Are you the publisher? Claim or contact us about this channel


Embed this content in your HTML

Search

Report adult content:

click to rate:

Account: (login)

More Channels


Channel Catalog


Channel Description:

This is my Real Life Story: Troubled Galaxy Destroyed Dreams. It is hightime that I should share my life with you all. So that something may be done to save this Galaxy. Please write to: bangasanskriti.sahityasammilani@gmail.comThis Blog is all about Black Untouchables,Indigenous, Aboriginal People worldwide, Refugees, Persecuted nationalities, Minorities and golbal RESISTANCE.

older | 1 | .... | 36 | 37 | (Page 38) | 39 | 40 | .... | 303 | newer

    A crusade to sell off the Nation by the children of neo liberalism!

    Palash Biswas

    The land acquisition act,environment laws,mining act,labour laws have to be amended just because a nationwide deportation, deforestation and and displacing campaign is being launched by the neo nazi regime to hand over all natural resources to foreign capital.Mind you,India will allow locally registered foreign firms to mine and sell coal when commercial mining is permitted as part of the opening up of the nationalised industry after four decades, Coal Secretary Anil Swarup told Reuters.


    Here you may see the latest example of the inclusive trickling growth story which is all about the growth of the children of new liberalism as SBI defends $1 billion loan to Adani for Oz coal project, says money disbursal after scrutiny!It exposes the great growth story of one of India Incs for which  all toasts are meant.


    Coal scam is not all about illegal distribution of national resources,it is about the money laundering also.


    The Indian banking sector specifically PSU banks have been misused to pump in capital into private companies depriving the common people in need and nobody may guess the exact amount of the money diverted to Indian power politics.


    Indian Banking system,thus,undermined to hand over it to the great children of the neoliberalism of hindu nation agenda which has a vital statistics related to the neo nazi rulers` size zero profile so much so attractive with myths,legends,holy scripts replacing constitution,history and knowledge irrespective of disciplines and genres.


    It is the linguistics and aesthetics of open market economy which is nothing but ethnic cleansing, apartheid,exclusion and the growth of free flow foreign capital as well as foreign interests which enriches the children of the neo liberalism most.


    Indian politics is reduced as  a mafia network of anti people millionaires and billionaires which never does represent the voters, taxpayers and common masses in general.As they happen to be the representative of India insc and foreign capital.


    It is a whole sole FDI politics which engages us most and it is the mother of all scams,scandals and warcrimes against humanity.


    This FDI politics has failed Indian democracy in which we are digital biometric citizens remote controlled and have no rights at all.


    Here you are!


    Amid controversy over sanctioning a $1 billion loan (nearly Rs. 62,000 crore at current exchange rates) to Adani Group, SBI said Thursday it had only signed a preliminary MoU and will disburse the money only after proper due diligence.

    To end a chronic coal shortage that cripples power plants and curb the country's imports of the fuel, the Narendra Modi government will also spend about $1 billion by 2019 to buy railway wagons and transport coal from remote mines, Swarup said in an interview on Thursday.

    The government last month made provisions for private firms to commercially mine coal but did not set any timeline for when actual digging will start.

    The decision will open the door to global giants like Rio Tinto (RIO.L) and BHP Billiton (BHP.AX) and help ramp up output from India's huge reserves - the world's fifth biggest.



    Without reading the history of Hindu imperialism we may not understand the phenomenon of neo liberalism, global hindutva and its agenda of hindutva and hindu nation intermingled with neo nazi open market economy of mass destruction and ethnic cleansing.


    Pl read: https://archive.org/stream/HistroyOfHinduImperialism/Histroy%20of%20Hindu%20Imperialism


    Those who rule the nation,those who rule the economy and those who rule the people of India,happen to be Most of the children of liberalisation.


    For the the children of liberalisation the nation is a booty to take away abroad and it is the cloud technology to go global.


    It is sensex carnival as the war against the people of India in every sphere of life is being intensified helped by imperialism and neo nazi regime global aligned with global Hindutva which has got the helms of the Nation.


    It is a mega exercise to kill the constitution.

    It is a mega event worldwide to kill the great Indian People`s Republic.


    Just because,as they complain since 2011, large chunks of the economy have been gripped by policy paralysis. Companies in the natural resources sector have of course been high-profile victims, but manufacturing too has suffered as the economy has slowed.


    It is all round cake walk for the  children of liberalisation just because the Modi government has been seeking to break this logjam since taking charge in May with a series of reform measures. The impact this has will be reflected in time.



    SBI had signed a pact sanctioning $1 billion loan to Adani Group's coal project in Australia on the sidelines of Prime Minister Narendra Modi's visit to the country.

    "We clarify that this is a memorandum of understanding. This is not a loan sanction that we have given. It will go through proper due diligence both on the credit side as well as on the viability side," SBI chairperson Arundhati Bhattacharya said in Delhi.

    "So all of that will be done. The board will take a call and then only loan will be given," she said.

    Asked about the exposure of SBI if its board approves the loan, Bhattacharya said the net exposure would be to the tune of $200 million as there are some repayments also from the company.

    On concerns being raised by environmentalists over the port of the shipment, she added, "We also checked with Queensland's government they have clearly said that there is no environmental issue...the threat to Great Barrier Reef is much more from the star fish attack.

    "It is not from the Abbot Point port and today Abbot point coal come at $42 fob (free on board) which is much below better than international prices ruling today and quality of coal is very good. It is non-polluting in nature."     

    Meanwhile, the Congress raised concern over the $1 billion loan to the Adani group for the Carmichael coal mine.

    "What was the propriety of the SBI giving the loan to Adani, who was sitting next to Prime Minister during the visit, at a time when some five foreign banks have denied credit to the group for the project?" party general secretary Ajay Maken said.

     

    Refuting the charges, a senior official of Adani Group said, "There are already a couple of international banks which have already funded our acquisition of mines in Australia. I don't think it is for public consumption for us to tell which banks are currently considering the project in different stages of approval.

    The development of the coal mine located at Queensland in Australia and required infrastructure including railways would cost $7.6 billion.

    Australia's federal and Queensland governments are eager to see the mine built following the loss of more than 4,000 coal jobs over the past two years, but analysts and project finance experts believe Adani may have underestimated the challenge of raising funds for the project.

    Adani, which is also facing a campaign by anti-coal campaigners, is counting on lining up funding from South Korea, having named POSCO Engineering & Construction Co Ltd as the preferred contractor to build its rail line.

    Adani's apparent momentum on the Carmichael project is in stark contrast to rival Indian firm GVK's slow progress on another huge coal mine in the Galilee Basin, the Alpha project, which is co-owned by Australian billionaire Gina Rinehart.

    Much bigger coal rivals, like BHP Billiton and Glencore, have also shelved coal developments in Queensland at a time when a third of Australia's coal output is making losses.

    First Book: 
    The Dark World Of Hinduism


    Hinduizm
    Hindu recluses believe that a life of hunger, destitution and pain will lead them to Brahma. Their state of self-inflicted suffering is an aberration disapproved of by Islam. Allah says in the Qur'an that "He does not want any injustice for His servants" (Surah Ghafir: 31)
    The first religion that springs to mind when Eastern Religions are mentioned is the superstitious religion of Hinduism with its 900 million followers. This is a significant number. Around 15% of the world population follows Hinduism and a great proportion of India, Nepal and Indonesia are Hindu. Approximately 90% of India's population or 700 million of its people believe in Hinduism.
    Strictly speaking it is wrong to call Hinduism a religion, because whereas Islam, Christianity and Judaism (though Christianity and Judaism were altered after their revelation) are true religions based on Divine revelation, Hinduism is a philosophy, a way of life and a culture originating from superstitious traditions that developed over many centuries. When we say "Hinduism is a false religion", we are speaking of the centuries old pagan Hindu culture.
    Throughout history the lands around the Indus River have been populated by different cultures with different beliefs and traditions. India has been occupied many times. The oldest known conquerors of these lands are the Aryans who, descended from the North West and occupied Northern India between BC 2500-1500. This was not just a military occupation of Indian lands; the Aryans established their own civilization formed by synthesizing their own culture with elements of the native traditions. Whilst the native Indians were dark-skinned, Aryans were a white-skinned and tall race and the new culture was racist; it privileged the whites at the expense of the native population.
    The Vedas written by the Aryans in Sanskrit around 1000 BC are generally acknowledged to be the oldest known Hindu texts. In the subsequent periods more texts by different authors were added to the Vedas, which when combined, became acknowledged as the so-called sacred texts of Hinduism containing the perverted beliefs of the superstitious Hindu religion. Hinduism is therefore a "man-made" belief system based on the texts of the Aryan warriors who conquered India as opposed to Allah's revelation. With the British occupation of India in 1829 this perverse faith began to be called Hinduism, which is an amalgamation of myth, pagan texts, ancient and primitive traditions, folklore, rituals and practices. In addition, it is not possible to define it as a religion based on a single source book, established rules or a certain founder. Hinduism changes from village to village, town to town, even from family to family and these differences prove that it is a "personal, pagan way of life." The author of History of Hindu Imperialism, Swami Dharma Theertha explains:

    Frankly speaking, it is not possible to say definitely who is a Hindu and what Hinduism is. These questions have been considered again and again by eminent scholars, and so far no satisfactory answer has been given. Hinduism has within itself all types of religions such as theism, atheism, polytheism, Adwitism, Dwaitism, Saivism, Vaishnavism, and so forth. It contains nature worship, ancestor worship, animal worship, idol worship, demon worship, symbol worship and self worship. Its conflicting philosophies will confound any ordinary person. From barbarous practices and dark superstitions, up to the most mystic rites and sublime philosophies, there is place for all gradations and varieties in Hinduism. Similarly, among the Hindu population there are half barbarian wild tribes, and depressed classes and untouchables, along with small numbers of cultured, gentle natures and highly evolved souls.3 
    Hinduizm
    Hindu recluses walk the streets semi-naked, hungry and thirsty. Hair and beard are indiscernible and their appearance is filthy and dusted. They consider this way of life a virtue. These practices under the name of worship will neither benefit them on earth nor in the hereafter.

    Independent India's first prime minister (1947-1964) Pandit Nehru defines Hinduism in a similar way:

    "Hinduism, as a faith, is vague, amorphous, many-sided, all things to all men. It is hardly possible to define it, or indeed to say definitely whether it is a religion or not, in the usual sense of the word. In its present form, and even in the past, it embraces many beliefs and practices, from the highest to the lowest, often opposed to or contradicting each other."4

    Ayetler
    We only send the Messengers to bring good news and to give warning. Those who disbelieve use fallacious arguments to deny the truth. They make a mockery of My Signs and also of the warning they were given. (Surat al-Kahf: 56)

    To sum up, Hinduism permits idolatry, the lowest forms of paganism, and unites people who worship satan, idols, trees, mountains, rivers and plants under one heretical system of belief. People are free to choose which idols they serve or to make some of their own, to create their own form of deviating beliefs and to bless them in their own shallow minds. This twisted mentality makes Hinduism, which is a wholly corrupted system of belief with its 300 million odd idols, a perverse religion and a dark way of life with endless variations. It is an oppressive and totalitarian way of life that controls it adherents round the clock. We will examine superstitious Hindu traditions, inter personal relations, and unjust social system in great detail over the next few chapters. It is possible to see it everywhere in life; in a twisted nationalism that is more akin to racism, in its hostility towards other nations, in national policies and in every other aspect of life, from how to eat to how to wash. Hindus believe that if they live their whole lives according to Hindu scriptures, they will be on the "right path". Because of this, they make a grave error by being a Hindu as it cannot provide anything of benefit in this life, or the hereafter. Hinduism is a false religion that is destined to be wiped off the face of the earth in light of the true faith. Our Lord states:
    Say: "Truth has come and falsehood has vanished. Falsehood is always bound to vanish." (Surat al-Isra': 81)

    FOOTNOTES



    3. Swami Dharma Theertha, History of Hindu Imperialism, Madras, 1992, s. 178. http://www.geocities.com/Athens/Agora/4229/in15.html
    4. Jawaharlal Nehru, The Discovery of India, New Delhi, 1983, s. 75. http://www.geocities.com/Athens/Agora/4229/in15.html


    0 0


    উড়ীষ্যাঃ৬২ বৎসরের পুনর্বাসিত পরিবারকে বাস্তুচ্যুত করার সরকারি অপপ্রচেষ্টা

    হস্তক্ষেপ প্রতিনিধিচিল্কা লেক থেকে– ১৪.১১.২০১৪ ভুষণ্ডপুর – গত আগষ্ট ২০১৪ থেকে ভুষণ্ডপুর অঞ্চলে বসবাসরত ২৬ টি পরিবারে সদস্যদের রাতের ঘুম আর দিনের আহার বন্ধ হয়ে গেছে । দেশভাগের দুর্বিষহ যন্ত্রণা সহ্য করে চোদ্দ পুরুষের বাস্তু ভিটা থেকে উৎখাত হওয়া নিরিহ মানুষগুলো আজ আবার সরকারি কলের হুমকিতে আতঙ্কিত, ভয়ভীত । দেশ ভাগের জন্য যে নিরিহ মানুষেরা কোন মতেই দায়ী নয় কিন্তু তাদেরকেই পেতে হোয়েছে চরম শাস্তি । কি দোষ ছিল এই খেটে খাওয়া, মাটির মানুষগুলোর যার ফলে তাদেরকে পারি জমাতে হয়েছিল নিরুদ্দেশ্যের পথে । তাদের প্রতি প্রথম থেকেই শুরু হল অবমাননার ব্যবহার । উদ্বাস্তু, রিফ্যুজী, শরণার্থী, অনুপ্রবেশকারীর আখ্যা নিয়ে সেই ১৯৪৭-৪৮ সাল থেকে তারা এক অপমানিতে জীবন যাপন করে আসছে । আজ তাদের চতুর্থ প্রজন্মেও তারা ভারতে সামজিক, অর্থনৈতিক ও শৈক্ষনিক ভাবে সমকক্ষতা লাভ করে নাই, কি দোষ তাদের ?

    এই বাস্তুহারা বঞ্চিত লোকদের সুষ্ঠু পুনর্বাসনের দায়িত্ব নিয়ে ভারত সরকার দায়সারা ভাবে কাজ সেরেছে, বিশেষ করে ওড়িশার খোর্দ্ধা জেলার ভুষণ্ডপুর এলাকাতে । এখানে পুনর্বসিত ৯৩১ টি পরিবারকে ৬ টি কলোনীতে (গ্রাম নয়) পুনর্বাসন করা হয়েছিল ১৯৫০ সালের পর থেকে কয়েকটি দফায় । তাদের মধ্যে মাত্র ১৭৫ টি পরিবারই জমির মালিকানা হাসিল করতে সক্ষম হয়েছে । অবশিষ্ট ৭৫৬ টি পরিবারের কাছে জমির অস্থায়ী নথী-পত্র থাকলেও এই ২৬ টি পরিবারেরকে বাস্তু ভিটার কোন নথি পত্র প্রাদান করে নাই প্রশাসন । কারণ যে জায়গায় তাদেরকে ঘর তৈরী করে প্রদান করা হয়েছিল সরকারী রেকর্ডে সেই জায়গা নাকি শ্মশান ও গোচর ভুমি যার কারণে প্রশাসন জমির নথী-পত্র প্রদান করে নাই । উল্লেখযোগ্য যে এরা সকলেই প্রাপ্ত চাষের জমির মালিকানার স্বত্ব পেয়েছেন । এই সরকারী গাফিলতি জানার কোন উপায় ছিল না শিক্ষাহীন নিরিহ মানুষগুলোর পক্ষে । ৩১/০৭/২০১৪তারিখেকিছু হীনমনা ব্যক্তি হাই কোর্টে পি আই এল কেস করে উচ্চ ন্যায়ালয়ের কাছে আবেদন করে যে এই সব জমি মাফিয়েদের দ্বারা দখল করা সরকারী জায়গা বেদখল করা হোক । উচ্চ ন্যায়ালয় টাঙ্গী তহশীলদারকে ব্যপারটা পরীক্ষা করে বিধিবদ্ধ কার্যপন্থা গ্রহণ করতে নির্দেশ দেয়, ন্যায়লয় কখনই তাদেরকে বাস্তুচ্যুত করার কথা বলেন নাইউক্ত আদেশের বলে স্থানীয় তহশীলদার মহাশয়া নিজের সক্ষমতা জাহির করতে সেই ২৬ টি বসত বাড়ি ভেঙ্গে দেওয়ার জন্য হুমকি দেন বারম্বার গত ১১/১১/২০১৪ সালে তহশীলদার মহাশয়া পুলিস ফোর্স নিয়ে ঘর ভাঙ্গা শুরু করে দেন এবং কিছু দোকান ঘর, প্রাচীর ইত্যাদি ভাঙ্গতে সক্ষম হন তবে স্থানীয় জনগণ ঐক্যবদ্ধ ভাবে প্রতিরোধ করাতে বসত বাড়ি ভাঙা আপাতঃত স্থগিত রয়েছে ।

    তহশীলদার মহাশয়া ঘর ভাঙ্গতে না পারাতে প্রভাবিত লোকেদের উপর নিজের রোষ জাহির করে হুমকি দেন যে আপনারা চাষের জমিতে গিয়ে থাকুন, আপনারা আজ না হয় আমাকে ঠেকিয়েছেন আগামী দিনে আমি আরো বেশী পুলিস ফোর্স নিয়ে আসব তখন আপনাদের দেখিয়ে  দেব । এই ঘটনার খবর পেয়েই নিখিল ভারত উদ্বাস্তু সমন্বয় সমিতির রাজ্য শাখার সভাপতি শ্রীদামকান্তি বিশ্বাস ও উপসভাপতি লালন দাস মহাশয় ভুষণ্ডপুরে উপস্থিত হন ১৩/১১/২০১৪ সকাল বেলায় । ওনারা  ঘটনাস্থল পরিদর্শন করার পর অপরাহ্নে বালিপাটপুরে গোবিন্দ মন্দির প্রাঙ্গনে এক বিরাট জন সভা করেন তাঁরা জনগণকে ঐক্যবদ্ধ হয়ে সংগ্রাম করার জন্য উদ্বুদ্ধ করেন ও বলেন যে নিখিল ভারত সমন্বয় সমিতি সবরকম সাহায্য করতে প্রস্তুত । ১৪ তারিখে ঘটনাস্থলে উপস্থিত হন রাজ্য শাখার যুগ্ম সম্পাদক উজ্জ্বল বিশ্বাস সহ কেন্দ্র সমিতির উপদেষ্টা তথা মালকানগিরির পূর্বতন বিধায়ক নিমাইঁ চন্দ্র সরকার মাহাশয় ওনারা যৌথ ভাবে  পুনরায় প্রভাবিত অঞ্চল পরিদর্শন করে প্রভাবিত ব্যক্তিদের সাথে আলাপ-আলোচনা করে তাদেরকে আশ্বাসনা প্রদান করেন ও ঐক্যবদ্ধ ভাবে থাকার পরামর্শ দেন ।

    উক্ত দিনের সন্ধায় পুনরায় বালিপাটপুরে গোবিন্দ মন্দির প্রাঙ্গনে মাননীয় সূধীর সর্দার মহাশয়ের সভাপতিত্বে এক জনসভায় চার কর্মকর্ত্তাই যোগ দেন । খোর্দ্ধ জেলা শাখার সভাপতি শ্রী মনোরঞ্জন হালদার উক্ত ঘটনাবলি উপস্থাপন করেন সেখানে নিমাইঁ বাবু তার ভাষণে উপস্থিত জনমানসকে একজুট হয়ে লড়াই করার পরামর্শ দেন এবং উল্লেখ করেন যে তিনি নিজে সব রকম সাহায্য করতে প্রস্তুত এবং লড়াইএর সামনের সাড়িতে তিনি নিজে থাকবেন শেষে উজ্জ্বল বাবুর প্রস্তাবক্রমে সভায় উপস্থিত বিশিষ্ট ব্যক্তি নর্মল মালি, অশ্বিনি মণ্ডল এবং অন্যান্য জনগণ আগামী দিনে ওড়িশা বিধান সভা চলাকালীন ভুবনেশ্বরে ধর্ণা তথা রাজ্য ও কেন্দ্র সরকারকে জ্ঞাপন দেওয়ার সিদ্ধান্ত গ্রহণ করেন এবং সকলেই সমস্বরে ঐক্যবদ্ধ আন্দোলন করার প্রতিশ্রুতি দেন ।

    ইতিমধ্যে রাজ্য শাখার উপসভাপতি খগেন্দ্রনাথ মণ্ডল, সমাজসবী গোবিন্দলাল রায়, গোবর্দ্ধনপুর কলোনির জগন্নাথ সরকার প্রমুখ ব্যক্তিগণ হাই কোর্ট থেকে রহিতাদেশ বের করতে সমর্থ হয়ছেন ।      

        

        



    Please find enclosed attachments regarding bhusnadpur case.


    0 0
  • 11/21/14--00:01: हमें संविधान दिवस तक मनाने की इजाजत नहीं है,ऐसी है हमारी भारतीय नागरिकता और ऐसा है बाबासाहेब नामक हमारा एटीएम! समझ लीजिये कि भोपाल गैस त्रासदी, बाबरी विध्वंस,सिख संहार,गुजरात नरसंहार में अगर अमेरिका नागरिक मारे गये होते तो क्या होता! हम भारतीय नागरिक कीड़ों मकोडो़ं की तरह नर्क जीते हुए कीड़ों मकोड़ों की तरह देश विदेश में रोज रोज मरते हैं,मारे जाते हैं,यह सिर्फ इसलिए कि हमें अपने लोकतंत्र की ताकत का अहसास नहीं है। इसीलिए 26 नवंबर को संविधान दिवस मनाना उस अनिवार्य अहसास के लिए अनिवार्य समझें। पलाश विश्वास
  • हमें संविधान दिवस तक मनाने की इजाजत नहीं है,ऐसी है हमारी भारतीय नागरिकता और ऐसा है बाबासाहेब नामक हमारा एटीएम!


    समझ लीजिये कि भोपाल गैस त्रासदी, बाबरी विध्वंस,सिख संहार,गुजरात नरसंहार में अगर अमेरिका नागरिक मारे गये होते तो क्या होता!


    हम भारतीय नागरिक कीड़ों मकोडो़ं की तरह नर्क जीते हुए कीड़ों मकोड़ों की तरह देश विदेश में रोज रोज मरते हैं,मारे जाते हैं,यह सिर्फ इसलिए कि हमें अपने लोकतंत्र की ताकत का अहसास नहीं है।


    इसीलिए 26 नवंबर को संविधान दिवस मनाना उस अनिवार्य अहसास के लिए अनिवार्य समझें।



    पलाश विश्वास

    हमें 26 नवंबर को संविधान दिवस तक मनाने की इजाजत नहीं है,ऐसी है हमारी भाकतीय नागरिकता और ऐसा है बाबासाहेब नामक हमारा एटीएम!


    हर राज्य में लाखों दुकाने अंबेडकर के एटीएम में बसी हैं और हजारों राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय संगठन हैं अंबेडकर के नाम।


    अंबेडकर की नामावली ओढ़कर मंत्री,सांसद,विदायक से लेकर गांव प्रधानों की फौजें भी अब लाख पार हैं तो तरह तरह के आरक्षण कोटा के तहत बाबा अंबेडकर के नाम सरकारी कर्मचारी करोड़ोंकी तादाद में हैं।


    स्कूलों से लेकर विश्वविद्यालयों में पढ़ाई भी अंबेडकर के नाम।


    इतने सारे लोगो को बेहद गर्व है कि अंबेडकर ने भारत का संविधान रचा और वे अंध विश्वासी इतने की बाबा साहेब की विचारधारा और उनके आंदोलन के बारे में कोई रचनात्मक आलोचना भी बर्दाश्त नहीं करते।


    लेकिन वे तमाम लोग उस बाबासाहेब के संविधान और उस संविधाने के तहत बने भारत लोक गणराज्य की धज्जियां उधेड़ते शासक तबके के रंगभेदी मनुस्मृति राज के गुलाम ऐसे कि उन्हें याद भी नहीं है कि 26 नवंबर,1947 को भारत राष्ट्र के निर्माण के तहत भारतीय संविधान को भारतीय जनता ने एक राष्ट्र की हैसियत से अंगीकार किया था और तब से हमारे तमाम जनप्रतिनिधि उसी संविधान के तहत राजकाज चलाते हैं।


    हम उस संविधान का महिमामंडन नहीं करते लेकिन जो सुधारों के नाम पर मुक्तबादारी अबाध विदेशी पूंजी का एकाधिकारवादी जनसंहारी आक्रमण है,उसके मध्य नागरिक मानवाधिकारों,प्रकृति और पर्यावरण और मनुष्यता के हक हकूक के लिए उस संविधान एक तहत नागरिकों के मौलिक अधिकारों को आगामी 26 नवंबर पर खुल्ले राजमार्ग पर सेलिब्रेट करने की इजाजत चाहते हैं।


    कोलकाता महानगर में कोलकाता मेट्रो चैनल,जहां रोजाना राजनीति को जमावड़ा करने की इजाजत मिलती है,वहां से लेकर महज एक किमी दूर अंबेडकर प्रतिमा तक पदयात्रा की अनुमति भी हमें कोलकाता पुलिस से नहीं मिल सकी है,जबिक बैंकिंग वेलफेयर एसोसिएशन की ओर से बारकायदा तमाम अंबेडकरी गैरअंबेडकरी संगठनों ने कोलकाता के पुलिस कमिश्नर से लेकर हेयर स्ट्रीट ताने तक इसकी गुजारिश की।


    वे राजनीतिक दलों के कार्यक्रम का पहले से तय कार्यक्रमों का हवाला दे रहे हैं।


    मतलब यह कि राजनीति अहम है।


    न लोकतंत्र चाहििए और न संविधान।


    हम देश भर के देशभक्त भारतीय नागरिकों से सभी भारतीय भाषाओं में अपील कर चुके हैं कि 26 नवंबर को भारतीय संविदान दिवस मनाते हुए अपने नागरिक मानवाधिकारों, प्रकृति पर्यावरण के हक हकूक और भारतीय लोकतंत्र का उत्सव मनाते हुए देश बेचो राष्ट्रद्रोही धर्मोन्मादी ब्रिगेड को भारतीय नागरिकों की ताकत का इजहार करें।


    किसी दल या संगठन का बैनर लेकर नहीं,किसी अस्मिता या पहचान के तहत नहीं,विशुद्ध भारतीय नागरिक के तौर पर अपने अधिकारों का उत्सव मनायें संविधान दिवस 26 नवंबर को।


    कोलकाता पुलिस ने भले इजाजत न दी हो,लेकिन कोलकाता में यह संविधान का नागरिकता उत्सव जरुर मनाया जायेगा और बाकी देश में भी।


    अब यह आप पर है कि आप इसे कैसे मनायेंगे या नहीं मनायेंगे।


    जो जल जंगल जमीन समुंदर पहाड़ों से बेदखल खदेड़े जा रहे हैं रोज रोज,मैं उनकी बात नहीं करता।


    मैं उनकी बात भी नहीं करता जो आंतकवादी,उग्रवादी, राष्ट्रद्रोही साबित कर दिये जाने के बाद देश भर में आये दिन मारे जा रहे हैं।


    मैं उनकी बात भी नहीं कर रहा जिन्हें इस भारतीय लोक गणराज्य के कानून के राज,उसके संविधान और लोकतंत्र का स्पर्श भी नसीब नहीं होता।


    मैं उनकी बात नहीं कर रहा जिन्हें उनकी बेशकीमती जमीन से बेदखल करने के लिए बार बार भारत की केसरिया कारपोरेट सरकार एक सौ पांच कानूनों को बदलने की कसरत कर रही है।


    मैं उनकी बात नहीं कर रहा, जिनके देश निकाले के लिए नागरिकता कानून, भूअधिग्रहण कानून, पर्यावरण कानून, वनाधिकार कानून.श्रम कानून,बैंकिंग कानून,बीमा अधिनियम,खनन अधिनियम,हिंदू पैनल कोड,मुस्लिम पर्सनल ला वगैरह वगैरह बार बार बदल दिये जाने के कारपोरेट केसरिया उपक्रम मूसलाधार हिमपात है और जिसके तहत हम मध्य एशिया के तेलकुंओं की आग में झुलसते हुए अमेरिकी शीतप्रलय में वातानुकूलित डिजिटल बायोमेट्रिक नागरिक भी हैं।


    हम पूर्वोत्तर या कश्मीर की बात नहीं कर रहे हैं,जो सशस्त्र सैन्यबल विशेषाधिकार कानून के उपनिवेश हैं और जहां मानवाधिकार और नागरिक अधिकार निषिद्ध हैं,जिसके विरुद्ध मणिपुर की माताएं नग्न प्रदर्शन करने के बावजूद भारत मां की अंतरात्मा में कोई हलचल पैदा नहीं कर सकतीं और जहां एक लौह मानवी आफसा वापस लेने के लिए पिछले पंद्रह साल से आमरण अनशन पर हैं।


    हम उस आदिवासी भूगोल की बात नहीं कर रहे हैं जो सलवाजुड़ुम के तहत भारतीय सैन्य राष्ट्र के निशाने पर है और जहां स्त्री योनि पर भी नई दिल्ली की सत्ता की छाप अनिवार्य है।


    हम इस देश की आधी आबादी यानी पुरुषतांत्रिक वर्चस्व के मातहत छटफटाती शूद्र गुलाम सेक्सस्लेव औरतों की बात भी नहीं कर रहे हैं और न हम कैद बचपन की आजादी की बात कर रहे हैं।


    हम मुक्त बाजार के कार्निवाल में सेनसेक्स उछाल की तरह दिनचर्या के अभ्यस्त क्रयशक्ति संपन्न सत्ता समर्थक धनाढ्य नव धनाढ्य और खाते पीते सुविधा संपन्न नागरिकों से पूछते हैं कि बाहैसियत भारतीय नागरिक वोट डालने और एक के बाद एक भ्रष्ट जनविरोधी मुनाफाखोर सरकार चुनने के बावजूद आपकी भारतीय नागरिकता क्या खाने की चीज है या पहनने की या सर पर लगाकर जवानी बरकरार रखने की चीज है,जरा सोच लीजिये।


    अब भी वक्त है,सबकुछ खत्म होने से पहले बूझ लें।


    आपकी भारतीय नागरिकता क्या खाने की चीज है या पहनने की या सर पर लगाकर जवानी बरकरार रखने की चीज है,जरा सोच लीजिये।



    हम किस देश में रह रहे हैं जहां हमारी नागरिकता,हमारी दिनचर्या,हमारी राजनीति, हमारी भाषा,हमारी संस्कृति अस्मिताओं की आंच में रोज रोज जल जलकर खाक हुई जाती है और हम दो परस्पर विरोधी पाखंड धर्म और धर्मनिरपेक्ष खेमे में कैद लोकतंत्र की गुहार लगाते रहते हैं।


    हम किस देश में रह रहे हैं,जहां मीडिया में प्रकाशित प्रसारित झूठ और देशद्रोही,प्रकृति विरोदी मनुष्ता के विरुद्ध युद्ध अपराधियों के प्रवचनों से आमोदित गदगदायमान अपने महान लोकतंत्र के महान करतबों और उपलब्धियों की खुशफहमी में बूंद बूंद टपकती विकास रसधारा में निष्णात अपनी क्रयशक्ति के कुंओं में अनंत छलांग में निष्णात,उसके बारे में हम कितना जानते हैं।


    हम किस देश में रह रहे हैं, राजकाज जो कारपोरेट लाबिइंग है ,जो प्रत्यक्ष विनिवेश है जो वैश्विक पूंजी के हित हैं और अर्थव्यवस्था जो इस लोकतंत्र की बुनियाद है,उसकी हर सूचना से वंचित टैब,स्मार्टपोन,पीसी और इंटरनेटमध्ये सूचना महाविस्पोट में अपनी ही मौत का सामान जुटा रहे हैं और हत्या कर रहे हैं अपनी कृषि,अपनी आजीविका,अपने मौलिक अधिकारों,अपने तमाम हक हकूक,अपनी निजता,संप्रभुता और अपनी आजादी की।


    हम कितने भारतीय नागरिक हैं और हमारे क्या अधिकार हैं,थोड़ा बूझ लें।


    मसलन गौर करें कि जिस अमेरिकी कायाक्लप से हम सुपरसोनिक हुए जाते हैं अपनी ही जड़ों से उखड़कर.उस अमेरिका ने नाइन इलेविन में न्यूयार्क के ट्विन टावर के विध्वंस पर जो बाकी दुनिया के खिलाफ आतंक के विरुद्ध अभियान छेड़ा है,उसके इतिहास पर गौर करें।


    और बतायें कि अगर भोपाल गैस त्रासदी  न्यूयार्क या वाशिंगगटन या किसी दूसरे अमेरिकी नगर में हुई रहती और यूनियन कार्बाइड कोई अमेरिकी कंपनी न होती और अंडरसन अमेरिका नागरिक न होते,तो क्या होता।


    समझ लीजिये कि भोपाल गैस त्रासदी, बाबरी विध्वंस,सिख संहार,गुजरात नरसंहार में अगर अमेरिका नागरिक मारे गये होते तो क्या होता।


    हम भारतीय नागरिक कीड़ों मकोडो़ं की तरह नर्क जीते हुए कीड़ों मकोड़ों की तरह देश विदेश में रोज रोज मरते हैं,मारे जाते हैं,यह सिर्फ इसलिए कि हमें अपने लोकतंत्र की ताकत का अहसास नहीं है।


    इसीलिए 26 नवंबर को संविधान दिवस मनाना उस अनिवार्यअहसास के लिए अनिवार्य समझें।



    0 0

    Apartheid has become our culture as it is the religious nationalism of the neo nazi Hindu nation!

    Palash Biswas

    One young journalist from Orissa working for a prominent daily in Oria opened my eyes.He said entire geography of the nation excluding the Delhi centred Aryavart has been subjected to racial apartheid.He is just twenty two years old and he explained me how buddhist heritage in Orissa has been converted into hinduisation,He told me rathyatra never had been traditional ritual of hinduism as  it roots in Buddhism.The great Sati saga has converted all indigenous gods into incarnation of chandi including kali and kamakhya,that I know.But I know little about buddhist rituals.The young journo claims that Lord Jagannath is originally a tribal god which has been made an incarnation of Krishna,I know it.He also says all buddhist places are made Hinduised.He is a hindu.


    We may not understand that all hindus are not equal as all brahmins happen not to be.As the agrarian nature asociated commuinities have been divided into thousands of graded castes,the Vrnas and so called caste hindu identity may not be the evidence of every community to be safe from the monopolistic aggression and the racial discriminnation never does spare the brahamins and the whole lot of the so called caste hindu communities out of Aryavart thet mean the untouchable humanscape with negroid,mongoloid and austroid demography and entire east,northeast,central India,south India and the Himalayan zones.The boy exactly explained this to me.I may not name him to identify him and helping the hegemony to persecute him as he intends tostay in mainstream media and he deserves.


    We may not feel the plight of the the adivasi people in India and the impact of the war and civil war continued against them.We are blinded to feel the drastic violation of civic and human right just because of our religious hindutva nationalism and being politically correct we may not face the truth at all.


    Bengali brahmins are always considered inferior to Chitpawan Brahamins in Maharashtra,Kannoj Brahamins in UP,Sarswat brahamins in central India and Maithil Brahamins in Bihar.Marathi brahamins despise Bengali brahamins  and brand them as kayastha shudra Brahamins.Ironcaly,Bengal,the land of Asuras and Anarys which remained Buddhist along with Orrissa succeeded to make eastern and north east India th most strong citadel of Hindutva and the rulers in West Bengal since the ejection of dalits from the history and geography of Bengal and subordinating the muslim population,had always been prcticing Hindutva incultural envelop of Bengal nationalism which is quite different from Bangladeshi Bengali nationalis rooted in agrarian humanscape while West Bengal hegemony in every sphere of life is essentially urban and Brahamiical outcaste everyone Non Brahamin.It happened as the Brahamins in Bengal aligned with the muslim and British rulers and the permamnent land settlement made them supreme,the status they enjoy now in pan Indian politics outcasting all sets of Kulin Brahaimins countrywide.This is the combined saga of Pranab Mukherjee as well as Mamata Bannerjee.


