Are you the publisher? Claim or contact us about this channel


Embed this content in your HTML

Search

Report adult content:

click to rate:

Account: (login)

More Channels


Channel Catalog


Channel Description:

This is my Real Life Story: Troubled Galaxy Destroyed Dreams. It is hightime that I should share my life with you all. So that something may be done to save this Galaxy. Please write to: bangasanskriti.sahityasammilani@gmail.comThis Blog is all about Black Untouchables,Indigenous, Aboriginal People worldwide, Refugees, Persecuted nationalities, Minorities and golbal RESISTANCE.

older | 1 | .... | 267 | 268 | (Page 269) | 270 | 271 | .... | 303 | newer

    0 0


    Appeal to NHRC for an open inquiry on series of atrocities on Dalits in Raigarh District of Chhattisgarh


    Before the National Human Rights Commission

    Manav Adhikar Bhawan Block-C, GPO Complex, INA, New Delhi - 110023

    At New Delhi, India

    Case No      of   2016

    Please send this petition to - covdnhrc@nic.in with your name

     

    Between

    1.       Degree Prasad Chouhan, S/o Gulap Chouhan

    Age 36, Occ- Social Activist

    R/o Village – Baradoli, Block – Pussore

    District – Raigarh, Chhattisgarh – 496440 -------------------------------------------------Petitioner

     

    Vs

     

    1.       The chief secretary,

    Government of Chhattisgarh

    Raipur, Chhattisgarh

     

    2.       The inspector and Director General of police

    Government of Chhattisgarh

    Raipur, Chhattisgarh

     

    3.       The District collector,

    District Raigarh, Chhattisgarh

     

    4.       The District superintendent of Police

    District Raigarh, Chhattisgarh -----------------------------------------------------------Respondents

     

    Petition under section 12 of the protection of human rights act – 1993

     

    Honorable sir

    I would like to bring to your notice the brutal atrocities on scheduled castes in Raigarh district of Chhattisgarh state and negligence of police authorities in acting against the atrocities due to their collusion with accused. Which is gross violations of laws of the land and constitution

     

    I am here with submitting to you the list of 16 cases in which police did not even filed FIR even after repeated appeals from the victims and I request your kind authorities to conduct an open inquiry and direct the concerned police officials to act according to the law.

     

    Sl No

    Details of the case

    Accused

    Police responsible

    Status

    1

    Victim – Ganda Scheduled caste of village kokbahal, Tehsil – Baramkela, District Raigarh, Chhattisgarh

    Details of Incident- February 2008

    Incident – The Ganda Caste Dalits were boycotted from a religious function, they were made to pay donations to the religious function but when they attended to the Programme, they were denied entry. When tried to file an FIR, police called the dominant castes  and both police and dominant castes threatened the victims

    False cases filed on Dalits and harassed them

    Kolata caste individuals of Dongripali area 

    Dongaripali police station, SDOP, Sarangarh, Raigarh District, Chhattisgarh 

    FIR needs to filed

    2

    Victim – Ganda- scheduled castes of Jhilangitar, block – Pussore, district Raigarh, Chhattisgarh

    Details of incident – government school head master Dilip sharma conducted a Gayatri Yagna and denied entry of Dalits – also denied mid-day meals to the Dalit students, asking Ganda caste students to eat outside of the school

    Dilip Sharma, head master, government primary school Jhilangitar, Raigarh District, Chhattisgarh

    Pussore police station, district Raigarh, Chhattisgarh

    FIR needs to be filed

    3

    Victim – Suriti Sarathi, Sarpanch of village Linjir, Block –Pussore

    Details of Incident – Since the village sarpanch was a Dalit women, she was not allowed to hoisting the national flag  on 15th August 2010

    Basudev Gupta

    Jai jai ram gupta

    Sampati gupta

    Sunil Gupta

    Dharmendra Upadhyay

    Naresh sao

    Manoj Upadhyay

    Village – Linjir village, Raigarh district

    Pussore police station, Raigarh District, Chhattisgarh

    FIR needs to be filed

    4

    Victim – Rambai Sarathi, village Kosamanda, Block, Pussore, district Raigarh, chhattiagarh

    Details of incident – In September 2010, an SC boy was in love with OBC girl the dominant obc caste people called for a meeting and tried to parade the boy's mother naked. Victim's house was destroyed. The dominant castes of the village passed a resolution boycotting the victim from the village – this resolution also approved by the local MLA –Shakrajit Nayak

    Rohit Patel

    Gopi Patel

    Kulmani Patel

    Uddhav Pradhan

    And others

    Pussore police station, Raigarh district, Chhattisgarh

    FIR needs to be filed

    5

    Victim – Arakhit sarthi, age 50, village Pussore nagar panchayat. Raigarh district

    Details of incident – victim was discriminated and humiliated in the facilitation Programme where the Mohit Satpati of BJP denied the garland as it was touched by victim and the victim was a untouchable

    Mohit Satpati, age 42,, pussore village, Raigarh district, Chhattisgarh

    Police station Pussore, Raigarh district, Chhattisgarh

    FIR needs to be filed

    6

    Victim – Surendra Chouhan, village Pussore, Raigarh district – Chhattisgarh.

    Details of incident – Surendra Chouhan name was announced in the village as a encroacher by the government officials , but he was not an encroacher- felt humiliated he was committed suicide on November 2011

    Amit Kataria, the then collector of Raigarh

    Pussore police station, Raigarh district, Chhattisgarh

    FIR needs to be filed

    7

    Victims – 35 Dalit families of Chhichhore Umaria. Their houses were demolished and crops were destroyed just because they claimed govt land under FRA, discrimination and social boycott  in 2011

    Dominant castes of Chhichhore Umaria

    Pussore police station, Raigarh district, Chhattisgarh

    FIR needs to be filed – needs execution of SC commission orders

    8

    Victim – Krishna chohan, Jagabandhu Chouhan, Nand lal Chouhan – 3 of them belongs to Dalit community of Ganda caste. – 2012 

    Details of incident – Dalits were denied entry into a religious festival by village dominant castes and Dalits were attached and beaten-up 

    Usatram kolta, Dasharath Kolta

    Sanyasi Yadav and others

    Pussore police station, Raigarh district, Chhattisgarh

    FIR needs to be filed

    9

    Victim – Dasharath Chouhan (killed by the police ), he used to run a small shop on the road, police accused him of selling liquor and thrashed him, he died on  the spot - 2013

    Sarangarh police, district Raigarh, Chhattisgarh

    Sarangarh police, district Raigarh, Chhattisgarh

    FIR needs to be filed

    10

    Victim – Anganwadi assistant was a Dalit, she was discriminated on the name of her caste – village Tadola, Pussore, Raigarh district, Chhattisgarh- 2014

    Reshma – Anganwadi worker, Tadola, Pussore block, Raigarh district, Chhattisgarh

    Pussore police station, Raigarh district , chhattisgarhh

    FIR needs to be filed

    11

    Victim – Devram Navrange, village goidaraha, Sarangarh tehsil, Raigarh district, Chhattisgarh.

    The victim went for applying for a job of data entry operator, his application was denied and he was humiliated saying that he was a cow eater and mind also cow mind

    Shyamabandhu patel, Nayan tara singh thomar, janpad panchayat, Sarangarh, Raigarh district 

    Police Sarangarh, Raigarh district, Chhattisgarh

    FIR needs to be filed

    12

    Victim – Dalit community of lailunga village – Ambedkar statue was broken by dominant castes, no case has been filed and no one is arrested

    Suspected action of RSS individuals of lailunga, Raigarh district

    Police lailunga, Raigarh district, Chhattisgarh

    FIR needs to be filed

    13

    Victim – Manju Nirala – sarpanch of Barbhanta (a) was denied the hoisting of national flag on 15th August 2015

    Digambar Sahu, Head master, Ramnarayana government middle school- barbhanta (a), Raigarh district

    Police Sarangarh, Raigarh district, Chhattisgarh

    FIR needs to be filed

    14

    Victim – Gokul Chouhan, Belpali village, Pussore, Raigarh district

    Victim was a journalist he reported news about irregularities in the government school- the school head master is the land lord of the village thrashed the victim and abused on the name of caste   - September 2015

     

    Lakhan patel, suraj patel, - government school – belpali, Pussore, Raigarh district

    Police Pussore, Raigarh district, Chhattisgarh

    FIR needs to be filed

    15

    Victim – Uttari Ganpat Jangde, chairperson of janpad panchayat, Sarangarh

    He was discriminated by the CEO abused on the name of caste – not allowed to sit in the office. And locked the chairperson's room – 2016

    Nayan Tara singh tomar , CEO, Sarangarh janpad panchayat, Raigarh district, Chhattisgarh

    Police Sarangarh, Raigarh district, Chhattisgarh

    FIR needs to be filed

    16

    Victims- Gangaram sarthi and others, village – Amurra, block – Baramkela, district Raigarh

    The victims were discriminated in a religious festival and their houses were dismantled and boycotted them from the village - 2016

    Abhay patel Digo Brahmin, kapua maratha and other Maratha,Patel and Brahmin caste persons

    Saria police station, Sarangarh SDOP Raigarh district, Chhattisgarh

    FIR needs to be filed

     

    Request your kind authority to conduct an open inquiry by visiting Raigarh district of Chhattisgarh on the above cases and pass an order as this authority is deem fit and proper

    Deponent

    Degree Prasad Chouhan

    Date – 29th April 2016

    Phone- 08889326269

    Email – chouhandprasad@gmail.com


    -- 

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    जनपद सोनभद्र में मई दिवस मनाने वाले मजदूरों पर झूठे मुकदमें दर्ज कर जेल भेज कर प्रशासन द्वारा मजदूरों क्रे श्रमाधिकारों का हनन


    अखिल भारतीय वन जन श्रमजीवी यूनियन

    दिनांक: 2 मई 2016

    प्रेस विज्ञिप्त

    विषयः जनपद सोनभद्र में मई दिवस मनाने वाले मजदूरों पर झूठे मुकदमें दर्ज कर जेल भेज कर प्रशासन द्वारा मजदूरों क्रे श्रमाधिकारों का हनन

        1 मई 2016

    पूरी दुनिया में मई दिवस मजदूरों के त्यौहार के रूप में मनाया जाता है व इस पर्व के लिए उ0प्र0 सरकार द्वारा अवकाश भी घोषित है। 1 मई 2016 को हमारे यूनियन एवं जनपद सोनभद्र के रेणूकूट में स्वतंत्र श्रमिक संगठन मजदूर एकता संघ द्वारा मई दिवस मनाने की तैयारी की थी ताकि मजदूरों के मुददों पर विचार भी कर सके। सबसे पहले प्रशासन द्वारा मई दिवस मनाने की अनुमति प्रदान नहीं की जिसके लिए कई बार लिखित में प्रशासन को दिया गया। प्रशासन द्वारा कहा गया कि मई दिवस मनाने की अनुमति केवल मान्यता प्राप्त यूनियन को ही दी जा सकती है व नये श्रमिक संगठनों को यह अनुमति नहीं दी जाएगी। 29 अप्रैल 2016 को कार्यक्रम के मुख्य आयोजकों मजदूर एकता संघ के महासचिव अजित सिंह एवं मजदूर नेता विक्रम सिंह( जो की हिंडालको में कुशल लेकिन बदली श्रमिक रहे )  को थाना पिपरी के एस0ओ मनोज पांडे द्वारा सांय 6 बजे मई दिवस की रैली की अनुमति प्रदान करने के बहाने से बुलाया गया।  इन दोनेां मजदूर नेताओं को रात भर पिपरी थाने में बिठाये रखा व  इनपर यह दबाव डाला गया कि वे लिख कर दे कि ''अखिल भारतीय वन जन श्रमजीवी यूनियन जिनके साथ मिलकर मई दिवस मनाया जा रहा है वह नक्सली संगठन है व यूनियन की उपमहासचिव रोमा नक्सली है ''। यह लिखवाने से पुलिस के लिए मई दिवस की अनुमति को ख़ारिज करना आसान हो जाता। लेकिन मज़दूर साथी पुलिस के दबाव के आगे नहीं झुके व लिख कर देने से साफ इंकार कर दिया। तब उनके उपर झूठी तहरीर बनाई गई की यह मजदूर थाने के बाहर अनुमति प्रदान न किए जाने व अन्य मजदूर संगठन को अनुमति दिए जाने के खिलाफ बवाल कर रहे थे। उन्हें शंाति भंग करने की 151 धारा के तहत गिरफ्तार कर लिया गया व  दोनों को 30 अप्रैल की सुबह मिर्जापुर जेल भेज दिया गया। इस बाबत मेरे द्वारा 29 अप्रैल रात को 9 बजे से लेकर 10 बजे तक जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक को कई मर्तबा फोन किया गया व फोन द्वारा वार्ता के लिए संदेश भी भेजा गया लेकिन दोनों आला अफसरों ने न ही फोन उठाया और न ही हमसे बात करना मुनासिब समझा। 

    रेणूकूट में एक ही गांधी मैदान है जहां पर वहां के नागरिक व मज़दूर कोई कार्यक्रम कर सकते हैं लेकिन यह मैदान मान्यता प्राप्त श्रमिक संगठन सी0पी0आई के कब्ज़े में हैं जो कि कम्पनी के साथ सांठ गांठ कर इस मैदान पर अपना नियंत्रण बनाये रखते हैं। रेणूकूट में कम्पनी विरोधी कोई भी गतिविधि न हो पाए इसका ध्यान यह मान्यता प्राप्त श्रमिक संगठन भी रखते हैंै।  ज्ञातव्य हों कि 2 सितम्बर 2015 को देश भर में 11 केन्दं्रीय मज़दूर संगठनों द्वारा हड़ताल की गई लेकिन यह हड़ताल रेणूकूट स्थित हिंडाल्कों कम्पनी में पुलिस एवं मान्यता प्राप्त संगठनों के सहयोग से नहीं की गई।  मई दिवस का कार्यक्रम करने के लिए मज़दूर एकता संघ स्वतंत्र यूनियन के नेताओं द्वारा सी0पी0आई के नेताओं से भी बात कर गांधी मैदान में सहयोग की बात की गई, लेकिन सी0पी0आई के नेताओं ने उन्हें कहा कि अगर मई दिवस मनाना है तो मजदूर एकता संघ को सी0पी0आई के बैनर तले आना होगा तभी गांधी मैदान में इस कार्यक्रम को करने की अनुमति दी जाएगी। इस पर अजित एवं उनके साथीयों ने विरोध किया तथा कहा कि मजदूर दिवस किसी एक पार्टी का या फिर एक श्रमिक संगठन का नहीं है इसलिए वे किसी के बैनर तले नहीं जाएगें। 

    मई दिवस के कार्यक्रम को रेणूकूट में आयोजन करने के सिलसिले में मेरे साथ तीन अन्य महिला साथीयों सोंकालो गोण, शोभा भारती एवं शिवकुमारी द्वारा जिलाधिकार श्री चन्द्रभूष्ण सिंह से 28 अप्रैल को मुलाकात की गई व मई दिवस को रेणूकूट में मनाने के लिए अनुमति मांगी। जिसके लिए उन्हेांने आश्वस्त किया कि वह इस सम्बन्ध में पुलिस रिपोर्ट मांगेगें व हमें सूचित करेगें। लेकिन अगले ही दिन दो मजदूर नेताओं की गैरकानूनी रूप से गिरफ्तारी ने हमें अचंभित कर दिया व प्रशासन के इस गैर प्रजातांत्रिक रवैये पर सवालिया निशान लगा दिया। कार्यक्रम करने की अनुमति न दिए जाने के संदर्भ में लिखित में भी दिया जा सकता था लेकिन मई दिवस के कार्यक्रम को व्यक्तिगत मुददे से जोड़कर मासूम मजदूर नेताओं की जेल में भेजना निश्चित रूप से मानवाधिकारों का घोर उल्लंघन है व संविधान में अभिव्यक्ति की आजादी का खुला उल्लंघन है। 

    सपा सरकार एवं सोनभद्र प्रशासन की यह कार्यवाही इस लिए की गई चूंकि वे भयभीत थे कि सोनभद्र के तमाम आंदोलन एक जगह संगठित हो रहे हैं। मजदूर दिवस के इस मौके पर वनाधिकार कानून के प्रभावी क्रियान्वन, कनहर बांध के लिए किए जा अवैध भू अधिग्रहण का विरोध, हिंडाल्कों कम्पनी द्वारा गैरकानूनी रूप से 250 बदली मजदूरों को बिना नोटिस दिए काम से निकाल देना, आदिवासी बालक मिथिलेश गोंण की हिंडाल्कों के डाक्टरों द्वारा लापरवाही के कारण 14 जुलाई 2013 को हुई मृत्यु, दलित महिला शोभा के घर पर माफियाओं द्वारा प्राणघातक हमला, भविष्य निधि में मजदूरों को रिटायरमेंट के बाद धन निकालने के आदेश व तमाम मजदूर वर्ग को सामाजिक सुरक्षा जैसे विभिन्न मुददे इसमें शामिल थे। प्रशासन, कम्पनी एवं शासन के लिए मजदूर वर्ग और गांवों से समुदाय की एकजुटता खतरे की घंटी है जिसे वे किसी भी कीमत पर होने नहीं देना चाहते। जनपद सोनभद्र में किसी भी विरोध को दबाने के लिए पुलिस प्रशासन खुले रूप से आदिवासी दलितों का दमन करने पर उतारू है। इसका ताजा उदाहरण कनहर बांध परियोजना में किए जा रहे अवैध भू अधिग्रहण के खिलाफ पिछले वर्ष जनआंदोलन था जिसमें प्रशासन द्वारा अम्बेडकर जयंती के दिन ही गोली चलाई गई एवं अकलू चेरो का घायल कर दिया गया। साथ ही 18 अप्रैल 2015 को आंदोलनकारी जनता पर प्राणघातक हमला कर कई महिलाओं, बच्चों और बूढ़ो को घायल कर दिया गया। इस बापत कई आंदोलनकारीयों को महीनों जेल में भी रहना पड़ा। इस गोलीकांड व अन्य ंिहंसक घटना पर अभी तक सरकार द्वारा दोषी अफसरों पर एक भी एफ0आई0आर दर्ज नहीं की गइ्र्र।  लेकिन आंदोलन पीछे नहीं हटा व इस आंदोलन की आग अन्य स्थानेां पर शोषित जनता के पास भी पहुंची। 

    रेणूकूट हिंडाल्को कम्पनी में काम करने वाले 250 बदली मजदूरों को पिछले वर्ष बिना नोटिस दिए निकाल दिया गया। इसपर मजदूरों ने भूख हड़ताल की व कम्पनी एवं श्रमायुक्त को मजबूर किया कि वे उनके साथ समझौता करें। समझौते के अनुसार यह तय हुआ कि सभी मजदूरों को पुराने वेतन मान यानि 30000 रू पर फिर से नियुक्ति की जाए। समझौता होने के बावजूद भी कम्पनी द्वारा इसका पालन नहीं किया गया व आंदोलनकारी मजदूरों पर कम्पनी के गुंडों द्वारा लगातार हमला जारी रहा। कम्पनी ने मजदूरों को बाध्य किया कि वे 10000 के वेतन मान पर फिर से काम पर लौट सकते हैं लेकिन मजदूर इसपर सहमत नहीं हुए व उन्होंने अपनी मांगों की पूर्ति के लिए आंदोलन करने की ठानी। इन मजदूरों ने अखिर जनपद में चल रहे बाकि जनांदोलनों से जुड़ने की तैयारी की। और इसी जुड़ाव के तहत मजदूरों के शोषण को रोकने व शासन की गुंडागर्दी के खिलाफ आम लोगों को जागृत करने के लिए मई दिवस पर कार्यक्रम करने की तैयारी की गई। मई दिवस के इस ऐतिहासिक दिन पर हर साल हर  देश में  मज़दूर अपने संघर्षों के इतिहास से आपने आप को प्रेरित करते है ।  लेकिन कार्यक्रम करने से पहले ही अजित एवं विक्रम को झूठे मुकदमें में शांति भंग दिखा कर जेल भेज दिया गया। इस मामले में रेणूकूट के तमाम बड़े मान्यता प्राप्त श्रमिक संगठन खामोश खड़े तमाशा देख रहे हैं व दोनों नेता रात भर थाने में रहे उन्हें किसी भी राजनैतिक दल के कोई नेता न देखने गया व न ही किसी ने विरोध किया। प्रशासन की इस दमनात्मक रवैया पर हमारी यूनियन बेहद ही आक्रोषित है व हर तरफ आदिवासी, दलित एवं मजदूरों में इसका कड़ा विरोध किया जा रहा है। हमारी  यूनियन द्वारा इस सम्बन्ध में मुख्य मंत्री श्री अखिलेश यादव को पत्र लिख इस घटना पर कड़ी कार्यवाही करने के लिए लिखा है।

    मई दिवस के इस त्यौहार पर जनांदोलन एवं जनसंगठनों का दमन करने की नीति शासन, प्रशासन एवं कम्पनी ने मिल कर तैयार की क्योंकि उन्हें डर है कि यह सब जनांदोलन अगर एकजुट हो जाएगें तो उनकी प्राकृतिक संसाधनों की लूट, जल जंगल जमींन की लूट एवं मजदूरों के श्रम की लूट में कामयाबी हासिल नहीं हो पाएगी। मौजूदा शासन प्रशासन श्रमजीवी समाज के निहत्थे  लोगों को मई दिवस के पर्व को न मनाने देने की नीति से ही यह स्पष्ट कर दिया  है कि सभी सरकारें कारपोरेट व कम्पनीयों की पिछलग्गू है व उन्हें जनता के मुददों से कोई लेना देना नहीं है। 
     इस प्रकरण को लेकर हमारी यूनियन जल्द ही देश व्यापी नीति बना कर उत्तरप्रदेश सरकार एवं सोनभद्र प्रशासन के खिलाफ एक बड़ा मोर्चा तैयार कर जनांदोलन को व्यापक करने का काम करेगी। तथा सभी जनांदोलनों को एक साथ ला कर इस भ्रष्ट तंत्र, पूंजीवाद, सांमतवाद एवं साम्प्रदायिकता व जातिवाद के खिलाफ व्यापक जनांदोलन तैयार करेगी। 

    हमारी यूनियन यह मांग करती है कि 
    - सरकार एवं प्रशासन द्वारा मज़दूर साथीयों पर लगाए गए तमाम फर्जी मुकदमें वापिस करे। 
    - मई दिवस को कलंकित करने के जिम्मेदार अधिकारीयों के उपर अनुशासात्मक कार्यवाही हो। 
    - श्रमिकों व आम जनता को संविधान में प्रदत्त अनुच्छेद का पालन कर उनके संवैधानिक अधिकारों को बहाल किया जाए।  
     
     रोमा 
    उपमहासचिव
    -- 
    Ms. Roma ( Adv)
    Dy. Gen Sec, All India Union of Forest Working People(AIUFWP) /
    Secretary, New Trade Union Initiative (NTUI)
    Coordinator, Human Rights Law Center
    c/o Sh. Vinod Kesari, Near Sarita Printing Press,
    Tagore Nagar
    Robertsganj, 
    District Sonbhadra 231216
    Uttar Pradesh
    Tel : 91-9415233583
    Email : romasnb@gmail.com
    http://jansangarsh.blogspot.com

    Delhi off - C/o NTUI, B-137, Dayanand Colony, Lajpat Nr. Phase 4, NewDelhi - 110024, Ph - 011-26214538


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0
  • 05/02/16--12:05: मुसलमानों के वोट से बनेगा जनादेश बम से चार मरे तो छह साल की मासूम बच्ची ईशानी को हवा में उछाल दिया भूतों ने और उसे चोटें भी खूब आयी है। इस लोकतंत्र में वोटर कितने आजाद हैं,बंगाल के नतीजे बतायेंगे,बाकी हिंसा का सिलसिला जारी आतंक का यह रसायन अंतिम चरण में भी काम करेगा कि देखो,बिगड़ैल जनता से सत्ता कैसे निबटती है। केंद्रीय बलों और चुनाव आयोग की वाम कांग्रेस भाजपा के साथ मिलीभगत का आरोप तो वे शुरु से लगाती रही हैं,अब आखिरी चरण के लिए अपनी चुनाव सभाओं में अपनी ही पुलिस पर वे खूब बरस रही हैं और खुलेआम कह रही हैं कि उनकी पुलिस बिगड़ गयी है और चुनाव जीतने के बाद वे बिगड़ैल पुलिस का इलाज करेंगी।जिन कल्बों को पिछले पांच साल के दौरान राज्यकर्मचारियों का वेतर रोककर खैरात बांटे गये,वे भी उनके हक में वोट नहीं करा सकें हैं,यह शिकायत करके मुख्यमंत्री खुलेआम कह रही हैं कि चुनाव जीत लेने के बाद सबकी खबर लेंगी वे। यह तो बाद की बात है।फिलहाल जहां वोट पड़ चुके हैं ,वहां विपक्षी एजंटों,नेताओं और कार्यकर्ताओं के अलावा वोटरों को भी सबक खूब पढ़ाया जा रहा है।हाथ पांव तोड़े जा रहे हैं।आगजनी बमबाजी वगैरह वगैरह
  • ABP Anand reports:

    মালদায় বোমা উদ্ধারের সময় বিস্ফোরণ, নিহত সিআইডি বম্ব স্কোয়াডের ২ কর্মী, জখম ১

    মালদায় বোমা উদ্ধারের সময় বিস্ফোরণ, নিহত সিআইডি বম্ব স্কোয়াডের ২ কর্মী, জখম ১

    মালদা: তৃণমূল নেতার বাড়িতে লুকোনো বোমা উদ্ধারের সময় বিস্ফোরণ। সিআইডির বম্ব স্কোয়াডের দুই কর্মীর মৃত্যু। জখম একজনের অবস্থা আশঙ্কাজনক। উপযুক্ত সতর্কতা না নেওয়ার


    পুলিশকে
    পুলিশকে 'হুমকি' মমতার, সিডি চেয়ে পাঠাল কমিশন

    কলকাতা: পুলিশের উদ্দেশ্যে মমতা বন্দ্যোপাধ্যায়ের হুমকি নিয়ে মুখ্য নির্বাচনী...

    ফের আক্রান্ত শৈশব! ফের কাঠাগড়ায় তৃণমূল
    ফের আক্রান্ত শৈশব! ফের কাঠাগড়ায় তৃণমূল

    দক্ষিণ ২৪ পরগনা: ভোটের মধ্যে ফের আক্রান্ত শৈশব! হালিশহর, ভাঙড়, হরিদেবপুরের পর এবার...

