Are you the publisher? Claim or contact us about this channel


Embed this content in your HTML

Search

Report adult content:

click to rate:

Account: (login)

More Channels


Channel Catalog


Channel Description:

This is my Real Life Story: Troubled Galaxy Destroyed Dreams. It is hightime that I should share my life with you all. So that something may be done to save this Galaxy. Please write to: bangasanskriti.sahityasammilani@gmail.comThis Blog is all about Black Untouchables,Indigenous, Aboriginal People worldwide, Refugees, Persecuted nationalities, Minorities and golbal RESISTANCE.

older | 1 | .... | 189 | 190 | (Page 191) | 192 | 193 | .... | 303 | newer

    0 0

    Announcement: 3rd Kolkata People's Film Festival (KPFF)

    Please mark your calendars and make travel plans! The 3rd KPFF will be held from 22-24 January, 2016, at the Jogesh Mime Academy auditorium, Kolkata. If you are interested in volunteering for the festival, please get in touch with us (details, below).


    Film screenings/Solidarity Meet

    Over the past two months, Cinema of Resistance held three film screenings and solidarity meets 

    11th July | MUKTI CHAI - an evening of film screenings, protest songs and speeches, in Muktangan Rangalaya, demanding unconditional freedom of all prisoners of conscience. To see photos and videos of speeches and songs, please visit: http://corkolkata.wordpress.com/past-screenings/mukti-chai/
    The evening also raised funds for the legal defense committee of Chhatradhar Mahato and five other Lalgarh activists. The funds were handed over to APDR.
      
    - 22nd August | TALES OF OCCUPATION FROM GAZA & ELSEWHERE 
    Film Screening - Where Should the Birds Fly? By Palestinian filmmaker Fida Qishta. Discussions by Kalpana Wilson and Kunal Chattopadhyay.
    We will soon upload videos of the talks.

    - 25th August | COUNTRYWIDE PROTEST SCREENINGS OF 'MUZAFFARNAGAR BAAQI HAI'
    Cinema of Resistance's call for a countrywide protest screening of the documentary met with an overwhelming response, with 85+ screenings till date, and an estimated ten thousand people watching the film on 25-26th. In West Bengal protest screenings took place in Kolkata (multiple locations), Howrah, Shantiniketan (even after being stopped by Police), Bishnupur, Belgharia, Barasat. More protest screenings are being organised in West Bengal & India at this time,

    For more details about the Kolkata screening organized by CoR, pan-India screenings organized by CoR and like-minded groups, and press reports, please visit: http://corkolkata.wordpress.com/country-wide-protest-screening-muzaffarngar-baaqi-hai/

    Our pamphlet from the day's event is attached below.


    Little Magazine

    We are both sad and happy to tell you that the second volume of our annual magazine is now exhausted from most of the Kolkata book stalls. Single copies may be available still at Kundu Book Stall (Jadavpur), Gyaner Aalo (Jadavpur), Dhyanbindu (College St). Henceforth the few remaining copies of this volume will be available only from our own festival & book stall - till stocks last.  


    DVD Distribution

    For a list of documentary DVDs, distributed by volunteers from locations in and around Kolkata (namely, Jadavpur, Patuli, Dumdum, New Alipore, Sinthir More, Chinar Park, Behala, Kalighat, Bally and Uttarpara), please visit our online stall:http://corkolkata.wordpress.com/the-cor-stall/. By purchasing these DVDs, you would be contributing towards present and future projects of the independent filmmakers making these films.


    Upcoming: Monthly Screenings

    Please mark your calendars for our upcoming monthly screenings. More details coming up here: http://corkolkata.wordpress.com/upcoming-screenings/ 

    17th October at Mukta Angan Rangalaya | 6 pm

    14th November at Mukta Angan Rangalaya | 6 pm

    6th December at Jogesh Mime Academy 


    Appeal for contributions

    We appeal to all of you to generously contribute to our collective's fund so that we may carry out with our monthly screenings, festivals and cultural activities. We also seek your generous contributions for an ongoing documentary, being made by a collaboration of our activists, researchers and comrades on martyr Saroj Dutta, to mark his birth centenary year. To know more about the film, and its progress so far, including stills, information and clips, please check this page:SD: A documentary on Saroj Dutta

    Stay in touch. Look forward to hear back from you!

    Zindabad!
    People's Film Collective & Cinema of Resistance
    Organizing team

    Contact Us
    P: +91-9163736863
    FB: facebook.com/corkolkata

    ABOUT US: Cinema of Resistance (Kolkata Chapter) organizes an annual film festival, called the Kolkata People's Film Festival, in the third week of January. Throughout the year, we organize monthly film screenings in Kolkata and also travel in Kolkata and its neighbouring districts (such as North and South 24 Pargnas, Hooghly, Howrah, Birbhum, Nadia etc.) to screen films and hold discussions/dialogues on invitation from non-funded like-minded groups, unions and organizations. We are particularly interested in screening among workers, women, children and young adults, civil society groups and folks in general who are allies of people's movements.

    To organize a show in your locality please write tocor.kolkata@gmail.com, or call us at 9163736863. We will get back to you.

    To join our initiative as an activist, please contact us in the manner above, or simply turn up at one of our screenings for a face-to-face chat!


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    देश

    01, SEP, 2015, TUESDAY 10:08:24 PM

    नयी दिल्ली ! उच्चतम न्यायालय ने आलू बोंडा को प्रसंस्करित खाद्य पदार्थ करार देने संबंधी याचिका की सुनवाई से आज ..

    विदेश

    इराक में 42 कैदियों का अपहरण

    01, SEP, 2015, TUESDAY 09:55:02 PM

    बगदाद ! इराक के सालादीन प्रांत में एक अज्ञात सशस्त्र समूह ने मंगलवार को 42 कैदियों का अपहरण कर लिया। समाचार एजेंसी ईएफई के अनुसार, अधिकारियों ने कहा कि कैदियों को बगदाद लाया जा रहा था। रास्ते में काले कपड़े पहने 50 हथियारबंद लोगों

    खेल

    22 साल बाद इतिहास रचना मील का पत्थर:विराट

    01, SEP, 2015, TUESDAY 09:08:17 PM

    कोलंबो ! भारतीय टेस्ट कप्तान विराट कोहली ने श्रीलंका के खिलाफ 2-1 से सीरीज जीतने के बाद मंगलवार को कहा कि 22 साल बाद श्रीलंकाई जमीन पर इतिहास रचने का अहसास लाजवाब है।भारत ने श्रीलंका को तीसरे टेस्ट के आखिरी दिन 117 रन से हराकर सीरीज

    प्रादेशिकी

    आलू बोंडा को प्रसंस्करित खाद्य पदार्थ बताने से सुप्रीम कोर्ट का इन्कार

    01, SEP, 2015, TUESDAY 10:08:24 PM

    नयी दिल्ली ! उच्चतम न्यायालय ने आलू बोंडा को प्रसंस्करित खाद्य पदार्थ करार देने संबंधी याचिका की सुनवाई से आज इनकार कर दिया। मुख्य न्यायाधीश एच एल दत्तू और न्यायमूर्ति अमिताभ रॉय की खंडपीठ ने बेंगलूर की मेरिनो इंडस्ट्रीज लिमिटेड की याचिका ..

