Are you the publisher? Claim or contact us about this channel


Embed this content in your HTML

Search

Report adult content:

click to rate:

Account: (login)

More Channels


Channel Catalog


Channel Description:

This is my Real Life Story: Troubled Galaxy Destroyed Dreams. It is hightime that I should share my life with you all. So that something may be done to save this Galaxy. Please write to: bangasanskriti.sahityasammilani@gmail.comThis Blog is all about Black Untouchables,Indigenous, Aboriginal People worldwide, Refugees, Persecuted nationalities, Minorities and golbal RESISTANCE.

older | 1 | .... | 60 | 61 | (Page 62) | 63 | 64 | .... | 303 | newer

    0 0


    नहीं....मैं नहीं मानता कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा के लिये सब कुछ खत्म हो गया है। हिटलर से प्रेरित होकर बने संगठन के उत्तराधिकारियों को हिटलर के प्रयोगों से ही रास्ता निकालना चाहिये। पुलिस, सी.आई.डी. और आई.बी. को एस.एस. और गेस्टापो की तरह चुनाव की ड्यूटी कर रहे कर्मचारियों को धमकाने और ललचाने के लिये लगा दिया जाना चाहिये। आखिर वे भी तो सरकारी नौकर ही हैं। रिंगिंग का क्या मौड्यूल होगा यह उन्हें ठीक से समझा दिया जाना चाहिये। बहुत आराम से बाजी पलटी जा सकती हैं
    हाँ....खतरे तो हैं। दिल्ली आखिर राजधानी है, दंतेवाड़ा का जंगल नहीं। मीडिया कितना भी दबा हुआ हो, उसमें काम कर रहे लोग खून के आँसू पी कर अपने आकाओं की मर्जी का लिख और दिखा रहे हों, मगर कभी-कभी जमीर पेट की आग से ज्यादा बड़ा हो ही जाता है। अगर बात खुल गई तो लेने के देने पड़ जायेंगे। मगर यह खतरा तो उठाना ही पड़ेगा। यह सिर्फ दिल्ली का मामला नहीं है। इसकी तरंगें दूर-दूर तक जायेंगी।
    मुझे रामलीला के अन्तिम दो-तीन दिनों के दृश्य रह-रह कर याद आ रहे हैं..... मेघनाद की पूजा, कुम्भकर्ण और अहिरावण वाले......
    नहीं....मैं नहीं मानता कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा के लिये सब कुछ खत्म हो गया है। हिटलर से प्रेरित होकर बने संगठन के उत्तराधिकारियों को हिटलर के प्रयोगों से ही रास्ता निकालना चाहिये। पुलिस, सी.आई.डी. और आई.बी. को एस.एस. और गेस्टापो की तरह चुनाव की ड्यूटी कर रहे कर्मचारियों को धमकाने और ललचाने के लिये लगा दिया जाना चाहिये। आखिर वे भी तो सरकारी नौकर ही हैं। रिंगिंग का क्या मौड्यूल होगा यह उन्हें ठीक से समझा दिया जाना चाहिये। बहुत आराम से बाजी पलटी जा सकती हैं   हाँ....खतरे तो हैं। दिल्ली आखिर राजधानी है, दंतेवाड़ा का जंगल नहीं। मीडिया कितना भी दबा हुआ हो, उसमें काम कर रहे लोग खून के आँसू पी कर अपने आकाओं की मर्जी का लिख और दिखा रहे हों, मगर कभी-कभी जमीर पेट की आग से ज्यादा बड़ा हो ही जाता है। अगर बात खुल गई तो लेने के देने पड़ जायेंगे। मगर यह खतरा तो उठाना ही पड़ेगा। यह सिर्फ दिल्ली का मामला नहीं है। इसकी तरंगें दूर-दूर तक जायेंगी।   मुझे रामलीला के अन्तिम दो-तीन दिनों के दृश्य रह-रह कर याद आ रहे हैं..... मेघनाद की पूजा, कुम्भकर्ण और अहिरावण वाले....

    0 0

    Press Release



    Main Points of the Draft Political Resolution for the 21st Congress



    I



    The international situation is marked by an uncertain and tenuous recovery
    from the global financial crisis of 2008.  The austerity measures imposed by
    the ruling classes are being increasingly met with resistance by the people.
    In this context, the victory of a Left party, Syriza, in Greece, the worst
    hit by the crisis, is a significant development.



    The United States is  exerting to retain its hegemony in the face of rising
    difficulties. Its military interventions in West Asia have caused havoc and
    destruction and is responsible for the rise of Islamist extremism in Iraq,
    Libya, Syria and other places.



    The US pivot to Asia with a view to contain China is another step to retain
    its hegemony.  The United States has assigned India a key role in the
    strategy which the Modi government is eager to embrace as seen in the Joint
    Vision Statement  issued during the Obama visit.



    II



    The Draft Political Resolution deals with the political  situation in the
    country. It has noted the big change with the BJP getting an absolute
    majority in the Lok Sabha.  This has set the stage for a rightwing offensive
    comprising an aggressive pursuit of neo-liberal policies and a full-scale
    attempt by the RSS-led Hindutva forces to advance their communal agenda.
    Such a conjuncture presages growing authoritarianism.



    The Draft Political Resolution spells out the contours of this rightwing
    offensive under the Modi government.  The nine month period of the Modi
    government is marked by an aggressive push for neo-liberal policies: More
    FDI in all sectors of the economy; bigger disinvestment of public sector
    shares; making it easier for big business to acquire cheap land and entry of
    mining and industrial projects at the expense of the peasants and tribal
    people by making amendments to the land acquisition law  through an
    ordinance; further strengthening of the position of capital relative to
    labour through changes in labour laws.



    This is accompanied by an attack on the rights of the people. There are
    significant cuts in social sector expenditure, curtailment of the MGNREGA
    programme, increase in drug prices and efforts to dismantle the FCI  and the
    procurement from farmers.



    III



    The advent of the Modi government has led to the multi-pronged campaign of
    the RSS-Hindutva forces which threatens the secular democratic basis of the
    Republic.  The reconversion, attacks on minority rights, retrograde
    patriarchal notions of women and glorification of Nathuram Godse are part of
    this Hindutva project.  The RSS interaction with the government has got
    institutionalized.



    The Draft Political Resolution spells out concrete steps to be taken in the
    political, social, cultural and educational fields to counter the communal
    ideology and the activities of the Hindutva forces.



    IV



    The Draft Political Resolution spells out the future political direction of
    the Party.



    "2.67 The Party has to fight against the BJP and Modi government's policies.
    This is the main task at hand. This requires a concerted opposition to the
    Modi government's economic policies and its Hindutva oriented social and
    educational policies. The Party has to conduct a political-ideological
    struggle against the BJP-RSS combine. The fight against communalism cannot
    be conducted in isolation. It has to be integrated with the struggle against
    the neo-liberal policies and in defence of the people's livelihood.



    "2.68 While the main direction of the struggle is against the BJP, the Party
    will continue to oppose the Congress. It has pursued neo-liberal policies
    and it is the Congress-led UPA government's anti-people policies and
    corruption which helped the BJP to acquire popular support. The Party will
    have no understanding or electoral alliance with the Congress.



    "2.69 The fight against the neo-liberal policies requires the struggle
    against such policies being pursued by the state governments, including
    those run by the regional parties. It is also necessary to politically
    oppose the bourgeois-landlord politics and policies of the regional parties
    in order to organise the working people and mobilise them around the Left
    and democratic platform.



    "2.70 The Party will give primary attention to developing and building the
    independent strength of the Party. At the same time, the Party will strive
    to develop united actions on people's issues, defence of national
    sovereignty, states rights and against imperialism with other democratic
    forces and non-Congress secular parties. Joint platforms for mass movements
    and united struggles are necessary if the Party is to expand its independent
    strength. The united actions of the class and mass organisations will seek
    to draw in the masses following the Congress, the BJP and the other
    bourgeois parties.



    "2.71 The Party will actively work to rally the Left and democratic forces
    so that a Left and democratic front can be forged step by step. This can be
    done only through the process of developing united struggles and joint
    movements. The electoral tactics of the Party should be guided by the
    Party's interests to strengthen itself and to help the rallying of the Left
    and democratic forces."



    "2.56 In the coming period, emphasis should be on developing mass struggles
    and movements by the Party and the mass fronts should also lead and organise
    struggles and movements on the problems and issues affecting different
    sections of the people. It is only by building powerful mass organisations
    that the Party can advance and the Left and democratic forces be
    strengthened."







    V



    The Draft Political Resolution concludes by setting out the future tasks.
    Among them are:



    .        The broadest mobilization of the secular and democratic forces
    against the communal danger and in defence of secular values should be
    undertaken.



    .        The Party should consistently take up the anti-imperialist agenda.
    This includes mobilizing the people against the growing strategic ties with
    the US and the ruling classes succumbing to US pressures.



    .        The Party should step up its efforts to defend the interests of the
    socially oppressed sections, dalits, adivasis and minorities. The Party
    should  directly intervene to defend the rights of women and to fight
    against the growing attacks on women.



    .        The struggle to defend the Party and the Left from the violence and
    attacks on democracy in West Bengal must be supported by an all India
    campaign to defend democracy and democratic rights.



    .        Building and widening Left unity, rallying the various classes and
    working people around the Left and democratic programme so that progress can
    be made towards forging the Left and democratic front.



     full  <http://cpim.org/documents/draft-political-resolution-21st-congress>
    text of Draft Political Resolution






    Central Committee
    Communist Party of India (Marxist)
    A.K. Gopalan Bhawan
    27-29, Bhai Vir Singh Marg, Gole Market
    New Delhi 110 001

    -------------- next part --------------
    An HTML attachment was scrubbed...
    URL: <http://cpim.org/pipermail/marxistindia_cpim.org/attachments/20150204/b33dff52/attachment.html>


    0 0

    Cinema of Resistance West Bengal : January Newsletter

    Dear Friends,

    It was inspiring and rejuvenating to see the enthusiastic participation and overwhelming solidarity from activists, comrades, friends and well-wishers of Cinema of Resistance during the recently concluded 2nd Kolkata People's Film Festival (KPFF) and the One-day People's Film festival in Santiniketan. As an attempt to relive some of the moments we spent together, here are two photo reports compiled by our documentation team.

    Photo-report of our one-day festival in Santiniketan:
    http://www.facebook.com/media/set/?set=a.360211250830291.1073741835.215561585295259&type=1

    Here is a short piece written by Ilina and Binayak Sen, on their reflections on the Cinema of Resistance movement, the Gorkahpur Film Festival and the KPFF, on manorama online journal: http://week.manoramaonline.com/cgi-bin/MMOnline.dll/portal/ep/theWeekContent.do?tabId=13&programId=1073755417&categoryId=-1073908161&contentId=18297595&BV_ID=@@@

    Post the festivals, our team will be traveling to various towns and villages in West Bengal, over the next few months before monsoon - screening films and opening dialogues with new audiences. We will also be screening among school students. If any of you would like to organize screenings in your schools, colleges, universities, localities, union gatherings, workplaces, neighbourhoods - please get in touch with us at the contacts given below.

    For those of you who could not attend the festivals this time around, this is also to let you all know, that our annual journal-cum-festival-souvenir has been published
    The 144-page anthology (in Bangla), priced at Rs. 100, is now available at several stalls in the Kolkata Book Fair, namely 'Monfakira' (stall no. 542), 'Bhashabandhan' (stall no. 524), 'Janaswartha Barta' (stall no. 398), 'Lokayata Sahitya Chakra' (stall no. 312), 'SEARCH' (stall no. 317), 'APDR' (stall no. 487), 'Srayan' (stall no. 362), 'Chhnoya' (stall no. 485) and in the Little Magazine Pavilion (Grafitti)

    The table of contents is:

    সূচীপত্র

    শুরুর কথা 6
    নবারুণদা - প্রণয় কৃষ্ণ 10
    কোথায় আজ বিজন ভট্টাচার্যের থিয়েটার? - শমীক বন্দ্যোপাধ্যায় 18
    আমরা, অথবা আমাদের জাতিত্বের নয়া সংজ্ঞা - আনন্দ পটবর্ধন 22
    ইমারজেন্সি থেকে মুজফ্‌ফরনগরঃ তথ্যচিত্র, স্বৈরতন্ত্র ও এক বিকল্প ইতিহাস – দ্বৈপায়ন 46
    চিত্রচেতনার দিনগুলি - তপন সেন 55
    মিস্টার ইন্ডিয়াঃ চটের পর্দা খাটিয়ে থিয়েটার – স্বভাব নাটক দল 64
    সাক্ষাৎকারঃ প্রসঙ্গ তথ্যচিত্র - সঞ্জয় কাক ও তরুণ ভারতিয়ার সঙ্গে কথোপকথন 70
    সামাজিক রূপকথাঃ তথ্যচিত্র – সঞ্জয় মুখোপাধ্যায় 81
    সিনেমা 'শোনানোর' নানান চ্যালেঞ্জ – সুকান্ত মজুমদার 89
    জন-সংস্কৃতির প্রস্থানত্রয়ঃ ঋত্বিক-সোলানাস-মুক্তিবোধের তিন দলিল 97
    'অন দ্য কালচারাল ফ্রন্ট' – ঋত্বিক ঘটক (নির্বাচিত অংশ) 98
    শ্রীপাদ অমৃত ডাঙ্গে-কে লেখা গজানন মাধব মুক্তিবোধ-এর চিঠির নির্বাচিত অংশ 108
    'তৃতীয় চলচ্চিত্রের লক্ষ্যে' - ফারনান্দো সোলানাস ও অকতাভিও গেতিনো (নির্বাচিত অংশ) 112
    Festival Montage 124
    লড়াই সিনেমার গান 140

    Hoping to hear back from you!

    Best regards,
    KPFF Organizing team

    Contact Us
    P: +91-9163736863

    0 0

    Displaying amantran_vns.jpg

    0 0

    गुरू वहै चिनगी जो मेला 
    परंपरा और प्रयोग चिन्तन और रचना के विकल्प। पहले का अनुकरण करो तो नया कुछ भी न मिले पर जिन्दगी चैन से कट जाती है। न संघर्ष होता है न विवाद। क्योंकि इसमें अपना कुछ होता ही नहीं। जो होता भी है वह 'उसने कहा था'या बँधा-बँधाया तर्क जाल। किसी न किसे बहाने परंपरा का पिष्टपेषण। अधिक से अधिक मौन सहमति। उपलब्धि राजयोग, पद, प्रतिष्ठा, वैभव और दायित्व! किसी न किसी तरह से नवोन्मेष को अवरुद्ध करना। सामन्ती समाज के साये में जीते पितरों का निर्देश - यद्यपि शुद्धं लोक विरुद्धं ना चरणीयं नाचरणीयं। भले ही तुम्हारे निष्कर्ष सही हों, लेकिन समाज की मान्यताओं के अनुकूल न हों तो उन्हें अपने मन में ही रखो। कहो वही, जो लोग कहते हैं या मानते हुए से दिखते हैं। इसी में श्रेय है। यही प्रेय है। अर्थ के चक्कर में मत पड़ो। केवल शब्दों की अनुकृति करो। अनुकृति ही श्रेयस्कर है।
    यह उनका मत है जिनके किसी ऋषि ने यह भी कहा था कि सत्य का मुख सोने के पात्र से ढका हुआ है, अतः सत्य और वास्तविक धर्म को जानने के लिए उसे हटाना आवश्यक है। सोने का पात्र या निहित स्वार्थ। लेकिन जिसने भी हटाने की चेष्टा की या तो उसे भी अवतार के जाल में निबद्ध कर लिया गया अथवा असुर बना दिया गया। चार्वाक ऋणं कृत्वा घृतं पिवेत तक सीमित कर दिये गये। कौत्स ऋषि इसलिए इतिहास में दफन कर दिये क्योंकि उन्होंने वेदों को मात्र पूर्वजों की लोकवार्ता कह दिया था। सुकरात की मान्यताओं की समीक्षा करने के कारण गैलीलियो आजीवन लांच्छना भोगते रहे। अनहलक या मैं भी वही हूँ (सोऽहमस्मि ) कहने पर मंसूर को फाँसी पर चढ़ा दिया गया। यह कल ही नहीं हुआ, आज भी हो रहा है। जिस किसी ने भी मूल में जाना चाहा, उसे या तो भटका दिया गया या नास्तिक करार कर दिया। स्वयं वेद मंत्रों के अभिप्राय से अनभिज्ञ आचार्यों ने स्नातकों को निर्देश दिया- वैदिक ऋचाओं का अर्थ जानने की चेष्टा मत करो, इसका सस्वर उच्चारण ही पर्याप्त है। वही फलदायक होता है। आज भी यही हमारी शिक्षा व्यवस्था का सार है। रटन्त विद्या खोदन्त पानी। हम अगली पीढि़यों को यह सन्देश देने से कतराते रहे कि विद्या भी रटन्त से नहीं खोदन्त से ही फलीभूत होती है। कारण! रटन्त विद्या समाज और सत्ता के ठेकेदारों के हितों के अनुकूल थी और खोदन्त विद्या उनके हितों या यथास्थिति पर कुठाराघात कर सकती थी।
    मैं सिरफिरा! बचपन से मान्यताओं और मन्तव्यों के मूल तक पहुँचने का प्रयास करता रहा। दादी से पूछता रहा, पिता से पूछता रहा। ऐसा करने से क्या होता है? ऐसा क्यों कहा गया है? दादी कबीर के भजन सुना देती, पिता यद्यपि परम्परा की दुहाई देकर मेरा मुख बन्द कर देते, पर वे स्वयं यायावर थे। रोजी-रोटी के चक्कर में अविभाजित बंगाल में वर्षों भटके थे। बीसवीं शताब्दी के उदय काल में उभरती हुई विचारधाराओं ने उनका भी स्पर्श किया था। अतः परंपरा के पोषक होते हुए भी वे अनुदार हो ही नहीं सकते थे। सामाजिक परिवेश के अनुसार उसकी सारी परंपराओं और संस्कारों का अनुसरण करते हुए भी, वे उन से आबद्ध नहीं थे। फिर भी अपने पुत्र के किसी भी प्रकार के झंझट में पड़ने की चिन्ता तो होती ही है।
    यह संयोग था कि देर से ही सही, मुझे अपने शैक्षिक जीवन में अधिकतर अध्यापक भी ऐसे मिले जिनमें छात्रों की जिज्ञासा को तुष्ट करने की ही नहीं उसे और भी बढ़ाने की प्रवृत्ति थी। राजकीय महाविद्यालय, नैनीताल के अंग्रेजी के प्राध्यापक डा. ओमप्रकाश माथुर प्रायः छात्रों से उनके द्वारा नवाधीत पुस्तकों के बारे में पूछते रहते थे। उन में से यदि कोई पुस्तक उन्हें नयी लगती तो वे छात्र से माँगने में भी संकोच नहीं करते थे। अधीत पुस्तकों की विषयवस्तु की साझा समीक्षा भी होती थी।
    इतिहास के आचार्य अवधबिहारीलाल अवस्थी भारत के प्राचीन इतिहास ओर संस्कृति के अध्यापक की अपेक्षा उसके भावुक भक्त अधिक थे। यह भावुकता इतनी अधिक थी कि चन्द्रगुप्त द्वितीय की वाल्हीक विजय को पढ़ाते-पढ़ाते उनके शरीर मे ओज का संचार होने लगता और भुजाएँ मानो फड़कने लगतीं थीं, तो हूणों के विरुद्ध संघर्ष के दौरान स्कन्दगुप्त के तीन दिन तक भूमि में सो कर रात बिताने का वर्णन उनकी छलछलाती आखों में दृश्यमान हो उठता था। इतिहास के प्रति उनका यह लगाव मेरे अन्तःकरण को इतना छू गया कि यदि वे हमारे विद्यालय को छोड़कर लखनऊ विश्वविद्यालय नहीं चले गये होते या मेरे पास लखनऊ में रह सकने के संसाधन होते तो मैं भी प्राचीन भारतीय इतिहास और संस्कृति को ही अग्रेतर अध्ययन के औपचारिक विषय के रूप में चुनता। फिर भी उनके सान्निध्य में मैं इतना इतिहास पी गया कि वह मेरी अन्तरात्मा का विषय बन गया। यहाँ तक कि अग्रेतर उपाधि और आजीविका के लिए हिन्दी साहित्य की शरण में जाने के बावजूद, उनके सान्निध्य के छः दशक बाद भी इतिहास के प्रति मेरा लगाव कम नहीं हुआ है।
    इस भक्तिमार्गी सनातनी और घोर मर्यादावादी संत या दूसरे शब्दों में घोर घनजंघी (जनसंघी) किन्तु परम आत्मीय आचार्य की छत्रछाया से हट कर हिन्दी साहित्य के द्वार पर आते ही मुझे उनके बिल्कुल उलट, परम तंत्राचार्य, स्वभाव से पंचमार्गी, मार्क्सवादी चिन्तक, और हर प्रकार की वर्जना से मुक्त आचार्य विश्वंभरनाथ उपाध्याय का सान्निध्य मिला। वे आचार्य थे और मैं शिष्य। विचारधारा के स्तर पर हम दोनों एक प्रकार से दोस्त थे। एक अवधूत की तरह उनके जीवन का कोई भी पक्ष आवृत नहीं था। कोई वर्जना नहीं थी। एक ओर वे मार्क्सवादी थे तो दूसरी ओर अपने घर के पार्श्व में स्थित सार्वजनिक भूमि को हथियाने के लिए उस पर विश्वम्भर महादेव का मंदिर बनाने से भी उन्हें परहेज नहीं था। स्वभाव से अक्खड़ और बुन्देलखंडी ऐंठन के बावजूद, विश्वविद्यालय के कुलपति का पद पाने के लिए 'दैनिक अमर उजाला'में उत्तर प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायमसिंह के हिन्दी प्रेम पर स्तुतिपूर्ण लेख लिखने और कुलपति का दूसरा कार्यकाल पाने के लिए राज्यपाल मोतीलाल बोहरा की चरण वन्दना से भी परहेज नहीं रहा और न अपने इस आचरण को बताने में कोई संकोच। एक प्रकार से वे भगवती चरण वर्मा की कहानी 'वसीयत'के नायक चूड़ामणि मिश्र के साक्षात प्रतिरूप थे और मैं उनके लिए परम विश्वसनीय जनार्दन मात्र। 
    व्यक्तिगत स्तर पर इन दोनों आचार्यों से गहन आत्मीय सम्बन्ध होते हुए भी वे मेरे आदर्श नहीं थे। अवस्थी जी प्राचीन भारतीय इतिहास और संस्कृति के तथ्यों के अगाध भंडार थे, पर उनमें इतिहास दृष्टि का अभाव था। उपाध्याय जी विद्वान और इतिहास दृष्टि से सम्पन्न होते हुए भी अपने युग के अधिकतर आचार्यों की तरह आचरण निरपेक्ष व्यक्ति थे। इन दोनों के प्रति गहन लगाव होते हुए भी मेरी अन्तरात्मा ने इन्हें कभी स्वीकार नहीं किया।
    आगे चल कर अपने जीवन में अनेक चूड़ामणि मिश्रों से साक्षात्कार हुआ। सम्मोहक व्याख्यान देने में इतने माहिर कि लगता था इस गलीज दुनिया में अकेले वे ही दूध के धुले हैं। कबीर के शब्दों में कथनी मीठी खाँड सी... एक से एक बड़ा छद्म। उपाध्याय जी और इन छद्मों में एक अन्तर था। उपाध्याय जी छ्द्म नहीं थे, न दूसरों के लिए और न अपने लिए। न कोई वर्जना न कोई दुराव। विशुद्ध चार्वाक।

    बी.ए. के दिनों में बुद्ध से मैं इतना प्रभावित हुआ कि वे मेरे मन में समाहित हो गये। प्रायः मन ही मन बुद्ध का भावन करता। न अहं, न छिपाव, न दुराव, न गुरुडम, अनुभव की कसौटी पर कसा हुआ चिन्तन। विचारों में न कोई जटिलता, न आडंबर। सीधे और सपाट। जन सामान्य के लिए सहज और सुबोध। उससे भी मह्त्वपूर्ण उनका यह संदेश कि किसी भी समस्या या वैचारिक उलझन के निदान के लिए केवल मेरी ओर मत देखो, उन्हें स्वयं भी हल करने का प्रयास करो- अप्प दीपो भव! 
    सातवें दशक के हिसाब से प्रतिष्ठित राजकीय माध्यमिक विद्यालय में हिन्दी साहित्य का अध्यापक बनना भी मुझे बड़ा रास आया। एक से एक मेधावी और जिज्ञासु छात्र मिले। किसी अन्य विषय के अध्यापक को उड़ान भरने के लिए इतना निर्बन्ध आकाश तो मिल ही नहीं सकता। फिर यह भी मेरा सौभाग्य था कि परिवेश ने मेरे पंख उगाने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी। छात्रों के साथ बिना किसी आवरण के अविरल विचारोत्तेजक और स्वच्छन्द संवादों और उनकी वैचारिक जिज्ञासाओं का समाधान करने का प्रयास करते-करते मुझे भी गहराई में जाने की आदत पड़ गयी। सच तो यह है कि मेरे रचनाकार के निर्माण में अध्यापकों का उतना योगदान नहीं है, जितना मेरे उन छात्रों का है, जो मेरी दीर्घकालीन शीतनिद्रा के अन्तरालों में मुझे झकझोरते रहे। यह उन्हीं का योगदान है कि मैं अपनी अवधारणाओं और संकलित साक्ष्यों की उनके भौतिक और ऐतिहासिक, सामाजिक और भाषायी परिप्रेक्ष्य में बार-बार समीक्षा करने की प्रेरणा पाता और प्रचलित मान्यताओं पर सवाल उठाता रहा। 
    औपचारिक शिक्षा पूर्ण करने के बाद अध्यापन के साथ-साथ अतीत और वर्तमान को परखने में लगा । वर्षों उपरान्त जब एक गैर परंपरागत अन्वेषक के रूप में मेरी छोटी-मोटी पहचान बनने लगी, मित्रों ने दिनमान और साप्ताहिक हिन्दुस्तान में मेरे सिरफिरे प्रयासों से उपलब्ध सर्वथा नवीन सूचनाओं के बारे में लिखना आरंभ किया, और मुझे विश्वविद्यालयी विचारगोष्ठियों में भाग लेने के अवसर मिलने लगे, तो मेरे आत्मीय आचार्य डा. विश्वम्भर नाथ उपाध्याय ने लिखा:
    'आपके मन में जो शाश्वत शोधक छिपा है, उसी ने आपको औपचारिक शोध से बचा कर, छोटी नौकरी की सीमाओं से बाँध कर आपको अज्ञात के रोमांच में निमग्न कर दिया। शुरू में लगा था कि यह मार्ग मूर्खतापूर्ण है पर अब लगता है कि आपके मन का राहुल सांकृत्यायन अन्ततोगत्वा सफल हुआ। इतना लम्बा अन्तराल रंग लाया। बधाई! मुझे गर्व है कि आपके अन्तर्मन के उस अविनाशी राहुल को जगाने में मेरा भी थोड़ा-बहुत योगदान रहा। वह राहुल मुझमें भी था, पर मैं सामाजिक यातना और अभावों से बचने के लिए औपचारिक उपाधियों के लिए भी जागरूक रहा और इसीलिए मुझे इतना कष्ट नहीं हुआ। जो मैं नहीं कर सका, वह आप कर रहे हैं। मुझे भय था कि कि आप महत्वाकांक्षा के अभाव में अकिंचन जीवन जीने के लिए अभिशप्त हो गये हैं, पर शाप भी वरदान होता है, यह आपके जीवन से सिद्ध हो गया है। इस चिनगारी को सुलगाये रहें। गुरू वहै चिनगी जो मेला, जो सुलगाय ले सो चेला।' ( 17 फरवरी 1976)
    जब तक सेवा में रहा, रोटी से जुड़ी प्रतिबद्धताओं में इतना खो गया कि उससे बाहर ही नहीं निकल पाया। आठों याम उसी में रम गया। लेकिन इससे जो उपलब्धि हुई, वह मुझे किसी बड़े से बड़े औपचारिक पुरस्कार से भी अधिक मूल्यवान और स्पृहणीय लगती है। खास तौर से जब मेरे किसी पुराने और अब पत्रकार छात्र और उसके देश.विदेश में कार्यरत सहपाठियों को बीस साल बाद भी 'तारे जमीन पर"फिल्म में आमिर खान द्वारा अभिनीत नायक में मेरा प्रतिबिम्ब दिखाई देने लगता है: 
    (गुरु पूर्णिमा पर श्री ताराचन्द्र त्रिपाठी जी की याद: रामनगर के राजकीय इंटर कॉलेज की उपलब्धियाँ और श्री त्रिपाठी जी पर्यायवाची कहे जा सकते हैं, उससे पहले भी यह विद्यालय अपने अनुशासन और पढ़ाई के लिये जाना जाता था, मगर जी. आई. सी. के माहौल को जीवंत बनाने में उन्होंने अपनी प्रतिभा और अनुभव झोंक दिया था। वह जितने भी साल हमारे स्कूल के प्रधानाचार्य रहे, उन वर्षों को स्कूल का स्वर्ण युग कहा जा सकता है। तारे जमीन पर फिल्म देखने के बाद मुझे लगा कि त्रिपाठी जी भी कुछ-कुछ शिक्षक बने आमिर खान जैसा ही रोल निभा रहे थे। उस वक्त, भले ही उन्हें ठीक से समझा न गया हो। मगर प्रतिभाओं की पहचान और उन्हें तराशने का काम उन्होंने बखूबी किया। उनके दौर में बने पढ़ाई के उम्दा माहौल से जी. आई. सी. जैसे सुविधाओं को मोहताज स्कूल ने न जाने कितने इंजीनियर, डॉक्टर और जीवन के विविध क्षेत्रों में काम करने वाले बेहतर नागरिक दिये। एक इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य को कैसा होना चाहिये तो मेरा जबाव होगा, बिल्कुल हमारे त्रिपाठी जी की तरह, रचनात्मक, स्वप्नदर्शी, कड़क अनुशासक और मित्रवत। मुझे उम्मीद है, उनके सान्निध्य में पढ़े.बढ़े विद्यार्थी भी उन्हें इसी रूप में याद करते होंगे' )
    सेवा के भार से मुक्त हुआ। नयी पीढ़ी को सँवारने का जुनून मेरे अपने बच्चों के भी काम आया। फलतः सेवा से मुक्त होने तक मैं घरेलू दायित्वों से भी मुक्त हो गया। बच्चे बेहतर आजीविका की तलाश में दूर चले गये। अब समस्या यह है कि उनके साथ रहते हैं, तो अपना परिवेश छूटता है और परिवेश से जुड़ते हैं तो दादागिरी का आनन्द दुर्लभ हो जाता है। अकेलेपन के बोध से बचने के लिए तथागत द्वारा सुझाये मध्यम मार्ग का सहारा लिया और कभी उनके साथ और कभी अपने साथ। एक प्रकार से पूरे उत्तरी महाद्वीपों की रज को माथे पर लगाने का सौभाग्य पा गया। जब भी अकेलापन चुभता है, विरासत में प्राप्त चिनगी को सुलगाने में लग जाता हूँ। 
    जितना भी सुलगा सका, उसे और सुलगाने के लिए अपनी अन्य रचनाओं के साथ इसे भी आपको सौंप रहा हूँ। क्या पता ........या कुमाऊनी का धैं कस........? 
    वस्तु मेरी है, साक्ष्य परंपरागत और गैर परंपरागत स्रोतों और कहीं.कहीं गूगल महोदय से भी लिये गये हैं। कलेवर, मेरे प्रिय मित्र श्री प्रदीप पाँडे और ज्ञानोदय प्रकाशन के प्रबन्धक श्री अशोक कंसल तथा उनके कुशल शब्द संयोजक श्री श्यामसिंह नेगी की देन है। सभी मेरे आत्मीय हैं अतः शाब्दिक आभार व्यक्त करना, उनके प्रति परायेपन को वाणी देना होगा।

    मेरी सद्यप्रकाशित पुस्तक 'शब्द, भाषा और विचार'की भूमिका से


    वोट के सिवाय तेरे पास कुछ नहीं बै चैतू,वोट गेरने से पहिले सोोचबै कथे कथे गड्डा खनै हो,कथै कथै दफन हो जाना है

    दिल्ली चुनाव निपटने का इंतजार है ,फिर समझो कयामत वसंत बहार है।

    देहलिया त रिफ्यूजी  कालोनी रहिस बै चैतू।सगरे देश विदेश के तमामो रिफ्यूजी खून पसीना बहायौ अपनी जड़ों से बेदखली उपरांते।अनंनतर शांतता ,रिफार्म चालू आहे।फर्स्ट क्लास चुनाव सुपर फर्स्ट क्लास डिजिटल सिटिजन वास्ते चकाचक स्मार्टसिटी ह।


    पलाश विश्वास

    &lsquo;दिल्ली में बीजेपी हारी तो मार्केट में आएगी गिरावट&rsquo;

    'दिल्ली में बीजेपी हारी तो मार्केट में आएगी गिरावट'

    'दिल्ली में बीजेपी हारी तो मार्केट में आएगी गिरावट'


    आईपीएल का खेल हो गइलन के चियरिनै नइखै पण बजट मा थ्री चीयर्स फार इंवेस्टर्स।सुधारो वइसन के वोडाफोन मुक्त।वाईफाई वइसन के फोर जी कारोबार चोखा।


    राजनीति मीडिया मा जो चीयर चियारिनै बा,उनर जलवा दैखे बै चैतू।


    डिफेंस मा शतप्रतिशत एफडीआई के घोटाला बंद,डीविंग वैध।परमाणु होईके औद्योगिक विदेशी कंपनी खातिर सबै छूट बा,हमार तुहार पैसा जो बीमा कंपनी मा बाड़न,उमा से कीड़े मकोड़ों खातिरे अंतिम संस्कार वैदिकी रीते से संभव होइखे।


    राजनीति मीडिया मा जो चीयर चियारिनै बा,उनर जलवा दैखे बै चैतू।



    चीयर चियारिनों के जलवे से ,मैजिक से ,जंत्र मंत्र तंत्र आयुर्वेद से भटक गयो मन त आश्रम मा पहुंच जाई फिन आगवाड़ा पछवाड़ा मुक्त हो,देहमुक्त हो आउर सीधे स्वर्गवासी ,ई इंतजाम ह।


    आज भारत अरबतियों वाला देश बन गया है. अरबतियों की सख्‍ंया में पहली भारत तीसरे पायदान पर पहुंचा है. अमेरिका और चीन के बाद भारत का दर्जा है. इस सूची में मुकेश अंबानी समेत देश के कई बड़े दिग्‍गज शामिल हैं. दुनियाभर के 2089 अरबपतियों में से 97 अरबति भारत देश के है. इस सूची में न्‍यूनतम 6000 करोड़ रुपये की प्रॉपटी वाले अमीरों को इसमें जगह दी गयी है.



