Are you the publisher? Claim or contact us about this channel


Embed this content in your HTML

Search

Report adult content:

click to rate:

Account: (login)

More Channels


Channel Catalog


Channel Description:

This is my Real Life Story: Troubled Galaxy Destroyed Dreams. It is hightime that I should share my life with you all. So that something may be done to save this Galaxy. Please write to: bangasanskriti.sahityasammilani@gmail.comThis Blog is all about Black Untouchables,Indigenous, Aboriginal People worldwide, Refugees, Persecuted nationalities, Minorities and golbal RESISTANCE.

older | 1 | .... | 269 | 270 | (Page 271) | 272 | 273 | .... | 303 | newer

    0 0

    Jammu and Kashmir,

    Ayaz Mughal,

     RTI activist assaulted, Police does not file FIR #WTFnews


    ayazAyaz Mughal
    Jammu and Kashmir, RTI Activist , was physically assaulted by goons on his way back home , via mogul road in Jammu yesterday.


     According to his  post a group of goons stop his  car and started abusing and started beating him with punches and kicks.  Heh got   several internal and external injuries. After filing a complaint in local Police Station, he was medically checked up and found visible injuries, scratches and internal injuries and fracture in his right shoulder (Clavicle).
    Despite on the spot verification by Incharge Police Post Behramgala, statements of eyewitness and identifying the culprits, The Polic is delaying to register FIR, he said 

    Ayaz Mughal has trained thousands of people & around the state about the use of RTI. He has written many articles on RTI and other socio-political issues. He has the privilege to be part of the movement responsible for the appointment of first Chief Information Commissioner of J&K State Information Commission.

    Attempt to Murder: Police Delaying to Register FIR
    -------------------------------------------------
    Ayaz Mughal 
    Physical Assault on me while I was way back home via Mughal Road. A group of goons stop our car and started abusing and started beating with punches and kicks. I have received several internal and external injuries. After filing a complaint in local Police Station, I was medically checked up and found visible injuries, scratches and internal injuries and fracture in my right shoulder (Clavicle).
    Despite on the spot verification by Incharge Police Post Behramgala, statements of eyewitness and identifying the culprits, he is delaying to register FIR, the reason best known to everybody.
    It was conspiracy to render a loss to my life.
    Need your support and guidance
    Ayaz Mughal
    RTI Activist
    & Chairman Awake India.


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    SC stops Vedanta's Niyamgiri mine yet again- Victory for tribals


    SC puts an end to OMC's bid to mine 

    Apex court rejects the OMC-Vedanta joint venture in what is being seen as a decisive victory for the indigenous tribal group, the Dongria Kondhs

    Credit: Wikimedia Commons
    Credit: Wikimedia Commons

    A three-judge bench of the Supreme Court on May 6 rejected Odisha-owned miner,  Mining Corporation (OMC)'s for conducting gram sabhas for the second time for mining in the Niyamgiri hills, putting an end over the speculation that mining may be resumed in the sacred hills of the primitive tribe, the Dongria Kondhs.

    Earlier on April 18, a Supreme Court bench hearing the petition filed by OMC to start the mining of bauxite in these hills, had asked the Odisha government to get clearances from 12 gram sabhas in the two districts of Rayagada and Kalahandi. However, these gram sabhas had opposed the joint venture between OMC and UK-basedmining giant  Group citing that the Niyamgiri hills were sacred for the Dongria Kondh tribals. The state government has made a fresh move to mine bauxite which is to be supplied to the Lanjigarh alumina refinery owned by Vedanta from the Niyamgiri hills in Kalahandi and Rayagada districts nearly three years after gram sabhas rejected the proposal. Following the Supreme Court order, the gram sabhas unanimously reiterated their opposition to the mining.

    On May 6, a bench headed by Justice Ranjan Gogoi dismissed the petition saying OMC could approach appropriate fora against the decision of the gram sabhas.

    According to Bhubaneshwar-based activist, Prafulla Samantray, who has been closely associated with the movement, the judgement is a decisive victory for the Dongria Kondhs who have been opposing mining right from the beginning. "This is the end of the road for those who were eyeing on mining in the Niyamgiris," he added.http://www.downtoearth.org.in/news/sc-puts-an-end-to-omc-s-bid-to-mine-niyamgiri-53856


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    Rajiv Nayan Bahuguna Bahuguna

    चप्पल , झोला , चश्मा , माचिस
    जोगी की इतनी जागीर

    कुछ मुंह से खाते हैं
    कुछ मुंह की खाते हैं


    हे निखण्या बागी , हे खरण्या बागी
    कनु फुटी कपाळ , उत्यरि को बाजु लागी
    हे उजड़या बागी
    पल्या ह्यूंद चुनाव होण था
    छोरा नी सकी जागी


    सुनहरी अवसर 
    -----------------
    देहरादून , मसूरी , दिल्ली आदि में विधायकों की खरीद - बिक्री के लिए दलाल और नेता मारे मारे घूम रहे हैं । जवानो , देखते क्या हो , ताक में रहो । जेब में लाल मिर्ची की बुकनी रखो । देखते ही झोंको और बैग झपट कर नौ दो ग्यारह हो जाओ । रेसिस्ट करे , तो बाल खींच कर अंडकोष पर लात जमाओ । यह माफिया का पैसा है । राज्य में तबाही लाएगा । उस धन से एक समांतर विधायक निधि बनाओ । क्रेता और विक्रेता , दोनों की पहचान करो । बाहर से यहां आये संदिग्ध व्यक्तियों पर कड़ी नज़र रखो ।


    भागे विपन्न हो समर छोड़ ग्लानि से निमज्जित धूर्तराज
    - दिनकर , रश्मि रथी

    कुकर्यो न कर , सुंगर्यो न कर
    द्यबतौँ से डर
    कुप्पथ न खा , भौं कुछ न घुळ
    भकाली गेर , अर पूठा लगला छाड़ा
    या द्वी दिन की छ चर पसर
    जनता से डर , ख्ंकळ्यो न कर


    सीसी भरी गुलाब की , पत्थर पे तोड़ दूँ
    ख़त लिखा है खून से , स्याही न समझना


    बिना बिचारे जो करे सो पाछे पछताय
    काम बिगाड़े आपने , जग में होत हंसाय
    मक्खी बैठी शहद पर , पंख दिए लपटाय
    दास मलूका कह गए लालच बुरी बलाय
    जीभ हमारी लटपटी बोल बोल्द बिकराळ
    आफु लुकि जांदी भितर , जुत्ता खान्दु कपाळ


    मानव देह के अस्थि विहीन दो अंग सार्वजनिक जीवन में बड़ी बड़ी आपदाओं का कारण बनते हैं । ज़बान फिसलने से हरीश रावत पर कहर टूटा , तो अमुक अंग की फिसलन से वृद्ध तिवारी की लाट साहबी गयी ।
    भ्रष्टाचार तो खैर राज्य गठन के उपरान्त से ही यहां राजनीति का एक आवश्यक अंग सा बन गया है । इसका समाधान किसी एक मुख्यमंत्री या सरकार को अपदस्थ करना नहीं , अपितु बुनियाद पर प्रहार करना है । सर्व प्रथम यहां के मतदाता की चन्द्रायण करनी होगी , जो भ्रष्ट हो चुका है । 
    अब स्टिंग की बात । पहले वाले स्टिंग का सर्वाधिक तिक्त पक्ष वह है , जिसमे हरीश रावत कहते हैं , कि मेरे पास तो सिर्फ 5 करोड़ हैं । आज जिसके पास भी एक मकान , एक प्लाट , एक अच्छी गाडी और कुछ बैंक बैलेंस है , वह पांच करोड़ का स्वामी है । इस तरह यदि 1980 से कई बार सांसद , मंत्री और मुख्य मंत्री रहने के बाद भी यदि हरीश रावत के पास सिर्फ 5 करोड़ ही हैं , तो उन्हें ईमानदार नेता माना जाना चाहिए । 
    अब स्टिंग कर्ता की बात । पिछले 40 वर्ष से पत्रकारिता में सक्रिय रहने के उपरान्त मेरी दृढ मान्यता है कि स्टिंग कोई पत्रकारिता नहीं , अपितु चोरी और ब्लैक मेलिंग है । राज्य में यह प्रवृत्ति पनप रही है । पश्चिम में इन्हें पोपराज़ी कहते है , और इनकी वजह से कईयों का सामाजिक , राजनितिक और पारिवारिक जीवन नष्ट हो चूका है । युव राज्ञी डायना की दर्द नाक मौत इसका उदाहरण है । कई देशों में पोपराज़ी बैन हैं । उत्तराखण्ड में भी यदि ब्लैकमेलिंग की राजनीति थामनी है , तो इन पोपराज़ियों को पकड़ कर इनके गुदा में पेट्रोल में भीगा रुई का फाया लगा कर भगाना होगा ।

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    Nizami ,the master Mind to annihilate Bangladesh Intelligentsia Hanged!

    War Criminals not to be spared!Strike called!US continues to intervene as it could not stop freedom of Bangladesh!

    Back to back Bengal Election violence,more Violence ahead across the border!More Refugee influx!

    Meanwhile,The U.S. State Department said that while it supported justice being carried out for the 1971 atrocities, it was vital that the trials of those accused are free, fair and transparent and conducted in accordance with international agreements.

    #Shutdown JNU #Shut Down Jadavpur #ShutDown Universities # Bring Back Ramrajya under Manusmriti Law#Hang Democracy#Kill Constitution trending in India and we stand divided islands whereas democratic and secular and Left and Bahujan and Minorities stand together rock solid to ensure justice and equality in an Islamic Nation as we translate everything in Hindutva to make Hell losing for the common masses,workers ,taxpayers, women, students, youth, children, dalits,OBC, tribal people,minorities and refugees and the poor irrespective of their caste,religion and language to make India Hindu Nation Free Market.

    Palash Biswas

    O AMAAR SONAR BANGLA AAMI TOMAI BHALOBASI!


    War criminal not be spared whatever may come! Motiur Rahman Nizami, the master Mind to annihilate Bangladesh Intelligentsia Hanged!


    Nizami, 73, a former legislator and minister during opposition leader Khaleda Zia's last term as prime minister, was sentenced to death in 2014.He refused to seek mercy and hanged!


    The execution comes as the Muslim-majority nation suffers a surge in militant violence in which atheist bloggers, academics, religious minorities and foreign aid workers have been killed. In April alone, five people, including a university teacher, two gay activists and a Hindu, were hacked to death by suspected Islamist militants.



    Bangladesh Politics electrified all of a sudden! Strike called!US continues to intervene as it could not stop freedom of Bangladesh!Always to be the softest target ,the minorities in Bangladesh to face the blue from the sky!


    Meanwhile,The U.S. State Department said that while it supported justice being carried out for the 1971 atrocities, it was vital that the trials of those accused are free, fair and transparent and conducted in accordance with international agreements.


    "While we have seen limited progress in some cases, we still believe that further improvements to the ... process could ensure these proceedings meet domestic and international obligations," State Department spokeswoman Elizabeth Trudeau said in a statement. "Until these obligations can be consistently met, we have concerns about proceeding with executions."


    It is the toughest time for the survival of Bangla  Nationalism across the border and it might be a greater diplomatic challenge for India.


    Nizami ,the master Mind to annihilate Bangladeshi  Intelligentsia Hanged!Strike called!About three million people were killed, the government says, and thousands of women were raped during the 1971 war in which some factions, including the Jamaat-e-Islami, opposed the break from what was then called West Pakistan.The party denies that its leaders committed any atrocities.


    Back to back Bengal Election violence,more Violence ahead across the border!More Refugee influx!Heads continue to  roll on streets who bore the mind for ethnic cleansing way back in 1971 and Bangladesh is determined  like steel to hang all those war criminals against humanity and we may not understand this struggle which we skip everyday as the war criminals against humanity have been elevated to the ivory towers of power in India!


    However,Indian Home Minister,Raj Nath Singh promised citizenship for everyone who crossed border till 2914 to help Mamata Banerjee stop the Opposition alignment against the governance of fascism against its ULFA supporting political line in Assam which demands the everyone coming after 1948 must be deported.This contradictory stance perhaps would be the vital statics of Indian diplomacy to answer the latest crisis in Bangladesh where minorities have to bear the burns of Political turmoil and power politics as we witness in India daily.


    #Shutdown JNU #Shut Down Jadavpur #ShutDown Universities # Bring Back Ramrajya under Manusmriti Law#Hang Democracy#Kill Constitution trending in India and we stand divided islands whereas democratic and secular and Left and Bahujan and Minorities stand together rock solid to ensure justice and equality in an Islamic Nation as we translate everything in Hindutva to make Hell losing for the common masses,workers ,taxpayers, women, students, youth, children, dalits,OBC, tribal people,minorities and refugees and the poor irrespective of their caste,religion and language to make India Hindu Nation Free Market.


    Bangladesh hanged Islamist party leader Motiur Rahman Nizami on Wednesday for genocide and other crimes committed during the 1971 war of independence from Pakistan, the law minister said, risking an angry reaction from his supporters.Jamaat-e-Islami, which has said the charges against Nizami were baseless, called for a nationwide strike on Wednesday in protest. Calling Nizami a 'martyr', it said he was deprived of justice and made a victim of a political vendetta.




    Nizami, head of the Jamaat-e-Islami party, was hanged at Dhaka Central jail just after midnight, Law Minister Anisul Haq told Reuters, after the Supreme Court rejected his final plea against a death sentence imposed by a special tribunal for genocide, rape and orchestrating the massacre of top intellectuals during the war.




    International human rights groups say the tribunal's procedures fall short of international standards. The government denies the accusations.



    International human rights groups say a climate of intolerance in Bangladeshi politics has both motivated and provided cover for perpetrators of crimes of religious hatred.


    On ground zero, hundreds of people flooded the streets of the capital, Dhaka, to cheer the execution. "We have waited for this day for a long 45 years," said war veteran Akram Hossain. "Justice has finally been served."


    But the war crimes tribunal set up by Prime Minister Sheikh Hasina in 2010 has sparked violence and drawn criticism from opposition politicians, including leaders of Jamaat-e-Islami, that it is victimising Hasina's political opponents.


    Thousands of extra police and border guards were deployed in Dhaka and other major cities. Previous similar judgments and executions have triggered violence that killed around 200 people, mainly Jamaat activists and police.


    Five opposition politicians, including four Jamaat-e-Islami leaders, have been executed since late 2013 after being convicted by the tribunal.


    Media reports:

    Country's top war criminal Motiur Rahman Nizami was finally hanged in the wee hours of Wednesday for the horrendous crimes he had committed against humanity during the Liberation War in 1971 to thwart Bangladesh's independence.

    After long six years of trial, the 73-year-old Ameer of Bangladesh Jamaat-e-Islami was hanged in Dhaka Central Jail at 12:10am.

    "Motiur Rahman Nizami was hanged at 12:10am for his crimes against humanity," said Senior Jail Super of Dhaka Central Jail Jahangir Kabir while talking to reporters at the jail gate around 12:30am.

    Acting Inspector General (Prisons) Col Iqbal Hasan, Civil Surgeon Abdul Malek Mridha, deputy commissioner of Dhaka Mohammad Salauddin and Jail Jahangir Kabir were present during the execution.

    Escorted by law enforcers, a hearse carrying the body of executed war criminal started for his village home at Manmathpur in Santhia upazila of Pabna around 1:31 am. He will be buried at his village graveyard.

    Earlier, Nizami, the 1971 commander-in-chief of Al Badr, a secret killing squad of Jamaate-e-Islami, was given the final bath followed by an imam administering him 'tawba' (seeking pardon to the Almighty), an Islamic ritual, in line with the practice ahead of hanging.

    Hours before the execution, family members of Nizami, who served as the Industries Minister during the 2001-2006 BNP tenure, were allowed to meet him inside the central jail.

    With the latest execution, five war criminals have so far been executed, while two others — Jamaat leader Ghulam Azam and BNP leader Abdul Alim who had been sentenced to imprisonment unto death — died in jail.

    Earlier, Jamaat leaders Abdul Quader Mollah, AHM Kamaruzzaman, Ali Ahsan Mohammad Mojaheed and BNP leader Salauddin Quader Chowdhury were executed as they had been awarded death penalty for their crimes against humanity in 1971.

    Earlier, the full verdict of the Supreme Court rejecting the review petition of condemned war criminal Motiur Rahman Nizami was released on Monday. Later, a copy of the verdict reached the Dhaka Central Jail around 7:05 pm and it was read out to Nizami.

    Nizami was shifted to the Dhaka Central Jail from Kashimpur Central Jail in Gazipur on Sunday night.

    On May 5, the Appellate Division rejected the petition of Nizami seeking review of its earlier verdict upholding the death penalty awarded by the International Crimes Tribunal.

    On March 15, the ICT issued a death warrant for Nizami for his crimes against humanity during the Liberation War in 1971 after the apex court released the full text of its verdict upholding his death penalty.

    On January 6, a four-member bench of the Appellate Division, headed by the Chief Justice, upheld the death sentence of the Jamaat-e-Islami Ameer dismissing his appeal petition.

    The Appellate Division upheld the ICT-1 order sentencing Nizami to death for the wartime crimes, including genocide and murder of intellectuals.

    The apex court upheld his death penalty on three of the four counts, while he was acquitted in one.

    The SC upheld his life term imprisonment on two charges, out of four in connection with the arrest, detention, torture, and murder of three people, including headmaster Maulana Kasim Uddin of Pabna Zila School on June 4, 1971, complicity in torture, murder and rape at Mohammadpur Physical Training Institute in Dhaka, and murder of Badi, Rumi Jewel and Azad at Old MP Hostel in Dhaka on August 30, 1971.

    The Appellate Division acquitted the Jamaat leader on two other charges.

    On October 29, 2014, the ICT-1 sentenced Nizami to death for committing crimes against humanity during the Liberation War.

    Nizami filed an appeal with the SC on November 23, 2014 challenging the death sentence and claimed himself innocent while refuting all the charges.

    On July 29, 2010, the Jamaat chief was arrested for allegedly hurting religious sentiments.

    He was shown arrested on August 2 the same year for committing crimes against humanity during the Liberation War and the trial began nearly two years later on May 28, 2012.

    Born on March 31, 1943 in Pabna's Santhia upazila, Nizami rose to the rank of president of East Pakistan unit Islamic Chhatra Sangha (ICS), the student wing of Jamaat, in 1960. Later, he became the president of West and East Pakistan ICS (now Islami Chhatra Shibir) in 1966.

    During the country's Liberation War in 1971, then 28-year-old Nizami was the chief of Chhatra Sangha and the supreme commander of the notorious militia group Al-Badr which brutally killed and tortured many pro-independent forces and their family members. He had also played a key role in the formation and running of the Razakar and Peace Committee that helped Pakistani occupation forces.

    After the Liberation War, Nizami along with his guru Ghulam Azam fled to the UK.

    After the assassination of Father of the nation Sheikh Mujibur Rahman in August 1975, military ruler Ziaur Rahman permitted Ghulam Azam and Nizami to return to Bangladesh in 1978, paving the way for the revival of Jamaat's politics.

    In 1991, Nizami was elected an MP from Pabna-1 constituency with Jamaat ticket.

    Nizami took over as the Ameer of Jamaat from his guru Ghulam Azam in 2001. In the same year, he was again elected MP from Paban as his party had joined the election under the banner of BNP-led four-party alliance.

    As the four-party alliance formed the government, Nizami had been inducted in the cabinet and served as the agriculture minister until 2003 and thereafter as industries minister until 2006.

    Nizami was defeated in the December 2008 general election as a candidate of the Four-Party Alliance.