    अर्थजगत

    2जी मामला : एस्सार के विरुद्ध सीबीआई की दलील पूरी

    01, SEP, 2015, TUESDAY 09:40:37 PM

    नई दिल्ली ! केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने मंगलवार को एस्सार और लूप के विरुद्ध 2जी स्पेक्ट्रम आवंटन मामले में अपनी दलील पूरी की और कहा कि लूप का नियंत्रण प्रभावी रूप से एस्सार समूह के हाथ में था।


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0



    THE ECONOMIC TIMES
    Wed, Sep 02, 2015 | 05:38 PM IST

    Daily Newsletter

    Top ten midcap stocks that investors can look at now
    The S&P BSE Midcap index has rallied over 10 per cent in the last one year compared to over 5 per cent fall seen in t...
    Jet Airways to merge its weak-performing arm Jet Lite
    While balance sheets of the 2 entities will be merged, Jet Lite will operate under separate licence. The airline had ...
    Govt buckles up, to take NH length to 1.5L kms by Dec
    "We are committed to overhauling the country's infrastructure. In 3 months from now, we will take the length of NH to...
    Nitin Gadkari promises to add 2 percentage points to growth
    "I am a man of my word," Gadkari told on a trip to Maharashtra, the state where he made a reputation for getting the ...
    FEATURED STORIES
    Try matching our size first, Flipkart tells Snapdeal Try matching our size first, Flipkart tells Snapdeal
    Flipkart will sell goods worth Rs 65,000 cr during fiscal 2016, and "nobody will be even half of that", company's hea...
    read more
    Is Enam Securities buy paying off for Axis bank, at last? » 
    BJP wants less of Nehru in Nehru Memorial Museum  » 
    POPULAR STORIES
    Snapdeal on course to topple Flipkart from top, says CEO Kunal Bahl
    The Snapdeal co-founder said the company achieved $4 billion in total value of goods sold, or gross merchandise value...
    CCI charges Google with rigging search results; Flipkart, Facebook corroborate complaints
    The initial complaints were filed by Bharat Matrimony and a Jaipur-based not-for-profit, Consumer Unity and Trust Soc...
    Do not forget Warren Buffett's 2 stock investment rules; top 10 picks to bet on
    One way of using current volatility in a market like this is to buy quality stocks on dips which could outperform in ...
    Government planning India's longest 600 km expressway to connect Delhi and Katra
    The expressway would pass through Haryana, Punjab and Jammu & Kashmir and would cost more than Rs 15,000 crore....
    High airfares during festivals is a cause for concern...
    Narendra Modi ,Prime Minister ,Govt of India

    LATEST UPDATES

    Midcaps trading at a premium to Sensex; buy on dips: Experts
    According to a recent report by Motilal Oswal, midcaps now trade at a premium to Sensex on a P/E basis....
    Top ten midcap stocks that investors can look at now
    The S&P BSE Midcap index has rallied over 10 per cent in the last one year compared to over 5 per cent fall seen in t...
    Monsoon likely to be below prior forecast, says IMD chief
    June-September monsoon rains are likely to be below the prior forecast of 88 per cent of the long-term average, the I...
    Sanjiv Mittal appointed as Joint Secretary e-governance in department of electronics and IT
    The government has appointed Sanjiv Kumar Mittal, as joint secretary in the department of electronics and information...
    Market Watch
    2 Sep | 05:38PM
    SENSEX
    25453.56-242.88
    NIFTY
    7717.00-68.85
    USD/INR
    60.16-0.18
    GOLD (Rs/10g.)
    26729.00-104.00
    MARKET NEWS
    Nifty may find bottom around 7,500-7,600
    A sharp selloff pushed Nifty index below its support level of 7,700, and experts feel that it may fall by another 100...
    Midcaps trading at a premium; buy on dips, say experts
    According to a recent report by Motilal Oswal, midcaps now trade at a premium to Sensex on a P/E basis....
    Gainers Losers 2 Sep, 2015, 05:38PM IST, PTI|View All
    Company Name Live Price Change (%) Volume High Low
    Jindal Drilling & Industries Ltd. 144.00 20.00 48117 144.00 118.00
    SVOGL Oil Gas and Energy Ltd. 7.81 19.97 229376 7.81 6.50
    Ester Industries Ltd. 38.90 19.88 807079 38.90 32.65
    FEATURED SLIDESHOW
    24 hours nationwide strike cripples normal life24 hours nationwide strike cripples normal life Indian Railways launches three IT InitiativesIndian Railways launches three IT Initiatives Maruti Ciaz diesel hybrid: 9 things to knowMaruti Ciaz diesel hybrid: 9 things to know Nostalgic Hong Kong tramways reflect city's pastNostalgic Hong Kong tramways reflect city's past

    more slideshows
    FROM THE NEWSPAPER
    Prabhu infuses life into railways with Rs 1.5L cr LIC loan
    The railways had signed an MoU with LIC in March to meet its capital requirement for network decongestion and expansi...
    Rafale deal: DAC happy with progress in negotiations
    A dilution in the Indian stand on 50% offsets for the deal is likely if the price decided during PM Modi's Paris trip...
    Petrol and diesel prices set to rise in 2 weeks
    Global oil prices jumped on Monday after oil cartel OPEC said it was ready to coordinate with other oil producers to ...
    skyTran gets investment from Google's Eric Schmidt
    skyTran will have a network of computer controlled levitating 'jet-like' vehicles which will transport passengers abo...
    Rel Jio offering 60% pay hikes to poach staff from incumbents
    Around 20 mid-management level executives at Tata Teleservices' Kerala operations quit the company and joined Relianc...
    MORE LINKS:Gainers|Losers|Movers|Only Buyers|Only Sellers|Surging Volumes|Indices
    More Newsletters
    ET Mutual Fund ET Mutual Fund
    A weekly round-up of the top news and views from the mutual fund industry.
    Subscribe
    Markets Watch Markets Watch
    Round up of stock, currency, bond, money and real estate market
    Subscribe
    ET Investment Opportunities ET Investment Opportunities
    Property, Stocks, IPOs, NFOs, Mutual Funds and latest investment options in your inbox.
    Subscribe
    Wealth Wealth
    Weekly news on personal finance, stocks, property, gold, tax planning and more.
    Subscribe
    Follow Us on ET:
    Facebook Twitter YouTube LinkedIn
    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    আওয়ামী লীগের দ্বৈততার সংকট

    "... আওয়ামী লীগ তার জন্মলগ্ন থেকেই দ্বৈধতার সংকটে ভুগছে। জন্মলাভের সময়ে সরকারী মুসলিম লীগের অপশাসনের বিরুদ্ধে জনগণের তথা আওয়ামী মুসলিম লীগ গঠন করা হয়। কিন্তু ভোট ব্যাংককে পকেটে ভরার জন্য এক সময়ে আওয়ামী মুসলিম লীগ নাম থেকে 'মুসলিম' শব্দটি ছেঁটে ফেলা হয়। নতুন চেহারা ধারণ করার নামে দলটির নতুন নাম 'আওয়ামী লীগ' সাব্যস্ত হয়। নামে কী বা আসে যায়। গোলাপকে যে নামেই ডাকো, গোলাপ গোলাপই। আওয়ামী মুসলিম লীগ আওয়ামী লীগ নামে নিজেকে যতই সেক্যুলার হিসেবে জাহির করার চেষ্টা করুক না কেন, সংগঠনটি যে মূলত সংখ্যাগরিষ্ঠ বাঙালী মুসলমানের অর্থবিত্ত ও বৈভব অর্জনের একটি হাতিয়ার হিসেবে কাজ করেছে, একথা অস্বীকার করা ইতিহাসকেই অস্বীকার করা। 

    মুসলমানদের আওয়ামী লীগ যতই হিন্দুদের আস্থা অর্জনের জন্য নানা কসরত করেছে, ততই লক্ষ্য করার বিষয়, তারা অধিক পরিমাণে যত্নবান হওয়ার চেষ্টা করেছে নিজেদের খাঁটি মুসলমান হিসেবে জাহির করার। আর এ জন্যই বহু আওয়ামী নেতা-কর্মীকে দেশী কোট তথা মুজিব কোট পরিধানের পাশাপাশি টুপি পরতে এবং মুখে দাড়ি রাখতে দেখা যায়। অনেককে নামাজ-রোজার প্রতিযোগিতায়ও নেমে পড়তে দেখা যায়। হজ করার বিষয়েও এরা পিছিয়ে নেই। নামের আগে বাহারী ঢঙে 'আলহাজ' এবং 'হাজী' শব্দদ্বয় এরা বেশ ঢাকঢোল পিটিয়েই ব্যবহার করে থাকেন।

