिए।


    हम फिर मई दिवस मनाने की अपील कर रहे हैं।मेहनतकश तबके के हक हकूक की लड़ाई तेज करके ही चूंकि देश बेचो फासिस्ट फरेबी बजरंगियों से देश को बचाने की चुनौती है।

    http://ambedkaractions.blogspot.in/2015/04/blog-post_37.html


    CPI (M) on Twitter

    "Comrade Sitaram Yechury has been elected by the Central Committee as the new General Secretary of the #CPIM."

    TWITTER.COM




    0 0



    Apr 19 2015 : The Times of India (Ahmedabad)
    Facing criticism, govt puts new I-T return form on hold
    New Delhi:
    TIMES NEWS NETWORK
    
    
    FM Calls Up From US, Asks For Review
    Facing a furious backlash against the proposal to seek details of foreign travel and bank accounts of taxpayers in the 14-page new income-tax return forms, the government on Saturday moved swiftly to contain the damage and decided to put the new form on hold.

    "The finance minister spoke to me from Washington and discussed the matter. It was decided that the whole matter will be reviewed. The effort will be to simplify the forms," revenue secretary Shaktikanta Das told TOI. Arun Jaitley is in Washington to attend the IMFWorld Bank meetings.

    Tax authorities had made several additions to the income-tax return form for the assessment year 2015-16 seeking details about foreign travel, foreign assets and income from any source outside the country , and details of all bank ac counts held in India at any time during the previous year. A taxpayer had to submit details of any foreign trip undertaken including the expenses borne.

    The new form also sought details of any bank account opened or closed during the previous year, including those where a taxpayer has a signing authority . The form ­ which goes against the efforts to make I-T returns "saral"­ also sought information related to immovable property , financial interest in companies and details of trusts created outside the country . In case of domestic bank accounts, taxpayers were required to provide the name of the bank, IFSC code of the branch and also mention whether it is a joint account.

    The news of the new additions to the IT return form met with an avalanche of criticism with ordinary taxpayers and experts questioning the move.

    Taxpayers were worried about the extra effort needed to fill in the details and experts said it would have added to more paperwork and harassment. The effort over the years has been to simplify the tax return forms to make life easier for ordinary taxpayers but the latest additions to the IT return forms would have diluted those efforts.

    "The government has been proactive and quick in deciding to review the forms," Das said.

    Tax experts said it would have been a nightmare for tax payers who make frequent foreign trips to provide details of expenses and slammed the move to introduce this provision in the form. Sources said the move to include the new information was part of the of the recommendations of the special investigation team probing the black money issue and authorities had decided to modify the I-T return forms as a fight against the black money menace.

    The move faced severe criticism from tax consultants, tax payers who said the government is asking for too much data. The government has taken several steps to usher in a "non-adversarial tax regime" and has laid down several guidelines for the tax department on how to deal with taxpayers. The NDA government has been battling with the legacy issue of retrospective taxation and trying to put a lid on "tax terrorism" which it has said was unleashed by the UPA government.

    
    


    0 0

    Apr 19 2015 : The Economic Times (Kolkata)
    The Conspiracy of Anti-Net Neutrality
    Alok Kejriwal
    
    
    Rather than making internet access biased, it may be time for telecom operators to partner players on the Net and reinvent themselves
    What is this brouhaha about pro and anti net neutrality? I assume you know what net neutrality is. It simply means that consumers should be able to ac cess all web content at the same cost and terms without discrimination.

    I believe that there is a deeper con spiracy of keeping the net anti­neutral:

    The Disruption of Disruption

    In 2000, I was invited to a glittering event at The Regal Room, Trident, Mumbai, to attend the first ever `Entrepreneur Awards'. I was invited to be a part of the audience.

    I was seated at the "Zip Fone Table".Zip Fone was this new styled phone calling booth that had started springing up all across the country. It was slick, clean and best of all had `video ads' running in the centre of its chassis. Zip Fone was the disrupter of those shabby `STD' booths we had, where call charges were suspect and the service poor.This new phone service combined advertising revenues, aesthetics and transparency as a brand new service.

    On the table was seated the founding entrepreneur of Zip Fone. When I asked him how he had spent his last year, he said, "Alok, just signing term sheet after term sheet. There is so much investor money chasing me, I am on a non-stop money raising spree."

    Circa 12 months later. Mobile telephony kicked into the country with a bang and the Reliance Infocomm's `Monsoon Hungama' offer made every man, woman and unborn child an owner of a mobile phone.

    Zip Fone was destroyed almost overnight, like one of the cars in the latest Fast & Furious movie. The landline business imploded faster than a death star. Mobile operators had disrupted Zip Fone, which was a disruptor itself.

    Come 2015 and the very same mobile operators are on the brink of disruption by the untamable and ubiquitous internet. Look at the penetration and popularity of WhatsApp. A simple green buttoned app has the power to decimate the business of SMS and ruin the business of voice calls. Other internet-linked `apps' yield the same power.

    Net anti-neutrality is a conspiracy aimed at self-preservation.

    Nobody Learns from History. And History Repeats Itself!

    In the late '90s, two teenage boys proposed an incredible hypothesis: every young person in the world had some kind of digital music stored on their PCs and always wanted to listen to more stuff. Why couldn't they `swap' music files between themselves (called peerto-peer or P2P)? Note that the boys did not care about the legality of sharing IP or the fact that they were hijacking the official sales channel of music.

    This innocuous question posed by Sean Parker and Shawn Fanning became the fastest growing business in the world called Napster until it was brutally stopped in its tracks by heavy duty lawsuits brought out by the Recording Industry Association of America, the band Metallica and others.

    This was a classical `knee jerk' behaviour of the big bully corporates who always felt threatened by innovation and chose to block monumental ideas rather than work with them.

    While Napster was shut down, a few years later Apple introduced iTunes, which in many parts was inspired by Napster. Unfortunately, most music companies had gone almost bankrupt by then. History would have been very different if these companies had tied up with Napster and made it their own music distribution channel! In the effort to make the net anti-neutral, I see the same `self destructive' conspiracy by telecom operators. Rather than blocking most players, they should partner with them and re-invent themselves!

    Mirror Mirror on the Wall, Who is the Most Neutral of Them All?

    What is being net neutral? Internet jihadis like me argue that there should not be any price discrimination for consumer access between two or more internet services.But mobile companies argue that the massive costs of building infrastructure and their networks cannot simply be compromised by startups who become digital parasites; and by creating technology like WhatsApp ride on operator networks, hijack them and then squander their margins by giving away almost all telephony services for free.

    The answer lies in the thin veil of disclo sure. Does the consumer know the choices on offer or is the lure of `free' versus charged very subtly hidden away?
    To illustrate my point, consider two friends who access the internet using the same mobile network. Both are flying for their college reunion from the same city and meet on the plane. Both have used the internet to book their flight tickets.When they compare costs, the less techsavvy guy is shocked. He has paid 25% more for the same ticket. He learns that the website he used to buy his digital ticket is the culprit. He did not bother to check other sites because they were `not free to browse' on his mobile phone.

    This is when net partiality rears its demonic head, because the participants of all things unfair will abuse their position sooner than later. And therein lies the undisputable case of having complete net neutrality.




    0 0
  • 04/19/15--04:00: Saving the Sundarbans
  • Apr 19 2015 : The Economic Times (Kolkata)
    Saving the Sundarbans
    G Seetharaman l Sundarbans |
    Kolkata
    
    
    Six years after cyclone Aila, the existential threat faced by the people and fauna in one of the world's largest mangroves has reached alarming levels
    Debi Miridha listens intently to our conver sation with her neighbour Bhagirath Man dal as she unduly delays what she has come to do: freshen up at the pond next to Mandal's house. With a towel on her shoulder and one end of her saree wrapped around her head to avert the merciless sun, she is only too glad to inter rupt with responses to our questions.

    What is otherwise an annoyance is now quite welcome since Mandal is not very forthcoming and never stops looking at us with suspicion.

    To the unsuspecting urban eye, Mirid ha and Mandal's village Dayapur in the Sundarbans, which is about a 100 km south of Kolkata, is idyllic, with its huts with thatched or tiled roofs, paddy fields and a languorous air, which has long been extinct in our cities. But appearances could not be more misleading. Dayapur is not connected to the electricity grid and a few houses make do with a small solar panel atop their roofs; there are very few sources of fresh water; and the vestiges of cyclone Aila are wherever you turn -six years after it ravaged the region -on the flaky walls and in the canal water, whose salinity increased after the cyclone.

    While Mandal builds river embank ments or roads, sometimes under the Ma hatma Gandhi National Rural Employ ment Guarantee Scheme, Miridha puts her life at risk by collecting prawn seeds for a living. "People say you can make a lot of money in it, but I get just `50 a day," says the 45-year-old. Long a banned activ ity, prawn seed collection is the only source of income for many in the region, who are susceptible to attacks by tigers and crocodiles while doing it. Miridha does not have a choice though: "I used to do manual labour in Tamil Nadu last year and would get `220 for working 12 hours a day, but I had to come back because of my kids and my husband, who cannot walk."

    Rich Flora & Fauna

    The Sundarbans, a delta which is part of the Ganga-BrahmaputraMeghna river basin on the Bay of Bengal, is home to one of the world's largest mangrove forests, of about 10,200 sq km, which is seven times the size of Delhi.About 40% of that is in India and the rest in Bangladesh. There are 84 species of mangroves and mangrove associates. The total area of the Indian Sundarbans is about 9,630 sq km, including the mangroves. There are some 4.5 mil lion people in the Indian Sundarbans and about 7.5 million people in Bangla desh. The region may have derived its name from Sundari mangroves (Heritiera fomes). The Indian Sundarbans, which is spread over the North 24 Parganas and South 24 Parganas dis tricts, is home to 56 spe cies of reptiles, 250 spe cies of fish, 220 species of birds and also to the endangered Royal Bengal tiger. It was declared a reserve forest in 1928 and was among the first nine tiger reserves set up under Project Tiger in 1973. The core area of the reserve, which was made a national park in 1984, was recognised by UNESCO as a World Heritage Site in 1987. Two years later, the reserve along with the adjoining forests and areas of human settlements was declared the Sundarban Biosphere Reserve, which focuses on both locals' livelihoods and environmental sustainability.

