Attn! Always use a VPN when RSSing!
Your IP adress is . Country:
Your ISP blocks content and issues fines based on your location. Hide your IP address with a VPN!
Are you the publisher? Claim or contact us about this channel


Embed this content in your HTML

Search

Report adult content:

click to rate:

Account: (login)

More Channels


Channel Catalog


Channel Description:

This is my Real Life Story: Troubled Galaxy Destroyed Dreams. It is hightime that I should share my life with you all. So that something may be done to save this Galaxy. Please write to: bangasanskriti.sahityasammilani@gmail.comThis Blog is all about Black Untouchables,Indigenous, Aboriginal People worldwide, Refugees, Persecuted nationalities, Minorities and golbal RESISTANCE.

older | 1 | .... | 229 | 230 | (Page 231) | 232 | 233 | .... | 303 | newer

    বাংলায় রক্তপাত প্রসঙ্গে

    রঙ্গ কত মা,মজিলি শ্যাষে

    কমরেড ক্যালানি উত্সবে!

    https://youtu.be/ODxoK9DQJAM


    Paradise Lost!

    हेइया हो,गोड़ उठाइके मूं पर मारो!

    के हग दें,सगरे जुलमी ससुरो!

    আরদেব না আর দেব না রক্তে বোনা ধান মোদের প্রাণ হো!

    आर देबो ना,आर देबो नारक्ते बोना धान,देबो ना ,हेइया हो!

    https://www.youtube.com/watch?v=UgC2MCPHH5M

    Hei Samaalo - Salil Chowdhury


    পলাশ বিশ্বাস

    Large scale attacks in West Bengal by TMC, approached EC ...

    Video for CPIM leaders attacked in Bengal

    www.aninews.in/.../23319-large-scale-attacks-in-west-...

    New Delhi, May 11 (ANI): CPI (M) leader Sitaram Yechury on Sunday approached the Election Commission ...

    TMC Leader Anubrata Mandal attacking CPIM - YouTube

    Video for CPIM leaders attacked in Bengal▶ 0:24

    https://www.youtube.com/watch?v=i_Is4Xw099M

    Sep 13, 2015 - Uploaded by 24 ghanta

    A Leading Bengali News Channel 24 Ghanta More News:: http://zeenews.india.com/bengali.

    Large scale attacks in West Bengal by TMC, approached EC ...

    www.aninews.in/.../23319-large-scale-attacks-in-west-bengal-by-tmc-app...

    New Delhi, May 11 (ANI): CPI (M) leader Sitaram Yechury on Sunday approached the Election Commission and complained about large scale attacks in West ...

    Trinamool leader Arabul Islam arrested for attack on CPI-M ...

    www.youtube.com/watch?v=lLpFjEZfdCc

    Jan 17, 2013 - Trinamool Congress leader Arabul Islam, who had allegedly attacked CPI-M leader and former West Bengal minister Abdur Rezzak Mollah in ...

    Attack from police on CPIM members at West Bengal During ...

    Video for CPIM leaders attacked in Bengal▶ 1:11

    https://www.youtube.com/watch?v=Ru2J3djeOO4

    Oct 3, 2015 - Uploaded by REPORTER LIVE

    Attack from police on CPIM members at West Bengal During election. REPORTER LIVE ... West Bengal civic ...

    TMC attacks Left workers, vehicles set ablaze in West Bengal

    Video for CPIM leaders attacked in Bengal▶ 3:57

    www.youtube.com/watch?v=JlfXOJB3f20

    Jan 8, 2013 - Uploaded by ABP NEWS

    Left workers were attacked and several vehicles set ablaze ...attack on Marxist leader Abdur Rezzak Mollah ...

    Maoists kill CPI (M) leaders; destroy party office, in WB ...

    Video for CPIM leaders attacked in Bengal▶ 1:43

    www.youtube.com/watch?v=GsiZwnXQfoo

    Mar 26, 2010 - Uploaded by ANI Multimedia

    Maoists kill CPI (M) leaders; destroy party office, in WB ... Forest Officer who was also attacked managed to ...

    Large scale attacks in West Bengal by TMC, approached EC ...

    Video for CPIM leaders attacked in Bengal

    https://in.screen.yahoo.com/large-scale-attacks-west-be...

    May 11, 2014

    CPI (M) leader Sitaram Yechury on Sunday approached the Election Commission and complained about ...

    Bengal CPI-M leader makes indecent remarks against ...

    https://www.youtube.com/watch?v=QBMi4RuK-vY

    Dec 28, 2012 - Ridiculing Mamata Banerjee government's decision to compensate victims of crimes against women like rape, senior CP1-M leader Anisur ...

    Maoists kill CPI (M) leader in West Bengal - YouTube

    Video for CPIM leaders attacked in Bengal▶ 0:56

    www.youtube.com/watch?v=VW22eIyiNIE

    Mar 25, 2010 - Uploaded by ANI Multimedia

    Midnapore, March 25 (ANI): Maoists abducted and killed a leaderof Communist Party of India (Marxist) in ...


    আহা মরি মা রণং দেহি চন্ডী ,দ্যাখ কেমন লাগে,সাক্ষাত মহিষাসুর মর্দিনী দেবি সহিষ্ণুতার, ধর্মনিরপেক্ষতার, বেড়ে জনাদেশ  সমাজবাদে বংশ আধিপাত্যের জয় জয়কার!


    পুত্র নাহি যার,দ্যাখবি ব্যাটা বংশ বীর্য় ফোটে কোন ফুলে,পুত্র আছে যাহাদের এখনই তাহারা যাদবকুলে!


    মদন আবার জেলে,ডুবে ডুবে জল যাহারা খাইল হেব্বী.তাহাদের ধরব্যে কোন বাপের মাইয়া,ছ্যালে!


    ভাবিও না নবারুণ ভট্টাটজ্যির টঙে যাইতেই ফ্যাতাড়ু বোম্বাচাক,মৃতের সহিত কথোপথনে হার্বার্টের ক্ষমতায়ণ আর বাংলা সাহিত্যে কোনো কাজে অকাজে লাগিবে না।


    আন্ডা বাচ্চা যাহাদের আছে দুধে ভাতে,সব্জি আনাজ কত দামি হবে আবার,জুয়েলার্স কি ফোটাবে হিরে,আধিপাত্য তাহাদেরই সব ক্ষেত্র মা,বাঙালি মরিয়াও বুঝিল না।

    বুঝেছিল ব্যাটা নবারুণ মৃত্যু উপত্যকার এই দ্যাশ।


    সুবর্ণরেখার আসল রুপ দ্যাখাইচে ঋত্বিক,ছিঁড়িল না কিছুই,মিছিলে মিচিলে রাম ডন্কা,হরি হরি বোল।

    পোঁদে ছাল বাকী নাই কাহারও,তবু কি আনন্দ।


    ভোট উত্সবের লাগিয়া সত্যিই বড় দুগ্গা পুজা হইছে যখন মহিসাসুর বধে রুধিবে কে মা চন্ডীর লেলিহান খড়গে।


    কাল রাত্রি পোহাবে না জাঠায়,যতদিন জ্যাঠামিতে ক্যাডাররা মরিতেই পার্টি করিবে ও ন্যাতাদের মুখে শুধু বাণী ঝরিবে মতাদর্শের,তলে তলে সব ব্যাটা বেটি একই জলে।


    নিঃসন্দেহ, পাব্লিক জয় রাম বোচো অতিশয়,কাটাবাঁড়া কিছুতেই নহে।গৌরিকীকরণ সুদে আসলে,যাহা বুনিয়াচে বেয়াই ,কাটিছে সেই কাঁটাবন,কোন কাঁটাবাড়া কাঁদে।


    জাপানি ত্যাল হইল ফেল,রকেটেও ভাঙ্গে না খাট,যাহাদের আজও দাঁড়াইল না শতেক বছরে দাঁড়াইবে না তাহাদের মা।


    যে রক্তবীজ বপন করিল ঘরে ঘরে,তাহাই ফলিতেছে বুমরাঙ,কুমিরে ডাকিয়া ঘরে,শ্মশানে বিপ্লব হইতাছে।


    বোঝো ঠ্যালা,পেদানি যত না জুটিল ভোট কি জুটিবে তত,কে জানে কোন হালায় কাহারে করিবে চিতি্তর,চিত হয়্যা না শুইয়া কাহারা করে যে রাজনীতি,বোচো পাবলিক বুঝিবে না হালার পো হালা,ছেরেঙ্গ ভাঙ্গতাছে,ধ্বজভঙ্গ বহুকাল আগে,তকন বুঝিল না,তো কোন শেয়াল বা কাঁদে।




    শ্রীচরণেষু পামু কই,সব হালায় খায় মোতে এ্যাক থালায়।

    বাতিল কবিরা মরিয়াও মরে না,লোম্বা কাহারো ছেঁড়ে না যদিও,মৃতেরাও কথা কয়,সমুদ্র শুধু ফিরাবে,ক্যামনি অকথা,ফেরায ইতিহাস,ইতিহাসে পাতিহাস অভ্যাস,পদে পদে ভূল ঐতিহাসিক,জ্যোতিবাবুকে ল্যাঙ মারার হিসেব কষিবে কে হালায় রেজ্জাককে কাদায় ছুঁড়িয়া বৃদ্ধস্য তরুনী ভার্যা বিপল্বী পার্টি যাহাদের,পিঠেও সহিছে,পেটেও সহিছে৤


    মা তারা,শ্মশানী তোরই মায়া। ভুইফোঁড় মোদের পেন্নাম।


    কতেক না শো হইল লাইভ।

    আরো আছে সবজান্তা প্যানেল চ্যানেল।

    সব থেকে বড় দুগ্গোও হইল।


    চিটফান্ড নাই তবু বিপ্লবী সিনেমার গল্প হইলো তারারামপম তারারমপম,পুরস্কার কিছুতেই ফিরাইব না,বাঁধাইব সোনায় মুড়ে,তলারও খাই গাছের কুড়াই।শারদা শ্যাষ।


    কুণাল নিকেশ।সুদীপ্ত দেবযানী জূটি সুপার হিট,তবু বোঝে না মন,এই পোড়া দ্যাশে এতই রঙ্গ,শিরোনামে তবু রক্তপাত।


    যুগে যুগে আসিছে ফিরিয়া জমিদার,ভারত ভাগই হইল, নক্শিকাঁতা না হয় নাই বা লিখিল,সোজনবেদিয়া জারি।



    Search Results

    1. Political violence between BJP and Trinamool Congress in ...

    2. Video for Political Violence in Bengal Latest▶ 10:45

    3. www.youtube.com/watch?v=qS88whxpfwY

    4. Jan 13, 2015 - Uploaded by FOCUS News

    5. Political violence is on rise in West Bengal. In the latestincident, TMC supporters thrashed and injured a BJP ...

    6. Political violence returns to colleges in West Bengal ...

    7. Video for Political Violence in Bengal Latest▶ 2:48

    8. www.youtube.com/watch?v=7XZ-Ba2rj3U

    9. Feb 16, 2013 - Uploaded by NewsX

    10. The latest bout of deadly college campus violence in WestBengal is symptomatic of a long-standing malaise ...

    11. Political violence in West Bengal, 40 houses allegedly burnt

    12. Video for Political Violence in Bengal Latest▶ 4:09

    13. www.youtube.com/watch?v=COeZBaJ1MUc

    14. Jul 11, 2013 - Uploaded by NewsX

    15. NewsX: Panchayat elections in the state began on a violent note. Nearly 40 houses of both CPM and Congress ...

    16. Is the cycle of political violence back to haunt Bengal?

    17. Video for Political Violence in Bengal Latest▶ 46:21

    18. www.ndtv.com› video

    19. Apr 10, 2013

    20. The Left and the Trinamool Congress today traded charges over the heckling and manhandling of West ...

    21. Amidst political violence, WB goes to polls - YouTube

    22. www.youtube.com/watch?v=hkMU3nDnYVc

    23. Jul 18, 2013 - Three very politically sensitive districts of West Bengal will vote in the third phase of panchayat elections today (July 19). With violence and ...

    24. Political violence in West Bengal - YouTube

    25. www.youtube.com/watch?v=H4Rji2gFhFk

  • Jan 8, 2011 - 8 deaths in Lalgarh on Friday have got Home Minister P Chidambaram to push the West Bengal CM to rush to Delhi for talks.

  • Political violence in West Bengal during bandh - Times of India

  • Video for Political Violence in Bengal Latest

  • timesofindia.indiatimes.com› Videos

  • Apr 29, 2015

  • View free Political violence in West Bengal during bandh video clips online, most viewed Political violence ...

  • Is the cycle of political violence back to haunt Bengal ...

  • www.youtube.com/watch?v=PEv6IxmUsLk

  • Apr 10, 2013 - The Left and the Trinamool Congress today traded charges over the heckling and manhandling of West Bengal Finance Minister Amit Mitra in ...

  • NewsX: Poll violence in West Bengal - YouTube

  • Video for Political Violence in Bengal Latest▶ 3:14

  • www.youtube.com/watch?v=5-2qJJXrUgI

  • Jul 18, 2013 - Uploaded by NewsX

  • NewsX: Political violence continues in Bengal even after the continuous coverage in Media. The Calcutta ...

  • The Big Picture - Politics of Violence in Bengal: An end in ...

  • Video for Political Violence in Bengal Latest▶ 25:49

  • https://www.youtube.com/watch?v=pvqf_PxCNpo

  • Apr 12, 2013 - Uploaded by Rajya Sabha TV

  • Political Violence in West Bengal continues unabated after SFI worker Sudipta Gupta dies in police custody ...






  • --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

  • 0 0

     हमारे बदलाव के ख्वाबों के  शहंशाह जियो  युसूफ साहेब । जी रौ हजार बरीस!

    " उसने की पुर्शसे हालात तो मुंह फेर लिया
    दिले ग़मगीं के ये अंदाज़ ख़ुदा ख़ैर करे । "

    पलाश विश्वास


    हमने शायद ही दिलीप कुमार की कोई फिल्म कभी मिस की होगी।

    नैनीताल में सत्तर के दशक में आफ सीजन में और कासकर विनाश कारी पौधे की मीसाई अफवाह से जब 19575-77 को दरम्यान नैनीताल उजाड़ हुआ करता था,हम छात्रों की आवास की कोई दिक्कत न होती थी, लेकिन पूरे पहाड़ बेरोजगार मातम मना रहा होता तो अमूमन नैनीताल में होने वाली  नई फिल्मों की बहार की बजाय सदाबहार पुरानी फिल्में तीन तीन हाल में अलग अलग शो पर दिखायी जाती थीं।


    हमने हर हाल में दो दो के हिसाब से एक ही दिन छह छह फिल्में देखकर मूक वधिर दिनों के तीस चालीस दशक से लेकर साठ के दशक की बेशुमार फिल्में और हालीवूड की क्लासिक फिल्में उन्हीं दिनों देखी हैं।तमामो क्लासिक फिल्में नैनीताल के उन बंद हालों में।अंधेरे में गिरदा गैंग की सोहबत में अंधेरेे को रोशन करने वास्ते बदलाव के ख्वाब से जिगरा जलाते हुए।

    तब हम चिपको के दौर में थे तो गिरदा गैंग आकार भी लेने लगा था और इसी गैंग में थे हमारे प्राचीन मित्र कामरेड राजा बहुगुणा जो माले के बड़का नेता हुए जैसे इलाहाबाद विवि के छात्र संघ जीतने वाले जुबिली हाल के वाशिंदे अखिलेंद्र भइया।

    तीस पैसे के टिकट पर घटी दरों पर।क्लासिक फिल्म।

    अब नैनीताल के वे सारे हमारे ख्वाबगाह न जाने कब से बंद हैं,जहां अंधेरे में रोशनी जगाकर हमारी पीढ़ी ख्वाब जगाती थी।

    जाहिरा तौर पर हमारे उन ख्वाबों के शहंशाह थे दिलीप कुमार।सदाबहार भारतीय फिल्मों के नायक।

    आज फेसबुक वाल पर राजा बहुगुणा के पोस्ट पर दिल में फिर नैनीझील बेताब गहराइयों तलक कि बहुत दिनों से मीडिया ब्लिट्ज ने इस बेहतरीन अदाकार और हर दिल अजीज किनारे कर दिया।

    गंगा जमुना में इन्हीं दिलीपकुमार और बैजंती माला ने बिना आधुनिकतम डबिंग और तकनीक के जो बेधड़क भोजपुरी का लोक जगाया,तभी से वही जागर मेरे बीतर खलबलाता है तो भद्रलोक भाखा के बदले अपना अशुध देसी में छंलागा मारकर दौड़ता हूं।डरता नहीं कि कोई टोक दें यापिर ठोंके दें।

    शुक्रिया,दिलीप कुमार।जो धर्म से मुसलमान भी हुए,लेकिन हिंदू किरदार निभाने में उनसे उस्ताद कोई दूसरा हो तो बतायें।

    गोपी से लेकर हर फिल्म में उनके भजन,नया दौर से लेकर सगीना महतो तक भारतीय भारत तीर्थ की सहिष्णुता और बहुलता का यह हरदिल अजीज मुसलमान है और मीडिया ने उन्हें ऐसे भुलाया है जैसे कि वे शायद इस दुनिया में हों ही नहीं।

    शुक्रिया राजा,तूने  तो इस चमकदार मीडिया का बाजा दिया बजा।

    कस हालचाल छन
    नानतिन कतो हैगे

     आगे राजा बहुगुमा के  वाल से
    आजन्म भद्र , आमरण भद्र दिलीप कुमार साहेब की यह ताज़ा तस्वीर शब्द साधक आदरणीय Arvind Kumar जी ने शेयर की है । इसे देख लगभग 20 - 25 साल पुराना एक संस्मरण सजीव हो उठा ।
    90 के दशक की बात है । दिलीप कुमार साहेब एक अर्द्ध निजी कार्यक्रम में जयपुर आये थे । एक रिपोर्टर के नाते मैं वहां तैनात था । वह तब भी 70 + तो थे ही । लेकिन चुस्त दुरुस्त और सुरुचिपूर्ण वस्त्र विन्यास । गर्मी में भी कोट पहने थे । शायद जेंटल मैन दिखने की मज़बूरी के चलते । केशराजि अवलेह से रंग कर चिट काली बना रखी थी । अचानक वह सबकी नज़र चुरा कर स्टेज के पीछे चले गए । आखिर क्यों गए , इस जिज्ञासा के कारण मैं भी उनके पीछे पीछे पँहुच गया । देखता क्या हूँ कि एक भृत्य सामने दर्पण थामे खड़ा है , और बड़े मियां अपने बाल संवार रहे हैं । हठात् मुझ पर नज़र पड़ी तो लजा गए और कंघा जेब में रख लिया । मैंने कहा- कर लीजिये पूरा सिंगार । माशा अल्लाह अभी तो हुज़ूर साठा सो पाठा हैं । लेकिन वह और लजा गए । कोई और एक्टर होता तो अपनी निजता में ख़लल डालने के लिए मारने दौड़ता । जियो युसूफ साहेब । 
    " उसने की पुर्शसे हालात तो मुंह फेर लिया
    दिले ग़मगीं के ये अंदाज़ ख़ुदा ख़ैर करे । " 

    सवाल यह है कि क्या हम फिर आपरेशन ब्लू स्टार का विकल्प चुनने की राह पर है?


    सवाल यह भी है कि क्या यह हिंदू राष्ट्र फिर सिखों का नरसंहार दोहराने पर आमादा है?


    सैफई का जश्न समाजवाद नहीं!


    और न क्षत्रप वंश वर्चस्व जनादेश!


    बंगाल में भयंकर राजनीतिक हिंसा,

    फासीवादी गठजोड़ फिर

    महागठबंधन का चेहरा!


    महागठबंधन का महाजिन्न भी विकल्प नहीं!


    जिसका चेहरा फिर वही बिररिंची बाबा!


    परिपक्व जनतंत्र में सरबत खालसा भी!


    न अलगाववाद है और न राष्ट्रद्रोह!


    आत्मनिर्णय का अधिकार भी


    लोकतांत्रिक मानवाधिकार!


    मसलों को संबोधित करना सबसे जरुरी तो सैन्य दमन तंत्र सबसे बड़ा,सबसे खतरनाक आतंकवाद, मनुस्मृति राष्ट्र!


    https://youtu.be/wS97K_GXnoY

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    Bihari ji 
    Good luck for your move towards removal of federalism, I hope readers from this group will take it positively and gather your support if that is the main hurdle of present crisis. Due to hassle of promulgating the incomplete constitution in race if becoming the 0pm of Nepal Oli brought in an " Anista" to Nepalese people. Even the almighty gods and goddesses wil not forgive him due to his crime against Nepalese people and starve to death and pushing Nepal another 50 years back due to his vested interest to suppress janajaati and madhes people. Hope you will find good way to keep people in balance in power if not we do not want unitary system that protects Khas people and their supporters  only by introducing So called NePali identity.  No way in 21st century. Good luck !!!! 

    Drasha

    On २०१५ नोभेम्बर २२, आइतबार, Bihari Krishna Shrestha <biharishrestha@gmail.com> wrote:

    Dear all,

    I am taking the liberty of sharing with you a copy of the memorandum submitted by our group to the Hon. PM KP Sharma Oli yesterday at his official residence at Baluwatar on the measures that we suggested should be taken to mitigate the negative impact of the ongoing Indian blockade.This has received a relatively wide coverage in the media today. However, since it is a matter of national concern, I assume that it would be of interest to you all too to receive a copy of the said memorandum which is attached.

    I further take the liberty of suggesting that, should you find the memorandum sufficiently appealing to you, it would greatly add to our national cause if you too choose to make your own representation to the Hon. PM in support of the memorandum or along the spirit that underlies it. 

    My most sincere regards
    Bihari Krishna Shrestha 
    Ganga Purja Pun

    Ganga Purja Pun

    2:43 AM (16 hours ago)
    to BihariHimalayanOfficeFormerFormerFormerOliPrakashMohanराष्ट्रियLokUSBritishIndianRakeshYogendraAskoKamalMohanUpendraMadanKrishnaBalKishoreRam
    Dear all,

    Good luck to experts who are endorsing the memorandum. In my opinion, those suggestions in the memorandum are not anything new to me. They were the big talks in the past too. Every time when a new political system is introduced, people will have hard time to digest and understand it. For example, some think tanks introduced democracy when we had Panchayat system in Nepal. I am not sure how many percent of Nepalese people actually comprehended the new system. At the end we still have this mess. In the same context, when people do not understand federalism does not mean that it is bad for Nepal. Now, anything happening in Nepal is directly related to leaders who think Nepal is only Kathmandu.

    Regards,

    Ganga
    Shekhar Dhungel

    Shekhar Dhungel

    6:40 AM (12 hours ago)
    to drashaBihariHimalayanOfficeNepalJhalaBaburamOliPrakashMohanराष्ट्रियLokUSBritishRakeshRakeshYogendraAskoKamalMohanUpendraMadanKrishnaShresthaKishore
    Hindi
    English
       
    Translate message
    Turn off for: Hindi
    नमस्कार सबैमा 
                                                राष्ट्र   र   राष्ट्रिय स्वाधिनता को   लागि  


                                           
    .देश लाइ क्रमस सिक्किमीकरण वा फिजीकरण वा विखण्डन को  मार्गमा  डोर्याउदै लगेको राजनैतिक प्रवृति लाइ  तत्काल  रोक्नु  अनिबार्य   छ  .देशमा   यस्तो  अवस्था  छिमेकिको  नाकाबंधी   बाट आउदैन   भारत  चिन युद्ध ,भारत  पाकिस्तान ,बंगलादेश युद्ध वा भारत  भित्रै   बिद्रोह   वा   बिहार   र  ऊतर  प्रदेशमा  बिद्रोह  संकटकाल को   कारण  पनि  सिमा बन्द हुन् सक्छ .तसर्थ  नेपालले कमसेकम  जिल्ला  स्तर  सम्ममा   कम्तिमा  ६ महिना पुग्ने  इन्धन  खाद्यान्न र औषधि  सुरक्षित  भण्डार गर्नु पर्ने थियो गरेनन  यहाँ  सम्म  कि  युद्ध  बन्दोबस्तीका को  लागि   शेना  र प्रहरीले  समेत  यस्तो  अत्याबस्यक  बस्तु  सुरक्षित भण्डार गर्नु पर्ने थियो  त्यो पनि  गरेनन .२७ र ४५ सालमा यस्तै नियति भोगिसकेको  नेपालले  उदार वा  निजीकरणको नाममा भएका राष्ट्रिय महत्वका उद्योग लाइ  बिक्रि  वितरण  गरेर  २०४६ साल सम्म मा  सिमेन्ट लगायत  १४२ ग्राहस्थ उत्पादनमा आत्मनिर्भर भैसकेको नेपाल लाइ परजीबी बनाउने देशका   गद्धार  हरु  लाइ  दण्डित गर्नु पर्छ .अहिलेको अबस्थामा सबै दलका कम्तिमा  वरिष्ठताको  आधारमा २५ जना  लाइ  अनिबार्य  राजनैतिक सन्यास लिन लगाउनु पर्छ र अब आइन्दा छिमेकी ले यस्तो नियति भोगाउन नसकोस भनि अन्य सबै छिमेकी देश सित पनि  व्यापारिक सम्बन्ध लाइ बढाउनु पर्छ .साथै एक स्वतन्त्र  देशको स्वाधीन अस्तित्व सार्बभौमिकता को  अटूटताको  लागि सरकार नागरिक समाज र एक भएर निम्न लिखित काम गर्नु अनिबार्य छ .

    १- अटल र अखण्ड नेपालको अस्तित्वमा खतरा देखिएको प्रस्तावित पुर्बपश्चिम रेखांकित प्रदेश लाइ संबिधान संसोधन संगै खारेज गरि वा  संघियता  नै  खारेज  वा उत्तर दक्षिण रेखांकित प्रदेश मात्र कायम गरियोस् र प्रदेशको नाम प्राकृतिक र  ऐतिहासिक होस् . 
    .
    २ -नेपालको बजारमा  खुल्लमखुल्ला बिदेशी मुद्रा (भारु ) मात्र चल्ने गरेको मा निषेध गरि कि भारतमा पनि नेरु चल्नु पर्यो अन्यथा नेपालमा मात्र बिदेशी मुद्राले बजार लिनु रास्ट्रको अर्थतन्त्रको लागि नकारात्मक भएको ले तत्काल निषेध (बन्द )गरियोस 

    ३ -भारतीय अनुहारमा नेपालि भाषामा प्रशारित हुने  नेपालका टिभी ,पत्रिका का बिज्ञापन लाइ निषेध गरि स्वदेशी मोडेल /कलाकार लाइ अवसर /स्थान दिइयोस्  ताकी  बिदेशी वा नेपाल सम्बन्धि अनभिज्ञ हरुले भारत र नेपाल एक्कै नदेखुन....

    ४ -अंगिकृत नागरिक लाइ अन्य देशको  (अमेरिका ,बेलायत अस्ट्रेलिया लगायत ) झैँ परिक्षण अबधि र शर्त राखी ५/१० बर्ष पछी मात्र सरकारी सेवा वा राजनीतिमा सहभागी हुन् पाउने र केहि निश्चित राजकीय पदमा निषेध गर्ने गरि संबिधान संसोधनमा प्राबधान राखियोस् 
    आप्रबासी बिदेशी लाइ अंगिकृत नागरिकता दिनु पर्दा कम्तिमा ५ बर्षको अस्थायी नागरिकता  तत् पश्चात उसको यो देशको प्रतिको इमान्दारिता जिम्मेवारी बहन कर तिरेको आदि प्राबधानमा   इमान्दारिता  देखिएमा मात्र स्थायी नागरिकता दिने , मतदानको अधिकार दिने तर उसले १० बर्ष पश्चात मात्र केन्द्रीयस्तरको सरकारी सेवा र राजनीतिमा सहभागी हुन् पाउने र अब आइन्दा बंसज वा अंगिकृत  स्थायी नागरिकता वितरण गर्दा गाउ /नगर प्रमुख  वा जिल्ला न्यायाधीशको समक्ष सामुहिकरुपमा रास्ट्रिय झन्डा मुनि सम्बिधान लाइ छोएर "म मेरो बल बुद्धि र योग्यता नेपालको सुरक्षा हित र सम्वृद्धिको लागि इमान्दारीपूर्वक जिम्मेवारी बहन गर्ने छु / सदुपयोग गर्ने छु देश हित प्रतिकुल कुनै काम गर्ने छैन"भनि शपथ खानु पर्ने शर्तको    प्राबधान प्रस्तावित संबिधान संशोधनमा थपियोस 

    ५ -ब्रिटिश भारत वा बर्तमान भारत सितको भएका सबै सन्धि सम्झौता लाइ एक तर्फी खारेज गरि समय सापेक्ष अन्तर्राष्ट्रिय कानुन अनुसार नया सन्धि सम्झौता होस् ,भारतीय सिमामा काड़ेबार/पर्खाल लगाई ब्यबस्थित गर्ने ,५/७ नाका मात्र कायम राख्ने ,दुइ देश बीच राहदानी र भिषा (भ्रमण अनुमति )नीति  लागु गरियोस स्मरण रहोस "खुल्ला सिमानाको कारण नेपाल तर्फ बाट तस्करी भयो आफ्नो सुरक्षामा खतरा भयो भनि मित्र राष्ट्र भारतको आरोप लाइ निश्तेज गर्न "यो प्राबधान वा नीति लागु गर्नु अनिवार्य छ .

    ६ -स्वाभिमानी नेपालीको स्वाधीन रास्ट्रको कार्यकारिणी को चयन मा बिदेशीको चाख समर्थन जस्तो लज्जास्पद अवस्था बाट मुक्ति पाउन  र नागरिक सर्बोच्चता माथिको अपहेलना अबमुल्यन रोक्न  प्रत्यक्ष निर्बाचित कार्यकारिणी एबम  योग्यताको लागि  नैतिक आचरणका केहि न्युनतम शर्त  बनाइ अनिवार्यता गरियोस , कार्यकारिणी प्रमुख लगायत सम्पूर्ण सासद को निर्बाचन मा NO VOTE र  कार्य  सन्तोषजनक नभए RE-CALL को व्यवस्था गरियोस .

    ७ -भुपेरिबेष्ठित राष्ट्रको पारबहन अधिकार लाइ अविचलित /नियमित गर्न संयुक्त राष्ट्र संघ मार्फत अन्तर्राष्ट्रिय समूह लाइ आह्वान गरि  नेपालको अधिकार लाइ सुनिस्चित रुपमा कार्यान्वयन गर्न गराउन परराष्ट्र विद हरुको एक समिति तत्काल  गठन गरि अगाडी बढाईयोस ..लिपुलेक को विवाद चिन र भारत लाइ संगै राखी  छलफल गरि  स्पस्ट धारणा सार्बजनिक  गरियोस 

    ८ -नेपालको भू बनौट , जनसङ्ख्या एबम आर्थिक स्रोत र साधनको आधारमा बढीमा ९ मन्त्रालय र १५ मन्त्रि (सहायकमन्त्री समेत गरि )कायम गरियोस ,प्रादेशिक राज्य निर्माण भए पछी  केन्द्रका सम्पूर्ण बिभाग खारेज गरियोस 

    ९ -आज सम्म नेपालका नेता र दल हरुले बिदेशी दुतावास ,नियोग अनि INGO बाट को कसले आर्थिक सहयोग लिएको छ ?अनुसन्धान र कार्यबाहीको लागि आयोग बनाइयोस र अनाबस्यक रुपमा रहेका बिदेशी  दुताबासका कर्मचारी ,नियोग एबम INGO लाइ तत्काल (६ महिनाको समय दिएर देश छाड्ने आदेश होस् )हटाइयोस ..

    १०- बिदेशमा पैसा थुपार्ने नेता र उच्चस्तरीय प्रशासक हरु को छानबिन गर्न र विदेशिएको पैसा फिर्ता लेराउन आबस्यक कानुनको निर्माण एबम कार्यान्वयन गरियोस जसको लागि एक बिशेष अधिकार सम्पन्न समिति गठन होस् .

    ११ -भ्रस्टाचार नियन्त्रण एबम सुशासन र पारदर्शिताको लागि शेना प्रहरी प्रशांसन लगायत वित्तीय संस्थाका रास्ट्र सेवक हरुले सेवाग्रही लाइ आफ्नो व्यक्तिगत इमेल हाते एबम घरको फोन दिने नाजायज एबम दुरासययुक्त परम्पराको अन्त गर्न बिधेयक मार्फत कानुन बनाइ कार्यान्वयन होस् ,  सेवाग्रही र सेवा प्रदायक बीच सम्बन्धित कार्यालय भन्दा बाहिर भेट्नु /सम्पर्क गर्नु लाइ दण्डनीय हुने कानुन बनाइयोस ,एक  टेबुल र   एकल   निर्णयको विशेषाधिकार   र   जिम्मेवारीपूर्ण   प्रशासन संयन्त्र लागु होस् .