    बूझ सकै तो बूझ बै वोटर चैतू क कोई न बाप तुहार कोई ना महतारी तुहार तू ससरुरा बलिप्रदत्त बकरा बकरी वानी,गरदन पर तलवार चमकै चमचमाचम ह।


    वौटवा गिरल चाहि,जनादेश चाहि लैंड स्लाइड के सुनामी हिंदुत्व मांझा कि म्हारा देश कत्ल गाह हुआ जाये आउर चाक हो जाई हमार तुहार गर्दनवा।


    बूझ सकै तो बूझ बै वोटर चैतू,नसमझलि ह तो तू जां वोट गिराइब त तुहार चौतरफा सत्यानाश खातिर चौकस इंतजाम करिकै दिल्ली मा बइठलन कार्पोरेट मैनेजर सगरे कारपोरेट राजनेते निती सगरे।


    यहीच राजकरण आहे।राजकाज आहे।


    भाजपाई मोदी महाराजज्यूर विजन डाकुमेंट दरअसल नस्ली नरसंहार का खुला चिट्ठा है।


    पूर्वोत्तर के लोग प्रवासी बाड़न संघ परिवार के लिए तो बारी जो रिफ्यूजी अंदर बाहर के दिल्ली मा बसै हो,जो हिमालय से,मध्यभारत से पूरब से अनार्य मेहनतकश जन जल जंगल जमीन से निरंतर बेदखल होकर दिल्ली लुटियंस मा बहार खिलवल वानी ,उ सगरे लोग विदेशी ह।पण सगरे लोग वोटर वानी।


    वोट से सरकार बनी।

    सत्ता आउर राजकाज चली।

    तो आम आदमी औरत की बड़ी पूछ हो के सबै नेता उपनेता नेत्रीवृंद जनतासाठी सेल्फी तान रहल बा।


    बाकीर किस्सा वहींच जो सिनेमा मा हुई रहल बा।

    विदेशी शूटिंग मा भारत का चकाचौंध जलवा वानी।

    सामाजिक यथार्थ नइखे।

    बाकी श्री चारसौ बीस के आवारा का सीन ह।


    सपनों का सौदागर ह।

    स्वप्नसुंदरियां गली गली घूमै ह।

    पर्दा से बाहर जो जनता तमाशबीन ह,उकर खातिर जो जिंगदगी नर्क बा,उकर कोई चर्चा नइखे।कोई मुद्दा नइखे।


    सपना बोई जा रहिस देहलिवा मा उजाड़ खेती पर बसो सीमेंटवा जंगल मा।


    ई डिजिटल भारत बा।

    आईटी दक्ष जौन ह,जौन पइसा वइसा कालाधन सफेद कर रहल वानी,उनर थ्रीडी राकशो ह,कार्निवाल ह।


    दिल्ली के दखल खातिर महाभारत ह के आर्थिक सुधारो वास्ते मोदी मैजिक चालू रहल चाहि।


    किरण क्रेन फेल होत दीखै तो शेयबाजारो मा लूज मोशन हो गइलन।

    बाजार की दिन की जोरदार तेजी खत्म हो गई है। सेंसेक्स और निफ्टी लाल निशान में नजर आ रहे हैं।


    तीसे हजार पार करत करत शेयर धमाधम गिर रहल बा।

    उनर सफाई ह कि सांढौ उछल कूद करे करै थकल वानी सो मुनाफा वसूली चाली वाहे।


    खबरों के मुताबिक देश में दिल्ली चुनाव की सरगर्मी तेज है, दो दिन बाद दिल्ली में चुनावों की वोटिंग होगी और 10 फरवरी को चुनाव के नतीजे आएंगे। कुछ हद तक बाजार की नजर भी दिल्ली चुनाव के नतीजों पर है। बैंक ऑफ अमेरिका मैरिल लिंच नेदिल्ली चुनाव पर रिपोर्ट निकाली है जिसमें कहा गया है कि दिल्ली के चुनाव नतीजों का केंद्र सरकार के कामकाज पर असर नहीं होगा। बाजार पर भी चुनाव नतीजों का ज्यादा असर नहीं होगा। इस रिपोर्ट के मुताबिक नतीजों के बाद केंद्र सरकार का रिफॉर्म एजेंडा नहीं बदलेगा।


    इस रिपोर्ट के मुताबिक अगर इन चुनाओं में बीजेपी की हार हुई तो बाजार में कुछ गिरावट देखने को मिल सकती है। लेकिन बाजार पर इसका बहुत ज्यादा असर नहीं होगा। अगले 2 महीनों में बाजार में 5 फीसदी तक गिरावट मुमकिन है। इसके अलावा महंगे वैल्युएशन और कमजोर नतीजों से भी बाजार पर दबाव दिखेगा। बैंक ऑफ अमेरिका मैरिल लिंच की इस रिपोर्ट के मुताबिक 2015 में सेंसेक्स 33,000 का लक्ष्य हासिल कर सकता है। और दिल्ली में बीजेपी के लिए खराब नतीजे बस सेंटिमेंट के लिए निगेटिव होंगे।



    सारा कार्यक्रम बेदखली खातिर चलल रहि के सगरा कानून बिगड़ दिहल चाहि।

    ओबामा खातिर कंक्रीट डिजिटल देश बनावक चाहि।

    सारा बाजार शापिंग माल चाहि।

    सारी जमीन सेज चाहि।


    बाजार और इंडस्ट्री सभी की नजरें बजट पर हैं, क्योंकि दोनों के लिए अगला ट्रिगर बजट से ही आने वाला है। इस बार का बजट बहुत खास रहने वाला है।। माना जा रहा है कि अपने अभियान मेक इन इंडिया को मजबूत बनाने के लिए सरकार बड़े फैसले ले सकती है।


    आजतक के मुताबेक आम बजट से ठीक पहले आरबीआई चीफ रघुराम राजन ने निवेश में टैक्स छूट का दायरा बढ़ाने की वकालत की है. उन्होंने बुधवार को कहा कि इस सीमा को बढ़ाकर 1.5 लाख रुपये से अधिक किया जाना जरूरी है. विशेषज्ञों से बातचीत में राजन ने कहा, 'आपको ध्यान होना चाहिए कि सरकार ने पिछले बजट में निवेश पर टैक्स छूट की सीमा 50,000 रुपये बढ़ाई थी. सवाल यह है कि क्या टैक्स छूट सीमा को और बढ़ाया जा सकता है?' उन्होंने कहा कि बीते समय में रियल टैक्स बेनेफिट में गिरावट आई है क्योंकि काफी लंबे समय से टैक्स छूट की सीमा एक लाख रुपये थी. इसे बढ़ाने की जरूरत है.


    रुपै का कारोबार बंद किलै चाहि के डालर की चांदी चाहि।

    गार खतम हो घइल।

    कास्टम मा छूचैछूट।

    आयात निर्यात मा छूटे छूट।

    परमानेंट टैक्स फारगन बंदोबस्त चाहि।


    सौ निजी कंपनी पेमेंट लाइसेंस धर लीन्हो के एसबीआई नेटवर्कवा टूटल चाहि।

    पूंजी सरकारी बैंकी की विनिवेश निजीकरण मा खपायै चाहि।


    जेएसटी चाहि।

    राज्यों को उपनिवेश मा तब्दील करना चाहि।


    योजना आयोग नीति आयोग बना दिहिस के राज्यों का हिस्सा सगरा सरासर गबन ह जइसन मर्जी वइसन आपनों अपनों को रेवड़ी बांटेके चाहि।


    कोलइंडिया स्टेकवा मा चालीस फीसद शेयर एलआईसी धर लिहिस।

    बाकीर एफडीआई मस्त बा।


    फ्री फ्लो विदेशी पूंजी,कालाधन साइकलवा दनादन ह के प्रीमियम का कहि,बैंकवा मा जमा पूंजी भी जोखम मा फंस गइल के शेयर बाजार मा पीएफ पेंसन ग्रेच्युटी धंसा दिहिस फिन पीएफवा गैरजरुरी बा।


    जेतना चाहे ओएक्सल मा बेचे दिबो।

    जो खरीद सकै तो खरीद लें बाकी जनता दस दस बच्चा पैदा करै के गुलामों की संख्या कम पड़लन।


    कारपोरेट वास्ते बजट सुधारों की हाईस्पीड गिलोटन सजाइके कारपोरेट वकीलवा देहलिवा जीतै खातिर तंबू डाले ह।


    हार जाई तो वाटरलू बन जाइब देहलिवा।

    सिनेमा हिट वास्ते जनता का सपोर्ट चाहि।

    उ जनता ठेंगी दिखा दें त समझ बै चैतू के काठ का हांडी फूंकल बा।


    जो सगरा कानून बदले चाहि,जो देश बेचन तैयारी बा,संसद संविधान को बाट लगावन इंतजाम चाकचौबंद का रहिस, कोई काला चोर उ सगरा स्वर्ण लंका मा आगे लगा दी।


    देहलिवा न जितल तो मतलब के अश्वमेधी घोड़े के शाह सवार गिर जइहैं।


    सोच बै, चैतू।काला चोर जितल त निपटेंगे उससे पण जो य हिंदू साम्राज्यवादी नरसंहरा के सौदागर बाड़न,उकर धूल चटावैक चाहि तो उनर नोट.कारपोरेट फंडिंग का बाजा बजना जरुरी बा।


    अब वोट के सिवाय तेरे पास कुछ नहीं बै चैतू,वोट गेरने से पहिले सोोचबै कथे कथे गड्डाखनै हो,कथै कथै दफन हो जाना है।


    दफिना से बचैके चाहि त ई वोट उनर तलवारी की धार पर फैंके मारि चाहे कि तलवारे टूटकर गिर जाइब।


    दिल्ली चुनाव निपटने का इंतजार है ,फिर समझो कयामत वसंत बहार है।


    मसलन मीडिया खबर मुताबिक इस बार बजट को लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय काफी सक्रिय हो गया है। सीएनबीसी आवाज़ को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के मुताबिक पिछले हफ्ते वित्त मंत्रालय के अधिकारियों ने प्रधानमंत्री के सामने बजट को लेकर एक प्रेजेंटेशन भी दिया है। इसी तरह रेल बजट को लेकर भी प्रधानमंत्री कार्यालय के साथ सलाह-मशविरा हो रहा है।


    बताया जा रहा है कि बजट से जुड़े 3-4 मुद्दों को लेकर पीएमओ और वित्त मंत्रालय के अधिकारी संपर्क में हैं। मेक इन इंडिया से जुड़े सुझावों को शामिल करने को लेकर पीएमओ की दिलचस्पी है। वहीं पीएमओ, टैक्स के मुद्दे पर निवेशकों को बड़ी राहत देने के मूड में है। साथ ही पीएमओ, पिछली तारीख से टैक्स, ट्रांसफर प्राइसिंग और जीएएआर को लेकर स्पष्ट संदेश देना चाहता है। वहीं पीएमओ का इंफ्रास्ट्रक्चर, पब्लिक इन्वेस्टमेंट पर खासा जोर है।


    केन्द्र सरकार अपना आम बजट पेश करने की तैयारियों में लग गई है। गौरतलब है कि इस बार के बजट में जहां नवीन प्रावधान लागू करने की बातचीत हो रही है वहीं विदेशी निवेश की को कठोर बनाने के लिए एक अहम कदम उठाने के प्रयास किए जा सकते है। केन्द्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली ने आम बजट में निवेश की स्थिति बहुत अच्छे कदम उठाने की घोषणा कर सकते है क्योकि सरकार की मंशा है कि विदेशी निवेश से देश के औद्योगिक और आर्थिक तंत्र को ठोस बनाया जा सके।


    वर्ष 2012-13 के बजट में जनरल एंटी-अवॉइडेंस रूल यानी GAAR को इंट्रोड्यूस किया गया था और फिर असेसमेंट इयर 2016 की प्रथम अप्रैल तक के लिए इसे खिसका दिया था। इंडस्ट्री की डिमांड के मुताबिक इसे आगे और भी खिसखाया जा सकता है।


    'सोच यह है कि इन्वेस्टमेंट में रिवाइवल हो। घरेलू मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर्स में व्यय की गति बढ़े और बाधाएं हटें।Ó आम बजट 28 फरवरी को प्रस्तुत किया जायेगा। वर्ष 2014 के अन्तिम समय में ग्रॉस कैपिटल फॉर्मेशन महज 3 प्रतिशत बढ़ा। इससे एक साल पहले इसमें 0.3प्रतिशत की कमी देखने को मिली।

    यह सूचना प्राप्त हुई है कि सरकार ज्यादा कर लगाने जैसे कदम बढ़ाने से बचने का प्रयास करेगी, इसके पीछे कर पेड जनता को राहत देने की कोशिश की जा सकती है लेकिन सबसे बड़ा मकसद निवेश से जुड़े प्रयासों को मंद नहीं करना है।      


    प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से आम बजट बनाने में गहरी दिलचस्पी और सक्रियता दिखाई जा रही है। खबर है कि करीब 10 दिन पहले वित्त मंत्रालय के अधिकारियों ने प्रधानमंत्री के सामने बजट को लेकर एक प्रेजेंटेशन दिया था। वित्त सचिव, राजस्व सचिव समेत बजट टीम के वरिष्ठ सदस्य प्रेजेंटेशन के दौरान मौजूद थे। इसके अलावा इस प्रेजेंटेशन के दौरान प्रधानमंत्री के प्रमुख सचिव नृपेंद्र मिश्रा भी मौजूद थे।



    उधर, रेल मंत्री सुरेश प्रभु की ओर से भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को प्रेजेंटेशन दिया गया है। सूत्रों का कहना है कि रेल मंत्री का प्रेजेंटेशन 1.5 घंटे से ज्यादा चला और इसमें उत्तर पूर्वी राज्यों को रेल नेटवर्क से जोड़ने पर फोकस रहा। इस प्रेजेंटेशन में असम, मेघालय और मिजोरम जैसे राज्यों में रेल इंफ्रास्ट्रक्चर मजबूत करने पर चर्चा हुई।


    गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर पूर्वी राज्यों के दौरे के दौरान सेंट्रल फंडिंग की घोषणा की थी। प्रधानमंत्री ने इन राज्यों में 14 नई रेलवे लाइनें बनाने का ऐलान किया था। सूत्रों के मुताबिक रेल बजट में इन राज्यों में कनेक्टिविटी बढ़ाने का प्लान पेश किया जा सकता है। साथ ही आनेवाले दिनों में 1-2 प्रेजेंटेशन मीटिंग हो सकती है।



    फासिस्ट सत्ता और हिंदू साम्राज्यवाद अब राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की भी नहीं सुनने जा रहा है।

    सुषमा को चीन भेज दिया।

    राजनाथ कहीं दीखबै नहीं करै हो।

    उनर सेक्रेटरी का बाजा वइसन ही बजा दियो जइसन सुषमा स्वराज के विदेश सचिव को।


    उ सुपरस्पीड मा।

    हिंदुत्व बजरंगी छुट्टा आउर छुट्टा सगरे सांढ़,बाकीर जनता खातिर पोलोनियम 210.

    फैसल तोके करैके बा।


    लालकृष्ण आडवाणा के चेले चपाटे,मुरली मनोहर जोशी वगैर ह वगैरह क्या हर्षवर्धन जो पिछले चुनावों में मुख्यमंत्रीत्व के दावेदार थे,वा ,कभी इसी के दावेदार रहे विजय मल्होत्रा वगैरह वगैरह गुमशुदा हो गइलन।


    दशकों से दिल्ली मा जो भगवा झंडा बुलंद कर रहलन,उनर कूकूरगति है के हड़ि हड़ि आवाज लगा रहो तमाम दलबदलू जो कल तक घोर भाजपा विरोधी रहलन बाड़ा।


    स्वदेशी के गुरुघंटाल नानाजी देशमुख,अर्थ विशेषज्ञ गुरुमूर्ति जइसन के विचार कारपोरेटखात में जमा होई गइलन।

    शाही अश्वमेध के घोड़े खुरों पर तलवार बांधली हो।


    सांढ़ों के सींग धारदार खूबै,उछल उछलकर लहूलुहान करै देश और शाहसवार कल्कि अवतार सगरे देश बेचकर गुजरात बना रहलन सगरा देश।


    दिल्ली वाटरलू मा ई जोड़ी डीत गइलन त बजट बमबारी है फिन एटमिक रेडियोशन से मोर बाप हम सगरे भोपाल गैस त्रासदी होजाइब या फिर जो अकाली सिखों का बैंड बाजा बजा बजा सिखी को हिंदुत्व का चोखा चचख बनावन का खेल करी सत्ता की हड्डियां चूस रहलन,उ सच सच दसने से रहे कि सिख हिंदू हुए बीना जी नहीं सकते और आपरेशन ब्लू स्टार अब भी जारी है।


    राजपथ पर जिंदा जलते रहने,खाड़कू बताकर बेगुलनाह का कत्लेआम के बावजूद जो केसरिया सिख हैं,उनकी रब मनाये खैर और बाबरी विध्वंस,घर घर दंगा,घर बेघर हर गली मोहल्ला फिर वाइब्रेंट गुजरात ह।


    पिछले बजट से बचा है अस्सी हजार करोड़ जो टुकड़ा फेंकने काम आयी।वो अस्सी हजारो ह के अस्सी लाख करोड़,बताना भी मुश्किल है।


    दस लाखो का सूट पहिनकर जो ओबामा संग पींग लड़ा रहलन,उकर झूला अबकी वसंत बहार कयामत होई जाब बै चैतू।


    रुपै विकासदर का बेस ईयर घटाकर झट से सात तक पहुंचा दिहिस।

    तेल कीमते दुनियाभर में घट गइल,हमार वास्ते कैश सब्सिडी आधार कार्ड रहि गइल।

    खेती चौपट.कृषि विकास दर गिरल,औद्योगिक उत्पादन गिरल,मैनुफैक्चरिंग गिरल पण विकास दर सात फीसद।


    वइसन जइसन हम तुम भिखाऱी हो गइलन ,खाना नइखै,रोजगार नइखे,सरो पर छत नइखै,शिक्षा नइखे,चिकित्सा नइखै, झा चकाचक स्मार्ट शहर मा गांव देहात के कत्ल के  खूनवा का नामोनिशां नइखै,पण गरीबी उन्मूलन हो गइलन।


    समाजवाद आ गइलन।


    हिंदी हिंदुस्तान हिंदी बाड़न हमनी देश बेच खायकै।


    गोरखो पांड झूठो हल्ला करै रहिस के समाजवाद धीरे धीरै अइहै।ईसाई सिख बौद्ध मुसलमान यहूदी पारसी सबै हिंदू हो जाई तो समाजवाद आ गइल के वैदिकी हिंसा जायजे बा।गीता महोत्सव चालू आहे के मनुस्मृति बंदोबस्त मजबूत होइखै चाहि।

    यहींच समाजवाद।


    बाकी जनता  जो बचि जाव नरसंहार निरंतर मध्ये,बिलियनर मिलियनर जो नइखै,सबै हैवनाट हो जाई तो ड्रिकलिंग ट्रिकलिंग ग्रोथ धकाधक होवै,धक से आ जाई समाजवाद।


    जो गुलामो हो जाई जनता सारी फिन अमेरिकी राज हो,अमेरिकी डालर हो,समाजवादी हिंदुत्व समरस हो जाइब।

    महाभारत देहलिवा मतबल यहीच एकच।



    मंहगाई जीरो बतावत है।

    160 डालर का तेल पचास डालर नइखे ,त बाजार मा आधो कीमत पर मिलल चाहि चीजें,सो सब्जियां सस्ती मिलल कि ना मिलल,अनाजो मंहगा है।खाने क तेल मा तो हम खुदै फ्राई हो रहल वानी।


    माथे मा जो गड़बड़झाला ह,उकर खातिर तरह तरह मसामावन गोरा बनाने का कलाकौशल हुई गइलन त इलाज वास्ते बाबा का चूर्ण,पुत्र बीज बेटिया बचाओ साथ,फिन आयुर्वेद ह आम आदमी खातिर बाकीर अस्पताल आम जनता खातिर नईखे।


    फीस बुलंद ह,सिलेबस हिंदुत्व बा,जमीन जायदाद बिक जाई,बच्चा लोगवन खातिर एजुकेशन नइखे।एजुकेशन मिलल तो ससुर लाख कोरड की नौकरियां जो उनर बच्चा लोगन को मिलल रहल वानी,हमार बच्चों खातिर चार साल तक बंधुआ मजदूरी कानून निषेध बा बाकी समझ लिजो मिड डे मिलल,उकर खिचड़ी खायकै मजबूत मजदूर बंधुआ बनै हमार पूत मुलगा मुलगी डोकरा डोकरी और मनरेगा जख्मी जो ह सो ह।


    कारोबारी लोग शुरु से संघ परिवार साथे है।


    हिंदुत्व खातिर उनर कुर्बानी जुग जुग जी रौ।


    गवर्नमेंट मिनिमम बा।बिजनैस फ्रेंडली बा।कोई शक नाही।सिंगल विंडा।पर्यावरण हरी झंडी।तुरंत जमीन अधिग्रहण।तुरंतएफडीआई।तुरंते टैक्स होली डे।


    वित्त मंत्री अरुण जेटली वित्त वर्ष 2015-16 के बजट में भी विनिवेश का लक्ष्य लगभग 43,000 करोड़ रुपये के आसपास रख सकते हैं। चालू वित्त वर्ष में भी सरकार को सार्वजनिक उपक्रमों के विनिवेश से इतनी ही राशि मिलने की उम्मीद है। एक सूत्र ने कहा, 'विनिवेश का लक्ष्य चालू वित्त वर्ष के लक्ष्य के अनुरूप होगा। सिर्फ कुछ ही बड़ी कंपनियां ऐसी हैं, जिन्हें न्यूनतम सार्वजनिक हिस्सेदारी के नियम को पूरा करना है।'

    जेटली वित्त वर्ष 2015-16 का बजट 28 फरवरी को पेश करेंगे। राजकोषीय घाटे को कम करने के लिए सरकार कर संग्रहण के बाद विनिवेश को प्रमुख स्रोत के रूप में देखती है। यह पूछे जाने पर कि अगले वित्त वर्ष के लिए ऊंचा लक्ष्य क्यों नहीं रखा जा सकता, सूत्र ने कहा कि हम अगले वित्त वर्ष में कोल इंडिया का एक और बड़ा विनिवेश नहीं कर सकते। हालांकि, बाजार ऊंचाई पर है और कंपनी का शेयर का मूल्यांकन कम है।



    टैक्स फारगन।


    डालर पौंड मा ट्रैंजेक्शन।


    इंटरेंस्ट कट जबतब।


    डिजिटल मतलब ई कि डाटाबैंकवा सेंट्रल एसी बा।बायोमैट्रिक हमार कुंडली बांचे लिन्हौ हम कठपुतली बा।हमार पैसा ,हमार संपत्ति एको क्लिक से मुक्त बाजार मा निवेश बा। पीएफ डिजिटल के फटाक से अटाक आउर तुहार हमार पीएफवा बाजार मा।निवेश शर्त सापेक्ष बा बकीर इकानामी पोंजी बा के कैसिनो हो गइल देश या।


    पण उ तमाम मंझौले कारोबारी ,छोटन का का कहे दिवालिया बन रहल वानी के डिजिटल देश मा कारोबार अलीबाबा चालीस चोर हवाले है।ईटेलिंग ने  जो बारह बजाये सो बजाये ,अब खुदरा बाजार मा कोई माई बापमाई महतारी न टिक सकै ह।


    बाकी देश मा या अमेरिकी परमाणु चूल्हा होय या फिन अमेरिकी कंपनियों का सेज या पिर डालर का कारोबर या फिर सगरा इंफ्रास्ट्रक्चर जो दरअसल कारपोेट बिल्डर माफिया राडज जल जमगल जमीन आजीविका नागरिकता उजाड़ अभियान खेत खलिहान चौपट आउर जनपद जनपद कब्रिस्तान ह।


    देहलिया त रिफ्यूजी  कालोनी रहिस बै चैतू।


    सगरे देश विदेश के तमामो रिफ्यूजी खून पसीना बहायौ अपनी जड़ों से बेदखली उपरांते।अनंनतर शांतता ,रिफार्म चालू आहे।फर्स्ट क्लास चुनाव सुपर फर्स्ट क्लास डिजिटल सिटिजन वास्ते चकाचक स्मार्टसिटी ह।



    हिंदी जनता खातिर कोईकंप्लीट प्राइवेटाइजेशन खातिर कंप्लीट ब्लैक आउट विद मनोरंजन के लिए कुछ भी करेंगा।


    हमउ बटोर उटोर कर हिदी अंग्रेजी मा जो गोबर माटी पाथ परहल वानी तनिक उहा छान लै बै चैतू के बांचै लै खुदै सारा मैटर आउर ठोंक दनदन हर लिंक।


    पीसी नइखै तो मोबाइलौ मा ठोंक।


    के प्रिंटवा मा हमार दखल नइखे।

    प्रिंट बेदखल बा।


    टीवी बिलियनर मलियनर बा।हमउ नेट भरोसे बा।

    सकबा त नेटवा मा बांच लै चैतू के अब टैम नइखै।


    गौरतलब है कि भारतीय रिजर्व बंक के गवर्नर रघुराम राजन ने कहा कि भारतीय बैंकिंग प्रणाली के समक्ष फंसे कर्ज या एनपीए के कारण संकट का कोई जोखिम नहीं है। उन्होंने कहा कि एनपीए मुख्य रूप से सार्वजनिक बैंकों में है और उन्हें सरकार का समर्थन प्राप्त है। राजन ने एक टीवी पर साक्षात्कार में कहा कि मुझे नहीं लगता कि प्रणाली में फंसे कर्ज के कारण संकट का कोई जोखिम है। इसकी एक वजह भी है कि एनपीए मुख्य रूप से सार्वजनिक क्षेत्र बैंकों में है जिन्हें सरकार का पूरा समर्थन होता है। उन्होंने कहा कि गैर निष्पादित आस्तियां बैंकों पर भारी नहीं पड़ेंगी।


    इकोनामिक टाइम्स के मुताबेक दिल्ली के चुनाव पर शेयर बाजार का भविष्य टिका हुआ है। एक अनुमान के मुताबिक यदि बीजेपी इस चुनाव में हारती है तो शेयर मार्केट में 5 फीसदी तक की गिरावट आ सकती है।


    दिल्ली की राजनीति पर पूरे देश की नजरें टिकी हुई हैं। अब तक के सर्वे में जहां इस चुनाव में आम आदमी पार्टी की स्थिति मजबूत नजर आ रही है, वहीं मोदी लहर पर सवार होकर केंद्र की सत्ता पर कब्जा जमाने वाली बीजेपी के लिए यह अग्निपरीक्षा के बराबर है।


    ज्यादातर ओपिनियन पोल्स में अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी को बीजेपी पर बढ़त ले जाते हुए दिखाया जा रहा है। लोकसभा चुनावों में शानदार जीत के बाद बीजेपी ने हाल में होने वाले सभी विधानसभा चुनाव जीत लिए हैं, लेकिन दिल्ली में बीजेपी के लिए डगर आसान नहीं दिख रही है।


    रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली चुनाव में बीजेपी की हार का असर स्टॉक मार्केट पर भी पड़ेगा। अगले 2 महीनों में मार्केट में करीब 5 फीसदी गिरावट आ सकती है। ऐनालिस्ट्स का मानना है कि मार्केट में गिरावट थोड़े समय के लिए होगी क्योंकि दिल्ली विधानसभा चुनाव मार्केट के लिए छोटी घटना है।


    इंस्टिटयूशनल इक्विटीज, अंबित कैपिटल के सीईओ सौरभ मुखर्जी ने हाल ही में कहा, 'इसका प्रभाव बहुत ही कम समय तक पड़ेगा, क्योंकि दिल्ली के चुनाव का केंद्र सरकार पर बहुत ही कम प्रभाव पड़ेगा।'


    इंटरनैशनल रेटिंग एजेंसी मिरिल लिंच ने निवेशकों से इस गिरावट को शेयर खरीदने के अवसर के रूप में इस्तेमाल करने का सुझाव दिया है।


    इकोनामिक टाइम्स के मुताबिक आपकी मेहनत की कमाई को सरकार सड़क बनाने में खर्च करना चाहती है। आपने पेंशन की जो रकम एंप्लॉयीज प्रविडेंट फंड ऑर्गनाइजेशन (ईपीएफओ) में जमा की है, सरकार उसे राजमार्ग विकास कार्यक्रम पर खर्च करने की योजना बना रही है।


    वित्त मंत्रालय ने पेंशन फंड निवेश के नियमों में संशोधन किया है। इस संशोधन से नैशनल हाइवेज अथॉरिटी ऑफ इंडिया (एनएचएआई) को ईपीएफओ से कर्ज लेने की अनुमति मिल जाएगी। बदले हुए नियम के तहत अप्रैल 2015 से पेंशन फंड को एनएचएआई जैसी अथॉरिटी के बॉन्डस में निवेश किया जा सकता है। पहले प्रावधान था कि इस राशि को पीएसयू के बॉन्ड्स में ही निवेश किया जा सकता था, लेकिन अब बदले हुए नियम से यह अनिवार्यता समाप्त हो जाएगी।


    मिलती-जुलती खबरें

    मोदी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार की योजना है कि अगले 4 से 5 साल तक हर दिन 30 किलोमीटर राजमार्ग का निर्माण किया जाएगा। इसके लिए करीब 1.8 लाख करोड़ रुपये का खर्च आएगा।


    निजी सेक्टर से निवेश नहीं मिलने के कारण राजमार्ग मंत्रालय ने निवेश के अन्य विकल्प पर गौर करना शुरू कर दिया। सूत्रों के मुताबिक राजमार्ग मंत्रालय ने वित्त मंत्रालय से पेंशन फंड्स के लिए निवेश नियमों में संशोधन के लिए संपर्क किया ताकि वह ईपीएफओ से कर्ज ले सके।


    वर्तमान में ईपीएफओ के पास भारत के 5 करोड़ से अधिक कर्मचारियों की रिटायरमेंट सेविंग्स है। इसके पास 6 लाख करोड़ रुपये से अधिक पेंशन फंड्स है।


    राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी इस प्रकार के निवेश का मार्ग प्रशस्त करने के लिए गुरुवार को वित्त, श्रम और राजमार्ग सचिवों एवं सेंट्रल प्रविडेंट फंड कमिशनर के.के.जालान समेत टॉप ब्यूरोक्रेट्स के साथ मीटिंग करेंगे। उम्मीद है कि वित्त मंत्री अरुण जेटली इस महीने के अंत में अपने बजट में इस संबंध में घोषणा कर सकते हैं।

    http://navbharattimes.indiatimes.com/business/business-news/government-to-invest-your-pension-fund-in-nhai-bonds/articleshow/46129139.cms

    रबतियों की सूची में ब्रिटेन और रूस से आगे भारत, ये हैं देश के टॉप 10 अरबपति

    आज भारत अरबतियों वाला देश बन गया है. अरबतियों की सख्‍ंया में पहली भारत तीसरे पायदान पर पहुंचा है. अमेरिका और चीन के बाद भारत का दर्जा है. इस सूची में मुकेश अंबानी समेत देश के कई बड़े दिग्‍गज शामिल हैं. दुनियाभर के 2089 अरबपतियों में से 97 अरबति भारत देश के है. इस सूची में न्‍यूनतम 6000 करोड़ रुपये की प्रॉपटी वाले अमीरों को इसमें जगह दी गयी है.


    अरबतियों की सूची में ब्रिटेन और रूस से आगे भारत, ये हैं देश के टॉप 10 अरबपति

    भारत शीर्ष तीन देशों में शामिल

    हुरन ग्लोबल रिच लिस्ट के भारत के मुख्यालय कोच्चि में देश के अरबतियों की सूची तैयार हुई है. जिसमें यह साफ हुआ है कि सोने की चिड़िया कहे जाने वाले भारत में धन की कमी नहीं है. शायद इसीलिए अरबपतियों की संख्या के लिहाज से भारत शीर्ष तीन देशों में शामिल हो गया है. हालांकि भारत को उपलब्‍धि पहली बार मिली है. हुरन की भारत संबंधी धनी व्यक्तियों की सूची रिच लिस्ट-इंडिया, 2015 में रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रमुख मुकेश अंबानी टॉप सबसे टॉप पर है. अगर अरबतियों के आकड़ों पर नजर डाले तो सबसे ज्‍यादा अरबपति अमेरिका में हैं. उसके बाद फिर चीन का नंबर है. यहां पर भी अरबपतियों की संख्‍या कुछ कम नहीं हैं. इसके बाद फिर भारत का नंबर है. इससे सूची से यह साफ हो गया है कि भारत ने रूस और ब्रिटेन जैसे देशों को भी पीछे छोड़ दिया है.


