Are you the publisher? Claim or contact us about this channel


Embed this content in your HTML

Search

Report adult content:

click to rate:

Account: (login)

More Channels


Channel Catalog


Channel Description:

This is my Real Life Story: Troubled Galaxy Destroyed Dreams. It is hightime that I should share my life with you all. So that something may be done to save this Galaxy. Please write to: bangasanskriti.sahityasammilani@gmail.comThis Blog is all about Black Untouchables,Indigenous, Aboriginal People worldwide, Refugees, Persecuted nationalities, Minorities and golbal RESISTANCE.

older | 1 | .... | 248 | 249 | (Page 250) | 251 | 252 | .... | 303 | newer

    0 0



    Declassify to demystify  

     

    By Vidya Bhushan Rawat

     

    It is not surprising that political parties are vying to magnify the mystery that has been continuously allowed around Subhash Chandra Bose, who definitely enjoys an iconic status in the minds of Indians apart from Ambedkar, Bhagat Singh and to some extent Gandhi also. The successive governments of India have kept the public in dark regarding the mysterious disappearance of Subhash Chandra Bose after the defeat of the fascist forces led by Japan and Germany. Many people employ this mystery to further their political agenda.


    Sangh Parivar has been viciously following an agenda to coopt all those political icons of our nationalist movement who did not belong to the Nehru family.  So Sardar Patel became 'their' icon because he differed with Nehru. After Patel, they went on a mission to coopt Ambedkar with their double tongue, but they knew well they couldn't appropriate Ambedkar – an ideologically impossible task – hence they proposed building memorials and using Ambedkar's differences with Nehru and his writings on Muslims. The problem was that RSS and its various followers in the government did not allow Ambedkar's biography and the 22 vows that it had, to be shared with young students in secondary schools of Gujarat, fearing upper caste 'backlash'. Now with Rohith Vemula's death in the University of Hyderabad campus, the party cannot expect Dalit votes. In fact, one should not be surprised if a large part of OBC ditches BJP this time in states along with Dalits.


    Subhash Chandra Bose is another and perhaps the last resort of the Sangh Parivar in attempting to discredit Nehru and his legacy. Hence the threat of declassifying files related to his death or disappearance. We all know how Indians have made Subhash's disappearance into a political 'dhandhebaaji', particularly West Bengal where they have no time to discuss what ails the state and how they are going to develop it. Subhash Babu's political ideology was much more secular than any of these leaders that we have today, but they don't want to discuss his ideology. They want to discuss his death and how best they can use his death's mystery to discredit their political opponents and mobilise people for their own political agenda. Problem is that our government has not declassified all the files. It is doing things in a planned manner so that it can get political mileage from it, which is very unlikely. Why did it need to declassify files in a serialized way over several months? The West Bengal elections are round the corner and BJP is not in a straight fight with Congress. Mamata has proved that she can handle BJP in in a much better way, despite the fact that some of Subhash Bose's relatives have joined the party, but it is not going to pay electorally.


    Last year West Bengal chief minister Mamata Banerjee declassified about 64 files which were made available to media and common persons. People could read what was happening at that time and why Subhash and his family were being 'snooped'. The current dispensation at the centre has used the Netaji files bogey to undermine Jawahar Lal Nehru but when they came to power, they refused to release the files to public in the name of 'national interest'. After Mamata Banerjee declassified the files there was mounting pressure on the central government to release those documents. Before they could do anything, the Sangh Parivar launched its own rumor Photoshop machine to discredit Nehru. The government has released the document on Netaji's birthday on 23rdJanuary and 'found' nothing except a forged letter of Nehru to British Prime Minister Attlee. As history is not the forte of Sangh Parivar, we can see glaring technical mistakes in the letter including spelling and other grammatical errors. The who historians who have known Nehru vouch that such a superficial letter couldn't have been written by him, and that too, without putting his signature. It is unfortunate the media jumped into it and some 'devotee' reporters of India Today group put the letter on their website as a 'credible' leak of the declassified files. Later, the same journalists actually withdrew it from the website without officially apologizing for the glaring mistake. The way this government is going on its one point programme of discrediting Nehru through using his differences with other political leaders of his time is brazen-facedly shameless and needs to be condemned.


    Netaji Subhash Chandra Bose is one of the most respected national heroes of our country. There is no doubt that from childhood our children have loved to see him as a symbol of 'military' power or discipline, though in any matured democratic society such a figure would be despised for political leadership. One can only imagine what would have happened if Netaji had become the prime minister after independence. Would we be a democracy as we are now? Netaji himself said in numerous interviews that India did not need democracy and it must come under dictatorship for a few decades. Many people feel that he was right because democracy has now given opportunities to so many people, who India's upper castes feel deserve to be banged and treated as untouchables and shudras. For these 'devotees', such voices need to be crushed and do not deserve 'democracy'. 'Democracy' is becoming the biggest problem for caste Hindus as they feel that 'unmeritorious' people are now ruling us and on these occasions they love to quote Subhash Babu saying that India should have been put under dictatorship for first 30 years to teach all of us a lesson.


    It is important to understand that political differences are bound to happen and despite that people had deep respect for each other. Sanghis now realize that opposing Gandhi would be quite dangerous for them as at the end of the day we are 'witnessing' Gandhi's Ramrajya today. Gandhi 'empowered' the caste Hindus one hundred percent so that they acquire all the spaces available hence for Sangh nothing can be as important as Gandhi to promote their Hindutva agenda. However, the biggest 'obstacle' in their 'path' is Nehru who despite his many 'faults' still remain popular with intelligentsia if not with the masses. There is however another factor that after coming to power the publication of 'Why I killed Gandhi' written by his murderer Nathu Ram Godse have surfaced widely along with 'Meinkampf' of Adolf Hitler, another fascist and 'inspiration' for many in the Hindutva family. 

    These are not just 'co-incidences but well planned attempts to threaten people and indicate who are in power in India today.


    There is nothing wrong in 'disclosure' of important documents as it is of immense use for the students of history to understand the situation in which leaders functioned, though most of these 'classified' documents are mostly 'intelligence reports' which are more or less 'political gossips' and nothing beyond that, in the case of political opponents. It is not that all of these 'gossips' are incorrect but most of these stories are basically based on hearsay and suggest 'movement' or 'whereabouts', correspondence and communications of the person being 'snooped'.  However, the case of Subhash Chandra Bose is different as he is almost 'worshipped' as an icon in India, his 'military' image is still loved by people and therefore his 'sudden disappearance' needs to be 'investigated' or 'exposed'. Was he killed in an air crash? If not then whose 'ashes' are there in Runkoji temple of Japan? If he was not killed then where was he and how come the government not able to locate him? If he was alive and living like a 'saint' then why he did not come openly and speak? What were his fears? A leader like him who challenged Gandhi when the latter was a 'God' will never ever hide in ignominy. Subhash was not the person who could have lived like an unknown person and his commitment for the nation and differences with Gandhian approach compelled to him to tread the most dangerous path of even approach the 'axis of evils' as the terminology used for the fascist powers.


    It is understandable that after the defeat of the 'fascist forces' in the World War II things would have become highly difficult for any one closely associated with those forces and Subhash's open association with Germany and Japan would not have saved him from prosecution internationally. These facts are not known to a majority of Indians - how Japan and Germany were tamed in the Second World War and how their leaders faced international trial against all kind of oppression and execution of innocents. Fortunately, public opinion has now widely built in these societies against fascism and militarism, which was witnessed recently in Japan when people protested against the attempt of the government to revive its armed forces.  There is too much liberalism in Indian circle regarding Subhash Chandra Bose. We are unable to inform our young that after the defeat of Germany, Japan and Italy the rulers of these countries faced trials and all those who allied with them faced trial and were declared war criminals. Was Netaji a war criminal? So far no documents suggest that. The forged letter of Nehru to British Prime Minister Atlee suggest that as RSS wanted to tell Indians that Nehru tried to make Subhash Bose a 'war criminal' to fulfill his political agenda in India. This is too petty a talk as Nehru stood for Azad Hind Fauz in trials in Delhi and Congress Party was supporting to Bose's wife and daughter an amount of Rs 6000 per month according to these files.  There is nothing wrong but we must make assumption that if he were alive, he might have faced the criminal charges of associating with the fascist forces. We must understand that India was a new nation that time and had no world standing as it claims today even when Nehru was an international icon of his time.


    There are two issues. One is which most of the people agreed that Subhash Chandra Bose had died in air crash. Those who don't want to believe in the death at the aircrash there should tell why he disappeared and remain silent. We believe a man like Subhash Chandra Bose could never have remained silent in the harshest adversity.

    There is no doubt that Subhash Bose's association with Germans and Japanese had nothing to do with their fascist minds but more with his zeal to liberate India, but it is also a fact that he never wanted India as a democracy for the first thirty years which was a very dangerous thought and the caste system would have continued to be here oppressing the Dalits and shudras. Netaji felt that India had not been an 'educated' society and hence didn't need democracy. Who would have been the victim of the 'dictatorship' of Netaji?


    Since August 15th 1947 till October 31st, 1950 when Sardar Vallabh Bhai Patel passed away, he remained India's deputy prime minister and home minister. The Sardar had many differences with Nehru and definitely was an independent home minister. Why didn't Sardar order his intelligence officials to stop the 'snooping' of Netaji?  When Sangh Parivar is blaming Nehru for every evil against Netaji, let some more brazen facts come into open and uncomfortable questions asked. There is no denial of the fact that Netaji and other political leaders must have been under snooping by the British Intelligence and after the World War was over the 'friendly nations' must have launched operations to find out all those who were associates of Germany and Japan. It might be possible that those orders of the past were simply carried forwards by the officials. It is same that despite our new constitution drafted by Baba Saheb Ambedkar, most of our acts remain of the nineteenth century, which have not been amended till date. Land Act of 1894 got changed in 2013 after huge public outcry against land acquisition hence it is very much possible that the legacy of the Raj continued till several years later. The only possibility was that the Home Minister of the time must have come under the knowledge of this snooping and should have taken a decision but given the international scenario and India a newly independent nation, it would be have been difficult for any government to act courageously and seek information about Netaji from other countries. Whatever be the reason it is important to understand through the files whether the government of newly independent India ordered any 'snooping' of Netaji's family and his connections, or it was just an ongoing thing, but no one can deny the fact that the nation's Home Minister must have been in the know-how of the case.


    The relations between Sardar Patel and Subhash Chandra Bose are well known but need to be explored further. It is said that Netaji was very close to Patel family, and his brother has donated some land to him through his will, but the will was challenged by Sardar Patel as fictitious and got it nullified from the court. It means that the relations between Subhash Chandra Bose and Sardar Patel were not cordial. Contrary to it, Jawahar Lal Nehru stood as a lawyer for the captured soldiers of Azad Hind Fauz. He remained a good friend of the family for years and many people of Netaji's family were members of the Congress Party. It is not that Nehru and Netaji might not have had differences and egos. All the leaders during the freedom movement right from Mohammad Ali Jinnah to Subhash, Nehru, Ambedkar were leaders of great understanding and therefore differences, but it is certain that it did not come in their way as all of them were men of caliber, character and commitment to the people.


    Hence it would be sad if petty politicians and parties, who had nothing to do with India's freedom movement, are allowed to use this opportunity simply because the parties are afraid of Nehru and his 'modernism'. Is Nehru's legacy so dirty and forgetful that each time we find a new controversy, we have to involve him?


    It has also come to public domain that Subhash had highly despised the idea of Shayama Prasad Mukherjee to float Hindu Mahasabha, to the extent of opposing it violently. Subhash was a thoroughly secular man and his Azad Hind Fauz had people from different communities including Dalits. His Azad Hind Fauz had not only battalion in the name of Gandhi but also of Nehru and Rani Lakshmi Bai. Indian army has now ventured to make women part of its structure in combat zones but Subhash had deep trust in them back in the day and therefore Captain Lakshmi Sehgal was chief of his women's wing. Even when he associated with Nazis, Subhash Chandra Bose remains icon of a pluralistic secular socialist India.  His personal life cannot be role model for RSS. A man who made Col Shahnawaz Khan his deputy in the Azad Hind Fauz, who brought women in his forces, who believed in India's pluralist traditions can't be a model for Sangh Parivar. All attempts to coopt Subhash Chandra Bose into the Sangh family will fail and will not bring any political result for them. Historical figures should be analysed, critiqued and reevaluated without creating a mystical halo around them. India must disband official secret act and all the files of the government must be made public after 30 years and there should not be any politics behind it. We should allow historians, political scientists of all variety to analyse them but not play dirt with their decisions and actions. Throwing muds at historical figure through rumours and planted stories must stop henceforth in the greater interest of the nation and society.


    Subhash Chandra Bose's idealism of socialism and secularism are important for India. His commitment to serve Indian people need to be appreciated. He contributed to our freedom more than any one else as Baba Saheb Ambedkar said in one of his interviews with BBC London. Subhash Bose did make mistake but none can question his love for his motherland. None can ever suggest that his idea of India was exclusive replica of the Chitpawan Brahmin owned Sangh Parivar. Those who want to mystify Subhash Chandra Bose are his biggest adversaries, as we will get nothing to continuously debating his death rather than his ideas for India's betterment. Yes, historians have been very liberal to him about his commitments to India but we also need to analyse what would have happened if the fascist forces had won. Our children need to know about the dangers of all those fascist powers who believed in racial superiority and killed people in the name of their identities but at the same point of time it must be made known to our people and history proves that Subhash's idea of India was always inclusive, pro people and absolutely socialist which the Hindutva ideologues despite today.

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Rihai Manch : For Resistance Against Repression
    ---------------------------------------------------------------------------------
    बीबीएयू के वीसी, प्राॅक्टर और डीएसडब्लू पर दलित ऐक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर उन्हें जेल भेजा जाए- रिहाई मंच
    मोदी का विरोध करने वाले दलित छात्रों को परेशान किया गया तो होगा बड़ा आंदोलन
    कमल जायसवाल दलित विरोधी मनुवादी कुंठा से बीमार, उन्हें करानी चाहिए काउंसिलिंग



    लखनऊ 25 जनवरी 2016। रिहाई मंच ने अम्बेडकर विश्वविद्यालय में विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा जातिवादी स्वर्ण छात्रों को इकठ्ठा कर नरेंद्र मोदी का विरोध करने वालों के खिलाफ प्रदर्शन करवाने को संघ परिवार के दलित विरोधी एजंेडे को लागू करने का सबसे घिनौना उदाहरण बताया है। मंच ने चेतावनी दी है कि अगर विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा मोदी का विरोध करने वाले छात्रों की डिग्री देने में आनाकानी की गई या उन्हें किसी भी तरह से परेशान किया गया तो बड़ा आंदोलन चलाया जाएगा।

    लाटूश रोड स्थित रिहाई मंच कार्यालय पर इस प्रकरण पर आयोजित बैठक में मंच के प्रवक्ता शाहनवाज आलम ने कहा कि जिस तरह अम्बेडकर विश्वविद्यालय के प्राॅक्टर कमल जायसवाल और डीएसडब्लू रिपुसूदन सिंह ने 'मोदी गो बैक'का नारा लगाने वाले दलित छात्रों के खिलाफ स्वर्ण जागरण मंच का बैनर लगाया और एबीवीपी से जुड़े दलित विरोधी तत्वों को बुलवाकर दलित छात्रों के खिलाफ प्रदर्शन किया वह साबित करता है कि विश्वविद्यालय प्रशासन मनु का दलित विरोधी एजेंडा लागू करने पर उतारू है। उन्होंने इस दलित विरोधी आयोजन की स्वीकृति देने वाले वाइसचांसलर प्रो0 आरसी सोबती, प्रोक्टर और डीएसडब्लू को तत्काल निलम्बित करने की मांग करते हुए कहा कि इन तीनों दलित विरोधी अपराधियों ने जिस तरह से जातिवादी स्वर्ण छात्रों को इकठ्ठा किया, जातिवादी बैनर लगाए और दलितों के लिए बनाए गए सिद्धार्थ छात्रावास में जुलूस ले जाकर दलित विरोधी नारे लगाते हुए उन्हें डराया गया वह एक आपराधिक कृत्य है। जिसके खिलाफ इन तीनों समेत वहां मौजूद छात्रों को शिनाख्त करके उन पर दलित ऐक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर उन्हें जेल भेजा जाना चाहिए।