    १२ -प्रस्तावित संबिधान संसोधनमा " सनातन हिन्दु रास्ट्र कायम गरियोस होइन भने तत्काल सम्पूर्ण गुठि खारेज गरि कुनै धर्म बिशेषको लागि मात्र राज्यको खर्च र सहभागिता बाट मुक्त होस् ,रास्ट्र प्रमुख सरकार प्रमुख लगायतले हिन्दु धर्मका नाममा हुने सम्पूर्ण चाड पर्ब मेलामा जनाउदै आएको परम्पराको तत्काल अन्त गरियोस .मठ मन्दिर स्थानीय नागरिको हातमा जिम्मा दियीयोस धर्म निरपेक्षता को अर्थ र मर्म अनुरुप राज्यले सबै धर्मले समान व्यवहार गर्नु पर्ने संबैधानिक प्राबधान अनुसार हिन्दु धर्मको नाममा अब आइन्दा "एक दिन"  मात्र बिदा दिने निर्णय तत्काल गरियोस .

    १३ -राज्यको दृष्टिमा सबै नागरिक समानरुपमा  अधिकारका भागिदार हुने बिस्वब्यापी संबैधानिक  मान्यता बिपरित क्षेत्रीय ,जातीय ,लैंगिक आधारमा गरिने भेदभाब वा बिशेष अधिकारको प्राबधान लाइ खारेज गरि व्यक्तिको इच्छा ,योग्यता ,क्षमता को आधारमा पारदर्शीता अपनाई प्रतिस्पर्धा मार्फत मात्र अवसर लाइ प्राप्त गर्न सक्ने प्राबधान राखियोस् जसले नेपालमा पनि हार्दिक पटेल जन्माउने सम्भावना लाइ रोकोस .

    १४ -जातीय विभेद जस्तो मानबता बिरुद्धको व्यवहार लाइ रोक्न र "समान मानबिय मुल्य र मान्यता लाइ ब्यबहारमा कार्यन्वयन गर्न गराउन " "शिक्षा र आत्मनिर्भरता "मा पहुच  प्रत्यक नागरिकको हक भएको हुँदा तदनुरूप शिक्षा नीति एबम रोजगारमूलक आर्थिक योजनाको लागि बिशेष बिधेयक मार्फत कानुन निर्माण गरि लागु गरियोस त्यसको लागि CIVIC SENSE ACT बनाइ लागु गरियोस .
    १५ समय साक्षेप  भ्रस्टाचार मुक्त   पारदर्शी उत्तरदायी न्यायिक   एबम  प्रशासनिक संयन्त्र  निर्माणको   लागि  तत्काल प्रशासनिक  सुधार  आयोग  गठन गरि तिन महिना भित्रमा प्रतिबेदन अनुसार नीति लागु   होस् . 
    १६  -देशको प्राकृतिक बाताबरण कहाली लाग्दो रुपमा क्षयीकरण हुँदै गएको र अर्को २०/३० बर्षमा नेपाल पहाडी मरुभूमिमा परिणत हुने खतरा भएकोले प्राकृतिक बाताबरण संरक्षणको लागि चुरे को सुरक्षा .खरिया खन्न नियन्त्रण गर्न र क्रान्तिकारी अभियानको रुपमा हरियाली बिस्तारको लागि बिशेष कार्यक्रम बनाइयोस 

    Shekhar Dhungel (शेखर ढुंगेल)
    सृष्टि कर्ता ले मानिस लाइ दया करुणा सेवा र संबेदनसिल प्राणि वा आफ्नो प्रतिनिधि  को रुपमा बनाएको हुन् .तसर्थ जहाँ आबस्यकता देखिन्छ जहिले सम्भावना हुन्छ बिना तर्क बितर्क , बिना आफ्नो पराइ को परिचय बिना फाइदा बेफाइदा को हिसाब ,बिना सुबिधा असुबिधा को बहाना दया भाब देखाई हाल्नु पर्छ सहयोग को हात बढाई हाल्नु पर्छ जहाँ आबस्यकता हुन्छ त्यहाँ आफै लाइ उत्तरदायी वा जिम्मेवार सम्झी सहयोगको हात बढाउनु एक बिबेकसिल आदर्श नागरिक को उदाहरण हुनु हो .
    -------------------------------------




    -- 
    ------------------------
    Tilak Shrestha

    Tilak Shrestha

    12:20 PM (7 hours ago)
    to BihariHimalayanOfficeFormerFormerFormerOliPrakashMohanराष्ट्रियLokUSBritishIndianRakeshYogendraAskoKamalMohanUpendraMadanKrishnaBalKishoreRam

    Bihari K. Shrestha Jee, Namaste!

    Please add my name also in the list of supporters of the memorandum. Please let me further suggest that the best solution is the 'peace and democracy.' Let people decide.

    1. The important national issues are not for individuals or parties to negotiate. There must be clear input of people. Let us publish and honor the people's wish expressed in the July poll. It is the ratification of the constitution and cannot be suppressed. 

    For further clarity, let there be public debates and referendum on the important national issues, including 'Sanghiyata' and 'Dharma nirapexata.'

    2. Nepal is a multi-cultural and multi-lingual nation, but we also have over 100 Jatis. We cannot have Jatiya rajyas. Sanghiyata is not our aspiration, but imposed from outside. Let people speak and decide through referendum. 

    3. We must absolutely reject any changes due to terror and violence. This is time for police, army, political parties and their cadres, and citizens to unite for law and order, and to save Nepal.

    Thanks,

    Tilak Shrestha, Ph.D.

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    The Perfectionist speaks on intolerance! Indian cinema voices Humanity. Only miss Big B!Home to hear him soon!

    Should we move out of India, Kiran Rao asks Aamir Khan due to rising intolerance!


    https://www.youtube.com/watch?v=XJ0I0JyU9Ew
    मसलों को संबोधित करना सबसे जरुरी तो सैन्य दमन तंत्र सबसे बड़ा,सबसे खतरनाक आतंकवाद, मनुस्मृति राष्ट्र!
    বাংলায় রক্তপাত প্রসঙ্গে
    রঙ্গ কত মা,মজিলি শ্যাষে
    কমরেড ক্যালানি উত্সবে!

    Paradise Lost!
    हेइया हो,गोड़ उठाइके मूं पर मारो!
    के हग दें,सगरे जुलमी ससुरो!
    আরদেব না আর দেব না রক্তে বোনা ধান মোদের প্রাণ হো!
    आर देबो ना,आर देबो नारक्ते बोना धान,देबो ना ,हेइया हो!

    Hei Samaalo - Salil Chowdhury


    Palash Biswas
    Amalendu Upadhyaya and अमलेन्दु उपाध्याय shared a link.
    हमने शायद ही दिलीप कुमार की कोई फिल्म कभी मिस की होगी। नैनीताल में सत्तर के दशक में…
    OW.LY/38ELAY|BY AMALENDU UPADHYAYA

    it is the great Indian tradition of Indian Cinema projecting our dreams,grievances,aspirations,expectations,our plight,our screams,our injuries as well as healing with its spectacular musicality and quite different a sound design,full of rainbow colors!It always has been contributed to the unity and integrity of the nation,the Bharat Teerth,th singular genetics,One blood that we are despite the most intense racist rapist tsunamy, continuous bloodshed and holocaust!

    Indian cinema never forgets to remind us how so many streams of humanity merged in Indian geopolitics across the border and always addressed the masses without any discrimination.It is all the way inclusion just because of the very phenomenon of Indian Cinema.Whereas Indian Media has also to cater for the same humanity but it never does represent th vocal scenario authentic and the aesthetics of social realism.

    Recently,in Kolkata,Manto was the showstopper who had been denied entry in Shiv Sena Samrajya,AMACHI Mumbai.Sharmad Khusat the most elegant director and actor from Pakistan got a suitable audience for Manto.Manto also speaks for Indian Cinema as his close friends Krishan Chander,Upendra Nath Ashk and Rajinder Singh Bedi consisted the original group of a different voice in Indian Cinema even before Ritwik!

    We have the whole lot of IPTA resettled in Indian Cinema as well as the refugees from west Punjab,Sindh,Kashmir and East Bengal.It crossed all its limits and borders to represents humanity!

    Mr.Perfectionist had to speak out,I always believed!
    I always believed that SRK and Salman may not keep mum.

    In kolkata,Big B also voiced tolerance but skip the word intolerance for political correction as Kamal Hasan also said,intolerance rooted in the partition f India but he skipped the business hazard.For business hazard,we might not hear so many voices around as every voice needs some political correction for survival.

    Almost every one present in Kolkata festival raised voice against growing intolerance not so far away from Amachi Mumabi ,the Hindutva epicentre impact region and the epicentre situated in the center of great Indian heart,the Bharat Tirth and it is Nagpur,the Deeksha Bhumi.The linguistics changed in Kolkata!

    But Big B has not come out like the Angry Young Man to challenge the system,the rot within and he has to come out.I hope,the lion would come into the open sooner or later.
    ओडिशा के कवि जयन्त महापात्र ने अपना पद्मश्री लौटाया।

    Uday Prakash

    13 hrs· Ghaziabad· Edited·


    अब अनाउंस हुआ है कि २९ नवंबर को हमारे प्रधानमंत्री 'मन की बात'फिर से करेंगे।

    यह 'स्वगत'यानी 'मोनोलॉग'यानी 'एक तरफा'प्रवचन।

    मारकोनी ने जब रेडियो बनाया, तो वह दो-तरफ़ा टेक्नॉलाजी थी। ऐसा कुछ लोग कहते हैं।

    मतलब मुँह और कान दोनों ओर होने चाहिए।

    जहाँ स्टूडियो है, उधर भी और जिधर श्रोता या जनता है, उधर भी।

    विनती है विनम्र कि अब ऐसा समय है कि जब 'मन की बात'प्रजा करे और माननीय प्रधानमंत्री अपने कान उधर लगाएँ।

    (भक्त गणों, इस टिप्पणी पर किसी कार्यकर्ता की तरह नहीं, प्रजा की हैसियत से प्रतिक्रिया व्यक्त करें। smile emoticon )

    Urmilesh Urmil

    अन्ना अभियान से उभरे दिल्ली और गुड़गांव के दो नये राजनीतिज्ञ, जो कुछ महीने से एक-दूसरे के कट्टर विरोधी बने हुए हैं, अचानक बिहार के जनादेश को कलंकित करने की बचकानी कोशिश करते नजर आ रहे हैं. एक कहता है, 'लालू प्रसाद ने उसे जबरन गले लगा लिया. 'दूसरा कहता है, 'अन्ना साहब के चेले ने भ्रष्टाचार को गले लगा लिया'. अरे, महापुरूष, फिर वहां गया ही क्यों? अपने इलाके में कोई व्यक्ति अपने अतिथि का स्वागत गले लगाकर करता है या डंडे दिखाकर? कैसा बेमतलब विमश॓ है, किसी से मिलने पर हाथ नहीं मिलाते या गले नहीं मिलते तो क्या अंगूठा या डंडा दिखाते हैं? मुझे लगता है, सियासत के ये दोनो नये 'सिकिया-पहेलवान'आम जन को उनके वास्तविक मुद्दों से जोड़ना नहीं चाहते, लोगों को सिफ॓ प्रतीकों और छवियों की सियासत में उलझाने रखना चाहते हैं. वस्तुतः उनका संपूण॓ विमश॓ मध्यवगी॓य-सवण॓वादी मानसिकता से ग्रस्त नजर आता है. इसी वजह से वे बिहार के जनादेश के सकारात्मक पक्षों की भी अनदेखी कर रहे हैं. महानगरीय दिल्ली की राजनीति में ही ये लटके-झटके चल सकते हैं भाई!
    Ashutosh Kumar

    10 hrs·

    भारत की सहनशीलता पर मंडलाते विवादों को जड़ से खत्म कर देनेका सुनहला अवसर है . सरकार की अतिवादी विभाजनकारी छवि से एक झटकेमें छुटकरा पा लेने का भी. सरकार को सिर्फ यह घोषणा करनी है कि वह ध्वस्त की गई बाबरी मस्जिद का पुनर्निर्माण करने की दिशा में कदम उठाने जा रही है . मस्जिद -विध्वंस के समय भारत की सरकार ने देशकीजनता को यही वचन दिया था.

    सरकार के पास पूर्ण बहुमत है . पीएम शक्तिशाली और लोकप्रिय होने के साथ 'हिन्दू-ह्रदय-सम्राट'भी हैं . वे चाहें तो आसानी से न केवल यह घोषणा कर सकतेहैं, बल्कि उस पर अमल का तरीका भी खोज सकते हैं.

    देखते ही देखते सारा माहौल सुधर जाएगा . राष्ट्रीय एकता और विकास का वातावरण खिल उठेगा . नोबेल शांति पुरस्कार भी कोई दूर की कौड़ी नहीं रह जाएगी.

    सब से बड़ी बात , मस्जिद के साथसाथ मन्दिर भी बन जाएगा , जो किसी और तरीके से तो बनने से रहा.


    1. | Video | Aamir Khan on intolerance debate: Wife Kiran ...

    2. indiatoday.intoday.in › Videos › India
    3. 12 hours ago
    4. Speaking during an award function in New Delhi Aamir Khanbacked people who returned their national ...
    5. Aamir Khan on intolerance: Wife even suggested leaving ...

    6. https://www.youtube.com/watch?v=eQiabMknhTU
    7. 10 hours ago - Uploaded by NDTV
    8. Actor Aamir Khan today joined the chorus of intelligentsia against growing 'intolerance' and said that he ...
    9. Aamir Khan Joins Intolerance Debate, Says Wife Even ...

    10. movies.ndtv.com › Bollywood
    11. 2 hours ago
    12. Actor Aamir Khan on Monday joined the debate on the growing 'intolerance' and said that he has been ...
    13. [ Exclusive ] Amir Khan Exposed on Intolerance in India ...

    14. https://www.youtube.com/watch?v=xaW7XMjrop8
    15. 10 hours ago - Uploaded by The Fearless Indian
    16. Amir Khan Must not Forget India has only made him ! Subscribe Us at www.youtube.com/TheFearlessIndian.
    17. My wife is scared in India, she talks about leaving the ...

    18. https://www.youtube.com/watch?v=tz3ORgv13SU
    19. 13 hours ago - Uploaded by ABP NEWS
    20. +justice peace just shutup he is trying to tell that india isintolerant and not safe.... has somebody kidnapped ...
    21. Amir Khan Joins Intolerance Debate - Says his Wife Kiran ...

    22. https://www.youtube.com/watch?v=fIlGlWClzqM
    23. 10 hours ago - Uploaded by GetViral
    24. actor Amir Khan Joins Intolerance Debate - Says his Wife Kiran Wants to Leave India after Shah Rukh Khan ...
    25. now aamir khan speaks about intolerance says i am ...

    26. aajtak.intoday.in › ख़बरें › देश
    27. 11 hours ago
    28. देश में असहिष्णुता पर खत्म होती चर्चा-ए-आम की लौ को बॉलीवुड अभिनेता आमिर खान ने हवा दे दी है. सोमवार ...
    29. Aamir Khan's wife suggests leaving India over growing ...

    30. https://www.youtube.com/watch?v=3kjhzL3Lp_o
    31. 10 hours ago - Uploaded by Newzistan
    32. The Times Of India News Link! http://timesofindia.indiatimes.com/en... Aamir Khan's wife suggests leaving ...
    33. Aamir Khan on intolerance debate - YouTube

    34. https://www.youtube.com/watch?v=uXqomjwrSAg
    35. 10 hours ago - Uploaded by Newzistan
    36. 23 nov aamir on awrad wapsi news today Aamir Khan onintolerance debate: Wife Kiran wants to leave India ...
    37. Amir Khan- I have to leave India Is a Intolerant Country ...

    38. https://www.youtube.com/watch?v=CYs_pP2p8xo
    39. 35 mins ago - Uploaded by News Update
    40. Amir Khan- I have to leave India Is a Intolerant Country

    Thus Indian Express reports:

    Aamir Khan joins intolerance debate: Kiran asked me if we should move out of India

    अमलेन्दु उपाध्याय and Amalendu Upadhyaya shared a link.
    असम के राज्यपाल पीबी आचार्य के देशद्रोही वक्तव्य हिन्दुस्तान हिन्दुओं के लिए है, का कड़ा…
    HASTAKSHEP.COM/HINDI-NEWS/NAT…|BY AMALENDU UPADHYAYA

    अमलेन्दु उपाध्याय and Amalendu Upadhyaya shared a link.
    रायपुर। एक कृति के कितने पाठ हो सकते हैं ? निश्चय ही उतने, जितनी एक घटना की व्याख्याएं. कई-कई पाठ और कई-कई व्याख्याएं बहुलतावाद को जन्म देती है. इन पाठों और व्याख्याओं का एक साथ रहना-गुनना ही सहनशीलता की संस्कृति को जन्म देता है. आज यही संस्कृति…
    OW.LY/38FUTD|BY AMALENDU UPADHYAYA

    अमलेन्दु उपाध्याय and Amalendu Upadhyaya shared a link.
    क्या यह आपातकाल की स्थिति है? संविधान विरोधी साम्प्रदायिकता भाजपा-संघ की विचारधारा का एकमात्र और स्थायी आधार है
    HASTAKSHEP.COM/INTERVENTION-H…|BY AMALENDU UPADHYAYA

    अमलेन्दु उपाध्याय and Amalendu Upadhyaya shared a link.
    Nepal is strategically very important for India as well as our neighbourhood, the situation in Nepal is rather a red alarm and it would have adverse impact on…
    OW.LY/38FUTE

    अमलेन्दु उपाध्याय and Amalendu Upadhyaya shared a link.
    At least four people were killed in clashes between the Nepalese security forces…
    OW.LY/38ENQP|BY AMALENDU UPADHYAYA

    अमलेन्दु उपाध्याय and Amalendu Upadhyaya shared a link.
    सरदार पटेल ने देश को एक किया, भाजपा और उसके साथी देश को बाँट रहे हैं स्टेच्यु आफ…
    HASTAKSHEP.COM/INTERVENTION-H…|BY AMALENDU UPADHYAYA

    Gopal Rathi
    सदन हो या सड़क
    जब भी मौका मिलता है सो लेते है l

     
    palashcbiswas,
     gostokanan, sodepur, kolkata-700110 phone:033-25659551

    0 0
  • 11/24/15--05:23: https://youtu.be/tt5g_AlXVvU मैं नास्तिक क्यों हूं? The Necessity of Atheism! Genetics of Bharat Teertha. Charvak School sustained in one blood Ancient India! The controversy translated into Islamophobia just before the Gulf War with Satanic verses! यावज्जीवेत्सुखं जीवेत् ऋणं कृत्वा घृतं पिबेत् । भस्मीभूतस्य देहस्य पुनरागमनं कुतः ।। त्रयोवेदस्य कर्तारौ भण्डधूर्तनिशाचराः । Denial of the hegemony of Divinity to do nothing with religion!Nothing against faith!It is science! Ujjwal Bhattacharya wrote:आमिर खान को अभी तक जान से मारा नहीं गया है. यहां तक कि गिरफ़्तार भी नहीं किया गया है. यह इस बात का सबूत है कि भारत एक सहिष्णु देश है ! ! ! Manthan : Bhagat Singh Ne Kaha Mein Nastik Kyun Hun? https://www.youtube.com/watch?v=_n532zjjsro The BHA Shelley Lecture 2011: The Necessity of Atheism - Then And Now https://www.youtube.com/watch?v=dTdmnbdSDak Salman Rushdie Under the Fatwa: The Satanic Verses Controversy - Freedom of Speech (1993) https://www.youtube.com/watch?v=HBkgk2Ajpbc Pamella Borde

  • https://youtu.be/tt5g_AlXVvU


    मैं नास्तिक क्यों हूं? The Necessity

    of Atheism!

    Genetics of Bharat Teertha. Charvak School sustained in one blood Ancient India!


    The controversy translated into Islamophobia just before the Gulf War with Satanic verses!

    यावज्जीवेत्सुखं जीवेत् ऋणं कृत्वा घृतं पिबेत् ।

    भस्मीभूतस्य देहस्य पुनरागमनं कुतः ।।

    त्रयोवेदस्य कर्तारौ भण्डधूर्तनिशाचराः ।


    Denial of the hegemony of Divinity to do nothing with religion!Nothing against faith!It is science!

    Ujjwal Bhattacharya wrote:आमिर खान को अभी तक जान से मारा नहीं गया है. यहां तक कि गिरफ़्तार भी नहीं किया गया है.

    यह इस बात का सबूत है कि भारत एक सहिष्णु देश है ! ! !


    Manthan : Bhagat Singh Ne Kaha Mein Nastik Kyun Hun?

    https://www.youtube.com/watch?v=_n532zjjsro

    The BHA Shelley Lecture 2011: The Necessity of Atheism - Then And Now

    https://www.youtube.com/watch?v=dTdmnbdSDak

    Salman Rushdie Under the Fatwa: The Satanic Verses Controversy - Freedom of Speech (1993)

    https://www.youtube.com/watch?v=HBkgk2Ajpbc

    Pamella Bordes Daily Mail promo advert 1989

    https://www.youtube.com/watch?v=Ys8xU0c8KEc


    Palash Biswas

    The complaint against Aamir Khan has been filed at the New Ashok Nagar police station in the national capital.

    यावज्जीवेत्सुखं जीवेत् ऋणं कृत्वा घृतं पिबेत् ।

    भस्मीभूतस्य देहस्य पुनरागमनं कुतः ।।

    त्रयोवेदस्य कर्तारौ भण्डधूर्तनिशाचराः ।

    (स्रोत: ज्ञानगंगोत्री, संकलन एवं संपादन: लीलाधर शर्मा पांडेय, ओरियंट पेपर मिल्स, अमलाई, म.प्र., पृष्ठ 138)

    मनुष्य जब तक जीवित रहे तब तक सुखपूर्वक जिये । ऋण करके भी घी पिये । अर्थात् सुख-भोग के लिए जो भी उपाय करने पड़ें उन्हें करे । दूसरों से भी उधार लेकर भौतिक सुख-साधन जुटाने में हिचके नहीं । परलोक, पुनर्जन्म और आत्मा-परमात्मा जैसी बातों की परवाह न करे । भला जो शरीर मृत्यु पश्चात् भष्मीभूत हो जाए, यानी जो देह दाहसंस्कार में राख हो चुके, उसके पुनर्जन्म का सवाल ही कहां उठता है । जो भी है इस शरीर की सलामती तक ही है और उसके बाद कुछ भी नहीं बचता इस तथ्य को समझकर सुखभोग करे, उधार लेकर ही सही । तीनों वेदों के रचयिता धूर्त प्रवृत्ति के मसखरे निशाचर रहे हैं, जिन्होंने लोगों को मूर्ख बनाने के लिए आत्मा-परमात्मा, स्वर्ग-नर्क, पाप-पुण्य जैसी बातों का भ्रम फैलाया है ।

    https://vichaarsankalan.wordpress.com/2010/01/12/%E0%A4%AF%E0%A4%BE%E0%A4%B5%E0%A4%A4%E0%A5%8D-%E0%A4%9C%E0%A5%80%E0%A4%B5%E0%A5%87%E0%A4%A4%E0%A5%8D-%E0%A4%B8%E0%A5%81%E0%A4%96%E0%A4%82-%E0%A4%9C%E0%A5%80%E0%A4%B5%E0%A5%87%E0%A4%A4%E0%A5%8D/

    रामनाथ गोयनका एक्सेलेंस इन जर्नलिज्म अवार्ड्स के आठवें संस्करण के मौक़े पर अभिनेता आमिर खान ने समाज में गहरे उतरती असुरक्षा और भय की भावना का ज़िक्र करते हुए लेखकों, कलाकारों, इतिहासकारों और वैज्ञानिकों के विरोध-प्रदर्शन के प्रति जिन शब्दों में सहमति व्यक्त की है, वह सराहनीय है. उन्होंने सृजनात्मक कर्म में लगे लोगों द्वारा अपने अहसास – अपनी हताशा और असंतुष्टि - को वाणी देने का समर्थन तो किया ही है, घटनाओं के सिलसिले को देखते हुए एक व्यक्ति और नागरिक के रूप में खुद अपने भय को भी व्यक्त किया है, साथ ही सरकार में बैठे जन-प्रतिनिधियों के रवैये से किसी तरह का आश्वासन हासिल न होने की आलोचना की है. इस विडंबना पर गौर किया जाना चाहिए कि हर बार की तरह इस बार भी असहिष्णुता की आलोचना पर अनुपम खेर सरीखे लोगों ने जो प्रतिक्रिया ज़ाहिर की, वह उसी असहिष्णुता का असंदिग्ध उदाहरण है. यह बात सही है कि आमिर खान को आमिर खान इसी देश ने बनाया है, पर वह उसी बहुलतावाद की देन है जिसे आरएसएस और भाजपा तथा उनके समानधर्मा संगठन ख़त्म कर देने पर उतारू हैं. क्या यह बताने की ज़रूरत है कि बढ़ती असहिष्णुता की बात करना इस देश की आलोचना नहीं, बल्कि 'भारत की संकल्पना'को नेस्तनाबूद करने पर आमादा ताक़तों की आलोचना है? जहां राज्यपाल जैसे संवैधानिक पद पर बैठे लोग इस तरह की संविधान-विरुद्ध बात कह रहे हों कि हिन्दुस्तान हिन्दुओं के लिए है (सन्दर्भ: असम के राज्यपाल का हालिया बयान), और ऐसे बयान अपवादस्वरूप न आकर प्रतिदिन किसी-न-किसी कोने से आ रहे हों, साथ ही सरकार में बैठी पार्टी की चुप्पियों और कारगुजारियों में उनके खिलाफ़ कोई कार्रवाई तो दूर, हिमायत का रवैया पढ़ा जा सकता हो, वहाँ आमिर खान की बात की ईमानदारी से कोई इनकार नहीं कर सकता. अलबत्ता लेखकों पर पैसे लेकर विरोध करने का आरोप लगानेवालों से उस ईमानदारी को समझने-सराहने की उम्मीद करना ज़्यादती होगी!

    जनवादी लेखक संघ 'भारत की संकल्पना'के प्रति क्रूरतापूर्ण असहिष्णुता दिखाने वाली ताक़तों के ख़िलाफ़ विरोध की मुहिम को सुचिंतित समर्थन देने के लिए आमिर खान की सराहना करता है और उनके ख़िलाफ़ चल रही बयानबाजियों की कठोर शब्दों में निंदा करता है.


    व्यक्ति को पाकिस्तान भेजने की बात करते रहें जिसने भी सत्ता की आलोचना की .....एक मंत्री ने भाजपा को वोट न देने वालों को हरामजादा भी कह दिया पब्लिक रैली में ...तब भक्तों का एक भी वक्तव्य या पोस्ट देखने में नहीं आया ....
    याद रहें 'सत्ता की नज़र जब आवाम की थाली और ज़ुबान पर होती है, तब आज़ादी मौत के दरवाजे पर खड़ी होती है ' ..... अब आप डरायेंगे और लोग डर जाएँ तो उसे गाली देंगे ....वाह रे .....

    Denial of the hegemony of Divinity to do nothing with religion!Nothing against faith!It is science!


    Atheism relates to materialism,celebration of life and right to religion,please Make not it Crusade!Brahmo Samaj movement, Bhakti movement ,Sufi,Peer,Matua and Boul tradition and Arya samaj also rejected rituals, this or that about religion and rejected divine power to protect individual and women,the depressed.No one branded this as blasphemy!




    I am discussing Bhagat Singh and his essay on Atheism written before the partition and communal divide of India with a much more devotee India engaged in theism and religious behaviour and Muslim as well as Hindu recognize him as the greatest martyr,Shaheede Azam!


    I am not an expert on Bhagat singh like my dearest friends like Prof.Chamanlal from JNU who returned Sahitya Akademy Award against the governance of intolerance and Sudhir Vidyarthi,who is engaged in writing the History of the people.


    Since I have to discuss the necessity of Atheism today,I have to trace the school of Atheism and for me Rushdie and Taslima do not belong to the most reputed school of Atheism but they provoke Islamophobia as the governance of Fascism is  banking on this bleeding ATM.They do not stand with Charvak,Shelly or Bhagat Singh.


    Geetanjali is not to do anything with faith and it is all about the denial of faith and god and incarnates Nar Narayan as Vivekandand did.As Bharath Tirth,the Genetics of India written by Tagrore is the prominent poem of this Geetanjali and Tagore said the merger and unification of so many sreams of Humanity created this Bharat Varsh ,the Bharat Teerth.Greatest pilgrimage!


    Recently Amir Khan and Anushka Shankar also criticised growing intolerance!


    In this context,recently Taslima Nasrin,the exiled writer from Bangladesh now based in New Delhi claimed that she should not be called a Muslim as she is an atheist.


    No problem!


    Anyone has every right to become Athiest and Atheism is not in opposition to any specific religion and faith of any community.


    Charvak spoke for Rinam Kritva Ghritam Pivet and denied the existence of any divine power.Charvak is not an individual and it is Indian school of philosophy of materialism most ancient during Vedic period which rejected the theory of rebirth and insisted that life ends with death and you have to achieve nothing beyond death.Celebrate the life.Our tribal,indigenous aborigin lifestyle is all about the celebration of life.


    Charvak contradicted vedic religion and ritual and all Rishi and Muni did not show any intolerance otherwise every Charvak would have been reduced to dust and the religious hegemony could have do BHASM without using the sword and no Gandhi, Kalburgi, Pansare and Davolkar had been killed.

    Definition

    by Cristian Violatti



    The Charvaka school was a philosophical movement in India that rejected the traditional religious order by challenging the authority of the Vedas as well as the hegemony the Brahman priests. Contrary to the view that India has always been an entirely religious and spiritual land, the Charvaka school is one of the most irreligious and skeptical systems of thought ever devised. This school is considered part of the heterodox systems (also referred to as heresies) of Indian philosophy, and it is also known as Lokayata, a term which in Sanskrit and Pali means "Naturalist" or "Worldly".


    The murder of Shambuka by maryada puroshottam Rama is not recorded in Vedic literature as Vedic literature had nothing to do with Manusmriti discipline which had to be implemented by the Mythical epic God because Manusmriti was written after the demise of Buddhist India.


    Most recent studies in Genetics proved the unification and merger of humanity in ancient India!We remain one blood!


    Even after the Hundred years of War, Islamophobia was absent until the oil war and the controversy about Atheism in contrast to theism launched just before Gulf War first with Satanic Verses.


    This timeline is very important to understand the politics of religion.Because Atheism as well as Islamophobia do consist the phenomenon of politics of religion,Occupy Global Order!


    I myself am more or less atheist and I have not to launch a crusade to prove it.As the definition is concerned,it is denial of divine power and in a narrow sense Atheism is specifically the position that there are no deities. Most inclusively, Atheism is the absence of belief that any deities exist. Atheism is contrasted with Theism, which, in its most general form, is the belief that at least one deity exists.


    Hindus never had any problem with Atheism as it continued during the vedic Hindutva but the followers of Islam treats it as

    blasphemy and ironically this discourse ends in Islamophobia and war of civilization and it is the latest trend as new Global Order shaped in and the controversy created so recently.


    This Atheist school of thinking is not the creation of Salman Rushdie and Taslima Nasrin,it is very important to understand how it becomes a crusade which it should never never become.


    As Atheism is materialist narration as well as materialist interpretation of life and divine and it rejects the divine to celebrate life.More importantly this lifestyle has nothing to do with any clash whatsoever with theism and faith.


    Even before Hegel and Marx,even before dilectic materialism introduced,Charvak school of philosophy radically rejected divine,faith and religion and it was never a crusade.


    During European Renaissance,Romantic Poet  Percy Bysshe Shelley, was the most eminent Atheist who wrote The Necessity of Atheism while the Church was stronger enough to exclude anyone.Then the Church  represented the divine , theism and ruling hegemony all over the Europe .Revolt of the peasantry made the Church liberal and it is history.But Shelley survived with his excellent poetry.


    We know Rushdie writing which created unprecedented stand off even before the first strike,first Gulf War.The Gulf War (2 August 1990 – 28 February 1991), codenamed Operation Desert Shield (2 August 1990 – 17 January 1991) for operations leading to the buildup of troops and defense of Saudi Arabia and Operation Desert Storm (17 January 1991 – 28 February 1991) in its combat phase, was a war - in the Persian Gulf region!


    Mind you,The Satanic Verses was published by Viking Penguin on 26 September 1988.Mind you, even before the publication of The Satanic Verses, the publisher received "warnings from the publisher's editorial consultant" that the book might be controversial.


    The controversy had been ensured and The Satanic Verses controversy, also known as the Rushdie Affair, was the heated and frequently violent reaction of Muslims to the publication of Salman Rushdie's novel The Satanic Verses, which was first published in the United Kingdom in 1988. Many Muslims accused Rushdie of blasphemy or unbelief and in 1989 the Ayatollah Ruhollah Khomeini of Iran issued a fatwa ordering Muslims to kill Rushdie. Numerous killings, attempted killings, and bombings resulted from Muslim anger over the novel.


    The Iranian government backed the fatwa against Rushdie until 1998, when the succeeding government of Iranian President Mohammad Khatami said it no longer supported the killing of Rushdie. However, the fatwa remains in place.


    United states of America and Europe,entire developed world was doing everything in defense of this controversy but they had to divert the controversy into an erotic scandal named as Pamela Bordes.Pamella Chaudry Singh (born 1961 in New Delhi, India), known during her marriage as Pamella Bordes, is an Indian-born photographer and former Miss India who briefly hit the headlines in the United Kingdom in 1988 and 1989 as the companion of several public figures, including the editors of two upmarket Sunday newspapers. She has pursued a career as a professional photographer.

    More details about Charvak:

    charvaka - YouTube

    Video for charvaka▶ 2:39

    https://www.youtube.com/watch?v=HLSr5FTxRLA

    Jan 9, 2011 - Uploaded by charvakamysore

    'Constitution' does not say "students are irresponsible idiots" . Do not clam to know about Indian ...