    मुसलमानों के वोट से बनेगा जनादेश

    बम से चार मरे तो छह साल की मासूम बच्ची ईशानी को हवा में उछाल दिया भूतों ने और उसे चोटें भी खूब आयी है।

    इस लोकतंत्र में वोटर कितने आजाद हैं,बंगाल के नतीजे बतायेंगे,बाकी हिंसा का सिलसिला जारी

    आतंक का यह रसायन अंतिम चरण में भी काम करेगा कि देखो,बिगड़ैल जनता से सत्ता कैसे निबटती है।


    केंद्रीय बलों और चुनाव आयोग की वाम कांग्रेस भाजपा के साथ मिलीभगत का आरोप तो वे शुरु से लगाती रही हैं,अब आखिरी चरण के लिए अपनी चुनाव सभाओं में अपनी ही पुलिस पर वे खूब बरस रही हैं और खुलेआम कह रही हैं कि उनकी पुलिस बिगड़ गयी है और चुनाव जीतने के बाद वे बिगड़ैल पुलिस का इलाज करेंगी।जिन कल्बों को पिछले पांच साल के दौरान राज्यकर्मचारियों का वेतर रोककर खैरात बांटे गये,वे भी उनके हक में वोट नहीं करा सकें हैं,यह शिकायत करके मुख्यमंत्री खुलेआम कह रही हैं कि चुनाव जीत लेने के बाद सबकी खबर लेंगी वे।


    यह तो बाद की बात है।फिलहाल जहां वोट पड़ चुके हैं ,वहां विपक्षी एजंटों,नेताओं और कार्यकर्ताओं के अलावा वोटरों को भी सबक खूब पढ़ाया जा रहा है।हाथ पांव तोड़े जा रहे हैं।आगजनी बमबाजी वगैरह वगैरह जारी हैं।जिन बमों का इस्तेमाल बूथों पर हो नहीं पाया है,वे भी जहां तहां फटने लगे हैं।नतीजे आने के बाद बाकी हिसाब बराबर होगा,जाहिर है।

    एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास

    हस्तक्षेप

    বোমা নিষ্ক্রিয় করতে গিয়ে মৃত্যু হল সিআইডির বম্ব স্কোয়াডের দুই অফিসারের

    বোমা নিষ্ক্রিয় করতে গিয়ে মৃত্যু হল সিআইডির বম্ব স্কোয়াডের দুই অফিসারের

    ঝিটকা আর আলিপুরদুয়ারের পুনরাবৃত্তি এবার মালদার বৈষ্ণবনগরে। বোমা নিষ্ক্রিয় করতে গিয়ে মৃত্যু হলেন সিআইডির বম্ব স্কোয়াডের দুই অফিসার। মৃতের নাম বিশুদ্ধানন্দ মিশ্র ও সুব্রত চৌধুরী। জখম আরও এক অফিসার মনিরুজ জামালের অবস্থা আশঙ্কাজনক। মালদহ মেডিক্যাল কলেজ হাসপাতালে ভর্তি রয়েছেন তিনি।মালদার বৈষ্ণবনগরে বিস্ফোরণের তদন্তে যান ওই তিনজন

    आखिर इस चुनाव में भी मुसलमानों के वोट से जनादेश बन रहा है बंगाल में।35 साल तक इस अटूट वोट बैंक के सहारे बंगाल में वामशासन जारी रहा है और औचक नंदीग्राम,सिंगुर जैसे तमाम मुस्लिम बहुल इलाकों के गरीब किसानों की जमीन पर अंधाधुंध शहरीकरण और औद्योगीकरण की आंधी से वह वोट बैंक दीदी के खाते में स्थानांतरित हो गया है।संघ परिवार की हर चंद कोशिश से वह वोटबैंक केसरिया सुनामी के मुकाबले किसके साथ है या सिरे से पलट गया है,कहना मुश्किल है।


    हिंदू राष्ट्र में लोकतंत्र,कानून का राज और संविधान का कुल पर्यावरण यह है कि जैसे हिमालय में दावानल है और उसकी आंच मैदानों तक कहीं पहुंचती ही नहीं है।


    आतंक का रसायन जिनके लिए हैं,उनके अलावा बाकी लोगों को अहसास भी नहीं है कि कितीन स्वतंत्रता ,कितनी सहिष्णुता और कितनी बहुलता हमारी सांस्कृतिक विरासत की अभी बची खुची सही सलामत है।


    इस मर्ज का क्या कहिए कि अब भी हर चुनाव में बूथों की रक्षा करने के लिए सरहद पर दुश्मनों का मुकाबले तैनात रहनेवालों को लोकतंत्र उत्सव में जनादेश की पहरेदारी के लिए तलब किया जाता है और उनकी मौजूदगी में भी वोटर समीकरण में राजनीति कम अपनी जान माल की सलामती का सबसे ज्यादा ख्याल करता है।


    हिंदुत्व का एजंडा इस कदर सर चढ़कर बोल रहा है कि देश में कहीं भी चुनाव हो मुसलमानों का सरदर्द यही होता है कि किसे वोट दें तो उनकी जान और माल सही सलामत रहनेवाली है।


    बंगाल के मुसलमानों ने इस पहेली को कैसे सुलझाया है,इस पर बंगाल का जनादेश निर्भर है।संघ परिवार की नकली सुनामी से डर कर भाजपा को हराने के लिए उनने किसे वोट डाला है,यह तय करने वाला है जनादेश।

    কসবায় সিপিএম কর্মীকে বিবস্ত্র করে মার, আক্রান্ত কংগ্রেসও

    কসবায় সিপিএম কর্মীকে বিবস্ত্র করে মার, আক্রান্ত কংগ্রেসও

    কলকাতা: যে রাতে বাঘাযতীনে আক্রান্ত হল সিপিএম সমর্থক পরিবারগুলি, সে রাতেই সিপিএমের উপর...


    बहरहाल धर्मोन्मादी इस ध्रूवीकरण से फिलहाल फायदा दीदी को नजर आ रहा है।इसका फौरी नतीजा यह हो सकता है कि दीदी की सत्ता में वापसी के साथ बिहार फार्मूले पर विपक्ष की हैरतअंगेज गोलबंदी से निबटकर बेहतर हालत में यूपी का चुनाव लड़ सकती है भाजपा,बाकी कहीं के नतीजे कुछ भी हो,फर्क पड़ता नहीं है।


    बहरहाल बंगाल में आखिरी चरण के लिए मतदान 5 मई को निबट जायेगा और फिर 19 मई तक लंबा इंतजार।जंगल महल के बाद चुनावों में फर्जी मतदान की शिकायतें बेहद कम रही तो कमसकम मतदान के दौरान हिंसा छिटपुट ही रही।


    आगजनी बमबाजी वगैरह वगैरह जारी हैं।जिन बमों का इस्तेमाल बूथों पर हो नहीं पाया है,वे भी जहां तहां फटने लगे हैं।नतीजे आने के बाद बाकी हिसाब बराबर होगा,जाहिर है।


    मसलन मालदा जिले के जौनपुर में एक मकान में कथित रूप से बम बनाते वक्त रविवार देर रात विस्फोट होने से चार लोगों की मौत हो गई। जबकि छह लोग घायल हो गए। गौरतलब है कि यह घटना ऐसे समय पर हुई है जब पांच मई को राज्य में आखिरी चरण के चुनाव होने हैं।पुलिस अधीक्षक सैयद वकार रजा ने बताया कि यह घटना उस समय हुई जब बांग्लादेश की सीमा से सटे इलाके में देर रात करीब एक बजे गियासु शेख के मकान में बम बनाए जा रहे थे। उन्होंने बताया कि इस घटना में स्थानीय गुंडे शामिल थे। गियासु फरार है। जिले में 17 अप्रैल को चुनाव हुआ था। यह मकान तृणमूल नेता का बताया जा रहा है।तृणमूल का इंकार।


    इसकी उलट खबर यह है कि धमाके की गूंज सुनाई दी है और मालदा में तृणमूल कांग्रेस के एक पंचायत प्रधान समेत चार लोगों की बम से उड़कार हत्या कर दी गई है। हत्या के लिए कथित कांग्रेस समर्थकों को आरोपी बताया जा रहा है।

    घटना मालदा के बैष्णबनगर की है। तृणमूल का आरोप है  कि चुनाव में कांग्रेस को वोट नहीं देने के कारण इस वारदात को अंजाम दिया गया।


    बहरहाल पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है, वहीं मालदा जिला कांग्रेस के महासचिव नरेंद्रनाथ तिवारी ने इस ओर आरोपों को खारिज किया है। उनका कहना है कि यह कांग्रेस को बदनाम करने की साजिश है।


    इस सिलसिले में  पुलिसका बयान गौरतलब है, ''एक घर में हुए एक विस्फोट में चार लोगों की मौत हो गई और चार अन्य लोग घायल हो गए। प्रारंभिक रिपोर्टों के अनुसार, घर में देसी बम रखे हुए थे, जिनमें विस्फोट हो गया।'' घायलों को मालदा मेडिकल कॉलेज एंड अस्पताल में भर्ती कराया गया है।


    केंद्रीय वाहिनी और चुनाव आयोग की इस सिलसिले में तारीफ करनी ही होगी कि भूतों के नाच पर अंकुश तो लगा ही जनादेश लूटने के दहशतगर्द इंतजामात को भी अंजाम तक पहुंचने नहीं दिया।कहा जा रहा है कि इतना शांतिपूर्ण मतदान दशकों में नहीं हुआ है।यही फौरी अमन चैन दीदी के सरदर्द का सबब है।


    पिछले चुनाव के चुपचाप फूल छाप की यादे ताजा हैं और 2011 में यादवपुर से तत्रकालीन मुख्यमंत्री की हार का अनुभव भी धूमिल हुआ नहीं है।बिगड़ैल जनता का कोई अचूक इलाज किसी की मझ से बाहर है।तब भी समझा जा रहा था कि वाम जनाधार अटूट तो मुसलमानों का वोटबैंक जस का तस।


    सभाओं में तब भी भारी भीड़ थी वाम समर्थन में और तब बूथों पर वाम वर्चस्व ही दीख रहा था।जनता ने चुपचाप परिवर्तन कर दिया और सत्ता के लिए उस परिवर्तन की याद से बचने के लिए बेलगाम हिंसा ही सबसे बढ़िया जवाब सूझ रहा है।हिंसा थम नहीं रही है।


    हालीशहर में तीन साल की जख्मी बच्ची की तस्वीर अभी हटी नहीं है कहीं से तो कैनिंग में पोस्चर को पतंग बना देने की सजा भी याद है तो अब दीदी के खास तालुक दक्षिण कोलकाता के हरिदेवपुर में एक मासूम पर फिर हमला हो गया।जहां से कार्टून शेयर करने वाले यादवपुर विश्वविद्यालय के निर्दलीय प्रोफेसर अंबिकेश वाम कांग्रेस गठबंधन के प्रत्याशी हैं।


    छह साल की मासूम बच्ची ईशानी को हवा में उचाल दिया भूतों ने और उसे चोटें भी खूब आयी है।


    आरोप है कि रविवार की शाम से लगभग पूरे  दक्षिण कोलकाता में कस्बा,बाघा जतीन,पेयाराबागान,गांगुलीबागान,वैष्णवघाटा,पाचुली वगैरह वगरह स्थानों पर फर्जी मतदान में नाकाम भूतों की बाइक वाहिनी हंगामा बरपा रही है।


    करीब सौ बाइक के साथ उनका अश्वमेध जारी है और पुलिस की मौजूदगी में ही विपक्षी समर्थकों,कार्यकर्ताओं और आम वोटरों पर हमले हो रहे हैं।ये हमले टीवी पर लाइव है।तो आतंक का यह रसायन अंतिम चरण में भी काम करेगा कि देखो,बिगड़ैल जनता से सत्ता कैसे निबटती है।


    जाहिर है कि सत्ता दल और सरकार तमाम लाइव खबरों का खंडन करने में लगी है।


    इसी सिलसिले में हरिदेवपुर के पेयाराबागान के एक समर्थक की छह साल की बच्ची ईशानी पात्र को भी लोकतंत्र का सबक सिखाया गया है।उसका जुर्म इतना है कि उसकी चाची स्मिता पात्र बालिगंज विधानसभा क्षेत्र में मंत्री सुब्रत मुखर्जी के खिलाफ कांग्रेस प्रत्याशी कृष्णा देवनाथ की पोलिंग एजंट रही हैं।


    बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अमन चैन बहाली के साथ हुए इस चुनाव से खुश नहीं हैं।


    केंद्रीय बलों और चुनाव आयोग की वाम कांग्रेस भाजपा के साथ मिलीभगत का आरोप तो वे शुरु से लगाती रही हैं,अब आखिरी चरण के लिए अपनी चुनाव सभाओं में अपनी ही पुलिस पर वे खूब बरस रही हैं और खुलेआम कह रही हैं कि उनकी पुलिस बिगड़ गयी है और चुनाव जीतने के बाद वे बिगड़ैल पुलिस का इलाज करेंगी।


    जिन कलबों  को पिछले पांच साल के दौरान राज्य कर्मचारियों का वेतन रोककर खैरात बांटे गये,वे भी उनके हक में वोट नहीं करा सकें हैं,यह शिकायत करके मुख्यमंत्री ममता बनर्जी खुलेआम कह रही हैं कि चुनाव जीत लेने के बाद सबकी खबर लेंगी वे।


    हालांकि  ममता बनर्जीने सोमवार को भरोसा जताया कि उनकी पार्टी ''बहुमत'' का आंकड़ा हासिल कर चुकी है। फिरभी उन्होंने राज्य में तैनात केन्द्रीय बलों पर मतदाताओं से ''दुर्व्यवहार'' करने का आरोप लगाया।


    दीदी कैसे इंच इंच का हिसाब बराबर कर देंगी ,यह तो बाद की बात है।फिलहाल जहां वोट पड़ चुके हैं ,वहां विपक्षी एजंटों,नेताओं और कार्यकर्ताओं के अलावा वोटरों को भी सबक खूब पढ़ाया जा रहा है।हाथ पांव तोड़े जा रहे हैं।


    Bengali TV Channel 24 Ghanta reports

    বাম-কংগ্রেসের জোট, ফেভিকলের মজবুত জোড়, বললেন সূর্যকান্ত মিশ্রবাম-কংগ্রেসের জোট, ফেভিকলের মজবুত জোড়, বললেন সূর্যকান্ত মিশ্র

    বাম-কংগ্রেসের জোট, ফেভিকলের মজবুত জোড়। পূর্ব মেদিনীপুরের চণ্ডীপুরের জনসভায় বললেন সূর্যকান্ত মিশ্র। সিপিএম রাজ্য সম্পাদকের দাবি, এই জোট রাজ্যে এক স্থায়ী সরকার দেবে। প্রায় একমাস অতিক্রান্ত। ভোট এসে ঠেকেছে তার শেষ দফায়। জয়ের দাবি আগেই করেছেন। বিরোধী দলনেতা এবার নিশানা করলেন প্রার্থী মমতা বন্দ্যোপাধ্যায়কে।

    কোচবিহারের সভা থেকে ফের বাহিনীকে তোপ মমতা বন্দ্যোপাধ্যয়েরকোচবিহারের সভা থেকে ফের বাহিনীকে তোপ মমতা বন্দ্যোপাধ্যয়ের

    কোচবিহারের সভা থেকে ফের বাহিনীকে তোপ মমতা বন্দ্যোপাধ্যয়ের। অভিযোগ করলেন, সিপিএম -বিজেপির কথা শুনে চলছে বাহিনী। তবে তৃণমূলের ক্ষমতায় ফেরা নিয়ে আত্মবিশ্বাসী তৃণমূল নেত্রী। বছর ছয়েক  আগেও  জঙ্গল মহল তখন অশান্ত। মাওবাদীদের বাড়াবাড়ি। সেসময় জঙ্গল মহলে গিয়ে কেন্দ্রীয় বাহিনী প্রত্যাহারের দাবিতে সরব হন তত্কালীন বিরোধী নেত্রী। এত বছর পর সেই বাহিনীর বিরুদ্ধে ফের সরব  মুখ্যমন্ত্রী মমতা বন্দ্যোপাধ্যায়। অভিযোগ সিপিএম বিজেপির কথা শুনে চলছে বাহিনী।

    হলদিবাড়িতে মুকুল রায়ের সভা বন্ধ করে দিল কমিশন, মুখ্যমন্ত্রীর সাফ ঘোষণা, 'জিতে গেছি'হলদিবাড়িতে মুকুল রায়ের সভা বন্ধ করে দিল কমিশন, মুখ্যমন্ত্রীর সাফ ঘোষণা, 'জিতে গেছি'

    হলদিবাড়িতে মুকুল রায়ের সভা বন্ধ করে দিল কমিশন। হলদিবাড়ি কমলাকান্ত হাইস্কুলের মাঠে তৃণমূলের নির্বাচনী জনসভা চলছিল। বারোটা থেকে তিনটে পর্যন্ত মেখলিগঞ্জের তৃণমূল কংগ্রেস প্রার্থী অর্ঘ্য রায় প্রধানের সমর্থনে জনসভার অনুমতি নেওয়া হয়েছিল। সে সময় সেখানে হাজির হন কমিশনের কর্মীরা। তাঁরাই সভা বন্ধ করে দেন। সভা মঞ্চ ছাড়েন তৃণমূল নেতা মুকুল রায় এবং অভিনেতা দেব।

    সুজন চক্রবর্তীর নির্বাচনী এজেন্টের বাড়িতে হামলা, অভিযুক্ত তৃণমূল  সুজন চক্রবর্তীর নির্বাচনী এজেন্টের বাড়িতে হামলা, অভিযুক্ত তৃণমূল

    ভোট পরবর্তী হিংসা বাঘাযতীনের রবীন্দ্রপল্লীতে। সিপিএমের অভিযোগ, গতকাল রাতে যাদবপুর কেন্দ্রের প্রার্থী সুজন চক্রবর্তীর নির্বাচনী এজেন্ট বুদ্ধদেব ঘোষের বাড়িতে হামলা চালায় তৃণমূল কর্মীরা। মারধর করা হয় নির্বাচনী এজেন্ট বুদ্ধদেব ঘোষকে। এলাকার আরও আট থেকে দশটি সিপিএম কর্মীর বাড়িতে হামলা চালানো হয় বলে অভিযোগ।  চলে বাড়ি ভাঙচুর। বেশকয়েকটি বাইকও ভাঙচুর করা হয়। অন্যদিকে তৃণমূলের অভিযোগ, তাদের ওপরেই পাল্টা হামলা চালিয়েছে সিপিএম। পুলিসের বিরুদ্ধে পক্ষপাতিত্বের অভিযোগ তুলেছে তৃণমূল নেতৃত্ব। তাদের অভিযোগ, তৃণমূল কর্মীরা হামলায় আক্রান্ত হলেও পুলিসের লাঠির ঘায়েও তাদের বেশকয়েকজন তৃণমূল কর্মী জখম হয়েছেন।

    টানা তাপপ্রবাহের পর খানিক স্বস্তি দিল কালবৈশাখীটানা তাপপ্রবাহের পর খানিক স্বস্তি দিল কালবৈশাখী

    কবে বৃষ্টি আসবে? এত গরম যে আর সহ্য হচ্ছে না! মানুষের এত প্রার্থনার ফল বোধহয় মিলল। টানা তাপপ্রবাহের পর খানিক স্বস্তি। কলকাতা ছাড়া দক্ষিণবঙ্গের বেশ কিছু জেলায় দুপুরের পর থেকেই শুরু হয় ঝড়বৃষ্টি। বর্ধমান, হাওড়া,নদিয়া , মুর্শিদাবাদ, উত্তর চব্বিশ পরগনা, বাঁকুড়া, পূর্ব মেদিনীপুরের বেশ কিছু জায়গায় মানুষকে স্বস্তি দিয়েছে কালবৈশাখী। তবে এর মধ্যেই দুঃসংবাদ। মুর্শিদাবাদের হরিহরপাড়া থানার লালনগরে গাছের ডাল ভেঙে একজনের মৃত্যু হয়েছে। আবহাওয়া দফতর জানিয়েছে, বাতাসে জলীয় বাস্পের পরিমাণ বেড়ে যাওয়ায় বজ্রগর্ভ মেঘ তৈরি হয়েছে। তা থেকেই দক্ষিণ বঙ্গে এই ঝড়বৃষ্টি । বৃষ্টির সম্ভাবনা রয়েছে কলকাতাতেও।

    জাল ভোটার ধরে ফেলায় বাম প্রার্থীর এজেন্টের বাড়িতে হামলাজাল ভোটার ধরে ফেলায় বাম প্রার্থীর এজেন্টের বাড়িতে হামলা

    জাল ভোটার ধরে ফেলায় বাম প্রার্থীর এজেন্টের বাড়িতে হামলা। এমনই অভিযোগ উঠেছে হুগলির ধনেখালিতে। ধনেখালি বিধানসভা কেন্দ্রের আটত্রিশ নম্বর বুথের এজেন্ট ছিলেন শেখ জসিমুদ্দিন। তাঁর দাবি, গতকাল দুজন জাল ভোটারকে ধরে ফেলেন তিনি। এরপরই তাঁকে হুমকি দেওয়া হয় বলে অভিযোগ। অভিযোগ, আজ সকালে বাজারে গেলে, তাঁর ওপর হামলার চেষ্টা হয়।

    অধীর চৌধুরীর দাবি, পরিবর্তন এখন সময়ের অপেক্ষাঅধীর চৌধুরীর দাবি, পরিবর্তন এখন সময়ের অপেক্ষা

    জোট ক্ষমতায় এসেই গিয়েছে। এখন শুধু সময়ের অপেক্ষা। কোচবিহারে প্রচারে গিয়ে দাবি করলেন অধীর চৌধুরী। শেষবেলার প্রচারে চড়াসুরে আক্রমণের নিশানা করলেন মমতা বন্দ্যোপাধ্যায়কে। আর যেন তর সইছে না জোটের অন্যতম কারিগর অধীর চৌধুরীর। কারণ তাঁর দাবি, পরিবর্তন এখন সময়ের অপেক্ষা। প্রায় একমাসের ভোটযুদ্ধ এখন শেষ হওয়ার পথে। টি টোয়েন্টি ম্যাচের আর বাকি মাত্র কয়েক ওভার। পড়ে রয়েছে উত্তরের কোচবিহার আর দক্ষিণের পূর্ব মেদিনীপুর। ফিনিশিং টাচ, তাই নেতাদের বক্তব্যের সুর এখন সপ্তমে।

    ভোটে তৃণমূলের হয়ে কাজ করায় বাবা-ছেলেকে বেধড়ক মারভোটে তৃণমূলের হয়ে কাজ করায় বাবা-ছেলেকে বেধড়ক মার

    ভোটে তৃণমূলের হয়ে কাজ করায় বাবা-ছেলেকে বেধড়ক মার। অভিযোগ স্থানীয় সিপিএম নেতৃত্বের বিরুদ্ধে। মালদার মানিকচকের ঘটনা। আহত শেখ সইফুদ্দিন ও শেখ মাতুয়ারাকে মানিকচক স্বাস্থ্যকেন্দ্রে ভর্তি করা হয়েছে। তৃণমূলের দাবি, এবারের ভোটে মানিকচকের তৃণমূল প্রার্থী সাবিত্রী মিত্রের হয়ে কাজ করেন সুইফুদ্দিন ও মাতুয়ারা।

    সালিশি সভায় মহিলাকে ধাক্কা মারার অভিযোগ, এর পরেই মৃত্যু হয় মহিলার!সালিশি সভায় মহিলাকে ধাক্কা মারার অভিযোগ, এর পরেই মৃত্যু হয় মহিলার!

    জমিতে জল দেওয়া নিয়ে বিবাদের জের। সালিশি সভায় মহিলাকে ধাক্কা মারার অভিযোগ। এর পরেই মৃত্যু হয় মহিলার। জলপাইগুড়ির বারোপেটিয়ার ঘটনা। এসবই হয় স্থানীয় এক পঞ্চায়েত সদস্যের সামনে। ঘটনর সূত্রপাত আজ সকালে। জমিতে জল দেওয়া নিয়ে প্রতিবেশী সুরজ ওরাঁওয়ের সঙ্গে ঝামেলা বাধে জানকী রায় নামে ওই মহিলার। এর পরেই রঞ্জিত রায় নামে এক পঞ্চেয়েত সদস্যের উপস্থিতিতে সালিসি বসে। সেখানেই জানকী রায় নামে ওই মহিলাকে ধক্কা মারা হয় বলে দাবি।

    ABP Anand reports:


    চপারকাণ্ডে  কংগ্রেসকে নিশানা তৃণমূলের, রাজ্যসভা থেকে বের করে দেওয়া হল সুখেন্দুশেখরকে
    চপারকাণ্ডে কংগ্রেসকে নিশানা তৃণমূলের, রাজ্যসভা থেকে বের করে দেওয়া হল সুখেন্দুশেখরকে

    নয়াদিল্লি: রাজ্য-রাজনীতির উত্তাপের প্রভাব এবার রাজ্যসভাতে। অগুস্তাওয়েস্টল্যান্ড...

    হরিদেবপুর: আক্রান্ত শিশুর বাড়িতে গিয়ে ক্ষোভের মুখে, বেরিয়ে অভিযুক্তকে সঙ্গে নিয়ে সভা, বিতর্কে শোভন
    হরিদেবপুর: আক্রান্ত শিশুর বাড়িতে গিয়ে ক্ষোভের মুখে, বেরিয়ে অভিযুক্তকে সঙ্গে নিয়ে সভা, বিতর্কে শোভন

    দক্ষিণ ২৪ পরগনা: প্রথমে হরিদেবপুরে আক্রান্ত শিশুর বাড়িতে গিয়ে ক্ষোভের মুখে। তারপর...



    0 0
  • 05/03/16--11:27: अंतिम चरण में फिर भूत नाच की तैयारी पुलिस अफसरों के साथ सांसद की बैठक का आरोप लगाया सूर्यकांत ने और कहा कि वफादार अफसरान को केंद्रीय वाहिनी को निष्क्रिय करने की जिम्मेदारी सौंपी गयी है मतदान के बाद हिंसा फिलहाल ट्रेलर है,बाकी फिल्म 19 मई के बाद। जादू की छड़ी की तरह दीदी के पुलिस को देख लेने की धमकी का असर भी हो रहा है पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए मैदान में उतरे 1961 उम्मीदवारों में से 244 करोड़पति हैं। करोड़पति उम्मीदवारों की सूची में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस 114 उम्मीदवारों के साथ शीर्ष स्थान पर है।बाहुबल के अलावा धनबल भी कम नहीं है,फिरभी दीदी आलआउट खेल क्यों रही है,यह पहेली है। एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास हस्तक्षेप
  • अंतिम चरण में फिर भूत नाच की तैयारी

    पुलिस अफसरों के साथ सांसद की बैठक का आरोप लगाया सूर्यकांत ने और कहा कि वफादार अफसरान को केंद्रीय वाहिनी को निष्क्रिय करने की जिम्मेदारी सौंपी गयी है

    मतदान के बाद हिंसा  फिलहाल ट्रेलर है,बाकी फिल्म 19 मई के बाद।

    जादू की छड़ी की तरह दीदी के पुलिस को देख लेने की धमकी का असर भी हो रहा है

    पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के लिए मैदान में उतरे 1961 उम्मीदवारों में से 244 करोड़पति हैं। करोड़पति उम्मीदवारों की सूची में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस 114 उम्मीदवारों के साथ शीर्ष स्थान पर है।बाहुबल के अलावा धनबल भी कम नहीं है,फिरभी दीदी आलआउट खेल क्यों रही है,यह पहेली है।


    एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास

    हस्तक्षेप

    बंगाल में वाम कांग्रेस गठबंधन के नेता सूर्यकांत मिश्र ने आज बेहद सनसनीखेज तरीके से आरोप लगाया है कि सत्ता दल के सांसद शुभेंदु अधिकारी ने पूर्व मेदिनीपुर के पुलिस अफसरान के साथ देर रात गुप्त बैढक करके अंतिम तरण में वोट लूचने का प्लान बनाया है और केंद्रीय वाहिनी को निष्क्रिय करने की जिम्मेदारी वफादार पुलिस अफसरान को सौंपी गयी है।इस सिलसिले में चुनाव आयोग को गठबंधन की ओर से बैठक के पूरे ब्योरे के साथ शिकायत की गयी है।


    पश्चिम बंगालविधानसभा चुनाव के अंतिम चरण का प्रचार अभियान मंगलवार को समाप्त हो गया। पूर्वी मेदनीपुर और कूच बिहार जिलों के 25 निर्वाचन क्षेत्रों में आगामी पांच मई को चुनाव होना है।


    दीदी को अपनी प्रबल लोकप्रियता के बारे आत्मविशिलवास बना हुआ है और अंतिम चरण के मतदान से पहले वे घूम घूमकर दावा कर रही हैं कि उन्हें बहुमत मिल चुका है।


    गौरतलब है कि  पश्चिम बंगालविधानसभा चुनाव के लिए मैदान में उतरे 1961 उम्मीदवारों में से 244 करोड़पति हैं। करोड़पति उम्मीदवारों की सूची में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस 114 उम्मीदवारों के साथ शीर्ष स्थान पर है।बाहुबल के अलावा धनबल भी कम नहीं है,फिरभी दीदी आलआउट खेल क्यों रही है,यह पहेली है।


    संघ परिवार ने उन्हें जिताने में कोई कसर भी नहीं छोड़ी है तो धर्मोन्मादी ध्रूवीकरण की वजह से समझा जाता है कि मुसलमानों ने दीदी के हक में ही वोट डाले हैं।


    हालांकि संसद में भाजपा को खुल्ला मदद की तर्ज पर भाजपा के खिलाफ दीदी का जिहादी तेवर ममता राज को उखाड़ने की भाजपा नेताओ की तरह अब भी नूरा कुश्ती का जलवा बहार है।मसलन अंतिम चरण मतदान का चुनाव प्रचार समाप्त होने से कुछ घंटे पहले कूचबिहार के दिनहाटा में चुनावी सभा में ममता बनर्जी ने कहा कि भाजपा बंगालको विभाजित करने की संकीर्ण राजनीति कर रही है भाजपा।