    बैठक को सम्बोधित करते हुए रिहाई मंच नेता राजीव यादव ने कहा कि इस पूरे मसले पर जिस तरह प्राॅक्टर कमल जायसवाल बयान दे रहे हैं कि अगर विरोध नहीं हुआ होता तो मोदी विश्वविद्यालय को कुछ दे कर जाते, वह कमल जायसवाल के लालची स्वभाव को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालयों की भूमिका चरित्र निमार्ण की होनी चाहिए जो छात्रों को अपने अधिकारों और इंसाफ की रक्षा के लिए आवाज उठाने की सीख दे ना कि उन्हें लालची और दलाल बनाए। राजीव यादव ने कहा कि इस मसले पर चैतरफा निंदा झेल रहा विश्वविद्यालय प्रशासन अब कैम्पस के अंदर दलितों के खिलाफ पिछड़ी जातियों को खड़ा करने की साजिश रच रहा है और इसीलिए बीबीएयू में दलितों के 50 प्रतिशत आरक्षण में कटौती कर पिछड़ों को देने की बहस चला रहा है। जबकि बीबीएयू में दलितों को 50 प्रतिशत आरक्षण संवैधानिक प्रावधान के तहत दिया जाता है जिसे किसी भी कीमत पर नहीं खत्म किया जा सकता। उन्होंने प्राॅक्टर कमल जायसवाल द्वारा छात्रों की काउंसिलिंग करने की खबर पर टिप्पणी की कि कांउसिलिंग की जरूरत कमल जायसवाल जैसे लोगों को है जो दलित विरोधी मनुवादी कंुठा से बीमार हैं। वहीं मंच के नेता शबरोज मोहम्मदी ने बीबीएयू प्रशासन को चेतावनी दी कि अगर मोदी का विरोध करने वाले दलित छात्रों को किसी भी तरह से परेशान किया गया या उनकी डिग्री रोकने की कोशिश की गई तो इसके खिलाफ व्यापक आंदोलन चलाया जाएगा।

    बैठक में इंसाफ अभियान के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश चैधरी, सामाजिक न्याय मंच के अध्यक्ष राघवेंद्र प्रताप सिंह, शबरोज मोहम्मदी, शरद जायसवाल, हरेराम मिश्र, अनिल यादव, लक्ष्मण प्रसाद, इलाहाबाद हाईकोर्ट के अधिवक्ता संतोष सिंह, शोधार्थी श्रीकांत पांडेय, शकील कुरैशी आदि उपस्थित थे।

    द्वारा जारी-
    शाहनवाज आलम
    (प्रवक्ता, रिहाई मंच)
    09415254919
    ----------------------------------------------------------------------------------------
    Office - 110/46, Harinath Banerjee Street, Naya Gaaon (E), Laatouche Road, Lucknow

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0



    -- 25th January 2015 | Press Release



    Malda Conflicts: Not a Communal Riot Between Two Communities

     

    Preliminary observations of a fact finding team

     

    The violent conflict in Kaliachak of Malda on January 3 seems neither a religious feud nor an attack of one community over the other. The conflict raised at best was a handiwork of some anti-social elements present in the rally protesting against the police. It's they who attacked the police station, and damaged some houses and shops. In the police firing one of them also got gunshot injury. The whole incident was a shameful and a condemned one and completely unjustifiable. However, such an incidence was used to spread hatred and misunderstanding between communities, which is equally condemnable.

     

    It needs to be noted that protests against the remarks of Kamlesh Tiwari, leader of Hindu Mahasabha, about the Prophet Hazrat Muhammad was observed in many corners of the country, including in Araria, Forbesganj, Bessie (Purnia), Katihar etc. in Bihar. In the same regard, the January 3rd protests in Kaliachak, Malda was also organized. However, the way this conflict has been covered in the media especially in some electronic media, its quite disturbing and troublesome.

     

    It was even after ten days of the conflict, that there was still some deliberate confusion with regard to the incident was being spread and a communal angle was being attached that a few members of Jan Jagran Shakti Sangathan (JJSS), an alied member of National Alliance of People's Movements (NAPM), decided to visit the area to understand the reasons behind the conflict.

     

    JJSS constituted a three-member team for the same which comprised of journalist-social activist Mr. Naseeruddin, Mr. Ashish Ranjan and Ms. Shohini Lahiri. The team was guided by Mr. Jishnu Roychowdhury from the Association for Protection of Democratic Rights(APDR). They reached Malda on the 16th of January and returned on 17thJanuary, 2016. The members had a talk with especially those people of the community who were said to be victimised. A summary of their observations and conclusions are being presented here.

     

    Ranjeet Paswan, Kamayani Swami, Ashish Ranjan

     

    For Jan Jagran Shakti Sangathan

    Contact :  9973363664


    ===========================================================


    25th January 2015 | प्रेस विज्ञप्ति


    मालदा के कालियाचक की हिंसा : दो समुदायों केबीच का दंगा नहीं


    कालियाचक के दौरे के बाद जन जागरण शक्ति संगठन कीटीम की शुरुआती रिपोर्ट


    मालदा के कालियाचक में हुई हिंसा, साम्प्रदायिक हिंसा नहीं दिखती है। इसे एक समुदाय का दूसरे समुदाय पर आक्रमण भी नहीं कहा जा सकता है। यह जुलूस में शामिल होने आए हजारों लोगों में से कुछ सौ अपराधिक प्रवृत्ति के लोगों का पुलिस प्रशासन पर हमला था। इसकी जद में एक समुदाय के कुछ घर और दुकान भी आ गए। गोली लगने से इस ही समुदाय का एक युवक जख्मी भी हुआ। पूरी घटना शर्मनाक और निंदनीय हैऐसी घटनाओं का फायदा उठाकर  दो समुदायों के बीच नफरत औरगलतफहमी पैदा की जा सकती हैयह राय मालदा के कालियाचक गई जन जागरण शक्तिसंगठन (जेजेएसएसकी पड़ताल टीम की है।   

    हिन्दू महासभा के कथित नेता कमलेश तिवारी के पैगम्बर हजरत मोहम्मद के बारे में दिए गएविवादास्पद बयान का विरोध देश के कई कोने में हो रहा हैहाल ही में अररियाफारबिसगंज,बैसी (पूर्णिया), कटिहार आदि जगहों पर भी विरोध हुए। इसी सिलसिले में मालदा केकालियाचक  में जनवरी को कई  संगठनों ने मिलकर एक विरोध सभा का आयोजन किया।इसी सभा के दौरान कालियाचक में हिंसा हुई। इस हिंसा को मीडिया खासकर इलेक्ट्रॉनिकमीडिया ने जिस रूप में पेश कियावह काफी चिंताजनक दिख रहा है। इस पर जिस तरह कीबातें हो रही हैंवह भी काफी चिंताजनक हैं।

    10 दिन बाद भी जब कालियाचक की घटना की व्याख्या साम्प्रदायिक शब्दावली में होरही थी तब जन आंदोलनों का राष्ट्रीय समन्वय (एनएपीएमसे सम्बन्ध जन जागरणशक्ति संगठन (जेजेएसएसने तय किया कि वहाँ जाकर देखा जाए कि आखिर क्याहुआ हैजेजेएसएस ने तीन लोगों की एक टीम वहां भेजी। इसमें पत्रकार औरसामाजिक कार्यकर्ता नासिरूद्दीनजेजेएसएस के आशीष रंजन और शोहिनी लाहिरीशामिल थे। मालदा में एसोसिएशन फॉर प्रोटेक्शन ऑफ डेमोक्रेटिक राइट्स (एपीडीआर)के जिशनू राय चौधरी ने इस टीम की मदद की। ये टीम 16 जनवरी को मालदा पहुंचीऔर 17 को वापस आई। 
    टीम ने खासकर उन लोगों से ज्यादा बात की जिनके बारे में कहा जा रहा है कि हिंसा उनके खिलाफ हुई हैइन्होने जो देखा और पाया उसका संक्षेप में शुरुआती ब्योरा यहाँ पेश किया जा रहा है।


    जन जागरण शक्ति संगठन की ओर से 


    रंजीत पासवान            कामायनी स्वामी           आशीष रंजन   
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Students and teachers of NLU-Bangalore condole Rohith Vemula 's death, condemn shrinking democratic space


    fb_img_1453073237283.jpgWe, the concerned students, researchers and teaching faculty, of the National Law School of  University, Bangalore express deep condolences on the sad demise of Mr. Rohith Vemula, a PhD scholar in Science, Technology and Society Studies Programme at the University of Hyderabad (UoH).

    Rohith was one among the five 

    Rohith was one among the five  students who were expelled from their hostels and were not permitted to participate in the student's union elections, enter administration building and other common places in groups on account of an earlier alleged altercation with a member of another student organization in the University. However, in the process, the present administration ignored the discrepancies and inconsistencies in the findings and recommendations of the Proctorial Board. Rohith and his friends were vocal about the instances of caste- on campus, and have been fighting against the insensitive attitude of the administration, which has shown blatant disregard for social justice and human dignity.

    This horrifying incident cannot be viewed in isolation. Our educational institutions are becoming increasingly exclusionary with time. This is also a reflection on the shrinking democratic spaces within our institutions, with dissenting voices being brutally suppressed and termed as 'antinational'. It is significantly an onslaught on the freedom of speech and expression guaranteed by the Constitution of India.

    The Police registered an FIR on Rohith's suicide, against few individuals, which includes the current Vice Chancellor, Prof. Appa Rao Podile. FIR was registered under IPC section 306 (Abetment of Suicide) and Scheduled Caste and Scheduled Tribe (Prevention of Atrocities) Act, 1989. Further, the students seeking end to discrimination against Dalits on campus, including Rohith, had spoken about the vindictive nature of the administration on previous occasions. We therefore demand that those who are responsible for Rohith's suicide and social boycott of the students be made answerable and an impartial investigation must be conducted to look into the issue.

    We stand in solidarity with the agitating academic community of UoH. It is our responsibility to strongly condemn any such violations of and uphold the spirit of the Constitution. We condemn any attempt to shrink democratic spaces within educational institutions.

    Signatures:

    1. Deepankar
    2. Osho Chhel
    3. Gaganjyot Singh
    4. Aditya Mehta
    5. Karundeep Singh
    6. Shreyas Satadeve
    7. I.R. Jayalakshmi
    8. Vijay Kishor Tiwari
    9. Neenu Suresh
    10. Sonali Charak
    11. Chirayu jain
    12. Simranjit Singh
    13. Spadika Jayaraj
    14. Kaushik Prasad
    15. Rajini Murugeshan
    16. Annie Jain
    17. Apurva Wankhede
    18. Rohan Gupta
    19. Arti Kumari
    20. Vani Sharma
    21. TVS Sasidhar
    22. Abhishek Kumar
    23. Noaman M
    24. Harsha N
    25. Mukta Joshi
    26. Megha Mehta
    27. Ayush Singh
    28. Divij Joshi
    29. Beena
    30. Elizabeth V.S.
    31. Mathavi
    32. Reeya Singh
    33. Nandini Biswas
    34. Pankhuri Agrawal
    35. Dharma Teja
    36. Nikita Garg
    37. Pradeep Ramavath J
    38. Jyotsna Sripada
    39. Paldron Tenzin Tsering
    40. Aditya Vardhan Sharma
    41. Vikas Gautam
    42. Sukhbeer Singh
    43. Siddharth Raja
    44. Protyush Choudhury
    45. Hafsa Bashir Bhat
    46. Neha Rajpurohit
    47. Akash Meena
    48. Aishwarya Gaur
    49. Prachi Singh
    50. Kriti
    51. Aakarshi Agarwal
    52. Pooja Singh
    53. Yogesh Dilhor
    54. Sanjana.M
    55. Meghana Muddurangappa
    56. Harjas Singh
    57. Aditya Patel
    58. Swati Mohapatra
    59. Saumya Maheshwari
    60. Padmini Baruah
    61. Thangminlal Haokip
    62. Devashish Yadav
    63. Satya S. Sahu
    64. Manmeet Singh
    65. Aswin Vinodan K
    66. Dr. Anuja. S
    67. Abhijit Singh
    68. Aneesha Johny
    69. Ashwajit Gautam
    70. Neeraj Panicker
    71. Noaman M
    72. Arvind Ghimray
    73. Sneha S K
    74. Ashwin Pantula
    75. Anarghya Chandar
    76. Shruthi Raman
    77. R Jagannath
    78. Dr.D.S.Makkalanban
    79. Atulaa Krishnamurthy
    80. Surbhi Ajitsaria
    81. Bilal Anwar Khan
    82. Nimoy Sanjay Kher
    83. Simi Sunny
    84. Anjali Shivanand
    85. Kunal Ambasta
    86. Shrikant Wad
    87. Shibu Sweta
    88. Samuel Sathyaseelan
    89. Aditya Mukherjee
    90. Sharvari Kothwade
    91. Sharmila R.
    92. Akshat Agarwal
    93. Sharda S
    94. Sharwari
    95. Nupur Raut
    96. Parth Singh
    97. Dhruv Jadav
    98. Aman Shukla

     


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0
  • 01/26/16--01:08: वाह रे बजरंगी,इतिहास की ऐसी निर्मम खिल्ली कि स्वामी दयानंद सरस्वती के मरणोपरांत पद्मभूषण? गोस्वामी तुलसी की अगली बारी या सूर या कबीर या रसखान या मीराबाई की? इतिहास बदल रहा है मसलन,मसलन बंगाल में पिछले लोकसभा चुनाव में विशुध ध्रूवीकरण से दीदी की एकतरफा जीत तय करने के अलावा निरादार सत्रह फीसद वौट बटोरे थे और अब शारदा फर्जीवाड़ा मामला रफा दफा है तो भाजपाई चुनाव युद्ध में बाजीराव पेशवा के सिपाहसालार मरणोपरांत नेताजी हैं।अब नेताजी की फाइलों से कुछ बना हो या नहीं,यह नजारादेखना बहुत दिलचस्प होगा कि जिस मजहबी सियासत से सबसे जियादा नफरत नेताजी को थी,उसके हाथों खिलौना बनकर उनकी गति क्या होती है। जब सचिन तेंदुलकर क्रिकेट खेलकर सर्वश्रेष्ठ बिकाउ आइकन है तो अंबेडकर के हवाले गांधी ने नहीं,देश को आजाद कराया नेताजी ने,यह फरमान जारी होने के बाद एक अदद भारत रत्न तो बनता है। हम सिर्फ स्तंभित है कि इतनी प्रलयंकर केसरिया मीडिया ब्लिट्ज के बाद गांधी हत्या का यह अभिनव उपक्रम अब तक नजर्ंदाज क्यों है और अगर बाबासाहेब ने सचमुच ऐसा कह भी दिया है तो उनका वह उद्धरण अंबेडकरी फौज के हाथ अब तक क्यों नहीं लगा,जबकि म

  • वाह रे बजरंगी,इतिहास की ऐसी निर्मम खिल्ली कि स्वामी दयानंद सरस्वती के मरणोपरांत पद्मभूषण?

    गोस्वामी तुलसी की अगली बारी या सूर या कबीर या रसखान या मीराबाई की?