    The delta was believed to have been formed 2,500-5,000 years ago by the silt carried by the Ganga and its tributaries. It is bounded by the imaginary Dampier-Hodges line drawn in 1829-1830 to its north, the Bay of Bengal to its south, the Hooghly river to its west and the Ichamati-Raimangal rivers to its east. The rivers here are saline thanks to the sea water which enters through the hundreds of creeks and channels during high tide. "In some cases, the salinity in rivers is as high as in the sea," says Biswajit Roy Chowdhury, secretary, Nature, Environment & Wildlife Society (NEWS), a Kolkatabased non-governmental organisation which has been active in the Sundarbans since 1998.

    Making Ends Meet

    The Indian Sundarbans is a seriously impov erished region, with half the population living below the poverty line, which makes conservation efforts all the more difficult. Also, more than two-thirds do not have access to safe water, and only 17% of the population are connected to the electricity grid, according to a 2014 World Bank report. A fifth of the pop ulation get only one meal a day and for a third of them, it is a sub-standard one. Moreover, half the children suffer from malnutrition. Poor environmental conditions cause 3,800 premature deaths and 1.9 million cases of illness every year, primarily among children and adult women.

    About 85% of the people rely on paddy cultivation for their livelihood. Agriculture here is rain-fed, given the saline rivers. Life here is made harder by the fact that the mercury shoots up to north of 45 degree celsius in summer and plummets to 7 degree celsius in winter. "The harsh conditions pose difficulties for every living organism," says Pradeep Vyas, director of the Sundarban Biosphere Reserve.

    As our motorboat traverses the waters of the Durgadhwani river, it is difficult to picture a cyclone laying waste to this place. A ferry boat with more people than ideal and another with just one passenger; a bunch of school kids walking on an elevated village road, which from our boat seems like a thin wire, lending the kids an air of daredevilry; and shirtless men smoking beedis and shooting the breeze at a small kirana store. These are images which limit your ability to imagine the worst. But as per fect as this tableau may seem, the Sundarbans is not immune to nature's wrath.

    According to a 2011 report by the World Wildlife Fund for Nature, cyclones have become more common in the Sundarbans over the last 120 years. The most devastating in recent history was cyclone Aila. It hit the Sundarbans on May 25, 2009 and left 190 peo ple dead and affected 3.8 million in India and Bangladesh. Over 2,40,000 houses were decimated and 3,70,000 partially damaged.While earlier storms used to hit the Sundarbans in July-October, now they can be witnessed in other months, too, like the rains.Were it not for the mangroves, which by some estimates reduce wind speeds by up to 90%, the region would be far worse off. Moreover, they act as a protective barrier to Kolkata.

    Mangroves, half of which have disappeared globally since the mid-20th century, are highly adaptive salt-tolerant plants that grow along tidal estuaries. They are considered one of the most complex biological -and most threatened -ecosystems in the world. They manage to keep most of the salt out thanks to an efficient filteration system and some have `breathing roots' called pneumatophores that grow above the soil to take in oxygen. The ecological significance of man grove forests, which are said to have origi nated in southeast Asia, is on many accounts. They are nurseries for many kinds of fish, shrimp, crustaceans and molluscs and act as life support to three-fourths of the fish caught in that area.

    Mangroves as Lifesavers

    They also make the coastline stronger by holding on to sediments in the river. Moreover, their wood is used as fuel and in construction. Their leaves are tapped for animal fodder. Some mangroves also have medicinal properties. It is for this reason that despite a ban on mangrove destruction, officials and locals admit that it still does happen on a small scale since the people here have few alternatives. But they sure know mangroves are lifesavers.

    "People are more aware of the importance of mangroves after Aila. They even plant mangroves," says Indrajit Jana of Sonagaon village. While he was away working in the Andaman & Nicobar islands, his family had to wade through neck-deep water to survive. But they were not as lucky with their house, very little of which remained. It took his family two months to rebuild their home with the `10,000 they got from the government.

    Besides the government, there are several NGOs which have urged the local population to plant mangroves. In the last five years, NEWS has planted over 5,500 hectares of mangroves with the help of 182 village panchayats. About 30,000 women are involved in the process and nearly 120 guards were paid to protect the mangroves.

    Chowdhury believes planting more mangroves is the way to beef up embankments, which are 3,500-km long. When a line of mangroves is planted, when high tide recedes, their roots absorb alluvium from the water, which create a new layer of natural embankments. But wherever you go in the Sundarbans, it will be hard to miss the bricks alongside mangroves on natural embankments. Near one of the villages, we find labourers on a boat throwing bricks into the water during high tide, which will then be collected and placed on the embankments during low tide.

    Anurag Danda, head, Sundarbans Programme, WWF-India, says a lot of the embankments were originally built when land was reclaimed. "Embankments are now the responsibility of the irrigation department which does not have the expertise [to deal with them]," he notes. He draws a compari son with the Netherlands, which literally means `lowlying country'. About 6,500 km of land in the Netherlands is reclaimed and the country is protected from the North Sea and rivers by its dykes, dams and dunes. "They allowed the water to come in and deposit silt, but here the idea of embankments is to keep the water out for agriculture. If we had allowed the silt to settle, the land would have built itself and been much higher," Danda adds.

    Loss of Land & Life

    Between 1969 and 2009, the Sundarbans lost 210 sq km of land and the future is not any brighter. About 250 sq km of a previously productive zone will be lost in the next 5-10 years thanks to coastal erosion, cyclones and estuary changes, as per the World Bank report, which also says the annual cost of environmental damage could range from `344 crore to `1,065 crore. The sea level in the region is expected to rise 3-8 mm every year. WWF estimates that 1.35 million people, or a third of the population, are presently at high risk, and 2.4 million at moderate risk.

    Danda believes that if we do not provide the local population the basic amenities and alternative livelihoods, we cannot morally object to their indifference to the environment. He adds: "We are not addressing the implications of all these people landing up on the outskirts of Kolkata."

    He advocates a three pronged approach: organi cally depopulating the re gion by providing the peo ple some skills with which they can earn a living else where; ensuring the land vacated by these people is not occupied by others; and helping those who choose to stay back in the Sundarbans.

    Both human inhabitation and climate change have put sev eral fauna in the region at risk.

    Among the species to have become extinct in the Sundarbans in the 20th century are the Asiatic wild buffalo (1910), swamp deer (1930), hog deer (1945) and barking deer (1976). On the endangered list now are the fishing cat, gangetic dolphin, white-rumped vulture and the leatherback sea turtle.

    While the Royal Bengal tiger is also endangered, as per the government's latest tiger estimation, the Sundarbans had 76 of them in 2014 compared to 70 in 2010. Sundarbans has been lauded for its tiger conservation efforts. The tigers of the region are unlike their counterparts elsewhere in the country. "We have noticed that the tigers here are lighter and shorter because they have to work very hard for every meal. The tigers here are great swimmers, easily crossing 18-km channels," notes Vyas, who was earlier director of the Sundarban Tiger Reserve and holds a PhD on the Sundarbans.

    Tiger conservation aside, activists say it has been business as usual for the Mamata Banerjee-led West Bengal government in the Sundarbans post-Aila. Neither Manturam Pakhira, minister for Sundarban Affairs, nor secretary Nandini Chakravorty was available for comment. The Department of Sundarban Affairs spent `201 crore in 2013-14 against the approved outlay of `275 crore. In 2014-15, it was allocated `300 crore in the state budget.The Sundarban Biosphere Reserve spent `14.73 crore in 2013-14 and `9.05 crore in the previous fiscal year.

    Besides the minimal funding, the Sundarban Biosphere Reserve's efforts are undermined by a serious staff shortage."There are 200 forest guards sanctioned but we have a 40% vacancy. People are retiring and a lot of them are over 50 years old," says Vyas. The guards are stretched thin by activities ranging from protection of wildlife and the forest to organising medical camps to overseeing the building of jetties and irrigation channels.

    But there are threats beyond the control of the guards like pollution outside the Sundarbans. The WWF report says that domestic and industrial effluents and contaminated mud from dredging in Haldia, an industrial port town not far from Kolkata, are carried by tributaries to the Sundarbans, thereby adversely affecting its ecology. "The Sundarbans delta has become susceptible to chemical pollutants such as heavy metals, organochlorine pesticides, polychlorinated biphenyls and polycyclic aromatic hydrocarbons which may have changed the estuary's geochemistry and affected the local coastal environment," adds the report.

    In December, an oil tanker crashed with another vessel and spilled 3,50,000 litres of oil into a dolphin sanctuary in Sela river in the Sundarbans in Bangladesh.

    In response to reports on the environmental degradation and unchecked commercial development in the Sundarbans, the National Green Tribunal (NGT) in December took suo motu cognizance of the issue and in January issued orders to the Kolkata government to put a stop to the following activities: illegal brick kilns (in South 24 Parganas, there are 22 legal and 88 illegal brick kilns); encroachment of mangroves for private construction; illegal construc tion even by statutory authorities; felling of trees by inhabitants; prawn seed collection, which has been long banned; use of adulterated oil on boats; and building of illegal dikes for fishing.

    Stress on the System

    Ajanta Dey, joint secretary of NEWS, who is on the monitoring committee set up by the NGT, says the objective behind setting up the Department of Sundarban Affairs in the 1980s was to coordinate between the 15 different government departments like forest, public works department, irrigation and fisheries, but it has in turn created its own divisions for these departments. "About 20 years ago, the government encouraged aq uaculture around mangroves but later realised its mistake," she notes, adding that activities detrimental to the Sundarbans cannot be justified in the name of poverty.

    Vyas calls for a coordination of a different kind: "The government does not know what NGOs and researchers are doing there. For instance, if four different institutions are working on similar research, there is waste of money and stress on the system." Also needed is cooperation between India and Bangladesh. "The West Bengal government is trying to build conservation efforts with Bangladesh, but it is very cumbersome since permissions have to be taken from foreign and defence ministries," says Chowdhury.

