Are you the publisher? Claim or contact us about this channel


Embed this content in your HTML

Search

Report adult content:

click to rate:

Account: (login)

More Channels


Channel Catalog


Channel Description:

This is my Real Life Story: Troubled Galaxy Destroyed Dreams. It is hightime that I should share my life with you all. So that something may be done to save this Galaxy. Please write to: bangasanskriti.sahityasammilani@gmail.comThis Blog is all about Black Untouchables,Indigenous, Aboriginal People worldwide, Refugees, Persecuted nationalities, Minorities and golbal RESISTANCE.

older | 1 | .... | 233 | 234 | (Page 235) | 236 | 237 | .... | 303 | newer

    0 0


    Mail from Nepal:DO MADHESI LEADERS NEED INDIAN PERMISSION TO SPEAK AND DECIDE?

    Sent by

    Tej Kumar Karki


    DO MADHESI LEADERS NEED INDIAN EMBASSADOR'S PERMISSION TO TAKE PART ON MADHES ISSUES IN KATHMANDU?

    DO THEY NEED NEW DELHI'S PERMISSION AND INSTRUCTION TO TAKE PART IN MULTI-PARTY NEGOTIATION DISCUSSION IN NEPAL

    WHEN THEY ARE CALLED FOR CONSENSUS, THEY TAKE BUS AND AEROPLACE TO GO TO NEW DELHI TO GET PERMISSION


    IF NOT, WHY THEY HEAD TO INDIAN EMBASSY OR TAKE AEROPLANE TO GO TO NEW DELHI-----WHEN THEY ARE CALLED FOR MULTI-PARTY DISCUSSION IN KATHMANDU?

    WHY THEY CANNOT DECIDE THEIR MATTERS WITHOUT CONSULTING INDIA?

    ARE THEY HIRED BY INDIA?

    ARE THEY FUNDED AND MOBILIZED BY INDIA?

    ARE THEY ACCOUNTABLE TO INDIA OR NEPAL?

    WHY INDIA SHOULD BE INCHARGE OF NEPAL'S MATTERS?

    CAN NEPAL DEAL KASHMIR AND MANIPUR MATTERS?

    WILL INDIA BE HAPPY?

    IS BECASUE INDIA IS BIG AND POWERFUL IT CAN INTERVNE ON WHATEVER COUNTRY IT LIKES?

    IS THIS NOT SAMEFUL THAT SO CALLED NEPALI-MADHESI-LEADERS WORK AS INSTRUCTED BY INDIA?

    DO MADEHIS-LEADERS NOT HAVE ANY SELF-DIGNITY, NATIONAL PRIDE?

    DO THEY NOT FEEL SHAME WORKING ON BEHALF OF INDIAN INTEREST?

    ALL MADHESI CITIZENS CANNOT BE HOSTAGE OF THESE 'INDIAN-SPONSORED-MADHESI-LEADERS'

    ALL MADHESI CITIZENS SHOULD KNOW THIS AND BOYCOTT THEM

    ALL MEDIA SHOULD EXPOSE THIS BROKERISM OF MADHESI LEADERS AND THEIR INDIAN LOYALTY---------ANTI NEPAL ACT  

    NATIONALIST MADHESI LEADERS COME IN THE FORNT AND DISCUSS WITH OTHER PARTIES AND RESOLVE MADHES ISSUES WHATEVER IS LEFT TO BE DEALTH WITH










    On Sun, Nov 1, 2015 at 9:40 AM, The Himalayan Voice<himalayanvoice@gmail.com> wrote:

     

    IS NOT VERY NICE, INDIA !
    __________________________

    ALTHOUGH THE VIDEO CONTENT IS UNAVAILABLE IN THE UNITED STATES, IT CAN BE READILY UNDERSTOOD THAT INDIA HAS ITS HANDS IN THE CURRENT 'NEPAL MADHESH UNREST'. THIS VIDEO PURPORTS 'MADESH' SCEDE FROM NEPAL. INDIA'S EXTERNAL AFFAIRS MINISTRY OWNS THE VIDEO WHICH WOULD ALSO MEAN INDIA ENDORSES MADHESH BECOME ANOTHER STATE. LAST YEAR'S 'HERO MODI TURNS VILLAIN' . THIS IS NOT VERY NICE, INDIA !


    https://www.youtube.com/watch?v=04V02C1Szjs


    -- 

    The Himalayan Voice
    Cambridge, Massachusetts
    United States of America
    Skype: thehimalayanvoice
    [THE HIMALAYAN VOICE does not endorse the opinions of the author or any opinions expressed on its pages. Articles and comments can be emailed to: himalayanvoice@gmail.com, © Copyright The Himalayan Voice 2015]


    Nepal's Madhesi community threatens agitation for separate statehood


    https://www.youtube.com/watch?v=m70Au_3LYkc
    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    বাবরি লইয়া প্রতিবাদ দিবসের দিনই বাবসাহেবের সহিত দর্শনধারি কল্কি মহারাজ

    বহুজন ক্যপচার

    বাবাসাহেবও ক্যাপচার

    বাংলায় বাম দাঁড়াবে কি দাঁড়াবে না?

    To be or not to be?

    বিপর্যয় এখনো কাটেনি।অশনি সংকেত।দক্ষিণ ভারত মহাসাগরে ভূমিকম্প।বাংলা কি বাঁচিবে কি বাঁচিবে না?


    পলাশ বিশ্বাস

    পয়ত্রিশ বছরের রাজধর্মে সংরক্ষণ বলিলেই,আম্বেডকর বলিলেই এই মাথা কাটে  কাটে ত সেই মাথা কাটে,বহুজন সমাজের জন্য তাহাদের বিবেক জাগিয়াছে


    আরেকটি ঐতিহাসিক ভূল সংশোধনের জন্য উঠিয়া পড়িযা লাগিয়াছেনঅজুহাত সংরক্ষণ পালন হয় নাই,তা-লে এতকাল খামোশ বুড়বক হইয়া বাঙালি সিপিএমে রাজিনীতিতে আপ্লুত ভারতে কম্যুনিস্ট আন্দোলনের দফা রফা করিয়া শেষ পর্যন্তু হুঁশ ফিরিল


    সুস্বাগতমতবু বিহারের অন্কে জাত পাতের হিসাবে আবার ঘুরে দাঁড়ানো হবে কি হবে না,বলা যাইতেছে না


    শেক্সপীয়ার মহাশয়ের রচনায় হ্যামলেটে যেমন class consciosness রহিয়াছে, টেম্পেস্টে যেমন যুতসই ক্যালিবান আছেন বহাল তবিয়তে,মার্কস লেনিন স্টালিন ছাড়ুন সেই প্রাগঐতিহাসিক শেক্সপীয়ার ঘরানার চেতনার উন্মেষ বাংলার কমরেডদের কোনো কালে ঘটিল না


    যে ব্যাটা মহার জাতির অছুত আম্বেডকর বলিলেন,জাতি ধ্বংস ব্যাতিরেক ভারতবর্ষে সমতা ও ন্যায়ের লক্ষ্য দিবাস্বপ্ন,তাঁহাকে,তাঁহার ট্রেড ইউনিয়ন আন্দোলন,শ্রমিক ও মহিলাদের অধিকারের লড়াইকে আজও মান্যতা দিতে নারাজ কমরেড কূল


    অথচ বাবাসাহেবকে লঙ্ঘিয়া গিরি কন্দর দখল করার অবিচল লক্ষ্যে এক্কেবারে কাঁশিরাম ঘরানান নঊ গতর হইল  বৃধ্যস্য তরুনী ভার্যা বামমোরচার


    বিহারিদের আমরা চিরকালই বুড়বক ভাবিয়া রাখিয়াছি,তাহারা হিন্দুত্বের বিজয় রথ রুখিয়াছে


    বাম মোরচা সেখানেও ছিল কুরুক্ষেত্রের যুদ্ধে নীতীশ লালুর বিরুদ্ধে অসলী বিকল্পফলাফলে মালের কপালে তিন তিনটি আসন জুটিলেও সিপিএম সিপিআই ভাঁড়ারে মা ভবানী


    একন সেই বিহার দাওয়াই দমদম দাওয়াইয়ের পরবর্তী সংস্করণবঙ্গের সেয়ানা পাবলিক বটতলা এই সাহিত্য কিনিবেন কিনা,সেই অনিবার্য প্রশ্ন বাহুল্য


    যে ব্যাটা হাগা মোতার জন্য যখন তখন এয়ারপোর্টে তড়ি ঘঢ়ি যাওনের পর সিধা লন্ডন কিংবা ওয়াশিংটন,ইউরোপ কিংবা এশিয়ায় যেখানে সেখানে ঘরের বৌয়ের ন্যায় বিদেশ মন্তীকে ফেলিয়া রাখিয়া এনআরআই,যিনি বসিলেই সিট বেল্ট খোঁজেন,তিনিও জানেন বহুজন ভোট ছাডা় ক্ষমতা দখল অসম্ভব


    সঙ্ঘ পরিবার বুঝিয়া সুঝিয়া ব্রাহ্মণ ন্যাতাদের খাদের মুখে ঠেলিয়া বহুজন মুখের কাফিলা তৈরি করিল,ক্ষমতাও ক্যাপচার করিল,বামেরা লোম্বাডা ছিঁডিতে পারিল না

    আর একন কিনা সেই কমরেডদের সবে ভাত ঘুম ভাঙ্গিল

    Good Morning Comrades!