    इतिहास बदल रहा है मसलन,मसलन बंगाल में पिछले लोकसभा चुनाव में विशुध ध्रूवीकरण से दीदी की एकतरफा जीत तय करने के अलावा निरादार सत्रह फीसद वौट बटोरे थे और अब शारदा फर्जीवाड़ा मामला रफा दफा है तो भाजपाई चुनाव युद्ध में बाजीराव पेशवा के सिपाहसालार मरणोपरांत नेताजी हैं।अब नेताजी की फाइलों से कुछ बना हो या नहीं,यह नजारादेखना बहुत दिलचस्प होगा कि जिस मजहबी सियासत से सबसे जियादा नफरत नेताजी को थी,उसके हाथों खिलौना बनकर उनकी गति क्या होती है।


    जब सचिन तेंदुलकर क्रिकेट खेलकर सर्वश्रेष्ठ बिकाउ आइकन है तो अंबेडकर के हवाले गांधी ने नहीं,देश को आजाद कराया नेताजी ने,यह फरमान जारी होने के बाद एक अदद भारत रत्न तो बनता है।


    हम सिर्फ स्तंभित है कि इतनी प्रलयंकर केसरिया मीडिया ब्लिट्ज के बाद गांधी हत्या का यह अभिनव उपक्रम अब तक नजर्ंदाज क्यों है और अगर बाबासाहेब ने सचमुच ऐसा कह भी दिया है तो उनका वह उद्धरण अंबेडकरी फौज के हाथ अब तक क्यों नहीं लगा,जबकि मीडिया को झख मारकर ब्रेकिंग न्यूज डालकर केसरिया जनता को बताना पड़ रहा है कि देश को आजाद गांधी ने नहीं,बल्कि नेताजी ने कराया।



    पलाश विश्वास

    यकीन मानिये कि आखर पढ़ लेने की तमीजआते ही हमने सत्यार्थ प्रकाश ना पढ़ा होता तो यह टिप्पणी करने की जुर्रत न करता।वैसे पद्म पुरस्कारों का ऐलान होते ही अनुपम खेर को पद्म भूषण के बहाने बहस चल पड़ी थी।


    अब हमारा शुरु से मानना रहा है कि नोबेल पुरस्कार भी राजनीतक होता है तो पद्म सम्मान तो सत्ता वर्चस्व का दरबारी विमर्श है।


    इसीलिए मजा लीजिये कि अनुपम खेर को पद्म भूषण,सईद जाफरी को मरणोपरांत पद्मश्री,धीरुभाई अंबानी को पद्म विभूषण और खेर साहेब की पांत में सानिया,साइनी के साथ मरणोपरांत खड़े स्वामी दयानंद सरस्वती।


    अब दुनियावालों,हम पर रहम इतना करना कि मरने पर हमारी मौत पर न आंसू बहाना और मारे जाने पर हमें शहादत अता मत फरमाना कि हमारी याद पर किस्सी कुत्ते बिल्ली को पेशाब करने का मौका न मिल जाये।


    कृपया याद रखें कि दुनिया में कुछ भी मौलिक नहीं होता।हम तो लाउडस्पीकर है और मूक वधिर मनुष्यता की आवाज प्रसारित करते हुए,उनसे लिया उन्हींको वापस करके कायनात को अपना कर्जअदा कर रहे हैं।


    हमें चैन से मर जाने दें कि हम बेहद डर गये कि किसी खेमे ने अगर हमें खुदा न खस्ता महान मान लिया तो कहीं स्वामी दयानंद सरस्वती की तरह हमें कारपोरेट हस्तियों और रंग बिरंगी सेलिब्रिटियों के साथ धर्मांध राजनीतिक समीकरण के तहत हमारा यह अश्वेत अछूत वजूद नत्थी होकर शुध न हो जाये क्योंकि हमारी सारी लड़ाई अशुध देसी लोक की आवाजें दर्ज कराने की है और हम गंगा नहाकर पाप स्खलन करनेवालों में से नहीं हैं।


    इतिहास बदलने वालों को अक्सर ही पागल कुत्ता काट लेता है।हम सिर्फ यह समझने में असमर्थ हैं कि इतने चाकचौबंद सुरक्षा इंतजाम में पागल कुत्ता कहां से रायसीना हिल्स में दाखिल हो गया और किस पागल कुत्ते के काटने पर स्वामी दयानंद सरस्वती को पुनरुज्जीवित करने की जरुरत आन पड़ी।


    पृथ्वीराज चौहन के बाद तो हम इकलौते बिरंची बाबा को ही हिंदू ह्रदयसम्राट मान बैठे थे।अब स्वामी जी पधारे हैं तो किन किन चरणचिन्हों में हम आत्मा फूकेंगे,पहेली यही है।


    बहरहाल पागल कुत्ते दसों दिशाओं में अश्वमेधी घोड़े बनकर दौड़ रहे हैं।उनकी टापे हैं नहीं और न उनके खुर हैं,सिर्फ वे भौंकते हैं,काटने के दांत होते तो न जाने कितने लाख करोड़ का सफाया हो गया रहता इस राजसूय यज्ञ आयोजन में भारततीर्थे कुरुक्षेत्रे।


    अरसा बाद टीवी पर परेड की झांकियां देख ली।


    मरने से पहले स्वर्गवास का अहसास हो गया।विदेशी पूंजी,विदेशी हित के बाद अब बिदेशी फौजों की भी मौजूदगी अपने गणतंत्र महोत्सव के मौके पर राजपथ पर मनोहारी दृश्य।सत्तरा साल बूढ़ी आजादी यकबयक जवान हो गयी कि सैन्यशक्ति से हमने दुनिया को जतला दिया कि हम भी महाशक्ति हैं।


    इस पर तुर्रा यह कि विश्वयुद्द के विदेशी स्मारक इंडिया गेड की जगह वहीं फिर भव्य रमामंदिर की तर्ज पर देशी असली स्मारक तानने का अभूतपूर्व निर्णय।हमें अपने चर्म चक्षु से उस स्मारक का दर्शन भले हो न हो,वह बनकर रहेगा और तब तक शायद हिंदू राष्ट्र का भव्य राममंदिर भी बन जाये।इस बपर में कास ऐतराज भी नहीं है क्योंकि बांग्लादेश विजय कीस्मृति में इंदिराम्मा ने अमर ज्योति पर श्रद्धांजलि की परंपरा डाली तो विश्वविजेता बिरंची बाबा टायटैनिक महाजिन्न के राजसूय का स्मारक भी बनना चाहिए।


    दफ्तर में ही अपने पच्चीस साल के पुरातन सहकर्मी गुरुघंटाल जयनारायण ने यक्ष प्रश्न दाग दिया माननीय ओम थानवी का ताजा स्टेटस को पढ़कर कि इस ससुरे पद्म सम्मान को लोग कहां लगाते हैं,खाते हैं कि पीते हैं।पहले से सम्मानित प्रतिष्ठित लोगों पर राष्ट्र का ठप्पा लगाना क्यों जरुरी होता है।


    इस पर गुरुजी ने लंबा चौड़ा प्रवचन दे डाला जिसे जस का तस दोहराना जरुरी भी नहीं है।सिर्फ इतना बता दें कि जयनारायण प्रसाद भारत के किंवदंती फुटबालर थे जो ओलंपिक सेमीफाइनल तक पहुंचने वाली टीम में पीके बनर्जी और चुन्नी गोस्वामी के सात ओलंपियन है और भुक्तभोगी जयनारायण का कहना है कि पद्म पुरस्कार उन्हें भी मिला,जिसका उन्हें दो कौड़ी का फायदा न हुआ।



    जाहिर सी बात है कि मेवालाल दलित थे और बंगाल और भारत को गर्वित करने के बावजूद उनका सामाजिक स्टेटस हम जैसे स्थाई सबएडीटर जितना भी नहीं था।खेल छोड़ने के बाद उनके सामने भूखों मरने की नौबत आ गयी।


    बकौल जयनारायण किसी कुत्ते ने भी उनका हालचाल नहीं पूछा।परिवार सात न दिया होता तो वे लावारिश मर जाते और बंगाल या बाकी भारत में उस टीम की जयजयकार के मध्य मेवालालका नाम कोई लेती नहीं है।


    बहरहाल हमें इस विवाद में पड़ना नहीं है कि कैसे किस किसको कौन सा सममान किस समीकरण के तहत मिला और पद्म सम्मान या दूसरे पुरस्कारों की कसौटी क्या है और वरीयता कैसी तय होती है।


    मसलन नेताजी को मरणोपरांत भारत रत्न देने की सिफारिश थी।अब नेताजी फाइलें प्रकासित करने के बाद भारत सरकार ने उनकी मृत्यु हो गयी है,ऐसा मानने के लिए उनके परिजनों को मना लिया।तो नेताजी को भारत रत्न अब देर सवेर मिलना तय है।


    जब सचिन तेंदुलकर क्रिकेट खेलकर सर्वश्रेष्ठ बिकाउ आइकन है तो अंबेडकर के हवाले गांधी ने नहीं,देश को आजाद कराया नेताजी ने,यह फरमान जारी होने के बाद एक अदद भारत रत्न तो बनता है।


    हम सिर्फ स्तंभित है कि इतनी प्रलयंकर केसरिया मीडिया ब्लिट्ज के बाद गांधी हत्या का यह अभिनव उपक्रम अब तक नजर्ंदाज क्यों है और अगर बाबासाहेब ने सचमुच ऐसा कह भी दिया है तो उनका वह उद्धरण अंबेडकरी फौज के हाथ अब तक क्यों नहीं लगा,जबकि मीडिया को झख मारकर ब्रेकिंग न्यूज डालकर केसरिया जनता को बताना पड़ रहा है कि देश को आजाद गांधी ने नहीं,बल्कि नेताजी ने कराया।


    नेहरु वंश के सफाये के बाद इस झटके से कांग्रेस कैसे निपटेगी,इस बारे में वे हमारे विचार तो सुनने नहीं जा रही है तो यह अपना उच्च विचार जाया नहीं करने वाले हैं।


    वैसे हमारी सेवा इस केसरिया परिदृश्य में जारी रहने की कोई संभावना नहीं है।खाने पीने जीने का फिर कोई सहारा भी नहीं है।सर पर छत नहीं है और फिर मुझे कोई रखेगा नहीं।ऐसे फालतू आदमी के लिए राजनीति में पुनर्वास सबसे बढ़िया विकल्प है और देश को हमेशा बूढ़े नेतृत्व की जरुरत होती है।फिर इतना तो पिछले चालीस साल से कमाया है कि देश के किसी भी कोने से हम चुनाव लड़ सकते हैं।दिल्ली से कोलकाता तक।चाहे तो अपराजेय दीदी का मुकाबला भी कर सकते हैं।


    जीने का सबसे आसान तरीका यह है और इसमें भविष्यन केवल उज्जवल है बल्कि सुरक्षित भी है चाहे हारे या जीते।


    अव्वल तो हमें कोई दल अपने दलदल में खींचने का जोखिम उठायेगा नहीं।फिर ताउम्र लड़ने का जो मजा है,उससे हम हरगिज बेदखल भी नहीं होना चाहते और भारतीय जनता की फटीचरी में जिस माफिया गिरोह का सबसे बड़ा कृतित्व है,उसमे दाखिल होकर हम खुदकशी भी करना न चाहेगें।


    अब हम प्रगतिशील हो या न हो,अंबेडकरी हो या न हो,धर्मनिरपेक्ष हो या नहो,केसरिया जनता या लाल या नीली जनता माने न माने,हम सिर्फ अपने समयको संबोधित कर रहे हैं।जता की पीड़ा,जीवन यंत्रनणाओं,उनके सपनों और आकांक्षाओं की गूंज में ही हमारा वजूद है वरना हम तो हुए हवा हवाई।


    हमारे कहे लिखे से किसी का कुछ बनता बिगड़ता भी नहीं है।मजे लेते रहें।आपको मजा आ जाये तो बहुत है।हम लोग इतने नासमझ नहीं होते तो यह देस पागल कुत्तों और छुट्टा साँढ़ों के हवाले नहीं होता।जाहिर है कि हमारा लिखा बोला समझने के लिए नहीं है।


    वाम आवाम से कुछ जियादा ही प्रेम होने की वजह से उन्हें भले हम बार बार आगाह करते हे हैं कि भारत के बहुजन ही सर्वहारा है और जाति उन्मूलन का एजंडा ही भारत का कम्युनिस्ट मेनिफेस्टो है।


    तो हमारे वाम या अंबेडकरी साथियों ने जब हमारी एक नहीं सुनी तो कांग्रेसी सुनेंगे इसकी आसंका है नहीं।


    बहरहाल इक सुवाल तो बनता है कि गांधी या नेताजी ने देश आजाद करा लिया तो सन सत्तावन से देश के कोने कोने से जो लोग लुगाई अपनी जान इस मुल्क के लिए कुर्बान करते रहे उन्हें हम शहीद मानते हैं या नहीं।


    फिर उनने क्या उखाड़ा है या फिर क्या बोया है।


    भारतीय इतिहास में उन असंख्य लोगों का क्या चूं चं का मुरब्बा बनता है,हम न गांधी हैं और न नेताजी और न अंबेडकर,लेकिन हम बाहैसियत इस मरघट के निमित्तमात्र नागिरक को यह सवाल करने का हक है या नहीं,बतायें तो कर दूं वरना क्या पता इसी सवाल के लिए हमें भी आप राष्ट्रद्रोही हिंदूद्रोही करार दें।


    बाशौक करें लेकिन उसमें हमारा सबसे बड़ा अहित इतिहास में दर्ज होने का खतरा है क्योंकि हम तुच्छ प्राणी हैं और नेताजी, गांधी, अंबेडकर या दयानंद सरस्वती बनना हमें बेहद महंगा सौदा लगता है क्योंकि हम जहरीले सांपों से भले कबहुं न डरे हों लेकिन छुट्टा साँढ़ों और पागल कुत्तों से हम बहुतै डरै हैं।


    बंगाल में पिछले लोकसभा चुनाव में विशुध ध्रूवीकरण से दीदी की एकतरफा जीत तय करने के अलावा निरादार सत्रह फीसद वौट बटोरे थे और अब शारदा फर्जीवाड़ा मामला रफा दफा है तो भाजपाई चुनाव युद्ध में बाजीराव पेशवा के सिपाहसालार मरणोपरांत नेताजी हैं।अब नेताजी की फाइलों से कुछ बना हो या नहीं,यह नजारादेखना बहुत दिलचस्प होगा कि जिस मजहबी सियासत से सबसे जियादा नफरत नेताजी को थी,उसके हाथों खिलौना बनकर उनकी गति क्या होती है।

    दयानंद सरस्वती  

    दयानंद सरस्वती

    दयानंद सरस्वती

    पूरा नाम

    स्वामी दयानन्द सरस्वती

    जन्म

    12 फरवरी, 1824

    जन्म भूमि

    मोरबी, गुजरात

    मृत्यु

    31 अक्टूबर, 1883 [1]

    मृत्यु स्थान

    अजमेर, राजस्थान

    अभिभावक

    अम्बाशंकर

    गुरु

    स्वामी विरजानन्द

    मुख्य रचनाएँ

    सत्यार्थ प्रकाश, आर्योद्देश्यरत्नमाला, गोकरुणानिधि, व्यवहारभानु, स्वीकारपत्र आदि।

    भाषा

    हिन्दी

    पुरस्कार-उपाधि

    महर्षि

    विशेष योगदान

    आर्य समाजकी स्थापना

    नागरिकता

    भारतीय

    संबंधित लेख

    दयानंद सरस्वती के प्रेरक प्रसंग

    अन्य जानकारी

    दयानन्द सरस्वती के जन्म का नाम 'मूलशंकर तिवारी' था।

    अद्यतन‎

    12:32, 25 सितम्बर 2011 (IST)

    महर्षि स्वामी दयानन्द सरस्वती (जन्म- 12 फरवरी, 1824 - गुजरात, भारत; मृत्यु- 31 अक्टूबर, 1883अजमेर, राजस्थान) आर्य समाजके प्रवर्तक और प्रखर सुधारवादी सन्न्यासी थे। जिस समय केशवचन्द्र सेनब्रह्मसमाजके प्रचार में संलग्न थे लगभग उसी समय दण्डी स्वामी विरजानन्द की मथुरा पुरीस्थित कुटी से प्रचण्ड अग्निशिखा के समान तपोबल से प्रज्वलित, वेदविद्यानिधान एक सन्न्यासी निकला, जिसने पहले-पहल संस्कृतज्ञ विद्वात्संसार को वेदार्थ और शास्त्रार्थ के लिए ललकारा। यह सन्न्यासी स्वामी दयानन्द सरस्वती थे।