    Charvaka Darsanam - YouTube

    Video for charvaka▶ 2:51

    https://www.youtube.com/watch?v=w7esJgVDhz8

    Jun 10, 2012 - Uploaded by SuryaChandra Golla

    Charvaka Darsanam. SuryaChandra Golla. SubscribeSubscribedUnsubscribe 11. Loading... Loading ...

    Charvaka - YouTube

    Video for charvaka▶ 1:37

    https://www.youtube.com/watch?v=ybXx_CaGy3s

    Apr 30, 2015 - Uploaded by Venkat Katta

    Charvaka at Ventura Theater 1 - Duration: 7:02. by SinkingDeeper 405 views. 7:02. Loading more ...

    (Charvaka)Shudrotsava promo - YouTube

    Video for charvaka▶ 1:43

    https://www.youtube.com/watch?v=W1jgZgAI-NY

    Apr 21, 2015 - Uploaded by charvakamysore

    This is our work for Shudrostava 2015 5 days festival you can follow us on face book:-naga Poorvikara ...

    Charvaka/ lokayata School (Superimposition) does not state ...

    Video for charvaka▶ 3:09

    https://www.youtube.com/watch?v=z8xgqi2oKt8

    Jul 15, 2013 - Uploaded by Nonduality Conciousness

    Charvaka/ lokayata School (Superimposition) does not state Absolute Truth/ Brahman properly.

    Charvaka Insider - YouTube

    Video for charvaka▶ 7:16

    https://www.youtube.com/watch?v=3nJNAg0RtN4

    Jul 30, 2011 - Uploaded by Michael Calvaresi

    video for the song 'Insider' by the band Charvaka Video by Michael Calvaresi, Painting by Chris Stickel ...

    Charvakas, The Ancient and Modern (Malayalam) - YouTube

    Video for charvaka▶ 14:19

    https://www.youtube.com/watch?v=jihMdy89sWY

    Oct 14, 2013 - Uploaded by Kashi Mandya

    Excerpts from a Malayalam speech of SwamiKaivalyanandaji, on the materialistic philosophy of Ancient and ...

    Girish Machalli (charvaka) - YouTube

    Video for charvaka▶ 13:56

    https://www.youtube.com/watch?v=pCpz6yJiFxs

    May 9, 2015 - Uploaded by charvakamysore

    Milestones of Charvaka Social And Cultural Trust(R)

    Yakshagana -- Thripura mathana - 20 - Charvaka Narvaka ...

    Video for charvaka▶ 5:58

    www.youtube.com/watch?v=IzfdQOXA2BM

    Feb 19, 2015 - Uploaded by UVRK Bhat Chithramoola

    Bhagavatharu Padyana Ganapathi bhat - Chende Padyana Shankaranarayana bhat - Maddale ...

    Charvakas, The Ancient and Modern (Malayalam) - YouTube

    Video for charvaka philosophy of materialism▶ 14:19

    https://www.youtube.com/watch?v=jihMdy89sWY

    Oct 14, 2013 - Uploaded by Kashi Mandya

    Excerpts from a Malayalam speech of SwamiKaivalyanandaji, on the materialistic philosophy of Ancient and ...

    Mod-02 Lec-03 Carvaka Philosophy - I - YouTube

    Video for charvaka philosophy of materialism▶ 50:27

    https://www.youtube.com/watch?v=HmsbHN298ns

    Aug 14, 2012 - Uploaded by nptelhrd

    Indian Philosophy by Dr. Satya Sundar Sethy, Department of Humanities and Social Sciences, IIT Madras. For ...

    INDIAN NIHILISM LOKAYATA CARVAKA. Akizur. wmv ...

    Video for charvaka philosophy of materialism▶ 23:31

    https://www.youtube.com/watch?v=ONlGhydFu_c

    Dec 30, 2012 - Uploaded by ruzickaw

    In the 6th century BC there was in India a materialistic philosophy that rejected al supernatural fantasies like ...

    Indian Atheism - The Carvaka School - YouTube

    Video for charvaka philosophy of materialism▶ 4:40

    https://www.youtube.com/watch?v=WgXxLZGst6s

    May 31, 2013 - Uploaded by nineteenthly

    Unlike Samkhya, which i covered yesterday, Carvaka or Lokayata, ... is an entirely naturalistic and ...

    Mod-02 Lec-04 Carvaka Philosophy - II - YouTube

    Video for charvaka philosophy of materialism▶ 46:32

    https://www.youtube.com/watch?v=YKZj0ieaunc

    Aug 14, 2012 - Uploaded by nptelhrd

    Indian Philosophy by Dr. Satya Sundar Sethy, Department of Humanities and Social Sciences, IIT Madras. For ...

    charvaka - YouTube

    Video for charvaka philosophy of materialism▶ 2:39

    https://www.youtube.com/watch?v=HLSr5FTxRLA

    Jan 9, 2011 - Uploaded by charvakamysore

    Charvaka/ lokayata School (Superimposition) does not state Absolute Truth/ ... CARVAKAS - Cynic Philosophy ...

    Lokayata: A Study in Ancient Indian Materialism Top # 6 ...

    Video for charvaka philosophy of materialism▶ 0:49

    www.youtube.com/watch?v=wK3Ybbbj6sg

    Oct 29, 2015 - Uploaded by YourtIy1

    Lokayata: A Study in Ancient Indian Materialism Top # 6 Facts. ... Art and culture: Indian Philosophy 3.3 ...

    Indian Philosophy Part 1: Art and Culture UPSC - YouTube

    Video for charvaka philosophy of materialism▶ 16:59

    https://www.youtube.com/watch?v=QOi75eUoqwA

    Jul 25, 2015 - Uploaded by NEXTGEN IAS

    Indian Philosophy : Orthodox and Heterodox 6 schools of IndianPhilosophy - Mimamsa ... 3 Schools of ...

    My philosophy My Life Part 1.(Malayalam) wmv - YouTube

    Video for charvaka philosophy of materialism▶ 6:51

    https://www.youtube.com/watch?v=38iwldmctUg

    Feb 4, 2013 - Uploaded by Suvarna Nalapat

    My Philosophy and my life in Malayalam from Dr Suvarna Nalapat Trust ... Rationalism/Freethought And ...


    ORIGIN & EARLY DEVELOPMENT

    The Charvaka school started to develop around the 7th century BCE, during the time when the culture of world renunciation emerged in India. Buddhist scriptures occasionally mention the Charvaka as part of the wandering religious groups known assramanas. Before the time of the Charvaka school there were other materialistic schools in India, but none of them managed to systematize their teachings like the Charvaka did.

    THE CHARVAKA SCHOOL CHALLENGED THE TRADITIONAL RELIGIOUS ORDER IN INDIA, ENCOURAGING A SORT OF SPIRITUAL VACUUM THAT COMPELLED THE DEVELOPMENT OF NEW RELIGIOUS ALTERNATIVES.

    The founder of the Charvaka school is considered to be Brihaspati, who seems to be more of a legendary figure rather than an actual person. The most prominent member of this school during the time of the Buddhawas a man named Ajita Kesakambali (Ajita of the Hair Blanket), whose ideas are summarized in a Buddhist Pali text known as Samannaphala Sutta, where he denies the doctrine of transmigration of the soul.

    CHARVAKA DOCTRINE & CORE BELIEFS

    The earliest texts of the Charvaka were written around the 6th century BCE, but unfortunately they have been lost. From what we can piece together, mainly through later works, these thinkers believed in a rigid materialistic perspective in which only things that could be perceived directly were thought to exist. Some of the key principles of this doctrine of materialism were:

    1. All things are made of earth, air, fire and water.

    2. That which cannot be perceived does not exist; to exist implies to be perceivable.

    3. Heaven and hell are nothing but inventions. The only goal of humans is to enjoy pleasures and avoid pain.

    4. Providing a good living for the priests is a sufficient explanation for the practice of religion.

    The members of this school did not believe in ideas such as the soul, reincarnation, spirits, or gods. Religion, they said, is nothing but a fraud devised by clever men who want to take advantage of others. Soul or consciousness can be explained in natural terms as a side effect of having a healthy body: When the body dies, consciousness simply disappears. No existence other than the physical body exists for the Charvaka.

    The attitude towards human conduct in the Charvaka school was a very flexible one: Right or wrong were seen as merely human conventions. The cosmos, they believed, was indifferent to human behaviour. If this life is all there is, if there is no afterlife whatsoever, then we should live enjoying the physical life the best we can.

    There were a number of aphorisms ascribed to Brihaspati that have also been lost. Only a brief poem used to denounce the priestly caste has survived to our days:

    The costly rites enjoined for those who die

    Are but a means of livelihood devised

    By sacerdotal cunning, nothing more....

    While life endures let life be spent in ease

    And merriment; let a man borrow money

    From all his friends, and feast on melted butter

    (Durant, 418)

    This poem is particularly provocative if we keep in mind that butter was poured into the sacrificial fire by the Brahman priests.

    In the novel about the life of the Buddha named "A Spoke in the Wheel", the author paraphrases some of the criticisms of the Charvaka school concerning the practices of Brahman priests. Although this is only fiction, it reflects some good points of conflict between the Charvaka and the traditional religious order:

    [...] Spells, incantations, rituals, even the duties of the four varnas [castes] - all these are nonsense, invented for the livelihood of those destitute of knowledge and manliness. If a beast slain in the Jvotistoma rite [Vedic ritual] goes straight to heaven, why doesn't the sacrificer offer his father instead? If offerings to priests can feed ancestors in heaven, how is it that that person standing on top of a house cannot be gratified by food served inside? They cannot - because all such long-distance gratification is buffoonery!

    (Kanekar, 181)

    The materialism that the Charvaka school advocated in India was popular for quite a long time. It claimed that the truth can never be known except through the senses: The body, not the soul, feels, sees, hears and thinks. Religions flourish only because people have become accustomed to them. Faith is destroyed by true knowledge and when this happens, people feel a sense of loss and an uncomfortable void that's difficult to handle. Nature is indifferent to human conventions, such as good and bad or even virtue and vice. The sun shines equally upon sinners and saints.

    The Charvaka school challenged the traditional religious order in India, weakening the authority and reputation of the priests and encouraging a sort of spiritual vacuum in Indian society that compelled the development of new religious alternatives. The materialistic ideas were so strong that the new religions, which arose to replace the old faith, were devotions without a god or gods or, in other words, non-theistic religions. Such an idea might sound like a contradiction in itself, but that was exactly the approach of some of the main religious movements that appeared as a result of this religious controversy. In a reaction against the priestly class, these new religions originated in the Kshatriyas caste (the warrior rulers caste), opposing the traditional priestly hegemony. In this context of religious crisis, Jainism and Buddhism were born.


    ABOUT THE AUTHOR

    Cristian Violatti

    CRISTIAN VIOLATTI

    Cristian Violatti is a freelance writer, currently studying Archaeology at the University of Leicester, England. He is a regular contributor and one of the editors of Ancient History Encyclopedia.



    भगतसिंह (1931)

    मैं नास्तिक क्यों हूँ?


    यह लेख भगत सिंह ने जेल में रहते हुए लिखा था और यह 27 सितम्बर 1931 को लाहौर के अखबार "द पीपल "में प्रकाशित हुआ । इस लेख में भगतसिंह ने ईश्वर कि उपस्थिति पर अनेक तर्कपूर्ण सवाल खड़े किये हैं और इस संसार के निर्माण , मनुष्य के जन्म , मनुष्य के मन में ईश्वर की कल्पना के साथ साथ संसार में मनुष्य की दीनता , उसके शोषण , दुनिया में व्याप्त अराजकता और और वर्गभेद की स्थितियों का भी विश्लेषण किया है । यहभगत सिंह के लेखन के सबसे चर्चित हिस्सों में रहा है।

    स्वतन्त्रता सेनानी बाबा रणधीर सिंह 1930-31के बीच लाहौर के सेन्ट्रल जेल में कैद थे। वे एक धार्मिक व्यक्ति थे जिन्हें यह जान कर बहुत कष्ट हुआ कि भगतसिंह का ईश्वर पर विश्वास नहीं है। वे किसी तरह भगत सिंह की कालकोठरी में पहुँचने में सफल हुए और उन्हें ईश्वर के अस्तित्व पर यकीन दिलाने की कोशिश की। असफल होने पर बाबा ने नाराज होकर कहा, "प्रसिद्धि से तुम्हारा दिमाग खराब हो गया है और तुम अहंकारी बन गए हो जो कि एक काले पर्दे के तरह तुम्हारे और ईश्वर के बीच खड़ी है। इस टिप्पणी के जवाब में ही भगतसिंह ने यह लेख लिखा।


    एक नया प्रश्न उठ खड़ा हुआ है। क्या मैं किसी अहंकार के कारण सर्वशक्तिमान, सर्वव्यापी तथा सर्वज्ञानी ईश्वर के अस्तित्व पर विश्वास नहीं करता हूँ? मेरे कुछ दोस्त – शायद ऐसा कहकर मैं उन पर बहुत अधिकार नहीं जमा रहा हूँ – मेरे साथ अपने थोड़े से सम्पर्क में इस निष्कर्ष पर पहुँचने के लिये उत्सुक हैं कि मैं ईश्वर के अस्तित्व को नकार कर कुछ ज़रूरत से ज़्यादा आगे जा रहा हूँ और मेरे घमण्ड ने कुछ हद तक मुझे इस अविश्वास के लिये उकसाया है। मैं ऐसी कोई शेखी नहीं बघारता कि मैं मानवीय कमज़ोरियों से बहुत ऊपर हूँ। मैं एक मनुष्य हूँ, और इससे अधिक कुछ नहीं। कोई भी इससे अधिक होने का दावा नहीं कर सकता। यह कमज़ोरी मेरे अन्दर भी है। अहंकार भी मेरे स्वभाव का अंग है। अपने कामरेडो के बीच मुझे निरंकुश कहा जाता था। यहाँ तक कि मेरे दोस्त श्री बटुकेश्वर कुमार दत्त भी मुझे कभी-कभी ऐसा कहते थे। कई मौकों पर स्वेच्छाचारी कह मेरी निन्दा भी की गयी। कुछ दोस्तों को शिकायत है, और गम्भीर रूप से है कि मैं अनचाहे ही अपने विचार, उन पर थोपता हूँ और अपने प्रस्तावों को मनवा लेता हूँ। यह बात कुछ हद तक सही है। इससे मैं इनकार नहीं करता। इसे अहंकार कहा जा सकता है। जहाँ तक अन्य प्रचलित मतों के मुकाबले हमारे अपने मत का सवाल है। मुझे निश्चय ही अपने मत पर गर्व है। लेकिन यह व्यक्तिगत नहीं है। ऐसा हो सकता है कि यह केवल अपने विश्वास के प्रति न्यायोचित गर्व हो और इसको घमण्ड नहीं कहा जा सकता। घमण्ड तो स्वयं के प्रति अनुचित गर्व की अधिकता है। क्या यह अनुचित गर्व है, जो मुझे नास्तिकता की ओर ले गया? अथवा इस विषय का खूब सावधानी से अध्ययन करने और उस पर खूब विचार करने के बाद मैंने ईश्वर पर अविश्वास किया?

    मैं यह समझने में पूरी तरह से असफल रहा हूँ कि अनुचित गर्व या वृथाभिमान किस तरह किसी व्यक्ति के ईश्वर में विश्वास करने के रास्ते में रोड़ा बन सकता है? किसी वास्तव में महान व्यक्ति की महानता को मैं मान्यता न दूँ – यह तभी हो सकता है, जब मुझे भी थोड़ा ऐसा यश प्राप्त हो गया हो जिसके या तो मैं योग्य नहीं हूँ या मेरे अन्दर वे गुण नहीं हैं, जो इसके लिये आवश्यक हैं। यहाँ तक तो समझ में आता है। लेकिन यह कैसे हो सकता है कि एक व्यक्ति, जो ईश्वर में विश्वास रखता हो, सहसा अपने व्यक्तिगत अहंकार के कारण उसमें विश्वास करना बन्द कर दे? दो ही रास्ते सम्भव हैं। या तो मनुष्य अपने को ईश्वर का प्रतिद्वन्द्वी समझने लगे या वह स्वयं को ही ईश्वर मानना शुरू कर दे। इन दोनो ही अवस्थाओं में वह सच्चा नास्तिक नहीं बन सकता। पहली अवस्था में तो वह अपने प्रतिद्वन्द्वी के अस्तित्व को नकारता ही नहीं है। दूसरी अवस्था में भी वह एक ऐसी चेतना के अस्तित्व को मानता है, जो पर्दे के पीछे से प्रकृति की सभी गतिविधियों का संचालन करती है। मैं तो उस सर्वशक्तिमान परम आत्मा के अस्तित्व से ही इनकार करता हूँ। यह अहंकार नहीं है, जिसने मुझे नास्तिकता के सिद्धान्त को ग्रहण करने के लिये प्रेरित किया। मैं न तो एक प्रतिद्वन्द्वी हूँ, न ही एक अवतार और न ही स्वयं परमात्मा। इस अभियोग को अस्वीकार करने के लिये आइए तथ्यों पर गौर करें। मेरे इन दोस्तों के अनुसार, दिल्ली बम केस और लाहौर षडयन्त्र केस के दौरान मुझे जो अनावश्यक यश मिला, शायद उस कारण मैं वृथाभिमानी हो गया हूँ।

    मेरा नास्तिकतावाद कोई अभी हाल की उत्पत्ति नहीं है। मैंने तो ईश्वर पर विश्वास करना तब छोड़ दिया था, जब मैं एक अप्रसिद्ध नौजवान था। कम से कम एक कालेज का विद्यार्थी तो ऐसे किसी अनुचित अहंकार को नहीं पाल-पोस सकता, जो उसे नास्तिकता की ओर ले जाये। यद्यपि मैं कुछ अध्यापकों का चहेता था तथा कुछ अन्य को मैं अच्छा नहीं लगता था। पर मैं कभी भी बहुत मेहनती अथवा पढ़ाकू विद्यार्थी नहीं रहा। अहंकार जैसी भावना में फँसने का कोई मौका ही न मिल सका। मैं तो एक बहुत लज्जालु स्वभाव का लड़का था, जिसकी भविष्य के बारे में कुछ निराशावादी प्रकृति थी। मेरे बाबा, जिनके प्रभाव में मैं बड़ा हुआ, एक रूढ़िवादी आर्य समाजी हैं। एक आर्य समाजी और कुछ भी हो, नास्तिक नहीं होता। अपनी प्राथमिक शिक्षा पूरी करने के बाद मैंने डी0 ए0 वी0 स्कूल, लाहौर में प्रवेश लिया और पूरे एक साल उसके छात्रावास में रहा। वहाँ सुबह और शाम की प्रार्थना के अतिरिक्त में घण्टों गायत्री मंत्र जपा करता था। उन दिनों मैं पूरा भक्त था। बाद में मैंने अपने पिता के साथ रहना शुरू किया। जहाँ तक धार्मिक रूढ़िवादिता का प्रश्न है, वह एक उदारवादी व्यक्ति हैं। उन्हीं की शिक्षा से मुझे स्वतन्त्रता के ध्येय के लिये अपने जीवन को समर्पित करने की प्रेरणा मिली। किन्तु वे नास्तिक नहीं हैं। उनका ईश्वर में दृढ़ विश्वास है। वे मुझे प्रतिदिन पूजा-प्रार्थना के लिये प्रोत्साहित करते रहते थे। इस प्रकार से मेरा पालन-पोषण हुआ। असहयोग आन्दोलन के दिनों में राष्ट्रीय कालेज में प्रवेश लिया। यहाँ आकर ही मैंने सारी धार्मिक समस्याओं – यहाँ तक कि ईश्वर के अस्तित्व के बारे में उदारतापूर्वक सोचना, विचारना तथा उसकी आलोचना करना शुरू किया। पर अभी भी मैं पक्का आस्तिक था। उस समय तक मैं अपने लम्बे बाल रखता था। यद्यपि मुझे कभी-भी सिक्ख या अन्य धर्मों की पौराणिकता और सिद्धान्तों में विश्वास न हो सका था। किन्तु मेरी ईश्वर के अस्तित्व में दृढ़ निष्ठा थी। बाद में मैं क्रान्तिकारी पार्टी से जुड़ा। वहाँ जिस पहले नेता से मेरा सम्पर्क हुआ वे तो पक्का विश्वास न होते हुए भी ईश्वर के अस्तित्व को नकारने का साहस ही नहीं कर सकते थे। ईश्वर के बारे में मेरे हठ पूर्वक पूछते रहने पर वे कहते, ''जब इच्छा हो, तब पूजा कर लिया करो।''यह नास्तिकता है, जिसमें साहस का अभाव है। दूसरे नेता, जिनके मैं सम्पर्क में आया, पक्के श्रद्धालु आदरणीय कामरेड शचीन्द्र नाथ सान्याल आजकल काकोरी षडयन्त्र केस के सिलसिले में आजीवन कारवास भोग रहे हैं। उनकी पुस्तक 'बन्दी जीवन'ईश्वर की महिमा का ज़ोर-शोर से गान है। उन्होंने उसमें ईश्वर के ऊपर प्रशंसा के पुष्प रहस्यात्मक वेदान्त के कारण बरसाये हैं। 28 जनवरी, 1925 को पूरे भारत में जो 'दि रिवोल्यूशनरी' (क्रान्तिकारी) पर्चा बाँटा गया था, वह उन्हीं के बौद्धिक श्रम का परिणाम है। उसमें सर्वशक्तिमान और उसकी लीला एवं कार्यों की प्रशंसा की गयी है। मेरा ईश्वर के प्रति अविश्वास का भाव क्रान्तिकारी दल में भी प्रस्फुटित नहीं हुआ था। काकोरी के सभी चार शहीदों ने अपने अन्तिम दिन भजन-प्रार्थना में गुजारे थे। राम प्रसाद 'बिस्मिल'एक रूढ़िवादी आर्य समाजी थे। समाजवाद तथा साम्यवाद में अपने वृहद अध्ययन के बावजूद राजेन लाहड़ी उपनिषद एवं गीता के श्लोकों के उच्चारण की अपनी अभिलाषा को दबा न सके। मैंने उन सब मे सिर्फ एक ही व्यक्ति को देखा, जो कभी प्रार्थना नहीं करता था और कहता था, ''दर्शन शास्त्र मनुष्य की दुर्बलता अथवा ज्ञान के सीमित होने के कारण उत्पन्न होता है। वह भी आजीवन निर्वासन की सजा भोग रहा है। परन्तु उसने भी ईश्वर के अस्तित्व को नकारने की कभी हिम्मत नहीं की।

    इस समय तक मैं केवल एक रोमान्टिक आदर्शवादी क्रान्तिकारी था। अब तक हम दूसरों का अनुसरण करते थे। अब अपने कन्धों पर ज़िम्मेदारी उठाने का समय आया था। यह मेरे क्रान्तिकारी जीवन का एक निर्णायक बिन्दु था। 'अध्ययन'की पुकार मेरे मन के गलियारों में गूँज रही थी – विरोधियों द्वारा रखे गये तर्कों का सामना करने योग्य बनने के लिये अध्ययन करो। अपने मत के पक्ष में तर्क देने के लिये सक्षम होने के वास्ते पढ़ो। मैंने पढ़ना शुरू कर दिया। इससे मेरे पुराने विचार व विश्वास अद्भुत रूप से परिष्कृत हुए। रोमांस की जगह गम्भीर विचारों ने ली ली। न और अधिक रहस्यवाद, न ही अन्धविश्वास। यथार्थवाद हमारा आधार बना। मुझे विश्वक्रान्ति के अनेक आदर्शों के बारे में पढ़ने का खूब मौका मिला। मैंने अराजकतावादी नेता बाकुनिन को पढ़ा, कुछ साम्यवाद के पिता माक्र्स को, किन्तु अधिक लेनिन, त्रात्स्की, व अन्य लोगों को पढ़ा, जो अपने देश में सफलतापूर्वक क्रान्ति लाये थे। ये सभी नास्तिक थे। बाद में मुझे निरलम्ब स्वामी की पुस्तक 'सहज ज्ञान'मिली। इसमें रहस्यवादी नास्तिकता थी। 1926 के अन्त तक मुझे इस बात का विश्वास हो गया कि एक सर्वशक्तिमान परम आत्मा की बात, जिसने ब्रह्माण्ड का सृजन, दिग्दर्शन और संचालन किया, एक कोरी बकवास है। मैंने अपने इस अविश्वास को प्रदर्शित किया। मैंने इस विषय पर अपने दोस्तों से बहस की। मैं एक घोषित नास्तिक हो चुका था।

    मई 1927 में मैं लाहौर में गिरफ़्तार हुआ। रेलवे पुलिस हवालात में मुझे एक महीना काटना पड़ा। पुलिस अफ़सरों ने मुझे बताया कि मैं लखनऊ में था, जब वहाँ काकोरी दल का मुकदमा चल रहा था, कि मैंने उन्हें छुड़ाने की किसी योजना पर बात की थी, कि उनकी सहमति पाने के बाद हमने कुछ बम प्राप्त किये थे, कि 1927 में दशहरा के अवसर पर उन बमों में से एक परीक्षण के लिये भीड़ पर फेंका गया, कि यदि मैं क्रान्तिकारी दल की गतिविधियों पर प्रकाश डालने वाला एक वक्तव्य दे दूँ, तो मुझे गिरफ़्तार नहीं किया जायेगा और इसके विपरीत मुझे अदालत में मुखबिर की तरह पेश किये बेगैर रिहा कर दिया जायेगा और इनाम दिया जायेगा। मैं इस प्रस्ताव पर हँसा। यह सब बेकार की बात थी। हम लोगों की भाँति विचार रखने वाले अपनी निर्दोष जनता पर बम नहीं फेंका करते। एक दिन सुबह सी0 आई0 डी0 के वरिष्ठ अधीक्षक श्री न्यूमन ने कहा कि यदि मैंने वैसा वक्तव्य नहीं दिया, तो मुझ पर काकोरी केस से सम्बन्धित विद्रोह छेड़ने के षडयन्त्र तथा दशहरा उपद्रव में क्रूर हत्याओं के लिये मुकदमा चलाने पर बाध्य होंगे और कि उनके पास मुझे सजा दिलाने व फाँसी पर लटकवाने के लिये उचित प्रमाण हैं। उसी दिन से कुछ पुलिस अफ़सरों ने मुझे नियम से दोनो समय ईश्वर की स्तुति करने के लिये फुसलाना शुरू किया। पर अब मैं एक नास्तिक था। मैं स्वयं के लिये यह बात तय करना चाहता था कि क्या शान्ति और आनन्द के दिनों में ही मैं नास्तिक होने का दम्भ भरता हूँ या ऐसे कठिन समय में भी मैं उन सिद्धान्तों पर अडिग रह सकता हूँ। बहुत सोचने के बाद मैंने निश्चय किया कि किसी भी तरह ईश्वर पर विश्वास तथा प्रार्थना मैं नहीं कर सकता। नहीं, मैंने एक क्षण के लिये भी नहीं की। यही असली परीक्षण था और मैं सफल रहा। अब मैं एक पक्का अविश्वासी था और तब से लगातार हूँ। इस परीक्षण पर खरा उतरना आसान काम न था। 'विश्वास'कष्टों को हलका कर देता है। यहाँ तक कि उन्हें सुखकर बना सकता है। ईश्वर में मनुष्य को अत्यधिक सान्त्वना देने वाला एक आधार मिल सकता है। उसके बिना मनुष्य को अपने ऊपर निर्भर करना पड़ता है। तूफ़ान और झंझावात के बीच अपने पाँवों पर खड़ा रहना कोई बच्चों का खेल नहीं है। परीक्षा की इन घड़ियों में अहंकार यदि है, तो भाप बन कर उड़ जाता है और मनुष्य अपने विश्वास को ठुकराने का साहस नहीं कर पाता। यदि ऐसा करता है, तो इससे यह निष्कर्ष निकलता है कि उसके पास सिर्फ़ अहंकार नहीं वरन् कोई अन्य शक्ति है। आज बिलकुल वैसी ही स्थिति है। निर्णय का पूरा-पूरा पता है। एक सप्ताह के अन्दर ही यह घोषित हो जायेगा कि मैं अपना जीवन एक ध्येय पर न्योछावर करने जा रहा हूँ। इस विचार के अतिरिक्त और क्या सान्त्वना हो सकती है? ईश्वर में विश्वास रखने वाला हिन्दू पुनर्जन्म पर राजा होने की आशा कर सकता है। एक मुसलमान या ईसाई स्वर्ग में व्याप्त समृद्धि के आनन्द की तथा अपने कष्टों और बलिदान के लिये पुरस्कार की कल्पना कर सकता है। किन्तु मैं क्या आशा करूँ? मैं जानता हूँ कि जिस क्षण रस्सी का फ़न्दा मेरी गर्दन पर लगेगा और मेरे पैरों के नीचे से तख़्ता हटेगा, वह पूर्ण विराम होगा – वह अन्तिम क्षण होगा। मैं या मेरी आत्मा सब वहीं समाप्त हो जायेगी। आगे कुछ न रहेगा। एक छोटी सी जूझती हुई ज़िन्दगी, जिसकी कोई ऐसी गौरवशाली परिणति नहीं है, अपने में स्वयं एक पुरस्कार होगी – यदि मुझमें इस दृष्टि से देखने का साहस हो। बिना किसी स्वार्थ के यहाँ या यहाँ के बाद पुरस्कार की इच्छा के बिना, मैंने अनासक्त भाव से अपने जीवन को स्वतन्त्रता के ध्येय पर समर्पित कर दिया है, क्योंकि मैं और कुछ कर ही नहीं सकता था। जिस दिन हमें इस मनोवृत्ति के बहुत-से पुरुष और महिलाएँ मिल जायेंगे, जो अपने जीवन को मनुष्य की सेवा और पीड़ित मानवता के उद्धार के अतिरिक्त कहीं समर्पित कर ही नहीं सकते, उसी दिन मुक्ति के युग का शुभारम्भ होगा। वे शोषकों, उत्पीड़कों और अत्याचारियों को चुनौती देने के लिये उत्प्रेरित होंगे। इस लिये नहीं कि उन्हें राजा बनना है या कोई अन्य पुरस्कार प्राप्त करना है यहाँ या अगले जन्म में या मृत्योपरान्त स्वर्ग में। उन्हें तो मानवता की गर्दन से दासता का जुआ उतार फेंकने और मुक्ति एवं शान्ति स्थापित करने के लिये इस मार्ग को अपनाना होगा। क्या वे उस रास्ते पर चलेंगे जो उनके अपने लिये ख़तरनाक किन्तु उनकी महान आत्मा के लिये एक मात्र कल्पनीय रास्ता है। क्या इस महान ध्येय के प्रति उनके गर्व को अहंकार कहकर उसका गलत अर्थ लगाया जायेगा? कौन इस प्रकार के घृणित विशेषण बोलने का साहस करेगा? या तो वह मूर्ख है या धूर्त। हमें चाहिए कि उसे क्षमा कर दें, क्योंकि वह उस हृदय में उद्वेलित उच्च विचारों, भावनाओं, आवेगों तथा उनकी गहराई को महसूस नहीं कर सकता। उसका हृदय मांस के एक टुकड़े की तरह मृत है। उसकी आँखों पर अन्य स्वार्थों के प्रेतों की छाया पड़ने से वे कमज़ोर हो गयी हैं। स्वयं पर भरोसा रखने के गुण को सदैव अहंकार की संज्ञा दी जा सकती है। यह दुखपूर्ण और कष्टप्रद है, पर चारा ही क्या है?