    Himalay is projected as devbhumi and the himalayan people identify themselves to all sorts of gods and goddesses. In fact the economic exploitation and racial discrimination reduced the heaven to hell losing where dharma,karma and karobar,jal jangal jameen have been captured by outsiders,But overwhelming identity of Hindutuva has made most of the untouchable humanscape including Assam,Bengal,Bihar,Orissa,central India,south India subordinate to the ruling hegemony of Arayavart centred in New Delhi.Kashmir,Manipur,Tamil nadu, Punjab and some other parts of the North east and the entire adivasi geography have not been subjected and the racial apartheid against the people of these areas may be highlighted by the result of continuous army rule there.


    We being Hindu,despite racially discriminated and subjected as they are,may not feel the heart and mind of some Irom Sharmila or Soni Sori or those killed in Kashmir because all these people have been demonised.


    No wonder,just identifying them racially different from us,our humanity loses its eyes,mind,heart and all the senses and we end to become the part of the lynching culture.It s viral from Delhi to down the south in Bangalore and Hyderabad,in Shantiniketan.


    Just see three news items only to feel what I am trying to say.


    Student from northeast found dead in Delhi

    IANS  |  New Delhi  

    November 21, 2014 Last Updated at 12:00 IST

    A 21-year-old student from northeast was found dead here under mysterious circumstances, police said Friday.

    Thangsonalian, who was pursuing a course in stenography, was found dead on the staircase outside his house in south Delhi's Munirka area Thursday night.

    According to initial investigation, Thangsonalian was under the influence of alcohol and returned to his house after watching a match at Ambedkar Stadium.

    "Prima facie it seems that due to alcohol consumption, he might have slipped and fell down from the staircase, which might have caused his death," a police official said.

    "But we are yet to get his post-mortem examination report which will reveal the exact cause of the death," the official added.

    The official said police did not rule out the possibility of murder.

    This is the third case of death of students from northeast in the national capital since Wednesday.



    May 24, 2014 10:56 IST


    NDTV:

    On Thursday night, a woman from Nagaland, studying at the Delhi University was allegedly molested by a lawyer at the Vishwavidyalaya Metro Station in North Delhi. The alleged accused was apprehended by bystanders and handed over to the police.


    On Friday, when two of the student's friends who are members of the North East Union and a woman lawyer representing her, went to court, they were brutally attacked.


    According to the student's lawyer, the accused and some of his associates chased her for a while after which they slapped her and threatened her if she pursued the case any further.


    "We could do a lot more but we have spared you," she said the mob told her.


    One of the friends suffered major injuries on his face. He was admitted to a hospital by the police, but was later released. The other friend was slapped inside the court in front of a judge, following which chaos broke out in the court. The police who were outnumbered by the lawyers were eventually able to rescue the students.


    A complaint has been filed at the Sabzi Mandi police station near Tis Hazari. The main accused in the molestation case is out on interim bail.


    FIRs have been registered against 20 to 30 unnamed lawyers; only one lawyer has been named and identified in the report.


    October 15, 2014 15:26 IST

    NDTV:




    "They said you are eating Karnataka food, living in Karnataka. If you don't speak Kannada please get out. We ignored them, but they took it as an insult. They picked up stones and attacked us and I got injured," Michael told NDTV, showing a bandaged head and blood-splattered clothes.


    The 26-year-old, however, sees it as an isolated case, not enough to drive him out of the IT city. "I don't want to exaggerate anything. I feel safe, no problem. But I would like to appeal to people in general. Whenever such incidents happen, instead of moving away from the incident they have to be involved and settle the incident," he said.


    A case of assault has been registered and the three attackers, all school van drivers, have been arrested.


    "We have taken it very seriously, though it is a stray incident - but this being a sensitive issue, we have taken it very seriously. We will take stringent action even if it is a minor assault or abuse or any type of verbal altercations we are going to take serious action against such people. Reassurance, that we are here to protect them," senior police officer Alok Kumar told NDTV.


    The incident took place at around 7.30 p.m. in the city's Kothanur area, home to a large number of students from other parts of the country.


    In 2012, students and workers from northeastern states left Bangalore in droves as rumours of attacks led to panic in the three lakh-strong community.


    Boxing champion Mary Kom, who is in the city for a marathon event, expressed concern. "I don't feel good listening to such news. There should be unity and peace in our country, so that such incidents don't repeat," said the Olympic medalist.



    0 0


    ---------- Forwarded message ----------
    From: Hastakshep समाचार पोर्टल<news.hastakshep@gmail.com>
    Date: 2014-11-23 12:45 GMT+05:30
    Subject: (हस्तक्षेप.कॉम)
    To: hastakshep@googlegroups.com


    हस्तक्षेप के सुधी पाठकों, लेखकों से अपील

    प्रियवर

    जैसा कि आप जानते हैं तथाकथित मुख्यधारा का मीडिया जन पक्षधर खबरों को लगातार दरकिनार करता रहा है और इस बीच उसकी गति और तेज होती जा रही है। इस प्रकार बहुत से संगठन, जो जमीनी स्तर पर काम कर रहे हैं उनके कामों के बारे में बाकी जनता को कोई खबर नहीं मिल पाती है। इसका हश्र आपको पता ही है कि कैसे बहुत से बेहतरीन बदलाव बहुसंख्य जनता की नजरों से अछूते रह जाते हैं।

    इस संबंध में हमने तमाम साथियों के साथ एक विचार किया है। यह तय हुआ है कि एक योजना के तहत देश में काम कर रहे तमाम संगठनों के बारे में और उनके महत्वपूर्ण कार्यों के बारे में लोगों को व्यवस्थित तरीके से जानकारी मुहैया कराई जाए। जाहिर है पूंजीवादी माध्यमों के खिलाफ इस लड़ाई में जनपक्षधर माध्यमों को एक साथ मिलकर काम करने की आवश्यकता होगी। हस्तक्षेप पर हम उसकी शुरूआत करने का प्रयत्न कर रहे हैं।    

    इस संबंध में हमे आपके बहुमूल्य सहयोग की आवश्यकता है। हम आपसे निवेदन करते हैं कि आपकी जानकारी में यदि ऐसे संगठन हों तो उन तमाम संगंठनों के संपर्क सूत्र यथा ईमेल तथा संबंधित व्यक्तियों के फोन नंबर उपलब्ध कराने का कष्ट करें ताकि हम उनसे संपर्क कर सकें।

    इसी तरह का निवेदन हम अन्य संगठनों से भी कर रहे हैं। आपके इस महत्वपूर्ण योगदान को निश्चय ही याद रखा जाएगा।

    इस पत्र को अगर आप उपयुक्त जगह अग्रेषित भी कर सकें तो हम आपके आभारी रहेंगे।

    धन्यवाद

    अमलेंदु उपाध्याय

    संपादक "हस्तक्षेपडॉट कॉम"



    http://www.hastakshep.com/donate-to-hastakshep

    https://www.facebook.com/hastakshephastakshep

    https://twitter.com/HastakshepNews


    आपको यह संदश इसलिए मिला है क्योंकि आपने Google समूह के "हस्तक्षेप.कॉम" समूह की सदस्यता ली है.
    इस समूह की सदस्यता समाप्त करने और इससे ईमेल प्राप्त करना बंद करने के लिए, hastakshep+unsubscribe@googlegroups.com को ईमेल भेजें.

    --
    आपको यह संदश इसलिए मिला है क्योंकि आपने Google समूह के "हस्तक्षेप.कॉम" समूह की सदस्यता ली है.
    इस समूह की सदस्यता समाप्त करने और इससे ईमेल प्राप्त करना बंद करने के लिए, hastakshep+unsubscribe@googlegroups.comको ईमेल भेजें.
    इस समूह में पोस्ट करने के लिए, hastakshep@googlegroups.comको ईमेल भेजें.
    http://groups.google.com/group/hastakshepपर इस समूह में पधारें.
    अधिक विकल्पों के लिए, https://groups.google.com/d/optoutमें जाएं.


    0 0

    Citizenship to be enhanced,empowered and saved irrespective of identity in defence of democracy!

    The media,intelligentsia,civil society,social organisations,activist, the masses across identities,the working class, professionals, employees,social forces most decisive as the women,students and youth,even the NGOs have to stand united rock solid so that we may revive the fundamental rights at least.

    Palash Biswas

    Just read:

    Fundamental rights in India

    From Wikipedia, the free encyclopedia


    Let us,we the people of India stand united rock solid celebrating our fundamental rights as defined very well in the preamble of Indian constitution lest we should lose the democracy for ever.


    Citizenship to be enhanced,empowered and saved irrespective of identity in defence of democracy!


    Mind you neo nazi ruling hegemony has reduced citizenship to biometric digital robots to be controlled by remote with robotic technology and infinite surveillance global which has to be used,misused and abused  and if it suits the hegemony,discarded branding the concerned citizens as anti national extremist,terrorists and so on to protect foreign capital,black money and foreign interests.


    We should be aware of the violation of human rights and civic rights as armed forces special power act continues in Kashmir and entire northeast specifically Manipur and salwa judum is the culture killing fifth and sixth schedule to put every natural resource and everything public on auction and foreign investors taking over all kinds of gods and semigods,FDI becoming the religion,knowledge reduced to economy and subsidies being wiped out under infinite  growth of neoliberal children who control the economy as well as politics making democracy and constitution quite irrelevant.


    We should go through the reports of human rights organisations and investigate the truth about shining sensex India and the reality of the wellness of the citizens under the neo nazi regime of minimum governance meaning corporate lobbying naked,corporate funding,corporate supremacy,monopolistic corporate management and execution subjecting the communities associated with agrarian India, and those engaged in small retail business,living out of Aryavart and belonging to non aryan geography and demography to infinite persecution and ethnic cleansing as the rulers` culture is all about apartheid practiced on the name of identities,castes and religion.


    It is shame that rule of law means nothing to the masses, specifically to the common man irrespective of origin and all the excluded communities specifically the Adivasi people in India.


    It is shame that the working classes are being deprived of labour laws as the agrarian India is being ejected out of home and the land is handed over to builder promoters all on the development and infrastructure.


    It is a shame that environment ,climate,biocycle,ecology and the landscape of the nation along with different humanscapes have been subjected to monopolistic aggression to feed corporate projects and every law have to amended accordingly violating constitutional framework before US President celebrates Indian Republic Day.


    The finance ministry is engaged to manage corporate interests subjecting the citizenship to an undertrial who would not be tried at all and has to wither away as the state itself is withering away in omnipotent and absolute corporate raj flavoured with unprecedented hate campaign against minorities and the fatal recipe is plated as blind religious nationalism.


    Foreign ministry has been taken over and the minister of foreign affairs seems to be unemployed as the millions of unemployed youth and those PSU employees selected for killing


    It is shame for Indian democracy that governance is all about US linguistics and aesthetics for which one prime minister had been dismissed with landslide popular mandate created by the neoliberal children just because investment amounting  billion dollars had been dumped for political correctness and lo,the new prime minister is accomplishing the task of neoliberal second generation of reforms with merciless,brutal,surgical precision injecting anesthesia into the nerves of the nation and the injection is the all about manusmriti discipline which in accordance with international law and UN charter for human rights and citizenship is nothing but naked apartheid.


    The corporate government of India is in unprecedented hurry to finish the task with anti people legislation and extra constitutional policy making killing the democracy,parliament and entire democratic set up as it killed the planning commission!

    The immediate urgency to finalise arms shopping list should be understood and read in the light of the imminent visit of US President as the hegemony has invited hundreds,thousands of East India Companies to rule India and making every part of India a SEZ or Mega SEZ,Industrial corridor, Nuclear plant cluster.



    As the Republic of India is endangered and the Republic Day is celebrated and hosted by foreign corporate interest,we have to opt for an alternative republic day,people`s republic day and that should be the constitution day,26 th November as on this day way back in 1949,we pledged to constitute the Republic of India opting for parliamentary democracy by the people,for the people and of the people.


    These are the opening words of the preamble to the Indian Constitution


    "WE, THE PEOPLE OF INDIA, having solemnly resolved to constitute India into a SOVEREIGN SOCIALIST SECULAR DEMOCRATIC REPUBLIC and to secure to all its citizens:

    JUSTICE, social, economic and political;


    LIBERTY of thought, expression, belief, faith and worship;


    EQUALITY of status and of opportunity;


    and to promote among them all


    FRATERNITY assuring the dignity of the individual and the unity and integrity of the Nation;


    IN OUR CONSTITUENT ASSEMBLY this twenty-sixth day of November, 1949, do HEREBY ADOPT, ENACT AND GIVE TO OURSELVES THIS CONSTITUTION.


    The identity blind religious nationalism and the free market economy jointly have launched a war against Indian citizens and the citizens have no right at all including civic and human rights.Whereas our forefathers pledged  to secure to all its citizens:

    JUSTICE, social, economic and political;


    LIBERTY of thought, expression, belief, faith and worship;


    EQUALITY of status and of opportunity;


    and to promote among them all


    FRATERNITY assuring the dignity of the individual and the unity and integrity of the Nation!


    Democracy along with the people of India have been targeted with monopolistic multinational corporate aggression and it is not merely a coincidence that the man who had been denied US VISA since Gujarat genocide and as soon as the ruling corporate racial hegemony elected him the Prime Minister of India,he has become the blue eyed boy of the unipolar   zionist imperialism aligned with manusmriti flagbearer global hindutva and for the first time in history,US President,the first black untouchable President elected twice,have to be the guest of honour on the Republic Day whereas the free market corporate Hindutva governance has made the republic,an essentially welfare state as the preamble is concerned,and the parliamentary system irrelevant and the Indian people have virtually no representation in the governments,legislatures and entire democratic setup governed and managed by the millionaire billionaire corporate class.


    Fundamental rights have no existence as every law made hitherto is being reenacted with corporate expertise to suit the singular agenda of free flow of foreign capital killing the constitution,the mocracy,civic and human rights, education and medical care, job security, food, clothing,employment, livelihood,basic services,environment,ecology,climate,weather and nature.

    The trickling growth is all about the sustenance of cash liquidity to feed purchasing power to the deprived so that the free market economy to the rural India and reducing citizenship into decultured consumer status.


    we have no scope of public hearing whatsoever and minimum governance means and anarchy overwhelming where the economy is reduced into indices volatile and the production system,the agrarian and business communities along with every class and community not having purchasing power to sustain,have been subjected to mass destruction.


    This free market regime as decontrolled,deregulated governance of ethnic cleansing,displacement and deportation have been expressed very well in milestone incidents of free India ie green revolution pumping in foreign capital since sixties on the name of socialism,continuous denial of land reforms hitherto, displacement of nature associated communities from Jal Jangal Jameen, environment and natural resources,armament and militarisation of the state resultant in a status of greatest consumer and purchaser of arms and weapons,nuclear radioactivity and the energy drive killing the man and nature,changing harvesting and deleting desi seeds to opt for modified seeds,fertilizers and pesticides to poison our food resultant in Bhopal Gas Tragedy,resurrection of Manusmriti neo nazi brigade since Sikh Genocide and we have been subjected to a continuous holocaust in riots of every kind,Babri mosque demolition coincidental with zionist attacks against middle east and palestine as well as the continued oil war and US war against terror which subjected India to continued terror strikes and making it an excuse,fundamental rights being challenged ,reduced and killed.


    Since Indian Republic has been hijacked by anti national extra constitutional corporate,builder promoter mafia and omnipotent global war economy with its corporate might,we have no survival kit at present and stand with zero balance to defend us against ethnic cleansing as the citizens of India.


    The media,intelligentsia,civil society,social organisations,activist, the masses across identities,the working class, professionals, employees,social forces most decisive as the women,students and youth have to stand united rock solid so that we may revive the fundamental rights at least.

    Just read the Times of India report published on December 21,2013:


    About three-fourths of the total prisoners in India are undertrials, says a new report by National Social Watch, a network of civil society organizations.


    "According to a note circulated by the law ministry in 2010, there are over three lakh undertrial prisoners in jails across the country. About two lakh of them are imprisoned for several years primarily because of delays in the justice delivery system. In some cases, prisoners have been behind bars for more than the maximum term of imprisonment for offences they had been charged with," says the overview document of the 2013 report released on Tuesday.


    The report said such a state of affairs was a consequence of high pendency of cases in the courts. It also noted that while Mumbai had 1.41 lakh pending trial cases in December 2010, another 20,725 were added the next year. In 2011, 12,296 cases were disposed of. Tellingly, only 2,082 (17%) resulted in convictions.

    our high courts — Allahabad, Madras, Calcutta and Bombay — alone account for 50% of the total pending cases, according to the report. The states of Uttar Pradesh, Maharashtra, West Bengal and Gujarat together have about half of the total pending cases. The total number of pending cases, the report observed, had risen from 2.81 crore in 2004 to 3.17 crore in 2011.


    "On an average three people were placed in the space earmarked for two prisoners. In a way this is another form of human rights violation," says the report's overview document.


    Executive director of the National Foundation for India Amitabh Behar, who is one of the editors of the report, says that the clogging of cases could be partly taken care of locally, with measures such as the Gram Nyayalayas Act of 2008 which was meant to provide local courts to the rural population. However, it never took off. "It was a very ambitious scheme for creating new mechanisms for dispensing justice locally. Because of an absence of such bodies at the local level, clogging continues in other courts," says Behar.


    The report also sought to correlate pendency of cases and the state of under trials in prison to the strength of judges in courts not keeping up with the rising number of vacancies. While the strength of judges in district and subordinate courts increased from 14,412 in January 2006 to 18,123 in September 2011, the proportion of vacancies in the same period increased from 19% to 21%.


    Meanwhile in the high courts, the sanctioned strength of judges increased from 726 in April 2006 to 895 in January 2012. The proportion of vacancies in the same period increased from 21% to 31%. A similar trend was observed in the Supreme Court where the strength of judges increased from 26 in April 2006 to 31 in the same period. However, vacancies doubled from two to four in those six years.


    Legal scholar and lawyer advocate Geeta Ramaseshan of the Madras high court says that the size of the judiciary has not kept up with the rising population. "Litigations under the civil laws are extraordinarily delayed, and the system is severely failing. Because of this, people are turning towards criminal laws, where the process itself is a punishment," she adds.


    http://timesofindia.indiatimes.com/india/About-75-of-total-prisoners-in-India-are-undertrials-Report/articleshow/27739400.cms


    Freeing the undertrial

    SUDHIR KRISHNASWAMY

    SHISHIR BAIL


    Without substantive reforms to the investigation and trial process, early release of undertrials may further aggravate the pathologically low rates of conviction and incarceration in the Indian criminal justice system

    On September 4, a Supreme Court bench comprising Justices Kurian Joseph, R.F. Nariman and Chief Justice R.M. Lodha relied on Section 436A of the Criminal Procedure Code, 1973 (CrPC) to direct all States to release undertrials in prison for more than half the sentence they would serve if convicted within a period of two months. The Bench went further to direct the Central government to provide a road map for "fast-tracking" the entire criminal justice system — not just certain classes of cases. Not surprisingly, this order has attracted widespread media coverage; some civil society organisations have described it as "inspiring and welcome." Will an activist court and a decisive Union government together solve the problem of languishing undertrials in the next two months?

    In this piece we show that Section 436A is unlikely to be the solution to the undertrial problem in India. Further, to arrive at any solution, we must conceptually clarify and empirically understand what the "undertrial problem" is. Is it the proportion of undertrials to convicts in the Indian prison system, or the undue length of detention without proof of guilt or the socio-economic profile of the undertrial that lies at the core of the problem? The precision in answering this is the key to devise an effective law-and-policy solution.

    The primary constitutional and moral concern with undertrial detention is that it violates the normative principle that there should be no punishment before a finding of guilt by due process. So, undertrial detention of those suspected, investigated or accused of an offence effectively detains the "innocent." However, all criminal justice systems across the world authorise limited pretrial incarceration to facilitate investigation and ensure the presence of accused persons during trial. So, the critical challenge in this area is to identify the normatively optimal and necessary level of pretrial incarceration and then design a criminal justice system to achieve this.

    Empirical claim


    The Indian debate on the "undertrial problem" begins with the empirical claim that the proportion of undertrials to convicts in our prison system is too high. In 2012, undertrials comprised 66 per cent of the prison population, and in the period 2001-2010 this rate has on average been a stubborn 67 per cent. Is this high proportion of undertrials normatively undesirable or a sign of a pathological criminal justice system? A high undertrial proportion in the prison population may be the result of too many arrests during the investigation and trial process or too few convictions at the end of trial. India has an exceptionally low rate of incarceration which is defined as the number of persons in prison per 1,00,000 population. The International Centre for Prison Studies (ICPS) points out that at 30 (2012) the Indian incarceration rate is among the 10 lowest rates in the world. Mali (32) and the island nation of Comoros (28) are on either side. Our South Asian neighbours (Pakistan – 41; Bangladesh – 42) recorded higher rates of incarceration but similar percentages of undertrial detention (Pakistan 66 per cent/Bangladesh 68 per cent). By contrast, the United States displays an exceptionally high incarceration rate (707 in 2012) and a relatively low proportion of pretrial detainees in the prison population (21 per cent).

    In absolute numbers, in 2013, there were around 2,49,800 undertrials in India and they formed roughly 70 per cent of the prison population. In the U.S., in the same year, there were more than double that number of remand non-convicted prisoners (4,75,692). Yet they formed only 21.2 per cent of the prison population. While there may be scope for a substantive debate about which countries offer the appropriate comparison to India, there is no doubt that the fact of India's high percentage of undertrial incarceration must be placed in the context of the relatively small size of its prison population overall. Any effort to identify the optimal or normatively justifiable rate of undertrial detention must account for the pathological failures of the Indian criminal justice system to convict and imprison despite the overwhelming public concern with the failure of public order and security. If our conviction rate improves, then the proportion of undertrials will drop. Taken alone, the high proportion of undertrials in India is a sign of a pathological criminal justice system. Unless we can show that current undertrial detention is for excessively long periods or disproportionately targets the poor and the marginalised, the proportion by itself is not the core problem that we need to focus on.

    Offences and length of detention


    The excessive length of undertrial detention has been a subject of judicial, media and civil society concern. Section 436A was introduced into the CrPC in 2005 to mandatorily release on bail all undertrials who have already served half the period of their sentence if convicted. The Supreme Court, in its recent order, and civil society groups have invoked Section 436A of the CrPC as the primary strategy to reduce the undertrial population. This strategy would work if undertrials are in fact detained for inordinately long periods of time.

    However, the available National Crime Records Bureau (NCRB) data on prisons shows that between 2001 and 2010, on average around 40 per cent of undertrials incarcerated in the country spent less than three months in prison; the largest single category among periods of detention. Further, during the same period, over 60 per cent of undertrials on average were detained for less than six months. If we include the percentage of undertrials detained for over six months but less than a year, we find that on average over 80 per cent of undertrials in India spent less than one year in prison during the years under consideration. The offences for which these undertrials are being investigated or tried make the futility of a Section 436A strategy apparent. We conservatively estimate that at least 75 per cent of all undertrials between 2001 and 2010 in the country were detained for offences with a maximum punishment of three years and above and could be detained for up to 18 months under Section 436A. The single largest category of undertrials by offence was that of murder, which accounted for close to 22 per cent of all undertrials on average each year. Hence, relatively short periods of undertrial detention for an overwhelming majority of undertrials than is commonly assumed, together with the long sentences attached to the offences undertrials are investigated or accused of leads inevitably to the conclusion that very few undertrials may benefit from Section 436A. The enactment of Section 436A in 2005 had little impact on the composition of the prison population thereafter. The new enthusiasm to implement this provision is welcome but is unlikely to be a substantive solution to the "undertrial problem." If undertrial detention numbers are a problem, we must re-articulate what is the normatively acceptable length of pretrial detention. If we conclude that the requirement of mandatory release, barring in a few limited circumstances, is on the filing of a charge sheet within a period of 90 days from arrest then we are likely to reduce undertrial detention numbers significantly (60 per cent of undertrials). However, without substantive reforms to the investigation and trial process, early release may further aggravate the pathologically low rates of conviction and incarceration in the Indian criminal justice system.

    Profile data


    Irrespective of the length of undertrial detention, the core of the undertrial problem may be its disparate social, economic and religious impact. While existing data sources are inadequate, our preliminary research suggests that the illiterate, lower castes and members of religious minorities are over-represented in the undertrial population. In 2012, close to 74 per cent was either illiterate (30 per cent of the undertrial population but only 18 per cent of the Indian population) or had studied below Class 10 (43.3 per cent of the undertrial population). Similarly, Muslims (21 per cent/14 per cent), Scheduled Castes (22.4 per cent/16.2 per cent), Scheduled Tribes (13.3 per cent/8.2 per cent) are over-represented. In order to show that this is a deliberate or structural result of the prosecution or bail process, we need access to the profile of those arrested. This data is currently unavailable. Nevertheless, a policy response that assumes that the disproportionate numbers of socially and economically disadvantaged people are subject to unnecessary undertrial detention calls for a focussed Centrally sponsored public defender programme to replace the ham-handed legal aid services currently administered.

    So far we have argued that legal and public policy responses to the undertrial problem should not proceed solely on the proportion of undertrials in the prison population. Arguably, the high proportion of undertrials is a reflection of the pathological failure of the criminal justice system to successfully convict and thereby secure peace and security. This failure must be resolved by focussing on systematic institutional reform of the investigation and prosecution of offences. Second, our current legal strategy assumes inordinately long periods of undertrial detention and we show that a Section 436A-focussed strategy will have minimal impact on the undertrial population overall. New rules mandating release on the filing of a charge sheet — barring limited exceptional circumstances — along with a Centrally sponsored public defenders programme that weeds out the overt or structural discrimination in the criminal justice system is the best bet for a targeted intervention to reduce the length and eliminate the disparate impact in undertrial detention in India.

    (Dr. Sudhir Krishnaswamy is a Professor, Azim Premji University and Visiting Dr B.R. Ambedkar Professor of Indian Constitutional Law at Columbia Law School. Shishir Bail is a Research Associate at Azim Premji University.)

    http://www.thehindu.com/opinion/lead/freeing-the-undertrial/article6432209.ece




    0 0


    ---------- Forwarded message ----------
    From: Countercurrents<editor@countercurrents.org>
    Date: Sun, Nov 23, 2014 at 10:10 PM
    Subject: CC News Letter 22-23 Nov - Obama Extends War In Afghanistan
    To: palashbiswaskl@gmail.com



    Dear Friend,

     If you think the content of this news letter is critical for the dignified living and survival of humanity and other species on earth, please forward it to your friends and spread the word. It's time for humanity to come together as one family! You can subscribe to our news letter here http://www.countercurrents.org/subscribe.htm. You can also follow us on twitter, http://twitter.com/countercurrents and on Facebook, http://www.facebook.com/countercurrents

     In Solidarity
     Binu Mathew
     Editor
     www.countercurrents.org


     Obama Extends War  In Afghanistan
     By Kathy Kelly

    http://www.countercurrents.org/kelly231114.htm

    News agencies reported this morning that weeks ago President Obama signed an order, kept secret until now, to authorize continuation of the Afghan war for at least another year. The order authorizes U.S. airstrikes "to support Afghan military operations in the country" and U.S. ground troops to continue normal operations, which is to say, to "occasionally accompany Afghan troops " on operations against the Taliban


    Vedic Capitalism
     By Satya Sagar

    http://www.countercurrents.org/sagar231114.htm

    In a move that has taken no one, except the most gullible citizens, by surprise the public sector State Bank of India changed its name to the Seth Bank of India. The bank, which is India's largest financial institution, said in a statement that the renaming was done to better reflect the fact that it is no longer the Indian State but the Indian Seth who decides its policies


    Inequality: A Glimpse In The Food Market
     By Farooque Chowdhury

    http://www.countercurrents.org/chowdhury231114.htm

    The world food market with its amazing supermarkets, alluring discounters, magnificent hypermarkets, convenience stores, small food stalls, neutraceuticals that mix nutrients and medicine, monstrous agribusinesses, small-scale farms and cooperatives, whole sellers, retailers, hoarders, black marketers, speculators, big "organic" food business, future markets spreading over the entire world bears all the ills capital produces. The market conceives all the contradictions capitalism is capable of creating. Inequality is a part of it


    Animal Welfare: Seeing The Forest For The Denizens
     By Brian Czech

    http://www.countercurrents.org/czech231114.htm

    If we are serious about animal welfare, we have to get beyond the mere adoration of hedgehogs and hippos. We have to face up to the big-picture, systematic erosion of wild animal welfare. It's all around us and getting worse by the day, and our public policies precipitate it


    Solzhenitsyn And JFK: Soul-Mates
     By Robert Snefjella

    http://www.countercurrents.org/snefjella231114.htm

    It was a most fateful coup, in 1963: To banish from public discourse sincerity, integrity, accurately describing the real. These became the forbidden. Falsehood was empowered. The real was made furtive. When one consistently confuses the imagined with the real, one is deemed mad: being 'out of touch with reality', is the layman's definition of insanity


    Sri Lanka: The Beginning of The End of A Distorted Era
     By Nilantha Ilangamuwa

    http://www.countercurrents.org/ilangamuwa231114.htm

    Those who are screaming for liberty and humanity to prevails in this land have to face the real challenges in a short period of time. They are the people who can rescue the country It is time for the nation to correct its path and regain liberty and humanity


    Shouldn't Bangladesh Proscribe The Jamaat-e-Islami?
     By Taj Hashmi

    http://www.countercurrents.org/hashmi231114.htm

    I strongly believe that the proscription of the Jamaat in Bangladesh is essential, not only because of its heinous role against the Liberation War, but also for two other important considerations


    Why To Abrogate Article 370?
     By Ishaq Begh

    http://www.countercurrents.org/begh231114.htm

    It is beyond our comprehension that whole population of Jammu and Kashmir is willingly or unwillingly supports the existence of article 370 as a bridge and any move to break this will open new insurgence in Kashmir. How people of Kashmir will forget the authenticity of their indigenous place which is the hotbed of tourism industry and can't afford any destruction of its fragile climate and environmental scenery. Communal powers keep the sole aim to polarise the vote bank in Jammu and Kashmir which will definitely bifurcate further the three regions of Jammu and Kashmir


    Kashmir Elections: Our PM Without A Real Dialogue
     By Ravi Nitesh

    http://www.countercurrents.org/nitesh231114.htm

    Today's speech of Mr. Modi is completely passive and cannot be said to be positive in any way. During his speech at Kishtwar of J&K, he only jumped in the election ground with his promises for development without the basic understanding that right to life is first and more important than anything else


    Sikkim's Inclusion In NE Is Racism As Well
     By Aishik Chanda

    http://www.countercurrents.org/chanda231114.htm

    "We are the eight…we are united" goes the anthem of the John Abraham-owned Northeast United football club. The song, which features several singers of the North east region of India invokes the eight states to put up a united show in the Indian Super League. The football team, with its motto "8 states, 1 united" is one of the first to officially present the region to the nation as a union of eight states and not seven

    22 November , 2014


    Did Russia And China Just Sign A Death Warrant For U.S. LNG Exports?
     By Kurt Cobb

    http://www.countercurrents.org/cobb221114.htm

    Russia and China have signed two large natural gas deals in the last six months as Russia turns its attention eastward in reaction to sanctions and souring relations with Europe, currently Russia's largest energy export market. But the move has implications beyond Europe. In the department of everything is connected, U.S. natural gas producers may be seeing their dream of substantial liquefied natural gas (LNG) exports suffer fatal injury because of Russian exports to the Chinese market, a market that was expected to be the largest and most profitable for LNG exporters


    Why Do We Allow Ukraine's Government To Write
     The Official Report On Their Shoot-Down of MH17?
     By Eric Zuesse

    http://www.countercurrents.org/zuesse221114.htm

    There are only two suspects in the shoot-down of the MH17 Malaysian airliner over Ukraine on July 17th: the separatist rebels, whom the Ukrainian Government. One of these two suspects, the Ukrainian Government, was granted by the other three member-states of the official MH17 'investigating' commission, a veto-power over anything that's written into that 'investigating' report


    MH 17: Why Is Malaysia Not Part Of The Probe?
     By Dr. Chandra Muzaffar

    http://www.countercurrents.org/muzaffar221114.htm

    Ours is a just demand. It is just not only because MH 17 is ours. It is just because we have a fair and balanced approach to the tragedy and its probe. We want the entire truth to be known. Our participation in the investigation will at least help to check any attempt to conceal or camouflage the real story behind one of the most heinous crimes in recent times


    Bhopal: 30 Years Of Struggle And Survival
     By Mickey Z

    http://www.countercurrents.org/mickeyz221114.htm

    "If you believe in corporate accountability, environmental health and justice, social justice, reproductive justice, human rights and a toxic-free future for all, the Bhopal gas disaster is an issue that should matter to you." - Reena Shadaan


    Palestine: If America Won't Do What Is Needed Europe Should And Here's Why
     By Alan Hart

    http://www.countercurrents.org/hart221114.htm

    For many years I have believed that unless America took the lead in doing whatever is necessary to cause Israel to end its defiance of international law and be serious about peace on the basis of justice for the Palestinians and security for all Europe would do nothing and, by default, go on being complicit in Israel's ongoing colonization of the occupied West Bank. But a recent article by Daniel Barenboim, the Jewish and globally celebrated pianist and conductor and outspoken critic of Israel's occupation, caused me to wonder if it's time to forget about what America could but won't do and focus on the need for Germany and Britain to put their act together and take the lead


    Gaza Bombings Rock Palestinian Reconciliation
     By Nicola Nasser

    http://www.countercurrents.org/nasser221114.htm

    It is ironic that the annual commemoration of the death of Yasser Arafat should turn into an occasion for rekindling the flames of internal strife. This was clearly the aim of last week's bombings that targeted the homes of Fatah leaders in Gaza, as well as the podium for the commemorative ceremonies of Arafat, who strove to make Palestinian national unity one of the pillars of his political legacy


    Birgitta Jónsdóttir Democracy And Freedom Of Information
     By John Scales Avery

    http://www.countercurrents.org/avery221114.htm

    The Icelandic parliamentarian, Birgitta Jónsdóttir, has taken an important step towards solving one of the central problems that the world is facing today. The problem is this: How can we regain democratic government when the mainstream media are completely controlled the corporate oligarchy?


    Mourning John F. Kennedy And A Half-Century of Degraded Arts And Culture
     By Gary Corseri

    http://www.countercurrents.org/corseri221114.htm

    For half a century now, our artists, as well as our "public servants," have, mostly, wandered in a wilderness of arrogance and poor judgment. Fearful of losing their academic sinecures or foundation grants, our artists have, too often, eschewed a vigorous critique of America's imperious, foundational economic principles—the Corporate State and its self-serving Republicratic 1-party system!


    Damaged Turbo-Generator At Koodankulam Nuclear Power Plant,
     Overhauled Before Grid Connection?
     By VT Padmanabhan, R Ramesh, V Pugazhendi & Joseph Makkolil

    http://www.countercurrents.org/vtp221114.htm

    Two years before its grid connection, the Russian-made turbine was overhauled by a private contractor and this fact was kept as a guarded secret. In spite of the overhaul, KKNPP turbine failed within hours of grid connection and was responsible for five trips, which kept the reactor off-grid for 59 days. It could not be revived even after a two-month long maintenance during August- September 2014. Usually the first overhaul of a new turbine is done after completion of 5 to 10 years of work. The extreme damage of the turbine could have been due to the mal-functioning of vibration monitoring instrument made by a Russian company charged for selling counterfeit parts. Failure of instrumentation in other systems have the potential for catastrophic accidents


    The Fate of (Secular) Indian Democracy 50 Years After Jawaharlal Nehru
     By Sukumaran C. V.

    http://www.countercurrents.org/sukumaran221114.htm

    Ram Bai, who was displaced from her village that was submerged when the Bargi dam was built on the Narmada and forced to live in a slum in Jabalpur, says: "Why didn't they just poison us? Then we wouldn't have to live in this shit-hole and the Government could have survived along with its precious dam all to itself." When a democracy doesn't listen to the words of the people like Ram Bai and doesn't stop creating large number of hapless people like the tribal man who says that it would be better for his baby to die, it ceases to be a democracy


    Patriarchy And The Dysfunction of Society
     By Janet Surman

    http://www.countercurrents.org/surman221114.htm

    With much talk of paedophilia plus the physical and sexual mistreatment and abuse of women in the news just lately (if largely because of the number of well known individuals called into question) it set me thinking about the perpetrators and why it is that so many males are drawn towards violence of this kind. What is it about the make-up of societies around the world that spawns and breeds ongoing generations, some of whose offspring have a propensity for what the majority view as antisocial? For we are talking about a global phenomenon here; neither nationality nor religion seem to make a difference. Patriarchy is the common factor


    Piketty For Progressives -- Part 5
     By Thomas Riggins

    http://www.countercurrents.org/riggins221114.htm

    This posting will cover sections 11 and 12 in Piketty's introduction to Capital in the 21st Century


    Andre Vltchek: Point of No Return
     Book Review

    http://www.countercurrents.org/Vltchek221114.pdf

    With his work Point of No Return, the journalist, documentary filmmaker and author of nu-merous books on the repercussions of Western imperialism Andre Vltchek engages in a risk that has become rare these days, namely, to write an explicitly political novel. And what is more, he succeeds in doing so in a very impressive way


     You can unsubscribe from this news letter here
    http://www.countercurrents.org/subscribe.htm

    ................................................................
    This email should only be sent to those who have asked to receive it.
    To unsubscribe, return to the web form where you first subscribed and click the "unsubscribe" button, or contact the owner of the website.