    मुकेश अंबानी सूची में पहले नंबर पर  

    हुरन ग्लोबल रिच लिस्ट के मुताबिक देश के जाने माने बिजनेस मैन मुकेश अंबानी सूची में पहले नंबर पर हैं. उनके पास 27,500 मिलियन डॉलर की संपदा है. उनके बाद सूची में सनफार्मा के दिलीप सांघवी का स्थान आता है. उनकी संपत्ति 21,500 मिलियन डॉलर है. वहीं कुमार मंगलम बिरला इस सूची में 16,000  मिलियन डॉलर की संपत्ति के साथ तीसरे स्थान पर हैं. इसके बाद चौथे नंबर पर अजीम प्रेमजी का नाम है. इनके 14,000 मिलियन डॉलर है. इसके बाद शिव नडार 13,000 मिलयन डॉलर, एसपी हिंदुजा फेमली 12,000  मिलयन डॉलर, प्लोंजी मिस्त्री 10,500  मिलयन डॉलर का नाम हैं. वहीं आठवें नंबर पर सुनील मित्तल फेमली 85,00 मिलियन डॉलर है. इसी सूची में नवें नंबर पर गौतम अडानी 73,00 मिलयन डॉलर व दसवें नंबर पर अनिल अंबानी 71,00  मिलयन डॉलर के साथ शामिल हैं.

    http://inextlive.jagran.com/top-ten-arabpati-in-india-with-mukesh-ambani-201502050018

    आम बजट में होंगे इन्वेस्टमेंट का माहौल बेहतर करने के कदम

    इकनॉमिक टाइम्स| Feb 5, 2015, 09.33AM IST

    दीपशिखा सिकरवार, नई दिल्ली


    फाइनैंस मिनिस्टर अरुण जेटली इस बार आम बजट में ऐसे पैकेज से परदा उठा सकते हैं, जिससे इन्वेस्टमेंट से जुड़ा सेंटिमेंट मजबूत हो और विदेशी पूंजी के लिए इंडिया एक आकर्षक जगह के रूप में उभरे।


    कुछ प्रॉडक्ट्स पर कस्टम्स ड्यूटी बढ़ाई जा सकती है ताकि देश में मैन्युफैक्चरिंग को रफ्तार मिल सके। वहीं, फॉरन पोर्टफोलियो इन्वेस्टर्स के लिए मिनिमम ऑल्टरनेट टैक्स में बदलाव किए जा सकते हैं। साथ ही, इनडायरेक्ट ट्रांसफर्स पर पार्थो शोम समिति की कुछ सिफारिशों को लागू किया जा सकता है।


    मिलती-जुलती खबरें

    साल 2012-13 के बजट में जनरल एंटी-अवॉइडेंस रूल यानी GAAR को इंट्रोड्यूस किया गया था और फिर असेसमेंट इयर 2016 की पहली अप्रैल तक के लिए इसे टाल दिया गया था। इंडस्ट्री की डिमांड के अनुसार, इसे आगे टाला जा सकता है।


    एक सीनियर गवर्नमेंट ऑफिशल ने कहा, 'सोच यह है कि इन्वेस्टमेंट में रिवाइवल हो। घरेलू मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर्स में इन्वेस्टमेंट की रफ्तार बढ़े और बाधाएं हटें।' आम बजट 28 फरवरी को पेश किया जाएगा।


    दमदार इकनॉमिक ग्रोथ के लिए इन्वेस्टमेंट में रिवाइवल जरूरी है, लेकिन डेटा से पता चल रहा है कि इस संबंध में कोई खास तेजी नहीं आ सकी है। फाइनैंशल इयर 2014 में ग्रॉस कैपिटल फॉर्मेशन महज 3% बढ़ा। इससे एक साल पहले इसमें 0.3% की गिरावट आई थी।


    एक्सपर्ट्स ने कहा कि इस संबंध में उठाए जाने वाले कदमों का इन्वेस्टर स्वागत करेंगे। क्रिसिल के चीफ इकनॉमिस्ट डी के जोशी ने कहा, 'प्राइवेट इन्वेस्टमेंट में अभी तेजी नहीं आई है। इसके लिए कुछ कदमों की जरूरत है।'


    बजट तैयार कर रही टीम भी सावधानी बरत रही है। वह फाइनैंशल इयर 2013 के बजट में इनडायरेक्ट ट्रांसफर्स पर पिछली तारीख से टैक्स लगाने के प्रावधान जैसा कोई कदम उठाने से बचेगी, जिससे इन्वेस्टमेंट से जुड़ा सेंटिमेंट कमजोर हो।


    इस संबंध में अंतिम फैसला तो बजट पेश करने की तारीख करीब आने पर ही किया जाएगा, लेकिन सरकार कई सेक्टर्स के लिए ड्यूटी स्ट्रक्चर और विदेशी निवेशकों के लिए टैक्सेशन का ढांचा बदलने पर विचार कर रही है।


    फाइनैंस मिनिस्ट्री ज्यादा इन्वेस्टमेंट अलाउंस पर भी विचार कर रही है। इस स्कीम को जेटली ने अपने पहले बजट में पेश किया था।


    फॉरन पोर्टफोलियो इन्वेस्टर्स पर मिनिमम ऑल्टरनेट टैक्स के मामले में भी विचार किया जा रहा है। इनमें से कुछ निवेशकों को टैक्स डिपार्टमेंट ने नोटिस भेजे हैं। यह कदम तब उठाया गया, जब टैक्स ट्राइब्यूनल्स ने कुछ मामलों में टैक्स लगाए जाने का समर्थन किया था।


    खेतान एंड कंपनी के पार्टनर संजय सांघवी ने कहा, 'टैक्स से जुड़े कुछ बड़े मुद्दों पर सरकार के सकारात्मक कदम से भारत के बारे में विदेशी निवेशकों का भरोसा बढ़ेगा।' शोम पैनल ने लिस्टेड कंपनियों में शेयर ट्रांसफर्स को टैक्स के दायरे से बाहर रखने की सलाह दी थी। इस पर भी विचार किया जा सकता है।

    http://navbharattimes.indiatimes.com/business/budget-news-2015/jaitley-to-open-pandora-box-for-the-investers/articleshow/46128347.cms

    टैक्स के मोर्चे पर मिल सकती है और राहत

    इकनॉमिक टाइम्स| Jan 5, 2015, 09.55AM IST

    नेहा पांडेय, देवरस


    फाइनैंस मिनिस्टर अरुण जेटली के पहले बजट पर टैक्सपेयर्स की मिली-जुली प्रतिक्रिया रही थी। बेसिक एग्जेम्पशन लिमिट और दूसरे डिडक्शन बढ़ाए जाने से छोटे टैक्सपेयर्स और मिडिल इनकम वाले बहुत खुश हुए थे, लेकिन नॉन-इक्विटी म्यूचुअल फंड्स पर लागू टैक्स रूल्स में चेंज से हाई नेटवर्थ इन्वेस्टर्स को जोर का झटका लगा था।


    पढ़ें: रिटर्न भरने के लिए यह जरूरी है


    मिलती-जुलती खबरें

    बजट में बेसिक एग्जेम्पशन लिमिट को बढ़ाकर ढाई लाख रुपये कर दिया गया था और सेक्शन 80 सी के तहत सालाना बचत को बढ़ाकर डेढ़ लाख रुपये कर दिया गया था। सीनियर सिटिजंस के लिए बेसिक एग्जेम्पशन को बढ़ाकर 3 लाख रुपये कर दिया गया था। बजट में होम लोन के इंटरेस्ट पर डिडक्शन की लिमिट बढ़ाकर दो लाख रुपये सालाना कर दिया गया था। इन बदलावों से बेशक आसमान छूती महंगाई और हाई इंटरेस्ट रेट से परेशान टैक्सपेयर्स को खुशी मिली।


    लेकिन नॉन इक्विटी फंड्स पर लगने वाले टैक्स के रूल्स में बदलाव होने से इन्वेस्टर्स टैक्सपेयर्स को थोड़ी निराशा हाथ लगी। लॉन्ग टर्म एसेट्स की गिनती में आने के लिए नॉन इक्विटी फंड्स के मिनिमम होल्डिंग पीरियड को एक साल से बढ़ाकर तीन साल कर दिया गया। लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस पर 10% फ्लैट टैक्स देने का ऑप्शन भी वापस ले लिया गया। अब टैक्स को इंडेक्सेशन के साथ 20 पर्सेंट पर फिक्स कर दिया गया है।


    हाउस प्रॉपर्टी पर कैपिटल गेंस

    बजट में कुछ अहम क्लासिफिकेशन भी किए गए। प्रॉपर्टी की सेल में लॉन्ग टर्म कैपिटल गेंस डिडक्शन का फायदा लिया जा सकता है, बशर्ते कैपिटल गेंस को मकान की सेल के छह महीने के भीतर कैपिटल गेंस बॉन्ड्स में इन्वेस्ट किया जाता है। यह एक फाइनैंशल इयर में 50 लाख रुपये से ज्यादा नहीं हो सकता, लेकिन अगर कोई मकान किसी फिस्कल इयर की दूसरी छमाही में बिकता है तो उससे हासिल होने वाली रकम को कैपिटल गेंस बॉन्ड में इन्वेस्टमेंट किए जाने पर कितना टैक्स डिडक्शन हो सकता है, इस बारे में क्लैरिफिकेशन नहीं दिया गया था।


    बहुत से टैक्सपेयर्स ने इन्वेस्टमेंट को दो साल में ब्रेक करके एक करोड़ रुपये तक के टैक्स डिडक्शन का दावा किया। अब सरकार ने क्लैरिफाई किया है कि टोटल डिडक्शन 50 लाख रुपये से ज्यादा नहीं हो सकता। बजट में यह भी क्लैरिफाई किया गया कि मकान की सेल से हासिल रकम से मकान की खरीदारी पर टैक्स बेनेफिट तभी मिलेगा, जब प्रॉपर्टी इंडिया में खरीदी गई होगी। इस नियम का फायदा उठाकर रईस टैक्सपेयर्स विदेश में प्रॉपर्टी खरीद लिया करते थे।


    2015 में मिल सकते हैं और फायदे

    इंडिया में टैक्स रेट्स सही हैं, लेकिन कुछ एक्सपर्ट्स को लगता है कि अगले बजट में टैक्सपेयर्स को और राहत मिल सकती है । डेलॉयट हैस्किंस एंड सेल्स में टैक्स पार्टनर होमी मिस्त्री ने हा, 'बेसिक एग्जेम्पशन लिमिट बढ़ाए जाने की उम्मीद की जा रही है।' बेसिक एग्जेम्पशन लिमिट को मौजूदा ढाई लाख से बढ़ाकर तीन लाख रुपये किया जा सकता है। पिछले बजट में टैक्स स्लैब के साथ कोई छेड़छाड़ नहीं की गई थी, लेकिन इस बार इसमें थोड़ा चेंज हो सकता है। इससे इफेक्टिव टैक्स रेट में और कमी आ सकती है।


    सबसे बड़ा फायदा दूसरे टैक्स रिफॉर्म्स के तौर पर मिल सकता है। गुड्स ऐंड सर्विसेज टैक्स (GST) को बड़े टैक्स रिफॉर्म्स के रूप में देखा जा रहा है। भले ही यह इन्डायरेक्ट टैक्स है और औसत कन्जयूमर पर सीधे असर नहीं करेगा, लेकिन GST लागू होने के बाद प्रॉडक्ट्स और सर्विसेज की कीमत में गिरावट आ सकती है।


    सरकार GST के 2016 में लागू होने की उम्मीद कर रही है, लेकिन दूसरे अहम टैक्स रिफॉर्म पर कोई सुगबुगाहट नहीं है। डायरेक्ट टैक्स कोड (DTC) कई साल से लटका है। DTC बदलाव के कई दौर से गुजर चुका है, लेकिन मोदी सरकार इस बार इस कानून का एकदम नया वर्जन ला सकती है।


    प्राइस वाटर हाउसकूपर्स के ऐग्जिक्युटिव डायरेक्टर और पार्टनर कौशिक मुखर्जी को लगता है कि सरकार को बच्चों की ट्यूशन फीस (दो बच्चों तक हर बच्चे पर हर महीने 100 रुपये), 800 रुपये के कन्वेयेंस अलॉउंस पर डिडक्शन जैसे छोटे बेनेफिट्स पर गौर करना चाहिए। उन्होंने कहा, 'ये डिडक्शन अब भी बहुत कम हैं। इनको बढ़ाया जाना चाहिए या खत्म कर दिया जाना चाहिए।' इसी तरह, फाइनैंस मिनिस्टर को सेक्शन 80डी के तहत हेल्थ इंश्योरेंस प्रीमियम की डिडक्शन लिमिट को बढ़ाकर असलियत के पास लाना चाहिए। अपने और फैमिली के लिए सालाना 15,000 रुपये की मौजूदा लिमिट बहुत कम है।

    http://navbharattimes.indiatimes.com/business/tax/tax-news/new-tax-rule-may-provide-relief-to-all/articleshow/45756170.cms

    'मेक इन इंडिया'के लिए टैक्स स्ट्रक्चर सही करेगी सरकार

    ईटी हिंदी| Jan 22, 2015, 11.19AM IST

    विकास धूत, नई दिल्ली


    डायपर्स से लेकर LED लैंप और बॉयलर्स से लेकर टेक्सटाइल्स और इलेक्ट्रॉनिक्स जैसे सामान इंडिया में बनाने को बढ़ावा देने के लिए सरकार टैक्सेशन स्ट्रक्चर में मौजूद खामियों को दुरुस्त करने पर विचार कर रही है। इससे इन सामानों को विदेश से आयात करने के मुकाबले देश में इन्हें बनाना ज्यादा फायदेमंद साबित होगा।


    मेक इन इंडिया प्रोग्राम को बूस्ट देने के लिए फाइनैंस मिनिस्ट्री ने टैरिफ कमीशन से कहा है कि वह टेक्सटाइल्स, कैपिटल गुड्स, इंजीनियरिंग प्रॉडक्ट्स, एल्युमिनियम, स्टील और कॉपर प्रॉडक्ट्स और डायपर्स जैसे कई सेक्टरों के इनवर्टेड ड्यूटी स्ट्रक्चर्स के बारे में इंडस्ट्री के आवेदनों की पड़ताल करे। इनवर्टेड ड्यूटी तब पैदा होती है, जब किसी फिनिश्ड प्रॉडक्ट पर लगने वाली इंपोर्ट ड्यूटी लोकल मैन्युफैक्चरर्स के इस्तेमाल किए जाने वाले रॉ मैटीरियल्स पर लगने वाली इंपोर्ट ड्यूटी से कम होती है।


    मिसाल के तौर पर, डायपर्स पर बेसिक कस्टम्स ड्यूटी 10.64 फीसदी है और इस पर काउंटरवेलिंग ड्यूटी 6.18 फीसदी है। हालांकि, डायपर्स के रॉ मैटीरियल्स (पॉली फिल्म, लायक्रा थ्रेड, वेस्ट इलास्टिक और सुपर-एब्जॉर्बेंट मैटीरियल) पर इंपोर्ट ड्यूटी कहीं ज्यादा है। आसियान देशों से आने वाले डायपर्स पर महज 3 फीसदी स्पेशल ड्यूटी लगती है।


    एक अधिकारी ने कहा, 'इस तरह के ड्यूटी स्ट्रक्चर का मतलब है कि इंडियन मैन्युफैक्चरर इंपोर्टेड विकल्पों का सामना नहीं कर सकते हैं।' अधिकारी ने कहा कि सुस्त पड़ी घरेलू कैपेसिटी की वजह से इन सेक्टरों में इंपोर्ट में भारी इजाफा हुआ है। फाइनैंस मिनिस्टर अरुण जेटली ने हाल में ही कहा था कि सरकार की पूरी कोशिश मैन्युफैक्चरिंग कॉस्ट को कम करना और क्वॉलिटी सुधारना है। उन्होंने चेताया था, 'अन्यथा हम मैन्युफैक्चरर्स की बजाय ट्रेडर्स का देश बन जाएंगे।' आजादी हासिल होने के बाद पिछले साल तीसरा ऐसा साल था, जब मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर की ग्रोथ नेगेटिव रही थी। इंडिया इंक ने इसकी मुख्य वजह रॉ मैटीरियल की अधिक लागत और टैक्सेशन को माना था। इंडस्ट्री को उम्मीद है कि सरकार टैक्स स्ट्रक्चर को दुरुस्त करेगी और फ्री ट्रेड एग्रीमेंट्स या FTA की भी समीक्षा करेगी।


    फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स ऐंड इंडस्ट्री (फिक्की) ने अलग-अलग सेक्टरों के करीब 100 प्रॉडक्ट्स की एक लिस्ट सबमिट की थी, जिनमें भारी दिक्कत है और जिनकी वजह से डोमेस्टिक कैपेसिटी को नुकसान हो रहा है। इनवर्टेड ड्यूटी स्ट्रक्चर्स के मामले ज्यादातर FTA के तहत दी गई रियायतों के चलते पैदा हो रहे हैं। फिक्की की प्रेसिडेंट ज्योत्सना सूरी ने कहा कि हालांकि इंडस्ट्री देश की इकनॉमिक डिप्लोमेसी कोशिशों की तारीफ करती है, लेकिन इंडस्ट्री चाहती है डोमेस्टिक मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा दिया जाए और प्रतिस्पर्धा में रुकावट पैदा करने वाली दिक्कतों को दूर किया जाए।

    http://navbharattimes.indiatimes.com/business/tax/tax-news/push-for-make-in-india-government-set-to-correct-taxation-anomalies/articleshow/45975553.cms

    GST लागू होने से किन कंपनियों को होगा फायदा

    इकनॉमिक टाइम्स| Dec 19, 2014, 09.03AM IST

    मुंबई

    केंद्रीय कैबिनेट के बुधवार को गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) पर संविधान संशोधन बिल को पास करने के बाद गुरुवार को शेयर बाजार ने शानदार वापसी की। बीएसई सेंसेक्स 403.55 या 1.52 पर्सेंट चढ़कर 27,113.68 पर चला गया। वहीं, एनएसई निफ्टी 127.15 यानी 1.58 पर्सेंट चढ़कर 8,157 पर बंद हुआ।


    जीएसटी बिल को संसद के मौजूदा शीतकालीन सत्र में पेश किया जा सकता है। जीएसटी के लागू होने से देश में इनडायरेक्ट टैक्स सिस्टम पूरी तरह बदल जाएगा। एक्सपर्ट्स का कहना है कि जीएसटी के लागू होने से भारत के ग्रॉस डोमेस्टिक प्रॉडक्ट (जीडीपी) में दो पर्सेंटेज पॉइंट्स की बढ़ोतरी हो सकती है।


    इस बारे में केपीएमजी इंडिया के चीफ ऑफरेटिंग ऑफिसर (टैक्स एंड रेगुलेटरी सर्विसेज) सचिन मेनन ने बताया, '2006 से जिन लोगों ने जीएसटी को लाने के लिए काम किया है, उन सबको देश याद रखेगा। यह भारत के फिस्कल रिफॉर्म्स के इतिहास में अहम मोड़ है। इससे भारत को इकनॉमिक सुपरपावर बनने में मदद मिलेगी।'

    मिलती-जुलती खबरें


    मार्केट एक्सपर्ट्स का कहना है कि जीएसटी के लागू होने में कुछ वक्त लग सकता है। इसलिए अभी इससे कंपनियों या स्टॉक्स पर पड़ने वाले असर के बारे में कुछ भी कहना जल्दबाजी होगी। इस बारे में कोटक सिक्यॉरिटीज की रिपोर्ट में कहा गया है, 'हमें लगता है कि जीएसटी से टैक्सेशन स्ट्रक्चर सिंपल हो जाएगा। इससे वेयरहाउसेज की संख्या कम होगी और पूरी सप्लाई चेन में टैक्स क्रेडिट होगा। इसलिए यह एफिशंट सिस्टम है।'


    ब्रोकरेज फर्मों का कहना है कि एक्साइज इंडस्ट्रीज, अमारा राजा बैटरीज, जुबिलेंट फूडवर्क्स, एशियन पेंट्स, पिडिलाइट इंडस्ट्रीज, ब्रिटानिया इंडस्ट्रीज, आईटीसी और मैरिको जैसी कंपनियों को जीएसटी के लागू होने से फायदा हो सकता है।


    कोटक सिक्यॉरिटीज की रिपोर्ट में कहा गया है, 'महिंद्रा एंड महिंद्रा, पीवीआर सिनेमाज और डिश टीवी अभी जितना टैक्स दे रही हैं, जीएसटी लागू होने के बाद उन्हें इससे कम टैक्स चुकाना पड़ेगा।' महिंद्रा एंड महिंद्रा को बड़ी एसयूवी पर अभी 41 पर्सेंट टैक्स देना पड़ता है। जीएसटी लागू होने के बाद यह घटकर 20-24 पर्सेंट रह जाएगा। वहीं, पीवीआर सिनेमाज को औसतन 23 पर्सेंट एंटरटेनमेंट टैक्स देना होगा।


    यूबीएस की हाल की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि जीएसटी से सबसे ज्यादा फायदा उन सेक्टर्स को होगा, जिनमें बड़ी संख्या में अन-ऑर्गेनाइज्ड प्लेयर्स हैं। इन सेक्टर्स में अन-ऑर्गेनाइज्ड कंपनियां जीएसटी लागू होने से टैक्स के दायरे में आएंगी और इससे बड़ी कंपनियों की कम्पीट करने की ताकत बढ़ेगी।


    इस रिपोर्ट में कहा गया था कि जीएसटी के आने से लॉजिस्टिक्स ऑपरेशंस बेहतर होंगे। इससे अपैरल और ड्यूरेबल जैसे सेक्टर्स को कम इनवेंटरी रखनी पड़ेगी। नए इनडायरेक्ट टैक्स सिस्टम के आने से लॉजिस्टिक सलूशन कंपनियों को भी फायदा होगा। यहां हम कुछ ऐसी कंपनियों के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें जीएसटी को लेकर ब्रोकरेज फर्मों से पॉजिटिव रेटिंग मिली है।


    लॉन्ग टर्म में कंपनी के रेल फ्रेट बिजनस के लिए आउटलुक पॉजिटिव है। सरकार डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर बना रही है। ब्रोकरेज कंपनियों का कहना है कि इकनॉमिक रिकवरी से गेटवे सहित कॉनकॉर और जीडीएल जैसी लॉजिस्टिक कंपनियों को लाभ होगा। ब्रोकरेज फर्म शेयरखान ने जीडीएल को बाय रेटिंग दी है। उसका कहना है कि कॉनकॉर को खरीदने से भी इन्वेस्टर्स को फायदा हो सकता है।


    सेंचुरी प्लाईबोर्ड्स इंडिया लिमिटेड तेजी से बढ़ रहे प्लाईवुड और लेमिनेट सेगमेंट में बड़ी प्लेयर है। ऑर्गेनाइज्ड मार्केट में इस कंपनी की 25 पर्सेंट हिस्सेदारी है। वुड खरीदने के लिए प्लाईवुड इंडस्ट्री कोई एक्साइज ड्यूटी या वैट नहीं चुकाती है। इसलिए प्लाईवुड मैन्युफैक्चरर्स को कोई सेनवैट क्रेडिट नहीं मिलता। एक्साइज ड्यूटी नहीं लगने के चलते इस सेगमेंट में बचत के काफी मौके हैं। यही वजह है कि इंडस्ट्री में 70 पर्सेंट अन-ऑर्गनाइज्ड प्लेयर्स हैं।


    हालांकि, जीएसटी के लागू होने के बाद अन-ऑर्गेनाइज्ड कंपनियों के लिए टैक्स का फायदा खत्म हो जाएगा। ऐसे में सेंचुरी प्लाईबोर्ड्स जैसी ऑर्गेनाइज्ड कंपनियों की मार्केट हिस्सेदारी बढ़ सकती है।


    आईडीएफसी सिक्यॉरिटीज ने कंटेनर कॉर्पोरशन पर रिपोर्ट दी है। उसके मुताबिक, जीएसटी लागू होने के बाद सीमेंट, स्टील और ऑटो जैसे सेक्टर्स से मांग बढ़ सकती है। पहले ही इस बारे में इनक्वायरीज बढ़ चुकी हैं। कॉनकॉर अपने लॉजिस्टिक्स पार्क्स अहम लोकेशन पर बना रही है। इससे जीएसटी के बाद बढ़ने वाली मांग को वह आसानी से पूरा कर पाएगी। हालांकि, ब्रोकरेज फर्म ने कॉनकॉर को अभी न्यूट्रल रेटिंग दी हुई है। कंपनी ने कुछ रूट्स पर टैरिफ में औसतन छह पर्सेंट की बढ़ोतरी की है।


    अन्य मुख्य खबरें


    http://navbharattimes.indiatimes.com/business/tax/tax-news/implementation-of-gst-will-give-benefit-to-the-companies/articleshow/45570330.cms



    अगले वित्त वर्ष का विनिवेश लक्ष्य रहेगा 43,000 करोड़ रुपये


    वित्त मंत्री अरुण जेटली वित्त वर्ष 2015-16 के बजट में भी विनिवेश का लक्ष्य लगभग








    कटौती के लिए बजट का इंतजार


    करीब 15 दिनों पहले रीपो दर में 25 आधार अंक की कटौती कर सबको चकित करने के बाद








    जनवरी में विनिर्माण वृद्धि कमजोर पड़ी : एचएसबीसी


    विनिर्माण वृद्धि जनवरी में फिसलकर तीन महीनों के निचले स्तर पर आ गई, जबकि










    अन्य खबर



    तेल की कीमतों में आ सकती है तेजी




    संकट से निपटने के तरीके पर सवाल




    नौ महीने में लक्ष्य के पार हुआ राजकोषीय घाटा




    आर्थिक वृद्घि में 6 फीसदी से ज्यादा की उछाल






    सार्वजनिक मामले




    हंगामे के बावजूद जारी रहा वित्त मंत्री का बजट



    बजट की सरगर्मी से संसद रही बेपरवाह


    नई परिभाषा जगाएगी आशा!


    बीमा, खुदरा क्षेत्र में एफडीआई नीति उदार बनाए भारत : अमेरिका


    ढांचागत क्षेत्र में एफडीआई नीति होगी उदार


    आगे पढ़े


    सवाल-जवाब




    'बॉन्ड बाजार के लिए सकारात्मक रहेगा बजट'



    बजट से निवेशकों का भरोसा लौटाने की होगी कोशिश


    'अर्थव्यवस्था में तत्काल मजबूती की उम्मीद नहीं'


    'आसान नहीं होगा योजना आयोग की भूमिका को समाप्त करना'


    'आर्थिक विकास के साथ घाटा पाटने पर जोर'


    आगे पढ़े

    http://hindi.business-standard.com/economy/



    0 0

    Asghar Ali Engineer Memorial Lecture

     

    Anniversary of- Chavi-Wall Newspaper Bhuvaneshwar, Jan 29 2015

     

    India Democracy at the Crossroads under Current Political Dispensation

     

    Ram Puniyani

     

    I begin this lecture paying tribute to my very dear friend, Dr. Asghar Ali Engineer, with whom I had the rare privilege of working with for close to two decades. Dr. Engineer was a unique scholar-activist, totally committed to the dream and vision of a humane society that honours the values of diversity and where human rights for all are the defining point.

     

    In this regard, he may have been among the first persons who realized the dangers of divisive communal politics. It was he who set the trend seeking the causal factors behind communal violence, doing his own meticulous investigation after such riots. He contributed massively to reforms that took place in the Bohra community, on the issues of secularism and finally, in the interpretation of Islam. We need to learn a lot from him in order to strive for a society that values peace, amity and compassion.

     

    Where are we standing today? What are the major threats to Indian democracy, today, even more menacing with the coming of the Modi Government?

     

    The factors contributing to his victory have been several. The unstinted support given to him by India's corporate; the fanatical zeal of the RSS and its lakhs of volunteers; the role of a corporate controlled media; the false projection of the 'Gujarat model of development'; the polarization of society along religious lines; and last, but not the least, the discrediting of the Congress through the campaigns launched by Anna Hazare, Baba Ramdev and Arvind Kejriwal that culminated in the formation of AAP party.

     

    The promise of Achhe Din – Good Times – has vanished into thin air. Despite the steep fall in the prices of crude oil in the World, the overall 'cost of living' continues to going up. The promise that all the black money stacked abroad will be brought back within six months or so and that we would be surprised to see 15 lakh deposited in our accounts, has been forgotten. The pattern of (good?) governance is only visible in the centralization of power around one person, Modi. Gradually the cabinet system of governance is giving way to one man's autocratic ways, with secretaries of Government departments reporting directly to the PM.

     

    On the domestic front obstacles are being created with the funding of NGOs, Greenpeace being the major victim. The welfare schemes begun by the previous Government have come under the chopping block. The corporate world that richly funded Modi's campaign, smiles all the way to their coffers, given the 'no holds barred' permissions for reckless industrialization that bypass all  environmental, social and economic controls. There has been a great amount of pomp and show on display, and around this much hype created around the persona of the new prime minister.

     

    The losers in all of this have been the weaker sections of society. The 'labour reforms' brought in by this government will do away with whatever little protective clauses are there for them. The land acquisition by industrialists is being made easy at the cost of those who own the lands. The other social welfare schemes needed for the poor, the right to food and health are under the threat of being done away with too.

     

    The intimidation of religious minorities has been stepped up. One central minister Sadhvi Niranjan Jyoti was emboldened enough to call all non-Hindus as haramzade, illegitimate. Another saffron robed BJP leader went on to glorify Nathuram Godse for his 'patriotism' while also advising Hindu women to produce more children. Godse, the murderer of Mahatma Gandhi has now been glorified by Hindutva elements, emboldened as they have been by the current government. Christmas Day was declared as 'Good Governance Day' in a move to undermine this festival. Demands are made that the Gita, the Hindu holy book be made the 'national book' of India. Attacks on churches and mosques have been taking place at regular intervals. The statements that we are Hindus and this is a Hindu Rashtra have become more and more assertive.

     

    Through all this Narendra Modi maintains a studious silence, being as all this is, an integral part of the agenda of the BJP and its parent organization, the RSS. Their basic goal is to take the country towards the narrow concept of Hindu nationalism, a sectarian nationalism not different from either Muslim extremism or Christian fundamentalism.

     

    In this context, it helps to recall that the streams of 'religious nationalism' in India came up as a reaction to the rise of Indian nationalism, when the feudal lords and kings came together to form the United India Patriotic Association (UIPA) in 1888, later joined by elites from the middle class and the upper castes.  From the UIPA, on one side emerged the Muslim League and on the other, the Hindu Mahasabha, both positing a religious nationalism.

     

     Taking up the goal of a Hindu nation formulated by the Hindu Mahasabha's Savarkar, the RSS was formed in 1925 and began indoctrinating in the ideology that India was a 'Hindu' nation, where Christians and Muslims were foreigners.  This was in sharp contrast to the inclusive notions of nationalism articulated by other leaders from Mahatma Gandhi to Bhagat Singh to Dr. Ambedkar.

     

    What must be remembered is that the communal organizations kept themselves aloof from the freedom movement and chose instead to spread hatred, bringing communal violence to the fore. Such violence only increased in intensity and we collectively suffered a massive tragedy in the form of partitioning the country that saw suffering of severe proportion on both sides, mass migration and unprecedented violence.

     

     

    It helps to keep in mind that the colonial British policy of 'divide and rule' was ably assisted by communal organizations on both sides of the fence. It was an RSS-indoctrinated pracharak, a preacher, Nathuram Godse who murdered Mahatma Gandhi – the first major attack of Hindu nationalism on a broader Indian nationalism.

     

    While the RSS on the one hand ignored the freedom movement, on the other hand it its swayamsevaks in the narrow ideology of Hindu nationalism, and it was these volunteers, in turn, who infiltrated the police, bureaucracy and other components of state machinery. They also spawned subordinate organizations – the Akhil Bharatiya Vidyarthi Parishad, Vanvasi Kalyan Ashram, Vishwa Hindu Parishad, and Bajrang Dal; women relatives of RSS supporters formed the Rashtra Sevika Samiti under the guidance of RSS.

     

    And right through this, the RSS harped on issues of 'identity'– like the one related to 'cow protection'; intimidating religious minorities with the 'Indianization of Muslims' campaign,  hinting Muslims were not Indian.

     

    By the time the 80s broke, the Hindutva battalion's word of mouth propaganda, aided by sections of the media and the re-writing of history in our school books, led to 'social common sense' with Muslims presented in negative light. This presence was enhanced along even narrower lines when they shamelessly demolished the Babri Masjid, rolling the Rath Yatra of Advani and leaving violence in its wake.

     

    This only ensured the violence would intensify. The so-called 'identity' was now projected as the only. This deepened the polarization along religious lines, leading to the massive violence in Mumbai, Surat, and Bhopal in 1992-93, culminating in the now infamous Gujarat violence in 2002.

     

    It was not only Muslims being targeted. From the late 80s, the other minority community, Christians, were also brought into the vortex of communal violence, projected as indulging in 'conversions'. This divisive violence in Adivasi areas led to the brutal killing of Pastor Graham Stains along with his two innocent sons in 1999, and later to the horrific killings in Kandhamal in 2008.

     

    All this is nothing more than what was articulated by the major RSS ideologue, M.S. Golwalkar, who claimed that India was a Hindu Rashtra from times immemorial, that religious minorities should live at the mercy of majority or be totally denied their rights as citizens.

     

    The year 2015 marks is the second time that BJP is in the seat of power. When it ruled in 1998, with a coalition NDA, the BJP as a party did not have simple majority, so its agenda was low key. It was not quite though. It communalized the school text books, 'saffronized' education, and gave importance to faith based subjects like Astrology and Paurohitya, the training of Hindu priests. It also tested the waters to change the Constitution and formed the 'Constitution Review Committee'.

     

    With the BJP now having a simple majority, their agenda unfolds in an uninhibited manner. They have wrought changes in all national bodies, people with their communal mindset now occupying positions of importance. One Prof. K. Sudarshan Rao, head of the Indian Council of Historical Research, while a nonentity among professional historians, holds that the caste system was beneficial and presents the complex mythology of the Ramayana and Mahabharata, the two great epics, as lived history. Sanskrit is being promoted despite the fact that it was never a language of masses.