    বাবরি লইয়া প্রতিবাদ দিবসের দিনই বাবসাহেবের সহিত দর্শনধারি কল্কি মহারাজ


    আম্বেডকর ক্যপচার

    বাবাসাহেবও ক্যাপচার


    বাম প্রগতির ব্যাখ্যা করিবার লাগিয়া খাস বাঙাল না হইলে চলিতেছে না,বিহারিরা প্রমাণ করিল তাহারা বুড়বক নহে,বুড়বক এই বামেরা যাহারা বৃদ্ধদের ভরসায় বিপ্লব করিবেইযুবদের বহিস্কার করিবেইটলছে অথচ গমগম চলছে,চলবেইঅথচ করব লড়াইজিতব লড়াই





    কল্কি অবতার নেগেছেন বোধিসত্ব হইবার তাকীদে

    125 তম জযন্তীতে সংসদের বিশেষ অধিবেশন,বামেদের দাবি ছিল,কার্যকর করল সেই ধর্মান্ধ রাজনীতি এবং এই ধর্মান্ধ রাজনীতির মোকাবিলায় গোমংস ভক্ষণ অভিযানের নিকুচি করার পর হঠাত এসসি,ওবিসি,এসটিদের সংরক্ষণের জন্য প্রাণ যায় যায়


    অন্যদিকে সারা দেশে এসসি,ওবিসি,এসটি গেরুয়া মেরুকরণের,গেরুয়া সুনামির পায়দল সৈন্যবাহিনী রক্তবীজমা কালীর ভোগেও লাগতাছে না


    ধর্মান্ধ মেরুকরণে দিদির হাতে মোসলমান আর মোদীর মুদিখানায় হিন্দুত্বের রান্না জমজমাট,সুদীপার রান্নাঘর ফেল


    একন দিদি নাম্বার ওয়ান রিয়েলিটি শো রাজনীতিক্লাব থাকিলেই ক্যাডার ফেলক্লাবে ক্লাবে খয়রাতি জাপানী তেলআরও আছে টিউব ছাড়া কাঁবা সাইকেলচলতা গাড়ি

    মারিব এখানে লাশ পড়বে শ্মশানে,রাজনীতি জমে দই


    নো তিরস্কার,পুরস্কারের বন্যা চেন্নাই এক্সপ্রেসমুফতে ডিলিটের কারখানা,শারদা লাগে কোনহানে,ক্যাবলা কান্তি

    বাঙালি গো,গনেশ হইল,ব্যাটা বিশ্বকর্মার হাতে হ্যারিকেন

    দ্যাখতাছি দুগ্গো থাকে কি না থাকে,সরসব্তীর হাঁডির হাল

    ধেই ধেই নাচো গো বাঙালি,লুঙ্গ ডান্স,লুঙ্গি ডান্স,লুঙ্গি ডান্স


    সংবিধান দিবসে খয়রাতি দিদির চাইতে মুদিখানার বেশি ছাড়া কিছু কম হয় নাইবহুজন রাজনীতির পাতে কম কিছু পড়ে নাইসব ব্যাটা রাম হনুমানজাম্বুবান কাঁবা কি করে?


    বাবরি বিধ্বংসের উদ্যাপন দিবসে সব কাগজে ফুল পাতা Ad বিজ্ঞাপনে বিলোদনে বিনোদিনী ফেল বাঙালি গো,কল্কি মহারাজজয় জয় জয় মহারাজ,কল্কি মহারাজকলির শেষ


    কল কারখানা নিপাত যাক্,ধ্বংস হোক খেত খামার ,ধ্বংস হোক মেহনতী জনতা,কোটিপতি জনপ্রতিনিধিরা,কমরেড









    বাংলায় শীতের জন্য হাহাকার



    আজ ২১ ডিগ্রি। কনকনে ঠাণ্ডা দূরে থাক ভরা ডিসেম্বরে শিরশিরানি হিমের পাওয়া যাবে কী না তা নিয়েও আশঙ্কায় আবহাওয়া দফতর। পশ্চিমী ঝঞ্চার দাপটে শীতও এবার ধনীর, এসির তাপমাত্রা কমিয়ে ঘরে ঠাণ্ডা না বাড়ালে শীত এবার দুর্লভ। তবে আবহাওয়া দফতর জানিয়েছে এখনই জাঁকিয়ে শীত না পড়লেও,কয়েকদিনের মধ্যেই তিনি আসতে পারেন শহরে।


    আজকালের প্রতিবেদনঃআজ রবিবার বাবরি মসজিদ ভাঙার সেই কুখ‍্যাত দিন। অন‍্যবারের মতো এবারও রাজ‍্য ও দেশের বিভিন্ন প্রান্তে দিনটি সম্প্রীতি দিবস হিসেবে পালন করেন বামপন্থীরা। কলকাতায় এদিন উত্তর ও দক্ষিণ দু'দিক দিয়ে যৌথ উদ‍্যোগে  দুটি পৃথক মিছিল বের করবে রাজ‍্যের সমস্ত বামপন্থী দল। শহিদ মিনারে সমাবেশ করবে সি পি আই। শুধু এখানেই নয়, রাজ‍্যের সমস্ত জেলায়, জেলা শহরে, মহকুমা স্তরেও মিছিল বের করবে বামপন্থী দলগুলি। এদিন হাওড়া জেলার বামপন্থী দলসমূহের আহ্বানে সম্প্রীতি মিছিল বের হবে দুপুর ২টোয়। বালি খাল থেকে শিবপুর অলকা সিনেমা হল পর্যন্ত। এদিন সকাল ৯টায় চিড়িয়ামোড় থেকে একটি পদযাত্রা বের হবে কলকাতা জেলা বামফ্রন্টের আহ্বানে। গণতন্ত্র ও গণতান্ত্রিক অধিকার রক্ষার ডাক। মিছিলে নেতৃত্ব দেবেন সি পি এম রাজ‍্য সম্পাদক, বিরোধী দলনেতা ডাঃ সূর্যকান্ত মিশ্র–সহ অন‍্যান‍্য বামপন্থী নেতৃত্ব। বিকেল ৪টেয় সাম্প্রদায়িক সম্প্রীতি ও ঐক‍্য–সংহতি রক্ষায় সম্প্রীতি মিছিল হবে উত্তরে দক্ষিণে। উত্তরের মিছিল কলেজ স্কোয়‍্যার থেকে বের হয়ে যাবে নারকেলডাঙা পর্যন্ত। দক্ষিণের মিছিল বের হবে হাজরা মোড় থেকে। বিভিন্ন পথ পরিক্রমা করে শেষ হবে পার্ক সার্কাস ৭ মাথার মোড়ে।

    উল্লেখ‍্য, ১ ডিসেম্বর থেকেই বৃহত্তর বাম ঐক‍্যের ডাকে জেলায় জেলায় সাম্প্রদায়িক সম্প্রীতির পক্ষে, বেড়ে চলা অসহিষ্ণুতার প্রতিবাদে বিভিন্ন কর্মসূচি পালিত হচ্ছে।


    স্কোয়াড হয়েছে, বিক্ষোভ, অবস্থান হয়েছে। কোথাও হয়েছে কনভেনশনও। গত দু'দিন জেলার সর্বত্র হাট সভা, বাজার সভার মধ‍্য দিয়ে মানুষকে সম্প্রীতির পক্ষে ও বি জে পি–র বিপদ সম্পর্কে প্রচার চালিয়েছে বামপন্থী দলগুলি।


    এদিন কলকাতায় সি পি আইয়ের একটি সভা রয়েছে শহিদ মিনারে। দলের প্রতিষ্ঠা দিবস উপলক্ষে একাধিক কর্মসূচি শেষ হবে এই সমাবেশের মধ‍্য দিয়ে। সেখানে অবধারিত ভাবেই প্রতিবাদ  হবে অসহিষ্ণুতা ও সাম্প্রদায়িক বিপদ নিয়ে।



    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0



    गदहा पुराणःहम आपके हैं कौन?

    बाबासाहेब की मूरत पर बहती कमंडल जलधारा धुआंधार!

    कल्कि अवतार जो हुए नयका बोधिसत्व,बाधाई!

    प्यारे अफजल! Chemistry of Love! Physics of Crime!Phenomenon of Mafia Raj across the borders!

    https://www.youtube.com/watch?



    पलाश विश्वास

    भारत में मोहनतकश जनता और शूद्र स्त्रियों के हकहकूक ,नागरिक और मानवाधिकार की लड़ाई लड़ने वाले समता और न्याय के प्रवक्ता बाबासाहेब के जाति उन्मूलन के एजंडे को हमारे कामरेडों को कभी उठाकर देखा नहीं है।इसीलिए यह मंडल बनाम कमंडल महाभारत भारत का सच है।


    हमारे यहां हर मसला मुद्दा व्यक्ति संदर्भित हैं।बाकी कोई प्रसंग संदर्भ हम जानते ही नहीं है।


    हम सत्ता से नाराज होते हैं तो फटाक से सत्ता का चेहरा बदल देते हैं।


    भ्रष्टाचार और अनैतिकता हमारे लिए सबसे बड़े मुद्दे हैं और किसी न किसी को बलि का बकरा बनाकर अंधेर नगरी चौपट राजा का राजकाज हमारा लोकतंत्र है।


    हमने गदहा पुराण भी लिखा है पिछले दिनों।


    थमके खाडा़ रहियो के हम कोई विश्वमित्र भी नहीं है कि तपस्या भंग करने के लिए स्वर्ग से उतर आयेगी कोई मेनका और नयका भारतवर्ष बन जायेगा फिर किसी कुरुक्षेत्र के महाभारत के लिए,जहां फिर रचा जायेगा भागवत पुराण।


    हमउ गधा संसति ह।

    जिन्हें बहुतै गुस्सा आया होगा वे माफ कर दें।

    अपने को गरियाने का हक भी हमें नहीं है।


    वखत खराब बा।बाकीर हम वहींच शंबुक जिसकी हत्या देर सवेर होनी है मनुस्मृति की बहाली के लिए जैसे मारे गये गांधी,कलबर्गी पनसारे दाभोलकर और न जाने कितने मारे जायेंगे।


    बहरेहाल उनका नाम कहीं दर्ज नहीं होता जो कत्लेआम और बलात्कार सुनामी के शिकार हैं और जो रोज या तो मारे जा रहे हैं या बलात्कार के शिकार हैं।


    कौनो एफआईआर लाज नहीं होता।

    चीख कहीं दर्ज नहीं होती।

    हर फ्रेम मा हुक्मरान,हम गुलाम कहीं नहीं हैं।

    कानून का राज कहीं नहीं है सरहदों के आर पार।

    गुंडे माफिया अपराधी की दुनिया को हम स्वर्गवास समझते हैं।


    गुंडे माफिया अपराधी की दुनिया को हम इहलोक परलोक परमार्थ और मोक्ष मानते हैं।बदलाव,समता,न्याय क्रंति ना जने का का मानते हैं।गदहा पुराण का सार यहींच।


    प्यारे अफजल की करेजा हिलेले प्रेमकथा हमने इसीलिए बांची है कि इसमें भ्रष्टाचार की रट नहीं है और सीधे हुकूमत का चेहरा बेनकाब कर दिया गया है,जो भारत में मनुस्मृति अनुशासन और ईस्ट इंडिया कंपनी के स्थाई बंदोबस्त के तहत वंश वर्चस्व का नस्ली भेदभाव के अलावा कुछ नहीं है।


    सारा खेल फर्रुखाबादी युद्ध गृहयुद्ध है और अनंत विभाजन जाति व्यवस्था है जो फिर विश्व व्यवस्था भी है।


    जो पाकिस्तमान में हो रहा है,वही हिंदुस्तान में हो रहा और वहींच बांग्लादेश में।अखंड वंश वर्चस्व है।


    नेपाल की संप्रभु जनता ने इस वंश वर्चस्व को खारिज कर दिया है निनानब्वे फीसद जन प्रतिनिधित्व के साथ नया संविधान अपनाकर और हमने नेपाल को दुश्मन बनाकर हिमालय  के जलस्रोतों से खुद को बेदखल कर लिया है।