    क्येकी तरक्की क्येक विकास, हर आँखों में आंसा आंस ||


    अमेरिका के राष्ट्रपति ओबामा जी से नैन क्या मिले,भारत को अमेरिका बना दियो मोदी महाराजज्यू और अब संसद में मोदी की कदमबोशी की तैयारी, बुलरन में अर्थव्यवस्था,करोड़पति समुदाय बल्ले बल्ले,गणतंत्र भी उन्हींका!

    देश लोकतंत्र है,नागरिकों का कत्लेआम भी लोकतांत्रिक है!

    बचाइये इस लोकतंत्र को,मनाइये लोकतंत्र महोत्सव 26 नवंबर को!

    मनाइये संविधान दिवस!

    पलाश विश्वास


    त्यर पहाड़ म्यर पहाड़, रौय दुखो को ड्योर पहाड़ ||

    बुजुर्गो ले जोड़ पहाड़, राजनीति ले तोड़ पहाड़ |

    ठेकदारों ले फोड़ पहाड़, नान्तिनो ले छोड़ पहाड़ ||

    त्यर पहाड़ म्यर पहाड़, रौय दुखो को ड्योर पहाड़ ||

    ग्वाव नै गुसैं घेर नै बाड़, त्यर पहाड़ म्यर पहाड़ ||

    सब न्हाई गयी शहरों में, ठुला छ्वटा नगरो में,

    पेट पावण क चक्करों में, किराय दीनी कमरों में |

    बांज कुड़ों में जम गो झाड़, त्यर पहाड़ म्यर पहाड़ ||

    त्यर पहाड़ म्यर पहाड़, रौय दुखो को ड्योर पहाड़ ||

    क्येकी तरक्की क्येक विकास, हर आँखों में आंसा आंस ||

    जे. ई. कै जा बेर पास, ऐ. ई. मारू पैसो गाज |

    अटैचियों में भर पहाड़, त्यर पहाड़ म्यर पहाड़ ||

    त्यर पहाड़ म्यर पहाड़, रौय दुखो को ड्योर पहाड़ ||

    सांढ़ संस्कृति शबाब पर यूं है कि विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने इस माह की शुरआत से अभी तक भारतीय पूंजी बाजार में 20,000 करोड़ रुपये का निवेश किया है। सरकार के सुधार एजेंडा को लेकर उम्मीद के बीच इसमें बढ़ोतरी हुई है।


    वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आज ब्याज दरों में कटौती की वकालत करते हुए उम्मीद जताई कि रिजर्व बैंक अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए पूंजी की लागत कम करने के कदम जरूर उठाएगा।सरकार सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों के लिए कोयला ब्लाकों के आवंटन और कोयले का अंतिम उपयोग करने वाली विशिष्ट इकाइयों को ब्लाकों की नीलामी करने के पश्चात ही निजी क्षेत्र की कंपनियों को कोयले के वाणिज्यिक खनन की अनुमति देगी।


    लोकतंत्र का नजारा यह।कटघरे में फंसी सत्ता बचाने के लिए ममताबनर्जी को बिना नोटिस कालेज स्क्वायर से लेकर धर्मतल्ला तक पूरे कोलकाता महानगर को जाम करने की इजाजत है आडवाणी,जेटलीऔर राजनाथ सिंह से मिलने के बाद भी सीबीआई दबिश रहने की वजह से धर्मनिरपेक्ष केंद्र विरोधी जिहाद के लिए,लेकिन कोलकाता पुलिस ने हमें एक किमी की पदयात्रा मेट्रो चैनल धर्मतल्ला  से रेड रोड पर अंबेडकर की प्रतिमा तक करने की इजाजत नहीं दी है क्योंकि हम सत्ता की राजनीति नहीं कर रहे हैं ।


    इसी राजनीति में हिस्सेदारी के लिए भूमि सुधार के ब्राह्मणवाद विरोधी,स्त्री पक्षधर,पुरोहित कर्मकांड वर्जक मतुआ हरिचांद गुरुचांद ठाकुर के वंशज शरणार्थियों को नागरिकता की मांग लेकर ठाकुर नगर में अनशन बजरिये परिावर के लिए लोकसभा टिकट का फैसला करने लगे हैं।मतुआ संघाधिपति दिवंगत सांसद कपिल कृष्ण ठाकुर को श्रद्धाजंलि देने के बहाने मतुआ वोट बैंक साधने ममता बनर्जी वहां पहुंचे तो देश भर में बंगाली शरणार्थियों के खिलाफ रंगभेदी देश निकाला अभियान चलाने वाली भाजपा ने उसी इलाके में रैली की है।


    राजनीति की पैदल फौज में सीमाबद्ध हो गयी है हमारी नागरिकता और लोकतंत्र की ताकत का अहसास नहीं है हमें।


    हम अपने लोगों से,अपने स्वजनों से,अंबेडकर के नाम लाखों संगठन चलाने वाले लोगों से,इस संविधान की वजह से हर स्तर पर आरक्षण कोटा प्रतिनिधित्व का फायदा उठाकर सवर्ण बन जाने वालों से,अंबेडकर को जाने बिना,भारतीय संविधान में नागरिक अधिकारों के बारे में न जानने वाले छात्रों,युवाओं और महिलाओं से 26 नवंबर को पुलिसिया इजाजत के बिना पदयात्रा निकालने की अपील भी नहीं कर रहे हैं।


    सिर्फ निवेदन कर रहे हैं कि पर्व त्योहार के तौर पर मुक्त बाजार में संकट में घिरी नागरिकता,स्वतंत्रता,संप्रभुता,खत्म किये जा रहे लोकतंत्र,विपर्यस्त मनुष्य प्रकृति पर्यावरण जलवायु और मौसम के पक्ष में लोकतंत्र का महोत्सव मनायें देशभर में।


    लाठी का यह चित्र दंडकारण्य,मणिपुर या कश्मीर का नहीं है,यह नई दिल्ली के पास सत्ताकेंद्रे के पास लोकतंत्र का असली चेहरा है,इसे समझें और इस दमनतंत्र,जनसंहारी आर्थिक सुधारों के खिलाफ लोकतंत्र महोत्सव मनाकर अमन चैन कायम रखते हुए मुंहतोड़ जवाब दें।


    यह जरुरी इसलिए है कि अमेरिका के अश्वेत राष्ट्रपति का इस्तेमाल बहुजनों को अनेस्थेसिया देने के लिहाज से आगामी गणतंत्र दिवस पर होना है और इससे पहले नागरिकता को आधार निराधार बनाकर बायोमेट्रिक डिजिटल रोबोटिक बना देने की तैयारी है तो बुलरन यानी सांढों की निरंकुश दौड़ यानी विदेशी पूंजी के सर्वव्यापी वर्चस्व के लिए संसद में सारे कानूनों को बदल देने का बंदोबस्त है,जहां निवास करने वाले अरबपति करोड़पति कारपोरेट फंडिंग के प्रतिनिधि हैं और हमारे वे कुछ भी नहीं लगते।



    ओबामा आने से पहले सारे सुधार लागू कर देने की अभूतपूर्व हड़बड़ी में है केसरिया कारपोरेट सरकार क्योंकि उन्हें मालूम है कि नीतिगत विकलांगता और राजनीतिक बाध्यताओं से जनसंहारी सुधार रोकने कामतलब सत्ता से बेदखली है।


    जिन बोफोर्स तोपों की वजह से राजीवगांदी हारे और वीपी सिंह बजरिये मंडल कमंडल कुरुक्षेत्र बन गया देश,उसी तोप की गरज सुना.यी पड़ रही है दिल्ली के जनपथ पर और अमेरिकी हथियार कंपनियों के पक्ष में तमाम सौदे तयकर रहे हैं नये प्रतिरक्षामंत्री।


    रक्षा मंत्रालय से जाते जाते उनके पूर्ववर्ती ,मशहूर कारपोरेट वकील ने विदेशी पूंजी के लिए भारतीय पर्तिरक्षा,राष्ट्रीयएकता और अखंडता के सारे दरवज्जे खुल्ला छोड़ गये हैं एफडीआई का भंडारा खोलकर।अब खुदरा बाजार की बारी है।


    मोदीबाबू एफडीआई कहां करेंगे ,कहां नहीं.यह ओबामा महाशय की मर्जी मिजाज के माफिक होना है। जो अफगानिस्तान में सैन्यशक्ति बढ़ाकर ,तीसरे तेल युद्ध की शुरुआत करके और इजराइल के मार्फत .यरूशलम के अल अक्श मस्जिद में ताला लगाने का करिश्मा कर आये हैं।बाबरी विध्वंस प्लस अल अक्श तालाबंदी का नजारा पेश होना है।


    मोदी बाबू और उनके पार्टनर अमित शाह  लेकिन इस बीच बागी सूबों और रागी क्षत्रपों को कब्जाने का खेल पूरी दक्षता के साथ खेल रहे हैं ताकि संसद में तमाम जनविरोधी कानून पास करके अमेरिकी पूंजी और तमाम विदेशी निवेशकों के हित साध दें।


    बाराक ओबामा की प्रजा जो खुद को मानने से इंकार करें,ऐसे हर भारतीय नागरिक से अपेक्षा है कि 26 जनवरी को भारतीय गणतंत्र के अपहरण से पहले अंततः एकबार संविधानदिवस मनाकर 26 जनवरी को लोकतंत्र का महोत्सव जरुर मनायें।


    गौर करें कि अमेरिकापरस्ती में बाजार में बहार ऐसे खिली है कि अब चिनारों में आगजनी तय है।सकारात्मक घरेलू और वैश्विक रुझान के बीच पूंजी प्रवाह बरकरार रहने के मद्देनजर बंबई शेयर बाजार का सूचकांक सेंसेक्स आज के शुरुआती कारोबार में 28,514.98 अंक के नए उच्चतम स्तर पर पहुंच गया, जबकि नेशनल स्टाक एक्सचेंज का निफ्टी भी शुरुआती कारोबार में पहली बार 8,500 अंक के स्तर को पार कर गया।


    गौर करें कि संसद सत्र के पहले दिन वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आने वाले समय में और रोमांचक अवसरों का वादा करते हुए आज कह दिया कि अगामी आम बजट में दूसरी पीढ़ी के तमाम आर्थिक सुधारों की घोषणा की जाएगी।

    जेटली ने कहा, देश में अभी ज्यादातर क्षेत्रों को और अधिक खुला बनाने की जरूरत है। इसके लिए पूंजी की वाजिब लागत के साथ-साथ नीतियों व कर व्यवस्था में स्थिरता की जरूरत है। उन्होंने उम्मीद जतायी कि सरकार द्वारा किए गए उपायों के प्रभावी होने के बाद 2015-16 में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) वृद्धि दर छह प्रतिशत से उपर पहुंच जाएगी और इसके बाद हम उच्च आर्थिक वृद्धि दर की राह पर चल पड़ेंगे।



    धनी लोगों को मिल रहे सब्सिडी के लाभ में कटौती का समय अब नजदीक आता दिख रहा है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने समाज में ऐसे वर्ग के लोगों को बिना मात्रा निर्धारित किए ही सब्सिडी का लाभ देने पर सवाल उठाया है जिनकी पहचान नहीं हो सकती है।



    सिर्फ आम आदमी परेशां,बाकी सब बहार है!


    अमेरिका के राष्ट्रपति ओबामा जी से नैन क्या मिले,भारत को अमेरिका बना दियो मोदी महाराजज्यू और अब संसद में मोदी की कदमबोशी की तैयारी, बुलरन में अर्थव्यवस्था,करोड़पति समुदाय बल्ले बल्ले,गणतंत्र भी उन्हींका!


    देश लोकतंत्र है,नागरिकों का कत्लेआम भी लोकतांत्रिक है!


    हमारे गुरुजी ताराचंद्र त्रिपाठी, जिन्हें हम जीआईसी में चाणक्य कहा करते थे और बाद में जाना कि वे तो मुक्तिबोध के ब्रह्मराक्षस हैं,फिर नये सिरे से फेसबुक पर सक्रिय है।बूढ़ापे में भी चैन से नहीं बैठते हमारे गुरुजी,थोड़ा भी इधर उधर हुए कि फौरन फोने पर कान उमेठ देते हैं।


    वे लंबे अरसे से खामोश रहे हैं जो हमारी चिंता का सबब रहा है क्योंकि सारे गुरुजन तो दिवंगत हुए ठैरे,इकलौते वहीं अभी हमें वेताल की तरह विक्रमादित्य बनाये हुए हैं और उनकी लगाई आग हमारी पूंछ से निकलबे नहीं करै है।


    नैनीताल पहुंचकर फोन किया तो पता चला कि वे मुरादाबाद में हैं तो हम हल्द्वानी नहीं रुके और हरुआ दाढ़ी से अबकी दफा पर मुलाकात हो ही  हीं पायी।बाद में अमरउजाला के प्रिंटलाइन से पता चला कि हमारे पुरातन सहकर्मी मित्र सुनील साह वहीं स्थानीय संपादक पदे विराजमान हैं।


    भास्कर से तो मुलाकात नैनीताल में हो गयी लेकिन देहरादून जाकर भी सुनीता और उनकी बेबी से मुलाकात न हो सकी।चंद्रशेखर करगेती बिन मिले रह गये।रुद्रपुर के तमाम मित्रों से भी मुलाकात न हो सकी।


    लेकिन हमने नैनीताल समाचार से अपने गुरुजी को फोने पर प्रणाम करके निकले तो तसल्ली हुई कि देश अब भी बचा हुआ है और लोकतंत्र भी बचा रहेगा क्योंकि अब भी हमारे इकलौते गुरुजी हैं जो नरेंद्र मोदी संप्रदाय पर भारी है।


    उन गुरुजी ने लिक्खा है,जरा गौर करेंः


    माँगा था उत्तराखंड. नेताओं ने बना दिया उल्टाखंड. सुना है तेलंगाना भी तेल लगाना बनने की कगार पर है.


    गुरुजीने हालांकि झारखंड पर लिखा नहीं है।


    इस के साथ ही चंद्रशेखर करगेती का यह पोस्ट ताजातरीनः

    कवितायें भी बहुत कुछ कह जाती है, गीत बन कर

    ================================

    कई लोग हैं जो अभी भी नहीं समझ पा रहें हैं, क्योंकि वे पढ़े लिखे है ! आधे पढे लिखे राणा जी आज से लगभग 35 साल पहले अब के विकास का अर्थ सही मायने में समझ गए थे, पहाड़ की कीमत से भरी अटेचियों को हम आज भी नहीं देख पा रहें ! काश हम भी सत्ता में बैठे पहाड़ में विकास के ठेकेदारों के मंसूबो को समय रहते समझ पाते !

    त्यर पहाड़ म्यर पहाड़, रौय दुखो को ड्योर पहाड़ ||

    बुजुर्गो ले जोड़ पहाड़, राजनीति ले तोड़ पहाड़ |

    ठेकदारों ले फोड़ पहाड़, नान्तिनो ले छोड़ पहाड़ ||

    त्यर पहाड़ म्यर पहाड़, रौय दुखो को ड्योर पहाड़ ||

    ग्वाव नै गुसैं घेर नै बाड़, त्यर पहाड़ म्यर पहाड़ ||

    सब न्हाई गयी शहरों में, ठुला छ्वटा नगरो में,

    पेट पावण क चक्करों में, किराय दीनी कमरों में |

    बांज कुड़ों में जम गो झाड़, त्यर पहाड़ म्यर पहाड़ ||

    त्यर पहाड़ म्यर पहाड़, रौय दुखो को ड्योर पहाड़ ||

    क्येकी तरक्की क्येक विकास, हर आँखों में आंसा आंस ||

    जे. ई. कै जा बेर पास, ऐ. ई. मारू पैसो गाज |

    अटैचियों में भर पहाड़, त्यर पहाड़ म्यर पहाड़ ||

    त्यर पहाड़ म्यर पहाड़, रौय दुखो को ड्योर पहाड़ ||

    साभार --- हीरा सिंह राणा



    आज सवेरे कश्मीर घाटी में युवा वकील अशोक बसोत्तरा से बातें हुईं जो वहां केसरिया लहर के मुकाबले चुनाव मैदान में हैं और उनकी अब भी वही शिकायत है कि बाकी देश की आंखों में कश्मीर घाटी नहीं है जैसे पूर्वोत्तर के तमाम मित्र या फिर तमिलनाडु या दंडकारण्य के साथी या आदिवासी भूगोल के लोग या गोरखालैंड वाले कहते रहते हैं कि इस देश के लोकतंत्र में उनकी कहीं सुनवाई नहीं होती।न इस देश के नागरिकों को अपने सिवाय किसी की कोई परवाह है।


    नागरिकों को यह अहसास है ही नहीं कि यह देश किसी सरकार बहादुर का साम्राज्य नहीं है और न इस देश का प्रधानमंत्री किसी दिव्यशक्ति के प्रतिनिधि हैं।


    अश्वमेध के घोड़े लेकिन खूब दौड़ रहे हैं जैसे बाजारों में दौड़ रहे हैं सांढ।


    साँढ़ो की दौड़ ही इस देशकी,लोकतंत्र कीऔर अर्थव्यवस्था की सेहत का पैमाना है और इसी बुल रन को जारी रखने के लिए बंगाल, पंजाब, तमिलनाड, काश्मीर, झारखंड जैसे असुर जनपदों को छत्तीसगढ़,तेलंगाना और उत्तराखंड बना देने की कवायद है ।


    और कवायद है देवसंस्कृति के पुनरूत्थान की,संस्कृत को अनिवार्य बनाने की कवायद जारी है।यानी मुकम्मल रंगभेदी मनुस्मडति राज का चाकचौबंद इंतजाम।


    लोगों को केंद्रीय विद्यालयों में संपन्न तबकते के बच्चों को पढ़ायी जा रही तीसरी भाषा जर्मन को हटाने का अफसोस हो रहा है लेकिन भारतीय भाषाओं और बोलियों,समूची लोक विरासत और जनपदों की हत्या की खबर भी नहीं है।


    शिक्षा के अधिकार की परवाह नहीं है।खास लोगों के परमानेंटआरक्षण की नालेज इकोनामी की खबर भी नहीं है और न परवाह है।सबको समान शिक्षा,समान अवकर की कोई चिंता है ही नहीं।


    बीबीसी संवाददाता मित्रवर सलमान रवि ने हालात यूं बयां किये हैंः

    No vehicle available. All vehicles taken away for election duty.

    Reached Daltonganj for the first phase of Assembly elections.


    फिर भी क्या खूब लिखा है भाई उदय प्रकाश जी नेः

    कल-परसों से जर्मन भाषा को केंद्रीय विद्यालयों में तीसरी भाषा के रूप में हटाये जाने को लेकर बहसें चल रही हैं.

    क्या संघ अब जर्मनों को 'शुद्ध और सर्वोच्च आर्य ' तथा हिन्दू द्विजों - उच्च सवर्णों को उसी आर्य वंश का मानने वाली पुराणी धारणा त्याग देगा ?

    क्या हिटलर के बारे में विचार बदल गए और अब वह उसकी आत्मकथा का प्रचार-प्रसार बंद कर देगा और उसे प्रतिबंधित कर देगा ?

    और बड़ा सवाल यह -- क्या अब संघ हिटलर की नाज़ी बर्दी , जो अब तक संघ का औपचारिक यूनिफार्म है , उसे भी बदल देगा ?

    बड़ा वैचारिक शिफ्ट है भाई जी।

    अब जर्मन की जगह संस्कृत आ गयी तो ड्रेस कोड भी तो बदलना ही लाजिम है।

    अमेरिका के राष्ट्रपति ओबामा जी से नैन क्या मिले क़ि हज़रत अमीर खुसरो की कव्वाली हो गयी --

    'छाप तिलक सब छीनी रे, तोसे नयना मिलाय के .... !'

    ओबामा तो निकला बहुतै बड़ा रंगरेज़ .... हो रसिया !

    संसद का शीतकालीन सत्र आज से शुरू हुआ है। सत्र शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि संसद का शीतकालीन सत्र आज प्रारंभ हो रहा है और मुझे उम्मीद है कि ठंडे माहौल में ठंडे दिमाग से काम होगा। देश की जनता ने हमें देश चलाने के लिए चुना है। पिछले सत्र मे विपक्ष की सकारात्मक भूमिका के कारण बहुत अच्छा काम हुआ था मुझे उम्मीद है इस बार भी ऐसा ही होगा।


    अब क्या होना है,बूझ लीजिये नौटंकी की पटकथा घमासान।


    लोकसभा में सबसे पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने नए मंत्रियों का का परिचय करवाया। संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही आज श्रद्धांजलि देने के साथ स्थगित कर दी गई। गौरतलब है कि राज्यसभा सांसद मुरली देवड़ा का देर रात मुंबई में निधन हो गया था। इससे पहले पिछले महीने लोकसभा में टीएमसी सांसद कपिल कृष्ण ठाकुर का भी निधन हो गया था। लोकसभा अपने दो वर्तमान सदस्यों हेमंत चंद्र सिंह और कपिल कृष्ण ठाकुर के निधन पर उन्हें श्रद्धांजलि देने के बाद कल तक के लिए स्थगित कर दी गई।


    संसद के शीतकालीन सत्र में सरकार को विपक्ष के कड़े रुख का सामना करना पड़ सकता है। रविवार को सरकार की ओर से सभी पार्टियों की बैठक बुलाई गई, जिसमें 26 पार्टियों के 40 से ज्यादा नेताओं ने हिस्सा लिया। बैठक में प्रधानमंत्री ने उम्मीद जताई कि बजट सत्र की तरह शीतकालीन सत्र भी कामयाब रहेगा। इस बैठक में समाजवादी पार्टी और टीएमसी ने हिस्सा नहीं लिया था।


    बैठक में प्रधानमंत्री ने उम्मीद जताई कि बजट सत्र की तरह ही शीतकालीन सत्र भी कामयाब रहेगा। सरकार को विपक्ष या किसी भी सदस्य द्वारा उठाए गए मुद्दे पर बहस में कोई आपत्ति नहीं है। बैठक के बाद नायडू ने कहा कि सरकार विपक्ष के सुझावों पर अमल करने के लिए पूरी तरह से तैयार है और काला धन के मुद्दे पर सरकार तमाम संभव कदम उठा रही है।


    वहीं, कांग्रेस ने सरकार को काला धन, सूखा, मंहगाई समेत एक दर्जन मुद्दों की सूची सौंपी है। जिसे शीतकालीन सत्र के दौरान उनकी ओर से उठाया जाएगा। पार्टी का कहना है कि सरकार ने सात बिल चर्चा के लिए रखे हैं और 14 बिल पेश किए जाएंगे। कांग्रेस चाहती है कि महिला आरक्षण और दलित अत्याचार संशोधन बिल जैसे लंबित बिलों को भी इस सत्र में जोड़ा जाए। वहीं, जेड़ीयू, लेफ्ट, सपा और बीएसपी का कहना है कि बीमा विधेयक का विरोध करेगी। इन पार्टियों का कहना है कि वो कांग्रेस से भी इसका विरोध करने का अनुरोध कर रही है।


    हालांकि कांग्रेस ने अभी अपने पत्ते नहीं खोले हैं। पार्टी का कहना है कि वो बिल देखने के बाद ही अपना रुख साफ करेगी। सर्वदलीय बैठक में शामिल नहीं होकर तृणमूल कांग्रेस ने अपने तेवर के संकेत दे दिए हैं। पार्टी का कहना है कि वो उनके नेताओं को सीबीआई द्वारा परेशान किए जाने समेत कई मुद्दों को संसद में उठाएगी। हालांकि सरकार के लिए राहत की बात है कि शिवसेना उसके साथ खड़ी नजर आ रही है। पार्टी की ओर से साफ किया गया कि महाराष्ट्र के रिश्तों का असर दिल्ली में देखने को नहीं मिलेगा।


    शिवसेना के नेता संजय राउत ने कहा कि महाराष्ट्र का परिणाम दिल्ली में नहीं होगा। सरकार के पूरे कार्यकलापों के साथ रहेंगे। महाराष्ट्र में बहुत सूखा है वो मुद्दा हम ठाएंगे। उस पर सरकार से जवाब मांगेंगे। शीतकालीन सत्र 24 नवंबर से शुरू होकर 23 दिसंबर तक चलना है जिसमें 22 बैठकें होंगी। इस दौरान सरकार की कोशिश बीमा संशोधन विधेयक, वस्तु एवं सेवा कर यानी जीएसटी विधेयक, लोकपाल एवं लोकायुक्त संशोधन विधेयक जैसे कई अहम विधेयक पारित कराने की होगी। विपक्ष का कहना है कि वो सत्र के दौरान पीएम मोदी के विदेश दौरों और घोषणाओं को नतीजों की कसौटी पर कसेगा। लेकिन अपनी छिन्न भिन्न मौजूदगी में वो कितना असरदार साबित होगा ये बड़ा सवाल है।


    आज पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी केंद्र सरकार के खिलाफ कोलकाता में मार्च निकालने वाली हैं। हालांकि रविवार को संसदीय कार्यमंत्री वेंकैया नायडू ने कहा था कि चिटफंड घोटाले में टीएमसी सांसदों की गिरफ्तारी में सरकार को हाथ नहीं है। शारदा चिटफंड घोटाले में टीएमसी सांसदों की गिरफ्तारी से तिलमिलाई ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। शीतकालीन सत्र शुरू होने से पहले रविवार को बुलाई गई सर्वदलीय बैठक का टीएमसी ने बहिष्कार किया। यही नहीं, ममता ने ऐलान किया कि उनकी पार्टी नए सत्र में कालेधन समेत कई मुद्दोंपर केंद्र सरकार का जमकर विरोध करेगी।

    टीएमसी-बीजेपी में टकराव

    टीएमसी ने नए सत्र के पहले ही दिन इंश्योरेंस में एफडीआई के विरोध में धरना देने का भी ऐलान किया है। दरअसल, टीएमसी और बीजेपी के बीच टकराव हाल में तब बढ़ी, जब शारदा घोटाले में पार्टी के सांसद श्रजॉय बोस की गिरफ्तारी हुई। उधर संसदीय कार्यमंत्री वेंकैया नायडू ने विवाद थामते हुए साफ किया कि केंद्र सरकार सीबीआई का गलत इस्तेमाल नहीं कर रही है।

    जेटली के ब्लॉग पर मचा बवाल

    दरअसल बीजेपी और टीएमसी के रिश्तों में उस वक्त खटास और बढ़ गई जब ममता बनर्जी के आरोपों पर केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने ब्लॉग के जरिए पलटवार किया। बीजेपी सांसद योगी आदित्यनाथ के बयान ने तो आग में घी का काम किया। अरुण जेटली ने अपने ब्लाग में ममता बनर्जी पर जमकर निशाना साधा। जेटली ने ब्लॉग में लिखा कि शारदा चिटफंड घोटाले में कुछ टीएमसी नेताओं से पूछताछ और गिरफ्तारी को लेकर ममता दीदी की प्रतिक्रिया से मैं बेहद निराश हूं। टीएमसी से जुड़े कुछ लोग चिटफंड स्कीम के जरिए पैसे बनाने में जुटे थे। इस स्कीम के तहत छोटे निवेशकों को लूटा गया। नई राजनीतिक पार्टी होने के नाते अब ये किसी भी जिम्मेदार नेता के लिए अनिवार्य है कि वो ऐसे नेताओं से पार्टी को बचाए। ये निराशाजनक है कि ममता दीदी ये करने के बजाय इन नेताओं के साथ खड़ी होते दिखना चाह रही हैं।

    आदित्यनाथ का विवादित बयान

    टीएमसी के साथ जारी घमासान के बीच बीजेपी के तेजतर्रार सांसद योगी आदित्यनाथ ने पश्चिम बंगाल को आतंकियों को अड्डा बता दिया। आदित्यनाथ के मुताबिक पश्चिम बंगाल में कई आतंकी संगठन शरण ले रहे हैं। लेकिन जब उनको हटाने की बात होती है तो ममता सरकार उनके पक्ष में खड़ी हो जाती हैं। संसद के शीत सत्र से पहले ममता बनर्जी के तेवर सरकार के लिए परेशानी खड़े करने वाले हो सकते हैं। लेकिन एक सच ये भी है कि उनकी पार्टी के कुछ सांसद चिट फंड घोटाले में जारी सीबीआई की जांच में फंसे हैं। ऐसे में ममता केंद्र सरकार से सीधे टकराव ले पाएंगी, कहना मुश्किल है।

    शीतकालीन सत्रः कानून बन पाएंगे ये विधेयक!

    http://www.bbc.co.uk/hindi/india/2014/11/141124_winter_session_parliament_vr


    नरेंद्र मोदी, अमित शाह

    संसद का शीतकालीन सत्र सोमवार से शुरू हो रहा है.

    22 दिनों तक चलने वाले इस सत्र में संसद की आखिरी बैठक 23 दिसंबर को होगी. संसद के समक्ष फिलहाल 67 विधेयक लंबित हैं.


    इनमें से नौ विधेयक संसद के पिछले सत्र में पेश किए गए थे जबकि 40 विधेयक पंद्रहवीं लोकसभा के दौरान मनमोहन सिंह की पिछली सरकार ने संसद के सामने विचार के लिए रखे थे.

    18 ऐसे विधेयक हैं जो पिछली लोकसभाओं से लंबित पड़े हुए हैं.

    लंबित अध्यादेश

    लोकसभा

    सरकार ने पिछले कुछ महीनों में दो अध्यादेश जारी किए हैं. जो कोयला खनन और सरकारी कपड़ा कंपनियों से संबंधित हैं.

    इन दोनों अध्यादेशों को कानून की शक्ल देने के लिए संसद के मौजूदा सत्र में विधेयक लाया जाना है ताकि इन्हें खत्म होने से बचाया जा सके.

    जो विधेयक लंबित हैं, उनमें 11 स्वास्थ्य और परिवार कल्याण से संबंधित हैं. ये विधेयक मानसिक स्वास्थ्य, मेडिसिन सेक्टर और एचआईवी की रोकथाम से संबंधित हैं.

    शीतकालीन सत्र में संसद को श्रम और रोज़गार क्षेत्र से जुड़े नौ विधेयकों पर भी विचार करना है. इनमें फैक्ट्री (संशोधन) बिल और अप्रैंटिस अमेंडमेंट बिल हैं.

    शीतकालीन सत्र

    भारत की संसद

    दोनों ही विधेयकों को संसद के पिछले सत्र के दौरान पेश किया गया था. अप्रैंटिस अमेंडमेंट बिल को लोकसभा पहले ही पास कर चुकी है.

    लेकिन बाल श्रम (निषेध और नियमन) बिल, 2012 और भवन निर्माण क्षेत्र से जुड़े कामगारों के लिए 2013 में लाया गया विधेयक अब भी लंबित है.

    संसद में लंबित कई विधेयक तो ऐसे हैं जिन पर स्टैंडिंग कमेटी को विचार करना है. इनमें शारीरिक रूप से विकलांग व्यक्तियों और बच्चों के अधिकारों से जुड़ा विधेयक भी है.

    यह देखना बाक़ी है कि इन विधेयकों को शीतकालीन सत्र के दौरान पारित करने के लिए स्टैंडिंग कमेटी की रिपोर्ट वक्त पर आ जाती है या नहीं.

    राज्यसभा

    सोनिया गांधी, हामिद अंसारी

    बीमा संशोधन विधेयक, 2008 पर फिलहाल राज्य सभा की सेलेक्ट कमेटी विचार कर रही है.

    यह विधेयक भारतीय बीमा कंपनियों में विदेशी निवेशकों को अपना हिस्सा 49 फीसदी तक ले जाने के इज़ाजत देता है.

    सेलेक्ट कमेटी की रिपोर्ट इसी शीतकालीन सत्र में आनी है जिसके बाद ही विधेयक को पारित कराने के लिए आगे बढ़ाया जा सकेगा.

    कैबिनेट ने पिछले तीन महीनों में दो विधेयकों को मंजूरी दी है. जिनमें एक जहाज़रानी क्षेत्र से संबंधित है तो दूसरा वास्तुकला विद्यालय से.

    सदन का काम

    सुमित्रा महाजन

    कुछ ऐसे विधेयक भी प्रस्तावित हैं जिनके मसौदों पर अलग-अलग मंत्रालयों में सलाह मशविरे का काम जारी है.

    इनमें छोटी फैक्ट्रियों के कामगारों से संबंधित विधेयक है. नागरिकता कानून में भी कुछ संशोधन प्रस्तावित हैं और सड़क परिवहन और सुरक्षा से जुड़ा विधेयक भी है.

    शीतकालीन सत्र के दौरान राज्यसभा के प्रश्नकाल का समय अब पहले की तरह 11 से 12 बजे न होकर दोपहर 12 से एक बजे तक होगा.

    इसके साथ ही राज्यसभा का काम भी अब पहले से एक घंटे ज्यादा होगा. यह सुबह 11 से शाम छह बजे तक होगा.

    2014 के बजट सत्र में प्रश्नकाल के दौरान संसद के कामकाज में हुए सुधार के मद्देनज़र इन बदलावों को देखा जा सकता है.

    प्राथमिकता सूची

    अरुण जेतली, नरेंद्र मोदी

    बजट सत्र के दौरान लोकसभा ने प्रश्नकाल के दौरान 87 फीसदी काम किया जबकि राज्यसभा नियत समय का 40 फीसदी ही इस्तेमाल कर पाई.

    2011 में भी राज्यसभा ने इस समस्या को सुलझाने की कोशिश की थी जब प्रश्नकाल का समय खिसकाकर दो बजे से तीन बजे के बीच कर दिया गया था लेकिन इसे कुछ समय बाद ही रोक दिया गया.

    हालांकि संसद के इस शीतकालीन सत्र में कौन से विधेयक सरकार की प्राथमिकता सूची में है, इस पर आधिकारिक रूप से अभी तक कुछ नहीं कहा गया है.