    सिर्फ चुनावी समीकरण के बीजगणित से चुनाव नहीं जाते,यह सच भी है और पिछले पांच साल सोते रहने के बाद वाम कांग्रेस जनाधार में इधर बारी फेरबदल हुआ हो,ऐसा भी नहीं है।


    शारदा फर्जीवाड़ा का लोकसभा नतीजों पर असर हुआ ही नहीं और विपक्ष का सूपड़ा साफ हो गया है तो नारद स्चिंग मामले में दीदी के इकबालिया बयान के बावजूद कितना असर होगा कहना मुश्किल है।इसलिए विपक्ष के दावों से दीदी को सरदर्द कतई नहीं होगा।


    बहरहाल,दीदी के सरदर्द का सबक है अचानक उनके मातहत पुलिस महकमे की हुक्मउदुली और राज्य सरकार के कर्मचारियों का असंतोष।अमन चैन के तहत भारी मतदान भी उनके लिए बहुत गुस्से की वजह है तो भूत बिरादरी के खिलाफ उनका गुस्सा एकदम जायज है।अंतिम चरण के मतदान में चुनाव जीतने के बाद देक लेने की धमकी के साथ हिंसा का जो ट्रेलर जारी है,उसका कुल मकसद अंतिम चरण में बढ़ता हासिल करना है ताकि गुपचुप कोई धमाका अगर हुआ भी हो तोइसका असर कम किया जा सकें।

    जादू की छड़ी की तरह दीदी के पुलिस को देख लेने की धमकी का असर भी हो रहा है


    खास कोलकाता महानगर में पुलिस की मौजूदगी में मतादान के बाद से लगातार विभिन्न इलाकों में दहशतगर्दी का जो आलम है ,वह हैरतअंगेज है।राजनीकि हिंसा अक्सर महानगरों को स्पर्श नहीं करती ,यह मिथ टूट रहा है और दावानल वातानुकूलित लोगों को झुलसा देता है,इससे यही साबित होता है।आज रात ग्यारह बजे के आसपास कहीं कहीं आंधी पानी की वजह से तापमान और हवा में नमी घुचन में थोड़ी कमी की संभावना है लोकिन राजनीतिक हिंसा में कोई कमी के आसार फिलहाल नहीं है।अंतिम चरण के मतदान में फिर खुल्ला भूत नाच की तैयारी है।


    दक्षिण कोलकाता के नये महानगरीय इलाके में  बाघा जतीन,यादवपुर,कस्बा,हरिदेव पुर,पेयाराबागान वगैहर वगैरह इलाकों में  दूध पीते बच्चे भी बख्शे नहीं गये और मुख्यमंत्री की धमकी के बाद पुलिस फिर वफादारी निभाने लगी है।मतदान के दौरान जो पुलिस सक्रियरही और पूरे राज्य में तारीफ बटोरती रही,खास कोलकाता में सर्वत्र उस पुलिस की मौजूदगी के मध्य मतदान के बाद से भूत बिरादरी का तांडव चल रहा है।पुलिस मूक दर्शक है।


    बाघा जतीन में विपक्ष को वोट देने वालों,विपक्षी एजंटों और कार्यकर्ताओं के घरों दुकानों पर व्यापक तोड़फोड़ करते हुए धमकी दी गयी है कि यह तो फिलहाल ट्रेलर है,बाकी फिल्म ब19 मई के बाद।


    बांग्ला टीवी चैनल एबीपी आनंद की खबर हैः

    বাহিনী কব্জা করে ভোট লুঠে ওসি-দের নিয়ে গোপন বৈঠক, সূর্যর নিশানায় শুভেন্দু

    বাহিনী কব্জা করে ভোট লুঠে ওসি-দের নিয়ে গোপন বৈঠক, সূর্যর নিশানায় শুভেন্দু

    কলকাতা: শেষ দফা ভোটের আগে চাঞ্চল্যকর অভিযোগ করলেন সূর্যকান্ত মিশ্র। নাম না করলেও তাঁর নিশানায় নন্দীগ্রামের তৃণমূল প্রার্থী শুভেন্দু অধিকারী। সূর্যকান্তর অভিযোগ, পয়লা মে রাতে, পাঁচ থানার ওসিদের নিয়ে গোপন বৈঠক করেছেন শুভেন্দু অধিকারীর। কমিশনে লিখিত অভিযোগ দায়ের করেছে সিপিএম। হার নিশ্চিত জেনে অসত্য অভিযোগ করছে। পাল্টা দাবি তৃণমূলের।


    সূর্যকান্তর অভিযোগ গভীর রাতে পাঁশকুড়া বনমালী কলেজে এই বৈঠক হয়। সেখানে অর্থ লেনদেন সহ ভোটে নিযুক্ত কেন্দ্রীয় বাহিনীর জন্য 'গুড়ের জলের'যোগান দেওয়ার ব্যবস্থা সহ বিভিন্ন বিষয়ে আলোচনা হয়। নাম না করলেও সূর্য বুঝিয়ে দিয়েছেন ওই বৈঠক করেন শুভেন্দু অধিকারী। সূর্যকান্ত বলেছেন, তৃণমূলের পূর্ব মেদিনীপুরের দায়িত্বপ্রাপ্ত সাংসদ, যিনি ভোটেও লড়াই করছেন, তিনি এই বৈঠক করেন।


    এই মর্মে জাতীয় নির্বাচন কমিশনে লিখিত অভিযোগও দায়ের করেছে সিপিএম। সেখানে দাবি করা হয়েছে, পয়লা মে রাতে  পাঁশকুড়া বনমালী কলেজে, পাঁশকুড়া, ময়না, হলদিয়া, মারিশদা, রামনগরের ওসির সঙ্গে বৈঠক করেন শুভেন্দু অধিকারী। বৈঠকে ঠিক হয়েছে কেন্দ্রীয় বাহিনীকে মদ ও মাংস জোগাবেন ওই ওসিরা। টাকা দেবেন শুভেন্দু অধিকারী। বামেদের আশঙ্কা, ওই সব থানার ওসিদের সরানো না হলে, অবাধে ভোট সম্ভব নয়।

    বামেদের অভিযোগের প্রেক্ষিতে শুভেন্দু অধিকারীর বক্তব্য, তিনি কোনও প্রতিক্রিয়া দেবেন না। সূর্যকান্ত মিশ্রর মাথার ডাক্তার দেখানো উচিত।

    এ দিন মমতা বন্দ্যোপাধ্যায়ের দিকেও আঙুল তুলেছেন সূর্যকান্ত মিশ্র। কোচবিহারে মমতার বিরুদ্ধে কারসাজির অভিযোগ এনেছেন সূর্য।

    পাল্টা জবাব দিয়েছে তৃণমূল। তৃণমূল কংগ্রেসের মহাসচিব পার্থ চট্টোপাধ্যায় বলেছেন, হারবে বুঝে কুত্সা ছড়ানোর চেষ্টা হচ্ছে।

    কোচবিহার এবং পূর্ব মেদিনীপুরে বৃহস্পতিবার ভোট। তার আগে, সূর্যকান্ত মিশ্রের এদিনের বিস্ফোরক অভিযোগ নয়া বিতর্ক উস্কে দিল বলেই মত পর্যবেক্ষকদের একাংশের।



    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0



    -- 

    हस्तक्षेप के संचालन में छोटी राशि से सहयोग दें

    क्यों मोदीजी, वाजपेयी नॉन वेज खा सकते हैं और दलित छात्र नहीं !!!

    नॉन वेज खाने वाले देशों
    Read More
    राजीव नयन बहुगुणा, लेखक वरिष्ठ पत्रकार व कवि हैं। उत्तराखण्ड में सूचना आयुक्त हैं।
    आजकल

    आप यूनिवर्सिटी की कई डिग्रियाँ लेकर भी गधे हो सकते हैं

    राजीव नयन बहुगुणा प्रश्न डिग्री का नहीं,
    Read More
    निल बटे सन्नाटा-अगर माँ तय कर ले तो उसके बच्चे अपने सपनों को साकार कर सकते हैं क्योंकि हर माँ चम्पा होती है और हर बच्चा अप्पू होता है राजनीति और विचारधारा के धरातल पर सब कुछ बाजारू कर देने पर आमादा शासक वर्गों के लिए निल बटे सन्नाटा में एक ज़बरदस्त सन्देश है
    चित्र पट

    निल बटे सन्नाटा-असंभव सपनों को ज़मीन पर उतार लाने वाले जज्बे की फिल्म

    निल बटे सन्नाटा-अगर माँ तय
    Read More
    अखिलेश यादव
    उत्तर प्रदेश

    सपाराज में मई दिवस मनाने वाले मजदूरों को जेल !!!

    सोनभद्र में मई दिवस मनाने वाले मजदूरों पर
    Read More
    Latest News Hastakshep
    पश्चिम बंगाल

    बंगाल-मुसलमानों के वोट से बनेगा जनादेश

    बम से चार मरे तो छह साल की मासूम बच्ची ईशानी को
    Read More
    अखिलेश यादव
    उत्तर प्रदेश

    अखिलेश का भविष्य लिख रहे विश्लेषक थोड़ा इंतज़ार करें!

    2016 के विधान सभा चुनाव वाले राज्यों में भाजपा
    Read More
    Terror of fire in the forests of Uttarakhand
    उत्तराखंड

    उत्तराखंड के जंगल में लगी आग कारपोरेट आयोजन ?

    जल जंगल जमीन से जनता को बेदखल करने के
    Read More
    Shamsul Islam is well-known political scientist. He is associate Professor, Department of Political Science, Satyawati College, University of Delhi. He is respected columnist of hastakshep.com
    ENGLISH

    SINNERS OF THE PARTITION

    Hindutva forces are falsifying our history with a fascist zeal Sinners of the Partition Review
    Read More
    Anand Teltumbde is a writer and activist with the Committee for the Protection of Democratic Rights, Mumbai.
    खबरनामा

    मोदी की आंबेडकर पर अशिष्टता

    आरक्षण जो कि दलितों के लिए वरदान है वास्तव में उनकी गुलामी का
    Read More
    वीरेन्द्र जैन, लेखक राजनीतिक विश्लेषक हैं।
    मुद्दा

    भ्रष्टाचार केवल आर्थिक अपराध भर नहीं

    यह केवल आर्थिक अपराध भर नहीं It is not only the economic
    Read More
    Terror of fire in the forests of Uttarakhand
    उत्तराखंड

    वनाग्नि- क्यों बेकाबू हो जाती है जंगल की आग?

    विनोद पांडे (नैनीताल समाचार) नैनीताल। उत्तराखण्ड के जंगलों की
    Read More
    water famine is the result of government policies पानी का अकाल सरकारी नीतियों की देन
    आजकल

    पानी का अकाल सरकारी नीतियों की देन….

    सरकार बिसलरी बिकवा रही है जनता चाहती है पानी का कारोबार
    Read More
    Health & Fitness
    समाचार

    भूलकर भी बच्चों के सिर के पीछे क्यों न मारें ? जानिए

    बच्चों के सिर के पीछे मारने
    Read More
    Rajendra Sharma, राजेंद्र शर्मा, लेखक वरिष्ठ पत्रकार व हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।
    राज्यनामा

    बंगाल ऐसे हुआ ममता निजाम के खिलाफ….

    0 राजेंद्र शर्मा हावड़ा स्टेशन से निकलते ही, दो-तीन सौ मीटर
    Read More
    शेष नारायण सिंह का स्तंभ जंतर मंतर
    जंतर मंतर

    अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी को दबोचने की केंद्र सरकार की तैयारी शुरू

    अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के अल्पसंख्यक स्वरूप पर
    Read More
    माकपा के पूर्व महासचिव प्रकाश कारात का स्तंभ "लोक लहर"
    लोकलहर

    मोदी सरकार के मजदूरविरोधी कदम

    भारत के मजदूर वर्ग का संघर्ष, मोदी सरकार की तानाशाही की बढ़ती प्रवृत्ति
    Read More
    प्रदर्शन, आंदोलन, मुट्ठी
    उत्तर प्रदेश

    मई दिवस इसी धरती को और उसके लायक बेटों बेटियों को उनका हक लेने की लड़ाई है !!

    जावेद अनीस, लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार व सामाजिक कार्यकर्ता हैं।
    समाचार

    डॉक्टरों की कमी से जूझता देश

    भारत दुनिया के प्रमुख देशों, को सबसे अधिक डॉक्टरों की आपूर्ति करता
    Read More
    HEARTIEST GREETINGS ON 2016 MAY DAY ! Shamsul Islam May Day reminds us of crores and crores of sacrifices which women, men, children HAVENOTS of the world offered against exploitation in every corner of the Earth. We should remember that our flag is Red because RED FLAG depicts the colour of blood of these martyrs. RED SALUTE TO THEM! On this May Day we resolve once again to fight the evil forces upholding capitalism, imperialism, Casteism and theocratic fascism.
    ENGLISH

    HEARTIEST GREETINGS ON 2016 MAY DAY !

     | 2016/05/01
    HEARTIEST GREETINGS ON 2016 MAY DAY ! Shamsul Islam May Day
    Read More
    Mamata Modi
    देश

    दीदी जीत नहीं सकी तो बंगाल संघ परिवार के लिए वाटरलू!

    फिरहाद का मिनी पाकिस्तान और रूपा लाकेट
    Read More
    Kanhaiya Kumar meets Nitish, Lalu in Bihar
    बहस

    इतने भी भोले न बनो कन्हैया, कमंडल का विस्तार था मंडल

    तुम्हारी पॉलिटिक्स क्या है कॉमरेड कन्हैया ???
    Read More
    cropped-Logo-With-Slogan-200-2001.jpg
    समय संवाद

    अब मौका है कि हम कारपोरेट मीडिया के मुकाबले जनता का मीडिया बना सकते हैं

    हस्तक्षेप के साइट
    Read More

    पोस्ट्स नेविगेशन

    1 2 3  487 Older

    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    Press Release



    We are herewith releasing two letters submitted to the Election Commission
    with regard to various concerns about the assembly elections in West Bengal.



    (Hari Singh Kang)

    For CPI(M) Central Committee Office



    ***



    May 2, 2016



    The Chief Election Commissioner

    Election Commission of India

    Nirvachan Sadan

    New Delhi 110 001



    Dear Sir,



    There has been widespread appreciation both among the people and among the
    media for the manner in which the polls were conducted in the fifth phase on
    April 30. This is, however, despite some problems in few ACs like Behala
    (East) and Canning (East). But the post-poll violence continues unabated,
    even leading to fatalities (Annexure I). A most obnoxious feature of these
    post-poll violence is that even children of the family are not being spared
    for their elders having gone to polling booths and exercise their franchise,
    despite the threats by the miscreants of the ruling party. The earlier
    pattern of violence being directed to opposition polling agents also
    continue.



    It is our humble suggestion that abrupt withdrawal of the CAPF on the
    completion of the polling is being utilised by these miscreants; therefore,
    some post-poll security management planning also needs to be undertaken.
    Since the interregnum between the final phase of polling and the counting of
    votes is almost two weeks, special measures need to be planned and
    implemented.



    We are hereby forwarding letters and material regarding the polls to be held
    in East Midnapur district on the May 5 (Annexure II). Importantly, these
    include certain specific details about police officials who continue to take
    a partisan attitude in favouring the ruling party, vulnerable booths and
    name of criminal miscreants with past records, constituency-wise. We also
    include details about the activities by TMC which is contrary to an
    violative of the existing directions of the ECI.



    In our humble opinion, the following steps are necessary for ensuring free
    and fair polls in the district:



    1.      Section 144 should be strictly and properly executed in the ensuing
    poll in the two districts Coochbehar and Purba Medinipur.



    2.      Unlawful gathering by motorcycle borne political musclemen in the
    roads and by-lanes beyond 200 meters of booths in attempt to intimidate
    voters should be foiled. In previous phases it is to be pertained that
    though EC has tried their level best to foil those activities but the local
    Police authorities have failed to execute the EC order in many cases.



    3.      Unlawful gathering in Booth camps and surrounding places should be
    restricted.



    4.      Patrolling and route march of Central Forces to build up confidence
    level of common voters in all sensitive areas immediately should have to be
    ensured.



    5.      There are some serious possibilities of intrusion of outsiders well
    in advance in the aforesaid two districts with the intention to manipulate
    the entire vote. So all the Hotels, Tourist Lodges, Marriage Houses, Clubs,
    under-construction-buildings and Slum areas should be kept under serious
    vigil. The identity of the boarders should be checked properly.



    6.      Intimidating voters by snatching their EPICs 48 hours before the
    poll day in many places by the Political goons patronized by AITC is one of
    our unfortunate experiences in most of the previous phases of polling. So a
    serious intervention is required from the top level of the EC. EPICs and EC
    supplied photo voters slip should be checked properly.



    7.      Purba Midnipur has both coastal, riverine and land borders both
    inter-state and inter-district. This must be effectively sealed like in the
    earlier phases.



    In a similar vein we append Annexure III which includes an exhaustive list
    of the constituencies of Coochbehar district which goes to polls on May 5
    along with vulnerable booths and miscreants who might cause trouble. In this
    district as well border sealing, flag march and night vigil for confidence
    building among the voters is of paramount significance. Of the
    constituencies 269 Mathabhanga (SC) A/c has a border with Alipurdwar, 299
    Sitalkuchi (SC) A/c has borders with Bangladesh and 252 Tufanganj (SC) has
    borders with Assam.



    With regards





    Yours sincerely









    (Sitaram Yechury)                                  (Nilotpal Basu)

    General Secretary                         Member, Central Secretariat










    May 3, 2016

    Shri Nasim Zaidi

    Chief Election Commissioner

    Election Commission of India

    Nirvachan Sadan, Ashoka Road

    New Delhi - 110001



    Dear Sir,



    I must concede that I was shocked to receive the Action Taken Report  (ATR)
    [Annexure I] to my complaint addressed to you [Annexure II] on April 30,
    2016.



    The ATR from the South Kolkata DEO talks about the issues pertaining to  my
    complaint not falling within its jurisdiction.  This is bizarre, to say the
    least.  Because, my complaint was not about jurisdiction but about the
    content of the speech of the AITC Chairperson and the Chief Minister of West
    Bengal and its violation of the MCC, as well as, it's possible impact on the
    process of free and fair polls.  The ATR, therefore, clearly attempted to
    obfuscate the essential thrust of the complaint under the guise of
    technicality.  This is unacceptable.



    More importantly, the absence of a strong deterrent in the form of a firm
    action against such violation has only emboldened her to launch a far
    strident broadside against the EC and the police officials who have acted
    under the directions of the EC to ensure free and fair polls.  In fact, the
    result of the approach of the election authorities in West Bengal  has led
    to her speech in Chandipur, in East Midnapore district which is going to
    polls on the last phase on May 5.  We are forwarding the complaint by the
    West Bengal Left Front Committee [Annexure III] on the speech and the need
    for a strong action so that  the dangerous possible impact on that days
    polling can be nullified.  Equally, her speech has acted as a  major
    instigation for post-poll violence in Kolkata and elsewhere.  Obviously,
    this post-poll violence as we have, time and again, pointed out is, indeed,
    aimed at demoralizing the security arrangement and energise the miscreants
    of her party.



    With regards,


    Yours Sincerely







     (Nilotpal Basu)

    Member, Central Secretariat
    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0
  • 05/04/16--11:35: निर्णायक लड़ाई उसी नंदीग्राम में इस बार भी मोदी दीदी का गठबंधन गुपचुप है और भाजपा के वोट बढ़े तो अगले चुनावों में दीदी मोदी गठबंधन संसद में मोदी को खुल्ला समर्थन का तरह खुल्लमखुल्ला होने के आसार हैं। अगर मुसलमान यह समझ रहे होंगे तो यह भी कहना मुश्किल है कि भाजपा को हराने के लिए दीदी ही उनका एकमात्र विकल्प होंगी।मुसलमान दूसरा विकल्प क्या चुन सकते हैं,नतीजे बतायेंगे।बाकी बंगाल में जो हुआ हो,हुआ होगा,नंदीग्राम में लड़ाई आसान नहीं है और वाम कांग्रेस गठबंधन ने सीधे दीदी के अश्वमेधी घोड़े पर निशाना साधा है। फिलहाल चुनाव आयोग ने फर्जी मतदान की तैयारी के लिए पुलिस अफसरान के साथ सांसद शुभेंदु अधिकारी की बैठक के आरोप को खारिज कर दिया है। एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास हस्तक्षेप
  • निर्णायक लड़ाई उसी नंदीग्राम में
    इस बार भी मोदी दीदी का गठबंधन गुपचुप है और भाजपा के वोट बढ़े तो अगले चुनावों में दीदी मोदी गठबंधन संसद में मोदी को खुल्ला समर्थन का तरह खुल्लमखुल्ला होने के आसार हैं।

    अगर मुसलमान यह समझ रहे होंगे तो यह भी कहना मुश्किल है कि भाजपा को हराने के लिए दीदी ही उनका एकमात्र विकल्प होंगी।मुसलमान दूसरा विकल्प क्या चुन सकते हैं,नतीजे बतायेंगे।बाकी बंगाल में जो हुआ हो,हुआ होगा,नंदीग्राम में लड़ाई आसान नहीं है और वाम कांग्रेस गठबंधन ने सीधे दीदी के अश्वमेधी घोड़े पर निशाना साधा है।

    फिलहाल चुनाव आयोग ने फर्जी मतदान की तैयारी के लिए पुलिस अफसरान के साथ सांसद शुभेंदु अधिकारी की बैठक के आरोप को खारिज कर दिया है।

    एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास
    हस्तक्षेप
    बाकी देश के लिए अब नंदीग्राम और सिंगुर देश के तमाम उजाड़े जा रहे हरे भरे खेत खलिहानों वाले इलाकों की तरह अजनबी नहीं हैं।इसी नंदीग्रामने सिंगुर के साथ मिल कर ममता बनर्जी के सत्ता तक पहुंचने की राह बनाई थी। अब इस बार होने वाले चुनावों में इस नंदीग्राममें उद्योग ही मुद्दा हैं।यह इतना खतरनक मुद्दा है कि किसी वोट बैंके के अटूट रहने के आसार नहीं है जो सत्ता के लिए सरदर्द का सबब है।

    दीदी ने नंदग्राम जीतने के लिए भारी दांव खेला है और भूमि अधिग्रहण आंदोलन को लेकर राज्य की राजनीति की सुर्खियों में रहनेवाला पूर्व मेदिनीपुर के नंदीग्रामइलाके से इस बार जिले के कद्दावर नेता व सांसद शुभेंदू अधिकारी खुद तृणमूल कांग्रेस की ओर से चुनाव लड़ रहे हैं।जो नारदा स्टिंग वीडियोमें रिश्वतखोरी करते देखे गये हैं।इनके अलावा तमलुक से निर्बेद राय, पांशकुड़ा से फिरोजा बीबी, महिषादल से पर्यावरण मंत्री सुदर्शन घोष दस्तीदार, दक्षिण कांथी से दीपेंदू अधिकारी, एगरा से सहकारिता मंत्री ज्योतिर्मय कर सारे के सारे हैवीवेट दीदी के लिए मैदान फतह करने उतरे हैं।

    गैरतलब है कि नंदीग्रामपूर्ब मेदिनीपुर ज़िलेका एक ग्रामीण क्षेत्र है। यह क्षेत्र, कोलकातासे दक्षिण-पश्चिम दिशा में 70 कि॰मी॰ दूर, औद्योगिक शहर हल्दियाके सामने और हल्दी नदी के दक्षिण किनारे पर स्थित है। यह क्षेत्र हल्दिया डेवलपमेंट अथॉरिटी के तहत आता है।

    गौरतलब है कि 2007 में, पश्चिम बंगाल की सरकार ने सलीम ग्रूपको 'स्पेशल इकनॉमिक ज़ोन'नीति के तहत, नंदीग्राम में एक 'रसायन केन्द्र' (केमिकल हब) की स्थापना करने की अनुमति प्रदान करने का फ़ैसला किया। ग्रामीणों ने इस फ़ैसले का प्रतिरोध किया जिसके परिणामस्वरूप पुलिस के साथ उनकी मुठभेड़ हुई जिसमें 14 ग्रामीण मारे गए और पुलिस पर बर्बरता का आरोप लगा।
    नंदीग्राम गोलीकांड के खिलाफ तब पूरा बंगाल सड़कों पर उतरा तो 35 साल के वाम जमाने का अवसान हो गया।इसलिए यह समझना बेदह दिसचस्प है कि भीतर ही भीतर नंदीग्राम में अबकी दफा पक क्या रहा है।

    बहरहाल इसी सिंगुर और नंदीग्राम में वाम जमाने में अंधाधुंध शहरीकरण और औद्योगीकरण के अभियान के प्रतिरोध में उतरी ममता बनर्जी बंगाल की मुख्यमंत्री हैं।

    सिंगुर में पिछले चरण के मतदान में वोट पड़े चुके हैं तो अंतिम चरण के मतदान में पूर्व मेदिनीपुर के 16 और कूच बिहार के नौ सीटों का मतदान वृहस्पतिवार को होना है।

    इन पच्चीस सीटों में सबसे अहम नंदीग्राम है।

    जमीन आंदोलन में जिस शेर पर सवार हो गयी ममता बनर्जी,अब भी उसी शेर पर वे सवार हैं और शेर की पीठ से उतरने की जोखिम उटाने से उन्होंने उसी तरह परहेज किया है जैसे निर्णायक मुस्लिम वोट बैंक को बनाये रखने की उनने हर चंद कोशिश जारी रखी है।

    शारदा से लेकर नारदा के सफर में उनकी साख जितनी गिरी हो,जमीन आंदोलन की पूंजी और मुसलमानों के वोट के दम पर वे अब भी उसीतरह आक्रामक हैं और पहले ही बहुमत हासिल कर लेने का दावा कर रही हैं।

    विकास के पीपीपी माडल के बावजूद शहरीकरण के अलावा विकास हुआ नहीं है और बंगाल में पूंजी निवेश के लिए जमीन देने से दीदी कदम कदम पर इंकार करती रही हैं तो वाम जमाने में चालू कारखानों,जूट मिलों और चायबागानों के बंद होने का सिलिसिला जारी है और नये उद्योग धंधे शुरु ही नहीं हुए।

    जाहिर है कि 2011 के विधानसभा चुनावों में बाजार की जो ताकतें दीदी की ताजपोशी में उद्योग और कारोबार के स्वर्णकाल के इंतजार में बारी निवेश किया था,वे अब दीदी के साथ नहीं है।

    दूसरी तरफ,जमायत से चुनावी गठजोड़ करके सिदिकुल्ला चौधरी को साथ लेकर दीदी ने दक्षिण बंगाल के मुसलमान वोट बैंक को अटूट बनाये रखने की कोशिश की है।

    गौरतलब हैकि  नंदीग्राम सिंगुर से लेकर कोलकाता के उपनगरों और तमाम दूसरे इलाकों में जमीन से बेदखल हो रहे मुसलमान सच्चर कमेटी की रपट के खुलासे के बाद यकबयक वामपंथ के खिलाफ खड़े हो गये और इस गोलबंदी की शुरुआत नंदीग्राम से हुई।अब यह गोलबंदी बनी रहेगी या नहीं,तयभी करेगा नंदीग्राम।

    नंदीग्राम में फिर जमीन अधिग्रहण हुआ नहीं है लेकिन सिंगुर में जो जमीन ली गयी,दीदी उसे वापस दिलाने में नाकाम रही हैं और इस दरम्यान खैरात के अलावा मुसलमानों को कुछ खास मिला नहीं है।जाहिर है कि अब यह कहना मुश्किल ही है कि दीदी का मुसलमान वोट कितना अटूट है।

    दूसरी ओर, पिछले लोकसभा चुनाव में दीदी और मोदी के अघोषित गठबंदन की वजह से वाम कांग्रेस का सूपड़ा साफ हो गया तो भाजपा को पूरे राज्य में 17 फीसद वोट मिले तो दीदी के गढ़ दक्षिण बंगाल में भाजपा को सर्वत्र 20 से 26 फीसद वोट मिले हैं।

    अब केसरिया सुनामी दीदी की मदद के लिए भयंकर है तो दक्षिण बंगाल में भाजपा के वोट घटने के आसार नहीं है।

    इस बार भी मोदी दीदी का गठबंधन गुपचुप है और भाजपा के वोट बढ़े तो अगले चुनावों में दीदी मोदी गठबंधन संसद में मोदी को खुल्ला समर्थन का तरह खुल्लमखुल्ला होने के आसार हैं।