    তবে, কালের আবর্তে হিন্দু ভোটের তোয়াজ করতে গিয়ে এবং একাত্তরের মুক্তিযুদ্ধের সময় ভারতের প্রতি আনুগত্য দেখাতে গিয়ে সেক্যুলারিজমের সমর্থক সাজার নামে ধর্ম নিয়ে আওয়ামী লীগের বাড়াবাড়ি এদেশের সরলপ্রাণ মানুষের ধর্মানুভূতিতে যেভাবে আঘাত করেছে তাতে সাধারণ মানুষের স্বাভাবিক ধারণা জন্মেছে যে, আওয়ামী লীগ ধর্মহীনতায় বিশ্বাসী এবং ইসলামের বিরুদ্ধ শক্তি। অথচ এই আওয়ামী লীগ, যার নেতা শেখ মুজিবুর রহমান ১৯৭০ সালে অখন্ড পাকিস্তানের সাধারণ নির্বাচনে জনগণের কাছে ওয়াদা করেছিলেন যে, ক্ষমতায় গেলে তিনি ও তার দল কোরআন ও সুন্নাহর পরিপন্থী কোন আইন প্রণয়ন করবেন না। কিন্তু বাংলাদেশের অভ্যুদযের পরপরই ইসলামের বিরুদ্ধে অপপ্রচার চালানোই আওয়ামী লীগের অন্যতম কাজে পরিণত হল। 

    ... আওযামী লীগের জাতীয় স্বার্থ বিকিয়ে দেয়া, মানুষের ধর্মানুভূতিতে আঘাত করা, একদলীয় শাসন ব্যবস্থার মাধ্যমে গণতন্ত্রকে হত্যা করা, লুটপাট ও দূর্নীতির লীলাভূমিতে দেশকে পরিণত করা, সর্বোপরি, অনাহার ও দুর্ভিক্ষের কবলে দেশকে নিক্ষেপ করা - এসকল গণবিরোধী, জাতিবিরোধী কর্মকান্ড মানুষের চরম ঘৃণা ও ধিক্কারের উদ্রেক করে।  আগেই বলেছি, আওয়ামী লীগ জন্মের পর থেকেই দ্বৈধতার সংকটে ভুগছে। পুঁজিবাদে বিশ্বাসী হয়েও সমাজতন্ত্রের বুলি তাদের কপ্চাতে হয়েছে। ধর্মবিশ্বাসকে আঁকড়ে ধরেও ধর্মহীনতার প্রচার ও প্রসারকে উৎসাহিত করতে গভীর আগ্রহ দেখাতে হচ্ছে। এতে কাদের লাভ, আজ তা ভেবে দেখার সময় এসেছে।

    ... আওয়ামী লীগের পাশাপাশি দেশের বৃহত্তম বিরোধী রাজনৈতিক দল বিএনপিকেও অনেক সময়ই আত্মরক্ষামূলক অবস্থান গ্রহণ করতে দেখা যায়। ব্রাহ্মণ্যবাদ ও ভারতীয়দের তুষ্ট করার জন্য বিএনপিকেও অনেক সময় বলতে শোনা যায়, আমরা মৌলবাদী নই। অথচ আওয়ামী লীগ যাদের মৌলবাদী হিসেবে চিহ্নিত করে, বিএনপি ক্ষমতা লাভের আশায় তাদের সঙ্গে ঐক্য মোর্চা করেছে। আসলে রাষ্ট্র্ঘাতী চক্রের প্রচারমাধ্যমের কৌলিণ্যে এবং ব্রাহ্মণ্যবাদী, ধর্মবিরোধী কুচক্রীরা আমাদের চিন্তা ও কৃষ্টির জগতে যে সর্বাধিপত্য প্রতিষ্ঠা করে রেখেছে, তার ফলে আমাদের অনেকের মধ্যেই ধর্মানুরাগ ও ধর্মবিশ্বাসকে কেন্দ্র করে এক ধরণের হীনমন্যতা জন্ম নিয়েছে। 

    ....যে কোন সভ্য জাতি ধর্মের অপব্যবহার ও অসদ্ব্যবহার ঘৃণার চোখে দেখে। কিন্তু ধর্মনিষ্ঠ মানুষের ধর্মানুরাগ, ধর্মবিশ্বাস ও ধর্মীয় মূল্যবোধ তার জীবনাচার থেকে সে বাদ দিতে পারে না। আজ মাদ্রাসা-মসজিদের ওপর যে নগ্ন হামলা নেমে এসেছে, দেশব্যাপী ওলামা-মাশায়েখদের বিরুদ্ধে যে বিষোদগার হচ্ছে, এবং ইসলামী মূল্যবোধ নির্ভর রাজনৈতিক সংগঠনের বিরুদ্ধে যে ফ্যাসিস্ট অভিযান চালানো হচ্ছে তা কোন অবস্থাতেই একটি বহুবাচনিক গণতান্ত্রিক সমাজ বিকাশের সহায়ক হতে পারে না। এ এক অসুস্থ রাজনীতির পরিচায়ক॥"

    - দু:সময়ের কথাচিত্র : সরাসরি / মাহবুব উল্লাহ-আফতাব আহমাদ ॥ [ বাড কম্প্রিন্ট এন্ড পাবলিকেশন্স - ফেব্রুয়ারি, ২০০২ । পৃ: ৬২৫-৬২৭ ]


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Times of India
    Daily Newsletter | Wednesday, September 02, 2015
    fb twitter googleplus
    TOP HEADLINES MORE »
    Ideological spat erupts over Prime Minister Modi's Silicon Valley visit
    A familiar left vs right spat is developing over Prime Minister Narendra Modi's visit to California's famed Silicon Valley later this month.
    7


    -- 
    Need to be ready for short wars: Army chief
    'Recent attacks show expanding arc of terror,' India's Army chief said.
    Migrant chaos at Budapest train station
    Hundreds of angry migrants demonstrated outside Budapest's Eastern Railway Terminus on Tuesday demanding they be allowed to travel on to Germany, as the biggest ever influx of migrants into the European Union left its asylum policies in tatters.
    CITIES MORE »
    Girl commits suicide over teasing, kin besiege school
    Relatives of a 14-year-old schoolgirl who committed suicide by hanging at her Kodungaiyur home on Monday evening protested in front of the private school on Tuesday morning, claiming that the Class 10 student had taken her life after she was teased by some of her classmates.
    Speeding car rams into road divider, 5 injured
    A Swift rammed into a road divider and toppled in east Delhi's Vivek Vihar on Tuesday evening. Police said all the five youths inside the car have received serious injuries.
    42 cocaine pellets recovered from smuggler's body
    Osmania General Hospital staff have managed to recover 42 pellets of cocaine from the body of the arrested 32-year-old South African woman smuggler on Monday.
    TECH MORE »
    7 fastest-charging smartphones you can buy
    How many times have you been frustrated when you need to go somewhere and your phone's battery takes up over half an hour to charge to sufficient levels? In such cases, a fast-charging smartphone is what you need.
    PM Modi concerned, government scrambles to fix call drops
    TRAI will soon ask telecom companies to disclose information related to their services, which would be publicized so that customers are aware of capacity of their operator.
    Google India accused of abusing search dominance by CCI
    If the final ruling too finds Google guilty, CCI can either order Google to halt what it deems unfair practices or fine it even as much as 10% of its revenues.
    SPORTS MORE »
    Challenge for Virat Kohli's India starts now
    Sri Lanka have been beaten 2-1 in fine style, but with South Africa ahead for four Tests the need is to iron out the creases.
    Ishant Sharma bowls India to series win against SL
    Ishant Sharma took his 200th Test wicket in the form of centurion Angelo Mathews to help India beat Sri Lanka by 117 runs at the SSC.
    Krishan, Thapa enter Asian C'ship semis, book World berths
    Defending champion Shiva Thapa, second seed Vikas Krishan and the fast-rising L Devendro Singh booked medals and World Championship berths
    BUSINESS MORE »
    Toyota won't chase low-cost products: Takeshi Uchiyamada
    Toyota Motor Corporation chairman Takeshi Uchiyamada can't forget his maiden trip to the bustling Assi Ghat on Tuesday morning.
    Tata backs food startup Holachef
    Ratan Tata, chairman emeritus of Tata Sons, has made a personal investment in Mumbai-based online marketplace for chefs, Holachef, as one of India's most famed industrialists continues to bulk up his portfolio of digital companies.
    HC notice to govt over MNCs' patent disclosure
    In a development that could have major ramifications on intellectual property cases in pharmaceutical and technology sectors, the Delhi high court issued a notice to the government on Tuesday in a PIL (public interest litigation) filed by IP expert Shamnad Basheer.
    ENTERTAINMENT MORE »
    Bollywood's highest earning celebs
    Read on to know about how much is Kajol being paid for her comeback film, Dilwale...
    13 Lesser known facts of Welcome Back
    Bollywood sequels are turning out to be lucrative at the box office. This week comes yet another sequel, Welcome Back, produced by Firoz A Nadiadwallah under his banner, Base Industries Group.
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!