    (बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिककर सकते हैं. आप हमेंफ़ेसबुकऔर ट्विटरपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)




    'সংঘ'এর দেশপ্রেমের নমুনা:

    সংঘ পরিবার আজ নিজেদেরকে দেশপ্রেমের ঝান্ডাধারী হিসেবে হিসেবে হাজির করে, ভারতমাতার নামে স্লোগান দিয়ে দেশের যুবসমাজ আর খেটে-খাওয়া মানুষের কাছে দেশের জন্য বলিদান দেওয়ার কথা প্রচার করে। আর.এস.এস এর দেশভক্তির ব্যাপারটা ঠিক কিরকম সেটা বোঝার জন্য আসুন, দেশ যখন ব্রিটিশের অধীন ছিলো, তখন বিদেশী সভ্যতা-সংস্কৃতির ভয়ঙ্কর বিরোধী আর.এস.এস ঠিক কী ভূমিকা পালন করছিলো একবার ফিরে দেখি।
    স্বাধীনতা সংগ্রামের সময়ের ভূমিকা ছাড়াও সংঘের আরো কিছু পদক্ষেপ আমরা একটু ফিরে দেখবো। যখন তেরঙ্গা পতাকাকে জাতীয় পতাকা হিসেবে গ্রহণ করা হল, তখন আর.এস.এস তাদের 'গেরুয়া পতাকা'কে জাতীয় পতাকা করা হোক এই দাবীতে গোঁ ধরে বসেছিলো। ওদের বক্তব্য ছিলো তিন সংখ্যাটা অশুভ আর তাই ১৯৪৭ এর ১ই আগস্ট আর.এস.এস এর লোকরা তাদের বাড়িতে গেরুয়া পতাকা উত্তোলন করেছিলো। ওদের বক্তব্য ছিলো ভারতীয় সংবিধানের বদলে মনুস্মৃতির আদলে দেশের আইন বানানো হোক। কিন্তু যখন ওরা দেখলো গোটা দেশের মানুষের কাছে সংবিধান আর জাতীয় পতাকা গ্রহণযোগ্যতা পেয়েছে, তখন পাল্টি খেয়ে সংবিধান আর জাতীয় পতাকার ভয়ঙ্কর সমর্থক হয়ে গেলো।

    স্বাধীনতা আন্দোলনে সংঘের ভূমিকা:
    হিন্দু কট্টরবাদী সংগঠনগুলির তৈরির সময় থেকেই স্বাধীনতা আন্দোলনে তাদের ভূমিকা ছিল নামমাত্র। খিলাফত আন্দোলন এবং অসহযোগ আন্দোলনেকে হিন্দুত্ববাদীরা তীব্র ভাষাই নিন্দা করে এবং গান্ধী দ্বারা আন্দোলনকে স্তব্ধ করে দেওয়ার কথা বুঝতে পেরে আন্দোলনের ব্যর্থতা মুসলিমদের উপর চাপিয়ে দেয়। জাতীয়তাবাদী আন্দোলনগুলি সংগঠিত হওয়ার সময় যে সংঘ পরিবার অধিকাংশ ক্ষেত্রেই অনুপস্থিত ছিল, তারাই আবার সাম্প্রদায়িক দাঙ্গার যুক্ত হয়ে সংগঠনকে দ্রুত বিস্তার করে। ৩০-এর দশকের শেষের দিকে উত্তর ভারতে সাম্প্রদায়িক অসহিষ্ণুতা বৃদ্ধি পাওয়ার সাথে সাথে সংঘ পরিবারের প্রচারকরা তাদের মতবাদকে প্রতিষ্ঠা করে এবং ১৯৪২-এর ভারত ছাড়ো আন্দোলন থেকে নিজেদের দূরে সরিয়ে রাখে, ৪৬-৪৭-এর দাঙ্গা শুরু হলে 'হিন্দুত্বে'র হয়ে দাঙ্গায় অংশগ্রহণ করে। স্বাধীনতা আন্দোলনে মুসলিমদের অংশগ্রহন গান্ধী এবং কংগ্রেসের মুসলিমদের প্রতি দুর্বলতা এবং হিন্দু রাষ্ট্র গঠনের পরিপন্থী তত্ত্ব হাজির করে। সংঘ পরিবার এবং সাভারকরের ঘনিষ্ঠ নাথুরাম গডসের দ্বারা গান্ধী হত্যা এবং তারপর সংঘ পরিবারের উৎসব পালন, মিষ্টি বিতরণ তাদের এপ্রশ্নে ভাবনাচিন্তাকে প্রমান করে।

    কে প্রকৃত দেশপ্রেমিক?
    ইংরেজ সরকারের থেকে ক্ষমাভিক্ষা চেয়ে লেখা দ্বিতীয় চিঠিতে (১৪ই নভেম্বের,১৯৩১) 'হিন্দুত্বে'র প্রণেতা সাভারকার (কয়েদী নঃ ৩২৭৭৮) লেখেন— "... আমার (ইংরেজ সরকারের) সংবিধানের পক্ষে আসা ভারত এবং বাইরে থাকা বিপথগামী যুবদের, যারা আমাকে নিজেদের পথপ্রদর্শক হিসাবে দেখে তাদের আবার সঠিক রাস্তায় ফিরিয়ে আনবে। আমি আমার পুরো শক্তি এবং সামর্থের সাথে সরকার যেমন চাইবে তার সেবা করতে প্রস্তুত। আমি যেহেতু ভেতর থেকে পালটে গেছি তাই ভবিষ্যতেও আমার ব্যবহার এরকমই থাকবে। আমায় জেলে রাখলে কোনো লাভই হবে না। ক্ষমতাবানই দয়া করতে পারেন। আর বিপথগামী পুত্র পিতৃ-মাতৃ স্বরূপ সরকার ছাড়া আর কোথায়ই বা ফিরে আসতে পারে? আশাকরি, আপনি আমার কথাগুলোতে মনোযোগ দেবেন। 
    এটা বলা প্রয়োজনীয় যে সাভারকার তার বাকি জীবনে ইংরেজ সরকারকে দেওয়া কথা রেখেছিলেন এবং ইংরেজ বিরোধী আন্দোলন ছেড়ে মুসলিম বিরোধী কট্টর হিন্দুত্ববাদী কাজকর্ম সংগঠিত করতে থাকেন।

    ৭-এ অক্টোবর, ১৯৩০ সালে ইংরেজ আদালত ভগৎ সিং এর ফাঁসির নির্দেশ দেয়। ভগত সিং এর বিরুদ্ধে সবচেয়ে বড় অভিযোগ ছিল তিনি সম্রাট পঞ্চম জর্জের বিরুদ্ধে যুদ্ধ ঘোষণা করেন। ২০-ই মার্চ, ১৯৩১ সালে ব্রিটিশ সরকারের কাছে ক্ষমা চেয়ে নিজের প্রাণ রক্ষা করার পরিবর্তে তিনি ইংরেজ গভর্নারকে চিঠিতে লেখেন—
    "... আদালতের এই সিদ্ধান্তে দুটি জিনিস স্পষ্ট হয়ে যায় প্রথমত: ইংরেজ এবং ভারতীয়দের মধ্যে একটা যুদ্ধ চলছে। দ্বিতীয়ত: আমরা নিশ্চিত ভাবে এই যুদ্ধে অংশগ্রহণ করেছি। অতএব আমরা যুদ্ধবন্দি। ... এই লড়াইয়ে আমরা প্রত্যক্ষ ভাবে অংশগ্রহণ করেছি এবং আমরা নিজেদের উপর গর্ব বোধ করি যে এই যুদ্ধ আমরা আরম্ভ করিনি এবং আমাদের মৃত্যুর সাথে এই যুদ্ধ শেষ হবে না। ... আপনারা 'জোর যার মুলুক তার'নীতি লাগু করছেন আর আপনারা এটাই করবেন। আমাদের অভিযোগের শুনানি থেকেই এটা স্পষ্ট যে— আমরা কখনো কোনো প্রার্থনা করিনি আর এখনো আমরা কোনো প্রকারের দয়াভিক্ষা করছিনা। আমরা শুধু আপনাকে এটা বলছি যে আপনারই এক আদালতের বিচারানুসারে আমরা রাষ্ট্রের বিরুদ্ধে যুদ্ধ ঘোষনা করেছি। অর্থাৎ এই পরিস্থিতিতে আমরা যুদ্ধবন্দী। এই পরিপ্রেক্ষিতে আমরা আপনাদের কাছে আবেদন করছি যে— আমাদের প্রতি যুদ্ধবন্দীদের মতো আচরণ করা হোক আর ফাঁসি না দিয়ে আমাদের গুলি করে হত্যা করা হোক।"

    আজ আমাদের সামনে রয়েছে একটিকে ভগৎ সিংহের ইতিহাস আর অন্যদিকে সাভারকার আর হিন্দুত্ববাদী শক্তিদের ইতিহাস। বিজেপি-সংঘ পরিবারের বাড়তে থাকা রাজনৈতিক শক্তি আমাদের সামনে পক্ষ নেবার প্রশ্নটাকে আরো স্পষ্ট করে তুলেছে। এখন আমাদের ঠিক করতে হবে আমরা কোন পক্ষ নেব?


    0 0

    The governance is all about apartheid practiced by the patriarchal hegemony!

    Pardon,not your faith whatsoever, faith of the investors is the topmost priority in the Hindu Nation!


    The RTI application filed by PM Modi's wife Jashodaben means so many things if we have the heart,mind and senses of a human being beyond politics of billionaires and millionaires in the patriarchal system of inherent manusmriti discipline.


    Palash Biswas

    PM Modi's Estranged Wife Files RTI on Her Security

    The RTI application filed by PM Modi's wife Jashodaben means so many things if we have the heart,mind and senses of a human being beyond politics of billionaires and millionaires in the patriarchal system of inherent manusmriti discipline.


    Pardon,not your faith whatsoever,faith of the investors is the topmost priority in the Hindu Nation!


    Billionaire class is engaged in enacting laws afresh to ensure the sustenance of the Bull Run which is the post modren neo Nazi zionist as well as global Hindutva culture and incidentally,it has to be noted that it banks on aparteid.In India,we live with caste,linguistic,religious and regional identities and happen to be most ignorant about the roots of social realities and the consequences we happen to be predestined as holy scripts explain.


    The topmost priority is to sustain the bull run and it is all about the appeasement of the the foreign investors.Thus,The Narendra Modi government, which has promised big reforms in its first budget, is looking to push the Insurance Bill as well as the Goods and Service Tax Bill in the month-long winter session that begins today.

    How alarming is the situation just feel as the two major railway unions have proposed to the government an unprecedented alternative to privatisation or inviting foreign investment, to help raise funds and improve revenue.


    The National Federation of Indian Railwaymen (NFIR) and the All India Railwaymen's Federation (AIRF) had both been demanding an end to the government's opening of the carrier. Now, they have both offered the Rs 10,000-crore provident fund (PF) deposits of rail workers for development of the cash-short carrier, also the country's largest single employer.


    "We have proposed using the PF balances of the 13.1 lakh workers and 12 lakh retired personnel," M Raghavaiah, general secretary of NFIR, told Business Standard. "We can convince the workers on depositing this money with the railways on an interest basis, rather than keeping it in bank accounts."


    NFIR says it represents a little over a million of the 1.3 million workers. And, sees its idea as an attempt to "save the country and Indian Railways from the onslaught of foreign direct investment (FDI) and privatisation in the name of public-private partnership (PPP)".


    Here is a list of 37 bills listed for the session:


    I Bills for Introduction, Consideration and Passing:


    • The Coal Mines (Special Provisions Bill), 2014 - To replace an Ordinance

    • The Textile Undertakings (Nationalization) Laws (Amendment and Validation) Bill, 2 014 - To replace an Ordinance

    • The Delhi Special Police Establishment (Amendment) Bill, 2014


    II Bills for consideration and passing:


    (A) Bills pending in Lok Sabha


    • The Indian Institutes of Information Technology (IIIT) Bill, 2014

    • The Central Universities (Amendment) Bill, 2014

    • The Repealing and Amending Bill, 2014

    • The Constitution (Scheduled Castes) Orders (Amendment) Bill, 2014


    (B)   Bills pending in Rajya Sabha


    • The Anti Hijacking (Amendment) Bill, 2010

    • The Insurance Laws (Amendment) Bill, 2008 -With Select Committee

    • The Tamil Nadu Legislative Council (Repeal) Bill, 2012

    • The Rajasthan Legislative Council Bill, 2013

    • The Assam Legislative Council Bill, 2013

    • The Apprentices (Amendment) Bill, 2014 as passed by Lok Sabha

    • The Labour Laws (Exemption from furnishing Returns and Maintaining Registers by certain Establishements) Amendment Bill, 2011

    • The Merchant Shipping (Amendment) Bill, 2013

    • The Merchant Shipping (Second Amendment) Bill, 2013

    • The Delhi Hotel (Control of Accommodation) Repeal Bill, 2014

    • The Real Estate (Regulation and Development) Bill, 2013


    III Bills for Introduction:


    • The National Co-operative Development Corporation (Amendment) Bill, 2014

    • The Warehousing Corporations (Amendment) Bill, 2014

    • The Payment and Settlement Systems (Amendment) Bill, 2014

    • The Regional Rural Banks (Amendment) Bill, 2014

    • The Biomedical and Health Research (Regulation) Bill, 2014

    • The Recognition of New Systems of Medicine Bill, 2014

    • The Assisted Reproductive Technology (Regulation) Bill, 2014

    • The School of Planning and Architecture Bill, 2014

    • The Readjustment of Representation of Scheduled Castes and Scheduled Tribes in Parliamentary and Assembly Constituencies Bill, 2014

    • The Repealing and Amending (Second) Bill, 2014

    • The Appropriation Acts (Repeal) Bill, 2014

    • The Lokpal and Lokayuktas (Amendment) Bill, 2014

    • Public Premises (Eviction of Unauthorised Occupants) Amendment Bill, 2014

    • The Constitution (One Hundred and Fifteenth Amendment) Bill, 2014


    IV Bill for Withdrawal:


    • The Indian Medicine and Homeopathy Pharmacy Bill, 2005

    • The Homeopathy Central Council (Amendment) Bill, 2005

    • The Indian Medicine Central Council (Amendment) Bill, 2005

    • The Higher Education and Research Bill, 2011

    • The Readjustment of Representation of Scheduled Castes and Scheduled Tribes in Parliamentary and Assembly Constituencies (Third) Bill, 2013


    V Financial Business


    The Appropriation Bill relating to Supplementary Demands for Grants (General) for 2014-15


    VI Non Legislative


    Consideration of Resolution to reject the award given by the Board of Arbritation on 18-10-1999 to upgrade the Pay Scale for the post of Computer (now Compiler) w.e.f 01-05-1982 at par with the Investigators of national Sample Survey Organisation & UDCs of National Tuberculosis Institute, Bangalore w.e.f 01-05-1982



    For example,just see someone like Ms Irome Sharmila,on hunger strike for fifteen full years as we feel no heartbreak to see naked motherhood projected and hyped by day to day newsupdtaes in a patriarchal society.


    Just tell me how do you feel reading this as Social activist Irom Sharmila on Friday condemned the racist attacks against people from northeast staying in Delhi, NCR and Bengaluru!


    Ms. Sharmila on Friday said that she was pained by the increasing number of racist attacks on people from northeast and felt that the authorities concerned were not doing enough to protect the people hailing from the region.


    Referring to her arrest and detention in judicial custody, Ms. Sharmila said she was using democratic means to achieve her goal. She was re-arrested on charges of attempt to commit suicide. The court has ordered her next appearance on December 1.


    A former journalist and social activist, Ms. Sharmila had launched her fast unto death on November 2000 after Assam Rifles killed 10 persons at Malom area in an alleged encounter with insurgents.


    Meanwhile,the US today said it is "cautiously optimistic" of reforms being undertaken by the new Indian government even as it termed steps like raising FDI cap in defence and railways as positive signs.


    "We have already seen some positive signs: projects approved, foreign equity caps in key sectors such as defence and railways lifted. But we have also seen certain tariffs increased, and there is a long way to go on reform," US Trade Representative Michael Froman said here.


    "So, we are optimistic, but we are cautiously optimistic. There remains great potential for further liberalisation, structural reform and the facilitation of business. And we look forward to addressing that agenda in the Trade Policy Forum as well," he said.


    The US-India Trade Policy Forum (TPF) is a government-to-government trade dialogue aimed at increasing bilateral investment between the two nations.


    Froman will co-chair the Trade Policy Forum along with Commerce and Industry Minister Nirmala Sitharamantomorrow.


    The new government has hiked the FDI cap in defence to 49 per cent and liberalised the FDI policy for the railways.


    Froman also said the bilateral trade has increased to USD 100 billion, five-fold since 2001 and that has supported thousands of jobs.


    "...But still there has been incredible amount of opportunities that is waiting to be unlocked," he said.


    Meanwhile, US India Business Council (USIBC) and AMCHAM said resumption of the Trade Policy Forum represents another important step towards strengthened trade relations between the US and India.


    Stating that it is in India's interest to have a strong and world class IPR regime, the USTR said patents, trademarks, piracy, counterfeiting, compulsory licencing are "challenging issues and dealing with them directly is critical if India has to play a leadership role in the knowledge economy" and also to become a digital India.


    "It is very much in US interest that India succeeds...The question is what can we do through our engagements in trade and investments to support these objectives," he said, adding that "incentivising life-saving innovations and promoting affordable access to quality healthcare and safe medicine will benefit all Indians and Americans. Indeed, India is home to many innovative ideas for delivering cost-effective healthcare".


    The month-long winter session of parliament starting Monday is crucial for Prime Minister Narendra Modi's Bharatiya Janata Party government, to prove it can deliver reforms to reverse the sagging economy and silence critics who say the first sixth months in power have failed to live up to expectations.


    Mr. Modi came to power in May with the largest mandate of any party in India in 30 years.


    The parliamentary session – scheduled between November 24 and December 23– has 22 working days and a heavy legislative agenda. Some 37 bills are up for debate ranging from land reforms and tax policies to boost manufacturing to the passage of the long-delayed goods and services tax and insurance reforms. The government also plans to revoke hundreds of pre-independence laws that have lost relevance.


    Mr. Modi on Sunday told an all party meeting ahead of the opening of parliament's session Monday that  'the Government will walk the extra-mile to accommodate the concerns and suggestions of all parties to enable smooth functioning of both the Houses of Parliament.'


    Finance Minister Arun Jaitley has said previously that the government has "clearly prioritized" most reforms.


    "I have always believed that some reforms are easily possible. For next few months, we have our plates reasonably full," he said during a news conference last week.  


    India's Parliamentary Affairs Minister M. Venkaiah Naidu said the government "will go the extra mile to accommodate the opposition" on debates related to contentious bills.


    The Congress party has been denied the status of the leader of opposition in the lower house of Parliament, the Lok Sabha, having failed to win at least 10% of the 545 seats in the house, to get the position. It only won 44 seats in national elections this spring. The ruling BJP has 282 seats in the lower house.


    However, the BJP doesn't have a majority in the 250-member upper house, the Rajya Sabha, with just 43 seats and will need to rely on the Congress party with 68 seats, to push through several key bills.

    Here's a snapshot of the government's legislative agenda for the winter:

    The Constitution Amendment Bill 2011 or GST Bill - The bill seeks to amend the Constitution to allow for the introduction of a uniform, national goods and services tax. If passed, it will be the country's biggest tax reform in years.


    The implementation of GST has been opposed by some states as they are reluctant to surrender their right to impose such taxes. For instance, some have objected to the inclusion of petroleum products and liqor – the major sources of revenue – in the proposed GST – as the move would severely affect their revenues.


    The Insurance Laws (Amendment) Bill, 2008 – The bill would raise the limits on foreign investment in the sector from 26% to 49% and also formulate rules to permit foreign firms to invest in reinsurance companies, which are usually firms that insure insurance companies. The bill was initially introduced in Rajya Sabha in December 2008 and later referred for re-assessment to a special committee, which submitted its report in Dec. 2011. During the most-recent parliamentary session in August, Mr. Modi's government tried to clear the bill but failed due to lack of consensus with opposition parties.


    The Coal Regulatory Authority Bill, 2013 – The bill seeks to set up an independent regulator for the coal industry to monitor the supply and pricing of fuel in an effort to further liberalize the sector and reduce state monopoly. The Cabinet in June last year approved the draft bill to set up a coal regulatory authority.


    The Central Universities (Amendment) Bill, 2014 – The bill seeks to establish one more central university in Bihar and rename the existing one to give a boost to the quality of higher education in the state. The bill was introduced in the Lok Sabha in August.

    The Indian Institutes of Information Technology Bill, 2014 – The bill is meant to grant statutory backing to four out of India's 11 Indian Institutes of Information Technology to bring them on equal footing with central universities in awarding degrees and diplomas to their students in the academic courses conducted by these institutes. It was introduced during the last parliamentary session in August.


    The Lokpal and Lokayuktas Bill, 2011 – The bill proposes setting up an independent anti-corruption ombudsman at the national level with parallel anti-graft agencies in the states. The bill was passed by the Rajya Sabha in December last year. The bill now needs to be presented to the Lok Sabha for a final approval on amendments made in the other house.


    The Anti-Hijacking (Amendment) Bill, 2010 – The bill proposes death penalty and other strict punishment for those who unlawfully or by force seize an aircraft. The bill was introduced in Rajya Sabha in 2010. It is likely to come up for discussion during the current session.


    The Repealing and Amending Bill, 2014 – The bill seeks to remove certain archaic laws and amendment acts from the statute books as they have outlived their utility. The bill was taken up for discussion in Lok Sabha during the last parliamentary session in August. It is currently pending.


    Some of these outdated laws include — the Treasure Trove Act of 1878 which requires anyone who finds treasure worth more than ten rupees to inform the tax collector; the Post Office Act of 1898 which states that only the government has the right of "conveying by post, from one place to another" most letters and the Police Act of 1861 which lays down that all police officers are supposed to remove their caps in the presence of royalty.

    http://blogs.wsj.com/indiarealtime/2014/11/24/india-parliament-winter-session-key-bills-to-watch-out-for/



    Now,read the media coverage on the  RTI application filed by PM Modi's wife Jashodaben!


    Prime Minister Narendra Modi's estranged wife, Jashodaben, has filed an RTI application asking for an explanation of the sort of security that she gets from the government.


    After Mr Modi was elected in May, Jashodaben was given round-the-clock security; she is protected by 10 commandos, five per shift, provided by state government. (Also Read: If He Calls Me Once, I Will Go With Him, Says Narendra Modi's Wife)

    In her three-page application, Jashoda Chiman Modi, a retired school teacher who lives in Brahmanwada village of Unjha town of Mehsana district, has said, "I am the wife of the Prime Minister and as per protocol, I seek details on what other facilities other than security cover I am entitled to…I should be provided a certified copy of the order under which security is provided to Prime Minister Narendra Modi's family members, brothers, sisters and me."

    She has also stated, "I travel by public transport while my security personnel travel in official vehicles."

    Her application states, "Given that former Prime Minister Indira Gandhi was assassinated by her security guards, I am frightened by the presence of the security cover. So kindly provide me all details about the security personnel provided to me."

    In April, Mr Modi for the first time publicly declared that he is married – he had not commented before that on reports that he had an arranged marriage when he was 17. In election papers declaring him a candidate for Parliament, he wrote the name "Jashodaben" in a column regarding his marital status. He had left the column blank on previous occasions, including in the last Gujarat state election in 2012.

    The Congress party had said that Mr Modi's failure to acknowledge his marriage suggested that he does not respect women.

    Jashodaben told a newspaper in February this year that Mr Modi left her after three years, during which they spent some three months together; she said they parted amicably.

    http://www.ndtv.com/article/india/pm-modi-s-estranged-wife-files-rti-on-her-security-625254



    On the other hand,nevertheless,India has the potential to achieve 9% growth rate and become a $10 trillion economy by 2034 on the back of concerted efforts by the corporate sector and a constructive role played by the government, a PwC report said today.


    "India is on the cusp of major change... For India to take the winning leap and grow its GDP by 9% per annum to become a $10 trillion economy, a concerted effort from corporate India, supported by a vibrant entrepreneurial ecosystem and a constructive partnership with the government will play a critical role," said the PwC report, 'Future of India - The Winning Leap'.


    Up to 40% of India's $10 trillion economy of 2034 could be derived from new solutions, it said.


    The report added, however, that the Winning Leap should not be limited to a new approach of solutions but rather needs to be seen as a play-top-win mind set.


    "The world economic picture is pretty challenging in the next 12-18 months. Having said that we are talking about all the opportunities that are here in India and they are significant," PricewaterhouseCoopers (PwC) International Ltd Chairman Dennis Nally said after releasing the report.


    "I think with the right type of collaboration between government and private sector, the potential of this economy is much bigger than 5% that is currently forecasting," he added.


    The report said that each of the key areas -- education, healthcare, agriculture, retail, power, manufacturing, financial services, urbanisation and the enabling sectors such as India's digital and physical connectivity -- face challenges and their resolution will need new and scalable solutions that are resource efficient and environmentally sustainable.


    It emphasised upon the need to tap into the vast human resource capital available in the country and the Human Development Index (HDI) needs radical improvements over the next two decades.


    "A young demographic, paired with a burgeoning middle- class that is digitally enabled, is a once in a lifetime opportunity for India to develop economically and socially. India can only build shared prosperity for its 1.25 billion people by transforming the way the economy creates value," Nally said.


    Nifty above 8,500: Newton's law suggests bull market will continue in 2015

    Nifty above 8,500: Newton's law suggests bull market will continue in 2015

    The trajectory of the current bull market is still upwards. it will take a flop budget and political reverses for the BJP to change the positive sentiment



    This much is certain from Newton's first law of motion, which says that an object at rest will remain stationary and an object in motion will continue moving in the same direction and speed unless stopped or slowed by another force. Right now, the forces acting in favour of the Sensex and Nifty rising are stronger than those acting against it. Hence the trajectory remains northwards.

    The forces pushing the indices to new highs are essentially global liquidity, driven primarily by foreign institutional investors (FIIs), political stability at the centre, steady improvements in the domestic business climate, the prospect of reforms, improving data on wholesale and retail inflation, and the Reserve Bank's high credibility, both as an inflation-fighter and for its adroit moves on the management of India's forex reserves and the value of the rupee. To this we can add prospects of improved corporate earnings next year, and the possibility of a turn in the investment cycle, too.

    As against this, the factors which could play spoilsport are primarily two: a world heading back to recession (or even deflation), and the inability of the Modi government to push reform bills as the opposition is uniting to prevent the passage of crucial legislation in the Rajya Sabha.

    Let's take each one of them and assess the possibility of a reversal.

    FII money:Mint newspaper says today that FII inflows into equity and debt in 2014 will top $40 billion – the highest ever. Of this, the greater proportion (60 percent) has gone into debt. Will these flows suddenly cease or reduce? Unlikely, for the betting is that interest rates will have to start falling sooner or later. Once they do, FIIs could shift money from debt to equity, but this process will not happen all of a sudden. Also, if rates fall, that is a reason to invest in equity. With the world facing the problem of recession and weak inflation, most central banks will not stop printing money in a hurry. On balance, thus, FIIs are unlikely to suddenly start taking their money out, especially when other emerging markets look less enticing.

    Political stability, reforms and business climate: These factors are related. As long as Modi and the BJP keep accumulating political capital in various state elections, confidence in reforms and governance will keep improving. It is obvious that the big shift in investor and corporate mood after mid-2013 came with the prospect of a change in government in May 2014. While no big bang reforms have been announced by the Modi government, this has been cushioned by a benign global environment which has enabled the deregulation of diesel and (possibly) LPG. Subsidies are coming down, and fiscal space is being created for government spending to resume next year so that the investment cycle can revive.

    The political choice before Modi and his finance minister is: incremental reform or big bang. If it is the former, the market will correct after the February budget before resuming its secular Newtonian uptrend. If it is the latter, the market will head for 35,000-40,000 on the Sensex by 2015-end.

    Inflation trajectory: Both wholesale and retail inflation are trending down, the former more than the latter, because of benign global commodity prices and moderated food procurement price increases, among other things. In a global scenario where China has cut rates unexpectedly due fear of falling growth, and where both Europe and Japan are planning a flood of liquidity to shore up growth and avoid deflation, clearly the macro problem outside India is not inflation, but deflation. This means commodity prices may stay benign – and this is better for India than soaring oil prices since we are huge net importers of commodities. It is unlikely that India will suddenly catch high inflation when the global trend is downwards.

    The RBI's stellar act: The central bank under Raghuram Rajan has been a pillar of strength for the Indian economy because he has not been stampeded into cutting rates prematurely. Nor has he allowed the rupee to appreciate wantonly. Given the volume of FII flows, the rupee should have appreciated to 57-59 to the US dollar, but it is at around 61.75 (as in mid-morning trades 24 November). Rajan's RBI has prevented a rupee spike by buying dollars– and the forex reserves (over $315 billion as of 14 November) reflect this. Rajan's policy is driven by two objectives: preventing an exchange rate shock by keeping the rupee depreciating steadily just in case the US starts raising interest rates and capital flows temporarily reverse (the rupee's normal depreciation rate is about 5-7 percent per annum). The second objective is to keep returns on debt positive with relatively high rates. This ensures that FII investments in debt remain attractive even while promising lower inflation. Rajan has ensured that there will be no sudden exit of FII money in the foreseeable future – which means up to mid-2015 at least – no matter what the US Fed does.

    The downside risks to the market can be summed up in one word: politics. If Modi is seen to be losing political traction by unexpected reverses in some state assembly elections, and/or if the opposition manages to stall major reforms in the Rajya Sabha, the markets will obvious start correcting to adjust for slower reforms. But this will be obvious only around the time of the budget in February, and by then we will know what happens in J&K, Jharkhand and, most importantly, in Delhi. Equally important, how Modi manages the Shiv Sena in Maharashtra will be crucial. If laws have to be passed by holding a joint session of parliament, the Sena's 18 MPs will be crucial.

    The balance of risks is thus still in favour of a market rising at least till February, followed by a correction, and a revival again in the second half of 2015 when rates start falling.

    An Economic Times investment roundtable featuring Nilesh Shah of Axis Capital, ace stockbroker Ramesh Damani, Prashant Jain of HDFC Mutual fund, Sankaran Naren of ICICI Prudential Mutual Fund, Shankar Sharma of First Global and Pankaj Vaish of Citibank (head of south Asia markets), buttressed this optimism today.

    Jain pointed out that "in the last three or so bull markets, the markets have never peaked below PEs (price to earnings ratio) of 25 times… this time we are still at 16-plus PEs right now." This means there is adequate headroom for the indices to rise. Naren sees an additional positive: "there is very little competition from other emerging markets" for global funds, "unlike in the 2002-07 cycle."

    But it isn't also only FII money driving stocks. Nilesh Shah told the roundtable that between SIPs (systematic investment plans) and bulk money flowing into mutual funds, over Rs 30,000 crore is available for investment (in both equity and debt). Pankaj Vaish said next year should see the indices rising 20 percent.

    Net-net, the markets continue to be in a sweet spot and it will take a lot of political failure to neutralise that. Newton's law is still in favour of a bull market in 2015.

    http://firstbiz.firstpost.com/money/nifty-above-8500-newtons-law-suggests-bull-market-will-continue-in-2015-109700.html?utm_source=firstpost-widget



    0 0

    Dear Brother and Sister,

     

    Tomorrow the Universally acclaimed and most scared document for the complete elevation  of Human values in Parliamentary Democracy – the  "CONSTITUTION OF INDIA will be entering into its glorious 65 Years and this important event it going to be celebrated through the country. Special programmes are going to be held at Kolkata, Delhi, Malda, Nagpur, Sri Nagar, Jammu, UP, Bihar and Chhattisgarh, etc etc. We are happy to inform you that the Government of Maharashtra has issued special circulars to all the schools in the state to celebrate this great occasion without fail.. You all are request to extensively use the social media to ensure that this great occasion is celebrated, talked about and discussed at various forums. Attach please find a big hording by National Social Movement of India which will be displayed at "SAVIDHAN CHOWK", Nagpur

     

     

     

    Abstract of theCircular from Government of Maharastra--

    २६ नोव्हेंबरच्या 'संविधान दिना'चे

     

    राज्यघटनेविषयी शाळांमध्ये जागृती

     

    भारतीय राज्यघटनेतील मौलिक तत्त्वे आणि नागरिकांचे हक्क आणि कर्तव्ये याबबत विद्यार्थ्यांना जागृत करण्याची नितांत गरज असल्याचे सांगतबुधवारी२६ नोव्हेंबर रोजी 'भारतीय संविधान दिना'चे औचित्य साधत राज्यातील प्रत्येक शाळेत राज्यघटना दिवस साजरा केला जाणार आहे.

     

    राज्यघटनेतील मौलिक तत्त्वेघटनात्मक हक्क आणि कर्तव्ये स्वतंत्र भारताच्या नागरिकांना संस्कारीत करणारी आहेत. ही तत्त्वे शालेय विद्यार्थ्यांच्याही मनावर बिंबवणे आणि त्यांना देशाचे जागरूक नागरिक बनविणे आवश्यक असल्याने शालेय शिक्षण विभागाने अध्यादेश काढून २६ नोव्हेंबर रोजी शाळांमध्ये राज्यघटनेशी संबंधित विविध कार्यक्रम राबवण्याच्या सूचना केल्या आहेत.

     

    घटनेतील तत्त्वांचा प्रसार व प्रचार करण्यासोबतच शाळांमध्ये बुधवारी घटनेच्या प्रस्ताविकेचे वाचन करण्यात येणार आहे. त्याचप्रमाणे घटनेवर आधारित प्रश्नमंजुषाचित्रकलास्लोगनपोस्टर्ससमूहगान आदी स्पर्धांचे कार्यक्रम आयोजित केले जाणार असूनघटनेतील अधिकारकर्तव्य आदी विषयांवर तज्ज्ञांची व्याख्याने व विविध सांस्कृतिक कार्यक्रमांचे आयोजन करण्याची सूचनाही शाळांना देण्यात आल्याचे प्राथमिक शिक्षण विभागाचे संचालक महावीर माने यांनी सांगितले.

     

    ...तर कारवाई होणार

     

    वास्तविक सर्व शाळांमधून परिपाठ अथवा प्रार्थनेच्या वेळी घटनेच्या प्रास्ताविकेचे वाचन दररोज केले जावे असे आदेश मागील आघाडी सरकारने परिपत्रकाद्वारे दिले होते. मात्रत्याची अद्यापही प्रभावी अंमलबजावणी केली जात नसल्याचे दिसून येत आहे. अनुदानितविनाअनुदानित अशा सर्व शाळांकडून हे आदेश डावलले जात असूनयापुढेही ते न मानणाऱ्या शाळांवर कारवाई केली जाणार आहे.

     

     


    0 0

    কর্পোরেটরা কেন উগ্র হিন্দুত্ববাদী মোদীকে সমর্থন করে?

    প্রকাশক: আমাদের বুধবার, তারিখ: নভেম্বর ২৫, ২০১৪

    সাক্ষাতকারে অরুন্ধতী রায়

    অনুবাদমোহাম্মদ হাসান শরীফ

    last 4ভারত সম্পর্কে বিশেষ করে এই দেশটির যাবতীয় জটিলতা নিয়ে সত্যিকারের পর্যালোচনামূলক আলোচনা বিরল। সাধারণভাবে যা দেখা যায়তার বেশির ভাগজুড়ে থাকে 'ইন্ডিয়া শাইনিং'বিপণন প্রচারকাজ কিংবা বলিউডি নর্তন-কুর্তন। আর ভারতের সরকারগুলো মূলত বাণিজ্য ও বিনিয়োগের দিকেই নজর দিয়ে থাকে। বুকার পুরস্কারজয়ী ভারতীয় লেখক অরুন্ধতী রায় এমন একজন যিনি এসব বাগাড়ম্বরতা ছুঁড়ে ফেলে বহুল কথিত 'বিশ্বের বৃহত্তম গণতান্ত্রিক দেশটির' আসল চেহারা বিশ্ববাসীর সামনে তুলে ধরতে অকুতভয়।

    অরুন্ধতী রায় প্রথমে আন্তর্জাতিক খ্যাতি পেয়েছিলেন তার 'দ্য গড অব স্মল থিংকস'-এর মাধ্যমে। তবে কলম হাতে তিনি অর্থনৈতিক উন্নতি ও সুশাসনের ভারতীয় মডেলের স্বরূপ উন্মোচন করার ব্যাপারেও ব্যাপক সফলতা দেখিয়েছেন। 'হেমার্কেট বুকস' সম্প্রতি তার অন্তর্ভেদী,রাজনৈতিকভাবে উত্তপ্ত নন-ফিকশন প্রবন্ধগুলো নিয়ে 'ক্যাপিটালিজম এ্য ঘোস্ট স্টোরি' প্রকাশ করেছে। ভ্যানকুভারে তিনিTheTyee.caঅনলাইনের ডেরিক ও'কিফি ও জাহানজেব হোসাইনের সাথে ওই বই এবং প্রাসঙ্গিক অনেক কিছু নিয়ে মতবিনিময় করেছেন।

    প্রশ্নশুরু করা যাক আপনার সাম্প্রতিকতম বইটির শিরোনাম নিয়ে। বর্তমানে বৈশ্বিক পুঁজিবাদের কাহিনীতে 'ভূত' আসলে কী বা কারা?