    अगर मुसलमान यह समझ रहे होंगे तो यह भी कहना मुश्किल है कि भाजपा को हराने के लिए दीदी ही उनका एकमात्र विकल्प होंगी।मुसलमान दूसरा विकल्पक्या चुन सकते हैं,नतीजे बतायेंगे।

    उत्तर 24 परगना,दक्षिण 24 परगना,हावड़ा,हुगली,वर्दवान और नदिया के मुसलमानों ने इल पहेली का क्या हल निकाला है,यह 19 मई को ही पता चलेगा।फिलहाल लड़ाई उस नंदीग्राम में हैं जहां से मुसमान वोट बैंक दीदी के खाते में चला गया है।

    सिर्फ 25 सीटों का मतदान बाकी है और पक्ष विपक्ष का दावा मान लें तो किसी न किसी को बहुमत पहले ही मिल गया है।

    फिरभी अभूतपूर्व चुनावी हिंसा का माहौल बना हुआ है तो साफ है कि लड़ाई कांटे की है और किसी भी पक्ष को जीत हासिल कर लेने का भरोसा नहीं है।

    इसलिए अंतिम चरण में भी हालात वही पहले चरण का जैसा जस का तस है और सत्ता की बहाली में भूत बिरादरी की भूमिका क्या होगी,सारा दारोमदार इसी पर है।

    पूर्व मेदिनीपुर की ये 16 सीटें कांथी के अधिकारी परिवार का साम्राज्य माना जाता रहा है जहां सांसद शिशिर अधिकारी और सांसद शुभेंदु अधिकारी का राजकाज चलता है।

    वैसे भी ऐतिहासिक तौर पर मेदिनीपुर में कोलकाता से राजकाज कभी चला नहीं है।यहां की जनता दीघा में समुंदर की लहरों की तरह आजाद हैं और उनने अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ 1757 में पलाशी की हार के तुरंत बाद लड़ाई शुरु करके आजादी मिलने से पहले तमलुक को केंद्र बनाकर वह लड़ाई जारी भी रखी है।

    उस तमलुक से नंदीग्राम बहुत दूर नहीं है और आम लोगों का आजाद मिजाज तनिको बदला नहीं है और वर्चस्व की
    धज्जियां उड़ाने की उनकी विरासत है।

    बाकी बंगाल में जो हुआ हो,हुआ होगा,नंदीग्राम में लड़ाई आसान नहीं है और वाम कांग्रेस गठबंधन ने सीधे दीदी के अश्वमेधी घोड़े पर निशाना साधा है।

    फिलहाल चुनाव आयोग ने फर्जी मतदान की तैयारी के लिए पुलिस अफसरान के साथ सांसद शुभेंदु अधिकारी की बैठक के आरोप को खारिज कर दिया है।

    अंग्रेज़ों के ज़माने के भारतीय इतिहास में, बंगाल के इस क्षेत्र का कोई सक्रिय या विशेष उल्लेख नहीं मिलता, लेकिन यह क्षेत्र ब्रिटिश युग से ही सक्रिय राजनीति का हिस्सा रहा है। 1947 में, भारत के वास्तविक स्वतंत्रता प्राप्त करने से पहले, "तमलुक" को अजय मुखर्जी,सुशील कुमार धाड़ा,सतीश चन्द्र सामंतऔर उनके मित्रों ने, नंदीग्राम के निवासियों की सहायता से, अंग्रेज़ों से कुछ दिनों के लिए मुक्त कराया था (आधुनिक भारत का यही एकमात्र क्षेत्र है जिसे दो बार आजादी मिली)।यहीं अस्सी साल की  मातंगिनी हाजरा तिरंगा लहराते हुए पुलिस की गोली से शहीद हुईं तो आजादी की लड़ाई में घर घर से बेटियों और बहुओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।
    भारत के स्वतंत्र होने के बाद, नंदीग्राम एक शिक्षण-केन्द्र रहा था और इसने कलकत्ता (कोलकाता) के उपग्रह शहर हल्दिया के विकास में एक प्रमुख भूमिका निभाई. हल्दिया के लिए ताज़ी सब्जियां, चावल और मछली की आपूर्ति नंदीग्राम से की जाती है। हल्दिया की ही तरह, नंदीग्राम भी, व्यापार और कृषि के लिए भौगोलिक तौर पर, प्राकृतिक और अनुकूल भूमि है। नंदीग्राम की किनारों पर, गंगा (भागीरथी) और हल्दी (कंशाबती के अनुप्रवाह) नदियाँ फैली हुईं हैं और इस तरह ये दोनों नदियाँ यहाँ की भूमि को उपजाऊ बनातीं हैं।
    हालांकि इस क्षेत्र की आबादी में 60% लोग मुसलमान हैं, पर फिर भी, यह क्षेत्र कभी भी हिन्दू-मुस्लिम के दंगों के चंगुल में नहीं फंसा. नंदीग्राम शहर में ब्राह्मणों (तिवारी, मुखर्जी, पांडा इत्यादि) का अधिक बोलबाला है।

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    CPM MP Reveals New Proof of NDA Govt's Attack on Forest Rights, Oppn Parties Condemn

    Seven Parties Support National Convention Against Illegal Takeover of Forest Resources, Delegates from Eleven States Join

    On May 4th, 2016, in New Delhi, CPI(M) MP Com. Jitendra Choudhury revealed that he has written documents showing how the Prime Minister's Office and the Environment Ministry have continuously attempted to empower bureaucrats and bypass citizens' rights - even those enshrined in law in the Forest Rights Act. Notwithstanding a judgment of the Supreme Court and their own public professions of commitment to forest rights, the Narendra Modi government continues to try to bypass the law - even after its own Tribal Ministry has said such moves are "illegal". Com. Choudhury noted that this is of a piece with the government's general efforts to disempower people. As with the land acquisition ordinance last year, the NDA government appears hell bent on empowering bureaucrats and corporates and destroying all transparent, accountable procedures for handing over land.

    These documents have been provided to us and will be uploaded on our website shortly. Contact information for Com. Jitendra Choudhury is at the end of this email.

    Com. Choudhury made these statements at the National Convention on Illegal Takeover of Forest Lands and ResourcesCongress leader Jairam Ramesh and JD(U) leader Ali Anwar (Rajya Sabha) also condemned the NDA government's systematic attempt to grab natural resources and marginalise people's rights - especially in forest lands. Shri Jairam Ramesh explained how the Environment Ministry's order of 2009, which spelled out the FRA's requirements of gram sabha consent and completion of recognition of rights before diversion of forest land, is under systematic attack under the NDA. He noted that he had also faced tremendous pressure to privatise forest land for industry, but had resisted it; the NDA government then issued orders to that effect in August 2015. Shri Ali Anwar attacked the government for its anti-people policies and deliberate cultivation of corporates and the bureaucracy.

    Leaders of the Telengana Rashtriya SamitiBahujan Samaj PartyCommunist Party of India and the Communist Party of India(Marxist Leninist) Liberation sent statements of support and expressed regret that due to Parliament and other obligations they could not attend (details are below).

    Over 250 delegates from mass organisations and people's movements from ten States - Rajasthan, Gujarat, Maharashtra, Madhya Pradesh, Chhattisgarh, Jharkhand, Orissa, Tamil Nadu, Uttarakhand and Himachal - joined the convention and spoke about the struggles in their States and the illegal grabbing of resources and lands. From every state the same pattern repeated - Centre and State governments conniving in failing to recognise people's rights over forest lands, as well as the Central government facilitating the illegal takeover of forest land through encouraging diversion without consent, plantations on people's lands, and funding of parallel institutions intended to displace the powers of the gram sabha.

    The Convention ended with a condemnation of the consistent and criminal attack on transparency, accountability and democratic control over natural resources by the NDA government and by most State governments.

    Campaign for Survival and Dignity 9873657844, www.forestrightsact.com,forestcampaign@gmail.com

    CONTACT DETAILS AND NAMES OF POLITICAL LEADERS

    Com. Jitendra Choudhury, Lok Sabha, CPI(M) 9862567842

    Shri Jairam Ramesh, Rajya Sabha, Congress 9868181302

    Shri Ali Anwar, Rajya Sabha, JD(U) 9868181015

    Those who could not come but issued statements:

    Shri Vinod Kumar, Lok Sabha parliamentary party leader, Telengana Rashtra Samiti 9848037689

    Shri Ambeth Rajan, Rajya Sabha MP and Treasurer, Bahujan Samaj Party 9868222333

    Com. C.R. Bakshi, Vice President, All India Adivasi Mahasabha and Communist Party of India 9425202641

    Com. Kavita Krishnan, Communist Party of India (Marxist Leninist) Liberation and All India Peoples Forum

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    हर मोर्चे पर विफल मोदी सरकार से ध्यान हटाने के लिए हो रही हैं आतंकवाद के नाम पर गिरफ्तारियां- रिहाई मंच


    Rihai Manch : For Resistance Against Repression
    ------------------------------------------------------------------------------
    हर मोर्चे पर विफल मोदी सरकार से ध्यान हटाने के लिए हो रही हैं आतंकवाद के नाम पर गिरफ्तारियां- रिहाई मंच
    खुफिया विभाग और दिल्ली स्पेशल सेल संघ के आनुषांगिक संगठन
    अगर अखिलेश ने बेगुनाहों को छोड़ने का वादा पूरा किया होता तो नहीं होती यूपी से बेगुनाहों की गिरफ्तारी
    अमरीकी संस्था की रिपोर्ट अधूरी, स्थिति उससे भी बदतर

    लखनऊ 4 मई 2016। रिहाई मंच ने खुफिया विभाग और दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल द्वारा दिल्ली और सहारनपुर से 12 मुस्लिम युवकों को आतंकी बता कर गिरफ्तार दिखाने को हर मोर्चे पर विफल हो चुकी मोदी सरकार की ध्यान बंटाने वाली साम्प्रदायिक कार्रवाई बताया है। मंच ने कहा है कि भारत को एक असहिष्णु देश में तब्दील कर के पूरी दुनिया में भारत की छवि खराब करने के लिए संघ परिवार और मोदी को देश की जनता से माफी मांगनी चाहिए। 

    रिहाई मंच द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में मंच के अध्यक्ष एडवोकेट मोहम्मद शुऐब ने खुफिया विभाग और दिल्ली स्पेशल सेल पर संघ परिवार के आनु्षांगिक संगठन के बतौर काम करने का आरोप लगाते हुए कहा है कि जब भी मोदी या संघ परिवार को जरूरत पड़ती है ये उनके लिए मुस्लिम लड़कों को आतंकी बता कर पेश कर देती हैं या अक्षरधाम मंदिर और समझौता एक्सप्रेस से लेकर मोदी की रैली तक में बम विस्फोट करा देती हैं। उन्होंने कहा कि सहारनपुर के देवबंद से 4 और दिल्ली के गोकुलपुरी इलाके से 8 मुस्लिम नौजवानों की गिरफ्तारी भी संघ परिवार की इसी जरूरत के मुताबिक की गई है ताकि अगले साल होने वाले विधान सभा चुनाव में साम्प्रदायिक आधार पर हिंदुओं का वोट लिया जा सके और अमरीकी संस्था द्वारा भारत में अल्पसंख्यकों पर बढ़ती हिंसा के आरोप से घिरे संघ और मोदी पर उठने वाले सवालों को दबाया जा सके। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट से अपील की है कि वह आतंकवाद के आरोपों में पकड़े गए बेगुनाह मुस्लिम युवकों के दशकों जेल में रहने के बाद बरी होने के मामलों को स्वतः संज्ञान लेते हुए साम्प्रदयिक आधार पर मुसलमानों की होने वाली ऐसी गिरफ्तारियों पर उच्च स्तरीय जांच आयोग गठित करे और दोषी खुफिया और सुरक्षा अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करे।

    वहीं पे्रस विज्ञप्ति में मंच के महासचिव राजीव यादव ने कहा है कि मुख्यमंत्री अखिलेष यादव ने आतंकवाद के नाम पर कैद बेगुनाह मुस्लिम युवकों को छोड़ने का वादा तो पूरा नहीं किया उल्टे ऐसी और गिरफ्तारियों के लिए खुफिया एजेंसियों और दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल को खुली छूट दे दी है। उन्होंने कहा कि अगर सपा ने अपना वादा पूरा किया होता तो ये बेगुनाह बच्चे सहारनपुर से नहीं पकड़े जाते। लेकिन सपा सरकार ने ऐसा नहीं किया क्योंकि उसे संघ परिवार के एजेंडे को ही लागू करना था। राजीव यादव ने कहा कि मोदी और भाजपा को साम्प्रदायिक बताने वाले कथित सेक्यूलर दलों को आतंकवाद के नाम पर हो रही बेगुनाहों की गिरफ्तारियों पर भी अपना पक्ष रखना चाहिए क्योंकि ये नहीं हो सकता कि आप सेक्यूलर भी बने रहें और बेगुनाहों की साम्प्रदायिक आधार पर होने वाली गिरफ्तारियों पर चुप भी रहें। उन्होंने कहा कि अब पुराने पैमाने की सेक्यूलर राजनीति नहीं चलने दी जाएगी जहां सिर्फ मुसलमानों को संघ परिवार का डर दिखा कर वोट ले लिया जाता था। अब कथित सेक्यूलर दलों को यह बताना पड़ेगा कि वे संघ और भाजपा से किस तरह अलग हैं। उन्होंने कहा कि संघ और भाजपा मुक्त भारत के निमार्ण के किसी भी आंदोलन या पैरोकार को इन गिरफ्तारियों के लिए संघ और साम्प्रदायिक खुफिया-सुरक्षा एजेंसियों को कटघरे में खड़ा करना पहली शर्त है क्योंकि साम्प्रदायिक ध्रुवीकरण कराने के ये ऐसा नया तरीका है जिस पर सेक्यूलर दल भी हिंदू वोट बैंक के लालच में चुप हो जाते हैं। 

    अमरीकी सरकारी संस्था की रिपोर्ट जिसमें भारत में धार्मिक असहिष्णुता बढ़ने की बात कहने के साथ ही भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और भाजपा सांसदों योगी आदित्यनाथ और साक्षी महाराज का जिक्र असहिष्णुता फैलाने वालों के बतौर किया गया है पर राजीव यादव ने कहा है कि यह रिर्पोट अभी अधूरी जानकारियों के आधार पर बनी है क्योंकि उस संस्था के सदस्यों को भारत आकर जानकारी इकठ्ठा करने ही नहीं दिया गया। उन्होंने कहा कि इस रिपोर्ट पर भारतीय विदेश मंत्रालय का यहा कहना कि अमरीकी संस्था ने एक बार फिर यह साबित कर दिया है कि उसे भारतीय समाज की जानकारी नहीं है बिल्कुल सही है क्योंकि यहां कि स्थिति उससे कहीं अधिक बदतर है जितनी की रिपोर्ट में बताई गई है।

    द्वारा जारी- 
    शाहनवाज आलम
    (प्रवक्ता, रिहाई मंच) 
    09415254919
    ------------------------------------------------------------------------------------
    Office - 110/46, Harinath Banerjee Street, Naya Gaaon (E), Laatouche Road, Lucknow

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0






    Part 1



    Poetry of the enlightened Ambedkarian age

    By Vidya Bhushan Rawat


    S. Chandramohan's poetry reflects the brilliance of his thought process and the rebel inside him. The seer diversity and variety of issues that he has taken up shows his concern for human values that transcends the boundaries of nation state, caste, class, gender and religion. In true sense only a humanist could do so.

    I had the privilege of close association with legendary Mulk Raj Anand, whose first novel 'Untouchable' with an introduction from E M Forster created ripples internationally and exposed the hidden caste hatred including the issue of manual scavenging prevalent in our society, even when I was just a village boy from Uttarakhand as he would pronounce, where I was fortunate to have met many laureate of Indian writings who took up the issue of the marginalized but very few coming from the communities. During the Mandal's war in 1990, we saw English language media was used as a tool to spread hatred against the Dalits and marginalized. They were mocked and there were absolutely negligible numbers of writers who could pose a counter cultural question to the brahmanically corrupted intellectual elite which looked secular in their mask yet uncomfortable to the core question of social justice but in the Mandal two, we saw the Dalit OBC students were writing their own blogs, had learnt to use social media strongly and numerous websites and journals emerged to counter the 'merit' propaganda unleashed by the 'devotees' of corporate culture in India who never ever saw 'wrong' in the corrupt practices by these in educational institutions in the name of 'donation'.

    In the following ten years after Mandal, we saw counter narratives taking bigger shapes. Alternative media grew with web portals like "countercurrents.org" providing space to the forces struggling against all forms of exploitation including brahmanical cultural subjugation and capitalist onslaught on socialism and state's accountability. Magazines like 'Forward Press' energized debates on Bahujan literature and enlightened us with stunning Bahujan cultural discourse with number of emerging young writers. With growing new young writers challenging the popular brahmanical discourse the contempt and assault on them is also visible throughout the country. But, the Rohith Vemulas in our universities have refused to play Eklavya today and therefore consciously proving that Ambedkarism and legacy of Dalit Bahujan consciousness, which refused to be part of brahmanical structure has finally arrived.

    'Forward Press' initiated this debate as what is Bahujan literature and last few years they have brought wonderful collectors editions. There are various definitions for literature. One, which raises your consciousness while for many, it must come from those who suffer and are historically exploited, neglected and subjugated socially and culturally. True, those who suffer will definitely provide a different insight than those who sympathise with their cause and are standing with them yet both are necessary. For me the Dalit Bahujan literature can not just be autobiographical sketches as each one of us has a different narratives but also posing ideological questions that have emerged from the heroic work of Phule Ambedkar and Periyar apart from the great humanist legacy of Raidas, Kabir, Nanak, Tukaram, Namdev, Ayyankali, Ayothidas, Narayan guru and many others who not just fought against injustice but provided a much better and humane alternative to brahmanical caste based 'graded inequality' as described by Baba Saheb Ambedkar where dominant castes have always suppressed the others. We must desist from compartmentalization and regimentation of diverse Dalit Bahujan's thoughts, which are multicultural and multi lingual. If we try to create a monolith of it, the beauty of it would be lost. Hence it is important to have narratives of diverse communities who built our society. A Dalit narrative can not be just urbanized 'educated' construct but also the story of a Dom in Varanasi's ghats or Mushahars fighting for their battle or Nats, Kalandars, Kushwahas, Rajbhars, Kols, Tharus, Balmikis (and they too have diversity among themselves), Kanjars, Sansis, Banzaras, and so many others who are not known in popular discourse and are out of bound from the 'writers circle'. The Dalit Bahujan popular discourse must challenge the 'meritorious' brahmanical discourse from an alternative path and not through becoming part of that discourse which attempt to create a monolith of everything under artificial construct of 'Hinduism' simply because they have similarities in certain things. As research have shown there were over 300 versions of Ramayanas and each different than the popular one of Tulsi Das's 'Ram Charit Manas' which imposed a patriarchal Rama on all other version and was further popularized by Ramanand Sagar's magnum opus Ramayana on Doordarshan. The counter narratives of the Dalit Bahujan discourse are as diverse as Ramayana or Mahabharata. There are thoughts influenced by Ambedkar-Periyar's ideological construct, which demolish the brahmanical myths woven around negative and pathological characteristics of Asuras or Rakshasas and talked of a modern secular society based on rational humanist principles of French or Russian revolutions.  But one has to understand that it was not merely ideological constructs of the legends that shape Bahujan-Dalit literature as various communities celebrate different festivals in diverse ways. So, every festival in India has a counter perspective but the brahmanical mainstream in India actually suppressed these narratives and placed the upper caste brahmanical narrative as the sole identity of cultural India.

    As I mentioned young dynamic youths of the Dalit Bahujan communities are challenging the brahmanical hegemonic narratives today. Not only are they getting empowered by the strong thoughts of Dr Ambedkar, Phule and Periyar but are taking inspirations from their friends too who have been supporting and participating in the global resistance movement against culture of monopoly and private control over the public resources. Chandra Mohan represent a well defined modern poet who want to stand with all forms of discrimination and has got a language which many will definitely envy. Moreover, Chandra Mohan's brilliance in poetry has surpassed any one that I have come across so far in terms of variety of issues that he takes up. He has not just spoken against caste violence and untouchability but subject likes gay rights, Soni Sori, Irom Sharmila, Mujaffarnagar, unfair globalization have come under his scrutiny resulting some of the finest poetry of our time that touch the inner chord of your heart.

    The whole country shouted loud for Nirbhaya and the 'establishment' responded with a 'Nirbhaya Act' but news of rape and murder of Dalit or tribal girls do not prick our conscience. There is no protest; no dharanas for the safety and security of the Aadivasi girls are victim of highhandedness of our security agencies in Bastar. His poem, ' Rape of a tribal girl' exposes the duplicity of our sensitivities and the farce that our 'intellectuals' and 'media' play.

    'No newspaper carried a headline or a photo feature,

    No youth were roused to protests,


    No city's life came to a standstill,


    No furore in the parliament,

    No nation's conscience was haunted,


    No Prime Minister addressed the nation,


    No TV channel discussions,


    No police officials were transferred or suspended,

    No candlelight marches,


    No billion women rising,


    A tribal girl was raped and murdered!'


    The pain of migration result in loss of identity and a majority of those migrate to cities are Dalit Bahujans like the blacks of Africa. One has to just feel how  Chandra Mohan explain it beautifully in his poem, ' Black Migratory'





    'Birds Migratory birds


    most of them have dark feathers


    sing mostly Bhojpuri, Bengali, Odiya


    fly towards floating clouds


    lives lost in transit'.



    Chandra Mohan is not short of words. He possesses an extraordinary quality of weaving his narratives and ideas in shortest yet impressive ways. As a poet his worldview is as wider as possible and modern in the absolute term of Ambedkar's vision of enlightened India and therefore he questions the traditions and wrongs happening in the name of traditions. We need to counter the brahmanical narrative through questioning them and demolish the myths woven around them. Therefore, issues of Khap Panchayats and killings of innocent lovers in the name of traditions and morality come under sharp attack in his verses.


    'Moral Police '


    when lover couple


    hid in a hood of a tree


    they chanced upon love letters


    some of them half burned


    some of them centuries old


    along with a picture of Shoorpanaka


    sans her nose, ears and breasts!


    Capitalism and religious fanaticism or theocracy work together and compliment each others. In India capitalism has come handy for Brahmanism to push its agenda to suck our resources and subjugate the Dalit Bahujan-aadivasis further and that comes for an excellent narrative in his poetry, 'A Neo-liberal Miscarriage'


    'Every drill driven into the earth

    for oil punctures


    holes into her womb


    gangrenes of depletion


    mushrooming clouds of subatomic fury


    a miscarriage of neo-liberal development'


    Chandra Mohan has rightly termed Dalit literature as the literature of resistance and biggest movement world over and he is placing both Dalit-Bahujan literature together. Today, the Bahujans too are questioning the history and historical wrongs.  It is important for them to write their own history as beautifully mentioned by him in the interview, ' 


    As the African proverb goes ', Until the lions have their own historians, the story of the hunt will glorify the hunter', Dalit literature is the documentation of the resistance of Dalit Bahujans against Brahmanical Social Order. It is one of the world's oldest resistance movements. Dalit literature aims to complement the larger civil rights struggle of Dalit Bahujans the world over and I believe we are at the cusp of a big change. Our voices are beginning to be heard.


    His poem ' History' speak of that thinking that every historical 'document' of the brahmanical construct need to be questioned and rewritten by the Dalit Bahujan historians.


    '

    What is history?


    Its a declamation


    delivered on a podium


    on a pedestal that rusts away


    My poems are steel arrows


    that pierce the podium from below'


    Ambedkarite scholar Rohith Vemula's institutional murder agitated all the right thinking persons in India particularly those hailing from Dalit Bahujan communities. The incident actually exposed the brahmanical structure inside our campuses and how those who questions and want to live an independent life, live with their own understanding face obstacles at ever level. Chandra Mohan deserve fullest applauds for this wonderful narration of students suicides inside our campuses in his poem, ' Killing the Shambookas'.



    'Jim Crow segregated hostel rooms,

    Ceiling fans bear a strange fruit,

    Blood on books and blood on papers,

    A black body swinging in mute silence,

    Strange fruit hanging from tridents'


    As Bahujan magazines such as 'Forward Press' find it difficult to sustain in the absence of solid financial and advertisement backing, the movement it has launched for a counter Bahujan perspective will continue in the greater interest of society. Chandra Mohan reflect the coming of the Ambedkarite age of articulate young Indians who will not only throw open challenge to the brahmanical literature and their falsified constructs but will go far ahead of them in terms of quality and sincerity of the issue. One of my dear Ambedkarite friends late N.G.Uke had a favorite quote about the quality of an Ambedkarite, ' We have to be better than 'their' (brahmanical's) best'. I think this age has finally arrived with the remarkable verses of Chandra Mohan which will not just questions the wrong done to them or to any one else but also participate in all the international movement for human rights, human values, social justice and equality. The modern Dalit Bahujan literature need not just be 'reactionary' but provide alternatives of a better world and respond to the crisis of our time and Chandra Mohan's verses are doing that impressively. There is pain for closure of 'Forward Press' which gave new ideas to Bahujan literature and empowered young Bahujan talents into writing and resisting the popular brahmanical myths yet there is happiness when we see hundreds of youngsters coming up, challenging and resisting at all the levels including social media. And this will keep the movement growing as the whole Dalit Bahujan age has arrived as the new young are taking up social media and firing through their blogs, alternative platforms and it is they who will continue to carry the torch of resistance and revolution. It is here the success of the movement. We hope these young minds will continue to revolutionise the web-world and more importantly bring voices from diverse communities, hitherto unknown to us and keep the flame of change going. Chandra Mohan's poetry reflects that positive change among the youths of Dalit Bahujan communities which is definitely a great hope for future.




    Part II






    A revolution in poetry


    Vidya Bhushan Rawat had an email interview with one of the brilliant poets of our times S Chandra Mohan who believes that the age of Dalit Bahujan literature has now arrived and people are listening to them seriously.


    1. About your childhood, parents.


    I was born in Palakkad , a district in Kerala bordering TN. Palakkad merely remains my native place. My father was a bank officer and my mother a housewife. I can claim to be third generation English literate. My grand father was an employee of the postal services, could read, write and speak English. We have been a bit fortunate to be educated and enjoy government jobs.



    2. Your education etc.


    Since my father was in transferable central government service, I was schooled in Kendriya Vidyalayas English medium schools. Later on I joined the bandwagon to do Engineering. All these institutionalized education have done very little to awaken my spirit to channelize some of my energy towards building an understanding of doing something for people in the margins.  Ambedkar/Martin Luther King/Nelson Mandela rarely gets even a passing by mention in the syllabus where as Gandhi is eulogized to our discomfort.


    As part of a reading assignment, a friend of mine had suggested THE INVISIBLE MAN by Ralph Ellison. This book did have a profound impact on me. I heard the word "Dalit literature" from my teacher for the first time then. But apart from Poetry, Dalit literature is literally on the margins in Kerala.


    3. Where did the inspiration come? Who were the people who might have encouraged you and who were those who created obstacles?  No need to name if it is uncomfortable.



    Up to this point in time, the best inspiration for me is Meena Kandasamy. She has introduced us (English speaking Dalit Bahujans) the subversive power of this language, how poetry can provoke some revolutionary changes in our lives. Her You-tube page had this word "Caste provocateur" .I think she remains the only writer, writing directly in English in the themes that concern the Dalits and other oppressed people and claims a caste ancestry similar to that of mine.


    There is no dearth of English literate middle class Dalits hailing from the state of Kerala, but it was Meena who took the pains to write a biography of Ayyankali in English. She has been an outspoken spokesperson of the opposition to the establishment, be it the dalit, or the working class or women.


    Some paintings and writings of Ajay S Sekhar; a young cultural critic and academic base in Kerala has inspired my literary activism. He had excelled at critiquing the saffron fascist hegemony in cultural spaces.


    After my first book was published K Satchidanandan had made the following mention in his article.


    http://www.museindia.com/focuscontent.asp?issid=59&id=5409


    in his article on Changing landscape of Indian literature; K Satchidanandan has noted the following.