    शेक्सपीअर के नाटकों में भी वैज्ञानिक दृष्टि है।

    समय के संदर्भ और प्रसंग यथोचित है।

    इतिहास बोध है और वर्गचेतना भी है और सबसे मजे की बात यह कि शेक्सपीअर के सारे पात्रों का देसीकरण कर दिया जाये तो उनके तमाम नाटक हमारे हैं।


    बालीवूड में ओमकारा,हैदर और मकबूल में यह कर भी दिखाया है।


    पूरा शेक्सपीअर साहित्य वैज्ञानिक दृष्टि से पढ़ने और परीक्षा में वहीं लिखने के अपराध में एमए प्रथम वर्ष में शेक्सपीअरन ट्रेजेडी में जो मुझे सिर्फ पास मार्क 36 हासिल हुए और हम रिसर्च के लिए बेताब हुए रहे,उसीका कर्मफल हमारी यह दो कौड़ी की पत्रकारिता है।लेकिन हम शेक्सपीअर का पीछा कभी ना छोड़े हैं।न छोड़ब।


    अब हम का कहि,कल देर रात कल्कि अवतार संगे बाबासाहेब के विज्ञापन का जलवा बदहजम हो गया तो सबसे पहले बंगाल के कामरेडों को निसाना बांधकर ठेठ बांग्ला में फिर वहींच गदहा पुराण लिख दिहिस तो तृणमूल को भी बख्शा नहीं है।


    मुश्किल यह है कि हम शुतूरमुर्ग नहीं है और कबीर की आत्मा हम पर जहां तहां सवार हो जाती है ऐसे कि बीच बाजार खड़े घर फूकने की हांक लगाने से बाज नहीं आया।हालात ये हैं कि इलाके कि महिलाएं अभी से धमकाने लगी हैं कि इलाका छोड़े तो खैर नहीं।और तो और प्रमोटर वगैरह तत्व जो मित्र हैं 25 साल से बाकायदा धमकाने लगे हैं,जो रोजहगते मूतते हो,उसीतरह हगो मूतो,यहां से हिलें तो काटकर रख देबो।बाकीर हम देख लेंगे।


    मुहब्बत की इस जुबान में हम कीचड़ पानी गोबर में एकाकार हैं ।

    वे ही लोग बिगड़जइहे तो धुन कर प्याज बनाई देब।


    फिरभी सच का सामना तो करना ही होगा।

    बाबरी प्रतिवाद दिवसे बाबासाहेबसंगे दर्शनधारी कल्कि महाराज।

    বাবরি লইয়া প্রতিবাদ দিবসের দিনই বাবসাহেবের সহিত দর্শনধারি কল্কি মহারাজ

    बहुजनवा कैप्चर।

    বহুজন ক্যপচার

    बाबा साहेबो कैप्चर।

    বাবাসাহেবও ক্যাপচার

    बंगाल में वाम का खड़ा होगा कि नको नको।

    বাংলায় বাম দাঁড়াবে কি দাঁড়াবে না?

    To be or not to be?

    বিপর্যয় এখনো কাটেনি।অশনি সংকেত।দক্ষিণ ভারত মহাসাগরে ভূমিকম্প।বাংলা কি বাঁচিবে কি বাঁচিবে না?

    संकट टला नहीं है।अशनि संकेत।दक्षिण हिंद सागर में भूकंप।बंगाल बचेगा के नहीं बचेगा?

    हिंदुस्तान बचेगा कि नहीं बचेगा?

    पाकिस्तान बतेगा कि नहीं बचेगा?

    बांग्लादेश बचेगा कि नहीं बचेगा?

    इसीलिए कल उठा लिया प्यारे अफजल की झूठो यह सरहद है और सारी दुश्मनी हुक्मरान की कारस्तानी है तो देख लो हुक्मरान का वह बेपरदा चेहरा भी।


    हमारे ब्लाग में बिना विज्ञापन के सैंतीस के सैंतीस एपिसोडवा के लिंक हैं।जिनने टीवी पर देखा नहीं है,देक लें नेटवा पर।


    बाकी हमने इस नब्वे मिनट में ही काम के सारे दृश्य और मुहब्बत के कारनामे के साथ निपटा दिया है।

    माफिया,दहशतगर्द, गुंडे हुकूमत पैदा करती है। पालती, मारती भी वह ही है।



    मुहब्बत की जंग ही असल जंग है जो जीते मुहब्बत की जंग वे ही सिकंदर और नफरत के कारोबार में मालामाल हर सौदागर का आखेर बेड़ा गर्क।


    बालीवूड ने पाकिस्तान जीता है।हर मुहब्बत भरे दिल को जीता है।


    प्यारे अफजल का सबसे बड़ा सबक यही है।


    मेज पर कराची का नक्शा है और पुराना डान नये डान बने प्यारे अफजल को उसका इलाका समझा रहा है।पुराने डान ने अपना और अफजाल का इलाका दिखाया तो नये डान ने बाकी इलाकों के बारे में पूछा तो जवाब मिला कि सारे इलाके बंटे हुए हैं,जहां किसी न किसी दादा,गुंडा और डान का राज है।


    पूरा कराची शहर और पूरा पाकिस्तान माफियाऔर गुंडा राज के हवाले हैं।

    मतलब समझ लीजिये।

    https://www.youtube.com/watch?v=i4b8FVaNytc&feature=youtu.be

    साझा नहीं कर सकता सो प्रवचन फिलहाल बंद।

    हस्तक्षेप सात से ग्यारह तक यात्रा पर होगा क्योंकि असहिष्मुता पर लखनऊ में जम जाना है।हमार सारे सिपाहसालार वहीं जुटेगें।


    आप भी वहींच पधारो।


    असल कुकुक्षेत्र वही है जहां हाथी का नाच मीडिया का नया हाइप है।समाजवादी बहुजन जुध में यूपी दखल की तैयारी है।


    ससुरा जिसे देखो वहींच प्रधानमंत्री बनता दीख रिया है।

    अबहुं हमने भी तय कर लिया कि जिनगी में कभी राजनीति की तो सीधे प्रधानमंत्री बनेंगे ताकि हाजतरफा के लिए फटाक से लंदन वाशिंगटन पेरिस देखने की आजादी मिले।


    जनता तो गुलामो है।

    उसकी परवाह किसी को नहीं है तो पाद पाद कर हम किसे कब तक जगाते रहेंगे।


    सुसर नेपाल भी तराई को छू लेने के करतब के अलावा देखा नहीं है।जहां खुल्ला था सरहद और अब वहां बी होगी कंटीली बाड़।


    जनम जात शरणार्थी हूं।अछूत भी हूं।सर्वोच्च शिखर पर पहुंच जाइब,समुंदर की गहराई मा पैठ जाइब,ज्वालामुखी सिरहाने सो जाई तबहुं इस छुआछूत से रिहाई नहीं है।


    प्रधानमंत्री किसीतरह बन जाई तो हो सकत ह कि हिंदू ह्रदयसम्माट बनिकै दुनिया का सारा जायका,सारा मजा चख लिब।


    किसी के पास हमें प्रधानमंत्री बनाने का कोई विकल्प है तो सीधे संपर्क करें वरना कुरुक्षेत्र बरोबर है।हमउ ना मानब।

    बाकीर हमउ परधानम्तीर बन गयो तो यूपी का समूचा देशवा में समाजवाद बरखाबहर।ऴइसन ही जइसन यूपी मा समाजवाद।


    कुनबे खातिर कोई ना हारै कोई इलेक्शनवा।बाकी सगरे होवै खेत।सारे जर परतिनिधि कुनबामध्ये पइदा करब।


    राजवंश ना होवै तो का कुनबापरस्ती कोई वंश वर्चस्व के राजकाज से का कम होब।बिहार का बदलाव चाख लो।हमका परख लिज्यो।


    कुरसी मिलल तो समाजवाद,समता, नियाय सबकुछ बरोबर।

    फिन बाबासाहेब का एटीएमो बराबर।


    तमाम पर्व उत्सव जयंती पुण्यतिथि कल्ब खातिरे बरोबर खैरात।

    रातोदिन परवचन लाइव आउर अनंत भक्त गण।

    बाकीर गदहा पुराण।


    बहरहाल हस्तक्षेप पर ग्यारह से पहिले शायद यह आखिरी लेखवा हो तनि बांच भी लिज्यो।


    लिख उकके फायदा भी नहीं है जियादा,शेयर निषेध है।सेल्फी पोस्टो करने से आपको भी कहां पुरसत है कि हमें लाइक करे या जो शेयर हम ना कर सकै हो,वो करने की मेहरबानी कर दें।


    हम आपके हैं कौन?

    गोपाल राठी ने लिखा हैः

    आज देश रत्न संविधान निर्माता डॉ बाबा साहब आंबेडकर की पुण्यतिथि है और आज नेल्सन मंडेला का जन्मदिन है l

    क्या यह सिर्फ संयोग है ???

    गौर करिए इन दोनों महान लोगों ने अन्याय,घृणा के विरुद्ध संघर्ष किया था सैकड़ों वर्षों से जिन पर अन्याय हो रहा था सिर्फ रंग के आधार पर,सिर्फ जात के आधार पर इन दोनों महान नेताओ ने उनको आवाज़ दी l

    बाबा साहेब आंबेडकर को उचित श्रधांजलि तब होगी जब संविधान का उचित पालन होगा,किसी पर सिर्फ उसके धर्म या जात के आधार पर घृणा नहीं होगी या उसके अन्याय नहीं होगा, समाज में जातिवाद का ज़हर ख़त्म धीरे धीरे ख़त्म हो जायेगा l

    दोनों विभूतियों को विनम्र विनम्र श्रधांजलि lllll

    Gopal Rathi's photo.