    অরুন্ধতীভূতের বিষয়টি আমার মাথায় আসে আমি যখন মুম্বাইয়ে ভারতের সবচেয়ে ধনী রিলায়েন্স ইন্ড্রাস্ট্রিজ পরিচালনাকারী মুকেশ আম্বানির ২৭ তলা ভবনটির গেটের বাইরে দাঁড়াই তখন। ভারতে এ যাবৎকালের সবচেয়ে ব্যয়বহুল বাসভবনটিতে পার্কিংয়ের জন্য আছে ছয়টি তলা৯০০ চাকরঅন্যান্য কিছুও এমন ধরনেরই।। তবে ভবনটি বানানোর পর তারা কিন্তু এখানে ওঠেননিকারণ তারা তখন বিশ্বাস করতে শুরু করেছেন যেতাতে ভূতের আছর রয়েছে।

    'তারা আসলে মোটামুটিভাবে আমার চোখ খুলে দিয়েছে যে ভারতে আসলে কী হচ্ছে। আমি সেখানে দাঁড়িয়ে ভবনটিতে দেখলাম যে এক দিকে ২৭ তলা উঁচু একটা খাড়া লন রয়েছেআর লনের কিছু অংশ নিম্নগামী হয়েছে। আর আমি বললামচুইয়ে পড়া তত্ত্ব কাজ করছে নাবরং দ্রুত ওপরে ওঠা চলছেই।

    'ভারতে ১০০ ব্যক্তি ২৫ শতাংশ জিডিপির সমান সম্পদের মালিক। ভারতে পুঁজিবাদ সম্পর্কিত পুরো বিতর্ক এটা নিয়ে। এখানে যা ঘটছে,অতীতে ঠিক তা-ই ইউরোপ ও আমেরিকায় ঘটেছিল। দেশটি প্রান্তিক পর্যায়ে উপনীত হচ্ছে এবং নিজেকে অর্থনৈতিক পরাশক্তি হওয়ার দাবি করতে চাইছে।… এই দেশটির একটি এলিট শ্রেণি আছে যারা বাইরের পরিমন্ডলে ছিটকে গেছে। সেখান থেকে তারা গ্রামবাসী আর আদিবাসী জনগণের বাস করা ভূমির দিকেবক্সাইডের দিকেলোহার খনির দিকে,পানির দিকেবনের দিকে নজর দিচ্ছে। তারা কেবল বলছে'তাদের পাহাড়গুলোতে আমাদের বক্সাইড সেখানে পড়ে আছে কেনতাদের নদীতে আমাদের পানি কেন?'এটা হলো শোষণের অর্থনীতি। আর সেখানেই এই যুদ্ধের সূচনা হচ্ছেএটা সেটা নিয়েই

    'ভারত এমন একটি দেশ যেখানে ১৯৪৭ সাল থেকে এমন একটি বছরও নেই যখন ভারতীয় সেনাবাহিনী 'তার নিজের জনগণের' বিরুদ্ধে মোতায়েন হয়নি। যুদ্ধ হয়েছে মনিপুরনাগাল্যান্ডকাশ্মিরজুনাগড়,পাঞ্জাবহায়দরাবাদে। এখন সুবিধা লাভের জন্য যুদ্ধ সরে এসেছে কেন্দ্রভূমিতে। আর তাই তারা গরিবদের বিরুদ্ধে সেনাবাহিনীকে ব্যবহার করছে। ওই সব এলাকার হাজার হাজার মানুষ এখন কারাগারে আছে,তাদের বিরুদ্ধে রাষ্ট্রদ্রোহ এবং সরকারের অবকাঠামো নির্মাণের বিরোধিতা করার অভিযোগ আনা হয়েছে। অন্যদিকে তারা মধ্যবিত্ত শ্রেণির বিরুদ্ধে কিভাবে লড়ছেতারা কিভাবে অন্য চিন্তাশীলদের বিরুদ্ধে লড়ছেসর্বপ্রথমে তারা বিশ্ববিদ্যালয়ের মাধ্যমে মগজ ধোলাই করছে। তারপর যা করা হচ্ছে তা হলোএসব খনি কোম্পানি এখন চলচ্চিত্র উৎসব এবং সাহিত্য উৎসবের আয়োজন করছে। এসবের মাধ্যমে ধীরে ধীরে লোকজনের চিন্তাচেতনা বদলে দিয়ে তাদেরকে এসব প্রকল্প গেলানো হচ্ছে।'

    প্রশ্নতাহলে এটা একই সঙ্গে সাংস্কৃতিক প্রকল্পও?

    অরুন্ধতীএটা সাংস্কৃতিক ও বুদ্ধিবৃত্তিক প্রকল্পসেইসঙ্গে সাম্প্রদায়িক প্রকল্পও। মূলতযা হচ্ছে তা হলো১৯৮০ ও ১৯৯০-এর দশকে আফগানিস্তানের পর্বতমালায় সোভিয়েত সমাজতন্ত্র যখন যুদ্ধে পরাজিত হলোসোভিয়েত ইউনিয়নের মিত্র ভারত তখন যুক্তরাষ্ট্রইসরাইল প্রভৃতি দেশের সাথে গাটছড়া বাঁধে। পরিণতিতে নিয়ন্ত্রিত অর্থনীতির ভারত তার বাজার আন্তর্জাতিক অর্থব্যবস্থার কাছে খুলে দেয়। আর দেশটি যখন বাজার উন্মুক্ত করে দিচ্ছিলঠিক তখনই সে ১৪ শতকের বাবরি মসজিদের তালাও খুলে দেয়। সেটা বিতর্কিত বলা হলোকারণ হিন্দুরা বলছিল যেপ্রভু রাম সেখানে জন্মেছিলেন।

    এই দুই তালা খুলে দেওয়ায় দুই ধরনের সঙ্ঘাতের সৃষ্টি হয়। একটি সঙ্ঘাতের সূচনা হয় অর্থনৈতিক সামগ্রিকতাবাদমুক্ত বাজার ইত্যাদি থেকে এবং অপরটি ছিল হিন্দু মৌলবাদের উত্থান। আর উভয় সঙ্ঘাতই ইসলামি সন্ত্রাসী ও মাওবাদী সন্ত্রাসী নামে দুই ধরনের সন্ত্রাসী প্রস্তুততৈরি ও সৃষ্টি করে। ক্ষমতায় কংগ্রেস কিংবা আরো বেশি ডানপন্থী বিজেপি ক্ষমতায় থাকুক না কেনতারা উভয়েই এই দুই ধরনের সন্ত্রাসবাদকে প্রশ্রয় দিয়েছেতবে এটাকে ব্যবহার করে তারা বেশি বেশি সামরিকায়ণ ঘটিয়েছে।

    প্রশ্নযুক্তরাষ্ট্রের মতো কানাডা সরকারও ক্রমবর্ধমান হারে ভারতের সঙ্গে ঘনিষ্ঠ হচ্ছে। কানাডার প্রধানমন্ত্রীর মতো পাশ্চাত্যের নেতারা ইসলামী উগ্রবাদের বিপদ নিয়ে হুঁশিয়ারি উচ্চারণ করলেও তারা কেন কখনোই বিশেষ করে ভারতের মতো পার্লামেন্টারি গণতান্ত্রিক দেশে হিন্দু অতি ডানপন্থী রাজনীতি নিয়ে হুঁশিয়ারি উচ্চারণ করছেন না?

    অরুন্ধতীকারোর হিন্দু ফ্যাসিবাদ নিয়ে কথা না বলার কারণ হলোহিন্দু ফ্যাসিবাদের উত্থান ঘটেছে ভারতীয় উন্মুক্ত বাজারের উত্থানের সাথে তাল মিলিয়ে। আপনার যখন ১০০ কোটি লোকের সম্ভাবনাময় বাজার থাকবেতখন আপনি কোনো কিছু নিয়েই সমালোচনা মুখর বা উদ্বিগ্ন হবেন না। বস্তুতআমরা এমন এক দেশে বাস করছিসেখানে ১৯৮৪ সালে রাস্তায় রাস্তায় তিন হাজার শিখকে হত্যা করা হয়েছিলগুজরাটে হাজার হাজার মুসলমানকে হত্যা করা হয়েছিলগণধর্ষণ করা হয়েছিল কিংবা জীবন্ত পুড়িয়ে মারা হয়েছিল… এই নৃশংসতা গুরুত্ব পায় না।"

    প্রশ্নগুজরাট গণহত্যার ব্যাপারে আসা যাকনরেন্দ্র মোদি(তখন তিনি ছিলেন গুজরাটের মুখ্যমন্ত্রীমুসলমানদের বিরুদ্ধে দলিতদের ক্ষেপাতে পেরেছিলেন। তিনি সেটা কিভাবে করতে পারলেন এবং ভারতের অভ্যন্তরে বিভিন্ন প্রান্তিক জনগোষ্ঠীর মধ্যে সম্পর্কের কোন বার্তা দিচ্ছে এটা?

    অরুন্ধতীশুনুনমুসলিম হত্যায় বিপুলসংখ্যক দলিত জড়িত এমনটা বলা আসলে অতি ব্যবহৃত কথার কথা। ভারতবর্ষ বিভক্তির সময়ও এমনটা ঘটেছিল। তবে ওই সময়ের অনেক সমীক্ষায় দেখা গেছেযেসব স্থানে মুসলিম ও দলিতরা একসাথে বসবাস করেছিলসেখানে তাদের মধ্যে গোলযোগ হয়নি। দলিতদের কাঁধগুলো বন্দুক রাখার বিকল্প ব্যবস্থা হিসেবে ব্যবহৃত হতে পারে… যখন গ্রেফতার করতে হয়তখন তাদের বেশির ভাগ হয় দলিত।

    হিন্দুৎভা বা হিন্দুত্ববাদী শক্তির দলিতদের সঙ্ঘবদ্ধ করার একটা দীর্ঘ ইতিহাস রয়েছে ঠিক যেমন ভারতবর্ষ বিভক্তির আগে বিভিন্ন স্থানে ঘটেছিল। হিন্দুৎভার তাদের আকৃষ্ট করার ক্ষেত্র এটি। তাদের এটা বলা যেতোমরা তো হিন্দুতাই তোমরা কেন আমাদের হয়ে কিছু হত্যাকান্ড ঘটাও না। তবে এটা জটিল বিষয়। কারণ তারা সবসময় সফল হয় না। দলিতদের জন্যও এটা কঠিন ব্যাপার। কারণ শেষ পর্যন্ত তারাই কোপানলে পড়ে। মোদি যখন তার গেরুয়া জোব্বা খুলে ফেলার সিদ্ধান্ত নিয়ে তার চকচকে বেনিয়া স্যুট পরিধান করে মুসলমানদের জড়িয়ে ধরে বলেন যে,তিনি ঘটনার সাথে জড়িতদের বিরুদ্ধে ব্যবস্থা নেবেন। তখন কিন্তু তিনি ব্যবস্থা নেন দলিতদের বিরুদ্ধে।

    প্রশ্নগুজরাট গণহত্যায় মোদির বিরুদ্ধে সুস্পষ্ট প্রমাণ থাকলেও ভারতীয় আদালত তার ব্যাপারে কিছুই করতে পারছে না কেন?

    অরুন্ধতীকারণ তারা তা চায় না। মোদি অনেক বেশি বড় হওয়ায় মোদির মতো লোকদের বিরুদ্ধে আইনি পদক্ষেপে সফল হওয়া সম্ভব নয়,যদি না ওই সময়ে ফিরে যাওয়া যায়।… ভারতকে গণতান্ত্রিক দেশ হিসেবে অভিহিত করা হলেও নির্বাচন ঘনিয়ে আসার সময় সেটা হয়ে যায় হত্যার মওসুম। এটা ঘটে তখন যখন লোকজন তাদের নিজস্ব ক্ষেত্র তৈরি করতে চায় এবং 'আমাদের বনাম তাদের' ধারণা জোরদার করার লক্ষ্যে খুন-খারাবিতে মত্ত হয়। এমনটাই ঘটেছিল ২০০২ সালে। ওই সময় গুজরাট নির্বাচনের আগে মোদি সত্যিই মিউনিসিপ্যাল নির্বাচনে জনপ্রিয়তা হারাচ্ছিলেন। কিন্তু ওই গণহত্যার পর তিনি বিপুলভাবে ঘুরে দাঁড়ালেন। একই বিষয় ঘটেছে উত্তর প্রদেশমোজাফফরনগরেও। আর যে দুই রাজনীতিবিদ মুসলমানদের ওপর গণহত্যা চালিয়েছিল (হাজার হাজার লোককে তাদের গ্রাম থেকে তাড়িয়ে দেয়া হলোতাদের জমি হিন্দুরা দখল করে নিলবিতাড়িত মুসলমানরা এখন গেটোর ও কনসেন্ট্রশন ক্যাম্পে বাস করছেতাদের বেঁচে থাকার কোনো অবলম্বন নেইতাদেরকে বিজেপির টিকেট দেওয়া হলো। অর্থাৎ পুরোটাই নির্বাচন-সংশ্লিষ্ট ব্যাপার।'

    প্রশ্নআপনি খুবই সফল একটি উপন্যাস লিখেছিলেনআর বর্তমানে আরেকটি লেখায় ব্যস্ত রয়েছেন। কাশ্মিরনক্সাল বিদ্রোহ ইত্যাদি বিষয় নিয়ে দৃঢ় রাজনৈতিক অবস্থান গ্রহণ করার চেয়ে আরেকটি উপন্যাস রচনা করা অবশ্যই আপনার ওপর অনেক বেশি চাপ সৃষ্টি হচ্ছে। বাণিজ্যিক সফলতা সত্ত্বেও আপনি কেন এমন সিদ্ধান্ত নিলেনআপনি কিভাবে বুঝলেন যে এ ধরনের লেখা দরকার?

    অরুন্ধতীআমি সফল হতে বা ধনী হওয়ার জন্য কখনো কোনো উপন্যাস লিখিনি। আমি স্রেফ লেখার জন্য লিখেছি। একটা সফলতা পাওয়ার পর আরেকটা সফলতার দিকে ছুটে চলার ইচ্ছাও আমার কখনো ছিল না। বিষয়টা এমন নয় যে আমি 'দ্য গড অব স্মল থিঙ্কস' লেখার আগে কখনো রাজনৈতিক বিষয়ে কলম ধরিনি। তবে আপনারা জানেনভারতে হঠাৎ করেই আবহাওয়া বদলে গেছে। বিজেপি হঠাৎ করেই এই নোংরাবাজে ভাষার জাতীয়তাবাদ নিয়ে ক্ষমতায় এসেছে। সব কিছুই হঠাৎ করে বদলে গেলআমি কিছুতেই শচিন টেন্ডুলকার ও 'মিস ওয়ার্ল্ডের' মতো নিজেকে'ব্র্যান্ড ইন্ডিয়া'র মতো কিছুর সাথে ব্র্যান্ডিং করতে পারছিলাম না। ফলে আমাকে গোলকধাঁধা থেকে বেরিয়ে আসতেই হলো এবং বললাম,'ধন্যবাদতবে আমি আগ্রহী নই।… আমি এই প্রকল্পে নেই।' তারপর লেখালেখিই আমাকে এক স্থান থেকে আরেক স্থানে নিয়ে যাওয়া শুরু করে। আমার প্রবন্ধগুলো স্রেফ পরিকল্পনাহীনব্যক্তিগত ইচ্ছা-অনিচ্ছায় নয়এগুলো বিশ্ব দৃষ্টিভঙ্গি সম্পর্কিত। এগুলো আরেক দৃষ্টিতে বিশ্ব দেখার বিষয়।'

    প্রশ্নআপনার সম্পর্কে একটি বিখ্যাত উক্তি হলো 'অন্য পৃথিবী কেবল সম্ভবই নয়তিনি আছেন তার পথে। কোনো নির্ঝঞ্ঝাট দিনে আমি তার শ্বাসপ্রশ্বাস শুনতে পাই।' স্টিফেন লুইস এমনকি তার এই প্রশংসা জ্যাক লেটনের প্রতি প্রয়োগ করেছেন। এই ২০১৪ সালে আপনি কোথা থেকে আশাবাদ দেখতে পাচ্ছেনযখন আরব বসন্ত মিশরে রক্তের বন্যা বইয়ে দিচ্ছেভারতে হিন্দু ডানপন্থীর উত্থান ঘটছেপাকিস্তানে তালেবানের দাঙ্গা সৃষ্টি হয়েছে এবং যুদ্ধদখলদারিত্ব,মধ্যপ্রাচ্যজুড়ে আল-কায়েদার পুনরুত্থান ঘটেছে?

    অরুন্ধতীআমার 'ফিল্ড নোটস অন ডেমোক্র্যাসি' গ্রন্থটি ওইসব লোককে উৎসর্গ করা হয়েছেযারা বিচারশক্তি থেকে প্রত্যাশাকে আলাদা করেছে।যা কিছু ঘটছেতা লোকজন পুরোপুরি উপলব্ধি করতে পারে। সমস্যা হলো এ নিয়ে কী করতে হবে। তবে আমি মনে করিবিশ্বকে দেখার স্বচ্ছতা এবং আমেরিকান নীতিআল-কায়েদাভূ-রাজনীতি ও বিশ্বায়ন দেখতে পারাটা দারুণ বিষয়সম্মিলিত অর্জন। ১২ বছর আগের একটা ঘটনা আমার মনে আছেআমি ওই সময় ভারতে বেসরকারিকরণ নিয়ে লিখছিলামতখন আমি উন্মাদ হয়ে গেছিবলে লোকজন আমাকে মনোরোগ বিশেষজ্ঞের কাছে নিয়ে যেতে বলেছিল।

    বাস্তবতা হলোআমার মনে হয় সাধারণ মানুষের মধ্যেই রয়েছে বিজ্ঞতা। অবশ্য উদাহরণ হিসেবে বলা যায়ভারতের মতো স্থানে আপনি যদি অন্য দৃষ্টিতে দেখেন (পত্র-পত্রিকায় বিষয়টা পড়া বেশ হতাশাজনক), দেখবেন বিশ্বের সবচেয়ে গরিব মানুষেরা সবচেয়ে ধনী করপোরেশনগুলোর যাত্রা রুখে দিতে সক্ষম হয়েছে। করপোরেশনগুলো এখন কেন নরেন্দ্র মোদিকে সমর্থন করছেতাকে সমর্থন করার কারণ হলোতারা তার মধ্যে এমন লোককে দেখতে পাচ্ছে যিনি রক্তপাত (যা তিনি গুজরাটে করেছিলেন)দেখে হতবিহ্বল হন নানৈতিক বিষয়টা যা-ই হোক না কেন,করপোরেশনগুলো তার মধ্যে এমন মানুষ পেয়েছেযিনি ছত্তিশগড়ে সেনাবাহিনী পাঠাতে পারেনতিনি তাদের ভাষায় প্রকাশ্য সমর্থক,অ্যাক্টিভিস্টসাংবাদিকদের মোকাবিলা করতে যাচ্ছেনতাদেরকে চুপ করাতে যাচ্ছেনএবং খনি করপোরেশনগুলোর জন্য বন-জঙ্গল উন্মুক্ত করে দিচ্ছেন। তাদের তাকে গ্রহণ করার কারণ হলো প্রতিরোধের কারণে ২০০৪ সাল থেকে সাক্ষরিত সমঝোতা স্মারকগুলোর কোনোটিই তারা বাস্তবায়িত করতে সক্ষম হয়নি।

    জনগণ বুঝতে পারেতারা জানতে পারে কী ঘটতে যাচ্ছেএনজিওগুলো আসলে কী জন্যকরপোরেশন আসলে কীসাহিত্য আর চলচ্চিত্র উৎসবগুলো কী করছেবুদ্ধিজীবীরা কী করছে। ফলে কোনো না কোনোভাবে ছবিটা বেশ পরিষ্কার। তবে এই বোধগম্যতার পাশাপাশি বেড়েছে নজরদারিসামরিকায়নকারাগারগুলোতে কয়েদির সংখ্যা বাড়ছেহেফাজতে মৃত্যু বৃদ্ধি পাচ্ছে। আপনারা যদি আমাকে প্রশ্ন করেন,আমি যৌক্তিকভাবেই বলতে পারব না আশাবাদের বাসা কোথায়তবে আমি মনে করি সেটা রয়েছে প্রত্যেকের ডিএনএ-তে।।

    http://www.amaderbudhbar.com/?p=5328


    0 0


    ---------- Forwarded message ----------
    From: Countercurrents<editor@countercurrents.org>
    Date: Tue, Nov 25, 2014 at 10:25 PM
    Subject: CC News Letter 25 Nov - Ferguson, An International Dateline
    To: palashbiswaskl@gmail.com



    Dear Friend,

     If you think the content of this news letter is critical for the dignified living and survival of humanity and other species on earth, please forward it to your friends and spread the word. It's time for humanity to come together as one family! You can subscribe to our news letter here http://www.countercurrents.org/subscribe.htm. You can also follow us on twitter, http://twitter.com/countercurrents and on Facebook, http://www.facebook.com/countercurrents

     In Solidarity
     Binu Mathew
     Editor
     www.countercurrents.org


     Fires Burn As Community Feels Pain Of Injustice: Dispatches From Ferguson
     ByJon Queally

    http://www.countercurrents.org/queally251114.htm

    Following Monday night's announcement by St. Louis County Prosecutor Robert McCulloch that a grand jury would not indict police officer Darren Wilson for the shooting death of unarmed teenager Michael Brown, the city of Ferguson, Missouri erupted in unrest fueled by an outpouring of emotion by those both outraged and saddened by the decision


    Case Ferguson : US Flares Up In Protest
     By Countercurrents.org

    http://www.countercurrents.org/cc251114.htm

    From coast to coast, protests and demonstrations flared up protesting the grand jury's decision not to indict the police officer Darren Wilson, who killed Mike Brown, an unarmed 18-year black boy in Ferguson , Missouri , USA . Thousands of people rallied late Monday in US cities. Most of the protests were peaceful, but passionate. Dozens of arrests have been made. In areas in the country, chaos filled streets. Gunshots were heard on the Ferguson streets and fires raged


    Ferguson, An International Dateline, A Yearning For Life, A Call To Resist Injustice
     By Farooque Chowdhury

    http://www.countercurrents.org/chowdhury251114.htm

    Ferguson is now an international dateline. The name now symbolizes sectarian divide; the name now demystifies democracy in a bourgeois democracy; the name now shows stunned justice; the name now produces protests; and the name now expresses yearning for life and love


    License To Kill
     By Srestha Banerjee

    http://www.countercurrents.org/banerjee251114.htm

    Our immediate social existence today tries to reflect that we are part of a more equitable society- where questions of racial, class and caste hierarchy has little relevance. Our treatment of Michaels and Korbans are not a reflection of any bias or discrimination, but a rational act that we are entitled to exercise in the name of civil conduct. And such rationality lets us to choose our moments of protest, moments of silence and procure licenses to kill


    Planet Already On 'Unavoidable Course To Warming': World Bank Report
     By Andrea Germanos

    http://www.countercurrents.org/germanos251114.htm

    "Even very ambitious mitigation" can't change the fact that the world has already "locked in" mid-century warming of 1.5°C above pre-industrial times, a new report from the World Bank Group finds


    Climate Mitigation Alternatives - Sorting Them Out
     By Bill Henderson

    http://www.countercurrents.org/henderson251114.htm

    Action on climate - what type of action now? Our political leaders won't lead so those who do recognize the dangers and who are serious about climate mitigation must step up to the plate


    Iraq War 4.0?
     By Tom Engelhardt

    http://www.countercurrents.org/engelhardt251114.htm

    Given the history of this last period, even if the Islamic State were to collapse tomorrow under American pressure, there would likely be worse to come. It might not look like that movement or anything else we've experienced thus far, but it will predictably shock American officials yet again. Whatever it may be, rest assured that there's a solution for it brewing in Washington and you already know what it is. Call it Iraq War 4.0


    Police Baton-Charged Villagers For Opposing Aditya Birla Bauxite Mining Project In Orissa
     By Deba Ranjan

    http://www.countercurrents.org/ranjan251114.htm

    On 25th August 2014 large number of armed police with magisterial power reached at the top of the Baphlihill, where Utkal Alumina - Aditya Birla is continuously transporting bauxite through trucks to its Doraguda Alumina Plant. They started beating the villagers of Paikakupakhal. Many got the injured and three dalit villagers namely Mangaldan Nayak (30years), Kalendra Nayak (30) and Ms Kiyabati Nayak got severly injured


    Menace On The Menu: Development And the Globalization of Servitude
     By Colin Todhunter

    http://www.countercurrents.org/todhunter251114.htm

    Powerful corporations are shaping 'development' agenda in India and have signed secretive Memorandums of Understanding with the government. The full military backing of the state is on hand to forcibly evict peoples from their land in order to hand over land to mineral hungry extractive and processing industries to fuel a wholly unsustainable model of development. Around the world, this oil-dependent, urban-centric, high energy, high consumption model is stripping the environment bare and negatively impacting the climate and ecology


    Crony Capitalism And Failed Sports Morality: A Case Of BCCI
     By Dr. Vivek Kumar Srivastava

    http://www.countercurrents.org/srivastava251114.htm

    The recent speaking of Supreme Court has exposed the real status of cricket management in the country. The game of cricket has been captured and manipulated by the elites. The competition for the top post is due to the prestige and affluence associated with the game. In fact there is clear exposition of crony capitalism which has a special meaning in this management where one group always attempts to benefit the member of his group whether the person holds the capabilities or not. In previous time many got the top positions just because of this factor


    When Beauty Is Only Skin Deep: Intensifying Social Inequalities
     Through Rangbedh or Colour Discrimination
     By Shalu Nigam

    http://www.countercurrents.org/nigam251114.htm

    Inequalities and discrimination based on skin colour or rangbedh is not a new phenomenon rather it is deeply ingrained in mindset across India and throughout the world. Historically, skin colour has been used as a parameter to accord treatment to the individuals either intentionally or inadvertently. And even today, those with fair skin are considered as superior and those with the darker hues are placed at the lower rung of the social hierarchy. This essay examines the colour based prejudices from gender lens, the manner in which this is promoted explicitly and implicitly by the media and the repressive social norms in the neo liberal economy and the impact it makes on daily lives of women in a modern world


    In Praise of Russell Brand's Sharing Revolution
     By Adam Parsons

    http://www.countercurrents.org/parsons251114.htm

    For all of Brand's joking and braggadocio, a sagacious theme runs through his new book: that a peaceful revolution must bring about a fairer sharing of the world's resources, which depends upon a revelation about our true spiritual nature


    Reaching The Unreached: ENGAGE TB Initiative
     By Shobha Shukla

    http://www.countercurrents.org/shukla251114.htm

    Despite great strides made in TB care and control over the last few years, the latest data shows that 1/3 of all TB cases are still either not detected or not reported to public health systems


    Kashmir: Reviving The Social Fabric
     By M.Ashraf

    http://www.countercurrents.org/ashraf251114.htm

    A positive outcome of the recent flood may be the revival of the social fabric in Kashmir


    Sri Lanka: Mr. President, We Have Your Files Too
     By Nilantha Ilangamuwa

    http://www.countercurrents.org/ilangamuwa251114.htm

    Do the files on President Rajapaksa and his clan differ in content from the files that he is keeping on others? For one thing the amounts plundered will be unimaginably higher. By announcing the existence of these files on his present and former colleagues President Rajapaksa has truly opened a can of worms. He is not the only person keeping files on others. The public has files on all those who plundered the nation. The public will decide which kick is suitable to whom. This is only a matter of time


    ViBGYOR Film Festival-2015: Film Submission Deadline Extended To December 10th
     By Countercurrents

    http://www.countercurrents.org/cc251114A.htm

    The last date for film submission for ViBGYOR Film Festival, the largest alternative film festival in South Asia is extended to December 10th, 2014


     You can unsubscribe from this news letter here
    http://www.countercurrents.org/subscribe.htm

    ................................................................
    This email should only be sent to those who have asked to receive it.
    To unsubscribe, return to the web form where you first subscribed and click the "unsubscribe" button, or contact the owner of the website.


    0 0


    ---------- Forwarded message ----------
    From: Hastakshep समाचार पोर्टल<news.hastakshep@gmail.com>
    Date: 2014-11-26 0:15 GMT+05:30
    Subject: (हस्तक्षेप.कॉम) मोदी की मुख़ालिफत में क्यों लिखता हूँ
    To: hastakshep@googlegroups.com


    Current Feed Content

    • दिल्ली में कुत्तों का सम्मेलन

      Posted:Tue, 25 Nov 2014 17:47:41 +0000
      भारतीय वांग्मय में कुत्तों की महिमा का बखान भरा पड़ा है। कुत्तों पर कहावतों, मुहावरों और नीतिकथाओं की तो भरमार है ही, गालियाँ और वक्त्रोक्तियाँ भी कम नहीं हैं। प्राचीन काल से आज तक, भारतीय सहित्य और...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • मोदी की मुख़ालिफत में क्यों लिखता हूँ

      Posted:Tue, 25 Nov 2014 17:26:57 +0000
      मोदी पर मेरे निरंतर लेखन से मोदी भक्त कष्ट में हैं। कुछ गैर मित्र भी परेशान हैं कि मैं मोदी पर इतना क्यों लिख रहा हूँ। लोकतंत्र का तकाज़ा है कि नेताओं का और खासकर नीति निर्माता नेताओं की गतिविधियों...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • INDIAN CONSTITUTION DAY CELEBRATION AT NAGPUR

      Posted:Tue, 25 Nov 2014 15:50:32 +0000
      Dear Brother and Sister, Tomorrow the Universally acclaimed and most scared document for the complete elevation of Human values in Parliamentary Democracy – the "CONSTITUTION OF INDIA will be...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • 'लुग्दी लेखक'चेतन भगत !

      Posted:Tue, 25 Nov 2014 15:04:50 +0000
      चेतन भगत के बाजारू उपन्यास की बाजारू सफलता पर जो हिन्दी वाले अपनी हीन-ग्रंथि के चलते लहालोट हैं उन्हें यह जानना चाहिए कि इस 'लुग्दी लेखक'के बारे में स्वयं अंग्रेजी की मुख्यधारा के लेखक...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • Bengal denies permission for procession, but BJP Govt. in Maharashtra notifies to celebrate Constitution Day

      Posted:Tue, 25 Nov 2014 14:07:38 +0000
      Congrats!  Congrats! The people of Maharashtra who have the right to celebrate Indian constitution day on 26 Th November as the BJP government there has notified, aided, non-aided, govt, private -all...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • 'সংঘ'এর দেশপ্রেমের নমুনা:

      Posted:Tue, 25 Nov 2014 10:38:34 +0000
       সংঘ পরিবার আজ নিজেদেরকে দেশপ্রেমের ঝান্ডাধারী হিসেবে হিসেবে হাজির করে, ভারতমাতার নামে স্লোগান দিয়ে দেশের যুবসমাজ আর খেটে-খাওয়া মানুষের কাছে দেশের জন্য বলিদান দেওয়ার কথা প্রচার করে। আর.এস.এস এর...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • Govt validating an invalid process by auctioning coal-blocks declared illegal by SC

      Posted:Tue, 25 Nov 2014 09:51:23 +0000
      New Delhi. "The present govt is trying to validate an invalid process by auctioning the coal-blocks declared illegal by the SC. This is nothing else but opening a back-door entry to the looters...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • मोमबत्ती और बल्ब की एक अजब कहानी

      Posted:Tue, 25 Nov 2014 08:18:04 +0000
      मोमबत्ती और बल्ब की भी एक अजब कहानी है, बड़ा अजीब सा रिश्ता है,  इतिहास भरा पड़ा है इनके आपसी रिश्ते की कहानियों से।  जी हाँ मोमबत्ती और बल्ब का इतिहास। जब-जब मोमबत्तियों की बस्ती में कोई बल्ब आया उसे...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • नमो सरकार के सारे ही नमूने पंडित नत्थू लाल के आगे हाथ फैलाने वाले हैं

      Posted:Tue, 25 Nov 2014 07:45:05 +0000
      संघ शासित गुप्त हिन्दू राष्ट्र में आपका स्वागत है ! जब एक ज्योतिषी के आगे केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने अपना हाथ फैलाया ! देश के संस्कृतिविहीन सेकुलरों, हल्ला मत मचाओ, वो कल हमारे जिले में आई थी।...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • पहली ही घड़ी में हिंदू होने वालों को भी देख लें

      Posted:Tue, 25 Nov 2014 06:56:20 +0000
      आपने आखिरी वक्‍त में मुसलमां होना सुना होगा। अब पहली ही घड़ी में हिंदू होने वालों को भी देख लें। इसरो के पूर्व अध्‍यक्ष माधवन नायर, सीबीएसई के चेयरमैन विनीत जोशी, सीएनएन-आइबीएन नेटवर्क 18 के...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • এক অপ্রেমিকের জন্যঃতসলিমা নাসরি

      Posted:Tue, 25 Nov 2014 06:54:11 +0000
      এই শহরেই তুমি বাস করবে, কাজে অকাজে দৌড়োবে এদিক ওদিক কোথাও আড্ডা দেবে অবসরে, মদ খাবে, তুমুল হৈ চৈ করবে, রাত ঘুমিয়ে যাবে, তুমি ঘুমোবে না। ফাঁক পেলে কোনও কোনও সন্ধেয় এ বাড়ি ও বাড়ি খেতে যাবে, খেলতে...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • The governance is all about apartheid practiced by the patriarchal hegemony!

      Posted:Mon, 24 Nov 2014 19:11:22 +0000
      Pardon, not your faith whatsoever, faith of the investors is the topmost priority in the Hindu Nation! PM Modi's Estranged Wife Files RTI on Her Security The RTI application filed by PM Modi's...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • सिर्फ आम आदमी परेशां, बाकी सब बहार है!

      Posted:Mon, 24 Nov 2014 18:52:06 +0000
      सिर्फ आम आदमी परेशां, बाकी सब बहार है! सांढ़ संस्कृति शबाब पर यूँ है कि विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने इस माह की शुरआत से अभी तक भारतीय पूंजी बाजार में 20,000 करोड़ रुपये का निवेश किया है। सरकार के...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • क्या अब संघ हिटलर की नाज़ी वर्दी बदल देगा ?

      Posted:Mon, 24 Nov 2014 17:50:01 +0000
      माँगा था उत्तराखंड। नेताओं ने बना दिया उल्टाखंड हमारे गुरुजी ताराचंद्र त्रिपाठी,  जिन्हें हम जीआईसी में चाणक्य कहा करते थे और बाद में जाना कि वे तो मुक्तिबोध के ब्रह्मराक्षस हैं, फिर नये सिरे से...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • सफ़दर हाशमी की 26वीं पुण्यतिथि पर शहादत दिवस का आयोजन

      Posted:Mon, 24 Nov 2014 17:04:37 +0000
      वर्धा। जनवरी 2015 में सफ़दर हाशमी की 26वीं पुण्यतिथि पर क़ाफ़िला सांस्कृतिक मंच (साहित्यिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक संस्था) महात्मा गाँधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा (महाराष्ट्र) शहादत दिवस...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          
    • मुसलमानों की राजनैतिक लामबंदी: बदलता स्वरूप- भाग-2

      Posted:Mon, 24 Nov 2014 16:43:04 +0000
      पिछले भाग में हमने देखा कि किस तरह, स्वतंत्रता के बाद, कांग्रेस के मुस्लिम नेताओं ने मुसलमानों को धार्मिक-सांस्कृतिक मुद्दों पर लामबंद किया। परंतु चूँकि देश का विभाजन सांप्रदायिक आधार पर हुआ था इसलिए...

      पूरा आलेख पढने के लिए देखें एवं अपनी प्रतिक्रिया भी दें http://hastakshep.com/
          


    http://www.hastakshep.com/donate-to-hastakshep

    https://www.facebook.com/hastakshephastakshep

    https://twitter.com/HastakshepNews


    आपको यह संदश इसलिए मिला है क्योंकि आपने Google समूह के "हस्तक्षेप.कॉम" समूह की सदस्यता ली है.
    इस समूह की सदस्यता समाप्त करने और इससे ईमेल प्राप्त करना बंद करने के लिए, hastakshep+unsubscribe@googlegroups.com को ईमेल भेजें.

    --
    आपको यह संदश इसलिए मिला है क्योंकि आपने Google समूह के "हस्तक्षेप.कॉम" समूह की सदस्यता ली है.
    इस समूह की सदस्यता समाप्त करने और इससे ईमेल प्राप्त करना बंद करने के लिए, hastakshep+unsubscribe@googlegroups.comको ईमेल भेजें.
    इस समूह में पोस्ट करने के लिए, hastakshep@googlegroups.comको ईमेल भेजें.
    http://groups.google.com/group/hastakshepपर इस समूह में पधारें.
    अधिक विकल्पों के लिए, https://groups.google.com/d/optoutमें जाएं.