    आलोचना और स्वतन्त्र विचार एक क्रान्तिकारी के दोनो अनिवार्य गुण हैं। क्योंकि हमारे पूर्वजों ने किसी परम आत्मा के प्रति विश्वास बना लिया था। अतः कोई भी व्यक्ति जो उस विश्वास को सत्यता या उस परम आत्मा के अस्तित्व को ही चुनौती दे, उसको विधर्मी, विश्वासघाती कहा जायेगा। यदि उसके तर्क इतने अकाट्य हैं कि उनका खण्डन वितर्क द्वारा नहीं हो सकता और उसकी आस्था इतनी प्रबल है कि उसे ईश्वर के प्रकोप से होने वाली विपत्तियों का भय दिखा कर दबाया नहीं जा सकता तो उसकी यह कह कर निन्दा की जायेगी कि वह वृथाभिमानी है। यह मेरा अहंकार नहीं था, जो मुझे नास्तिकता की ओर ले गया। मेरे तर्क का तरीका संतोषप्रद सिद्ध होता है या नहीं इसका निर्णय मेरे पाठकों को करना है, मुझे नहीं। मैं जानता हूँ कि ईश्वर पर विश्वास ने आज मेरा जीवन आसान और मेरा बोझ हलका कर दिया होता। उस पर मेरे अविश्वास ने सारे वातावरण को अत्यन्त शुष्क बना दिया है। थोड़ा-सा रहस्यवाद इसे कवित्वमय बना सकता है। किन्तु मेरे भाग्य को किसी उन्माद का सहारा नहीं चाहिए। मैं यथार्थवादी हूँ। मैं अन्तः प्रकृति पर विवेक की सहायता से विजय चाहता हूँ। इस ध्येय में मैं सदैव सफल नहीं हुआ हूँ। प्रयास करना मनुष्य का कर्तव्य है। सफलता तो संयोग तथा वातावरण पर निर्भर है। कोई भी मनुष्य, जिसमें तनिक भी विवेक शक्ति है, वह अपने वातावरण को तार्किक रूप से समझना चाहेगा। जहाँ सीधा प्रमाण नहीं है, वहाँ दर्शन शास्त्र का महत्व है। जब हमारे पूर्वजों ने फुरसत के समय विश्व के रहस्य को, इसके भूत, वर्तमान एवं भविष्य को, इसके क्यों और कहाँ से को समझने का प्रयास किया तो सीधे परिणामों के कठिन अभाव में हर व्यक्ति ने इन प्रश्नों को अपने ढ़ंग से हल किया। यही कारण है कि विभिन्न धार्मिक मतों में हमको इतना अन्तर मिलता है, जो कभी-कभी वैमनस्य तथा झगड़े का रूप ले लेता है। न केवल पूर्व और पश्चिम के दर्शनों में मतभेद है, बल्कि प्रत्येक गोलार्ध के अपने विभिन्न मतों में आपस में अन्तर है। पूर्व के धर्मों में, इस्लाम तथा हिन्दू धर्म में ज़रा भी अनुरूपता नहीं है। भारत में ही बौद्ध तथा जैन धर्म उस ब्राह्मणवाद से बहुत अलग है, जिसमें स्वयं आर्यसमाज व सनातन धर्म जैसे विरोधी मत पाये जाते हैं। पुराने समय का एक स्वतन्त्र विचारक चार्वाक है। उसने ईश्वर को पुराने समय में ही चुनौती दी थी। हर व्यक्ति अपने को सही मानता है। दुर्भाग्य की बात है कि बजाय पुराने विचारकों के अनुभवों तथा विचारों को भविष्य में अज्ञानता के विरुद्ध लड़ाई का आधार बनाने के हम आलसियों की तरह, जो हम सिद्ध हो चुके हैं, उनके कथन में अविचल एवं संशयहीन विश्वास की चीख पुकार करते रहते हैं और इस प्रकार मानवता के विकास को जड़ बनाने के दोषी हैं।

    सिर्फ विश्वास और अन्ध विश्वास ख़तरनाक है। यह मस्तिष्क को मूढ़ और मनुष्य को प्रतिक्रियावादी बना देता है। जो मनुष्य अपने को यथार्थवादी होने का दावा करता है, उसे समस्त प्राचीन रूढ़िगत विश्वासों को चुनौती देनी होगी। प्रचलित मतों को तर्क की कसौटी पर कसना होगा। यदि वे तर्क का प्रहार न सह सके, तो टुकड़े-टुकड़े होकर गिर पड़ेगा। तब नये दर्शन की स्थापना के लिये उनको पूरा धराशायी करकेे जगह साफ करना और पुराने विश्वासों की कुछ बातों का प्रयोग करके पुनर्निमाण करना। मैं प्राचीन विश्वासांे के ठोसपन पर प्रश्न करने के सम्बन्ध में आश्वस्त हूँ। मुझे पूरा विश्वास है कि एक चेतन परम आत्मा का, जो प्रकृति की गति का दिग्दर्शन एवं संचालन करता है, कोई अस्तित्व नहीं है। हम प्रकृति में विश्वास करते हैं और समस्त प्रगतिशील आन्दोलन का ध्येय मनुष्य द्वारा अपनी सेवा के लिये प्रकृति पर विजय प्राप्त करना मानते हैं। इसको दिशा देने के पीछे कोई चेतन शक्ति नहीं है। यही हमारा दर्शन है। हम आस्तिकों से कुछ प्रश्न करना चाहते हैं।

    यदि आपका विश्वास है कि एक सर्वशक्तिमान, सर्वव्यापक और सर्वज्ञानी ईश्वर है, जिसने विश्व की रचना की, तो कृपा करके मुझे यह बतायें कि उसने यह रचना क्यों की? कष्टों और संतापों से पूर्ण दुनिया – असंख्य दुखों के शाश्वत अनन्त गठबन्धनों से ग्रसित! एक भी व्यक्ति तो पूरी तरह संतृष्ट नही है। कृपया यह न कहें कि यही उसका नियम है। यदि वह किसी नियम से बँधा है तो वह सर्वशक्तिमान नहीं है। वह भी हमारी ही तरह नियमों का दास है। कृपा करके यह भी न कहें कि यह उसका मनोरंजन है। नीरो ने बस एक रोम जलाया था। उसने बहुत थोड़ी संख्या में लोगांें की हत्या की थी। उसने तो बहुत थोड़ा दुख पैदा किया, अपने पूर्ण मनोरंजन के लिये। और उसका इतिहास में क्या स्थान है? उसे इतिहासकार किस नाम से बुलाते हैं? सभी विषैले विशेषण उस पर बरसाये जाते हैं। पन्ने उसकी निन्दा के वाक्यों से काले पुते हैं, भत्र्सना करते हैं – नीरो एक हृदयहीन, निर्दयी, दुष्ट। एक चंगेज खाँ ने अपने आनन्द के लिये कुछ हजार जानें ले लीं और आज हम उसके नाम से घृणा करते हैं। तब किस प्रकार तुम अपने ईश्वर को न्यायोचित ठहराते हो? उस शाश्वत नीरो को, जो हर दिन, हर घण्टे ओर हर मिनट असंख्य दुख देता रहा, और अभी भी दे रहा है। फिर तुम कैसे उसके दुष्कर्मों का पक्ष लेने की सोचते हो, जो चंगेज खाँ से प्रत्येक क्षण अधिक है? क्या यह सब बाद में इन निर्दोष कष्ट सहने वालों को पुरस्कार और गलती करने वालों को दण्ड देने के लिये हो रहा है? ठीक है, ठीक है। तुम कब तक उस व्यक्ति को उचित ठहराते रहोगे, जो हमारे शरीर पर घाव करने का साहस इसलिये करता है कि बाद में मुलायम और आरामदायक मलहम लगायेगा? ग्लैडिएटर संस्था के व्यवस्थापक कहाँ तक उचित करते थे कि एक भूखे ख़ूंख़्वार शेर के सामने मनुष्य को फेंक दो कि, यदि वह उससे जान बचा लेता है, तो उसकी खूब देखभाल की जायेगी? इसलिये मैं पूछता हूँ कि उस चेतन परम आत्मा ने इस विश्व और उसमें मनुष्यों की रचना क्यों की? आनन्द लूटने के लिये? तब उसमें और नीरो में क्या फर्क है?

    तुम मुसलमानो और ईसाइयो! तुम तो पूर्वजन्म में विश्वास नहीं करते। तुम तो हिन्दुओं की तरह यह तर्क पेश नहीं कर सकते कि प्रत्यक्षतः निर्दोष व्यक्तियों के कष्ट उनके पूर्वजन्मों के कर्मों का फल है। मैं तुमसे पूछता हूँ कि उस सर्वशक्तिशाली ने शब्द द्वारा विश्व के उत्पत्ति के लिये छः दिन तक क्यों परिश्रम किया? और प्रत्येक दिन वह क्यों कहता है कि सब ठीक है? बुलाओ उसे आज। उसे पिछला इतिहास दिखाओ। उसे आज की परिस्थितियों का अध्ययन करने दो। हम देखेंगे कि क्या वह कहने का साहस करता है कि सब ठीक है। कारावास की काल-कोठरियों से लेकर झोपड़ियों की बस्तियों तक भूख से तड़पते लाखों इन्सानों से लेकर उन शोषित मज़दूरों से लेकर जो पूँजीवादी पिशाच द्वारा खून चूसने की क्रिया को धैर्यपूर्वक निरुत्साह से देख रहे हैं तथा उस मानवशक्ति की बर्बादी देख रहे हैं, जिसे देखकर कोई भी व्यक्ति, जिसे तनिक भी सहज ज्ञान है, भय से सिहर उठेगा, और अधिक उत्पादन को ज़रूरतमन्द लोगों में बाँटने के बजाय समुद्र में फेंक देना बेहतर समझने से लेकर राजाआंे के उन महलों तक जिनकी नींव मानव की हड्डियों पर पड़ी है- उसको यह सब देखने दो और फिर कहे – सब कुछ ठीक है! क्यों और कहाँ से? यही मेरा प्रश्न है। तुम चुप हो। ठीक है, तो मैं आगे चलता हूँ।

    और तुम हिन्दुओ, तुम कहते हो कि आज जो कष्ट भोग रहे हैं, ये पूर्वजन्म के पापी हैं और आज के उत्पीड़क पिछले जन्मों में साधु पुरुष थे, अतः वे सत्ता का आनन्द लूट रहे हैं। मुझे यह मानना पड़ता है कि आपके पूर्वज बहुत चालाक व्यक्ति थे। उन्होंने ऐसे सिद्धान्त गढ़े, जिनमें तर्क और अविश्वास के सभी प्रयासों को विफल करने की काफ़ी ताकत है। न्यायशास्त्र के अनुसार दण्ड को अपराधी पर पड़ने वाले असर के आधार पर केवल तीन कारणों से उचित ठहराया जा सकता है। वे हैं – प्रतिकार, भय तथा सुधार। आज सभी प्रगतिशील विचारकों द्वारा प्रतिकार के सिद्धान्त की निन्दा की जाती है। भयभीत करने के सिद्धान्त का भी अन्त वहीं है। सुधार करने का सिद्धान्त ही केवल आवश्यक है और मानवता की प्रगति के लिये अनिवार्य है। इसका ध्येय अपराधी को योग्य और शान्तिप्रिय नागरिक के रूप में समाज को लौटाना है। किन्तु यदि हम मनुष्यों को अपराधी मान भी लें, तो ईश्वर द्वारा उन्हें दिये गये दण्ड की क्या प्रकृति है? तुम कहते हो वह उन्हें गाय, बिल्ली, पेड़, जड़ी-बूटी या जानवर बनाकर पैदा करता है। तुम ऐसे 84 लाख दण्डों को गिनाते हो। मैं पूछता हूँ कि मनुष्य पर इनका सुधारक के रूप में क्या असर है? तुम ऐसे कितने व्यक्तियों से मिले हो, जो यह कहते हैं कि वे किसी पाप के कारण पूर्वजन्म में गधा के रूप में पैदा हुए थे? एक भी नहीं? अपने पुराणों से उदाहरण न दो। मेरे पास तुम्हारी पौराणिक कथाओं के लिए कोई स्थान नहीं है। और फिर क्या तुम्हें पता है कि दुनिया में सबसे बड़ा पाप गरीब होना है। गरीबी एक अभिशाप है। यह एक दण्ड है। मैं पूछता हूँ कि दण्ड प्रक्रिया की कहाँ तक प्रशंसा करें, जो अनिवार्यतः मनुष्य को और अधिक अपराध करने को बाध्य करे? क्या तुम्हारे ईश्वर ने यह नहीं सोचा था या उसको भी ये सारी बातें मानवता द्वारा अकथनीय कष्टों के झेलने की कीमत पर अनुभव से सीखनी थीं? तुम क्या सोचते हो, किसी गरीब या अनपढ़ परिवार, जैसे एक चमार या मेहतर के यहाँ पैदा होने पर इन्सान का क्या भाग्य होगा? चूँकि वह गरीब है, इसलिये पढ़ाई नहीं कर सकता। वह अपने साथियों से तिरस्कृत एवं परित्यक्त रहता है, जो ऊँची जाति में पैदा होने के कारण अपने को ऊँचा समझते हैं। उसका अज्ञान, उसकी गरीबी तथा उससे किया गया व्यवहार उसके हृदय को समाज के प्रति निष्ठुर बना देते हैं। यदि वह कोई पाप करता है तो उसका फल कौन भोेगेगा? ईष्वर, वह स्वयं या समाज के मनीषी? और उन लोगों के दण्ड के बारे में क्या होगा, जिन्हें दम्भी ब्राह्मणों ने जानबूझ कर अज्ञानी बनाये रखा तथा जिनको तुम्हारी ज्ञान की पवित्र पुस्तकों – वेदों के कुछ वाक्य सुन लेने के कारण कान में पिघले सीसे की धारा सहन करने की सजा भुगतनी पड़ती थी? यदि वे कोई अपराध करते हैं, तो उसके लिये कौन ज़िम्मेदार होगा? और उनका प्रहार कौन सहेगा? मेरे प्रिय दोस्तों! ये सिद्धान्त विशेषाधिकार युक्त लोगों के आविष्कार हैं। ये अपनी हथियाई हुई शक्ति, पूँजी तथा उच्चता को इन सिद्धान्तों के आधार पर सही ठहराते हैं। अपटान सिंक्लेयर ने लिखा था कि मनुष्य को बस अमरत्व में विश्वास दिला दो और उसके बाद उसकी सारी सम्पत्ति लूट लो। वह बगैर बड़बड़ाये इस कार्य में तुम्हारी सहायता करेगा। धर्म के उपदेशकों तथा सत्ता के स्वामियों के गठबन्धन से ही जेल, फाँसी, कोड़े और ये सिद्धान्त उपजते हैं।

    मैं पूछता हूँ तुम्हारा सर्वशक्तिशाली ईश्वर हर व्यक्ति को क्यों नहीं उस समय रोकता है जब वह कोई पाप या अपराध कर रहा होता है? यह तो वह बहुत आसानी से कर सकता है। उसने क्यों नहीं लड़ाकू राजाओं की लड़ने की उग्रता को समाप्त किया और इस प्रकार विश्वयुद्ध द्वारा मानवता पर पड़ने वाली विपत्तियों से उसे बचाया? उसने अंग्रेजों के मस्तिष्क में भारत को मुक्त कर देने की भावना क्यों नहीं पैदा की? वह क्यों नहीं पूँजीपतियों के हृदय में यह परोपकारी उत्साह भर देता कि वे उत्पादन के साधनों पर अपना व्यक्तिगत सम्पत्ति का अधिकार त्याग दें और इस प्रकार केवल सम्पूर्ण श्रमिक समुदाय, वरन समस्त मानव समाज को पूँजीवादी बेड़ियों से मुक्त करें? आप समाजवाद की व्यावहारिकता पर तर्क करना चाहते हैं। मैं इसे आपके सर्वशक्तिमान पर छोड़ देता हूँ कि वह लागू करे। जहाँ तक सामान्य भलाई की बात है, लोग समाजवाद के गुणों को मानते हैं। वे इसके व्यावहारिक न होने का बहाना लेकर इसका विरोध करते हैं। परमात्मा को आने दो और वह चीज को सही तरीके से कर दे। अंग्रेजों की हुकूमत यहाँ इसलिये नहीं है कि ईश्वर चाहता है बल्कि इसलिये कि उनके पास ताकत है और हममें उनका विरोध करने की हिम्मत नहीं। वे हमको अपने प्रभुत्व में ईश्वर की मदद से नहीं रखे हैं, बल्कि बन्दूकों, राइफलों, बम और गोलियों, पुलिस और सेना के सहारे। यह हमारी उदासीनता है कि वे समाज के विरुद्ध सबसे निन्दनीय अपराध – एक राष्ट्र का दूसरे राष्ट्र द्वारा अत्याचार पूर्ण शोषण – सफलतापूर्वक कर रहे हैं। कहाँ है ईश्वर? क्या वह मनुष्य जाति के इन कष्टों का मज़ा ले रहा है? एक नीरो, एक चंगेज, उसका नाश हो!

    क्या तुम मुझसे पूछते हो कि मैं इस विश्व की उत्पत्ति तथा मानव की उत्पत्ति की व्याख्या कैसे करता हूँ? ठीक है, मैं तुम्हें बताता हूँ। चाल्र्स डारविन ने इस विषय पर कुछ प्रकाश डालने की कोशिश की है। उसे पढ़ो। यह एक प्रकृति की घटना है। विभिन्न पदार्थों के, नीहारिका के आकार में, आकस्मिक मिश्रण से पृथ्वी बनी। कब? इतिहास देखो। इसी प्रकार की घटना से जन्तु पैदा हुए और एक लम्बे दौर में मानव। डार्विन की 'जीव की उत्पत्ति'पढ़ो। और तदुपरान्त सारा विकास मनुष्य द्वारा प्रकृति के लगातार विरोध और उस पर विजय प्राप्त करने की चेष्टा से हुआ। यह इस घटना की सम्भवतः सबसे सूक्ष्म व्याख्या है।

    तुम्हारा दूसरा तर्क यह हो सकता है कि क्यों एक बच्चा अन्धा या लंगड़ा पैदा होता है? क्या यह उसके पूर्वजन्म में किये गये कार्यों का फल नहीं है? जीवविज्ञान वेत्ताओं ने इस समस्या का वैज्ञानिक समाधान निकाल लिया है। अवश्य ही तुम एक और बचकाना प्रश्न पूछ सकते हो। यदि ईश्वर नहीं है, तो लोग उसमें विश्वास क्यों करने लगे? मेरा उत्तर सूक्ष्म तथा स्पष्ट है। जिस प्रकार वे प्रेतों तथा दुष्ट आत्माओं में विश्वास करने लगे। अन्तर केवल इतना है कि ईश्वर में विश्वास विश्वव्यापी है और दर्शन अत्यन्त विकसित। इसकी उत्पत्ति का श्रेय उन शोषकों की प्रतिभा को है, जो परमात्मा के अस्तित्व का उपदेश देकर लोगों को अपने प्रभुत्व में रखना चाहते थे तथा उनसे अपनी विशिष्ट स्थिति का अधिकार एवं अनुमोदन चाहते थे। सभी धर्म, समप्रदाय, पन्थ और ऐसी अन्य संस्थाएँ अन्त में निर्दयी और शोषक संस्थाओं, व्यक्तियों तथा वर्गों की समर्थक हो जाती हैं। राजा के विरुद्ध हर विद्रोह हर धर्म में सदैव ही पाप रहा है।

    मनुष्य की सीमाओं को पहचानने पर, उसकी दुर्बलता व दोष को समझने के बाद परीक्षा की घड़ियों में मनुष्य को बहादुरी से सामना करने के लिये उत्साहित करने, सभी ख़तरों को पुरुषत्व के साथ झेलने तथा सम्पन्नता एवं ऐश्वर्य में उसके विस्फोट को बाँधने के लिये ईश्वर के काल्पनिक अस्तित्व की रचना हुई। अपने व्यक्तिगत नियमों तथा अभिभावकीय उदारता से पूर्ण ईश्वर की बढ़ा-चढ़ा कर कल्पना एवं चित्रण किया गया। जब उसकी उग्रता तथा व्यक्तिगत नियमों की चर्चा होती है, तो उसका उपयोग एक भय दिखाने वाले के रूप में किया जाता है। ताकि कोई मनुष्य समाज के लिये ख़तरा न बन जाये। जब उसके अभिभावक गुणों की व्याख्या होती ह,ै तो उसका उपयोग एक पिता, माता, भाई, बहन, दोस्त तथा सहायक की तरह किया जाता है। जब मनुष्य अपने सभी दोस्तों द्वारा विश्वासघात तथा त्याग देने से अत्यन्त क्लेष में हो, तब उसे इस विचार से सान्त्वना मिल सकती हे कि एक सदा सच्चा दोस्त उसकी सहायता करने को है, उसको सहारा देगा तथा वह सर्वशक्तिमान है और कुछ भी कर सकता है। वास्तव में आदिम काल में यह समाज के लिये उपयोगी था। पीड़ा में पड़े मनुष्य के लिये ईश्वर की कल्पना उपयोगी होती है। समाज को इस विश्वास के विरुद्ध लड़ना होगा। मनुष्य जब अपने पैरों पर खड़ा होने का प्रयास करता है तथा यथार्थवादी बन जाता है, तब उसे श्रद्धा को एक ओर फेंक देना चाहिए और उन सभी कष्टों, परेशानियों का पुरुषत्व के साथ सामना करना चाहिए, जिनमें परिस्थितियाँ उसे पटक सकती हैं। यही आज मेरी स्थिति है। यह मेरा अहंकार नहीं है, मेरे दोस्त! यह मेरे सोचने का तरीका है, जिसने मुझे नास्तिक बनाया है। ईश्वर में विश्वास और रोज़-ब-रोज़ की प्रार्थना को मैं मनुष्य के लिये सबसे स्वार्थी और गिरा हुआ काम मानता हूँ। मैंने उन नास्तिकों के बारे में पढ़ा हे, जिन्होंने सभी विपदाओं का बहादुरी से सामना किया। अतः मैं भी एक पुरुष की भाँति फाँसी के फन्दे की अन्तिम घड़ी तक सिर ऊँचा किये खड़ा रहना चाहता हूँ।

    हमें देखना है कि मैं कैसे निभा पाता हूँ। मेरे एक दोस्त ने मुझे प्रार्थना करने को कहा। जब मैंने उसे नास्तिक होने की बात बतायी तो उसने कहा, ''अपने अन्तिम दिनों में तुम विश्वास करने लगोगे।''मैंने कहा, ''नहीं, प्यारे दोस्त, ऐसा नहीं होगा। मैं इसे अपने लिये अपमानजनक तथा भ्रष्ट होने की बात समझाता हूँ। स्वार्थी कारणों से मैं प्रार्थना नहीं करूँगा।''पाठकों और दोस्तों, क्या यह अहंकार है? अगर है तो मैं स्वीकार करता हूँ।


    Date Written: 1931

    Author: Bhagat Singh

    Title: Why I Am An Atheist (Main nastik kyon hoon)

    First Published: Baba Randhir Singh, a freedom fighter, was in Lahore Central Jail in 1930-31. He was a God-fearing religious man. It pained him to learn that Bhagat Singh was a non-believer. He somehow managed to see Bhagat Singh in the condemned cell and tried to convince him about the existence of God, but failed. Baba lost his temper and said tauntingly: "You are giddy with fame and have developed and ago which is standing like a black curtain between you and the God." It was in reply to that remark that Bhagat Singh wrote this article. First appeared in The People, Lahore on September 27, 1931.

    https://www.marxists.org/hindi/bhagat-singh/1931/main-nastik-kyon-hoon.htm

    चार्वाक दर्शन

    https://hi.wikipedia.org/s/hbn

    मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से

    चार्वाक दर्शन एक भौतिकवादी नास्तिक दर्शनहै। यह मात्र प्रत्यक्ष प्रमाणको मानता है तथा पारलौकिक सत्ताओं को यह सिद्धांत स्वीकार नहीं करता है। यह दर्शन वेदबाह्य भी कहा जाता है।

    वेदवाह्य दर्शन छ: हैं- चार्वाक, माध्यमिक, योगाचार, सौत्रान्तिक, वैभाषिक, और आर्हत। इन सभी में वेद से असम्मत सिद्धान्तों का प्रतिपादन है।

    चार्वाक प्राचीन भारत के एक अनीश्वरवादी और नास्तिक तार्किक थे। ये नास्तिक मत के प्रवर्तक वृहस्पतिके शिष्य माने जाते हैं। बृहस्पति और चार्वाक कब हुए इसका कुछ भी पता नहीं है। बृहस्पति को चाणक्यने अपने अर्थशास्त्र ग्रन्थमें अर्थशास्त्र का एक प्रधान आचार्य माना है।

    परिचय[संपादित करें]

    चार्वाक का नाम सुनते ही आपको 'यदा जीवेत सुखं जीवेत, ऋण कृत्वा, घृतं पीवेत' (जब तक जीवो सुख से जीवो, उधार लो और घी पीयो) की याद आएगी. 'चार्वाक'नाम को ही घृणास्पद गाली की तरह बदल दिया गया है। मानों इस सिद्धांत को मानने वाले सिर्फ कर्जखोर, भोगवादी और पतित लोग थे। प्रचलित धारणा यही है कि चार्वाक शब्द की उत्पति 'चारु'+'वाक्' (मीठी बोली बोलने वाले) से हुई है। ज़ाहिर है कि यह नामकरण इस सिद्धांत के उन विरोधियों द्वारा किया गया है कि जिनका मानना था कि यह लोग मीठी-मीठी बातों से भोले-भले लोगों को बहकाते थे। चार्वाक सिद्धांतों के लिए बौद्ध पिटकों तक में 'लोकायत'शब्द का प्रयोग किया जाता है जिसका मतलब 'दर्शन की वह प्रणाली है जो जो इस लोक में विश्वास करती है और स्वर्ग, नरक अथवा मुक्ति की अवधारणा में विश्वास नहीं रखती'. चार्वाक या लोकायत दर्शन का ज़िक्र तो महाभारत में भी मिलता है लेकिन इसका कोई भी मूल ग्रन्थ उपलब्ध नहीं. ज़ाहिर है कि चूंकि यह अपने समय की सत्ताधारी ताकतों के खिलाफ बात करता था, तो इसके ग्रंथों को नष्ट कर दिया गया और प्रचलित कथाओं में चार्वाकों को खलनायकों की तरह पेश किया गया।

    सर्वदर्शनसंग्रहमें चार्वाक का मत दिया हुआ मिलता है। पद्यपुराणमें लिखा है कि असुरों को बहकाने के लिये बृहस्पति ने वेदविरुद्ध मत प्रकट किया था। नास्तिक मत के संबध में विष्णुपुराणमें लिखा है कि जब धर्मबल से दैत्य बहुत प्रबल हुए तब देवताओं ने विष्णुके यहाँ पुकार की। विष्णु ने अपने शरीर से मायामोह नामक एक पुरुष उत्पन्न किया जिसने नर्मदातट पर दिगबंर रूप में जाकर तप करते हुए असुरों को बहकाकर धर्ममार्ग मे भ्रष्ट किया। मायामोह ने अपुरों को जो उपदेश किया वह सर्वदर्शनसंग्रह में दिए हुए चार्वाक मत के श्लोकों से बिलकुल मिलता है। जैसे, - मायामोह ने कहा है कि यदि यज्ञ में मारा हुआ पशु स्वर्गजाता है तो यजमान अपने पिता को क्यों नहीं मार डालता, इत्यादि। लिंगपुराणमें त्रिपुरविनाश के प्रसंग में भी शिवप्रेरित एक दिगंबर मुनि द्वारा असुरों के इसी प्रकार बहकाए जाने की कथा लिखी है जिसका लक्ष्य जैनोंपर जान पड़ता है। वाल्मीकि रामायणअयोध्या कांडमें महर्षि जावालि ने रामचंद्र को बनबाम छोड़ अयोध्या लौट जाने के लिये जो उपदेश दिया है वह भी चार्वाक के मत से बिलकुल मिलता है। इन सब बातों से सिद्ध होता है कि नास्तिक मत बहुत प्राचीन है। इसका अविर्भाव उसी समय मे समझना चाहिए जव वैदिक कर्मकांड़ों की अधिकता लोगों को कुछ खटकने लगी थी।

    चार्वाक ईश्वर और परलोक नहीं मानते। परलोक न मानने के कारण ही इनके दर्शन को लोकायतभी कहते हैं। सर्वदर्शनसंग्रह में चार्वाक के मत से सुख ही इस जीवन का प्रधान लक्ष्य है। संसार में दुःख भी है, यह समझकर जो सुख नहीं भोगना चाहते, वे मूर्ख हैं। मछली में काँटे होते हैं तो क्या इससे कोई मछली ही न खाय ? चौपाए खेत पर जायँगे, इस डर से क्या कोई खेत ही न बोवे ? इत्यादि। चार्वाक आत्मा को पृथक् कोई पदार्थ नहीं मानते। उनके मत से जिस प्रकार गुड़, तंडुल आदि के संयोग से मद्यमें मादकता उत्पन्न हो जाती है उसी प्रकार पृथ्वी, जल, तेज और वायु इन चार भूतों के संयोगविशेष से चेतनता उत्पन्न हो जाती है। इनके विश्लेषण या विनाश से 'मैं' अर्थात् चेतनता का भी नाश हो जाता है। इस चेतन शरीर के नाम के पीछे फिर पुनरागमन आदि नहीं होता। ईश्वर, परलोक आदि विषय अनुमान के आधार पर हैं।

    पर चार्वाक प्रत्यक्ष को छोड़कर अनुमान को प्रमाण में नहीं लेते। उनका तर्क है कि अनुमान व्याप्तिज्ञान का आश्रित है। जो ज्ञान हमें बाहर इंद्रियों के द्वारा होता है उसे भूत और भविष्य तक बढ़ाकर ले जाने का नाम व्याप्तिज्ञान है, जो असंभव है। मन में यह ज्ञान प्रत्यक्ष होता है, यह कोई प्रमाण नहीं क्योंकि मन अपने अनुभव के लिये इंद्रियों का ही आश्रित है। यदि कहो कि अनुमान के द्वारा व्याप्तिज्ञान होता है तो इतरेतराश्रय दोष आता है, क्योंकि व्याप्तिज्ञान को लेकर ही तो अनुमान को सिद्ध किया चाहते हो। चार्वाक का मत सर्वदर्शनसंग्रह, सर्वदर्शनशिरोमणि और बृहस्पतिसूत्र में देखना चाहिए।नैषधके १७वें सर्ग में भी इस मत का विस्तृत उल्लेख है।

    चार्वाक केवल प्रत्यक्षवादिता का समर्थन करता है, वह अनुमान आदि प्रमाणों को नही मानता है। उसके मत से पृथ्वी जल तेज और वायु ये चार ही तत्व है, जिनसे सब कुछ बना है। उसके मत में आकाश तत्व की स्थिति नही है, इन्ही चारों तत्वों के मेल से यह देह बनी है, इनके विशेष प्रकार के संयोजन मात्र से देह में चैतन्य उत्पन्न हो जाता है, जिसको लोग आत्मा कहते है। शरीर जब विनष्ट हो जाता है, तो चैतन्य भी खत्म हो जाता है। इस प्रकार से जीव इन भूतो से उत्पन्न होकर इन्ही भूतो के के नष्ट होते ही समाप्त हो जाता है, आगे पीछे इसका कोई महत्व नही है। इसलिये जो चेतन में देह दिखाई देती है वही आत्मा का रूप है, देह से अतिरिक्त आत्मा होने का कोई प्रमाण ही नही मिलता है। चार्वाक के मत से स्त्री पुत्र और अपने कुटुम्बियों से मिलने और उनके द्वारा दिये जाने वाले सुख ही सुख कहलाते है। उनका आलिन्गन करना ही पुरुषार्थ है, संसार में खाना पीना और सुख से रहना चाहिये। इस दर्शन में कहा गया है, कि:-

    यावज्जीवेत सुखं जीवेद ऋणं कृत्वा घृतं पिवेत, भस्मीभूतस्य देहस्य पुनरागमनं कुतः ॥

    अर्थ है कि जब तक जीना चाहिये सुख से जीना चाहिये, अगर अपने पास साधन नही है, तो दूसरे से उधार लेकर मौज करना चाहिये, शमशान में शरीर के जलने के बाद शरीर को किसने वापस आते देखा है?