    "Writers like U.R. Ananthamurthy who had earlier complained that there is no dalit writing in English and there cannot be, are likely to be proved wrong very soon with writers like Meena Kandasamy and Chandramohan S emerging on the scene and many more certainly in the making. "


    I have mostly been appreciated very well and encouraged by senior poets like K Satchidanandan ,Jaydeep Saarangi, Neerav Patel,Ananya S Guha ,Subodh Sarkar etc. Many have described my poems as "very powerful."


    The forces fighting neo -liberal establishment in India also had found a friend in me. A reputed magazine from Australia by name Green Left Weekly had carried my anti war poem on Gaza conflict. Ms.Kavita Krishnan, an activist based in Delhi had shared my poem protesting the plight of sales in textile shops.


    I had the inspiration to write something, a poster in fact, in the aftermath of the infamous Delhi gang rape. I wanted to write one or two slogans in a poster inspired by many creative posters/slogans put up at he 


    4. When did you write first? And what was that..



    The first ever poem was a satire against the leftist narratives of our state.(Kerala) The poem had lines like 


    "Do talk about workers and owners

     Do not talk about caste

     Do talk about haves and have-nots

     Do not talk about caste"




    5. What perturb you the  most ?


    What perturbs me most is "cultural slavery" , how educated, empowered wealthy OBCs and Dalits are more brahmanical than the brahmins themselves. This is our curse. We need to awaken ourselves and uproot Hindutva (now resurgent) to build an India free of social hierarchies.


    6. Any comment on Dalit or Ambedkarite movement in India in general or Kerala in particular..


    I am very happy to witness the extra ordinary posthumous resurgence of Ambedkar post the Mandal-Masjid agitations and the demise of grand narratives like Marxism. Today India and the world has been reading and deliberating on caste and we have surely come a long way. Since problems of the Dalits are primarily cultural and social as well as economic, the neo liberal policies of the successive governments will do a lot of damage to the weakest sections of India like Dalits. If government is washing its hands of all welfare schemes, and let the market forces fight each other out, the historically marginalized will be the first to be guillotined. 


    The present state government of Kerala has not initiated any new appointments in its entire term. What is the point in reservations if no new appointments are being made? Ambedkar believed in state socialism with the state controlling 


    7. Are you hopeful that the discrimination against dalit will end in near future? How should we fight against caste discrimination ? You can say in verse..



    I sincerely hope that Dalits can hope for relatively better future in the times to come.


    8. Did you face caste biases during your studies.. What was it ? 


    There might have been many instances of implicit bias that I may have been a victim of. My life has been in urban areas of caste anonymity. Now I have chosen to be a caste provocateur. The battle starts now for me.


    9. As a poet who are your role models as far as Indian writing in English is concern ?


    My role models in Indian English poetry are Vivek Narayanan, Michelle Cahlil and Meena Kandasamy. They seem to have a sharp sense of purpose in their writing in addition to their mastery over the craft of poetry.I am a big of "Viswarupa" by Ms.Michelle Cahlil.


    Globally speaking 


    The poets of the negritude movement are my heroes. I am deeply inspired by Nicolas Gullien and his directness. I feel his style of poetry makes poetry accessible to a larger audience than its conventional reader.


    The rage of Namdeo Dhassal too is iconic.


    10. Among the mainstream writers do you think people have done justice to Dalits in their writings?


    Most of them have used Dalit characters in a romanticized fashion. Today Dalit literature is a fad in the academia. Lots get PhDs and earn a tenure track positio, will Dalits remain in the slums? Does it change the perception of who we are? 


    Hope increasing interest in Dalit literature is not divorced from our larger civil rights movements.


    There is a novella in Malayalam by B.Jeyamohan on a dalit theme, the story has a subtle trap of indoctrinating Hindutva ideology. Most of the time writings on Dalit themes by non- dalit writers is on what is convenient for the "system" than for the Dalits. Thus they compromise on the content and excel in craft.

     


    11. Mulk Raj Anand, Raja Rao, R.K.Narayanan were the initial trioka of Indian writing. Did any one of them impressed you and why ?


    I have not read the first two. I have read RK Naryanan. But I connect better with the English translated short stories of Hindi Dalit writer Ajay Navaria.


    There is a lot of assertion and a voice of empowered dalit male that does cut some ice with the third or fourth generation Dalit, very much vocal in many forums. I see a lot of hope in the future..


    12. Why did you opt to write in English ? Why not in your native language ?

    I didn't have a choice. Kendriya Vidyalayas were English medium schools. I am still illustrate in my mother tongue, but I sincerely believe English empowers people like us,I can tell stories of mine as well as of  my ancestors to a much wider audience than my predecessors who wrote in their respective vernaculars.


    13. Your next venture after this publication?


    I have a few projects lined up.


    1.I am constantly patrolling Facebook to form a collective of English Dalit Bahujan poets/writers/critics to start a South Asian Negritude movement of socially engaging poets.

    2.I wish to take up translating Malayalam Dalit poetry.

    3.I am serious about my commitment to literature, I hope to find a publisher for my collection of short stories in a few months.


    14. What is Dalit literature for you ?


    As the African proverb goes ', Until the lions have their own historians, the story of the hunt will glorify the hunter', Dalit literature is the documentation of the resistance of Dalit Bahujans against Brahmanical Social Order. It is one of the world's oldest resistance movements. Dalit literature aims to complement the larger civil rights struggle of Dalit Bahujans the world over and I believe we are at the cusp of a big change. Our voices are beginning to be heard.


    15. What is the impact of Baba Saheb Ambedkar on your life ?

    Dr Ambedkar inspires Dalits to strive for excellence. It is about embracing the emotional with in the intellectual. He is a beacon of light on what we should strive for and moral compass for us and our movement. We should caution ourselves against deification though.





    ----------------------------------------------------------------



    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    Press Statement





    The Polit Bureau of the Communist Party of India (Marxist) has issued the
    following statement:



    The Polit Bureau of the Communist Party of India (Marxist) condemns the
    brutal rape and murder of a young dalit woman in Perumbavoor, Ernakulam,
    Kerala a few days back.



    Instead of acting firmly while dealing with such cases, it is shameful that
    the state police and the Congress-led UDF government initially tried to
    cover up this heinous crime. Such behaviour on the part of the police and
    the administration is reprehensible and cannot be tolerated by any civilized
    society. It was thanks to a vigilant media and the massive public outcry
    that followed that forced the police to finally act.



    The Polit Bureau demands that the investigation into the brutal rape and
    appalling violence inflicted on the woman should be entrusted to an enquiry
    committee headed by a high ranking woman police official. Immediate steps
    should be taken to apprehend the culprits and bring them to book through
    fast track courts in lines with the amendments brought into criminal laws
    after the Nirbhaya incident. Proceedings should also be launched against
    those who attempted to cover up the case.



    The Polit Bureau conveys its heartfelt condolences and sympathy to the
    aggrieved mother.
    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Sunil Khobragade

    हैद्राबाद विद्यापीठातील पीएचडीचा विद्यार्थी रोहित वेमुला यांच्या संस्थात्मक हत्येच्या पार्श्वभूमीवर निर्माण झालेल्या व्यवस्था विरोधी विद्यार्थी आंदोलनात " जय भीम- लाल सलाम " ही घोषणा मध्यवर्ती घोषणा झाली आहे. या आंदोलनातून पुढे आलेला जेएनयु विद्यार्थी संघटनेचा अध्यक्ष,विद्यार्थी नेता कन्हैय्या कुमार याला देशभरातील उजव्या फॅसिस्ट विचारधारेच्या विरोधात असलेल्या सर्व राजकीय पक्ष समर्थक तरुण विद्यार्थ्यांचा तसेच सर्वजातीय विवेकी बुद्धीजीवी वर्गाचा प्रचंड पाठींबा मिळत आहे. कन्हैय्या कुमार व त्याच्या सहकारी विद्यार्थी नेत्यांनीही " जय भीम- लाल सलाम " चाच नारा बुलंद केला आहे. मात्र या घोषणेच्या अनुषंगाने आंबेडकरवादी आणि मार्क्सवादी यांच्या एकजुटीचे जे स्वप्न पहिले जात आहे त्यावरून या दोन विचारधारांच्या समर्थकांमध्ये वैचारिक संघर्ष निर्माण झाला आहे.काहीना वाटते की या दोन विचारधारांच्या समर्थकांनी एकत्रित होऊन उजव्या फॅसिस्ट विचारधारेच्या सरकारविरुद्ध संघर्ष केला पाहिजे. तर काहीना वाटते की भारतातील मार्क्सवादी मनापासून ब्राह्मणवादाच्या विरोधात नाहीत.त्यांनी आंबेडकरांना विरोध केला होता.आंबेडकरांनी स्वतःच मार्क्सवाद नाकारला आहे.व बुद्धाचा मार्ग स्वीकारला आहे. यामुळे कम्युनिष्ट आणि आंबेडकरिष्ट यांची युती होणे शक्य नाही. कन्हैय्या कुमार म्हणजे ब्राह्मणवाद्यानीच उभा केलेला नेता आहे.म्हणून त्याला आंबेडकरवाद्यांनी पाठींबा देऊ नये. या दोन परस्पर विरोधी मतमतांतरांच्या पार्श्वभूमीवर सद्याच्या परिस्थितीत योग्य अशी तात्त्विक आणि व्यावहारिक भूमिका कोणती ? यावर विचार केला पाहिजे.

    भारताचे सद्याचे वास्तव

    व्यवस्था परिवर्तनाच्या विरोधात कोणताही लढा उभारायचा असेल तर सर्वप्रथम संबंधित व्यवस्थेला टिकवून धरणारे भौतिक आणि सामाजिक वास्तव काय आहे व यामुळे व्यक्तीचे मानसिक वास्तव कशा प्रकारे संचालित होत आहे याचा आढावा घेणे क्रमप्राप्त ठरते.सद्यास्थित भारतीय लोकजीवन भारताचे संविधान आणि संबंधित धर्माची धर्मशास्त्रे यानुसार संचालित होते आहे. हे पाहता भारतीय संविधानात अंतर्भूत राष्ट्र्धोरणाची तत्वे व त्यावर आधारीत संस्था (संसद, कार्यपालिका, न्यायपालिका इ.) हे भारत नावाच्या देशाचे राजकीय भौतिक वास्तव होय. या संस्थांच्या परिघाबाहेर असलेल्या व प्रत्यक्ष समाजजीवनाचे प्रचालन करणाऱया धर्मसंस्था, जातिसंस्था, प्रथा, परंपरा, सण, उत्सव, भाषा, साहित्य,कला हे भारताचे सामाजिक वास्तव होय.भारताचे भौतिक वास्तव तर्क,विज्ञान,लोकशाही,मानवी हक्क,व्यक्तीस्वातंत्र्य,आधुनिक उत्पादन पद्धती या आधुनिक मुल्यांवर अधिष्ठित आहे. तर सामाजिक वास्तव नेमके याच्या उलट मुल्यांवर अधिष्ठित आहे.यामुळे भारतीय लोकजीवनाचे नियंत्रण करणाऱया भौतिक आणि सामाजिक वास्तवात प्रचंड अंतर्विरोध आहे. या भौतिक आणि सामाजिक वास्तवाने वेढलेले भारतीय व्यक्तिंचे मानसिक वास्तव नितीदृष्ट्या दोलायमान आहे म्हणजेच राजकीय बाबतीत लोकशाहीवादी, पारदर्शक राज्यकारभाराची मागणी करणारे, स्वतःच्या हक्काप्रती जागृत परंतु सामाजिक बाबतीत मात्र जन्माधारित जाती-वर्गभेद मानणारे, सामाजिक व धार्मिक परंपराविषयी दुराग्रह बाळगणारे आणि राष्ट्रीय कर्तव्याप्रति उदासिन असे आहे. म्हणजेच भारतीय सामाजिक आणि भौतिक वास्तवात असलेला अंतर्विरोध दुहेरी नसून त्रिमितीय ( Three Dimensional ) स्वरूपाचा आहे. या त्रिमितीय अंतर्विरोधाचा एकामेंकावरील असंतुलित दाब, कर्ष 
    ( traction ,स्वतःमागे फरफटत नेण्याची शक्ती) आणि पीळ (convolution ) यामुळे प्रचंड ढोंगबाजी, दांभिकता, कर्तव्यविन्मुखता,खोटारडेपणा,अपप्रचार या गोष्टींना उधाण आले आहे.

    भारतातील अंतर्विरोधाच्या सोडवणुकीचे परिप्रेक्ष्य

    भारतामध्ये सद्यस्थितीत परिवर्तनवादी म्हणून मान्य झालेल्या आंबेडकरवाद आणि मार्क्सवाद या दोनच विचारधारा अस्तित्वात आहेत.मात्र अंतर्विरोधाच्या सोडवणुकीच्या संदर्भात या दोन विचारधारांचे परिप्रेक्ष्य ( Paradigm ) याच्यात मुलभूत फरक आहे. जगातील कोणतीही गोष्ट,वस्तू,समाज यामध्ये अंतर्विरोध असतो ही बाब सर्वमान्य आहे.या अंतर्विरोधाची जेव्हा एकजूट होते तेव्हा विरोध समाप्त होतात आणि वस्तूचा किंवा समाजाचा विकास होतो.यालाच विरोधविकासी भौतिकवाद म्हटले जाते. मार्क्सवादी दृष्टीकोनातून प्रत्येक अंतर्विरोध हा द्विमितीय असतो. ( धन आणि ऋण ) यामुळे मार्क्सवादी दृष्टीकोनातून अंतर्विरोधाची सोडवणूक करण्याचा मार्ग म्हणजेच हे अंतर्विरोध तीव्रतम करीत न्यायचे. विरोध परिपक्व होऊन तो परमोच्च बिंदूवर पोहचला की, त्या विरोधांचा परस्परात संघर्ष होऊन कडेलोट होईल. यामुळे विरोध विसर्जित होतील व विकास साधला जाईल. भारतातील बहुतेक सर्वच परिवर्तनवादी चळवळीनी (समाजवादी,लोहियावादी,माओवादी इ.) अंतर्विरोधाच्या सोडवणुकीचे हेच परिप्रेक्ष्य गृहीत धरून चळवळी उभारल्या आहेत. आंबेडकरवादाने बुद्धाच्या प्रतीत्य समुत्पादी तत्वज्ञानात राज्य समजवादी तत्वज्ञानाची भर घालून अंतर्विरोधाच्या सोडवणुकीचा त्रिमितीय दृष्टीकोन विकसित केला आहे.( धन,ऋण आणि तटस्थ ) यानुसार भारतीय समाजजीवनात असलेल्या मानवताविरोधी मूल्यांना भारतीय संविधानाने 26 जानेवारी 1950 रोजी विध्वंसक नकार देऊन नव्या मूल्यसंस्कृतीचा अंगीकार केला. भारतीय संविधानाने भारतीय समाजजीवनात असलेले विरोध, विसंगती, कमतरता दूर करुन सामाजिक आणि आर्थिक न्याय प्रस्थापित करण्याचे सुधारणवादी परिप्रेक्ष्य प्रस्थापित केले. या सुधारणावादी परिप्रेक्ष्यात भारतीय समाजजीवनातील विरोध, विसंगती कमतरता दूर करुन समतामूलक समाजनिर्मिती करण्याचे काम संविधानाने राज्यावर म्हणजेच शासनयंत्रणेवर सोपविले आहे. यासाठी मानवी मूल्यांची तसेच व्यक्तीसन्मानाची जपणूक करण्यासाठी मुलभूत हक्काची हमी देण्यात आली आहे, तर राज्यधोरणाची नितीनिर्देशक तत्वे याद्वारे राज्यांनी आर्थिक व सामाजिक अन्याय दूर करुन समाजातील विरोध, विसंगती, कमतरता समाप्त करण्याची अपेक्षा बाळगण्यात आली आहे. ही अपेक्षा पूर्ण होण्यासाठी शासनयंत्रणा हाताळणारी माणसे नितीमान असणे जसे आवश्यक आहे तसेच उपलब्ध साधनांचा परिणामकारक वापर करण्याइतपत सक्षम असणेही आवश्यक आहे. हे नितीसंस्कार आणि मानसिक व बौद्धिक सक्षमता बुद्धाच्या धम्म मार्गातून व्यक्तीला प्राप्त करता येतील असे डॉ. आंबेडकरांचे मत होते. यानुसार भारतातील त्रिमितीय अंतर्विरोधाची सोडवणूक करण्यासाठी भारतीय संविधानात अंतर्भूत मुल्ये व धर्मशास्त्रीय मुल्ये यांच्यातील संघर्षात राज्याची भूमिका तटस्थतेची असणे आवश्यक आहे. यामुळे भारतातील व्यक्तिमात्रांचे भौतिक वास्तव, सामाजिक वास्तव व मानसिक वास्तव यामध्ये असलेला अंतर्विरोध कमी-कमी होत जाईल व सद्यस्थितीतील जातीव्यवस्था समर्थक धर्मप्रवण व्यक्तीमानस, समदृष्टी बाळगणारे भारतीय व्यक्तिमानस म्हणून विकसित होत जाईल. भारतातील व्यक्तींचे व्यक्तिमानस पूर्ण विकसित होऊन व्यक्ति अंतर्बाह्य भारतीय झाली तर जातीव्यवस्था समर्थक धर्माधिष्ठित समाजरचना कोलमडून पडेल व समता, स्वातंत्र्य,न्याय व बंधुभाव या संवैधानिक मूल्यावर आधारित संविधानाधिष्ठित भारतीय समाजरचना अस्तित्वात येईल आणि या त्रिमितीय विरोधाची सोडवणूक होईल.विरोधाच्या सोडवणुकीचा हा दृष्टीकोन स्वीकारला तरच भारतीय व्यवस्था परिवर्तनाचा लढा यशस्वी करता येईल. या दृष्टीकोनात राज्याला जे अनन्यसाधारण महत्व देण्यात आले आहे ते पाहता राजकीय सत्ता हस्तगत करणे हा परिवर्तनाच्या लढ्याचा मुख्य केंद्रबिंदू ठरतो.


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    हस्तक्षेप के संचालन में छोटी राशि से सहयोग दें

    साक्षी महाराज ने लड़की के कपड़े उतरवा कर देखे जख्म

    मुलायम के गढ़ में साक्षी महाराज ने पुलिस
    Read More
    राजीव यादव
    देश

    जलीस अंसारी 23 साल बाद सुप्रीम कोर्ट से बरी,आईबी बेनकाब – रिहाई मंच

    आरएसएस को बम विस्फोट करने
    Read More
    Pritpal Kaur. Masters in Physics and Education, Pritpal Kaur started her journey into the world or words sometime around 1992-93. While working as casual announcer at AIR her short stories were published in Delhi press magazines and Hans. As she grdauated to television, she reported for the newsmagazine 'Parakh' telecast on Doordarshan. Later she joined NDTV as a full time correspondent, where she worked in the newsroom for close to six years before she left in 2002 for personal reasons.Her novel 'half moon' was published in the year 2012.
    OPINION

    Being A Hindu Today

    PritPal Kaur What it means to be a Hindu in today's times, especially in
    Read More
    Kanhaiya Kumar, जेएनयू अध्यक्ष कन्हैया कुमार
    देश

    भूख हड़ताल पर बैठे कन्हैया की तबीयत बिगड़ी ‪#‎FightBackJNU‬

    नई दिल्ली | एक सप्ताह से जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय
    Read More
    Sunil Khobragade Editor, Marathi Daily Mahanayak and Republican
    मत

    कन्हैय्या कुमार व त्याच्या सहकारी विद्यार्थी नेत्यांनीही "जय भीम-लाल सलाम"चाच नारा बुलंद केला आहे

    सुनील खोब्रागडे (Sunil
    Read More
    Breaking News Hastakshep
    देश

    सच साबित हुआ राहुल गाँधी का आरोप, गलीज़ हरकतें करने का मोदी सरकार पर आरोप

    सच साबित हुआ
    Read More
    Prabhakar Sinha National President of PUCL
    English

    Universities Under Indira Gandhi and Narendra Modi

    Universities Under Indira Gandhi and Narendra Modi Prabhakar Sinha I was
    Read More
    Latest News Hastakshep
    देश

    निर्णायक लड़ाई उसी नंदीग्राम में और मोदी-दीदी का गठबंधन गुपचुप

    निर्णायक लड़ाई उसी नंदीग्राम में इस बार भी
    Read More
    अमौसी एयरपोर्ट से गायब आजमगढ़ के जाकिर के सवाल पर रिहाई मंच ने की प्रेस वार्ता
    देश

    विफल मोदी सरकार से ध्यान हटाने के लिए आतंकवाद के नाम पर गिरफ्तारियां- रिहाई मंच

    खुफिया विभाग और
    Read More
    BhagalPur- Rashtriya Sharm ke 25 Saal, भागलपुर : राष्ट्रीय शर्म के 25 साल
    बहस

    'हिंदुत्व'और सामाजिक न्याय की सियासत की धूर्तता !!!

    सेक्युलरिज्म (भगवा) बनाम साम्प्रदायिकता का द्वन्द्व हमने सवाल किया
    Read More
    Mamata Modi
    पश्चिम बंगाल

    बंगाल-मतदान के बाद हिंसा फिलहाल ट्रेलर है, बाकी फिल्म 19 मई के बाद

    अंतिम चरण में फिर भूत
    Read More
    Bhagat Singh भगत सिंह
    English

    Bhagat Singh was Marxist thinker-Bipan Chandra

    Rejoinder by the co-authors to the attack on Bipan Chandra's views on
    Read More
    Kanhaiya Kumar meets Nitish, Lalu in Bihar
    आजकल

    कन्हैया को काले झंडे दिखाने वालों को पीटना भी अलोकतांत्रिक ही है

    मोहम्मद ज़फ़र कन्हैया कुमार जो कि
    Read More
    Terror of fire in the forests of Uttarakhand
    आपकी नज़र

    इस कॉरपोरेट लोकतंत्र में न बच्चे सुरक्षित हैं और न ग्लेशियर! मासूम बच्चों की लाशें अब हमारी जम्हूरियत है

    नॉन वेज खाने वाले देशों
    Read More
    राजीव नयन बहुगुणा, लेखक वरिष्ठ पत्रकार व कवि हैं। उत्तराखण्ड में सूचना आयुक्त हैं।
    आजकल

    आप यूनिवर्सिटी की कई डिग्रियाँ लेकर भी गधे हो सकते हैं

    राजीव नयन बहुगुणा प्रश्न डिग्री का नहीं,
    Read More
    निल बटे सन्नाटा-अगर माँ तय कर ले तो उसके बच्चे अपने सपनों को साकार कर सकते हैं क्योंकि हर माँ चम्पा होती है और हर बच्चा अप्पू होता है राजनीति और विचारधारा के धरातल पर सब कुछ बाजारू कर देने पर आमादा शासक वर्गों के लिए निल बटे सन्नाटा में एक ज़बरदस्त सन्देश है
    चित्र पट

    निल बटे सन्नाटा-असंभव सपनों को ज़मीन पर उतार लाने वाले जज्बे की फिल्म

    निल बटे सन्नाटा-अगर माँ तय
    Read More
    अखिलेश यादव
    उत्तर प्रदेश

    सपाराज में मई दिवस मनाने वाले मजदूरों को जेल !!!

    सोनभद्र में मई दिवस मनाने वाले मजदूरों पर
    Read More
    Latest News Hastakshep
    पश्चिम बंगाल

    बंगाल-मुसलमानों के वोट से बनेगा जनादेश

    बम से चार मरे तो छह साल की मासूम बच्ची ईशानी को
    Read More
    अखिलेश यादव
    उत्तर प्रदेश

    अखिलेश का भविष्य लिख रहे विश्लेषक थोड़ा इंतज़ार करें!

    2016 के विधान सभा चुनाव वाले राज्यों में भाजपा
    Read More
    Terror of fire in the forests of Uttarakhand
    उत्तराखंड

    उत्तराखंड के जंगल में लगी आग कारपोरेट आयोजन ?

    जल जंगल जमीन से जनता को बेदखल करने के
    Read More
    Shamsul Islam is well-known political scientist. He is associate Professor, Department of Political Science, Satyawati College, University of Delhi. He is respected columnist of hastakshep.com
    English

    Sinners of the Partition

    Hindutva forces are falsifying our history with a fascist zeal Sinners of the Partition Review
    Read More

    पोस्ट्स नेविगेशन

    2 3 … 487 Older

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!


    नंदीग्राम और कांथी में विपक्ष का एजंट कहीं नहीं!

    বাহিনী,পুলিশ-ভোটকর্মীকে 'শাসানি', রবীন্দ্রনাথ-উদয়নের বিরুদ্ধে এফআইআর

    मेदिनीपुर शुभेंदु अधिकारी के हवाले और कूचबिहार में दीदी ने कमान संभाली,बाकी सिपाहसालार हाशिये पर!

    शुभेंदु ने किया खुल्ला ऐलान ,केंद्रीय वाहिनी ने रणनीति बदली तो हमने भी बदल दी रणनीति!

    बंगाल में चुनाव तो निबट गया,अब अमन चैन की बहाली कैसे होगी?

    एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास

    हस्तक्षेप

    पांच साल में किसी उम्मीदवार की संपत्ति में अगर हजार गुणा तो इजाफा हुआ है तो लोकतंत्र की परिभाषा क्या हो सकती है,समझ लीजिये। बेलगाम हिंसा का सबब यही है।सिंडकेट राज में बंगाल में लोकतंत्र की तस्वीर यही है।


    बंगाल में चुनाव तो निबट गया,अब अमन चैन की बहाली कैसे होगी.जनादेश से बनने वाली सरकार के लिए यही सबसे बड़ी चुनौती होगी।पश्चिम बंगालमें विधानसभा चुनाव के छठे और आखिरी चरण में 84.24 प्रतिशत से ज्यादा लोगों ने मतदान किया। पूर्वी मेदिनीपुर जिले में 75.19 प्रतिशत और कूचबिहार में 72.31 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया। दोपहर तीन बजे तक कुल मतदान का प्रतिशत 74.15 था। आजादी के बाद यह पहला मौका है, जब कूच बिहार जिले में सीमावर्ती बस्तियों के 9,776 निवासियों को अपने मताधिकार का उपयोग करने का अवसर मिला है। ऐसा पिछले साल इन बस्तियों के भारतीय क्षेत्र में औपचारिक विलय के बाद संभव हुआ। अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने वालों में 103 साल के असगर अली भी शामिल हैं।


    शुभेंदु अधिकारी की जादू की छड़ी का करिस्मा यह रहा कि नंदीग्राम और कांथी में कहीं विपक्ष का पोलिंग एजंट नजर नहीं आया।


    नंदीग्राम में वैसे वामदलों या कांग्रेस का कोई उम्मीदवार नहीं है,वहां गठबंधन की ओर से निर्दलीय प्रत्याशी मैदान में हैं और शुभेंदु के मुताबिक नंदीग्राम में माकपा विरोधी हवा अब भी सुनामी है और उन्हें कोई एजंट मिला ही नहीं है तो वे कुछ नहीं कर सकते।


    बंगाल में अंतिम चरण के मतदान में भूतों का नाच केंद्रीय वाहिनी,सक्रिय पुलिस औरचुनाव आयोग की सख्ती के बाद जितना और जहां संभव हुआ,खूब हुआ।दो दो उम्मीदवारों के खिलाफ एफआईआर हुए।


    हमलों और संघर्ष,धमकियों और दहशतगर्दी का सिलसिला बदस्तूर जारी रहा और बाकी बंगाल में चुनावी हिंसा का दौर अभी थमा नहीं है।इसके बावजूद सबसे खास बात है कि दीदी  मेदिनीपुर में वोट कराने का एकाधिकार सांसद शुभेंदु अधिकारी के हवाले करके खुद उत्तर बंगाल के कूच बिहार में तंबू डालकर बैठ गयीं।


    सत्तादल के  अंदर महल का यह खुल्लमखुल्ला खुलासा है कि दीदी ने इस चुनाव में अनुब्रत के अलावा शुभेंदु पर ही भरोसा किया है और बाकी सिपाहसालारों को हाशिये पर छोड़ दिया है।


    दूसरी ओर मतदान लाइव में शुभेंदु अधिकारी का ही जलवाबहार रहा फ्रेम दर फ्रेम।


    सूर्यकांत मिश्र ने पुलस अफसरों के साथ उनकी बैठक का जो सनसनीखेज आरोप लगाया,उसे चुनाव आयोग ने खारिज कर दी तो भाजपा ने भी शुभेंदु और वफादार पुलिस अफसरान के मोबाइल लोकेशन की निगरानी की मांग चुनाव आयोग से कर दी,जिसे आयोग ने खारिज नहीं किया और इसके साथ विपक्ष जिन आला पुलिस अफसरान पर सत्तादल का वोट मैनेज करने का आरोप लगाता रहा है,वे सभी चुनाव आयोग की निगरानी में रहे और उन्हें भी नजरबंद रखा।


    पूर्वी मेदिनीपुर जिले में 7500 जवान तैनात किए गए हैं। केंद्रीय बलों की शेष जो लगभग 310 कंपनियां शुरुआती चरणों के लिए पश्चिम बंगालमें तैनात थीं, उन्हें तमिलनाडु और केरल में भेजा गया है। इन दोनों राज्यों में चुनाव होने हैं। 


    अधिकारियों ने कहा कि चूंकि अंतिम चरण के तहत चुनावी प्रक्रिया में शामिल हो रहे ये दोनों जिले असम और ओडिशा की सीमा से लगते हैं, इसलिए चुनावी पैनल ने उन राज्यों के प्रमुख सचिवों को पत्र लिखकर सीमावर्ती इलाकों में नाका बिंदू बनाने के लिए कहा है।

    ABP Anand reports:


    বাহিনী,পুলিশ-ভোটকর্মীকে 'শাসানি', রবীন্দ্রনাথ-উদয়নের বিরুদ্ধে এফআইআর



    বাহিনী,পুলিশ-ভোটকর্মীকে 'শাসানি', রবীন্দ্রনাথ-উদয়নের বিরুদ্ধে এফআইআর

    কোচবিহার: শেষ দফার ভোটেও কেন্দ্রীয় বাহিনীকে শাসকের চোখরাঙানি!উত্তরবঙ্গে জওয়ানদের শাসালেন নাটাবাড়ির তৃণমূল প্রার্থী রবীন্দ্রনাথ ঘোষ। দিনহাটার তৃণমূল প্রার্থী উদয়ন

    দিনভর 'নিয়মভঙ্গ', মেজাজ হারিয়ে দলীয় কর্মীকে সপাটে চড় তৃণমূল প্রার্থী রবীন্দ্রনাথ ঘোষের

    দিনভর 'নিয়মভঙ্গ', মেজাজ হারিয়ে দলীয় কর্মীকে সপাটে চড় তৃণমূল প্রার্থী রবীন্দ্রনাথ ঘোষের

    কোচবিহার: কখনও কেন্দ্রীয় বাহিনীর জওয়ানকে হুমকি!কখনও দলীয় কর্মীকে চড়! কখনও দলের...