    For a region with a dedicated minister, the Sundarbans has not seen nearly as much development or commitment to conservation by the West Bengal government as it ought to have. Environmental conservation was not a top priority for the Left Front, which ruled the state for 34 years, nor is it for the Trinamool Congress, which has been in power since 2011. But both the state and central governments would do well to realise that the threats to the Sundarbans from climate change, pollution and shortsighted development and conservation are not going to materialise in the distant future but are already very much upon us.



















    
    


    0 0

    imggallery

    0 0

    CM absolute Mamata Banerjee has to romp home with thumping win! Democracy Lost.


    Elections?No it is walkover! Violence unabated.Free for ruling RiGGING. Kolaka witnesses yet another Blood Bathing!

    Media tried its best to put RSS on top and it failed miserably.In Kurukshetra Kolkata,Lotus bloomed almost nowhere.A resurgent Left only resisted the wrath and venom of absolute power!



    Palash Biswas

    Media tried its best to put RSS on top and it failed miserably.In Kurukshetra Kolkata,Lotus bloomed almost nowhere.A resurgent Left only resisted the wrath and venom of absolute power!

    Mamata Banerjee has to romp home with thumping win as Democracy Lost.


    আজকালের প্রতিবেদন: শনিবার কলকাতা পুরসভা নির্বাচনে কোনও বড় ঘটনা ঘটেনি বলে জানিয়ে দিলেন মুখ্যমন্ত্রী মমতা ব্যানার্জি৷‌ এদিন সন্ধেয় মমতা যান সি এম আর আই হাসপাতালে গুলিবিদ্ধ এ এস আই জগন্নাথ মণ্ডলকে দেখতে৷‌ সেখানে তিনি সাংবাদিকদের বলেন, প্রচণ্ড গরম উপেক্ষা করে শাম্তিপূর্ণভাবে মানুষ ভোট দিয়েছে৷‌ ১৪৪টি ওয়ার্ডের মধ্যে কয়েকটি ছোটখাটো ঘটনা ঘটেছে৷‌ পুলিস সঙ্গে সঙ্গে ব্যবস্হা নিয়েছে৷‌ ভোটের সময় পুলিস ভাল কাজ করেছে৷‌ মমতা বলেন, রাজনৈতিক বিরোধ থাকতে পারে, তা বলে রাজনৈতিক উত্তেজনা ছড়ানো ঠিক নয়৷‌ তিনি জানান, হাসপাতালে ভর্তি এ এস আই এখন সুস্হ আছেন৷‌ তাঁর চিকিৎসা চলছে৷‌ চিকিৎসকরাই তাঁর ব্যাপারে সিদ্ধাম্ত নেবেন৷‌

    Here it is.

    Claims and counter-claims in a stormy day

    • Site where bomb is hurled

    The Communist Party of India (Marxist) on Saturday adopted a resolution accusing the Mamata Banerjee-led Trinamool Congress of indulging in "massive rigging" of the Kolkata Municipal Corporation election.

    The election to KMC witnessed yet another round of massive rigging by the ruling Trinamool Congress which mobilised "goondas" from different parts of West Bengal, as per the resolution passed at CPI(M)'s ongoing 21st National Congress here in Andhra Pradesh.

    "The West Bengal State Election Commission with all the machinery at its command has remained a silent spectator to the chaos being spread by the ruling party. It has even expressed its helplessness in public," the resolution said. The voters are threatened not to go to polling stations and are prevented from doing so by the ruling party members, it claimed. Incidents of sporadic violence were reported during voting, which is viewed as a "semi-final" to West Bengal Assembly elections due next year.

    On the other hand, West Bengal Chief Minister and Trinamool Congress supremo Mamata Banerjee described election to the Kolkata Municipal Corporation as by and large peaceful. "Today's voting was a peaceful one. I'm telling this only after the elections are over," Banerjee told reporters, after visiting the injured Kolkata Police sub-inspector at a city hospital this evening.

    Also Read: Kolkata Municipal elections: Violence mars polls, crude bomb hurled near Raj Bhawan

    "Voting was held at 144 wards of the Kolkata Municipal Corporation...There were a few stray incidents at four-five places which were immediately taken care of by the police, for which I thank them," Banerjee said. She appealed to the opposition parties not to "incite unrest for the sake of political gain which would become a reason of trouble for the common man".

    Describing the condition of the injured SI as "stable", the chief minister went on to praise him for "good record" in the service. "There was a scuffle at Girish Park where our SI Jagannath Mondal was hit by a bullet on his back. Doctors have seen him and they will take a decision on when to operate him for his injury...Thank God that he is okay. I wish speedy recovery of his," Banerjee said.





    আজকালের প্রতিবেদন: কার্যত ফাঁকা মাঠেই যেন কলকাতা পুরসভার ভোট করল শাসকদল৷‌ ভোট শেষে তৃণমূলের নেতা, নেত্রী, কর্মীরা যথেষ্ট খুশি৷‌ খোদ মুখ্যমন্ত্রী মমতা বন্দ্যোপাধ্যায় এদিন দুপুরে নিজে ভোট দিতে গিয়ে দু'আঙুল তুলে সাংবাদিকদের 'ভি'রি'চিহ্ন দেখান৷‌ কর্মীরাও সকলেই মনে করছেন, তাঁরা খুব সহজেই ফের কলকাতা পুরসভার দখল নিতে চলেছেন৷‌ লড়াইয়ের ময়দান কেন এক তরফা হল? রাজনৈতিক মহলে তা নিয়ে বিভিন্ন মত৷‌ শাসকদলের বিশ্লেষণ, তাদের সঙ্গে সমান তালে লড়াই করবার ক্ষমতা কোনও বিরোধীদের নেই৷‌ কলকাতার মানুষ সামগ্রিক উন্নয়নের কাজে এবং মমতা ব্যানার্জির প্রতি ভরসার কারণে তাদের এখনও পূর্ণ মাত্রায় সমর্থন করছেন৷‌ বিরোধী দলগুলি সুযোগ নেওয়ার চেষ্টা করেছিল, কিন্তু জমি পায়নি৷‌ মানুষ প্রত্যাখ্যান করেছে৷‌ স্বভাবতই ভোটের দিন লড়াইয়ের ময়দানে তাদের পাওয়া যায়নি৷‌ দলের মহাসচিব পার্থ চট্টোপাধ্যায় ভোট শেষে ঘোষণা করেছেন ঐতিহাসিক, শাম্তিপূর্ণ ভাবে ভোট হয়েছে৷‌ বিরোধীদের বক্তব্য কিন্তু সম্পূর্ণ উল্টো৷‌ সি পি এম, বি জে পি এবং কংগ্রেস বলেছে চরম সন্ত্রাসে ভোট হয়েছে৷‌ মানুষকে ভোট দিতে দেওয়া হয়নি৷‌ বিরোধীদের ওপর আক্রমণ হয়েছে৷‌ পুলিসের কাছে গিয়ে কোনও প্রতিকার পাওয়া যায়নি৷‌ এই ভাবে পেশি শক্তি এবং পুলিস দিয়ে লড়াইয়ের ময়দান ফাঁকা করে শাসকদল ক্ষমতায় আসতে চাইল৷‌ বামফ্রন্ট ২ হাজারটি বুথে পুনর্নির্বাচন চেয়েছে৷‌ নইলে বন‍্ধ ডাকবার হুমকি দিয়েছে তারা৷‌ বি জে পি গোটা ভোটই বাতিল করতে বলেছে৷‌ নতুন করে ভোট হোক কেন্দ্রীয় বাহিনী এনে৷‌ কংগ্রেসের বক্তব্য, নতুন প্রার্থীদের ভয় পেয়ে তৃণমূল সন্ত্রাস করেছে৷‌ নির্বাচন কমিশন কী বলেছে? কমিশনার সুশাম্তরঞ্জন উপাধ্যায় বলেছেন, একাংশের মানুষ ভোট দিতে পারেননি৷‌ শনিবার কলকাতায় আদর্শ পরিবেশ ছিল না৷‌ রাজনৈতিক বিশ্লেষকদের বক্তব্য, সি পি এম নেতারা প্রতিরোধের যে ডাক দিয়েছিলেন, শনিবার তা অনেকাংশেই ব্যর্থ হয়েছে৷‌ বহু জায়গায় মানুষ ভোট দিতে গিয়ে বাধা পেয়েছেন৷‌ কিন্তু তাদের সাহস জোগানোর মতো কেউ পথে ছিল না৷‌ যদিও সি পি এমের রাজ্য সম্পাদক সূর্যকাম্ত মিশ্র বিশাখাপত্তনমে সাংবাদিকদের বলেছেন প্রতিরোধ হয়েছে বলেই আমাদের ৭৫ জন কর্মী আহত হয়েছেন৷‌ তবে শহরে ঘুরে এদিন কিন্তু বি জে পি নেতা, কর্মীদের পথে বিশেষ দেখা যায়নি৷‌ তারা জোড়াসাঁকো, জোড়াবাগান, পোস্তা, বড়বাজারের মতো বিশেষ কয়েকটি পকেটে তাদের জটলা দেখা গেছে৷‌ উত্তর কলকাতার আমহার্স্ট স্ট্রিট, শিয়ালদা ছাড়া কংগ্রেস কর্মীদের চোখে পড়েনি৷‌ ফলে এ-সব জায়গায় শাসকদলের কর্মী, সমর্থকরা নিশ্চিম্তে ভোটের কাজ করেছেন৷‌ শনিবার ভোটকে কেন্দ্র করে শহরে বিক্ষিপ্ত অশাম্তির ঘটনা ঘটেছে৷‌ গুলি চলেছে, বোমা পড়েছে৷‌ পুলিস জখম হয়েছে৷‌ রাজনৈতিক কর্মীরাও আহত হয়ে হাসপাতালে গেছেন৷‌ কিছু ক্যাম্প অফিস ভাঙচুর হয়েছে৷‌ যদিও এ কথা মানতে হবে ভোট শেষে বিরোধীরা যতই সন্ত্রাসের কথা বলুন না কেন, নির্বাচন কমিশনের কাছে কিন্তু ৮০টির মতো অভিযোগ জমা পড়েছে৷‌ বিকেলে কমিশনার সাংবাদিকদের এ খবর জানান৷‌ কলকাতার নগরপাল সুরজিৎ করপুরকায়স্হ বলেছেন, পুলিস নিরপেক্ষ ভাবে পেশাদারি মনোভাব নিয়ে কাজ করেছে৷‌ যথাযথ প্রস্তুতি থাকায় বড় ঘটনা আটকানো গেছে৷‌ ৫৮ জন গ্রেপ্তার হয়েছে৷‌ যদিও বিরোধীরা স্পষ্ট বলেছেন, কলকাতার পুলিস এদিন নির্লজ্জ ভাবে শাসকদলের পক্ষ নিয়ে কাজ করেছে৷‌ দিন শেষে জানা গেছে, ভোট পড়েছে শতকরা ৬২.৪২ শতাংশ৷‌ এক দিকে শাসকদলের দাবি, ভোট হয়েছে শাম্তিপূর্ণ, অন্য দিকে বিরোধীদের অভিযোগ, শুক্রবার রাতেই পাড়ায় পাড়ায় ঘুরে সন্ত্রস্ত করা হয়েছে ভোটারদের৷‌ বহু পাড়া থেকে মানুষ ভোট দিতে পারেননি৷‌ কোথাও কোথাও হাতে কালি লাগিয়ে ভোটারদের বাড়ি ফেরত পাঠিয়ে দেওয়া হয়েছে৷‌ এই চাপা সন্ত্রাস চোখে পড়েনি৷‌ কিন্তু এলাকার মানুষ জানেন৷‌ শাসকদল এই অভিযোগ একেবারে নস্যাৎ করে দিয়েছে৷‌ তাদের বক্তব্য সি পি এম নেতাদের ফাঁকা আওয়াজ, বি জে পি-র লোক দেখানো হইচই সবই এদিন প্রমাণ হয়ে গেল৷‌ এই দুই দলের একজন বড় নেতাকেও পথে দেখা যায়নি৷‌ সংগঠনের দিক থেকে দেউলিয়া হয়ে গেলে এই ধরনের মিথ্যা অপবাদ দেওয়া ছাড়া অন্য কোনও পথ থাকে না৷‌