    Samirbaran Das
    September 2 at 12:14pm


     As many as 11 Central trade unions in the country, including those of the bank and insurance employees, planned to strike work on Sep 2 in protest against "people-unfriendly policies" of the Union government. The unions have placed 11 demands, including fixing statutory minimum wages at Rs. 15,000, stopping contract labor, bringing the unorganized sector workers under EPF Act and ESI Act, raising minimum pension to Rs. 3,000 per month and implementing labor laws pertaining to work hours, wages and work conditions, before the government. Unions opposed disinvestment in public sector units and increasing foreign direct investment across sectors.
    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    Alok Vaishnava 6:47am Sep 2
    Amit Kholia---Savita Bameta---Dinesh Lweshali--Gaurav Aggarwal--
    If political posts are banned in this group,please stop these Left-wing posts by Mr Palash Biswas.
    Original Post
    Palash Biswas
    Palash Biswas 1:37am Sep 2
    http://www.hastakshep.com/intervention-hastakshep/ajkal-current-affairs/2015/09/02/खेतशहादतवीरेन-डंगवाल-की
    हम खेत सींचेंगे अपनों के खून से। अपनी अपनी शहादत से सीचेंगे खेत हम तमाम। खेत फिर जागेंगे।
    www.hastakshep.com
    हम खेत सींचेंगे अपनों के खून से। अपनी अपनी शहादत से सीचेंगे खेत हम तमाम। खेत फिर जागेंगे। तन कर खड़ा...
    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Madhya Pradesh CM promised to cancel my transfer in lieu of stopping Vyapam campaign: Whistleblower #WTFnews


    ,TNN | Sep 2, 2015, 03.54 PM IST

    Madhya Pradesh CM promised to cancel my transfer in lieu of stopping Vyapam campaign: Whistleblower
    In the affidavit Dr Anand Rai alleged that CM called him to his official residence in Bhopal on August 11 and asked him to stop against Chouhan and his family members in Vyapam and DMAT scam.
    INDORE: Vyapam scam whistleblower Dr Anand Rai in an affidavit filed before Indore bench of Madhya Pradesh High Court on Wednesday alleged that chief minister Shivraj Singh Chouhan proposed to cancel his transfer in lieu of stopping the campaign over Vyapam and DMAT.

    In the affidavit Dr Anand Rai alleged that CM called him to his official residence in Bhopal on August 11 and asked him to stop campaign against Chouhan and his family members in Vyapam and DMAT scam.

    Advocate Anand Mohan Mathur, counselor for petitioner, said the meeting lasted for more than one hour from 9.45pm to 10.50pm and during the meeting CM assured to cancel the transfer of Dr Rai and his wife, also a doctor, from Indore to Dhar, if he stops the campaign. CM also assured that he will instruct the advocate general office to give this in writing before the High Court.

    Dr Rai and his wife were recently transferred to Dhar, and to challenge this  was filed before HC. On August 6 HC granted stay over the transfer on the ground that Dr Rai is a whistleblower and his transfer was done after Vyapam case was handed over to CBI.

    Mathur claims that Chouhan had said that whitleblower can continue his campaign against Vyapam and DMAT scam, but he should not drag chief minister and his family members into it.

    Mathur said petitioner refused to accept the proposal of CM and after that particular meeting three more complaints were filed against Shivraj Singh Chouhan and his family.

    He said court has granted one week time to file counter affidavit and now chief minister will have to have an affidavit.

    Meanwhile, principal secretary to CM S K Mishra said meeting with the chief minister was arranged on the request of Dr Rai, who wanted to share some information about the scam.

    http://timesofindia.indiatimes.com//Madhya-Pradesh-CM-promised-to-cancel-my-transfer-in-lieu-of-stopping-Vyapam-campaign-Whistleblower/articleshow/48773551.cms

     


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0
  • 09/02/15--08:10: Historic Strike in Bhilai
  • Historic Strike in Bhilai

    HISTORIC STRIKE IN BHILAI

    2nd September 2015 saw a historic unity and industrial action by
    workers in Bhilai.
    Central trade unions AITUC, CITU, AICCTU; independent left unions
    Pragatisheel Cement Shramik Sangh, Loktantrik Ispat Evam Engineering
    Shramik Sangh; and the left Sanyukt Trade Union Manch (including TUCI
    and NTUI) brought all sections of the Bhilai working class into the
    strike.

    90% of the contract workers of the Bhilai Steel Plant struck work in
    an unprecedented manner, while even the permanent workers participated
    significantly.

    ACC Holcim – both old and new plants saw a total strike by contract
    workers and construction workers. Significant number of permanent
    workers also responded spontaneously to the appeal.

    Majority of contract workers of the NSPCL Power Plant also struck
    work.  safai workers of the Sector 9 Hospital actively
    participated in the strike action.

    Scores of  and men strikers of the Chhattisgarh Mukti Morcha
    (Mazdoor Karyakarta Committee) stood at 19 points leading to the
    Bhilai Industrial Estate distributing pamphlets and appealing to
    workers to join the strike. Hundreds of small and medium units
    remained closed as workers spontaneously responded.

    The notable exception was in the Bhilai Engineering Corporationwhere
    the pocket union of Prabhunath Mishra (a conspirator in the Niyogi
    murder case) and Seemanchal Tripathi forced their way in with 200
    strike breakers.

    Bansi Lal, Lakhan Sahu, Kaladas Dehariya, Ramakant Banjare, Saraswati
    Sahu, Kalyan Singh Patel, Neera Dehariya, Rajkumar Sahu, Sudha
    Bharadwaj

     Mukti Morcha (Mazdoor Karyakarta Committee)

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    Dalit woman stripped, forced to consume urine in Chhatarpur #Vaw #WTFnews

    • HT Correspondent, Hindustan Times, Sagar
    • |

    • Updated: Sep 01, 2015 23:24 IST

    A 45-year-old  woman was allegedly stripped and forced to consume urine by a couple belonging to the upper caste in Chhatarpur district.

    The victim along with a group of people belong to her caste on Tuesday met additional superintendent of police (ASP) Chhatarpur, Neeraj Pandey and lodged a complaint, accusing local police station of not taking action against the accused couple.

    The incident occurred at village Mudwara under Nowgong police station of the district on August 24. The Nowgong police had registered a case under section 394, 323, 506 and 34 of IPC and relevant sections of SC/ST Act against Vijay Yadav and his wife Vimla Yadav.

    In her complaint to ASP, victim said that few months ago she was given a 'patta' of a piece of  land, which was earlier in Vijay Yadav's possession. This angered Vijay Yadav so that he started harassing her, said victim in her complaint.