    উত্তপ্ত শেষ দফা: কেন্দ্রীয় বাহিনীর সঙ্গে তর্কাতর্কি শুভেন্দুর, বিরোধী এজেন্টদের হুমকি

    উত্তপ্ত শেষ দফা: কেন্দ্রীয় বাহিনীর সঙ্গে তর্কাতর্কি শুভেন্দুর, বিরোধী এজেন্টদের হুমকি

    পূর্ব মেদিনীপুর: ভোট রঙ্গের শেষ দফাতেও উত্তপ্ত পূর্ব মেদিনীপুর। চলছে শাসক দলের হুমকি,...


    ভারতের ভুল মানচিত্র ছাপলে সাত বছর পর্যন্ত জেল, ১ কোটি থেকে ১০০ কোটি টাকা জরিমানা!

    ভারতের ভুল মানচিত্র ছাপলে সাত বছর পর্যন্ত জেল, ১ কোটি থেকে ১০০ কোটি টাকা জরিমানা!

    নয়াদিল্লি: সোস্যাল নেটওয়ার্কিং সাইটগুলিতে মাঝেমধ্যেই জম্মু ও কাশ্মীর, অরুণাচল...



    24 Ghanta Reports:

    শেষ দফার ভোট নির্বিঘ্নেই, অ্যাকটিভ বাহিনী, পুলিসের দাদাগিরি, হলদিয়ায় হুমকি, উদয়ন গুহর বিরুদ্ধে FIR  

    শেষ দফার ভোট নির্বিঘ্নেই, অ্যাকটিভ বাহিনী, পুলিসের দাদাগিরি, হলদিয়ায় হুমকি, উদয়ন গুহর বিরুদ্ধে FIR

    নির্বিঘ্নেই মিটে গেল শেষ দফার ভোট। আগের দফা গুলির মতো এবারও অ্যাকটিভ বাহিনী। বিচ্ছিন্ন কিছু ঘটনার ঘটলেও ভোটের শেষে চওড়া হাসি কমিশনের। বিতর্কে জড়িয়ে দিনভর খবরে থাকলেন তৃণমূলের রবীন্দ্রনাথ ঘোষ আর উদয়ন গুহ। দুজনের বিরুদ্ধেই দায়ের হয়েছে FIR।শেষ দফার ভোটেও অ্যাকটিভ কমিশন। উত্তরে কোচবিহারের শীতলকুচি হোক বা দক্ষিণ পূর্ব মেদিনীপুরের পাঁশকুড়া। সক্রিয় নিরাপত্তা বাহিনী।


    ভোট-পরবর্তী সন্ত্রাসের জের, বহরমপুরে গুলিবিদ্ধ তৃণমূলের জেলা সম্পাদক

    ভোট-পরবর্তী সন্ত্রাসের জের, বহরমপুরে গুলিবিদ্ধ তৃণমূলের জেলা সম্পাদক

    বহরমপুর: বহরমপুরে গুলিবিদ্ধ তৃণমূল নেতা। পুলিশ সূত্রে খবর, আজ সকালে শহিদাবাদে নিজের...

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


     

    Over 80% turnout recorded in West Bengal assembly election 2016 which was held in 6phases (7round).


    Bengal Poll 2016 is completed today (05/05/2016) with just few stray incidents plus lot of false-propaganda, dramabazi by CPIM-Congress alliance & BJP.


    This electoral process completed under extraordinary supervision of Election Commission which acted against the ruling party AITC (TMC) due toallegedly directed by BJP & Left.


    In spite of opposition directed (??) Election Commission and Central force have tried their best to prevent TMC from victory.


    But people of Bengal are choosing Mamata Banerjee and her party as victorious. Majority of Media in Bengal had vigorously campaigned against TMC. 

    Against all odds people of Bengal are with their beloved Didi Mamata Banerjee.


    Didi (Mamata Banerjee) wave in West Bengal is still in full swing. Anti-propaganda by media (ABP-Ananda & 24-Ghanta) and opportunist alliance of CPIM-Congress has failed to stop this wave.


    As per Prediction, based on EXIT-POLL/Opinion-Poll SURVEY carried out by this "Maa Mati Manush" (Ma Mati Manush) Blog in all 294 assembly constituencies ofWest Bengal we found that:

     

    TMC likely to get 183 seats(+/- 15) with 45% vote share,


    Lefts may get 67 seats (+/- 10) with 32% vote share,


    Congress will get around 32 seats (+/- 5) with 8% voteshare while 


    BJP can win 9 seats (+/- 4)with 11% vote share only;


    Others may get 3 seats (+/- 1)with 4% vote share.


    Here is the district wiseprediction: 




    Area wise survey is showing AITC (TMC) is getting 49% vote in rural area whereas in urban area they are getting only around 42% vote.


    As far as minority vote concerns, it's significant that TMC is getting over 64% minority vote share in Kolkata and adjoining area.

    Regarding minority vote- in Central-North region of Bengal Left+Congress alliance (particularly Congress) is getting 58% minority vote and TMC is getting only 30% minority vote.


    Hence it clear that, "Trinamool Congress is coming back in power due to minority vote" is just a myth.



    Our team carried out survey in all 294 constituencies of Bengal. Voters were from all sections of society.

    With help and active participation of various other agencies, well-wishers and political pandits this vast survey was possible. 

    For there priceless work THANKS will just be a small word.



    Now please look at the summary of the result of our seat projection and vote share.

     




    Please recall that during parliamentary election 2014 this blog's prediction wasalmost correct.


    Another important thing is- This Blog hadpredicted almost similar result in Jan'16 opinion poll survey. 

    Only difference is BJP's seat got reduced and Left gained from that.


    Now if Mamata Banerjee and her party Trinamool Congress finally achieve this overwhelming victory it will be a historical win for her as this time it was against all odds.

     


    Viewers may read following two articles to know how opportunistic and immoral politics was played in Bengal during this election.


    1). Irony of politics: Rahul Gandhi of Congress shares stage with Buddhadeb Bhattacharjee of CPIM, those who labeled Rajiv Gandhi as Thief (Chor) and Indira Gandhi as Witch (Daini Buri). Also BJP candidate Chandra Kumar Bose appeals to vote in favor of Left in front of Amit Shah.


    2). Bengal Election 2016: Irony of Politics (Part-2)>> People of Bengal Rejecting Yellow Journalism of ABP group (Aveek Sarkar) and Dramabazi plus Over Aggression by BJP's Item Number actress politician Rupa (Roopa) Ganguly & others. এবারের পশ্চিমবঙ্গের বিধানসভা নির্বাচনআদতে মমতা ব্যানার্জির তৃনমূল কংগ্রেস বনাম অভীক সরকারের আনান্দবাজার  গোষ্ঠীর লড়াই।



    Please see other posts in this blog page by clicking "Home" or from "Popular Posts" / "Archives" sections, and if any remarks please post. 

    Thanks & Vande Mataram!! Saroop Chattopadhyay.

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Poet of an enlightened Ambedkarite era

    By Vidya Bhushan Rawat




    S. Chandramohan's poetry reflects the brilliance of his thought
    process and the rebel inside him. The seer diversity and variety of
    issues that he has taken up shows his concern for human values that
    transcends the boundaries of nation state, caste, class, gender and
    religion. In true sense only a humanist could do so.

    I had the privilege of close association with legendary Mulk Raj
    Anand, whose first novel 'Untouchable' with an introduction from E M
    Forster created ripples internationally and exposed the hidden caste
    hatred including the issue of manual scavenging prevalent in our
    society, even when I was just a village boy from Uttarakhand as he
    would pronounce, where I was fortunate to have met many laureate of
    Indian writings who took up the issue of the marginalized but very few
    coming from the communities. During the Mandal's war in 1990, we saw
    English language media was used as a tool to spread hatred against the
    Dalits and marginalized. They were mocked and there were absolutely
    negligible numbers of writers who could pose a counter cultural
    question to the brahmanically corrupted intellectual elite which
    looked secular in their mask yet uncomfortable to the core question of
    social justice but in the Mandal two, we saw the Dalit OBC students
    were writing their own blogs, had learnt to use social media strongly
    and numerous websites and journals emerged to counter the 'merit'
    propaganda unleashed by the 'devotees' of corporate culture in India
    who never ever saw 'wrong' in the corrupt practices by these in
    educational institutions in the name of 'donation'.

    In the following ten years after Mandal, we saw counter narratives
    taking bigger shapes. Alternative media grew with web portals like
    "countercurrents.org" providing space to the forces struggling against
    all forms of exploitation including brahmanical cultural subjugation
    and capitalist onslaught on socialism and state's accountability.
    Magazines like 'Forward Press' energized debates on Bahujan literature
    and enlightened us with stunning Bahujan cultural discourse with
    number of emerging young writers. With growing new young writers
    challenging the popular brahmanical discourse the contempt and assault
    on them is also visible throughout the country. But, the Rohith
    Vemulas in our universities have refused to play Eklavya today and
    therefore consciously proving that Ambedkarism and legacy of Dalit
    Bahujan consciousness, which refused to be part of brahmanical
    structure has finally arrived.

    'Forward Press' initiated this debate as what is Bahujan literature
    and last few years they have brought wonderful collectors editions.
    There are various definitions for literature. One, which raises your
    consciousness while for many, it must come from those who suffer and
    are historically exploited, neglected and subjugated socially and
    culturally. True, those who suffer will definitely provide a different
    insight than those who sympathise with their cause and are standing
    with them yet both are necessary. For me the Dalit Bahujan literature
    can not just be autobiographical sketches as each one of us has a
    different narratives but also posing ideological questions that have
    emerged from the heroic work of Phule Ambedkar and Periyar apart from
    the great humanist legacy of Raidas, Kabir, Nanak, Tukaram, Namdev,
    Ayyankali, Ayothidas, Narayan guru and many others who not just fought
    against injustice but provided a much better and humane alternative to
    brahmanical caste based 'graded inequality' as described by Baba Saheb
    Ambedkar where dominant castes have always suppressed the others. We
    must desist from compartmentalization and regimentation of diverse
    Dalit Bahujan's thoughts, which are multicultural and multi lingual.
    If we try to create a monolith of it, the beauty of it would be lost.
    Hence it is important to have narratives of diverse communities who
    built our society. A Dalit narrative can not be just urbanized
    'educated' construct but also the story of a Dom in Varanasi's ghats
    or Mushahars fighting for their battle or Nats, Kalandars, Kushwahas,
    Rajbhars, Kols, Tharus, Balmikis (and they too have diversity among
    themselves), Kanjars, Sansis, Banzaras, and so many others who are not
    known in popular discourse and are out of bound from the 'writers
    circle'. The Dalit Bahujan popular discourse must challenge the
    'meritorious' brahmanical discourse from an alternative path and not
    through becoming part of that discourse which attempt to create a
    monolith of everything under artificial construct of 'Hinduism' simply
    because they have similarities in certain things. As research have
    shown there were over 300 versions of Ramayanas and each different
    than the popular one of Tulsi Das's 'Ram Charit Manas' which imposed a
    patriarchal Rama on all other version and was further popularized by
    Ramanand Sagar's magnum opus Ramayana on Doordarshan. The counter
    narratives of the Dalit Bahujan discourse are as diverse as Ramayana
    or Mahabharata. There are thoughts influenced by Ambedkar-Periyar's
    ideological construct, which demolish the brahmanical myths woven
    around negative and pathological characteristics of Asuras or
    Rakshasas and talked of a modern secular society based on rational
    humanist principles of French or Russian revolutions.  But one has to
    understand that it was not merely ideological constructs of the
    legends that shape Bahujan-Dalit literature as various communities
    celebrate different festivals in diverse ways. So, every festival in
    India has a counter perspective but the brahmanical mainstream in
    India actually suppressed these narratives and placed the upper caste
    brahmanical narrative as the sole identity of cultural India.

    As I mentioned young dynamic youths of the Dalit Bahujan communities
    are challenging the brahmanical hegemonic narratives today. Not only
    are they getting empowered by the strong thoughts of Dr Ambedkar,
    Phule and Periyar but are taking inspirations from their friends too
    who have been supporting and participating in the global resistance
    movement against culture of monopoly and private control over the
    public resources. Chandra Mohan represent a well defined modern poet
    who want to stand with all forms of discrimination and has got a
    language which many will definitely envy. Moreover, Chandra Mohan's
    brilliance in poetry has surpassed any one that I have come across so
    far in terms of variety of issues that he takes up. He has not just
    spoken against caste violence and untouchability but subject likes gay
    rights, Soni Sori, Irom Sharmila, Mujaffarnagar, unfair globalization
    have come under his scrutiny resulting some of the finest poetry of
    our time that touch the inner chord of your heart.

    The whole country shouted loud for Nirbhaya and the 'establishment'
    responded with a 'Nirbhaya Act' but news of rape and murder of Dalit
    or tribal girls do not prick our conscience. There is no protest; no
    dharanas for the safety and security of the Aadivasi girls are victim
    of highhandedness of our security agencies in Bastar. His poem, ' Rape
    of a tribal girl' exposes the duplicity of our sensitivities and the
    farce that our 'intellectuals' and 'media' play.

    'No newspaper carried a headline or a photo feature,

    No youth were roused to protests,

    No city's life came to a standstill,

    No furore in the parliament,

    No nation's conscience was haunted,

    No Prime Minister addressed the nation,

    No TV channel discussions,

    No police officials were transferred or suspended,

    No candlelight marches,

    No billion women rising,

    A tribal girl was raped and murdered!'



    The pain of migration result in loss of identity and a majority of
    those migrate to cities are Dalit Bahujans like the blacks of Africa.
    One has to just feel how  Chandra Mohan explain it beautifully in his
    poem, ' Black Migratory'









     'Birds Migratory birds



     most of them have dark feathers



     sing mostly Bhojpuri, Bengali, Odiya



    fly towards floating clouds



     lives lost in transit'.





    Chandra Mohan is not short of words. He possesses an extraordinary
    quality of weaving his narratives and ideas in shortest yet impressive
    ways. As a poet his worldview is as wider as possible and modern in
    the absolute term of Ambedkar's vision of enlightened India and
    therefore he questions the traditions and wrongs happening in the name
    of traditions. We need to counter the brahmanical narrative through
    questioning them and demolish the myths woven around them. Therefore,
    issues of Khap Panchayats and killings of innocent lovers in the name
    of traditions and morality come under sharp attack in his verses.



    'Moral Police '



    when lover couple



     hid in a hood of a tree



    they chanced upon love letters



    some of them half burned



     some of them centuries old



    along with a picture of Shoorpanaka



     sans her nose, ears and breasts!



    Capitalism and religious fanaticism or theocracy work together and
    compliment each others. In India capitalism has come handy for
    Brahmanism to push its agenda to suck our resources and subjugate the
    Dalit Bahujan-aadivasis further and that comes for an excellent
    narrative in his poetry, 'A Neo-liberal Miscarriage'



    'Every drill driven into the earth



     for oil punctures



     holes into her womb



     gangrenes of depletion



     mushrooming clouds of subatomic fury



     a miscarriage of neo-liberal development'



    Chandra Mohan has rightly termed Dalit literature as the literature of
    resistance and biggest movement world over and he is placing both
    Dalit-Bahujan literature together. Today, the Bahujans too are
    questioning the history and historical wrongs.  It is important for
    them to write their own history as beautifully mentioned by him in the
    interview, '



    As the African proverb goes ', Until the lions have their own
    historians, the story of the hunt will glorify the hunter', Dalit
    literature is the documentation of the resistance of Dalit Bahujans
    against Brahmanical Social Order. It is one of the world's oldest
    resistance movements. Dalit literature aims to complement the larger
    civil rights struggle of Dalit Bahujans the world over and I believe
    we are at the cusp of a big change. Our voices are beginning to be
    heard.



    His poem ' History' speak of that thinking that every historical
    'document' of the brahmanical construct need to be questioned and
    rewritten by the Dalit Bahujan historians.



    '

    What is history?



    Its a declamation



     delivered on a podium



    on a pedestal that rusts away



    My poems are steel arrows



     that pierce the podium from below'



    Ambedkarite scholar Rohith Vemula's institutional murder agitated all
    the right thinking persons in India particularly those hailing from
    Dalit Bahujan communities. The incident actually exposed the
    brahmanical structure inside our campuses and how those who questions
    and want to live an independent life, live with their own
    understanding face obstacles at ever level. Chandra Mohan deserve
    fullest applauds for this wonderful narration of students suicides
    inside our campuses in his poem, ' Killing the Shambookas'.





    'Jim Crow segregated hostel rooms,

    Ceiling fans bear a strange fruit,

    Blood on books and blood on papers,

    A black body swinging in mute silence,

    Strange fruit hanging from tridents'



    As Bahujan magazines such as 'Forward Press' find it difficult to
    sustain in the absence of solid financial and advertisement backing,
    the movement it has launched for a counter Bahujan perspective will
    continue in the greater interest of society. Chandra Mohan reflect the
    coming of the Ambedkarite age of articulate young Indians who will not
    only throw open challenge to the brahmanical literature and their
    falsified constructs but will go far ahead of them in terms of quality
    and sincerity of the issue. One of my dear Ambedkarite friends late
    N.G.Uke had a favorite quote about the quality of an Ambedkarite, ' We
    have to be better than 'their' (brahmanical's) best'. I think this age
    has finally arrived with the remarkable verses of Chandra Mohan which
    will not just questions the wrong done to them or to any one else but
    also participate in all the international movement for human rights,
    human values, social justice and equality. The modern Dalit Bahujan
    literature need not just be 'reactionary' but provide alternatives of
    a better world and respond to the crisis of our time and Chandra
    Mohan's verses are doing that impressively. There is pain for closure
    of 'Forward Press' which gave new ideas to Bahujan literature and
    empowered young Bahujan talents into writing and resisting the popular
    brahmanical myths yet there is happiness when we see hundreds of
    youngsters coming up, challenging and resisting at all the levels
    including social media. And this will keep the movement growing as the
    whole Dalit Bahujan age has arrived as the new young are taking up
    social media and firing through their blogs, alternative platforms and
    it is they who will continue to carry the torch of resistance and
    revolution. It is here the success of the movement. We hope these
    young minds will continue to revolutionise the web-world and more
    importantly bring voices from diverse communities, hitherto unknown to
    us and keep the flame of change going. Chandra Mohan's poetry reflects
    that positive change among the youths of Dalit Bahujan communities
    which is definitely a great hope for future.


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Indefinite Hunger Strike enters Day 9. Update on health of the striking students


    ‪#‎FightBackJNU‬


    Kanhaiya Kumar admitted at JNU health centre in semi-conscious state

    Kanhaiya, along with other JNU students, was on a hunger strike against the punishment issued by the university in connection with the February 9 event.

    Media reports:JNU students union president Kanhaiya Kumar's condition deteriorated as his indefinite fast entered the eighth day.

    On Thursday, he was admitted to the university's health centre in a semi-conscious state, where he was being treated for low blood pressure (BP).

    Kanhaiya, along with other JNU students, was on a hunger strike against the punishment issued by the university in connection with the February 9 event. While he was rushed to hospital, five students withdrew from the protest citing deteriorating health conditions. The ketone levels and BP of other protesting students were also reported to be low, according to the test reports from the health centre. Kanhaiya's BP dropped to 56 and his glucose levels also dipped drastically.


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0
  • 05/06/16--04:38: तणमूल के हक में 184 सीटों का दावा और भाजपा को नौ सीटें जबकि वामदलों को सिर्फ 62 और कांग्रेस को 32 सीटें सत्तापक्ष के एक्जिट पोल में मोदी दीदी गठबंधन का खुलासा कोलकाता से राहुल सिन्ह,हावड़ा से रुपा गागुली और मयुरेश्वर से लाकेट चटर्जी को सीटें दे दी मां माटी मानुष ने वैसे इस एक्जिट पोल में बीरभूम समेत उत्तर बंगाल की बढ़त मान ली गयी है और तृणमूल को कूच बिहार में चार,जलपाईगुड़ी में चार,अलीपुरद्वार में 1,दार्जिंलिंग में 2,उत्तर दिनाजपुर में 2,दक्षिण दिनाजपुर में 3,मालदा और मुर्शिदाबाद में दो दो ही सीटें दी गयी हैं तो बीरभूम में सात सीटों का दावा है।यानी बीरभूम को लेकर उत्तर बंगाल में सिर्फ 27 सीटें दीदी को उत्तर बंगाल से मिलने की उम्मीद है यानी बाकी बंगाल में दीदी को बहुमत से ज्यादा 157 सीटें मिल रही हैं।इसका मतलब है कि दक्षिण बंगाल में दीदी का किला जस का तस हो तो भाजपा को नौ सीटें कैसे दी जा रही है,पहेली यह है। एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास हस्तक्षेप
  • तणमूल के हक में 184 सीटों का दावा और भाजपा को नौ सीटें जबकि वामदलों को सिर्फ 62 और कांग्रेस को 32 सीटें

    सत्तापक्ष के एक्जिट पोल में मोदी दीदी गठबंधन का खुलासा


    कोलकाता से राहुल सिन्ह,हावड़ा से रुपा गागुली और मयुरेश्वर से लाकेट चटर्जी को सीटें दे दी मां माटी मानुष ने

    वैसे इस एक्जिट पोल में बीरभूम समेत उत्तर बंगाल की बढ़त मान ली गयी है और तृणमूल को कूच बिहार में चार,जलपाईगुड़ी में चार,अलीपुरद्वार में 1,दार्जिंलिंग में 2,उत्तर दिनाजपुर में 2,दक्षिण दिनाजपुर में 3,मालदा और मुर्शिदाबाद में दो दो ही सीटें दी गयी हैं तो बीरभूम में सात सीटों का दावा है।यानी बीरभूम को लेकर उत्तर बंगाल में सिर्फ 27 सीटें दीदी को उत्तर बंगाल से मिलने की उम्मीद है यानी बाकी बंगाल में दीदी को बहुमत से ज्यादा 157 सीटें मिल रही हैं।इसका मतलब है कि दक्षिण बंगाल में दीदी का किला जस का तस हो तो भाजपा को नौ सीटें कैसे दी जा रही है,पहेली यह है।


    एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास

    हस्तक्षेप

    बंगाल में अंतिम चरण का मतदान पूरा होते न होते मां माटी मानुष का एक एक्जिट पोल जारी करके दीदी की सत्ता में वापसी का ऐलान कर दिया गया है।


    पक्ष विपक्ष के ऐसे दावे में नया कुछ नहीं है और दीदी ने पांचवे तरण में ही कह दियाथा कि उन्हें बहुमत हासिल हो गया है और उन्हें पूर्व मेदिनीपुर में सोलह में से सोलह चाहिए तो कूच बिहार की नौ सीयें भी चाहिए बोनस बतौर।


    इस बोनस के लिए उनने पूर्व मेदिनीपुर सांसद शुभेंदु अधिकारी के हनवाले छोड़कर कूचबिहार में तंबू गाढ़ लिया।


    इस एक्जिट पोल में खास बात है कि तृणमूल को 183 सीटें दी गयी हैं तो भाजपा को नौ सीटें,जबकि भाजपा के किसी नेता ने सार्वजनिक तौर पर ऐसा कोई दावा नहीं किया और वे अब भी एकाधिक सीट की बातें कर रहे हैं।


    एक्जिट पोल के मुताबिक चुनाव नतीजे इस प्रकार हैंः

    TMClikely to get183 seats(+/- 15) with45% voteshare,


    Lefts may get67 seats(+/- 10) with32% voteshare,


    Congress will get around 32 seats (+/- 5) with 8% voteshare while


    BJP can win9 seats(+/- 4)with11% voteshare only


    वाम नेताओं को भी यह शक आखिर तक सता रहा था कि परंपरागत कांग्रेस के वामविरोधी वोटर उसके हक में वोट डालेंगे या नहीं,तो इस एक्जिट पोल में भी वाम और कांग्रेस के वोट जोड़े नहीं गये हैं।


    इस एक्जिट पोल में तृणमूल के हक में 183 सीटें 45 फीसद वोटरों के समर्थन के दावे के साथ दी गयी हैं वहीं वामदलों के हक में 32 फीसद वोच के साथ 62 सीटें और कांग्रेस के हक में आठ फीसद वोटर के साथ 32 सीटें दिखायी गयी हैं।


    जबकि भाजपा के वोट पिछले लोकसभा चुनाव के सत्रह फीसद से काफी कम सिर्फ ग्यारह फीसद दिखाये गये हैं।


    अब एक्जिट पोल के मुताबिक  आठ फीसद वोट के साथ कांग्रेस के 32 सीटों और 11 फीसद वोट के साथ भाजपा को मात्र नौ सीटों के बीजगणित को सुलझाना हमारे बस में नहीं है।


    फिर आठ फीसद वोट के साथ कांग्रेस की 32 सीटों के मुकाबले वामदलों  को 32 फीसद वोट के साथ 62 सीटें ही क्यों है,यह समझना बहुत मुश्किल काम है।


    हालांकि मतदान निष्पक्ष और स्वतंत्र होने के दावे के सच निकलने पर सत्ता दल और वाम दलों और कांग्रेस के वोट अलग अलग बी माने तो दोनों पक्षों के बीच वोटों का अंतर कमसकम तेरह फीसद

    पिछले चुनावों के रिकार्ड के मुताबिक बहुत ज्यादा है।


    हकीकत में यह अंतर दो तीन फीसद से ज्यादा नहीं होना चाहिए।


    खास बात है कि इस एक्जिट पोल में खास कोलकाता में और हावड़ा में एक एक सीट भाजपा को दी गयी है यानी जोड़ासांको से राहुल सिन्हा और हावड़ा से रुपा गांगुली की जीत सत्ता पक्ष ने मान ली है।

    इसके अलावा अलीपुर द्वार में दो,नदिया,उत्तर 24 परगना, वर्धमान,बीरभूम  और पश्चिम मेदिनीपुर में एक एक सीट भाजपा को सत्ता पक्ष के इस एक्जिट पोल में दी गयी है।


    इसका मतलब है कि बीरभूम के मयुरेश्वर से लाकेट चटर्जी की जीत भी पक्की मानी जा रही है।खास बात है कि जिला या राज्य स्तर पर भाजपा ने अभतक ऐसा कोई दावा नहीं किया है।


    कोलकाता और हावड़ा के अलावा बीरभूम और पश्चिम मेदिनीपुर के दीदी के सबसे मजबूत गढ़ में भाजपा के काते में एक एक सीटडालने का मतलब बहुत गहरा है।कमसकम ये चार सीटें भाजपा को तृणमूल की मदद से मिलना असंभव है।


    जमीनी स्तर पर भाजपा को दक्षिण बंगाल में बीस फीसद तक वोट मिलने के आसार हैं,तो इससे सीटें कितनी और बढ़ सकती है बाजपा की,इस एक्जिट पोल के विशेषज्ञों से पूछा जाना चाहिेए।


    फिर भाजपा को अगर बीस फीसद तक वोट मिल गये तो क्या तब भी तृणमूल कांग्रेस को 45 फीसद,वामदलों को 32 फीसद और कांग्रेस को आठ फीसद वोट भी मिल सकते हैं और उनकी सीटें दावे के मुताबिक उतनी ही रहेंगी,यसावल भी मौजूं हो सकते हैं।


    दूसरा यह कि अगर वाम 32 और कांग्रेस आठ का जोड़ हो और भाजपा बीस हो तो भी क्या 45 फीसद तृणमूल वोट का गणित बना रहेगा।अगर तृणमूल का वोट फीसद 2 से 3 फीसद घट गया और वह वाम कांग्रेस से जुड़ गया और बजपा के वोटभी बढ़ गये तो क्या होगा,कोई जवाब 19 मई के बाद ही मिलेगा।


    वैसे इस एक्जिट पोल में बीरभूम समेत उत्तर बंगाल की बढ़त मान ली गयी है और तृणमूल को कूच बिहार में चार,जलपाईगुड़ी में चार,अलीपुरद्वार में 1,दार्जिंलिंग में 2,उत्तर दिनाजपुर में 2,दक्षिण दिनाजपुर में 3,मालदा और मुर्शिदाबाद में दो दो ही सीटें दी गयी हैं तो बीरभूम में सात सीटों का दावा है।यानी बीरभूम को लेकर उत्तर बंगाल में सिर्फ 27 सीटें दीदी को उत्तर बंगाल से मिलने की उम्मीद है यानी बाकी बंगाल में दीदी को बहुमत से ज्यादा 157 सीटें मिल रही हैं।इसका मतलब है कि दक्षिण बंगाल में दीदी का किला जस का तस हो तो भाजपा को नौ सीटें कैसे दी जा रही है,पहेली यह है।

    इस एक्जिट पोल की भूमिका इस प्रकार हैः

    Over 80% turnout recorded in West Bengal assembly election 2016 which was held in 6phases (7round).