    चार्वाक दर्शन के अनुसार पृथ्वी, जल, तेज तथा वायु ये चार ही तत्त्व सृष्टि के मूल कारण हैं। जिस प्रकार बौद्ध उसी प्रकार चार्वाक का भी मत है कि आकाश नामक कोई तत्त्व नहीं है। यह शून्य मात्र है। अपनी आणविक अवस्था से स्थूल अवस्था में आने पर उपर्युक्त चार तत्त्व ही बाह्य जगत, इन्द्रिय अथवा देह के रूप में दृष्ट होते हैं। आकाश की वस्त्वात्मक सत्ता न मानने के पीछे इनकी प्रमाण व्यवस्था कारण है। जिस प्रकार हम गन्ध, रस, रूप और स्पर्श का प्रत्यक्ष अनुभव करते हुए उनके समवायियों का भी तत्तत इन्द्रियों के द्वारा प्रत्यक्ष करते हैं। आकाश तत्त्व का वैसा प्रत्यक्ष नहीं होता। अत: उनके मत में आकाश नामक तत्त्व है ही नहीं। चार महाभूतों का मूलकारण क्या है? इस प्रश्न का उत्तर चार्वाकों के पास नहीं है। यह विश्व अकस्मात भिन्न-भिन्न रूपों एवं भिन्न-भिन्न मात्राओं में मिलने वाले चार महाभूतों का संग्रह या संघट्ट मात्र है। आत्मा चार्वाकों के अनुसार चार महाभूतों से अतिरिक्त आत्मा नामक कोई अन्य पदार्थ नहीं है। चैतन्य आत्मा का गुण है। चूँकि आत्मा नामक कोई वस्तु है ही नहीं अत: चैतन्य शरीर का ही गुण या धर्म सिद्ध होता है। अर्थात यह शरीर ही आत्मा है। इसकी सिद्धि के तीन प्रकार है- तर्क, अनुभव और आयुर्वेद शास्त्र। तर्क से आत्मा की सिद्धि के लिये चार्वाक लोग कहते हैं कि शरीर के रहने पर चैतन्य रहता है और शरीर के न रहने पर चैतन्य नहीं रहता। इस अन्वय व्यतिरेक से शरीर ही चैतन्य का आधार अर्थात आत्मा सिद्ध होता है। अनुभव 'मैं स्थूल हूँ', 'मैं दुर्बल हूँ', 'मैं गोरा हूँ', 'मैं निष्क्रिय हूँ' इत्यादि अनुभव हमें पग-पग पर होता है। स्थूलता दुर्बलता इत्यादि शरीर के धर्म हैं और 'मैं' भी वही है। अत: शरीर ही आत्मा है। आयुर्वेद जिस प्रकार गुड, जौ, महुआ आदि को मिला देने से काल क्रम के अनुसार उस मिश्रण में मदशक्त उत्पन्न होती है, अथवा दही पीली मिट्टी और गोबर के परस्पर मिश्रण से उसमें बिच्छू पैदा हो जाता है अथवा पान, कत्था, सुपारी और चूना में लाल रंग न रहने पर भी उनके मिश्रण से मुँह में लालिमा उत्पन्न हो जाती है उसी प्रकार चतुर्भूतों के विशिष्ट सम्मिश्रण से चैतन्य उत्पन्न हो जाता है। किन्तु इन भूतों के विशिष्ट मात्रा में मिश्रण का कारण क्या है? इस प्रश्न का उत्तर चार्वाक के पास स्वभाववाद के अतिरिक्त कुछ नहीं है। ईश्वर-न्याय आदि शास्त्रों में ईश्वर की सिद्धि अनुमान या आप्त वचन से की जाती है। चूँकि चार्वाक प्रत्यक्ष और केवल प्रत्यक्ष प्रमाण को मानता है अत: उसके मत में प्रत्यक्ष दृश्यमान राजा ही ईश्वर हैं वह अपने राज्य का तथा उसमें रहने वाली प्रजा का नियन्ता होता है। अत: उसे ही ईश्वर मानना चाहिये।

    ज्ञान मीमांसा प्रमेय अर्थात विषय का यथार्थ ज्ञान अर्थात प्रमा के लिये प्रमाण की आवश्यकता होती है। चार्वाक लोक केवल प्रत्यक्ष प्रमाण मानते हैं। विषय तथा इन्द्रिय के सन्निकार्ष से उत्पन्न ज्ञान प्रत्यक्ष ज्ञान कहलाता है। हमारी इन्द्रियों के द्वारा प्रत्यक्ष दिखलायी पड़ने वाला संसार ही प्रमेय है। इसके अतिरिक्त अन्य पदार्थ असत है। आँख, कान, नाक, जिह्वा और त्वचा के द्वारा रूप शब्द गन्ध रस एवं स्पर्श का प्रत्यक्ष हम सबको होता है। जो वस्तु अनुभवगम्य नहीं होती उसके लिये किसी अन्य प्रमाण की आवश्यकता भी नहीं होती। बौद्ध, जैन नामक अवैदिक दर्शन तथा न्यायवैशेषिक आदि अर्द्धवैदिक दर्शन अनुमान को भी प्रमाण मानते हैं। उनका कहना है कि समस्त प्रमेय पदार्थों की सत्ता केवल प्रत्यक्ष प्रमाण से सिद्ध नहीं की जा सकती। परन्तु चार्वाक का कथन है कि अनुमान से केवल सम्भावना पैदा की जा सकती है। निश्चयात्मक ज्ञान प्रत्यक्ष से ही होता हैं। दूरस्थ हरे भरे वृक्षों को देखकर वहाँ पक्षियों का कोलाहल सुनकर, उधर से आने वाली हवा के ठण्डे झोके से हम वहाँ पानी की सम्भावना मानते हैं। जल की उपलब्धि वहाँ जाकर प्रत्यक्ष देखने से ही निश्चित होती है। अत: सम्भावना उत्पन्न करने तथा लोकव्यवहार चलाने के लिये अनुमान आवश्यक होता है किन्तु वह प्रमाण नहीं हो सकता। जिस व्याप्ति के आधार पर अनुमान प्रमाण की सत्ता मानी जाती है वह व्याप्ति के अतिरिक्त कुछ नहीं है। धूम के साथ अग्नि का, पुष्प के साथ गन्ध का होना स्वभाव है। सुख और धर्म का दु:ख और अधर्म का कार्यकारण भाव स्वाभाविक है। जैसे कोकिल के शब्द में मधुरता तथा कौवे के शब्द में कर्कशता स्वाभाविक है उसी प्रकार सर्वत्र समझना चाहिये। जहाँ तक शब्द प्रमाण की बात है तो वह तो एक प्रकार से प्रत्यक्ष प्रमाण ही है। आप्त पुरुष के वचन हमको प्रत्यक्ष सुनायी देते हैं। उनको सुनने से अर्थ ज्ञान होता है। यह प्रत्यक्ष ही है। जहाँ तक वेदों का प्रश्न है उनके वाक्य अदृष्ट और अश्रुतपूर्ण विषयों का वर्णन करते हैं अत: उनकी विश्वसनीयता सन्दिग्ध है। साथ ही अधर्म आदि में अश्वलिङ्गग्रहण सदृश लज्जास्पद एवं मांसभक्षण सदृश घृणास्पद कार्य करने से तथा जर्भरी तुर्फरी आदि अर्थहीन शब्दों का प्रयोग करने से वेद अपनी अप्रामाणिकता स्वयं सिद्ध करते हैं।

    आचार मीमांसा उपर्युक्त विवरण से यह स्पष्ट हो जाता है कि चार्वाक लोग इस प्रत्यक्ष दृश्यमान देह और जगत के अतिरिक्त किसी अन्य पदार्थ को स्वीकार नहीं करते। धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष नामक पुरुषार्थचतुष्टय को वे लोग पुरुष अर्थात मनुष्य देह के लिये उपयोगी मानते हैं। उनकी दृष्टि में अर्थ और काम ही परम पुरुषार्थ है। धर्म नाम की वस्तु को मानना मूर्खता है क्योंकि जब इस संसार के अतिरिक्त कोई अन्य स्वर्ग आदि है ही नहीं तो धर्म के फल को स्वर्ग में भोगने की बात अनर्गल है। पाखण्डी धूर्त्तों के द्वारा कपोलकल्पित स्वर्ग का सुख भोगने के लिये यहाँ यज्ञ आदि करना धर्म नहीं है बल्कि उसमें की जाने वाली पशु हिंसा आदि के कारण वह अधर्म ही है तथा हवन आदि करना तत्त्द वस्तुओं का दुरुपयोग तथा व्यर्थ शरीर को कष्ट देना है इसलिये जो कार्य शरीर को सुख पहुँचाये उसी को करना चाहिये। जिसमें इन्द्रियों की तृप्ति हो मन आन्दित हो वही कार्य करना चाहिये। जिनसे इन्द्रियों की तृप्ति हो मन आनन्दित हो उन्हीं विषयों का सेवन करना चाहिये। शरीर इन्द्रिय मन को अनन्दाप्लावित करने में जो तत्त्व बाधक होते हैं उनको दूर करना, न करना, मार देना धर्म है। शारीरिक मानसिक कष्ट सहना, विषयानन्द से मन और शरीर को बलात विरत करना अधर्म है। तात्पर्य यह है कि आस्तिक वैदिक एवं यहाँ तक कि अर्धवैदिक दर्शनों में, पुराणों स्मृतियों में वर्णित आचार का पालन यदि शरीर सुख का साधक है तो उनका अनुसरण करना चाहिये और यदि वे उसके बाधक होते हैं तो उनका सर्वथा सर्वदा त्याग कर देना चाहिये।

    मोक्ष चार्वाकों की मोक्ष की कल्पना भी उनके तत्त्व मीमांसा एवं ज्ञान मीमांसा के प्रभाव से पूर्ण प्रभावित है। जब तक शरीर है तब तक मनुष्य नाना प्रकार के कष्ट सहता है। यही नरक है। इस कष्ट समूह से मुक्ति तब मिलती है जब देह चैतन्यरहित हो जाता है अर्थात मर जाता है। यह मरना ही मोक्ष है क्योंकि मृत शरीर को किसी भी कष्ट का अनुभव मर जाता है। यह मरना ही मोक्ष है क्योंकि मृत शरीर को किसी भी कष्ट का अनुभव नहीं होता। यद्यपि अन्य दर्शनों में आत्मा के अस्तित्व को स्वीकार करते हुए उसी के मुक्त होने की चर्चा की गयी है और मोक्ष का स्वरूप भिन्न-भिन्न दर्शनों में भिन्न-भिन्न है, तथापि चार्वाक उनकी मान्यता को प्रश्रय नहीं देते। वे न तो मोक्ष को नित्य मानते हुए सन्मात्र मानते हैं, न नित्य मानते हुए सत और चित स्वरूप मानते हैं न ही वे सच्चिदानन्द स्वरूप में उसकी स्थिति को ही मोक्ष स्वीकार करते हैं।

    चार्वाक लोकायत चार्वाक दर्शन वह दर्शन है जो जन सामान्य में स्वभावत: प्रिय है। जिस दर्शन के वाक्य चारु अर्थात रुचिकर हों वह चार्वाक दर्शन है। सभी शास्त्रीय गम्भीर विषयों का व्यावहारिक एवं लौकिक पूर्व पक्ष ही चार्वाक दर्शन है। सहज रूप में जो कुछ हम करते हैं वह सब कुछ चार्वाक दर्शन का आधार है। चार्वाक दर्शन जीवन के हर पक्ष को सहज दृष्टि से देखता है। जीवन के प्रति यह सहज दृष्टि ही चार्वाक दर्शन है। वास्तविकता तो यह है कि, विश्व का हर मानव जो जीवन जीता है वह चार्वाक दर्शन ही है। ऐसे वाक्य और सिद्धान्त जो सबको रमणीय लगें लोक में आयत या विश्रुत आवश्य होंगे। सम्भवत: यही कारण है कि हम चार्वाक दर्शन को लोकायत दर्शन के नाम से भी जानते हैं। यह दर्शन बार्हस्पत्य दर्शन के नाम से भी विद्वानों में प्रसिद्ध है। इस नाम से यह प्रतीत होता है कि यह दर्शन बृहस्पति के द्वारा विरचित है।

    चार्वाक दर्शन के प्रणेता बृहस्पति बृहस्पति भारतीय समाज में देवताओं के गुरु के रूप में मान्य हैं। परन्तु भारतीय साहित्य में बृहस्पति एक नहीं हैं। चार्वाक दर्शन के प्रवर्तक आचार्य बृहस्पति कौन हैं, यह निर्णय कर पाना अत्यन्त कठिन कार्य है। आङिगरस एवं लौक्य रूप में दो बृहस्पतियों का समुल्लेख ऋग्वेद में प्राप्त होता है। अश्वघोष के अनुसार आङिगरस बृहस्पति राजशास्त्र के प्रणेता हैं। लौक्य बृहस्पति के मत में सत पदार्थ की उत्पत्ति असत से मानी जाती है। इसी प्रकार असत पदार्थ की उत्पत्ति सत से मानी गयी है। जड़ पदार्थों को ही असत कहा जाता है। चेतन पदार्थों को इस मान्यता के अनुसार सत कहा जाता हैं। एक बृहस्पति का निर्देश महाभारत के वन पर्व में भी प्राप्त होता है। यह बृहस्पति शुक्र का स्वरूप धारण कर इन्द्र का सरंक्षण एवं दानवों का विनाश करने के उद्देश्य से अनात्मवाद या प्रपंच विज्ञान की संरचना करता है। इस प्रपंच विज्ञान के फलस्वरूप शुभ को अशुभ एवं अशुभ को शुभ मानते हुए दानव वेद एवं शास्त्रों की आलोचना एवं निन्दा में संलग्न हो जाते हैं। अन्य प्रसंग में महाभारत में ही एक और बृहस्पति का वर्णन मिलता है जो शुक्राचार्य के साथ मिल कर प्रवंचनाशास्त्र की रचना करते हैं। विभिन्न शास्त्रों के आचार्यों की माने तो चार्वाक मत दर्शन की श्रेणी में नहीं माना जा सकता क्योंकि इस दर्शन में मात्र मधुर वचनों की आड़ में वंचना का ही कार्य किया गया है। यह बात और है कि यदि चार्वाक की सुनें तो वह भी विभिन्न शास्त्रज्ञों को वंचक ही घोषित करता है।

    एक ऐसे बृहस्पति का तैत्तरीय ब्राह्मण ग्रन्थ में वर्णन मिलता है जो गायत्री देवी के मस्तक पर आघात करता है गायत्री देवी को पद्म पुराण के अनुसार समस्त वेदों का मूल माना गया है। इस दृष्टि से यह बृहस्पति वेद का विरोधी माना जा सकता है। सम्भवत: वेद का विरोध प्रति पद करने के कारण इस बृहस्पति को चार्वाक दर्शन का प्रणेता भी माना जाना युक्तियुक्त होगा।

    विष्णु पुराण में भी बृहस्पति का प्रसंग प्राप्त होता है। बृहस्पति की इस मान्यता के अनुसार वैदिक कर्मकाण्ड बहुवित्त के व्यय एवं प्रयास से साध्य हे। विविध सुख के साधक ये वैदिक उपाय कुछ अर्थ लोलुप स्वार्थ केन्द्रित धूर्तों का ही विधान है। तार्किक बृहस्पति का भी कहीं कहीं वर्णन मिलता है। ये बृहस्पति वेद के अनुगामी तो अवश्य हैं पर तर्कसम्मत अनुष्ठानों का ही समर्थन करते हैं। इनकी दृष्टि से तत्त्व निर्णय शास्त्र पर आधारित अवश्य होना चाहिए परन्तु यह शास्त्रीय अनुसन्धान तर्क पोषित होना नितान्त आवश्यक है। तर्क विरहित चिन्तन धर्म के निर्धारण में कभी भी सार्थक नहीं हो सकता है।

    वात्स्यायन मुनि ने अपने विश्व प्रसिद्ध ग्रन्थ कामसूत्र में अर्थशास्त्र के रचयिता के रूप में बृहस्पति का उल्लेख किया है। बृहस्पति द्वारा विरचित अर्थशास्त्र के एक सूत्र के अनुसार शास्त्र के रूप में मात्र लोकायत को ही मान्यता दी गयी है। फलत: अर्थशास्त्र के प्रणेता बृहस्पति एवं लोकायत शास्त्र के प्रवर्त्तक में अन्तर कर पाना अत्यन्त दुरूह कार्य है। कुछ समालोचकों ने अर्थशास्त्र के एवं लोकायत शास्त्र के निर्माता को अभिन्न मानने के साथ-साथ कामसूत्रों के प्रणेता भी बृहस्पति ही हैं, यह माना है। यदि लौकिक इच्छाओं को पूर्ण करना ही चार्वाक दर्शन का उद्देश्य है तो कामशास्त्र के प्रवर्त्तक मुनि वात्स्यायन ही बृहस्पति हैं, यह मानना उपयुक्त ही है।

    कौटिल्य ने अर्थशास्त्र में लोकायत दर्शन का सहज प्रतिपादन किया है। इस प्रकार अर्थशास्त्र के रचनाकार कौटिल्य एवं लोकायत दर्शन के प्रणेता बृहस्पति एक ही हैं ऐसा माना जा सकता है। कोषकार हेमचन्द्र के अनुसार अर्थशास्त्र, कामसूत्र, न्यायसूत्र-भाष्य, पंचतन्त्र एवं चाणक्य नीति के रचयिता एक ही है।

    इतनी विवेचना के बाद जो बृहस्पति वैदिक वाङमय में विभिन्न प्रसंगों में चर्चित हैं उनके यथा क्रम नाम इस प्रकार स्पष्ट होते हैं। लौक्य बृहस्पति आंगिरस बृहस्पति देवगुरु बृहस्पति अर्थशास्त्र प्रवर्त्तक बृहस्पति कामसूत्र प्रवर्त्तक बृहस्पति वेदविनिन्दक बृहस्पति तार्किक बृहस्पति।

    पद्म पुराण के सन्दर्भ में अंगिरा ब्रह्मा के मानस पुत्र हैं। आंगिरस बृहस्पति अंगिरा के पुत्र एवं ब्रह्मा के पौत्र हैं। फलत: इनकी देवों में गणना होती है। इस प्रकार देव गुरु बृहस्पति एवं आंगिरस बृहस्पति में कोई भेद नहीं माना जा सकता। देवों की संरक्षा के लिए देवताओं के गुरु द्वारा असुरों को प्रदत्त उपदेश विभिन्न लोकों में आयत हो गया यह कथन देव गुरु बृहस्पति के सन्दर्भ में विश्वसनीय नहीं हो सकता। असुर अपने गुरु शुक्राचार्य के रहते देवगुरु के उपदेश को क्यों आदर देंगे? अत: देवगुरु से अतिरिक्त कोई चार्वाक दर्शन का प्रवर्त्तक होना अपेक्षित है। कुछ समालोचकों ने स्पष्ट रूप से स्वीकार किया है कि चार्वाक के गुरु बृहस्पति स्वर्ग के स्वामी इन्द्र के आचार्य विश्वविख्यात बृहस्पति नहीं हैं। ये बृहस्पति किसी राजकुल के गुरु हैं। ऐतिहासिक दृष्टि से देंखे तो वसिष्ठ, विश्वामित्र, द्रोणाचार्य आदि का किसी राजकुल का गुरु होना इस मान्यता को आधार भी दे रहा है।

    चार्वाक के सिद्धान्त जिस प्रकार आस्तिक दर्शनों में शंकर दर्शन शिरोमणि के रूप में स्वीकृत है उसी प्रकार नास्तिक दर्शनों में सबसे उत्कृष्ट नास्तिक के रूप में शिरोमणि की तरह चार्वाक दर्शन की प्रतिष्ठा निर्विवाद है। नास्तिक शिरोमणि चार्वाक इसलिए भी माना जाता है कि वह विश्व में विश्वास के आधार पर किसी न किसी रूप में मान्य ईश्वर की अलौकिक सर्वमान्य सत्ता को सिरे से नकार देता है। इनके मतानुसार ईश्वर नाम की कोई वस्तु संसार में नहीं है। नास्तिक शिरोमणि चार्वाक जो कुछ बाहरी इन्द्रियों से दिखाई देता है अनुभूत होता है, उसी की सत्ता को स्वीकार करता है। यही कारण है कि चार्वाक के सिद्धान्त में प्रत्यक्ष प्रमाण को छोड़ कर कोई दूसरा प्रमाण नहीं माना गया है। जिस ईश्वर की कल्पना अन्य दर्शनों में की गई है उसकी सत्ता प्रत्यक्ष प्रमाण से सम्भव नहीं है। इनके मत से बीज से जो अंकुर का प्रादुर्भाव होता है उसमें ईश्वर की भूमिका को मानना अनावश्यक एवं उपहासास्पद ही है। अंकुर की उत्पत्ति तो मिट्टी एवं जल के संयोग से नितान्त स्वाभाविक एवं सहज प्रक्रिया से सर्वानुभव सिद्ध है। इस स्वभाविक कार्य को सम्पन्न करने के लिए किसी अदृष्ट कर्त्ता की स्वीकृति निरर्थक है। ईश्वर को न मानने पर जीव सामान्य के शुभ एवं अशुभ कर्मों के फल की व्यवस्था कैसे सम्भव होगी? इस प्रश्न का समाधान करते हुए चार्वाक पूछता है कि किस कर्म फल की व्यवस्था अपेक्षित? संसार में दो प्रकार के कर्म देखे जाते हैं। एक लौकिक तथा दूसरा अलौकिक कर्म। क्या आप लौकिक कर्मों के फल की व्यवस्था के सम्बन्ध में चिन्तित हैं? यदि हाँ, तो यह चिन्ता अनावश्यक है। लौकिक कर्मों का फल विधान तो लोक में सर्व मान्य राजा या प्रशासक ही करता है। यह सर्वानुभव सिद्ध तथ्य, प्रत्यक्ष ही है। हम देखते हैं कि चौर्य कर्म आदि निषिद्ध कार्य करने वाले को उसके दुष्कर्म का समुचित फल, लोक सिद्ध राजा ही दण्ड के रूप में कारागार आदि में भेज कर देता है। इसी प्रकार किसी की प्राण रक्षा आदि शुभ कर्म करने वाले पुरुष को राजा ही पुरस्कार रूप में सुफल अर्थात धन धान्य एवं सम्मान से विभूषित कर देता है। यदि आप अलौकिक कर्मों के फल की व्यवस्था के सन्दर्भ में सचिन्त हैं तो यह चिन्ता भी नहीं करनी चाहिए। क्योंकि पारलौकिक फल की दृष्टि से विहित ये सभी यज्ञ, पूजा, पाठ तपस्या आदि वैदिक कर्म जन सामान्य को ठगने की दृष्टि से तथा अपनी आजीविका एवं उदर के भरण पोषण के लिए कुछ धूर्तों द्वारा कल्पित हुए हैं। वास्तव में अग्निहोत्र, तीन वेद, त्रिदण्ड का धारण तथा शरीर में जगह जगह भस्म का संलेप बुद्धि एवं पुरुषार्थ हीनता के ही परिचायक हैं। इन वैदिक कर्मों का फल आज तक किसी को भी दृष्टि गोचर नहीं हुआ है। यदि वैदिक कर्मों का कोई फल होता तो अवश्य किसी न किसी को इसका प्रत्यक्ष आज तक हुआ होता। अत: आज तक किसी को भी इन वैदिक या वर्णाश्रम-व्यवस्था से सम्बद्ध कर्मों का फल-स्वर्ग, मोक्ष, देवलोक गमन आदि प्रत्यक्ष अनुभूति नहीं है अत: ये समस्त वैदिक कर्म निष्फल ही हैं, यह स्वत: युक्ति पूर्वक सिद्ध हो जाता है।

    अदृष्ट एवं ईश्वर का निषेध यहाँ यदि आस्तिक दर्शन यह कहे कि परलोक स्वर्ग आदि को सिद्ध करने वाला व्यापार अदृष्ट या धर्म एवं अधर्म है जिससे स्वर्ग की सिद्धि होती है तो यह चार्वाक को स्वीकार्य नहीं है। अलौकिक अदृष्ट का खण्डन करते हुए चार्वाक स्वर्ग आदि परलोक के साधन में अदृष्ट की भूमिका को निरस्त करता है तथा इस प्रकार आस्तिक दर्शन के मूल पर ही कुठाराघात कर देता है। यही कारण है कि अदृष्ट के आधार पर सिद्ध होने वाले स्वर्ग आदि परलोक के निरसन के साथ ही इस अदृष्ट के नियामक या व्यवस्थापक के रूप में ईश्वर का भी निरास चार्वाक मत में अनायास ही हो जाता है। जीव एवं चैतन्य की अवधारणा

    जीव एवं चैतन्य की अवधारणा -चार्वाक चार्वाक मत में कोई जीव शरीर से भिन्न नहीं है। शरीर ही जीव या आत्मा है। फलत: शरीर का विनाश जब मृत्यु के उपरान्त दाह संस्कार होने के बाद हो जाता है तब जीव या जीवात्मा भी विनष्ट हो जाता है। शरीर में जो चार या पाँच महाभूतों का समवधान है, यह समवधान ही चैतन्य का कारण है। यह जीव मृत्यु के अनन्तर परलोक जाता है यह मान्यता भी, शरीर को ही चेतन या आत्मा स्वीकार करने से निराधार ही सिद्ध होती है। शास्त्रों में परिभाषित मोक्ष रूप परम पुरुषार्थ भी चार्वाक नहीं स्वीकार करता है। चेतन शरीर का नाश ही इस मत में मोक्ष है। धर्म एवं अधर्म के न होने से चार्वाक सिद्धान्त में धर्म-अधर्म या पुण्य-पाप को, कोई अदृश्य स्वर्ग एवं नरक आदि फल भी नहीं है यह अनायास ही सिद्ध हो जाता है।


    शरीरात्मवाद में स्मरण का उपपादन -चार्वाक चार्वाक मत में शरीर को ही आत्मा मान लेने पर बाल्यावस्था में अनुभूत कन्दुक क्रीडा आदि का वृद्धावस्था या युवावस्था में स्मरण कैसे होता है? यह एक ज्वलन्त प्रश्न सहज ही उठ खड़ा होता है। यहाँ यह नहीं कहा जा सकता कि बाल्यावस्था का शरीर, वृद्धावस्था का शरीर एवं युवावस्था का शरीर एक ही है। यदि तीनों अवस्थाओं का शरीर एक ही होता तो इन तीनों अवस्थाओं के शरीरों में इतना बड़ा अन्तर नहीं होता। अन्तर से यह स्पष्ट सिद्ध होता है कि शरीर के अवयव जो मांस पिण्ड आदि हैं इनमें वृद्धि एवं ह्रास होता है। तथा इन ह्रास एवं वृद्धि के कारण ही बाल्यावस्था के शरीर का नाश एवं युवावस्था के शरीर की उत्पत्ति होती है यह भी सिद्ध होता है। यदि यह कहें कि युवावस्था के शरीर में यह वही शरीर है, यह व्यवहार होने के कारण शरीर को एक मान कर उपर्युक्त स्मरण को उत्पन्न किया जा सकता है, तो यह कथन भी युक्तियुक्त नहीं हो सकता। क्योंकि यह वही शरीर है यह प्रत्यभिज्ञान तो स्वरूप एवं आकृति की समानता के कारण होता है। फलत: दोनों अवस्थाओं के शरीरों को अभिन्न नहीं माना जा सकता है। ऐसी स्थिति में पूर्व दर्शित बाल्य-काल के स्मरण को सम्पन्न करने के लिए चार्वाक बाल्यकाल के शरीर में उत्पन्न क्रीड़ा से जन्य संस्कार दूसरे युवा-काल के शरीर में अपने जैसे ही नये संस्कार पैदा कर देते हैं। इसी प्रकार युवावस्था के शरीर में विद्यमान संस्कार वृद्धावस्था के शरीर में अपने जैसे संस्कार उत्पन्न कर देते हैं। एतावता इन बाल्यावस्था के संस्कारों के उद्बोधन से चार्वाक मत में स्मरण बिना किसी बाधा के हो जाता है। अन्तत: चार्वाक दर्शन में शरीर ही आत्मा है यह सहज ही सिद्ध होता है। यदि शरीर ही आत्मा है तो चार्वाक से यह पूछा जा सकता है कि 'मम शरीरम्' यह मेरा शरीर है, ऐसा लोकसिद्ध जो व्यवहार है वह कैसे उत्पन्न होगा? इस व्यवहार से तो यह प्रतीत हो रहा है कि शरीर अलग है एवं शरीर का स्वामी कोई और है, जो शरीर से भिन्न आत्मा ही है। इस प्रश्न का समाधान करते हुए चार्वाक कहता है कि जैसे दानव विशेष के सिर को ही राहू कहा गया है, फिर भी जन-सामान्य 'राहू का सिर' यह व्यवहार बड़े ही सहज रूप में करता है, उसी प्रकार शरीर के ही आत्मा होने पर भी 'मेरा शरीर' यह लोकसिद्ध व्यवहार उपपन्न हो जायेगा। चार्वाकों में कुछ चार्वाक इन्द्रियों को ही आत्मा मानने पर इन्द्रिय के नष्ट होने पर स्मरण की आपत्ति का निरास नहीं हो पाता है। किन्हीं चार्वाकों ने प्राण एवं मन को भी आत्मा के रूप में माना है। शरीर ही आत्मा है यह सिद्ध करने के लिए चार्वाक इस वेद के सन्दर्भ को भी आस्तिकों के सन्तोष के लिए प्रस्तुत करता है। इस वेद वचन का तात्पर्य है कि 'विज्ञान से युक्त आत्मा इन भूतों से उत्पन्न हो कर अन्त में इन भूतों में ही विलीन हो जाता है। यह भूतों में शरीर स्वरूप आत्मा का विलय ही मृत्यु है।'


    The Necessity of Atheism. By Percy Bysshe Shelley. From the 1880 edition of The Works of Percy Bysshe Shelley in Verse and Prose, edited by H. Buxton Forman.



    THE

    NECESSITY

    OF

    ATHEISM.


    A CLOSE examination of the validity of the proofs adduced to support any proposition, has ever been allowed to be the only sure way of attaining truth, upon the advantages of which it is unnecessary to descant; our knowledge of the existence of a Deity is a subject of such importance, that it cannot be too minutely investigated; in consequence of this conviction, we proceed briefly and impartially to examine the proofs which have been adduced. It is necessary first to consider the nature of Belief.

    When a proposition is offered to the mind, it perceives the agreement or disagreement of the ideas of which it is composed. A perception of their agreement is termed belief, many obstacles frequently prevent this perception from being immediate, these the mind attempts to remove in order that the perception may be distinct. The mind is active in the investigation, in order to perfect the state of perception which is passive; the investigation being confused with the perception has induced many falsely to imagine that the mind is active in belief, that belief is an act of volition, in consequence of which it may be regulated by the mind; pursuing, continuing this mistake they have attached a degree of criminality to disbelief of which in its nature it is incapable; it is equally so of merit.

    The strength of belief like that of every other passion is in proportion to the degrees of excitement.


    The degrees of excitement are three.


    The senses are the sources of all knowledge to the mind, consequently their evidence claims the strongest assent.


    The decision of the mind founded upon our own experience derived from these sources, claims the next degree.


    The experience of others which addresses itself to the former one, occupies the lowest degree,--


    Consequently no testimony can be admitted which is contrary to reason, reason is founded on the evidence of our senses.


    Every proof may be referred to one of these three divisions; we are naturally led to consider what arguments we receive from each of them to convince us of the existence of a Deity.

    1st. The evidence of the senses.--If the Deity should appear to us, if he should convince our senses of his existence; this revelation would necessarily command belief;--Those to whom the Deity has thus appeared, have the strongest possible conviction of his existence.

    Reason claims the 2nd. place, it is urged that man knows that whatever is, must either have had a beginning or existed from all eternity, he also knows that whatever is not eternal must have had a cause.--Where this is applied to the existence of the universe, it is necessary to prove that it was created, until that is clearly demonstrated, we may reasonably suppose that it has endured from all eternity.--In a case where two propositions are diametrically opposite, the mind believes that which is less incomprehensible, it is easier to suppose that the Universe has existed from all eternity, than to conceive a being capable of creating it; if the mind sinks beneath the weight of one, is it an alleviation to increase the intolerability of the burden?--The other argument which is founded upon a man's knowledge of his own existence stands thus.---A man knows not only he now is, but that there was a time when he did not exist, consequently there must have been a cause.--But what does this prove? we can only infer from effects causes exactly adequate to those effects;---But there certainly is a generative power which is effected by particular instruments; we cannot prove that it is inherent in these instruments, nor is the contrary hypothesis capable of demonstration; we admit that the generative power is incomprehensible, but to suppose that the same effect is produced by an eternal, omniscient Almighty Being, leaves the cause in the same obscurity, but renders it more incomprehensible.

    The 3rd. and last degree of assent is claimed by Testimony---it is required that it should not be contrary to reason.---The testimony that the Deity convinces the senses of men of his existence can only be admitted by us, if our mind considers it less probable that these men should have been deceived, then that the Deity should have appeared to them---our reason can never admit the testimony of men, who not only declare that they were eye- witnesses of miracles but that the Deity was irrational, for he commanded that he should be believed, he proposed the highest rewards for faith, eternal punishments for disbelief---we can only command voluntary actions, belief is not an act of volition, the mind is even passive, from this it is evident that we have not sufficient testimony, or rather that testimony is insufficient to prove the being of a God, we have before shewn that it cannot be deduced from reason,---they who have been convinced by the evidence of the senses, they only can believe it.

    From this it is evident that having no proofs from any of the three sources of conviction: the mind cannot believe the existence of a God, it is also evident that as belief is a passion of the mind, no degree of criminality can be attached to disbelief, they only are reprehensible who willingly neglect to remove the false medium thro' which their mind views the subject.

    It is almost unnecessary to observe, that the general knowledge of the deficiency of such proof, cannot be prejudicial to society: Truth has always been found to promote the best interests of mankind.---Every reflecting mind must allow that there is no proof of the existence of a Deity. Q.E.D.

    http://terpconnect.umd.edu/~djb/shelley/necessity1880.html


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Add us to your address book


    http://www.hastakshep.com/donate-to-hastakshep

    https://www.facebook.com/hastakshephastakshep

    https://twitter.com/HastakshepNews


    आपको यह संदश इसलिए मिला है क्योंकि आपने Google समूह के "हस्तक्षेप.कॉम" समूह की सदस्यता ली है.
    इस समूह की सदस्यता समाप्त करने और इससे ईमेल प्राप्त करना बंद करने के लिए, hastakshep+unsubscribe@googlegroups.com को ईमेल भेजें.