    क्या संविधान में अंबेडकर का अवदान का मतलब सिर्फ रिजर्वेशन और कोटा है?

    जब तक इस देश के नागरिक  नागरिकता,संविधान और लोकतंत्र के साथ बाबासाहेब के अवदान का वस्तुगत मूल्यांकन करने लायक नहीं होंगे,कयामत की यह फिजां बदलेगी नहीं।



    कोलकाता में,जो लोग आने बतौर संगठन आने का वायदा कर चुके थे,वे ममता बनर्जी को नाराज करने का जोखिम भी न उठा सकें।हमें उनसे सहानुभूति हैं।


    आज हमने तय किया है कि बंद कमरों में भाषण प्रतियोगिता अब और नहीं।


    आज हमने तय किया है कि भविष्य में सारे संवाद और विमर्श इसी तरह खुल्ले आसमान के नीचे,गांव गांव,गली गली होंगे और हम अब किसी की इजाजत नहीं लेंगे।


    काफिले की शुरुआत हो चुकी है और यह कोई कम भी नहीं है।

    पलाश विश्वास

    शब्दों का मोल अनमोल है।


    शब्द का मतलब अभिव्यक्ति है तो उसकी बुनियादी आवश्यकता संवाद है क्योंकि संवाद सामाजिक प्रयोजन है और मनुष्य सामाजिक प्राणी है।सभ्यता का मतलब भी यही सामाजिकता है,जिसका आधार संवाद है।निरंतर विमर्श है।


    संवाद और विमर्श ही दरअसल हमारा इतिहास है,घटनाओं और रटने वाली तारीखों का घटाटोप मनुष्यता का इतिहास नहीं है,वह शासकों का इतिहास है।


    मुक्त बाजार ने हमें अपनी मातृभाषाओं और बोलियों से बेदखल कर दिया है और भारत जो गांवों का देश है,कृषिजीवी प्रकृति से अपने अस्त्व को जोड़कर जीने वालों का देश है,इसे हम भूलते जा रहे हैं और इसीके साथ भूलते जा रहे हैं साझा चूल्हे की हजारों सालों की विरासत जो शासन किसी का भी रहो हो, अनार्यों, आर्यों, द्रविड़ों, शकों, हुणों, कुषाणों, पठानों, मुगलों या पुर्तगालियों,फ्रासिंसियों या अंग्रेजों का,जब तक कृषि निर्भर अर्थ व्यवस्था रही है,जबत देशज उत्पादन प्रणाली रही है और अटूट अक्षत रहे हैं तमाम तरह के उत्पादन संबंध,वह साझा चूल्हा किसी न किसी तरह जारी रहा।


    मुक्त बाजार ने उस साझा चूल्हे को तहस नहस कर दिया है और मातृभाषाओं और बलियों से बेदखल हम लोग संवाद और विमर्श की भाषा से भी बेदखल हो गये हैं।बाजार,साहित्य,कला ,संस्कृति में अकेले व्यक्ति के भोग का कार्निवाल है।


    उस साझे चूल्हे के बिना न यह समाज सभ्य समाज बने रह सकता है और न आदिम बर्बर मूल्यों के आधार पर किसी राष्ट्र या राष्ट्रीयता का कोई अस्तित्व है।


    संविधान और लोकतंत्र की बुनियाद लेकिन वही साझे चूल्हे की विरासत है।


    संवाद और विमर्श जो प्राचीन काल में शास्त्रार्थ की परंपरा भी है,को जीवित किये बिना न संविधान बच सकता है और न लोकतंत्र।


    संविधान दिवस मनाने का प्रयोजन उस संवाद और विमर्श के लिये है जो मनुष्य और प्रकृति के नैसर्गिक रिश्ते से ही संभव है ,बाजार की दखलंदाजी और राजनीतिक शासकीय वर्चस्व के इस परिवेश में जो सिरे से असंभव है।


    हम अमूमन भूल जाते हैं कि इस देश में जैसे हिमालय,विंध्य,अरावली,सतपुड़ा के पहाड़ है,जैसे हिंद महासागर,अरब सागर और बंगाल की खाड़ी है,जैसे गंगा यमुना कृष्णा गोदावरी झेलम ब्रह्मपुत्र नर्मदा नदियां है,जैसे सुंदरवन और पेरियार के अरण्य हैं,जैसे मरुस्थल और रण है,वैसे विभिन्न भौगोलिक परिस्थितियों में अलग अलग नस्ल ,अलग अस्मिता और औलग अलग पहचाने के लोग हैं।


    जैसे किसी प्राकृतिक अंश को छोड़ दें या तोड़ दें तो देश का भूगोल नहीं बनता ,वैसे ही राष्ट्र के जीवन की मुख्यधारा से किन्ही जनसमुदाय को बहिष्कृत करने से भी राष्ट्र नहीं बनता।खंड खंड नस्ली भेदभाव की प्रजा अस्मिताओं का नाम राष्ट्र नहीं होता।


    मुक्त बाजार में दरअसल वही हो रहा है।मोदी सरकार के 6 महीने के कामकाज से बाजार और इंडस्ट्री तो बहुत खुश हैं,लोकिन धनाढ्य नवधनाढ्य संपन्न तबके के अलावा जैसे इस देश में किसी अवसर,किसी अधिकार,किसी संसाधन पर किसी का हक नहीं है ।


    मुक्त बाजार में दरअसल वही हो रहा है।यह वंचित जनता देश की बहुसंख्य आबादी है,जिनका नस्ली सफाया ही मुक्तबाजार में राजकाज है।


    इसीलिए बुनियादी समस्य़ाएं तब तक सुलझ ही नहीं सकती जबतक कि भारतीय नागरिक की नागरिकता के साथ देश में लोकतंत्र को बहाल नहीं किया जा सकता और जबतक न कि प्राकृतिक पर्यावरण का संरक्षण नहीं होता।


    मनुष्यता और प्रकृति के विध्वंस से कोई राष्ट्र फिर राष्ट्र नहीं रह जाता वह सुपरपावर भले ही मान लिया जाय,उस राष्ट्र की कोई आत्मा नहीं होती।न उसकी कोई देह है।


    हम मौलिक अधिकारों,नीति निर्देशक सिद्धांतों,संविधान,संवैधानिक रक्षाकवच ,प्रकृति और पर्यावरण के मुद्दे उठाकर बार बार आपकी नींद में खलल डालने की बदतमीजी क्योंकर कर रहे हैं,इसकों थोड़ा दिमाग लगाकर समझें।


    इन्ही तमाम प्रसंगों में अंबेडकर के अवदानों की चर्चा होनी चाहिए न कि रिजर्वेशन और कोटा के लिए अंबेडकर जुगाली का अभ्यास।


    अबाध विदेशी पूंजी,निजीकरण,आटोमेशन,विनिवेश,निविदा अनुबंध आजीविका नौकरियों के जमाने में रिजर्वेशन औक कोट अब सिर्फ जनप्रतिनिधियों को अरबपति करोड़पति बनाने का खेल है,उसका वजूद है नहीं,जो है उसे मुक्त बाजार खत्म करने वाला है।


    तो क्या सिरे से गैर प्रासंगिक हो जाएंगे अंबेडकर,प्रश्न यही है।


    जो आरक्षण और कोटा के लाभार्थी नहीं रहे कभी,जैसे मेहनतकश तबके और देश की आधी आबादी महिलाएं,उनके लिए अंबेडकर की क्या प्रासंगिकता रही है न उन्हें मालूम है और न अंबेडकरी दुकानदारों और अंध अनुयायियों को।जिन्हें मालूम है,वे बतायेंगे भी नहीं।क्योंकि अंध विश्वास और धर्मांध उन्माद राष्ट्रीयता उनका कारोबार है।


    अंबेडकर अछूतों के मसीहा हैं जिन्हें संघ परिवार अब विष्णु का अवतार बनाकर उनके मंदिर खोलकर वैदिकी कर्मकांड बजरिये बहुजन वोटबैंक साध लेगा,महज इस कारण से हम अंबेडकर की भूमिका की चर्चा नहीं कर रहे हैं।


    धर्म अधर्म धर्मनिरपेध अंध आस्था के विमर्श के बदले हमने संविधान और लोकतंत्र के परिप्रेक्ष्य में संवाद और विमर्श का यह विकल्प जिस परिदृश्य में चुना,उसके तहत इस देश के संसद में भी संविॆधान और संविधान दिवस पर किसी चर्चा होने के आसार नहीं हैं।


    धर्म अधर्म धर्मनिरपेध अंध आस्था के विमर्श के बदले हमने संविधान और लोकतंत्र के परिप्रेक्ष्य में संवाद और विमर्श का यह विकल्प जिस परिदृश्य में चुना,उसके तहत केसरिया कारपोरेट नरेंद्र मोदी सरकार के 6 महीने पूरे हो गए हैं। बाजार बल्ले बल्ले है क्योंकि इस सरकार से बाजार, इंडस्ट्री को काफी उम्मीदें हैं।



    धर्म अधर्म धर्मनिरपेध अंध आस्था के विमर्श के बदले हमने संविधान और लोकतंत्र के परिप्रेक्ष्य में संवाद और विमर्श का यह विकल्प जिस परिदृश्य में चुना,उसके तहत  कारपोरेट मनुस्मृति राजकाज इस सरकार को संविधान और लोकतंत्र,जल जंगल जमीन और आजीविका,प्रकृति और प्रयावरण,नागरिक और मानवाधिकारों की कोई परवाह नहीं है और अबाध पूंजी के लिए जनसंहारी सुधार कयामत उसकी सर्वोच्चा प्राथमिकता है क्योंकि  बाजार में पिछले 6 महीने की तेजी नई सरकार बनने के चलते ही हुई है।


    जाहिर है कि  बाजार को नई सरकार से बड़े फैसलों की उम्मीद है।इतनी बड़ी उम्मीद कि अगले 3 सालों में बाजार में 20-25 फीसदी के सालाना रिटर्न आने की उम्मीद है। 20 फीसदी सालाना रिटर्न के हिसाब से अगले 3 सालों में सेंसेक्स में 50000 तक के स्तर आने मुमकिन हैं।


    मोदी सरकार ने 6 महीनों में 6 बड़े आर्थिक फैसले लिए हैं। औरयूपीए सरकार की पॉलिसी पैरालिसिस दूर हुई है। रेलवे में एफडीआई निवेश सीमा 100 फीसदी कर दी गई। डिफेंस में अब 49 फीसदी एफडीआई को मंजूरी दे दी गई है। इस के साथ ही मोदी सरकारने रियल एस्टेट, कंस्ट्रक्शन में भी एफडीआई को आसान  कर दिया है। डीजल डीकंट्रोल  कर दिया गया है और गैस की कीमत 4.2 डॉलर से बढ़ाकर 5.61 डॉलर प्रति एमएमबीटीयू कर दी गई है।


    समझ जाइये कि किसका न्यारा किसका वारा होना है और बहुसंख्य बहुजनों का हाल क्या होते जाना है।


    समझ जाइये विनिवेश और निजीकरण से सफेद पोशों का रंग रोगन कैसे उतर जाना है और आम जनत का कैसे कैसे कारपोरेटमुनाफा का बवलि बन जाना है।


    सरकार ने भी अब तक बाजार को निराश नहीं किया है। अगले 1 साल में ब्याज दरों में 2 फीसदी तक की कमी आने का अनुमान है। ब्याज दरों में कमी से कैपिटल गुड्स, इंफ्रा सेक्टर को काफी फायदा होगा। बजट के ऐलानो के मुकाबले जीएसटी, श्रम कानून, जमीन अधिग्रहण कानून से जुड़े रिफॉर्म ज्यादा अहम हैं।


    सरकार ने डीजल डीकंट्रोल, मेक इन इंडिया और डिफेंस के ऑर्डर जैसे कुछ बड़े और अहम कदम उठाए हैं।जीएसटी, श्रम कानून, जमीन अधिग्रहण कानून से जुड़े रिफॉर्म देश की ग्रोथ में सुधार के नजरिए से बेहद अहम हैं। सरकार ने कोल ब्लॉक के ई-ऑक्शन से जुड़े ड्राफ्ट नियम काफी सोच-समझकर बनाए हैं। वो कोल ब्लॉक के ई-ऑक्शन से जुड़े ड्राफ्ट नियमों से संतुष्ट हैं। उनके मुताबिक मार्च 2015 तक कोल ब्लॉक की नीलामी की प्रक्रिया पूरा होने का भरोसा है।


    डीजल डीकंट्रोल जैसे बड़े कदमों से बाजार को आगे भी सरकार से बड़े आर्थिक सुधार की उम्मीद है।इसी वजह से सेंसेक्स 28500 के पार जाने में कामयाब हुआ है, निफ्टी ने पहली बार 8500 का स्तर छूआ। बाजार में आई इस दमदार तेजी के बाद भी क्या आगे बढ़त की गुंजाइश बनती है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने देश की जीडीपी ग्रोथ 6 फीसदी पर पहुंचने का भरोसा जताया है।


    अलीबाबा का आगमन हो चुका है।वालमार्ट,फ्लिपकार्ट.अमेजन ,स्नैप डील के बाद खुदरा कारोबार का बिना एफडीआई काम तमाम करने के लिए अलीबाबा जिंदाबाद।


    गौरतलब है कि  ई-कॉमर्स कंपनी अलीबाबा के फाउंडर और चीन के सबसे धनी व्यक्ति जैक मा ने अपने पहले भारत दौरे पर एलान किया है कि वे यहां और ज्यादा निवेश करने के इच्छुक हैं। साथ ही उन्होंने तकनीकी उद्यमियों को मदद देने का भी भरोसा दिया। जैक मा ने पीएम नरेंद्र मोदीके नेतृत्व की सराहना भी की। यह सबसे बेहतरीन समय है कि दोनों देश (भारत और चीन) मिलकर काम करें। मैंने पीएम नरेंद्र मोदी के भाषण सुने। उनके भाषण बहुत ही जुनूनी और प्रेरणादायी हैं। एक बिजनेसमैन होने के नाते मैं यही कहूंगा कि दोनों देशों को मिलकर साझा व्यापार को बढ़ावा देना चाहिए। मा फिक्की के एक कार्यक्रम में मौजूद थे। उन्होंने कहा, 'मैं भारत में अधिक निवेश करने और भारतीय उद्यमियों के साथ काम करना चाहता हूं। भारतीय तकनीकी में विकास दोनों देशों के बीच रिश्तों को और मजबूती देगा। साथ ही लोगों के जीवन स्तर में भी सुधार आएगा।'


    किसानों,खेतों,खलिहानों,घाटियों,अरण्यों,ग्लेशियरों,समुद्रतटों का जो हुआ सो हुआ,इस देश के चायबागानों,कपड़ा मिलों,जूट उद्योग,कपास और गन्ने की तरह खुदरा कारोबार से जुड़े मंझौले और छोटे कारोबारियों का हाल करने वाली बै कारोबार बंधु सरकार जिसकी ईटेलिंग से बहुराष्यीटकंपनियों को भी चूना लगने लगा है  और वे त्राहिमाम त्राहिमाम कर रही हैं।


    गौरतलब है कि बैंकों के डूबते कर्ज और रसूखदार डिफॉल्टरों के खिलाफ सख्ती न होने के कारण पूरे बैंकिंग सिस्टम पर सवाल उठने लगे हैं। यहां तक की आरबीआई गवर्नर रघुराम राजन का भी दर्द बीते मंगलवार को बैंकिंग सिस्टम को लेकर निकल गया। उनके अनुसार  देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी ) के 1.25 फीसदी के बराबर पूंजी बैंकों की कर्ज वसूली न होने से फंसी हुई है।

    राजन का कहना है मौजूदा सिस्टम ऐसा है जिससे कंपनियां तो दिवालिया हो जाती हैं, लेकिन प्रमोटर अमीर बने रहते हैं। बड़ी कंपनियों के डिफॉल्ट और उसके प्रमोटरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई न होने से पूरे बैंकिंग सिस्ट्म को धक्का लगा है।

    वित्त मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक उसके पास करीब 400 बड़े विलफुल डिफॉल्टरों की सूची हैं। जिन्होंने जानबूझ कर बैंकों के कर्ज नहीं चुकाए हैं। इसके अलावा बैंक संगठनों ने भी में देश के 50 बड़े डिफॉल्टर की सूची वित्त मंत्रालय को सौंपी है। जिन पर करीब 40 हजार करोड़ रुपये का कर्ज बकाया है।



    सरकार को कारोबार के लिए मंजूरियों की अवधि में कमी और जमीन खरीदने की प्रक्रिया को आसान करने जैसे कदम उठाने होंगे।


    कोई भी नया कारोबार शुरू होने के बाद सरकार को उसके लिए जरूरी इंफ्रास्ट्रक्चर, ट्रांसपोर्टेशन जैसे सुविधाएं मुहैया कराने की ओर ध्यान देने की जरूरत है।


    बाजार विशेषज्ञों के अनुसार बुलरन जारी रहना है और लंबी अवधि के लिए तेजी का नजरिया बरकरार है। महंगाई, वित्तीय घाटे और आईआईपी में धीरे-धीरे हो रहे सुधार से इकोनॉमी की स्थिति में काफी सुधार हुआ है।कच्चे तेल की कीमत में करीब 30 डॉलर प्रति बैरल की गिरावट इकोनॉमी के लिए बहुत बड़ा पॉजिटिव है। कच्चे तेल की कीमत में कमी से भारत को 25-30 अरब डॉलर की फॉरेक्स बचत होगी। कच्चे तेल की कीमत में कमी से करेंट अकाउंट घाटे और महंगाई के मोर्चे पर भी बड़ी राहत संभव है।


    बाजार बम बम है और संविधान लोकतंत्र डमडम है।डमडमाडम डमडम।


    वैश्विक वित्तीय सेवा कंपनी एचएसबीसी की एक रिपोर्ट के अनुसार विदेशी संस्थागत निवेशकों ने नवंबर में एशियाई इक्विटी बाजार के प्रति भरोसा जताते हुए इस क्षेत्र में अब तक 5.3 अरब डॉलर का निवेश किया, जिसमें से भारत में 1.4 अरब डॉलर का निवेश किया गया। वित्तीय सेवा क्षेत्र की प्रमुख कंपनी एचएसबीसी के मुताबिक लगातार दो महीने की बिकवाली के बाद विदेशी संस्थागत निवेशकों ने एशियाई शेयर बाजारों के प्रति अपना भरोसा जताया और सभी बाजारों में नवंबर के दौरान पूंजी प्रवाह हुआ। एशियाई अर्थव्यवस्थाओं में चीन सबसे लोकप्रिय बाजार के तौर पर शीर्ष पर रहा और भारत दूसरे

    नंबर पर।


    जबकि सरकार उचित मूल्य प्राप्त करने के लिए कोल इंडिया और ओएनजीसी में अपनी हिस्सेदारी का विनिवेश दो किस्तों में करने की तैयारी कर रही है। आधिकारिक सूत्रों ने यह जानकारी दी। सूत्रों ने बताया कि कोल इंडिया और ओएनजीसी में हिस्सेदारी बिक्री की तारीख का फैसला बाजार स्थिति का अध्ययन करने के बाद किया जाएगा। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने ओएनजीसी में पांच प्रतिशत विनिवेश को मंजूरी दी है। इससे सरकार को 11,477 करोड़ रुपये मिल सकते हैं। वहीं कोल इंडिया की 10 फीसद हिस्सेदारी बिक्री से 15,740 करोड़ रुपये प्राप्त होने की उम्मीद है।


    सबकुछ बेच डाला ।सबकुछ बिकने चला ।लाइफ झिंगालाला ।


    26 नवंबर,1949 में हमारे पुरखों ने भारतीय संविधान के जरिये लोकगणराज्यभारत का निर्माण किया है,जिसमें नागरिकों के मौलिक अधिकारों का खुलासा है तो राष्ट्र के लिए नीति निर्देशक सिद्धांत भी हैं।इस संविधान में प्राकतिक संसाधनों पर राष्ट्र के अधिकार और जनता के हक हकूक के ब्योरे भी हैं।नागरिकों के लिए संवैधानिक रक्षाकवच भी हैं।संविधान दिवस मनाने का मतलब मुक्त बाजार में खतरे में फंसी नागरिकता और लोकतंत्र के साथ संविधान का प्रासंगिकता को बनाये रखने का जन जागरण अभियान है।


    हामरे मित्र डा.आनंद तेलतुंबड़े खरी खरी बाते करने के लिए बेहद बदनाम हैं।वे अंबेडकर परिवार के दामाद तो हैं ही,दलितों के मध्य उनकी जो विद्वता है और जो उनका स्टेटस है,उसके मद्देनजर अलग एक अंबेडकरी दुकान के मालिक तो वे हो ही सकते हैं,लेकिन मजा तो यह है कि अंबेडकर अनुयायियों को तेलतुंबड़े का लिखा बिच्छू का डंक जैसा लगता है क्योंकि वे अंबेडकर का अवदान सिर्फ आरक्षण और कोटा को नहीं मानते।


    हमसे बिजनौर में एक अत्याधुनिक मेधावी छात्र ने कहा कि अंबेडकर बेहद घटिया हैं।हमने कारण पूछा तो उसने कहा कि अंबेडकर के कारण आरक्षण और कोटा है।उसके मुताबिक अंबेडकर ने ही वोट बैंक की राजनीति को जन्म दिया और आगे उसका कहना है कि जनसंख्या ही भारत की मूल समस्या है।उसके मुताबिक गैरजरुरी जनसंख्या से निजात पाये बिना भारत का विकास असंभव है।ऐसा बहुत सारे विद्वतजन मनते हैं कि आदिवासी ही विकास के लिए अनिवार्यजल जंगल जमीन पर अपना दावा नहगीं चोड़ते तो उनके सफाये के बिना विकास असंभव है।इंदिरा गांधी ने तो गरीबी उन्मूलन का नूस्खा ही नसबंदी ईजाद कर लिया था और संजोग से नवनाजी जो कारपोरेट शासक तबका है इस देश का ,देश बेचो ब्रिगेड जो है,उसकी भी सर्वोच्च प्राथमिकता गैर जरुरी जनसंख्या का सफाया है।


    जैसा तेलतुंबड़े बार बार कहते हैं कि इस संविधान का निर्माण और उपयोग शासक तबके के हितों में हैं,इसमें असहमति की कोई गुंजाइश नहीं है।लेकिन जनता के लिए जो संवैधानिक रक्षा कवच हैं,जो मौलिक अधिकार हैं नागरिकों के,जो नीति निर्देशक सिद्धांत हैं,वे ही मौजूदा राज्यतंत्र के बदलाव के सबसे तेज हथियार हैं,इसे समझने की जरुरत है।मुक्तबाजारी कारपोरेट राजकाज नागरिकता,मानवाधिकार,नागरिक अधिकार, प्रकृति, पर्यावरण और मनुष्यता के विरुद्ध हैं,तो उसके प्रतिरोद की जमीन हमें लोकतंत्र और संविधान में ही बनानी होगी।


    वोटबैंक का खेल तो पुणे समझौते के साथ शुरु हुआ,जिसपर मोहनदास कर्मचंद गांधी के दवाव में अंबेडकर ने हस्ताक्षर किये थे और आरक्षण और कोटा की बुनियाद वहीं है,ऐसा बाकी लोग नहीं जानते तो अंबेडकर अनुयायी भी अंबेडकर की आराधना सिर्फ इसीविए करते हैं।


    क्या संविधान में अंबेडकर का अवदान का मतलब सिर्फ रिजर्वेशन और कोटा है?


    जब तक इस देश के नागरिक  नागरिकता,संविधान और लोकतंत्र के साथ बाबासाहेब के अवदान का वस्तुगत मूल्यांकन करने लायक नहीं होंगे,कयामत की यह फिजां बदलेगी नहीं।


    जैसा तेलतुंबड़े का कहना है कि अलग अलगद समयएक ही मुद्दे पर अंबेडकर के विचार और अवस्थान बदलते रहे हैं,किसी उद्धरण के आधार पर अंबेडकरी आंदोलन चलाया जा नहीं सकता।



    हमें अंबेडकर का भी मूल्यांकन करना चाहिए और उस संविधान का भी,जिसका निर्माता उन्हें बनाया गया है।संविधान के जिन प्रावधानों के तहत सैन्यशासन और आपातकाल की संभावना का यथार्थ है,उसे सही ठहराना लोकतांत्रिक होना नहीं है।


    लेकिन कुल मिलाकर जो बाते सकारात्मक हैं संविधान में,उन्हें बदलकर उसके बदले मनुस्मृति शासन लागू करने की कारपोरेटकवायद का हम विरोद नकरें तो यह हमारे वजूद के लिए विध्वंसकारी होगा।


    इस देश में चूंकि नागरिकों को पुलिस सेना राजनीति और बाजार की इजाजत के लिए सांस लेने की भी इजाजत नहीं है,विशुद्ध भारतीयनागरिक की हैसियत से अस्मिता के आरपार मानवबंधन संविधान दिवस के मार्फत बनाना असंभव ही है।हम न कोई राजनीतिक संगठन है और न अस्मिता के कारोबारी हैं हम और न कारपोरेटट ताकतें,बाजार और मीडिया के वरदहस्ते हैं हम पर,आम नागरिक की हैसियत से राष्ठ्रव्यापी जनजागरण बतौर संविधान दिवस को लोक उत्सव बना देने का ख्याली पुलाव हम यकीनन नहीं बना रहे थे और न हम इसके लिए किसी कामयाबी या श्रेय का दावा कर रहे हैं।


    लेकिन यह बेहद सकारात्मक है कि राजनीति और पररंपरागत अंबेडकरी संगठनों के समर्थन के बिना देश भर में छिटपुट तरीके से हो लोगों ने संविधान दिवस को लोक उत्सव मनानेन की कोशिश की और इस अपील का तात्पर्य वाम प्रगतिवादियों, धर्मनिरपेक्ष,समाजवादियों,बहुजन राजनीति संगठनों के झंडेवरदारों को भले समझ में न आया हो,भारतीय संविॆधान और भारतीय लोकतंत्र,बहुसंक्यभारतीयों के सफाये पर उतारु शंगपरिवार इस जनजागरण मुहिम का मतलब जरुर समझ गया और बाबासाहेब की कर्मभूमि महाराष्ट्र में  संघ परिवार की सरकार नें संविधान दिवस को गणतंत्र दिवसे के राजकीयआयोजन से दो महाने पहले शासकीय आयोजन बना डाला जबकि जिन्हें व्यापक पैमाने पर सड़कों पर उतर आना था वे आये ही नहीं।


    इसका आशयइससे समझें कि महाराष्ट्र की भाजपा सरकार की ओर से राजकीय संविधान दिवस आयोजन की तीखी आलोचना करते हुए माननीय  श्रीमण सुदत्त वानखेड़े ने 15 अगस्त और 26 जनवरी के शासकीय आयोजनों का हवाला देते हुए लिखा हैः


    प्रतिक्रियावादी व् भावनाप्रधान चलवलीत अडकलेल्या बहुतांश महाराष्ट्रियन एबीनी (आजचे बौद्ध) तर दोन महीनेपुर्वीच म्हणजे 26 नोव्हेंबर ला संविधान दिवस साजरा केला असतो. त्यामुले तेहि आपल्या राष्ट्रिय (की विभूतिय) कर्तव्यपुर्तितुन मुक्त झालेले असतात.


    जाहिर है कि इस आयोजन का कोई मीडिया कवरेज होना नहीं है और उसकी जरुरत बी नहीं है।हमें जो जानकारी उपलब्ध होती रहेगी,समय समयपर वह आपके सथ साझा जरुर करेंगे।


    कोलकाता में धर्मनिरपेक्ष मतुआ दलित मुस्लिम वोटबैंक की मां माटी मानुष की सरकार ने हमें इस आयोजन के लिए पुलिस अनुमति देने से साफ इंकार कर दिया,लेकिन आज दिनभर रेड रोड पर स्त्री पुरुषों,छात्रों युवाओं कर्मचारियों और मजदूरों के साथ आम लोगों का आना जाना रहा,जो राजनीतिक दलों की तर्ज पर हमारे शक्ति परीक्षण का अभ्यास नहीं है।


    तमाम लोगों ने दिनभर भारतीय संविधान,लोकंतंत्र और मुक्तबाजार के अंतर्संबंधों से जुड़े मुद्दों पर दिनभर संवाद किया।


    न कोई शामियाना टंगा,न मंच सजा न भाषण हुए।


    न वक्ता और न कोई नेता।सारे के सारे कार्यकर्ता।


    घोषित संगठनों के नेता कोई नही आये और न उनने अन्यत्र कोई आयोजन करने की हिम्मत दिखायी।


    कोलकाता में,जो लोग आने बतौर संगठन आने का वायदा कर चुके थे,वे ममता बनर्जी को नाराज करने का जोखिम भी न उठा सकें।


    हमें उनसे सहानुभूति हैं।


    आज हमने तय किया है कि बंद कमरों में भाषण प्रतियोगिता अब और नहीं।


    आज हमने तय किया है कि भविष्य में सारे संवाद और विमर्श इसी तरह खुल्ले आसमान के नीचे,गांव गांव,गली गली होंगे और हम अब किसी की इजाजत नहीं लेंगे।


    काफिले की शुरुआत हो चुकी है और यह कोई कम भी नहीं है।




    किसी नेहा दीक्षित ने फेसबुक पर यह पोस्टडाली है,हमें मालूम नहीं कि यह प्रोफाइस असली है या नकली।लेकिन इसकी भाषा टिपिकल बहुजन राजनीति की है।हेमंत करकरे की हत्या संविधान दिवस के दिन हुई और बाबरी विध्ंवस का अपराध बाबासाहेब के परानिर्वाण दिवस 6 दिसंबर को हुई,इन मुद्दों को जो उन्होंने उठाया वह गौर तलब है।बेहतर हो कि जो भी कहना हो ,अपने ही नाम से लिखें तो उसकी प्रामाणिकता बनी रहती है।

    2:57pm Nov 26

    आज भारत के संविधान का दिन है ! और आज ही के दिन शहीद हेमंत करकरे की हत्या की गई थी ! पढ़ने में आया था की शहीद हेमंत करकरे के पास ऐसे सबूत लगे थे की उससे कई सो कॉल्ड हाई सोसाइटी का परचा खोल देती ! पर इसके पहले की वोह सबूत हेमंत जी दुनिया के सामने लाते उनकी हत्या की गई ! उनके पश्चात् उनकी पत्नी ने भी बहोत बार पोलिस से कहा की उनकी हत्या किसी भारतीय लोगो ने की ही है ! क्यूंकि कुछ दिनों से उन्हें (हेमंत जी को) धमकी भरे फोन भी आते थे ! उनकी तरफ किसी ने ध्यान नहीं दिया ! खून को शहीद का नाम दिया गया !


    कसाब पकड़ा गया ! उसे पुणे के येरवडा जेल में कुछ इस कदर फासी दी जैसे की किसी को डर हो कसाब उनकी पोल न खोल दे ! पुणे के लोगो को भी इस बात की कोई खबर नहीं थी ! पूना में वैसे दंगे होते नहीं है ! तो फिर अगर यह बात अगर पता हो जाती तो लोग क्यूँ दंगे करते ? उल्टा खुश ही होते न ? की एक खुनी , आतंकवादी को फासी दी जा रही है करके ? तो फिर सरकार ने उसे क्यूँ दबाये रखा ? कही सरकार की ही तो पोल नहीं खोलने वाले थे हेमंत जी ? सुनने में तो यह भी आ रहा है की कसाब अब तक जिन्दा है और वोह नेपाल में स्थाईक है !


    डॉक्टर आंबेडकर जी से सबसे ज्यादा जेलस आर आर एस है , और मनुवादी लोग ! क्या आप को नहीं लगता जैसा आर आर एस ने बाबरी मस्जिद ६ दिसम्बर को याने के बाबासाहब के महापरिनिवार्ण दिन को गिरवाई थी ! वैसेही डॉक्टर आंबेडकर जी की लिखी राज्यघटना / संविधान को २६ नवम्बर १९४९ के दिन डॉक्टर आंबेडकर जी ने भारत को सुपुर्द किया था ! उसी दिन कसाब के थ्रू हेमंत करकरे का खून करके और उसे लोगो के सामने शहीद कहकर दुगनी ख़ुशी मनुवादी लोग मना रहे है ?

    १. हेमंत करकरे जी का खून

    २. लोगो को २६ नवम्बर १९४९ का संविधान दिन याद नहीं आना चाहिए या दुःख मनना चाहिए , जब की इसी दिन देखा जाये तो यह हमारी दूसरी आजादी थी ! हमे अधिकार मिले जो हमारे ही देश में रहकर इन विदेशी मनुवादी ने हमे लेने नहीं दिए !


    अब हमे तीसरी आझादी का इंतजार है , जब हम इन विदेशी आर्य ब्राहमण को देश से खदेड़ देंगे !

    तो श्रीमण सुदत्त वानखेड़े ने फेसबुक पर ही अपनी मराठी भाषा की टिप्पणा मार्फते प्रतिक्रियावादी हिंदुत्ववादियों की ओर से संविधान दिवसे के महाराष्ट्र में राजीय आयोजन की कड़ी आलोचना की है।देखेः

    15 आगस्ट छाप 26 जानेवारी


    आक्रमण तर परक्यावर केले जाते. मात्र भारतात तर आपलेच आपल्यावर आक्रमण असल्यागत स्थिति आहे. परंतु त्याबाबत अनभींज्ञ असल्यामुले दरवर्षी 26 जानेवारीला गणतंत्र दिनाच्या समरोहावर स्वतंत्र दिनाचे सावट का असते? यावर अंतर्मुख होवून आपण विचार करीत नाही.26 जानेवारी व् 15 आगस्ट हे वर्षातील दोन दिवस शासकीय कार्यालय व् शाला महाविद्यालय येथेच प्रामुख्याने पारम्परिक रितीने साजरे केले जतात. आणि आपला बहुसंख्य भारतीय समाज हा तर परम्पराचे मुळ प्रयोजन लक्षात घेण्याएवजी त्यांचे नुसतेच पालन करण्यात समाधान शोधणारा आहे परिनामता झेंडावंदन करुण त्या दिवसाच्या सुट्टीचा आनंद कुटुंबासोबत घेणे यापलिकडे अधिक विचार करण्याची आवश्यकता नोकरपेशा सुशिक्षिताना ही अस्त नाही.


    प्रतिक्रियावादी व् भावनाप्रधान चलवलीत अडकलेल्या बहुतांश महाराष्ट्रियन एबीनी (आजचे बौद्ध) तर दोन महीनेपुर्वीच म्हणजे 26 नोव्हेंबर ला संविधान दिवस साजरा केला असतो. त्यामुले तेहि आपल्या राष्ट्रिय (की विभूतिय) कर्तव्यपुर्तितुन मुक्त झालेले असतात. केबी (कालचा बौद्ध मौर्य कालीन) हा तर तसाही बिनधास्त असतो कारन त्याला तो केबी असण्याचीच जाणीव नाही. मात्र हिंदू असण्याच्या अस्मिता त्यांच्यात नदी दूथडी ओसंडून वाहत असण्या सारखीच स्थिति असते. अर्थात यातही त्याचा फार दोष नाही. कारन वर्णव्यवस्थेनुसार त्याचे कार्य हे त्रिवर्नियाच्या अदेशचे निमूटपने पालन करने हेच आहे. त्यामुलेच चतुवर्ण व्यावसथेतिल शुद्र असूनही चौथ्या क्रमांकाच्या जाणीवेएवजी हिंदूस्थानातिल हिंदू असण्याचा त्याला गर्व आहे. मुस्लिम हा तर भारता एवजी हिंदूस्थानची फिकिर करण्यात आपली रूचि देतो. हिंदूस्थान मधील मुसलमान म्हणुन मिरवन्यासाठी सदासर्वदा उतावील आहे. त्यामुले तोसुधा 26 जानेवारी ला हिंदूस्थानातिल गणतंत्रदिन नावाआड़ स्वतंत्र दिवस(?) साजरा करण्यात आपले योगदान देतो.अर्थात सर्वसामान्य एबी सारखा तो समाज सुधा भावनिक वलयत घुटमलत राहुन सत्ताधारी वर्गाकडे याचना करीत त्यांचे आधीन जगण्यात मानवर्था शोधणारा समाज आहे.