     

     While the promotion of a scientific temper is the guiding principle of our Constitution, this government now promotes an orthodox, obscurantist ideology as being central to the arena of science. We are now told that ancient India had all the technology in aviation science and plastic surgery – all intended to show primacy over current developments in science and technology. India has contributed much by way of the works of Charat, Sushrut and Aryabhat but to claim ancient Indian science more advanced is merely to assert 'we are the best', a path in tune with the retrograde direction of the Hindutva brigade. 

     

    A democracy has to ensure that the values of liberty, equality and fraternity are paramount. With the Modi Government's Hindutva agenda, they have now attempted to tamper with the Constitution by removing the words 'Secularism' and 'Socialism'. The total bypassing of the concerns of the minorities and those is a grave danger to the very values which were at the core of India's freedom movement. We are now at that crucial juncture of history where the very existence of the Indian Constitution is at stake.

     

    We need to wake up in right earnest and face this threat. What is required is a multi pronged movement based on the rights and concerns of Dalits, women, workers, Adivasis and minorities in particular. We need to form alliances and platforms to coordinate our campaigns for the defence of our democratic rights. All those standing for democracy and secularism need to come together in solidarity. We have to hold hands and march together to protect our democracy. We need to work towards isolation of communal forces by pushing for alliance of non communal political formations. Sectarian politics, Hindu Nationalism, is akin to that of fascist and fundamentalist regimes, having some features of one and some features of the other.

     

    In such a dispensation, the democratic space stands to lose. Symptoms of this are visible in the banning of some books and introduction of others, like penned by RSS ideologue Dinanath Batra.

     

    It is therefore more important than ever before that the space in the social, print and TV media be reclaimed. We must resolve to work seriously to promote diversity, pluralism and those liberal values which go with our human and democratic values.

     

     

     .--


    response only to ram.puniyani@gmail.com


    0 0

    Vote Decisively against Anti-poor, Communal Forces


    As Delhi goes to polls this 7th February, we appeal to all democratic minded, secular citizens to cast their vote decisively against anti-poor and communal forces. 


    The BJP's poll promise – during the Lok Sabha elections – of retrieving black money and distributing Rs 15 lakhs to all has been exposed to be a cheap publicity stunt. A slew of ordinances (land, coal, mining etc.) and labour and environmental rules have diluted mechanisms meant to protect tribals, land and environment facilitating massive transfer of natural resources and offering sops to corporate houses. Welfarist schemes like MNERGA are being starved of funds and shrunk in size and spread and public sector industries are being divested and privatised. After a 20 per cent cut, our health budget this time is among the lowest in the world, leaving the poorest vulnerable to disease and death.


    The inauguration of the new government at the Centre has seen a relentless and corrosive hate campaign: love jihad, ghar wapsi, attacks on churches. Not a day has passed when the storm troopers of the party in power have not attempted to stoke hatred and violence. Public and political discourse has been vitiated beyond recognition. Venomous speeches by members of parliament and leaders – and not some 'fringe elements'– have called the bluff of the so-called development plank.  RSS Chief declared India to be a Hindu nation, and as if on cue, everyone from Sakshi Maharaj to Sadhvi Prachi exhorted Hindu women to produce more and more children. 


    In fact, the Hindutva plank, is being stoked up time and again only to promote the corporate agenda, and using the Hate politics to divert people's attention from Important issues, and during this time, enforcing draconian ordinances that curtail democratic freedom like the Land Acquisition ordinances. In Delhi itself, we have witnessed communal violence and simmering tensions in Bawana and Trilokpuri; Churches have been vandalized perhaps for the first time in the city's history. 


    Even in so vitiated an atmosphere, citizens were stunned to see the government advertisements on Republic Day omitting the words "Secular" and "Socialist" from the Preamble of our Constitution.  Brazen defence of the advertisement by invoking the 'original Preamble' soon degenerated into a call for debate on these words by none other than a Union Minister, while the Shiv Sena called for permanent expunging of secularism and socialism.  The BJP government may have retreated for now, but we have certainly got a glimpse into its agenda of tampering with the core values of our Constitution and polity.


    Nonetheless, defeat is staring stark in BJP's face. Money or chopper rallies cannot compensate for its obvious loss of imagination.


    Make your vote the final push.


    Vote for a government that will enable everyone to participate as equal citizens.


    Vote for peace and communal harmony, vote for an inclusive India. 


    Reject those who treat women as child producing factories.


    Vote for the most formidable party which can defeat the politics of hate, market reforms and VIP culture.  


    Anand Patwardhan, film maker

    Harsh Mander, Writer, Author

    Aruna Roy, MKSS

    Nikhil Dey, MKSS

    Githa Hariharan, Writer, Author

    Gautam Navlakha, PUDR

    Medha Patkar, Narmada Bachao Andolan – NAPM

    Maj Gen S.G.Vombatkere (Retd)

    Prof. Nandini Sundar, Academic

     Dilip Simion, Writer and Historian, Delhi

    Navaid Hamid Hamid, Secretary, Peoples Integration Council

    Shankar, MKSS 

    Arundhati Dhuru, NAPM Uttar Pradesh

    Asad Zaidi, Publisher

    Ashish Ranjan, Jan Jagran Shakti Sangathan

    C R Neelakandan, NAPM Kerala

    Gautam Bandopadhyay, Nadi Ghati Morcha, Chattisgarh

    Gebriele Dietrich, Pennurium Iyakkum, Madurai

    Himanshu Damle, Researcher

    Joe Athialy, New Delhi

    Kumar Sundaram, Anti Nuclear Activist

    Madhuresh Kumar, NAPM Delhi

    Mahendra Yadav, Kosi Navnirman Manch, Bihar

    Manisha Sethi, Academic

    Mansi Sharma, Activist

    Meera, Narmada Bachao Andolan

    Ovais Sultan Khan, activist

    Prakash Kumar, Kachra Kaamgaar Union, Delhi

    Prof. Manoranjan Mohanty, Retd. Delhi University

    Rajendra Ravi, NAPM Delhi

    Ram Puniyani, writer, activist

    Sanjeev Kumar, Delhi Solidarity Group

    Saraswati Kavula, Filmmaker, Hyderabad

    Shabnam Hashmi, Activist

    Shweta Tripathi, Delhi Solidarity Group

    Sister Celia, Domestic Workers Union, Karnataka

    Suhas Kolhekar, NAPM Pune

    Tanweer Fazal, Academic 

    Vimal Bhai, matu jan Sangathan

    Sanjiv Bhatt IPS, Gujarat

    Sukumar Muralidharn, journalist, writer

    Rahul Roy, film maker

    Kedar Mishra, writer and journalist

    Sohail Hashmi​, Writer, Film Make

    Karen Gabriel, Academic

    Asha Kowtal, Activist

    Satish Deshpande, Academic

    Vineet Tiwari, Writer and Poet

    Hanif Lakdawala, Activist

    Anjali Hegde, concerned citizen 


    0 0

    ***ARROGANT Kiran Bedi CANNOT be CM of Delhi?*** 
    Ashok T Jaisinghani 

       After she was declared a candidate for the post of Chief Minister, Kiran Bedi immediately started treating BJP's MPs, ex-MLAs and other leaders of Delhi as a bunch of JOKERS who could be ORDERED by her to attend the meetings in the COURT of Her Majesty's Royal Residence. 

       What respect can such an ARROGANT retired high-ranking Police Officer give to the COMMON PEOPLE after becoming the CM of Delhi, when she can treat even important leaders of BJP with contempt? She only knows how to SHOUT ORDERS at others!! 

    ***How do Narendra Modi and Amit Shah consider such an ARROGANT person like Kiran Bedi to be FIT for becoming the Chief Minister of Delhi?*** 

    ***BJP REBELS have STARTED CHALLENGING Modi OPENLY!!***

       By making an OUTSIDER Kiran Bedi the BJP's chief ministerial candidate for Delhi, Amit Shah and Narendra Modi have BACK-STABBED their own party's leaders who had the aspiration of becoming Chief Minister. Till a few days back, Kiran Bedi was NOT even a MEMBER of the BJP. She also has NO EXPERIENCE as a POLITICAL LEADER, but she has DESTROYED the chances of all other SENIOR BJP leaders to become Chief Minister of Delhi. She is an OPPORTUNIST who has USURPED the RIGHT of other SENIOR BJP leaders to try for the Chief Minister's post.

      The sidelined BJP leaders are likely to SABOTAGE Kiran Bedi's bid to become Chief Minister, which will also help the REBELS in the BJP to GET their REVENGE against Amit Shah and Narendra Modi!!


    0 0

    अब मराठी मा साइबर फर्जीवाड़ा।

    हॅलो त्वरित संदेश

    आम्ही तुम्हाला शांतीची इच्छा

    आपली गोपनीयता मध्ये माझ्या शिरण्याचा क्षमा, माझे नाव सौ rokia सध्या अस्तित्वात नसलेला एक न उडणारा पक्षी मलेशियन्स आहे पण अबिजान, आयव्हरी कोस्ट राजधानी राहू,

    मी माझ्या संपत्ती एक भाग दान करण्याचा निर्णय घेतला आहे जो संपणारा विधवा आहे
    हे पैसे वापरणार कोण विश्वसनीय व्यक्ती, तो आयव्हरी कोस्ट येथे एका बँकेत जमा की $ 2.8 दशलक्ष डॉलर्स. मी जगू शकत नाही तेव्हा अधिक पैसे मिळण्यासाठी मुले नाही कारण आपण आपल्या प्रयत्न या निधी 20% घ्या आणि मुले अनाथ इतर सामायिक होईल, अनाथ आणि मानवी हक्कांच्या काम समाजात कमी भाग्यवान आहेत ज्यांनी मदत आपण माझ्या ऑफर स्वीकारण्यास तयार असाल आणि या निधीचा उपयोग तर, कमी भाग्यवान आणि विधवा आहेत ज्यांनी मला मिळवा सांगतो नक्की म्हणून

    आपला डेटा ताबडतोब मला परत करा.

    एक ग्रीटिंग,

    सौ rokia सध्या अस्तित्वात नसलेला एक न उडणारा पक्षी


    0 0

    Govt pushes for One Rank One Pension: Uncertainty Prevails and No Clarity So Far-CONCLUSION:

     

    'One rank, one pension' soon for ex-servicemen: There are lot of calculations and complications that need to be resolved first: Parrikar


    https://in.news.yahoo.com/-one-rank--one-pension--soon-for-ex-servicemen--parrikar-063749682.html


    'One rank, one pension' soon for ex-servicemen: Parrikar

     

    1.     The defence minister said that the ministry will send its views to the Union Finance Ministry byFebruary 17 and thereafter a decision will be taken.

     

    2.     He explained that there are lot of calculations and complications that need to be resolved first.

     

    http://www.timesnow.tv/Govt-pushes-for-One-Rank-One-Pension/videoshow/4473373.cms

     

    Govt pushes for One Rank One Pension        

     

    One Rank One Pension scheme, a long pending demand by the armed forces is likely to turn into a reality and that too as soon as April, 2015. While the armed forces are rejoicing over the Defence Minister's fresh assurance, the scheme has turned into a political fight between the BJP and Congress.

    http://www.timesnow.tv/Govt-pushes-for-One-Rank-One-Pension/videoshow/4473373.cms


    An opinion by

    Balbir Singh Sooch, Advocate, Ludhiana, (Ex-Sgt. Indian Air  Force)

    House # 12333/1, Street No. 12, Vishvakarma Colony, Behind Sangeet Cinema, Ludhiana-141003, Punjab-India.

    Mobile No. 098143-34544


    http://www.sikhvicharmanch.com/


    https://www.facebook.com/balbir.singh.355


    0 0

                                   गणित का बारा मा आपक क्या विचार छन ? 

                                                 कॉमेडी मोनोलॉग :::  भीष्म कुकरेती 
     
    गणित से सबसे पैल मुखाभेंट तब ह्वे छौ जब मास्टर जीन एक सिखाइ पर मि क्या सबि भरमैन कि एक एक  ही हूंद अर इसका नही होता है।  मतबल जब मास्टर जीन ब्वाल की १ याने एकाकुण  एक बुले जांद तो हम छात्रुन इकै करिक पुछण शुरू कर दे कि यदि एक तैं १ लिखे जांद याने एक कु चिन्ह १ च त वैक , सेक , तैक , कैक , जैक आदि का चिन्ह क्या छन ? मास्टर जीन समझाणो जगा हमर बरमंड फ़ोड़ि देन।  पांच दिन तक बरमंड फुड़न अर फुड़वाणो प्रैक्टिस चलणि राइ पर फिर बि हमर समझ मा नि आइ कि यदि एक कु चिन्ह ह्वे १ सकुद तो वैक , सेक , तैक , कैक , जैक आदि का चिन्ह किलै नि ह्वे सकदन।  उ त भलो ह्वे वैदिन मूसा काका स्कूल जिना बखर चराणो अयुं छौ अर मूसा काका तैं मास्टर जीक डंडा पर दया ऐ गे।  मूसा काकान समझाइ ।  एक बखर तैं लेक पूछ - कथगा बखर छन ? हमन ब्वाल एक और कथगा ? फिर मूसा काका हैंक बखर लाइ अर पूछ - अब कथगा बखर छन ?
    हमन बगैर सुच्यां जबाब दे दे - द्वी अर कथगा ?
    फिर मूसा काका एक बखर हौर लाइ अर पुछण मिसे - अब ?
    सब्युंन जोर से जबाब दे - तीन 
    मूसा काका मा नौ बखर छया तो हमन नौ तक बिना गाळी , डंडा खयाँ नौ तक गिनती सीखि  दे। 
    खैर मास्टर जीक डंडा अर मूसा काका जन भल मनिखों  की वजै से हमन गिनती इ नि सीख अपितु जोड़ घटाण बि सीख। 
    फिर पता नी डंडाक जोर से या कनकै धौं हमन जोड़ घटाण सीख पर फिर मास्टर जी बि हम बि गुणा -भाग पर अटिक गेवां।  मास्टर जीक डंडा बुल्दु छौ कि एक बटे दो (१/२ ) माने अधा पर हमर मुंड बुल्दु छौ कि एक का तौळ द्वी कनकै।  हमर मुंड का हिसाब से द्वी बडु च तो द्वी तो हमेशा एकाक अळग ही ह्वे सकद तौळ ना ।   डंडा अर हमर मुण्डक मध्य तीन दिन तलक प्रतियोगिता चलणि राइ।  पर चौथ दिन किसबा ल्वार कृष्णावतार लेक  ऐ गे ।  किसबा लाब लेक आणु छौ अर वैन स्कूलम लाब बिसैन । मास्टर जीक डंडा अर हमर मुण्डुं मध्य प्रतियोगिता वै से नि दिखे गे।  वैन एक लाब फ़ाड़ अर एक हिस्सा दिखैक ब्वाल यु कथगा च ? हमन सरासरी बेहिचक बोली दे - अधा।  फिर वैन लाबक चार हिस्सा कार अर एक हिस्सा दिखैक पूछ -कथगा ? हमन जबाब दे - चौथाई अर कथगा। 
    बस इन मा हमन दर्जा पांच पास कार।  पर गणित का डौरन कथगा इ दिल्ली जिना भाजि गेन अर होटलुंम नौकरी करण लग गेन।  हमर बैच मादे जु  भाज छन एकाक न्यूजीलैंड मा होटल च अर हैंकाक अमेरिका मा मोटल च।  काश मि बि गणितक सवालुं से डरिक दिल्ली भाजी जांदु त म्यार बि चिनाई मा त नॉर्थ इंडियन होटल हूंद। 
    खैर फिर बारी आई बीजगणित की। 
    उन बीजगणित थोड़ा सरल लग।  पर घंघतोळ भरम इख बि हूंद छौ। 
    मास्टर जीन एक दिन A इज इक्वल टु B अर यदि B इज इक्वल टु C हो तो A इज इक्वल टु C ह्वै जांद सिखाणो बान उदाहरण दे।  यदि मोहन सोहन का बराबर हो और सोहन बच्चू का बरोबर हो तो मोहन बच्चू का बरोबर ह्वै जालु।  हमर बरमंडन डंडा खाणै राड़ घाळि दे किन्तु गणित मास्टर जी अहिंसक छया त श्याम तलक बि हमर समझ मा नि ऐ कि  मोहन अर बच्चू बरोबर कनै ह्वे सकदन ?
    बच्चू ह्वे टमटा अर मोहन ह्वै त्रिकालदर्शी पंडित लोकमणि बहुगुणा कु सुपुत्र।  चलो सोहन  पुड़क्या बामणो नौनु च त कुछ हद तक सोहन मोहन की बराबरी कर सकुद पर कै बि रूप से मोहन बहुगुणा अर बच्चू टमटा बराबर ह्वेई नि सक्दन ! 
    हम तैं बीजगणित कु यु सिद्धांत त समझ आयि कि ना पर त्रिकालदर्शी लोकमणि गुरु जी तैं त बहुत बुरु लग गे।  दुसर दिन से लोकमणि गुरु जीन मोहन तैं स्कूल भिजण बंद कर दे अर मोहन तैं ऋषिकेश संस्कृत स्कूलम  भर्ती करै दे।  आज मोहन बड़ो भारी व्यास च। 
    बीजगणितन एक छात्र की बलि ले याने मोहन की। 
    इनि दसम आंद गणितन पता नि कतगौं बळी ले ह्वेलि धौं। 
    दस बाद भौत सा दगड़या  गणित का डौरन क्लर्क बणी गेन।  अब पैल नौकरी मा फोकट मा तनखा चटकाणा रैन , घूस सपोड़णा रैन अर अब ना सि पेन्सन खाणा छन। 
    अग्यारवी मा ट्रिगोनोमेट्री , डिफेरेसियल , कैलकुलस का सवालुं देखि मेरि बि टक टूटी गे अर मीन गणित छोड़िक बायोलॉजी ले ले।  
    पर आज बि मि गणित से प्रेम करदु। 
    गणित हम तैं सिखांद कि यदि कखि समस्या च तो हल बि अवश्य च।  शायद राहुल गांधी तैं गणित कु असली भेद समजणै जरूरत च ? तुम क्या बुलणा छवाँ ? 



    5/1/15 , Copyright@  Bhishma Kukreti , Mumbai India 

       *लेख की   घटनाएँ ,  स्थान व नाम काल्पनिक हैं । लेख में  कथाएँ चरित्र , स्थान केवल व्यंग्य रचने  हेतु उपयोग किये गए हैं।

    0 0
  • 02/05/15--20:13: Fekuji,the greatest CARTOON!
  • Press Statement



    The Polit Bureau of the Communist Party of India (Marxist) has issued the following statement:



    Press Statement



    The Polit Bureau of the Communist Party of India (Marxist) has issued the following statement:



    Police Action on Christian Protest Condemned



    The CPI(M) strongly deplores the police actions against the demonstration organized outside the Sacred Heart Church to protest attacks on Christian churches in Delhi. The peaceful protest which included the participation of nuns and priests was forcibly dispersed by the police with lathis and all were arrested.

    The CPI(M) condemns the attitude of the Delhi police which is refusing to acknowledge that the vandalism on five churches in Delhi in the recent period is communally motivated and are hate crimes against a minority community. This reflects the stand of the BJP Government at the Centre, under whom the law and order machinery functions in Delhi.


    The CPI(M) endorses the stand that a Special Investigation Team be set up to investigate these attacks so that the culprits can be brought to justice.




    The CPI(M) strongly deplores the police actions against the demonstration organized outside the Sacred Heart Church to protest attacks on Christian churches in Delhi. The peaceful protest which included the participation of nuns and priests was forcibly dispersed by the police with lathis and all were arrested.

    The CPI(M) condemns the attitude of the Delhi police which is refusing to acknowledge that the vandalism on five churches in Delhi in the recent period is communally motivated and are hate crimes against a minority community. This reflects the stand of the BJP Government at the Centre, under whom the law and order machinery functions in Delhi.


    The CPI(M) endorses the stand that a Special Investigation Team be set up to investigate these attacks so that the culprits can be brought to justice.


    0 0

      कुत्ता इकीसवीं सदी मा किलै नि जाण चाणा छन ?

                                                 चबोड़ -- भीष्म कुकरेती 

    जब से राजीव गांधीन 1987 -88 मा भाषण दे छौ कि भारत तैं इक्कीसवीं सदी मा जाण चयेंद तब बिटेन हर साल कुत्तों  माँ विचार विमर्श , वाद विवाद , राज्य स्तर अर राष्ट्रीय सतर पर  सम्मेलन हूंद कि कुत्तों तैं इक्कीसवीं सदी मा जाण चयेंद कि ना। ये साल बि ब्लॉक स्तर , जिला स्तर , राज्य स्तर अर राष्ट्रीय स्तर पर कुत्तों सम्मेलन ह्वे कि कुत्तों तैं इकीसवीं सदी मा जाण चयेंद। 
    कुछ कुत्तों विचार च कि चूँकि मनिख इक्कीसवीं सदी मा पॉंच गे तो कुत्तों तैं बि इकीसवीं सदी मा जाण चयेंद। यूँक असोसिएसन याने इंडियन डॉग असोसिएसन कु डॉग विजन डॉक्युमेंट फॉर 2015 का हिसाब से कुत्तों तैं बि इक्कीसवीं सदी मा जाणि चयेंद , इंडियन डॉग असोसिएसन कु बुलण च कि यदि कुत्ता  इकीसवीं सदी मा  जाल तो कुत्ता पचास मंजिली टॉवर्स माँ राला , बोतलुं  साफ़ पानी प्याला , अमेरिकन फ़ूड खाला अर एयरकंडीसण्ड मर्सडीज मा घुमला । पर यूँ कुत्तों तादाद अदा प्रतिशत से बि कम च।  इ कुत्ता अधिकतर अम्बानी , जिंदल , मित्तल  आदि खरबपतियों कुत्ता छन तो अन्य कुत्ता असोसिएसन यूंक बात  नि मनणा छन। 
     कुछ हौर कुत्तों साफ़ साफ़ बुलण च कि कुत्तों तैं इकीसवीं सदी मा जाण चयेंद।  यूँ कुकरूं मनण च कि इक्कीसवीं सदी मा जाण से हम फेसबुक , ट्वीटर , वर्ड्स ऐप आदि का  फायदा उठै सकदां।  पर यूँ कुत्तों तादाद बि कमी च।  यी नरेंद्र मोदी , अरविन्द  केजरीवाल ,  शशि थरूरर आदि का कुत्ता छन। 
     कुछ कुकुर आधुनिकता का डौर से इक्कीसवीं सदी मा नि जाण चांदन जन कि मुलायम सिंग , लालू यादव , ममता , मायावती का देसी कुत्ता। 
    पर अधिसंख्य कुत्तों राय च कि मुनष्यों नकल करिक कुत्तोंन कुत्ता नि रै जाण। 
    सबसे अधिक डौर कुत्तों तैं या च कुत्तोंन मनुष्यों नकल करिक स्वामिभक्ति छोड़ दीण। 
    फिर कुत्तों तै भय बि  च कि मनुष्यों पद चिन्हों पर चालिक कुत्तोंन साम्प्रदायिक दंगा करण। 
    कुत्तों तैं अंदेसा च कि मनुष्यों तरां कुत्तोंन बि झूठ फरेब, जाळी -साजि सीख जाण अर अपण मीटिंगों बात तो छवाड़ा कुत्तोंन अपण ब्वै बाबुं मा बि झूठ बुलण सीख जाण। 
    कुत्तों तैं पूरी आशंका च कि मनुष्यों अनुसार व्यवहार करण से कि कुत्तोंन सुबेर जंतर मंतर दिल्ली मा धरना दीण कि बकरा पालक के लाभ के लिए बकरे के दाम बढ़ाओ , अर फिर स्याम दैं यूनि धरना दीण कि बखरौ मटन का दाम घटाओ।  
    कुत्तों तै भगवानन एक गुण दियुं च कि कुत्ता इतिहास तैं नि दुहरांद किलैकि कुत्ता इतिहास से सीख ले लींदु।  पर कुत्तों तैं डौर लगणी च कि इक्कीसवीं सदी मा जाण से कुत्तोंन इतिहास से सिखण बंद कर दीण। 
    कुत्तों तैं हौर बि डौर च कि जनि कुत्तोंन इकीसवीं सदी मा प्रवेश कार ना कि कुत्तोंन अहंकार , ईर्ष्या अर लोभ का गुलाम ह्वे जाण। 
    अब कुत्तोंक असोसिएसनन अमेरिकी सलाहकार कुत्ता बुलायां छन जु भारतीय कुत्तों तैं सलाह द्याल कि भारतीय कुत्तों तैं इक्कीसवीं सदी जाण चयेंद कि ना ? 
    उन आपक क्या सलाह च बल भारतीय कुत्तों तैं इक्कीसवीं सदी जाण चयेंद कि ना ?





     
    6/2/15 , Copyright@  Bhishma Kukreti , Mumbai India 

       *लेख की   घटनाएँ ,  स्थान व नाम काल्पनिक हैं । लेख में  कथाएँ चरित्र , स्थान केवल व्यंग्य रचने  हेतु उपयोग किये गए हैं।Copyright@  Bhishma Kukreti , Mumbai India 

    0 0

    What is your stance on Gujarat Genocide, Mr.President?

    Mr,Barack Hussein Obama?

    Gandhi is the Gimmick Obama uses to justify the ethics of the crusade he leads.

    It is something like policy paralysis saga which is the knock on the doors and windows of this bloddy Indian Emerging Market for which Modi incarnated by AMERICA!Shit!

    Palash Biswas

    What is your stance on Gujarat Genocide,Mr.President?Mr,Barack Hussein Obama?


    Gandhi is the Gimmick Obama uses to justify the ethics of the crusade he leads.


    It is something like policy paralysis saga which is the knock on the doors and windows of this bloddy Indian Emerging Market for which Modi incarnated by AMERICA!Shit!


    We should go back the history of Indo US relationship since the children of neoliberal millionaire billionaire Hindu Imperialist hegemony selling off the nation enveloped with unprecedented violence and ethnic cleansing on name of growth,development,poverty eradication,FDI,complete privatization,free flow of foreign capital and so one,since the governance is all about the remote control set in the White House.


    My dear friends,it has nothing to do with either Gandhi or Secularism.


    The way AMERICA on which Dr.Manmohan Singh had been managed,Obama trades the same highway once again.


    Mind you,United States of America  denied VISA to Narendra Bhai Modi until the first Swayam Sevak was chosen and elevated as the Prime Minister of India by RSS and multinational capital in US interest .America had been most vocal against Gujarat Genocide until it declared that it was not ethnic cleansing!

    Mr.President,I wrote an open letter to cancel India visit and during your visit Indian streets cried aloud Obama ,Go Back.


    You did not care and wooed Hindutva and the business friendly minimum governance to open the floodgates for the US companies in India.You selected us for Bhopal gas Tragedy phenomenon once again  and made sure that no US company would be responsible for any atomic or industrial accidents.


    You opened the doors of your closed units to produce nuclear reactors.

    We know the line of US Presidents,pardon,who had always been grand orators,grand showmen,grand bargainers.


    You had been bargaining with our Prime Minister as You had been bargaining with ex Prime Minister DR,Manmohan Singh leveling and branding him policy paralysis.


    You used Gandhi as the master key for the bargain.


    Policy paralysis replaced freedom of religion for which America had been never convinced as your nation had always been the best ally of Israel which leads the crusade against Islam what you defined as US war against terror.


    I am sorry to note despite being black ,you may not be quoted on the line as we have been quoting Martin Luther King or Dr.BR Ambedkar or Gandhi.

    You have not uttered a word against racial discrimination in India,Mr President.

    You have never quoted DR,BR Ambedkar but you quoted Indian constitution.


    None of the US presidents in history ever objected caste hegemony in India which denies freedom of religion,civic and human rights as it suits best US interests.


    In this subcontinent, caste is the best tool of ethnic cleansing.Those converted in other castes carried the caste with them irrespective of religion and faith.No high caste demography had ever been subjected to persecution on the name of religion.


    Religious killing is all about selective killing on racial caste line as brutal apartheid is practiced.


    And it is ethnic cleansing.

    Your stakes in Indian agrarian economy,in Indian business and even in Indian industry mean ethnic cleansing which you call economic reforms and you push it very very hard.


    Delhi is claimed being the Waterloo for Narendra Modi and Amit Shah if not for RSS and Hindutva.


    Sorry,Mr. President while criticizing religious violence,you are just referring to your stakes on Modi and Shah and adjusting your strategy to defend US interests which might be endangered if Modi and Amit Shah stumble in Delhi Waterloo.


    As US media cries that the Nuclear deal is far from being activated as your diplomacy claims and your stakes are on Indian legislation which might be disturbed if Delhi Mandate polarize Indian People and Politics against Hindu Imperailism.


    It is the only focal point of your so much so hyped love for the freedom of religion as you,the America happens to be the best ally og Global hindutva which is the root of religious nationalism which provokes religious violence,



    0 0

    हिंदू, कोसला या कादंबरींमधून मराठी साहित्यप्रेमींच्या मनात स्थान पटकावणारे ज्येष्ठ साहित्यिक भालचंद्र नेमाडे यांना भारतातील साहित्य क्षेत्रातील सर्वोच्च समजला जाणारा ज्ञानपीठ पुरस्कार जाहीर करण्यात .. दिलीप चित्रे अशा वेगवेगळ्या प्रकारच्या लेखकांची पुस्तके प्रकाशित करण्यात भटकळांच्या ठायी असलेली गांधीजींची सम्यक दृष्टी दिसते, असे नेमाडे म्हणाले..


    मराठी साहित्यकार भालचंद्र नेमाडे ने महाराष्ट्र में बच्चों की शिक्षा केवल मराठी में कराने का सुझाव रखा था। शुक्रवार को पुणे के एक कार्यक्रम में भालचंद्र नेमाडे ने सभी अंग्रेजी स्कूल पूरी तरह बंद करने की भी मांग की थी।

    जाने-माने मराठी लेखक भालचंद्र नेमाडे को ज्ञानपीठ पुरस्‍कार दिए जाने की घोषणा की गई है। नेमाडे एक उपन्यासकार, कवि और समीक्षक के रूप में देश भर में विख्यात हैं। उन्होंने 1963 में 25 वर्ष की उम्र में ही अपना पहला उपन्यास कोसला लिखा था। कोसला के बाद नेमाडे के चार उपन्यास प्रकाशित हुए। चारों उपन्यास-बिढ़ाल, हूर, जरीला और झूल- ने भी साहित्य जगत में लोकप्रियता पाई। नेमाडे ने मेलडी और देखणी कविता के जरिए भी खूब सुर्खियां बटोरी थीं। उन्होंने टीकास्वयंवर, साहित्याची भाषा और तुकाराम के जरिए आलोचना के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया। 

    माणसाच्या जगण्याच्या प्रक्रियेतील स्तर-अस्तर अत्यंत बारकाईने निरखून त्यांना शब्दरूप देणारे आणि साहित्यविश्वात स्वत:चा संप्रदाय निर्माण करणारे ज्येष्ठ साहित्यिक प्रा. भालचंद्र नेमाडे यांना भारतीय साहित्य क्षेत्रातील सर्वोच्च 'ज्ञानपीठ'पुरस्कार जाहीर झाला आहे.ष्ठ साहित्यिक आणि 'कोसला'कार भालचंद्र नेमाडे 'हिंदू' कांदबरीनंतर केवळ कविता लेखन करणार असल्याची सर्वात मोठी घोषणा स्वतः नेमाडे यांनी झी २४ तासशी बोलताना सांगितले. 

    प्रा. भालचंद्र नेमाडे हे एक अफलातून तर्‍हेवाईक व्यक्ती म्हणून प्रसिद्ध आहेत. त्यांच्याकडे ... नेमाडे 'हिंदू...' कादंबरीमुळे पुन्हा एकदा जोरदार प्रकाशात आले आहेत. त्यांच्या ठिकठिकाणी चर्चा, मुलाखती होत आहेत. 

    डॉ. आशुतोष दिवाण महारकाष्ट्र टाइम्ससाठी लिहिलाः

    हिंदू कादंबरी प्रसिद्ध झाल्यापासून भालचंद्र नेमाडेंवर केला जाणारा महत्त्वाचा आरोप म्हणजे या कादंबरीत त्यांनी सरळसरळ प्रतिगामी भूमिका घेतली आहे. जातिव्यवस्थेचे उदात्तीकरण करून कालचक्र उलटे फिरविण्याचा त्यांनी खरोखरच प्रयत्न केला आहे का 

    नेहमीच वादाच्या भोवऱ्यात असणाऱ्या भालचंद्र नेमाडे यांच्यावर हिंदू कादंबरी प्रसिद्ध झाल्यापासून घेतला जाणारा एक नवीन आणि महत्त्वाचा आरोप म्हणजे या कादंबरीत त्यांनी सरळसरळ प्रतिगामी भूमिका घेतली आहे. आधुनिकतेला विरोध ठीक आहे ,पण त्यासाठी त्यांनी जातिव्यवस्थेचे उदात्तीकरण करून कालचक्र उलटे फिरवण्याचा प्रयत्न केला आहे. येणाऱ्या जागतिकीकरणाच्या भीषण अरिष्टाला तोंड देण्यासाठी जातीवर्णव्यवस्था ही एक जास्त उपयुक्त समाजरचना आहे की काय असे नेमाडे सुचवत आहेत आणि त्याला सर्वांचाच कडवट विरोध आहे. मराठीतील सर्वांत संवेदनशील डोळस आणि विचारी माणसाच्या मनाचा प्रयोगशाळेतून आलेला हा निष्कर्ष आपल्याला स्वीकारायला जड जात आहे आणि म्हणून आपण नेमाडेंनी हा मुद्दाम अभिनिवेशाने (अप्रामाणिकपणे) घेतलेला स्टँड आहे असा आरोप करत आहोत पण तसे करण्याची नेमाडेंना गरज काय हे कळत नाही.