    She further said that Yadav, on August 24, got her crops damaged by releasing his cattle in the field. When she went to Yadav's house to lodge protest, Yadav's wife Vimla beat her up with lathis.

    Later, Yadav came and stripped the victim and also forced her to consume his urine. The accused also threatened the victim with dire consequence if they would lodge complaint to police.

    Superintendent of police (SP), Chhatarpur, Lalit Shakyawar said that a case was registered by local police station on complaint of the victim but she didn't inform police about any such incident.

    "I have instructed the sub-divisional officer of police to conduct a probe and take action against accused couple," Shakyawar told HT over phone. He further said that the accused couple went missing from village after police registered case against them.

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Rajasthan – Love affairs, illicit relations claimed 50 lives in 2014: NCRB


    TNN | Sep 2, 2015, 11.57 AM IST
    JAIPUR: The incident of a 25-year-old man beaten to death by the family members of his girlfriend in Sriganganagar two days ago shocked many, but the murders over love affairs and illicit relationships seem to be a regular occurrence in the state. They were the motive behind as many as 50 of the total murder cases reported in Rajasthan in 2014, according to the National Crime Records Bureau (NCRB) figures released recently.

    The latest case was related to 27-year-old woman Poonam's murder in Jalore last month.

    Everybody was surprised when the police arrested Chunni Devi – the mother of Poonam's paramour – for the crime. Five-month pregnant Poonam was living with the family of her paramour Devendra Jangu as his widow. In May, her husband Prakash Bishnoi was arrested for murdering Devendra. Prakash and his armed men had abducted Poonam and Devendra from their rented house in New Bhupalpura area in Jalore.

    While 41 people were killed over love affairs, nine were murdered over illicit relationships. The other prominent motives behind murders are personal vendetta, enmity and property disputes. As many as 89 murder cases were reported in the state over personal enmity. Property dispute was the motive behind 65 murder cases.

    One of the most shocking cases of murders over property dispute and communal animosity was reported in Nagaur's Dangawas area in May this year. Hundreds of Dalits from Nagaur district's Dangawas and surrounding villages had fled for their lives after the region's dominant upper caste, the Jats, allegedly mowed down Dalits under tractors, and grievously wounded many others following the flaring up of a decades' old land dispute. The Jat violence followed firing by Dalits in which one dominant caste member was killed. Nearly six people were killed and over a dozen were injured in the violence.

    A total of 1,637 murder cases took place in Rajasthan in 2014, claiming lives of 1,688 people.

    "It's true that most of the murder cases in Rajasthan are related to property disputes and personal enmity. The good thing is that not many cases occurred as organized crimes. Most of the murders were spur-of-the moment cases," said a police officer.

    The officer said that love affairs are still considered a taboo in rural and many urban areas in the state. "The society is yet to accept a relationship between two adults. In many cases, the family members protest because the couple are from same gotra or from different castes. In some cases, violence is caused where the love affairs are triangular. These are common phenomena across the country," the officer added.

    http://timesofindia.indiatimes.com/city/jaipur/Love-affairs-illicit-relations-claimed-50-lives-in-Raj-in-2014-NCRB/articleshow/48770160.cms


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    Bajrang Dal – You can attack us but our works will live on: Prof KS Bhagwan

    • Prof KS Bhagwan
    • |

    • Updated: Sep 01, 2015 18:33 IST

    KS Bhagwan, a retired professor from the Mysore University, is a critic of Hindutva groups such as the Bajrang Dal. (HT Photo)


    After a Bajrang Dal threatened retired Mysore University professor KS Bhagwan with dire consequences, the rationalist told HT that he was not afraid of such intimidations. He also challenged the Hindutva group leader for a debate. Here's what he told our Bengalurucorrespondent Sudipto Mondal in the wake of scholar MM Kalburgi's assassination.

    Hours after my friend and one of Karnataka's leading intellectuals, Prof MM Kalburgi, was shot dead at his home in Dharwad, a young man from Mangalore belonging to the Bajrang Dal tweeted that I am the next target.

    I feel sorry for the young man. It is clear that he has been misled. His parents, teachers and elders have obviously not guided him properly.

    I want to talk to the young man and engage him in an intellectual debate. He should write down all his objections to my work and sit with me. I would like him to come and meet me at my home in Mysore as I am now too old to travel to meet him. If he has facts to challenge my scholarship, I will be more than happy to change my position. But I am not going to stop my work just because he threatens to kill me.

    I want to say this to the people who killed Prof Kalburgi, Govind Pansare and Narendra Dabholkar, and are now threatening to kill me: You can attack us and tear us to pieces but our works will live on. They can kill me but that won't change my stand.

    They must also know that I am not scared of them. Threats are nothing new to people such as Prof Kalburgi and me. I was first threatened in 1985 when I released my book 'Shankaracharya and Reactionary Philosophy'. My research showed that far from being a social reformer, the Shankaracharya was a strong advocate of the caste system. By going through the text of his teachings in Sanskrit, I could prove that he was vehemently opposed to Dalits and  getting educated. The traditionalists and fundamentalists who threatened to kill me then never bothered to read my work or challenge me on facts.

    My friendship with Prof Kalburgi goes back to those turbulent years of my life when I was dragged to the courts for blasphemy. Coincidentally, the same year Prof Kalburgi had submitted a major research paper where he found that Channabasavanna, the nephew of 12th century social reformer Basavanna, was adopted. He was under severe threat from Lingayat fundamentalists for whom Channabasavanna is a holy figure.

    We met for the first time during that period at a conference. The moment Prof Kalburgi was introduced to me, he gave me a tight hug and said, "You and I are are sailing in the same boat." We both had a hearty laugh and remained close friends ever since.

    My regard for him only grew with time. What attracted me to Prof Kalburgi was that he was not merely an armchair intellectual. He moved among the people and was forever sensitive to their suffering. He spoke about the most oppressed sections of society and was a voice of the voiceless. I loved him as a man of honour and as a scholar. His work will live long after all of us are dead and gone.

    http://www.hindustantimes.com/-news/you-can-attack-us-but-our-works-will-live-on-prof-ks-bhagwan/article1-1386415.aspx

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    कारपोरेट मीडिया ने मेहनतकशों के हकहकूक के मुद्दों से किनारा कर लिया,संघ को तरजीह
    एक्सकैलिबर स्टीवेंस विश्वास
    कारपोरेट मीडिया ने मेहनतकशों के हकहकूक के मुद्दों से किनारा कर लिया है।मजूीठिया देने से परहेज करने वाले बड़े मीडिया घरानों की दिलचस्पी मेहनतकशों के हकहकूक में हो नहीं सकती क्योंक मीडिया में अब ज्यादातर लोग ठेके पर हैं और वहां नर्क की दशा सबसे ज्यादा खराब है।इसलिए बड़े अखबार जनता का हित और राष्ट्र को होने वाले नुकसान का हवाला और आंकड़े देते हुए इस औद्योगिक हड़ताल का घनघोर विरोध करके मेहनतकशों के खिलाफ जनता को भरसक भड़काने की कोशिश की ।

    मीडिया के इस जनविरोधी कार्यकर्म के बावजूद हड़ताल देश भर में अभूतपूरव कामयाब रही।आर्थिक सुधारों के खिलाफ,विनिवेश और निजीकरण के खिलाप और शर्म कानूनों के खात्मे के खिलाफ नवउदारवादी जमाने में यह शायद पहली राष्ट्रव्यापी हड़ताल है,जिसका असर पूरे देश में हुआ।

    मीडिया ने कवरेज करते हुए हिंसा और राजनीतिक मुद्दो को तरजीह दी और इसे राजनीतिक शक्तिप्रदर्शन में तब्दील करने में कामयाबी हासिल की।बंगाल में हिंसा की वजह भी यही है।हड़ताल के मुद्दों को सिरे से नजरअंदाज कर दिया गया।