    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    शैलेंद्र की जनसत्ता से हो गयी विदाई,अगले हफ्ते मेरी विदाई

    पलाश विश्वास

    माननीय ओम थानवी का आभार कि शैलेंद्र जी और मेरे करीबन पच्चीस साल एक साथ काम करते हुए साथ साथ विदाई की नौबत आ गयी।


    पिछले साल जब शैलेंद्र रिटायर होने वाले थे,तब हमने उनसे निवेदन किया था कि 1979 से शैलेंद्र हमारे मित्र रहे हैं और अगले साल मेरी विदाई है तो कमसकम उन्हें एक साल एक्सटेंशन दे दिया जाये।


    वैसे ओम थानवी से मेरे संबंध मधुर नहीं थे लेकिन उनने तुरंत फेसबुक पर सूचना करीब दो महीने पहले दे दी कि शैलेंद्र  की सेवा जारी है।


    अबकी दफा आज तक हमें मालूम नहीं था कि शैलेंद्र जा रहे हैं जबकि डेस्क पर हम लोग कुल पांच लोग थे।


    शैलेंद्र ,मैं,डा.मांधाता सिंह,जयनारायण और रामबिहारी।

    राम बिहारी वेज बोर्ड पर नही हैं।


    चूंकि दस्तूर है कि संपादक मैनेजर की सेवा में विस्तार सामान्य बात है और उपसंपादक विदा कर दिये जाते हैं।हम मान रहे थे कि इसबार हम विदा होंगे जरुर,लेकिन शैलेंद्र रहेंगे।


    वैसा नहीं हुआ।


    माननीय प्रभाष जोशी ने आईएएस जैसी परीक्षा लेकर हमें चुना तो उनने अगस्त्य मुनि की तरह जो यथावत रहने का वरदान दिया,उसके मुताबिक हम यथावत विदा हो रहे हैं हालांकि मजीठिया वेतन बोर्ड में दो प्रमोशन का प्रावधान है।


    वेतनमान बदल गया है लेकिन हैसियत नहीं बदली।


    अखबार भी अब खबरों का अखबार हो गया है और संपादक भी बदल गये हैं।जिन्हें मैं निजी तौर पर नहीं जानता।


    वे कृपापूर्वक कोलकाता आये और हमने उनसे कहा कि दस साल तक कोलकाता कोई संपादक आये नहीं हैं तो आप आये हैं तो आपका आभार।


    हमने उनसे कहा कि हमें अब तक कुछ नहीं मिला तो आगे भी कोई उम्मीद नहीं है और न हमारी कोई मांग है।वैसे भी हम जा रहे हैं तो हम बस इतना चाहते हैं कि हमारे साथी रामबिहारी का वेतन थोड़ा बढ़ा दिया जाये और स्ट्रींगरों का कुछ भला हो जाये।


    हमें तब भी उम्मीद थी कि अगर संस्करण जारी रहता है तो कमसकम शैलेंद्र बने रहेंगे।


    कल तक यही उम्मीद बनी हुई थी जबकि हम जाने की पूरी तैयारी कर चुके हैं और बाद में क्या करना है,यह भी तय कर चुके हैं।


    मेरे जाने से हफ्तेभर पहले ही शैलेंद्र की विदाई 25 साल का साथ छूटने का दर्द दे गयी और इसके लिए हम कतई तैयार न थे।


    खुशी इस बात की है कि कोलकाता में हम लोग एक परिवार की तरह आखिरतक बने रहे।अब यह परिवार टूटने के आसार हैं।


    जिस तेजी से सूचना परिदृश्य बदला है,उससे परिवर्तन तो होना ही था और इस परिवर्तन में जाहिर है कि सनी लिओन की प्रासंगिकता हो भी सकती है,हिंदी पत्रकारिता और साहित्य में हमारी कोई प्रसंगिकता नहीं है।


    जाते जाते हमें कोई अफसोस नहीं है।


    मामूली पत्रकार होने के बवजूद जनसत्ता में होने की वजह से जो प्यार,सम्मान और पहचान मुझे मिली,मेरी जाति और मेरे तबके के लोगों के लिए इस केसरिया समय में हासिल करना बेहद मुश्किल है।


    फिर पिछले 25 साल में अपनी बातें कहने लिखने और संपादक की आलोचना तक कर देने की बदतमीजियां जैसे मैंने की,उसके मद्देनजर मुझे किसी भी स्तर पर रोका टोका नहीं गया।


    हम संपादक या मैनेजर नहीं हुए,इसका भी कोई अफसोस नहीं है।हमने विशुध पत्रकारिता की है चाहे कोई हैसियत हमारी हो न हो,जनसत्ता ने हमें इतनी आजादी दी,इसके लिए हम आभारी हैं।


    शैलेंद्र से हमारी मुलाकात 1979 में इलाहाबाद विश्वविद्यालय में डा.रघुवंश की कक्षा में हुई थी,जहां इलाहाबाद पहुंचते ही शैलेश मटियानी जी ने मुझे भेज दिया था।


    इलाहाबाद में मैं जबतक रहा तब तक लगातार हम साथ साथ रहे।

    वैसे शुरु से शैलेंद्र वामपंथी रहे हैं  और पत्रकारिता में भी उनने वामपंथ का निर्वाह किया और यह आज के केसरिया दौर में उनकी अपनी उपलब्धि है।


    इलाहाबाद में तब वामपंथी कम नहीं थे।


    उदितराज तब रामराज थे और एसएफआई के सक्रिय कार्यकर्ता थे और जिनके साथ वे जेएनयू लैंड हुए,वे देवीप्रसाद त्रिपाठी भी वामपंथी थे।


    अनुग्रह नारायण सिंह तब एसएफआई की तरफ से इलाहाबाद विश्विद्यालय के अध्यक्ष थे।जिनने सबसे पहले दलबदल किया।


    इसलिए इलाहाबाद विश्वविद्यालय की मौजूदा अध्यक्ष की राजनीति पर मुझे कोई अचरज नहीं हुआ।रीता बहुगुणा भी पीएसओ से इलाहाबाद विश्वविद्यालय की उपाध्यक्ष बनी थीं।


    तमाम लोग बदल गये लेकिन शैलेंद्र नहीं बदले और न हम बदले।


    हम जब तक रहे ,पूरे मिजाज और तेवर के साथ रहे,शायद जनसत्ता जैसे अखबार की वजह से ऐसा संभव हुआ।


    शायद प्रभाष जी संपादक थे तो हम लोगों की नियुक्तियां जनसत्ता में हो सकीं और हमने पच्चीस साल बिता भी लिये।


    वैसे अपने सरोकार और सामाजिक सक्रियता जारी रखते हुए दैनिक आवाज में अप्रैल 1980 से शुरु पत्रकारिता 2016 तक बिना किसी व्यवधान के जारी रख पाना कुदरत का करिश्मा ही कहा जायेगा।


    अब मौसम बदल रहा है।

    फिजां बदल रही है।

    देश मुक्तबाजार है तो पत्रकारिता भी मुक्तबाजार है।


    सूचना और विचार की बजाय सर्वोच्च प्राथमिकता बाजार और  मनोरंजन है और हम जैसे बूढ़े लोग न बाजार के लायक हैं और न मनोरंजन के लिहाज से काम के हैं,इसलिए ऐसा होना ही था।


    हिंदी समाज के लिए जनसत्ता के होने न होने के अलग मतलब होसकते हैं।आज के दौर में नहीं भी  हो सकते हैं।


    बहरहाल हम चाहते हैं कि हम रहे या न रहे,जनसत्ता अपने मिजाज और तेवर के साथ जारी रहे।


    शैलेंद्र की जनसत्ता से हो गयी विदाई,अगले हफ्ते मेरी विदाई।


     

     

     

     

     



    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    हस्तक्षेप के संचालन में छोटी राशि से सहयोग दें

    मांस भक्षण प्रेमी पवित्र गाय

    Security officer caught smuggling and robbery राजीव मित्तल इस देश में भारतीय सेना
    Read More
    रेल

    रेलवे के अच्छे दिन, गाड़ी प्लेटफार्म पर खड़ी है और चार्ट तैयार नहीं

    ये अच्छे दिन हैं या
    Read More
    News Khabren Dunia Bhar ki hastakshep

    NIZAMI , THE MASTER MIND TO ANNIHILATE BANGLADESH INTELLIGENTSIA HANGED!

    Nizami , the master Mind to annihilate Bangladesh
    Read More
    Pro. bhim singh press conference (Chief Patron of National Panthers Party & Member of National Integration Council)              

    JUDICIAL SLAP ON MODI GOVT. MAHABHARATA STARTS FROM HIMALAYAS AGAIN

    Judicial slap on Modi Govt. Mahabharata starts from
    Read More
    Arun jaitley

    उत्तराखंड की हार के बाद निशाने पर न्यायपालिका

    रावत जी, बेहतर है कि घोड़ों के दम पर जीने
    Read More
    rp_Shesh-ji-column-300x156.jpg

    राजनीति में काले धन की ताकत

    काले धन का खेल राजनीति में काले धन की ताकत को फिर
    Read More
    Captain KK Singh, (Krishna Kant Singh) is defence expert.He Worked at Indian Air Force, now he is active with Aam Admi Party. He is respected columnist of hastakshep.com[

    प्रजातंत्र की हत्या की दुहाई वही देते हैं जो यह काम करते हैं! काँग्रेस भी पहले यह कर चुकी है!

    राजीव नयन बहुगुणा चप्पल, झोला, चश्मा, माचिस जोगी
    Read More
    Harish Rawat

    उत्तराखण्ड-यह काँग्रेस की जीत भी है हार भी

    उत्तराखण्ड प्रकरण पर त्वरित टिप्पणी उत्तराखण्ड में जिसे काँग्रेस के
    Read More
    आनंद स्वरूप वर्मा, वरिष्ठ पत्रकार हैं। समकालीन तीसरी दुनिया के संपादक हैं।

    भारत में लोकतंत्र का दायरा निरंतर सिकुड़ता जा रहा है- आनंद स्वरूप वर्मा

    पूंजीवाद के लिए लोकतंत्र सबसे
    Read More
    Champa Chettri death: Assam simmers over brutal rape and murder of Gorkha girl

    किसी राष्ट्रीय चैनल या अख़बार में यह खबर नजर आई??? आएगी क्यों? ‪#‎जस्टिस_फॉर_चंपा_क्षेत्री‬

    गौर से देखिए ये भी
    Read More
    Athar Aamir Ul Shafi Khan सिविल सर्विसेज परीक्षा 2015-जम्मू-कश्मीर के अतहर आमिर उल शफी ने दूसरा स्थान प्राप्त किया

    कश्मीरियत किताबी शब्द की जगह फिर हकीकी मसला बने

    J-K's Athar Aamir, second rank holder in IAS exams
    Read More
    Mamata Banarjee

    घूस न लेने वाले दिनेश त्रिवेदी को तृणमूल का नोटिस

    इंच-इंच समझ लेने की शुरुआत दिनेश त्रिवेदी से
    Read More
    ABVP goons led a rally to Jadavpur University

    ABVP GOONS LED A RALLY TO JADAVPUR UNIVERSITY

    ABVP goons led a rally to Jadavpur University to storm
    Read More
    News from States Hastakshep

    सरकारी दमन के विरोध और लोकतंत्र के समर्थन में धरना और अनशन

    सरकारी दमन के विरोध और लोकतंत्र
    Read More
    किसी तरह अपना समय पूरा कर रहा हूं मैं एक-एक दिन घड़ी की तरह गिन रहा हूं मैं बहुत कष्ट में था इसलिए भ्रष्ट नहीं हुआ पर नष्ट हो गया इन पक्तियों को इब्बार रब्बी ने 'पाखी परिचर्चा'में सुनाया तो इनमें एक कवि की ईमानदारी और संवेदना एक साथ महसूस हुई।

    मैं बहुत कष्ट में था/ इसलिए भ्रष्ट नहीं हुआ/ पर नष्ट हो गया-इब्बार रब्बी

    किसी तरह अपना समय
    Read More
    Subramaniam Swamy SUBRAMANIAN

    तो मोदी स्वामी के जरिये अटल से अपने पुराने अपमानों का बदला ले रहे हैं!

    महेंद्र मिश्रा किसी
    Read More
    Harish Rawat

    उत्तराखंड की सत्ता पर डाका डालने में संघ परिवार की करारी हार लोकतंत्र की जीत है

    उत्तराखंड में
    Read More
    आधुनिक भारत के निर्माता पं. जवाहर लाल नेहरू

    गांधी हत्या के बांस से गोडसे की बांसुरी न बजे, सो जवाहर लाल नेहरू इतिहास की किताबों से बाहर

    New Delhi. In a series of assaults on
    Read More
    DB Live

    10 मई-आज ही फूंका गया था प्रथम स्वतंत्रता संग्राम का बिगुल

    10 मई-आज ही नेल्सन मंडेला दक्षिण अफ़्रीका
    Read More
    rp_Anupam-Kher-300x300.jpg

    कश्मीरी पंडित वापिस कश्मीर जाना क्यों नहीं चाहते?

    अशोक कुमार पाण्डेय आप बताइए कश्मीरी पंडितों के लिए क्या
    Read More

    पोस्ट्स नेविगेशन

    1 2 3  491 Older

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0



    विमर्श की अंतरराष्ट्रीय पत्रिका 'जनकृति'का अप्रैल  अंक (अंक 14, अप्रैल  2016) आप सभी के समक्ष प्रस्तुत है. यह अंक बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर की 125वीं जयंती पर  उन्हें समर्पित किया गया है. अंक पढ़ने हेतु www.jankritipatrika.com पर विजिट करें. पत्रिका के वर्तमान अंक से संबंधित प्रतिक्रया एवं सुझाव आमंत्रित है. कृपया इस मेल को अधिक से अधिक मित्रों को फॉरवर्ड करें  ताकि यह अंक सभी पाठकों तक पहुँच सके. इस अंक के साथ ही  जनकृति अंतरराष्ट्रीय पत्रिका ने अपने एक वर्ष पूर्ण किए हैं..

     

    (बाबा साहब डॉ. भीमराव अम्बेडकर की 125वीं जयंती पर समर्पित अंक)


     

    साहित्यिक विमर्श  (कवितानवगीतकहानीलघु-कथा, व्यंग्य, ग़ज़ल, संस्मरण, आत्मकथा, पुस्तक समीक्षा)

    कविता

    वंदना गुप्ता (कविता), शैलेन्द्र चौहान(कविता), समीर कुमार पाण्डेय(कविता), राहुल देव(कविता), आर चेतन क्रांति(कविता), प्रोमिला काज़ी(कविता), पंकज चतुर्वेदी(कविता), नित्यानंद गायेन(कविता), निशा राय(कविता), नाम देव(कविता), मिथिलेश कुमार राय(कविता), ललित कुमार मिश्र(कविता), हुस्न तबस्सुम निहाँ(कविता), हेमलता यादव(कविता), गीता पंडित(कविता), गीत चतुर्वेदी(कविता), डॉ. जितेंद्र श्रीवास्तव(कविता), आशीष कंधवे(कविता), अरविंद भारती(कविता), अनुराग अनंत(कविता), गिरीश पंकज(कविता), ईश मिश्र(कविता), अटल राम चतुर्वेदी(कविता), सौरभ गुप्ता 'नीर'(कविता)

     

    कहानी

    माँ कैसी हो: सुरेखा शर्मा (कहानी)

    सेल्समेन: शोभा जैन (कहानी)

    मिसफिट: सुशांत सुप्रिय (कहानी)

     

    लघुकथा

    औरतें: डॉ. पुष्पलता (लघुकथा)

    पगला: प्रदीप कुमार साह (लघुकथा)

     

    पुस्तक समीक्षा

    डॉमनिक की वापसी (उपन्यास)- विवेक मिश्र: समीक्षक- विनोद विश्वकर्मा (पुस्तक समीक्षा)

    तुम कौन (काव्य संग्रह- रमणिका गुप्ता): समीक्षक- रीता चौधरी (पुस्तक समीक्षा)

    कुछ गद्य..कुछ पद्य (काव्य संग्रह- तसलीमा नसरीन): समीक्षक- पूजा तिवारी (पुस्तक समीक्षा)

    मालिश महापुराण- सुशील सिद्धार्थ: समीक्षक- एम.एम. चंद्रा (पुस्तक समीक्षा)

    मिट्टी का साहित्य (काव्य संग्रह- लव कुमार लव): समीक्षक: आरिफा एविस (पुस्तक समीक्षा)

    बस्ती (उपन्यास- इंतज़ार हुसैन): समीक्षक- अमित कुमार (पुस्तक समीक्षा)

    ईश्वर की चौखट पर (काव्य संग्रह- शैलेंद्र चौहान): समीक्षक- आत्माराम (पुस्तक समीक्षा)

     

    ग़ज़ल

    जावेद उस्मानी (ग़ज़ल)

    महेश कटारे सुगम (ग़ज़ल)

    डॉ. डी. एम. मिश्रा (ग़ज़ल)

    नवीन मणि त्रिपाठी (ग़ज़ल)

     

    व्यंग्य

    संगोष्ठी सुपरहिट: निकिता जैन (व्यंग्य)

    मेरे देश की धरती- सोना उगले, उगले हीरे मोती: बेबाक बिहारी 'श्याम' (व्यंग्य)

     

    शोध विमर्श

    साहित्य के पुनरावलोकन की अवधारणा: महेश कुमार तिवारी

     

    रंग विमर्श

    जादू शिक्षा का (नाटक): विवेक रंजन श्रीवास्तव

     

    मीडिया विमर्श

    आधुनिक जनसंचार के विज्ञापन में हिंदी भाषा: अनिल कुमार

    मध्यकालीन संत और मीडिया: डॉ. मीना

    भारत में ई क्रान्ति: सुजय दास

     

    दलित एवं आदिवासी विमर्श

    प्रतीकों का मतलब: बाबा साहब की जयंती के संदर्भ में: डॉ. रतन लाल

    अम्बेडकर.. एक दृष्टि: अजय कुमार चौधरी

    डॉ. अम्बेडकर का सपना: Pay Back to Society: चेतन सिंह

    हिंदी साहित्येतिहास लेखन में जातिवादसंस्कृति और डॉ अम्बेडकर का सामाजिक चिंतन: डॉ. कर्मानंद आर्य

    अम्बेडकर का हीरो कौन: डॉ. रविता कुमारी

    डॉ० भीमराव अम्बेडकर और दलित चिन्तन की प्रतिबद्धता: परिवर्ती अम्बेडकरवाद या दलित नव जागरण युग: डॉ. वीरेन्द्र सिंह यादव

    समाज के दमनात्मक संकेतों के विरुद्ध विद्रोह के प्रतीक: डॉ. अम्बेडकर: कृष्ण कुमार यादव

    हिन्दू, नायक पूजा: रानाडे, अम्बेडकर और लोहिया: कुमार मुकुल

    डॉ. भीमराव अम्बेडकर का जीवन परिचय एक अध्ययन विश्लेषण: कु नेहा नेमा

    बाबा साहेब अम्बेडकर के सामजिक विचार: पंकज कुमार सिंह

    सामाजिक क्रांति के अग्रदूत डॉ. अम्बेडकर: राम शिव मूर्ति यादव

    महान युगदृष्टा- डॉ. भीमराव अम्बेडकर: रामजी तिवारी

    अम्बेडकर का सामाजिक दर्शन एवं प्रासंगिककता (निबंध): रश्मि

    समरस समाज से सशक्त राष्ट्र: आर. एल. फ्रांसिस

    Useful Link on Baba Sahab Dr. Bhimrao Ambedakar: Kavita Singh Chauhan

    हिंदी दलित साहित्य का सौंदर्यशास्त्र: चिंतन व विश्लेषण: डॉ. प्रवीण कुमार

    दलित राजनीति से दलित गायब: प्रियंका श्रीवास्तव

    दलित अस्मिता और हिंदी-कथा साहित्य: रवि कुमार

    अमिट संचार के रूप में बैगा जनजाति की गोदना परंपरा: अनिल कुमार पाण्डेय

    आदिभूमि और ग्लोबल गाँव के देवता उपन्यासों में आदिवासी स्त्री: भावाना मासीवाल

    जनजातीय समाज में लोकगीत परंपरा: डॉ. अल्पना सिंह

    आक्रोश: विस्थापित होते आदिवासियों का यथार्थ: डॉ. स्नेह लता नेगी

    आदिवासी साहित्य में विचार-विमर्श: कविता मीना

    आदिवासी, भूमंडलीकरण और 'गायब होता देश': संतोष अर्श

     

    स्त्री विमर्श

    नारी शक्ति विषयक वैश्विक दृष्टि व दृष्टिकोण की तलाश: मैत्रयी पुष्पा का विज़न: डॉ. किरण ग्रोवर

    नारी अस्मिता का प्रश्न और 'कोमल गंधार': डॉ. संदीप रणभिरकर

    स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से सशक्त होती महिलाएं: ललित यादव

    सूफ़ी परंपरा में महिला जीवन: राज कुमार

    हिंदी उपन्यास में नयी नायिका का जन्म: संदर्भ मनोहर श्याम जोशीसुखप्रीत कौर

     

    शिक्षा विमर्श

    उच्च शिक्षा में प्रशासन, प्रबंधन और नेतृत्व से जुड़े मुद्दे: विजय कुमार

     

    बाल विमर्श

    पटरियों पर भटकता बचपन: अभिषेक कांत पाण्डेय

    बाल विवाह: चुनौती और सफलता: अनामिका

    बाल यौन शोषण: हिंदी साहित्य में उत्पीड़ित बच्चों की पीड़ा: मनीष खारी

     

    भाषिक विमर्श

    हिंदी तथा मराठी भाषाओं की ध्वनि व्यवस्था में अंतर: सुषमा लोखंडे

    शैली की उपयोगिता एवं महत्त्व: श्रीमती अंजू श्रीवास्तव

     

    शोध आलेख

    हिंदी सिनेमा में स्त्री का नया पाठ (विशेष संदर्भ 2014 में प्रदर्शित फिल्में): डॉ. रमा (सिने विमर्श)

    वृत्तचित्र (इंडियाज़ डॉटर) पर  भारत सरकार द्वारा लगाए गए प्रतिबंध पर युवाओं की राय: मनीष कुमार जैसल

    Indology and Sanskrit Studies: The Battle for Sanskrit between the East and the WestDr. Ayesha Tahera Rashid

    Bridging the Gap (A Strategic Communication Approach for Development of Tribals in India): Dr. Syed Murtaza Alfarid Hussain

    21वीं सदी में भारतीय किसान की दशा और दिशा: मनोज कुमार  

    अमरकांत के साहित्य में प्रगतिशील एवं यथार्थवादी दृष्टिकोण: अमर कुमार चौधरी

    उत्तर-पूर्व प्रश्न: डॉ. अमित राय

    समय के निकष पर समकालीन हिंदी कविता: अनिल कुमार पाण्डेय

    स्वातंत्र्योत्तर हिंदी कविता: एक सर्वेक्षण: पूर्णिमा रजक

    निराला की कहानियाँ: कहानी के परिचित रूप से पलायन: अंजलि कुमारी

    समकालीन संदर्भ में भारतीय सामाजिक मूल्य: अनुराग कुमार पाण्डेय

    मथुरा जनपद में तुलसी की कृषि का विकास: भौगौलिक अध्ययन: डॉ. कोमल सिंह

    'ऐसी नगरिया में केही विधि रहना'की दृष्टि से जयनंदन के उपन्यास का वैशिष्ट्य: गोपाल प्रसाद

    मैला आँचल में प्रयुक्त में लोकगीतों का मूल्यांकन: लल्टू कुमार

    भूमंडलीकरण के दौर में नए समाज की अवधारणा: रहीम मियाँ

    सुषम बेदी के 'हवन'उपन्यास के पात्रों का मनोवैज्ञानिक अध्ययन: राजपाल

      

    नव लेखन

    यह समय और लेखक होने का मतलब: मनोज कुमार पांडेय

    हिन्द स्वराज: पठन की प्रस्तावना: राकेश मिश्र

    जलप्रलय- गोंडवाना लेंड एवं भरत-खंड: डॉ. श्याम गुप्त

    जेएनयू तथा संघी राष्ट्रोन्माद: ईश मिश्र

    घरेलू कामगार: अस्मिता का नियतिपरक का प्रस्थान: प्रो. अजय कुमार साव

    क्लीन मेंटालिटी एंड क्लीन लोकेलिटी: डॉ. दीपक

    'जय भीम'शब्द के जनक

    सांस्कृतिक पर्व भगोरिया: संजय वर्मा (लोक विमर्श)

     

    आवरण स्केच: कार्तिक बस्फोर

    रेखाचित्र: डॉ. लाल रत्नाकर


    Attachments area

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    क्या सिंगुर के किसानों को जमीन लौटायेगी सुप्रीम कोर्ट?
    एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास
    हस्तक्षेप