     मराठी के मशहूर साहित्यकार 
    भालचंद्र नेमाड़े को 50वां ज्ञानपीठ पुरस्कार दिए जाने की घोषणा की गई। नेमाड़े देश का सर्वोच्च साहित्य सम्मान पाने वाले 55वें साहित्यकार हैं। 

     भालचंद्र नेमाड़े को 50वां ज्ञानपीठ पुरस्कार दिये जाने की शुक्रवार को घोषणा की गयी। नेमाड़े देश का सर्वोच्च साहित्य सम्मान पाने वाले 55वें साहित्यकार हैं। इससे पहले पांच दफा यह पुरस्कार संयुक्त रूप से प्रदान किया गया था।

    ज्ञानपीठ द्वारा यहां जारी विज्ञप्ति में कहा गया कि ज्ञानपीठ पुरस्कारों के स्वर्ण जयंती वर्ष में मराठी भाषा के लब्ध प्रतिष्ठित साहित्य साधक भालचंद्र नेमाड़े को वर्ष 2014 का 50वां ज्ञानपीठ पुरस्कार दिया जाएगा।

    ज्ञानपीठ पुरस्कार चयन समिति के चैयरमैन और नामवर आलोचक नामवर सिंह की अध्यक्षता में हुई समिति की बैठक में उन्हें इस पुरस्कार के लिए चुना गया।

    पदमश्री से सम्मानित नेमाड़े को उपन्यासकार, कवि, आलोचक और शिक्षाविद के तौर पर जाना जाता है। वह 60के दशक के लघु पत्रिका आंदोलन के प्रमुख हस्ताक्षर थे। ज्ञानपीठ के निदेशक लीलाधर मंडलोई ने बताया कि नेमाड़े भारतीय भाषाओं के ऐसे साहित्यकारों में शामिल हैं, जिन्होंने तीन पीढ़ियों को प्रभावित किया है। मराठी साहित्य में उनकी प्रमुख कृतियों में 1968 में प्रकाशित उपन्यास 'कोसला'और 2010 में प्रकाशित वृहद उपन्यास 'हिन्दू: जगण्याची समृद्ध अडगल'शामिल हैं।

    उन्होंने बताया कि नेमाड़े को आलोचनात्मक कृति 'टीका स्वयंवर'के लिए वर्ष 1990 में साहित्य साहित्य अकादमी पुरस्कार से नवाजा गया था। मंडलोई ने बताया कि ज्ञानपीठ पुरस्कार के रूप में 11 लाख रुपए, प्रशस्ति पत्र, वाग्देवी की प्रतिमा प्रदान की जायेगी।

    पहले ज्ञानपीठ पुरस्कार से 1965 में मलयालम के लेखक जी शंकर कुरूप को सम्मानित किया गया था। ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित होने वाले नेमाड़े मराठी के चौथे साहित्यकार हैं। इससे पहले वीएस खांडेकर, वीवीएस कुसुमाग्रज और विंदा करंदीकर इस सम्मान से सम्मानित हो चुके हैं।


    0 0

    हीरामन,कंपनी वाली बाई से फिर मुहब्बत और वफा की उम्मीद ना रख!

    मेरे हाई स्कूल में खिले कनेर फूल की कसम बिन मुहब्बत जिंदगी जीने में हमसे बढ़कर कोई नहीं कि बिन मुहब्बत सहवास के अभ्यस्त हैं हम!


    पलाश विश्वास

    रेलवे लाइन की बगल से बैलगाड़ी की कच्ची सड़क गई है दूर तक। हिरामन कभी रेल पर नहीं चढ़ा है। उसके मन में फिर पुरानी लालसा झाँकी, रेलगाड़ी पर सवार हो कर, गीत गाते हुए जगरनाथ-धाम जाने की लालसा। उलट कर अपने खाली टप्पर की ओर देखने की हिम्मत नहीं होती है। पीठ में आज भी गुदगुदी लगती है। आज भी रह-रह कर चंपा का फूल खिल उठता है, उसकी गाड़ी में। एक गीत की टूटी कड़ी पर नगाड़े का ताल कट जाता है, बार-बार!

    उसने उलट कर देखा, बोरे भी नहीं, बाँस भी नहीं, बाघ भी नहीं - परी ...देवी ...मीता ...हीरादेवी ...महुआ घटवारिन - को-ई नहीं। मरे हुए मुहर्तों की गूँगी आवाजें मुखर होना चाहती है। हिरामन के होंठ हिल रहे हैं। शायद वह तीसरी कसम खा रहा है - कंपनी की औरत की लदनी...।

    हिरामन ने हठात अपने दोनों बैलों को झिड़की दी, दुआली से मारते हुए बोला, 'रेलवे लाइन की ओर उलट-उलट कर क्या देखते हो?' दोनों बैलों ने कदम खोल कर चाल पकड़ी। हिरामन गुनगुनाने लगा - 'अजी हाँ, मारे गए गुलफाम...!'

    तीसरी कसम के बाद अब चथी कसम।अपने हाईस्कूल में खिले कनेर फूल की कसम कि हीरामन,कंपनी वाली बाई से फिर मुहब्बत और वफा की उम्मीद ना रख!

    मेरे हाई स्कूल में खिले कनेर फूल की कसम बिन मुहब्बत जिंदगी जीने में हमसे बढ़कर कोई नहीं कि बिन मुहब्बत सहवास के अभ्यस्त हैं हम!

    15 लाख का सूट भी काम न आया.

    Modi's Dangerous Silence

    With religious minorities under attack, India's prime minister must stand up for tolerance.

    NYTIMES.COM|BY THE EDITORIAL BOARD

    शनिवार को दिल्ली चुनाव में वोट जरूर करें. वोट देने के बाद Inked Finger के साथ अपनी सेल्फी ‪#‎Delhivotes‬हैशटैग के साथ @aajtak को ट्वीट करें. हम आपकी तस्वीर को रिट्वीट करेंगे, फेसबुक पर शेयर करेंगे और अपनी वेबसाइट पर भी जगह देंगे. सबसे तेज कवरेज के लिए बने रहिए aajtak.inके साथ

    शनिवार को दिल्ली चुनाव में वोट जरूर करें. वोट देने के बाद Inked Finger के साथ अपनी सेल्फी #Delhivotes हैशटैग के साथ @aajtak को ट्वीट करें. हम आपकी तस्वीर को रिट्वीट करेंगे, फेसबुक पर शेयर करेंगे और अपनी वेबसाइट पर भी जगह देंगे. सबसे तेज कवरेज के लिए बने रहिए aajtak.in के साथ



    इस हीरामन को मिलने के लिए भूगोल इतिहास में झांकने की जरुरत नहीं है।

    लेंस और माइक्रोस्कोप या फिर सर्न जैसे दुनिया उलट पुलटकर हीराबाई को खोजने की जरुरत नहीं है,नहीं है,नहीं है।


    आइने में खड़े होकर अपना चेहरा देख लें।देखने की आंख हो तो देख लें।सूंघने खातिर कोई नाक बची हैतो चूंकि इज्जत की नाक तो हम गवा ही चुके हैं,सूंघ ले अपने भीतर महमहाती गोबर माटी की गंध,तो समझ में आयेगा कि हीरामन कोई अकेला राजकपूर का चेहरा नहीं है।


    हीराबाई को नौंटंकीवाली कंपनी बंद हो गयी होगी लेकिन नौटंकी चालू आहे।शांतता।नौटंकी चालू आहे।मनवा,उस हीराबाई को पहचान लें तो अपनी झूठी मुहब्बत की खुशफहमी दूर हो जाये।



    हीरामन,कंपनी वाली बाई से फिर मुहब्बत और वफा की उम्मीद ना रख!


    मेरे हाई स्कूल में खिले कनेर फूल की कसम बिन मुहब्बत जिंदगी जीने में हमसे बढ़कर कोई नहीं कि बिन मुहब्बत सहवास के अभ्यस्त हैं हम!


    आदरणीय फनीश्वर नाथ रेणु जिन्हें विद्वतजन आंचलिकता में डूब बनाकर मठोंके बाबा सौदा बने हुए हैं,उनकी तीसरी कसम का पाठ करें तो लाली लाली रंग में आज का सामाजिक यथार्थ के पीछे जो रघुकुल रीति चली आयी,उसका मायने समझ में आये।


    दिल्ली की जनता वोट गेर चुकी होगी,जब यह लिखा आप पढ़ रहे होंगे।

    हमारा मतबल बस इतना है कि हम जिंदगी से जब वफा और उम्मीद नहीं करते तो क्या खाक जनादेश का मतलब समझेंगे हम और लोकतंत्र की ताकत समझ में आयेगी कि हम देश बेचने वालों के पक्ष में गोलबंद नहो सकें।

    जब हमें जिंदगी से कोई मुहब्बत नहीं है।उसका नाम तक नहीं लेते,जिससे बेपनाह मुहब्बत सांस सांस में बहाल रखते हुए जिंदगी भर सहवास किसी और के साथ करते हैं,राहु केतु शनि के डर से तंत्र यंत्र मंत्र  के भरोसे हैं और अंतरिक्ष की उड़ान भी भरते हैं ब्रह्मांड के रहस्य खोलने वास्ते रंग बिरंगे तिलिस्म और प्रपंच रचते हैंतो हमसे लोकतंत्र,संविधान और देश प्रेम की उम्मीद ना रख।


    वोट की ताकत हम ना जाने हैं।

    जान रहे होते तो कपंनी वाली बाई पान खाइके जलवा बिखेरकर हमारा सबकुछ लूटकर नौ दो ग्यारह बिलियनर मिलियनर हेजेमनी ना हुई रहती।


    फतवा और फतवाबाज हमारा वोटलूट न रहे होते कि किसी जानेमन के फतवे से हमारा जनादेश बदल नहीं जाता।

    अगर हम सचमुच मुहब्बतऔर वफा की परवाह कर रहे होते।


    हम ससुरे अछूत गुलाम अश्वेत जूठन के आदी लोग हैं।


    लोकतंत्र संप्रभु नागरिकों का होता है।


    गुलामों,दासों , दासियों,बंधुआ मजदूरों के लिए कोई लोकतंत्र नहीं होता।


    हमसे समर्थन मांगने की भी नौबत नहीं आती।

    कोई हमारा समर्थन ले लें और दो चार टुकड़े अपनी दावत की जूठने के हमपर फेंक दें तो ट्रिकलिंग ट्रिकलिंग विकास हो जाई।


    मुहब्बत जमीन आसमान अंतरिक्ष में गुमशुदा है लेकिन नौटंकी मशहूर है किस्सा लैला मजनूं,किस्सा हीर रांझा,किस्सा सोहनी माहीवाल,किस्सा शीरीं फरहाद वगैरह वगैरह।


    नौटंकी के देखकर मजे से घर लोटकर उस बिस्तर की ओट में महब्बत की कब्र खोदते हैं हम रोज,जहां हम शेयर करते हैं जिंदगी उसके साथ ,जिससे हमें मुहब्बत है नहीं,नहीं है ,नहीं है।


    बेमुहब्बत दस बच्चे और चालीस पिल्ले कमाने के अभ्यस्त हैं हम।

    बेमुहब्बत देहमुक्ति खातिर हम रंग बरंगे खिलौने और गुब्बारों की महक और दहक के गुलाम हैं हम।


    हमारी जिंदगी में साझे चूल्हें अब कहीं नहीं है क्योंकि हमारा नसीब अब परमाणु चूल्हा है।हमारे लिए कुछ भी साझा नहीं है।हम न्यक्लियर वानी।


    ई रही हमारी मुहब्बत जानी ईश.. ई ह ममार डिजिटल बायोमैट्रिक लोकतंत्र।स्त्री देह की नुमाइश,नीलामी।भोग और उपभोग साथो मा आत्मा परमात्मा प्रवचन धर्म पाखंड फिर एको पाखंड आउर उ कंपनी वाली बाई का जलवा जो इस मृत्यु उपत्यका में लोकतंत्र है।


    अपनी सुविधे की मौत चुनने की आजादी है।बाकी औरतखोर मर्द की औजार ताने हम वोट गिराके दारु सारु पीके हीरक राजा के गुलाम बनने को बेताब हैं।


    Best Celebrity Butts of All Time

    Best Celebrity Butts of All Time

    PINTEREST




    पंडित जगदीश्वर चतुर्वेदी जी कहल रहल,दिल्ली विधानसभा चुनाव में मजेदार प्रचार की खूबी है कि जिन दो दलों आम आदमी पार्टी और भाजपा ने दिल्ली में विगत १५ सालों में एक पेड भी नहीं लगया वे विकास के दावे कर रहे हैं और जिस कांग्रेस ने दिल्ली का नक़्शा बदलकर रख दिया, हर स्तर पर विकास के फल आम आदमी तक पहुँचाए और बेदाग़ राज्य सरकार दी उसे बहस तलब भी नहीं मान रहा मीडिया ! यह तो बड़ी नाइंसाफ़ी है! वोट देने के पहले सोचो केजरीवाल की सरकार बनाओ , कांग्रेस को विपक्ष में लाओ ।


    तो शाही इमाम के बाद यह आपका फतवा है।नवउदारवाद की संतानों में चुनाव की सलाह है जैसे रवीश कुमार खूब ताने रहिस के बकौल रवीश जी संघठन और जनादेश के बीच है मुक़ाबला। दिल्ली अभी इतनी भी पास नहीं।


    संगठन है,संस्थान हैं ,नरसंहार संस्कृति और मनुस्मृति की बहाली खातिर हर सामान मौजूद है बाकीर जनादेश का हौआ है जो मीडिया और पइसा बनावल रहि बाकीर लोकतंत्र नहीं है।मिलियनर बिलियनर सत्ता तबका एक फीसद है और बाकी निनानब्वे फीसद हीरामन है।जनादेश दिवास्वप्न है।


    हम अपना काला रंग गोरा बनाने के लिए जिंदगी भर फेसियल और फेसलिफ्ट करते रहेगे और अमेरिका में बैठा कोई ओबामा असली भगवान की तरह हमारी किस्मत लिख देगा,जिसकी कुंडली किसी वैदिकी गणित के बूते बनाने की नहीं होगी।


    परकटी परियां हमारी बेटियां हैं,बहनें हैं और उनकी तितली सरीखी उड़ाने के खातिरे हम जीते मरते हैं लेकिन दरहकीकत उन्हें मुहब्बत की कोई आजादी नहीं है।


    पढ़ लिखकर कुछ बन गइलन जरुर।चूल्हा चोका से आजादी भी मिलल हो।आर्थिक आजादी है। सशक्तिकरण है लेकिन अपनी जिंदगी के फैसले के खातिर फतवा के खिलाफ एको कदम चलने की आजादी ना है।


    हम फतवेबाज इतने बेरहम है कि अपनी अपनी शूद्रानी,दासियों को किसी भी कसाई,माफ रें जाति की नहीं,गरदन उतारने के दक्ष लोगों की बात कह रहे हैं हम,किसी भी कसाई के आगे उन परकटी परियों को सौंप देने में कोई  परवाह नहीं करते।

    मोबाइल ऐप्पस में मुहब्बत के गाने भर भर कर कानों में चाबी लगाकर दीन दुनिया से बेखबर मस्त हैं हम लेकिन किसी ने जिंदगी में मुहब्बत जुबान पर लाने की हिमाकत की नहीं तो म मुगलेआजम हैं।


    भ्रूण हत्या ,आनर किलिंग और बलात्कार का लोकतंत्र जीकर हम मुहब्बत के गाने गुनगुनाते रहते हैं।यही हमारे लोकतंत्र का सच है।


    ਗਦਰੀ ਬਾਬੇ ਸੁੱਖ ਦੀ ਜੂਨ ਹਢਾਂ ਸਕਦੇ ਸੀ

    ਵਿੱਚ ਅਮਰੀਕਾ ਡਾਲਰ ਬੜੇ ਕਮਾ ਸਕਦੇ ਸੀ

    ਸੱਚੇ ਆਸ਼ਕ ਗਿਣਤੀ ਮਿਣਤੀ ਵਿੱਚ ਕਦ ਪੈਦੇ

    ਮਰ ਜਾਦੇਂ ਜੋ ਦੇਸ਼ ਲਈ ਉਹ ਜਿਊਦੇ ਰਹਿਦੇ



    देश की जनता ने जिन्हें सांसद बना कर देश की सेवा करनें के लिए संसद में भेजा था।वो संसद दिल्ली खा खाकर दिल्ली की सडकों पर प्रदूषण फैला रहे है,दिल्ली के चुनाव में बीजेपी ने पुरे १२० सांसद सिर्फ पार्टी का प्रचार करनें के लिए जुटा रखा था।यही लोकतंत्र का सच है।

    देश की जनता ने जिन्हें सांसद बना कर देश की सेवा करनें के लिए संसद में भेजा था।वो संसद दिल्ली खा खाकर दिल्ली की सडकों पर प्रदूषण फैला रहे है,दिल्ली के चुनाव में बीजेपी ने पुरे १२० सांसद सिर्फ पार्टी का प्रचार करनें के लिए जुटा रखा था

    लोकतंत्र का एक सच यह भी है कि  के तहत दिए जाने वाले काम को 100 दिन की बजाय और ज्यादा बढ़ाया जाता किन्तु यहाँ पर काम देना ही बन्द किया जा रहा है। ऐसे में मज़दूरों के पास अपने संघर्ष को लेकर सड़कों पर उतरने के सिवाय कोई चारा नहीं है। एडीसी महोदय ने ज्ञापन लेते समय अपना पल्ला झाड़ते हुए कहा कि उनके ऊपर काम न देने के लिए पीछे से यानी सरकार की तरफ से दबाव है आन्दोलन को आगे कैसे बढाया जाये अभी इस बात पर विचार हो रहा है. हरियाणा ग्रामीण मज़दूर मोर्चा, शहीद भगतसिंह नौजवान सभा, नौजवान भारत सभा, देहाती मज़दूर सभा इत्यादि जनसंगठनों ने इस विरोध प्रदर्शन में भागीदारी की।

    नौजवान भारत सभा's photo.



    कैलाश वानखेडे़ की जुबानी लोकतंत्र का सच यह भी हैः

    थोड़ा सा रूमानी हो जाइये...जिसमें एक बंदा उड़ने की प्रेक्टिस करता है...उस इलाके का कलेक्टर खुद गाडी चलाता है,लिफ्ट देता है.. शहर परेशान है कि बिन्नी ,बिन्नी क्यों है,तीस की उमर में भी शादी न होने को लेकर परेशान है..जिसके अलग अलग टाइप के माल है,जिसे दूल्हा कहा जाता है..रघु जो बाप है,जो हर ख्वाहिश को जगह देता है..उसी समय अकाल की आशंका घिर जाती है.बारिश न हुई तो...उस तो के भीतर तमाम डर है,तभी दिलों में रहता है उम्मीदों में बसने वाला गम पीने वाला आता है...४८ घंटे के भीतर पांच हजार में बारिश बरसाने का वादा करता है...

    हां मेरे दोस्त

    वही बारिश

    वही बारिश जो आसमान से आती है

    बूंदों मैं गाती है

    पहाड़ों से फिसलती है

    नदियों मैं चलती है

    नहरों मैं मचलती है

    कुंए पोखर से मिलती है

    खपरेलो पर गिरती है

    गलियों मैं फिरती है

    मोड़ पर संभालती है

    फिर आगे निकलती है

    वही बारिश

    ये बारिश अक्सर गीली होती है

    इसे पानी भी कहते हैं

    उर्दू में आप

    और कभी कभी यह पानी सरकारी फाइलों में अपने कुंए समेत चोरी हो जाता है

    पानी तो पानी है पानी जिन्दगानी है

    इसलिए जब रूह की नदी सूखी हो

    और मन का हिरण प्यासा हो

    दीमाग में लगी हो आग

    और प्यार की घागर खाली हो

    तब मैं….हमेशा

    ये बारिश नाम का गीला पानी लेने की राय देता हूं

    मेरी मानिए तो ये बारिश खरीदिये

    सस्ती सुन्दर टिकाऊ बारिश

    सिर्फ 5 हज़ार रुपये में

    इस्से कम में दे कोई तो चोर की सज़ा वो मेरी

    आपकी जूती सिर पर मेरी

    मेरी बारिश खरीदये

    सस्ती सुन्दर टिकाऊ बारिश...

    एक घंटा देकर थोड़ा सा रूमानी होना बुरा नही है,दोस्त.और हाँ,बिन्नी आई लय यू.

    लोकतंत्र का एक भयावह सच जो है वह है बंगाल जहां रोज शारदा फर्जीवाड़े के चार अध्याय बांचने में रात दिन तबाह है और पल दर पल राजनीति और लोकतंत्र,प्रगतिवाद और मानवाधिकार,आजादी और क्रांति के गीत बाबुलंद आवाज से गाये जाते रहते हैं।

    वहां पूरे चौदह दिन हो गये,एसएस सी बिल्डिंग में एसएससी की नौकरी परीक्षा पास करके बेरोजगारी में मर रहे बच्चे अनशन पर है।लेकिन बंगाल में पूरी बहस दीदी के होने और न होने को लेकर हैं।बाकी देश दुनिया की क्या कहें,हमें अपने बच्चे तक की परवाह नहीं है।

    "আজ অনশন চলছে ১২ দিন । দানা পানি পেটে পরেনি । তারা কি কেউ ক্রিমিনাল ? তারা চূড়ান্ত মেধা তালিকায় থাকা চাকরী প্রার্থী । তারা দুবার আইন ভেঙেছেন সরকার কি কিছু করেছে ? একবার ১৪৪ ধারা ব্রেক করে SSC মধ্যে ঢুকে অনশন এবং কাল বিকাশভবনের গেটের সামনে দেড় ঘণ্টা ধর্না ।

    চাকরী গুলো বিক্রী হয়ে গেছে, আপনারা সকলেই জানেন । একবার আসুন, দেখা করে যান মরতে বসা সহনাগরিকদের সাথে ।"

    আজ অনশন চলছে ১২ দিন । দানা পানি পেটে পরেনি । তারা কি কেউ ক্রিমিনাল ? তারা চূড়ান্ত মেধা তালিকায় থাকা চাকরী প্রার্থী । তারা দুবার আইন ভেঙেছেন সরকার কি কিছু করেছে ? একবার ১৪৪ ধারা ব্রেক করে SSC মধ্যে ঢুকে অনশন এবং কাল বিকাশভবনের গেটের সামনে দেড় ঘণ্টা ধর্না ।  চাকরী গুলো বিক্রী হয়ে গেছে, আপনারা সকলেই জানেন । একবার আসুন, দেখা করে যান মরতে বসা সহনাগরিকদের সাথে ।

    Aritra Majumder

    ? একবার ১৪৪ ধারা ব্রেক করে SSC মধ্যে ঢুকে অনশন এবং কাল বিকাশভবনের গেটের সামনে দেড় ঘণ্টা ধর্না ।

    চাকরী গুলো বিক্রী হয়ে গেছে, আপনারা সকলেই জানেন । একবার আসুন, দেখা করে যান মরতে বসা সহনাগরিকদের সাথে ।



    तो हाजिरान, तीसरी कसम कहानी जरुर इसके साथ नये संदर्भ में जरुर पढ़लें,तो मोक्ष मिल जाई।


    किसी चैनल में लाटरी की तरह हीराबाई नजर आ जाये तो उनका जलवा जरुर देख लें और आज की कंपनीवाली बाई की पहचान कर लें कि कैसे सपने बोकर अगवाड़े पिछवाड़े से किसी की मारी जाती है।


    The Hindu

    20 mins·

    Police show up to break up a "friendly" faceoff between AAP and BJP supporters in the narrow lanes of Chirag Dilli. Follow our live updates here - thne.ws/1CCNkUO‪#‎DelhiDecider‬

    LIVE: Delhi goes to polls

    The closely watched Delhi Assembly elections have turned out to be a direct contest between the Bharatiya Janata Party and the Aam Aadmi Party unlike the 2013 elections which threw up a fractured mandate.

    THEHINDU.COM|BY INTERNET DESK




    तीसरी कसम (1966 फ़िल्म)

    http://hi.wikipedia.org/s/pdx

    मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

    तीसरी कसम

    Teesrikasam.jpg

    फ़िल्म का पोस्टर

    निर्देशक

    बासु भट्टाचार्य

    निर्माता

    शैलेन्द्र

    लेखक

    नबेंदु घोष

    पटकथा

    नबेंदु घोष

    अभिनेता

    राज कपूर,

    वहीदा रहमान,

    दुलारी,

    इफ़्तेख़ार,

    असित सेन,

    सी एस दुबे,

    कृष्ण धवन,

    विश्वा मेहरा,

    कैस्टो मुखर्जी,

    समर चटर्जी,

    ए के हंगल,

    रतन गौरंग,

    संगीतकार

    शंकर-जयकिशन

    प्रदर्शन तिथि(याँ)

    1966

    कार्यावधि

    159 मिनट

    देश

    भारत

    भाषा

    हिन्दी

    तीसरी कसम (अंग्रेजी: third oath)1966 में बनी हिन्दी भाषाकी फिल्म है। इसको तत्काल बॉक्स ऑफ़िस पर सफलता नहीं मिली थी पर यह हिन्दी के श्रेष्ठतम फ़िल्मों में गिनी जाती है। फ़िल्म का निर्माण प्रसिद्ध गीतकार शैलेन्द्रने किया था जिसे हिन्दी लेखक फणीश्वर नाथ 'रेणु'की प्रसिद्ध कहानी मारे गए ग़ुलफ़ामकी पटकथा मिली। इस फ़िल्म की असफलता के बाद शैलेन्द्र काफी निराश हो गए थे और उनका अगले ही साल निधन हो गया था।

    यह हिन्दी के महान कथाकार फणीश्वर नाथ रेणु की कहानी 'मारे गये गुलफाम' पर आधारित है। इस फिल्म के मुख्य कलाकारों में राज कपूरऔर वहीदा रहमानशामिल हैं। बासु भट्टाचार्यद्वारा निर्देशित तीसरी कसम एक फिल्म गैर-परंपरागत है जो भारत की देहाती दुनिया और वहां के लोगों की सादगी को दिखाती है। यह पूरी फिल्म बिहारके अररियाजिले में फिल्मांकित की गई।

    इस फिल्म का फिल्मांकन सुब्रत मित्रने किया है। पटकथा नबेन्दु घोषकी है, जबकि संवाद लिखे हैं स्वयं फणीन्द्र नाथ रेणुने. फिल्म के गीत लिखे हैं शैलेंद्रऔर हसरत जयपुरीने, जबकि फिल्म संगीत दिया है, शंकर-जयकिशनकी जोड़ी ने.

    यह फ़िल्म उस समय व्यावसायिक रूप से सफ़ल नहीं रही थी, पर इसे आज भी अदाकारों के श्रेष्ठतम अभिनय तथा प्रवीण निर्देशन के लिए जाना जाता है। इस फ़िल्म के बॉक्स ऑफ़िस पर पिटने के कारण निर्माता गीतकार शैलेन्द्र का निधन हो गया था।

    अनुक्रम

     [छुपाएँ]

    संक्षेप[संपादित करें]

    हीरामन एक गाड़ीवान है। फ़िल्म की शुरुआत एक ऐसे दृश्य के साथ होती है जिसमें वो अपना बैलगाड़ी को हाँक रहा है और बहुत खुश है। उसकी गाड़ी में सर्कस कंपनी में काम करने वाली हीराबाई बैठी है। हीरामन कई कहानियां सुनाते और लीक से अलग ले जाकर हीराबाई को कई लोकगीत सुनाते हुए सर्कस के आयोजन स्थल तक हीराबाई को पहुँचा देता है। इस बीच उसे अपने पुराने दिन याद आते हैं और लोककथाओं और लोकगीत से भरा यह अंश फिल्म के आधे से अधिक भाग में है। इस फ़िल्म का संगीत शंकर जयकिशन ने दिया था। हीरामन अपने पुराने दिनों को याद करता है जिसमें एक बार नेपाल की सीमा के पार तस्करी करने के कारण उसे अपने बैलों को छुड़ा कर भगाना पड़ता है। इसके बाद उसने कसम खाई कि अब से "चोरबजारी" का सामान कभी अपनी गाड़ी पर नहीं लादेगा। उसके बाद एक बार बांस की लदनी से परेशान होकर उसने प्रण लिया कि चाहे कुछ भी हो जाए वो बांस की लदनी अपनी गाड़ी पर नहीं लादेगा।

    अन्त में हीराबाई के चले जाने और उसके मन में हीराबाई के लिए उपजी भावना के प्रति हीराबाई के बेमतलब रहकर विदा लेने के बाद उदास मन से वो अपने बैलों को झिड़की देते हुए तीसरी क़सम खाता है कि अपनी गाड़ी में वो कभी किसी नाचने वाली को नहीं ले जाएगा। इसके साथ ही फ़िल्म खत्म हो जाती है।

    मुख्य कलाकार[संपादित करें]

    ईस फिल्म के मुख्य कलाकार राजकपूर और वहिदा रहमान है। राजकपू हीरामन और वहिदा रहमान हीरबइ के वेश मे आये है। राज्कपू‍र तब के शोमेन थे।

    दल[संपादित करें]

    संगीत[संपादित करें]

    गीत

    गायक

    गीतकार

    समय

    टिप्पणी

    "सजन रे झूठ मत बोलो"

    मुकेश

    शैलेन्द्र

    3:43

    लोकप्रिय गीत

    "सजनवा बैरी होगए हमर"

    मुकेश

    शैलेन्द्र

    3:51

    लोकप्रिय गीत

    "दुनिया बनानेवाले"

    मुकेश

    शैलेन्द्र

    5:03

    लोकप्रिय गीत

    "चालत मुसाफिर"

    मन्ना डे

    शैलेन्द्र

    3:04

    लोकप्रिय गीत

    "पान खाए सैयां हमारो"

    आशा भोसले

    शैलेन्द्र

    4:08

    लोकप्रिय गीत

    "हाय ग़ज़ब कहीं तारा टूटा"

    आशा भोसले

    शैलेन्द्र

    4:13


    "मारे गए गुलफाम"

    लता मंगेशकर

    हसरत जयपुरी

    4:00


    "आ आभीजा"

    लता मंगेशकर

    शैलेन्द्र

    5:03


    रोचक तथ्य[संपादित करें]



    कहानी

    मारे गये ग़ुलफाम उर्फ तीसरी कसम

    फणीश्वरनाथ रेणु



    हिरामन गाड़ीवान की पीठ में गुदगुदी लगती है...

    पिछले बीस साल से गाड़ी हाँकता है हिरामन। बैलगाड़ी। सीमा के उस पार, मोरंग राज नेपाल से धान और लकड़ी ढो चुका है। कंट्रोल के जमाने में चोरबाजारी का माल इस पार से उस पार पहुँचाया है। लेकिन कभी तो ऐसी गुदगुदी नहीं लगी पीठ में!

    कंट्रोल का जमाना! हिरामन कभी भूल सकता है उस जमाने को! एक बार चार खेप सीमेंट और कपड़े की गाँठों से भरी गाड़ी, जोगबानी में विराटनगर पहुँचने के बाद हिरामन का कलेजा पोख्ता हो गया था। फारबिसगंज का हर चोर-व्यापारी उसको पक्का गाड़ीवान मानता। उसके बैलों की बड़ाई बड़ी गद्दी के बड़े सेठ जी खुद करते, अपनी भाषा में।

    गाड़ी पकड़ी गई पाँचवी बार, सीमा के इस पार तराई में।

    महाजन का मुनीम उसी की गाड़ी पर गाँठों के बीच चुक्की-मुक्की लगा कर छिपा हुआ था। दारोगा साहब की डेढ़ हाथ लंबी चोरबत्ती की रोशनी कितनी तेज होती है, हिरामन जानता है। एक घंटे के लिए आदमी अंधा हो जाता है, एक छटक भी पड़ जाए आँखों पर! रोशनी के साथ कड़कती हुई आवाज - 'ऐ-य! गाड़ी रोको! साले, गोली मार देंगे?'

    बीसों गाड़ियाँ एक साथ कचकचा कर रुक गईं। हिरामन ने पहले ही कहा था, 'यह बीस विषावेगा!' दारोगा साहब उसकी गाड़ी में दुबके हुए मुनीम जी पर रोशनी डाल कर पिशाची हँसी हँसे - 'हा-हा-हा! मुनीम जी-ई-ई-ई! ही-ही-ही! ऐ-य, साला गाड़ीवान, मुँह क्या देखता है रे-ए-ए! कंबल हटाओ इस बोरे के मुँह पर से!' हाथ की छोटी लाठी से मुनीम जी के पेट में खोंचा मारते हुए कहा था, 'इस बोरे को! स-स्साला!'

    बहुत पुरानी अखज-अदावत होगी दारोगा साहब और मुनीम जी में। नहीं तो उतना रूपया कबूलने पर भी पुलिस-दरोगा का मन न डोले भला! चार हजार तो गाड़ी पर बैठा ही दे रहा है। लाठी से दूसरी बार खोंचा मारा दारोगा ने। 'पाँच हजार!' फिर खोंचा - 'उतरो पहले... '

    मुनीम को गाड़ी से नीचे उतार कर दारोगा ने उसकी आँखों पर रोशनी डाल दी। फिर दो सिपाहियों के साथ सड़क से बीस-पच्चीस रस्सी दूर झाड़ी के पास ले गए। गाड़ीवान और गाड़ियों पर पाँच-पाँच बंदूकवाले सिपाहियों का पहरा! हिरामन समझ गया, इस बार निस्तार नहीं। जेल? हिरामन को जेल का डर नहीं। लेकिन उसके बैल? न जाने कितने दिनों तक बिना चारा-पानी के सरकारी फाटक में पड़े रहेंगे - भूखे-प्यासे। फिर नीलाम हो जाएँगे। भैया और भौजी को वह मुँह नहीं दिखा सकेगा कभी। ...नीलाम की बोली उसके कानों के पास गूँज गई - एक-दो-तीन! दारोगा और मुनीम में बात पट नहीं रही थी शायद।

    हिरामन की गाड़ी के पास तैनात सिपाही ने अपनी भाषा में दूसरे सिपाही से धीमी आवाज में पूछा, 'का हो? मामला गोल होखी का?' फिर खैनी-तंबाकू देने के बहाने उस सिपाही के पास चला गया।

    एक-दो-तीन! तीन-चार गाड़ियों की आड़। हिरामन ने फैसला कर लिया। उसने धीरे-से अपने बैलों के गले की रस्सियाँ खोल लीं। गाड़ी पर बैठे-बैठे दोनों को जुड़वाँ बाँध दिया। बैल समझ गए उन्हें क्या करना है। हिरामन उतरा, जुती हुई गाड़ी में बाँस की टिकटी लगा कर बैलों के कंधों को बेलाग किया। दोनों के कानों के पास गुदगुदी लगा दी और मन-ही-मन बोला, 'चलो भैयन, जान बचेगी तो ऐसी-ऐसी सग्गड़ गाड़ी बहुत मिलेगी।' ...एक-दो-तीन! नौ-दो-ग्यारह! ..