    इसके बावजूद हड़ताल हो गयी तो राम मंदिर,कश्मीर जैसे मुद्दों को नये सिरे से उछालने की कवायद शुरु हो गयी है।
    सनसनीखेज सेक्स के साथ मीडिया ने आरएसएस चिंतन बैठक को हड़ताल और मेहनतकशों के हकहकूक के मुकाबले तरजीह दी है,जो शर्मनाक है।
    गौर करेंः
    नईदिल्ली में अपनी राजनीतिक मुश्किलों को हल करने और संगठन को और मजबूत करने के लिए राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ, विश्व हिंदू परिषद और भारतीय जनता पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ता एकजुट हुए। इस दौरान उन्होंने राम मंदिर का मसला उठाया। मामले में यह कहा गया कि राम मंदिर के मामले में लोगों के बीच संदेश ठीक नहीं जा रहा है। ऐसे में बात को पाॅजिटिव तरीके से बात आगे बढ़ाई जाने की जरूरत है। ऐसे में लोगों को गलतफहमी हो सकती है। मिली जानकारी के अनुसार संघ के सभी नेता इसमें शामिल हैं। संघ के सरसंघ चालक डाॅ. मोहन भागवत ने कहा कि 3 दिवसीय बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पहुंचने की संभावना भी है। संगठन के बड़े पदाधिकारियों की बैठक में कई मसलों पर विचार मंथन किया जा सकता है। बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह सहित केंद्रीय मंत्रियों की भागीदारी भी आवश्यक मानी जा रही है। बैठक में बहुचर्चित धारा 370 के मसले पर भी चर्चा की गई। यही नहीं केंद्र सरकार के विभिन्न मसलों जैसे जाति, वन रैंक वन पेंशन आदि को लेकर भी चर्चा की गई। आरएसएस के 93 प्रमुख पदाधिकारियों और उनके पंद्रह सहयोगियों की समन्वय बैठक के अंतर्गत इन सभी मसलों पर एक समाधान हासिल होने को आवश्यक माना जा रहा है। 

    संघ की बैठक में शामिल हुई भाजपा, ओआरओपी-पटेल आरक्षण मुद्दों पर हुई चर्चा

    Jansatta - ‎1 hour ago‎
    नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद अपनी तरह की पहली तीन दिवसीय समन्वय बैठक में आज यहां राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उससे जुड़े संगठनों, सरकार और भाजपा के वरिष्ठ लोगों ने विभिन्न राष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा की। बताया जाता है कि बैठक में यहां जंतर मंतर पर वन रैंक, वन पेंशन की मांग को लेकर पूर्व सैनिकों के आंदोलन का मुद्दा भी उठा और संघ के पदाधिकारियों का मानना है कि पूर्व सैनिकों के आंदोलन के ज्यादा लम्बा चलने से सरकार की छवि प्रभावित हो सकती है और उसे चाहिए जितना जल्दी हो इसका समाधान किया जाना चाहिए। भाजपा महासचिव राम माधव ने हालांकि कहा कि बैठक के दौरान ...

    BJP और RSS की बैठक शुरू होते ही छिड़ा विवाद

    नवभारत टाइम्स - ‎4 hours ago‎
    केंद्र में सत्तारूढ़ बीजेपी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की बुधवार से शुरू हुई तीन दिवसीय समन्वय बैठक पर विवाद शुरू हो गया है। राजनीतिक दलों ने इसे सरकार के काम में आरएसएस की दखलंदाजी करार देते हुए संविधान का मजाक करार दिया है। हालांकि बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव राम माधव ने इन आरोपों को खारिज किया है। उन्होंने कहा कि बैठक में सरकार के काम की समीक्षा नहीं की गई और न ही राम मंदिर, वन रैंक वन पेंशन जैसे मसलों पर चर्चा हुई है। माधव ने कहा कि लंबे समय से समन्वय समिति की बैठक नहीं हुई थी। इस बैठक में सरकार के कामकाज की समीक्षा जैसी कोई बात नहीं हुई। नैशनल ...

    दिल्ली में RSS-BJP की मीटिंग, मोदी सरकार के मंत्रियों ने दिया प्रजेंटेशन

    दैनिक भास्कर - ‎3 hours ago‎
    आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता आशुतोष ने भी बीजेपी-संघ की को-ऑर्डिनेशन कमिटी की बैठक में पीएम के शामिल होने पर सवाल उठाए हैं। आशुतोष ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि आरएसएस एक ऐसी संस्था है जिसका महात्मा गांधी की हत्या से संबंध है। सरदार पटेल ने इसपर प्रतिबंध लगा दिया था जिसके बाद गुरु गोलवलकर ने सरदार पटेल से चिट्ठी लिखकर कहा कि संस्था से बैन हटाया जाए। इस पर पटेल ने कहा कि प्रतिबंध तब हटेगा जब आप 3 शर्तें मानेंगे- संविधान को मानेंगे, तिरंगे को सैल्यूट करेंगे और संघ कभी राजनीति नहीं करेगा। जब इन्होंने लिखित में मानने का वादा किया तब संघ से बैन हटा था, लेकिन आज संघ ...

    भाजपा, संघ की बैठक में ओआरओपी पर चर्चा

    Live हिन्दुस्तान - ‎2 hours ago‎
    भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के नेताओं की तीन दिवसीय समन्वय बैठक के प्रथम दिन बुधवार को पूर्व सैनिकों के वन रैंक वन पेंशन (ओआरओपी) मुद्दे पर खासतौर से चर्चा हुई। सूत्रों ने बताया कि संघ प्रमुख मोहन भागवत ने ओआरओपी पर वित्तमंत्री अरुण जेटली और रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर से अलग-अलग बात की। पर्रिकर ने उन्हें मुद्दे के बारे में बताया, जबकि जेटली ने इसके वित्तीय पहलू पर बात की। सूत्रों ने बताया कि भागवत ने जेटली से उन दिक्कतों के बारे में पूछा जो ओआरओपी को लागू करने में बाधा बन रही हैं। सूत्रों ने कहा कि भागवत ने भाजपा नेताओं से इस ...

    वन रैंक वन पेंशन और राम मंदिर बैठक का एजेंडा नहीं: राम माधव

    Nai Dunia - ‎5 hours ago‎
    बैठक के बाद बाहर आए राम माधव ने पत्रकारों से बात करते हुए इस तरह की सभी रिपोर्ट्स को गलत करार देते हुए कहा कि, 'राम मंदिर और वन रैंक वन पेंशन आज बैठक में चर्चा का मुद्दा नहीं था। ऐसा बताने वाली रिपोर्ट्स गलत हैं।' उन्‍होंने आगे कहा कि वन रैंक वन पेंशन सरकार का मामला है। यह बैठक सरकार के कामकाज की समीक्षा के लिए नहीं बुलाई गई है। बल्कि इसमें राष्‍ट्रीय सुरक्षा और कृषि विकास पर बात की जा रही है।' इससे पहले कहा जा रहा था कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की बुधवार को शुरू हुई तीन दिवसीय बैठक में संघ ने पूर्व सै‍न्‍यकर्मियों के लिए वन रैंक वन पेंशन जल्‍द लागू करने के लिए कहा है। बैठक के दौरान ...

    संघ-भाजपा समन्‍वय बैठक में उठा राम मंदिर व अनुच्‍छेद 370 का मुद्दा

    दैनिक जागरण - ‎11 hours ago‎
    नई दिल्ली। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भाजपा के बीच तीन दिवसीय समन्वय बैठक आज मध्यप्रदेश सरकार के मध्यांचल भवन में सुबह 9 बजे शुरू हुई। इस बैठक में संघ प्रमुख मोहन भागवत सहित संगठन के सभी वरिष्ठ नेता और संघ से जुड़े अनेक संगठनों के प्रमुख हिस्सा ले रहे हैं। बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके मंत्रीमंडल के कुछ महत्वपूर्ण सहयोगी भी शामिल होंगे। मोदी बैठक के अंतिम दिन शामिल होंगे। इस बैठक में भाजपा सहित संघ के संगठनों के बीच समन्वय बनाने पर विचार-विमर्श के साथ-साथ प्रमुख मुद्दों व केंद्र सरकार के प्रमुख मंत्रालयों के कामकाज की समीक्षा की जाएगी। साथ ही बैठक में ...