    परिचय

    प्राचीन ऋषियों के वैदिक सिद्धांतों की पक्षपाती प्रसिद्ध संस्था, जिसके प्रतिष्ठाता स्वामी दयानन्द सरस्वती का जन्म गुजरातकी छोटी-सी रियासत मोरवी के टंकारा नामक गाँव में हुआ था। मूल नक्षत्रमें पैदा होने के कारण पुत्रका नाम मूलशंकर रखा गया। मूलशंकर की बुद्धि बहुत ही तेज़ थी। 14 वर्षकी उम्र तक उन्हें रुद्री आदि के साथ-साथ यजुर्वेदतथा अन्य वेदोंके भी कुछ अंश कंठस्थ हो गए थे। व्याकरणके भी वे अच्छे ज्ञाता थे। इनके पिताका नाम 'अम्बाशंकर' था। स्वामी दयानन्द बाल्यकाल में शंकरके भक्त थे। यह बड़े मेधावी और होनहार थे। शिवभक्त पिता के कहने पर मूलशंकर ने भी एक बार शिवरात्रिका व्रत रखा था। लेकिन जब उन्होंने देखा कि एक चुहिया शिवलिंगपर चढ़कर नैवेद्यखा रही है, तो उन्हें आश्चर्य हुआ और धक्का भी लगा। उसी क्षण से उनका मूर्तिपूजा पर से विश्वास उठ गया। पुत्र के विचारों में परिवर्तन होता देखकर पिता उनके विवाहकी तैयारी करने लगे। ज्यों ही मूलशंकर को इसकी भनक लगी, वे घर से भाग निकले। उन्होंने सिर मुंडा लिया और गेरुए वस्त्र धारण कर लिए। ब्रह्मचर्यकालमें ही ये भारतोद्धार का व्रतलेकर घर से निकल पड़े। इनके जीवन को मोटे तौर से तीन भागों में बाँट सकते हैं:

    • घर का जीवन(1824-1845),

    • भ्रमण तथा अध्ययन (1845-1863) एवं

    • प्रचार तथा सार्वजनिक सेवा। (1863-1883)

    महत्त्वपूर्ण घटनाएँ

    स्वामी दयानन्द जी के प्रारम्भिक घरेलू जीवन की तीन घटनाएँ धार्मिक महत्त्व की हैं :

    1. चौदह वर्ष की अवस्था में मूर्तिपूजा के प्रति विद्रोह (जब शिवचतुर्दशीकी रात में इन्होंने एक चूहे को शिव की मूर्ति पर चढ़ते तथा उसे गन्दा करते देखा),

    2. अपनी बहिन की मृत्यु से अत्यन्त दु:खी होकर संसार त्याग करने तथा मुक्ति प्राप्त करने का निश्चय।

    3. इक्कीस वर्षकी आयु में विवाह का अवसर उपस्थित जान, घर से भागना। घर त्यागने के पश्चात 18 वर्ष तक इन्होंने सन्न्यासी का जीवन बिताया। इन्होंने बहुत से स्थानों में भ्रमण करते हुए कतिपय आचार्यों से शिक्षा प्राप्त की।

    शिक्षा

    बहुत से स्थानों में भ्रमण करते हुए इन्होंने कतिपय आचार्यों से शिक्षा प्राप्त की। प्रथमत: वेदान्तके प्रभाव में आये तथा आत्माएवं ब्रह्म की एकता को स्वीकार किया। ये अद्वैत मतमें दीक्षित हुए एवं इनका नाम 'शुद्ध चैतन्य" पड़ा। पश्चात ये सन्न्यासियों की चतुर्थ श्रेणी में दीक्षित हुए एवं यहाँ इनकी प्रचलित उपाधि दयानन्द सरस्वती हुई।

    दयानन्द सरस्वती

    Dayanand Saraswati

    फिर इन्होंने योग को अपनाते हुए वेदान्त के सभी सिद्धान्तों को छोड़ दिया।

    स्वामी विरजानन्द के शिष्य

    सच्चे ज्ञान की खोज में इधर-उधर घूमने के बाद मूलशंकर , जो कि अब स्वामी दयानन्द सरस्वती बन चुके थे, मथुरामें वेदोंके प्रकाण्ड विद्वान प्रज्ञाचक्षु स्वामी विरजानन्द के पास पहुँचे। दयानन्द ने उनसे शिक्षा ग्रहण की। मथुराके प्रज्ञाचक्षु स्वामी विरजानन्द, जो वैदिक साहित्यके माने हुए विद्वान थे। उन्होंने इन्हें वेद पढ़ाया । वेद की शिक्षा दे चुकने के बाद उन्होंने इन शब्दों के साथ दयानन्द को छुट्टी दी "मैं चाहता हूँ कि तुम संसार में जाओं और मनुष्यों में ज्ञान की ज्योति फैलाओ।" संक्षेप में इनके जीवन को हम पौराणिक हिन्दुत्व से आरम्भ कर दार्शनिक हिन्दुत्व के पथ पर चलते हुए हिन्दुत्व की आधार शिला वैदिक धर्मतक पहुँचता हुआ पाते हैं।

    हरिद्वार में

    गुरु की आज्ञा शिरोधार्य करके महर्षि स्वामी दयानन्द ने अपना शेष जीवन इसी कार्य में लगा दिया। हरिद्वारजाकर उन्होंने 'पाखण्डखण्डिनी पताका'फहराई और मूर्ति पूजा का विरोध किया। उनका कहना था कि यदि गंगानहाने, सिर मुंडाने और भभूत मलने से स्वर्ग मिलता, तोमछली, भेड़ और गधा स्वर्ग के पहले अधिकारी होते। बुजुर्गों का अपमान करके मृत्यु के बाद उनका श्राद्धकरना वे निरा ढोंग मानते थे। छूत का उन्होंने ज़ोरदार खण्डन किया। दूसरे धर्म वालों के लिए हिन्दू धर्मके द्वार खोले। महिलाओं की स्थिति सुधारने के प्रयत्न किए। मिथ्याडंबर और असमानता के समर्थकों को शास्त्रार्थ में पराजित किया। अपने मत के प्रचार के लिए स्वामी जी 1863 से 1875तक देश का भ्रमण करते रहे। 1875 में आपने मुम्बईमें 'आर्यसमाज'की स्थापना की और देखते ही देखते देशभर में इसकी शाखाएँ खुल गईं। आर्यसमाज वेदों को ही प्रमाण और अपौरुषेय मानता है।

    हिन्दी में ग्रन्थ रचना

    आर्यसमाज की स्थापना के साथ ही स्वामी जी ने हिन्दीमें ग्रन्थरचना आरम्भ की। साथ ही पहले के संस्कृतमें लिखित ग्रन्थों का हिन्दी में अनुवाद किया। 'ऋग्वेदादि भाष्यभूमिका'उनकी असाधारण योग्यता का परिचायक ग्रन्थ है। 'सत्यार्थप्रकाश'सबसे प्रसिद्ध ग्रन्थ है। अहिन्दी भाषी होते हुए भी स्वामी जी हिन्दी के प्रबल समर्थक थे। उनके शब्द थे - 'मेरी आँखेंतो उस दिन को देखने के लिए तरस रहीं हैं, जबकश्मीरसे कन्याकुमारीतक सब भारतीय एक भाषाको बोलने और समझने लग जायेंगे।'अपने विचारों के कारण स्वामी जी को प्रबल विरोध का भी सामना करना पड़ा। उन पर पत्थर मारे गए, विष देने के प्रयत्न भी हुए, डुबाने की चेष्टा की गई, पर वे पाखण्ड के विरोध और वेदों के प्रचार के अपने कार्य पर अडिग रहे।

    इन्होंने शैवमतएवं वेदान्त का परित्याग किया, सांख्ययोग को अपनाया जो उनका दार्शनिक लक्ष्य था और इसी दार्शनिक माध्यम से वेद की भी व्याख्या की। जीवन के अन्तिम बीस वर्ष इन्होंने जनता को अपना संदेश सुनाने में लगाये। दक्षिण में बम्बईसे पूरा दक्षिण भारत, उत्तर में कलकत्तासे लाहौरतक इन्होंने अपनी शिक्षाएँ घूम-घूम कर दीं। पण्डितों, मौलवियों एवं पादरियों से इन्होंने शास्त्रार्थ किया, जिसमें काशीका शास्त्रार्थ महत्त्वपूर्ण था। इस बीच इन्होंने साहित्य कार्य भी किये। चार वर्षकी उपदेश यात्रा के पश्चात ये गंगातट पर स्वास्थ्य सुधारने के लिए फिर बैठ गये। ढाई वर्ष के बाद पुन: जनसेवा का कार्य आरम्भ किया।

    आर्य समाज की स्थापना

    1863से 1875ई. तक स्वामी जी देश का भ्रमण करके अपने विचारों का प्रचार करते रहें। उन्होंने वेदों के प्रचार का बीडा उठाया और इस काम को पूरा करने के लिए संभवत: 7 या 10 अप्रैल 1875 ई. को 'आर्य समाज' नामक संस्था की स्थापना की[2]। शीघ्र ही इसकी शाखाएं देश-भर में फैल गई। देश के सांस्कृतिक और राष्ट्रीय नवजागरण में आर्य समाज की बहुत बड़ी देन रही है। हिन्दू समाज को इससे नई चेतना मिली और अनेक संस्कारगत कुरीतियों से छुटकारा मिला। स्वामी जी एकेश्वरवादमें विश्वास करते थे। उन्होंने जातिवाद और बाल-विवाहका विरोध किया और नारी शिक्षा तथा विधवा विवाहको प्रोत्साहित किया। उनका कहना था कि किसी भी अहिन्दू को हिन्दू धर्ममें लिया जा सकता है। इससे हिंदुओं का धर्म परिवर्तन रूक गया।

    हिन्दी भाषा का प्रचार

    स्वामी दयानंद सरस्वती ने अपने विचारों के प्रचार के लिए हिन्दी भाषाको अपनाया। उनकी सभी रचनाएं और सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण ग्रंथ 'सत्यार्थ प्रकाश' मूल रूप में हिन्दी भाषा में लिखा गया। उनका कहना था - "मेरी आंख तो उस दिन को देखने के लिए तरस रही है। जबकश्मीरसे कन्याकुमारी तक सब भारतीय एक भाषाबोलने और समझने लग जाएंगे।" स्वामी जी धार्मिक संकीर्णता और पाखंड के विरोधी थे। अत: कुछ लोग उनसे शत्रुता भी करने लगे। इन्हीं में से किसी ने 1883 ई. में दूधमें कांच पीसकर पिला दिया जिससे आपका देहांत हो गया। आज भी उनके अनुयायी देश में शिक्षा आदि का महत्त्वपूर्ण कार्य कर रहे हैं।

    अन्य रचनाएँ

    स्वामी दयानन्द द्वारा लिखी गयी महत्त्वपूर्ण रचनाएं - सत्यार्थप्रकाश (1874संस्कृत), पाखण्ड खण्डन (1866), वेद भाष्य भूमिका (1876), ऋग्वेद भाष्य (1877), अद्वैतमत का खण्डन (1873), पंचमहायज्ञ विधि (1875), वल्लभाचार्य मत का खण्डन (1875) आदि।

    निधन

    स्वामी दयानन्द सरस्वती का निधन एक वेश्या के कुचक्र से हुआ। जोधपुरकी एक वेश्या ने, जिसे स्वामी जी की शिक्षाओं से प्रभावित होकर राजा ने त्याग दिया था, स्वामी जी के रसोइये को अपनी ओर मिला लिया और विष मिला दूध स्वामी जी को पिला दिया। इसी षड्यंत्र के कारण 30 अक्टूबर1883ई. को दीपावलीके दिन स्वामी जी का भौतिक शरीर समाप्त हो गया। लेकिन उनकी शिक्षाएँ और संदेश उनका 'आर्यसमाज'आन्दोलन बीसवीं सदी के भारतीय इतिहास में एक ज्वलंत अध्याय लिख गए, जिसकी अनुगूँज आज तक सुनी जाती है।


    टीका टिप्पणी और संदर्भ

    1. ऊपर जायें↑Swami Dayanand Saraswati(अंग्रेज़ी) culturalindia। अभिगमन तिथि: 25 सितंबर, 2011।

    2. ऊपर जायें↑वर्ष 1875 निश्चित है परन्तु तिथि के संबंध में सभी विश्वसनीय स्रोत कोई जानकारी नहीं देते। इस संबंध में सत्यार्थ प्रकाश, इन्साइक्लोपीडिया ब्रिटेनिका आदि सभी भारतकोश द्वारा देखे गये

    शर्मा 'पर्वतीय', लीलाधर भारतीय चरित कोश, 2011 (हिन्दी), भारतडिस्कवरी पुस्तकालय: शिक्षा भारती, दिल्ली, पृष्ठ सं 371।



    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Who killed Rohith Vemula?


    All those who are mute spectators of the processes under way to restore supremacist Brahmanic rule are responsible for his death


    Written by Anand Teltumbde | Published:January 26, 2016 12:09 am
    Protests in Hyderabad, Wednesday. (Source: AP)Protests in Hyderabad, Wednesday. (AP Photo)

    Rohith Vemula, a 26-year-old Dalit PhD scholar at the Hyderabad Central University (HCU), in his suicide note, blamed none, friend or foe, providing the feed to his killers to claim their innocence. An aspirant to write one day like Carl Sagan exploring the universe with his flight of imagination, he was driven to the depths of his inner self, the torn self of a Dalit, in this caste-ridden land, by his tormentors, to conclude the futility of existing. His death should make it clear that suicide is not the killing of oneself; it is death by situation, which comprises of traditions, customs and institutions, that provide cover to the murderers.

    Rohith's situation survives in the form of a makeshift tent erected in an open arena of his university campus, in which he lived for 12 days along with four of his comrades after having been expelled from the hostel, and their struggle for self-respect that outlives him. It is depicted by his stinging letter of December 18 to the vice chancellor of the university, his lament to his friends that he did not have any money to treat them on his 27th birthday, which was a few days away, never to dawn, and his last call to his mother, which was ominously cut by him abruptly. This is enough to tear the veils, expose the murderous situation and possibly the murderers.

    The details of the case are by now in the public domain. The alleged assault on one Nandanam Susheel Kumar, the president of the HCU unit of the ABVP, for which the five Dalit students, including Rohith, were punished, was never established. Rather, all the official inquiries, doctor's testimony and the witnesses confirmed that it did not take place. Still, the Dalit students were punished. The curious flip-flop of the university administration that followed clearly indicates the full play of caste prejudices and the influence of extraneous forces, apart from the utter ineptitude of the administration.

    The big twist to the incident came from a letter written by Bandaru Dattatreya, the minister of state for labour and employment in the Narendra Modi government, to Human Resource Development (HRD) Minister Smriti Irani, branding the HCU as "a den of casteist, extremist and anti-national politics" and demanding necessary action. In support, he wrote that the Ambedkar Students' Association had protested against the hanging of Yakub Memon. The office of Irani, the controversial HRD minister, who perhaps assumed HRD to be "Hindutva resource development", suggestively wrote to the VC as it did in response to an anonymous complaint against the Ambedkar Periyar Study Circle (APSC) at IIT Madras, which had led to its ban, triggering nationwide outrage. The manner in which it was followed up by as many as four letters from under secretary to joint secretary indicates the amount of pressure exerted on the VC for taking action against the students. It is this express support from the minister to the inherently casteist administration that led to the punishment, which was no less than capital punishment in the university context. How on earth can research scholars possibly exist without accessing hostels, administrative buildings, public places or talking to their fellow students? It did mean death to them as research scholars.

    After their expulsion, the students lived in the open in the biting cold of Hyderabad and still the VC did not realise the gravity of his misdeed. On December 18, Rohith had written a stinging letter to him, accusing him of taking an unusual personal interest in the clash between the Dalit students and the ABVP. He sarcastically hinted at the plight of Dalit students at the HCU, asking the VC to provide poison and a rope to all Dalit students at the time of admission, and also make available a facility for euthanasia for students like him. The letter was alarming enough for any responsible person to take serious note of the state of mind of the student, who was driven to his wits' end on account of continuing harassment and penury, as his stipend, with which he partly supported his mother and younger brother back home in Guntur, was stopped in July.

    Curiously, on the one hand, the government is going gaga with the extravagant observation of the 125th birth anniversary of Babasaheb Ambedkar in one-upmanship with the Congress to woo Dalit votes. On the other, it seeks to curb the radical voices of Dalits on what Ambedkar stood for. Ambedkar risked emphasising higher education over elementary education because he saw that only the former can create critical thinking in people and moral strength to stand up against the free play of caste prejudices of dominant elements. The government is crushing these potential torch-bearers of Ambedkar in every possible manner while singing paeans to him.

    As dissenting Muslim youth are easily branded as terrorists the world-over, Dalit-Adivasi youth are being stamped as extremists, casteists and anti-nationals. Indian jails are filled with such innocent youth incarcerated for years under vague charges like sedition and unlawful activities, etc. The BJP's aggressive drive to saffronise institutions, particularly higher education institutions, portends that many more Rohiths will follow in the coming years.