    गाड़ियों की आड़ में सड़क के किनारे दूर तक घनी झाड़ी फैली हुई थी। दम साध कर तीनों प्राणियों ने झाड़ी को पार किया - बेखटक, बेआहट! फिर एक ले, दो ले - दुलकी चाल! दोनों बैल सीना तान कर फिर तराई के घने जंगलों में घुस गए। राह सूँघते, नदी-नाला पार करते हुए भागे पूँछ उठा कर। पीछे-पीछे हिरामन। रात-भर भागते रहे थे तीनों जन।

    घर पहुँच कर दो दिन तक बेसुध पड़ा रहा हिरामन। होश में आते ही उसने कान पकड़ कर कसम खाई थी - अब कभी ऐसी चीजों की लदनी नहीं लादेंगे। चोरबाजारी का माल? तोबा, तोबा!... पता नहीं मुनीम जी का क्या हुआ! भगवान जाने उसकी सग्गड़ गाड़ी का क्या हुआ! असली इस्पात लोहे की धुरी थी। दोनों पहिए तो नहीं, एक पहिया एकदम नया था। गाड़ी में रंगीन डोरियों के फुँदने बड़े जतन से गूँथे गए थे।

    दो कसमें खाई हैं उसने। एक चोरबाजारी का माल नहीं लादेंगे। दूसरी - बाँस। अपने हर भाड़ेदार से वह पहले ही पूछ लेता है - 'चोरी- चमारीवाली चीज तो नहीं? और, बाँस? बाँस लादने के लिए पचास रूपए भी दे कोई, हिरामन की गाड़ी नहीं मिलेगी। दूसरे की गाड़ी देखे।

    बाँस लदी हुई गाड़ी! गाड़ी से चार हाथ आगे बाँस का अगुआ निकला रहता है और पीछे की ओर चार हाथ पिछुआ! काबू के बाहर रहती है गाड़ी हमेशा। सो बेकाबूवाली लदनी और खरैहिया। शहरवाली बात! तिस पर बाँस का अगुआ पकड़ कर चलनेवाला भाड़ेदार का महाभकुआ नौकर, लड़की-स्कूल की ओर देखने लगा। बस, मोड़ पर घोड़ागाड़ी से टक्कर हो गई। जब तक हिरामन बैलों की रस्सी खींचे, तब तक घोड़ागाड़ी की छतरी बाँस के अगुआ में फँस गई। घोड़ा-गाड़ीवाले ने तड़ातड़ चाबुक मारते हुए गाली दी थी! बाँस की लदनी ही नहीं, हिरामन ने खरैहिया शहर की लदनी भी छोड़ दी। और जब फारबिसगंज से मोरंग का भाड़ा ढोना शुरू किया तो गाड़ी ही पार! कई वर्षों तक हिरामन ने बैलों को आधीदारी पर जोता। आधा भाड़ा गाड़ीवाले का और आधा बैलवाले का। हिस्स! गाड़ीवानी करो मुफ्त! आधीदारी की कमाई से बैलों के ही पेट नहीं भरते। पिछले साल ही उसने अपनी गाड़ी बनवाई है।

    देवी मैया भला करें उस सरकस-कंपनी के बाघ का। पिछले साल इसी मेले में बाघगाड़ी को ढोनेवाले दोनों घोड़े मर गए। चंपानगर से फारबिसगंज मेला आने के समय सरकस-कंपनी के मैनेजर ने गाड़ीवान-पट्टी में ऐलान करके कहा - 'सौ रूपया भाड़ा मिलेगा!' एक-दो गाड़ीवान राजी हुए। लेकिन, उनके बैल बाघगाड़ी से दस हाथ दूर ही डर से डिकरने लगे - बाँ-आँ! रस्सी तुड़ा कर भागे। हिरामन ने अपने बैलों की पीठ सहलाते हुए कहा, 'देखो भैयन, ऐसा मौका फिर हाथ न आएगा। यही है मौका अपनी गाड़ी बनवाने का। नहीं तो फिर आधेदारी। अरे पिंजड़े में बंद बाघ का क्या डर? मोरंग की तराई में दहाड़ते हुइ बाघों को देख चुके हो। फिर पीठ पर मैं तो हूँ।...'

    गाड़ीवानों के दल में तालियाँ पटपटा उठीं थीं एक साथ। सभी की लाज रख ली हिरामन के बैलों ने। हुमक कर आगे बढ़ गए और बाघगाड़ी में जुट गए - एक-एक करके। सिर्फ दाहिने बैल ने जुतने के बाद ढेर-सा पेशाब किया। हिरामन ने दो दिन तक नाक से कपड़े की पट्टी नहीं खोली थी। बड़ी गद्दी के बडे सेठ जी की तरह नकबंधन लगाए बिना बघाइन गंध बरदास्त नहीं कर सकता कोई।

    बाघगाड़ी की गाड़ीवानी की है हिरामन ने। कभी ऐसी गुदगुदी नहीं लगी पीठ में। आज रह-रह कर उसकी गाड़ी में चंपा का फूल महक उठता है। पीठ में गुदगुदी लगने पर वह अँगोछे से पीठ झाड़ लेता है।

    हिरामन को लगता है, दो वर्ष से चंपानगर मेले की भगवती मैया उस पर प्रसन्न है। पिछले साल बाघगाड़ी जुट गई। नकद एक सौ रूपए भाड़े के अलावा बुताद, चाह-बिस्कुट और रास्ते-भर बंदर-भालू और जोकर का तमाशा देखा सो फोकट में!

    और, इस बार यह जनानी सवारी। औरत है या चंपा का फूल! जब से गाड़ी मह-मह महक रही है।

    कच्ची सड़क के एक छोटे-से खड्ड में गाड़ी का दाहिना पहिया बेमौके हिचकोला खा गया। हिरामन की गाड़ी से एक हल्की 'सिस' की आवाज आई। हिरामन ने दाहिने बैल को दुआली से पीटते हुए कहा, 'साला! क्या समझता है, बोरे की लदनी है क्या?'

    'अहा! मारो मत!'

    अनदेखी औरत की आवाज ने हिरामन को अचरज में डाल दिया। बच्चों की बोली जैसी महीन, फेनूगिलासी बोली!

    मथुरामोहन नौटंकी कंपनी में लैला बननेवाली हीराबाई का नाम किसने नहीं सुना होगा भला! लेकिन हिरामन की बात निराली है! उसने सात साल तक लगातार मेलों की लदनी लादी है, कभी नौटंकी-थियेटर या बायस्कोप सिनेमा नहीं देखा। लैला या हीराबाई का नाम भी उसने नहीं सुना कभी। देखने की क्या बात! सो मेला टूटने के पंद्रह दिन पहले आधी रात की बेला में काली ओढ़नी में लिपटी औरत को देख कर उसके मन में खटका अवश्य लगा था। बक्सा ढोनेवाले नौकर से गाड़ी-भाड़ा में मोल-मोलाई करने की कोशिश की तो ओढ़नीवाली ने सिर हिला कर मना कर दिया। हिरामन ने गाड़ी जोतते हुए नौकर से पूछा, 'क्यों भैया, कोई चोरी चमारी का माल-वाल तो नहीं?' हिरामन को फिर अचरज हुआ। बक्सा ढोनेवाले आदमी ने हाथ के इशारे से गाड़ी हाँकने को कहा और अँधेरे में गायब हो गया। हिरामन को मेले में तंबाकू बेचनेवाली बूढ़ी की काली साड़ी की याद आई थी।

    ऐसे में कोई क्या गाड़ी हाँके!

    एक तो पीठ में गुदगुदी लग रही है। दूसरे रह-रह कर चंपा का फूल खिल जाता है उसकी गाड़ी में। बैलों को डाँटो तो 'इस-बिस' करने लगती है उसकी सवारी। उसकी सवारी! औरत अकेली, तंबाकू बेचनेवाली बूढ़ी नहीं! आवाज सुनने के बाद वह बार-बार मुड़ कर टप्पर में एक नजर डाल देता है, अँगोछे से पीठ झाड़ता है। ...भगवान जाने क्या लिखा है इस बार उसकी किस्मत में! गाड़ी जब पूरब की ओर मुड़ी, एक टुकड़ा चाँदनी उसकी गाड़ी में समा गई। सवारी की नाक पर एक जुगनू जगमगा उठा। हिरामन को सबकुछ रहस्यमय - अजगुत-अजगुत - लग रहा है। सामने चंपानगर से सिंधिया गाँव तक फैला हुआ मैदान... कहीं डाकिन-पिशाचिन तो नहीं?

    हिरामन की सवारी ने करवट ली। चाँदनी पूरे मुखड़े पर पड़ी तो हिरामन चीखते-चीखते रूक गया - अरे बाप! ई तो परी है!

    परी की आँखें खुल गईं। हिरामन ने सामने सड़क की ओर मुँह कर लिया और बैलों को टिटकारी दी। वह जीभ को तालू से सटा कर टि-टि-टि-टि आवाज निकालता है। हिरामन की जीभ न जाने कब से सूख कर लकड़ी-जैसी हो गई थी!

    'भैया, तुम्हारा नाम क्या है?'

    हू-ब-हू फेनूगिलास! ...हिरामन के रोम-रोम बज उठे। मुँह से बोली नहीं निकली। उसके दोनों बैल भी कान खड़े करके इस बोली को परखते हैं।

    'मेरा नाम! ...नाम मेरा है हिरामन!'

    उसकी सवारी मुस्कराती है। ...मुस्कराहट में खुशबू है।

    'तब तो मीता कहूँगी, भैया नहीं। - मेरा नाम भी हीरा है।'

    'इस्स!' हिरामन को परतीत नहीं, 'मर्द और औरत के नाम में फर्क होता है।'

    'हाँ जी, मेरा नाम भी हीराबाई है।'

    कहाँ हिरामन और कहाँ हीराबाई, बहुत फर्क है!

    हिरामन ने अपने बैलों को झिड़की दी - 'कान चुनिया कर गप सुनने से ही तीस कोस मंजिल कटेगी क्या? इस बाएँ नाटे के पेट में शैतानी भरी है।' हिरामन ने बाएँ बैल को दुआली की हल्की झड़प दी।

    'मारो मत, धीरे धीरे चलने दो। जल्दी क्या है!'

    हिरामन के सामने सवाल उपस्थित हुआ, वह क्या कह कर 'गप' करे हीराबाई से? 'तोहे' कहे या 'अहाँ'? उसकी भाषा में बड़ों को 'अहाँ' अर्थात 'आप' कह कर संबोधित किया जाता है, कचराही बोली में दो-चार सवाल-जवाब चल सकता है, दिल-खोल गप तो गाँव की बोली में ही की जा सकती है किसी से।

    आसिन-कातिक के भोर में छा जानेवाले कुहासे से हिरामन को पुरानी चिढ़ है। बहुत बार वह सड़क भूल कर भटक चुका है। किंतु आज के भोर के इस घने कुहासे में भी वह मगन है। नदी के किनारे धन-खेतों से फूले हुए धान के पौधों की पवनिया गंध आती है। पर्व-पावन के दिन गाँव में ऐसी ही सुगंध फैली रहती है। उसकी गाड़ी में फिर चंपा का फूल खिला। उस फूल में एक परी बैठी है। ...जै भगवती।

    हिरामन ने आँख की कनखियों से देखा, उसकी सवारी ...मीता ...हीराबाई की आँखें गुजुर-गुजुर उसको हेर रही हैं। हिरामन के मन में कोई अजानी रागिनी बज उठी। सारी देह सिरसिरा रही है। बोला, 'बैल को मारते हैं तो आपको बहुत बुरा लगता है?'

    हीराबाई ने परख लिया, हिरामन सचमुच हीरा है।

    चालीस साल का हट्टा-कट्टा, काला-कलूटा, देहाती नौजवान अपनी गाड़ी और अपने बैलों के सिवाय दुनिया की किसी और बात में विशेष दिलचस्पी नहीं लेता। घर में बड़ा भाई है, खेती करता है। बाल-बच्चेवाला आदमी है। हिरामन भाई से बढ़ कर भाभी की इज्जत करता है। भाभी से डरता भी है। हिरामन की भी शादी हुई थी, बचपन में ही गौने के पहले ही दुलहिन मर गई। हिरामन को अपनी दुलहिन का चेहरा याद नहीं। ...दूसरी शादी? दूसरी शादी न करने के अनेक कारण हैं। भाभी की जिद, कुमारी लड़की से ही हिरामन की शादी करवाएगी। कुमारी का मतलब हुआ पाँच-सात साल की लड़की। कौन मानता है सरधा-कानून? कोई लड़कीवाला दोब्याहू को अपनी लड़की गरज में पड़ने पर ही दे सकता है। भाभी उसकी तीन-सत्त करके बैठी है, सो बैठी है। भाभी के आगे भैया की भी नहीं चलती! ...अब हिरामन ने तय कर लिया है, शादी नहीं करेगा। कौन बलाय मोल लेने जाए! ...ब्याह करके फिर गाड़ीवानी क्या करेगा कोई! और सब कुछ छूट जाए, गाड़ीवानी नहीं छोड़ सकता हिरामन।

    हीराबाई ने हिरामन के जैसा निश्छल आदमी बहुत कम देखा है। पूछा, 'आपका घर कौन जिल्ला में पड़ता है?' कानपुर नाम सुनते ही जो उसकी हँसी छूटी, तो बैल भड़क उठे। हिरामन हँसते समय सिर नीचा कर लेता है। हँसी बंद होने पर उसने कहा, 'वाह रे कानपुर! तब तो नाकपुर भी होगा? 'और जब हीराबाई ने कहा कि नाकपुर भी है, तो वह हँसते-हँसते दुहरा हो गया।

    'वाह रे दुनिया! क्या-क्या नाम होता है! कानपुर, नाकपुर!' हिरामन ने हीराबाई के कान के फूल को गौर से देखा। नाक की नकछवि के नग देख कर सिहर उठा - लहू की बूँद!

    हिरामन ने हीराबई का नाम नहीं सुना कभी। नौटंकी कंपनी की औरत को वह बाईजी नहीं समझता है। ...कंपनी में काम करनेवाली औरतों को वह देख चुका है। सरकस कंपनी की मालकिन, अपनी दोनों जवान बेटियों के साथ बाघगाड़ी के पास आती थी, बाघ को चारा-पानी देती थी, प्यार भी करती थी खूब। हिरामन के बैलों को भी डबलरोटी-बिस्कुट खिलाया था बड़ी बेटी ने।

    हिरामन होशियार है। कुहासा छँटते ही अपनी चादर से टप्पर में परदा कर दिया -'बस दो घंटा! उसके बाद रास्ता चलना मुश्किल है। कातिक की सुबह की धूल आप बर्दास्त न कर सकिएगा। कजरी नदी के किनारे तेगछिया के पास गाड़ी लगा देंगे। दुपहरिया काट कर...।'

    सामने से आती हुई गाड़ी को दूर से ही देख कर वह सतर्क हो गया। लीक और बैलों पर ध्यान लगा कर बैठ गया। राह काटते हुए गाड़ीवान ने पूछा, 'मेला टूट रहा है क्या भाई?'

    हिरामन ने जवाब दिया, वह मेले की बात नहीं जानता। उसकी गाड़ी पर 'बिदागी' (नैहर या ससुराल जाती हुई लड़की) है। न जाने किस गाँव का नाम बता दिया हिरामन ने।

    'छतापुर-पचीरा कहाँ है?'

    'कहीं हो, यह ले कर आप क्या करिएगा?' हिरामन अपनी चतुराई पर हँसा। परदा डाल देने पर भी पीठ में गुदगुदी लगती है।

    हिरामन परदे के छेद से देखता है। हीराबाई एक दियासलाई की डिब्बी के बराबर आईने में अपने दाँत देख रही है। ...मदनपुर मेले में एक बार बैलों को नन्हीं-चित्ती कौड़ियों की माला खरीद दी थी। हिरामन ने, छोटी-छोटी, नन्हीं-नन्हीं कौड़ियों की पाँत।

    तेगछिया के तीनों पेड़ दूर से ही दिखलाई पड़ते हैं। हिरामन ने परदे को जरा सरकाते हुए कहा, 'देखिए, यही है तेगछिया। दो पेड़ जटामासी बड़ है और एक उस फूल का क्या नाम है, आपके कुरते पर जैसा फूल छपा हुआ है, वैसा ही, खूब महकता है, दो कोस दूर तक गंध जाती है, उस फूल को खमीरा तंबाकू में डाल कर पीते भी हैं लोग।'

    'और उस अमराई की आड़ से कई मकान दिखाई पड़ते हैं, वहाँ कोई गाँव है या मंदिर?'

    हिरामन ने बीड़ी सुलगाने के पहले पूछा, 'बीड़ी पीएँ? आपको गंध तो नहीं लगेगी? ...वही है नामलगर ड्योढ़ी। जिस राजा के मेले से हम लोग आ रहे हैं, उसी का दियाद-गोतिया है। ...जा रे जमाना!'

    हिरामन ने जा रे जमाना कह कर बात को चाशनी में डाल दिया। हीराबाई ने टप्पर के परदे को तिरछे खोंस दिया। हीराबाई की दंतपंक्ति।

    'कौन जमाना?' ठुड्डी पर हाथ रख कर साग्रह बोली।

    'नामलगर ड्योढ़ी का जमाना! क्या था और क्या-से-क्या हो गया!'

    हिरामन गप रसाने का भेद जानता है। हीराबाई बोली, 'तुमने देखा था वह जमाना?'

    'देखा नहीं, सुना है। राज कैसे गया, बड़ी हैफवाली कहानी है। सुनते हैं, घर में देवता ने जन्म ले लिया। कहिए भला, देवता आखिर देवता है। है या नहीं? इंदरासन छोड़ कर मिरतूभुवन में जन्म ले ले तो उसका तेज कैसे सम्हाल सकता है कोई! सूरजमुखी फूल की तरह माथे के पास तेज खिला रहता। लेकिन नजर का फेर, किसी ने नहीं पहचाना। एक बार उपलैन में लाट साहब मय लाटनी के, हवागाड़ी से आए थे। लाट ने भी नहीं, पहचाना आखिर लटनी ने। सुरजमुखी तेज देखते ही बोल उठी - ए मैन राजा साहब, सुनो, यह आदमी का बच्चा नहीं है, देवता है।'

    हिरामन ने लाटनी की बोली की नकल उतारते समय खूब डैम-फैट-लैट किया। हीराबाई दिल खोल कर हँसी। हँसते समय उसकी सारी देह दुलकती है।

    हीराबाई ने अपनी ओढ़नी ठीक कर ली। तब हिरामन को लगा कि... लगा कि...

    'तब? उसके बाद क्या हुआ मीता?'

    'इस्स! कथा सुनने का बड़ा सौक है आपको? ...लेकिन, काला आदमी, राजा क्या महाराजा भी हो जाए, रहेगा काला आदमी ही। साहेब के जैसे अक्किल कहाँ से पाएगा! हँस कर बात उड़ा दी सभी ने। तब रानी को बार-बार सपना देने लगा देवता! सेवा नहीं कर सकते तो जाने दो, नहीं, रहेंगे तुम्हारे यहाँ। इसके बाद देवता का खेल शुरू हुआ। सबसे पहले दोनों दंतार हाथी मरे, फिर घोड़ा, फिर पटपटांग...।'

    'पटपटांग क्या है?'

    हिरामन का मन पल-पल में बदल रहा है। मन में सतरंगा छाता धीरे-धीरे खिल रहा है, उसको लगता है। ...उसकी गाड़ी पर देवकुल की औरत सवार है। देवता आखिर देवता है!

    'पटपटांग! धन-दौलत, माल-मवेसी सब साफ! देवता इंदरासन चला गया।'

    हीराबाई ने ओझल होते हुए मंदिर के कँगूरे की ओर देख कर लंबी साँस ली।

    'लेकिन देवता ने जाते-जाते कहा, इस राज में कभी एक छोड़ कर दो बेटा नहीं होगा। धन हम अपने साथ ले जा रहे हैं, गुन छोड़ जाते हैं। देवता के साथ सभी देव-देवी चले गए, सिर्फ सरोसती मैया रह गई। उसी का मंदिर है।'

    देसी घोड़े पर पाट के बोझ लादे हुए बनियों को आते देख कर हिरामन ने टप्पर के परदे को गिरा दिया। बैलों को ललकार कर बिदेसिया नाच का बंदनागीत गाने लगा -

    'जै मैया सरोसती, अरजी करत बानी,

    हमरा पर होखू सहाई हे मैया, हमरा पर होखू सहाई!'

    घोड़लद्दे बनियों से हिरामन ने हुलस कर पूछा, 'क्या भाव पटुआ खरीदते हैं महाजन?'

    लँगड़े घोड़ेवाले बनिए ने बटगमनी जवाब दिया - 'नीचे सताइस-अठाइस, ऊपर तीस। जैसा माल, वैसा भाव।'

    जवान बनिये ने पूछा, 'मेले का क्या हालचाल है, भाई? कौन नौटंकी कंपनी का खेल हो रहा है, रौता कंपनी या मथुरामोहन?'

    'मेले का हाल मेलावाला जाने?' हिरामन ने फिर छतापुर-पचीरा का नाम लिया।

    सूरज दो बाँस ऊपर आ गया था। हिरामन अपने बैलों से बात करने लगा - 'एक कोस जमीन! जरा दम बाँध कर चलो। प्यास की बेला हो गई न! याद है, उस बार तेगछिया के पास सरकस कंपनी के जोकर और बंदर नचानेवाला साहब में झगड़ा हो गया था। जोकरवा ठीक बंदर की तरह दाँत किटकिटा कर किक्रियाने लगा था, न जाने किस-किस देस-मुलुक के आदमी आते हैं!'

    हिरामन ने फिर परदे के छेद से देखा, हीराबई एक कागज के टुकड़े पर आँख गड़ा कर बैठी है। हिरामन का मन आज हल्के सुर में बँधा है। उसको तरह-तरह के गीतों की याद आती है। बीस-पच्चीस साल पहले, बिदेसिया, बलवाही, छोकरा-नाचनेवाले एक-से-एक गजल खेमटा गाते थे। अब तो, भोंपा में भोंपू-भोंपू करके कौन गीत गाते हैं लोग! जा रे जमाना! छोकरा-नाच के गीत की याद आई हिरामन को -

    'सजनवा बैरी हो ग' य हमारो! सजनवा.....!

    अरे, चिठिया हो ते सब कोई बाँचे, चिठिया हो तो....

    हाय! करमवा, होय करमवा....

    गाड़ी की बल्ली पर उँगलियों से ताल दे कर गीत को काट दिया हिरामन ने। छोकरा-नाच के मनुवाँ नटुवा का मुँह हीराबाई-जैसा ही था। ...क़हाँ चला गया वह जमाना? हर महीने गाँव में नाचनेवाले आते थे। हिरामन ने छोकरा-नाच के चलते अपनी भाभी की न जाने कितनी बोली-ठोली सुनी थी। भाई ने घर से निकल जाने को कहा था।

    आज हिरामन पर माँ सरोसती सहाय हैं, लगता है। हीराबाई बोली, 'वाह, कितना बढ़िया गाते हो तुम!'

    हिरामन का मुँह लाल हो गया। वह सिर नीचा कर के हँसने लगा।

    आज तेगछिया पर रहनेवाले महावीर स्वामी भी सहाय हैं हिरामन पर। तेगछिया के नीचे एक भी गाड़ी नहीं। हमेशा गाड़ी और गाड़ीवानों की भीड़ लगी रहती हैं यहाँ। सिर्फ एक साइकिलवाला बैठ कर सुस्ता रहा है। महावीर स्वामी को सुमर कर हिरामन ने गाड़ी रोकी। हीराबाई परदा हटाने लगी। हिरामन ने पहली बार आँखों से बात की हीराबाई से - साइकिलवाला इधर ही टकटकी लगा कर देख रहा है।

    बैलों को खोलने के पहले बाँस की टिकटी लगा कर गाड़ी को टिका दिया। फिर साइकिलवाले की ओर बार-बार घूरते हुए पूछा, 'कहाँ जाना है? मेला? कहाँ से आना हो रहा है? बिसनपुर से? बस, इतनी ही दूर में थसथसा कर थक गए? - जा रे जवानी!'

    साइकिलवाला दुबला-पतला नौजवान मिनमिना कर कुछ बोला और बीड़ी सुलगा कर उठ खड़ा हुआ। हिरामन दुनिया-भर की निगाह से बचा कर रखना चाहता है हीराबाई को। उसने चारों ओर नजर दौड़ा कर देख लिया - कहीं कोई गाड़ी या घोड़ा नहीं।

    कजरी नदी की दुबली-पतली धारा तेगछिया के पास आ कर पूरब की ओर मुड़ गई है। हीराबाई पानी में बैठी हुई भैसों और उनकी पीठ पर बैठे हुए बगुलों को देखती रही।

    हिरामन बोला, 'जाइए, घाट पर मुँह-हाथ धो आइए!'

    हीराबाई गाड़ी से नीचे उतरी। हिरामन का कलेजा धड़क उठा। ...नहीं, नहीं! पाँव सीधे हैं, टेढ़े नहीं। लेकिन, तलुवा इतना लाल क्यों हैं? हीराबाई घाट की ओर चली गई, गाँव की बहू-बेटी की तरह सिर नीचा कर के धीरे-धीरे। कौन कहेगा कि कंपनी की औरत है! ...औरत नहीं, लड़की। शायद कुमारी ही है।

    हिरामन टिकटी पर टिकी गाड़ी पर बैठ गया। उसने टप्पर में झाँक कर देखा। एक बार इधर-उधर देख कर हीराबाई के तकिए पर हाथ रख दिया। फिर तकिए पर केहुनी डाल कर झुक गया, झुकता गया। खुशबू उसकी देह में समा गई। तकिए के गिलाफ पर कढ़े फूलों को उँगलियों से छू कर उसने सूँघा, हाय रे हाय! इतनी सुगंध! हिरामन को लगा, एक साथ पाँच चिलम गाँजा फूँक कर वह उठा है। हीराबाई के छोटे आईने में उसने अपना मुँह देखा। आँखें उसकी इतनी लाल क्यों हैं?

    हीराबाई लौट कर आई तो उसने हँस कर कहा, 'अब आप गाड़ी का पहरा दीजिए, मैं आता हूँ तुरंत।'

    हिरामन ने अपना सफरी झोली से सहेजी हुई गंजी निकाली। गमछा झाड़ कर कंधे पर लिया और हाथ में बालटी लटका कर चला। उसके बैलों ने बारी-बारी से 'हुँक-हुँक' करके कुछ कहा। हिरामन ने जाते-जाते उलट कर कहा, 'हाँ,हाँ, प्यास सभी को लगी है। लौट कर आता हूँ तो घास दूँगा, बदमासी मत करो!'

    बैलों ने कान हिलाए।

    नहा-धो कर कब लौटा हिरामन, हीराबाई को नहीं मालूम। कजरी की धारा को देखते-देखते उसकी आँखों में रात की उचटी हुई नींद लौट आई थी। हिरामन पास के गाँव से जलपान के लिए दही-चूड़ा-चीनी ले आया है।

    'उठिए, नींद तोड़िए! दो मुट्ठी जलपान कर लीजिए!'

    हीराबाई आँख खोल कर अचरज में पड़ गई। एक हाथ में मिट्टी के नए बरतन में दही, केले के पत्ते। दूसरे हाथ में बालटी-भर पानी। आँखों में आत्मीयतापूर्ण अनुरोध!

    'इतनी चीजें कहाँ से ले आए!'

    'इस गाँव का दही नामी है। ...चाह तो फारबिसगंज जा कर ही पाइएगा।

    हिरामन की देह की गुदगुदी मिट गई। 'हीराबाई ने कहा, 'तुम भी पत्तल बिछाओ। ...क्यों? तुम नहीं खाओगे तो समेट कर रख लो अपनी झोली में। मैं भी नहीं खाऊँगी।'

    'इस्स!' हिरामन लजा कर बोला, 'अच्छी बात! आप खा लीजिए पहले!'

    'पहले-पीछे क्या? तुम भी बैठो।'

    हिरामन का जी जुड़ा गया। हीराबाई ने अपने हाथ से उसका पत्तल बिछा दिया, पानी छींट दिया, चूड़ा निकाल कर दिया। इस्स! धन्न है, धन्न है! हिरामन ने देखा, भगवती मैया भोग लगा रही है। लाल होठों पर गोरस का परस! ...पहाड़ी तोते को दूध-भात खाते देखा है?

    दिन ढल गया।

    टप्पर में सोई हीराबाई और जमीन पर दरी बिछा कर सोए हिरामन की नींद एक ही साथ खुली। ...मेले की ओर जानेवाली गाड़ियाँ तेगछिया के पास रूकी हैं। बच्चे कचर-पचर कर रहे हैं।

    हिरामन हड़बड़ा कर उठा। टप्पर के अंदर झाँक कर इशारे से कहा - दिन ढल गया! गाड़ी में बैलों को जोतते समय उसने गाड़ीवानों के सवालों का कोई जवाब नहीं दिया। गाड़ी हाँकते हुए बोला, 'सिरपुर बाजार के इसपिताल की डागडरनी हैं। रोगी देखने जा रही हैं। पास ही कुड़मागाम।'

    हीराबाई छत्तापुर-पचीरा का नाम भूल गई। गाड़ी जब कुछ दूर आगे बढ़ आई तो उसने हँस कर पूछा, 'पत्तापुर-छपीरा?'

    हँसते-हँसते पेट में बल पड़ जाए हिरामन के - 'पत्तापुर-छपीरा! हा-हा। वे लोग छत्तापुर-पचीरा के ही गाड़ीवान थे, उनसे कैसे कहता! ही-ही-ही!'

    हीराबाई मुस्कराती हुई गाँव की ओर देखने लगी।

    सड़क तेगछिया गाँव के बीच से निकलती है। गाँव के बच्चों ने परदेवाली गाड़ी देखी और तालियाँ बजा-बजा कर रटी हुई पंक्तियाँ दुहराने लगे -

    'लाली-लाली डोलिया में

    लाली रे दुलहिनिया

    पान खाए...!'

    हिरामन हँसा। ...दुलहिनिया ...लाली-लाली डोलिया! दुलहिनिया पान खाती है, दुलहा की पगड़ी में मुँह पोंछती है। ओ दुलहिनिया, तेगछिया गाँव के बच्चों को याद रखना। लौटती बेर गुड़ का लड्डू लेती आइयो। लाख बरिस तेरा हुलहा जीए! ...कितने दिनों का हौसला पूरा हुआ है हिरामन का! ऐसे कितने सपने देखे हैं उसने! वह अपनी दुलहिन को ले कर लौट रहा है। हर गाँव के बच्चे तालियाँ बजा कर गा रहे हैं। हर आँगन से झाँक कर देख रही हैं औरतें। मर्द लोग पूछते हैं, 'कहाँ की गाड़ी है, कहाँ जाएगी? उसकी दुलहिन डोली का परदा थोड़ा सरका कर देखती है। और भी कितने सपने...

    गाँव से बाहर निकल कर उसने कनखियों से टप्पर के अंदर देखा, हीराबाई कुछ सोच रही है। हिरामन भी किसी सोच में पड़ गया। थोड़ी देर के बाद वह गुनगुनाने लगा-

    'सजन रे झूठ मति बोलो, खुदा के पास जाना है।

    नहीं हाथी, नहीं घोड़ा, नहीं गाड़ी -

    वहाँ पैदल ही जाना है। सजन रे...।'

    हीराबाई ने पूछा, 'क्यों मीता? तुम्हारी अपनी बोली में कोई गीत नहीं क्या?'

    हिरामन अब बेखटक हीराबाई की आँखों में आँखें डाल कर बात करता है। कंपनी की औरत भी ऐसी होती है? सरकस कंपनी की मालकिन मेम थी। लेकिन हीराबाई! गाँव की बोली में गीत सुनना चाहती है। वह खुल कर मुस्कराया - 'गाँव की बोली आप समझिएगा?'

    'हूँ-ऊँ-ऊँ !' हीराबाई ने गर्दन हिलाई। कान के झुमके हिल गए।

    हिरामन कुछ देर तक बैलों को हाँकता रहा चुपचाप। फिर बोला, 'गीत जरूर ही सुनिएगा? नहीं मानिएगा? इस्स! इतना सौक गाँव का गीत सुनने का है आपको! तब लीक छोड़ानी होगी। चालू रास्ते में कैसे गीत गा सकता है कोई!'

    हिरामन ने बाएँ बैल की रस्सी खींच कर दाहिने को लीक से बाहर किया और बोला, 'हरिपुर हो कर नहीं जाएँगे तब।'

    चालू लीक को काटते देख कर हिरामन की गाड़ी के पीछेवाले गाड़ीवान ने चिल्ला कर पूछा, 'काहे हो गाड़ीवान, लीक छोड़ कर बेलीक कहाँ उधर?'

    हिरामन ने हवा में दुआली घुमाते हुए जवाब दिया - 'कहाँ है बेलीकी? वह सड़क नननपुर तो नहीं जाएगी।' फिर अपने-आप बड़बड़ाया, 'इस मुलुक के लोगों की यही आदत बुरी है। राह चलते एक सौ जिरह करेंगे। अरे भाई, तुमको जाना है, जाओ। ...देहाती भुच्च सब!'