    कल देर रात हमने गोवा में लेक्चर देने गये हुए अपने प्रोफेसर मित्र को आज के अखबारों में छपने वाले नये बोधिसत्व के साथ बाबासाहेब की तस्वीर वाले विज्ञापन के लिए बधाई दे दी।


    हम फिलवक्त प्रतिबंधित है।पहलीबार हम लगातार तमिलनाडु को उनके ही विजुअल के साथ संबोधित कर रहे थे तो हम प्रतिबंधित हैं।हम कुछो किसी समूह को शेयर नहीं कर सकते।


    प्यारे अफजल जैसा कोहराम की कुंडली बांच दी लेकिन हम लिंक जारी कर नाही सकै हैं।प्रवचन भी अब प्रतिबंध हटने पर ही देंगे।


    तेलतुंबड़े से जियादा बातचीत हो नहीं सकी क्योंकि हम दफ्तर में थे और अपनी औकात के मुताबिक दफ्तर का फोन हम इस्तेमाल कर नहीं सकते।मोबाइल का नेटवर्क बार बार कट रहा था।जैसे हमारा कोई परिचयपत्र नहीं है क्योंकि मजीठिया के दो प्रोमोशन के बावजूद कोलकाता में हम सारे लोग जहां थे,वहीं हैं।


    जनसत्ता में संपादक के सिवाय किसी का कोई परिचय है नहीं।


    संपादक के अलावा हम सारे लोग पिछले 25 साल से सबएडीटर हैं और यह स्थाई बंदोबस्त माननीय प्रभाष जोशी, श्याम आचार्य और अमित प्रकाश सिंह कर गये हैं।


    हम प्रबंधन को इसका दोषी नहीं मानते।क्योंकि मार्केटिंग में नानस्टाफ तक को परिचय पत्र और ईमेल आईडी मिला हुआ है आफिसियल।


    सिर्फ जनसत्तावाले अछूत हैं।क्योकि जो भी कुर्सी में होता है संपादकीय में,उसे अपने साथियों का ख्याल होइच ही नहीं।


    हमारे अंग्रेजी अखबारों में किसी की ऐसी दुर्गति नहीं है।


    हम भी डिजिटल हैं।मीडिया ही नहीं मैनेजमेंट डिजिटल और सेंट्रलाइज है तो सारे फैसले जाहिर हैं कि दिल्ली से होते हैं।प्रभारी को फारम वगैरह भर कर देना होता है और यह मामूली काम करने की फुरसत हिंदी के किसी संपादक की होती नहीं है।


    वेतन पीएफ वगैरह आउटसोर्सिंग है तो आईडी अक्सरहां ही लाक हो जाती है।सैलरी स्लिप हमें आउटसोर्स से लेनी होती है।लेकिन हमारी आईडी लाक है।


    हम सैलरी स्लिप भी देख नहीं सकते।मैनेजमेंट का कहा हुआ है कि सारे लोगों को आफिसियल आईडी दे दिया जाये।


    आईटी कहना है कि संपादक फार्म के लिए मैनेजमेंट को सिंपली एक मेल भेजें तो फारम मिलेगा और उसे भर दें तो आईडी बन जायेगी।यह जरुरी इसलिए है कि लाक खोलने के लिए आफिसियल आईडी पर ही रिकवरी लिंक मिलेगा।


    जब हमारे पुराने साथी हमारी समस्या सुलझा नहीं सकते तो हम किससे गिला शिकवा करें।


    हमारे दिग्गजों को तो शर्म आती होगी कि कबाब में हड्डी की तरह प्रोफेशनल रैकिंग में तमाम मैनेजरों,संपादकों और रिपोर्टरों और कालमिस्टों के मत्थे पर जनसत्ता का अछूत यह सब एडीटर है।


    नौकरी छोड़ने के बाद बहुतै पादै हैं लोग।हम उनमें नहीं है।डिजिटल इंडिया की यह कारस्तानी और हमारे हिंदी जगत की मेहरबानी हम अबहुं शेयर कर रहे हैं।चाहे बुरा मानो या भला।


    बाद में आप कहेंगे कि नौकरी पर थे तो भीगी बिल्ली बने हुए थे या बाजार से वसूली ऐसे कर रहे थे कि परिचय दें तो अगला सीधे मुंह पर थूः कर दे या फिर सत्ता के साथ ऐसे नत्थी कि हमें शर्म आती है और हम कहीं जाते नहीं हैं।


    वैसे भी हम सेठों के गुलाम तबके मा शामिल नइखै।चिरकुटों से हमार कोई वास्ता नइखै।कोलकाता में सारा सांस्कृतिक परिदृश्य इस वखत चिरकुटई बा।हमसे कोई ना पूछै कि कोलकाताम मा कौन हमार दोस्त ह।कोई दोस्त नइखै।


    अपने समूह के तमाम मैनेजरों, संपादकों,रिपोर्टरों में लिंकडइन पर मेरी रैंकिंग लंबे समय से टाप फाइव में हैं जो पिछले छह महीने से कभी दो,कभी तीन है और मेरे पास न परिचय पत्र है और न आफिसियल आईडी है।


    मैं दिल्ली में संपादकीय को कोई आलेख वगैरह भी नहीं भेज सकता क्योंकि मेरा आईडी इंडियनएक्सप्रेस डाट काम नहीं है।

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    What economic thoughts ,Mr Prime Minister?

    Which Babasaheb Dr.BR Ambedkar do we remember,India?


    आंबेडकरी जनांचा प्रवाह चालला हो चैत्यभूमीकडे!हेलिकॉप्टरमधून पुष्पवृष्टी!


    भारतरत्न डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर यांच्या महापरिनिर्वाण दिनानिमित्तराष्ट्रपती, पंतप्रधानांनी बाबासाहेबांना वाहिली आदरांजली!

    Palash Biswas

    Cheers!Three cheers!The Bahujan politicians,the Ambedkarites and the untouchable have  not to remember Dr.BR Ambedkar as Ambedkarite ATM is the source of all political equations and the State celebrtes!


    However,in Mumbai, glowing tributes were paid to Ambedkar at his memorial 'Chaityabhoomi' in the Dadar area, as thousands of his followers gathered there. Maharashtra Governor C Vidyasagar Rao and Chief Minister Devendra Fadnavis were among those who paid tributes to the Dalit icon.


    Cheers!Three cheers!The Prime Minister said that while his contributions towards social justice have been recognised, his economic thoughts and vision are still not fully understood, and these need to be appreciated.


    What economic thoughts ,Mr Prime Minister?


    Thus,PresiPresident Pranab Mukherjee, Vice President Hamid Ansari, Prime Minister Narendra Modi and other leaders on Sunday remembered Babasaheb Bhim Rao Ambedkar on his 60th death anniversary, which is being observed as 'Mahaparinirvan Diwas.'

    Mr. Mukherjee, Mr. Ansari and Mr. Modi offered floral tribute at the Dalit mascot's statue in Parliament House lawns.


    "Remembering Dr. Babasaheb Ambedkar on his Punya Tithi," Mr. Modi posted on Twitter along with a photograph showing him and the Ambedkar's statue.

    https://twitter.com/narendramodi/status/673322036740034560/photo/1?ref_src=twsrc%5Etfw



    My respected friend Dr Anand Teltumbde explained it time and again!But I am tempted to ask this question again as Dr BR Ambedkar is remembered in reference to his economic thoughts by those who do everything to disinvest everything,privatize everything as Babasaheb insisted on nationalization of resources and land reforms!It seems quite contradictory.


    It is amusing that Indian politics has been reduced to religious blind nationalism of hatred and intensive caste war as the Nation has become an infinite hunting ground for foreign capital and foreign interest.While in his first speech on the resolution moved by Prime Minister Jawahar Lal Nehru in the constituent assembly presided by Dr.Rajendra Prasad to finalize the framework of Indian constitution,Babasaheb spoke and explained the idea of India and it had been social,political and economic equality and justice.Yes,it was the destination and future of India,the idea of India that our freedom fighters and national leaders opted for Republic of India!


    Where do we stand now.No bodyseems to be interested in Baba Saheb`s agenda of caste annihiliation which should have been the agenda of Hindutva if the  flagbearers of Hindutva had cared for Hindu majority demography and Hindu religion!It is the same philosophy of unification which reminds us the Panchasheel and Buddhist India which streamlined and liberalized Hindutva and Swami Vivekanand referred to that Hindutva which stood ahead just because of Bhakti movement during Islamic Rule and Bengal Renaissance in nineteenth Century  rooted in tolerance and diversity!


    Pardon! It is not the key to open the doors of power sharing in dynasty hegemony rule at all!The destination to Equality and Justice would not be achieved by economic reforms as these reforms exclude further!Rather these reforms opt  for genocide culture and ethnic cleansing as we have seen in seventies and eighties amidst refugee influx from outside and within because of transfer of power at the cost of partition followed by infinite displacement all on the name of development and growth!


    What the economic thoughts of Babasaheb Dr.Ambedkar had to do with economic reforms and free market economy,I may not understand!



    PM releases commemorative coins

    Mr. Modi released two commemorative coins of Rs. 125 and Rs. 10 denomination as part of the 125th birth anniversary year celebrations of B.R. Ambedkar.

    The coins were issued on his death anniversary, which is being observed as "Mahaparinirvan Divas of Babasaheb Ambedkar".


    Addressing a gathering at his residence, the Prime Minister said that there were only a few individuals who remain alive in public consciousness, even 60 years after their death.


    He said the more one recalls Ambedkar's thoughts, in the context of issues currently faced by India, "the more we come to respect his vision and his approach to inclusiveness".


    The Prime Minister said that while his contributions towards social justice have been recognised, his economic thoughts and vision are still not fully understood, and these need to be appreciated.


    Mr. Modi said Ambedkar and the Constitution of India should always be discussed and talked about in this country, and the observance of Constitution Day on November 26, was a step in that direction.


    Mind you,after releasing the commemorative coins, the Prime Minister termed Ambedkar as a visionary and a profound thinker and said his economic thought and vision were still not fully understood and needed to be appreciated, even though his contribution towards social justice have been recognised.


    "Our government is leaving no stone unturned to fulfil the vision & dreams of Dr Ambedkar to create a prosperous & inclusive India," Modi said after the function in which Finance Minister Arun Jaitley and Social Justice and Empowerment Minister Thawar Chand Gehlot were also present.


    Thus,the Prime Minister also highlighted Ambedkar's vision on women empowerment, federalism, economy and its relevance.


    "We are aware of Dr Ambedkar's contributions towards social justice but Babasaheb's thoughts on economic issues are equally enlightening. ... Dr Ambedkar will always be remembered as an original & profound thinker. His views on inclusiveness & harmony continue to inspire us," he said.


    Modi said Ambedkar had faced lot of humiliation, yet his patriotism reflected in his work.


    He appreciated Ambedkar's vision on subjects such as women empowerment, India's federal structure, finance and education, a press release issued by Prime Minister's Office said.


    Moreover,Finance Minister Arun Jaitley and Social Justice and Empowerment Minister Thawar Chand Gehlot were present on the occasion.


    डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर यांच्या महापरिनिर्वाण दिनाच्या पूर्वसंध्येपासूनच (शनिवार) दादर येथील चैत्यभूमी आणि शिवाजी पार्क परिसरात आंबेडकरी जनांचा महासागर उसळला.


    डॉ. आंबेडकर यांना अभिवादन करण्यासाठी मुंबई व परिसरासह संपूर्ण राज्यातून लाखो अनुयायी दादरमध्ये दाखल झाले आहेत. शनिवारी दुपारपासूनच दादर पश्चिमेकडे 'आंबेडकरी जनांचा प्रवाह चालला हो चैत्यभूमीकडे'असे चित्र पाहायला मिळाले.