    क्या सिंगुर के अनिच्छुक किसानों को सुप्रीम कोर्ट जमीन लौटायेगी,सुप्रीम कोर्ट में सिंगुर मामले की  सुनवाई पूरी हो जाने के बाद यह सवाल खढ़ा हो गया है।सुनवाई पूरी हो जाने के बाद न्यायाधीस बी गोपाल गौड़ा और अरुण मिश्र की पीठ ने पश्चिम बंगाल सरकार और टाटामोर्टर्स को दस्तावेज जमा करने के आदेश दिये हैं।आखिरी दिन दोनों पक्षों के वकीलों के बीच जोर बहस हुई।इसी बीच  ममता सरकार की ओर से सिंगुरमामले में तीन हलफनामा सुप्रीम कोर्टको सौंपा गया है।

    सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्टकी टिप्पणी ने टाटा मोटर्स और पूर्ववर्ती वाममोर्चा सरकार की परेशानी बढ़ा दी है। गुरुवार को सुप्रीमकोर्टने कहा कि सिंगुरकी जमीन टाटा मोटर्स को लगभग मुफ्त में मिली है। कृषकों की जमीन को कंपनी भोग रही है।

    दूसरी ओर टाटा मोटर्स की ओर से अदालत से अनुरोध किया गया है कि भूमि अधिग्रहण से संबंधित सुप्रीम कोर्ट ने पहले जो आदेश जारी किए हैं उसे ध्यान में रखते हुए ही सिंगुर मामले में अदालत कोई फैसला सुनाए। टाटा मोटर्स ने ये भी कहा है कि इस मामले को बड़ी बेंच में भेजा जाए ताकि मामले पर निष्पक्ष फैसला आ सके।
    पश्चिम बंगाल सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाकर कोलकाता हाई कोर्ट के फैसले को चुनौती दी है। हाई कोर्ट ने फैसला दिया था कि जो जमीन टाटा को नैनो की फैक्ट्री के लिए सरकार ने आवंटित की थी वो टाटा सरकार को वापस करेगा।
    लेकिन सरकार को टाटा को मुआवजा देना होगा। हाई कोर्ट के इस फैसले के खिलाफ पश्चिम बंगाल सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी लगाई थी। अब देखना यह है कि सुप्रीम कोर्ट इस मामले में क्या फैसला सुनाता है।
    टाटा मोटर्स के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने दलील दी कि आईन बदलने की हालत में तय समय सीमा के भीतर किये गये सभी भूमि अधिग्रहण के मामले वह वही आईन लागू होना चाहिए।उनने कहा कि टाटा मोटर्स के लिए जमन अधिग्रहण खराब है और बाकी मामलों में जमीन अधिग्रहण सही है,यह कोई सही दलील नहीं है।आईन और नीति तो सबके लिए समान होनी चाहिए,किसी अलग मामले में किसी खास संस्थ के लिए आईन और नीति अलग लागू हो,ऐसा हो नहीं सकता

    सिंगवी के मुताबिक पुरे देश में खेती योग्य  जमीन 42 फीसद है तो बंगाल में 65 से लेकर 68 फीसद।जाहिर है कि उद्योग के लिए जमीन अधिग्रहण में समस्या है।लेकिन कृषि से औद्योगीकरण की विकल्प बेहतर है।

    पश्चिम बंगाल सरकार के वकील राकेश द्विलवेदी ने फिर सवाल किया कि ,जिस मकसद से जमीन का अधिग्रहण हुआ,वह जब पूरा नहीं हुआ तो किसी संस्था को जमीन पर कब्जा बनाये रखना गलत है।उनकी दलील है कि राज्य सरकार चाहे तो वह अपने पुराने फैसले पर पुनर्विचार कर सकती है।

    सुनवाई पूरी होने के बाद टाटा मोटर्स के वकील ने कहा कि वे इस मामले मेें और दस्तावेज पेश करना चाहते हैं।उन्हें न्यायाधीश अरुण मिश्र ने शुक्रवार तक की मोहलत दी है।इसी के साथ सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकार के वकील को सिंगुर जमीन अधिग्रहण के मामले में और दस्तावेज जमा करने के लिए कहा है।

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0
  • 05/13/16--05:09: दलित हैं तो साधु होने के बावजूद दलित ही रहेंगे अस्पृश्यता का यह सौंदर्यशास्त्र संघ परिवार का समरस हिंदुत्व एजंडा दरअसल टूट रही जाति वयवस्था क बनाये रखने के लिए अस्पृश्यता, रंगभेद, नस्लभेद और पितृसत्ता के पाये पर खड़े वर्णवर्चस्वी प्रभुत्व को बनाये रखने की इस समरसता से असल संदेश यही है कि न जाति खत्म होगी और न अस्पृश्यता।न रंगभेद खत्म होगा और न नस्ली आततायी आचरण और न पितृसत्ता का अंत है।यही हिंदुत्व की समरसता है।

  • दलित हैं तो साधु होने के बावजूद दलित ही रहेंगे

    अस्पृश्यता का यह सौंदर्यशास्त्र संघ परिवार का समरस हिंदुत्व एजंडा

    दरअसल टूट रही जाति वयवस्था क बनाये रखने के लिए अस्पृश्यता, रंगभेद, नस्लभेद और  पितृसत्ता के पाये पर खड़े वर्णवर्चस्वी प्रभुत्व को बनाये रखने की इस समरसता से असल संदेश यही है कि न जाति खत्म होगी और न अस्पृश्यता।न रंगभेद खत्म होगा और न नस्ली आततायी आचरण और न पितृसत्ता का अंत है।यही हिंदुत्व की समरसता है।

    पलाश विश्वास

    हिंदू परंपरा के मुताबिक  संन्यास का मतलब है कि पूर्व आश्रम यानी शैशव और यौवन के साथ साथ ग्राहस्थ्य आश्रमों का त्याग। इसलिए संन्यासी बनने से पहले अपना ही श्राद्धकर्म करने का प्रावधान है।इसीलिए साधु की कोई जाति नहीं होती।


    साधु होने का मतलब है जाति वर्ण से मुक्ति।हिंदुत्व के दलित एजंडे के मुताबिक साधु भी मनुस्मृति अनुशासन से मुक्त नहीं हैं और वे अगर दलित हैं तो साधु होगें तो दलित साधु ही कहलावेंगे।


    इस देश में हिंदुत्व का अमृत चाखने वालों के लिए मरणपर्यंत जाति का बंधन तोड़ पाना अंसभव है।भारत के राष्ट्रपति बन जाने के बावजूद उनकी कुल पहचान दलित है।उसीतरह जैसे चाहे स्त्री किसी भी चरमोत्कर्ष को छू लें,वह दासी और शूद्र है।बलात्कार और भोग के लिए शिकार देहमात्र,जिंदा मांस का दरिया।


    दलित के चरण चिन्ह जहां भी पड़े,उसे गंगाजल से पवित्र करना बाकी हिंदुत्व का पहला कर्तव्य है।वरना हिंदुत्व अपवित्र।


    दलित राजनेता हो या दलित पत्रकार,दलित साहित्यकार हो या दलित उद्यमी, दलित कोई भी उपलब्धि हासिल कर लें,आईएएस टाप करलें,अंतरिक्ष पर पहुंचे,संत रविदास की तरह परम संत और विद्वान हो, अपने माध्यम और विधा में सर्वश्रेष्ठ हो ,उसकी कुल औरकात यही है कि वह आखिरकार दलित है।


    सिंहस्थ से यही संदेश मिला है।जहां दलित साधुओं के साथ हिंदुत्व वैदिकी अश्वमेध के सिपाहसालार ने सहस्नान सहभोज करके उन्हें कृतार्थ किया है।


    दरअसल नई दिल्ली के जंतर मंतर में जहां देश के पीड़ित नागरिक न्याय की गुहार लाते हुए रोज जमा होते हैं,वहा हिंदी सेना का ट्रंप समर्थक आयोजन से सिंहस्थ का यह दलित स्नान किसी मायने में अलग नहीं है और यह सारा आयोजन फासीवादी राजधर्म का अंध धर्मोन्मादी राष्ट्रवाद है,जो दरअसल फासिस्ट है।


    दरअसल टूट रही जाति व्यवस्था क बनाये रखने के लिए अस्पृश्यता, रंगभेद, नस्लभेद और  पितृसत्ता के पाये पर खड़े वर्णवर्चस्वी प्रभुत्व को बनाये रखने की इस समरसता से असल संदेश यही है कि न जाति खत्म होगी और न अस्पृश्यता।


    न रंगभेद खत्म होगा और न नस्ली आततायी आचरण और न पितृसत्ता का अंत है।यही हिंदुत्व की समरसता है।


    रोहित वेमुला की संस्थागत हत्या के बाद देश भर में जाति उन्मूलन के एजंडे को अभूतपूर्व छात्र युवा समर्थन और विश्वविद्यालयों में थोक बाव से मनुस्मृति दहन से हिंदुत्व के एजंडे के लिए भारी खतरा पैदा हो गया है और संघ परिवार की राजनीति के लिए अनिवार्य दलित वोट बैंक को बनाये रखने की भारी चुनौती है।


    सिंहस्थ मेले के मौके पर मध्य प्रदेश में केसरिया राजधर्म सलवाजुड़ुम राजकाज के तहत लगे हाथों संघ परिवार ने दलितों को रिझाने के लिए साधु संतों की बिरादरी से दलितों को अलग छांट लिया और क्षिप्रा में उनके लिए अलग स्नान का बंदोबस्त कर दिया।आदिवासियों को जल जंगल जमीन की लड़ाई से भटकाने के लिए उन्हें भी हिंदुत्व में समाहित करने का सलवा जुड़ुम है।


    खबरों के मुताबिक गुजरात से राष्ट्रीय राजनीति में धूमकेतु बनकर उभरे शहंशाह ने बुधवार को सिंहस्थ कुंभ में पधारकर दलित साधुओं के साथ क्षिप्रा नदीं में अलग से स्नान किया।


    जाहिर है कि दलित साधुओं के लिए अलग स्नान की व्यवस्था कुंभ में थी और यह आयोजन समरसता के हिंदुत्व एजंडे वाले संघ परिवार की ओर से है।


    अब सवाल उठता है कि जब साधु जाति से ऊपर नहीं है तो आम लोगों के साथ अस्पृश्यता और रंगभेदी तंत्र मंत्र यंत्र यथावत रखने की यह समरसता दलितोद्धार का कौन सा तरीका है।


    मजे की बात है कि अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि ने संघ परिवार के इस आयोजन का पुरजोर विरोध करते हुए कहा कि यह आयोजन साधु संतों को भी जाति के आधार पर बांटने का प्रयास है।


    इसके जवाब में संघ परिवार समरसता का अलाप दोहराता रहा और उसका तर्क है कि जाति से ही समाज में भेदभाव खत्म होगा।


    बहरहाल ऐन वक्त पर सामाजिक समरसता कार्यक्रम को संत समागम में बदलकर विवाद सुलझाने का उपक्रम भी हुआ।


    जाहिर है कि उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर भाजपा के अहम माने जा रहे इस समरसता स्नान कार्यक्रम के तहत शाह  हिन्दुओं के धार्मिक मेले सिंहस्थ कुंभ में शामिल होने यहां पहुंचे।


    मजहबी सियासत और सियासती मजहब के लिए संघ परिवार हिंदू धर्म की परंपरा और कुंभ मेले जैसे पर्व का ऐसा घनघोर राजनीतिक इस्तेमाल जेएनयू में छात्रों के अनशन और विश्वविद्यालयों में मनुस्मृति शासन के अश्वमेध समय पर कर रहा है तो इसका आशय गहराई से समझना भी जरुरी है।


    बहरहाल शंहशाह ने क्षिप्रा नदी के वाल्मीकि घाट पर दलित साधुओं सहित अन्य साधुओं के संग स्नान किया।


    इसके बाद शंहशाह ने दलित साधुओं सहित अन्य साधुओं के साथ समरसता भोज कार्यक्रम के तहत भोजन भी ग्रहण किया।अछूतोद्धार का यह हिंदुत्व कार्यक्रम भी नया नहीं है।


    बहरहाल क्षिप्रा में स्नान करने के पहले भाजपा प्रमुख शाह, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और अन्य नेता वाल्मीकि धाम में आयोजित संत समागम में शामिल हुए।


    इसके अलावा इस आयोजन का शुरु में विरोध कर रहे संत अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के प्रमुख महंत नरेंद्र गिरी के अलावा  जूना अखाड़ा पीठ के महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद जी और वाल्मीकि धाम के पीठाधीश्वर उमेशनाथ भी समागम में मौजूद थे।


    शंकराचार्य जयंती से जोड़कर हिंदुत्व के इस दलित एजंडा की पवित्रता भी अक्षुण्ण रखी है संघ परिवार ने।


    इस मौके पर शहंशाह ने कहा, देश में भाजपा ऐसी संस्था है जो देश की संस्कृति को मजबूत करना चाहती है। हम वसुधैव कुटुम्बकम को मजबूत करने की दिशा में काम कर रहे हैं। यह स्नान और महत्वपूर्ण हो जाता है, क्योंकि आज शंकराचार्य जी की जयंती है, जिन्होंने मात्र 32 वर्ष की युवा आयु में ही हिंदू धर्म को एकता के सूत्र में बांधने का कार्य किया था।


    महाकाल में पूजा

    स्नान के बाद भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने महाकाल के दर्शन किए और मंदिर में पूजा अर्चना भी की। इस समय उनके साथ उनकी पत्नी और पुत्र भी मौजूद थे।

    पहले संतों में था विरोध

    स्नान से पूर्व द्वारका शारदा और ज्योतिष पीठ के शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी ने समरसता स्नान की निंदा करते हुए कहा था कि साधु की कोई जाति नहीं होती। कुंभ में कोई भी नदी में पवित्र स्नान करने के लिए स्वतंत्र है। आरएसएस के वरिष्ठ नेता और भारतीय किसान संघ के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभाकर केलकर ने आठ मई को कहा था कि समरसता स्नान से भेदभाव बढ़ेगा। समरसता स्नान की घोषणा से ऐसा लगता है, जैसे इससे पहले सिंहस्थ में दलित वर्ग के साथ भेदभाव किया जा रहा था, जबकि वास्तविकता यह है कि किसी स्नान में जाति नहीं पूछी जाती।


    सिंहस्थ में मोहन भागवत के भी चरण चिन्ह

    सिंहस्थ कुंभ में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत क्षिप्रा तट पर आदिवासियों के साथ गुरुवार को भोजन करने का कार्यक्रम भोपाल से जारी हुआ।


    आरएसएस की सहायक संस्था वनवासी कल्याण परिषद के प्रांत संगठन सचिव प्रवीणजी डोलके ने बताया, आरएसएस प्रमुख शाम 4 बजे जनजाति सम्मेलन को सम्बोधित करेंगे। भागवत आदिवासियों के साथ भोजन भी कर सकते हैं।





    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    The Aerogram

     

    Why The Hindu American Foundation

    Does Not Speak For Me

    http://theaerogram.com/why-the-hindu-american-foundation-doesnt-represent-all-hindus/

     

    by Meghna Chandra May 12, 2016

     

    As an educator who believes in the ability of education to inspire people to build a better world and to develop people into fuller human beings, I take issue with the claims of the Hindu American Foundation that Hindu children must be shielded from the history of Hinduism to protect their self-esteem and prevent bullying. This issue is personal. The child they seek to protect with their historical revisionism, well that was me.

     

    I was the only Hindu kid in my grade in my overwhelmingly white hometown of Merrimack, New Hampshire. Growing up, I fielded plenty of questions about the "dot on our foreheads", why gods and goddesses were blue and had so many arms, whether or not I would have an arranged marriage, and which hand I used to wipe my shit. I endured racial slurs about the bindi worn by Hindu women and bizarre comments about the color of my skin and its proximity to the color of dirt. I internalized shame about all the ways I was different, and struggled to get by without drawing too much attention to myself.



     

    During our 6th grade social studies class, when the unit on Hinduism came up, I wanted to disappear into my chair. I already felt painfully different as the lone brown girl, but those 45 minutes of tortured explanations about the caste system and mangled pronunciation of Hindu philosophies like "karma" and "dharma" made me want to gag. I felt that someone else was defining my culture for me, and I felt powerless to define my identity for myself.

     

    Thankfully, or so I thought, my community taught me, through forums like theChinmaya Mission, about the universal beauty of Hinduism, and that caste was long in the past. At one point, it had been a social reality manipulated by evil people, but it was not inherent to the religion itself. Hinduism was always something to be proud of, a set of lofty philosophies that advocated peace and tolerance, and had contributed to the world positively.

     

    I never learned anything to the contrary until I came across a Dalit retelling of the Ramayana in college. Within it, a Dalit activist flipped the narrative of Rama, the fair skinned Aryan God of the North, as the good guy, and Ravana, the dark skinned Shudra king of the South as the bad guy. He laid out the history of the term "Dalit", or "the oppressed", the centuries-long oppression by the Bramhinical order, and the revolutionary vision laid out by Dr. B.R. Ambedkar. He spoke about manual scavenging, an ongoing practice in which millions of Dalits are forced to clean sewers without equipment at the behest of their upper caste oppressors, and honor killings, in which people who dare marry outside their caste are ostracized and even killed.

     

    I was stunned. The story ran against everything I had been taught about Hinduism.From this perspective, Hinduism was a tool of oppression that had been used for millennia to perpetrate an unjust system, rather than the wise and gentle philosophy that I had always understood it to be.

     

    I could not deny the dignity and truth-telling power of the storyteller in the video. One line in particular rang in my ears and refused to leave, "Not only will we reclaim our humanity, but we will make you human as well!" I began to read more about the ways the caste system has dehumanized people by separating them and denying them what Ambedkar calls "liberty, equality, and fraternity." I realized there was so much of my history that I had not been taught.

     

    My desire to learn more led me to India, where I studied modern Indian history from South Asian historians like MSS Pandian and Tanika Sarkar. I read the works ofSavitribai Phule and Jyotirao Phule, EV Ramasamy Periyar, and B.R. Ambedkar, and began to understand their disillusionment with Hinduism and visions for human emancipation on the subcontinent. I learned about the history of Buddhism as one of the first anti-caste liberation movements, the Bhakti saints who subverted the rigid Bramhinical and patriarchal order, and yes, the history of Muslim and Christian missionaries who offered services and scholarship that were enabling to oppressed groups, and how these interventions created local indigenous liberatory traditions that were beautiful, vibrant, and also very much  Indian.

     

    Outside of the classroom, I got an education from friends, movements, and organizations such as Dalit History Month and the Ambedkar International Mission, which draw attention to the continuing regime of caste apartheid both in modern "India Shining", as well as the Indian diaspora.

     

    As an educator I believe in the transformative power of education. The process of working through the contradictions between my monolithic view of Hinduism and the narratives of Dalits, Adivasis, and other oppressed peoples was vital for my growth. It led me to a broader community and larger truth that has shaped who I am as a community organizer and educator.

     

    Pointing out and understanding contradictions in history do not have to simply lead to low self-esteem for the Hindu child; they can be a valuable pedagogic tool to develop people into critical thinkers who can transform themselves and transform the world.

     

    By trying to protect Hindu children from the shameful aspects of Hindu history and erase the contradictions within the tradition, you deny them an opportunity to learn about histories in which ordinary people came together to try to build a world free from inequality and injustice. In denying the humanity of Dalits by advocating for edits that erase their histories, those of us who were born with caste privilege deny our own humanity, and foreclose the opportunity to build a world in which everyone can be human. As an educator, this runs fundamentally against my values.

     

    As a person of Hindu descent, the Hindu American Foundation does not speak for me.

    * * *

    Meghna Chandra is a writer, organizer, and educator living in Philadelphia. She has an MA in Modern Indian History from Jawaharlal Nehru University. She tutors in the Philadelphia School District, teaches ESL classes to recent immigrant communities, and hopes to be a history teacher. She is a member of the South Asian Histories for All Coalition.

     


    .Arun Khote
    On behalf of
    Dalits Media Watch Team
    (An initiative of "Peoples Media Advocacy & Resource Centre-PMARC")

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


     
    Ram Puniyani
    May 13 at 1:00pm
     
    PRESS RELEASE 
    BHOPAL: May 13, 2016: A meeting of intellectuals has demanded special audit of the exorbitant expenditure incurred on the Ujjain Kumbh. 
    The meeting was organised by Rashtriya Secular Manch to discuss three important issues (1) Simhasth and Secularism, (2) Two year of Prime Minister Narendra Modi and (3) To bring black money from foreign countries. During discussion on Simhastha it was also pointed that the active involvement of the government in the activities amounted to subversion of the constitution. Our constitution gives equal respect to all the religions but prohibits government involvement in the promotion and propagation of any religion, which is being done during the Simhastha. 
    The arrangements and luxurious facilities provided for the international seminar is nothing but sheer waste of tax payers' money. At a time when the state is passing through severe drought conditions including non-availability of drinking water, this waste is criminal. 
    Imitating discussion on "Prime Minister's two year L.S. Herdenia, convener of the manch pointed out that Modi made three important promises during the election. The promises were (1) creation of Jobs for youths, (2) effective control to curb rise in the prices of essential commodities, (3) To bring black money from foreign countries. No progress has been made in fulfilling these promises. 
    Irfan Engineer, Director, Centre for Study of Society and Secularism, Mumbai asserted that during the two years the country stands polarized because of various acts of communalism and hate speeches delivered by the activists belonging to the RSS including BJP ministers MPs, MLAs and party workers. But Modi did nothing to rein in them despite his claim to be a strong leader. During the last two years many such steps were taken which have shaken the roots of our democratic secular structure. 
    Badal Saroj stressed the need for steeled unity of secular forces to defeat the designs of champions of hindutva. 
    Shailendra Shally conducted the seminar.
    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    हस्तक्षेप के संचालन में छोटी राशि से सहयोग दें

    तृणमूल सरकार यादवपुर विश्वविद्यालय पर बार-बार बजरंगी हमले पर तमाशबीन क्यों

    भैंस चुराने के आरोप में छात्र को
    Read More
    ट्विटर पर टॉप ट्रेंड कर रहा है #ModiBacksSanghiTerrorists

    ट्विटर पर टॉप ट्रेंड कर रहा है #MODIBACKSSANGHITERRORISTS

    ट्विटर पर #ModiBacksSanghiTerrorists टॉप ट्रेंड कर रहा है नई दिल्ली।
    Read More
    Akhilesh and Modi

    मुलायम के बाद अब अखिलेश लगे हैं संघ सेवा में

    आतंकवाद के आरोपों से बरी मुस्लिम युवकों के
    Read More
    Indian Muslims

    पश्चिम बंगाल में मुसलमान : तुष्टिकरण या अलगाव

    लिविंग रियालिटी ऑफ मुस्लिम्स इन वेस्ट बेंगाल Living reality of
    Read More
    Let Me Speak Human!