    नननपुर की सड़क पर गाड़ी ला कर हिरामन ने बैलों की रस्सी ढीली कर दी। बैलों ने दुलकी चाल छोड़ कर कदमचाल पकड़ी।

    हीराबाई ने देखा, सचमुच नननपुर की सड़क बड़ी सूनी है। हिरामन उसकी आँखों की बोली समझता है - 'घबराने की बात नहीं। यह सड़क भी फारबिसगंज जाएगी, राह-घाट के लोग बहुत अच्छे हैं। ...एक घड़ी रात तक हम लोग पहुँच जाएँगे।'

    हीराबाई को फारबिसगंज पहुँचने की जल्दी नहीं। हिरामन पर उसको इतना भरोसा हो गया कि डर-भय की कोई बात नहीं उठती है मन में। हिरामन ने पहले जी-भर मुस्करा लिया। कौन गीत गाए वह! हीराबाई को गीत और कथा दोनों का शौक है ...इस्स! महुआ घटवारिन? वह बोला, 'अच्छा, जब आपको इतना सौक है तो सुनिए महुआ घटवारिन का गीत। इसमें गीत भी है, कथा भी है।'

    ...कितने दिनों के बाद भगवती ने यह हौसला भी पूरा कर दिया। जै भगवती! आज हिरामन अपने मन को खलास कर लेगा। वह हीराबाई की थमी हुई मुस्कुराहट को देखता रहा।

    'सुनिए! आज भी परमार नदी में महुआ घटवारिन के कई पुराने घाट हैं। इसी मुलुक की थी महुआ! थी तो घटवारिन, लेकिन सौ सतवंती में एक थी। उसका बाप दारू-ताड़ी पी कर दिन-रात बेहोश पड़ा रहता। उसकी सौतेली माँ साच्छात राकसनी! बहुत बड़ी नजर-चालक। रात में गाँजा-दारू-अफीम चुरा कर बेचनेवाले से ले कर तरह-तरह के लोगों से उसकी जान-पहचान थी। सबसे घुट्टा-भर हेल-मेल। महुआ कुमारी थी। लेकिन काम कराते-कराते उसकी हड्डी निकाल दी थी राकसनी ने। जवान हो गई, कहीं शादी-ब्याह की बात भी नहीं चलाई। एक रात की बात सुनिए!'

    हिरामन ने धीरे-धीरे गुनगुना कर गला साफ किया -

    हे अ-अ-अ- सावना-भादवा के - र- उमड़ल नदिया -गे-में-मैं-यो-ओ-ओ,

    मैयो गे रैनि भयावनि-हे-ए-ए-ए;

    तड़का-तड़के-धड़के करेज-आ-आ मोरा

    कि हमहूँ जे बार-नान्ही रे-ए-ए ...।'

    ओ माँ! सावन-भादों की उमड़ी हुई नदी, भयावनी रात, बिजली कड़कती है, मैं बारी-क्वारी नन्ही बच्ची, मेरा कलेजा धड़कता है। अकेली कैसे जाऊँ घाट पर? सो भी परदेशी राही-बटोही के पैर में तेल लगाने के लिए! सत-माँ ने अपनी बज्जर-किवाड़ी बंद कर ली। आसमान में मेघ हड़बड़ा उठे और हरहरा कर बरसा होने लगी। महुआ रोने लगी, अपनी माँ को याद करके। आज उसकी माँ रहती तो ऐसे दुरदिन में कलेजे से सटा कर रखती अपनी महुआ बेटी को। गे मइया, इसी दिन के लिए, यही दिखाने के लिए तुमने कोख में रखा था? महुआ अपनी माँ पर गुस्साई - क्यों वह अकेली मर गई, जी-भर कर कोसती हुई बोली।

    हिरामन ने लक्ष्य किया, हीराबाई तकिए पर केहुनी गड़ा कर, गीत में मगन एकटक उसकी ओर देख रही है। ...खोई हुई सूरत कैसी भोली लगती है!

    हिरामन ने गले में कँपकँपी पैदा की -

    'हूँ-ऊँ-ऊँ-रे डाइनियाँ मैयो मोरी-ई-ई,

    नोनवा चटाई काहे नाहिं मारलि सौरी-घर-अ-अ।

    एहि दिनवाँ खातिर छिनरो धिया

    तेंहु पोसलि कि नेनू-दूध उगटन ..।

    हिरामन ने दम लेते हुए पूछा, 'भाखा भी समझती हैं कुछ या खाली गीत ही सुनती हैं?'

    हीरा बोली, 'समझती हूँ। उगटन माने उबटन - जो देह में लगाते हैं।'

    हिरामन ने विस्मित हो कर कहा, 'इस्स!' ...सो रोने-धोने से क्या होए! सौदागर ने पूरा दाम चुका दिया था महुआ का। बाल पकड़ कर घसीटता हुआ नाव पर चढ़ा और माँझी को हुकुम दिया, नाव खोलो, पाल बाँधो! पालवाली नाव परवाली चिड़िया की तरह उड़ चली। रात-भर महुआ रोती-छटपटाती रही। सौदागर के नौकरों ने बहुत डराया-धमकाया - चुप रहो, नहीं तो उठा कर पानी में फेंक देंगे। बस, महुआ को बात सूझ गई। भोर का तारा मेघ की आड़ से जरा बाहर आया, फिर छिप गया। इधर महुआ भी छपाक से कूद पड़ी पानी में। ...सौदागर का एक नौकर महुआ को देखते ही मोहित हो गया था। महुआ की पीठ पर वह भी कूदा। उलटी धारा में तैरना खेल नहीं, सो भी भरी भादों की नदी में। महुआ असल घटवारिन की बेटी थी। मछली भी भला थकती है पानी में! सफरी मछली-जैसी फरफराती, पानी चीरती भागी चली जा रही है। और उसके पीछे सौदागर का नौकर पुकार-पुकार कर कहता है - 'महुआ जरा थमो, तुमको पकड़ने नहीं आ रहा, तुम्हारा साथी हूँ। जिंदगी-भर साथ रहेंगे हम लोग।' लेकिन...।

    हिरामन का बहुत प्रिय गीत है यह। महुआ घटवारिन गाते समय उसके सामने सावन-भादों की नदी उमड़ने लगती है, अमावस्या की रात और घने बादलों में रह-रह कर बिजली चमक उठती है। उसी चमक में लहरों से लड़ती हुई बारी-कुमारी महुआ की झलक उसे मिल जाती है। सफरी मछली की चाल और तेज हो जाती है। उसको लगता है, वह खुद सौदागर का नौकर है। महुआ कोई बात नहीं सुनती। परतीत करती नहीं। उलट कर देखती भी नहीं। और वह थक गया है, तैरते-तैरते।

    इस बार लगता है महुआ ने अपने को पकड़ा दिया। खुद ही पकड़ में आ गई है। उसने महुआ को छू लिया है, पा लिया है, उसकी थकन दूर हो गई है। पंद्रह-बीस साल तक उमड़ी हुई नदी की उलटी धारा में तैरते हुए उसके मन को किनारा मिल गया है। आनंद के आँसू कोई भी रोक नहीं मानते।

    उसने हीराबाई से अपनी गीली आँखें चुराने की कोशिश की। किंतु हीरा तो उसके मन में बैठी न जाने कब से सब कुछ देख रही थी। हिरामन ने अपनी काँपती हुई बोली को काबू में ला कर बैलों को झिड़की दी - 'इस गीत में न जाने क्या है कि सुनते ही दोनों थसथसा जाते हैं। लगता है, सौ मन बोझ लाद दिया किसी ने।'

    हीराबाई लंबी साँस लेती है। हिरामन के अंग-अंग में उमंग समा जाती है।

    'तुम तो उस्ताद हो मीता!'

    'इस्स!'

    आसिन-कातिक का सूरज दो बाँस दिन रहते ही कुम्हला जाता है। सूरज डूबने से पहले ही नननपुर पहुँचना है, हिरामन अपने बैलों को समझा रहा है - 'कदम खोल कर और कलेजा बाँध कर चलो ...ए ...छि ...छि! बढ़के भैयन! ले-ले-ले-ए हे -य!'

    नननपुर तक वह अपने बैलों को ललकारता रहा। हर ललकार के पहले वह अपने बैलों को बीती हुई बातों की याद दिलाता - याद नहीं, चौधरी की बेटी की बरात में कितनी गाड़ियाँ थीं, सबको कैसे मात किया था! हाँ, वह कदम निकालो। ले-ले-ले! नननपुर से फारबिसगंज तीन कोस! दो घंटे और!

    नननपुर के हाट पर आजकल चाय भी बिकने लगी है। हिरामन अपने लोटे में चाय भर कर ले आया। ...कंपनी की औरत जानता है वह, सारा दिन, घड़ी घड़ी भर में चाय पीती रहती है। चाय है या जान!

    हीरा हँसते-हँसते लोट-पोट हो रही है - 'अरे, तुमसे किसने कह दिया कि क्वारे आदमी को चाय नहीं पीनी चाहिए?'

    हिरामन लजा गया। क्या बोले वह? ...लाज की बात। लेकिन वह भोग चुका है एक बार। सरकस कंपनी की मेम के हाथ की चाय पी कर उसने देख लिया है। बडी गर्म तासीर!

    'पीजिए गुरू जी!' हीरा हँसी!

    'इस्स!'

    नननपुर हाट पर ही दीया-बाती जल चुकी थी। हिरामन ने अपना सफरी लालटेन जला कर पिछवा में लटका दिया। आजकल शहर से पाँच कोस दूर के गाँववाले भी अपने को शहरू समझने लगे हैं। बिना रोशनी की गाड़ी को पकड़ कर चालान कर देते हैं। बारह बखेड़ा !

    'आप मुझे गुरू जी मत कहिए।'

    'तुम मेरे उस्ताद हो। हमारे शास्तर में लिखा हुआ है, एक अच्छर सिखानेवाला भी गुरू और एक राग सिखानेवाला भी उस्ताद!'

    'इस्स! सास्तर-पुरान भी जानती हैं! ...मैंने क्या सिखाया? मैं क्या ...?'

    हीरा हँस कर गुनगुनाने लगी - 'हे-अ-अ-अ- सावना-भादवा के-र ...!'

    हिरामन अचरज के मारे गूँगा हो गया। ...इस्स! इतना तेज जेहन! हू-ब-हू महुआ घटवारिन!

    गाड़ी सीताधार की एक सूखी धारा की उतराई पर गड़गड़ा कर नीचे की ओर उतरी। हीराबाई ने हिरामन का कंधा धर लिया एक हाथ से। बहुत देर तक हिरामन के कंधे पर उसकी उँगलियाँ पड़ी रहीं। हिरामन ने नजर फिरा कर कंधे पर केंद्रित करने की कोशिश की, कई बार। गाड़ी चढ़ाई पर पहुँची तो हीरा की ढीली उँगलियाँ फिर तन गईं।

    सामने फारबिसगंज शहर की रोशनी झिलमिला रही है। शहर से कुछ दूर हट कर मेले की रोशनी ...टप्पर में लटके लालटेन की रोशनी में छाया नाचती है आसपास।... डबडबाई आँखों से, हर रोशनी सूरजमुखी फूल की तरह दिखाई पड़ती है।

    फारबिसगंज तो हिरामन का घर-दुआर है!

    न जाने कितनी बार वह फारबिसगंज आया है। मेले की लदनी लादी है। किसी औरत के साथ? हाँ, एक बार। उसकी भाभी जिस साल आई थी गौने में। इसी तरह तिरपाल से गाड़ी को चारों ओर से घेर कर बासा बनाया गया था।

    हिरामन अपनी गाड़ी को तिरपाल से घेर रहा है, गाड़ीवान-पट्टी में। सुबह होते ही रौता नौटंकी कंपनी के मैनेजर से बात करके भरती हो जाएगी हीराबाई। परसों मेला खुल रहा है। इस बार मेले में पालचट्टी खूब जमी है। ...बस, एक रात। आज रात-भर हिरामन की गाड़ी में रहेगी वह। ...हिरामन की गाड़ी में नहीं, घर में!

    'कहाँ की गाड़ी है? ...कौन, हिरामन! किस मेले से? किस चीज की लदनी है?'

    गाँव-समाज के गाड़ीवान, एक-दूसरे को खोज कर, आसपास गाड़ी लगा कर बासा डालते हैं। अपने गाँव के लालमोहर, धुन्नीराम और पलटदास वगैरह गाड़ीवानों के दल को देख कर हिरामन अचकचा गया। उधर पलटदास टप्पर में झाँक कर भड़का। मानो बाघ पर नजर पड़ गई। हिरामन ने इशारे से सभी को चुप किया। फिर गाड़ी की ओर कनखी मार कर फुसफुसाया - 'चुप! कंपनी की औरत है, नौटंकी कंपनी की।'

    'कंपनी की -ई-ई-ई!'

    ' ? ? ...? ? ...!

    एक नहीं, अब चार हिरामन! चारों ने अचरज से एक-दूसरे को देखा। कंपनी नाम में कितना असर है! हिरामन ने लक्ष्य किया, तीनों एक साथ सटक-दम हो गए। लालमोहर ने जरा दूर हट कर बतियाने की इच्छा प्रकट की, इशारे से ही। हिरामन ने टप्पर की ओर मुँह करके कहा, 'होटिल तो नहीं खुला होगा कोई, हलवाई के यहाँ से पक्की ले आवें!'

    'हिरामन, जरा इधर सुनो। ...मैं कुछ नहीं खाऊँगी अभी। लो, तुम खा आओ।'

    'क्या है, पैसा? इस्स!' ...पैसा दे कर हिरामन ने कभी फारबिसगंज में कच्ची-पक्की नहीं खाई। उसके गाँव के इतने गाड़ीवान हैं, किस दिन के लिए? वह छू नहीं सकता पैसा। उसने हीराबाई से कहा, 'बेकार, मेला-बाजार में हुज्जत मत कीजिए। पैसा रखिए।' मौका पा कर लालमोहर भी टप्पर के करीब आ गया। उसने सलाम करते हुए कहा, 'चार आदमी के भात में दो आदमी खुसी से खा सकते हैं। बासा पर भात चढा हुआ है। हें-हें-हें! हम लोग एकहि गाँव के हैं। गौंवाँ-गिरामिन के रहते होटिल और हलवाई के यहाँ खाएगा हिरामन?'

    हिरामन ने लालमोहर का हाथ टीप दिया - 'बेसी भचर-भचर मत बको।'

    गाड़ी से चार रस्सी दूर जाते-जाते धुन्नीराम ने अपने कुलबुलाते हुए दिल की बात खोल दी - 'इस्स! तुम भी खूब हो हिरामन! उस साल कंपनी का बाघ, इस बार कंपनी की जनानी!'

    हिरामन ने दबी आवाज में कहा, 'भाई रे, यह हम लोगों के मुलुक की जनाना नहीं कि लटपट बोली सुन कर भी चुप रह जाए। एक तो पच्छिम की औरत, तिस पर कंपनी की!'

    धुन्नीराम ने अपनी शंका प्रकट की - 'लेकिन कंपनी में तो सुनते हैं पतुरिया रहती है।'

    'धत्!' सभी ने एक साथ उसको दुरदुरा दिया, 'कैसा आदमी है! पतुरिया रहेगी कंपनी में भला! देखो इसकी बुद्धि। सुना है, देखा तो नहीं है कभी!'

    धुन्नीराम ने अपनी गलती मान ली। पलटदास को बात सूझी - 'हिरामन भाई, जनाना जात अकेली रहेगी गाड़ी पर? कुछ भी हो, जनाना आखिर जनाना ही है। कोई जरूरत ही पड़ जाए!'

    यह बात सभी को अच्छी लगी। हिरामन ने कहा, 'बात ठीक है। पलट, तुम लौट जाओ, गाड़ी के पास ही रहना। और देखो, गपशप जरा होशियारी से करना। हाँ!'

    हिरामन की देह से अतर-गुलाब की खुशबू निकलती है। हिरामन करमसाँड़ है। उस बार महीनों तक उसकी देह से बघाइन गंध नहीं गई। लालमोहर ने हिरामन की गमछी सूँघ ली - 'ए-ह!'

    हिरामन चलते-चलते रूक गया - 'क्या करें लालमोहर भाई, जरा कहो तो! बड़ी जिद्द करती है, कहती है, नौटंकी देखना ही होगा।'

    'फोकट में ही?'

    'और गाँव नहीं पहुँचेगी यह बात?'

    हिरामन बोला, 'नहीं जी! एक रात नौटंकी देख कर जिंदगी-भर बोली-ठोली कौन सुने? ...देसी मुर्गी विलायती चाल!'

    धुन्नीराम ने पूछा, 'फोकट में देखने पर भी तुम्हारी भौजाई बात सुनाएगी?'

    लालमोहर के बासा के बगल में, एक लकड़ी की दुकान लाद कर आए हुए गाड़ीवानों का बासा है। बासा के मीर-गाड़ीवान मियाँजान बूढ़े ने सफरी गुड़गुड़ी पीते हुए पूछा, 'क्यों भाई, मीनाबाजार की लदनी लाद कर कौन आया है?'

    मीनाबाजार! मीनाबाजार तो पतुरिया-पट्टी को कहते हैं। ...क्या बोलता है यह बूढ़ा मियाँ? लालमोहर ने हिरामन के कान में फुसफुसा कर कहा, 'तुम्हारी देह मह-मह-महकती है। सच!'

    लहसनवाँ लालमोहर का नौकर-गाड़ीवान है। उम्र में सबसे छोटा है। पहली बार आया है तो क्या? बाबू-बबुआइनों के यहाँ बचपन से नौकरी कर चुका है। वह रह-रह कर वातावरण में कुछ सूँघता है, नाक सिकोड़ कर। हिरामन ने देखा, लहसनवाँ का चेहरा तमतम गया है। कौन आ रहा है धड़धड़ाता हुआ? - 'कौन, पलटदास? क्या है?'

    पलटदास आ कर खड़ा हो गया चुपचाप। उसका मुँह भी तमतमाया हुआ था। हिरामन ने पूछा, 'क्या हुआ? बोलते क्यों नहीं?'

    क्या जवाब दे पलटदास! हिरामन ने उसको चेतावनी दे दी थी, गपशप होशियारी से करना। वह चुपचाप गाड़ी की आसनी पर जा कर बैठ गया, हिरामन की जगह पर। हीराबाई ने पूछा, 'तुम भी हिरामन के साथ हो?' पलटदास ने गरदन हिला कर हामी भरी। हीराबाई फिर लेट गई। ...चेहरा-मोहरा और बोली-बानी देख-सुन कर, पलटदास का कलेजा काँपने लगा, न जाने क्यों। हाँ! रामलीला में सिया सुकुमारी इसी तरह थकी लेटी हुई थी। जै! सियावर रामचंद्र की जै! ...पलटदास के मन में जै-जैकार होने लगा। वह दास-वैस्नव है, कीर्तनिया है। थकी हुई सीता महारानी के चरण टीपने की इच्छा प्रकट की उसने, हाथ की उँगलियों के इशारे से, मानो हारमोनियम की पटरियों पर नचा रहा हो। हीराबाई तमक कर बैठ गई - 'अरे, पागल है क्या? जाओ, भागो!...'

    पलटदास को लगा, गुस्साई हुई कंपनी की औरत की आँखों से चिनगारी निकल रही है - छटक्-छटक्! वह भागा।

    पलटदास क्या जवाब दे! वह मेला से भी भागने का उपाय सोच रहा है। बोला, 'कुछ नहीं। हमको व्यापारी मिल गया। अभी ही टीसन जा कर माल लादना है। भात में तो अभी देर हैं। मैं लौट आता हूँ तब तक।'

    खाते समय धुन्नीराम और लहसनवाँ ने पलटदास की टोकरी-भर निंदा की। छोटा आदमी है। कमीना है। पैसे-पैसे का हिसाब जोड़ता है। खाने-पीने के बाद लालमोहर के दल ने अपना बासा तोड़ दिया। धुन्नी और लहसनवाँ गाड़ी जोत कर हिरामन के बासा पर चले, गाड़ी की लीक धर कर। हिरामन ने चलते-चलते रूक कर, लालमोहर से कहा, 'जरा मेरे इस कंधे को सूँघो तो। सूँघ कर देखो न?'

    लालमोहर ने कंधा सूँघ कर आँखे मूँद लीं। मुँह से अस्फुट शब्द निकला - ए - ह!'

    हिरामन ने कहा, 'जरा-सा हाथ रखने पर इतनी खुशबू! ...समझे!' लालमोहर ने हिरामन का हाथ पकड़ लिया - 'कंधे पर हाथ रखा था, सच? ...सुनो हिरामन, नौटंकी देखने का ऐसा मौका फिर कभी हाथ नहीं लगेगा। हाँ!'

    'तुम भी देखोगे?' लालमोहर की बत्तीसी चौराहे की रोशनी में झिलमिला उठी।

    बासा पर पहुँच कर हिरामन ने देखा, टप्पर के पास खड़ा बतिया रहा है कोई, हीराबाई से। धुन्नी और लहसनवाँ ने एक ही साथ कहा, 'कहाँ रह गए पीछे? बहुत देर से खोज रही है कंपनी...!'

    हिरामन ने टप्पर के पास जा कर देखा - अरे, यह तो वही बक्सा ढोनेवाला नौकर, जो चंपानगर मेले में हीराबाई को गाड़ी पर बिठा कर अँधेरे में गायब हो गया था।

    'आ गए हिरामन! अच्छी बात, इधर आओ। ...यह लो अपना भाड़ा और यह लो अपनी दच्छिना! पच्चीस-पच्चीस, पचास।'

    हिरामन को लगा, किसी ने आसमान से धकेल कर धरती पर गिरा दिया। किसी ने क्यों, इस बक्सा ढोनेवाले आदमी ने। कहाँ से आ गया? उसकी जीभ पर आई हुई बात जीभ पर ही रह गई ...इस्स! दच्छिना! वह चुपचाप खड़ा रहा।

    हीराबाई बोली, 'लो पकड़ो! और सुनो, कल सुबह रौता कंपनी में आ कर मुझसे भेंट करना। पास बनवा दूँगी। ...बोलते क्यों नहीं?'

    लालमोहर ने कहा, 'इलाम-बकसीस दे रही है मालकिन, ले लो हिरामन! हिरामन ने कट कर लालमोहर की ओर देखा। ...बोलने का जरा भी ढंग नहीं इस लालमोहरा को।'

    धुन्नीराम की स्वगतोक्ति सभी ने सुनी, हीराबाई ने भी - गाड़ी-बैल छोड़ कर नौटंकी कैसे देख सकता है कोई गाड़ीवान, मेले में?

    हिरामन ने रूपया लेते हुए कहा, 'क्या बोलेंगे!' उसने हँसने की चेष्टा की। कंपनी की औरत कंपनी में जा रही है। हिरामन का क्या! बक्सा ढोनेवाला रास्ता दिखाता हुआ आगे बढ़ा - 'इधर से।' हीराबाई जाते-जाते रूक गई। हिरामन के बैलों को संबोधित करके बोली, 'अच्छा, मैं चली भैयन।'

    बैलों ने, भैया शब्द पर कान हिलाए।

    '? ? ..!'

    'भा-इ-यो, आज रात! दि रौता संगीत कंपनी के स्टेज पर! गुलबदन देखिए, गुलबदन! आपको यह जान कर खुशी होगी कि मथुरामोहन कंपनी की मशहूर एक्ट्रेस मिस हीरादेवी, जिसकी एक-एक अदा पर हजार जान फिदा हैं, इस बार हमारी कंपनी में आ गई हैं। याद रखिए। आज की रात। मिस हीरादेवी गुलबदन...!'

    नौटंकीवालों के इस एलान से मेले की हर पट्टी में सरगर्मी फैल रही है। ...हीराबाई? मिस हीरादेवी? लैला, गुलबदन...? फिलिम एक्ट्रेस को मात करती है।

    तेरी बाँकी अदा पर मैं खुद हूँ फिदा,

    तेरी चाहत को दिलबर बयाँ क्या करूँ!

    यही ख्वाहिश है कि इ-इ-इ तू मुझको देखा करे

    और दिलोजान मैं तुमको देखा करूँ।

    ...किर्र-र्र-र्र-र्र ...कडड़ड़ड़डड़ड़र्र-ई-घन-घन-धड़ाम।

    हर आदमी का दिल नगाड़ा हो गया है।

    लालमोहर दौड़ता-हाँफता बासा पर आया - 'ऐ, ऐ हिरामन, यहाँ क्या बैठे हो, चल कर देखो जै-जैकार हो रहा है! मय बाजा-गाजा, छापी-फाहरम के साथ हीराबाई की जै-जै कर रहा हूँ।'

    हिरामन हड़बड़ा कर उठा। लहसनवाँ ने कहा, 'धुन्नी काका, तुम बासा पर रहो, मैं भी देख आऊँ।'

    धुन्नी की बात कौन सुनता है। तीनों जन नौटंकी कंपनी की एलानिया पार्टी के पीछे-पीछे चलने लगे। हर नुक्कड़ पर रूक कर, बाजा बंद कर के एलान किया जाना है। एलान के हर शब्द पर हिरामन पुलक उठता है। हीराबाई का नाम, नाम के साथ अदा-फिदा वगैरह सुन कर उसने लालमोहर की पीठ थपथपा दी - 'धन्न है, धन्न है! है या नहीं?'

    लालमोहर ने कहा, 'अब बोलो! अब भी नौटंकी नहीं देखोगे?' सुबह से ही धुन्नीराम और लालमोहर समझा रहे थे, समझा कर हार चुके थे - 'कंपनी में जा कर भेंट कर आओ। जाते-जाते पुरसिस कर गई है।' लेकिन हिरामन की बस एक बात - 'धत्त, कौन भेंट करने जाए! कंपनी की औरत, कंपनी में गई। अब उससे क्या लेना-देना! चीन्हेगी भी नहीं!'

    वह मन-ही-मन रूठा हुआ था। एलान सुनने के बाद उसने लालमोहर से कहा, 'जरूर देखना चाहिए, क्यों लालमोहर?'

    दोनों आपस में सलाह करके रौता कंपनी की ओर चले। खेमे के पास पहुँच कर हिरामन ने लालमोहर को इशारा किया, पूछताछ करने का भार लालमोहर के सिर। लालमोहर कचराही बोलना जानता है। लालमोहर ने एक काले कोटवाले से कहा, 'बाबू साहेब, जरा सुनिए तो!'

    काले कोटवाले ने नाक-भौं चढ़ा कर कहा - 'क्या है? इधर क्यों?'

    लालमोहर की कचराही बोली गड़बड़ा गई - तेवर देख कर बोला, 'गुलगुल ..नहीं-नहीं ...बुल-बुल ...नहीं ...।'

    हिरामन ने झट-से सम्हाल दिया - 'हीरादेवी किधर रहती है, बता सकते हैं?' उस आदमी की आँखें हठात लाल हो गई। सामने खड़े नेपाली सिपाही को पुकार कर कहा, 'इन लोगों को क्यों आने दिया इधर?'

    'हिरामन!' ...वही फेनूगिलासी आवाज किधर से आई? खेमे के परदे को हटा कर हीराबाई ने बुलाया - यहाँ आ जाओ, अंदर! ...देखो, बहादुर! इसको पहचान लो। यह मेरा हिरामन है। समझे?'

    नेपाली दरबान हिरामन की ओर देख कर जरा मुस्कराया और चला गया। काले कोटवाले से जा कर कहा, 'हीराबाई का आदमी है। नहीं रोकने बोला!'

    लालमोहर पान ले आया नेपाली दरबान के लिए - 'खाया जाए!'

    'इस्स! एक नहीं, पाँच पास। चारों अठनिया! बोली कि जब तक मेले में हो, रोज रात में आ कर देखना। सबका खयाल रखती है। बोली कि तुम्हारे और साथी है, सभी के लिए पास ले जाओ। कंपनी की औरतों की बात निराली होती है! है या नहीं?'

    लालमोहर ने लाल कागज के टुकड़ों को छू कर देखा - 'पा-स! वाह रे हिरामन भाई! ...लेकिन पाँच पास ले कर क्या होगा? पलटदास तो फिर पलट कर आया ही नहीं है अभी तक।'

    हिरामन ने कहा, 'जाने दो अभागे को। तकदीर में लिखा नहीं। ...हाँ, पहले गुरूकसम खानी होगी सभी को, कि गाँव-घर में यह बात एक पंछी भी न जान पाए।'

    लालमोहर ने उत्तेजित हो कर कहा, 'कौन साला बोलेगा, गाँव में जा कर? पलटा ने अगर बदनामी की तो दूसरी बार से फिर साथ नहीं लाऊँगा।'

    हिरामन ने अपनी थैली आज हीराबाई के जिम्मे रख दी है। मेले का क्या ठिकाना! किस्म-किस्म के पाकिटकाट लोग हर साल आते हैं। अपने साथी-संगियों का भी क्या भरोसा! हीराबाई मान गई। हिरामन के कपड़े की काली थैली को उसने अपने चमड़े के बक्स में बंद कर दिया। बक्से के ऊपर भी कपड़े का खोल और अंदर भी झलमल रेशमी अस्तर! मन का मान-अभिमान दूर हो गया।

    लालमोहर और धुन्नीराम ने मिल कर हिरामन की बुद्धि की तारीफ की, उसके भाग्य को सराहा बार-बार। उसके भाई और भाभी की निंदा की, दबी जबान से। हिरामन के जैसा हीरा भाई मिला है, इसीलिए! कोई दूसरा भाई होता तो...।'

    लहसनवाँ का मुँह लटका हुआ है। एलान सुनते-सुनते न जाने कहाँ चला गया कि घड़ी-भर साँझ होने के बाद लौटा है। लालमोहर ने एक मालिकाना झिड़की दी है, गाली के साथ - 'सोहदा कहीं का!'

    धुन्नीराम ने चूल्हे पर खिचड़ी च्ढ़ाते हुए कहा, 'पहले यह फैसला कर लो कि गाड़ी के पास कौन रहेगा!'

    'रहेगा कौन, यह लहसनवाँ कहाँ जाएगा?'

    लहसनवाँ रो पड़ा - 'ऐ-ए-ए मालिक, हाथ जोड़ते हैं। एक्को झलक! बस, एक झलक!'

    हिरामन ने उदारतापूर्वक कहा, 'अच्छा-अच्छा, एक झलक क्यों, एक घंटा देखना। मैं आ जाऊँगा।'

    नौटंकी शुरू होने के दो घंटे पहले ही नगाड़ा बजना शुरू हो जाता है। और नगाड़ा शुरू होते ही लोग पतिंगों की तरह टूटने लगते हैं। टिकटघर के पास भीड़ देख कर हिरामन को बड़ी हँसी आई - 'लालमोहर, उधर देख, कैसी धक्कमधुक्की कर रहे हैं लोग!'

    हिरामन भाय!'

    'कौन, पलटदास! कहाँ की लदनी लाद आए?' लालमोहर ने पराए गाँव के आदमी की तरह पूछा।

    पलटदास ने हाथ मलते हुए माफी माँगी - 'कसूरबार हैं, जो सजा दो तुम लोग, सब मंजूर है। लेकिन सच्ची बात कहें कि सिया सुकुमारी...।'

    हिरामन के मन का पुरइन नगाड़े के ताल पर विकसित हो चुका है। बोला, 'देखो पलटा, यह मत समझना कि गाँव-घर की जनाना है। देखो, तुम्हारे लिए भी पास दिया है, पास ले लो अपना, तमासा देखो।'

    लालमोहर ने कहा, 'लेकिन एक सर्त पर पास मिलेगा। बीच-बीच में लहसनवाँ को भी...।'

    पलटदास को कुछ बताने की जरूरत नहीं। वह लहसनवाँ से बातचीत कर आया है अभी।

    लालमोहर ने दूसरी शर्त सामने रखी - 'गाँव में अगर यह बात मालूम हुई किसी तरह...!'

    'राम-राम!' दाँत से जीभ को काटते हुए कहा पलटदास ने।

    पलटदास ने बताया - 'अठनिया फाटक इधर है!' फाटक पर खड़े दरबान ने हाथ से पास ले कर उनके चेहरे को बारी-बारी से देखा, बोला, 'यह तो पास है। कहाँ से मिला?'

    अब लालमोहर की कचराही बोली सुने कोई! उसके तेवर देख कर दरबान घबरा गया - 'मिलेगा कहाँ से? अपनी कंपनी से पूछ लीजिए जा कर। चार ही नहीं, देखिए एक और है।' जेब से पाँचवा पास निकाल कर दिखाया लालमोहर ने।

    एक रूपयावाले फाटक पर नेपाली दरबान खड़ा था। हिरामन ने पुकार कर कहा, 'ए सिपाही दाजू, सुबह को ही पहचनवा दिया और अभी भूल गए?'

    नेपाली दरबान बोला, 'हीराबाई का आदमी है सब। जाने दो। पास हैं तो फिर काहे को रोकता है?'

    अठनिया दर्जा!

    तीनों ने 'कपड़घर' को अंदर से पहली बार देखा। सामने कुरसी-बेंचवाले दर्जे हैं। परदे पर राम-बन-गमन की तसवीर है। पलटदास पहचान गया। उसने हाथ जोड़ कर नमस्कार किया, परदे पर अंकित रामसिया सुकुमारी और लखनलला को। 'जै हो, जै हो!' पलटदास की आँखें भर आई।

    हिरामन ने कहा, 'लालमोहर, छापी सभी खड़े हैं या चल रहे हैं?'