    আজকালের প্রতিবেদন: ভোটের দিন গোলমাল থামাতে গিয়ে গুলিবিদ্ধ হলেন গিরিশ পার্ক থানার গুন্ডাদমন শাখার অফিসার জগন্নাথ মণ্ডল৷‌ তাঁকে রাতে সি এম আর আই হাসপাতালে ভর্তি করা হয়৷‌ গুলিবিদ্ধ পুলিসকর্মী খবর পেয়ে রাতেই হাসপাতালে যান মুখ্যমন্ত্রী মমতা ব্যানার্জি৷‌ সঙ্গে ছিলেন নগরপাল সুরজিৎ করপুরকায়স্হ৷‌ এদিন রাতে ৩ জনকে গ্রেপ্তার করা হয়৷‌ মুখ্যমন্ত্রী বলেন, উনি খুবই ভাল অফিসার৷‌ গিরিশ পার্কের রাজেন্দ্র মল্লিক লেনে দুই রাজনৈতিক দলের মধ্যে গন্ডগোল চলছিল৷‌ বোমা পড়ছে বলে অভিযোগ পায় পুলিস৷‌ থানার সহকারী সাব ইনস্পেক্টরকে সঙ্গে নিয়ে তিনি সেখানে যান৷‌ পৌনে চারটে নাগাদ থানায় খবর আসে তৃণমূল ও কংগ্রেসের কয়েকজন সমর্থক বচসায় জড়িয়ে পড়েছেন, বোমা পড়ছে৷‌ জগন্নাথ মণ্ডল পৌঁছানোর পরই গুলি ছুটে আসে৷‌ তাঁর কাঁধের একটু নিচেই গুলি লাগে৷‌ তৎক্ষণাৎ তিনি সেখানে পড়ে যান৷‌ সঙ্গে সঙ্গে তাঁকে নিয়ে যাওয়া হয় হাসপাতালে৷‌ লালবাজারে নগরপাল সুরজিৎ করপুরকায়স্হ সাংবাদিক বৈঠকে বিকেলে বলেন, গুলিবিদ্ধ হওয়ার খবর পাইনি৷‌ খোঁজ নেব৷‌ পরে তিনি যুগ্ম্মনগরপাল (সদর) রাজীব মিশ্রর কাছ থেকে ঘটনা সম্পর্কে খোঁজখবর নেন৷‌ সাংবাদিক বৈঠকে নগরপাল বলেন, যথাযথ পুলিসি প্রস্তুতি থাকায় পুরভোটে বড় ধরনের কোনও ঘটনা ঘটেনি৷‌ বড় প্রস্তুতি ছিল৷‌ ৩২ হাজার কর্মী ছিলেন৷‌ পদস্হ অফিসারেরাও ছিলেন৷‌ ঘটনার খবর পেলেই পুলিস দ্রুত পৌঁছেছে৷‌ ব্যবস্হা নিয়েছে৷‌ বিচ্ছিন্নভাবে বোমা পড়েছে৷‌ তবে পরস্পরকে লক্ষ্য করে বোমা ছোঁড়া হয়নি৷‌ ৪ হাজার ৭০০-র মতো বুথ ছিল৷‌ কলকাতা পুলিসের ২৮০ বর্গ কিমি এলাকায় ব্যবস্হা নেওয়ায় বড় ঘটনা এড়ানো গেছে৷‌ মোট ৫৮ জনকে গ্রেপ্তার করা হয়েছে৷‌ ১৮টা বোমা উদ্ধার করা হয়েছে৷‌ ১টি পিস্তল পাওয়া গেছে৷‌ পুলিস নিরপেক্ষভাবে, পেশাদারি মনোভাব নিয়ে কাজ করেছে৷‌ ভোট-পরবর্তী কোনও অপ্রীতিকর ঘটনা না ঘটে, সেজন্য ব্যবস্হা রাখা আছে৷‌ দুটি গুলি চালনার ঘটনা ঘটেছে৷‌ একটি জাদুঘরের সামনে৷‌ অন্যটি বাঘাযতীন এলাকায়৷‌ রাজনৈতিক দলগুলোর থেকে অভিযোগ এসেছে৷‌ অভিযোগ পেলেই পুলিস দেখেছে৷‌ রতনবাবু ঘাট, রাজাবাজার, টাকিতে বোমা পড়েছে৷‌ এদিকে গিরিশ পার্কের রাজেন্দ্র মল্লিক লেনে বোমাবাজির ঘটনার খবর পেয়ে জগন্নাথ মণ্ডল নামে এক পুলিসকর্মী যান৷‌ তাঁর গায়ে স‍্প্লিন্টার লাগে৷‌ রটে যায়, তাঁকে লক্ষ্য করে গুলি চালানো হয়েছে৷‌ যুগ্ম্মনগরপাল (সদর) রাজীব মিশ্র বলেন, গায়ে গুলি লেগেছে না বোমার টুকরো, তা দেখা হচ্ছে৷‌ আহত পুলিসকর্মীকে একটি বেসরকারি হাসপাতালে ভর্তি করা হয়েছে৷‌ এদিকে সংবাদ সংগ্রহে গিয়ে একটি বেসরকারি টিভি চ্যানেলের সাংবাদিককে সহকারী কমিশনার সুদীপ্ত নাগ চড় মেরেছেন বলে অভিযোগ৷‌ এ ব্যাপারে নগরপাল জানান, খোঁজ নেব৷‌ প্রয়োজনে ব্যবস্হা নেওয়া হবে৷‌ রাতে জানা গেছে, তার বিরুদ্ধে থানায় এফ আই আর করা হয়েছে৷‌ পুরসভা নির্বাচনে সংবাদমাধ্যমের ওপর আক্রমণে নিন্দা করেছে ক্যালকাটা জার্নালিস্ট ক্লাব৷‌ প্রেস বিবৃতিতে বলা হয়েছে, কমিশনের দেওয়া বৈধ, সচিত্র পরিচয়পত্র থাকা সত্ত্বেও সাংবাদিকদের হুমকির মুখে পড়তে হয়েছে৷‌ অনেক জায়গায় আটকে দেওয়া হয়েছে৷‌ সাংবাদিকরা যাতে স্বাধীনভাবে কাজ করতে পারেন সেদিকে নজর দেওয়ার জন্য প্রশাসনের কাছে দাবি জানানো হয়েছে৷‌