    राज्याच्या विविध भागांतून दादरच्या चैत्यभूमीवर येण्यासाठी शनिवारी सकाळपासून आंबेडकरी अनुयायी यायला सुरुवात झाली. दुपारनंतर गर्दीचा ओघ वाढला आणि सायंकाळी उशिरा या गर्दीवर कळस चढला.


    महापरिनिर्वाण दिनाच्या निमित्ताने येणारी लाखो लोकांची गर्दी विचारात घेऊन पालिका प्रशासन आणि पोलीस यांनी चैत्यभूमी आणि शिवाजी पार्क येथे चोख व्यवस्था आणि कडेकोट पोलीस बंदोबस्त ठेवला आहे.


    सेनापती बापट यांचा पुतळा असलेला परिसर ते शिवाजी पार्क, चैत्यभूमी या ठिकाणी पदपथावरच आंबेडकरी साहित्य आणि वस्तूंची विक्री सुरू होती.  


    आंबेडकरी जनांच्या निवासाची व्यवस्था शिवाजी पार्कमध्ये करण्यात आली आहे.


    औरंगाबाद येथून आलेला विशाल साबळे आणि त्याचे मित्र येथे भेटले. औरंगाबाद येथे रिक्षाची बॉडी तयार करणाऱ्या एका कंपनीत विशाल व त्याचे मित्र नोकरी करतात.


    ते दरवर्षी चैत्यभूमीवर अभिवादनासाठी येतात. आंबेडकरी जनतेसाठी डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर यांनी केलेले कार्य खूप मोठे आहे. त्या महापुरुषाला अभिवादन करण्यासाठी आम्ही दरवर्षी येतो, असे विशाल व त्याच्या मित्रांनी सांगितले.


    दरवर्षी लाखोंच्या संख्येत चैत्यभूमीवर येणाऱ्या आंबेडकरी जनांची ही प्रातिनिधिक प्रतिक्रिया म्हणता येईल. चैत्यभूमीवर आज हेलिकॉप्टरमधून पुष्पवृष्टी महापरिनिर्वाण दिनाच्या दिवशी (६ डिसेंबर) रोजी महाराष्ट्र शासनाकडून चैत्यभूमी स्मारकावर हेलिकॉप्टरमधून पुष्पवृष्टी करण्यात येणार असून शासकीय मानवंदनाही देण्यात येणार असल्याची माहिती डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर महापरिनिर्वाण दिन समन्वय समितीने दिली आहे. - See more at: http://www.loksatta.com/mumbai-news/ambedkar-flowers-way-to-chaityabhumi-1167384/#sthash.U2VYRA6e.dpuf



    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Rebuild the shaken confidence of the nation Punish perpetrators of Babari demolition

     

    By Vidya Bhushan Rawat

    As a secular humanist, I have no faith in the 'super-powers' of the religious structures but as a human right defender, I understand millions of people have because of inability of our state and the power elite in the society to keep people aware and provide them modern scientific education. The state have used religion for its own purposes and in the entire process villains the other religious practices.

     

    India's constitution allows people to enjoy their faith and propagate it. If we talk of constitutionalism then we have to stick to that and should not bring issues of ideology in discussion that.

     

    The Hindu fanatics demolished Babari Masjid on December 6th, 1992 in Ayodhya and the country plunged into darkness. That was an unprecedented act with active promotion by the state government of Kalyan Singh who is now governor of another state and who proudly proclaimed that ', for him the faith in Lord Rama was much bigger than the constitution of India'.  The Supreme Court gave him a symbolic punishment of sending him for one day in jail for contempt of the court. But that does not resolve the issue. The then Prime Minister P V Narsihma Rao presided over one of the most inefficient regimes of the time who clandestinely paved the way for the demolition of the Babari Masjid.  When the masjid was demolished Rao pretended as a man 'betrayed' by the Sangh Parivar as he was in negotiations with them for a 'peaceful' solution. In a broadcaste to the nation that night, Prime Minister Narsimha Rao promised the nation that the Babari Masjid would be rebuilt at the same place. Yet, none remind them as what happened to that promise.

     

    It is not that we don't know that if any attempt is made to built the mosque there, the Hindu fanatics are going to vitiate the atmosphere. We know political parties wont act and our courts also will try to find a middle way as they would not like to see chaos and anarchy in the street. Yet, if we believe in fair play and rule of law then before the dispute is resolved status quo ante need to be done. Can we respect our constitutional values?

     

    The problem is in the historical misuse of law and constitution by all the parties whenever it suits them. The Hindu fanatics use it and decry if the verdict goes against them and similarly the Muslims who want to 'accept' the verdict but wouldn't accept it if it goes against their faith.

     

    How do people resolve their political disputes in multicultural societies. It is the biggest challenge. One persons hero may be others villain. One persons best book may be worst for others. One community's best practices may be worst for others. How do we find a common way out to resolve our conflicts ? Definitely there are hundreds of commonalities between us. Why don't we bring them together and believe in the morality of the constitution, as it is the only binding force. Dr Ambedkar wanted that we should have the constitutional morality, as it is the only force that can bind us together and bring justice.

     

    All of us remembered Baba Saheb Ambedkar and his contribution in nation building but when issues of people come our constitution is made to fail because those who have the duty to implement our constitutional values actually have no faith in it. Their dream is India of manu's constitution which runs in our veins and in our homes, streets, schools, colleges, hospitals and common places.  It is the tug of war between Manu's constitution of the caste forces and Baba Saheb's modern Indian secular constitution where rule of law prevails.

     

    We know a society and a country cannot be built on merely law books but mutual relationship between diverse communities who have been living here for centuries.  India remain a nation of diverse faiths and culture therefore disputes are bound to happen and the best way to resolve them is through mutual talks. It is ironic that those who have no contribution in building up this nation today are talking of sending people to Pakistan or elsewhere. Islam and Christianity came to India much before they reached Europe. I was amazed to meet a Muslim tribal community in remote Indonesia once who told me while welcoming that they are proud that I was there as Islam came to their shores from India. If I visit to South East Asia, the Buddhists friends feel wonderful to have a person coming from Buddha land. My own understanding on Ayodhya clearly suggests how the small town could be termed as the 'cultural capital' of India where each one flourished. Numerous Dargahs where people of all sects go together and enjoy. There are madrasas where Hindu students too come to study. Nothing is imposed.

     

    Why was then Hindutva fanatic so upset that they chose this day to demolish the Babari Mosque. If your memories are not lost then you must not forget the historic Mandal era of the 1990s when the caste Hindus were committing suicide to stop the government from implementation of the Mandal Commission Report. Advani was the leader of BJP and he decided that 'Ram Janm Bhumi' issues need to be revived as Mandal was 'dividing' Hindus. Secretaively, both the BJP and Congress supported the upper caste Hindus campaigning against Mandal commission report. That time the government acted hard and did not allow the Hindutva's rabble-rousers to demolish the mosque. The price was too high and the government fell in the Lok Sabha. It was sad that a democratically elected government fell for the 'sin' of protecting the constitution.  Congress committed the biggest crime in voting along with the BJP to bring the government down.

     

    The Mandal forces had unleashed a heavy blow to the brahmanical hegemony in all walks of life particularly politically where our parliament now reflect India in real sense. With more job reservation we had seen a steady growth of the Dalits OBCs and others in power structure. Now the Muslims and Christians were also asking for their fair share in power structure. How can you dilute all this?  Hence Narsimha Rao's first blow to state socialism was in the form of a non political finance minister whose only job was to dilute the leavers of powers, reduce job reservation and welfare schemes. With more and more entries of private sector, Narsimharao ensured that the gains of the Mandal Commission are undone. He continued to hobnob with Atal Bihari Vajpayee and other Sangh leaders. He was trying to facilitate a Ram temple in Ayodhya through back channel process but the power games inside the Sangh Parivar thwarted that and it came in the form of demolition of the Babari Masjid. This happened when Uttar Pradesh chief minister Kalyan Singh had given a written promise to National Integration Council that he will do everything to protect the constitution and the 'disputed structure'. Yes, till it was demolished, I used to call it a disputed structure but after the demolition it became a mosque.

     

    Narsimha Rao felt betrayed and on that night he promised that the mosque would be rebuilt. It was the promise by a prime minister. It was a promise to the world that India stand for the rule of law and the Hindutva elements were just fringe but today we see that the fringe have become mainstream. India stands to lose if we do not take action against those who indulged in the crime. Tragically, none of the politicians speak anything on it which was a constitutional promise made by the prime minister. Contrary to this, those who demolished the mosque and should have been in the jails facing sedition charges are today shouting atop of their voices and now bringing back to the issue of Ram Janam Bhumi as we know elections are approaching in Assam, West Bengal and later in Uttar Pradesh.  Despite their failure in Bihar, the Sangh continues with its vicious agenda. Will the government stop them?

     

    Everyday, stories are being planted in the media, through social media and public meetings. Lal Krishna Advani, the man who made Modi leader of India through his chariot said that Babari Masjid was the symbol of 'slavery' and they can't allow it. It is not merely Ayodhya, the loud chant during the demolition was,' Abhi to bas ye jhanki hai, Kashi, Mathura baaki hai'. This is just a trailer, We still have Kashi and Mathura. If history is to be corrected this way then India wont have a place to live. Like Talibans we will be ending up demolishing every good thing that our ancestors have built and our political leadership was able to protect despite all their faults. If history is to be corrected through digging then that will only be problematic for the brahmanical elite as more it dig, it will only find Buddhist places demolished by the Hindu brahmanical kings. Will it be ready to return the Buddha Viharas to Buddhists which the Hindus have illegally grabbed including the historic shrine of Bodh Gaya ? 

     

    The demolition of the Babari Mosque created an unprecedented crisis as the country suffered from a credibility crisis. It was not the demolition of a mosque but absolute disregard to the Constitution of India.  Why was the December 6th chosen to demolish the mosque when each one of them knows that it is a sacred day for millions of Dalits in India who consider Baba Saheb Ambedkar as their liberator and emancipator? How could such ghastly crime be committed on the day when we all remember the man who gave us this modern constitution? But then the Sangh agenda was clear to break the unity of the Dalits with the Muslims so Ambedkar's writings were used selectively and attempt are being made to appropriate him. The first shila pujan in Ayodhya was done through a Dalit. How can Dr Ambedkar and Ram go together? Ambedkar, who wrote so eloquently about the two gods of Hindus and asked his followers not to follow their path. If the Sangh so much love Ambedkar, why the Gujarat government withdrew the Ambedkar's biography from the schoolbooks because it objected his 22 vows.