    Bengal Poll 2016 is completed today (05/05/2016) with just few stray incidents plus lot of false-propaganda, dramabazi by CPIM-Congress alliance & BJP.


    This electoral process completed under extraordinary supervision of Election Commission which acted against the ruling party AITC (TMC) due toallegedly directed by BJP & Left.


    In spite of opposition directed (??) Election Commission and Central force have tried their best to prevent TMC from victory.


    But people of Bengal are choosing Mamata Banerjee and her party as victorious. Majority of Media in Bengal had vigorously campaigned against TMC.

    Against all odds people of Bengal are with their beloved Didi Mamata Banerjee.


    Didi (Mamata Banerjee) wave in West Bengal is still in full swing. Anti-propaganda by media (ABP-Ananda & 24-Ghanta) and opportunist alliance of CPIM-Congress has failed to stop this wave.

    Area wise survey is showing AITC (TMC) is getting 49% vote in rural area whereas in urban area they are getting only around 42% vote.


    As far as minority vote concerns, it's significant that TMC is getting over 64% minority vote share in Kolkata and adjoining area.

    Regarding minority vote- in Central-North region of Bengal Left+Congress alliance (particularly Congress) is getting 58% minority vote and TMC is getting only 30% minority vote.


    Hence it clear that, "Trinamool Congress is coming back in power due to minority vote" is just a myth.



    Our team carried out survey in all 294 constituencies of Bengal. Voters were from all sections of society.

    With help and active participation of various other agencies, well-wishers and political pandits this vast survey was possible.

    For there priceless work THANKS will just be a small word.



    Now please look at the summary of the result of our seat projection and vote share.




    Please recall that during parliamentary election 2014 this blog's prediction wasalmost correct.

    Links>>

    For Total India:http://mamatimanushofwb.blogspot.in/2014/03/2014-indian-general-elections-15th-lok.html


    For West Bengal:  http://mamatimanushofwb.blogspot.in/2014/05/exit-poll-survey-of-west-bengal-in-2014.html


    Another important thing is- This Blog hadpredicted almost similar result in Jan'16 opinion poll survey.

    Only difference is BJP's seat got reduced and Left gained from that.

    Link:http://mamatimanushofwb.blogspot.in/2016/01/opinion-poll-survey-for-2016-west.html


    Now if Mamata Banerjee and her party Trinamool Congress finally achieve this overwhelming victory it will be a historical win for her as this time it was against all odds.


    Viewers may read following two articles to know how opportunistic and immoral politics was played in Bengal during this election.


    1). Irony of politics: Rahul Gandhi of Congress shares stage with Buddhadeb Bhattacharjee of CPIM, those who labeled Rajiv Gandhi as Thief (Chor) and Indira Gandhi as Witch (Daini Buri). Also BJP candidate Chandra Kumar Bose appeals to vote in favor of Left in front of Amit Shah.

    http://mamatimanushofwb.blogspot.in/2016/04/irony-of-politics-rahul-gandhi-of.html


    2). Bengal Election 2016: Irony of Politics (Part-2)>> People of Bengal Rejecting Yellow Journalism of ABP group (Aveek Sarkar) and Dramabazi plus Over Aggression by BJP's Item Number actress politician Rupa (Roopa) Ganguly & others. এবারের পশ্চিমবঙ্গের বিধানসভা নির্বাচনআদতে মমতা ব্যানার্জির তৃনমূল কংগ্রেস বনাম অভীক সরকারেরআনান্দবাজার গোষ্ঠীরলড়াই।

    http://mamatimanushofwb.blogspot.in/2016/05/bengal-election-2016-irony-of-politics.html



    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0
  • 05/06/16--15:20: प्रतिरोध का अंतिम द्वीप भी बेदखल? कभी नहीं।नहीं। फिरभी गौतम बुद्ध,बाबासाहेब और शहीदेआजम भगतसिंह के रास्ते समता न्याय की सामाजिक क्रांति संभव। #Fightback JNU # Fightback Jadavpur,हर हमले केखिलाफ गोलबंदी होगी तेज और इंसानियत का मुल्क साथ है। केसरिया सुनामी के शिकंजे में बुरी तरह फंसा है बंगाल और बाकी देश के लिए यह डोनाल्ड ट्रंप के अमेरिकी राष्ट्रपति बनने की खबर से ज्यादा बुरी खबर है कि सत्तापक्ष को वोट देने वाला बंगाल का हर शख्स अब हिंदुत्व के केसरिया रंग से रंगकर बजरंगी है । मोदी दीदी गठबंधन की वजह से पिछले पांच साल के दौरान बंगाल का भीतर ही भीतर जबर्दस्त केसरियाकरण हुआ है और उत्तरबंगाल में सूपड़ा साफ होते देख केसरिया सुनामी के जरिये सत्ता में वापसी की जुगत में भाजपा को सीटों की खैरात के साथ खुल्ला खेलने का जो मौका दिया गया,उससे दक्षिण बंगाल में कमसकम बीस फीसद वोट भाजपा के हक में गिरे ताकि वाम कांग्रेस गठबंधन को हराकर यूपी को नये सिरे से केसरिया बनाने का राजमार्ग खुले।
  • प्रतिरोध का अंतिम द्वीप भी बेदखल?

    कभी नहीं।नहीं।

    फिरभी गौतम बुद्ध,बाबासाहेब और शहीदेआजम भगतसिंह के रास्ते समता न्याय की सामाजिक क्रांति संभव।

    #Fightback JNU # Fightback Jadavpur,हर हमले केखिलाफ गोलबंदी होगी तेज और इंसानियत का मुल्क साथ है।

    केसरिया सुनामी के शिकंजे में बुरी तरह फंसा है बंगाल और बाकी देश के लिए यह डोनाल्ड ट्रंप के अमेरिकी राष्ट्रपति बनने  की खबर से ज्यादा बुरी खबर है कि सत्तापक्ष को वोट देने वाला बंगाल का हर शख्स अब हिंदुत्व के केसरिया रंग से रंगकर बजरंगी है ।

    मोदी दीदी गठबंधन की वजह से पिछले पांच साल के दौरान बंगाल का भीतर ही भीतर जबर्दस्त केसरियाकरण हुआ है और उत्तरबंगाल में सूपड़ा साफ होते देख केसरिया सुनामी के जरिये सत्ता में वापसी की जुगत में भाजपा को सीटों की खैरात के साथ खुल्ला खेलने का जो मौका दिया गया,उससे दक्षिण  बंगाल में कमसकम बीस फीसद वोट भाजपा के हक में गिरे ताकि वाम कांग्रेस गठबंधन को हराकर यूपी को नये सिरे से केसरिया बनाने का राजमार्ग खुले।

    पलाश विश्वास


    Resist saffronisation of campus!

    HCU se, JNU se, DU se, JU se, AMU, Bharat se hallabol!

    BJP-AVBP-RSS pe hallabol!

    Inquilaab Zindabaad!

    ‪#‎ResistAVBP‬

    ‪#‎FightbackJU‬

    ‪#‎FightbackJNU‬

    ‪#‎FightbackHCU

    ‪#‎FightbackDU‬‬

    ‪#‎FightbackAMU

    ‪#‎FightbackIIT

    ‪#‎FightbackIIM


    संसद और विधानसभाओं में पांच साल में हजार गुणा संपत्ति बढ़ानेवाले सत्तावर्ग के चुने हुए फर्जी जनप्रतिनिधियों के राजकाज मनुस्मृति शासन में न्यायपालिका अभी जिंदा होने का सबूत यदा कदा दे रही है तो जाहिर है कि जल जंगल जमीन नागरिकता और मानवाधिकार की लड़ाई अभी बाकी है।


    यह लड़ाई जेएनयू में जैसे लडी जा रही है वेसै ही यह लड़ाई बंगाल के तमाम विश्वविद्यालयों और बाकी देशके विश्वविद्यालयों और दूसरे शैक्षणिक संस्थानों में लडी जा रही है।जाहिर है कि देशी विदेशी पूंजी,मुक्त बाजार और रंग बिरंगे वैश्विक फासीवादी मनुस्मृति रंगभेदी स्थाई बंदोबस्त के खिलाफ हमारे पुरखों की लड़ाई अभी खत्म हुई नहीं है।


    NUSU Indifinite Hunger Strike Day 10 (06.05.2016) : Artists, Intellectuals, Actvists joined at Freedom Square JNU in Solidarity with JNUSU.

    अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने ममता राज के तहत बुलंद हौसले के साथ फिर यादवपुर विश्वविद्यालय पर हमला बोला।हिंदुत्व एजंडा के तहत फिल्म शो के विरोध पर छात्रों के साथ मारपीट और छात्राओं से बदसलूकी चुनावी हिंसा में बहती खून की नदियों से भयंकर केसरिया सुनामी है और सत्तादल की मदद से हावड़ा से जीतनेवाली फिल्मस्टार अभिनेत्री ने दस मिनट का अल्टीमेटम यादवुर विश्वविद्यालय का गेट तोड़ने का जारी करके यह सारा हंगामा कर दिखाया और बता दिया कि संघ परिवार की बढ़ती ताकत और खुल्लमखुल्ला मोदी दीदी गठबंधन गठबंधन से भारत विभाजन के डाइरेक्ट एक्शन की पुनरावृत्ति फिर बंगाल में करने पर तुला है।तो प्रतिरोध में छात्राएं आगे रहीं और छाताराओं ने रूपा और बजरंगियों को मुंह तोड़ जवाब दिया।पाशे आछि यादवपुर।फािट बैक यादवपुर।

    इसकी प्रतिक्रिया यहः

    রূপা গাঙ্গুলি বলেছে, ''১০ মিনিট দেখব, তা না হলে গেট ভেঙ্গে দেবো''। রূপা গাঙ্গুলি জানে না, যাদবপুর এর গেট ভাঙ্গা তাও সহজ, ব্যারিকেড ভাঙ্গা অসম্ভব।

    এক ছাত্র বলল , ''সামনের বার যাদবপুর ইলেকশনে, দেখে নেবে''। ও জানে না, যাদবপুরে এরকম হুমকি ওর বাপ দাদারা বহুবার দিয়েছে।

    কমরেডরা ছুটছে সাম্প্রদায়িক শক্তি কে রুখতে। লড়াই এর আঁচ নিন চোখে-মুখে। শনিবার অর্থাৎ কাল, বিকেল ৫ টায় দেখা হবে আবার যাদবপুরের বুকে।


    সঙ্ঘের লোকজনদের অনেক অনেক বাঁদরামি দেখেছি, আর এস এস এর হাতে সায়েন্স সিটির সামনে মার খেয়েছি… জে এন ইউ তে ছাত্রছাত্রিদের দেশদ্রোহী বলে ট্যাগিয়ে দিতে দেখেছি, কিন্তু আজ যা দেখলাম, তাতে স্তম্ভিত হতে হয়… বাইরের থেকে লকজন ঢুকে আমাদের শাসিয়ে গেল দেখে নেবে বলে, খিস্তি মারলো, মেয়েদের বুকে হাত দিল, ধাক্কা মারলো আর আঙুল উঁচিয়ে বলে গেল…"মেয়েছেলে হয়ে কথা বলিস কি করে?"… এত ঔদ্ধত্ত্ব আসে কথা থেকে! সাহস হয় কি করে আমাদের নিজেদের ক্যাম্পাসে ঢুকে আমাদের থ্রেট করে যায়? পুলিশ এসে যা করার তাই করলো, আমরা যাদের চিহ্নিত করলাম হেনস্থাকারী হিসেবে, পুলিশের হাতে তাদের তুলে দেওয়ার সাথে সাথেই তাদের 'অসুস্থ' বলে বাঙ্গুর হাসপাতালে নিয়ে গেলো, অথচ আমাদের কেউ পুলিশের খাতায় নাম তুললে আমাদের নিয়ে যাওয়া হয় কাস্টডিতে…মার খেয়ে মাথা ফাটিয়ে দিলেও… বাহ, বেশ অবস্থা তো। ভালোই চলছে আমাদের স্বাধীন রাষ্ট্র, ভালোই রয়েছি শিক্ষা প্রাঙ্গনে… একেই কি বলে ক্যাম্পাস ডেমোক্রেসি?

    प्रतिरोध का अंतिम द्वीप भी बेदखल?

    फिरभी गौतम बुद्ध,बाबासाहेब और शहीदेआजम भगतसिंह के रास्ते समता न्याय की सामाजिक क्रांति संभव।

    #Fightback JNU # Fightback Jadavpur,हर हमले केखिलाफ गोलबंदी होगी तेज और इंसानियत का मुल्क साथ है।

    केसरिया सुनामी के शिकंजे में बुरी तरह फंसा है बंगाल और बाकी देश के लिए यह डोनाल्ड ट्रंप के अमेरिकी राष्ट्रपति बनने  की खबर से ज्यादा बुरी खबर है कि सत्तापक्ष को वोट देने वाला बंगाल का हर शख्स अब हिंदुत्व के कसरिया रंग से रंगकर बजरंगी है ।


    एबीपी आनंद की खबर हैः

    সিনেমা ঘিরে রণক্ষেত্র যাদবপুর, এবিভিপি-র সঙ্গে পড়ুয়াদের হাতাহাতি, বহিরাগতদের বিরুদ্ধে দুর্ব্যবহার, শ্লীলতাহানির অভিযোগ

    সিনেমা ঘিরে রণক্ষেত্র যাদবপুর, এবিভিপি-র সঙ্গে পড়ুয়াদের হাতাহাতি, বহিরাগতদের বিরুদ্ধে দুর্ব্যবহার, শ্লীলতাহানির অভিযোগ

    কলকাতা: এবিভিপি-র সিনেমা ঘিরে রণক্ষেত্র যাদবপুর বিশ্ববিদ্যালয়। আয়োজকদের সঙ্গে পড়ুয়াদের হাতাহাতি। আহত বেশ কয়েকজন। বহিরাগতদের বিরুদ্ধে দুর্বব্যবহার, শ্লীলতাহানির


    हिंदुस्तान की सरजमीं पर सबसे बड़े बजरंगी कीतस्वीर अपने दिमाग में तान लीजिये तो समझ लीजिये कि अगले अमेरिकी राष्ट्रपति वे ही हैं और यह इसलिए कि अमेरिका की सबसे ताकतवर जायनी लाबी डोनाल्ड ट्रंप के साथ मजबूती के साथ मैदान में हैं और वे ही रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार हैं और उनके जीत जाने की प्रबल संभावना है क्योंकि नस्लवाद के खिलाफ अमेरिकी लोकतंत्र के गौरवशाली इतिहास को तिलांजजलि देने वाले कुक्लाक्स क्लान का अमेरिका में वैसा ही पुनरूत्थान हुआ है जैसे भारत में हिंदुत्व का।


    उनके धुर विरोधी रहे भारतीय मूल के बॉबी जिंदल ने कहा कि, 'यदि ट्रंप रिपब्लिकन उम्मीदवार बनते हैं, तो वह उन्ही को वोट देंगे. जिंदल ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा कि, ट्रंप को लेकर मै खुश नहीं हूँ, लेकिन वें हिलेरी क्लिंटन से तो बेहतर ही है।


    अब समझ लीजिये कि इस आकाशगंगा के बाहर तीन तीन ग्रहों में जीवन की खोज क्यों जरुरी है और क्यों यह पृथ्वी अब रहने लायक नहीं है।अमेरिका में राष्ट्रपति पद के लिए होने वाला मुकाबला न्यू यॉर्क के 2 निवासियों, रीयल एस्टेट क्षेत्र के दिग्गजडॉनल्ड ट्रंप और पूर्व विदेश मंत्री हिलरी क्लिंटन के बीच सिमट गया है। ट्रंप रिपब्लिकन पार्टी की उम्मीदवारी लगभग हासिल कर चुके हैं और हिलरी को डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवारी मिलना तय है।


    रॉयटर्स द्वारा गुरुवारको कराए गए एक सर्वे के मुताबिक, ट्रंप या हिलरी का समर्थन करने वाले वोटरों का कहना है कि उनका मुख्य मकसद दूसरे पक्ष को रोकना होगा। सर्वे के रिजल्ट अमेरिका में गहरा रहे वैचारिक मतभेद को दिखाते हैं, जहां लोगों में विपक्षी दलों का डर गहराता जा रहा है।


    गौरतलब है कि अमेरिका के प्रेज़िडेंट बराक ओबामा ने राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए रिपब्लिकन पार्टी की उम्मीदवारी लगभग हासिल कर चुके डॉनल्ड ट्रंप और वोटरों को चेताया है कि वे इस चुनाव को गंभीरता से लें। ओबामा ने शुक्रवार को कहा, 'यह ... ओबामा ने वाइट हाउस के ब्रीफिंग रूम से अमेरिकी मीडिया और देश के लोगों से अपील की है कि वे रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार डॉनल्ड ट्रंप के पूरे अतीत पर गौर करें। उन्होंने अपील की कि लोग और ... लोगों को आकर्षित करने के ट्रंप के तरीकों पर बड़ा वार करते हुए ओबामा ने कहा, 'यह मनोरंजन का विषय नहीं है और ना ही यह कोई रिऐलिटी शो है। यह अमेरिका के राष्ट्रपति पद का चुनाव है।


    अरसे से आर्थिक मुद्दों को हम संबोधित नहीं कर पा रहे हैं जो हम एक दशक से लगातार करते रहे हैं क्योंरकि सामाजिक ताना बाना इस कदर टूट बिखर रहा है कि मुक्तबाजार के धर्मोन्माद के खिलाफ साझा मोर्चा बनाने की सर्वोच्च प्राथमिकता एक तरफ है तो दूसरी तरफ आर्थिक मुद्दों की समझ बहुसंखय जनगण की नहीं है जो रोजरोज अश्वमेदी वैदिकी हिंसा के शिकार हो रहे हैं और प्रबल प्रतिरोध के बावजूद मनुस्मृति मुक्तबाजार की वैश्विक व्यवस्था लगातार मजबूत होती जा रही है।


    इसी बीच जेएनयू बंद कराने की मुहिम जारी है और लगातार चेताते रहे हैं कि आंदोलन का नेतृत्व सामूहिक होना चाहिए और हमारी आजादी के लिए किसी मसीहा की जरुरत नहीं है।


    मसीहा निर्माण और मूर्ति पूजा की रस्म अदायगी की निरंतरता में हम लगातार पांव तले जमीन खो रहे हैं और कयामती मंजर में सांस के लिए छटफटा रहे जल बिन मछली की तरह रोजमर्रे की जिंदगी नर्क होती जा रही है।


    जेएनयू में मनुस्मृति के खिलाफ अभूतपूर्व गोलबंदी देशभर में संक्रामक है तो दमन और उत्पीड़न का मनुस्मृति तंत्र उससे ज्यादा मजबूत होता जा रहा है।


    एकदम ताजा मसला जो सबसे भयंकर है ,वह बंगाल का केसरियाकरण है और सत्ता हस्तांतरण के जरिये जमींदारियों और रियासतों के वारिशान को को हमने जो सत्ता का सिरमौर बना दिया है,उसके पीछे तमाम ताकतें बंगाल से ही संगठित हुई थीं और भारत विभाजन की कथा बांचते हुए नेताजी के अंतिम भाषण बार बार  पोस्ट करते हुए हम अक्सर उस इतिहास की चर्चा करते रहे हैं।


    बौद्धमय भारत के अवसान के बाद सबसे अंततक बंगाल में गौतम बुद्ध की क्रांति पाल वंश के पतन तक जारी रहा और पिछले करीब एक हजार साल से सरहदों के आर पार वह विरासत बंगाल की राष्ट्रीयता बनी हुई है।


    ब्राह्मणवादी ताकतों ने गोलबंद होकर बारंबार भारत विभाजन की प्रक्रिया बंगाल में शुरु की तो उसका सबसे प्रबल प्रतिरोध भी बंगाल में होता रहा है और इसी के साथ आदिवासी किसान विद्रोह की निरंतरता के मध्य बंगाल सामंतवाद और साम्राज्यवाद का गढ़ लगातार बना रहा और बंगाल में ही वियतनाम आमार नाम तोमार नाम से लेकर नंदीग्राम आमार नाम तोमार नाम जैसे नारे गूंज रहे थे।


    आजाद भारत में भूमि सुधार भी यहीं लागू हो पाया।बाकी देश में नहीं तो पंचायती राज की नींव भी बंगाल पड़ी।


    गौरतलब यह है कि भारत में सर्वहारा वर्ग के ,मेहनतकशों के,औरतों के और दलितों वंचितों पिछड़ों और अल्पसंख्यकों के असली नेता बाबासाहेब डा.भीमराव अंबेडकर को अखंड बंगाल के पूर्वी बंगाल ने संविधानसभा के लिए चुनकर भेजा था और विभाजन के बाद समाज में जाति उन्मूलन के एजंडे के तहत वर्गीय ध्रूवीकरण की प्रकिया भी  यहीं शुरु हुई थी।


    17 मई को बेरोजगार हो जाने के बाद बिना छत जीने की चुनौती के बावजूद हम अभी इसी बंगाल में बने रहने का फैसला सिर्फ इसीलिे किया कि खुले तौर पर बंगाल में संघ परिवार का समर्थन कोई नहीं कर रहा है और इसीलए हमारे हर पोस्ट के साथ यह चुनौती नत्थी है कि संघ परिवार चाहे सारी ताकत झोंक दें ,वब बंगाल हरगिज जीत नहीं सकता।


    लेकिन बंगाल में सत्ता पर काबिज तबके ने सत्ता में बने रहने की जुगत में बंगाल में जो केसरिया सुनामी पैदा की है,उसका नतीजा यह कि मतदान खत्म होते न होते चुनावी हिंसा के मध्य एक फिल्म का यादवपुर विश्वविद्यालय में प्रदर्शन का विरोध करने की प्रतिक्रिया में फिर विद्यार्थी परिषद ने यादवपुर विश्वविद्यालय पर धावा बोल दिया।


    गौरतलब है कि जेएनयू के साथ खडा होने के जुर्म में शाट डाउन जेएनयू की तर्ज पर शाट डाउन यादवपुर अभियान संघ परिवार ने चलाया और उस दौरान यादवपुर विश्वविद्यालय में हमला हुआ तो बजरंगियों ने फिर जुलूस निकाल कर यादवपुर पर धावा बोलने की कोशिश की तो चारों तरफ से जुलूस निकालकर इसके मुकाबले की तैयारी देख पुलिस की पहरेदारी में वे मैदान छोड़कर बाहर निकले।


    बजरंगियों का हौसला बुलंद होने की ताजा वजह सत्ता दल के समर्थन में जारी एक एक्जिट पोल है,जिसमें दीदी के 183 सीटों के साथ सत्ता में वापसी का दावा किया गया और भाजपा के खाते में नौ सीटें डाल दी गयीं,जिसकी उम्मीद बजरंगियों को कतई नहीं थी।


    मोदी दीदी गठबंधन की वजह से पिछले पांच साल के दौरान बंगाल का भीतर ही भीतर जबर्दस्त केसरियाकरण हुआ है और उत्तरबंगाल में सूपड़ा साफ होते देख केसरिया सुनामी के जरिये सत्ता में वापसी की जुगत में भाजपा को सीटों की खैरात के साथ खुल्ला खेलने का जो मौका दिया गया,उससे दक्षिण  बंगाल में कमसकम बीस फीसद वोट भाजपा के हक में गिरे ताकि वाम कांग्रेस गठबंधन को हराकर यूपी को नये सिरे से केसरिया बनाने का राजमार्ग खुले।


    दावे के मुताबिक सीटें भले दीदी को या उनकी अंतरंग सहयोगी भाजपा को उतनी न मिले,लेकिन वोटों के हिसाब से भाजपा की ताकत बंगाल में भी अब भयंकर है और जेएनयू में जब आमरण अनशन जारी  है,तब फिर यादवपुर विश्वविद्यालय पर हमला आने वाले खतरनाक दिनों की दस्तक है।


    इससे ज्यादा खतरनाक तथ्य यह है कि सत्ता वर्ग और सत्तादल ,दोनों का सार्विक केसरियाकरण हो गया है और बाकी देश बंगाल को अभी धर्मनिरपेक्ष और प्रगतिशील मान रहा है जबकि प्रतिरोध का अंतिम द्वीप भी बेदखल होने जा रहा है।


    केसरिया सुनामी के शिकंजे में बुरी तरह फंसा है बंगाल और बाकी देश के लिए यह डोनाल्ड ट्रंप के अमेरिकी राष्ट्रपति बनने  की खबर से ज्यादा बुरी खबर है कि सत्तापक्ष को वोट देने वाला बंगाल का हर शख्स अब हिंदुत्व के कसरिया रंग से रंगकर बजरंगी है ।


    इसी बीच हमारे गृहप्रदेश उत्तराखंड में दावानल से सुलगते पिघलते ग्लेशियरों से घिरने के बावजूद फिलहाल अच्छी खबर यह है कि राष्ट्रपति शासन को चुनौती अभी बरकरार है,नेनीताल हाईकोर्ट ने राष्ट्रपति के फसैले को खारिज करने का ऐतिहासिक फैसला किया तो केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट की अपील की।


    मुख्यमंत्री हरीश रावत की बहाली भी हाईकोर्ट ने कर दी थी लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रपति शासन जारी रखते हुए हरीश रावत को विधानसभा में बुमत साबित करने का मौका दे दिया और पिछले दरवाजे से संघ परिवार को उत्तराखंड में सरकार बनाने का मौका नहीं दिया।भले ही हरीश रावत शक्ति परीक्षण में हार जायें,इससे फासिज्म के राजकाज को न्यायालय में चुनौती देने का मार्ग प्रशस्त हुआ है।


    इसी तरह ओड़ीशा में हाईकोर्ट ने जमीन के मामले में आदिवासियों के हक में ही फैसला किया है तो सिंगुर मामले में हुए सौदे का खुलासा करने वाला फैसले का सुप्रीम कोर्ट में इंतजार है।


    संसद और विधानसभाओं में पांच साल में हजार गुणा संपत्ति बढ़ानेवाले सत्तावर्ग के चुने हुए फर्जी जनप्रतिनिधियों के राजकाज मनुस्मृति शासन में न्यायपालिका अभी जिंदा होने का सबूत यदा कदा दे रही है तो जाहिर है कि जल जंगल जमीन नागरिकता और मानवाधिकार की लड़ाई अभी बाकी है।


    यह लड़ाई जेएनयू में जैसे लडी जा रही है वेसै ही यह लड़ाई बंगाल के तमाम विश्वविद्यालयों और बाकी देशके विश्वविद्यालयों और दूसरे शैक्षणिक संस्थानों में लडी जा रही है।जाहिर है कि देशी विदेशी पूंजी,मुक्त बाजार और रंग बिरंगे वैश्विक फासीवादी मनुस्मृति रंगभेदी स्थाई बंदोबस्त के खिलाफ हमारे पुरखों की लड़ाई अभी खत्म हुई नहीं है।


    महात्मा गौतम बुद्ध की क्रांति से पहले शूद्रों को कोई अधिकार नहीं था और तब भी समाज में वर्ग मौजीद थे।वर्ण व्यवस्था के तिलिस्म को तोड़कर राजकुमार सिद्धार्थ ने जो वर्गीय ध्रूवीकरण के धम्म का प्रवर्तन किया तो समता और न्याय के लिए क्राति भी उन्होंने कर दी।


    बुद्धं शरणं गच्छामि के उच्चारण से तब वर्णव्यवस्था खत्म करके महात्मा गौतम बुद्ध ने तब पूरे समाज और देश ही नहीं ,समुची दुनिया में अमन चैन का रास्ता बना दिया जो आज बी किसी न किसी रुप में मौजूद है।


    धम्म और पंचशील का रास्ता उतना आसान भी नहीं है और गौतम बुद्ध ने अचानक अवतार लेकर समता और न्याय की लड़ाई का यह रास्ता तैयार नहीं किया था तो जाहिर है कि समता और न्याय के खिलाप यह लड़ाई अब बेहद लंबी होगी और जेएनयू यादवपुर जैसे प्रतिरोध का सिलसिला बना रहा तो हम भी कभी न कभी देश दुनिया को जोड़कर समता और न्याय की मंजिल हासिल कर लेंगे।


    The time is now.