    আজকালের প্রতিবেদন: কলকাতা পুরভোটে ২০০০টি বুথে পুনর্নির্বাচনের দাবি জানাল বামফ্রন্ট৷‌ দাবি মানা না হলে ধর্মঘটের হুঁশিয়ারি দিয়েছে ফ্রন্ট৷‌ শনিবার কলকাতা পুরভোট শেষে বামফ্রন্টের জরুরি সভা ডাকা হয়৷‌ ভোটে শাসকদলের সন্ত্রাসের প্রতিবাদে আজ, রবিবার পথে নামছে বামেরা৷‌ পাশাপাশি কাল, সোমবার মিছিলের ডাক দিয়েছে তারা৷‌ এদিন বামফ্রন্টের বৈঠক শেষে সি পি এম রাজ্য দপ্তরে সাংবাদিক বৈঠকের আয়োজন করা হয়েছিল৷‌ সি পি এম নেতা রবীন দেব অভিযোগ করেন, নজিরবিহীন সন্ত্রাস হয়েছে পুরভোটে৷‌ এই ভোট প্রহসনের ভোটে পরিণত হয়েছে৷‌ তিনি বলেন, ২০০০টি বুথে পুনর্নির্বাচনের দাবি জানাচ্ছি৷‌ যারা ভোটে গন্ডগোল পাকিয়েছে, তাদের গ্রেপ্তার করতে হবে৷‌ ২৮ এপ্রিল পর্যম্ত দেখব৷‌ না হলে ধর্মঘটের দিকেও যেতে পারি৷‌ বাংলা বন‍্ধও হতে পারে৷‌ তিনি বলেন, নজিরবিহীন সন্ত্রাস উপেক্ষা করে যাঁরা ভোট দিয়েছেন, তাঁদের অভিনন্দন৷‌ বাম কর্মীরা দাঁতে দাঁত চেপে লড়াই করেছেন৷‌ তাঁদেরও অভিনন্দন জানাচ্ছি৷‌ পুরভোটে শতাধিক কর্মী-সমর্থক আহত হয়েছেন৷‌ আক্রাম্তদের পাশে রয়েছি আমরা৷‌ এদিনের সাংবাদিক বৈঠকে উপস্হিত ছিলেন সি পি এম নেতা রবীন দেব, সুজন চক্রবর্তী, সি পি আই নেতা মঞ্জুকুমার মজুমদার, সি পি এম কলকাতা জেলা সম্পাদক নিরঞ্জন চ্যাটার্জি, ফরওয়ার্ড ব্লকের হাফিজ আলম সইরানি, আর এস পি-র মনোজ ভট্টাচার্য প্রমুখ৷‌ সুজন চক্রবর্তীর দাবি, বহিরাগত দুষ্কৃতীরা ভোট লুট করেছে৷‌ শতাধিক বাম কর্মী আহত৷‌ অনেক মহিলা কর্মী আক্রাম্ত হয়েছেন৷‌ বাম কর্মীরা দাঁতে দাঁত চেপে লড়াই করেছেন৷‌ যুদ্ধ করার মতো মনোভাব নিয়ে তৃণমূলের বহিরাগত দুষ্কৃতীরা নিয়ন্ত্রণের চেষ্টা করেছে ভোটপর্ব৷‌ এদিন রবীন দেব বলেন, এই ভোট প্রহসনের ভোটে পরিণত হয়েছে৷‌ ফলে মানুষের রায়ের সঠিক প্রতিফলন হতে পারে না৷‌ কলকাতা জেলা বামফ্রন্টের আহ্বায়ক দিলীপ সেন, সি পি এম নেতা ফুয়াদ হালিম পুলিসের সামনে আক্রাম্ত হয়েছেন৷‌ দুষ্কৃতীরা পুলিসের লজিস্টিক নিয়ে গোটা কলকাতায় সন্ত্রাস চালিয়েছে৷‌ দুই ২৪ পরগনা, বর্ধমান, হাওড়া থেকে দুষ্কৃতীরা ভিড় জমিয়েছিল পুরভোটে৷‌ রাজ্য নির্বাচন কমিশনার সরকারের হাতের পুতুল হয়ে গেছে৷‌ দুষ্কৃতীদের মদত দিয়েছে তৃণমূল৷‌ নজিরবিহীন সন্ত্রাস হয়েছে কলকাতা পুরভোটে৷‌ রাজ্য নির্বাচন কমিশন তা মেনে নিয়েছে৷‌ তিনি বলেন, বামফ্রন্ট গত পুরভোটে যে ওয়ার্ডে জিতেছিল, ২০১৪ সালে লোকসভা ভোটে এগিয়ে ছিল, সেখানে টার্গেট করে বাধা দেওয়া হয়েছে৷‌ ৬৫টি ওয়ার্ডে গন্ডগোল হয়েছে৷‌ তৃণমূলের হিংস্র, জল্লাদ বাহিনী পুলিসের মদতে সন্ত্রাস চালিয়েছে৷‌ পর্যবেক্ষক, বিশেষ পর্যবেক্ষকদের নির্দিষ্ট অভিযোগ জানানোও হয়েছে৷‌ কলকাতার বুথগুলির একটি বড় অংশে ভোটারদের বাধা দেওয়া হয়েছে৷‌ তাঁর অভিযোগ, ৬৭, ৬৫, ৬০ নম্বর ওয়ার্ড-সহ আরও ওয়ার্ডে পোলিং এজেন্টদের ঢুকতে দেওয়া হয়নি৷‌ প্রিসাইডিং অফিসার ভোটারদের বলেছেন, ভোট দেওয়া হয়ে গেছে৷‌ ২০০০টি বুথে পুনর্নির্বাচন দাবি করছি৷‌ দাবি পূরণ না হলে ধর্মঘটের দিকেও যেতে পারি৷‌ বাংলা বন‍্ধও হতে পারে বলে হুঁশিয়ারি তাঁর৷‌ রবীন দেবের আরও অভিযোগ, নির্বাচন কমিশনের গাফিলতিতে শ্যামল চক্রবর্তী, তাঁর মেয়ে ঊষসী চক্রবর্তী, গৌতম দেবের ছেলে সপ্তর্ষি, বর্ষীয়ান বাম নেতা সাধন গুপ্ত ভোট দিতে পারেননি৷‌

    মানুষের একাংশ ভোট দিতে পারেনি: কমিশন


    কাকলি মুখোপাধ্যায়


    কলকাতার এক অংশের মানুষ ভোট দিতে পারেননি৷‌ শনিবার ভোট শেষে রাজ্য নির্বাচন কমিশনার সুশাম্তরঞ্জন উপাধ্যায় এ কথা বলেছেন৷‌ তিনি বলেন, আদর্শ পরিবেশে ভোট হয়েছে বলতে পারছি না৷‌ যেসব অভিযোগ কমিশনে জমা পড়েছে সেগুলি যদি সত্যি হয় তাহলে তা হবে গণতন্ত্রের পক্ষে বিপজ্জনক৷‌ তবে কোনও বুথে পুনরায় ভোট হবে কিনা তা রিপোর্ট খতিয়ে দেখে সিদ্ধাম্ত নেওয়া হবে৷‌ তিনি জানান, ভোট পড়েছে ৬২.৪২ শতাংশ৷‌ ২০১০ সালের পুরভোটে ভোটের হার ছিল ৬১.৫৮ শতাংশ৷‌ এদিন সকাল থেকেই নির্বাচন কমিশনে বিভিন্ন বিরোধী দল অভিযোগ জানায়৷‌ ওই সময়ে নির্বাচন কমিশনার জনান, শাম্তিপূর্ণভাবে ভোট হচ্ছে৷‌ তবে বিকেলে তাঁর গলায় ছিল একটু ভিন্ন সুর৷‌ তিনি জানান, সকাল থেকে প্রায় ৬৫ থেকে ৭০টি অভিযোগ জমা পড়েছে৷‌ কোথাও বাইরে থেকে লোক এনে ভোট দেওয়া হয়েছে, কোথাও এজেন্টকে তুলে নিয়ে যাওয়ার অভিযোগ এসেছে৷‌ ভাঙর, ডায়মন্ডহারবার, হাওড়া, বালি থেকে বহিরাগত ঢোকানোর অভিযোগ জানিয়েছে বিভিন্ন রাজনৈতিক দলগুলি৷‌ অন্যান অভিযোগের মধ্যে রয়েছে ৮ থেকে ১০টি ই ভি এম খারাপ, দুটো ওয়েব ক্যামেরা ভেঙে দেওয়া৷‌ ভোট দিতে গিয়ে কোনও ভোটার দেখেন তাঁর ভোট ইতিমধ্যে কেউ দিয়ে দিয়েছে, এমনও অভিযোগ এসেছে৷‌ যাদবপুর, পাটুলি-সহ ৫১, ৫৭, ৫৮, ৫৯, ৬৪, ১০২, ১০৭, ১০৪, ১০৯ ওয়ার্ড থেকে প্রচুর অভিযোগ এসেছে৷‌ বুথ দখলের অভিযোগও জমা পড়েছে৷‌ ভোট দিয়ে বেরোনোর পর ভোটের কালি মুছে যাওয়ার অভিযোগ জানিয়েছেন ২২ নম্বর ওয়ার্ডে বাসিন্দা গীতা ভাটিয়া৷‌ এদিন বি জে পি-র পক্ষ থেকে ২০টি অভিযোগ এসেছে৷‌ তবে গুলি চালানোর কোনও অভিযোগ আসেনি বলে জানান নির্বাচন কমিশনার৷‌ তিনি বলেন, যদিও বি জে পি-র পক্ষ থেকে গুলি চালানোর অভিযোগ এসেছে৷‌ কিন্তু কমিশনের কাছে এখনও পর্যম্ত কোনও অভিযোগ নেই৷‌ তবে অবাধ ও সুষ্ঠু ভোট পরিচালনার চেষ্টা করেছি৷‌ এম আর ও, আর ও-রা রিপোর্ট পাঠাতে শুরু করে দিয়েছেন৷‌ সাংবাদিকদের প্রশ্নে কমিশনার জানিয়েছেন, সব ক্ষেত্রে সব জায়গায় যে দুষ্কর্ম হয়েছে তা নয়৷‌ তবে কেন্দ্রীয় বাহিনী আগে থেকে এলাকায় টহল দিলে হয়ত মানুষের ভয় খানিকটা কমত৷‌ কারণ,কলকাতার এক অংশের মানুষ ভোট দিতে পারেননি৷‌ শনিবার ভোট শেষে রাজ্য নির্বাচন কমিশনার সুশাম্তরঞ্জন উপাধ্যায় এ কথা বলেছেন৷‌ তিনি বলেন, আদর্শ পরিবেশে ভোট হয়েছে বলতে পারছি না৷‌ যেসব অভিযোগ কমিশনে জমা পড়েছে সেগুলি যদি সত্যি হয় তাহলে তা হবে গণতন্ত্রের পক্ষে বিপজ্জনক৷‌ তবে কোনও বুথে পুনরায় ভোট হবে কিনা তা রিপোর্ট খতিয়ে দেখে সিদ্ধাম্ত নেওয়া হবে৷‌ তিনি জানান, ভোট পড়েছে ৬২.৪২ শতাংশ৷‌ ২০১০ সালের পুরভোটে ভোটের হার ছিল ৬১.৫৮ শতাংশ৷‌ এদিন সকাল থেকেই নির্বাচন কমিশনে বিভিন্ন বিরোধী দল অভিযোগ জানায়৷‌ ওই সময়ে নির্বাচন কমিশনার জনান, শাম্তিপূর্ণভাবে ভোট হচ্ছে৷‌ তবে বিকেলে তাঁর গলায় ছিল একটু ভিন্ন সুর৷‌ তিনি জানান, সকাল থেকে প্রায় ৬৫ থেকে ৭০টি অভিযোগ জমা পড়েছে৷‌ কোথাও বাইরে থেকে লোক এনে ভোট দেওয়া হয়েছে, কোথাও এজেন্টকে তুলে নিয়ে যাওয়ার অভিযোগ এসেছে৷‌ ভাঙর, ডায়মন্ডহারবার, হাওড়া, বালি থেকে বহিরাগত ঢোকানোর অভিযোগ জানিয়েছে বিভিন্ন রাজনৈতিক দলগুলি৷‌ অন্যান অভিযোগের মধ্যে রয়েছে ৮ থেকে ১০টি ই ভি এম খারাপ, দুটো ওয়েব ক্যামেরা ভেঙে দেওয়া৷‌ ভোট দিতে গিয়ে কোনও ভোটার দেখেন তাঁর ভোট ইতিমধ্যে কেউ দিয়ে দিয়েছে, এমনও অভিযোগ এসেছে৷‌ যাদবপুর, পাটুলি-সহ ৫১, ৫৭, ৫৮, ৫৯, ৬৪, ১০২, ১০৭, ১০৪, ১০৯ ওয়ার্ড থেকে প্রচুর অভিযোগ এসেছে৷‌ বুথ দখলের অভিযোগও জমা পড়েছে৷‌ ভোট দিয়ে বেরোনোর পর ভোটের কালি মুছে যাওয়ার অভিযোগ জানিয়েছেন ২২ নম্বর ওয়ার্ডে বাসিন্দা গীতা ভাটিয়া৷‌ এদিন বি জে পি-র পক্ষ থেকে ২০টি অভিযোগ এসেছে৷‌ তবে গুলি চালানোর কোনও অভিযোগ আসেনি বলে জানান নির্বাচন কমিশনার৷‌ তিনি বলেন, যদিও বি জে পি-র পক্ষ থেকে গুলি চালানোর অভিযোগ এসেছে৷‌ কিন্তু কমিশনের কাছে এখনও পর্যম্ত কোনও অভিযোগ নেই৷‌ তবে অবাধ ও সুষ্ঠু ভোট পরিচালনার চেষ্টা করেছি৷‌ এম আর ও, আর ও-রা রিপোর্ট পাঠাতে শুরু করে দিয়েছেন৷‌ সাংবাদিকদের প্রশ্নে কমিশনার জানিয়েছেন, সব ক্ষেত্রে সব জায়গায় যে দুষ্কর্ম হয়েছে তা নয়৷‌ তবে কেন্দ্রীয় বাহিনী আগে থেকে এলাকায় টহল দিলে হয়ত মানুষের ভয় খানিকটা কমত৷‌ কারণ, ভোটের আগে থেকে বিরোধী দলগুলি ভোটারদের বাড়ি বাড়ি গিয়ে হুমকির অভিযোগও জানিয়েছিলেন৷‌ তার ভিত্তিতে সমন্বয় সাধন করে চলার চেষ্টা করেছে কমিশন৷‌ ভোটের আগে থেকে বিরোধী দলগুলি ভোটারদের বাড়ি বাড়ি গিয়ে হুমকির অভিযোগও জানিয়েছিলেন৷‌ তার ভিত্তিতে সমন্বয় সাধন করে চলার চেষ্টা করেছে কমিশন৷‌