     

    The fact is we need to understand that Dr Ambedkar was a humanist, a rationalist who challenged the status quo and asked uncomfortable questions. His Buddhism is not that of the Dalai Lama or those who engage in big rituals but Navayana as he called it was a way of life well defined in his 22 vows.  He was much ahead of his time and spoke eloquently on the problems faced by the country. At the time when none questioned Gandhi or India's Gods and Goddesses, Ambedkar had the courage to philosophically and politically challenge them. Sangh's attempt to appropriate Ambedkar are bound to fail as Ambedkar cannot be used by them philosophically and politically due to his unambiguous writings on communalism and brahmanism and therefore they will try to appropriate him through worshipping him and erecting his statues. People of this country have given enormous love and affection to Ambedkar and knows the wider game plans of the Sangh. Fortunately, today, huge numbers of Dalits-Bahujan intellectuals, writers, socio- political activists have emerged following Amedkar's path and that is the strength which will make things more difficult for the right-wings fundamentalists to appropriate Ambedkar.  It is the people's power and not the power politics, which before 1989 was not keen in even taking his name. For years Ambedkar remained an outsider in the India's parliament but today the situation is changed and these parties and leaders who never subscribe him actually have to sing his songs. Yet, hopefully, people know what Dr Ambedkar stood for and his ideas to see a republican, inclusive Prabuddha Bharat.

     

    On this solemn day we have to pledge that we will not allow this constitution to be bulldozed by those who are today swearing in its name. In their heart they wish a rule of Manusmriti and divide people on the communal lines to maintain the status quo in favor of the caste Hindus. Babari Masjid was razed to protect Brahmanism, which would have died under the assault of the asserting Dalit Bahujan communities. It got a lease of life for some time and it is trying different ways and means to protect its hegemony. Unfortunately, in the multicultural society like ours smaller contradictions among communities are becoming handy for the brahmanical power elite and hence Muslims became direct target to cobble together all the Dalits and Bahujans as 'Hindus' in their 'common' struggle against Islam. It was dangerous. It has succeeded many time and many places and failed at other like Bihar. We have to be active and try to resolve our small internal differences. It is time those differences are democratically resolved. The Dalit Bahujan alliance will only succeed when it is 'programme based' and include all like-minded people. Politics never succeed on extremism. It needs to be inclusive. The social movements should continue to build an India beyond Mandir and Masjid, beyond mullahs and Brahmins. An India where every one of us focus on right to life, right to health, right to education denied to all the communities under the elite pressure in the post 1990s 'liberal' governments.

     

    As I said Babari Masjid's demolition was an affront to the constitution of India. It was clever attempt to polarise India between the two communities and hand them over the priestly classes to lead, which were under the threat from the Mandalisation of society. Even in Islam the pasmanda muslims are now seeking their dues. Fight for rights and social awakening must continue and we should put pressure on the political class to have strength to speak truth and demand justice for the people. Will those who demolish Babari Masjid and killed thousands of people in the aftermath of the engineered 'communal' disturbances be punished? We want to see what punishment will those people get who defamed India, demolished its constitutional values and ashamed all of us.  


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    Debate Baba Saheb!निर्वाण और बुद्धत्व ने बाबा का मिशन भटकाया

    ================================
    लेखक : डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश'

    06 दिसम्बर, 1956 में भारत के संविधान के सम्पादक या कहो रचियता बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेड़कर की मृत्यु हुई। जिसे उनके बौद्ध-धर्मानुयाई-निर्वाण प्राप्ति कहते हैं। सोशल मीडिया पर बाबा साहब के अनुयाइयों की ओर से यह भी लिखा जाता है कि बाबा साहब की मृत्यु, सामान्य मृत्यु नहीं थी, बल्कि उनकी मौत संदिग्ध थी।

    निर्वाण क्या है?
    सबसे पहले निर्वाण और मोक्ष में क्‍या अन्‍तर है? सामान्यत: दु:खों से मुक्त हो जाने पर निर्वाण प्राप्‍त होना माना जाता है। जबकि हिन्दु धर्म में पुनर्जन्‍म से मुक्‍ति‍ को मोक्ष कहते हैं। मोक्ष का अर्थ है ब्रह्मानुभूति भी माना जाता है। बौद्धमतानुसार निर्वाण का शाब्दिक अर्थ है-'बुझा हुआ'। निर्वाण बौद्ध धर्म का परम सत्य है और जैन धर्म का मुख्य सिद्धांत माना जाता है। हालांकि 'मुक्ति' के अर्थ में निर्वाण शब्द का प्रयोग गीता, भागवत इत्यादि हिन्दू ग्रंथों में भी मिलता है। फिर भी यह शब्द बौद्धों द्वारा ही अधिकतर प्रयोग किया जाता है। अतः निर्वाण शब्द से क्या अभिप्राय है, इसका निर्णय बौद्धों के वचनों द्वारा हो सकता है।

    बोधिसत्व नागार्जुन ने माध्यमिक सूत्र में लिखा है कि 'भवसंतति का उच्छेद ही निर्वाण है', अर्थात् अपने संस्कारों द्वारा हम बार-बार जन्म के बंधन में पड़ते हैं, इससे उनके उच्छेद द्वारा भवबंधन का नाश हो सकता है।
    रत्नकूटसूत्र में बुद्ध का यह वचन है कि राग, द्वेष और मोह के क्षय से निर्वाण होता है। बज्रच्छेदिका में बुद्ध ने कहा है कि निर्वाण है, उसमें कोई संस्कार नहीं रह जाता।

    माध्यमिक सूत्रकार चंद्रकीर्ति ने निर्वाण के संबंध में कहा है कि सर्वप्रपंचनिवर्तक शून्यता को ही निर्वाण कहते हैं। यह शून्यता या निर्वाण क्या है! न इसे भाव कह सकते हैं, न अभाव। क्योंकि भाव और अभाव का ही नाम तो निर्वाण है, जो अस्ति और नास्ति दोनों भावों के परे और अनिर्वचनीय है।

    माधवाचार्य ने भी अपने सर्वदर्शनसंग्रह में शून्यता का यही अभिप्राय बतलाया है-'अस्ति, नास्ति, उभय और अनुभय इस चतुष्कोटि से विनिमुँक्ति ही शून्यत्व है'। माध्यमिक सूत्र में नागार्जुन ने कहा है कि अस्तित्व (है) और नास्तित्व (नहीं है) का अनुभव अल्पबुद्धि ही करते हैं। बुद्धिमान लोग इन दोनों का अपशमरूप कल्याण प्राप्त करते हैं। उपर्युक्त वाक्यों से स्पष्ट है कि निर्वाण शब्द जिस शून्यता का बोधक है, उसका अभिप्राय है-मैं भी मिथ्या, संसार भी मिथ्या। एक बात ध्यान देने की है कि बौद्ध दार्शनिक जीव या आत्मा की भी प्रकृत सत्ता नहीं मानते। वे एक महाशून्य के अतिरिक्त और कुछ नहीं मानते।

    बौद्ध धर्म में निर्वाण : बुद्ध ने निर्वाण को मन की उस परम शांति के रूप में वर्णित किया जो तृष्णा, क्रोध और दूसरी विषादकारी मन:स्थितियों (क्लेश) से परे है। ऐसा प्राणी जिसने जीवन में शांति को पा लिया है, जिसके मन में सभी के लिए दया हो और जिसने सभी इच्छाओं और बंधनों का त्याग कर दिया हो। यह शांति तभी प्राप्त होती है, जब सभी वर्तमान इच्छाओं के कारण समाप्त हो जाएं और भविष्य में पैदा हो सकने वाली इच्छाओं का जड़ से नाश हो जाए। निर्वाण में तृष्णा और द्वेष के कारण जड़ से समाप्त हो जाते हैं, जिससे मनुष्य सभी प्रकार के कष्टों या संसार में पुनर्जन्म के चक्र से छूट जाता है। विद्वान हरबर्ट गींतर का कहना है कि निर्वाण से "आदर्श व्यक्तित्व, सच्चा इंसान" वास्तविकता बन जाता है।

    धम्मपद में बुद्ध कहते हैं कि निर्वाण ही "परम आनंद" है। यह आनंद चिरस्थाई और सर्वोपरि होता है जो ज्ञानोदय या बोधि से प्राप्त होने वाली शांति का एक अभिन्न अंग है। यह आनंद नश्वर वस्तुओं की खुशी से एकदम अलग होता है। निर्वाण से जुड़ा हुआ ज्ञान बोधि शब्द के माध्यम से व्यक्त होता है।

    भगवान बुद्ध ने अपने भिक्षुओं को सम्बोधित करते हुए कहा है-'भिक्षुओं! संसार अनादि है। अविद्या और तृष्णा से संचालित होकर प्राणी भटकते फिरते हैं। उनके आदि-अंत का पता नहीं चलता। भवचक्र में पड़ा हुआ प्राणी अनादिकाल से बार-बार जन्मता-मरता आया है। संसार में बार-बार जन्म लेकर प्रिय के वियोग और अप्रिय के संयोग के कारण रो-रोकर अपार आँसू बहाए हैं। दीर्घकाल तक दुःख का, तीव्र दुःख का अनुभव किया है। अब तो सभी संस्कारों से निर्वेद प्राप्त करो, वैराग्य प्राप्त करो, मुक्ति प्राप्त करो।'

    'निर्वाण' शब्द की उत्पत्ति :
    निर्वाण शब्द निः (निर) और वाण की संधि से बना है। निर का अर्थ है "अलग होना, दूर होना या उसके बिना" और वाण का अर्थ है "मुक्ति"।

    निर्वाण शब्द का शब्दानुवाद :
    1. वाण, का तात्पर्य है पुनर्जन्म का पथ, + निर, का तात्पर्य है छोड़ना या "पुनर्जन्म के पथ से दूर होना."
    2. वाण, अर्थात 'दुर्गन्ध', + निर, अर्थात "मुक्ति": "पीड़ादायक कर्म की दुर्गन्ध से मुक्ति."
    3. वाण, अर्थात "घने वन", + निर, अर्थात "छुटकारा पाना"="पांच स्कंधों के घने वन से स्थाई मुक्ति" (पंच स्कंध), या "मोह, द्वेष तथा माया" (राग, द्वेष, अविद्या) या "अस्तित्व के तीन लक्षणों" (अस्थायित्व, अनित्य, असंतोष, दु:ख, आत्मविहीनता, अनात्मन) से मुक्ति।
    4. वाण, अर्थात "बुनना", + निर, अर्थात "गांठ"="कर्म के पीड़ादायी धागे की गांठ से मुक्ति।"