    वन रैंक वन पेंशन के लिए RSS ने डाला सरकार पर दबाव

    नवभारत टाइम्स - ‎9 hours ago‎
    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उसके सहयोगी संगठनों की बैठक में सरकार से मांग की गई है कि वन रैंक वन पेंशन (OROP) को जल्द लागू किया जाए। आज से शुरू हुई तीन दिनों की समन्वय बैठक में पहले दिन BJP की ओर से रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्र अरुण जेटली और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह मौजूद थे। उम्मीद जताई जा रही है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बैठक के अंतिम दिन इसमें शामिल हो सकते हैं। बैठक में उन समसामयिक मुद्दों पर चर्चा होने की उम्मीद है, जिसका सामना केंद्र को करना पड़ा रहा है। इसमें वन रैंक, वन पेंशन पर पूर्व सैनिकों की मांग के अलावा गुजरात में ...

    आरएसएस-बीजेपी की समन्‍यवय बैठक शुरू, वीएचपी ने उठाया राम मंदिर का मुद्दा

    Zee News हिन्दी - ‎10 hours ago‎
    नई दिल्ली : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उससे जुड़े संगठनों के शीर्ष पदाधिकारियों की बुधवार से तीन दिवसीय बैठक शुरू हो गई है, जिसमें विभिन्न मुद्दों पर विचार मंथन किया जाएगा। दो से चार सितंबर तक चलने वाली इस बैठक में संघ प्रमुख मोहन भागवत, संगठन के सभी वरिष्ठ नेता और आरएसएस से जुड़े अनेक संगठनों के प्रमुख हिस्सा ले रहे हैं। जानकारी के अनुसार, इस बैठक में आज विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) ने राम मंदिर का मुद्दा उठाया है। वीएचपी ने राम मंदिर बनाने की मांग की और कहा कि राम मंदिर को लेकर लोगों के बीच गलत संदेश जा रहा है। राम मंदिर पर सरकार को सकारात्‍मक तरीके से आगे बढ़ना चाहिए।

    वन रैंक-वन पेंशन पर जल्‍द हो फैसला: आरएसएस

    Patrika - ‎5 hours ago‎
    नई दिल्‍ली। राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) चाहता है कि पूर्व सैनिकों की वन रैंक-वन पेंशन की मांग पर जल्द से जल्द कोई फैसला होना चाहिए। संघ ने अपनी मंशा बीजेपी को बता दी है। दिल्ली में चल रही संघ की तीन दिन की समन्वय बैठक में ये मुद्दा उठा और संघ ने साफ कर दिया कि वन रैंक-वन पेंशन की मांग पर फैसला लेने में अब देर नहीं होनी चाहिए। संघ का कहना है कि जरूरत पड़े तो इस मुद्दे पर आयोग भी बनाया जाना चाहिए। इस बैठक में वित्त मंत्री अरूण जेटली और रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर भी मौजूद थे। तीन दिवसीय इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कुछ देर के लिए शामिल हो सकते हैं। दरअसल ...

    दिल्ली में शुरू हुई BJP और RSS की बैठक

    Jansatta - ‎13 hours ago‎
    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भाजपा के बीच आज से तीन दिवसीय बैठक की शुरुआत हो रही है। इस मीटिंग के दौरान बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह तो मौजूद होंगे ही साथ ही केंद्रीय संसदीय बोर्ड के सभी सदस्य स्मृति इरानी, राजनाथ सिंह, आदि विभिन्न सत्रों में अपनी उपस्थिति दर्ज करेंगे। इनके अलावा बैठक में शीर्ष मंत्रियों को भी बुलाया गया है। जबकि प्रधानमंत्री तीन दिन में से किसी एक दिन अपनी उपस्थिति दर्ज करेंगे। लेकिन इस बैठक में बीजेपी के वरिष्ठ नेता और मार्गदर्शक मंडल के सदस्य लालकृष्ण आडवाणी का नाम शामिल नहीं है। बैठक में हिस्सा लेने के लिए संघ और उससे जुड़े तमाम संगठनों के ...

    BJP-RSS बैठक में उठा राम मंदिर मुद्दा

    आज तक - ‎11 hours ago‎
    दिल्ली में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के समन्वय समिति की मीटिंग शुरू हो चुकी है. बैठक में विश्व हिंदू परिषद (VHP) ने राम मंदिर का मुद्दा उठाया है. आजतक को मिली जानकारी के मुताबिक, मीटिंग में VHP ने कहा कि राम मंदिर मसले पर लोगों के बीच गलत मैसेज जा रहा है, इसलिए सरकार को इस पर पॉजिटिव तरीके से आगे बढ़ना चाहिए, जिससे लोगों में कोई गलतफहमी न रहे. RSS प्रमुख मोहन भागवत समेत संघ के तमाम बड़े नेता इसमें श‍िरकत कर रहे हैं. 3 दिवसीय बैठक में PM नरेंद्र मोदी के भी पहुंचने के आसार हैं. संगठन के बड़े पदाधिकारियों की बैठक में सभी अहम मुद्दों पर विचार मंथन किया जा रहा है. बैठक में ...

    संघ भी वन रैंक, वन पेंशन जल्द निपटाने के पक्ष में

    Dainiktribune - ‎1 hour ago‎
    संघ की यह महत्वपूर्ण बैठक ऐसे समय हो रही है जब चंद दिनों बाद बिहार विधानसभा के चुनाव होने हैं जिसमें मोदी सरकार की लोकप्रियता को राजनीतिक तराजू पर परिणामों के बाँट से तौला जाएगा। हालांकि संघ ने आधिकारिक रूप से कहा है कि बिहार चुनावों पर बैठक में कोई चर्चा नहीं की जाएगी। सूत्रों के अनुसार देश की सामरिक तैयारियों सहित कुछ अन्य मुद्दों पर भी चर्चा हुई। हालांकि राममाधव ने वन रैंक वन पेंशन के मुद्दे को सरकार का नीतिगत निर्णय करार दिया और कहा कि इस पर कोई चर्चा नहीं हुई। सूत्रों के अनुसार बैठक में धर्म आधारित जनगणना, वन रैंक वन पेंशन और गुजरात में पटेल आरक्षण आदि के ...

    RSS-BJP की मीटिंग में राम मंदिर का जिक्र, VHP ने कहा पॉजिटिव रुख अपनाए सरकार

    दैनिक भास्कर - ‎9 hours ago‎
    नई दिल्ली. दिल्ली में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) और बीजेपी नेताओं की कॉर्डिनेशन कमेटी की मीटिंग चल रही है। तीन दिन तक चलने वाली इस बैठक की शुरुआत में ही विश्व हिंदू परिषद (VHP) ने राम मंदिर का मुद्दा उठाया। VHP नेताओं ने सरकार से कहा है कि राम मंदिर के मुद्दे पर लोगों के बीच गलत मैसेज जा रहा है, इसलिए सरकार को इस पर पॉजिटिव तरीके से आगे बढ़ना चाहिए, जिससे लोगों में कोई गलतफहमी न रहे। गौरतलब है कि तीन दिन तक चलने वाली इस बैठक में संघ के बड़े पदाधिकारियों सहित संघ प्रमुख मोहन भागवत भी शामिल हैं। बैठक के पहले दिन कई केंद्रीय मंत्री शामिल हुए। पीएम नरेंद्र मोदी के भी ...