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    इतिहास और वर्तमान का संबंध: रोमिला थापर

    Posted by Reyaz-ul-haque on 11/24/2015 09:41:00 PM




    प्रसिद्ध इतिहासकार और चिंतक रोमिला थापर से रणबीर चक्रवर्ती की इतिहास, समाज और संस्कृति पर बातचीत. साक्षात्कारकर्ता प्रो. रणबीर चक्रवर्ती सेंटर फॉर हिस्टॉरिकल स्टडीज़, जे एन यू में प्राचीन इतिहास के शिक्षक हैं। प्रस्तुत साक्षात्कार, अंग्रेज़ी पाक्षिक फ्रंटलाइन में प्रकाशित, रोमिला थापर के लंबे साक्षात्कार "लिंकिंग द पास्ट एंड द प्रेजेंट"का कुछ संपादित रूप है और यहां इसका पहला आधा हिस्सा प्रकाशित किया जा रहा है। अनुवाद: शुभनीत कौशिक। 

    रोमिला थापर, जो जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में प्रोफेसर एमेरिटस हैं, भारत के सबसे प्रसिद्ध इतिहासकारों में से एक हैं। आदिकालीन भारत के अपने व्याख्यापरक अध्ययनों के लिए उन्हें अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर ख्याति मिली है। उनके अनथक प्रयासों से आदिकालीन भारतीय इतिहास का अध्ययन समाज-विज्ञानों की ओर अधिक उन्मुख हुआ है। भारतीय उपमहाद्वीप के इतिहास का उनका विशद अध्ययन अतीत के अन्वेषण और व्याख्याओं से पूर्ण है, जो न सिर्फ़ साक्ष्यों में समृद्ध है बल्कि प्राचीन इतिहास के अध्ययन में समाज-विज्ञानों जैसे, समाज शास्त्र, राजनीति विज्ञान, सामाजिक एवं सांस्कृतिक मानव-विज्ञान, भूगोल आदि को भी जोड़ने के लिए विशिष्ट है। जिसका नतीजा हमारे सामने प्राचीन/आदिकालीन इतिहास के ऐसे अध्ययन के रूप में आया है, जिसमें महज़ राजवंशों के विवरण और तिथियों की जगह अतीत के अंतर्दृष्टिपूर्ण अध्ययन ने ली है। इस पूरी प्रक्रिया के दौरान, रोमिला थापर ने हमें बार-बार इन बातों की भी याद दिलाई है: इतिहासलेखन के बदलते पैटर्न, इतिहासकारों द्वारा उठाए जाने वाले सवालों का विश्लेषण, इतिहासकारों की प्रविधियाँ और अतीत के अध्ययन के प्रति उनके दृष्टिकोण, जो अक्सर ही वर्तमान से भी जुड़े होते हैं। रोमिला ने अपने अध्ययनों के जरिये यह भी दिखाया है कि कैसे अतीत के एक अध्ययन-विशेष का प्रभाव वर्तमान की सामाजिक, सांस्कृतिक एवं राजनीतिक दशाओं पर भी पड़ता है। 


    रोमिला थापर ने 1958 में लंदन विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ ओरियंटल एंड अफ्रीकन स्टडीज़ से, प्रो. ए एल बाशम के शोध-निर्देशन में पीएच-डी की उपाधि हासिल की। मौर्यकाल पर आधारित उनका यह शोध ग्रंथ बाद में, अशोक एंड द डिक्लाइन ऑव द मौर्याज़ शीर्षक से पुस्तक रूप में प्रकाशित हुआ। इस पुस्तक में प्राथमिक स्रोतों के आलोचनात्मक अध्ययन के आधार पर रोमिला थापर ने, अशोक और मौर्यकाल को उसके सामाजिक-आर्थिक, राजनीतिक और सांस्कृतिक संदर्भ में देखने का प्रयास किया। इस पुस्तक ने आदिकालीन भारत से जुड़े इतिहासलेखन पर अमिट छाप छोड़ी। एंशियंट इंडियन सोशल हिस्ट्री और इंटरप्रेटिंग अर्ली इंडिया जैसी उनकी किताबों ने प्राचीन भारत के सामाजिक इतिहास संबंधी अध्ययन में उल्लेखनीय योगदान दिया। 1980 के दशक में रोमिला थापर द्वारा आरंभिक राज्यों के अध्ययन ने (मसलन, फ़्राम लिनिएज़ टू स्टेटऔर मौर्याज़ रिविजिटेड), ऐतिहासिक अनुसंधान के नए क्षेत्र खोले। इन पुस्तकों में, उन्होंने राज्य-समाजों के निर्माण के लिए उत्तरदायी जटिल सामाजिक-राजनीतिक और वैचारिक कारकों को रेखांकित करते हुए आदिकालीन भारत में राज्यों के गठन के इतिहास को समझाने की कोशिश की। यद्यपि रोमिला थापर की मुख्य रुचि आदिकालीन भारत के सामाजिक इतिहास में रही है, फिर भी उन्होंने आर्थिक इतिहास से जुड़े विषयों, जैसे जंगलों, व्यापारिक श्रेणियों, और व्यापार पर भी प्रचुर लेखन किया है। 
     

    हालिया दशकों में, शकुंतला और सोमनाथ: मेनी वायसेज़ ऑव हिस्ट्री जैसी उनकी किताबों में सांस्कृतिक इतिहास के प्रति उनका रुझान स्पष्ट है (यद्यपि, यहाँ यह स्पष्ट करना ज़रूरी है कि सांस्कृतिक इतिहास, उत्तर-आधुनिक एवं उत्तर-औपनिवेशिक अध्ययनों से प्रभावित और उन्हीं से उपजे 'सांस्कृतिक अध्ययन'से कदाचित भिन्न है)। उनके अध्ययन का एक अन्य विशिष्ट क्षेत्र रहा है, इतिहास-पुराण की परंपरा का, आधुनिक विषय के रूप में इतिहास के साथ संबंध और इन दोनों का परस्पर तुलनात्मक अध्ययन। उन्होंने इस यूरोकेंद्रिक अवधारणा का भी सफलतापूर्वक खंडन किया कि आदिकालीन भारत में इतिहास का सेंस नहीं था और इसी प्रक्रिया में उन्होंने चक्रीय समय और रेखीय समय की अवधारणाओं का भी आलोचनात्मक विश्लेषण किया। 
    उनकी सर्वाधिक पढ़ी जाने वाली किताबों में अर्ली इंडिया: फ़्राम द ओरिजिंस टू एडी 1300 शामिल है, जो उनकी पहले लिखी गयी किताब, हिस्ट्री ऑव इंडिया खंड (I) का ही परिवर्धित रूप है। इस पुस्तक में जो बदलाव और संवर्धन उन्होंने किए हैं, वह नए आंकड़ों, व्याख्या के नए मॉडलों, और नए परिप्रेक्ष्यों को अपने अध्ययन में शामिल करने को लेकर उनके खुलेपन को दर्शाते हैं। इससे विषय के प्रति उनकी निष्ठा का भी पता चलता है और यह दर्शाता है कि इतिहासकार की धारणाओं और मान्यताओं में भी बदलाव आते हैं – जो इतिहास की सजीवता का परिचायक है। अतीत की सांप्रदायिक और दक़ियानूसी व्याख्याओं की बेबाक आलोचक, रोमिला थापर को इतिहास में उनके योगदान के लिए, क्लुग प्राइज़ फॉर लाइफ़टाईम अचीवमेंट से भी नवाजा जा चुका है। वे वर्ष 1983 में भारतीय इतिहास कांग्रेस की अध्यक्ष भी रह चुकी हैं। 
     

    इस साक्षात्कार में प्रो. रोमिला थापर बताती हैं कि कैसे अतीत – सुदूर और/या हालिया- वर्तमान से अंतरंग रूप से जुड़ा हुआ है। वे इस बात पर भी चर्चा करती हैं कि अतीत के किसी चरण-विशेष के अध्ययन के चुनाव को वर्तमान परिस्थितियाँ कैसे और किस हद तक प्रभावित और निर्धारित करती हैं। उनके ये वक्तव्य अतीत के अध्ययन के प्रति अधिक संवेदना और जागरूकता पैदा करने वाले हैं। वे सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के नाम पर अतीत के समरूपीकरण को लेकर हमें चेताती है और भारत के बहुलतावादी परम्पराओं पर ज़ोर देती हैं। वर्तमान को अधिक बेहतर समझने के दृष्टिकोण से, अतीत संबंधी अध्ययनों में नए सवाल उठाने को भी वे इस साक्षात्कार में बार-बार प्रोत्साहित करती हैं। 
     

    रणबीर चक्रवर्ती: आपकी हाल में आई किताब पास्ट एज़ प्रीजेंट पढ़ने पर ऐसा लगता है कि भारत में इतिहास के अध्ययन की दशा और इतिहास के प्रति बनी आम धारणा को लेकर आप थोड़ा दुखी हैं। इसे लेकर आप आशावादी नहीं दिखतीं। यद्यपि आप इसे लेकर निराश भी कतई नहीं हैं – जैसा आपने स्पष्ट ही लिखा है। इस बारे में बताएं।  

    रोमिला थापर: आपका सवाल यह है कि पिछले कुछ दशकों में भारत में एक विषय के रूप में इतिहास कहाँ पहुँचा है। मुझे स्पष्ट करने दें कि इतिहास के अध्ययन और उस पर चर्चा करने के दो स्तर रहे हैं। एक तो है, अकादमिक इतिहासकारों वाला स्तर जहां मैं समझती हूँ कि पिछले दशकों में इतिहासलेखन में उल्लेखनीय और प्रभावशाली प्रगति हुई है, कम-से-कम उन इतिहासकारों के कार्यों में जो बेहतर विश्वविद्यालयों और कॉलेजों से जुड़े हुए हैं। जब मैं इस मुद्दे पर विचार करती हूँ कि आज से पचास साल पहले इतिहास कैसे पढ़ाया जाता था, और उस समय इतिहासकारों को इतिहासलेखन को नयी दिशा की ओर उन्मुख करने में, जो संघर्ष करने पड़े, और इसकी तुलना जब आज इतिहास की दिशा-दशा से करती हूँ तो मुझे काफी बदलाव नजर आता है। यद्यपि ये बदलाव विश्वविद्यालयों में सार्वभौम नहीं रहे हैं। फिर भी, अब ऐसे इतिहासकार हैं जो इतिहास को बतौर समाज-विज्ञान ही नहीं देखते बल्कि उसके वैचारिक आधार को भी संज्ञान में लेते हैं। 
     

    पर इतिहास की एक दूसरी धारा भी है, जिसके बारे में मेरे विचार पहली धारा से बिलकुल विपरीत हैं। मेरा अभिप्राय है लोकप्रिय इतिहास (पापुलर हिस्ट्री) से, जिससे आम लोग अधिक परिचित हैं। इस धारा के अंतर्गत हो रहा लेखन या तो इतिहास ही नहीं है या है भी तो इसकी पद्धति लगभग एक सदी पिछड़ी हुई है। 'लोकप्रिय इतिहास'की इन किताबों में अक्सर बेतुके सवाल पूछे जाते हैं, अतीत के बारे में हर तरह का सामान्यीकरण किया जाता है, जो सामान्यतया इतिहास के बारे में ज्ञान के अभाव को ही दर्शाता है। लोक वृत्त में फैल रही इतिहास की यह धारा, जिसका प्रचार-प्रसार ऐसे लोगों द्वारा किया जा रहा है जो पेशेवर इतिहासकार नहीं हैं, कहीं-न-कहीं स्कूलों और कॉलेजों में पढ़ाये जा रहे इतिहास की पद्धति से भी जुड़ी हुई है। हम आज भी इतिहास की ऐसी समझ और इतिहास पढ़ाने की ऐसी पद्धति इस्तेमाल कर रहे हैं, जो पुरानी पड़ चुकी हैं। आज भी पूरा ज़ोर तिथियों और घटनाओं पर है और इतिहास को उन सूचनाओं के संकलन के रूप में देखा जा रहा है, जिसे छात्रों को कंठस्थ करना है। छात्रों को दिये गए इतिहास के नोट्स को देखकर किसी ने सही ही कहा कि वे बिलकुल टेलीफ़ोन डायरेक्ट्री की तरह दिखते हैं, जिसमें एक ओर संख्याएँ होती हैं और दूसरी ओर लोगों के नाम।
     

    इतिहास की पद्धति के बारे में.   

    यह दुखद है कि लोग आज भी यही सोचते हैं कि इतिहास अतीत के बारे में सूचना भर ही है। यह दृष्टिकोण, बतौर विषय इतिहास की सीमाओं को अत्यंत सीमित कर देने वाला है। इतिहास के शोध में हमारा ज़ोर महज़ ज्ञात स्रोतों से सूचनाएँ जुटाना ही नहीं है। बल्कि इसमें स्रोतों के नए प्रकारों की खोज करना, और अतीत को समझने और उसकी व्याख्या करने के लिए सूचनाओं का इस्तेमाल करने से पूर्व, पहले से कहीं अधिक सजग होकर साक्ष्यों की निर्भरता को जाँचना भी शामिल है। सूचनाएँ हासिल करने के लिए अतीत को खंगालने और फिर अतीत की व्याख्या करने के ये दो पक्ष, जोकि 'ऐतिहासिक पद्धति'का निर्माण करते हैं, आज अत्यंत ज़रूरी हो गए हैं।
     

    दुर्भाग्य से इस बात पर पर्याप्त ज़ोर नहीं दिया जा रहा है कि स्कूलों और कॉलेजों में यह पद्धति, छात्रों को कैसे पढ़ाई जाये। इस पद्धति का अनिवार्य पहला चरण है: आँकड़े और साक्ष्य जुटाना। दूसरा चरण है इन आँकड़ों की विश्वसनीयता को जांचना और यह सुनिश्चित करना कि इस्तेमाल किए जाने वाले साक्ष्य विश्वसनीय और निर्भर-योग्य हैं। तीसरा चरण, घटनाओं के बीच कार्य-कारण संबंधों को देखना है क्योंकि तार्किक विश्लेषण के लिए यह बहुत ज़रूरी है। अगले चरण में यह सुनिश्चित करना कि हर विश्लेषण आँकड़ों के आलोचनात्मक मूल्यांकन पर आधारित हो। लोकप्रिय इतिहास में अक्सर ही, वास्तविक तार्किक विश्लेषण की जगह फंतासियां ले लेती हैं। 
     

    इन चरणों से गुजरकर ही आप वह वक्तव्य दे सकते हैं, जिसे हम ऐतिहासिक सामान्यीकरण कहते हैं। आज इस पूरी प्रक्रिया से गुजरने की अपेक्षा इतिहास के हरेक छात्र से की जाती है। 
     

    तो आप यह सुझा रही हैं कि इतिहास और अतीत में शौकिया रुचि और अतीत की एक इतिहासकार की समझ में, जो तार्किक आधार पर सूचनाओं को एकत्र कर उनके पद्धतिगत व्याख्या से संभव होती है, काफी अंतर है।   

    हाँ, बिलकुल। यह बात सभी इतिहासों के संदर्भ में सही है। पर यह प्राचीन भारतीय इतिहास के संदर्भ में और भी जटिल है, अगर हम इस्तेमाल होने वाले स्रोतों के वैविध्यता को ध्यान में रखें। प्राचीन भारतीय इतिहास की दर्जन भर किताबें पढ़ लेना ही काफी नहीं है, इससे आप विशेषज्ञ नहीं हो जाते। आपको स्रोतों के बारे में पता होना चाहिए और यह भी कि उनका विश्लेषण कैसे करना है। स्रोतों की भाषाओं में भी आपकी दक्षता होनी चाहिए। आपको पुरातत्व, भाषा-विज्ञान की भी जानकारी होनी चाहिए। भाषा-विज्ञान के जरिये ही आप भाषाओं में आने वाले बदलावों, शब्द-भंडारों के निर्माण, व्याकरण के बारे में और भाषाओं के अलगाव और उनके बीच होने वाली अंतःक्रिया के संबंध में अधिक बेहतर समझ बना पाएंगे।
     

    उदाहरण के लिए, जब हम छात्र थे तो हमें यह बताया जाता था कि ऋग्वेद की भाषा इंडो-आर्यन भाषा ही है। पर आज यदि आप ऐसा वक्तव्य दें, तो वैदिक काल में विशेषज्ञता रखने वाले कुछ विद्वान इस कथन से जरूर अपनी असहमति जताएंगे क्योंकि भाषा-विज्ञान के सिद्धांतों के प्रयोग ने यह दर्शाया है कि ऋग्वेद में द्रविड़ भाषाओं के भी अंश सम्मिलित हैं। इन जानकारियों से इतिहासकार के प्रत्यक्षीकरण और स्रोतों के प्रति उसके दृष्टिकोण में भी बदलाव आते हैं। अब ऋग्वेद के संदर्भ में ही यह जानकारी इतिहासकार को ऐसे ऐतिहासिक संदर्भ के अध्ययन के लिए प्रेरित करती है, जो एकल संस्कृति का न होकर सह-अस्तित्व में विद्यमान उन संस्कृतियों का है, जिनमें एक का प्रभुत्त्व है। तो इतिहासकार को इन अन्य संस्कृतियों के बारे में भी जानकारी जुटानी होगी और उनका अध्ययन करना होगा। इतिहासकार को नदियों के जल तंत्र के अध्ययन (हाइड्रोलॉजी) और आनुवंशिकी के अध्ययन और रिपोर्टों से मिलने वाली जानकारियों का समावेश भी अपने अध्ययन में करना होगा। 
     

    साक्ष्य से जुड़े इन पक्षों की चर्चा मैं इसलिए कर रही हूँ ताकि मैं यह समझा सकूँ कि इतिहास से जुड़े सवालों के जवाब, यह ज़रूरी नहीं कि हमेशा हाँ या ना में ही हों। क्योंकि इतिहास से जुड़े साक्ष्य वैविध्यता से भरे हुए और विवादित दोनों हो सकते हैं (इस कारण भी मुझे लगता है कि इतिहास में वस्तुनिष्ठ सवाल पूछे जाने का कोई मतलब नहीं बनता)। इतिहासकार को अपनी व्याख्याओं की तार्किकता पर निर्भर रहना होगा। यह भी कि साक्ष्यों में बदलाव होने पर इन व्याख्याओं में भी बदलाव हो सकते हैं। ऐतिहासिक व्याख्याएँ, एक निश्चित समय-बिन्दु पर एक विषय से संबंधित ज्ञान-विशेष की मात्रा पर भी निर्भर होती हैं। ऐसी व्याख्याओं पर प्रयोजन-विशेष के उद्देश्य से एक खास रंग भी चढ़ सकता है।   
     

    अब मैं आपका ध्यान एक व्यापक मुद्दे की ओर आकर्षित करना चाहूँगा। वह यह कि आम लोगों के समक्ष कई बार कुछ समूहों द्वारा इतिहास और अतीत का एक समरूपी संस्करण प्रस्तुत किया जाता है। हम जानते हैं कि अतीत घटनाओं का समरूपी प्रस्तुतीकरण भर नहीं है। आप कह रही थीं कि ऋग्वेद में सिर्फ़ इंडो-आर्यन भाषा ही नहीं है! यह एक भाषा में रचा हुआ ग्रंथ नहीं है, इसमें अनेक भाषाएँ शामिल हैं जो विविध संस्कृतियों के अस्तित्व की ओर भी इशारा करती हैं। 
     

    एक अंतर तो विद्वत्ता के राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी है। प्राचीन भारत पर काम करने वाले विद्वानों का मानना है कि आर्य भाषा मध्य एशिया से ईरान होते हुए भारत पहुँची। पर अब भारत में कुछ लोगों द्वारा इस दृष्टिकोण का प्रचार किया जा रहा है कि आर्यभाषा भाषी भारत के स्थानीय निवासी ही थे। कुछ तो हड़प्पा सभ्यता के निवासियों को भी आर्य साबित करते हुए यह सुझाना चाहते हैं कि भारतीय सभ्यता की उत्पत्ति में कोई गैर-आर्य तत्त्व था ही नहीं! यह ऐसा तर्क है जो मुझे विभिन्न कारणों से कतई स्वीकार नहीं। भाषाई और पुरातात्विक आधार पर भी यह किसी तरह से संभव नहीं जान पड़ता। हम कहते हैं कि ऋग्वैदिक संस्कृति उत्तर-हड़प्पाकालीन थी, तो जाहिर है कि इसका मतलब हुआ कि इसमें इसकी पूर्वतर संस्कृति परिलक्षित नहीं होगी। हड़प्पा संस्कृति का संपर्क ओमान और मेसोपोटामिया से था, जिनका जिक्र ऋग्वेद में नहीं मिलता। ईसा पूर्व की तीसरी सहस्राब्दी के अंत और दूसरी सहस्राब्दी के आरंभ में, हड़प्पा संस्कृति अन्य समकालीन गैर-हड़प्पाई संस्कृतियों के साथ अस्तित्व में थी। दूसरी सहस्राब्दी के मध्य से अंत तक, जो ऋग्वेद का रचनाकाल भी माना जाता है, अनेक संस्कृतियों की मौजूदगी की जानकारी मिलती है। जैसे, चित्रित धूसर मृदभांड (पेंटेड ग्रे वेयर) संस्कृति, काला एवं लाल मृदभांड (ब्लैक एंड रेड वेयर) संस्कृति, महापाषाणकालीन (मेगालिथिक) संस्कृति आदि। यह एकल संस्कृतियाँ नहीं हैं, इनमें विविधता भरी हुई है। अपने प्रसार और विस्तार के क्रम में आर्यभाषा भाषी, इन संस्कृतियों के संपर्क में ज़रूर आए होंगे। यह भी याद रखना चाहिए कि जहां एक ओर हड़प्पा संस्कृति एक विकसित नगरीय संस्कृति थी, जो लिखने की कला से भी परिचित थी, वहीं दूसरी ओर ऋग्वेद कालीन समाज नगरीकरण से अपरिचित एक कृषि आधारित समाज था।         
     

    पर इस सबके बावजूद आज एक "परिशुद्ध आर्यवाद" (सेनीटाइज्ड आर्यानिज़्म) गढ़ने की कोशिश की जा रही है, जिसमें सब कुछ सरलीकृत होगा और जिसका स्रोत भी बस एक होगा। और समस्या की सारी जटिलताओं को दरकिनार कर दिया जाएगा। 
     

    ऋग्वेद में दक्षिणी प्रायद्वीप की महापाषाणकालीन (मेगालिथिक) संस्कृति का भी कोई उल्लेख नहीं मिलता। 
     

    हाँ, ऋग्वेद में इस रूप में महापाषाणकालीन (मेगालिथिक) संस्कृति का जिक्र नहीं है। पर इस टेक्स्ट में अन्य समूहों की चर्चा जरूर की गयी है, जैसे असुर, दास, दस्यु आदि। ऋग्वेद दो वर्णों की चर्चा करता है – आर्य और दास। 'दास'कौन थे? उनके बारे में ऋग्वेद में जो विवरण मिलता है वह यह है कि वे उन कर्मकांडों और रीति-रिवाजों को मानने वाले थे, जो आर्यों से भिन्न थे। 'दास'अलग देवताओं की उपासना करते थे, और वे वैदिक ग्रंथों के लेखकों की भाषा से भिन्न भाषाएँ बोलते थे। वे समृद्ध थे, मवेशियों के रूप में उनकी संपत्ति ईर्ष्या का विषय थी और वे अलग बसावटों में रहते थे। इसलिए कुछ विद्वान यह भी सोचते हैं कि वे अलग संस्कृति के थे। इतिहासकार के रूप में हमें यह सवाल करना होगा कि 'दास कौन थे'और उनका मिथकीकरण क्यों किया गया?
     

    इसी तरह 'दासी-पुत्र ब्राह्मणों'का भी उल्लेख मिलता है। जिन्हें पहले तो अस्वीकार्य माना गया, पर बाद में जब इन लोगों ने अपनी शक्ति दिखाई तो उन्हें ब्राह्मण के रूप में स्वीकार कर लिया गया। 'दासी-पुत्र ब्राह्मण'स्वयं में ही एक विरोधाभाषी शब्द है क्योंकि 'दासी-पुत्र' (यानि एक दासी से उत्पन्न हुआ पुत्र) होना और ब्राह्मण की हैसियत दोनों में विरोध भाव है। वैदिक ग्रंथों में इस बात का उल्लेख मिलता है कि देवों और असुरों में अक्सर संघर्ष होते रहते थे। यह एक स्तर पर मिथक है, पर यह मिथक भी तत्कालीन समाज की अवधारणाओं से बिलकुल अलग नहीं है। इतिहासकारों के मत में, वैदिक ग्रंथों में उत्तर-हड़प्पा काल से लेकर ईसापूर्व पाँचवी सदी के ऐतिहासिक नगरों के रूप में नगरीय संस्कृति के उदय तक का उल्लेख मिलता है। ऐसी स्थिति में क्या यह कहना संभव है कि ये वैदिक ग्रंथ संस्कृति के एक पैटर्न के उद्विकास के परिचायक भर हैं! पाँच हजार वर्षों के ऐतिहासिक गतिविधियों के बाद भी आज हम विविध संस्कृतियों के अस्तित्व के साक्षी हैं। 
     

    यह न तो एकल संस्कृति थी न एकाश्मी, यह तो संस्कृति के विविध समुच्चयों का संयोग थी। पर समरूपीकरण की इस प्रक्रिया में कहीं-न-कहीं यह दावा भी निहित है कि 'हमारी सभ्यता अन्य सभ्यताओं से श्रेष्ठ है'।   
     

    एक प्रचलित तर्क यह भी है कि आर्य मूल रूप से भारत के ही निवासी थे और भारत से ही वे दुनिया के अन्य हिस्सों में गए और यूरोप में भी सभ्यता लेकर आर्य ही गए। इस सिद्धांत की खोज की गयी 19वीं सदी में, पर यह आज भी उतना ही लोकप्रिय है। सबसे पहले अमेरिका के थिओसोफिस्ट, कर्नल हेनरी एस ओलकाट ने इसे प्रतिपादित किया और यह सिद्धांत थिओसोफिस्टों ने अपना लिया। यद्यपि थिओसोफिस्ट कुछ समय के लिए आर्य समाज के निकट थे, पर स्वयं आर्य समाज के संस्थापक दयानन्द सरस्वती का मानना था कि आर्य तिब्बत से आए थे। 
     

    ये वे सिद्धांत हैं जो भारत के प्राचीनतम अतीत से जुड़े ऐतिहासिक विवादों से गहरे जुड़े हुए हैं। इनकी शुरुआत 19वीं सदी में हुई। हमें यह भी ध्यान में रखना होगा कि यह वही समय था जब 'नस्ल विज्ञान'के अधीन यूरोपीय सर्वोच्चता पर, आर्य उत्पत्ति को आधार बनाकर चर्चा की जा रही थी। इनमें से कुछ सिद्धांत, बीसवीं सदी के यूरोप में 'आर्यवाद'को विनाशकारी दिशा की ओर ले गए। अतिरेक राष्ट्रवाद और अस्मिता की राजनीति के साथ ऐतिहासिक सिद्धांतों की जुगलबंदी के भयानक नतीजे हो सकते हैं, इसलिए यह ज़रूरी है इन सिद्धांतों पर चर्चा की जाए। 
     

    उन सवालों को, जिन पर ऐतिहासिक रूप से मतभेद है, वैसे ही सवाल या मुद्दे के रूप में देखा जाना चाहिए, जिन पर विद्वान अलग-अलग मत रख सकें और उनमें से हरेक का दृष्टिकोण साक्ष्यों के आधार पर आँका जाए। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि भारत में 'आर्यों'का मुद्दे पर इतना अधिक राजनीतिकरण हो चुका है कि जो विद्वान 'आर्यों के भारत में ही उत्पन्न होने'की अवधारणा पर सवाल उठाते हैं, उन्हें सोशल मीडिया और इंटरनेट का गुस्सा और अपमान झेलना पड़ता है। ऐसी स्थिति ऐतिहासिक परिचर्चा और वाद-विवाद-संवाद की संभावना को घटा देती है।
     

    क्या आपको लगता है कि भारत की राजनीतिक संस्कृति में एक रुझान तेजी से बढ़ रहा है जिसमें अतीत को समरूपी बनाने और अतीत तथा वर्तमान के बीच एक निर्बाध निरंतरता दिखाने की कोशिश हो रही है।  
     

    अतीत को विविध संस्कृतियों की जटिल अंतःक्रिया के रूप में देखा जाना चाहिए न कि एक सरलीकृत एकल संस्कृति के प्रभुत्त्व के रूप में। पर कुछ लोग अतीत को इसके जटिल रूप में देखना ही नहीं चाहते, वे इससे डरते हैं। हमारे अंदर यह आत्मविश्वास भी नहीं है कि हम अपनी संस्कृतियों को ऐसी संस्कृति के रूप में स्वीकार कर सकें, जिसकी उत्पत्ति विविध स्रोतों से हुई है और जो सदियों में विकसित हुई है और आगे ऐसे ही विकसित होगी। यह बात विश्व की अन्य संस्कृतियों के बारे में भी सच है। इतिहास के हर कालखंड ने संस्कृति-विशेष के उद्विकास को देखा है और हर समय में एकाधिक महत्त्वपूर्ण संस्कृतियाँ विद्यमान रही हैं। इतिहासकार के रूप में हमें इन संस्कृतियों के बीच समानताओं, विभेदों और उनमें होने वाली परस्पर अंतःक्रिया का अध्ययन करना होगा। 
     

    पर कुछ ऐसे लोग हैं जो चाहते हैं कि राष्ट्रवाद एक ही प्रभुत्वशाली संस्कृति पर आधारित हो, और जो अपनी संस्कृति मात्र को ही देश की सार्वकालिक राजनीतिक अस्मिता के तौर पर देखना चाहते हैं। समस्या की शुरुआत तभी होती है क्योंकि हम एक बहुलतावादी संस्कृतियों के समाज में रह रहे हैं।
     

    इस सांस्कृतिक राष्ट्रवाद में क्या राष्ट्रीकृत संस्कृति (नेशनलाइज्ड कल्चर) शामिल नहीं है? दूसरे शब्दों में, यह दावा कि केवल एक तरह की संस्कृति भारत में है और सब कुछ समरूप है और था।
     

    सांस्कृतिक राष्ट्रवाद के निर्माण की प्रक्रिया की जड़ संस्कृति के औपनिवेशिक व्याख्याओं में है, बजाय कि संस्कृति के उन व्याख्याओं में जो प्राक-औपनिवेशिक काल में मौजूद थीं। हमें इस बात पर विचार करना चाहिए कि अलग-अलग समयों में, मसलन मौर्य काल, गुप्त काल, चोल युग, मुग़लों के समय में संस्कृति को किस रूप में देखा गया और उसे कैसे परिभाषित किया गया। हम इस मुद्दे पर सोचने से शायद इसलिए कतराते हैं क्योंकि इसकी पुनर्रचना करना आसान नहीं है। पर वे सभी देश, जो कभी उपनिवेश रहे हैं, उन्हें यह बात विचारनी होगी कि जिस रूप में आज वे अपनी पारंपरिक संस्कृति को स्वीकार कर रहे हैं, उसमें से कितना कुछ औपनिवेशिक परियोजना का रचा हुआ और औपनिवेशिक मान्यताओं का अंश है। यह बात जितनी भारत के लिए सच है उतनी ही इंडोनेशिया के लिए भी। और पेरू और मेक्सिको जैसे देशों के लिए तो और भी ज्यादे, जहाँ के पुराने दस्तावेजों को स्पेनिश आक्रमणकारियों ने जला दिया था। 
     

    इतिहास हमें बताता है कि परम्पराएँ पीढ़ी-दर-पीढ़ी या कुछ विशेष अवसरों पर रची जाती हैं। इसलिए यह कहना बिलकुल निराधार है कि एक खास समकालीन परंपरा पूर्णतः शुद्ध है और उसका इतिहास सहस्राब्दियों पीछे तक जाता है। वे परम्पराएँ भी, जिनका लंबा इतिहास होता है, समय-समय पर खुद में बदलावों का दौर देखती हैं। 
     

    यही बात शब्दों के इतिहास पर भी लागू होती है। अगर कोई संस्कृत, पालि और प्राकृत ग्रंथों में 'आर्य'शब्द के उल्लेख का अध्ययन करे, और यह समझने की कोशिश करे कि कैसे इतिहास में 'आर्य'शब्द का अर्थ और अस्मिता समय-समय पर बदले हैं। तो वह इस निष्कर्ष पर पहुंचेगा कि 'आर्य'शब्द का यह जटिल इतिहास, 19वीं सदी में की जा रही 'आर्य'शब्द की व्याख्याओं से कदाचित भिन्न है। इस अध्ययन के दौरान इतिहासकार को यह भी देखना होगा कि संस्कृत, पालि और प्राकृत टेक्स्ट में कौन किसे 'आर्य'संबोधित कर रहा है, और क्यों। इस शब्द का इस्तेमाल कैसे किया जा रहा है? पालि टेक्स्ट में हम पाएंगे कि 'आर्य'वह है जो श्रद्धेय है, जैसे एक बौद्ध संन्यासी, और इसका उसकी जाति, उत्पत्ति या पूर्व-व्यवसाय से कोई लेना-देना नहीं है। 
     

    देशज आर्यवाद (इंडीजेनस आर्यानिज़्म), कुछ अंशों में, धार्मिक राष्ट्रवाद का ही सह-उत्पाद है। धार्मिक राष्ट्रवाद संस्कृतियों की बहुलता को स्वीकार नहीं करता। यह एक धार्मिक संस्कृति को मुख्य 'राष्ट्रीय'संस्कृति बनाने की पुरजोर कोशिश करता है। दुनिया भर में राष्ट्रवाद का यह एक प्रमुख लक्षण रहा है, चाहे वह उपनिवेशवाद-विरोधी राष्ट्रवाद हो या भाषाई, धार्मिक या नृजातीय राष्ट्रवाद हो। राष्ट्रीय आंदोलनों में भी एक संस्कृति की सर्वोच्चता को स्वीकारने की प्रवृत्ति होती है, और यही संस्कृति 'राष्ट्रीय'संस्कृति बन जाती है। 
     