    All those who have been mute spectators of these vile processes under way to decimate the pluralistic structure of our country and restore supremacist Brahmanic rule are responsible along with the dramatis personae directly involved in this case.

    Teltumbde is a writer and civil rights activist with the Committee for Protection of Democratic Rights, Mumbai
    - See more at: http://indianexpress.com/article/opinion/columns/who-killed-rohith-vemula/#sthash.hJf2inE6.dpuf
    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0



    Priyankar Paliwal

    रोहित वेमुला और प्रकाश साव को याद करते हुए !

    जब रोहित वेमुला और प्रकाश साव जैसे स्वप्नशील युवा आत्महत्या करते हैं तब एक व्यवस्था की सड़ांध की ओर हमारा ध्यान जाता है . उस गलाज़त की ओर जिसे अब हमने लगभग सहज-स्वाभाविक मान लिया है . वरना, पद सृजित किए जाने और भरे जाने की बन्दरबांट के बारे में अब कौन नहीं जानता . कम से कम हिंदी विभागों में सबको पता है.

    रोहित को मैं नहीं जानता था पर प्रकाश से परिचित था; प्रकाश की कविताओं से भी . एक संवेदनशील और गम्भीर युवा कवि-सम्पादक के रूप में उसकी पहचान थी. आर्थिक परेशानियों की आशंका के बावजूद रोहित और प्रकाश की मृत्यु के कारण आर्थिक तो निश्चय ही नहीं हैं. पर कुछ लोग मूल बातों से ध्यान भटकाने के लिए ऐसा प्रचार जोर-शोर से कर रहे हैं.

    रोहित वजीफायाफ्ता पीएचडी छात्र था, हालांकि कई महीनों से उसे छात्रवृत्ति का भुगतान नहीं हुआ था. पर वह उसे देर-सवेर मिल ही जानी थी. प्रकाश भी केंद्रीय हिंदी संस्थान में कार्यरत था, भले अस्थायी रूप में. शायद सोलह हज़ार प्रति माह मिलते थे . यह कोई अच्छी स्थिति और अच्छी तनख्वाह नहीं है पर शायद बचे रहने के लिए यह बेरोज़गारी से निस्संदेह बेहतर स्थिति है.

    तब ऐसा क्या है जो इन युवाओं को बेचैन करता है ? वही जो इधर हमको-आपको नहीं करता. वही भ्रष्टाचार,वही बंदरबांट,वही जातिवाद,प्रतिभा की वही नाकदरी,स्वाभिमान का वही अपमान,वही चापलूसी और चेला-प्रतिस्थापन, वही अवसरों और पुरस्कारों की छीनाझपटी...... सूची बहुत लम्बी है.

    हम सबके आसपास सीमित-प्रतिभा और असीमित शक्ति-सम्पन्न ऐसे अवसरवादी लोग मिल जाएंगे जिनकी कीर्ति-कथा लगभग हरिकथा की तरह अनंत है . उनकी शक्ति के स्रोत भी इतने जाहिर हैं कि किसी शोध की नहीं सिर्फ आंख-कान खुले रखने की ज़रूरत है.

    हो सकता है जाति की संकीर्ण हदबंदी के हिसाब से रोहित और प्रकाश दलित की श्रेणी में फिट न बैठें, बावजूद इसके कि कुछ बीफ-फेस्टिवल-फेम दलितवादी खुले गले से ऐसा प्रचारित कर रहे हैं. पर हिंदुस्तान में अब हर वंचित व्यक्ति दलित की श्रेणी में और हर ईमानदार आदमी अल्पसंख्यक की गिनती में आना चाहिए .रोहित और प्रकाश जैसे युवा इसी अर्थ में दलित हैं.

    क्या इन शिक्षित,संवेदनशील और स्वप्नशील युवाओं का आत्मघात हमें एक न्यायपूर्ण समाज के गठन के लिए संवेदित करता है ?

    या इस श्मशानी वैराग्य के बाद हम सब अपने-अपने कारोबार और अपनी-अपनी दुनियादारी में मगन हो जाएंगे. वही दुनियादारी जिसमें बेचैनी के वे सारे कारण मौजूद हैं जो रोहित और प्रकाश को लील गये . वही दुनियादारी जो भ्रष्टाचार और अन्याय और लेन-देन पर टिकी है.

    आइए कुछ आत्ममंथन करें ताकि रोहित और प्रकाश आत्महत्या न करें बल्कि इस व्यवस्था से लड़ने का और इसे बदलने का हौसला पाएं .

    Comments
    Hitendra Patel
    Hitendra Patel आत्म मंथन का कुछ फल मिले भी या यह एक लगातार चलने वाली प्रक्रिया है ? 'हम क्या कर सकते हैं इसके अलावा 'वाली मुद्रा हम कब तक लिए रहेंगे ? कम से कम खुल कर बोलें और लाभ पाने व्यक्ति के साथ खड़े न हों। कम से कम यह तो हम कर ही सकते हैं। किसी प्रकाश और उस जैसे उपेक्षित के साथ हमारा व्यवहार ही उन्हें सहारा दे सकते हैं। उसके लिए कुछ सोचिए।
    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0
  • 01/26/16--08:38: Rajiv Nayan Bahuguna Bahuguna दिल्ली के लाल किले में क़ैद आज़ाद हिन्द फ़ौज़ के कमांडरों और सैनिकों से मिलते गांधी । 1945 । गांधी स्वयं ज़ेल से छूटे , और सर्व प्रथम इनसे मिलने गए ।गांधी ने उनसे पूछा - तुम लोगों को कोई दिक़्क़त ? जवाब - दिक़्क़त यही है कि अँगरेज़ यहां हमे धर्म के आधार पर बांटने के लिए हिन्दू चाय और मुस्लिम चाय नाम से अलग अलग चाय देते । गांधी - फिर तुम क्या करते ? जवाब - हम दोनों चाय को एक बड़े बर्तन में मिलाते और फिर बाँट कर पीते । गांधी - ऐ शब्बाश ।


  • Rajiv Nayan Bahuguna Bahuguna

    दिल्ली के लाल किले में क़ैद आज़ाद हिन्द फ़ौज़ के कमांडरों और सैनिकों से मिलते गांधी । 1945 । गांधी स्वयं ज़ेल से छूटे , और सर्व प्रथम इनसे मिलने गए ।गांधी ने उनसे पूछा - तुम लोगों को कोई दिक़्क़त ? जवाब - दिक़्क़त यही है कि अँगरेज़ यहां हमे धर्म के आधार पर बांटने के लिए हिन्दू चाय और मुस्लिम चाय नाम से अलग अलग चाय देते । गांधी - फिर तुम क्या करते ? जवाब - हम दोनों चाय को एक बड़े बर्तन में मिलाते और फिर बाँट कर पीते । गांधी - ऐ शब्बाश ।

    Rajiv Nayan Bahuguna Bahuguna's photo.
    Comments
    Vijaypal Rawat
    Vijaypal Rawat आपकी ये पोस्ट आजादी के संघर्ष और उससे जुड़े उन तमाम पुण्य आत्माओं को आज अपने राजनीतिक लाभ के लिये बांटने वाले चंडु खाने के टटपुंजे नेताओं के मुंह पर झन्नाटेदार तमाचा हैं। 
    ! जय हिन्द , जय उत्तराखंड !
    Like · Reply · 9 · Yesterday at 8:14pm
    Ravi Bagoti
    Ravi Bagoti वाह
    क्या शानदार बात कही है।
    येही समझदारी आज भी होती तो कितना अच्छा होता
    Like · Reply · 3 · Yesterday at 8:20pm
    Raghuveer Negi
    Raghuveer Negi es photo ko.kisi aur caption ke sath dekha hai jarur sanghiyon ne pj
    Like · Reply · 1 · Yesterday at 8:27pm
    Rajiv Nayan Bahuguna Bahuguna
    Rajiv Nayan Bahuguna Bahuguna फ़ोटो तो खुद ही अपना केप्शन ब्यान कर रहा । सिर्फ अंधे को नहीं दिखेगा
    Raghuveer Negi
    Raghuveer Negi puri baat main likh ni bhai ji mobile tham padegi tabari
    Palash Biswas
    Write a reply...
    प्रसन्न प्रभाकर
    प्रसन्न प्रभाकर ये सिपाही छूटकर बाद में गांधी जी के पास गए और आगे के लिए राह दिखाने की बात कही । उस वक्त देश दंगों की चपेट में था । गांधी और क्या कह सकते थे
    Like · Reply · 2 · Yesterday at 8:33pm
    Anusooya Prasad Ghayal
    Anusooya Prasad Ghayal वाह दादा क्या सटीक ऐतिहासिक संदेश दिया ।
    Like · Reply · 2 · Yesterday at 8:51pm
    Ramesh Petwal
    Ramesh Petwal One of the best post..............
    Like · Reply · 1 · 23 hrs · Edited
    Pradeep Bhatt
    Pradeep Bhatt जय हिन्द
    Like · Reply · 1 · 22 hrs
    Ankit Kaparwan
    Ankit Kaparwan गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई *** 🇮🇳 ।। जय हिंद जय भारत।।🇮🇳 -अंकित कपरवाण (पूर्व उपाध्यक्ष छात्र संघ)
    Like · Reply · 1 · 14 hrs
    Manoj Ranswal
    Manoj Ranswal Jai hind
    Like · Reply · 1 · 13 hrs
    Anil Tiwari
    Like · Reply · 1 · 12 hrs
    Devendra Budakoti
    Devendra Budakoti Let us now campaign ....to bring constitutional amendment whereby a citizen can become Prime Minister and or a Chief Minister for only two terms or ten years, whichever is earlier and or can take oath only twice in his life time.
    Like · Reply · 1 · 9 hrs
    Akhilesh Uniyal
    Akhilesh Uniyal वर्तमान में अंग्रेजों की तरह व्यवहार कर चाय की राजनीति करने आैर गांधी जी को गरियाने वालों के लिये ज्ञानवर्धक प्रसंग।
    Like · Reply · 1 · 6 hrs
    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    LATEST

    In New York protests against communal killings in India. We are not bartering justice for toilets, bank accounts, yoga, long term visa, clean Ganga..... LET'S MAKE JUSTICE IN INDIA!
    OPINION

    WHY FORGET THE DEAD OF 2002??

    Vrinda Grover  Barkha Dutt has just proclaimed that 9/11 can never be
    Read More
    breaking News hastakshep
    ENGLISH

    PRESIDENT RULE IN ARUNACHL PRADESH IS 'MURDER' OF DEMOCRACY: CONGRESS

    President rule in Arunachl Pradesh is 'murder' of
    Read More
    Breaking News Hastakshep
    देश

    अरुणाचल में राष्ट्रपति शासन लागू, कांग्रेस बोली 'लोकतंत्र की हत्या'

    अरुणाचल में राष्ट्रपति शासन लागू कांग्रेस बोली 'लोकतंत्र
    Read More
    Rajendra Sharma, राजेंद्र शर्मा, लेखक वरिष्ठ पत्रकार व हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।
    आजकल

    गणतंत्र दिवस – गणतंत्र की चुनौतियां- सब ठीक-ठाक नहीं भारतीय गणतंत्र के साथ

    जनतंत्र के खिलाफ संपन्नों का
    Read More
    Views on news hastakshep
    ENGLISH

    BJP AND RSS WANT TO ABOLISH THE RESERVATION FOR DALITS

    reservation for Dalits should not be 'Reconsidered' for
    Read More
    जावेद अनीस, लेखक स्वतंत्र टिप्पणीकार व सामाजिक कार्यकर्ता हैं।
    UNCATEGORIZED

    किशोर न्याय (संशोधन) विधेयक के मायने

    किशोर न्याय- हमारे राजनीतिक नेतृत्व और मीडिया में यह साहस ही नहीं
    Read More
    अनुपम खेर के इस पुराने ट्वीट को फेसबुक और ट्विटर पर ख़ूब साझा किया जा रहा है।
    देश

    अनुपम खेर की इस ट्वीट ने मचा दिया सोशल मीडिया पर हल्ला #PADMAAWARDS4BHAKTS

    असहिष्णुता का विरोध करने वालों
    Read More
    पलाश विश्वास । लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं।
    आजकल

    वाह रे बजरंगी, इतिहास की ऐसी निर्मम खिल्ली… स्वामी दयानंद सरस्वती को मरणोपरांत पद्मभूषण ?

    स्वामी दयानंद सरस्वती
    Read More
    Magsaysay Awardee - Dr. Sandeep Pandey's fast enters 7th day
    ENGLISH

    RSS PERSONS THREATEN SANDEEP PANDEY ON IIT-BHU CAMPUS

    IIT-BHU has recently terminated contract of Sandeep Pandey on the charges
    Read More
    पलाश विश्वास । लेखक वरिष्ठ पत्रकार, सामाजिक कार्यकर्ता एवं आंदोलनकर्मी हैं । आजीवन संघर्षरत रहना और दुर्बलतम की आवाज बनना ही पलाश विश्वास का परिचय है। हिंदी में पत्रकारिता करते हैं, अंग्रेजी के लोकप्रिय ब्लॉगर हैं।
    आजकल

    जालिम इतना भी जुल्म ना ढाओ कि म्यान में खामोश सो रही तलवारें जाग उठे बेलगाम?

    और कितनी
    Read More
    Rihai Manch
    देश

    मोदी का विरोध करने वाले दलित छात्रों को परेशान किया गया तो होगा बड़ा आंदोलन

    बीबीएयू के वीसी,
    Read More
    राजीव नयन बहुगुणा, लेखक वरिष्ठ पत्रकार व कवि हैं। उत्तराखण्ड में सूचना आयुक्त हैं।
    आजकल

    अब वैदिक जी को क्या कहूँ, जब हाफ़िज़ सईद ही उन्हें कुछ नहीं कह पाया!

    अब वैदिक जी
    Read More
    आनंद पटवर्द्धन, प्रख्यात फिल्म नि्माता-निर्देशक व अभिनेता हैं।
    आजकल

    वे हमें राष्ट्रविरोधी कहते हैं, जिन्होंने मुस्लिम लीग की ही तरह अंग्रेजों का साथ दिया था !

    वे
    Read More
    Ram Puniyani
    आजकल

    कश्मीरी पंडितों की बदहाली का राजनीतिकरण

    राजनीति एक अजब-गजब खेल है। इसके खिलाड़ी वोट कबाड़ने के लिए कुछ
    Read More
    Let Me Speak Human!
    COLUMN

    WE HAVE TO SUPPORT WHAT DR. AMARTYA SEN SAID ON DECLASSIFIED NETAJI FILES!

    We have to support what
    Read More
    Latest News Hastakshep
    देश

    कैसे अच्छे दिन? कैसा हिंदी-हिंदू-हिंदुस्तान? कवि प्रकाश साव ने कर ली खुदकशी!

    कैसे अच्छे दिन? कैसी हिंदी? कैसा
    Read More
    Rihai Manch
    देश

    26 जनवरी के आस-पास खुफिया और सुरक्षा एजेंसियां करा सकती हैं धमाके- रिहाई मंच

    रिहाई मंच ने की
    Read More
    Breaking news Hastakshep-1
    CRIME

    THREE GIRL MEDICAL STUDENTS COMMIT SUICIDE

    Three girl medical students commit suicide Villupuram (Tamil Nadu), Jan 24 (ANI):
    Read More
    breaking News hastakshep
    देश

    हैदराबाद विश्वविद्यालय में भूख हड़ताल पर बैठे छात्रों को बाहर निकाला

    हैदराबाद विश्वविद्यालय में भूख हड़ताल प्रशासन अपनी
    Read More
    असहिष्णुता – यह देखना है कि पत्थर कहाँ से आया है?
    आपकी नज़र

    असहिष्णुता – यह देखना है कि पत्थर कहाँ से आया है?

    यह देखना है कि पत्थर कहाँ से
    Read More
    Media
    आजकल

    राहुल कँवल–पत्रकार या संघ का सुपारी किलर !

    क्या राहुल कँवल को भी शर्म आयेगी नेताजी सुभाषचंद्र बोस की
    Read More
    राजीव नयन बहुगुणा, लेखक वरिष्ठ पत्रकार व कवि हैं। उत्तराखण्ड में सूचना आयुक्त हैं।
    आजकल

    पात्रा जी का अद्भुत खुलासा- नेता जी का पूरा नाम सुभाष चन्द्र बोस था!!!