    दलित हैं तो साधु होने के बावजूद दलित ही रहेंगे

    अस्पृश्यता का यह सौंदर्यशास्त्र संघ परिवार का समरस
    Read More
    Sadhwi Pragya,

    2008 के मालेगांव ब्लास्ट में साध्वी प्रज्ञा को क्लीनचिट !

    2008 के मालेगांव ब्लास्ट में साध्वी प्रज्ञा को
    Read More
    अखिलेश यादव

    समाजवादी सरकार का दोहरा चरित्र एक बार फिर बेनकाब

    आतंकवाद के नाम गिरफ्तार बेगुनाहों के खिलाफ हाईकोर्ट में
    Read More
    Shailendra Shant शैलेंद्र शांत संपादक जनसत्ता कोलकाता

    फिजां बदल रही है, देश मुक्तबाजार है तो पत्रकारिता भी मुक्तबाजार

    मौजूदा सूचना परिदृश्य में सनी लिओन की
    Read More
    हिंदी के प्रबुद्ध विचारक सुधीश पचौरी Professor Sudhish Pachaur

    तो सनी लिओनी के ब्रांड अम्बेसडर हैं हिंदी के प्रबुद्ध विचारक सुधीश पचौरी !!!

    खामोश, विज्ञापन जारी है….
    Read More
    पवन के पटेल, शोध छात्र, समाजशास्त्र विभाग, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, नई दिल्ली। पवन का शोध कार्य नेपाल में 1996 से 2006 तक चले माओवादी जनयुद्ध के उद्गम स्थल थबांग गाँव में माओवादी द्वारा संचालित गाउँ जनसत्ता तथा जनयुद्ध के अंतरसम्बन्ध पर आधारित है। लेखक नेपाल में भारतीय हस्तक्षेप के खिलाफ गठित भारत-नेपाल जनएकता मंच के पूर्व महासचिव भी रह चुके हैं।

    प्रचण्ड माया न तो/ पूर्णतया बुर्जुवा बन पायी है/ और न ही कम्युनिस्ट

    प्रचण्ड माया पवन पटेल  जनता
    Read More
    hastakshep | हस्तक्षेप

    एक जरूरी अपील

    एक जरूरी अपील हस्तक्षेप.कॉम कुछ संजीदा पत्रकारों का स्वैच्छिक प्रयास है। इसकी शुरूआत वर्ष 2010
    Read More
    जगदीश्वर चतुर्वेदी

    स्वतंत्रता की धारणा को ही अप्रासंगिक बना देना ज्योतिषशास्त्र की राजनीति

     | 2016/05/12
    मासकल्‍चर, फलित ज्योतिष और राजनीति‍ भाग्य और
    Read More
    Dr. Purushottam Meena "Nirankush" डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश', मूलवासी-आदिवासी अर्थात रियल ऑनर ऑफ़ इण्डिया। होम्योपैथ चिकित्सक और दाम्पत्य विवाद सलाहकार। राष्ट्रीय प्रमुख-हक रक्षक दल (HRD) सामाजिक संगठन, राष्ट्रीय अध्यक्ष-भ्रष्टाचार एवं अत्याचार अन्वेषण संस्थान (BAAS), नेशनल चैयरमैन-जर्नलिस्ट्स, मीडिया एन्ड रॉयटर्स वेलफेयर एसोसिएशन (JMWA), पूर्व संपादक-प्रेसपालिका (हिंदी पाक्षिक) और पूर्व राष्ट्रीय महासचिव-अजा एवं अजजा संगठनों का अखिल भारतीय परिसंघ।

    सामाजिक न्याय की लड़ाई में मूलनिवासी और विदेशी की अवधारणा की जरूरत ही नहीं!

    डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'
    Read More
    Donald John Trump is an American businessman, politician, television personality, author, and the presumptive nominee of the Republican Party for President of the United States in the 2016 election.

    हिन्दू सेना के तैंतीस करोड़ तैंतीसवें देवता डोनाल्ड ट्रम्प

    डोनाल्ड ट्रम्प के चरणों में हिन्दू सेना ट्रम्प ओबामा
    Read More
    जबलपुर में 'नई दुनिया'के स्थानीय संपादक, और मेरठ में 'हिंदुस्तान'के स्थानीय संपादक रहे राजीव मित्तल वरिष्ठ पत्रकार हैं। 'अमर उजाला'और 'दैनिक हिंदुस्तान'होते हुए मित्तल जी नव भारत टाइम्स एवं 'जनसत्ता' (चंडीगढ़) में मुख्य उप सम्पादक भी रहे हैं।

    मांस भक्षण प्रेमी पवित्र गाय

    Security officer caught smuggling and robbery राजीव मित्तल इस देश में भारतीय सेना
    Read More
    रेल

    रेलवे के अच्छे दिन, गाड़ी प्लेटफार्म पर खड़ी है और चार्ट तैयार नहीं

    ये अच्छे दिन हैं या
    Read More
    News Khabren Dunia Bhar ki hastakshep

    NIZAMI , THE MASTER MIND TO ANNIHILATE BANGLADESH INTELLIGENTSIA HANGED!

    Nizami , the master Mind to annihilate Bangladesh
    Read More
    Pro. bhim singh press conference (Chief Patron of National Panthers Party & Member of National Integration Council)              

    JUDICIAL SLAP ON MODI GOVT. MAHABHARATA STARTS FROM HIMALAYAS AGAIN

    Judicial slap on Modi Govt. Mahabharata starts from
    Read More
    Arun jaitley

    उत्तराखंड की हार के बाद निशाने पर न्यायपालिका

    रावत जी, बेहतर है कि घोड़ों के दम पर जीने
    Read More
    rp_Shesh-ji-column-300x156.jpg

    राजनीति में काले धन की ताकत

    काले धन का खेल राजनीति में काले धन की ताकत को फिर
    Read More
    Captain KK Singh, (Krishna Kant Singh) is defence expert.He Worked at Indian Air Force, now he is active with Aam Admi Party. He is respected columnist of hastakshep.com[

    प्रजातंत्र की हत्या की दुहाई वही देते हैं जो यह काम करते हैं! काँग्रेस भी पहले यह कर चुकी है!

    राजीव नयन बहुगुणा चप्पल, झोला, चश्मा, माचिस जोगी
    Read More

    पोस्ट्स नेविगेशन

    1 2 3  491 Older


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!


    विश्वविद्यालयों के खिलाफ उग्र हिंदुत्व के एकाधिकारवादी हमले के खिलाफ आखिरकार कोलकाता में बुद्धिजीवी सड़क पर उतरे।

    जुलूस में यह सवाल भी प्रमुखता के साथ उठा कि राज्य में तृणमूल सरकार यादवपुर विश्विद्यालय पर बार बार बजरंगी हमले के मामले में तमाशबीन क्यों है।

    भैंस चुराने के आरोप में छात्र को नंगा करके पीट पीटकर मार डाला,भैंस सही सलामत और तृणमूल नेता गिरप्तार


    एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास

    हस्तक्षेप


    विश्वविद्यालयों के खिलाफ उग्र हिंदुत्व के एकाधिकारवादी हमले के खिलाफ आखिरकार कोलकाता में बुद्धिजीवी सड़क पर उतरे।जबकि नई दिल्ली में जेएनयू के छात्रों के समर्थन में देशभर से सभी तबके के लोग एकजुट हैं।केसरियाकरण के खिलाफ यह आंदोलन अब तेज होने वाला है।इसी बीच डायमंड हारबर में आईटीआई छात्र कोशिक पुरकायत को भैंस चुराने के आरोप में नंगा करके पीट पीटकर मारने वाले तृणमूल नेता तापस मल्लिक को पुलिस ने गिरप्तार कर लिया है।गौरतलब है कि भैंस सही सलामत बगीचे में बरामद कर ली गयी,जिसे चुराने के आरोप में छात्र की हत्या कर दी गयी और उसे जिंदगी की मोहलत देने के एवज में परिजनों से भैंस की कीमत साठ हजार वसूल लिये गये ,लेकिन छात्र की जान बख्शी नहीं गयी।


    इस जुलूस में यह सवाल भी प्रमुखता के साथ उठा कि राज्य में तृणमूल सरकार यादवपुर विश्विद्यालय पर बार बार बजरंगी हमले के मामले में तमाशबीन क्यों है।


    गौरतलब है कि यादवपुर विश्विद्यालयपरिसर के बाहर धावा बोलकर विद्यार्थी परिषद बंगाल के नेता सुबीर हलदर ने कहा, 'जादवपुर विश्वविद्यालय देशद्रोही तत्वों का अड्डा बनता जा रहा है। अगर यादवपुर विश्विद्यालयके इन देशद्रोही वामपंथी छात्रों ने परिसर से बाहर निकलने की कोशिश की तो उनकी टांगें काट दी जाएंगी।'


    यही नहीं,प्रदेश भाजपा अध्यक्ष  दिलीप घोष ने यादवपुरविश्व विद्यालय को राष्ट्र-विरोधी तत्वों का गढ़ बताया। माकपा व विश्वविद्यालयके कुलपति पर ऐसे लोगों का समर्थन करने का आरोप लगाते हुए कुलपति की भूमिका की जांच कराने की माग भी की।पार्टी की प्रदेश महासचिव देवश्री घोष ने कहा कि हम देखते है कि यादवपुरविश्व विद्यालय में किसकी जीत होती है। देश भक्त जीतते हैं या देश द्रोही।जबकि प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सांसद अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि यादवपुर विश्वविद्यालयपर संघ परिवार की नजर है। छात्रों में साम्प्रदायिकता को बढ़ावा दिया जा रहा है। शिक्षणसंस्थानों में इस तरह की गतिविधियों पर अंकुश लगनी चाहिए।


    कोलकाता में कल इस जुलूस में बड़ी संख्या में शिक्षाविद,साहित्यकार ,कलाकार , संस्कृतिकर्मी,बुद्धिजीवियों ने शामिल होकर केंद्रीय विश्विद्यालय हैदराबाद,जवाहरलाल नेहरु विश्विद्यालय नई दिल्ली,यादवपुर विश्वविद्यालय समेत देशभर के विश्वविद्यालयों पर कब्जा जमाने के बजरंगी अभियान के खिलाफ छात्रों और शिक्षकों के प्रितरोध का समर्थन किया गया।


    दक्षिण कोलकाता के गोलपार्क से यादवपुर विश्विद्यालय के सामने 8 बी बस अड्डे तक निकले जुलूस में शिक्षाविद पवित्र सरकार,शुभंकर चक्रवर्ती,दिलीप बसु,आनंददेव मुखर्जी,नंदिनी मुखर्जी,मशहूर फिल्म निदेशक तरुण मजुमदार,असहिष्णुता के खिलाफ साहित्य अकादमी पुरस्कार लौटाने वाली बंगाल की इकलौती कवियत्री मंदाक्रांता सेन,निबंधकार अजिजुल हक,मधुजा सेन की अगुवाई में यह जुलूस निकला और 8बी के पास हुई सभा को संबोधित किया तरुण मजुमदार,शुभंकर चक्रवर्ती,देवाशीष सरकार,श्रुतिनात प्रहराज,कृष्णप्रसन्न भट्टाचार्य,अजीजुल हक,पार्थप्रतिम विश्वास,समर चक्रवर्ती,देवज्योति दास,मोहम्मद शफीकुल्ला समेत अनेक वक्ताओं ने।रजत बंदोपाध्याय और मंदाक्रांता सेन ने कविता पाठकिया।


    विश्वविद्यालयों पर बजरंगी धावे का नजारा प्रगतिशील बंगाल में हाल में बार बार देखने को मिला।पहले साइंस सिटी के सामने छात्रों को बजरंगियों ने धुन डाला,फिर कोलकाता मेंँ संघ मुख्यालय पर रोहित वेमुला की संस्थागत हत्या के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे छात्रों को बजरंगियों ने जमकर मारा पीटा।


    ममता बनर्जी की पुलिस दोनों मौके पर तमाश बीन बनी रहीं और इस सिलिसिले में बजरंगियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की।तब बंगाल के प्रबद्ध प्रगतिशील समाज ने छात्रों के पक्ष में मजबूती के साथ खड़ा होने की कोई पहल नहीं की।


    राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के भूमिगत कार्यकर्ता को चुनाव से पहले प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बना देने के तुरंत बाद #Shut down JNU  #Shutdown तर्ज पर JADAVPUR University चालू हो गया और प्रदेश अध्यक्ष ने सीधे ऐलान कर दिया कि बंगाल में भाजपा की सरकार होती तो यादवपुर विश्वविद्यालय में घुसकर शिक्षकों और छात्र छात्राओं को बाहर लाते और उन्हें देशभक्ति रका पाठ पढ़ा देते।


    इसी बीच बंगाल में विधानसभा चुनाव का ऐलान हो गया और बिहार की तरह विपक्ष का कांग्रेस वाम गठबंधन की चुनौती के सामने दीदी की कुर्सी डांवाडोल नजर आने लगी तो संघ परिवार ने फौरी तौर पर विश्वविद्यालयों को उनके हाल पर छोड़ कर दीदी के हक में धर्मोन्मादी ध्रूवीकरण के जरिये वाम कांग्रेस गठबंधन को हराने में अपनी पूरी ताकत झोंक दी।


    मतदान का आखिरी दौर समाप्त होने के बाद फिर शुरु हो गया #Shut down JNU  #Shutdown तर्ज पर JADAVPUR University क्योंकि खुद प्रधानमंत्री के राजभवन में डेरा डालने के बावजूद यादवपुर के छात्र छात्राओं के खिलाफ जेएनयू की तर्ज पर राष्ट्रद्रोह का कोई मुकदमा नहीं चला और न वहां के कुलपति ने जेएनयू के कुलपति के नक्शेकदम पर विश्वविद्यालय परिसर में मनुस्मृति राज कायम करने की कोई पहल की।इस करारी शिकस्त को हजम नहीं कर सके बजरंगी।


    अब उनका सीधा ऐलान है कि केंद्र में भाजपा की सरकार है तो विश्विद्यलय को आजादी नहीं मिलेगी और देशद्रोही छात्राओं से छेढ़छाड़ जायज है।गौरतलब है कि यादवपुर विश्विद्यालय प्रशासन ने विद्यार्थी परिषद के चार छात्रों के खिलाफ छात्राओं से छेड़छाड़ करने के आरोप में एफआईआर दर्ज कराया है लेकिन दीदी की पुलिस ने अभीतक कोई कार्रवाई नहीं की है।

    छात्र की हत्या के बारे में कई वीडियों के साथ बांग्ला टीवी चैनल एबीपी आनंद की खबर हैः

    আইটিআই ছাত্র খুন: ধৃত তৃণমূল নেতার ১৩ দিনের পুলিশ হেফাজত, সিআইডি তদন্তের নির্দেশ

    আইটিআই ছাত্র খুন: ধৃত তৃণমূল নেতার ১৩ দিনের পুলিশ হেফাজত, সিআইডি তদন্তের নির্দেশ

    ডায়মন্ড হারবার (দক্ষিণ ২৪ পরগনা): ডায়মন্ডহারবারে মোষ চুরির অপবাদে কলেজ ছাত্র কৌশিক পুরকায়স্থকে পিটিয়ে খুনের ঘটনায় অবশেষে পুলিশের জালে মূল অভিযুক্ত তৃণমূল নেতা তাপস মল্লিক। তদন্তভার গিয়েছে সিআইডি-র হাতে। কিন্তু, তাতেও আতঙ্ক কাটছে না মৃত ছাত্রের পরিবারের। মৃত কলেজ ছাত্র কৌশিক পুরকায়স্থর পরিবার ও তাঁর বন্ধুদের আশঙ্কা, ঘটনায় ধৃত প্রভাবশালীরা, প্রভাব খাটিয়ে বাইরে বেরিয়ে এলে ফের তাঁদের ওপর হামলা হতে পারে।

    আর কখনও মা বলে ডাকবে না ছেলে। আর কখনও সে ফিরবে না। তার এমন পরিণতির জন্য যারা দায়ী, তাদের চরম শাস্তি দাবি করেছেন মা।

    অভিযুক্ত তৃণমূল নেতা ধরা পড়েছে। তাঁর সাঙ্গপাঙ্গদেরও গ্রেফতারের দাবিতে সরব মৃত ছাত্রের পরিবার।


    ইতিমধ্যেই ঘটনার তদন্তভার তুলে দেওয়া হয়েছে সিআইডির হাতে। সিআইডি সূত্রে খবর, তথ্য সংগ্রহের কাজ শুরুও করে দিয়েছেন দিয়েছেন গোয়েন্দারা। তথ্য প্রমাণ যাচাই করার জন্য জেরা করা হবে তৃণমূল নেতা তাপস মল্লিক সহ ধৃত ৬ জনকে। তথ্য প্রমাণ জোগাড়ের জন্য তদন্তকারীরা যাবেন ঘটনাস্থলেও।

    এর আগে, কড়া পুলিশি নিরাপত্তায় আদালতে আনা হয় ছাত্র খুনে মূল অভিযুক্ত তৃণমূল নেতা তাপস মল্লিক ও তাঁর সহযোগী বিল্লুকে। আদালত চত্বরে তখন উড়চে পড়ছে গ্রামবাসী ও নিহত ছাত্রের পরিজনদের ভিড়ে। মুখ্য বিচারবিভাগীয় ম্যাজিস্ট্রেটের এজলাসে পেশ করা দুই ধৃতকে। শুরুতেই ডায়মন্ডহারবার আদালতের বার অ্যাসোসিয়েশনের সম্পাদক সুদীপ চক্রবর্তী বিচারককে জানান, বার অ্যাসোসিয়েশনের তরফে সিদ্ধান্ত নেওয়া হয়েছে, আমরা কেউ অভিযুক্তদের পক্ষে সওয়াল করব না।

    এরপর সরকারি আইনজীবী বলেন, ঘটনায় মূল অভিযুক্ত তাপস মল্লিক। তাঁর সামনই গোটা ঘটনা ঘটেছে। তাপস মল্লিক ও তাঁর সহযোগী বিল্লুকে ১৪ দিনের পুলিশ হেফাজতে পাঠানো হোক। এরপর ধৃতদের ১৩দিনের পুলিশ হেফাজতের নির্দেশ দেন বিচারক।

    ইতিমধ্যে তাপস মল্লিকের বিরুদ্ধে খুন-সহ একাধিক ধারায় মামলা রুজু হয়েছে। অভিযুক্তকে আশ্রয় দানের অভিযোগে মামলা হয়েছে তৃণমূল নেতার সহযোগী বিল্লুর বিরুদ্ধেও।

    এদিকে, শুক্রবার ধৃতদের আদালতে তোলার আগে ডায়মন্ডহারবার থানায় বিক্ষোভ দেখান গ্রামবাসী ও নিহত ছাত্রের পরিজনরা। তাঁদের দাবি, মৃতের পরিবারকে ক্ষতিপূরণ দিতে হবে এবং কোনও ভাবেই যেন প্রভাব খাটিয়ে, অভিযুক্তরা যেন জেল থেকে বেরোতে না পারে, তা সুনিশ্চিত করতে হবে। কিছুক্ষণ পর পুলিশের কড়া পদক্ষেপের আশ্বাসে বিক্ষোভ ওঠে।

    উল্লেখ্য, গত সোমবার বন্ধুদের সঙ্গে ডায়মণ্ডহারবারে মাসির বাড়ি বেড়াতে যান দক্ষিণ ২৪ পরগনার মন্দিরবাজারের বাসিন্দা কৌশিক পুরকায়স্থ। ওই দিনই এলাকায় একটি মোষ চুরি হয়। রাতের দিকে কৌশিক বাড়ি থেকে বেরোলে  তাঁকেই চোর সন্দেহে ঘিরে ধরে স্থানীয় কিছু লোকজন। অভিযোগ, টেনেহিঁচড়ে ওই কলেজ ছাত্রকে স্থানীয় একটি ক্লাবে নিয়ে যাওয়া হয়। সেখানেই স্থানীয় তৃণমূল পঞ্চায়েত সদস্য তাপস মল্লিকের নেতৃত্বে তাঁকে বেধড়ক মারধর করা হয় বলে অভিযোগ। মারের চোটে সংজ্ঞা হারান কৌশিক।

    iti-student-beaten-to-deat-580x395

    নৃশংসতার শেষ এখানেই নয়! পরিবারের দাবি, মারধরের খবর পেয়ে তাঁরা যখন ক্লাবে যান, দেখেন, মৃতপ্রায় কৌশিক মেঝেতে পড়ে রয়েছে! অভিযোগ, তাকে হাসপাতালে নিয়ে যেতে চাইলে পাল্টা দেড় লক্ষ টাকা দাবি করেন তৃণমূল পঞ্চায়েত সদস্য! শেষমেশ মুচলেকা দিয়ে রেহাই মেলে! বহু লড়াইয়ের পর কৌশিককে হাসপাতালে নিয়ে গেলেও, শেষরক্ষা হয়নি! এসএসকেএমে মৃত্যু হয় তাঁর।

    ওই ঘটনায় পুলিশ চারজনকে গ্রেফতার করলেও গতকাল পর্যন্ত অধরা ছিল অন্যতম অভিযুক্ত এই তৃণমূল নেতা।


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    बिहार और झारखंड में पत्रकारों की हत्या और विखंडित पत्रकारिता

    पलाश विश्वास

    पत्रकारिता उतनी आसान नहीं है ,जितना रात दिन 24 घंटे लाइव सूचना विस्फोट के बाजार और ग्लेमर से नजर आता है।


    दुनियाभर में सत्तावर्ग को सबसे ज्यादा सरदर्द प्रेस की आजादी की वजह से है।प्रेस को साधे बगैर सत्ता के लिए मनमानी करना असंभव है और इस लिए सधे हुए पत्रकारों की तुलना में बागी जनपक्षधर पत्रकारोें पर हमले हर देश में हर काल में होते रहते हैं।