    धार्मिक राष्ट्रवाद एक धर्म, संस्कृति, भाषा आदि के सबसे अलग होने को रेखांकित करता है। यह अक्सर, राजनीतिक समर्थन हासिल करने के लिए जान-बूझकर गढ़ा जाता है, जैसा हिंदुत्व के उदाहरण में हमें स्पष्ट दिखता है। जैसा कि बहुत-से विद्वानों ने कहा है कि 'हिंदुइज़्म'और हिंदुत्व दोनों एक ही चीज नहीं हैं।'हिंदुइज़्म'एक धर्म है, जबकि हिंदुत्व एक राजनीतिक विचारधारा। हिंदुत्व एक आधुनिक विचारधारा है जो कुछ बातें तो ज़रूर 'हिंदुइज़्म'से लेती है, पर यह 'हिंदुइज़्म'से बहुत अलग है। हिंदुत्व की अवधारणा 20वीं सदी में अस्तित्त्व में आई, और इसका उद्देश्य था - हिन्दू राष्ट्र के निर्माण के लिए हिंदुओं को राजनीतिक रूप से संगठित करना। धर्म पर आधारित विचारधारा के निर्माण में ज़रूरत पड़ने पर धर्म की आधारभूत बातों को भी फिर से रचा जा सकता है। यह पुनर्रचना अक्सर धर्म के अभिजात्य और पुरातनपंथी अनुयायियों को ध्यान में रखकर की जाती है। हिंदुत्व एक निश्चित भू-भाग, एकल संस्कृति और नृजातीय उत्पत्ति, एक भाषा और एक धर्म की बात करता है। यह हिंदुओं की साझी 'पुण्यभूमि, पितृभूमि'की भी बात करता है और अन्य सभी को विदेशी बतलाता है। हिंदुत्व अपने धार्मिक पक्ष में, सामी (सेमिटिक) धर्मों की रूपरेखा का ही अनुसरण करता है, मसलन, 'ऐतिहासिकता'पर ज़ोर और एकाश्मी (मोनोलिथिक) धर्म, एक पवित्र ग्रंथ, चर्च जैसे धार्मिक संगठन। गौरतलब है कि ये बातें सामाजिक और राजनीतिक संगठन में सहायक होती हैं। इसीलिए मैंने इसे 'सिंडिकेटेड हिंदुइज़्म'कहा है। 
     

    हाँ।                         
     

    कई बार राष्ट्रीय संस्कृतियाँ उन महाकाव्यों (एपिक) को भी आधार बनाती हैं, जिनसे बहुसंख्यक लोग परिचित होते हैं। जब किसी महाकाव्य के बहुत से संस्करण होते हैं तो समस्या हो जाती है क्योंकि फिर 'राष्ट्रीय संस्कृति'के निर्माण के लिए उनमें से एक 'सही'संस्करण का चुनाव करना होता है। जैसे भारत में रामायण के बहुत-से और विरोधाभासी संस्करण मौजूद हैं। पर धार्मिक राष्ट्रवाद को तो उनमें से किसी एक को ही 'सही'संस्करण के रूप में प्रोजेक्ट करना है – अब जाहिर है कि इतिहासकार इस पूरे प्रयास को ही अस्वीकार्य मानेंगे। एक टेक्स्ट जो 'पवित्र ग्रंथ'बन जाता है, असल में एक क्षेत्र के एक समुदाय के लिए रचा गया होता है। पर अलग-अलग कारणों से अन्य क्षेत्रों के लोगों द्वारा भी उस टेक्स्ट के स्वीकार्य हो जाने की स्थिति में, उस क्षेत्र के लोगों द्वारा उस टेक्स्ट में, या उसके कुछ भागों में अपनी ज़रूरत के हिसाब से आवश्यक बदलाव किए जाते हैं। 
     

    कई बार इतिहास के एक काल-विशेष को चुनकर उसे 'क्लासिकल'बताया जाता है, जिसके अंतर्गत उस समय में एकल प्रभुत्वशाली संस्कृति होने और सब कुछ सकारात्मक होने की अतिशयोक्तिपूर्ण बातें कही जाती हैं। यह राष्ट्रीय आंदोलन का भी केंद्रीय विचार ('कोर आईडिया') बन जाता है। पर असल समस्या तब पैदा होती है जब राष्ट्र-राज्य अस्तित्व में आता है, क्योंकि यह एकल संस्कृति अक्सर प्रभुत्वशाली बहुसंख्यक समुदाय की ही संस्कृति होती है। पर अब इस एकल संस्कृति की अवधारणा की ज़रूरत नहीं रह जाती चूँकि राष्ट्र एक धर्मनिरपेक्ष लोकतन्त्र बन चुका होता है, या वैसा बनने की कोशिश कर रहा होता है। अन्य संस्कृतियाँ भी समान दर्जे की मांग करने लगती हैं। 
     

    और यदि कोई 'राष्ट्रीय संस्कृति'की बात कर रहा है तो स्पष्ट है कि इसमें देश की सभी संस्कृतियों का समावेश होना चाहिए – मसलन, आदिवासी, दलित, मुस्लिम, ईसाई, सिख, जैन, पारसी आदि। 'राष्ट्रीय संस्कृति'के निर्माण में बहुलता और विविधता तथा साझे इतिहास का भी ध्यान रखा जाना चाहिए। 
     

    आज हम संस्कृति के एक खास पक्ष को ही, उस संस्कृति-विशेष का परिचायक बताने का रुझान बढ़ता हुआ देख रहे हैं। यह कोशिश उन लोगों द्वारा की जा रही है जो या तो शक्तिशाली समूह का हिस्सा हैं या किसी तरह की सत्ता/शक्ति पाने की आकांक्षा रखते हैं। और सत्ता की इस आकांक्षा में कोई सांस्कृतिक संदेश या अभिव्यक्ति जैसी बात नहीं है, यह तो महज राजनीतिक सत्ता की आकांक्षा भर है। इससे इतिहास को भी नुकसान पहुँच रहा है।   
     

    हाँ, इस पूरी प्रक्रिया में इतिहास को ज़रूर नुकसान पहुँच रहा है। इस बात के बावजूद कि आज इतिहासकार अतीत को इसकी विविधताओं में समझने की कोशिश कर रहे हैं। इसका मतलब यह है कि जब तक कि वह एक समुदाय-विशेष का ही इतिहास न लिख रहा हो, तब तक इतिहासकार को चाहिए कि वह अन्य समुदायों की उपेक्षा करते हुए एक ही समुदाय पर ध्यान न केन्द्रित करे। क्योंकि अतीत की इस विविधता में भी एक-दूसरे से अलग प्रतीत होने वाली इन बातों को, जोड़ने वाले संपर्क सूत्र मौजूद होते हैं। 
     

    19वीं सदी के सामाजिक धार्मिक सुधार आंदोलनों ने, कुछ सीमा तक ही सही, भारतीय धर्मों के प्रारूप में बदलाव लाये। 20वीं सदी में जब विद्वानों ने बदलाव की इस प्रक्रिया को समझने और इसे समर्थन देने वाले सामाजिक समूहों को पहचानने और समझने की कोशिश की, तो उन्होंने अपना ध्यान उच्च जतियों पर ही केन्द्रित किया। यद्यपि वे अन्य जातियों का भी संदर्भ देते थे, पर उनका मुख्य ज़ोर उच्च जातियों पर ही था। कुछ इतिहासकारों ने अलग-अलग सामाजिक समूहों के राष्ट्रवादी उन्मुखता पर काम करना शुरू किया। सबआल्टर्न स्टडीज़ में इसकी शुरुआत हुई, जिसने लोगों का ध्यान अपनी ओर खींचा। जल्द ही यह बात भी पता चल गयी कि 'निम्न'माने जाने वाले सामाजिक स्तरों ने भी, मसलन, दलित एवं आदिवासी, राष्ट्रीय आंदोलन में अलग-अलग तरीकों से भागीदारी की। 
     

    इन अध्ययनों में दूसरे किस्म के भी सवाल पूछे गए, जैसे किन समूहों ने राष्ट्रवाद को धार्मिक राष्ट्रवाद में तब्दील किया, जिसका नतीजा हम वर्तमान में अस्मितापरक राजनीति के रूप में भी देख रहे हैं। और किन समूहों ने इस प्रक्रिया का विरोध, यह कहते हुए किया कि राष्ट्रवाद को धर्मनिरपेक्ष होना चाहिए। तो इस तरह 'राष्ट्रवाद'से जुड़े दावों और अवधारणाओं का विधिवत अध्ययन शुरू हुआ। 
     

    पर ये अध्ययन अपने प्रभावशीलता में अकादमिक दुनिया तक ही सीमित रहे, इसका लोकप्रिय स्तर पर कोई खास प्रभाव नहीं दिखा। कारण यह कि राष्ट्रवाद के इन विश्लेषणात्मक और आलोचनापरक अध्ययनों को, नेताओं और जनता के द्वारा इन विद्वानों में 'देशभक्ति के अभाव'के रूप में देखा गया। इसलिए मेरा मानना है कि यदि हमें "धार्मिक राष्ट्रवाद"और "सेकुलर (धर्मनिरपेक्ष) राष्ट्रवाद"में फर्क करना है तो हमें सेकुलरवाद की एक स्पष्ट परिभाषा की भी जरूरत होगी। 
     

    इस तरह, उत्तर-औपनिवेशिक भारत में धर्मनिरपेक्षता की समझ बनाने के क्रम में विविध संस्कृतियों और बहुलतावाद को संज्ञान में लेना अनिवार्य हो जाता है। इसमें एक समस्या तो, 'सेकुलरवाद'शब्द के हमारे प्रयोगों को लेकर ही है। सेकुलरवाद का भारतीय दृष्टिकोण, आमतौर पर केवल धर्मों के सह-अस्तित्व की ही बात करता है। पर मैं इस दृष्टिकोण को अपर्याप्त समझती हूँ। अक्सर इस संदर्भ में, अशोक के शिलालेखों को उद्धृत किया जाता है, जिनमें अशोक ने सभी पंथों (सेक्ट्स) को एक-दूसरे का सम्मान करने और, विशेषतया, अन्य लोगों के पंथ का भी आदर करने की बात कही है। हालिया समय में, अक्सर यह कहा जाता है कि भारतीय सभ्यता ऐसी सभ्यता है, जिसमें हर धर्म का आदर किया जाता था और किया जा रहा है। यह कहना भर काफी नहीं है कि सभी धर्मों के सह-अस्तित्व का मतलब है एक सेकुलर समाज। बल्कि हमें इसके साथ ही सभी धर्मों के बराबरी के दर्जे पर, उनकी एक समान हैसियत पर भी ज़ोर देना होगा। जब हम धर्मों को एक 'बहुसंख्यक समुदाय'और 'अल्पसंख्यक समुदाय'से जोड़ते हैं, जैसा कि हम अक्सर ही करते हैं, तो हमारे द्वारा किया गया यह अंतर धर्मों के बराबरी के दर्जे के अभाव को भी मान्यता देता है। 
     

    कुछ विद्वानों ने कई बार यह कहा है कि 'भारतीय समाज को सेकुलर बनाने और धर्म से अलग करने की सीमाएं हैं'। मेरा यह कहना है कि इसी अर्थ में धर्म की भी सीमाएं हैं, यानि राजनीति और समाज तथा इनसे संबंधित संस्थाओं को प्रभावित करने वाला एकमात्र कारक धर्म ही नहीं हो सकता। समाज की अस्मिता 'खुली/मुक्त अस्मिता' (ओपन आइडेंटिटी) होनी चाहिए।
     

    क्या आपका तात्पर्य 'बहु-अस्मिताओं' (मल्टीपल आइडेंटिटीज़) से है?    
     

    "ओपन आइडेंटिटी"शब्द का इस्तेमाल मैं इसलिए कर रही हूँ क्योंकि एक सच्चे लोकतन्त्र में एक स्थायी बहुसंख्यक समुदाय या अस्मिता का वर्चस्व नहीं हो सकता। हर बदलते मुद्दे के साथ, 'बहुसंख्यक'समूह की अवधारणा, उसका स्वरूप और गठन भी बदल जाता है। इसलिए 'बहुसंख्यक'/बहुमत' (मेजोरिटी) की अवधारणा, कोई पूर्व-निर्धारित अवधारणा नहीं है। यह एक प्रवाहमान तरल (फ्लुइड) अवधारणा है और लोकतंत्र में ऐसा ही होना चाहिए। जब हम लोकतंत्र और धर्मनिरपेक्षता की बात करते हैं, तो हम एक ऐसी व्यवस्था के बारे में बात कर रहे होते हैं, जिसमें बहुतेरी अस्मिताएं सह-अस्तित्व में तो होती ही हैं, वे प्रवाहमान और वैविध्यतापूर्ण भी होती हैं। यह ध्यान रखना चाहिए कि एक धर्मनिरपेक्ष समाज में, ये अस्मिताएं कोई वर्चस्वशाली धार्मिक अस्मिताएं नहीं हैं। 
     

    हम भारतीय, अतीतकाल से ही खुद के अत्यंत सभ्य और सहिष्णु होने के दावे करते हैं। पर हम 'अछूतों'के साथ किए गए अमानवीय व्यवहार, जिसमें उन्हें अधिकार, प्रतिष्ठा और मानव-अस्तित्व के लिए ज़रूरी बुनियादी चीजों से भी वंचित कर दिया गया, की चर्चा नहीं करते। 
     

    जब हम 'हिन्दू'होने को परिभाषित करते हैं तो सामान्यतया ऐसा उच्च जाति के लोगों के संदर्भ में ही किया जाता है। क्योंकि इस परिभाषा का आधार वे टेक्स्ट होते हैं, जो इन्हीं जाति-समूहों के हैं। चाहे वह हिन्दू हो या मुसलमान, ईसाई या सिख, इस तथ्य की तरफ हमारा ध्यान नहीं जाता कि बहुतेरे धर्मावलंबी ऐसे होते हैं जो अपने धार्मिक ग्रंथों से थोड़ा ही परिचय रखते हैं। उनके लिए धर्म एक अलग ही मसला होता है। असल व्यवहार में, ये लोग अपना खुद का धर्म निर्मित कर लेते हैं, अपने चुने हुए तरीके से अपने देवताओं की पूजा करते हैं। ये लोग भले ही, जनगणना की रिपोर्ट में खुद को हिन्दू या मुस्लिम के रूप में दर्ज़ कराएं, पर असल में तो ये अपना खुद का धर्म ही निभाते है। मुझे लगता है कि इतिहास में हमेशा से ऐसा ही होता आया है। धर्म के इतिहासकारों को इसका मूल्यांकन करना चाहिए कि आखिर लोगों के धर्म और उनके विश्वास किस हद तक धार्मिक टेक्स्ट पर या व्यवहारों पर निर्भर होते हैं। 
     

    दलित समूहों की आकांक्षाओं और उनकी सामाजिक दशा को लेकर हम बिलकुल हाल ही में अधिक सजग हुए हैं। यद्यपि हम सर्वाधिक सहिष्णु समाज होने का दावा करते जरूर हैं, पर ऐसा है नहीं। हम एक अहिंसक समाज नहीं हैं।
     

    एक जुमले के रूप में 'अहिंसा और सहिष्णुता'को राष्ट्रवाद के आविर्भाव के साथ ही अधिक लोकप्रियता मिली, जब पारंपरिक मूल्यों पर अधिक ज़ोर दिया जाने लगा। यह कहा गया कि भारतीय आध्यात्मिकता ने खुद को अहिंसा और सहिष्णुता के रूप में अभिव्यक्त किया जबकि पश्चिम में भौतिकवाद के प्रभाव के कारण, इन मूल्यों का अभाव दिखता है। इसके बावजूद जब कोई भारतीय इतिहास का अध्ययन करता है तो पाता है कि दुनिया के किसी अन्य हिस्से की तरह ही भारतीय इतिहास में भी असहिष्णुता और हिंसक संघर्षों के उदाहरण मौजूद हैं। ऐसे उदाहरण अरबों, तुर्कों और मंगोलों के आने से पहले के समय में भी मौजूद हैं। प्राचीन भारत में सेनाओं का जितना बड़ा आकार बताया जाता है, वह अगर अतिरंजित भी हो तो, यह बताता है कि पड़ोसी राज्यों से होने वाले युद्धों में बड़ी सेना की जरूरत होती थी। ऐसे ग्रंथों की भी कोई कमी नहीं है जो युद्धों का बखान करते नहीं थकते। 
     

    जब हम अतीत के धार्मिक समूहों की बात करते हैं तो अक्सर हम सोचते हैं कि ये समूह समरूपी अथवा समांगी समूह थे, पर असलियत इससे अलग थी। अतीत में बहुत से पंथ अस्तित्व में थे और इन पंथों के बीच प्रतिरोध, मेल-मिलाप, अंतःक्रिया की प्रक्रिया अनवरत चलती थी। पंथों की बहुलतावादी छवि की अक्सर ही उपेक्षा की जाती है। आम लोगों को के समक्ष अतीत की इस बहुलतावादी छवि को प्रस्तुत करने में इतिहास की क्या भूमिका हो सकती है?  
     

    असल में धर्मों ने, व्यावहारिक रूप में समाज में कैसे काम (फंक्शन) किया, यह आप तभी पढ़ा सकते हैं, जब आप इतिहास की पाठ्यचर्या में धर्मों के इतिहास को भी शामिल करें। एक विषय के रूप में, धर्मों का इतिहास, सिर्फ टेक्स्ट पर ही निर्भर नहीं होता। इसमें दैनंदिन व्यवहार, धर्म के प्रदर्शन और धर्म के संरक्षकत्व के मसले भी शामिल होते हैं। धर्मों का इतिहास इन बातों को भी समझने की कोशिश करता है: धर्म-विशेष के समर्थकों का समाजशास्त्र, धार्मिक संस्थाओं की संरचना, धर्म को प्राप्त होने वाले समर्थन के कारणों की पड़ताल। 
     

    हमें धर्मों के इतिहास का अध्ययन जरूर करना चाहिए। कारण कि धर्म और समाज की जो परस्पर निर्भर प्रकृति है, उसकी समझ धर्म और समाज को बेहतर समझने के लिए बेहद जरूरी है। धर्मों के इतिहास के जरिये ही लोग धर्मों के सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक पक्षों को समझ सकेंगे। वे यह जान पाएंगे कि धर्म और धर्म की समझ, महज धार्मिक टेक्स्ट और कुछ अमूर्त मूल्यों तक ही सीमित नहीं है। बल्कि इसमें ये बातें भी शामिल होंगी: धार्मिक शिक्षाओं का इस्तेमाल राजदरबारों द्वारा कैसे किया गया, कुछ सामाजिक संस्थाओं को प्राधिकार (अथॉरिटी) देने में इसका प्रयोग कैसे हुआ, तीर्थस्थलों में, संन्यासियों द्वारा, और भू-स्वामित्व और वाणिज्य जैसी आर्थिक गतिविधियों में धर्म और इसकी शिक्षाओं का उपयोग कैसे हुआ। 
     

    धर्म लोगों के जीवन से अलग कोई वस्तु नहीं है। धर्म, कुछ लोगों के भावनात्मक जीवन का एक स्पंदित हिस्सा होता है, जबकि कुछ लोगों के जीवन में यह इतना महत्त्वपूर्ण नहीं होता। पर सामाजिक-राजनीतिक अभिव्यक्ति के रूप में धर्म, अक्सर एक धार्मिक समूह के दूसरे धार्मिक समूह के प्रति व्यवहार को निर्धारित करता है। यह पूरी प्रक्रिया इतिहास का हिस्सा रही है, इसलिए सामाजिक-राजनीतिक अभिप्रेरणाओं को उतना ही महत्त्व दिया जाना चाहिए जितना कि धार्मिक भावों को। क्योंकि व्यवहार को प्रभावित करने वाले कारक अक्सर धर्मेतर होते हैं। अंततः धर्मों को बिना विशेष दर्जे की मांग किए, एक दूसरे के साथ बराबरी के दर्जे में रहना भी सीखना होगा। जाहिर है कि एक ऐसे समाज में जहां एक धर्म सदियों से वर्चस्व में रहा हो, ऐसा होना आसान नहीं है। 
     

    (यह अंश समयांतर के नवंबर 2015 अंक में प्रकाशित हुआ है. बाकी हिस्सा जल्दी ही हाशियापर.)

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Genuine Teacher! I repent for nothing just my teachers were as much as Genuine!

    Ajith Kumar
    Business Development Manager shared this excellent photo energy!
    Thanks Ajith ji to remember the teachers, a misssing specie these days!

    Palash Biswas

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Encounters at Kupeara, Siligam and Nowshera: By: 

    Makbool Veeray and KNS:


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Twisted Dark Stories - Obsession Depression Revisited

    Monday, 23 November 2015

    Pain

    Excalibur  Stevens Biswas

    "I'm in pain"

    "Yes I'm in pain"

    "I can't explain my pain to you.   I don't know.  How I'll be able to make you feel my pain . "

    "What will happen if you are tied up. So tightly . So that you can't move your body."

    "Your mouth sealed up by a duck tape restricting your voice. Suffocating you.
    You grasp for air but can't ."

    "Needles..Sharp needles being inserted into your eyelids."

    "That's hurtful . You can't scream . You can't call for help . But you want to end this .But you know this is just the beginning. Do you experience pain?"

    "You want to beg for mercy to stop the suffering but you can't  . How can you? Your mouth its duck taped. Only sound that's coming out is your moan which sounds that you are in lots of pain."

    "It hurts I know it hurts."

    "But how can I hurt you , how can I give you so much pain? How can I do this to you?"

    "I love you . You are my life . You are my soul."

    "How can I hurt my soul?"

    "How can I end my life?"

    "Hurting you will hurt me more than it will hurt you."

    "I failed."

    "Yes I failed!!!"

    "Yes I failed to live up to your expectations "

    "I failed to be your love, but ...  but you should've guided me ."

    "You should've left me."

    "You didn't."

    "Why?"

    "TO GIVE ME MORE PAIN??? TO SEE ME SUFFER ON MY FAILURES   or just wanted to see me. or just wanted to see me die?"

    "die."

    "you just want to see me dead."

    "you want to see me die in a painful way like splitting my wrists and let the red blood flow through my vines slowly slowly taking away my breathes.. my sight ... my warmth .... my life."

    "why?"

    "you had every reason to leave me.You didn't. Why?"

    "You you don't love me anymore but then also you decided to live with me. Why????"

    "Only to give me pain . To see my suffering."

    " Do you've any idea how much in pain I'm . How much I suffer . I do believe you have an idea and you enjoy it."

    "Ah"

    "What shall I do"

    "How can I convince my love to you"





    A bullet shell falls to the ground. Bouncing bouncing spinning then it becomes motionless.

    A body falls to the ground.

    Stream of red river flows through his cheek, reaches the white floor valley and flows vividly.

    "Ah"
    He moans.. In pain. In failure.
    "I failed I can't even kill myself at point blank."
    He tries to get up .
    Fails.
    Stumbles.
    Fails again.
    Tries to sit .
    Sits like a dog. On four legs all body shaking in pain.
    Blood dropping through hi cheek and makes its way to the floor.
    Success
    He stands up
    Stumbles 
    But can walk just like baby steps.
    Goes near to the bed.
    Lies down on it.
    Turns right grabs her wrist which is split open and had no life in it.
    The girl lying next to him. Had no life in it but still had the warmth of life in her body. He puts his hand on her belly. hugs like a baby and closes his eyes.
    Girl's eyes were wide open with needles pierced into the eyelids.

    The End.. 
    ????????



    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!



    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    योनिज तो हम सभी है..!

    ------------------

    योनि के जाये तो हम सभी है,

    पवित्रता ,अपवित्रता ..

    यह तो हम पुरूषों की

     अप्राकृतिक बकवास है |


     सच तो यही है कि

    हम सभी पिता के  लिंग

    और माहवारी से निवृत मां की योनि

    के सुखद मिलन की

    सौगात है |


    मां के रक्त ,मांस ,मज्जा में

    नवमासी विश्रांति के बाद

    उसी योनि के रास्ते आये है हम

    वही माहमारी के वक्त सा रक्त

    जिससे लथपथ थे हम

    जी हां ,

    बिल्कुल वैसी ही गंधवाला रक्त

    और उससे भीगी बिना कटी गर्भनाल

    मां और हमारे बीच

    उस समय यही बिखरी हुई थी.


    दुनिया में गंध की  पहली अनुभूति

    माहवारी के उसी खून की थी

    फिर क्यों नफरत करें हम

    अपनी मां ,पत्नि या बेटियों से

    कि वे माहवारी में है ..

    अचानक कैसे अपवित्र हो जाती है

    औरतें ?

    सबरीमाला और रणकपुर के मंदिरों में

    निजामुद्दीन और काजी पिया की बारगाहों में !


    क्यों बिठा दी जाती है

    घर के एकांत अंधियारे कोनों में

    माहवारी के दौरान..

    योनि ने जना है हम सबको

    योनिज है हम सभी

    पवित्रता -अपवित्रता तो

    महज शब्द है

    औरत को अछूत बनाकर

    अछूतों की भांति गुलाम बनाने के लिये..


    मेरी मां नहीं बैठी थी कभी

    माहवारी में एकांत कमरे में ,

    वह उन दिनों में भी

    खेत खोदती रही,

    भेड़ चराती रही ,

    खाना बनाती रही..

    वैसे ही जैसे हर दिन बनाती थी.

    ठीक उसी तरह मेरी पत्नी ने भी जिया

    माहवारी में सामान्य जीवन

    ऐसे ही जीती है हमारे गांव की

    मेहनतकश हजारों लाखों

    माएं ,पत्नियां और बेटियां

    माहवारी ,पीरियड  ,रजस्वला होना

    उन्हें नहीं बनाता है कभी अबला..


    नहीं बैठती वे घर के घुप्प अंधेरे

    उदास कोनों में..

    नहीं स्वीकारती कभी भी

    अछूत होना..

    पवित्रता के पाखण्डी पैरोकारों को

    यही जवाब है उनका..


    सुना है कि माहवारी के उन दिनों में

    सबरीमाला सहित सभी धर्म स्थलियां

    आती है सलाम करने उनको ...



    -भँवर मेघवंशी

    ( स्वतंत्र पत्रकार एवं सामाजिक कार्यकर्ता )

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0
  • 11/25/15--01:22: सहिष्णुता अरब वसंत का वज्रनिर्घोष! बाकीर आपरेशन ब्लू स्टार!या बंगाल की राजनीति की वैदिकी हिंसा,जो हिंसा न भवति। #Controversy Promo के धर्म अधर्म अपकर्म में काहे को फंसे हो भइया,सबसे बड़ा रुपइया सहिष्णुता अबाध पूंजी प्रवाह की। सहिष्णुता एफडीआई,सहिष्णुता बेरोजगारी,भुखमरी मंहगाई.मंहगाई की अखंड बा।संपूर्ण निजीकरण, संपूर्ण विनिवेश की सहिष्णुता ह।जहरीला हवा पानी,सहिष्णुता खुली लूट,बेदखली की।फिरभी असहिष्णुता पर बवंडर?काहे भइया? #ম্লেচ্ছ ব্যাটা #PK# AAmir Khan# পাদিও না সহিষ্ণতার অখন্ড স্বর্গে,বিশুদ্ধ পন্জিকার নির্ঘন্ট লঙ্ঘিবে কোন হালার পো হালা! बोलते ही आंधियां और समुंदर में हलाहल,हम नहीं हैं शिव कि पी सकें यह जहर! ম্লেচ্ছ ব্যাটা #PK# AAmir Khan# पादो नको नको ढेरों ढेर,# पाद आधिपात्य # विशुद्धता का # मनुस्मृति शासन बा # Real life Shambuk# बनि खातिर# Reel life से बाहिर य कौण# PROMO#मजहबी राजनीति जो हो सो हो,बाजार मा तुस्सी हिंदुत्वेर # E commerce Ambassador# Ambassador Incredible #सहिष्णु इंडिया के#आइकनवा,#स्टार सगरे#Promo Mode मा#बिजनेस फ्रेंडली #मार्केटिंग की जुबान बोले सगरे #बाकीर सगरे दे

  • सहिष्णुता अरब वसंत का वज्रनिर्घोष!

    बाकीर आपरेशन ब्लू स्टार!या बंगाल की राजनीति की वैदिकी हिंसा,जो हिंसा न भवति।

    #Controversy Promo के धर्म अधर्म अपकर्म में काहे को फंसे हो भइया,सबसे बड़ा रुपइया

    सहिष्णुता अबाध पूंजी प्रवाह की। सहिष्णुता एफडीआई,सहिष्णुता बेरोजगारी,भुखमरी मंहगाई.मंहगाई की अखंड बा।संपूर्ण निजीकरण, संपूर्ण विनिवेश की सहिष्णुता ह।जहरीला हवा पानी,सहिष्णुता खुली लूट,बेदखली की।फिरभी असहिष्णुता पर बवंडर?काहे भइया?



    #ম্লেচ্ছ ব্যাটা #PK# AAmir Khan# পাদিও না সহিষ্ণতার অখন্ড স্বর্গে,বিশুদ্ধ পন্জিকার নির্ঘন্ট লঙ্ঘিবে কোন হালার পো হালা!


    बोलते ही आंधियां और समुंदर में हलाहल,हम नहीं हैं शिव कि पी सकें यह जहर!




    ম্লেচ্ছ ব্যাটা #PK# AAmir Khan# पादो नको नको ढेरों ढेर,# पाद आधिपात्य # विशुद्धता का # मनुस्मृति शासन बा # Real life Shambuk# बनि खातिर# Reel life से बाहिर य कौण# PROMO#मजहबी राजनीति जो हो सो हो,बाजार मा तुस्सी हिंदुत्वेर # E commerce Ambassador# Ambassador Incredible #सहिष्णु इंडिया के#आइकनवा,#स्टार सगरे#Promo Mode मा#बिजनेस फ्रेंडली #मार्केटिंग की जुबान बोले सगरे  #बाकीर सगरे देश मा #सहिष्णुता# बहुलता बहार कि #जमींदारियां#रियासतें#वंश वर्चस्व #जाति व्यवस्था का अखंड#स्वर्गवास#लोक परलोक # कर्मफल# नियति अखंड!


    जैसे बंगाल में अनंत #राजनीतिक हिंसा #वंश वर्चस्व के लिए,उसीतरह बाकीर# देश# महाभारत।बूझो तो बूझो वरना आपस में कर लो #नूरा कुश्ती।कर्मफल में मौत जिसकी मरेगा वहींच,जो मारेगा वहीं तो #देवता और #ईश्वर है,बाकीर #महिषासुर#वध्य!

    https://youtu.be/tt5g_AlXVvU


    मैं नास्तिक क्यों हूं? The Necessity

    of Atheism!

    Genetics of Bharat Teertha. Charvak School sustained in one blood Ancient India!


    The controversy translated into Islamophobia just before the Gulf War with Satanic verses!

    यावज्जीवेत्सुखं जीवेत् ऋणं कृत्वा घृतं पिबेत् ।

    भस्मीभूतस्य देहस्य पुनरागमनं कुतः ।।

    त्रयोवेदस्य कर्तारौ भण्डधूर्तनिशाचराः ।


    Denial of the hegemony of Divinity to do nothing with religion!Nothing against faith!It is science!



    पलाश विश्वास

    सबसे पहिले हमारे गुरुजी ताराचंद्र त्रिपाठी का यक्ष प्रश्नः

    TaraChandra Tripathi

    शिकायत व्यक्तिगत रूप से न मोदी से है न भा.ज.पा से. शिकायत केवल इस बात से है कि इतने प्रभावशाली पद होने के बावजूद हमारे मोदी जी देश के सौहार्द को बिगाड़्ने में लगे अपने दल के नौताड़ों को फटकार क्यों नहीं लगा रहे हैं?