    उपरोक्तानुसार निर्वाण उस अवस्था को कहा जा सकता है, जिसमें दु:ख-तकलीफों या पुनर्जन्म से मुक्ति मिल जाये। जबकि सर्व-विदित है कि बाबा साहब अन्त समय तक अपनी कौम के लिये दु:खी थे। आर्यों के विभेदकारी अत्याचारों और अन्यायों से दु:खी थे। इसके अलावा जैसा कि पूर्व में लिखा गया है कि सोशल मीडिया पर बाबा साहब के अनेकानेक अनुयाई बाबा साहब की मृत्यु को सामान्य मृत्यु नहीं मानते हैं, बल्कि उनका मानना है कि बाबा साहब की मौत संदिग्ध थी। जिसे उनकी हत्या भी माना जाता है। यदि उनकी मृत्यु सहज नहीं होकर हत्या थी तो उनकी मौत को किसी भी दृष्टि से निर्वाण प्राप्ति तो नहीं ही माना जा सकता।

    इसके अलावा करीब 6 दशक बाद भी बाबा साहब के अनेक अनुयाई बाबा साहब की आत्मा की शान्ति की कामना करते हुए लिखते पढे जा सकते हैं। श्रद्धांजलि देते समय बाबा साहब की आत्मा को शान्ति मिलने की कामना करते हुए बोलते सुने जा सकते हैं। इससे भी यही बात प्रमाणित होती है कि बाबा साहब की आत्मा आज छ: दशक बाद भी शान्ति या मुक्ति के लिये भटक रही है। फिर भी हमारे सभी बाबा-भक्त 06 दिसम्बर को बाबा साहब का निर्वाण प्राप्ति दिवस ही लिखते, बोलते और मानते हैं। क्या कोई आत्मा जिसे निर्वाण प्राप्त हो गया हो, उसकी आत्मा की शान्ति की कामना करना उचित है या भटकती हुई आत्मा का निर्वाण-प्राप्त माना जाना युक्तियुक्त विचार है?

    आत्मा को शान्ति या मुक्ति की प्राप्ति हिन्दू मत है और निर्वाण प्राप्ति बौद्ध मत है। लेकिन चूंकि मैं न तो बौद्ध-धर्मानुयायी हूॅं और न ही हिन्दू धर्मानुयायी। अत: मैं बाबा साहब की मौत को निर्वाण या मुक्ति की कामना नहीं कर सकता। मेरी दृष्टि में 6 दिसम्बर, 1956 को बाबा साहब की या तो स्वाभाविक मौत हुई या उनकी हत्या की गयी। दोनों ही दशा में 6 दिसम्बर, 1956 का दिन उनकी मृत्यु का दु:खद दिन था। इन दोनों ही दशा में बाबा साहब की मौत को निर्वाण के रूप में याद करके मेरी राय में हम बाबा साहब के साथ बहुत बड़ा अपराध कर रहे हैं। क्योंकि-
    1. बाबा साहब की मौत को निर्वाण प्राप्ति मानकर, उनकी मृत्यु को सहज होने की मान्यता प्रदान करके, हम मानकर उनके कथित हत्यारों को मुक्त करते आ रहे हैं।
    2. यदि बाबा साहब की मृत्य हत्या नहीं भी तो भी वे अन्त समय तक अपनी कौम के दु:खों, आर्यों और कांग्रेस तथा जगजीवन राम के कारण इतने व्यथित और परेशान थे कि उनके जीवन में दूर—दूर तक कहीं भी शान्ति नहीं थी। ऐसे में बाबा साहब के निर्वाण ​प्राप्ति की कल्पना करना ही निराधार है। और
    3. बाबा साहब को निर्वाण प्राप्ति मानकर हम इस तथ्य को मान्यता प्रदान कर देते हैं कि बाबा साहब के जीवन में सम्पूर्णता प्राप्त हो गयी थीे और अनार्य वंचित समाज के उत्थान के लिये करने को कुछ भी शेष नहीं रह गया था।
    आज 59 वर्ष बाद मुझे तो ऐसा लगता है, बल्कि ऐसा सत्यानुभव होता है कि बाबा साहब की मौत या हत्या, जो भी हुई हो के तत्काल बाद, बाबा साहब के तत्कालीन दुश्मनों द्वारा जानबूझकर बाबा साहब को निर्वाण प्राप्ति होने की अफवाह फैलाई गयी। इस कृत्य में बाबा साहब के निकट सहयोगी दुश्मन और भावातिरेक संवेदनाशून्य भी शामिल रहे होंगे। जिसके दो मकसद रहे होंगे :-
    1. यदि बाबा साहब की हत्या हुई/की गयी तो निर्वाण प्राप्ति जैसा महान शब्द बाबा के बौद्ध—धर्मनुयाईयों के दिलो दिमांग में बिठा देना, जिससे बाबा को निर्वाण प्राप्त मानकर उनकी हत्या के बारे में कोई कल्पना भी नहीं कर सके। और
    2. बाबा सहब की निर्वाण प्राप्ति के माध्यम से बाबा के अनुयाईयों के मध्य यह संदेश संचारित करना कि बाबा सारे दु:खों से मुक्त होकर निर्वाण को प्राप्त हो गये। जिससे सार्वजनिक रूप से यह सन्देश प्रसारित हो कि बाबा साहब का सबसे बड़ा दु:ख था-वंचित समाज। जिसके प्रति यदि वे सन्तुष्टि और मुक्ति का भाव लिये निर्वाण को प्राप्त हो गये हैं तो उनके अधूरे मिशन को आगे बढाने की कोई अब जरूरत नहीं है।
    बाबा साहब के अवसान के बाद उक्त दोनों ही बातें हुई। उनकी कथित हत्या पर तत्काल और आज तक सार्थक तरीके से कोई उंगली नहीं उठाई गयी। बाबा को निर्वाण प्राप्त महात्मा घोषित कर दिया गया। जिसके कारण बाबा के सामाजिक न्याय के मिशन को रोककर कर निर्वाण प्राप्ति का मिशन शुरू हो गया। अर्थात् बाबा को बुद्धत्व प्राप्त हुआ हो या नहीं, लेकिन बाबा के अनुयाई जन्मजातीय विभेद की लड़ाई को भूलकर नमो: बुद्धाय की ओर प्रवृत्त हो गये। बाबा को महापुरुष से बुद्धत्व प्राप्त भगवान बनाने की चेष्टा की गयी। बाबा के कार्यों और उपलब्धियों को जानने के बजाय बाबा की मूर्ति की पूजा शुरू हो गयी। यदि कांशीराम का उदय नहीं हुआ होता तो बाबा को भारत रत्न देना तो बहुत बड़ी बात आज बाबा का कोई नाम लेने वाला भी नहीं होता। मगर दु:खद तथ्य अब मायावती सहित बहुत सारे बौद्ध फिर से बाबा साहब को निपटाने में लगे हुए हैं।

    यदि देश के वंचित अनार्यों को वास्तव में बाबा साहब को सच्ची श्रृद्धांजलि देनी है तो हमें बाबा साहब के निर्वाण तथा बुद्धत्व प्राप्ति की झूठी अफवाह से खुद को मुक्त करके उनके सामाजिक न्याय के मिशन को आगे बढाना चाहिये। बाबा द्वारा दिये गये संविधान को जानना, समझाना, मानना, लागू करवाना और संविधान को बचाना हमारा सबसे बड़ा धर्म होना चाहिये। अन्यथा हमें बाबा साहब के नाम का जप करने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है। फासिस्टवादी विचारधारा के मनुवादी संविधान को तहस-नहस करने में लगे हुए हैं और बाबा के अनुयाई नमो: बुद्धाय तथा मूलनिवासी की भ्रामक धारणा में उलझ गये हैं। जबकि हम अनार्यों की समस्या नस्लीय विभेद की नहीं होकर, जन्मजातीय विभेद की है। कड़वा सच तो यह है कि निर्वाण और बुद्धत्व ने बाबा का मिशन भटकाया है। बिना निर्वाण बाबा को निर्वाणी घोषित कर दिया और बाबा के नाम के साथ बुद्धत्व को जोड़कर बाबा को केवल और केवल बौद्धों का नेता बना दिया है।

    @ डॉ. पुरुषोत्तम मीणा 'निरंकुश', राष्ट्रीय प्रमुख, हक रक्षक दल (HRD) सामाजिक संगठन (भारत सरकार की विधि अ​धीन दिल्ली से रजिस्टर्ड राष्ट्रीय संगठन) और संयोजक : प्रस्तावित राष्ट्रीय वंचित/अनार्य महासंघ, WA/M. No. 9875066111/06.12.201 (11.41 AM)
    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    Remembering Ambedkar?  अम्बेडकर पर संसद में चर्चा

                          विचार दरकिनार ,सिर्फ गुणगान !

    भारतीय संसद ने संविधान निर्माण में अम्बेडकर के योगदान पर दो दिन तक काफी सार्थक चर्चा करके एक कृतज्ञ राष्ट्र होने का दायित्व निभाया है .इस चर्चा ने कुछ प्रश्नों के जवाब दिये है तो कुछ नए प्रश्न खड़े भी किये है ,जिन पर आगे विमर्श जारी रहेगा .दो दिन तक सर्वोच्च सदन का चर्चा करना अपने आप में ऐतिहासिक माना जायेगा .यह इसलिये भी महत्वपूर्ण हो गया कि जो पार्टियाँ गाहे बगाहे अब तक डॉ अम्बेडकर के संविधान निर्माता होने पर संदेह प्रकट करती रही , आलोचना करती रही  ,उनके भी सुर बदले है तथा उन्होंने भी माना कि संविधान निर्माण में डॉ अम्बेडकर का योगदान अतुलनीय है ,उसको नकारा नहीं जा सकता है .

    जो लोग यह कहकर अम्बेडकर के महत्व को कम करने की कोशिश करते है कि संविधान सभा के अध्यक्ष तो डॉ राजेन्द्र प्रसाद थे .अम्बेडकर तो महज़ ड्राफ्टिंग कमेटी के अध्यक्ष थे .जिसमे उनके समेत कुल 9 सदस्य थे ,जिसमे के एम मुंशी ,गोपाल स्वामी अयंगार और कृष्ण स्वामी अय्यर जैसे विद्वान भी शामिल थे .अकेले अम्बेडकर ने क्या किया .अम्बेडकर के आलोचकों को संविधान सभा की बहस और कार्यवाही का अध्ययन करना चाहिए ताकि अम्बेडकर के योगदान को समझा जा सके .अब यह ऐतिहासिक सत्य है कि जो 9 लोग प्रारूप समिति में थे ,उनमे से एक ने त्यागपत्र दे दिया था .एक अमेरिका चला गया .दो सदस्य अपने स्वास्थ्य कारणों से दिल्ली से दूर रहे .एक राजकीय मामलों में व्यस्तता के चलते समय नहीं दे पाया और शेष लोग भी अपने अपने कारणों से प्रारूप निर्माण में अपनी भागीदारी नहीं निभा सके .इसलिए संविधान का प्रारूप तैयार करने का सारा उत्तरदायित्व अकेले  डॉ अम्बेडकर के कन्धों पर आ पड़ा जिसे उन्होंने बखूबी निभाया .इसीलिए उन्हें भारतीय संविधान का असली निर्माता कहा जाता है .