    हमारे पड़ोस में बांग्लादेश में हर साल ब्लागरों, कवियों, लेखकों के साथ बड़े पैमाने पर हर साल प्रेस पर हमले होते हैं और मारे जाते हैं पत्रकार।अब हम भी तेजी से बांग्लादेश बनते जा रहे हैं।विडंबना है कि इस सिलसिले में जनता को कोई मुद्दा प्रसंगिक नहीं है।


    इस तुलना में अब भी भारत में पत्रकारिता का जोखिम कम है।लेकिन भारत की राजधानी,राज्यों की राजधानी और महानगरों में माफिया युद्ध में,मसलन जैसे मुंबई में न उलझें,तो प्रेस का काम आसान ही कहना होगा।


    जबकि पत्रकारों की सबस बड़ी फौज जिलों और कस्बों से हैं और सत्ता और प्रशासन के साथ साथ आपराधिक माफिया गिरोह की मर्जी के खिलाफ पत्रकारिता करना बेहद खतरनाक है,जिसे सुविधानजक वातानुकूलित पर्यावरण में समझना मुश्किल है।


    ऐसे पत्रकारों पर देश के कोने कोने में हमले जारी हैं।जितने हमले हो रहे हैं,उतनी खबरे या बनती नहीं हैं या बनने के बावजूद छपतची नहीं है।हमले इसलिए भी हो रहे हैं क्योंकि पत्रकारिता में घमासान है और कोई पत्रकार अब किसी दूसरे पत्रकार के साथ खड़ा नहीं है।


    अभी उड़ीसा के गिरफ्तार पत्रकार के हक में नई दिल्ली में जंतर मंतर पर हुए धरना और प्रदर्शन में दिल्ली के पत्रकार शामिल नहीं हुए तो दंडकारण्य खासकर छत्तीसगढ़ में सलवाजुड़ुम में फंसी पत्रकारिता के बारे में बाकी देश के पत्रकारों को कोई परवाह नहीं है।


    पत्रकारिता भी अब श्रेणीबद्ध है।

    कुछ पत्रकारों पर हमले हों तो बाकी पत्रकारों को फर्क नहीं पड़ता, इस आत्मघाती प्रवृत्ति से पत्रकारिता का जोखिम भारत में भी बढ़ता जा रहा है।पत्रकारिता इसीलिए लहूलुहान है।किसी को किसी के जाने मरने की कोई परवाह नहीं है।बाहरी हमले जितने हो रहे हैं,उससे कहीं ज्यादा पत्रकारिता के तंत्र में सफाया अभियान है।


    इसे समझने के लिए उत्तराखंड के ऊर्जा प्रदेश बनने से काफी पहले,वहां विदेशी पूंजी और कारपोरेट माफिया तत्वों के हाथों जलजंगल जमीन पूरी तरह बेदखल होने से भी पहले थोकदारों ने एक पत्रकार उमेश डोभाल की हत्या कर दी थी,जिसका पूरे देश में प्रबल विरोध हुआ।


    हमने धनबाद के दैनिक आवाज से पत्रकारिता शुरु की जबकि तब झारखंड आंदोलन तेज था लेकिन अलग राज्य बना नहीं था।

    कोयलाखानों की राजनीति पर माफिया वर्चस्व बेहद भयंकर था और बाहुबलियों की तूती बोलती थी।


    सड़कों पर जब तब गैंग वार का नजारा पेश होता था।उन्हीं कोयला खदानों में झारखंड के दूरदराज इलाकों की खाक छानने के बावजूद हम तमाम पिद्दी से पत्रकारों को कोई खास तकलीफ नहीं हुई।


    हम 1980 से 11984 तक बिहार बंगाल के कोयलाखानों की प्तरकारिता करते रहे और निजी तौर पर या सामूहिक तौर पर हम लोग माफिया और राजनीति दोनों पर भीरी पड़ते थे।


    उसी झारखंड में अब एक पत्रकार की हत्या हो गयी जबकि माफिया और बाहुबलियों का उतना प्रभुत्व अब झारखंड में नहीं है।


    इसीतरह जब हम धनबाद में ही थे,बिहार के मुख्यमंत्री डा. जगन्नाथ मिश्र थे या फिर केदार पांडेय।तब चारा घोटाला से बड़े आरोप मिश्र के खिलाफ थे।जिसके बारे में रोज आर्यावर्त इंडियन नेशन में सिलसिलेवार खुलासा उसीतरह हो रहा था,जैसे इन दिनों बंगाल में एक समाचार समूह दीदी के राजकाज का कच्चा चिट्ठा कोल रहा है रोज।


    डा.जगन्नाथ मोर्चा के खिलाफ आर्यावता इंडियन नेशन की मोर्चाबंदी का जो नतीजा हुआ,उसका नाम है कभी पास न होने वाला बिहार प्रेस विधेयक,जिसका बिहार ही नहीं,पूरे देश में विरोध हुआ।


    यह आर्यावर्त इंडियन नेशन की ही पत्रकारिता थी कि जब इंडियन एक्सप्रेस ने बाकायदा इंदिरा गांधी के खिलाप मोर्चा खोल रखा था,उसी वक्त बिहार में रोजाना मुख्यमंत्री और राज्यपाल के दौरे और उनके बयान और सरकारी खबरों की लीड बना करती थी।


    बिहार के पत्रकारों ने इतनी जबर्दस्त एकजुटता दिखायी कि बिहार प्रेस बिल वापस न होने तक सरकारी खबरों का बहिस्कार हर अखबार का रोजनामचा हो गया।


    आंदोलन कामयाब होने के बाद बिहार की पत्रकारिता ही बदल गयी और सत्ता की मर्जी के खिलाफ माफिया राज के खिलाफ खुल्लमखुल्ला पत्रकारिता होने लगी लेकिन बिहार में पत्रकारिता का जलवा और बाकी देश में वही नजारा देख लेने के बाद किसी की हिम्मत नहीं हुई कि किसी पत्रकार को छू भी लें।


    भारत में पत्रकारिता की उस अभूतपूर्व मोर्चाबंदी की फिर पुनरावृत्ति हुई नहीं है।फिर सरकारी खबरों का बायकाट का नजारा दिखने को नहीं मिला,जब सत्ता को अखबार के पन्नों पर अपना चेहरा देखने को तरसना पड़ा।क्योंकि अब तमाम तरह के रंग बिरंगे घरोनों से जुड़े पत्रकारों में एकता लगभग असंभव है।


    जनप्रतिबद्धता की बात तो छो़ड़ ही दें,पत्रकारों का एक बहुत बड़ा तबका सत्ता से नत्थी हैं तो दूसरा तबका भी कम बड़ा नहीं है जो सीधे बाजार से नत्थी हैं।


    मुंबई मे तो पेशेवर पत्राकिराय पेशेवर माफियाकर्म की तरह अपने साथियों का आखेट करने लगा।तो सत्ता और बाजार के हित में यह कुरुक्षेत्र हम महानगर और राजधानी से लेकर जिला शहरों और कस्बों तक बाकायदा नेटवर्क है।


    अब पत्रकारों के आपसी हित भी टकराते हैं और बहुत सारे मामलों में शिकार पत्रकार का साथ देने के बजाय बाकी पत्रकारों का एक बड़ा तबका सत्ता और माफिया का साथ दे रहा है तो देश भर में मुक्तबाजार के समर्थक पत्रकार बाकायदा सलवाजुड़ु की पैदल फौजें है।


    पत्रकारिता अब कारपोरेट हैं तो पत्रकार भी कम कारपोरेट नहीं हैं।


    संपादक कहीं हैं ही नहीं ,हर कहीं सीईओ या मैनेजर लामबंद है।


    जाहिर है कि पत्रकारों के हित भी कारपोरेट हित है जो आपस में टकराते हैं औक तमाम बुनियादी ज्वलंत मुद्दों से या तो कतराते हैं,या फिर जनपक्षधरता के उलट कारपोरेट हित में ही पत्रकार गाते बजाते हैं।


    इसी दौरान पहले के बाहुबलि जो पीछे से राजनीति के सात नत्थी थे,अब सीधे राजनीतिक और सत्ता के चेहरे से जुड़ गये हैं।


    अब मालूम ही नहीं पड़ता कि कौन सा इलाका लोकतंत्र का इलाका है औरकौन सा माफिया का।


    इसीतरह यह भी मालूम करना मुशिकल है कि कौन सी पत्रकारिता माफिया नेटवर्क है और कौन सी पत्रकारिता प्रेस की आजादी है।


    इसी घालमेल में प्रेस पर हमले बढ़ गये हैं जो और तेज होने के आसार है।


    विखंडित पत्रकारिता की वजह से न सिर्फ हमले बढ़ गये हैं बल्कि नजारा यह है कि एक ही घराने के अलग अलग संस्करण के हालात अलग अलग हैं,वेतनमान अलग अलग हैं और जिन्हें सबकुछ मिल रहा है,वे बाकी लोगों की तनिक परवाह नहीं करते।


    इसी विखंडित पत्रकारिता का नतीजा यह है कि पालेकर एवार्ड लागू करने के लिए देश भर में आंदोलन हुआ तो मणिसाणा तक पत्रकारों के वेतनमान और कार्यस्थितियों में कोई ज्यादा फर्क नहीं था।


    अब सुप्रीम कोर्ट की देखरेख में मजीठिया एवार्ड लागू कितना हुआ और कितना नहीं हुआ,अपने अपने संदर्भ और प्रसंग में देख लें।फिरभी सुप्रीम कोर्ट में जितनी हलचल रही,उतनी हलचल प्रेस में हुई नहीं है।


    अब पत्रकारों की हत्या जैसा प्रेस की आजादी और लोकतंत्र पर कुठाराघात भी आज की पत्रकारिता के लिए सत्ता संघर्ष का मामला है और किसी सनसनीखेज सुर्खी से इसका अलग कोई महत्व नहीं है।


    विडंबना यह है कि विशुध पत्रकारिता करने वाले लोग भी कम नहीं है बल्कि बहुसंख्य वे ही हैं और उनमें अनेक लोग बेहतरीन काम भी कर रहे हैं।लेकिन बिखरे हुए मोर्च पर यह पत्रकारिता बेअसर है और ऐसे पत्रकारें के आगे बढ़ने या सिर्फ टिके रहने के भी आसार नहीं है।


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    ভিটেহারা ঘরপোড়া উদ্বাস্তু বা্ঙালি


    Subodh Biswas

    15-05-2016
    08:03

    বাংলা ভাগ পূর্ববঙ্গে জনগোষ্ঠীকে সমূলে নিপাত করেছে। তার পরিনতি বিভিন্ন রাজ্যের ছিন্নমূল বাঙালিদের জীবনে আজও এক অভিশাপ।
    ৭১ দশকের পরে পূর্ববাঙলা থেকে হাজার হাজার হিন্দু বাঙালি ঘরবাধার আশায় পাড়ী জমিয়ছিল উওর প্রদেশের হস্তিনাপুরে।তাদের ভাগ্যে পুনর্বসন জোটেনি। বাধ্যহয়ে হাজার হাজার পরিবার গঙ্গার বালুচরে অস্থায়ী ভাবে মাথাগোজার একটু ঠিকানা করেনিয়েছিল।মা গঙ্গা বাদসাধল।গঙ্গার প্লাবনে ক্ষনিকের মধ্যে সমস্ত ঘরবাড়ী নদীর কবলে চলেযায়।আবার তারা উদ্বাস্তু হয়েযায়।বার বার গঙ্গামায়ের ছোবলথেকে বাঁচতে পার্শস্থ্য সরকারী ভূমীতে খড়কুটো দিয়ে ঘরবানিয়ে বসবাস করতে থাকে।আজও তারা ভূমীহীন।তাদের সাংবিধানিক কোনঅধিকার নেই।
    উদ্বাস্তুদের কায়িক পরিশ্রম করে বেচেথাকতে হয়।লেখাপড়া তাদের কাছে অলিক স্বপ্ন। অর্থ ও খাদ্যের সন্ধানে সকাল বেলায় বেরিয় পড়ে সম্পুর্ন গ্রামবাসী।
    অগ্নিদেবতা বিরুপ হলেন।সম্পূর্ন নাঙলা উদ্বাস্তু গ্রাম চোঁখের পলকে পুড়ে শ্বশ্বানের ছাই গেলো। প্রশাসনিক বিন্দুমাএ সাহায্য তারা পায়নি।এরুপ এই গ্রামটি তিনবার পুড়েছে।অনেকের ধারনা ভূমি মাফিয়েদর অপকর্ম ।
    ২০১২ সালে হতভাগ্য উদ্বাস্তুদের মাঝে আশার আলোহয়ে দেখাদেয় নিখিল ভারত বাঙালি উদ্বাস্তু স সমিতি নামক একটি সংগঠন। হস্তিনাপুর জেলাকমিটির সভাপতি রাজু রায় ও তপন ঢালীর নেতৃত্ব সাহায্যের হাতবাডিয়ে দেন।
    প্রদেশ সভাপতি উদ্বাস্তু দরদী ডা আর এন দাস ও সম্পাদক এ্যাড দীপঙ্কর বৈরাগী সহ অনেকে চাউল ডাউল নিয়ে ছুটে আসেন।প্রতিবেসী মেরাট কমিটির সভাপতি শ্যামল মন্ডল দলবলনিয় আত্মজদের পাশে দাড়ান।
    কেন্দ্রীকমিটির সমাজব্রতি নেতা অম্বিকা রায়ের নেতৃত্ব দিল্লীথেকে ছুটেযান নিলিমা বিশ্বাস,গৌতম বিশ্বাস কমলেষ ঘরামী।দিল্লী কমিটির সম্পাদক তাপস রায় সহ অনেকে সাহায্যের হাতবাড়িয়ে দেয়।মেরাটের সুপরিচিত জনপ্রিয় ব্যাক্তিত্ব ডা গৌতম বিশ্বাসের অবদান ভোলার নয়।সমিতির মহতি উদ্দ্যোগকে সাধুবাদ জানাই।

    পুড়ে যাওয়া ঘরবাড়ী।ছবিতে আছেন ডা আর এন দাস ,রাজু রায় সহ অনেকে






    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0
  • 05/15/16--01:48: धर्मोन्मादी हिंदुत्व की नई संस्कृति का भयंकर नजारा केसरिया बंगाल भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने साफ साफ कह दिया कि यादवपुर यूनिवर्सिटी की लड़कियां बेशर्म हैं। उन्होंने छेड़खानी की आधारहीन शिकायत दर्ज कराई है। वे लड़कों के ऊपर लेटी रहती हैं और बाद में छेड़खानी की शिकायत दर्ज कराती हैं। बंगाल की मां माटी मानुष सरकार की महिला मुख्यमंत्री को अपने खास ताल्लुक में देश ही नहीं,दुनियाभर में मशहूर एक विश्वविद्यालय कैंपस पर बार बार बजरंगी धावा,कैंपस में छात्राओं के साथ छेड़खानी,राज्यपाल के मार्फत उपकुलपति पर नाजायज दबाव और विश्वविद्यालय की स्वायत्तता में अविराम हस्तक्षेप की तो परवाह मोदी गठबंधन के मुताबिक फिर सत्ता में वापसी की गरज और शारदा नारदा की मजबूरी से नहीं ही रही होगी,लेकिन एक नागरिक और एक महिला की हैसियत से यादवपुर की छात्राओं की शारीरिक और मौखिक श्लीलताहानि से इतनी अविचल रहकर उनने बंगाल को केसरिया बनाने के हिदुत्व एजंडे को अपना खुल्ला समर्थन दे दिया है और अब बंगाल औ बंगाली अच्छीतरह समझ लें कि तृणमूल समर्थक सर्वे में भाजपा को नौ सीटों और मालदा में कमसकम चार सीटों प
  • धर्मोन्मादी हिंदुत्व की नई संस्कृति का भयंकर नजारा केसरिया बंगाल

    भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने साफ साफ कह दिया कि  यादवपुर यूनिवर्सिटी की लड़कियां बेशर्म हैं। उन्होंने छेड़खानी की आधारहीन शिकायत दर्ज कराई है। वे लड़कों के ऊपर लेटी रहती हैं और बाद में छेड़खानी की शिकायत दर्ज कराती हैं।


    बंगाल की मां माटी मानुष सरकार की महिला मुख्यमंत्री को अपने खास ताल्लुक में देश ही नहीं,दुनियाभर में मशहूर एक विश्वविद्यालय कैंपस पर बार बार बजरंगी धावा,कैंपस में छात्राओं के साथ छेड़खानी,राज्यपाल के मार्फत उपकुलपति पर नाजायज दबाव और विश्वविद्यालय की स्वायत्तता में अविराम हस्तक्षेप की तो परवाह मोदी गठबंधन के मुताबिक फिर सत्ता में वापसी की गरज और शारदा नारदा की मजबूरी से नहीं ही रही होगी,लेकिन एक नागरिक और एक महिला की हैसियत से यादवपुर की छात्राओं की शारीरिक और मौखिक श्लीलताहानि से इतनी अविचल रहकर उनने बंगाल को केसरिया बनाने के हिदुत्व एजंडे को अपना खुल्ला समर्थन दे दिया है और अब बंगाल औ बंगाली अच्छीतरह समझ लें कि तृणमूल समर्थक सर्वे में भाजपा को नौ सीटों और मालदा में कमसकम चार सीटों पर भजपा के दावे और हारे चाहे जीते बंगाल में सर्वत्र भाजपा के बढ़े हुए निर्णायक  वोटबैंक का मतलब क्या है।

    एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास

    हस्तक्षेप

    संघ परिवार के भूमिगत सिपाहसालार दिलीप घोष को बंगाल भाजपा का अध्यक्ष बबनाये जाने के बाद संघ परिवार का उग्र हिंदुत्व अब #Shut down JNU की तर्ज पर #Shut DOWN JU #Shut down Jadavpur univesity #Shut Down Universities # Shut down IITs# Shut Down IIMs#Shut Down State Boards बजरंगी अश्वमेध अभियान है।


    हैदरा बाद और नई दिल्ली में भी,इलाहाबाद और बनारस में भी और बाकी शैक्षणिक संस्थानों में भी हुड़दंगी केसरिया सुनामी जारी है और देशभर में अब कहीं भी जाति उन्मूलन के नारे के साथ,बाबा साहेब और रोहितवेमुला की तस्वीर के साथ जुलूस निकालने,मनुस्मृति जलाने और देश के हर हिस्से की जनता के नागरिक मानवाधिकारों,उनके तमाम हकहकूक की आवाज बुलंद करने वाले छात्रों और युवाओं पर हमला संभव है।


    अब पश्चिम बंगाल भाजपा के अध्यक्ष दिलीप घोषने शनिवार को एक बयान देकर हंगामा खड़ा कर दिया। एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान उन्होंने यादवपुर यूनिवर्सिटी की लड़कियों को 'बेशर्म' करार दिया है। घोष का बयान जादवपुर यूनिवर्सिटी की लड़कियों द्वारा एबीवीपी के कुछ कार्यकर्ताओं पर छेड़खानी की शिकायत करने को लेकर आया है। एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान घोष ने कहा, यादवपुर यूनिवर्सिटी की लड़कियां बेशर्म हैं। उन्होंने छेड़खानी की आधारहीन शिकायत दर्ज कराई है। वे लड़कों के ऊपर लेटी रहती हैं और बाद में छेड़खानी की शिकायत दर्ज कराती हैं।


    प्रगतिशील बंगाल के केसरियाकरण का आशय अब यादवपुर विश्वविद्यालय के खिलाफ बजरंगी धावे से दूध का दूध,पानी का पानी है।पिछले धावे से पहले बजरंगी फौज की अगुवाई करने वाली महिला नेता ने ऐलान कर दिया कि राष्ट्रद्रोही छात्राओं से छेड़ छाड़ जायज है तो धावे में पुलिस केएहतियाती बंदोबस्त और घेरे बंदी से पिटे विद्यार्थी नेता ने यादवपुर के छात्रों और छात्राओं को कैंपस से निकलने पर पांव काट लेने की धमकी दी।


    अब ताजा धमाका प्रदेश भाजपा अध्यक्ष हिंदुत्व और भारतीय संस्कृति के स्वयंभू धारक वाहक संघ परिवार के सिपाहसालार दिलीप घोष ने किया है और उनके मुखारविंद से यादवपुर के छात्राओं के लिए जो सुभाषित निकले हैं,वह मनुस्मृति में शूद्र और दासी स्त्रियों से अनादिकाल से पितृसत्ता के आचरण के नायाब नमूने हैं।


    गौरतलब है कि भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोषने आज यह कहकर विवाद पैदा कर दिया कि  यादवपुर विश्वविद्यालय की लड़कियां स्तरहीन और बेशर्म हैं जो हमेशा पुरुष छात्रों के साथ रहने का अवसर ढूंढने में लगी रहती हैं। घोष ने एबीवीपी और वाम झुकाव वाले छात्रों के बीच एक फिल्म के प्रदर्शन के दौरान पिछले सप्ताह हुई झड़प के दौरान संस्थान की छात्राओं के छेड़खानी का आरोप लगाने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए यह बात कही। उन्होंने कहा, 'छेड़खानी के आरोप निराधार हैं।  यादवपुर विश्वविद्यालय की छात्राएं जो आरोप लगा रही हैं वो खुद स्तरहीन और बेशर्म हैं और वह हमेशा पुरुषों के साथ लगी रहती हैं।


    उस बंगाल में ऐसा अभूतपूर्व नजारा है,जहां स्त्री मुक्ति के तमाम दरवाजे खिड़कियां खोलने वाले राजा राममोहन राय,ईश्वर चंद्र विद्यासागर,हरिचांद गुरुचांद ठाकुर,रवींद्रनाथ ठाकुर,शरतचंद्र जैसे लोगों ने आजीवन मुक्त स्त्रीकाल की रचना की और जहां दुर्गोत्सव धर्मोन्माद नहीं,सांस्कृतिक विविधता का उत्सव है और वैदिकी कर्म कांड नहीं,महिषासुर वध नहीं,महालया जागरण और आगमनी से लेकर विसर्जन तक बेटी के स्वागत और उसकी विदाई का माहौल है।हिंदुत्व के झंडेवरदार इस बंगीय संस्कृति के बदले अपनी केसरिया सुनामी  हिंदुत्व की कौन सी नई संस्कृत का बंगाल में आयात कर रही है .इसे समझा जा सकता है।