    लालमोहर अपने बगल में बैठे दर्शकों से जान-पहचान कर चुका है। उसने कहा, 'खेला अभी परदा के भीतर है। अभी जमिनका दे रहा है, लोग जमाने के लिए।'

    पलटदास ढोलक बजाना जानता है, इसलिए नगाड़े के ताल पर गरदन हिलाता है और दियासलाई पर ताल काटता है। बीड़ी आदान-प्रदान करके हिरामन ने भी एकाध जान-पहचान कर ली। लालमोहर के परिचित आदमी ने चादर से देह ढकते हुए कहा, 'नाच शुरू होने में अभी देर है, तब तक एक नींद ले लें। ...सब दर्जा से अच्छा अठनिया दर्जा। सबसे पीछे सबसे ऊँची जगह पर है। जमीन पर गरम पुआल! हे-हे! कुरसी-बेंच पर बैठ कर इस सरदी के मौसम में तमासा देखनेवाले अभी घुच-घुच कर उठेंगे चाह पीने।'

    उस आदमी ने अपने संगी से कहा, 'खेला शुरू होने पर जगा देना। नहीं-नहीं, खेला शुरू होने पर नहीं, हिरिया जब स्टेज पर उतरे, हमको जगा देना।'

    हिरामन के कलेजे में जरा आँच लगी। ...हिरिया! बड़ा लटपटिया आदमी मालूम पड़ता है। उसने लालमोहर को आँख के इशारे से कहा, 'इस आदमी से बतियाने की जरूरत नहीं।'

    घन-घन-घन-धड़ाम! परदा उठ गया। हे-ए, हे-ए, हीराबाई शुरू में ही उतर गई स्टेज पर! कपड़घर खचमखच भर गया है। हिरामन का मुँह अचरज में खुल गया। लालमोहर को न जाने क्यों ऐसी हँसी आ रही है। हीराबाई के गीत के हर पद पर वह हँसता है, बेवजह।

    गुलबदन दरबार लगा कर बैठी है। एलान कर रही है, जो आदमी तख्तहजारा बना कर ला देगा, मुँहमाँगी चीज इनाम में दी जाएगी। ...अजी, है कोई ऐसा फनकार, तो हो जाए तैयार, बना कर लाए तख्तहजारा-आ! किड़किड़-किर्रि-! अलबत्त नाचती है! क्या गला है! मालूम है, यह आदमी कहता है कि हीराबाई पान-बीड़ी, सिगरेट-जर्दा कुछ नहीं खाती! ठीक कहता है। बड़ी नेमवाली रंडी है। कौन कहता है कि रंडी है! दाँत में मिस्सी कहाँ है। पौडर से दाँत धो लेती होगी। हरगिज नहीं। कौन आदमी है, बात की बेबात करता है! कंपनी की औरत को पतुरिया कहता है! तुमको बात क्यों लगी? कौन है रंडी का भड़वा? मारो साले को! मारो! तेरी...।

    हो-हल्ले के बीच, हिरामन की आवाज कपड़घर को फाड़ रही है - 'आओ, एक-एक की गरदन उतार लेंगे।'

    लालमोहर दुलाली से पटापट पीटता जा रहा है सामने के लोगों को। पलटदास एक आदमी की छाती पर सवार है - 'साला, सिया सुकुमारी को गाली देता है, सो भी मुसलमान हो कर?'

    धुन्नीराम शुरू से ही चुप था। मारपीट शुरू होते ही वह कपड़घर से निकल कर बाहर भागा।

    काले कोटवाले नौटंकी के मैनेजर नेपाली सिपाही के साथ दौड़े आए। दारोगा साहब ने हंटर से पीट-पाट शुरू की। हंटर खा कर लालमोहर तिलमिला उठा, कचराही बोली में भाषण देने लगा - 'दारोगा साहब, मारते हैं, मारिए। कोई हर्ज नहीं। लेकिन यह पास देख लीजिए, एक पास पाकिट में भी हैं। देख सकते हैं हुजूर। टिकट नहीं, पास! ...तब हम लोगों के सामने कंपनी की औरत को कोई बुरी बात करे तो कैसे छोड़ देंगे?'

    कंपनी के मैनेजर की समझ में आ गई सारी बात। उसने दारोगा को समझाया - 'हुजूर, मैं समझ गया। यह सारी बदमाशी मथुरामोहन कंपनीवालों की है। तमाशे में झगड़ा खड़ा करके कंपनी को बदनाम ...नहीं हुजूर, इन लोगों को छोड़ दीजिए, हीराबाई के आदमी हैं। बेचारी की जान खतरे में हैं। हुजूर से कहा था न!'

    हीराबाई का नाम सुनते ही दारोगा ने तीनों को छोड़ दिया। लेकिन तीनों की दुआली छीन ली गई। मैनेजर ने तीनों को एक रूपएवाले दरजे में कुरसी पर बिठाया -'आप लोग यहीं बैठिए। पान भिजवा देता हूँ।' कपड़घर शांत हुआ और हीराबाई स्टेज पर लौट आई।

    नगाड़ा फिर घनघना उठा।

    थोड़ी देर बाद तीनों को एक ही साथ धुन्नीराम का खयाल हुआ - अरे, धुन्नीराम कहाँ गया?

    'मालिक, ओ मालिक!' लहसनवाँ कपड़घर से बाहर चिल्ला कर पुकार रहा है, 'ओ लालमोहर मा-लि-क...!'

    लालमोहर ने तारस्वर में जवाब दिया - 'इधर से, उधर से! एकटकिया फाटक से।' सभी दर्शकों ने लालमोहर की ओर मुड़ कर देखा। लहसनवाँ को नेपाली सिपाही लालमोहर के पास ले आया। लालमोहर ने जेब से पास निकाल कर दिखा दिया। लहसनवाँ ने आते ही पूछा, 'मालिक, कौन आदमी क्या बोल रहा था? बोलिए तो जरा। चेहरा दिखला दीजिए, उसकी एक झलक!'

    लोगों ने लहसनवाँ की चौड़ी और सपाट छाती देखी। जाड़े के मौसम में भी खाली देह! ...चेले-चाटी के साथ हैं ये लोग!

    लालमोहर ने लहसनवाँ को शांत किया।

    तीनों-चारों से मत पूछे कोई, नौटंकी में क्या देखा। किस्सा कैसे याद रहे! हिरामन को लगता था, हीराबाई शुरू से ही उसी की ओर टकटकी लगा कर देख रही है, गा रही है, नाच रही है। लालमोहर को लगता था, हीराबाई उसी की ओर देखती है। वह समझ गई है, हिरामन से भी ज्यादा पावरवाला आदमी है लालमोहर! पलटदास किस्सा समझता है। ...किस्सा और क्या होगा, रमैन की ही बात। वही राम, वही सीता, वही लखनलाल और वही रावन! सिया सुकुमारी को राम जी से छीनने के लिए रावन तरह-तरह का रूप धर कर आता है। राम और सीता भी रूप बदल लेते हैं। यहाँ भी तख्त-हजारा बनानेवाला माली का बेटा राम है। गुलबदन मिया सुकुमारी है। माली के लड़के का दोस्त लखनलला है और सुलतान है रावन। धुन्नीराम को बुखार है तेज! लहसनवाँ को सबसे अच्छा जोकर का पार्ट लगा है ...चिरैया तोंहके लेके ना जइवै नरहट के बजरिया! वह उस जोकर से दोस्ती लगाना चाहता है। नहीं लगावेगा दोस्ती, जोकर साहब?

    हिरामन को एक गीत की आधी कड़ी हाथ लगी है - 'मारे गए गुलफाम!' कौन था यह गुलफाम? हीराबाई रोती हुई गा रही थी - 'अजी हाँ, मरे गए गुलफाम!' टिड़िड़िड़ि... बेचारा गुलफाम!

    तीनों को दुआली वापस देते हुए पुलिस के सिपाही ने कहा, 'लाठी-दुआली ले कर नाच देखने आते हो?'

    दूसरे दिन मेले-भर में यह बात फैल गई - मथुरामोहन कंपनी से भाग कर आई है हीराबाई, इसलिए इस बार मथुरामोहन कंपनी नहीं आई हैं। ...उसके गुंडे आए हैं। हीराबाई भी कम नहीं। बड़ी खेलाड़ औरत है। तेरह-तेरह देहाती लठैत पाल रही है। ...वाह मेरी जान भी कहे तो कोई! मजाल है!

    दस दिन... दिन-रात...!

    दिन-भर भाड़ा ढोता हिरामन। शाम होते ही नौटंकी का नगाड़ा बजने लगता। नगाड़े की आवाज सुनते ही हीराबाई की पुकार कानों के पास मँडराने लगती - भैया ...मीता ...हिरामन ...उस्ताद गुरू जी! हमेशा कोई-न-कोई बाजा उसके मन के कोने में बजता रहता, दिन-भर। कभी हारमोनियम, कभी नगाड़ा, कभी ढोलक और कभी हीराबाई की पैजनी। उन्हीं साजों की गत पर हिरामन उठता-बैठता, चलता-फिरता। नौटंकी कंपनी के मैनेजर से ले कर परदा खींचनेवाले तक उसको पहचानते हैं। ...हीराबाई का आदमी है।

    पलटदास हर रात नौटंकी शुरू होने के समय श्रद्धापूर्वक स्टेज को नमस्कार करता, हाथ जोड़ कर। लालमोहर, एक दिन अपनी कचराही बोली सुनाने गया था हीराबाई को। हीराबाई ने पहचाना ही नहीं। तब से उसका दिल छोटा हो गया है। उसका नौकर लहसनवाँ उसके हाथ से निकल गया है, नौटंकी कंपनी में भर्ती हो गया है। जोकर से उसकी दोस्ती हो गई है। दिन-भर पानी भरता है, कपड़े धोता है। कहता है, गाँव में क्या है जो जाएँगे! लालमोहर उदास रहता है। धुन्नीराम घर चला गया है, बीमार हो कर।

    हिरामन आज सुबह से तीन बार लदनी लाद कर स्टेशन आ चुका है। आज न जाने क्यों उसको अपनी भौजाई की याद आ रही है। ...धुन्नीराम ने कुछ कह तो नहीं दिया है, बुखार की झोंक में! यहीं कितना अटर-पटर बक रहा था - गुलबदन, तख्त-हजारा! लहसनवाँ मौज में है। दिन-भर हीराबाई को देखता होगा। कल कह रहा था, हिरामन मालिक, तुम्हारे अकबाल से खूब मौज में हूँ। हीराबाई की साड़ी धोने के बाद कठौते का पानी अत्तरगुलाब हो जाता है। उसमें अपनी गमछी डुबा कर छोड़ देता हूँ। लो, सूँघोगे? हर रात, किसी-न-किसी के मुँह से सुनता है वह - हीराबाई रंडी है। कितने लोगों से लड़े वह! बिना देखे ही लोग कैसे कोई बात बोलते हैं! राजा को भी लोग पीठ-पीछे गाली देते हैं! आज वह हीराबाई से मिल कर कहेगा, नौटंकी कंपनी में रहने से बहुत बदनाम करते हैं लोग। सरकस कंपनी में क्यों नही काम करती? सबके सामने नाचती है, हिरामन का कलेजा दप-दप जलता रहता है उस समय। सरकस कंपनी में बाघ को ...उसके पास जाने की हिम्मत कौन करेगा! सुरक्षित रहेगी हीराबाई! किधर की गाड़ी आ रही है?

    'हिरामन, ए हिरामन भाय!' लालमोहर की बोली सुन कर हिरामन ने गरदन मोड़ कर देखा। ...क्या लाद कर लाया है लालमोहर?

    'तुमको ढूँढ़ रही है हीराबाई, इस्टिसन पर। जा रही है।' एक ही साँस में सुना गया। लालमोहर की गाड़ी पर ही आई है मेले से।

    'जा रही है? कहाँ? हीराबाई रेलगाड़ी से जा रही है?'

    हिरामन ने गाड़ी खोल दी। मालगुदाम के चौकीदार से कहा, 'भैया, जरा गाड़ी-बैल देखते रहिए। आ रहे हैं।'

    'उस्ताद!' जनाना मुसाफिरखाने के फाटक के पास हीराबाई ओढ़नी से मुँह-हाथ ढक कर खड़ी थी। थैली बढ़ाती हुई बोली, 'लो! हे भगवान! भेंट हो गई, चलो, मैं तो उम्मीद खो चुकी थी। तुमसे अब भेंट नहीं हो सकेगी। मैं जा रही हूँ गुरू जी!'

    बक्सा ढोनेवाला आदमी आज कोट-पतलून पहन कर बाबूसाहब बन गया है। मालिकों की तरह कुलियों को हुकम दे रहा है - 'जनाना दर्जा में चढ़ाना। अच्छा?'

    हिरामन हाथ में थैली ले कर चुपचाप खड़ा रहा। कुरते के अंदर से थैली निकाल कर दी है हीराबाई ने। चिड़िया की देह की तरह गर्म है थैली।

    'गाड़ी आ रही है।' बक्सा ढोनेवाले ने मुँह बनाते हुए हीराबाई की ओर देखा। उसके चेहरे का भाव स्पष्ट है - इतना ज्यादा क्या है?

    हीराबाई चंचल हो गई। बोली, 'हिरामन, इधर आओ, अंदर। मैं फिर लौट कर जा रही हूँ मथुरामोहन कंपनी में। अपने देश की कंपनी है। ...वनैली मेला आओगे न?'

    हीराबाई ने हिरामन के कंधे पर हाथ रखा, ...इस बार दाहिने कंधे पर। फिर अपनी थैली से रूपया निकालते हुए बोली, 'एक गरम चादर खरीद लेना...।'

    हिरामन की बोली फूटी, इतनी देर के बाद - 'इस्स! हरदम रूपैया-पैसा! रखिए रूपैया! क्या करेंगे चादर?'

    हीराबाई का हाथ रूक गया। उसने हिरामन के चेहरे को गौर से देखा। फिर बोली, 'तुम्हारा जी बहुत छोटा हो गया है। क्यों मीता? महुआ घटवारिन को सौदागर ने खरीद जो लिया है गुरू जी!'

    गला भर आया हीराबाई का। बक्सा ढोनेवाले ने बाहर से आवाज दी - 'गाड़ी आ गई।' हिरामन कमरे से बाहर निकल आया। बक्सा ढोनेवाले ने नौटंकी के जोकर जैसा मुँह बना कर कहा, 'लाटफारम से बाहर भागो। बिना टिकट के पकड़ेगा तो तीन महीने की हवा...।'

    हिरामन चुपचाप फाटक से बाहर जा कर खड़ा हो गया। ...टीसन की बात, रेलवे का राज! नहीं तो इस बक्सा ढोनेवाले का मुँह सीधा कर देता हिरामन।

    हीराबाई ठीक सामनेवाली कोठरी में चढ़ी। इस्स! इतना टान! गाड़ी में बैठ कर भी हिरामन की ओर देख रही है, टुकुर-टुकुर। लालमोहर को देख कर जी जल उठता है, हमेशा पीछे-पीछे, हरदम हिस्सादारी सूझती है।

    गाड़ी ने सीटी दी। हिरामन को लगा, उसके अंदर से कोई आवाज निकल कर सीटी के साथ ऊपर की ओर चली गई - कू-ऊ-ऊ! इ-स्स!

    -छी-ई-ई-छक्क! गाड़ी हिली। हिरामन ने अपने दाहिने पैर के अँगूठे को बाएँ पैर की एड़ी से कुचल लिया। कलेजे की धड़कन ठीक हो गई। हीराबाई हाथ की बैंगनी साफी से चेहरा पोंछती है। साफी हिला कर इशारा करती है ...अब जाओ। आखिरी डिब्बा गुजरा, प्लेटफार्म खाली सब खाली ...खोखले ...मालगाड़ी के डिब्बे! दुनिया ही खाली हो गई मानो! हिरामन अपनी गाड़ी के पास लौट आया।

    हिरामन ने लालमोहर से पूछा, 'तुम कब तक लौट रहे हो गाँव?'

    लालमोहर बोला, 'अभी गाँव जा कर क्या करेंगे? यहाँ तो भाड़ा कमाने का मौका है! हीराबाई चली गई, मेला अब टूटेगा।'

    - 'अच्छी बात। कोई समाद देना है घर?'

    लालमोहर ने हिरामन को समझाने की कोशिश की। लेकिन हिरामन ने अपनी गाड़ी गाँव की ओर जानेवाली सड़क की ओर मोड़ दी। अब मेले में क्या धरा है! खोखला मेला!

    रेलवे लाइन की बगल से बैलगाड़ी की कच्ची सड़क गई है दूर तक। हिरामन कभी रेल पर नहीं चढ़ा है। उसके मन में फिर पुरानी लालसा झाँकी, रेलगाड़ी पर सवार हो कर, गीत गाते हुए जगरनाथ-धाम जाने की लालसा। उलट कर अपने खाली टप्पर की ओर देखने की हिम्मत नहीं होती है। पीठ में आज भी गुदगुदी लगती है। आज भी रह-रह कर चंपा का फूल खिल उठता है, उसकी गाड़ी में। एक गीत की टूटी कड़ी पर नगाड़े का ताल कट जाता है, बार-बार!

    उसने उलट कर देखा, बोरे भी नहीं, बाँस भी नहीं, बाघ भी नहीं - परी ...देवी ...मीता ...हीरादेवी ...महुआ घटवारिन - को-ई नहीं। मरे हुए मुहर्तों की गूँगी आवाजें मुखर होना चाहती है। हिरामन के होंठ हिल रहे हैं। शायद वह तीसरी कसम खा रहा है - कंपनी की औरत की लदनी...।

    हिरामन ने हठात अपने दोनों बैलों को झिड़की दी, दुआली से मारते हुए बोला, 'रेलवे लाइन की ओर उलट-उलट कर क्या देखते हो?' दोनों बैलों ने कदम खोल कर चाल पकड़ी। हिरामन गुनगुनाने लगा - 'अजी हाँ, मारे गए गुलफाम...!'

    http://www.hindisamay.com/contentDetail.aspx?id=44&pageno=1



    0 0

    Hunger strike continues for fourteen days.Our unemployed children qualified SSC exams for posting as teachers.They waited for years and failed to get job whatsoever.They are on hunger strike and Progressive Bengal,Leftist,Secular and International Bengal is detached enough tobe indulged in Power Politics only.
    Shame!Shame! Shame!
    Shame on you,Bengal!
    Palash Biswas

    (Courtesy: Rwiti Roy)

    যে যেখানে লড়ে যায় আমাদেরই লড়া....

    "আমার এখন শুধু একটা মেয়ে চাই, আর এই চাকরিটা চাই," বলছিলেন শিক্ষক পদপ্রার্থী এক দিদি। এই চাকরিটার জন্য মানুষের বিয়ে, সন্তান, সংসার আটকে আছে, সেসব চুলোয় যাক, মানুষের খাওয়া পর্যন্ত আটকে আছে এদের চোট্টামোর চোটে। বারো দিন ধরে ভাতের মুখ দেখেননি। ডেটল এবং অম্রুতাঞ্জন ভেতরে পাঠাতে দেয়নি পুলিশ, অনশনকারীরা নাকি সেগুলো খেয়ে ফেলতে পারে।

    এসব প্রসঙ্গে আগে অনেকবার লিখেছি। বারবার করে এসে হাত ধরে ওনারা ধন্যবাদ দিচ্ছেন, যাদবপুর-প্রেসিডেন্সীর প্রশংসায় পঞ্চমুখ, বলছেন যে আগে বাড়ি থেকে বলত ওখানে গিয়ে কি হবে? এখন তোমাদের দেখে বুঝছি, এর পরে কোথাও কিছু হলে ডেকো, আমরাও গিয়ে পাশে দাঁড়াবো।

    শুধুমাত্র মানুষের পাশে দাঁড়িয়ে একধরণের আজব আনন্দ হয়। সেখানে তাদের বলতে হয়না, আমার পার্টি করবে? আমার হয়ে ঝাণ্ডা ধরবে? সেখানে আজিজুলদা হঠাৎ করে চায়ের দোকানে আমাদের চায়ের দাম দিয়ে দেন, অথচ আমরা জানি দিনের পর দিন এখানে থাকার কারণে আজিজুলদার কাছে টাকা নেই। সেখানে হরিদা হঠাৎ করে সবাইকে স্ট্রেপসিলস এনে খাওয়াতে থাকে। সেখানে সুভদ্রাদি বলেন, আরে তুমি রহমানের হাত থেকে ডকুমেণ্টটা কেড়ে নিয়ে দেখালেনা কেন? আমাদের ডকুমেণ্টগুলো কাল এসে বুঝে নেবে, যাতে পরের দিন দেখাতে পারো। সেখানে যাদবপুরের ইংরেজি বিভাগের এক অধ্যাপকের প্রতি আমার ঘৃণা, রাগ ভাগ করে নেন রহমানদা। আরেকজন দিদি, তিনি প্রেমিকের ভাইকে ফোন করে রিচার্জ করে দিতে বলে আমার দিকে তাকিয়ে লজ্জা লজ্জা ভাবে মিষ্টি করে হাসেন। সেখানে আমার এক বন্ধু হতাশ হয়ে কেঁদে ফেলে এঁদের জন্য, কারণ কিছু ছোট ছোট খুশি আর বড় একটা লড়াই করার দম ছাড়া এদের আর কিচ্ছু নেই। নাথিং। আর সেই ধৈর্য্যটাই প্রত্যেকদিন শিখছি ওঁদের কাছে।

    এ সপ্তাহটা পুঁজিবাদী মার্কেট ইকনমি অনুযায়ী, ভালবাসার সপ্তাহ। প্রত্যেকের কাছে অনুরোধ থাকবে, একবার সল্ট লেক আসুন। রোজ ডে'তে শৌখীনতার গোলাপকুঞ্জে মহুল ফুটুক। ভালবাসা ছড়িয়ে যাক সি সি ডি'র শীততাপনিয়ন্ত্রিত থেকে শহরের রাস্তায় রাস্তায়, ডিনার ডেট থেকে অবস্থানমঞ্চে।

    "দু আঙুলের টুসকিতে সিধে করে দেবার মতো
    সোজা নয় এ মহাযজ্ঞশালা.."

    Rwiti Roy's photo.
    Rwiti Roy's photo.
    Rwiti Roy's photo.

    যে যেখানে লড়ে যায় আমাদেরই লড়া....

    "আমার এখন শুধু একটা মেয়ে চাই, আর এই চাকরিটা চাই," বলছিলেন শিক্ষক পদপ্রার্থী এক দিদি। এই চাকরিটার জন্য মানুষের বিয়ে, সন্তান, সংসার আটকে আছে, সেসব চুলোয় যাক, মানুষের খাওয়া পর্যন্ত আটকে আছে এদের চোট্টামোর চোটে। বারো দিন ধরে ভাতের মুখ দেখেননি। ডেটল এবং অম্রুতাঞ্জন ভেতরে পাঠাতে দেয়নি পুলিশ, অনশনকারীরা নাকি সেগুলো খেয়ে ফেলতে পারে।

    এসব প্রসঙ্গে আগে অনেকবার লিখেছি। বারবার করে এসে হাত ধরে ওনারা ধন্যবাদ দিচ্ছেন, যাদবপুর-প্রেসিডেন্সীর প্রশংসায় পঞ্চমুখ, বলছেন যে আগে বাড়ি থেকে বলত ওখানে গিয়ে কি হবে? এখন তোমাদের দেখে বুঝছি, এর পরে কোথাও কিছু হলে ডেকো, আমরাও গিয়ে পাশে দাঁড়াবো।

    শুধুমাত্র মানুষের পাশে দাঁড়িয়ে একধরণের আজব আনন্দ হয়। সেখানে তাদের বলতে হয়না, আমার পার্টি করবে? আমার হয়ে ঝাণ্ডা ধরবে? সেখানে আজিজুলদা হঠাৎ করে চায়ের দোকানে আমাদের চায়ের দাম দিয়ে দেন, অথচ আমরা জানি দিনের পর দিন এখানে থাকার কারণে আজিজুলদার কাছে টাকা নেই। সেখানে হরিদা হঠাৎ করে সবাইকে স্ট্রেপসিলস এনে খাওয়াতে থাকে। সেখানে সুভদ্রাদি বলেন, আরে তুমি রহমানের হাত থেকে ডকুমেণ্টটা কেড়ে নিয়ে দেখালেনা কেন? আমাদের ডকুমেণ্টগুলো কাল এসে বুঝে নেবে, যাতে পরের দিন দেখাতে পারো। সেখানে যাদবপুরের ইংরেজি বিভাগের এক অধ্যাপকের প্রতি আমার ঘৃণা, রাগ ভাগ করে নেন রহমানদা। আরেকজন দিদি, তিনি প্রেমিকের ভাইকে ফোন করে রিচার্জ করে দিতে বলে আমার দিকে তাকিয়ে লজ্জা লজ্জা ভাবে মিষ্টি করে হাসেন। সেখানে আমার এক বন্ধু হতাশ হয়ে কেঁদে ফেলে এঁদের জন্য, কারণ কিছু ছোট ছোট খুশি আর বড় একটা লড়াই করার দম ছাড়া এদের আর কিচ্ছু নেই। নাথিং। আর সেই ধৈর্য্যটাই প্রত্যেকদিন শিখছি ওঁদের কাছে।

    এ সপ্তাহটা পুঁজিবাদী মার্কেট ইকনমি অনুযায়ী, ভালবাসার সপ্তাহ। প্রত্যেকের কাছে অনুরোধ থাকবে, একবার সল্ট লেক আসুন। রোজ ডে'তে শৌখীনতার গোলাপকুঞ্জে মহুল ফুটুক। ভালবাসা ছড়িয়ে যাক সি সি ডি'র শীততাপনিয়ন্ত্রিত থেকে শহরের রাস্তায় রাস্তায়, ডিনার ডেট থেকে অবস্থানমঞ্চে।

    "দু আঙুলের টুসকিতে সিধে করে দেবার মতো
    সোজা নয় এ মহাযজ্ঞশালা.."

    Like ·  · Share

    0 0
  • 02/07/15--07:06: Saffron Science
  • Saffron Science

    Vol - L No. 6, February 07, 2015 Anand Teltumbde 
      • latest issue img

        Anand Teltumbde (tanandraj@gmail.com) is a writer and civil rights activist of the Committee for the Protection of Democratic Rights, Maharashtra.

        Nationalism is an infantile thing. It is the measles of mankind.

        – Albert Einstein

        The culture vultures belonging to the Sangh Parivar have long been preying on every kind of lie and falsehood about the history of the subcontinent to establish their supremacist claim. The roots of the current Hindutva project may be traced to the intellectually rich incipient initiatives of the early stalwarts of the so-called Hindu Renaissance in Bengal – from Raja Ram Mohan Roy and Bankim Chandra Chatterjee to Swami Vivekananda – towards Hindu revivalism. But the palpable beginning of this supremacist project can only be traced to the intellectual juvenility of the Chitpawan reconstruction in Maharashtra, provoked mainly by the fall of Peshwai. It was articulated by Bal Gangadhar Tilak (The Arctic Home in the Vedas), Vinayak Damodar Savarkar (Six Glorious Epochs of Indian History), the progenitor of Hindutva, and the likes of Purushottam Nagesh Oak (claiming Taj Mahal as a Shiva temple and a Rajput palace named Tejo Mahalaya, this in his book, Taj Mahal: The True Story). Bordering on lunacy (or idiocy), Oak claimed that not only every medieval structure but also the Kaaba in Mecca as an ancient Hindu monument.

        These claims implicitly included Hindu supremacy in the sphere of science and technology, but they were never voiced aloud in specific terms, and in such an august forum as the 102nd Indian Science Congress (ISC), held recently in Mumbai under the aegis of the University of Mumbai. The shrillness of these claims was particularly discomfiting in the wake of a series of Hindutva overtures such as "love jihad", "ramzade – haramzade", "Bhagavad Gita as national scripture", "Madarsas as dens of terror training", "Godse as a patriot", etc, that have been played out by the saffron brigade accompanied by the deafening silence of the state.

        Comic Claims

        The ISC was formed on the lines of the British Association for the Advancement of Science, with the initiative of two British chemists, J L Simonsen and P S MacMahon, to stimulate scientific research in India through an annual meeting of research workers. Right from its first meeting that took place from 15 to 17 January 1914 at the premises of the Asiatic Society, Calcutta, with Asutosh Mukherjee, the then Vice-Chancellor of the Calcutta University, as president, it has been conducted rationally, discussing actual research in the sciences supported by empirical evidence. The ISC has never provided a platform to anyone unrelated to science. Given this convention, it is symptomatic that the ISC in Mumbai, the homeland of Hindutva, has given a platform to Hindutva ideologues to present their bizarre wares before the scientific community. On the second day of the Congress, a symposium on the "Ancient Sciences through Sanskrit" had been scheduled, inviting eight speakers to speak on ancient Indian botany and topics like the "Neuroscience of Yoga", "Scientific Principles of Ancient Indian Architecture and Civil Engineering", ancient Indian aviation technology, and ancient Indian surgery.

        On ancient Indian aviation technology, one captain Anand Bodas, a retired principal of a pilot training facility, delivered a 30-minute speech based on a paper he co-authored with a lecturer at Mumbai's Swami Vivekanand International School and Junior College. He claimed that the sages Agastya and Bharadwaja had invented jumbo aeroplanes in the Vedic age, 7,000 years ago. These planes flew not only from country to country but also to other planets; not just forward, but backwards and even sideways. They used various types of metal alloys in their construction and were piloted by men wearing "virus-proof, water-proof, and shock-proof" jackets made of fabric from underwater vegetation.

        Bodas exhorted the younger generation to study Bharadwaja's book Vimana Samhita, make the alloys in India and save foreign exchange. The radar system, called rooparkanrahasya, presented the actual shape of the aeroplane to the observer, instead of the mere blip. He claimed something which nobody on this earth seemed to know, that in 1895, a "full eight years before the Wright Brothers' first flight at Kitty Hawk, North Carolina, USA", a Marathi couple, "Shivkar Bapuji Talpade and his wife gave a thrilling demonstration flight on the Chowpatty beach in Mumbai". It is a different matter that the technical basis of the "Vedic Ion Engine" supposedly used by Talpade was trashed by researches that examined the technological feasibility of such flights (H S Mukunda et al, "A Critical Study of the Work 'Vymanika Shastra'", Indian Institute of Science, Bangalore) way back in 1974.

        Similar fantastic claims were made by other speakers. One ayurvedic physician, a general practitioner in Mumbai, described the advances made by Indian surgeons "thousands of years before the rise of the modern surgery". Indians had developed 20 types of sharp instruments and 101 blunt ones for surgeries. The former "were so sharp that they could split a human hair". Another presenter spoke of how "ancient Indian engineers had adequate knowledge of Indian botany and they effectively used it in their construction."

        The "forte" of this symposium was such that most ministers of the Modi government at the conference heightened its significance. For instance, Harsh Vardhan, the Union Minister for Science and Technology, said,

        Our scientists discovered the Pythagoras theorem, but we ... gave credit to the Greeks. We all know that we knew 'beejganit' much before the Arabs, but selflessly allowed it to be called Algebra.

        Such irrational claims by intellectuals of the Sangh Parivar were not unusual but they were now being made in a science forum before the scientific community. The claimants were surely emboldened by Prime Minister Narendra Modi who said at the dedication of a hospital of the Ambani Group in Mumbai on 25 October last year that the existence of Ganesha and Karna proved that plastic surgery and genetic science had existed in ancient India.

        National Phantasm

        Some scientists did publicly protest against the inclusion of such a pseudo-science in the ISC programme. The online petition initiated by an Indian scientist working for the US government agency, the National Aeronautics and Space Administration, was signed by about 1,500 scientists. But there were obviously many in the ISC and outside who condescended.

        None asked such simple questions to those comedians as to how and when this ancient treasure trove of knowledge had vanished to leave historical India pitiable on every conceivable count. All people are endowed with the capacity of generating and possessing knowledge which comes about in face of challenges. Indians, because of the rich natural endowment of the country, perhaps did not face as big challenges as others did and hence they did not have to use their capacity to invent/discover things. Moreover, this complacent state was fossilised by the contrivance of the caste system which permanently blocked the majority of people from access to knowledge.

        India did contribute to the pool of scientific knowledge in certain branches that were monopolised by the parasitic class of Brahmins who maintained an exclusive dominance over knowledge. For instance, they wove intricate philosophies and developed cognitive constructs and systems which covered astronomy, astrology, mathematics, and alchemy. The zero – largely acknowledged as India's contribution – necessarily falls in this class. It is in the abstract sphere that India seems to have made a significant contribution but in spheres that interface with labour, she had little contribution to make.

        India lagged in science and technology for production as it was cut off from the sphere of formal knowledge. For example, it did not know the arch, the most efficient curve in engineering, which made the superstructure with heavy cross-beaming too heavy for the foundation, eventually to collapse and vanish. It is therefore that India does not have any architectural evidence of her "greatness", including, of course, the interplanetary aeroplanes and surgical instruments. It perhaps did not know about the stitching of clothes until medieval times.

        Fascist Stratagem

        All these things, including External Affairs Minister Sushma Swaraj's shocking proposition for making Bhagavad Gita the "national scripture" or Human Resource Development Minister Smriti Irani's outrageous move to impose Sanskrit on the school curriculum are actually part of a well thought-out strategy of the Sangh Parivar. This is to transform India into a fascist state as fast as possible. Jingoistic cultural nationalism is a proven vehicle to create a national community required to realise the fascist motto of "one people, one culture, one leader". Projecting a development focus, promoting super power discourse, posturing with rhetorical bravado, picturing a glorious past, shadow-boxing an enemy, all this with massive inputs of lies and falsehoods, and with a deliberate anti-intellectual stance, are also established characteristics of the fascist modus operandi.

        If this is understood, there may not be any more surprises about the raw antics of certain constituents of the Sangh Parivar and silence of the so-called saner people within it. The process necessarily involves "othering", which is served well by these antics. They are meant to communally polarise people so as to consolidate and expand the Parivar's Hindu constituency. Adivasis and Dalits, a potential threat to the Hindutva project, having been Hinduised and Brahminised, respectively, the other minorities would be terrorised into submission.

        The project of speedy saffronisation of all institutions is in full swing. Space to pseudoscience presentation in the ISC is just a gauge to assess it. A minor protest of a thousand odd scientists in an online petition in a country that boasts of the second largest pool of scientists and engineers in the world reveals that the danger of fascism is close upon us.

         

      • The space given to pseudoscience of the Hindutva variety at the Indian Science Congress must be viewed as part of the ominous process of all-round saffronisation that is presently underway.


older | 1 | .... | 60 | 61 | (Page 62) | 63 | 64 | .... | 303 | newer