    आईएएनएस की चुनिंदा भाषणों की श्रृंखला की आठवीं और अंतिम कड़ी में आज पेश है भीमराव अंबेडकर का भाषण। यह भाषण उन्होंने नवंबर 1949 में नई दिल्ली में दिया था। 300 से अधिक सदस्यों वाली संविधान सभा की पहली बैठक नौ दिसंबर 1946 को हुई थी।

    भारतीय संविधान की प्रारूप निर्माण समिति के अध्यक्ष डा. भीमराव अंबेडकर ने यह भाषण औपचारिक रूप से अपना कार्य समाप्त करने से एक दिन पहले दिया था। उन्होंने जो चेतावनियां दीं- एक प्रजातंत्र में जन आंदोलनों का स्थान, करिश्माई नेताओं का अंधानुकरण और मात्र राजनीतिक प्रजातंत्र की सीमाएं- वे आज भी प्रासंगिक हैं। पेश है भीमराव अंबेडकर का भाषण-

    महोदय, संविधान सभा के कार्य पर नजर डालते हुए नौ दिसंबर,1946 को हुई उसकी पहली बैठक के बाद अब दो वर्ष, ग्यारह महीने और सत्रह दिन हो जाएंगे। इस अवधि के दौरान संविधान सभा की कुल मिलाकर 11 बैंठकें हुई हैं। इन 11 सत्रों में से छह उद्देश्य प्रस्ताव पास करने तथा मूलभूत अधिकारों पर, संघीय संविधान पर, संघ की शक्तियों पर, राज्यों के संविधान पर, अल्पसंख्यकों पर,अनुसूचित क्षेत्रों और अनुसूचित जनजातियों पर बनी समितियों की रिपोर्टों पर विचार करने में व्यतीत हुए। सातवें, आठवें, नौवें, दसवें और ग्यारहवें सत्र प्रारूप संविधान पर विचार करने के लिए उपयोग किए गए। संविधान सभा के इन 11 सत्रों में 165 दिन कार्य हुआ। इनमें से 114 दिन प्रारूप संविधान के विचारार्थ लगाए गए।

    प्रारूप समिति की बात करें तो वह 29 अगस्त, 1947 को संविधान सभा द्वारा चुनी गई थी। उसकी पहली बैठक 30 अगस्त को हुई थी। 30 अगस्त से 141 दिनों तक वह प्रारूप संविधान तैयार करने में जुटी रही। प्रारूप समिति द्वारा आधार रूप में इस्तेमाल किए जाने के लिए संवैधानिक सलाहकार द्वारा बनाए गए प्रारूप संविधान में 243 अनुच्छेद और 13 अनुसूचियां थीं। प्रारूप समिति द्वारा संविधान सभा को पेश किए गए पहले प्रारूप संविधान में 315 अनुच्छेद और आठ अनुसूचियां थीं। उस पर विचार किए जाने की अवधि के अंत तक प्रारूप संविधान में अनुच्छेदों की संख्या बढ़कर 386 हो गई थी। अपने अंतिम स्वरूप में प्रारूप संविधान में 395 अनुच्छेद और आठ अनुसूचियां हैं। प्रारूप संविधान में कुल मिलाकर लगभग 7,635 संशोधन प्रस्तावित किए गए थे। इनमें से कुल मिलाकर 2,473 संशोधन वास्तव में सदन के विचारार्थ प्रस्तुत किए गए।

    मैं इन तथ्यों का उल्लेख इसलिए कर रहा हूं कि एक समय यह कहा जा रहा था कि अपना काम पूरा करने के लिए सभा ने बहुत लंबा समय लिया है और यह कि वह आराम से कार्य करते हुए सार्वजनिक धन का अपव्यय कर रही है। उसकी तुलना नीरो से की जा रही थी, जो रोम के जलने के समय वंशी बजा रहा था। क्या इस शिकायत का कोई औचित्य है? जरा देखें कि अन्य देशों की संविधान सभाओं ने, जिन्हें उनका संविधान बनाने के लिए नियुक्त किया गया था, कितना समय लिया।

    कुछ उदाहरण लें तो अमेरिकन कन्वेंशन ने 25 मई, 1787 को पहली बैठक की और अपना कार्य 17 सितंबर, 1787 अर्थात् चार महीनों के भीतर पूरा कर लिया। कनाडा की संविधान सभा की पहली बैठक 10 अक्टूबर, 1864 को हुई और दो वर्ष पांच महीने का समय लेकर मार्च 1867 में संविधान कानून बनकर तैयार हो गया। आस्ट्रेलिया की संविधान सभा मार्च 1891 में बैठी और नौ वर्ष लगाने के बाद नौ जुलाई, 1900 को संविधान कानून बन गया। दक्षिण अफ्रीका की सभा की बैठक अक्टूबर 1908 में हुई और एक वर्ष के श्रम के बाद 20 सितंबर, 1909 को संविधान कानून बन गया।

    यह सच है कि हमने अमेरिकन या दक्षिण अफ्रीकी सभाओं की तुलना में अधिक समय लिया। परंतु हमने कनाडियन सभा से अधिक समय नहीं लिया और आस्ट्रेलियन सभा से तो बहुत ही कम। संविधान-निर्माण में समयावधियों की तुलना करते समय दो बातों का ध्यान रखना आवश्यक है। एक तो यह कि अमेरिका, कनाडा, दक्षिण अफ्रीका और आस्ट्रेलिया के संविधान हमारे संविधान के मुकाबले बहुत छोटे आकार के हैं। जैसा मैंने बताया, हमारे संविधान में 395 अनुच्छेद हैं, जबकि अमेरिकी संविधान में केवल 7 अनुच्छेद हैं, जिनमें से पहले चार सब मिलकर 21 धाराओं में विभाजित हैं। कनाडा के संविधान में 147, आस्ट्रेलियाई में 128 और दक्षिण अफ्रीकी में 153 धाराएं हैं।

    याद रखने लायक दूसरी बात यह है कि अमेरिका, कनाडा, आस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के संविधान निर्माताओं को संशोधनों की समस्या का सामना नहीं करना पड़ा। वे जिस रूप में प्रस्तुत किए गए, वैसे ही पास हो गए। इसकी तुलना में इस संविधान सभा को 2,473 संशोधनों का निपटारा करना पड़ा। इन तथ्यों को ध्यान में रखते हुए विलंब के आरोप मुझे बिलकुल निराधार लगते हैं और इतने दुर्गम कार्य को इतने कम समय में पूरा करने के लिए यह सभा स्वयं को बधाई तक दे सकती है।

    प्रारूप समिति द्वारा किए गए कार्य की गुणवत्ता की बात करें तो नजीरुद्दीन अहमद ने उसकी निंदा करने को अपना फर्ज समझा। उनकी राय में प्रारूप समिति द्वारा किया गया कार्य न तो तारीफ के काबिल है, बल्कि निश्चित रूप से औसत से कम दर्जे का है। प्रारूप समिति के कार्य पर सभी को अपनी राय रखने का अधिकार है और अपनी राय व्यक्त करने के लिए नजीरुद्दीन अहमद का ख्याल है कि प्रारूप समिति के किसी भी सदस्य के मुकाबले उनमें ज्यादा प्रतिभा है। प्रारूप समिति उनके इस दावे की चुनौती नहीं देना चाहती।

    इस बात का दूसरा पहलू यह है कि यदि सभा ने उन्हें इस समिति में नियुक्त करने के काबिल समझा होता तो समिति अपने बीच उनकी उपस्थिति का स्वागत करती। यदि संविधान-निर्माण में उनकी कोई भूमिका नहीं थी तो निश्चित रूप से इसमें प्रारूप समिति का कोई दोष नहीं है।

    प्रारूप समिति के प्रति अपनी नफरत जताने के लिए नजीरुद्दीन ने उसे एक नया नाम दिया। वे उसे 'ड्रिलिंग कमेटी'कहते हैं। निस्संदेह नजीरुद्दीन अपने व्यंग्य पर खुश होंगे। परंतु यह साफ है कि वह नहीं जानते कि बिना कुशलता के बहने और कुशलता के साथ बहने में अंतर है। यदि प्रारूप समिति ड्रिल कर रही थी तो ऐसा कभी नहीं था कि स्थिति पर उसकी पकड़ मजबूत न हो। वह केवल यह सोचकर पानी में कांटा नहीं डाल रही थी कि संयोग से मछली फंस जाए। उसे जाने-पहचाने पानी में लक्षित मछली की तलाश थी। किसी बेहतर चीज की तलाश में रहना प्रवाह में बहना नहीं है।

    यद्यपि नजीरुद्दीन ऐसा कहकर प्रारूप समिति की तारीफ करना नहीं चाहते थे, मैं इसे तारीफ के रूप में ही लेता हूं। समिति को जो संशोधन दोषपूर्ण लगे, उन्हें वापस लेने और उनके स्थान पर बेहतर संशोधन प्रस्तावित करने की ईमानदारी और साहस न दिखाया होता तो वह अपना कर्तव्य-पालन न करने और मिथ्याभिमान की दोषी होती। यदि यह एक गलती थी तो मुझे खुशी है कि प्रारूप समिति ने ऐसी गलतियों को स्वीकार करने में संकोच नहीं किया और उन्हें ठीक करने के लिए कदम उठाए।

    यह देखकर मुझे प्रसन्नता होती है कि प्रारूप समिति द्वारा किए गए कार्य की प्रशंसा करने में एक अकेले सदस्य को छोड़कर संविधान सभा के सभी सदस्य एकमत थे। मुझे विश्वास है कि अपने श्रम की इतनी सहज और उदार प्रशंसा से प्रारूप समिति को प्रसन्नता होगी। सभा के सदस्यों और प्रारूप समिति के मेरे सहयोगियों द्वारा मुक्त कंठ से मेरी जो प्रशंसा की गई है, उससे मैं इतना अभिभूत हो गया हूं कि अपनी कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए मेरे पास पर्याप्त शब्द नहीं हैं। संविधान सभा में आने के पीछे मेरा उद्देश्य अनुसूचित जातियों के हितों की रक्षा करने से अधिक कुछ नहीं था।

    मुझे दूर तक यह कल्पना नहीं थी कि मुझे अधिक उत्तरदायित्वपूर्ण कार्य सौंपा जाएगा। इसीलिए, उस समय मुझे घोर आश्चर्य हुआ, जब सभा ने मुझे प्रारूप समिति के लिए चुन लिया। जब प्रारूप समिति ने मुझे उसका अध्यक्ष निर्वाचित किया तो मेरे लिए यह आश्चर्य से भी परे था। प्रारूप समिति में मेरे मित्र सर अल्लादि कृष्णास्वामी अय्यर जैसे मुझसे भी बड़े, श्रेष्ठतर और अधिक कुशल व्यक्ति थे। मुझ पर इतना विश्वास रखने, मुझे अपना माध्यम बनाने एवं देश की सेवा का अवसर देने के लिए मैं संविधान सभा और प्रारूप समिति का अनुगृहीत हूं। (करतल-ध्वनि)

    जो श्रेय मुझे दिया गया है, वास्तव में उसका हकदार मैं नहीं हूं। वह श्रेय संविधान सभा के संवैधानिक सलाहकार सर बी.एन. राव को जाता है, जिन्होंने प्रारूप समिति के विचारार्थ संविधान का एक सच्चा प्रारूप तैयार किया। श्रेय का कुछ भाग प्रारूप समिति के सदस्यों को भी जाना चाहिए जिन्होंने, जैसे मैंने कहा, 141 बैठकों में भाग लिया और नए फॉर्मूले बनाने में जिनकी दक्षता तथा विभिन्न दृष्टिकोणों को स्वीकार करके उन्हें समाहित करने की सामथ्र्य के बिना संविधान-निर्माण का कार्य सफलता की सीढ़ियां नहीं चढ़ सकता था।

    श्रेय का एक बड़ा भाग संविधान के मुख्य ड्राफ्ट्समैन एस.एन. मुखर्जी को जाना चाहिए। जटिलतम प्रस्तावों को सरलतम व स्पष्टतम कानूनी भाषा में रखने की उनकी सामथ्र्य और उनकी कड़ी मेहनत का जोड़ मिलना मुश्किल है। वह सभा के लिए एक संपदा रहे हैं। उनकी सहायता के बिना संविधान को अंतिम रूप देने में सभा को कई वर्ष और लग जाते। मुझे मुखर्जी के अधीन कार्यरत कर्मचारियों का उल्लेख करना नहीं भूलना चाहिए, क्योंकि मैं जानता हूं कि उन्होंने कितनी बड़ी मेहनत की है और कितना समय, कभी-कभी तो आधी रात से भी अधिक समय दिया है। मैं उन सभी के प्रयासों और सहयोग के लिए उन्हें धन्यवाद देना चाहता हूं। (करतल-ध्वनि)

    यदि यह संविधान सभा 'भानुमति का कुनबा'होती, एक बिना सीमेंट वाला कच्चा फुटपाथ, जिसमें एक काला पत्थर यहां और एक सफेद पत्थर वहां लगा होता और उसमें प्रत्येक सदस्य या गुट अपनी मनमानी करता तो प्रारूप समिति का कार्य बहुत कठिन हो जाता। तब अव्यवस्था के सिवाय कुछ न होता। अव्यवस्था की संभावना सभा के भीतर कांग्रेस पार्टी की उपस्थिति से शून्य हो गई, जिसने उसकी कार्रवाईयों में व्यवस्था और अनुशासन पैदा कर दिया। यह कांग्रेस पार्टी के अनुशासन का ही परिणाम था कि प्रारूप समिति के प्रत्येक अनुच्छेद और संशोधन की नियति के प्रति आश्वस्त होकर उसे सभा में प्रस्तुत कर सकी। इसीलिए सभा में प्रारूप संविधान के सुगमता से पारित हो जाने का सारा श्रेय कांग्रेस पार्टी को जाता है।

    यदि इस संविधान सभा के सभी सदस्य पार्टी अनुशासन के आगे घुटने टेक देते तो उसकी कार्रवाइयां बहुत फीकी होतीं। अपनी संपूर्ण कठोरता में पार्टी अनुशासन सभा को जीहुजूरियों के जमावड़े में बदल देता। सौभाग्यवश, उसमें विद्रोही थे। वे थे कामत, डा. पी.एस. देशमुख, सिधवा, प्रो. सक्सेना और पं. ठाकुरदास भार्गव। इनके साथ मुझे प्रो. के.टी. शाह और पं. हृदयनाथ कुंजरू का भी उल्लेख करना चाहिए। उन्होंने जो बिंदु उठाए, उनमें से अधिकांश विचारात्मक थे।

    यह बात कि मैं उनके सुझावों को मानने के लिए तैयार नहीं था, उनके सुझावों की महत्ता को कम नहीं करती और न सभा की कार्रवाइयों को जानदार बनाने में उनके योगदान को कम आंकती है। मैं उनका कृतज्ञ हूं। उनके बिना मुझे संविधान के मूल सिद्धांतों की व्याख्या करने का अवसर न मिला होता, जो संविधान को यंत्रवत् पारित करा लेने से अधिक महत्वपूर्ण था।

    और अंत में, राष्ट्रपति महोदय, जिस तरह आपने सभा की कार्रवाई का संचालन किया है, उसके लिए मैं आपको धन्यवाद देता हूं। आपने जो सौजन्य और समझ सभा के सदस्यों के प्रति दर्शाई है वे उन लोगों द्वारा कभी भुलाई नहीं जा सकती, जिन्होंने इस सभा की कार्रवाईयों में भाग लिया है। ऐसे अवसर आए थे, जब प्रारूप समिति के संशोधन ऐसे आधारों पर अस्वीकृत किए जाने थे, जो विशुद्ध रूप से तकनीकी प्रकृति के थे। मेरे लिए वे क्षण बहुत आकुलता से भरे थे, इसलिए मैं विशेष रूप से आपका आभारी हूं कि आपने संविधान-निर्माण के कार्य में यांत्रिक विधिवादी रवैया अपनाने की अनुमति नहीं दी।

    संविधान का जितना बचाव किया जा सकता था, वह मेरे मित्रों सर अल्लादि कृष्णास्वामी अय्यर और टी.टी. कृष्णमाचारी द्वारा किया जा चुका है, इसलिए मैं संविधान की खूबियों पर बात नहीं करूंगा। क्योंकि मैं समझता हूं कि संविधान चाहे जितना अच्छा हो, वह बुरा साबित हो सकता है, यदि उसका अनुसरण करने वाले लोग बुरे हों।

    एक संविधान चाहे जितना बुरा हो, वह अच्छा साबित हो सकता है, यदि उसका पालन करने वाले लोग अच्छे हों। संविधान की प्रभावशीलता पूरी तरह उसकी प्रकृति पर निर्भर नहीं है। संविधान केवल राज्य के अंगों - जैसे विधायिका, कार्यपालिका और न्यायपालिका - का प्रावधान कर सकता है। राज्य के इन अंगों का प्रचालन जिन तत्वों पर निर्भर है, वे हैं जनता और उनकी आकांक्षाओं तथा राजनीति को संतुष्ट करने के उपकरण के रूप में उनके द्वारा गठित राजनीतिक दल।

    यह कौन कह सकता है कि भारत की जनता और उनके दल किस तरह का आचरण करेंगे? अपने उद्देश्यों की पूर्ति के लिए क्या वे संवैधानिक तरीके इस्तेमाल करेंगे या उनके लिए क्रांतिकारी तरीके अपनाएंगे? यदि वे क्रांतिकारी तरीके अपनाते हैं तो संविधान चाहे जितना अच्छा हो, यह बात कहने के लिए किसी ज्योतिषी की आवश्यकता नहीं कि वह असफल रहेगा। इसलिए जनता और उनके राजनीतिक दलों की संभावित भूमिका को ध्यान में रखे बिना संविधान पर कोई राय व्यक्त करना उपयोगी नहीं है।

    संविधान की निंदा मुख्य रूप से दो दलों द्वारा की जा रही है - कम्युनिस्ट पार्टी और सोशलिस्ट पार्टी। वे संविधान की निंदा क्यों करते हैं? क्या इसलिए कि वह वास्तव में एक बुरा संविधान है? मैं कहूंगा, नहीं। कम्युनिस्ट पार्टी सर्वहारा की तानाशाही के सिद्धांत पर आधारित संविधान चाहती है। वे संविधान की निंदा इसलिए करते हैं कि वह संसदीय लोकतंत्र पर आधारित है। सोशलिस्ट दो बातें चाहते हैं। पहली तो वे चाहते हैं कि संविधान यह व्यवस्था करे कि जब वे सत्ता में आएं तो उन्हें इस बात की आजादी हो कि वे मुआवजे का भुगतान किए बिना समस्त निजी संपत्ति का राष्ट्रीयकरण या सामाजिकरण कर सकें। सोशलिस्ट जो दूसरी चीज चाहते हैं, वह यह है कि संविधान में दिए गए मूलभत अधिकार असीमित होने चाहिए, ताकि यदि उनकी पार्टी सत्ता में आने में असफल रहती है तो उन्हें इस बात की आजादी हो कि वे न केवल राज्य की निंदा कर सकें, बल्कि उसे उखाड़ फेंकें।

    मुख्य रूप से ये ही वे आधार हैं, जिन पर संविधान की निंदा की जा रही है। मैं यह नहीं कहता कि संसदीय प्रजातंत्र राजनीतिक प्रजातंत्र का एकमात्र आदर्श स्वरूप है। मैं यह नहीं कहता कि मुआवजे का भुगतान किए बिना निजी संपत्ति अधिगृहीत न करने का सिद्धांत इतना पवित्र है कि उसमें कोई बदलाव नहीं किया जा सकता। मैं यह भी नहीं कहता कि मौलिक अधिकार कभी असीमित नहीं हो सकते और उन पर लगाई गई सीमाएं कभी हटाई नहीं जा सकतीं। मैं जो कहता हूं, वह यह है कि संविधान में अंतनिर्हित सिद्धांत वर्तमान पीढ़ी के विचार हैं। यदि आप इसे अत्युक्ति समझें तो मैं कहूंगा कि वे संविधान सभा के सदस्यों के विचार हैं। उन्हें संविधान में शामिल करने के लिए प्रारूप समिति को क्यों दोष दिया जाए? मैं तो कहता हूं कि संविधान सभा के सदस्यों को भी क्यों दोष दिया जाए? इस संबंध में महान अमेरिकी राजनेता जेफरसन ने बहुत सारगर्भित विचार व्यक्त किए हैं, कोई भी संविधान-निर्माता जिनकी अनदेखी नहीं कर सकते। एक स्थान पर उन्होंने कहा है -

    हम प्रत्येक पीढ़ी को एक निश्चित राष्ट्र मान सकते हैं, जिसे बहुमत की मंशा के द्वारा स्वयं को प्रतिबंधित करने का अधिकार है; परंतु जिस तरह उसे किसी अन्य देश के नागरिकों को प्रतिबंधित करने का अधिकार नहीं है, ठीक उसी तरह भावी पीढ़ियों को बांधने का अधिकार भी नहीं है।

    एक अन्य स्थान पर उन्होंने कहा है - "राष्ट्र के उपयोग के लिए जिन संस्थाओं की स्थापना की गई, उन्हें अपने कृत्यों के लिए उत्तरदायी बनाने के लिए भी उनके संचालन के लिए नियुक्त लोगों के अधिकारों के बारे में भ्रांत धारणाओं के अधीन यह विचार कि उन्हें छेड़ा या बदला नहीं जा सकता, एक निरंकुश राजा द्वारा सत्ता के दुरुपयोग के खिलाफ एक सराहनीय प्रावधान हो सकता है, परंतु राष्ट्र के लिए वह बिल्कुल बेतुका है। फिर भी हमारे अधिवक्ता और धर्मगुरु यह मानकर इस सिद्धांत को लोगों के गले उतारते हैं कि पिछली पीढ़ियों की समझ हमसे कहीं अच्छी थी। उन्हें वे कानून हम पर थोपने का अधिकार था, जिन्हें हम बदल नहीं सकते थे और उसी प्रकार हम भी ऐसे कानून बनाकर उन्हें भावी पीढ़ियों पर थोप सकते हैं, जिन्हें बदलने का उन्हें भी अधिकार नहीं होगा। सारांश यह कि धरती पर मृत व्यक्तियों का हक है, जीवित व्यक्तियों का नहीं।

    मैं यह स्वीकार करता हूं कि जो कुछ जेफरसन ने कहा, वह केवल सच ही नहीं, परम सत्य है। इस संबंध में कोई संदेह हो ही नहीं सकता। यदि संविधान सभा ने जेफरसन के उस सिद्धांत से भिन्न रुख अपनाया होता तो वह निश्चित रूप से दोष बल्कि निंदा की भागी होती। परंतु मैं पूछता हूं कि क्या उसने सचमुच ऐसा किया है? इससे बिल्कुल विपरीत। कोई केवल संविधान के संशोधन संबंधी प्रावधान की जांच करें। सभा न केवल कनाडा की तरह संविधान संशोधन संबंधी जनता के अधिकार को नकारने के जरिए या आस्ट्रेलिया की तरह संविधान संशोधन को असाधारण शर्तो की पूर्ति के अधीन बनाकर उस पर अंतिमता और अमोघता की मुहर लगाने से बची है, बल्कि उसने संविधान संशोधन की प्रक्रिया को सरलतम बनाने के प्रावधान भी किए हैं।

    मैं संविधान के किसी भी आलोचक को यह साबित करने की चुनौती देता हूं कि भारत में आज बनी हुई स्थितियों जैसी स्थितियों में दुनिया की किसी संविधान सभा ने संविधान संशोधन की इतनी सुगम प्रक्रिया के प्रावधान किए हैं! जो लोग संविधान से असंतुष्ट हैं, उन्हें केवल दो-तिहाई बहुमत भी प्राप्त करना है और वयस्क मताधिकार के आधार पर यदि वे संसद में दो-तिहाई बहुमत भी प्राप्त नहीं कर सकते तो संविधान के प्रति उनके असंतोष को जन-समर्थन प्राप्त है, ऐसा नहीं माना जा सकता।

    संवैधानिक महत्व का केवल एक बिंदु ऐसा है, जिस पर मैं बात करना चाहूंगा। इस आधार पर गंभीर शिकायत की गई है कि संविधान में केंद्रीयकरण पर बहुत अधिक बल दिया गया है और राज्यों की भूमिका नगरपालिकाओं से अधिक नहीं रह गई है। यह स्पष्ट है कि यह दृष्टिकोण न केवल अतिशयोक्तिपूर्ण है बल्कि संविधान के अभिप्रायों के प्रति भ्रांत धारणाओं पर आधारित है। जहां तक केंद्र और राज्यों के बीच संबंध का सवाल है, उसके मूल सिद्धांत पर ध्यान देना आवश्यक है। संघवाद का मूल सिद्धांत यह है कि केंद्र और राज्यों के बीच विधायी और कार्यपालक शक्तियों का विभाजन केंद्र द्वारा बनाए गए किसी कानून के द्वारा नहीं बल्कि स्वयं संविधान द्वारा किया जाता है। संविधान की व्यवस्था इस प्रकार है। हमारे संविधान के अंतर्गत अपनी विधायी या कार्यपालक शक्तियों के लिए राज्य किसी भी तरह से केंद्र पर निर्भर नहीं है। इस विषय में केंद्र और राज्य समानाधिकारी हैं।

    यह समस्या कठिन है कि ऐसे संविधान को केंद्रवादी कैसे कहा जा सकता है। यह संभव है कि संविधान किसी अन्य संघीय संविधान के मुकाबले विधायी और कार्यपालक प्राधिकार के उपयोग के विषय में केंद्र के लिए कहीं अधिक विस्तृत क्षेत्र निर्धारित करता हो। यह भी संभव है कि अवशिष्ट शक्तियां केंद्र को दी गई हो, राज्यों को नहीं। परंतु ये व्यवस्थाएं संघवाद का मर्म नहीं है। जैसा मैंने कहा, संघवाद का प्रमुख लक्षण केंद्र और इकाइयों के बीच विधायी और कार्यपालक शक्तियों का संविधान द्वारा किया गया विभाजन है। यह सिद्धांत हमारे संविधान में सन्निहित है। इस संबंध में कोई भूल नहीं हो सकती। इसलिए, यह कल्पना गलत होगा कि राज्यों को केंद्र के अधीन रखा गया है। केंद्र अपनी ओर से इस विभाजन की सीमा-रेखा को परिवर्तित नहीं कर सकता और न न्यायपालिका ऐसा कर सकती है। क्योंकि, जैसा बहुत सटीक रूप से कहा गया है-

    "अदालतें मामूली हेर-फेर कर सकती हैं, प्रतिस्थापित नहीं कर सकतीं। वे पूर्व व्याख्याओं को नए तर्को का स्वरूप दे सकती हैं, नए दृष्टिकोण प्रस्तुत कर सकती हैं, वे सीमांत मामलों में विभाजक रेखा को थोड़ा खिसका सकती हैं, परंतु ऐसे अवरोध हैं, जिन्हें वे पार नहीं कर सकती, शक्तियों का सुनिश्चित निर्धारण है, जिन्हें वे पुनरावंटित नहीं कर सकतीं। वे वर्तमान शक्तियों का क्षेत्र बढ़ा सकती हैं, परंतु एक प्राधिकारी को स्पष्ट रूप से प्रदान की गई शक्तियों को किसी अन्य प्राधिकारी को हस्तांतरित नहीं कर सकतीं।"

    इसलिए, संघवाद को कमजोर बनाने का पहला आरोप स्वीकार्य नहीं है।

    दूसरा आरोप यह है कि केंद्र को ऐसी शक्तियां प्रदान की गई हैं, जो राज्यों की शक्तियों का अतिक्रमण करती हैं। यह आरोप स्वीकार किया जाना चाहिए। परंतु केंद्र की शक्तियों को राज्य की शक्तियों से ऊपर रखने वाले प्रावधानों के लिए संविधान की निंदा करने से पहले कुछ बातों को ध्यान में रखना चाहिए। पहली यह कि इस तरह की अभिभावी शक्तियां संविधान के सामान्य स्वरूप का अंग नहीं हैं। उनका उपयोग और प्रचालन स्पष्ट रूप से आपातकालीन स्थितियों तक सीमित किया गया है।

    ध्यान में रखने योग्य दूसरी बात है- आपातकालीन स्थितियों से निपटने के लिए क्या हम केंद्र को अभिभावी शक्तियां देने से बच सकते हैं? जो लोग आपातकालीन स्थितियों में भी केंद्र को ऐसी अभिभावी शक्तियां दिए जाने के पक्ष में नहीं हैं वे इस विषय के मूल में छिपी समस्या से ठीक से अवगत प्रतीत नहीं होते। इस समस्या का सुविख्यात पत्रिका 'द राउंड टेबल'के दिसंबर 1935 के अंक में एक लेखक द्वारा इतनी स्पष्टता से बचाव किया गया है कि मैं उसमें से यह उद्धरण देने के लिए क्षमाप्रार्थी नहीं हूं। लेखक कहते हैं-

    "राजनीतिक प्रणालियां इस प्रश्न पर अवलंबित अधिकारों और कर्तव्यों का एक मिश्रण हैं कि एक नागरिक किस व्यक्ति या किस प्राधिकारी के प्रति निष्ठावान् रहे। सामान्य क्रियाकलापों में यह प्रश्न नहीं उठता, क्योंकि सुचारु रूप से अपना कार्य करता है और एक व्यक्ति अमुक मामलों में एक प्राधिकारी और अन्य मामलों में किसी अन्य प्राधिकारी के आदेश का पालन करता हुआ अपने काम निपटाता है। परंतु एक आपातकालीन स्थिति में प्रतिद्वंद्वी दावे पेश किए जा सकते हैं और ऐसी स्थिति में यह स्पष्ट है कि अंतिम प्राधिकारी के प्रति निष्ठा अविभाज्य है। निष्ठा का मुद्दा अंतत: संविधियों की न्यायिक व्याख्याओं से निर्णीत नहीं किया जा सकता। कानून को तथ्यों से समीचीन होना चाहिए, अन्यथा वह प्रभावी नहीं होगा। यदि सारी प्रक्रियात्मक औपचारिकताओं को एक तरफ कर दिया जाए तो निरा प्रश्न यह होगा कि कौन सा प्राधिकारी एक नागरिक की अवशिष्ट निष्ठा का हकदार है। वह केंद्र है या संविधान राज्य?"

    इस समस्या का समाधान इस सवाल, जो कि समस्या का मर्म है, के उत्तर पर निर्भर है। इसमें कोई संदेह नहीं कि अधिकांश लोगों की राय में एक आपातकालीन स्थिति में नागरिक को अवशिष्ट निष्ठा अंगभूत राज्यों के बजाय केंद्र को निर्देशित होनी चाहिए, क्योंकि वह केंद्र ही है, जो सामूहिक उद्देश्य और संपूर्ण देश के सामान्य हितों के लिए कार्य कर सकता है।

    एक आपातकालीन स्थिति में केंद्र की अभिभावी शक्तियां प्रदान करने का यही औचित्य है। वैसे भी, इन आपातकालीन शक्तियों से अंगभूत राज्यों पर कौन सा दायित्व थोपा गया है कि एक आपातकालीन स्थिति में उन्हें अपने स्थानीय हितों के साथ-साथ संपूर्ण राष्ट्र के हितों और मतों का भी ध्यान रखना चाहिए- इससे अधिक कुछ नहीं। केवल वही लोग, जो इस समस्या को समझे नहीं हैं, उसके खिलाफ शिकायत कर सकते हैं।

    यहां पर मैं अपनी बात समाप्त कर देता, परंतु हमारे देश के भविष्य के बारे में मेरा मन इतना परिपूर्ण है कि मैं महसूस करता हूं, उस पर अपने कुछ विचारों को आपके सामने रखने के लिए इस अवसर का उपयोग करूं। 26 जनवरी, 1950 को भारत एक स्वतंत्र राष्ट्र होगा। (करतल ध्वनि) उसकी स्वतंत्रता का भविष्य क्या है? क्या वह अपनी स्वतंत्रता बनाए रखेगा या उसे फिर खो देगा? मेरे मन में आने वाला यह पहला विचार है।

    यह बात नहीं है कि भारत कभी एक स्वतंत्र देश नहीं था। विचार बिंदु यह है कि जो स्वतंत्रता उसे उपलब्ध थी, उसे उसने एक बार खो दिया था। क्या वह उसे दूसरी बार खो देगा? यही विचार है जो मुझे भविष्य को लेकर बहुत चिंतित कर देता है। यह तथ्य मुझे और भी व्यथित करता है कि न केवल भारत ने पहले एक बार स्वतंत्रता खोई है, बल्कि अपने ही कुछ लोगों के विश्वासघात के कारण ऐसा हुआ है।

    सिंध पर हुए मोहम्मद-बिन-कासिम के हमले से राजा दाहिर के सैन्य अधिकारियों ने मुहम्मद-बिन-कासिम के दलालों से रिश्वत लेकर अपने राजा के पक्ष में लड़ने से इनकार कर दिया था। वह जयचंद ही था, जिसने भारत पर हमला करने एवं पृथ्वीराज से लड़ने के लिए मुहम्मद गोरी को आमंत्रित किया था और उसे अपनी व सोलंकी राजाओं को मदद का आश्वासन दिया था। जब शिवाजी हिंदुओं की मुक्ति के लिए लड़ रहे थे, तब कोई मराठा सरदार और राजपूत राजा मुगल शहंशाह की ओर से लड़ रहे थे।

    जब ब्रिटिश सिख शासकों को समाप्त करने की कोशिश कर रहे थे तो उनका मुख्य सेनापति गुलाबसिंह चुप बैठा रहा और उसने सिख राज्य को बचाने में उनकी सहायता नहीं की। सन् 1857 में जब भारत के एक बड़े भाग में ब्रिटिश शासन के खिलाफ स्वातं˜य युद्ध की घोषणा की गई थी तब सिख इन घटनाओं को मूक दर्शकों की तरह खड़े देखते रहे।

    क्या इतिहास स्वयं को दोहराएगा? यह वह विचार है, जो मुझे चिंता से भर देता है। इस तथ्य का एहसास होने के बाद यह चिंता और भी गहरी हो जाती है कि जाति व धर्म के रूप में हमारे पुराने शत्रुओं के अतिरिक्त हमारे यहां विभिन्न और विरोधी विचारधाराओं वाले राजनीतिक दल होंगे। क्या भारतीय देश को अपने मताग्रहों से ऊपर रखेंगे या उन्हें देश से ऊपर समझेंगे? मैं नहीं जानता। परंतु यह तय है कि यदि पार्टियां अपने मताग्रहों को देश से ऊपर रखेंगे तो हमारी स्वतंत्रता संकट में पड़ जाएगी और संभवत: वह हमेशा के लिए खो जाए। हम सबको दृढ़ संकल्प के साथ इस संभावना से बचना है। हमें अपने खून की आखिरी बूंद तक अपनी स्वतंत्रता की रक्षा करनी है। (करतल ध्वनि)

    26 जनवरी, 1950 को भारत इस अर्थ में एक प्रजातांत्रिक देश बन जाएगा कि उस दिन से भारत में जनता की जनता द्वारा और जनता के लिए बनी एक सरकार होगी। यही विचार मेरे मन में आता है। उसके प्रजातांत्रिक संविधान का क्या होगा? क्या वह उसे बनाए रखेगा या उसे फिर से खो देगा? मेरे मन में आने वाला यह दूसरा विचार है और यह भी पहले विचार जितना ही चिंताजनक है।

    यह बात नहीं है कि भारत ने कभी प्रजातंत्र को जाना ही नहीं। एक समय था, जब भारत गणतंत्रों से भरा हुआ था और जहां राजसत्ताएं थीं वहां भी या तो वे निर्वाचित थीं या सीमित। वे कभी भी निरंकुश नहीं थीं। यह बात नहीं है कि भारत संसदों या संसदीय क्रियाविधि से परिचित नहीं था। बौद्ध भिक्षु संघों के अध्ययन से यह पता चलता है कि न केवल संसदें- क्योंकि संघ संसद के सिवाय कुछ नहीं थे- थीं बल्कि संघ संसदीय प्रक्रिया के उन सब नियमों को जानते और उनका पालन करते थे, जो आधुनिक युग में सर्वविदित है।