    फिरभी बंगाल की मां माटी मानुष सरकार की महिला मुख्यमंत्री को अपने खास ताल्लुक में देश ही नहीं,दुनियाभर में मशहूर एक विश्वविद्यालय कैंपस पर बार बार बजरंगी धावा,कैंपस में छात्राओं के साथ छेड़खानी,राज्यपाल के मार्फत उपकुलपति पर नाजायज दबाव और विश्वविद्यालय की स्वायत्तता में अविराम हस्तक्षेप की तो परवाह मोदी गठबंधन के मुताबिक फिर सत्ता में वापसी की गरज और शारदा नारदा की मजबूरी से नहीं ही रही होगी,लेकिन एक नागरिक और एक महिला की हैसियत से यादवपुर की छात्राओं की शारीरिक और मौखिक श्लीलताहानि से इतनी अविचल रहकर उनने बंगाल को केसरिया बनाने के हिदुत्व एजंडे को अपना खुल्ला समर्थन दे दिया है और अब बंगाल औ बंगाली अच्छीतरह समझ लें कि तृणमूल समर्थक सर्वे में भाजपा को नौ सीटों और मालदा में कमसकम चार सीटों पर भजपा के दावे और हारे चाहे जीते बंगाल में सर्वत्र भाजपा के बढ़े हुए निर्णायक  वोटबैंक का मतलब क्या है।


    बहरहाल बंगाल में मोदी दीदी गठबंधन ने क्या क्या गुल खिला दिये और खास कोलकाता में दीदी की भवानीपुर सीट में विपक्ष को हराने के लिए संघ परिवार ने कितने वोट काटलिये या नारायण गढ़ से दीदी मोदी गठबंधन को शिक्सत देकर नये नेता सूर्यकांत मिश्र की अग्निदीक्षा हो पाती है या नहीं,इसका जवाब 19 मई को मिलेगा। दक्षिण बंगाल के 216 सीटों में उत्तर बंगाल में सूपड़ा साफ हो जाने के बावजूद मुसलमानों के वोट और दीदी मोदी गठबंधन की वजह से अब भी बढ़त दीदी को है।


    बहरहाल राजनीतिक समीकरण और संभावित जनादेश से कोई फर्क अब नहीं पड़नेवाला है।धर्मोन्मादी हिंदुत्व की नई संस्कृति का भयंकर नजारा केसरिया बंगाल है,यह असल चुनाव नतीजा है।


    शनिवार को बाकायदा संवाददाता सम्मेलन बुलाकर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा,यादवपुर  विश्वविद्यालय की घटना के बाद अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के कार्यकर्ताओं को जिस प्रकार से छेड़छाड़ के मामले में फंसाया गया है, वह बेशर्मी की हद है। एक तो एबीवीपी को कैंपस में फिल्म का शो नहीं करने दिया जाता है। दूसरे जब इसका विरोध एबीवीपी  कार्यकर्ता करते हैं, तो वामपंथी छात्र संगठन के लड़के उन्हें बुरी तरह से पीटते हैं और बेहाया लड़कियां उनपर छेड़छाड़ का आरोप लगा देती हैं। उन्होंने कहा कि उन लड़कियों को थोड़ी भी शर्म नहीं है, जिन्होंने बेगुनाहों पर झूठा आरोप लगाया।


    गौरतलब है कि छेड़छाड़ में पकड़े गये कथित एबीवीपी  कार्यकर्ताओं को विश्वविद्यालय प्रशासन की  तरफ से पुलिस के हवाले किया गया और विश्वविद्यालय प्रशासन ने उनके इस अभूतपूर्व हिंदुत्वकरण छेड़छाड़ अभियान के खिलाफ थाने में एफआईआर कराया।अभियुक्तों को बाइज्जत रिहा ही नहीं किया गया,ममता बनर्जी की बंगाल पुलिस ने उनके खिलाफ अभीतक कोई कार्वाई नहीं की।इस हादसे के बाद बजरंगियों ने तेजी से संघ परिवार का राष्ट्रीय चेहरा बनकर उभर रही फिल्म स्टार रूपा गंगागुली की अगुवाई में यादवपुर विश्वविद्यालय पर धावा बोला।तब से धावों का सिलसिला जारी है और मुख्यमंत्री खामोश हैं।


    आगे जो कहा गया,वह भारतीयस्त्री अस्मिता और संग परिवार की दुर्गावाहिनी ,उनकी साध्वियों,उनकी महिला नेताओं और कार्यक्रताओं के लिए कितान सम्मान जनक है,हिंदुत्व के रक्षक समझ लें तो बेहतर।


    ऐन चुनाव से पहले संघ परिवार के भूमिगत कार्यकर्ता से उग्र आक्रामक केसरिया राजसूय अभियान के लिए बंगाल भाजपा के सूबेदार बनाये गये घोष ने कहा कि  यादवपुर  विश्वविद्यालय की घटना में कुछ वामपंथी विचारधारा की महिलाएं खुद आकर एबीवीपी कार्यकर्ताओं से भिड़ जाती हैं। उन पर गिर जाती हैं। जब एबीवीपी की महिला सदस्य उन्हें बचाने आती हैं, तो उन्हें भी मारा जाता है।


    छेड़खानी के मामले में फंसे एबीवीपी कार्यकर्ताओं के बचाव में अदालत में अभियुक्त पक्ष के वकील की दलीलों की तर्ज परबंग विजय के लिए तैनात बंगाल भाजपा के सूबेदार बनाये गये घोष  ने बार बार कहा कि वामपंथी छात्र संगठन की लड़कियां खुद ही लड़कों पर गिरती हैं और जब वहां मौजूद एबीवीपी की महिला सदस्य उन्हें वहां से हटाती हैं, तो उन्हें भी मारा जाता है। उलटे एबीवीपी के कार्यकर्ताओं पर छेड़छाड़ का आरोप लगा दिया जाता है। यह घटिया हरकत है।


    फिर यह ब्रह्मास्त्र। घोष ने कह दिया कि जिन को मान-सम्मान की जरूरत है, उन्हें ऐसे स्थानों पर नहीं जाना चाहिए।इसके बावजूद ताज्जुब है कि संघपरिवार का अनिवार्य गंतव्य अब भी यादवपुर बना हुआ है।

    गौरतलब है कि बीते िदनों जेयू में एबीवीपी कार्यकर्ताओं पर वहां की छात्राओं ने छेड़छाड़ का आरोप लगाया था।बजरंगियों का आरोप है कि  इसके बाद इन एबीवीपी कार्यकर्ताओं को बंधक बना लिया गया था। उनके साथ मारपीट भी की गयी थी।   

    दिलीप घोष के बयान की निंदा

    उधर, माकपा के राज्य सचिव डॉ सूर्यकांत मिश्रा ने ट्वीटर पर इस टिप्पणी की निंदा करते हुए कहा कि इसमें कुछ नया नहीं है। उनके मुताबिक आपत्तिजनक टिप्पणी करने व बयान देने को लेकर भाजपा नेता अभ्यस्त हैं। ऐसा भाजपा और आरएसएस की नीतियों को दर्शाता है।


    भाकपा (माले) के प्रदेश सचिव पार्थ घोष ने ऐसी टिप्पणी प्रदेश भाजपा अध्यक्ष के माफी मांगने की मांग की है। पार्थ घोष ने कहा है कि जादवपुर विश्वविद्यालय की छात्राओं के प्रति आपत्तिजनक बातें कहना केवल छात्राओं का ही नहीं बल्कि बंगाल की तमाम महिलाओं  का अपमान है, उन्हें इसके लिए क्षमा मांगनी चाहिए।

    जेयू में हो और कड़ी सुरक्षा व्यवस्था : राज्यपाल

    राज्यपाल हाथ पर ङाथ धरे बैछे भी नहीं हैं।वे मुख्यमंत्री की तरह खामोश भी नहीं है।


    यादवपुर यूनिवर्सिटी (जेयू) में पिछले कुछ महीनों में बाहरी लोगों के अनाधिकृत प्रवेश की वजह से वहां हिंसक घटनाएं बढ़ती जा रही हैं। इस वजह से जेयू में शिक्षा का माहौल बिगड़ता जा रहा है।यह मानते हुए विश्वविद्यालय की इस स्थिति पर राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने चिंता जताईहै और वहां सुरक्षा व्यवस्था और कड़ी करने का निर्देश दिया है।ऐसा कोई निर्देस मुख्यमंत्री की ओर से नहीं है।

    सुरक्षा व्यवस्था को लेकर राज्यपाल ने विश्वविद्यालय प्रबंधन को यहां अतिरिक्त पुलिस तैनात करने का निर्देश दिया है कि ताकि बाहरी लाेगों के प्रवेश पर अंकुश लगायी जा सके।


    मीडिया के अनुसार, राज्यपाल ने  यादवपुरर विश्वविद्यालय के कुलपति सुरंजन दास व सह कुलपति आशीष रंजन वर्मा के साथ एकांत में बैठक के दौरान जल्द से जल्द से यूनिवर्सिटी में सुरक्षा-व्यवस्था और बढ़ाने का निर्देश दिया।

    गौरतलब है कि कुछ दिन पहले  यादवपुर  विश्वविद्यालय में विवेक अग्निहोत्री द्वारा निर्देशित फिल्म 'बुद्धा इन ए ट्रैफिक जाम'के प्रदर्शन को लेकर विवाद खड़ा हो गया था। इस फिल्म के प्रदर्शन के खिलाफ छात्रों ने एक हिस्से ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया था।


    गौरतलब है कि  इस घटना को लेकर राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी ने कड़ी प्रतिक्रिया जताते हुए कहा था कि शिक्षा का यह प्रांगण अब अशांति का केंद्र बन गया है। इस संबंध में उन्होंने उपकुलपति से रिपोर्ट तलब किया था।उपकुलपति ने जवाब भी दे दिया है।

    गौरतलब है कि जेयू के कुलपति सुरंजन दास ने ऐसी घटना दोबारा न हो, इसके लिए यूनिवर्सिटी के एलुमनी एसोसिएशन के प्रतिनिधियों के साथ बैठक भी की।उपकुलपति ने उनसे कहा कि भविष्य में इस प्रकार का कोई आयोजन करने या अनुमति देने से पहले सोच-विचार कर निर्णय लिया जाये।

    जानकारी के अनुसार, इस संबंध में चर्चा करने के लिए कुलपति सुरंजन दास एक बार फिर सभी पक्षों को साथ लेकर बैठक करेंगे।



    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0
  • 05/15/16--12:56: अगर संसार में समानता और न्याय नहीं है तो कैसा ईश्वर और कैसा धर्म? आपका ईश्वर होगा, मेरा कोई ईश्वर नहीं! अयोध्या में राम मंदिर बनाने की तिथि फिर तय हो गई है। सर्वत्र अंध फासिज्म के मनुस्मृति राष्ट्रवाद की हारके सिलिसिले में यूपी चुनाव से ऐन पहले उज्जैन से आयी यह खबर गौरतलब है कि धर्म संसद में अयोध्या में राम मंदिर बनाने की तिथि तय हो गई है। इसी वर्ष कार्तिक अक्षय नवमी (नौ नवंबर ) से मंदिर का निर्माण शुरू किया जाएगा। शुरुआत रामलला परिसर में सिंह द्वार निर्माण से की जाएगी। ऐसी घोषणाओं पर अमल के लिए न जाने कितनी बार महाभारत होगा। अब रिटायर कर रहा हूं पत्रकारिता से तो ईश्वर याद आ रहे हैं,ऐसा भी नहीं है।हमने अपने जीवन को अपने ढंग से जीने का फैसला किया और सारे विकल्प हमने चुने,तो इसकी जिम्मेदारी किसी ईश्वर की नहीं होती।होती तो वह ईश्वर भी सबको समान अवसर देता और मनुष्य नियतिबद्ध नहीं होता। नियति ईश्वर का विधान नहीं है,ईश्वरत्व की सीमा है।अगर सबकुछ नियतिबद्ध है तो ईश्वर का चमत्कार कैसा और किस ईस्वर की कृपा के लिए अपनी अपनी उपासना पद्धति के वर्चस्व के लिए यह पृथ्वी खून की अनंत नदी में तब्दील ह

  • अगर संसार में समानता और न्याय नहीं है तो कैसा ईश्वर और कैसा धर्म?
    आपका ईश्वर होगा, मेरा कोई ईश्वर नहीं!
    अयोध्या में राम मंदिर बनाने की तिथि फिर तय हो गई है।
    सर्वत्र अंध फासिज्म के  मनुस्मृति राष्ट्रवाद की हारके सिलिसिले में  यूपी चुनाव से ऐन पहले उज्जैन से आयी यह खबर गौरतलब है कि  धर्म संसद में अयोध्या में राम मंदिर बनाने की तिथि तय हो गई है। इसी वर्ष कार्तिक अक्षय नवमी (नौ नवंबर ) से मंदिर का निर्माण शुरू किया जाएगा। शुरुआत रामलला परिसर में सिंह द्वार निर्माण से की जाएगी। ऐसी घोषणाओं पर अमल के लिए न जाने कितनी बार महाभारत होगा।

    अब रिटायर कर रहा हूं पत्रकारिता से तो ईश्वर याद आ रहे हैं,ऐसा भी नहीं है।हमने अपने जीवन को अपने ढंग से जीने का फैसला किया और सारे विकल्प हमने चुने,तो इसकी जिम्मेदारी किसी ईश्वर की नहीं होती।होती तो वह ईश्वर भी सबको समान अवसर देता और मनुष्य नियतिबद्ध नहीं होता।

    नियति ईश्वर का विधान नहीं है,ईश्वरत्व की सीमा है।अगर सबकुछ नियतिबद्ध है तो ईश्वर का चमत्कार कैसा और किस ईस्वर की कृपा के लिए अपनी अपनी उपासना पद्धति के वर्चस्व के लिए यह पृथ्वी खून की अनंत नदी में तब्दील है और मनुष्यता विलुप्तप्राय है।धर्म नहीं, धर्मोन्माद की राजनीति के वध्य हो गये हैं तमाम आस्थावान आस्थावती नागरिक नागरिकाएं।यह विचित्र किंतु अद्भुत समाज वास्तव जितना है उतना सैन्य राष्ट्र का चरित्र और मुक्तबाजार की निर्मम चांदमारी ज्यादा है।

    आप इतिहास में,मिथकों में ईश्वर या अवतार खोजते होंगे,मैं नहीं।

    स्वामी विवेकानंद और रवींद्र नाथ के नरनारायण के शब्दबंध भी हमें विरोधाभास का पुलिंदा नजर आता है क्योंकि नर को अमूर्त नारायण का स्वरुप बनाकर दिखाना भी आस्था है,वास्तव नहीं।फिर किसी धर्मस्थल में ईश्वर कैद है से ज्यादा यथार्थ तो ईश्वर के किसी मेनहोल के अंधेरे में,या किसी गैस चैंबर में,या किसी कोयला खदान में कैद होने की कल्पना में होता।समाज सचेतन कल्पनाशीलता का बहुत अभाव है।व्यक्ति  केंद्रित उपभोक्ता संस्कृति में सामाजिकता की सभ्यता सिरे से अनुपस्थित है और इसीलिए असभ्य बर्बर समय के मुखातिब हम किसी ईश्वर की वानर सेना हैं।


    यह तात्कालिक प्रतिक्रिया है और इसमें सनी लिओनी की इरोटिका की कोई भूमिका नहीं है।
    पलाश विश्वास
    किसी भी कोण से मैं धार्मिक नहीं हूं।आपका ईश्वर होगा,मेरा कोई ईश्वर नहीं है।इंसानियत के मुल्क से बड़ा मेरे लिए कोई धर्मस्थल नहीं है।आस्तिक नहीं हूं लेकिन नास्तिक भी नहीं हूं।मुझे किसी ईश्वर,अवतार या उसके धर्म की शरण में स्वर्गवास या मोक्ष की आकांक्षा नहीं है।चाहे अनंत नर्कयंत्रणा मेरे लिए जारी ही रहे।

    दूसरे धार्मिक लोगों और उनकी आस्था का पूरा सम्मान करता हूं और धर्म के अतर्निहित मूल्यबोध के तहत जो जीजीविषा स्त्रियों,दबे कुचले उत्पीड़ितों और वंचितों को दुस्समय के विरुद्ध लड़ते रहने की प्रेरणा देती है,उस शक्ति को मेरा नमस्कार है लेकिन  मैं किसी ईश्वर से कोई प्रार्थना नहीं करता और बजाये इसके कर्मकांड के पाखंड और नानाविध पुरोहित तंत्र के आगे आत्मसमर्पण किये गौतम बुद्ध का धम्म का अनुशीलन मुझे ज्यादा प्रासंगिक लगता है,हालांकि बौद्धधर्म का अनुयायी भी नहीं हूं।

    संजोग से लगभग देश के हर हिस्से में जाना हुआ है हालांकि अपने पिता या बाबा नागार्जुन या राहुल सांकर्त्यान की तरह यायावर भी नहीं हूं।

    बचपन से बूढापे तक विविध धर्मस्थलों में जाना होता रहा है और पवित्र नदियों और पहाड़ों से जुड़ा भी रहा हूं,लेकिन मेरी कोई उपासना पद्धति भी नहीं है।

    अब रिटायर कर रहा हूं पत्रकारिता से तो ईश्वर याद आ रहे हैं,ऐसा भी नहीं है।
    हमने अपने जीवन को अपने ढंग से जीने का फैसला किया और सारे विकल्प हमने चुने,तो इसकी जिम्मेदारी किसी ईश्वर की नहीं होती।

    सबकुछ ठीकठाक सही सलामत करने की ईश्वर की जिम्मेदारी होती तो वह ईश्वर भी सबको समान अवसर देता और मनुष्य नियतिबद्ध नहीं होता।

    नियति ईश्वर का विधान नहीं है,ईश्वरत्व की सीमा है।

    अगर सबकुछ नियतिबद्ध है तो ईश्वर का चमत्कार कैसा और किस ईश्वर की कृपा के लिए अपनी अपनी उपासना पद्धति के वर्चस्व के लिए यह पृथ्वी खून की अनंत नदी में तब्दील है और मनुष्यता विलुप्तप्राय है।धर्म नहीं, धर्मोन्माद की राजनीति के वध्य हो गये हैं तमाम आस्थावान आस्थावती नागरिक नागरिकाएं।

    यह विचित्र किंतु अद्भुत समाज वास्तव जितना है उतना सैन्य राष्ट्र का चरित्र और मुक्तबाजार की निर्मम चांदमारी ज्यादा है।

    यह तात्कालिक प्रतिक्रिया है और इसमें सनी लिओनी की इरोटिका की कोई भूमिका नहीं है।

    अविराम जारी राममंदिर आंदोलन और वैदिकी अश्वमेध के दुस्समय में आस्थावान लोगों को ऐसे ईश्वर की खोज जरुर करनी जाहिये जिसके राज में समानता और न्याय हो।

    सर्वत्र अंध फासिज्म के  मनुस्मृति राष्ट्रवाद की हारके सिलिसिले में  यूपी चुनाव से ऐन पहले उज्जैन से आयी यह खबर गौरतलब है कि  धर्म संसद में अयोध्या में राम मंदिर बनाने की तिथि तय हो गई है। इसी वर्ष कार्तिक अक्षय नवमी (नौ नवंबर ) से मंदिर का निर्माण शुरू किया जाएगा। शुरुआत रामलला परिसर में सिंह द्वार निर्माण से की जाएगी। ऐसी घोषणाओं पर अमल के लिए न जाने कितनी बार महाभारत होगा।

    धर्म संसद का आयोजन उसी सिंहस्थ परिसर में हुआ,जहां दलित साधुओं का अछूतोद्धार भी हुआ। धर्मसंसद में संतों ने बताया किराममंदिरनिर्माण से मोदी सरकार का कोई लेना-देना नहीं है। मंदिर जनता के सहयोग से बनाया जाएगा।

    श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण न्यास अयोध्या के अध्यक्ष महंत जन्मेजय शरण महाराज ने कहा कि राम जन्मभूमि जिसे विवादित कहा जाता है, वहां की 77 एकड़ जमीन निर्मोही अखाड़ा की है।

    उज्जैन में चल रहे सिंहस्थ कुंभ में धर्म संसद में साधु-संतों ने ऐलान किया है कि अयोध्या में 9 नवंबर से जन्मभूमि परिसर के चारों ओर सिंहद्वार का निर्माण किया जाएगा। धर्म संसद में संतों ने ऐलान किया कि 9 नवंबर से अयोध्या में सिंहद्वार का निर्माण किया जाएगा।

    गौरतलब है कि  इससे पहले वीएचपी भी कई बार मोदी सरकार से राम मंदिर बनाने का आह्वान कर चुकी है। इससे पहले भाजपा सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी भी नवंबर मेंराममंदिरका निर्माण शुरू करने की बात कह चुके हैं।

    अगर संसार में समानता और न्याय नहीं है तो कैसा ईश्वर और कैसा धर्म।

    सर्वव्यापी ईश्वर की धारणा को वैज्ञानिक निकष पर कसा जाये तो यह समझना होगा कि इस ब्रह्मांड में आकाशगंगाओं के आर पार विदेशी पूंजी की तरह उनकी अबाध गतिविधि के लिए उनका वेग और उनका घनत्व भी प्रकाश कण की तरह होना चाहिए।यानी वेग का चरमोत्कर्ष और घनत्वहीन।रुप रस गंध हीन।इंद्रियों से मुक्त।

    इसलिए अगर ईश्वर हैं तो उसके अवतार होने का कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है।इतिहास मनुष्य रचता है और उसकी प्रामाणिकता महाकाव्यों के नायकों और नायिकाओं के मिथकीयचर्तिर से बेहतर नहीं है।

    हमारे गुरुजी ताराचंद्र त्रिपाठी ने किशोरवय में ही अच्छीतरह समझा दिया है कि जनगण का कोई इतिहास नहीं होता।

    इतिहास के नाम जो कुछ रचा जाता है,वह सत्तावर्ग के हितों के मुताबिक एकाधिकार सत्ता सुनिश्चित करने का प्रयास के सिवाय कुछ भी नहीं है।

    आप इतिहास में,मिथकों में ईस्वर या अवतार खोजते होंगे,मैं नहीं।

    स्वामी विवेकानंद और रवींद्र नाथ के नरनारायण के शब्दबंध भी हमें विरोधाभास का पुलिंदा नजर आता है क्योंकि नर को अमूर्त नारायण का स्वरुप बनाकर दिखाना भी आस्था है,वास्तव नहीं।फिर किसी धर्मस्थल में ईश्वर कैद है से ज्यादा यथार्थ तो ईश्वर के किसी मेनहोल के अंधेरे में,या किसी गैस चैंबर में,या किसी कोयला खदान में कैद होने की कल्पना में होता।