    http://www.aajkaal.net/19-04-2015/news/243139/




    West Bengal: Kolkata Municipal Corporation elections end, record around 60 ...

    The Indian Express - ‎21 hours ago‎

    The Kolkata municipal polls passed off peacefully without any major disruption on Saturday but was marred by sporadic cases of booth capture, clashes, bombing, threats and intimidations allegedly resorted to mostly by the ruling Trinamool Congress party ...

    Kolkata Municipal elections: Violence mars polls, crude bomb hurled near Raj ...

    Daily News & Analysis - ‎Apr 18, 2015‎

    I have filed a complaint with the West Bengal State Election Commission and the Kolkata Police," said Halim. 1077 candidates are contesting the election in which 38 lakh voters are eligible to exercise their franchise to elect a new KMC board. At present the ...

    52% voter turnout in Kolkata civic body elections till 1 pm

    Hindu Business Line - ‎Apr 18, 2015‎

    Despite reports of widespread violence, polling for the 144-ward Kolkata Municipal Corporation (KMC) on Saturday saw a 52 per cent turnout till 1 p.m. The voting ended at 3 pm. Opposition parties accused the Trinamool Congress (TMC) of resorting to violent ...

    Kolkata Municipal Elections: Why the race is only for the second spot

    Daily News & Analysis - ‎Apr 17, 2015‎

    Post the Lok Sabha elections, there was a perception that BJP can emerge as a major competitor to the ruling party. And what better place to start from than Kolkata, which has a large Hindi speaking population as well. But poor leadership and internal dissent ...

    TMC, CPI (M) workers clash during Kolkata Municipal Corporation elections

    Daily News & Analysis - ‎Apr 17, 2015‎

    Clashes broke out between the workers of the Trinamool Congress and the Communist Party of India (Marxist) during the Kolkata Municipal Corporation elections on Saturday . The violence erupted even as all necessary steps had been taken to ensure ...

    KMC elections today, central forces, drones to keep watch

    The Indian Express - ‎Apr 17, 2015‎

    Three companies of central forces will also be deployed equally in eight divisions of the Kolkata Police area for the purpose. "We have hired a drone from an agency approved by the Election Commission of India. This will be the first time that the SEC will use ...

    More violence reported in Kolkata polls

    The Hindu - ‎Apr 18, 2015‎

    Amidst reports of electoral malpractices, sporadic violence and allegation of intimidation of candidates, about 52 per cent voters exercised their franchise in the Kolkata Municipal Corporation (KMC) Polls held on Saturday till 1 p.m. Voting will continue till 3 ...

    Kolkata Municipal Corporation polls: BJP, CPI, Congress furious, Trinamool ...

    Financial Express - ‎20 hours ago‎

    Kolkata Municipal Corporation, Kolkata Municipal Corporation polls KMC polls, kmc election results, Bharatiya Former West Bengal CM and CPI(M) Politbureau member Buddhadeb Bhattacharjee with his wife Mira Bhattacharjee after casting their vote during ...

    City of Joy Kolkata gears up for high-octane civic election

    India Today - ‎Apr 16, 2015‎

    However, it may not be a cakewalk, with the Opposition parties leaving no stone unturned to reach out to the electorate of Kolkata. Not surprisingly then the campaigning for the civic election has been a high-voltage affair here, with top leaders across the ...

    Violence Mars Civic Elections in Kolkata

    The New Indian Express - ‎10 hours ago‎

    KOLKATA:The elections to the Kolkata Municipal Corporation (KMC) on Saturday witnessed unprecedented violence, with bombs hurled near the Raj Bhavan, a police officer getting shot and several Opposition workers, including candidates as well as ...

    Kolkata municipal polls under way amid sporadic violence

    The Hindu - ‎Apr 18, 2015‎

    Minister Purnendu Bose said that "small incidents are expected in elections in Bengal.""However, we are all aware how Left Front used to conduct elections... But, no big incident has taken place," said Mr. Bose. Kathakali Nandi adds from central Kolkata.

    Policeman Shot At in Post-Poll Violence in Kolkata; 'Small Incident', Says ...

    NDTV - ‎19 hours ago‎

    ... Kolkata and at Baghajatin in southern part of the city. "Several complaints of booth jamming and false voting have been filed with the State Election Commission, more than an ideal election should have warranted," Commissioner Ranjan Upadhyay said.

    High Stakes Kolkata Municipal Corporation Polls Today

    NDTV - ‎Apr 17, 2015‎

    There have been poll-related clashes in some pockets of the city in the run up to the elections. At the last minute, there was a request from the state government for Central forces which declined, reportedly because it came too late. Only three companies ...

    Kolkata Municipal Polls End, Opposition Alleges Rigging by Trinamool Congress

    NDTV - ‎Apr 18, 2015‎

    Kolkata: Elections to the Kolkata Municipal Corporation - billed by many as the semi-final ahead of the assembly elections in West Bengal next year - ended today amid reports of sporadic violence, which the Opposition claimed were carried out by Trinamool ...

    Campaign for Kolkata Municipal Corporation polls ends

    The Hindu - ‎Apr 16, 2015‎

    With allegation being traded by the ruling Trinamool Congress (TMC) and Opposition and amidst reports of political violence campaign to the elections of Kolkata Municipal Corporation (KMC) ended here on Thursday. While Chief Minister Mamata Banerjee ...

    Mamata Banerjee set to give BJP the blues

    Times of India - ‎Apr 17, 2015‎

    KOLKATA: The Trinamool Congress may no longer be the favourite in drawing room 'addas' and coffee table sessions. Yet Mamata Banerjee's party is set for a big comeback in the Kolkata municipal corporation elections. The reason: the opposition has failed ...

    TMC eyes 115 seats in municipal elections

    The Asian Age - ‎Apr 15, 2015‎

    Buoyed by four election rallies addressed by chief minister Mamata Banerjee in the past few days, Trinamul Congress is eyeing a tally of 115 seats in the Kolkata Municipal Corporation election which scheduled on Saturday. This was the internal assessment ...

    Kolkata municipal elections: Chief Minister hits out at opposition canard

    Business Standard - ‎Apr 16, 2015‎

    The Trinamool Congress chief was addressing a massive road show in south Kolkata to drum up support for her party's candidates in the civic poll. Hinting at BJP national secretary Siddharth Nath Singh's jibe, 'bhag Mamata bhag, made sometime ago, she ...

    Kolkata gears up for civic elections

    Deccan Herald - ‎Apr 16, 2015‎

    Both surveys also predicted that the Left, trailing behind in successive elections since 2008, is likely to score better than the BJP. While the Nielsen survey gives the Left around 22 seats, the other survey predicts a few less seats. The predictions for BJP, ...

    Kolkata Civic Election Campaign Ends, Rupa Hogs Limelight

    The New Indian Express - ‎Apr 16, 2015‎

    KOLKATA:Even as the campaign for the elections to the Kolkata Municipal Corporation drew to a close on Thursday,it was actor-turned-politico, BJP's Rupali Ganguly, who hogged the limelight. Rupa endeared herself to the voters by leaving the comfort of her ...

    TMC & CPI(M) workers clash during KMC elections

    Daily Mail - ‎13 hours ago‎

    Polling for 144 wards of the Kolkata Municipal Corporation was held amid tight security on Saturday. The election is being considered a virtual semi-final in the run up to the West Bengal Assembly polls, scheduled to be held early next year. According to the ...