    संसद में पहले दिन की बहस का आगाज़ करते हुए केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथसिंह ने कहा कि अम्बेडकर का इस देश में बहुत अपमान हुआ ,लेकिन उन्होंने कभी देश छोड़ने की बात नहीं सोची .वे सच्चे अर्थों में राष्ट्रऋषि थे .दुसरे दिन बहस का समापन करते हुए प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अम्बेडकर ने जहर खुद पिया और अमृत हमारे लिए छोड़ गए .गृहमंत्री का डॉ अम्बेडकर को राष्ट्रऋषि कहना और प्रधानमंत्री का उन्हें हलाहल पीनेवाला नीलकंठ निरुपित करना कई सवाल खड़े करता है .जब राजनाथसिंह कहते है कि देश में अम्बेडकर का बहुत अपमान हुआ ,तो उन्हें और साफगोई बरतनी चाहिये और देश को यह बताना चाहिये था कि आखिर वो कौन लोग थे ,जिन्होंने अम्बेडकर को अपमानित किया .तत्कालीन व्यवस्था और धार्मिक कारण तो थे ही जिनको अम्बेडकर ने आगे चलकर ठुकरा दिया था ,लेकिन आज़ादी के आन्दोलन के कई चमकते सितारों ने भी अम्बेडकर को अपमानित करने में कोई कसर बाकी नहीं रखी थी .उन पर कालाराम मंदिर प्रवेश आन्दोलन के वक़्त पत्थर बरसाने वाले कौन लोग थे ? उनकी उपस्थिति के बाद उन स्थानों को गंगाजल और गौमूत्र छिडक कर पवित्र करने वाले लोग कौन थे ? वो कोन थे जिन्होंने अछूतों से पृथक निर्वाचन का हक छीन लिया था और डॉ अम्बेडकर को खून के आंसू रोने को विवश किया था .वो कौनसी विचारधारा के लोग थे जिन्होंने अम्बेडकर को हिन्दू कोड बिल नहीं लाने दिया और अंततः उन्हें भारी निराशा के साथ केन्द्रीय मंत्रिमंडल छोड़ना पड़ा था .इससे भी आगे बढ़ कर एक दिन उन्हें देश ना सही बल्कि धर्म को छोड़ना पड़ा .इन बातों पर भी चर्चा होती तो कई कुंठाओं को समाधान मिल सकता था  .जब प्रधानमन्त्री यह स्वीकारते है कि डॉ अम्बेडकर को जहर खुद पीना पड़ा तो वो क्या जहर था ,उससे देश को अवगत होना चाहिये .यह देश को जानने का हक है कि किन परिस्थितियों में अम्बेडकर ने अपना सार्वजनिक जीवन जिया और सब कुछ सहकर भी देश को अपना सर्वश्रेष्ठ देने की महानता दिखाई .

    संसद में यह पहली बार हुआ कि एक कांग्रेसी सांसद मल्लिकार्जुन खरगे ने बामसेफ के संस्थापक बहुजन राजनीती के सूत्रधार कांशीराम के केडर केम्पों की भाषा का इस्तेमाल किया .उन्होंने राजनाथसिंह को जोरदार जवाब देते हुए एक नयी बहस को जन्म दिया है .हालाँकि मीडिया ने उसे बहुत खूबसूरती से दबा दिया है .आश्चर्य होता है कि असहिष्णुता पर आमिर खान के बयान को तिल का ताड़ बनाने वाला मीडिया ,हर छोटी छोटी प्रतिक्रिया को विवादित बयान में बदलनेवाला मीडिया मल्लिकार्जुन खरगे के बयान पर कैसे मौन रह गया .देश भर से कोई नहीं उठ खड़ा हुआ कि खरगे ने ऐसा क्यों कहा कि –"आप विदेशी लोग है ,आप आर्य है ,बाहर से आये है .अम्बेडकर और हम लोग तो इस देश के मूलनिवासी है ,पांच हजार साल से मार खा खा कर भी हम यहीं बने हुए है ". खरगे के बयान में इस देश में बर्षों से जारी आर्य- अनार्य ,आर्य -द्रविड़ ,यूरेशियन विदेशी आर्यन्स की अवधारणा पर नए सिरे से विमर्श पैदा कर दिया है ,लेकिन सत्तापक्ष और मीडिया ने बहुत ही चालाकी से खरगे के बयान को उपेक्षित कर दिया है ताकि इस बात पर कहीं कोई बहस खड़ी ना हो जाये और सच्चाई की परतें नहीं उतरने लगे .यह विचारधाराओं के अवश्यम्भावी संघर्ष को टालने की असफल कोशिश लगती है .इस एक बयान से मल्लिकार्जुन खरगे देश के अनार्यों के नए हीरो के रूप में उभरते दिखाई दे रहे है ,हालाँकि वे अपने इस प्रकार के बयान पर कितना मजबूती से टिके रहते है ,यह तो भविष्य में ही पता चल पायेगा मगर खरगे की साफगोई ने दलित बहुजन मूलनिवासी आन्दोलन में नई वैचारिक प्राणवायु संचरित की है .

    इस बहस का सबसे बड़ा फलितार्थ आरक्षण और संविधान को बदलने की दक्षिणपंथी बकवास को मिला एक मुकम्मल जवाब माना जा सकता है .लुटियंस के टीले से नागपुर के केशव भवन को मिला यह अब तक का सबसे कड़वा जवाब है ,जिसमें संघ के प्रचारक रह चुके स्वयंसेवक प्रधानमन्त्री ने परमपूज्य सरसंघचालक मोहन राव भागवत को दो टूक शब्दों में कह दिया है कि ना तो आरक्षण की व्यवस्था में कोई बदलाव किया जायेगा और ना ही संविधान बदला जायेगा ,क्योंकि ऐसा करना आत्महत्या करने के समान होगा .इस कड़े जवाब से देश के वंचित समुदाय में एक राहत देखी जा रही है .अभी यह कहना जल्दबाजी ही होगी कि ऐसा कह कर मोदी देश के दलित वंचितों का भरोसा जीत पाने में वे कामयाब हो गए है ,लेकिन जिस तरह से बिहार चुनाव परिणाम से लेकर भारतीय संसद की बहस ने भागवत की किरकिरी की है ,उससे हाशिये का तबका ख़ुशी जरुर महसूस कर रहा है .

    संसद में हुयी दो दिवसीय चर्चा और राष्ट्रव्यापी संविधान दिवस का मनाया जाना भारतीय राष्ट्र राज्य के लिए एक ऐतिहासिक आयोजन है ,मगर इन सबके मध्य बाबा साहब डॉ भीमराव अम्बेडकर को अतिमानव बना कर उनके अवतारीकरण की कोशिशों को खतरे के रूप में देखने की जरुरत है  .अम्बेडकर को भगवान बनाना उनके उस विचार की हत्या करना है जिसमे वे सदैव व्यक्तिपूजा के विरोधी रहे .उन्हें मसीहाकरण से सख्त ऐतराज़ रहा ,मगर आज हम देख रहे है कि लन्दन से लेकर मुंबई के इंदु मिल तक स्थापित किये जा रहे स्मारकों के पीछे वही हीरो वर्सिपिंग का ही अलोकतांत्रिक विचार काम कर रहा है .कहीं ऐसा ना हो कि अम्बेडकर के विचारों को पूरी तरह दफन करते हुए कल उनके मंदिर बना दिये जाये ,उन्हें विष्णु का ग्यारहवां अवतार घोषित कर दिया जाये और मंदिरों में पंडित लोग घंटे घड़ियाल बजा कर आरतियाँ उतारने लगे .यह खतरा इसलिये बढ़ता जा रहा है क्योंकि कोई उन्हें आधुनिक मनु तो कोई राष्ट्रऋषि और कोई जहर पीनेवाला नीलकंठ बताने पर उतारू है .

    आज सब लोग एक रस्म अदायगी की तरह डॉ अम्बेडकर की प्रशंसा में लगे है ,पर 26 नवम्बर 1949 को संविधान सौंपते हुए उनके द्वारा कही गयी बात पर चर्चा नहीं हो रही है कि आर्थिक एवं सामाजिक गैर बराबरी मिटाये बगैर यह राजनीतिक समानता स्थायी नहीं हो सकती है .काश ,इस विषय पर देश की संसद विचार विमर्श करती ,मगर अफ़सोस कि अम्बेडकर की व्यक्ति पूजा चालू है ,उनका अनथक गुणगान जारी है. बड़ी ही चालाकी से उनके विचारों को दरकिनार किया जा रहा है .एक राष्ट्र के नाते बाबा साहब जो चाहते थे क्या हम वो लक्ष्य प्राप्त करने में सफल रहे है ? इस सवाल पर मेरे देश की संसद मौन है !

    -    भंवर मेघवंशी

    ( स्वतंत्र पत्रकार )

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

     'Muslims Against Partition' ,du-in.academia.edu/ShamsulIslam

    I am very very happy that some one like Shamsul Islam wrote this book.Indian history of partition is unilateral and it tends to prove that only Muslims were responsible for partition.Facts tell different story and I have been trying to decode partition story time and again.Though I could not manage to get the cabinet proposal,it is documented that the Hindu Majority in West Bengal struck the Bull`s eye to accomplish the agenda of grand Hindu alliance to divide the country to make it Hindu Nation.On the other hand,Muslim Majority in East Bengal rejected the partition resolution with thumping majority!

    I would suggest every one to get this most important book to know the truth that not Muslims nor Muslim League wanted partition nor Muslims supported the idea of partition initially so much so that even Jinnah was not convinced with the Idea of Pakistan.But Hindutva made the impossible Possible and thus,Gandhi was killed in 1946,not on 30th January!

    Palash Biswas

    My new book 'Muslims Against Partition' is out. I am attaching a flyer of the book for your kind perusal.

    Regards,

    S. Islam

    For some of S. Islam's writings in English, Hindi, Urdu & Gujarati see the following link:


    Facebook: Shams Shamsul

    Twitter: @shamsforjustice


    BOOKS


    TALKS


    CONFERENCE PRESENTATIONS


    BOOK REVIEWS


    PAPERS POLITICAL (HINDI)


    PAPERS POLITICAL (ENGLISH)


    PAPERS THEATRE/ CULTURE/LITERATURE (ENGLISH)


    PAPERS: THEATRE/CULTURE/LITERATURE (HINDI)