    समाज सचेतन कल्पनाशीलता का बहुत अभाव है।व्यक्ति केंद्रित उपभोक्ता संस्कृति में सामाजिकता की सभ्यता सिरे से अनुपस्थित है और इसीलिए असभ्य बर्बर समय के मुखातिब हम किसी ईश्वर की वानर सेना हैं।

    आदिवासी किसानों की लोकसंस्कृति सूफी संत बाउल फकीर परंपरा में जो जीवन दृष्टि है,वही मुझे बिना ईश्वर के शरण में गये प्रकृति और प्रकृति से संबद्ध मनुष्यता के पक्ष में लामबंद करती है और चाहे कुछ भी हो जाये,यही मेरा अंतिम मोर्चा है।

    मैं किसी पापबोध या अपराधबोध का शिकार नहीं हूं और पंचतत्व में निष्णात हो जाने से पहले इस जीवन को अंतिम पल तक दूसरों के लिए उपयोगी बनाये रखने की चिंता मुझे ज्यादा है।क्योंकि हमारे किसी पुरखे संत कबीर दास ने कहा हैः

    पाहन पूजै हरि मिले, तो मैं पूजूं पहार। ताते यह चाकी भली, पीस खाए संसार॥

    वे यह भी कह गयेः
    पूरब दिसा हरि को बासा, पश्चिम अलह मुकामा। दिल महं खोजु, दिलहि में खोजो यही करीमा रामा॥

    कस्तूरी कुन्डल बसे, मृग ढूढै बन माहि। ऐसे घट-घट राम हैं, दुनिया देखे नाहि॥

    कबीर दास कोई वैज्ञानिक न थे अलबर्ट आइंस्टीन की तरह।

    कबीर दास को फर्जी डिग्री के तहत अपनी काबिलियत साबित करने की जरुरत नहीं पड़ी और पोथी लिखकर जग की तरह वे मुआ भी नहीं गये बल्कि कबीरा तोअब भी बाजार खड़े हैं ,जस के तस,लेकिन घर फूंकने को तैयार लोग तभ भी नहीं थे और आज भी नहीं है।

    आइंस्टीन के कहे मुताबिक ईथर जैसे तत्व में ही ईश्वर का वास होना चाहिए ताकि वे सर्वत्र पहुंच सकें तब उस ईश्वर को तो ईथर में ही कैद होना चाहिए.जहां हिलने डुलने की कोई गुंजाइश ही नहीं है।शायद इसीलिए उनकी बनाई दुनिया पर उनका कोई नियंत्रण नहीं है और जीव जंतु का जीवनधारण असंभव हो जाता है।

    संत कबीर ने किसी विश्वविद्यालय में पांव नहीं धरे और विज्ञान उनका भी विषय नहीं था।
    फिरभी आइंस्टीन और कबीर के ईश्वर संबंधी विचार एक से लगते हैं।यही नहीं, इस भारत देश के किसी भी साधु,संत,फकीर ,बाउल के तत्वज्ञान और आध्यात्म में यही वैज्ञानिक दृष्टि है और उनका समग्र दर्शन जीवन और सृष्टि के पक्ष में,प्रकृति और मनुष्यता के पक्ष में है।

    गौर करें कि आइंस्टीन कहा करते थेः
    मैं ये जानना चाहता हूं कि ये दुनिया आखिर भगवान ने कैसे बनाई। मेरी रुचि किसी इस या उस धार्मिक ग्रंथ में लिखी बातों पर आधारित किसी ऐसी या वैसी अदभुत और चमत्कारिक घटनाओं को समझने में नहीं है। मैं भगवान के विचार समझना चाहता हूं
    किसी व्यक्तिगत भगवान का आइडिया एक एंथ्रोपोलॉजिकल कॉन्सेप्ट है, जिसे मैं गंभीरता से नहीं लेता।

    ईश्वर पांसे नहीं फेंकता है ।

    इतनी तरक्की और इतने आधुनिक ज्ञान के बाद भी हम ब्रह्मांड के बारे में कुछ भी नहीं जानते। मानव विकासवाद की शुरुआत से लेकर अब तक अर्जित हमारा सारा ज्ञान किसी स्कूल के बच्चे जैसा ही है। संभवत: भविष्य में इसमें कुछ और इजाफा हो, हम कई नई बातें जान जाएं, लेकिन फिर भी चीजों की असली प्रकृति, कुछ ऐसा रहस्य है, जिसे हम शायद कभी नहीं जान सकेंगे, कभी नहीं।

    एक पैटर्न देखता हूं तो उसकी खूबसूरती में खो जाता हूं, मैं उस पैटर्न के रचयिता की तस्वीर की कल्पना नहीं कर सकता। इसी तरह रोज ये जानने के लिए मैं अपनी घड़ी देखता हूं कि, इस वक्त क्या बजा है? लेकिन रोज ऐसा करने के दौरान एक बार भी मेरा ख्यालों में उस घड़ीसाज की तस्वीर नहीं उभरती जिसने फैक्ट्री में मेरी घड़ी बनाई होगी। ऐसा इसलिए क्योंकि मानव मस्तिष्क फोर डायमेंशन्स (चार डायमेंशन्स – लंबाई, चौड़ाई,ऊंचाई या गहराई और समय) को एकसाथ समझने में सक्षम नहीं है, इसलिए वो भगवान का अनुभव कैसे कर सकता है, जिसके समक्ष हजारों साल और हजारों डायमेंशन्स एक में सिमट जाते हैं।

    वैज्ञानिक शोध इस विचार पर आधारित होते हैं कि हमारे आस-पास और इस ब्रह्मांड में जो कुछ भी घटता है उसके लिए प्रकृति के नियम ही जिम्मेदार होते हैं। यहां तक कि हमारे क्रियाकलाप भी इन्हीं नियमों से तय होते हैं। इसलिए, एक रिसर्च साइंटिस्ट शायद ही कभी ये यकीन करने को तैयार हो कि हमारे आस-पास की रोजमर्रा की जिंदगी में घटने वाली घटनाएं किसी प्रार्थना या फिर किसी सर्वशक्तिमान की इच्छा से प्रभावित होती हैं।

    अगर लोग केवल इसलिए भद्र हैं, क्योंकि वो सजा से डरते हैं, और उन्हें अपनी भलाई के बदले किसी दैवी ईनाम की उम्मीद है, तो ये जानकर मुझे बेहद निराशा होगी कि मानव सभ्यता में दुनियाभर के धर्मों का बस यही योगदान रहा है। मैं ऐसे किसी व्यक्तिगत ईश्वर की कल्पना भी नहीं कर पाता तो किसी व्यक्ति के जीवन और उसके रोजमर्रा के कामकाज को निर्देशित करता हो, या फिर वो, जो सुप्रीम न्यायाधीश की तरह किसी स्वर्ण सिंहासन पर विराजमान हो और अपने ही हाथों रचे गए प्राणियों के बारे में फैसले लेता हो। मैं ऐसा इस सच्चाई के बावजूद नहीं कर पाता कि आधुनिक विज्ञान के कार्य-कारण के मशीनी सिद्धांत को काफी हद तक शक का फायदा मिला हुआ है ( आइंस्टीन यहां क्वांटम मैकेनिक्स और ढहते नियतिवाद के बारे में कह रहे हैं)। मेरी धार्मिकता, उस अनंत उत्साह की विनम्र प्रशंसा में है, जो हमारी कमजोर और क्षणभंगुर समझ के बावजूद थोड़ा-बहुत हम सबमें मौजूद है। नैतिकता सर्वोच्च प्राथमिकता की चीज है...लेकिन केवल हमारे लिए, भगवान के लिए नहीं।

    ऐसी कोई चीज ईश्वर कैसे हो सकती है, जो अपनी ही रचना को पुरस्कृत करे या फिर उसके विनाश पर उतारू हो जाए। मैं ऐसे ईश्वर की कल्पना नहीं कर सकता जिसके उद्देश्य में हम अपनी कामनाओं के प्रतिरूप तलाशते हैं, संक्षेप में ईश्वर कुछ और नहीं, बल्कि छुद्र मानवीय इच्छाओं का ही प्रतिबिंब है। मैं ये भी नहीं मानता कि कोई अपने शरीर की मृत्यु के बाद भी बचा रहता है, हालांकि दूसरों के प्रति नफरत जताने वाले कुछ गर्व से भरे डरावने धार्मिक विचार आत्माओं के वजूद को साबित करने में पूरी ताकत लगा देते हैं।

    मैं ऐसे ईश्वर को तवज्जो नहीं दे सकता जो हम मानवों जैसी ही अनुभूतियों और क्रोध-अहंकार-नफरत जैसी तमाम बुराइयों से भरा हो। मैं आत्मा के विचार को कभी नहीं मान सकता और न ही मैं ये मानना चाहूंगा कि अपनी भौतिक मृत्यु को बाद भी कोई वजूद में है। कोई अपने वाहियात अभिमान या किसी धार्मिक डर की वजह से अगर ऐसा नहीं मानना चाहता, तो न माने। मैं तो मानवीय चेतना, जीवन के चिरंतन रहस्य और वर्तमान विश्व जैसा भी है, उसकी विविधता और संरचना से ही खुश हूं। ये सृष्टि एक मिलीजुली कोशिश का नतीजा है, सूक्ष्म से सूक्ष्म कण ने भी नियमबद्ध होकर बेहद तार्किक ढंग से एकसाथ सम्मिलित होकर इस अनंत सृष्टि को रचने में अपना पुरजोर योगदान दिया है। ये दुनिया-ये ब्रह्मांड इसी मिलीजुली कोशिश और कुछ प्राकृतिक नियमों का उदघोष भर है, जिसे आप हर दिन अपने आस-पास बिल्कुल साफ देख और छूकर महसूस कर सकते हैं।
    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0
  • 05/17/16--00:37: देवेनदा के जन्मदिन पर गिरदा के पहाड़ की भूली बिसरी यादें नैनीताल समाचार के लिए हमारी धारावाहिक पंतनगर गोलीकांड की वह साझा रपट मानीय रघुवीर सहाय जी ने दिनमान में भी छाप दी और इसका असर यह हुआ कि आल इंडिया रेडियो नई दिल्ली में रिकार्डिंग के लिए रवाना हुए गिरदा को रुद्रपुर में बस से उतारकर धुन डाला। लहूलुहान गिरदा नैनीताल समाचार वापस पहुंचे तो उनने न हमें एफआईआर दर्ज कराने दिया और न इस सिलसिले में खबर बनाने दी।गिरदा का कहना था कि आंदोलन में किसी भी सूरत में किसी भी बहाने व्यक्ति को आंदोलन का चेहरा बनाओगे तो आंदोलन का अंत समझ लो।व्यक्ति का चरित्र बदलते ही आंदोलन बिक जायेगा। अंग्रेजी माध्यम और अंग्रेजी साहित्य का छात्र होने के बावजूद हिंदी पत्रकारिता के मेरी पहचान बनने के पीछे फिर देवेन दा गिरदा का वही अंतरंग पहाड़ हो जो मेरा असल घर है।बाकी कोई घर नहीं है। देवेनदा को पढ़ना हमें हमेशा वैज्ञानिक दृष्टि से लैस करता है। हमारे एक और मित्र पंकज प्रशून भी विज्ञान लेखन करते थे और अब वे तंत्र मंत्र यंत्र के विशेषज्ञ हैं।देवेन दा को जबसे जाना है,उनके लेखन और जीवन में हमें कोई विसंगति देखने को नहीं म
  • देवेनदा के जन्मदिन पर गिरदा के पहाड़ की भूली बिसरी यादें


    नैनीताल समाचार के लिए हमारी धारावाहिक पंतनगर गोलीकांड की वह साझा रपट मानीय रघुवीर सहाय जी ने दिनमान में भी छाप दी और इसका असर यह हुआ कि आल इंडिया रेडियो नई दिल्ली में रिकार्डिंग के लिए रवाना हुए गिरदा को रुद्रपुर में बस से उतारकर धुन डाला।


    लहूलुहान गिरदा नैनीताल समाचार वापस पहुंचे तो उनने न हमें एफआईआर दर्ज कराने दिया और न इस सिलसिले में खबर बनाने दी।गिरदा का कहना था कि आंदोलन में किसी भी सूरत में किसी भी बहाने व्यक्ति को आंदोलन का चेहरा बनाओगे तो आंदोलन का अंत समझ लो।व्यक्ति का चरित्र बदलते ही आंदोलन बिक जायेगा।


    अंग्रेजी माध्यम और अंग्रेजी साहित्य का छात्र होने के बावजूद हिंदी पत्रकारिता के मेरी पहचान बनने के पीछे फिर देवेन दा गिरदा का वही अंतरंग पहाड़ हो जो मेरा असल घर है।बाकी कोई घर नहीं है।


    देवेनदा को पढ़ना हमें हमेशा वैज्ञानिक दृष्टि से लैस करता है। हमारे एक और मित्र पंकज प्रशून भी विज्ञान लेखन करते थे और अब वे तंत्र मंत्र यंत्र के विशेषज्ञ हैं।देवेन दा को जबसे जाना है,उनके लेखन और जीवन में हमें कोई विसंगति देखने को नहीं मिली है और कोई माने या न माने मैं उन्हें रचनाधर्मिता का वैज्ञानिक मानता हूं।



    बिहार का फार्मूला बाकी देश में फेल समझिये। संघ परिवार जीत रहा है और आगे लडा़ई बेहद मुश्किल है।उग्र हिंदुत्व का मुकाबाल जाति नहीं कर सकती।

    सारे द्वीपों को जोड़कर मुख्यधारा बनाना अब हमारा एजंडा है।


    पलाश विश्वास


    देश निरमोही का ताजा स्टेटस हैः

    आज हिंदी के सुप्रसिद्ध विज्ञान लेखक देवेन्द्र मेवाड़ी का जन्मदिन है।

    आधार प्रकाशन परिवार की ओर से उन्हें ढ़ेरों शुभकामनायें। हम उनकी सफल,

    स्वस्थ एवं दीर्घायु की कामना करते हैं। उल्लेखनीय है कि आधार प्रकाशन ने

    अब तक उनकी सात पुस्तकें प्रकाशित की हैं।


    19 मई को जो नतीजे आने वाले हैं ,उसकी भविष्यवाणियां जारी हो चुकी है।थोड़े फेर बदल के साथ जो जनादेश आने वाला है,उससे फासिज्म के राजकाज के और निरंकुश होने के भारी खतरे हैं।


    इसके साथ ही तय हो गया कि जाति धर्म के राजनीतिक समीकरण से आप फासिज्म का मुकाबला चुनाव मैदान मे भी नहीं कर सकते।बिहार का फार्मूला कहीं और चलने वाला नहीं है क्योंकि उग्रतम हिंदुत्व ने बाकी अस्मिताओं को आत्मसात कर लिया है।


    इसलिए आगे लड़ाई और मुश्किल है जिसका आसान बनाने के लिए सारे द्वीपों को जोड़कर मुख्यधारा बनाना अब हमारा एजंडा है।


    हमारे देवेन निरंतर वैज्ञानिक रचनाधर्मिता के पर्याय बने रहे हैं।आज उनके जनमदिन पर बहुत सारी यादें ताजा हो रही हैं।


    देवेन दा से हमारी मुलाकात पंतनगर गोलीकांड के तुरंत बाद हुई,जब गिर्दा के साथ मैं और शेखऱ पाठक पंतनगर में उनके बंगले में पहुंचे।देवेनदा और भाभीजी ने हमारी जो आवभगत की,वह हमें उस परिवार से हमेशा जोड़े रहा।


    नैनीताल समाचार के लिए हमारी धारावाहिक पंतनगर गोलीकांड की वह साझा रपट मानीय रघुवीर सहाय जी ने दिनमान में भी छाप दी और इसका असर यह हुआ कि आल इंडिया रेडियो नई दिल्ली में रिकार्डिंग के लिए रवाना हुए गिरदा को रुद्रपुर में बस से उतारकर धुन डाला।


    अंग्रेजी माध्यम औक अंग्रेजी साहित्य का छात्र होने के बावजूद हिंदी पत्रकारिता के मेरी पहचान बनने के पीछे फिर देवेन दा गिरदा का वही अंतरंग पहाड़ हो जो मेरा असल घर है।बाकी कोई घर नहीं है।


    लहूलुहान गिरदा नैनीताल समाचार वापस पहुंचे तो उनने न हमें एफआईआर दर्ज कराने दिया और न इस सिलसिले में खबर बनाने दी।गिरदा का कहना था कि आंदोलन में किसी भी सूरत में किसी भी बहाने व्यक्ति को आंदोलन का चेहरा बनाओगे तो आंदोलन का अंत समझ लो।व्यक्ति का चरित्र बदलते ही आंदोलन बिक जायेगा।


    उस वक्त भारत के जनता पार्टी सरकार के गृहमंत्री चरणसिंह थे और पंतनगर विश्वविद्यालय में भारी संख्या में मजदूरों और उनके आंदोलन के दमन में सत्ता का जातिवादी चेहरे से हमारा वास्ता 1978 में हुआ।हालांकि 1977 तक हम एसएफआई से जुड़े थे और इसीलिए हम 1977 के चुनाव में इंदिरागांधी का तख्ता पलटने के लिए लामबंद थे और राजा बहुगुणा तब युवा जनतादल के  जिलाध्यक्ष थे।तो हम चुनाव के दौरान तराई के नेतृत्व में थे।


    इस राजकरण के खातिर 1977 में ही पिताजी से आमने सामने मुकाबला हो गया क्योंकि वे इंदिरागांधी के पक्ष में चुनाव प्रचार की कमान संभाले हुए थे और नारायणदत्त तिवारी और कृष्णचंद्र पंत के साथ थे।


    नैनीताल से केसी पंत लड़ रहे थे।तो उन्हें हराने के लिए छात्र युवाओं के साथ बिना मताधिकार हम लोग गांव गांव दौड़ रहे थे।


    इस टकराव में मैं चुनाव नतीजा न आने तक बसंतीपुर गया नहीं क्योंकि हर हाल में बसंतीपुर वाले पिताजी के साथ थे और पूरी तराई में वह इकलौता गांव था,जहां कोई मेरे साथ खड़ा होने को तैयार न था।जो लोग तीन चार थे,उनका भी मानना था कि गांव का बंटवारा न हो,इसलिए तुम बसंतीपुर से बाहर ही रहो।


    चुनाव से पहले जाड़े छुट्टियों में हम बसंतीपुर में ही थे और मेरी सारी किताबें वहीं थी।चुनाव जीतकर जब हम डीएसबी पहुंचे तो परीक्षा में बैठने के लिए हमारे पास किताबें नहीं थी।बीए फाइनल की परीक्षा हमने दोस्तों की किताबें पढ़कर दी।


    28 नवंबर को नैनीताल में वनों की नीलामी के खिलाफ गोलीकांड और नैनीताल क्लब जलाने के मामले में जाड़ों की छुट्टियों के दौरान डीएसबी के तमाम छात्रनेताओं की गिरफ्तारी से सत्ता की राजनीति से हमारा तुरंत मोहभंग हो गया और पूरे पहाड़ के छात्र युवा एक झटके के साथ सुंदर लाल बहुगुणा के चिपको आंदोलन में सक्रिय हो गये।हम लोग शमशेर सिंह बिंष्ट की अगुवाई में उत्तराखंड संघर्ष वाहिनी में थे तो नैनीताल से नैनीताल समाचार भी निकाल रहे थे।


    पत्रकारिता में शेखर और गिरदा के साथ हमारी तिकड़ी बनी और गिरदा ङर संकट और दमन की घड़ी में जनता के साथ लामबंद हो रहे थे तो हम भी पहाड़ पहाड़ पैदल पैदल दौड़ रहे थे।


    इसी के मध्य, अखबार के लेआउट से लेकर रपट के एक एक शब्द के चयन के लिए चौबीसों घंटे आपस में खूब लड़ भी रहे थे और इस लड़ाई को झेलने वाले राजीव लोचन शाह,उमा भाभी,हरीश पंत और पवन राकेश के बिना हमारा किया धरा फिर गुड़गोबर है।हमने जो रचा,जनता तक पहुंचाने का माध्यम बनाने में इनकी भूमिका निर्णायक है।


    राजीव लोचन ने हमें सिखाया कि संपादन क्या होता है और साधनों की कमी के बावजूद एक जेनुइन संपादक क्या कर सकता है।आज अक्सर ही अमलेंदु हस्तक्षेप के लेआउट और कांटेट से मुझे इस उम्र में करीब साढ़े चार दशक की पत्रकारिता के बावजूद रोज नया पाठ पढ़ा रहा है तो अनुपस्थित संपादक के अवसान के दर्द से बार बार

    दिलोदिमाग लहूलुहान भी हो रहा है।इसीलिए हस्तक्षेप को जारी रखने की जितनी चुनौती अमलेंदु की है,उससे बड़ी चुनौती मेरे लिए है क्योंकि हमने पत्रकारिता गिरदा और रघुवीर सहाय से सीखी है और आज भी  राजीव लोचन शाह मेरे दाज्यू हैं।


    राजीव लोचन के उस छोटे से अखबार से शुरु पत्रकारिता  दिनमान के रघुवीर सहाय जी के नेतृत्व में हमें पर पल सिखाती रही कि पल पल अपने को साबित करना होता है।


    जिंदगी में भी और मौत में भी।

    जिंदगी में भी और मौत में भी पत्रकार को भी रचनाकार,कलाकार और संस्कृति के हर माध्यम और विधा में सक्रिय रचनाधर्मियों की तरह पल पल अपना होना साबित करना पड़ता है।


    मरकर भी गिरदा रोज रोज अपना होना साबित करते हैं क्योंकि वे पीछे लामबंद हमें कर गये।अफसोस,हम ऐसा नहीं कर सके हैं।


    पंतनगर गोली कांड से पहले नैनीताल समाचार में मेरा धारावाहिक कब तक सहती रहेगी तराई का तराई में इतना विरोध हुआ कि 1977 में हीरो बनने के बाद 1978 में भूमि माफिया के साथ सीधे टकराव की वजह से तराई में मुझे लगातार भूमिगत रहना पड़ा।तब नैनीताल ही मेरा घर था।