    Kolkata civic polls today, TMC clear favourite

    The Asian Age - ‎Apr 17, 2015‎

    CRPF personnel patrol an area on the eve of the municipal elections in Kolkata on Friday. — Abhijit Mukherjee. The city on Friday was geared up for the crucial Kolkata Municipal Corporation election on Saturday. Nearly 37.5 lakh voters will decide the fate of ...

    Stray violence mars Kolkata municipal polls

    Deccan Herald - ‎16 hours ago‎

    While the KMC electoral rolls had names of more than 37 lakh voters, in several parts of the city they claimed they were unable to exercise their franchise owing to false voting. Most of these cases were reported from the southern fringes of the city.

    Kolkata civic poll ends with scattered violence, cop shot at

    indiablooms - ‎16 hours ago‎

    Kolkata, Apr 18 (IBNS): Elections to the high stakes Kolkata Municipal Corporation ended on Saturday amid reports of sporadic violence, including bullet injury of a policeman, even as West Bengal Chief Minister Mamata Banerjee called the polling 'peaceful'.

    TMC men clash with CPI-M activists during Kolkata municipal polls

    Hindustan Times - ‎Apr 17, 2015‎

    Workers of West Bengal's ruling Trinamool Congress clashed with Communist Party of India-Marxist activists duringelections to the Kolkata Municipal Corporation on Saturday. Polling began amid a torrent of allegations by the opposition of strong arm tactics ...

    Campaign for Kolkata Municipal Polls Ends

    NDTV - ‎Apr 16, 2015‎

    The State Election Commission, which has attracted severe criticism from the opposition parties for sitting on complaints by the opposition, yesterday asked the South 24-Parganas district magistrate and Kolkata Police commissioner to inquire into the alleged ...

    KMC polls: Mamata thanks administration, says 'police is man of the match'

    Zee News - ‎15 hours ago‎

    Kolkata: West Bengal Chief Minister and TMC supremo Mamata Banerjee on Saturday thanked the administration for peaceful conduct of the Kolkata Municipal Corporation (KMC) elections and expressed her gratitude to the people for turning out in large ...

    CPI(M) condemns violence in Kolkata civic polls

    Hindu Business Line - ‎Apr 18, 2015‎

    The CPI(M) here on Saturday passed a resolution at its 21st congress condemning the violence in Kolkata civic polls in which several party workers were wounded. The party accused the ruling Trinamool Congress Party of rigging the elections and advancing ...

    60 per cent voting amid violence in Kolkata civic polls

    IBNLive - ‎21 hours ago‎

    But the Mamata Banerjee led party asserted the elections were peaceful, free and fair. "At 3 p.m., the scheduled close of voting, 59.20 percent polling was registered. The percentage may slightly go up with some of them still in the queues," a West Bengal ...





    0 0

    Yechuri bats for Communist unity and he should be supported.
    Would we see an united Communist Party in India after united Janta Pariwar?
    Palash Biswas

    Palash Biswas
    We have seen Comrade Harkishan Singh Surjeet,the exact personality to understand the new comrade General Secretary.

    Yechuri is known to be very close to Bengal Comrades who might not forgive comrade Prakash Karat for his ideological adventure ending honeymoon with Congress.Bengali comrades hold comrade Prakash Karat responsible for TMC Cong alliance to end Left rule in Bengal. 

    We may not know at present how Yechuri plans to unite communists with the merger of CPIM and CPI.

    We also may not know how he should behave with other communists specifically who oppose the revisionist line of Parliamentary Politics.

    But as a nation we,the people should support such an intiative as it may turn to be game changer in resistance to corporate, zionist, f scist global Hindu Imperialism.

    Yechuri has always been very very liberal and contrarily to comrade Surjeet he is much more elite in Parliamentary Politics.

    If he is interested only in vote bank equation and power politics the fate of communist unity ,I am afraid ,would be identical as the that of Jnata merger which may be broken any time if RSS strike some deal with some one or the other.

    Since 1991,the communists in India have been doing nothing to address the basic problems despite having monopoly in trade unions,women`s,student`s Peasants organisation just because the leadership had not the political will and maintained peace with the centre to get their governments in Bengal,Kerala and Tripura going on, giving up ideology as well as the basic commitment at the cost of the victimized, displaced, suffering ,excluded,untouchable masses subjected to continuous persecution and an infinite holocaust.So much so that the Nation has become a valley of death. 

    I have no doubt that he should succeed in Parliamentary politics,but we have to see whether he takes any initiative for resistance against racial apartheid,mass destruction,economic ethnic cleansing and cent percent Hindu ImperialismLet us see.

    The merger of Communist Party of India (Marxist) and Communist Party of India will certainly happen in future though there is no time-frame for it, CPI(M) leader Sitaram Yechury said here on Sunday after being elected as the party's new general secretary.

    Yechury was unanimously elected to the top post at the party's 21st national congress which concluded here today. He is the fifth person to hold the post.After days of speculation and in a nail biting finish rare for the CPI(M), politburo member Sitaram Yechury was on Sunday elected the new general secretary of the party on the last day of the party congress.

    Consensus emerged on Yechury after the other frontrunner S Ramachandran Pillai withdrew from the race.Sources say outgoing general secretary Prakash Karat advised Pillai to do so after Yechury's supporters in the central committee insisted on a vote. Sources say numbers were in Yechury's favour.

    However,the party has never had an election for the post of general secretary who has always been picked through consensus. The party constitution, however, does provide for a secret ballot in case of voting.

    "Merger is still on cards. But, the first issue is to strengthen our party, based on which work for the unity of Left forces is to be undertaken, and again based on which mobilising Left and democratic forces together will be done," Yechury told reporters after his elevation.

    "There is no time-frame for the merger. But we are trying for the merger to happen at the earliest. It may take two months or six months. But it will happen definitely and that is our determination and also promise," the 62-year-old leader said.

    Replying to a query on the challenges before him, he said the challenges are to strengthen the party, building the unity of Left forces, and bringing the Left and democratic forces together.

     "Our priority will be on how to move forward on the basis of our struggle against the economic policies that are imposed resulting in greater burden on our people, and the communal ideology which is dividing our country and the people," the new general secretary of CPI(M) said.

    The party today also elected 91 members of its central committee, besides five special invitees and as many permanent invitees (in the central committee). It also elected the 16-member politburo team to lead the party for next three years.

    Earlier, addressing the CPI(M) meet, Yechury said this is the congress of future, future of our party and our country.

    Indian Express reports:
    Somnath Chatterjee, a former communist and Speaker of the Lok Sabha during the Congress led UPA- II government on Sunday welcomed the unanimous appointment of Sitaram Yechury as the new all India general secretary of the party.

    "The new team will bring in a breath of fresh air," said Chatterjee who was expelled from the CPM by the politburo when Prakash Karat was the party general secretary over the civil nuclear issue and Chatterjee's reluctance to step down from the post of the Speaker at the diktat of the party politburo in July 2008.

    Talking to the Indian Express, the former Speaker said, "I am no more in the party. But I continue to be a well wisher of the Communist party. I have seen the new formation of the committee with induction of new faces into the politburo as well as the central committee.
    It is an important day for the CPM party which should now be breathing in some fresh air. There should be much enthusiasm and an open minded approach to deal with the problems that the CPM party is facing," said Chatterjee.

    Referring to Sitaram Yechury's appointment, Chatterjee showered praises saying,"Yechury was far more acceptable to all quarters than anyone else. He had the political acumen to deal with varied political outfits and personalities and had the political maturity to lead the party to greater heights.

    He would be truly a cementing factor in the party and bring in positivity. People in general would find in him a vastly acceptable leader."

    "Unfortunately, the CPM party had landed into a political quicksand of steady decline. It had fallen into a vicious circle of stagnation and status quo. I congratulate Yechury on his nomination to this new post along with the new team members like young and enterprising Md. Salim and experienced Hannan Mollah who had the capability to bring in the much needed changes in the party," said Chatterjee.

    Sadly, the Left movement in the country had become very weak and there was no one who could have communicated with the working class, the peasants and farmers. "The CPM's acceptability and credibility had suffered severe erosions during the earlier period. The new committee will definitely be able to arrest that slide and bring in positive changes," said Chatterjee. "There is new hope," he added.

    A comrade for over 40 years, Chattejee's ouster from the CPM had caused serious repercussions in the West Bengal CPM with top most state leaders disapproving of the action.


    0 0

    Dr. Shambhu Katel <shambhu.katel@gmail.com> wrote;

    Thanks for urging for a scientific culture, Asha Lal ji.

    On Sat, Apr 18, 2015 at 5:44 PM, Asha Lal Tamang <dyaltmg@gmail.com> wrote:
    TO WHOM IT MAY CONCERN

    I see some people are advocating for ex-Prime Minister Marich Man not because he did good things but because he did not get state honor as ex-Prime Minister Sur Bahadur received. I am not in favor of either, nor am I against them. However, I would praise if these advocates were arguing based on research i.e. with evidence (e.g. publish a paper or a book or archive other information using today's technology) so that we and our future generation can learn scientifically. Otherwise, we are simply spoiling our time due to some people's irrelevant emotions in the current context. I would advise, "DON'T BE JEALOUS"! I apologize if I hurt anyone because I do not intend it. 

    Regards,
    ALT


     


    On Sat, Apr 18, 2015 at 6:35 AM, The Himalayan Voice <himalayanvoice@gmail.com> wrote:
    Dear Shresthaji,

    Thank you very much for sharing your assessment of late PM March Man Shrestha. He stood for nation and nationalism - I believe but in the 21st century, whether one should only talk  of nationalism not globalism ? I think he was the prime minister then and King Birendra had rejected a proposal from India.