    पात्रा जी का अद्भुत
    Read More
    cropped-Logo-With-Slogan-1024-1024.jpg
    आजकल

    कश्मीर पर आधा सच दिखाती अनुपम खेर की फिल्म : भावुकता में छिपी चालाकी

    कश्मीर को सियासत ने



    LATEST

    Sanghis are goons poster By Rohit Vemula
    आजकल

    मनुस्मति तांडव के चपेट में देश! फासिज्म के कारोबार को दलितों का मामला कौन बना रहा है?

    मनुस्मति
    Read More
    Mayavati with Atal and Modi
    आजकल

    मायावती हैदराबाद क्यों नहीं गयीॆ?

    मायावती हैदराबाद क्यों नहीं गयीं? दलित कब तक आंबेडकर के नाम पर इन
    Read More
    Randheer Singh Suman, रणधीर सिंह सुमन
    लोकसंघर्ष

    संघियों का असली चेहरा दलित-पिछड़ा विरोधी है, वह सामने आ रहा है

    जाति ने फिर जातिवाद किया जबरदस्ती
    Read More
    Latest News Hastakshep
    देश

    रिहाई मंच ने मोदी गो बैक का नारा लगाने वाले छात्रों को किया सम्मानित

    मोदी का रोहित की
    Read More
    Sanghis are goons poster By Rohit Vemula
    देश

    कामरेड रोहिथ वेमुला चक्रवर्ती की विरासत अमर रहे

    रोहिथ वेमुला की मृत्यु पर न्यू सोशलिस्ट इनिशिएटिव द्वारा जारी
    Read More
    Latest News Hastakshep
    देश

    "मोदी गो बैक "नारा लगाने वाले छात्रों को रिहाई मंच करेगा सम्मानित

    अंबेडकरवादी चेतना ने मोदी
    Read More
    News Khabren Dunia Bhar ki hastakshep
    खोज खबर

    सीवर में मौत का जिम्मेदार कौन?

    हम सबों को सफाई अच्छी लगती है। सबों की चाहत होती है
    Read More
    breaking News hastakshep
    देश

    लखनऊ में मोदी गोबैक के नारों के साथ छात्रों ने किया मोदी का स्वागत

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने
    Read More
    स्वामी सानंद
    शख्सियत

    गंगोत्री से आई एक बूंद भी प्रयाग नहीं पहुंचती- स्वामी सानंद

    गंगा कोई नैचुरल फ्लो नहीं- स्वामी सानंद
    Read More
    Rajendra Sharma, राजेंद्र शर्मा, लेखक वरिष्ठ पत्रकार व हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।
    आजकल

    रोहित वेमुला की आत्महत्यानुमा- संघ का पाखंड अपने नंगे रूप में सामने आया

    रोहित वेमुला की आत्महत्यानुमा- संघ
    Read More
    breaking News hastakshep
    ENGLISH

    SARFARAZ ALAM SHOULD BE THROWN IN JAIL: TEJ PRATAP YADAV

    Sarfaraz Alam should be thrown in jail: Tej
    Read More
    हरा
    ENGLISH

    SOCIOLOGY OF ELITES AND ITS REALITY

    AKHILESH KUMAR It seems that social scientists nowadays are more concerned about
    Read More
    cropped-Logo-With-Slogan-1024-1024.jpg
    ENGLISH

    LONG LIVE THE LEGACY OF COMRADE ROHITH VEMULA CHAKRAVARTHY

    Long Live the Legacy of Comrade Rohith Vemula Chakravarthy- NSI
    Read More
    Rohit Vemula
    आजकल

    रोहित वेमुला की आत्महत्या : निरंकुश तन्त्र का षड्यंत्र

    इन्साफ की जंग में रोहित वेमुला की शहादत से
    Read More
    Hindutva means expansion of Brahminical Project
    आजकल

    हत्यायों और नरसंहारों की विचारधारा पर टिका है हिन्दुत्ववादी फ़ासीवाद

    हत्यायों और नरसंहारों की विचारधारा पर टिका है
    Read More
    Vidya Bhushan Rawat, writer is Human right & Ambedkarite activist.
    ENGLISH

    STAND UP AGAINST THE CASTEIST DRONACHARYAS SITTING IN OUR ACADEMIC WORLD.

    Stand up against the casteist Dronacharyas sitting
    Read More
    Let Me Speak Human!
    COLUMN

    MANUSMRITI PLAYS THE OBC CARD TO SUSTAIN THE APARTHEID REGIME, MEDIA TUNED ACCORDINGLY!

    Manusmriti plays the ObC Card
    Read More
    Vidya Bhushan Rawat, writer is Human right & Ambedkarite activist.
    ENGLISH

    UP GOVERNMENT MUST RESPOND TO HORRENDOUS CASE OF ATROCITY INFLICTED ON A DALIT CHILD

    UP government must respond
    Read More
    जसबीर चावला की कविताएं
    कविता

    विचारों का डेड एंड

    विचारों का डेड एंड बंद गली का आख़री मकान तंग विचार की रेडीमेड दुकान
    Read More
    Ram Puniyani
    आपकी नज़र

    तृणमूल और भाजपा के बीच नूरा कुश्ती मालदा हिंसा

    मालदा हिंसा और सेक्युलरवादियों की चुप्पी –राम पुनियानी हमारे
    Read More
    Breaking news Hastakshep-1
    देश

    रोहित वेमुला की मौत आत्महत्या नहीं, हिन्दुत्ववादी सरकार के हाथों की गयी हत्या

    हैदराबाद विश्वविद्यालय में दलित छात्र
    Read More
    Rohit Vemula
    ENGLISH

    A SPECTRE WILL HAUNT THE BRAHMANICAL ACADEMIA, THE SPECTRE OF ROHITH VEMULA!

    Institutional murder of Rohith Vemula A


    LATEST

    News from States Hastakshep
    ENGLISH

    MUZAFARNAGAR RAPE CASE ACCUSED WILL BE ARRESTED SOON: UP ADG

    Muzafarnagar rape case accused will be arrested soon:
    Read More
    Latest News Hastakshep
    ENGLISH

    BJP'S 'CASTE POLITICS' BEHIND DALIT STUDENT'S SUICIDE : KUMARI SELJA

    BJP's 'caste politics' behind Dalit student's suicide :
    Read More
    Congress Logo
    देश

    स्मृति ईरानी को बर्खास्त करने की मांग

    नई दिल्ली। कांग्रेस ने केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी
    Read More
    Rohit Vemula
    आजकल

    रोहित वेमुला : रफ्ता-रफ्ता असहिष्णुता और आपातकाल

    नागपुर पाठशाला का सिलेबस दलित, मुस्लिम, पिछड़ा और स्त्री विरोधी है।
    Read More
    Rohit Vemula
    देश

    रोहित वेमुला की संस्थानिक हत्या के खिलाफ देश भर में सड़कों पर उतरे लोग…

    रोहित वेमुला की संस्थानिक
    Read More
    Rohit Vemula
    देश

    स्‍मृति ईरानी के बयान से नाराज हैदराबाद विश्वविद्यालय के 10 दलित प्रोफेसरों का इस्‍तीफा

    हैदराबाद विश्वविद्यालय में दलित
    Read More
    Vidya Bhushan Rawat, writer is Human right & Ambedkarite activist.
    ENGLISH

    ROHITH VEMULA'S TRAGIC DEATH- SANGH PARIVAR'S LIE MACHINE IS AT WORK.

    Rohith Vemula's tragic death- It is fight
    Read More
    letter to editor, आपकी बात, AApki baat, letter to editor
    आपकी बात

    बहुत तेजी से फ़ैल रहा है फर्जी देश प्रेम का मानसिक रोग

    भारत को हिन्दू राष्ट्र घोषित करना
    Read More
    Rohit Vemula
    ENGLISH

    ROHIT VEMULA DIDN'T COMMIT SUICIDE, IT'S A SYSTEMIC MURDER

    Time to rise above narrow political interests and fight
    Read More
    जयप्रकाश नारायण - ख़ान अब्दुल ग़फ़्फ़ार ख़ान - श्रीमती इन्दिरा गांधी
    शख्सियत

    मज़हब-देश की सीमा से बहुत ऊपर थे ख़ान अब्दुल ग़फ़्फ़ार ख़ान

    ख़ान अब्दुल ग़फ़्फ़ार ख़ान जैसे नेता मजहब
    Read More
    Ram Puniyani
    ENGLISH

    MALDA VIOLENCE AND SILENCE OF SECULARISTS

    Malda Violence and Silence of Secularists Ram Puniyani Communal violence has been
    Read More
    चंचल
    आजकल

    यह इनके रुखसती का वक्त है, अपढ़ों का खेल है कितनी देर टिकेगा ?

    चंचल ये बोलने नहीं
    Read More
    Randheer Singh Suman, रणधीर सिंह सुमन
    लोकसंघर्ष

    गाँधी ही निशाने पर हैं, गोडसे की औलादें इधर भी हैं-उधर भी हैं

    साम्राज्यवाद का अंत ही आतंकवाद
    Read More
    Rohit Vemula
    UNCATEGORIZED

    रोहित वेमुला की हत्या है यह आत्महत्या

    रोहित वेमुला ने कभी मरना नहीं चाहा होगा। अविनाश पांडेय "समर"
    Read More
    आल इंडिया पीपुल्स फ्रंट
    उत्तर प्रदेश

    किसान तबाह सरकार सैफई महोत्सव में व्यस्त

    किसान तबाह सरकार सैफई महोत्सव में व्यस्त है। प्रदेश की राजनीति
    Read More
    राजीव नयन बहुगुणा, लेखक वरिष्ठ पत्रकार व कवि हैं। उत्तराखण्ड में सूचना आयुक्त हैं।
    बहस

    सबको सम्मान और बराबरी का दर्ज़ा मिलने तक उत्पात होते ही रहेंगे

    मैं धर्म को नहीं मानता, लेकिन
    Read More
    lalu-prasad-yadav
    देश

    लालू की संघ/भाजपा को चेतावनी – उत्पीड़ित वर्गों के लोग अगर जाग गए तो कहीं ढूंढे नहीं मिलोगे

    Rohit Vemula
    ENGLISH

    AN ENCOUNTER WITH THE HINDU-ISIS-INSTITUTIONAL MURDER OF ROHIT VEMULA

    Institutional murder of Rohit Vemula- An encounter with the
    Read More
    Randheer Singh Suman, रणधीर सिंह सुमन
    लोकसंघर्ष

    रोहित वेमुला की बलि चढ़ा दी नकली राष्ट्रवादियों ने

    नकली राष्ट्र भक्ति दंगे करा कर मानव बलि ही
    Read More
    Rajendra Sharma, राजेंद्र शर्मा, लेखक वरिष्ठ पत्रकार व हस्तक्षेप के सम्मानित स्तंभकार हैं।
    दुनिया

    भारत-पाकिस्तान : फिर गंवा ही दिया मौका

    भारत-पाकिस्तान : वही हुआ जिसके होने के आसार थे 0 राजेंद्र शर्मा आखिरकार,
    Read More
    Modi-at-Bhagalpur
    ENGLISH

    ITS NOT JUMLA! : MODI STARTS UP "NEW BUSINESS"

    Starts Up India – Its outright control of capitalist
    Read More
    गाँधी शांति प्रतिष्ठान में प्रो. प्रेम सिंह की पुस्तक
    देश

    गुजरात के सबक : आज के समय में सभी सेकुलर कहे जाने वाली पार्टियां मूक बनी हुई हैं


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0



      Rohith Vemula suicide: JNU students begin indefinite ...

      indianexpress.com› india › india-news-india › Rohith Suicide Case

      2 days ago - Delhi: Three students of JNU start hunger strike over suicide of Universityof Hyderabad scholar Rohith Vemula. — ANI (@ANI_news) January ...

      HCU hunger strike: 7 students hospitalised, several others ...

      indianexpress.com› india › india-news-india › Rohith Suicide Case

      3 days ago - So we have decided to continue our hunger strike despite removal ...RohithRohith Vemula, HCU hunger strike, Hyderabad Central University, ...



      Hyderabad students set nationwide university strike for ...

      1 day ago - The agitation at Hyderabad University over the January 17 suicide of Dalit research scholar Rohit Vemula could spread across the country, with ...

      Rohith Vemula suicide: 7 students of Hyderabad University ...

      zeenews.india.com› India News

      3 days ago - Demanding justice for Rohith Vemula , seven students of the HyderabadUniversity went on an indefinite hunger strike on Sunday. With the ...

      Rohit Vemula suicide: JNU students begin indefinite hunger ...

      zeenews.india.com› India News › States News › Delhi

      2 days ago - Rohit Vemula suicide: JNU students begin indefinite hunger strike ...University (HCU) Dalit research scholar Rohith Vemula, students of ...

      Protesters call nationwide strike as stir intensifies at ...

      www.livemint.com› Politics › Policy

      1 day ago - Students from different universities converged on the campus to pledge support to the agitation over the suicide of Rohith Vemula.

      Hunger Strike, Peaceful Marches By Delhi Students For ...

      www.ndtv.com› All India

      16 hours ago - Twenty-six-year-old Rohit Vemula, a PhD scholar, was found hanging at the Central University's hostel room in the campus. New Delhi: ...

      Rohith suicide: Students resume hunger strike at HCU, stay ...

      www.deccanchronicle.com/.../rohith-suicide-students-resume-hunger-stri...

      2 days ago - Students demand removal of Hyderabad University VC and Rs 50 lakh compensation to Rohith's family.

      Search Results

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ...

        17 hours ago - Uploaded by Justice For Rohith UoH

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ... Now Rohith Vemula's colleagues go on ...

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ...

        17 hours ago - Uploaded by Justice For Rohith UoH

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ... Now Rohith Vemula's colleagues go on ...

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ...

        19 hours ago - Uploaded by Justice For Rohith UoH

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ... Now Rohith Vemula's colleagues go on ...

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ...

        20 hours ago - Uploaded by Justice For Rohith UoH

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ... Now Rohith Vemula's colleagues go on ...

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ...

        19 hours ago - Uploaded by Justice For Rohith UoH

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ... Now Rohith Vemula's colleagues go on ...

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ...

        19 hours ago - Uploaded by Justice For Rohith UoH

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ... Now Rohith Vemula's colleagues go on ...

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ...

        20 hours ago - Uploaded by Justice For Rohith UoH

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ... Now Rohith Vemula's colleagues go on ...

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ...

        20 hours ago - Uploaded by Justice For Rohith UoH

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ... Now Rohith Vemula's colleagues go on ...

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ...

        18 hours ago - Uploaded by Justice For Rohith UoH

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ... Now Rohith Vemula's colleagues go on ...

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ...

        17 hours ago - Uploaded by Justice For Rohith UoH

        Justice For Rohith Vemula- Ongoing Protest in University of ... Now Rohith Vemula's colleagues go on ...