    सदस्यों के बैठने की व्यवस्था, प्रस्ताव रखने, कोरम व्हिप, मतों की गिनती, मतपत्रों द्वारा वोटिंग, निंदा प्रस्ताव, नियमितीकरण आदि संबंधी नियम चलन में थे। यद्यपि संसदीय प्रक्रिया संबंधी ये नियम बुद्ध ने संघों की बैठकों पर लागू किए थे, उन्होंने इन नियमों को उनके समय में चल रही राजनीतिक सभाओं से प्राप्त किया होगा।

    भारत ने यह प्रजातांत्रिक प्रणाली खो दी। क्या वह दूसरी बार उसे खोएगा? मैं नहीं जानता, परंतु भारत जैसे देश में यह बहुत संभव है- जहां लंबे समय से उसका उपयोग न किए जाने को उसे एक बिलकुल नई चीज समझा जा सकता है- कि तानाशाही प्रजातंत्र का स्थान ले ले। इस नवजात प्रजातंत्र के लिए यह बिलकुल संभव है कि वह आवरण प्रजातंत्र का बनाए रखे, परंतु वास्तव में वह तानाशाही हो। चुनाव में महाविजय की स्थिति में दूसी संभावना के यथार्थ बनने का खतरा अधिक है।

    प्रजातंत्र को केवल बाह्य स्वरूप में ही नहीं बल्कि वास्तव में बनाए रखने के लिए हमें क्या करना चाहिए? मेरी समझ से, हमें पहला काम यह करना चाहिए कि अपने सामाजिक और आर्थिक लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए निष्ठापूर्वक संवैधानिक उपायों का ही सहारा लेना चाहिए। इसका अर्थ है, हमें क्रांति का खूनी रास्ता छोड़ना होगा। इसका अर्थ है कि हमें सविनय अवज्ञा आंदोलन, असहयोग और सत्याग्रह के तरीके छोड़ने होंगे। जब आर्थिक और सामाजिक लक्ष्यों को प्राप्त करने का कोई संवैधानिक उपाय न बचा हो, तब असंवैधानिक उपाय उचित जान पड़ते हैं। परंतु जहां संवैधानिक उपाय खुले हों, वहां इन असंवैधानिक उपायों का कोई औचित्य नहीं है। ये तरीके अराजकता के व्याकरण के सिवाय कुछ भी नहीं हैं और जितनी जल्दी इन्हें छोड़ दिया जाए, हमारे लिए उतना ही अच्छा है।

    दूसरी चीज जो हमें करनी चाहिए, वह है जॉन स्टुअर्ट मिल की उस चेतावनी को ध्यान में रखना, जो उन्होंने उन लोगों को दी है, जिन्हें प्रजातंत्र को बनाए रखने में दिलचस्पी है, अर्थात् "अपनी स्वतंत्रता को एक महानायक के चरणों में भी समर्पित न करें या उस पर विश्वास करके उसे इतनी शक्तियां प्रदान न कर दें कि वह संस्थाओं को नष्ट करने में समर्थ हो जाए।"

    उन महान व्यक्तियों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने में कुछ गलत नहीं है, जिन्होंने जीवनर्पयत देश की सेवा की हो। परंतु कृतज्ञता की भी कुछ सीमाएं हैं। जैसा कि आयरिश देशभक्त डेनियल ओ कॉमेल ने खूब कहा है, "कोई पुरूष अपने सम्मान की कीमत पर कृतज्ञ नहीं हो सकता, कोई महिला अपने सतीत्व की कीमत पर कृतज्ञ नहीं हो सकती और कोई राष्ट्र अपनी स्वतंत्रता की कीमत पर कृतज्ञ नहीं हो सकता।"यह सावधानी किसी अन्य देश के मुकाबले भारत के मामले में अधिक आवश्यक है, क्योंकि भारत में भक्ति या नायक-पूजा उसकी राजनीति में जो भूमिका अदा करती है, उस भूमिका के परिणाम के मामले में दुनिया का कोई देश भारत की बराबरी नहीं कर सकता। धर्म के क्षेत्र में भक्ति आत्मा की मुक्ति का मार्ग हो सकता है, परंतु राजनीति में भक्ति या नायक पूजा पतन और अंतत: तानाशाही का सीधा रास्ता है।

    तीसरी चीज जो हमें करनी चाहिए, वह है कि मात्र राजनीतिक प्रजातंत्र पर संतोष न करना। हमें हमारे राजनीतिक प्रजातंत्र को एक सामाजिक प्रजातंत्र भी बनाना चाहिए। जब तक उसे सामाजिक प्रजातंत्र का आधार न मिले, राजनीतिक प्रजातंत्र चल नहीं सकता। सामाजिक प्रजातंत्र का अर्थ क्या है ? वह एक ऐसी जीवन-पद्धति है जो स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व को जीवन के सिद्धांतों के रूप में स्वीकार करती है। स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व के इन सिद्धांतों को एक त्रयी के भिन्न घटकों के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए। वे इस अर्थ में एक एकात्मक त्रयी बनते हैं कि एक से विमुख होकर दूसरे के पालन करने से प्रजातंत्र का लक्ष्य ही प्राप्त नहीं होगा।

    स्वतंत्रता को समानता से अलग नहीं किया जा सकता और न समानता को स्वतंत्रता से। इसी तरह, स्वतंत्रता और समानता को बंधुत्व से अलग नहीं किया जा सकता। समानता के बिना स्वतंत्रता बहुजन पर कुछ लोगों का दबदबा बना देगी। स्वतंत्रता के बिना समानता व्यक्तिगत उपक्रम को समाप्त कर देगी। बंधुत्व के बिना स्वतंत्रता और समानता सहज नहीं लगेंगी। उन्हें लागू करने के लिए हमेशा एक कांस्टेबल की जरूरत होगी। हमें इस तथ्य की स्वीकृति से आरंभ करना चाहिए कि भारतीय समाज में दो चीजों का नितांत अभाव है। उनमें से एक है समानता। सामाजिक धरातल पर भारत में बहुस्तरीय असमानता है- अर्थात् कुछ को विकास के अवसर और अन्य को पतन के। आर्थिक धरातल पर हमारे समाज में कुछ लोग हैं, जिनके पास अकूत संपत्ति है और बहुत लोग घोर दरिद्रता में जीवन बिता रहे हैं।

    26 जनवरी, 1950 को हम एक विरोधाभासी जीवन में प्रवेश करने जा रहे हैं। हमारी राजनीति में समानता होगी और हमारे सामाजिक व आर्थिक जीवन में असमानता। राजनीति में हम एक व्यक्ति एक वोट और हर वोट का समान मूल्य के सिद्धांत पर चल रहे होंगे। परंतु अपने सामाजिक एवं आर्थिक जीवन में हमारे सामाजिक एवं आर्थिक ढांचे के कारण हर व्यक्ति एक मूल्य के सिद्धांत को नकार रहे होंगे। इस विरोधाभासी जीवन को हम कब तक जीते रहेंगे? कब तक हम अपने सामाजिक और आर्थिक जीवन में समानता को नकारते रहेंगे? यदि हम इसे नकारना जारी रखते हैं तो हम केवल अपने राजनीतिक प्रजातंत्र को संकट में डाल रहे होंगे। हमें जितनी जल्दी हो सके, इस विरोधाभास को समाप्त करना होगा, अन्यथा जो लोग इस असमानता से पीड़ित हैं, वे उस राजनीतिक प्रजातंत्र को उखाड़ फेंकेंगे, जिसे इस सभा ने इतने परिश्रम से खड़ा किया है।

    दूसरी चीज जो हम चाहते हैं, वह है बंधुत्व के सिद्धांत पर चलना। बंधुत्व का अर्थ क्या है? बंधुत्व का अर्थ है- सभी भारतीयों के बीच एक सामान्य भाईचारे का अहसास। यह एक ऐसा सिद्धांत है, जो हमारे सामाजिक जीवन को एकजुटता प्रदान करता है। इसे हासिल करना एक कठिन कार्य है। यह कितना कठिन कार्य है, इसे जेम्स ब्रायस द्वारा संयुक्त राज्य अमेरिका से संबंधित अमेरिकन राष्ट्रमंडल पर लिखी पुस्तक में दी गई कहानी से समझा जा सकता है।

    कहानी है-मैं इसे स्वयं ब्रायस के शब्दों में ही उसे सुनाना चाहूंगा- कुछ साल पहले अमेरिकन प्रोटेस्टेंट एपिस्कोपल चर्च अपने त्रैवार्षिक सम्मेलन में अपनी उपासना पद्धति संशोधित कर रहा था। छोटी पंक्तियों वाली प्रार्थनाओं में समस्त नागरिकों के लिए एक प्रार्थना को शामिल करना वांछनीय समझा गया और एक प्रतिष्ठित मॉर्डन इंग्लैंड के एक धर्मगुरु ने ये शब्द सुझाए- 'हे ईश्वर! हमारे राष्ट्र पर कृपा कर।'दोपहर को तत्क्षण स्वीकार किया गया यह वाक्य अगले दिन पुनर्विचार के लिए प्रस्तुत किया गया तो जनसाधारण द्वारा 'राष्ट्र'शब्द पर इस आधार पर इतनी आपत्तियां उठाई गई कि यह शब्द राष्ट्रीय एकता पर जरूरत से ज्यादा जोर देता है कि उसे त्यागना पड़ा और उसके स्थान पर ये शब्द स्वीकृत किए गए, 'हे ईश्वर! इन संयुक्त राज्यों पर कृपा कर।'

    जब यह घटना हुई तब यूएसए में इतनी कम एकता थी कि अमेरिका की जनता यह नहीं मानती थी कि वे एक राष्ट्र हैं। यदि अमेरिका की जनता यह महसूस नहीं करती थी कि वे एक राष्ट्र हैं तो भारतीयों के लिए यह सोचना कितना कठिन है कि वे एक राष्ट्र हैं। मुझे उन दिनों की याद है, जब राजनीतिक रूप से जागरूक भारतीय 'भारत की जनता'- इस अभिव्यक्ति पर अप्रसन्नता व्यक्त करते थे। उन्हें 'भारतीय राष्ट्र'कहना अधिक पसंद था। मेरे विचार से, यह सोचना कि हम एक राष्ट्र हैं, एक बहुत बड़ा भ्रम है।

    हजारों जातियों में विभाजित लोग कैसे एक राष्ट्र हो सकते हैं, जितनी जल्दी हम यह समझ लें कि इस शब्द के सामाजिक और मनोवैज्ञानिक अर्थ में हम अब तक एक राष्ट्र नहीं बन पाए हैं, हमारे लिए उतना ही अच्छा होगा, क्योंकि तभी हम एक राष्ट्र बनने की आवश्यकता को ठीक से समझ सकेंगे और उस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए साधन जुटा सकेंगे। इस लक्ष्य की प्राप्ति बहुत कठिन साबित होने वाली है- उससे कहीं अधिक जितनी वह अमेरिका में रही है।

    अमेरिका में जाति की समस्या नहीं है। भारत में जातियां हैं। जातियां राष्ट्र-विरोधी हैं। पहली बात तो यह कि वे सामाजिक जीवन में विभाजन लाती हैं। वे इसलिए भी राष्ट्र-विरोधी हैं कि वे जाति एवं जाति के बीच विद्वेष और वैर-भाव पैदा करती हैं। परंतु यदि हमें वास्तव में एक राष्ट्र बनना है तो इन कठिनाइयों पर विजय पानी होगी। क्योंकि बंधुत्व तभी स्थापित हो सकता है जब हमारा एक राष्ट्र हो। बंधुत्व के बिना स्वतंत्रता और समानता रंग की एक परत से अधिक गहरी नहीं होगी।

    जो कार्य हमारे सामने खड़े हैं, उन पर ये मेरे विचार हैं। कई लोगों को वे बहुत सुखद नहीं लगेंगे, परंतु इस बात का कोई खंडन नहीं कर सकता कि इस देश में राजनीतिक सत्ता कुछ लोगों का एकाधिकार रही है और बहुजन न केवल बोझ उठाने वाले बल्कि शिकार किए जाने वाले जानवरों के समान हैं। इस एकाधिकार ने न केवल उनसे विकास के अवसर छीन लिए हैं, बल्कि उन्हें जीवन के किसी भी अर्थ या रस से वंचित कर दिया है।

    ये पददलित वर्ग शासित रहते-रहते अब थक गए हैं। अब वे स्वयं शासन करने के लिए बेचैन हैं। इन कुचले हुए वर्गो में आत्म-साक्षात्कार की इस ललक को वर्ग-संघर्ष या वर्ग-युद्ध का रूप ले लेने की इजाजत नहीं दी जानी चाहिए। यह हमारे घर को विभाजित कर देगा। वह एक अनर्थकारी दिन होगा। क्योंकि जैसा अब्राहम लिंकन ने बहुत अच्छे ढंग से कहा है, "अंदर से विभाजित एक घर ज्यादा दिनों तक खड़ा नहीं रह सकता।"इसलिए, उनकी आकांक्षाओं की पूर्ति के लिए जितनी जल्दी उपयुक्त स्थितियां बना दी जाएं अल्पसंख्यक शासक वर्ग के लिए, देश के लिए, उसकी स्वतंत्रता और प्रजातांत्रिक ढांचे को बनाए रखने के लिए उतना ही अच्छा होगा। जीवन के सभी क्षेत्रों में समानता और बंधुत्व स्थापित करके ही ऐसा किया जा सकता है। इसीलिए, मैंने इन पर इतना जोर दिया है।

    मैं सदन को और अधिक उकताना नहीं चाहता। निस्संदेह, स्वतंत्रता एक आनंद का विषय है। परंतु हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि इस स्वतंत्रता ने हम पर बहुत जिम्मेदारियां डाल दी हैं। स्वतंत्रता के बाद कोई भी चीज गलत होने पर ब्रिटिश लोगों को दोष देने का बहाना समाप्त हो गया है। अब यदि कुछ गलत होता है तो हम किसी और को नहीं, स्वयं को ही दोषी ठहरा सकेंगे। हमसे गलतियां होने का खतरा बहुत बड़ा है। समय तेजी से बदल रहा है। हमारे लोगों सहित दुनिया के लोग नई विचारधाराओं से प्रेरित हो रहे हैं। लोग जनता 'द्वारा'बनाई सरकार से ऊबने लगे हैं। वे जनता के 'लिए'सरकार बनाने की तैयारी कर रहे हैं और इस बात से उदासीन हैं कि वह सरकार जनता 'द्वारा'बनाई हुई जनता 'की'सरकार है।

    यदि हम संविधान को सुरक्षित रखना चाहते हैं, जिसमें जनता की, जनता के लिए और जनता द्वारा बनाई गई सरकार का सिद्धांत प्रतिष्ठापित किया गया है तो हमें यह प्रतिज्ञा करनी चाहिए कि 'हम हमारे रास्ते खड़ी बुराइयों, जिनके कारण लोग जनता 'द्वारा'बनाई गई सरकार के बजाय जनता के लिए बनी सरकार को प्राथमिकता देते हैं, की पहचान करने और उन्हें मिटाने में ढिलाई नहीं करेंगे। 'देश की सेवा करने का यही एक रास्ता है। मैं इससे बेहतर रास्ता नहीं जानता।

    (प्रभात प्रकाशन, दिल्ली से प्रकाशित और रुद्रांक्षु मुखर्जी द्वारा संपादित पुस्तक 'भारत के महान भाषण'से साभार।)



    0 0

    Constitution Day

    Constitution Day Not Covered by TV

    I am not sure how is the proper way of getting in touch with you, Wanted to bring to your notice regarding no media house/television showed about the making of constitution on constitution day. Even today it is the death anniversary of Mahatma Jyotirao Phule but can not see any information on him.

    We all our the citizens of this nation, as a citizen we are porvided certain rights & duties by the constitution. Every year we celebrate independence day on 15th August, Republic day on 26th January & many more days. But here i would like to remind one more important day in our life & our nation's life is 26th November 1949 which is not been known to many of us. Please go through the preamble of Indian Consitution – Understand what does it say, it is majorily based on the development of all the citizens & it provides these basics such as JUSTICE, LIBERTY,EQUALITY & FRATERNITY.

     WE, THE PEOPLE OF INDIA, having solemnly resolved to constitute India into a SOVEREIGN SOCIALIST SECULAR DEMOCRATIC REPUBLIC and to secure to all its citizens: JUSTICE, social, economic and political; LIBERTY of thought, expression, belief, faith and worship; EQUALITY of status and of opportunity; and to promote among them all FRATERNITY assuring the dignity of the individual and the unity and integrity of the Nation; IN OUR CONSTITUENT ASSEMBLY this twenty-sixth day of November, 1949, do HEREBY ADOPT, ENACT AND GIVE TO OURSELVES THIS CONSTITUTION. †FUNDAMENTAL RIGHTS General ARTICLE 12. Definition 13. Laws of inconsistent with or in derogation of the fundamental rights. Right to Equality ARTICLE 14. Equality before law. 15. Prohibition of discrimination on grounds of religion,race,caste,sex or place of birth. 16. Equality of opportunity in matters of public employment. 17. Abolition of Untouchability 18. Abolition of titles. Right to Freedom ARTICLE 19. Protection of certain rights regarding freedom of speech, etc. 20. protection in respect of conviction for offences. 21. Protection of life and personal liberty. 22. Protection against arrest and detention in certain cases. Right against Exploitation ARTICLE 23. Prohibition of traffic in human beings and forced labour. 24. Prohibition of employment of children in factories, etc. Right to Freedom of Religion ARTICLE 25. Freedom of conscience and free profession, practice and propagation of religion. 26. Freedom to manage religious affairs. 27. Freedom as to payment of taxes for promotion of any particular religion. 28. Freedom as to attendance at religious instruction or religious worship in certain education institutions. Cultural and Educational Rights ARTICLE 29. Protection of interests of minorities. 30. Right of minorities to establish and administer educational institutions. 31. [Repealed.] Saving of Certain Laws ARTICLE 31A. Savings of laws providing for acquisition of estates,etc. 31B. Validation of certain Acts and Regulations 31C. Saving of laws giving effect to certain directive principles 31D. [Repealed.] Right to Constitutional Remedies ARTICLE 32. Remedies for enforcement of rights conferred by this Part. 32A. [Repealed.] 33. Power of Parliament to modify the rights conferred by this Part in their application to Forces, etc. 34. Restriction on rights conferred by this Part while martial law is in force in any area. 35. Legislation to give effect to the provisions of this Part. Apart from this rights it also provides duties for all the citizens/ leaders/ministers etc. http://en.wikipedia.org/wiki/India/98226-33763

    Thanks & Regards

    O- Babluraj Naiknavre



    इन्हें भी पढ़ना न भूलें


    हस्तक्षेप के सदस्य बनें

    Donate us


    जनपक्षधर पत्रकारिता,


    0 0

    A refugee camp seethes with anger — against the PA

    Residents of Balata, near Nablus, feel abandoned by both Abbas and the UN; meanwhile, the youth are recruited by terrorists and drug dealers

    By Avi Issacharoff November 28, 2014, 3:19 pm 13

    ·         Share on emailEmail

    ·         Share on printPrint

    ·         Share

    ·         http://www.timesofisrael.com/a-refugee-camp-seethes-with-anger-against-the-pa/?utm_source=The+Times+of+Israel+Daily+Edition&utm_campaign=1e893ec971-2014_11_28&utm_medium=email&utm_term=0_adb46cec92-1e893ec971-54446197

    ·          

    A view of the crowded Balata refugee camp in Nablus. Balata is the largest refugee camp in the West Bank, housing some 30 000 people. (Photo credit: Nati Shohat/FLASH90)

    •  

    Another winter in the Balata refugee camp. And as the years go by, nothing here changes for the better. The same poor infrastructure, overcrowding, and poverty.

    Get The Times of Israel's Daily Edition by email 
    and never miss our top stories
       FREE SIGN UP!

    Dozens of people fill the streets. It's not a holiday, just a day like any other. Overwhelming youth unemployment rates — 56 percent, according to Palestinian Authority statistics — explain why there are so many people idly wandering the alleyways.

    The largest and one of most notorious of the camps, central to the anti-Israel violence and terrorism of the first and second intifadas, Balata sits only a few kilometers from the heart of Nablus. But the gap between the camp's 30,000 residents and the city's has never been greater.

    Every time I've been here in the last 14 years, I have heard harsh statements against Israel, against the occupation. But this time, most of the complaints are directed against the Palestinian Authority and its head, Mahmoud Abbas. Even the Israeli occupation has lost its loathed primacy to the PA in the minds of the residents.

    Ahmed, 30, points at the vegetable merchant who has set up shop across from his store. "You see the crates of vegetables?" he asks. "They have been sitting there for two days. He leaves them like that at night, and sells what is left during the day. These are not vegetables that are fit for humans, and still, people don't have money to buy anything else. No one here has a permit to work in Israel, and the PA isn't helping us. Try to get a bank loan. They won't give them to camp residents."

    'What happens to the outside financial help the PA is receiving? Why doesn't it give any to the camp residents?'

    "I blame Abbas for this situation," he adds. "There are tons of drugs. Why doesn't the PA deal with it?" he asks angrily.

    His friend Samir joins our conversation. "There is no police, and there is no law. People walk around with pistols because they fear for themselves, not because of the Israelis. I ask, what happens to the outside financial help the PA is receiving? Why doesn't it give any to the camp residents? Why doesn't it invest in them? If things stay like this, if the PA continues to ignore us, the situation will ultimately lead to an explosion."

    Everyone here is talking about a conspiracy, muwamra in Arabic: a joint Israeli-PA conspiracy to weaken the camps.

    Alaa, 43, says that the camp is supposed to be run by UNRWA, the United Nations Relief and Works Agency for Palestine Refugees in the Near East. "But they have scaled back their activities in the camp drastically. They are helping the residents less, and we feel it. But the PA refuses to invest here, because they claim it is the responsibility of UNRWA and the UN. So we get screwed. We have been abandoned. The PA supports the residents of the cities and villages. But it ignores us.

    'This is no way to live; death is better… Every kind of drug you've ever heard of can be found here: hydra, ecstasy, cocaine, hashish. Whatever anyone offers the youth, they'll take'

    "Every youth who is working here is supporting at least five, six families. That's impossible. The anger against the PA is vast, and people don't have anything to lose," Alaa goes on. "Crime is rampant, drug dealers have popped up in every corner. So everyone who wants to take advantage of the situation comes to the youths and asks them to join. Whether it's Hamas, [Islamic] Jihad and other groups that want to carry out attacks, or criminals who want to enlist drug dealers."

    The tension and the sense of injustice are not new. Over decades, the residents here have developed a unique, separate sense of identity — as the most disadvantaged and oppressed members of Palestinian society. But whereas, in the past, it was Israel that oppressed them, now it is the PA. In one breath, they complain of the absence of the PA as an operating body in the camp, but in the next they emphasize that, because of locals' hostility, the PA security services cannot function in the camp as they please.

    Mahmoud Abu Jima says the situation has never been this bad. "This is no way to live; death is better. I promise you that if you give people here a salary of 3,000 shekels a month (about $780), no one will make trouble. But look at what is happening now as a result of our abandonment by the PA. Every kind of drug you've ever heard of can be found here: hydra, ecstasy, cocaine, hashish. Whatever anyone offers the youth, they'll take."

    Akhsin Kandil, 27, is an unemployed father of two. He has tried twice to get a job with the PA security services. "They said I wasn't acceptable, because I was in an Israeli prison"— he doesn't say what for — "and I am a resident of a camp. We live by Allah's will alone. We don't have salaries, we don't have help from the PA. There's nothing. We are at a dead end, and no one in the PA will listen. It wants the situation to remain like this. In the days of Arafat it wasn't like this. But with Abu Mazen [Abbas], it's different."

    No man's land

    Just ten days ago, something minor happened here that underlined how tense the relationship is between Balata residents and the PA. A camp resident kidnapped a Palestinian from nearby Kfar Kalil over a monetary dispute. The kidnap victim was held for a few hours, and the PA security services learned about it in real time.

    In order to avoid a PA police raid that would inevitably lead to violence, one of the Fatah heads in the camp, Jamal Tirawi, got involved. Tirawi is a parliamentarian who was freed from an Israeli prison 18 months ago after a six-year term (convicted as an accomplice in a 2002 suicide attack, in which the bomber left from his home to blow up Tel Aviv's Bialik Café, killing Rachel Tcherkhi and injuring 29 others). He arrived at the kidnapper's house and reached an agreement with him. The victim was returned safely to his family.

    But the PA governor of Nablus, Ikhram Rajoub, would not let the incident end there. He decided that the security services must arrest the kidnapper.

    Palestinians walk through an alley of the West Bank refugee camp of Balata, near Nablus (Photo credit: Bernat Armangue/AP)

    Palestinians walk through an alley of the West Bank refugee camp of Balata, near Nablus (Photo credit: Bernat Armangue/AP)

    "I tried to convince the governor not to do this," Jamal Tirawi said this week in his office in Nablus. "But he insisted."

    Predictably, the entrance of police into the camp led to violent clashes with the residents, including massive stone-throwing at the Palestinian officers.

    "The situation in the camps is especially bad," Tirawi explained. "UNRWA's activities in the Palestinian territories have been cut back by 80 percent. In addition, the [PA] government doesn't take care of the camp's residents. We do not feature in the plans of the government or of the municipalities. Why? That's a political question: Who will take care of the camps, the PA government or the UN? The donor nations give money to the government, but it doesn't take care of the camps, and we suffer the consequences."

    It is no secret that Tirawi is seen as a rival figure to the Fatah mainstream, and perhaps to Abbas himself. He, of course, denies it. "I am not an opposition to Abbas or Fatah. I am part of the movement. I accept and respect its leadership and its legitimacy. He is our leader. We love the rais and we are his soldiers. I help connect between him and the refugee camps, and I want him to lead the Palestinian public. I personally coordinated a meeting of all the representatives of the camps who passed their demands on to Abbas. I am only trying to improve the relationship between those in charge and the citizens."

    "Mistakes were made in the past, mainly on the executive level, and we want the PA and the public to be together, in the same place, so that we will not see what happened in Gaza repeat itself," Tirawi emphasized, referring to the violent June 2007 Hamas takeover of the Strip. "But if someone wants to paint me as the opposition, go right ahead."

    So what happened with the Palestinian police ten days ago? Why were they attacked in the camp?

    "I said it in the past and I'll say it again: We need to improve the relationship between the security forces and the citizens. Especially in the camps," said Tirawi. "The security services are supposed to serve us, the civilians, and therefore we need to establish better relations.

    I ask if he understands that for the average Israeli, the perpetuation of the refugee problem and the demand for a "right of return" for potentially millions of Palestinians to Israel are proof that there won't be peace here.

    "The refugee issue is part of the broader solution between Israel and the Palestinians," Tirawi answered. Somewhat surprisingly, he didn't recite the familiar slogans about returning to Jaffa and Ramle, Haifa and Lod. Rather, he asserted, "The issue of return became an excuse for Israel not to reach a peace deal. If we reach a two-state solution based on the 1967 lines, I am telling you, the right of return will not prevent the agreement. This will not be a reason for a peace deal's failure. For now, the negotiations between Israel and the PA are a joke. But if we reach the situation of a historic solution to the problem and not a situation of managing the conflict, the right of return will not be a barrier. This is the position of many here," he asserted.

    Still, he concluded, "if you expect me to give up on this right before the negotiations, you are mistaken."



    Read more: A refugee camp seethes with anger -- against the PA | The Times of Israel http://www.timesofisrael.com/a-refugee-camp-seethes-with-anger-against-the-pa/#ixzz3KPOBD9gx 
    Follow us: @timesofisrael on Twitter | timesofisrael on Facebook

     

     

    ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~

    R E C O N C I L I A T I O N     C O N F ER E N C E     L I S T

    since 1994  by the

    Jewish   People's  Liberation  Organization

    End  Zionism  &  Judaeophobia

    abraham Weizfeld PhD  moderator-founder  SaaLaHa@fokus.name

    JPLO-OLPJ-subscribe@yahoogroups.com

    political declaration   JPLO   ( a Bundist chapter )

    http://bundist-movement.org/about-us.html

    the books

    Sabra and Shatila  (1984)  2009

    http://bookstore.authorhouse.com/Products/SKU-000255066/Sabra-and-Shatila.aspx

    The End of Zionism:  and the liberation of the Jewish People  1989

    ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~ ~

     

    Writers

    Avi Issacharoff

    Avi Issacharoff Avi Issacharoff, The Times of Israel's Middle East analyst, fills the same role for Walla, the leading portal in Israel. … [More] He is also a guest commentator on many different radio shows and current affairs programs on television. Until 2012, he was a reporter and commentator on Arab affairs for the Haaretz newspaper. He also lectures on modern Palestinian history at Tel Aviv University, and is currently writing a script for an action-drama series for the Israeli satellite Television "YES." Born in Jerusalem, he graduated cum laude from Ben Gurion University with a B.A. in Middle Eastern studies and then earned his M.A. from Tel Aviv University on the same subject, also cum laude. A fluent Arabic speaker, Avi was the Middle East Affairs correspondent for Israeli Public Radio covering the Israeli-Palestinian conflict, the war in Iraq and the Arab countries between the years 2003-2006. Avi directed and edited short documentary films on Israeli television programs dealing with the Middle East. In 2002 he won the "best reporter" award for the "Israel Radio" for his coverage of the second intifada. In 2004, together with Amos Harel, he wrote "The Seventh War - How we won and why we lost the war with the Palestinians." A year later the book won an award from the Institute for Strategic Studies for containing the best research on security affairs in Israel. In 2008, Issacharoff and Harel published their second book, entitled "34 Days - The Story of the Second Lebanon War," which won the same prize. [Less]

    Newsroom
    Related Topics
    More on this story

    Liberman 'peace plan' would pay Arabs to leave Israel


    __._,_.___

    0 0

    Nov 29 2014 : The Economic Times (Kolkata)
    Shastri Memorial may Become a Memory Soon
    New Delhi
    
    
    With fund lifeline cut off, former prime minister's memorial may die a slow death
    For a historical figure being constantly appropriated by various political parties, there seems to be little financial support for keeping former Prime Minister Lal Bahadur Shastri's memory alive.Faced with an acute shortage of funds, the memorial to him that was established at the behest of the Atal Bihari Vajpayee government is finding it difficult to make ends meet and is in danger of having to be wound up.
    Located adjacent to Congress president Sonia Gandhi's residence, the memorial that's run by a trust won't receive financial help from the culture ministry from this year following a decision taken by the UPA-II government. The trust's financial woes have been compounded by a cabinet decision taken by the current NDA government to stop financing birth and death anniversary celebrations of all national lead ers except Mahatma Gandhi.Union ministers Ravi Shankar Prasad and Ananth Kumar are among the current members of the trust while Vajpayee is the founder trustee.
    According to the late PM's son and Congress leader Anil Shastri, the trust's resources are fast depleting. "Like Shastriji, the trust's corpus is very modest. We had ` . 42 lakh which has now been reduced to ` . 35 lakh since the ministry of culture has decided to not give us annual grants for running and maintaining the memorial.We have also encashed a fixed deposit of ` . 5 lakh recently ," Shastri, who is also the holding trustee, told ET.
    He said he's written four letters to Prime Minister Modi since August urging him to reconsider the cabinet decision and direct the culture ministry to start disbursing funds again. If no help is forthcoming, the trust will have little option but to close down the memorial, he said. "The PM took Shastriji's name thrice from the ramparts of the Red Fort. I wrote my first letter to him on August 20 thinking he holds Shastriji in high regard. None of my four letters has even been acknowledged by Modiji. If we keep spending money at this rate, we'll soon have to raise money outside and if we can't manage enough, we'll close it and hand over the keys to the culture ministry ," he said.

    0 0

    Nov 29 2014 : The Economic Times (Kolkata)
    NDA Govt Working on 3 Parties
    New Delhi:
    
    
    PUSHING INSURANCE BILL THROUGH OPPOSITION BLOCKADE Centre unleashes a multi-pronged counter-strategy to ensure panel submits its report by Dec 12 to gift govt an opening in this Parliament session itself
    The government is working on a strategy to ensure that the select committee on insurance submits its report by the December 12 deadline for it to push through the bill in the ongoing Parliament session.NDA has also mounted a hunt to mop up numbers in the 15-member select committee by focusing on vulnerable regional parties. NDA has accelerated its efforts after sensing an opposition plot to seek another extension of the Rajya Sabha select committee beyond the current deadline.NDA is confident that panel chairman Chandan Mitra would be able to submit report within the deadline. The ruling side will insist from Tuesday that the panel go ahead with its scheduled meetings if they find the quorum and not wait for majority members to be present. As per rules, presence of four members will fulfil the quorum and it won't be difficult for NDA to ensure that. BJP has three members -Mitra, VP Singh Bhadnore and R Ramakrishnan -and partner SAD one, Naresh Gujral. Also, Indp member Rajiv Chandrashekhar is a supporter of the bill.
    NDA's second strategy is to build support within the committee so that its report could be presented before the House. "We are trying to ensure the committee proposes a report that carries the majority support in the panel.Those who disagree may submit their own separate reports (dissenting notes)," said a source in the ruling front. NDA is unlikely to face any problem in passing the Bill in the Lok Sabha as it has a clear majority in the Lower House. But it is facing a test in the Rajya Sabha, where it is short of numbers.
    The line-up in the panel gives the sources an impression that it is divided into three blocks: five members -BJP, Akali Dal and Chandrashekhar -clearly backing the Bill and six others opposing it -three from Congress, one each from Trinamool, CPM and JD(U). The third, and the most crucial in tilting the balance, comprises one member each from AIADMK, BJD, SP and BSP. These parties are being "worked on" by the proand antibill groups in this battle for majority.
    During the monsoon session, AIADMK member V Maitreyan had moved an amendment opposing the proposal to hike the FDI to 49% and that amendment still stands before the panel. In between the monsoon and win ter sessions, the most important factor in AIADMK was the conviction of party chief J Jayalalithaa in a corruption case, who is now out of jail on bail. "We will have to see whether this factor impacts the AIADMK stand ," said an opposition member on the panel.
    The BJD member, sources say , has of late been showing a kind of understanding with NDA, incidentally , at a time when CBI probe into the Saradha chit fund scam has reached Odisha, where the party is in power. "Unlike Mamata who had declared war on the NDA regime over the CBI raids and arrests in the case, the BJD camp is showing no such belligerence," said a panel member.
    The remaining two members belong to parties which UPA had managed to extract support from when it was in power. The recent regrouping of the Janata Parivar -JD(U), SP , RJD, JD(S) and RLD -seems to have made SP so far remain in the company of JD(U) and others opposed to the bill. Mayawati has made it clear that BSP will take a final call at an appropriate time, giving an impression she is keeping the option of backing the bill open, depending on the ruling side's ability to offer a deal. NDA's plans to get the bill through in the panel and in the House depend on its ability to work on three key regional and wavering parties: BSP, BJD and AIADMK.





    0 0

    Nov 29 2014 : The Economic Times (Kolkata)
    OPEC Decision to Hold Output Windfall for India
    
    
    With OPEC, a group of 12 oil producing nations, deciding to refrain from lowering output, crude oil prices have crashed 40% from June 2014 levels.The move augurs well for the Indian economy as it imports nearly 80% of its crude. It's also expected to improve profitability of companies which use crude oil or its derivatives as their raw materials. According to a Nomura broker, with every $10bbl decline in oil prices, India's GDP will edge up 0.1% and lower the wholesale price index by 0.5%. It will also reduce the fiscal deficit by 0.1% and the current account deficit by 0.5% of GDP .
    Profitability of oil-marketing companies like HPCL, BPCL and IOC will improve as dependence on subsidy will be less. This will bring down working capital loans and also better marketing margins of these companies.
    Auto companies, too, stand to benefit.Historically , lower cost of vehicle ownership leads to higher volume growth.The Street is betting that Maruti Suzuki is best placed to reap the benefit of a lower fuel price. Lubricant makers like Castrol India, Gulf Oil, Savita and Apar Industries will gain as raw material cost accounts for nearly 60-65% of sales and is linked to crude oil prices.But since lube is mostly a retail item, a drop in raw material costs is often not passed on to consumers.
    Similarly , paints companies, where crude oil and its derivatives constitute about 30-40% of their total raw material costs, will reap dividends.


    
    


older | 1 | .... | 36 | 37 | (Page 38) | 39 | 40 | .... | 303 | newer