    When the communal corporate fascist attack comes down right to the students, they revolt back. Until now, the supporters of AVBP in our campus hiding under platforms should reveal themselves and come out for political fight. If you and your leader, Rupa Ganguly, knows how to save the molesters with creating a chaos in our university, we know how to give you a strong resistance. And as for that 'stupid' movie drawing analogy of Jawan and Naxalites, you should feel remorse of your act which killed Rohith, Jisha and so many dalit students with institutional murders and rapes. We won't let any political party come and dictate our autonomy with their vested interest and we will keep on giving this much amount of resistance and more.

    Be prepared for a war, a national war, against communalism, fascism and moral policing and mob lynching and patriarchal domination.

    Resist saffronisation of campus!

    HCU se, JNU se, DU se, JU se, AMU, Bharat se hallabol!

    BJP-AVBP-RSS pe hallabol!

    Inquilaab Zindabaad!

    ‪#‎ResistAVBP‬

    ‪#‎FightbackJU‬

    Arumita Mitra's photo.


    মাত্র মাস দুই আগেই ওরা এসেছিলো... চোখে চোখ রেখেই সেদিন আমরা বুঝিয়ে দিয়েছিলাম, আর এক পাও বাড়ালে এই ব্যারিকেড এই মিছিল আগুন হয়ে উঠতে জানে। বন্ধু লড়াই শুরু হয়ে গেছে আগেই... যেদিন রোহিথের মৃতদেহ পাওয়া গেছিলো ইউনিভার্সিটির ভেতরে, যেদিন আপামর ভারতবাসী পড়েছিল একটা সুইসাইড নোট "my birth is an accident…", যেদিন জে এন ইউ থেকে ওদের মদতে তুলে নিয়ে গেলো কানহাইয়া-উমর-অনির্বাণদের, যেদিন ওরা আমাদের দাগিয়ে দিল আমরা দেশদ্রোহী বলে...লড়াই সেদিন থেকেই চলছে। রাস্তা ঘাটে মাঠে ময়দানে তত্ত্বে তর্কে আড্ডায় বারবার ঘুরে ফিরে এসেছে এই সংঘর্ষের কথা। আর এস এস- এবিভিপি-থিঙ্ক ইন্ডিয়া-সঙ্ঘ সব একসারিতে বসানো যায়... কারণ মোদ্দা এক কথাই বলে... ওরাই শেখায় প্রতিবেশী বন্ধুটির আর একটা পরিচয় সে 'মুসলিম'কিংবা স্ট্যান্ডের কোনায় আলু চপ বিক্রী করা ঐ দাদাটা আসলে মেথর... ওরা শেখায় "যো রামকা নেহি, ও কিসি কামকা নেহি"... ওরাই দেখিয়েছে কিভাবে গ্রামকে গ্রাম মানুষ পুড়িয়ে ফেলা যায়, বিধর্মী মেয়েকে ধর্ষণ করা যায়, বিধর্মীর ভ্রূণ ত্রিশূলের ডগায় নাচানো যায়... ওরা শিখিয়েছে কিভাবে ক্যাম্পাসগুলোতে বিভাজন করা যায় ছাত্র-ছাত্রীদের মধ্যে... কিভাবে গরু খেলে হোস্টেল থেকে পুলিশ তুলে নিয়ে যায় এমনকি পিটিয়ে মেরেও ফেলা যায়... ওরা দেখিয়েছে দলিত দম্পতিকে নগ্ন করে ঘোরানো যায় প্রকাশ্য রাস্তায়, দলিত শিশুকে জীবন্ত পুড়িয়ে মারা যায়... আজ আবার ওরা আসছে আমাদের যাদবপুরের মাঠে, আমাদের প্রতিরোধ কে বিকৃত করে সিনেমায় দেখাতে... আমরা অনেক দেখেছি, অনেক কিছুই দেখে চলেছি, কিন্তু আর না... ওদিকে রোহিথের সাথীরা লড়ছে, সেদিকে না খেয়ে জেএনইউ তে সাথীরা ওদের নামানো আগ্রাসনের বিরুদ্ধে লড়ছে... কাশ্মীর লড়ছে... আসামের ছাত্রছাত্রীরা লড়ছে... আমরাও লড়ছি লড়বো...আমাদের যাদবপুরের চৌহদ্দিকে বাঁচাবো আমরা আমাদের প্রতিরোধ দিয়ে-চিন্তন দিয়ে- সৃজনশীলতা দিয়ে- আদর্শ দিয়ে। ওদের জায়গা হবে না যাদবপুরে... এটা আজ আমরা শেখাবো ওদের। তাই সকলে চলে এসো আজ বিকেল চারটের সময়, ক্যাম্পাসে দেখা হচ্ছে।

    যাদবপুর শিক্ষা দেয় ডাক পাঠায় আঘাত যদি নেমে আসে পাল্টা আঘাত ফিরিয়ে দাও...

    Anjan MayraSamir RanaTanumoy KarmakarAnupam HalderTitir ChakrabortyAnit DebnathJoy DipJoy GhoshChandrodoy MondalPriyasmita HokkolorobDebojyoti SarkarAyan ChakrabortyAyan MandalSayantan MukhutyAniket ChatterjeeSampa OraonSumita SumiSumIta Bose ChaudhuriSuman RajakJuni GhoshTrishnika Bhowmick

    https://www.facebook.com/events/991156614265044/

    MAY6

    Interested

    Rise Against Fascism

    Fri 4 PM · Science-Arts More, Jadavpur University


    इसलिए सभी तबकों के लोगों को साथ लेकर साझे टूल्हे की विरासत के मुताबिक पासिज्म के खिलाफ सारी शक्तियों को भारत ही नहीं,विश्वभर में लामबंद करना हमारा अनिवार्य कार्यभार है।


    गौरतलब है कि टेड क्रूज़ ने डोनाल्ड ट्रंप का रास्ता साफ कर दिया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार क्रूज़ रिपब्लिकन पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी हासिल करने की दौड़ से हट गए हैं। खबर है कि इंडियाना प्राइमरी में डोनाल्ड ट्रंप के हाथों हार का सामना करने के बाद टेड क्रूज ने राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी से हटने की निर्णय लिया है। टेड क्रूज़ के इस कदम से न्यूयॉर्क के बिज़नेसमैन डोनाल्ड ट्रंप का रिपब्लिकन पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी पर मुहर लगना अब लगभग तय माना जा रहा है।


    जाहिर है कि अमेरिका में कुछ ऐसा हुआ है, जिसके बारे में कुछ महीने पहले सोचना भी नामुमकिन था। डोनाल्ड ट्रंप सचमुच राष्ट्रपति पद के लिए रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार बन जाएंगे, इसका भरोसा शायद उनको भी नहीं होगा। लेकिन अब इसकी सिर्फ औपचारिक घोषणा ही बाकी है। उम्मीदवार चुनने की प्रक्रिया के तहत इंडियाना राज्य में उन्होंने निटकतम प्रतिद्वंद्वी टेड क्रूज को 15 फीसदी वोटों के अंतर से हराया। इसके बाद क्रूज ने उम्मीदवारी की दौड़ से हटने का एलान कर दिया। हालांकि जॉन कसिच अभी भी मैदान में हैं, लेकिन ट्रंफ से उनका फासला इतना चौड़ा है कि उसके पटने की संभावना नहीं है। न्यूयॉर्क के अरबपति व्यापारी ट्रंप कभी किसी सरकारी पद पर नहीं रहे। उम्मीदवारी की होड़ के दौरान उन्होंने विदेशी विरोधी एवं इस्लाम विरोधी उग्रवादी बातें कहीं। अमेरिका को वे विश्व मामलों से अलग-थलग करना चाहते हैँ। चीन के घोर विरोधी हैं, जबकि रूस के अधिनायकवादी राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन की खुलेआम प्रशंसा करते हैं।

    "अमेरिका को फिर महान बनाने"का सपना उन्होंने देश के धुर दक्षिणपंथी और कंजरवेटिव जन-समूहों को दिखाया है। मगर ऐसा कैसे करेंगे, इसका कोई ठोस एजेंडा सामने नहीं रखा है। उनके बेकाबू अंदाज का असर यह है कि क्लिंटन परिवार एवं डेमोक्रेटिक पार्टी के खिलाफ अभियानों में करोड़ों डॉलर खर्च करने वाले अरबपति उद्योगपति चार्ल्स कोच ने अब संकेत दिया है कि ट्रंप के मुकाबले वे हिलेरी क्लिंटन को ह्वाइट हाउस में देखना पसंद करेंगे। ऐसे बयान कई परंपरावादी रिपब्लिकन नेताओं ने भी दिए हैं।

    इसी कारण इंडियाना में ट्रंप की जीत के बाद कंजरवेटिव थिंक टैंक इथिक्स एंड पब्लिक पॉलिसी सेंटर से जुड़े विश्लेषक हेनरी ऑलसेन ने कहा- "मैं एक 160 साल पुरानी राजनीतिक पार्टी को आत्म-हत्या करते देख रहा हूं।"चूंकि अब यह भी लगभग है कि मध्यमार्गी मानी जाने वालीं हिलेरी क्लिंटन डेमोक्रेटिक पार्टी की उम्मीदवार होंगी, तो यह संभावना प्रबल हो गई है कि रिपब्लिकन पार्टी का एक बड़ा तबका नवंबर में होने वाले चुनाव में उनकी तरफ चला जाए। इस बीच यह चर्चा अभी जारी है कि रिपब्लिकन पार्टी का एक धड़ा अपना अलग उम्मीदवार मैदान में उतार सकता है। ये तमाम आकलन ट्रंप के लिए अच्छे संकेत नहीं हैं। मगर ट्रंप ऐसे विश्लेषणों के आधार पर उम्मीदवार नहीं बने हैं। जो तूफान वे रिपब्लिकन पार्टी में ले आए, वैसा ही नज़ारा वे राष्ट्रपति चुनाव में नहीं बना देंगे- यह अभी कोई पूरे भरोसे से नहीं कह सकता।



    डोनाल्ड ट्रंप इंडियाना प्राइमरी चुनाव में जीत का परचम लहराने के साथ ही अमेरिका के राष्ट्रपति पद के चुनाव में संभावित रिपब्लिकन उम्मीदवार बन गए हैं। ट्रंप ने जब राजनीति में कदम रखा था और पिछले वर्ष जून में राष्ट्रपति पद के चुनाव में पार्टी उम्मीदवार बनने की अपनी दावेदारी पेश की थी तब किसी राजनीतिक विशेषज्ञ ने यह नहीं सोचा था कि वह इस दौड में इतना आगे पहुंच जाएंगे।


    ट्रंप ने इंडियाना प्राइमरी चुनाव जीतने के बाद अपने समर्थकों से कहा, ''मैं रिपब्लिकन पार्टी का संभावित उम्मीदवार बनकर सम्मानित महसूस कर रहा हूं. यह हमारी पार्टी को एकजुट करने और हिलेरी क्लिंटन को शिकस्त देने का समय है।' ट्रंप को 52 प्रतिशत से भी अधिक मत मिले. उनके मुख्य प्रतिद्वंद्वी सीनेटर टेड क्रूज उनसे 16 अंकों से भी अधिक के अंतर से पीछे रहे। क्रूज ने बाद में रिपब्लिकन उम्मीदवार बनने की दौड से अपनी दावेदारी वापस लेने की घोषणा की। इसके कुछ ही देर बाद रिपब्लिकन नेशनल कमेटी (आरएनसी) के अध्यक्ष्य रींसे प्रीबस ने कहा कि ट्रंप संभावित उम्मीदवार होंगे।


    बहरहाल अपनी ही पार्टी में डोनाल्ड ट्रंप की लोकप्रियता कम हैं। इससे पहले क्रूज़ ने ट्रंप को झूठा बताया था और कहा था कि वह राष्ट्रपति बनने लायक नहीं हैं। जैसे ही इंडियाना में नतीजे सामने आने लगे क्रूज़ के सलाहकारों ने कहा कि ट्रंप को उम्मीदवारी की रेस में रोकना कठिन है। वोटरों ने हमपर उम्मीद नहीं जताई है। क्रूज़ ने कहा है कि वो बिना मन के देश के भविष्य को लेकर सकारात्मक सोच के साथ अपने प्रचार को आगे नहीं बढा रहे हैं और अपना प्रचार यहीं रोक रहे हैं।


    गौरतलब है कि मंगलवार को क्रूज़ और ट्रंप के बीच ज़ुबानी जंग और तीखी हो गई थी जब क्रूज़ ने ट्रंप पर हमला करते हुए उन्हें पूरी तरह से नीतिहीन और झूठा करार दिया था। ट्रंप ने जवाब में कहा था कि टेड क्रूज़ अपने नाकाम अभियान को बचाने के दौरान हताश हो गए हैं।


    Indomitable Jadavpur (অপরাজেয় যাদবপুর)


    Yesterday Jadavpur University faced an unprecedented attack on its campus and the students. The ABVP arranged a program on the campus with help of few insiders to screen an upcoming movie "Buddha in a traffic Jam" by Vivek Agnihotri. Now, the movie itself a debatable one for its misrepresentation of the tribal resistance against neoliberal attacks and the attacks on Dalits on behalf of the state. However, the students of JU, did not have a problem in screening of the particular film as the community largely believes in democratic space of the campus and the right to freedom of speech. The students arranged a different screening to show 'Muzaffarnagar Baki Hein'. But at the start of the ABVP arranged event, we suddenly saw a rush of outsiders into the campus and when the students came up with their criticism towards Vivek's role in current past to defend the central government's various fascist attacks on the people, they were attacked by the outsider ABVP goons. The female students including a female journalist got molested, they were threatened and sexually abused. They also tried to stop the screening of "Muzaffarnagar" as it is 'anti-national' according to their ideas. Not only that, when the students retaliated and caught four of the alleged molestors and decided to hand them over to police, again hundreds of RSS BJP cadres gathered outside the campus and constantly threatened the officials and the students.

    This is happening in the same pattern as we witnessed in JNU, HCU and FTII. The students of this country are facing the fascist rage directly and since they are trying to confront their ideas and challenging their role in education, so the students everywhere in this country are getting threatened, beaten up even murdered. We have not forgotten the institutional murder of Rohith or the false victimization of the students in JNU. Today, JU is also facing same kind of planned fascist attacks on its autonomous space,

    So we appeal the student community of this state to join us in a RALLY, tomorrow(7th may), 5 pm, gather in JU Playground to protest against such kind of fascist makeover of the educational institutions.

    Aritra Anto-bihin's photo.

    ভিভেক অগ্নিহোত্রী আপনি তো সাধারণ ছাত্রছাত্রীদের শান্তিপূর্ণ ঘেরাও, বিক্ষোভ এ ভয় পেয়ে গিয়ে লেজ গুটিয়ে গাড়ীর ভেতরেই বসে রইলেন, সেই মাঠে গিয়ে ABVP'র চামচা দের নিরাপত্তায় গাড়ি থেকে নামলেন। তারপর, চলে যাওয়ার সময় ও তো মাঠ থেকে পায়ে হেঁটে বেড়ানোর হিম্মত নেই তাই মাঠে গাড়ি ঢুকিয়ে তাতে চেপে পালালেন। আর এখন twitter এ ঢপ মারছেন যে আপনার কাঁধ ভেঙ্গে দিয়েছে স্টুডেন্টরা, আপনার গাড়ি ভেঙ্গে দিয়েছে স্টুডেন্টরা? Buddha in a traffic jam এর মতো ভাঁটের ছবি তৈরির সাথে সাথে ঢপ এর ব্যাবসাও করেন নাকি মশাই?



    Suswagata Poria's photo.

    Suswagata Poria

    ·



    Imagine scorching temperature of 40 degree plus, imagine remaining hungry for a day, and then imagine 9 full days of hunger strike (and continuing) during atrocious summer weather. Could most of us have the will or capacity to do this consciously? Yet, so many students at JNU in Delhi are on hunger strike against the unfair punishment meted out by the University administration against progressive students. Rather than be worried about the welfare of ailing students, the VC has been making one arrogant gesture after another calling hunger strike "unlawful" (forgetting that hunger strikes were most prominent tools used against unjust laws and rule by Indian nationalist movement and forgetting that this is a form of protest common in many democracies) and almost mocking the students.

    Let me make it frank, I do not have the courage to do what these young students are doing. I would be lying if I said my solidarity includes simulating their experience. I cannot. I cannot even bear a tiny percentage of pain they are bearing. I don't think most of us can. The least we can do is appreciate their courage and resilience. The least we can do is respect their struggle and hope for their victory (and as Sushmita Verma points out, avoid misplaced criticism - https://www.facebook.com/notes/sushmita-verma/failing-health-of-students-and-misplaced-criticism-by-some-quarters-/10156938725690441).

    Hope for a better world in otherwise nasty cruel world comes from such brave individuals willing to imagine, work, protest, mobilise and not give up. This is what radical democracy looks like (https://www.youtube.com/watch… viaAzhar Amim). Not what many of us in academia write about without ever sweating for a second.

    (Pic via https://www.facebook.com/photo.php?fbid=1120234888040575&set=ms.c.eJxFzlkORFEERdEZVfSH~_U~_s8gj3d4UNs5CoqRkIUvHjAUcDdEErySjEHswK30qyQkvrQHuFaSG4gWQB1I24Ccwffn9EdVRyIfNrOPygBuxNdMP2ivNMmD34oomNOk3U~%3BQ~_poDYC.bps.a.1120234068040657.1073741970.100001622224273&type=3&theater)

    Dibyesh Anand's photo.


    Samim Asgor Ali's photo.

    Samim Asgor Ali's photo.

    Samim Asgor Ali's photo.

    Samim Asgor Ali's photo.

    Samim Asgor Ali's photo.

    +27




    0 0


    Dalits Cry on the Eve of the Ambedkar Festival

    Anand Teltumbde (tanandraj@gmail.com) is a writer, academic and civil rights activist.

    The more than four-month-long Bhim Yatra that culminated a day before the 125th birth celebrations of B R Ambedkar highlighted the pitiable conditions of the most downtrodden of the Dalits, the manual scavengers. While there are a slew of laws to check manual scavenging, they remain largely on paper. The Dalit leadership has also ignored the plight of manual scavengers.

    As the world readied for the gala celebration of the 125th birth anniversary of Babasaheb Ambedkar, a section of Dalits who work as manual scavengers gathered in the capital. They had marched 3,500 km, starting at Dibrugarh in Assam more than four months ago. Traversing 500 districts in 30 states over 125 days, the manual scavengers' march, called the Bhim Yatra, reached Jantar Mantar in New Delhi on 13 April 2016.

    The Dalits had rallied under the banner of Safai Karmachari Andolan (SKA) and their cry of anguish, "Do Not Kill Us," referred to more than 22,000 unsung deaths of sanitation workers every year—incidentally acknowledged by the Bharatiya Janata Party Member of Parliament, Tarun Vijay, in the Rajya Sabha, just the previous month. With tears flowing down their cheeks and in choking voices, several children narrated horrific tales of their kith and kin falling victims to this noxious practice. The stories symptomised a terrible paradox. While Ambedkar is being lionised as a super icon, the people he lived and fought for have to beg for their basic existence.

    Pervasive Hypocrisy

    The Constitution of India abolished untouchability but did nothing to change the conditions that reproduce it. The safai karamcharis, who had marched to Delhi, suffer untouchability in its worst form. They are untouchables not only to the caste Hindus but even to other Dalit castes. Gandhi, notwithstanding his regressive views on the matter, had rightly identified Bhangi (caste identified with manual scavenging) as the representative of Dalits and posed himself as one to make his point. He lived in a Bhangi colony to show his love for them. It was imperative that the state swearing by Gandhi should have given top priority to outlawing this dehumanising work and rehabilitating people engaged in it. But it chose to dodge the issue with its pet strategy of launching committees and commissions which while exhibiting concern about manual scavenging also deferred dealing with it for 46 years.

    This game had begun as early as 1949 and continues even today. In 1949, the then government of Bombay appointed a committee, the Scavengers' Living Conditions Enquiry Committee, headed by V N Barve, to enquire into the living conditions of the scavengers and suggest ways to ameliorate them. The committee submitted its report in 1952. In 1955, the Ministry of Home Affairs (MHA) circulated a copy of the major recommendations of this committee to all the state governments and asked them to adopt them. However, nothing happened.

    In 1957, the MHA set up a committee headed by N R Malkani to prepare a scheme to put an end to the practice of scavenging. The committee submitted its report in 1960; it asked the central and state governments to jointly draw up a phased programme for implementing its recommendations so as to end manual scavenging within the Third Five Year Plan. Nothing came of these recommendations too.

    In 1965, the government appointed another committee to look into the matter. The committee recommended the dismantling of the hereditary task structure under which non-municipalised cleaning of private latrines was passed on from generation to generation of scavengers. This report also went into cold storage. In 1968–69, the National Commission on Labour recommended a comprehensive legislation for regulating the working, service and living conditions of scavengers. During the Gandhi Centenary Year (1969), a special programme for converting dry latrines to water-borne flush latrines was undertaken but it failed at the pilot stage itself. In 1980, the MHA introduced a scheme for conversion of dry latrines into sanitary latrines and rehabilitation of liberated scavengers and their dependents in selected towns by employing them in dignified occupations. In 1985, the scheme was transferred from MHA to the Ministry of Welfare. In 1991, the Planning Commission bifurcated the scheme: the Ministries of Urban Development and Rural Development were made responsible for conversion of dry latrines and the Ministry of Welfare (renamed Ministry of Social Justice and Empowerment in May 1999) was given the task of rehabilitating scavengers. In 1992, the Ministry of Welfare introduced National Scheme for Liberation and Rehabilitation of Scavengers (NSLRS) and their Dependents but that too had little effect.

    Criminal Neglect

    Articles 14, 17, 21 and 23 of the Constitution could be counted upon to stop the practice of manual scavenging. For instance, Section 7A and 15A of the Protection of Civil Rights Act, 1955 (formerly known as the Untouchability (Offences) Act, 1955), enacted to implement Article 17, provided for the liberation of scavengers as well as stipulating punishment for those continuing to engage scavengers. As such, one could argue that there was no need for the Employment of Manual Scavengers and Construction of Dry Latrines (Prohibition) Act, 1993. This act had received the presidential assent on 5 June 1993, but remained unpublished in the Gazette of India until 1997. No state promulgated it until 2000. Irked by the persistent inaction by the government, the SKA, started by the children of the Safai Kamgars in 1994, along with six other civil society organisations and seven people belonging to the community of manual scavengers, filed a public interest litigation (PIL) in the Supreme Court in December 2003. The PIL called for contempt proceeding against the government. The denial mode of the various state governments had to be countered by the SKA with voluminous data during a 12-year battle that culminated in a sympathetic judgment on 27 March 2014.

    The Court inter alia directed the government to give compensation of ₹10 lakh to next-of-kin of each manual scavenger who died on duty (including sewer cleaning) since 1993. The Bhim Yatra documented 1,268 such deaths; only 18 of the deceased had received compensation.

    Parliament has also passed another act, the Prohibition of Employment as Manual Scavengers and Their Rehabilitation Act, 2013. But nothing has moved on the ground. While the state governments had gone on denial spree after promulgation of the 1993 Act, the 2011 Census of India found 794,000 cases of manual scavenging across India. The biggest violator of this law are the government's own departments. Toilets of train carriages of the Indian Railways, for example, drop excreta on tracks, which is manually cleaned by scavengers. The Prime Minister, who pompously declared India to be scavenger free by 2019 as part of his Swachh Bharat Abhiyan, and spoke of getting a bullet train network in India, could not even indicate a deadline by which the railways would replace all current toilets with bio-toilets.

    Why This Apathy?

    The lack of political will is evident in the statement of the central government, apparently in response to the SKA's Bhim Yatra, on 19 April that it could not receive data from the states and would directly survey the incidence of manual scavenging in the country. It does not require much intelligence to surmise that this survey would buy the government another decade to wear out the struggling safai karmacharis. But why should the government that dreams of playing a leading role in world affairs choose to live with such abiding shame? It is not a very difficult question. Political will in India is informed by electoral logic. The minuscule community of the scavengers is hopelessly fragmented, ghettoised at every locale, detached from not only the larger society but even the Dalit community. Unto itself, the community is insignificant in the electoral schema of any political party. The only deterrence for the ruling classes is that it is a national embarrassment—as untouchability was for early reformers. Like untouchability, the custom of manual scavenging is tied up with the feudal culture, the threatening of which meant incurring displeasure of the majority community.

    While understanding the ruling class attitude to the problem is simple, more intriguing is the apathy of the Dalit movement towards the manual scavengers. The mainstream Dalit movement has never really taken up the issue of manual scavenging with any seriousness. The pivotal strategy of the Dalit movement has been representation. Ambedkar struggled to get reservation in politics and thereafter instituted it in public employment (education being prerequisite for employment). He expected that the Dalit politicians would protect political interests of the masses from the community and the educated Dalits entering bureaucracy could provide a protective cover for the labouring masses. There was no direct engagement with the material problems of the Dalit masses. It is therefore that reservations became the sole concern of the Dalit movement, which has distanced from issues relating with the labouring Dalits. The middle class that came into existence among Dalits over the last seven decades, virtually got detached from the Dalit masses.

    It is revealing that in the Bhim Yatra, while Ambedkar was an imposing presence as an inspiring icon, the "Ambedkarites" were absent. Notable progressive individuals registered their solidarity with the struggle of the poor scavengers but the self-proclaimed Ambedkarites were conspicuous by their absence.

    - See more at: http://www.epw.in/journal/2016/19/margin-speak/dalits-cry-eve-ambedkar-festival.html#sthash.ibC0V6sZ.dpuf

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

older | 1 | .... | 267 | 268 | (Page 269) | 270 | 271 | .... | 303 | newer