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    भारतीय गणतन्त्र की दिशा बोध संहिता हमारे संविधान "भीम स्मृति " के रचयिता बाबा साहेब भीम राव आम्बेडकर को नमन । आज उन्ही की मेधा एवं अध्यवसाय के फलस्वरूप हमे लोक तन्त्र की गाइड बुक मिली । यह युग मनु स्मृति को कूड़े में फेंक "भीम स्मृति " को अपनाने का है ।

    Comments
    Suraj Singh Sarki
    Suraj Singh Sarki ji sahmat hoo...
    Like · Reply · 1 · 17 hrs
    Puran Singh Bhandari
    Puran Singh Bhandari प्रशासन द्वारा सताये गये दलित छात्र रोहित वेमुला कि शहादत को नमन करते हुये गणतंत्र दिवस कि शुभकामनायें ।
    Puran Singh Bhandari's photo.
    Like · Reply · 2 · 17 hrs
    Manoj Ranswal
    Manoj Ranswal Koti koti naman
    Like · Reply · 1 · 17 hrs
    Surinder Singh Bhandari
    Surinder Singh Bhandari गणतन्त्र दिवस की बधाई जय हिन्द
    Like · Reply · 1 · 16 hrs
    Pancham Singh Rawat
    Pancham Singh Rawat गणतंत्र दिवस की आपको हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं
    Like · Reply · 1 · 16 hrs
    Bhuwan Chandra Gunwant
    Like · Reply · 1 · 13 hrs
    Shradhanand Sharma
    Shradhanand Sharma कई हजार जातियों में बटे हुए लोग भला एक राष्ट्र कैसे हो सकते हैं.....
    बंधुत्व तभी संभव है जब हम एक राष्ट्र हो और बंधुत्व ना हो तो समानता और स्वतंत्रता की औकात मुलम्मे से ज्यादा नहीं होगी.......... डॉ भीमराव अंबेडकर
    Like · Reply · 1 · 13 hrs
    Praveen Koli
    Like · Reply · 1 · 13 hrs
    Mannu Rana Utrakhandi
    Mannu Rana Utrakhandi आजी भीम राव ने कहाँ बनाया इस में तो 389 लोगो का सहयोग था सर एक हाथ से कभी ताली नही बजती 
    और वो पारूप कमेटी की अध्यक्छ थे सभी को अलग अलग काम दिया गया था झण्डा कमेटी के डॉ राजेंदर परसाद थे हाँ ये है की मेन काम पारूप कमेटी का ही था पर को सारा श्रेया एक को नही देना चहिये
    Like · Reply · 1 · 11 hrs
    Harish Chandra Lakhera
    Harish Chandra Lakhera आप ही सुरुआत करें प्रभु . ये बहुगुना टाइटल क्यो रखा है पंडत जी . हटाओ ना इसे. हटाओगे. या सिर्फ भाषण. हाहाहाहा
    Like · Reply · 1 · 11 hrs
    Arya Surendra
    Arya Surendra सदैव जय हो !
    Like · Reply · 1 · 9 hrs
    Shishram Kanswal
    Shishram Kanswal बिलकुल थे ३९८ योग्य लोग परन्तु अध्यक्स्छ और कारगर भूमिका भारत रत्न बाबा साहेब की ही रही इसीलिये संविधान स्वीकृति की तिथि से ही ३९८ सदस्यों सहित पूरा राष्ट्र संविधान बाबा साहेब की देन ही बोलता आया है इस पर कोई विवाद नही रहा कभी
    Like · Reply · 2 · 7 hrs
    Mannu Rana Utrakhandi
    Mannu Rana Utrakhandi सारा सविधान तो दुसरे देशो से ले रखा इस में कुछ बी नया नही था आधा से ज्यादा तो 1935 से लिया गया जो अंग्रेजो का था
    Like · Reply · 6 hrs
    Vinay Shah
    Vinay Shah सहमत...
    Like · Reply · 6 hrs
    Mannu Rana Utrakhandi
    Mannu Rana Utrakhandi बहुत ही बढ़िया पोस्ट है निवेदन है की जरूर पढियेगा....
    #कोई_अपना_सा ••..
    बाजार से घर लौटते वक्त कुछ खाने का मन किया तो,...See More
    Like · Reply · 1 · 6 hrs
    Praveen Koli
    Praveen Koli जो भी व्यक्ति यह कहता है की दुसरे देशों के संविधान की नकल कर यह संविधान बना है तो । गधो यह सुन लो क्या मनुस्मृति की नकल कर के संविधान बनता। ये मनु का विधान लागू था उस समय देश में। और सुनो गधो कभी बुद्ग को भी पढ़ लिया करो तब पता चल जाएगा तुम मूर्खों को की इस देश से विश्व ने मानवता और ज्ञान लिया है। न की हमारा संविधान दुसरे देशों की नकल है।
    Like · Reply · 5 hrs · Edited
    Mannu Rana Utrakhandi
    Mannu Rana Utrakhandi Ha ha ha ha ha gdhe b dusro ko gdhe bolne lge
    Like · Reply · 5 hrs
    Mannu Rana Utrakhandi
    Mannu Rana Utrakhandi अगर मनु से इतनी ही नफरत है तो धरम ही बदल लो मन्नू की बुराई करने वाले और तो और बुद्ध कौन से दूसरी जगह से आये वो बी हिन्दू ही थे आज बी है
    Like · Reply · 5 hrs
    Mannu Rana Utrakhandi
    Mannu Rana Utrakhandi जय हिन्द जय भारत जय उतराखंड जय भोले इस से ऊपर कोई नही
    Like · Reply · 5 hrs
    Praveen Koli
    Praveen Koli अगर गधों को बुरा लगा हो तो गधे मुझे माफ़ करें
    Like · Reply · 5 hrs
    Mannu Rana Utrakhandi
    Mannu Rana Utrakhandi हा हा हा राजपूतो ने गधो को को गधा ही बनाया वो बी घसीट घसीट के
    Like · Reply · 5 hrs
    Mannu Rana Utrakhandi
    Mannu Rana Utrakhandi राणा लोगो ने किसी के आगे sir नही झुकाया sir कटा सकते मगर sir झुका सकते नही हमें गर्व है हम भारतीय है और हिन्दू है जिस थाली में खाते है उस में छेद नही करते न उस देश के महान लोगो महान धरम के बारे में कुछ गलत बोलते जो सच है वो है sacchi कडवी लगती है
    Like · Reply · 4 hrs

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!




    RSS के कट्टर जातिवादी अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख ब्राह्मण मनमोहन वैद्य. ने अपने संवैधानिक अधिकारों के लिए लड़ते लड़ते शहीद हो गए हैदराबाद यूनिवर्सिटी के PHD के युवा छात्र रोहित बेमुला को देशद्रोही कहा और भाजप के कट्टर जातिवादी ब्राह्मण नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने रोहित बेमुला को मृत्यु की और धकेलनेवालो के विरुद्ध में आवाज उठानेवालो को कुत्ते कहा...

    1. क्या RSS देशप्रेमी संगठन है?
    हैदराबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय के खुदकशी करने वाले छात्र रोहित वेमुला को RSS ने देशद्रोही क़रार दिया है। दूसरी तरफ रोहित के खुदकशी करने पर देश भर में विरोध हो रहा है। इस पर ख़ुदकुशी के विरोध में उठ रही आवाज़ों के बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने कहा है कि विश्वविद्यालय के छात्र किसी देशद्रोही के समर्थन में आंदोलन कैसे कर सकते हैं?

    आरएसएस के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख डॉक्टर मनमोहन वैद्य ने नागपुर के रेशमीबाग स्थित संघ कार्यालय में बीबीसी हिंदी से बातचीत में यह सवाल उठाया. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की ओर से दी गई सजा का विरोध करने वाले तत्व विश्वविद्यालय में कैसे हो सकते हैं. रोहित वेमुला हैदराबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय के शोध छात्र थे. विश्वविद्यालय प्रशासन ने उन्हें और उनके चार साथियों को निलंबित कर दिया था. इसके विरोध में वो आंदोलन कर रहे थे. 17 जनवरी को रोहित ने फांसी लगाकर ख़ुदकुशी कर ली थी. हैदराबाद यूनिवर्सिटी में खुदकशी करने वाले को RSS ने देशद्रोही क़रारा दिया है। देखिये ये लिंक.. http://crimeindiaonline.com/news.php?news_id=1255

    प्रश्न ये है की RSS की स्थापना 1925 से लेकर 15 अगस्त 1947 तक RSS के एक भी ब्राह्मण नेता ने ब्रिटिश शासन को समर्थन देना बंध किया? देश के आझादी के आन्दोलन का विरोध करना बंध किया था? 

    "जेल जाना फांसी चढ़ना कोई देशभक्ति नहीं, बल्कि छिछोरी देशभक्ति और प्रसिद्धि की लालसा है ।"संघ वृक्ष के बीज, लेखक, - RSS के प्रथम ब्राह्मण सर संघचालक,केशवराव बलिराम हेडगेवार.. (आरएसएस प्रकाशन )

    "शहीद भगत सिंह राजगुरु सुखदेव इन की कुर्बानियों से देश का कोई हित नहीं होता!" बंच ऑफ़ थॉट्स, लेखक- RSS के दुसरे ब्राह्मण सर संघचालक, एमएस गोलवलकर.. (आरएसएस प्रकाशन) 

    एक प्रश्न बार बार उठता है कि RSS के कट्टर पंडित नेताओ या पंडित स्वयंसेवकों 1947 तक ब्रिटिश सत्ता के समर्थक रहे और देश के आझादी के आन्दोलन के विरोधी रहे थे, फिर वे राष्ट्रवादी कैसे और हिन्दूवादी कैसे? क्या किसी विदेशी शासन का गुलाम रहेना, गुलामी सहेना और गुलामी का समर्थक बना रहेना राष्ट्रवाद या हिन्दुवाद है? देखिये लिंक..
    https://web.facebook.com/notes/jayantibhai-manani/ब्रिटिशराज-के-समर्थक-आझादी-के-आन्दोलन-विरोधी-rss-के-जातिवादी-पंडित-नेताओ-डॉ-हेडग/451782238182964

    2. हैदराबाद में एक एससी छात्र रोहित बेमुला की खुदकुशी के बाद पुरे भारतमें एससी, एसटी और ओबीसी संगठनो और विरोधपक्षों के आंदोलन आज भी जारी है. इस बीच बीजेपी के सीनियर कट्टर जातिवादी ब्राह्मण नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने विरोध करने वालों पर ही विवादित बयान दे डाला है. स्वामी ने विरोध करने वालों की तुलना व्यवस्था का पीछा करने वाले कुत्तों से की है. देखिये लिंक.. http://abpnews.abplive.in/india-news/hu-protest-become-a-drama-says-subramanian-swamy-319697/
    .
    प्रश्न ये है की देश में लोकतंत्र है या जातितंत्र? देश में संविधान का शासन है या मनुस्मृति का?

    कट्टर जातिवादी पंडित सुब्रह्मण्यम स्वामी ओबीसी, एससी और एसटी समुदाय से रोहित बेमुला की आत्महत्या के विरुध्ध आवाज उठा रहे है उसे कुत्ताओ कहते है.

    आसाराम, ज्योतिषबद्रिकाश्रम के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती, पुरी पीठ के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती जैसे ब्राह्मण पंडितो और पौराणिक ब्राह्मण धर्म की चार वर्ण की व्यवस्था से उत्पन्न जातिवादी प्रभुत्व से पीड़ित पिछड़े भारत के बारे में स्वामी विवेकानंद ने "जाति, संस्कृति और समाजवाद " पुस्तक के पेज 35-36 में कहा है, -

    "भाई ! दक्षिण भारत में उच्च वर्ण के लोग नीचले वर्ण के लोगो को जिस तरह परेशान करते है, उनके भयंकर अनुभव मुझे हुवे है. जो धर्म गरीबो के दुःख दूर न करे और मानव को देव न बनाये वह क्या धर्म है.? तुम मानते हो की हमारा धर्म 'धर्म' नाम के लायक है.?

    हमारा धर्म यानी केवल 'छुओ मत', 'छुओ मत' है. अरे भगवान ! जिस देश के नेताओ(ब्राह्मण पंडितो) गत दो हजार वर्षों से दाहिने हाथ से खाए या बाये हाथ से, 'दाई और से पानी पिए या बायीं और से'. ऐसी चर्चा करते आये है उस देश का विनाश न होगा तो किसका होगा ?
    ............जिस देश के लाखो लोगो महुए के फुल खाकर जी रहे है और दश-विश लाख साधुओ तथा एक करोड ब्राह्मणों इस गरीब लोगो का रक्त चूसते है और उनकी उन्नति के लिए रत्ती भर भी प्रयास नही करते, उसे देश कहे या नरक.? इसे धर्म कहे या पिशाच का तांडव.?" 

    सुब्रह्मण्यम स्वामी जैसे कट्टर जातिवादी ब्राह्मण पंडितो के बारे में स्वामी विवेकानंद ने आगे कहा है, - 

    "आओ, मनुष्य बनो! उन पाखण्डी पुरोहितों(ब्राह्मण पंडितो) को, जो सदैव उन्नत्ति के मार्ग में बाधक होते हैं, ठोकरें मारकर निकाल दो, क्योंकि उनका सुधार कभी न होगा, उन्के हृदय कभी विशाल न होंगे। उनकी उत्पत्ति तो सैकडों वर्षों के अन्धविश्वासों और अत्याचारों के फलस्वरूप हुई है। पहले पुरोहिती पाखंड को ज़ड - मूल से निकाल फेंको। आओ, मनुष्य बनो। कूपमंडूकता छोडो और बाहर दृष्टि डालो। देखो, अन्य देश किस तरह आगे बढ रहे हैं।" देखिये लिंक..
    https://web.facebook.com/notes/jayantibhai-manani/स्वामी-विवेकानन्द-की-नजर-में-रोंग-नंबर-थे-पौराणिक-ब्राह्मण-धर्म-rss-के-पंडित-नेत/236172229743967

    3. देश का संविधान लागु करो..
    देश की 54% से ज्यादा आबादी होते हुवे भी संवैधानिक मंडल कमीशन की संवैधानिक सिफारिसो में से 80% सिफारिसो को जातिवादियो ने लागु नहीं होने दिया.. देश के 16% एससी समुदाय को आज भी सामाजिक उच्च नीच के भेद से प्रताड़ित किया जा रहा है. 8% से ज्यादा एसटी समुदाय के संवैधानिक अधिकारों की धजिया उड़ाई जा रही है..

    पिछड़े वर्गों के रोहित वेमुला जैसे कई युवा छात्रो को परशुराम और द्रोणाचार्य के वारिसो ने यूनिवर्सिटी के प्रशासको ने आत्महत्या की और धकेल दिया है. ओबीसी, एससी और एसटी एक है अलग नहीं है. अब बिनपक्षीय रूप से एक राष्ट्रिय आवाज संविधान लागु करो और प्रशासन में ओबीसी, एससी और एसटी की हिस्स्र्दारी स्थापित करो या खुर्शी खाली करो को बुलंद करने का समय आ गया है.
    RSS के कट्टर जातिवादी अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख ब्राह्मण मनमोहन वैद्य. ने अपने संवैधानिक अधिकारों के लिए लड़ते लड़ते शहीद हो गए हैदराबाद यूनिवर्सिटी के PHD के युवा छात्र रोहित बेमुला को देशद्रोही कहा और भाजप के कट्टर जातिवादी ब्राह्मण नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने रोहित बेमुला को मृत्यु की और धकेलनेवालो के विरुद्ध में आवाज उठानेवालो को कुत्ते कहा...

    1. क्या RSS देशप्रेमी संगठन है?
    हैदराबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय के खुदकशी करने वाले छात्र रोहित वेमुला को RSS ने देशद्रोही क़रार दिया है। दूसरी तरफ रोहित के खुदकशी करने पर देश भर में विरोध हो रहा है। इस पर ख़ुदकुशी के विरोध में उठ रही आवाज़ों के बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने कहा है कि विश्वविद्यालय के छात्र किसी देशद्रोही के समर्थन में आंदोलन कैसे कर सकते हैं?

    आरएसएस के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख डॉक्टर मनमोहन वैद्य ने नागपुर के रेशमीबाग स्थित संघ कार्यालय में बीबीसी हिंदी से बातचीत में यह सवाल उठाया. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की ओर से दी गई सजा का विरोध करने वाले तत्व विश्वविद्यालय में कैसे हो सकते हैं. रोहित वेमुला हैदराबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय के शोध छात्र थे. विश्वविद्यालय प्रशासन ने उन्हें और उनके चार साथियों को निलंबित कर दिया था. इसके विरोध में वो आंदोलन कर रहे थे. 17 जनवरी को रोहित ने फांसी लगाकर ख़ुदकुशी कर ली थी. हैदराबाद यूनिवर्सिटी में खुदकशी करने वाले को RSS ने देशद्रोही क़रारा दिया है। देखिये ये लिंक.. http://crimeindiaonline.com/news.php?news_id=1255

    प्रश्न ये है की RSS की स्थापना 1925 से लेकर 15 अगस्त 1947 तक RSS के एक भी ब्राह्मण नेता ने ब्रिटिश शासन को समर्थन देना बंध किया? देश के आझादी के आन्दोलन का विरोध करना बंध किया था? 