    And, 
    IS CHINA THE BIGGEST THREAT TO WORLD SECURITY ? This is what Harsh V. Pant, professor of international relations at King's, believes.
    August 5, 2013

    KING BIRENDRA HAD REJECTED INDIAN PROPOSAL FOR SECURITY, WATER RESOURCE MANAGEMENT, INDUSTRY AND COMMERCE

    Posted by The Himalayan Voice:
    [ This morning we post below a 'secret draft proposal' forwarded by the Government of India to then His Majesty's Government of Nepal  for security, water resource management and  industry and commerce also. The slain King Birendra Bir Bikram Shah Dev is reported to have rejected this proposal. For that matter, Nepalese people should heartily thank the slain king. The proposal, though soft in language, is extremely cruel and dangerous in substance and meaning. Had the King  told his men to sign on the proposal, Nepal's  military would have been paralyzed, sovereignty and independence would have been compromised, ownership of water resource would have been lost and big Indian business houses would have swallowed up Nepalese business entrepreneurs etc. Although, The Himalayan Voice received the draft proposal from a credible  source in Kathmandu, it has no independent corroboration for it. Posted for discussion only as, there are these days loud talks in Kathmandu or elsewhere that Nepal in Bhutan's shoes is morphing into a present day Sikkim. - The Blogger]

    Thank you,

    -- 

    The Himalayan Voice
    Cambridge, Massachusetts
    United States of America
    Skype: thehimalayanvoice
    [THE HIMALAYAN VOICE does not endorse the opinions of the author or any opinions expressed on its pages. Articles and comments can be emailed to: himalayanvoice@gmail.com, © Copyright The Himalayan Voice 2015]

    On Fri, Apr 17, 2015 at 7:49 AM, Bihari Krishna Shrestha <biharishrestha@gmail.com> wrote:
    Dear Himalayan Voice,
     
    Thank you for reproducing Anushil Shrestha's quote regarding the discriminatory funeral meted out to ex-PM Marichman Singh Shrestha. Having had the opportunity to work under many PMs during my career as a civil servant, I am in a position to state that Late Marichman Shrestha made one of the finest PMs the coutnry had ever had historically. He was abudantly equipped with four citical virtues as a political leader: He had vision, had a high degree of intellect, was daring in his decisions, and above all, also happened to be a man of sterling integrity. Normally, a person like him can only count on history to recognise him, particulalry in a decadent society that Nepal has been reduced to in recent decades.
     
    Bihari Krishna Shrestha
     
    On Fri, Apr 17, 2015 at 3:18 PM, The Himalayan Voice <himalayanvoice@gmail.com> wrote:
    Dear Dr. Karki,

    One of the ways would be how President Obama did it in 2008 and which his people are doing even today also.  

    The Himalayan Voice receives emails almost everyday from the President himself,  sometimes from Bill Clinton or Hillary Clinton etc.  also. Those emails are  sent not actually by them but by a  team that works for reaching out people at the grassroots. For that matter there must be a team and an internet domain name as well.

    By the way, Anushil Shrestha posted this in his Facebook wall: "
    पूर्वप्रधानमन्त्री भएकाले सूर्यबहादुर थापालाई राष्ट्रले सम्मान दिएको हो भने सरकार र नेताहरुलाई सोध्न मन लाग्यो हिजो मरिचमान सिंहको निधन हुँदा यो नियम कता थियो ? कि उनी यो देशको पूर्वप्रधानमन्त्री थिएनन् !? आफ्नो कार्यकालमा कसले के गर्यो ? त्यसको हिसाब ईतिहासले राखेकै छ। देशको पूर्वप्रधानमन्त्रीका रुपमा सरकारले थापालाई राष्ट्रिय सम्मान दिएकोमा मेरो विरोध र आपती हैन तर गणतन्त्रमा यो विभेद किन ?!! — feeling confused."

    Why such a discrimination ? The questions above are all very valid, aren't they?

    Thank you,
    -- 
    The Himalayan Voice
    Cambridge, Massachusetts
    United States of America
    Skype: thehimalayanvoice
    [THE HIMALAYAN VOICE does not endorse the opinions of the author or any opinions expressed on its pages. Articles and comments can be emailed to: himalayanvoice@gmail.com, © Copyright The Himalayan Voice 2015]


    On Thu, Apr 16, 2015 at 8:07 PM, Tej Kumar Karki <tejkarki@gmail.com> wrote:
    DEAR ALL,

    Is there any way we can send our message across to thousands of Nepalese through emails.

    Because this list serve helps reach out only 497 people (although this list-serve is very useful in many ways)

    Or, is there any other internet tools that can help do this.

    Twitter---------only those ('VIPS') who are followed by thousands have the privilege to reach out

    An ordinary person in twitter cannot reach out like the VIPs.

    Face-books----I see it more of a tool of showing faces and status

    May know which is the best tool to reach out.

    Look forward to hear.

    Thanks 











    -- 
     
    Sincerely,

    SK

    0 0

    Hillary: a Disaster in the Making

    by ROBERT FANTINA

    One longs for a candidate for president of the United States possessing those rare traits of statesmanship, honesty and integrity. One looks back in vain to see such an example, and the near and far horizons offer no such hope, either.

    We will take no time looking at the GOP (Generally Opposed to Progress) candidates, either announced or still keeping everyone on the edge of their seats as they 'decide' whether or not to toss their hat into the soon-to-be-crowded ring. Most, including Florida Governor and brother of one of the nation's worst presidents ever, Jeb Bush, and New Jersey Governor, the obnoxious blowhard Chris Christie, have already decided, but enjoy the spectacle of endless conjecture. So they wait.

    But on the Democratic side, no less a worthy than Hillary Rodham Clinton, lawyer, former First Lady, former senator, former Secretary of State, has slow-balled her tattered hat into an otherwise empty ring. Her handlers claim, disingenuously, that she expects competition, and a hard-fought primary campaign. Who, one wants to know, is going to take her on? She has a war chest rumored to hold $2.5 billion, more than twice what Republican Mitt Romney and Democrat Barack Obama each spent on their campaigns in 2012; the total is more than their campaign expenditures combined. The only other potential candidate with anything close to her name recognition is Vice President Joe Biden, and it will be impossible for him to generate the puzzling enthusiasm that seems to follow Mrs. Clinton. And there does not appear to be anyone waiting in the wings to grab the spotlight from her, as Mr. Obama did in 2008.

    So, while her various aides struggle to avoid any appearance of invincibility, let us all make the assumption that Mrs. Clinton will be the nominee, and work from there. What possible objections can anyone from the moderate to liberal political philosophy spectrum have to her nomination? Well, this writer asks: how much time do you have?

    In the interest of time, let's just look at a single area; there will be plenty of time to discuss others as the relentless torture session known as a U.S. political campaign drags on.

    One of the most horrific oppressions of people currently happening in the world today is being perpetrated by Israel on the people of Palestine. Now, before anyone says that this is a complex, decades-old problem, and Mrs. Clinton can't be blamed for not solving it, we question these statements, and at the same time object to her worsening of the situation. And, when one looks at her four years as Secretary of State, one can, indeed, blame her for not resolving the situation. Some facts:

    * Clinton is beholden to AIPAC (American Israel Political Affairs Committee), and takes her disgraceful, self-appointed obligation to that lobby group more seriously than she does human rights. During her stint as Secretary of State, she blocked every effort Palestinians made at the United Nations to achieve recognition; these successful efforts to thwart the self-determination of an oppressed people win the kudos of AIPAC. She has spoken of Israel in almost romantic terms: "Protecting Israel's future is not simply a question of policy for me, it's personal," she said in 2013, discussing various visits she has made to that apartheid land. She regularly worships at the AIPAC altar.

    * In 2014, as Israel was using U.S.-provided weaponry, some of it illegal under international law, to carpet-bomb the beleaguered and blockaded Gaza Strip, Mrs. Clinton had nothing but praise for Israeli Prime Murderer Benjamin Netanyahu. She further echoed the tired old line about Israel's 'right to defend itself' from rocket fire, as if an occupied nation does not have an internationally-recognized right to fight its occupier. One must note that, during 55 days in the summer of 2014, Israel fired more rockets into the Gaza Strip than Gaza fired into Israel in the previous 14 years. Additionally, Dr. Norman Finkelstein, the son of Holocaust survivors and an outspoken critic of Israel (he is no longer allowed in that country), calls those 'rockets' fired from Gaza 'enhanced fire works'. No one refers to the advanced weaponry the U.S. gives to Israel in such terms.

    *During her last campaign for the presidency, she stated that, if Iran attacked her beloved Israel with nuclear weapons, the U.S., under her presidency would attack Iran and could 'totally obliterate' it. One must take her at her word, since she voted to authorize the invasion of Iraq, a nation that in no way threatened the U.S., and in which over half the population was under the age of 15. So she would, one assumes, not hesitate to invade Iran, a nation with twice the population of Iraq, if it, too, did nothing to threaten the U.S.

    So why, one wonders, is there so much enthusiasm among Democrats for a woman who, by all accounts, is a hypocritical war-monger, who is more motivated to enhance her own bottom line than to serve the cause of human rights? What is it that draws adoring crowds to her? Perhaps people are seduced by the idea of another first: they elected the first African-American president, so why not follow it up with the first woman president? Maybe it is her resume, which is, indeed, impressive. But any job-seeker will highlight notable job titles on their resume, but once at the interview, may have difficulty pointing to any real accomplishments. The voters, as interviewers, should take a close look at what achievements, if any, Mrs. Clinton has to support those remarkable job titles. They will find little.

    But what is all this, when the candidate is surrounded by the magic of invincibility, the aura of newness, and represents the final shattering of the glass ceiling? Does she not deserve the presidency, for all her hard work, regardless of the lack of any real accomplishment? Don't we, the voters, owe her this?

    No, we don't. She isn't fit to serve in any capacity in government, due to the reasons detailed above, in addition to many others (stay tuned). In this case it is the empress, not the emperor, who has new clothes, only seen by Democrats stricken with some sudden myopia that prevents them from seeing the reality of her accomplishments which, like the new clothes, simply don't exist.

    One can generally rely on the Republicans to nominate a worse candidate than the Democrats; one hesitates to say the Democrat is usually better, since we are not operating in a 'good, better, best' zone here; far beneath it, unfortunately. But this time around, there may simply be no 'lesser of two evils' choice to make. And the U.S. will provide yet another tragedy for the country, and the world.

    Robert Fantina's latest book is Empire, Racism and Genocide: a History of US Foreign Policy (Red Pill Press).

    http://www.counterpunch.org/2015/04/17/hillary-a-disaster-in-the-making/

    __._,_.___

older | 1 | .... | 77 | 78 | (Page 79) | 80 | 81 | .... | 303 | newer