    ऐसे ही माहौल में पंतनगर गोलकांड का खुलासा करना हमारे लिए भारी चुनौती काम मामला था।शुक्र है कि तब पंतनगर में देवेनदा थे और हमने उनके घर को पत्रकारिता का कैंप बना डाला।


    देवेनदा को पढ़ना हमें हमेशा वैज्ञानिक दृष्टि से लैस करता है। हमारे एक और मित्र पंकज प्रशून भी विज्ञान लेखन करते थे और अब वे तंत्र मंत्र यंत्र के विशेषज्ञ हैं।


    देवेन दा को जबसे जाना है,उनके लेखन और जीवन में हमें कोई विसंगति देखने को नहीं मिली है और कोई माने या न माने मैं उन्हें रचनाधर्मिता का वैज्ञानिक मानता हूं।


    पहले तो देश निर्मोही के पोस्ट को मैं ब्लाग पर शेयर करने जा रहा था,लेकिन पंतनगर गोलीकांड की उस साझा रपट की सिलिसिलेवार यादों की रोशनी में देवेन दा की जो तस्वीर मेरे दिलोदिमाग में बन रही है और गिरदा के जिस पहाड़को मैं तजिंदगी जीता रहा,उसे साझा करना जरुरी लगा और उसी सिलसिले में आज का यह रोजनामचा।


    तब हम डीएसबी से बीए पास करके डीएसबी में ही एमए प्रथम वर्ष के छात्र थे।पिताजी से मेरे भारी राजनीतिक मतभेद थे।


    तब तक हमने अल्पसंख्यकों और शारणार्थियों के सत्ता से नत्थी होने के रसायनशास्त्र का अध्ययन किया नहीं था।


    दरअसल तब तक हम वैचारिक दार्शनिक अंतरिक्ष की सैर कर रहे थे और देश दुनिया के मेहनतकशों के बहुआयामी रोजनामचे से हमारा सामना हुआ भी तो उसे सिलसिलेवार समझने की हमारी कोई तैयारी नहीं थी।


    हम आंदोलनों में जरुर थे लेकिन इस देश के सामाजिक ताना बाना और हमें हमारे पुरखों की गौरवशाली विरासत,लोकसंस्कृति की तहजीब हासिल आज भी नहीं है।इसलिए बहुआयामी सामाजिक राजनीतिक मसलों को हम फार्मूलाबद्ध तरीके से सुलझाने का दुस्साहस बी धड़ल्ले से करते हैं और फिर औंधे मुंह गिरते भी हैं,लेकिन कभी सीखते नहीं हैं।


    पिताजी को इसी किताबी ज्ञान को लेकर हमसे गंभीर शिकायत थी और अफसोस विश्विद्यालयी पढ़ाई के बूते हमने अपने अपढ़ पिता के जुनून को उनके जीते जी समझा ही नहीं है।इसलिए उनकी किसी उपलब्धि में मैं कहीं शामिल भी नहीं हूं और उनकी नाकामियों का जिम्मेदार सबसे ज्यादा मैं हूं क्योंकि उनके मिशन को कामयाब बनाने में हमने कभी उनकी मदद नहीं की।


    हमारे गुरु जी की अनिवार्य पाठ्यसूची के मुताबिक डीएसबी कालेज की लाइब्रेरी से अपने और मित्रों के कार्ड से रोज गट्ठर गट्ठर किताबें ढोकर कमरे में लाकर रातदिन पढ़ना और समझना सिलेबस से बेहद जरुरी था हमारे लिए।मिडलेक के प्राचीन पुस्तकालय पर मेरा और कपिलेश भोज का कब्जा था और दुनियाभर में नया जो कुछ छपता था,तुरंत इंडेंट करके मंगवाकर अपने नाम इश्यू कराने की महारत हमें थी।गुरुजी के घर में मेरे साथ भोज भी थे।


    पढ़े लिखे होने से हर कोई बाबासाहेब भीमराव अंबेडकर नहीं होता और अपढ़ लोग भी अमूमन इतिहास बनाते हैं।


    दूसरी ओर,मथुरा से उत्तरार्द्ध निकाल रहे राजनीति विज्ञान के कुँआरे प्रोफेसर वशिष्ठ यानी सव्यसाची के लिखे से हम मार्क्सवाद का पाठ ले रहे थे।


    तब हम डीएसबी कैंपस के जीआईसी में हम लोग इंटरमीडियेट प्रथम वर्ष के छात्र थे तो इमरजेंसी के खिलाफ कोटा में साहित्यकारों की गोपनीय बैठक में शामिल होने के लिए बिना जेब में पैसे लिए हम मथुरा होकर कोटा पहुंच गये और घड़ी बेचकर वापसी का किराया निकालने के लिए बाजार में घूम रहे थे तो आयोजक रंगकर्मी नाटककार शिवराम ने हमें धर लिया और कहा कि चुपाचाप बैठक में भाग लो,हम वापसी का इंतजाम करेंगे।


    उस बैठक में जनवादी लेखक संघ की रचनाप्रक्रिया शुरु हुई तो उसी बैठक में सुधीश पचौरी.डां.कुंअर पाल सिंह,डा.भरत सिंह और कांति मोहन स्वसाची के अलावा हमारे वैचारिक मार्गदर्शक थे।


    इसी बैठक के जरिये मथुरा में डेरा डालने के दौरान कामरेड सुनीत चोपड़ा,कवि मनमोहन, प्रखर पत्रकार विनय श्रीकर और कथाकार धीरेंद्र अस्थाना से हमारी मित्रता हुई।


    इनमें से सिर्फ सुधीश पचौरी बदले,बाकी कोई नहीं।विनयश्रीकर अपने मित्र कौशल किशोर की तरह सक्रिय नहीं हैं,लेकिन वे भी सत्ता के साथ नत्थी कभी नहीं रहे।



    बहरहाल तब भोज का मानना था कि अगर लेखकों कवियों को मालूम पड़ा तो कि हम इंटर में पढ़ने वाले बच्चे हैं तो हमें कोई भाव देने वाला नहीं है।वह बेखटके बोलता रहा कि वह एमए इतिहास पढ़ रहा है और मैं एमए राजनीति शास्त्र।


    जीआईसी उन दिनों डीएसबी कैंपस में ही था और बाकी शहर में हम फर्स्ट ईअर या सेकंड ईअर के साथ डीएसबी जोड़ देते थे तो लोग एमए या बीए ही सोचते थे और बाकी सिलेबस और पाठ हमारे लिए कोई झमेला न था,वह हम आत्मसात करते रहे।


    इस सिद्धांत के तहत कोटा में हमारी बहुत आवभगत भी हुई।


    हालांकि धीरेंद्र को थोड़ा शक भी हुआ और पूछ ही डाला कि तुम लोगों की दाढ़ी मूंछ नहीं आयी और एमए पढ़ते हो।


    इसपर भोज ने कह दिया कि हिमालय के वासिंदों की दाढ़ी मूंछें नहीं होतीं अमूमन।नेपालियों को देख लो और हम लोग तो नेपाल बार्डर के हैं।इस अकाट्य तर्क का धीरेंद्र के पास भी जवाब न था।


    बहराहाल हमारे एमए पास करने तक जो भी हमारे दावे के जानकार थे,वे कभी नैनीताल में आये तो उन्हें अलग अलग विषय में एमए करते रहने का भरोसा दिलाना भोज का काम था।



    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Thanks for your Love and Support!

    Yes,I have to go mile live or dead but my resolution stands the same ,I would not stop whatever might come and echo the screams of the suffering people as my father used to do.I could not serve him as an obedient son should have served,it is rather my obligation that I should serve the humanity for which he lived.


    Palash Biswas


    I am getting so much so messages on Linked in,Face Book and Google that it is quite impossible for me to say thanks everyone.

    Thanks everyone.I would expect your love and support as long as I live!

    Though I have been lucky since my childhood that I had always  home in every village of the Terai and the Hills and as a professional journalist for 36 years,I have visited every corner of the Nation and it always had been passionate love for me.

    I repent for nothing.

    I complain against none.

    I have no God or Goddess whatsoever.

    Every citizen of humanity is God or Goddess for me.

    If I die at this moment,I would not pray for anything as I never prayed.But as long as I live I have to continue my activism

    I deserve not to become an activist.At best ,I am a professional journalist who once upon a time tried his best to create something meaningful and could not become a creator. Neither I am a peasant as my father was.I produced nothing and I consumed more and more.For the downtrodden underclass majority Baba Saheb did everything and for humanity Lord Gautam Buddha created the highway of truth and nonviolence,Panchsheel for peace.

    We have to do nothing new.We have to follow their footprints only.

    I am an individual with humble status and lower profile.

    I am just trying beyond may capacity and talent to reactivate the apps of awakening which might bring about the change to ensure equality and justice.

    I am just enveloped with your wish.Babasaheb used to say that you should live every day to pay back the society and making century would be meaningful only  if we jointly achieve his destination  of social political and economic equality and justice for every citizen beyond borders..

    Yes,I have to go mile live or dead but my resolution stands the same ,I would not stop whatever might come and echo the screams of the suffering people as my father used to do.I could not serve him as an obedient son should have served,it is rather my obligation that I should serve the humanity for which he lived.


    Ashok T Jaisinghani

    32 mins·

    Palash Biswas

    I wish you many many HAPPY RETURNS of the day.

    May you complete a CENTURY.

    When you become 100 years old, you should call and let me know about that celebration of your CENTURY. On that day, I shall wish that you LIVE to COMPLETE one more CENTURY!!

    You are needed to work for the good of the poor and downtrodden people of India.




    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0
  • 05/19/16--02:41: हाथ के तोते उड़ गये,अब हम क्या करें? हाथ खड़े कर दें और राजनीतिक विकल्प का अवसान तो फासिस्ट निरंकुश सत्ता से नत्थी होकर बजरंगी बन जाये? या फिर तमाम माध्यमों और विधाओं और भाषाओं को जिंदा करके इंसानियत के लिए इस कुरुक्षेत्र में हर चक्रव्यूह,तिलिस्म,तंत्र मंत्र यंत्र को तोड़कर जनता के हक हकूक के लिए,बदलाव के लिए लड़े? उनका मोर्चा जनता का मोर्चा नहीं है। राजनीति अब जनता के खिलाफ लामबंद है। हमाारे पास राजनीतिक कोई विकल्प नहीं है। जनपक्षधरता का मोर्चा अनिवार्य है अब। सत्ता की मलाई चाटने वालों को रहने दें अपने हाथीदांत मीनारों में,अब सड़क पर उतरे बिना,समाज और देश को जोड़े बिना कोई और विकल्प बिना शर्त आत्मसमर्पण का, या शुतुरमुर्ग की तरह गरदन रेत में छुपाने का नहीं है। इसीलिए हम बार बार माध्यमों,भाषाओं और विधाओं के मोर्चे पर लड़ने की बात कर रहे हैं क्योंकि जनादेश किसी न किसी राजनीतिक पक्ष का होगा और सत्ता का चेहरा बदलेगा,विध्वंसक सैन्यराष्ट्र का चरित्र जस का तस। मुक्तबाजारी धर्मोन्मादी राष्ट्रवाद के रंग बिरंगे सिपाहसालारों के खेमे तोड़कर सड़क पर जनता के साथ खड़े होने की चुनौती अब है। अब सिंहा

  • हाथ के तोते उड़ गये,अब हम क्या करें?

    हाथ खड़े कर दें और राजनीतिक विकल्प का अवसान तो फासिस्ट निरंकुश सत्ता से नत्थी होकर बजरंगी बन जाये?

    या फिर तमाम माध्यमों और विधाओं और भाषाओं को जिंदा करके इंसानियत के लिए इस कुरुक्षेत्र में हर चक्रव्यूह,तिलिस्म,तंत्र मंत्र यंत्र को तोड़कर जनता के हक हकूक के लिए,बदलाव के लिए लड़े?

    उनका मोर्चा जनता का मोर्चा नहीं है।

    राजनीति अब जनता के खिलाफ लामबंद है।

    हमाारे पास राजनीतिक कोई विकल्प नहीं है।


    जनपक्षधरता का मोर्चा अनिवार्य है अब।


    सत्ता की मलाई चाटने वालों को रहने दें अपने हाथीदांत मीनारों में,अब सड़क पर उतरे बिना,समाज और देश को जोड़े बिना कोई और विकल्प बिना शर्त आत्मसमर्पण का, या शुतुरमुर्ग  की तरह गरदन रेत में छुपाने का नहीं है।


    इसीलिए हम बार बार माध्यमों,भाषाओं और विधाओं के मोर्चे पर लड़ने की बात कर रहे हैं क्योंकि जनादेश किसी न किसी राजनीतिक पक्ष का होगा और सत्ता का चेहरा बदलेगा,विध्वंसक सैन्यराष्ट्र का चरित्र जस का तस।


    मुक्तबाजारी धर्मोन्मादी राष्ट्रवाद के रंग बिरंगे सिपाहसालारों के खेमे तोड़कर सड़क पर जनता के साथ खड़े होने की चुनौती अब है।


    अब सिंहासन के आलोकस्तंभों से उम्मीद कोई न रखें अब।

    निर्णायक युद्ध अभी बाकी है।



    पलाश विश्वास


    जब तक मेरा यह लहूलुहान रोजनामचा कहीं न कहीं आपको पढ़ने के लिए मिलेगा,तब तक पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों के जनादेश की तस्वीर पूरी तरह खिल चुकी होगी और उस जनादेश का चेहरा खिलखिलाता हुआ कमल होगा।


    बंगाल में जो अभूतपूर्व सुरक्षा इंतजामात हुए और निर्वाचन आयोग ने जो चौकसी की,उसके तहत निष्पक्ष और स्वतंत्र मताधिकार का परिणाम यह जनादेश है तो दीदी की जय जयकार जितनी होगी,उससे कहीं अधिक नागपुर में मार्गदर्शक मंडल खिलखिला रहा होगा क्योंकि धर्मनिरपेक्षता और लोकतंत्र,संविधान,नागरिक अधिकार मानवाधिकार जल जंगल जमीन और नागरिकता,समता और न्याय समग्र का दांव मैदान बाहर कांग्रेस पर लगाकर वामपंथ ने फिर बंगाल लाइन की जिद पर ऐतिहासिक भूल कर दी।


    केरल की जीत से पूर्व और पूर्वोत्तर के अबाध अश्वमेधी राजसूय का पर्यावरण कुल मिलाकर भारत से अमेरिका तक डोनाल्ड ट्रंप की विजय गाथा का महाकाव्य है और मुक्तबाजार के धर्मोन्मादी राजकरण के मुकाबले हमने मुक्तबाजार के घोड़ों पर ही जान की बाजी लगा दी,ऐसा साबित हुआ।


    राजनीतिक विकल्प का अवसान हो गया है और संसद से सड़क तक सन्नाटा पसरा है।

    चारों तरफ अंधियारा कटकटेला कारोबार है।

    फासिज्म का राजधर्म जाजकाज और जनादेश एकाकार हैं।


    हमने जनतंत्र का अपने अंधे धर्मोन्मादी राष्ट्रवाद के मुखातिब पाखंडी आत्मघाती वामपंथ और जनसंहारी कांग्रेस के भरोसे जो हाल किया है,यह मौका आइने में अपनी जनप्रतिबद्धता का चेहरा देखने का है।


    प्रकृति और पर्यावरण के सत्यानाश, दस दिगंत महाविनाश,बदलते मौसम,सूखा और भुखमरी,बेरोजगारी और सती दहन के इस महादेश का रंग अब केसरिया है और गिरगिट की तरह जो जी सकते हैं,सत्ता से नत्थी हो जाने की दक्षता जिनकी है,उनके सिवाय संशय की इस अनंत रात की कोई सुबह फिर नहीं है।


    हाथ के तोते उड़ गये,अब हम क्या करें?

    हाथ खड़े कर दें और राजनीतिक विकल्प का अवसान तो फासिस्ट निरंकुश सत्ता से नत्थी होकर बजरंगी बन जाये?


    या फिर तमाम माध्यमों और विधाओं और भाषाओं के जिंदा करके इंसानियत के लिए इस कुरुक्षेत्र में हर चक्रव्यूह,तिलिस्म,तंत्र मंत्र यंत्र को तोड़कर जनता के हक हकूक के लिए,बदलाव के लिए लड़े?


    किसान का बेटा हूं और नैनीताल में छात्रावस्था में मिट्टी के साथ जो वास्ता रहा है,प्रकृति के साथ जो तादात्म्य रहा है,पर्यावरण जो वजूद रहा है,वह अतीत के रोमांस के सिवाय कुछ भी नहीं है।


    निर्मम वर्तमान अखंड कुरुक्षेत्र है और वही मेरा  देश है और सरहदों के आर पार इंसानियत का मुल्क लापता है।

    जो भी बचा वह एक अनंत युद्ध है या फिर गृहयुद्ध है।


    मित्रपक्ष अमावस्या का निश्छिद्र अंधकार है और सर्वव्यापी सर्वशक्तिमान सर्वत्र शत्रुपक्ष का ईश्वर भाग्यविधाता है।

    हाथ में किसी का हाथ नहीं है।


    न घर है और न गांव है।

    न पहाड़ है और न नदियां और घाटियां हैं।

    मैदान भी नहीं हैं।खेत खलिहान कुछ भी नहीं हैं।


    कल कारखाने चायबागान तक नहीं हैं।

    जंगल और समुंदर भी बचे नहीं हैं।

    धुआं धुआं आसमान है और जमीन दहकने लगी है।


    दसों दिशाओं से सीमेंट के जंगल के रेडियोएक्टिव दावानल से घिरा हुआ सही सलामत हूं लेकिन अकेला हूं।रक्षाकवच कोई नहीं है।


    अपने खेत पर खेत रहता तो इतना अकेला न होता।

    कीचड़ पानी में धंसे हुए आसमान से गिरी बिजली से खाक होता तो भी इतना झुलस न रहा होता।


    हिमालय के उत्तुंग शिखरों में कहीं बर्फीली तूफान में खप गया होता या लू से मैदान में मर गया होता तो इस संकटकाल में इतना भी अकेला न होता,जितना आज हूं कि सारे माध्यम और सारी विधाएं,सारी भाषाएं,लोकसंस्कृति और इतिहास बेदखल हैं और लोकतंत्र मुक्त बाजार है तो धर्मोन्मादी राष्ट्रवाद और एकाधिकावादी अबाध पूंजी के हित एकाकार है और जनादेश में मताधिकार का परिणाम फिर निरंकुश फासीवाद है।


    अस्मिता के आधार प्रतिरोध निराधार है।

    विचारधारा को तिलांजलि अब वामपंथ है।


    जनता के हकहकूक के खिलाफ जो ताकतें हैं,उन्हीं के साथ जनता की आस्था जो जीतने चले थे,उनके रेत के किले ढह भी गये तो शोक कैसा।ढाई दशकों से सर्वहारा का नरसंहार जो देख ही नहीं रहे, नरसंहारी राजसूय के जो स्वयं पुरोहित हैं और नेतृत्व पर अपना वर्चस्व छोड़े बिना जो राष्ट्र का चरित्र जस का तस रखकर सत्ता की भागेदारी की जंग में अशवमेधी घोड़ों की पूंछ बनकर हिनहिनाते रहे,मैदान में उनके खेत रहने पर शोक का विधवा विलाप कैसा।


    उनके पास सिर्फ मिथ्या शब्दबंंध हैं जो जनता के बीच जाये बिना, जनता के हकहकूक की लड़ाई लड़े बिना सिर्फ सत्ता चाहते हैं और सत्ता के साथ सुविधाजनक तौर पर रोज रोज जो विचारधारा की नई व्याख्याएं करते हैं,फासिज्म के खिलाफ वे कभी लामबमद थे ही नहीं।जो हारे हैं,वे वर्णवादी वर्चस्ववादी हैं।शोक कैसा।


    हाथ के तोते उड़ गये,अब हम क्या करें?

    हाथ खड़े कर दें और राजनीतिक विकल्प का अवसान तो फासिस्ट निरंकुश सत्ता से नत्थी होकर बजरंगी बन जाये?

    या फिर तमाम माध्यमों और विधाओं और भाषाओं के जिंदा करके इंसानियत के लिए इस कुरुक्षेत्र में हर चक्रव्यूह,तिलिस्म,तंत्र मंत्र यंत्र को तोड़कर जनता के हक हकूक के लिए,बदलाव के लिए लड़े?


    वे जीत भी रहे होते तो उनकी जीत आखिर फासीवाद की जीत होती क्योंकि इस लोकतंत्र में कानून का राज,जनसुनवाई और संविधान को ताक पर ऱखकर हर कायदा कानून बनाने बिगाड़ने की संसदीय सहमति के शेयर बाजार में उनके भी दांव हैं और कारपोरेट चंदे से उनकी भी राजनीति चलती है।


    उनका मोर्चा जनता का मोर्चा नहीं है।

    राजनीति अब जनता के खिलाफ लामबंद है।

    हमाारे पास राजनीतिक कोई विकल्प नहीं है।


    जनपक्षधरता का मोर्चा अनिवार्य है अब।


    सत्ता की मलाई चाटने वालों को रहने दें अपने हाथीदांत मीनारों में,अब सड़क पर उतरे बिना,समाज और देश को जोड़े बिना कोई और विकल्प बिना शर्त आत्मसमर्पण का, या शुतुरमुर्ग  की तरह गरदन रेत में छुपाने का नहीं है।या फिर बजरंगी बना जायें।


    इसीलिए हम बार बार माध्यमों,भाषाओं और विधाओं के मोर्चे पर लड़ने की बात कर रहे हैं क्योंकि जनादेश किसी न किसी राजनीतिक पक्ष का होगा और सत्ता का चेहरा बदलेगा,विध्वंसक सैन्यराष्ट्र का चरित्र जस का तस।


    मुक्तबाजारी धर्मोन्मादी राष्ट्रवाद के रंग बिरंगे सिपाहसालारों के खेमे तोड़कर सड़क पर जनता के साथ खडे होने की चुनौती अब है।


    अब सिंहासन के आलोकस्तंभों से उम्मीद कोई न रखें अब।

    निर्णायक युद्ध अभी बाकी है।


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

older | 1 | .... | 269 | 270 | (Page 271) | 272 | 273 | .... | 303 | newer