    "जेल जाना फांसी चढ़ना कोई देशभक्ति नहीं, बल्कि छिछोरी देशभक्ति और प्रसिद्धि की लालसा है ।"संघ वृक्ष के बीज, लेखक, - RSS के प्रथम ब्राह्मण सर संघचालक,केशवराव बलिराम हेडगेवार.. (आरएसएस प्रकाशन )

    "शहीद भगत सिंह राजगुरु सुखदेव इन की कुर्बानियों से देश का कोई हित नहीं होता!" बंच ऑफ़ थॉट्स, लेखक- RSS के दुसरे ब्राह्मण सर संघचालक, एमएस गोलवलकर.. (आरएसएस प्रकाशन) 

    एक प्रश्न बार बार उठता है कि RSS के कट्टर पंडित नेताओ या पंडित स्वयंसेवकों 1947 तक ब्रिटिश सत्ता के समर्थक रहे और देश के आझादी के आन्दोलन के विरोधी रहे थे, फिर वे राष्ट्रवादी कैसे और हिन्दूवादी कैसे? क्या किसी विदेशी शासन का गुलाम रहेना, गुलामी सहेना और गुलामी का समर्थक बना रहेना राष्ट्रवाद या हिन्दुवाद है? देखिये लिंक..
    https://web.facebook.com/notes/jayantibhai-manani/ब्रिटिशराज-के-समर्थक-आझादी-के-आन्दोलन-विरोधी-rss-के-जातिवादी-पंडित-नेताओ-डॉ-हेडग/451782238182964

    2. हैदराबाद में एक एससी छात्र रोहित बेमुला की खुदकुशी के बाद पुरे भारतमें एससी, एसटी और ओबीसी संगठनो और विरोधपक्षों के आंदोलन आज भी जारी है. इस बीच बीजेपी के सीनियर कट्टर जातिवादी ब्राह्मण नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने विरोध करने वालों पर ही विवादित बयान दे डाला है. स्वामी ने विरोध करने वालों की तुलना व्यवस्था का पीछा करने वाले कुत्तों से की है. देखिये लिंक.. http://abpnews.abplive.in/india-news/hu-protest-become-a-drama-says-subramanian-swamy-319697/
    .
    प्रश्न ये है की देश में लोकतंत्र है या जातितंत्र? देश में संविधान का शासन है या मनुस्मृति का?

    कट्टर जातिवादी पंडित सुब्रह्मण्यम स्वामी ओबीसी, एससी और एसटी समुदाय से रोहित बेमुला की आत्महत्या के विरुध्ध आवाज उठा रहे है उसे कुत्ताओ कहते है.

    आसाराम, ज्योतिषबद्रिकाश्रम के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती, पुरी पीठ के शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती जैसे ब्राह्मण पंडितो और पौराणिक ब्राह्मण धर्म की चार वर्ण की व्यवस्था से उत्पन्न जातिवादी प्रभुत्व से पीड़ित पिछड़े भारत के बारे में स्वामी विवेकानंद ने "जाति, संस्कृति और समाजवाद " पुस्तक के पेज 35-36 में कहा है, -

    "भाई ! दक्षिण भारत में उच्च वर्ण के लोग नीचले वर्ण के लोगो को जिस तरह परेशान करते है, उनके भयंकर अनुभव मुझे हुवे है. जो धर्म गरीबो के दुःख दूर न करे और मानव को देव न बनाये वह क्या धर्म है.? तुम मानते हो की हमारा धर्म 'धर्म' नाम के लायक है.?

    हमारा धर्म यानी केवल 'छुओ मत', 'छुओ मत' है. अरे भगवान ! जिस देश के नेताओ(ब्राह्मण पंडितो) गत दो हजार वर्षों से दाहिने हाथ से खाए या बाये हाथ से, 'दाई और से पानी पिए या बायीं और से'. ऐसी चर्चा करते आये है उस देश का विनाश न होगा तो किसका होगा ?
    ............जिस देश के लाखो लोगो महुए के फुल खाकर जी रहे है और दश-विश लाख साधुओ तथा एक करोड ब्राह्मणों इस गरीब लोगो का रक्त चूसते है और उनकी उन्नति के लिए रत्ती भर भी प्रयास नही करते, उसे देश कहे या नरक.? इसे धर्म कहे या पिशाच का तांडव.?" 

    सुब्रह्मण्यम स्वामी जैसे कट्टर जातिवादी ब्राह्मण पंडितो के बारे में स्वामी विवेकानंद ने आगे कहा है, - 

    "आओ, मनुष्य बनो! उन पाखण्डी पुरोहितों(ब्राह्मण पंडितो) को, जो सदैव उन्नत्ति के मार्ग में बाधक होते हैं, ठोकरें मारकर निकाल दो, क्योंकि उनका सुधार कभी न होगा, उन्के हृदय कभी विशाल न होंगे। उनकी उत्पत्ति तो सैकडों वर्षों के अन्धविश्वासों और अत्याचारों के फलस्वरूप हुई है। पहले पुरोहिती पाखंड को ज़ड - मूल से निकाल फेंको। आओ, मनुष्य बनो। कूपमंडूकता छोडो और बाहर दृष्टि डालो। देखो, अन्य देश किस तरह आगे बढ रहे हैं।" देखिये लिंक..
    https://web.facebook.com/notes/jayantibhai-manani/स्वामी-विवेकानन्द-की-नजर-में-रोंग-नंबर-थे-पौराणिक-ब्राह्मण-धर्म-rss-के-पंडित-नेत/236172229743967

    3. देश का संविधान लागु करो..
    देश की 54% से ज्यादा आबादी होते हुवे भी संवैधानिक मंडल कमीशन की संवैधानिक सिफारिसो में से 80% सिफारिसो को जातिवादियो ने लागु नहीं होने दिया.. देश के 16% एससी समुदाय को आज भी सामाजिक उच्च नीच के भेद से प्रताड़ित किया जा रहा है. 8% से ज्यादा एसटी समुदाय के संवैधानिक अधिकारों की धजिया उड़ाई जा रही है..

    पिछड़े वर्गों के रोहित वेमुला जैसे कई युवा छात्रो को परशुराम और द्रोणाचार्य के वारिसो ने यूनिवर्सिटी के प्रशासको ने आत्महत्या की और धकेल दिया है. ओबीसी, एससी और एसटी एक है अलग नहीं है. अब बिनपक्षीय रूप से एक राष्ट्रिय आवाज संविधान लागु करो और प्रशासन में ओबीसी, एससी और एसटी की हिस्स्र्दारी स्थापित करो या खुर्शी खाली करो को बुलंद करने का समय आ गया है.

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!


    ‪#‎JusticeforRohithVemula‬

    Thanks Didi Modi alliance that RSS dares to thrash students right in Kolkata.It is University strike countrywide today to dismiss Manusmriti!

    ‪#‎আন্দোলনেই‬ করবো শেষ ল্যাজ গুটিয়ে আর এস এস।

    Donald Trump is the next BIRANCHI Baba to declare the war against Islam as RSS branded Kalki,the ultimate Ginnie has declared.Bfore making the globe free of Islam,RSS is all set to make India free of Bahujan samaj,the SC,st and OBC and the Non Hindus including christians,Sikhs and Buddhists!Thus the Shambuks have to be killed to continue the Bull Run to sustain Manusmirti!

    If a

    man were porter of hell-gate, he should have

    old turning the key.

    Who's there, in the other devil's

    name? Faith, here's an equivocator, that could

    swear in both the scales against either scale;

    who committed treason enough for God's sake,

    yet could not equivocate to heaven: O, come

    in, equivocator.


    Noam Chomsky, the noted radical and MIT professor emeritus, said the Republican Party has become so extreme in its rhetoric and policies that it poses a "serious danger to human survival."

    Thus,RSS is also serious danger for Humanity!


    Palash Biswas

    Who killed Rohith Vemula?


    All those who are mute spectators of the processes under way to restore supremacist Brahmanic rule are responsible for his death, Anand Teltumbde writes in Indian Express!


    Dalit iconic scholar Anand Teltumbde writes about the Hindutva gang and recalls what fascist Benito Mussolini said : " Those who are in disagreement with us, we don't debate with them, we finish them ". The deception and dishonesty of the Hindutva gang resides in its thousand-heads.

    हिंदुत्व गिरोह की मक्कारी और बेईमानी इसके हजार सिरों में बसती हैhttps://t.co/9PG6FxntZd

    ‪#‎41YearsOfBlockbusterDEEWAR‬‪#‎PillowTalk‬ ( Amalendu Upadhyaya )


    Protesters call nationwide strike on Jan 27th as stir intensifies at Hyderabad varsity as RSS attacks students right in Kokata!


    Students from different universities converged on the campus to pledge support to the agitation over the suicide of Rohith Vemula!As RSS attacks students right in Kolkata!

    It is DIDi Modi Alliance all the way!

    রোহিত ভেমুলার আত্মহত্যা: দফতরের বাইরে বিক্ষোভ, পুলিশের সামনেই ছাত্রদের বেধড়ক মার আরএসএস-এর


    Thanks Didi Modi alliance that RSS dares to thrash students right in Kolkata.It is University strike countrywide today to dismiss Manusmriti!

    Here you are!


    Bimal Prasad descibes the RSS Jalwa in Mamata Raj!


    WB me Intolerance ko badhotari karne wali BJP/RSS se hume hoshiyar hona hoga. Aman-Shanti ke liye Samarthak Parivatan kar Katterpanthi BJP/RSS se hatkar Baamfront ko samarthan kare...

    Subject political hai par Samajikta se dur nai hai...

    Dalit Chatra Rohit Vemula ka hatya (pressure create by RSS etc n suicide) ka prativad jab Kolkata ke Chatro dwara nikala gaya tab BJP/RSS/ABVP/ Others ne Kolkata ke RSS Daftar ke bahar unn chatron ke upar hamla kiya gaya aur Media walo ko bhi ghasita gaya.

    Mudda ye hai jab jab TADIPAR (AMIT SHAH) kahi jata hai toh dharm ke naam par Katterpanthi Sangathan (jo sirf apne fayde ke liye hinsha failate hai) Riots karte hai. Iska example pichali chunawi rajya hai. Ab WB ka election hone wala hai aur inn BJP/RSS jaiso ka sadyantra jari hai.

    Mera vyaktigat rup se WB ki Janta se nivedan hai ki BJP/RSS ka samarthan dange ke liye naa kare. WB me samajik ekta aur sadvawna ke liye Samarthak Parivartan kar CPIM jaisi dharm nirpeksh ka sath de. Jisse ki WB ki janta ko Intolerance ka sikar na hona pade...

    Bimal Prasad's photo.


    রোহিত ভেমুলার আত্মহত্যা: দফতরের বাইরে বিক্ষোভ, পুলিশের সামনেই ছাত্রদের বেধড়ক মার আরএসএস-এর

    কলকাতা: দফতরের সামনে বিক্ষোভ দেখানোর জের। ছাত্র সংগঠন ইউনাইটেড স্টুডেন্টস ডেমোক্র্যাটিক ফ্রন্ট (ইউএসডিএফ)-এর সদস্যদের বেধড়ক মারল আরএসএস। এক প্রতিবাদী ছাত্রের পেটে লাথি মারা হয়। বিক্ষোভকারীদের আক্রান্ত হতে দেখেও দর্শকের ভূমিকা নিল পুলিশ। হাত গুটিয়ে রাখল। যদিও হামলার অভিযোগ অস্বীকার করে পুলিশের বিরুদ্ধেই নিষ্ক্রিয়তার অভিযোগ তুলেছে আরএসএস। আরএসএসের লাথি!

    হায়দরাবাদ কেন্দ্রীয় বিশ্ববিদ্যালয়ের মেধাবী দলিত ছাত্র রোহিত ভেমুলার আত্মহত্যার ঘটনায় তোলপাড় দেশ। ঘটনার প্রতিবাদে মঙ্গলবার বিডন স্ট্রিটে আরএসএসের দফতর 'কেশব ভবন'-এর সামনে বিক্ষোভ দেখাতে যায় ইউনাইটেড স্টুডেন্টস ডেমোক্র্যাটিক ফ্রন্ট। পুলিশ বেশ কয়েকজন বিক্ষোভকারীকে গ্রেফতার করে। বাকি বিক্ষোভকারীদের ওপর ঝাঁপিয়ে পড়ে আরএসএস কর্মীরা।

    etx-usdf-reax-on-rss-attacketx-rss-on-police-inaction-

    ছবি তুলতে গেলে সংবাদমাধ্যমের কর্মীদেরও হেনস্থা করা হয়। যদিও সব অভিযোগ অস্বীকার করে পুলিশের বিরুদ্ধেই নিষ্ক্রিয়তার অভিযোগ তুলেছেন আরএসএস-এর রাজ্য সম্পাদক ঋজু বসু।

    দাদরি হত্যাকাণ্ড থেকে প্রাক্তন পাক বিদেশমন্ত্রীর বই প্রকাশ অনুষ্ঠানের আয়োজকের মুখে কালি মাখানো। গুলাম আলির অনুষ্ঠান বাতিল থেকে হরিয়ানায় দুই দলিত শিশুকে পুড়িয়ে মারা। গত কয়েক মাসে দেশজুড়ে অসহিষ্ণুতার একের পর এক নজির। উঠেছে সমালোচনার ঝড়। তবুও কয়েকদিন আগে আত্মহত্যা করতে হয়েছে, মেধাবি দলিত ছাত্র রোহিত ভেমুলাকে। ঘটনার এফআইআর-এ নাম রয়েছে মোদি সরকারের মন্ত্রী বন্দারু দত্তাত্রেয়র। রোহিতের মৃত্যুর বিচার চাইতে গিয়েই রাষ্ট্রীয় স্বয়ং সেবক সঙ্ঘের হাতে আক্রান্ত হতে হল বিরোধী ছাত্র সংগঠন কে!

    প্রতিবাদী কণ্ঠকে দমানোর এই ছবি দেখে অনেকেই বলছেন, এটাও কি চরম অসহিষ্ণুতার পরিচয় নয়?

    http://abpananda.abplive.in/kolkata-news/rss-workers-act-violently-beating-up-students-protesting-outside-its-office-in-calcutta-17280




    Mind you,Noam Chomsky, the noted radical and MIT professor emeritus, said the Republican Party has become so extreme in its rhetoric and policies that it poses a "serious danger to human survival."

    Thus,RSS is also serious danger for Humanity!


    Donald Trump is supported by Israel and he emerged as most potential candidate from the Zionist hegemony to become the next Republican President of United States of America discarding the legacies of America`s struggle for freedom,the legacy of workers` fight of eight working hours and the great war to liberate the slaves,Donald Trump has declared all shutters down for Muslims in America.


    Donald Trump is the next BIRANCHI Baba to declare the war against Islam as RSS branded Kalki,the ultimate Ginnie has declared.Bfore making the globe free of Islam,RSS is all set to make India free of Bahujan samaj,the SC,st and OBC and the Non Hindus including christians,Sikhs and Buddhists!Thus the Shambuks have to be killed to continue the Bull Run to sustain Manusmoirti!


    It is very cold in North India but जंतर मंतर पे कई दिनों से आमरण अनशन पे बैठे कुछ साथी | Jai Bhim!


    Fikr Not,Jai Bhim Comrade!Students countrywide stand rock solid in Unity and it is University strike today to dismiss Manusmriti!


    Mind you,Rohith Vemula's family rejects ex-gratia, criticises PM Modi, Smriti Irani - The Economic Times! Vemula's mother Radhika, sister Neelima and brother Raju, who visited the campus, demanded that "those responsible for his death" be brought to book.


    Well saidRajiv Nayan Bahuguna Bahuguna:

    17 hrs·

    भारतीय गणतन्त्र की दिशा बोध संहिता हमारे संविधान "भीम स्मृति " के रचयिता बाबा साहेब भीम राव आम्बेडकर को नमन । आज उन्ही की मेधा एवं अध्यवसाय के फलस्वरूप हमे लोक तन्त्र की गाइड बुक मिली । यह युग मनु स्मृति को कूड़े में फेंक "भीम स्मृति " को अपनाने का है ।


    BJP and RSS want to abolish the reservation for Dalits to divide the nation in accordance the identities to accomplish the incomplete mission,the global agenda of Hindutva,the genocide culture Gujarat Model as reservation is virtually non existing in the nation along with its economy,production system and the people in robotic biometric free market feeding the profit making machine with human flesh,blood and bones fanning beef Ban to provoke Hindutva under Manusmriti Regime.


    Thanks Didi Modi alliance that RSS dares to thrash students right in Kolkata.It is U