    दरअसल आज सुबोसुबो मैंने तय किया था कि विशुद्ध हिंदुत्व के इस राष्ट्रीय मुहूर्त पर बंगाल के सहिष्णु और धर्मनिरपेक्ष,निरंकुश  वंशवर्चस्व के अनंत केसरिया भावभूमि को पूर्वी बंगाल की भाषा में सोबोधित करुं।लिखा भी दिया होता लेकिन कंप्यू पर बैठने से पहिले सविता बाबू का अंलघ्य आदेश कि मुदिखाना जाओ,और जितने मेंढक हों वहां छलांगा मार रहे शून्य मुद्रास्फीति और चढ़ते शेयर बाजार की घनघोर विकास दर के मुकाबले,पकड कै ले आओ।

    सिर्फ हेंडिगो लगा रहा हूं ताकि सनद रहे।क्योंकि मूदिखाना से लौटकर गुरुजी के इस यक्षप्रशन के चक्रव्यूह में फंसा हूं।


    चक्रव्यूह में फंसने की हालत में राष्ट्रभाषा हिंदी का अनुशीलन बचाव खातिरे रामवाण क्योंकि बजरंगी हिंदी के अलावा ज्ञान विज्ञान की अंग्रेजी या देशज बहुजन समाज की भाखा समझे नाही और अपनी जान माल की खातिर उन्हें आत्मरक्षा के लिए बताना जरुरी है कि हम हर्गिज उनके हिंदू धर्म के खिलाफ नइखे अछूत शरणार्थी,विभाजन के शिकार हूं,फिरभी हमउ हिंदी बानी।हिंदू जो होवै,कमसकम हिंदू को तो नहीं मारै.चाहे म्लेच्छ मारे हजार लाख।


    मौका लगेगा तो तान विस्तार करुंगा रेयाज के बाद।स्थाई भाव एकच।एकच रक्त।भाखा हर दु कदम पर बदले हो जइसन हर चेहरा का धर्म अलग जाति अलग भाखा अलग सूटबूट मौगा मौगी अलग।देश एकच।रक्त एकच।जिनेटिक्स वही भारत तीर्थ का।


    गनीमत है कि मुहल्ले में जाने का आदेश हुआ है।


    27 को घर में भतीजे की शादी है और हम बीच कुरुक्षेत्र लहूलुहान तमाम जमींदारियों और रियासतों से जूझ रहे हैं निःश्स्त्र महारथियों, महाबलियों के मुकाबले और मोर्चा छोड़कर इधर उधर जा नहीं सकता कि जबतक सीने में बारुद है,आग जलनी चाहिए।


    हम बसंतीपुर जा नहीं रहे हैं।


    न किसी जश्न में हम शामिल होंगे।


    भाइयों के से कहा है कि सारा मामला सादगी से निपटाना है।

    मंझले भाई पद्दो के इकलौते बेटे की शादी है और उसका आभार कि वह हमारा तर्क समझ गया और बाकी घरवालों ने शिकवा भी नहीं की कि हम घर क्यों नहीं जा रहे हैं।सिर्फ सविता बाबू उदास है।


    उनकी उदासी दूर करने की खातिर जो भी संभव है,हम कर ही रहे हैं। छह महीने बाद सारा हिंदुस्तान हमारा होगा।


    फिर दुनिया घूमने के लिए सहिष्णुता का यह स्वर्गवास तो है ही।


    फिलहाल बंगाल में मूसलाधार राजनीतिक हिंसा मध्ये सत्ता समीकरण उबल रहे हैं और यहींच हम सहिष्णुता, धर्मनिरपेक्षता, प्रगतिशीलता और धर्म जाति के गृहयुद्ध का जायजा ले रहे हैं और आतंक के खिलाफ घोषित युद्ध की तपिश भी खूब महसूस रहे हैं।


    इस्लामोफोबिया बहार है।खाड़ी युद्ध से पहले यह आमदनी।


    वैसे बंगाल में सुधार आंदोलन के तमामो मसीहा ब्रह्मसमाजी थे,जो हिंदुत्व के लिए म्लेच्छ थे और तब भी समझा यहा जा रहा था कि नवजागरण में बहुविवाह निषेध,बाल विवाह निषेध,सती प्रथा निषेध,विधवा विवाह,स्त्री शिक्षा वगैरह वगैरह अंग्रेजी हुकूमत की गहरी साजिश है हिंदू धर्म के सर्वनाश के लिए।


    इसीलिए ब्रहम समाज में शामिल पीराली ब्राह्मण रवींद्र अछूत माने गये और मंदिरों में उनका प्रवेश निषिद्ध रहा।

    दलित आत्मकथा गीतांजलि।

    जिसमें पिर भारत का जिनेटिक्स,भारत तीर्थ।


    इन मसीहा वृंद में दो का अंत बहुत बुरा हुआ।


    पहिले राजा रामहोन राय जो संस्कृति के अलावा हिंदी उर्दू फारसी और अंग्रेजी के विद्वान तो थे ही,साथ ही अपनी दलीलों के लिए जगत प्रसिद्ध थे।उन्हें दिल्ली के बादशाह ने लंदन में महारानी कके दरबार में अपना वकील बनाकर भेजा।


    लंदन में राजासाहेब का खर्च पानी फटेहाल बादशाहत से उठाया नहीं गया।राम को खलनायक बनाकर रावण और मेघनाथ को महानायक बनाकर मेघनाथ वध महाकाव्य रचने वाले  म्लेच्छ माइकेल मधुसूदन दत्त की मदद जिनने की,उन्ही ईश्वर चंद्र अंत तक राजा राममोहन राय की मदद करते रहे।लाकिन राजा विदेशभूमि पर अपने कर्मफल के मारे बीमार असहाय़ अकेले मरे।


    देश के लिए ओलंपिक पदक जीतने वाले पचासेक साल की दहलीज पर भी ग्रांडस्लैम जीतने वाले लिएंडर पेज और हाकी में ओलपिंक गोल्ड जीतने वाले उनके बाप उन्हीं मधुसूदन के वंशज हैं,जिनकी जड़ें फिर वहीं मेघनात वध काव्य है।


    अब आशंका है कि उनके खिलाफ भी जिहाद होगा।टीपू सुल्तान के बाद किसका किसका नंबर है,कौन जाने।सानिया मिर्जा भी देश के लिए खेलती हैं तो वे मुसलमान की बेटी और बहू हैं और इसलिए हिंदुत्व के लिए खतरनाक।वैसे ही देश के लिए खेलने वाले ईसाई मधुसूदन के वंशज ईसाई हैं।तो राम ही जाने कि किसकी क्या मर्जी।


    कौन जाने कि अगला नंबर किसका है।गान्ही बुड्ढा 30 जनवरी,1948 में मार दिये गये।


    आउर शास्त्र सम्मत पंचत्व में विलीन भी हुई रहे।


    उन्हें जब रोज रोज मारने के लिए गोडसे भगवान का अवतार है तो किसी की भी जान माल की खैर नहीं है।यही सहिष्णुता बहार ह।


    #Controversy Promo के धर्म अधर्म अपकर्म में काहे को फंसे हो भइया,सबसे बड़ा रुपइया

    सहिष्णुता अबाध पूंजी प्रवाह की। सहिष्णुता एफडीआई,सहिष्णुता बेरोजगारी,भुखमरी मंहगाई.मंहगाई की अखंड बा।संपूर्ण निजीकरण, संपूर्ण विनिवेश की सहिष्णुता ह।जहरीला हवा पानी,सहिष्णुता खुली लूट,बेदखली की।फिरभी असहिष्णुता पर बवंडर?काहे भइया?



    #ম্লেচ্ছ ব্যাটা #PK# AAmir Khan# পাদিও না সহিষ্ণতার অখন্ড স্বর্গে,বিশুদ্ধ পন্জিকার নির্ঘন্ট লঙ্ঘিবে কোন হালার পো হালা!


    बोलते ही आंधियां और समुंदर में हलाहल,हम नहीं हैं शिव कि पी सकें यह जहर!




    ম্লেচ্ছ ব্যাটা #PK# AAmir Khan# पादो नको नको ढेरों ढेर,# पाद आधिपात्य # विशुद्धता का # मनुस्मृति शासन बा # Real life Shambuk# बनि खातिर# Reel life से बाहिर य कौण# PROMO#मजहबी राजनीति जो हो सो हो,बाजार मा तुस्सी हिंदुत्वेर # E commerce Ambassador# Ambassador Incredible #सहिष्णु इंडिया के#आइकनवा,#स्टार सगरे#Promo Mode मा#बिजनेस फ्रेंडली #मार्केटिंग की जुबान बोले सगरे  #बाकीर सगरे देश मा #सहिष्णुता# बहुलता बहार कि #जमींदारियां#रियासतें#वंश वर्चस्व #जाति व्यवस्था का अखंड#स्वर्गवास#लोक परलोक # कर्मफल# नियति अखंड!


    जैसे बंगाल में अनंत #राजनीतिक हिंसा #वंश वर्चस्व के लिए,उसीतरह बाकीर# देश# महाभारत।बूझो तो बूझो वरना आपस में कर लो #नूरा कुश्ती।कर्मफल में मौत जिसकी मरेगा वहींच,जो मारेगा वहीं तो #देवता और #ईश्वर है,बाकीर #महिषासुर#वध्य!



    यहींच भारतवर्ष की मौजूदा सहिष्णुता है और इस देश के लाखों लाख किसानों,मजदूरों,खुदरा कारोबारियों और यहां तक कि अडाणी अंबानी साम्राज्य के लिए भरत बने खड़ाउ इंडिया इंकारपोरेशन, बुड़बक फिक्की,बुड़बक सीआईआई  की तरह बेचारे पनसारे, दाभोलकर,कलबर्गी,वगैरह वगैरह ने हो न हो खुदकशी की है,जैसे खुदकशी पर फिलहाल आमिर खान म्लेच्छ आमादा हैं।


    वे जिंदा है,मंत्री संतरी के सामने अपने एक्सप्रेस के समारोह में मीडिया के मुखमुखी असहिष्णुता पर बोल रहे हैं तो समझ लीजिये कि सबकुछ ठीकठाक है।कानून का विशुध राज है।मनुस्मृति सुरक्षित शासन ,अर्थव्यवस्था और सिनेमा सही सलामत है।


    उनके पक्ष विपक्ष में बोलने वाले अपने अपने धंधे के मुताबिको बोल रहे हैं और बालीवुड दोफाड़ हजारों करोड़ का सिनेमाई प्रोमो है।



    बाकी संविधान का किसी ने कुछ उखाडा़ नहीं है।


    राजकाज बिजनेस फ्रेंडली है याफिर आतंक के खिलाफो युद्ध है।


    तुम ससुरे आतंकवादी हो जाओगे और फिर नागरिक मनवाधिकार पर्यावरण पादोगे ,यह हिंदूराष्ट्र,हिंदुत्व और भापत के नागरिकों के साथ साथ अबाध पूंजी,संपूर्ण निजीकरण,संपूर्ण विनिवेश और विकास के खिलाफ गहरी साजिश है।


    तुम ससुरे राष्ट्रद्रोही ,आतंकवादी, उग्रवादी, माओवादी वगैरह वगैरह आखेरे महिषासुर।तुम्हारा वध होगा।


    इस वध के खिलाफ जो भी बोले,उस पाकिस्तान भेज दिया जायेगा और संत वाणी है कि इसीतरह जनसंख्या घट जायेगी भारत की।खुल्ला खेल।जनसंख्या घटाने का एजंडा,समझे नाहीं बुड़बक?


    खाड़ी युद्ध से पहिले और बाद में अरब वसंत का वज्रनिर्घोष है यह इसीतरह जनसंख्या घट जायेगी भारत की।खुल्ला खेल।


    जनसंख्या घटाने का एजंडा,समझे नाहीं बुड़बक?



    नवजागरण का नेतृत्व करने के लिए ईश्वर चंद्र का भी कोलकाता के हिंदू समाज ने लगातार लगातार विरोध किया।


    ईश्वर चंद्र के घर पर तब के बजरंगियों और शिवसैनिकों ने धावा बोला।बबर जंग प्रदर्शन हुई रहे।तबहुं सोशम मीडिया तमामो कीर्तनिया रहे,का का स्वांंग रचे।


    राह चलते उनकी भी ऐसी की तैसी हुई रही।मीडिया खिलाफो रहे।


    यहां तक कि संस्कृत कालेज में विशुद्ध ब्राह्मणों की भर्ती के एकाधिपात्य को तोड़ते हुए जब उनने बहिस्कृत म्लेच्छ समझी जाने वाली एक ब्राह्मण विधवा की संतान को संस्कृत कालेज में दाखिला दिया उसके अध्यक्ष के विशेषाधिकार के तहत तो बवंडर ऐसा हुआ कि पुणे का फिल्म संस्थान जैसा हाल हुआ ईश्वरचंद्र का वहींच हाल रहा क्योंकि जमींदारियों के वारिशान ने तब हिंदू कालेज की स्थापना कर दी ईश्वर चंद्र और राममोहन के नवजागरण के खिलाफ,जो बाद में कोलकाता विश्वविद्यालय बना।


    राजा राममोहन राय और ईश्वरचंद्र विद्यासागर के पापकर्म की वजह से हिंदुत्व अमोघ जन्मजात रंगभेदी जाति के अभिशाप के बावजूद लोकतांत्रिक और आधुनिक धर्म के रुप में स्थापित हुआ और स्वामी विवेकानंद सीना ठोंककर शिकागो की धर्मस्भा में सनातन धर्म की महानता लोगों को समझा पाये।


    उन विवेकानंद नें भी समाजिक न्याय के स्वर को हिंदुत्व के दर्शन के भीतर ही भीतर स्वर दिया और सामाजिक न्याय की गुहार लगाते हुए वैदिकी तंत्र मंत्र अनुष्ठान और मूर्ति पूजा के बदले नर को ही नारायण कहा और समााजिक न्याय की गुहार ज्योतिबा फूले और हरिचांद ठाकुर के तेवर में लगाते हुए,उनने जो कहा कि अगला जमाना शूद्रों को होगा,तो उन्हें भी कर्मफल भोगना पड़ा और किस हाल में उनकी मृत्यु हुई वह चैतन्य महाप्रभू की मृत्यु और नेताजी के अंतर्धान से कम बड़ी पहेली नहीं है।


    बंगाल के अछूतों,बौद्ध धर्म के अनुयायियों को और आदिवासियों को इस्लाम के समानता के आकर्षण से धर्मांतरण की सुनामी से बचाने के लिए जो वैष्णव धर्म का प्रचार प्रसार प्रेम दर्शन  के स्थाई भाव से संगीतबद्ध तरीके से जिनने किया,उन चैतन्यमहाप्रभू का पुण्यफल यह हुआ कि वे पुरी के मंदिर में जयजगन्नाथ में समाहित हो गये।


    संत तुकाराम का भी यही हाल हुआ और गुरु गोविंद सिंह का हिंदुत्व की रक्षा का जो पुरस्कार मिला ,इसका विवरण गुरु ग्रंथ साहेब में देख लें। बाकीर सिख धर्म को हिंदुत्व का रक्षक धर्म कहने वालों ने सिखों के चौदह गुरुओं के किये धरे की जो कीमत चुकायी,वह अस्सी का दशक है।


    हम हिंदू उस पुण्यकर्म के लिए वैसे ही शर्मिंदा नहीं है,जैस हम बाबरी विध्वंस,गुजरात नरसंहार और सिखों का नरसंहार हिंदू राष्ट्र के लिए अनिवार्य मानते रहे हैं। गान्ही, कलबुर्गी,पानसारे ,दाभोलकर जैसे महिषासुर को जो रोवै,उन्हें दुर्गोत्सव का का हक बनता है।समझे कि नाही?बाकीर आपरेशन ब्लू स्टार!


    कमल हसन जो कह रहे थे कि असहिष्णुता भारत विभाजन के समय से है और वह गलत भी नहीं बोल रहे थे।बजरंगी शिवसैनिक हिंदुत्व के रक्षक युग युग से करते रहे हैं।


    जिस मुदिखाना आज सुबह हम तमामो उछलते मेंढकों की खोज में गये रहे.वहां एक वैष्णवी हरे राम हरे कृष्ण का कीर्तन करते हुए भीख मांगने चली आयीं।तो हमारे मूदी बाबू जो प्रकांड मुंहफंट हैं,और जिनकी जुबान पर लगाम उसी तरह नहीं है,जैसे देश में हिंदुत्व के राजकाज चलाने वाले दिल्ली के मूदीबाबू की नहीं है।


    मजे की बात है कि हहमारे मूदी बाबू  कट्टर भाजपाई हैं और उनका पूरा कुनबा भाजपाई है।साथ ही वे दीदी के घनघोर समर्थक हैं। उनका फार्मूला है कि दिल्ली में मूदीखाना सही सलामत रहे कि हेइया हो,धान संभले कि ना संभले,रक्त बीज हो तो भी भला और रक्तनदियां हो तो और भला,लेकिन बंगाल में दीदी का राजकाज जारी रहना चाहिए।


    वहींच हमारे मूदी बाबू धड़ाक से बोल दिहिस,राम नाम,कृष्ण नाम का जाप बंद करो!बंद करो यह अखंड जाप!


    वहींच हमारे मूदी बाबू धड़ाक से बोल दिहिस,जयश्री राम कहकै भीख काहे मांगते हो?


    वहींच हमारे मूदी बाबू धड़ाक से बोल दिहिस,कारोबर करना हो तो सीधे आम कारोबारी की तरह करो,धर्म को काहे फंसाते हैं?


    वहींच हमारे मूदी बाबू धड़ाक से बोल दिहिस,सारे आफत की जड ये जयश्री राम हैै,रावण,मेघनाद,बलि सारे वीरों को मार दिया!


    फिर उनका अचूक हथियार,माइकेल का मेघनाद काव्य पढ़ो

    बेचारी वैष्णवी का जवाब देती,बिना भीक लिय़े भाग खड़ी हुई।



    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

     We might not control affairs in Pakistan or elsewhere but we should learn to protect national interest against foreign intervention.
    Palash Biswas

    China has increased their military presence in Pakistan Kashmir and Gilgit Baltistan under the pretext of ensuring safety to their workers. It has to be.If you allow free flow of foreign capital then the foreign forces have to be invited to protect their companies and workers irrespective of complications.It is not the specific case study in Pakistan only as China has almost captured our consumer and electronic market and the business friendly governance my not stop them to start their production units in India.

    As India is no more friendly with Nepal,we have to lose our strategic advantage in Nepal.At the same time,China gets the advantage at our cost.I have been warning against this diplomatic strategic disaster time  and again.
    We might not control affairs in Pakistan or elsewhere but we should learn to protect national interest against foreign intervention.
    I am sharing a press release sent by International Human Right Defender to understand how alarming it might turn as follows:

    International Human Rights Defenders Association info@ihrda.net via smtp15.ymlpsrvr.com 

    25th November 2015
    Press Release
     
    China in Pakistan: Conference hosted in the European Parliament
     
    25th Nov 2015, Strasbourg:  International Human Rights Defenders and Members of the European Parliament today jointly hosted a conference on CHINA IN PAKISTAN: GROWING HUMAN RIGHTS CONCERNS in the European Parliament in Strasbourg. The conference was attended by more than 120 participants from European Parliament, Civil Society and European Union. 
     
    The conference has the following speakers
    • Mr. Ryszard Czarnecki, Vice President European Parliament
    • Mr. Alberto Cirio, Member of the European Parliament
    • Mr. Fulvio Martusciello, Member of the European Parliament
    • Ms. Patricia Sulin, Member of the European Parliament
    • Mr. Javed Mohammed Khan, Deputy Director, Baluchistan House 
    Mr. Li Xi Chen, who is a freelance journalist, moderated the conference.
     
    Mr. Ryszard Czarnecki spoke how China is engaged in Pakistan Occupied Kashmir and Gilgit Baltistan in construction ranging from dams, highways and ports. He spoke that It has come to notice that there is a lot of resentment among locals in the region of Gilgit Baltistan and Pakistan Occupied Kashmir over the negative environmental impact and the utter disregard for environmental safety norms by the Chinese infrastructure developers. Chinese construction projects literally trash the environment.  
     
    Mr. Alberto Cirio spoke that China has increased their military presence in Pakistan Kashmir and Gilgit Baltistan under the pretext of ensuring safety to their workers. He also mentioned that the chinese army has started to create divide among the shia and sunni's in the region, which is causing a direct threat to the region and not only the locals . Mr. Cirio mentioned that the presence of the Chinese army in the region is a threat to the stability of the region and questioned by Pakistan allowed chinese army when it always opposed the presence of the Western Allied Forced in the region. He also mentioned that there should be a mechanism setup to investigate the adverse effects of the presence of the chinese army in the Pakistan Kashmir and Gilgit Baltistan. 
     
    Mr. Fulvio Martusciello how Pakistan gifted to China the Gwadar port for making a naval port for parking chinese naval ships. He also mentioned that this port has cost several lives of the local baluch people, as several farms were taken forcefully and any news regarding the Naval port is kept under tight lips by the Pakistani Government. 
     
    Ms. Patricia Sulin, mentioned that china has taken the lead in Gilgit Baltistan and parts of Kashmir controlled by Pakistan in developing schools, hospitals and other emergency services in order to rebuild the area. She also mentioned that due to this assistance the pakistani government gave mining licence to Chinese companies which has inturn endangered natives over their lands. She will be requested European External Action Service (EEAS) to look into the matter and increase the pressure on the Pakistani Governments to withdraw Pakistani and Chinese personnel to decrease the tension. 
     
    Mr. Javed Mohammed Khan, spoke about the capital punishments in pakistan is only focused on the people from Baluchistan. He mentioned that Baluch people are subject to capital punishments without even going through courts, as the local Army and Pakistani Intelligence ISI issue orders for doing the same. He also mentioned that Police commit widespread abuses, he quoted the Current Pakistani Interior Minister Chaudhry Nisar Ali Khan in a parliamentary speech accepted the fact that there are many spy agencies in occupied Baluchistan, when he said, "If so many agencies, with so many resources, cannot handle the security situation what else can our government provide them?" Pakistan also continues its kill and dump policy in the region. Rights activists say 336 bodies were found in alleged "kill-and-dump" cases in 2015.
     
    For Media Contact
    Mr. Ryan Cameron

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0



    It is storm in the Tea cup as usual.No one cares to read the fine Print and reacts reading some random lines.Before being engaged in such a suicidal hate campaign it is always better to go through the TEXT.


    Aamir had been a Guest of honour in RPG  Award Ceremony and our director Anant Goenka had a conversation with him.No one perhaps cared enough to go through the details as the Icon PK just expressed his concerns as being an Indian citizen beside his iconic status and involvement in Indian Cinema and the Cine Business,he has every right to speak aloud.Tolerance being the theme song,we,Indians showcase the biased intolerance and lead a campaign against the Artist who happens the Brand Ambassador of India Incredible.


    Being associated with Express group,hereby,I share whatever Indian Express published and no controversy is justified.


    It needs a democrat discourse in the best interest of India and Indian People.Pl see.

    Palash Biswas
    Indian Express reports:

    Aamir Khan responds, says 'Proud to be Indian, stand by what I said'

    Aamir Khan's full statement

    To all the people shouting obscenities at me for speaking my heart out, it saddens me to say you are only proving my point, Aamir Khan said.

    Updated: November 25, 2015 7:11 pm

    To all the people shouting obscenities at me for speaking my heart out, it saddens me to say you are only proving my point, Aamir Khan said.

    First let me state categorically that neither I, nor my wife Kiran, have any intention of leaving the country. We never did, and nor would we like to in the future. Anyone implying the opposite has either not seen my interview or is deliberately trying to distort what I have said. India is my country, I love it, I feel fortunate for being born here, and this is where I am staying.

    Secondly, I stand by everything that I have said in my interview.

    Click here to read full text of Aamir's statement in Hindi

    To all those people who are calling me anti-national, I would like to say that I am proud to be Indian, and I do not need anyone's permission nor endorsement for that.

    WATCH VIDEO: Aamir Khan On Intolerance & Delinking Terrorism From Religion 

    To all the people shouting obscenities at me for speaking my heart out, it saddens me to say you are only proving my point. ALSO READ: Full Text of Aamir's conversation at RNG Award To all the people who have stood by me, thank you. We have to protect what this beautiful and unique country of ours really stands for. We have to protect its integrity, diversity, inclusiveness, its many languages, its culture, its history, its tolerance, it's concept of ekantavada, it's love, sensitivity and its emotional strength. I would like to end my statement with a poem by Rabindranath Tagore, it's a prayer really : Where the mind is without fear and the head is held high, Where knowledge is free, Where the world has not been broken up into fragments, by narrow domestic walls, Where words come out from the depth of truth, Where tireless striving stretches its arms towards perfection, Where the clear stream of reason has not lost its way, Into the dreary desert sand of dead habit, Where the mind is led forward by thee, Into ever-widening thought and action, Into that heaven of freedom, my father, let my country awake. Jai Hind, Aamir Khan - See more at: http://indianexpress.com/article/india/india-news-india/aamir-khans-full-statement/#sthash.bHZmUEh3.dpuf


    Aamir Khan at RNG awards: 'If I must represent anyone, why just Muslims?'

    Here is a transcript of the complete conversation between Anant Goneka and Aamir Khan at Ramnath Goenka awards.

    Updated: November 25, 2015 6:31 pm
      7471  526 Google +11

    Here is the full transcript of the conversation with actor Aamir Khan, moderated by Anant Goenka, Wholetime Director and Head — New Media at The Indian Express Group:

    Anant Goenka: Aamir, thanks for doing this for us. It is wonderful to have you.

    Aamir Khan: It's a pleasure. A very good evening to everyone and congratulations to all the winners. Well done. These are the challenging times for good journalism… so congratulations.

    Anant Goenka: We will get into why do you say that it's a challenging time for journalism through the course of the conversation. Since we are in a room full of best journalists in India, we have to take full disclosure very seriously. So, in full disclosure I must admit that Aamir I have been a fan of yours for a very long time. I have been a fan for the last 15 years. The photograph we have dug out from our archives… that's when you were thinner and I was bigger. But Aamir I was a fan of yours then … I think because of 'Jo Jeeta Wahi Sikandar', 'Andaaz Apna Apna.' But I think today the reason we are fans of yours is because you are unconventional. Your success has been very different from any of the formula. You have stayed away from certain formula. And you have never been afraid to take a stance… which others in your position normally don't. So all these stances you take, is it impulsive? Is it thought through? Something about why you keep taking stance?

    Aamir: Well, partly it's impulsive, partly it's an emotional reaction, and then I try and think it through also. Then finally sometimes you need the feel to speak and you do.

    Anant: Out of all the stances that you have taken, some are political, some aren't. Is there any one that you would regret?

    Aamir: No I don't think so. I mean I have faced many flak many times but no I don't think that I regret any of the stances that I took.

    Aamir Khan Actor Aamir Khan speaking at the Ramnath Goenka Express Excellence in Journalism Awards in New Delhi.

    Anant: Did you ever consider the commercial ramifications?

    Aamir: No I didn't. To be quite honest I didn't but I have been doing quite okay commercially also.

    Anant: Your career sounds a lot like the story Arun ji (Jaitley) was talking about with regards to Express… related to the 85 years of Express. I find a lot of similarities with that. If I can ask Arun ji to make a quick comment. Arun ji one piece of comment to Aamir… may be… the role of the celebrity in society. Are you happy with what celebrities normally do? How active they are in the public discourse or would you like them to play it as safe as they have been or would you rather have a celebrity like Aamir Khan who likes to have his voice heard?

    aamir Khan, Rng Awards Aamir Khan, Aamir Khan RNG Awards, Ramnath Goenka Awards

    Arun Jaitley: I'm quite okay with prominent people and achievers taking positions on issues. There will be a large number of them who are completely focused on their work and therefore for them to develop a thought process outside the usual activity may not be possible. Everybody is not alike. But there are some people who are actively involved, and at least involved in the thinking process themselves. And therefore today, when the forums for an individual to react are too many, he doesn't need a television set or a newspaper. He can just, in one line or a few words, express himself. If it's a seriously thought out view, as against just a maverick view, it does good to any society.

    Also Read: Om Puri demands apology from Aamir Khan for intolerance remark

    Anant: Aamir do you find social media is also encouraging you to take a point of view. I am sure you get haggled to say you know 'ispe kuch batao''uspe kuch batao', take a stance more than you would like to.

    Aamir: No I don't think social media has at all affected or propelled me to make public statements. I think social media is just one more platform if you feel like saying something on it then you can use it. So the desire to say something makes me say what I want to and not the platform.

    Anant: But off late Aamir, last 5-6 months artistes have after a very long time been getting up and taking a stance, especially the last couple of months. Your thoughts about the stance that your contemporaries have taken, even other artistes not just actors.

    OPINION | What Aamir Khan said

    Aamir: Well, I think for creative people to voice what they feel is important and I think that a number of creative people like scientists, historians increasingly had a certain feeling in them which they felt to express. So, for creative people to express their dissatisfaction and disappointment is to return awards. I think that is one way of getting your point across, certainly.

    Anant: So, you are endorsing the way there was a protest.

    Also Read | No reason for Aamir to leave… country won't let him go: Naqvi

    Aamir: Yes, I would actually endorse any protest which is non-violent… as long as you don't start beating up people, as long as you don't resort to violence. All individuals have a right to protest and they can protest in any manner that they feel is right as long as they are not phsically harming people or taking law into their hands. It is certainly a way to protest.. for creative people.

    Anant: Aamir, are you agreeing with the protest or do you think it's called for… do you think it is premature?

    Also Read | What Aamir Khan is saying, whole world is saying: Cong

    Aamir: Well, I think, if I am not mistaken there are so many people in this room who are much more knowledgeable than me so I am feeling intimidated to speak in front of all of you. But my understanding is that a lot of people from the creative fraternity are protesting because of the growing discomfort they felt or the growing atmosphere of intolerance that they felt around them… growing sense of insecurity and disappointment with that, and as a result that was their way of showing that they are not happy with the situation.

    As an individual myself, as a part of the country, as a citizen, we read in newspapers what's happening and certainly I have also been alarmed. I can't deny that I am alarmed.. by a number of incidences. For any society it is very important to have a sense of security. I mean there will be acts of violence in world for different reasons. But for us as Indians, as a part of society to have a sense of security… two-three things are very important, I feel. One is sense of justice. If there is a wrong step that anyone takes, then a correct justice is what is required. Common man should feel that justice will be done. That's what gives a sense of security. The second and very important sense of security is the people who are our elected representatives – people who we select to look after us for five years if at state level or Centre. When people take law in to their hands and when there is a sense of insecurity, we look upon these people to take a strong stance, make strong statements and speed up the legal process to prosecute cases. When we see it happening there is a sense of security but when we don't see that happening there is a sense of insecurity. So it does not matter who the ruling party is. It's happened across ages. On television debates, we see where one political party, in this case, the BJP which is ruling right now, is accused of various things. They said, 'But what happened in 1984?'. But that doesn't make right what's happening now. What happened in '84 was disastrous and horrendous. At other times also, through ages, whenever there is a violent act, when an innocent person is killed, be it one or a large number, that's very unfortunate. And these unfortunate moments are the ones when we look towards our leaders to take a strong step. Make statements that are reassuring to the citizens.

    Full, unedited video of the event. Conversation with Aamir Khan starts at 1:12:33 (Click here)

    Anant: you know but..

    Aamir: To complete my answer that there is a sense of fear more than there was earlier. I do feel there is a sense of insecurity. When I sit at home and talk to Kiran. (Wife) Kiran and I have lived all our lives in India. For the first time, she said, should we move out of India? That's a disastrous and big statement for Kiran to make to me. She fears for her child. She fears about what the atmosphere around us will be. She feels scared to open the newspapers everyday. That does indicate that there is a sense of growing disquiet… growing sense of despondency. You feel depressed, you feel low.. why is it happening? This feeling exists in me too.

    Incredible India to intolerant India in 7 months? Anupam Kher hits out at Aamir Khan

    Anant: So, Aamir you have faith in the media generally? You believe what is being communicated is fairly accurate?

    Aamir: Well, so partly. I am saying like any other aspect of society… the kind of social fabric that we live in today is reflected in the media, is reflected in the films, it's reflected in politics, it's reflected all around us. To that extent, I think quite honestly, the social fabric is not at its best right now. So for me to say I have complete faith in media, well I will not say that. There are a lot of journalists young and senior who are doing a good job and who are upholding what media does really stand for, but I can't say as a sweeping generalised statement.

    Anant: We at the Express pride ourselves in and generally print journalism does better than any other medium. Media is getting nuances of a conversation out, it is getting into the detail which may be people are losing the attention span for. Do you think the audience has that appetite for the nuance like it once used to.

    Aamir: Well, when you are doing mass communication, it is always very difficult to have a nuanced conversation and that is one of the challenges that people who are indulging in the mass communication face. In my experience I think the one thing that I have learnt is that if you touch an emotional chord with people then they do want to understand the nuances also. So when you are communicating it is not only important to reach out to people intellectually but to also to reach out to them emotionally and that for me has always worked.

    Anant: But the conversation, I think, has gotten more intelligent. I joined Express four years ago and was given the job of running the web division. I committed some targets to my father and for two months into the job I was really nervous because one industry veteran came and told me that 'Anant to do well on the internet you need to do ABCD i.e. astrology, Bollywood, cricket and devotion. This is not Express territory.

    Aamir: (laughing) So, did you follow that?

    Anant: What I am very happy to see is that we have been fairly successful without falling into that ABCD trap. So my question is, Satyamev Jayate for instance, how much have the audiences evolved? I don't think Satyamev Jayate might have been successful 10 years ago as much it is today?

    Aamir: Well, this is a hypothetical question so I don't know how to answer that but let me tell you, through out my career, I have to say that even in the film industry there are people who have this thought that for the success of films you have to follow this ABCD and if you do not do this ABCD you will never succeed. I have never followed that and I have been reasonably successful. I think at the end of the day you have to follow your heart, your conviction, what you essentially feel is what you have to follow. And when you do that there is a certain energy that comes into your work and journalism as well. That is very intangible, people sense, they feel and I think that is what has worked for me because I have never followed any rules of the main stream cinema.. or for that matter in SMJ we were doing a show on a very very difficult social issues, some of them about which people were hesitant to discuss on a public platform and we had a large section of the nation actually connecting with it, engaging with it in a very robust manner. We did not know that the show will get such success.

    Anant: But you know cinema during the 60's and 70's, there was something very idealistic about being the protagonist, there was a sense of anti-establishment that cinema's had. Do you find this anti-establishment messaging, in the contest of journalism, becoming a little old fashioned?

    Aamir: I have never thought of it that way. I have never worked that way. I don't look at films as anti-establishment, or so I don't know how to answer.

    Aamir Khan, Aamir Khan Photos, photos Aamir Khan at awards ceremony, Aamir Khan photos latest, Aamir Khan at Ramnath Goenka Awards, Aamir Khan pics, Aamir Khan images, aamir khan video, aamir khan news, aamir khan intolerance, aamir khan intolerance, aamir khan news, aamir photos, aamir latest pics

    Anant: So, do you think films have gotten more intelligent over time?

    Aamir: Intelligent is a very flunky word I feel. I feel cinema owe the 90's and the next decades has become slightly more refined and there is a lot more variety. Audiences have changed and they want to see different kind of stuff, filmmakers have changed, they want to tell different kind of stories within the main stream and that was unusual. In 70's you would have seen very little of it in the mainstream. So I would say that yes there has been some amount of refinement in the main stream cinema.

    Anant: The reason I hope and pray for growing audience or people who are willing to listen to the more intelligent content is because Aamir we are living in an age of terrorism and almost always an act of terrorism anywhere in the world gets