    दिल्ली में RSS-BJP की समन्वय बैठक शुरू

    Live हिन्दुस्तान - ‎13 hours ago‎
    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भाजपा की बुधवार से शुरू हुई तीन दिवसीय समन्वय बैठक में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पूरे समय मौजूद रहेंगे, जबकि केंद्रीय संसदीय बोर्ड के सदस्य विभिन्न सत्रों में आएंगे। एक दर्जन प्रमुख मंत्रियों को भी उनके विषय से संबंधित बैठक में बुलाया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तीनों दिन में से किसी एक दिन बैठक में शामिल रहेंगे। भाजपा के वरिष्ठ नेता और मार्गदर्शक मंडल के सदस्य लालकृष्ण आडवाणी आमंत्रित सूची में शामिल नहीं है। बैठक में हिस्सा लेने के लिए संघ और उससे जुड़े तमाम संगठनों के नेता मध्य प्रदेश सरकार के दिल्ली स्थित गेस्ट हाउस मध्यांचल ...

    आरएसएस की तीन दिवसीय समन्वय बैठक शुरू

    Bhasha-PTI - ‎9 hours ago‎
    नयी दिल्ली, 2 सितंबर : भाषा : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एवं उनके अनुषंगी संगठनों की आज तीन दिवसीय समन्वय बैठक शुरू हो गई जिसमें शीर्ष केंद्रीय मंत्री और भाजपा के प्रमुख नेता भी हिस्सा ले रहे हैं । बैठक में विभिन्न समसामयिक मुद्दों पर चर्चा होने की उम्मीद है जिसमें सामाजिक, सांस्कृतिक, आर्थिक और शैक्षणिक मुद्दों पर विचारों का आदान प्रदान शामिल हैं। आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत की अध्यक्षता में हो रही इस समन्वय बैठक में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के भी हिस्सा लेने की उम्मीद है। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भी हिस्सा लेंगे। बैठक के दौरान वन रैंक, वन पेंशन :ओआरओपी: पर ...

    संघ नेताओं की समन्वय बैठक आज

    Bhasha-PTI - ‎10 hours ago‎
    नयी दिल्ली, 2 सितंबर : भाषा: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एवं उनके अनुषंगी संगठनों की आज से शुरू हो रही तीन दिवसीय समन्वय बैठक में शीर्ष केंद्रीय मंत्री, भाजपा के प्रमुख नेता हिस्सा ले रहे हैं जिसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के भी शामिल होने की उम्मीद है। बैठक में उन विभिन्न समसामयिक मुद्दों पर चर्चा होने की उम्मीद है जिसका सामना केंद्र को करना पड़ रहा है। संघ की समन्वय बैठक में वित्त मंत्री अरूण जेटली, विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर, परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू, रसायन एवं उर्वरक मंत्री अनंत कुमार, स्वास्थ्य मंत्री ...

    बीजेपी-आरएसएस समन्‍वय समिति की बैठक आज से, पीएम मोदी भी होंगे शामिल

    Zee News हिन्दी - ‎14 hours ago‎
    नई दिल्ली : राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उससे जुड़े संगठनों के शीर्ष पदाधिकारियों की बुधवार से तीन दिवसीय बैठक होगी, जिसमें विभिन्न मुद्दों पर विचार मंथन किया जाएगा। बैठक में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा प्रमुख अमित शाह की भागीदारी भी होगी। इसमें भाजपा के कई वरिष्ठ नेताओं सहित कुछ केन्द्रीय मंत्रियों के भी शिरकत करने की संभावना है। बैठक में आगामी बिहार विधानसभा चुनाव, गुजरात में आरक्षण आंदोलन, धार्मिक जनगणना के आंकड़े, वन रैंक वन पेंशन समेत कई मुद्दों पर चर्चा होगी। सूत्रों ने बताया कि अगले महीने दो से चार तारीख तक होने वाली इस बैठक में संघ प्रमुख ...

    संघ की समन्‍वय बैठक के पहले ही दिन उठा राममंदिर और 370 का मुद्दा

    Legend News - ‎10 hours ago‎
    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भाजपा की तीन दिवसीय समन्वय बैठक के पहले दिन आज राम मंदिर और अनुच्छेद 370 का मुद्दा उठा। तीन दिवसीय समन्वय बैठक आज मध्यप्रदेश सरकार के मध्यांचल भवन में सुबह 9 बजे शुरू हुई। इस बैठक में संघ प्रमुख मोहन भागवत सहित संगठन के सभी वरिष्ठ नेता और संघ से जुड़े अनेक संगठनों के प्रमुख हिस्सा ले रहे हैं। बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके मंत्रिमंडल के कुछ महत्वपूर्ण सहयोगी भी शामिल होंगे। मोदी बैठक के अंतिम दिन शामिल होंगे। इस बैठक में भाजपा सहित संघ के संगठनों के बीच समन्वय बनाने पर विचार-विमर्श के साथ-साथ प्रमुख मुद्दों व केंद्र सरकार के ...

    BJP-RSS की बैठक में उठा राम मंदिर का मुद्दा, VHP ने कहा- देरी से जा रहा गलत संदेश

    News18 Hindi - ‎10 hours ago‎
    #लखनऊ #उत्तर प्रदेश दिल्ली में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) और बीजेपी की समन्वय समिति की मीटिंग में एक बार फिर राम मंदिर का मुद्दा उठा. विश्व हिंदू परिषद (VHP) ने बैठक में राम मंदिर का मुद्दा उठाया और कहा कि इस मुद्दे पर देरी से जनता में गलत संदेश जा रहा है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बैठक में VHP ने कहा कि राम मंदिर मसले पर कोई ठोस फैसला नहीं हो पाने की वजह से लोगों के बीच गलत मैसेज जा रहा है. विहिप ने सरकार को कहा कि इस पर पॉजिटिव तरीके से आगे बढ़ना चाहिए. राम मंदिर मुद्दे पर व्याप्त गलतफहमी को दूर करने की जरुरत है. राजधानी दिल्ली में तीन दिनों तक चलने समन्वय समिति की ...

    RSS की आज दिल्‍ली में अहम बैठक, मोदी हो सकते हैं शामिल

    पंजाब केसरी - ‎6 hours ago‎
    नई दिल्ली: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) एवं उसके अनुषांगिक संगठनों की तीन दिवसीय समन्वय बैठक के पहले दिन राम मंदिर और अनुच्छेद 370 का मुद्दा प्रमुखता से उठा। बैठक में विहिप ने राम मंदिर का मुद्दा का उठाते हुए कहा कि इस मुद्दे पर जनता के बीच गलत संदेश जा रहा है। मामले में सरकार को सकारात्मक तरीके से आगे बढऩा चाहिए। इस बैठक में मोदी सरकार के तीन दिग्गज राजनाथ सिंह, अरुण जेटली व सुषमा स्वराज भी मौजूद थे। पीएम नरेंद्र मोदी खुद तीसरे दिन यानी शुक्रवार को बैठक में शामिल होंगे। यह बैठक बिहार विधानसभा चुनाव, संसद में लटके नरेंद्र मोदी सरकार के सुधारवादी विधेयक जीएसटी, ...

    संघ की बड़ी बैठक आज से, मोदी भी जाएंगे

    दैनिक भास्कर - ‎21 hours ago‎
    नई दिल्ली | नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बनने के बाद पहली बार राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की बुधवार से यहां शुरू होने जा रही बैठक में भाग लेंगे। चार सितंबर तक होने वाली बैठक में संघ प्रमुख मोहन भागवत तीनों दिन मौजूद रहेंगे। सरकार और संघ में तालमेल पर चर्चा होगी। संघ के 40 से ज्यादा संगठन इस बैठक में भाग ले रहे हैं। इस समन्वय बैठक में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के साथ ही केंद्र के प्रमुख मंत्रियों के भी भाग लेने की उम्मीद की जा रही है। मध्यप्रदेश के मध्यांचल भवन में होने वाली इस बैठक में धार्मिक जनगणना, वन रैंक वन पेंशन, जमीन अधिग्रहण बिल और बिहार चुनावों पर चर्चा होगी। संघ के प्रमुख ...

    संघ और बीजेपी की समन्वय बैठक शुरू, मोदी भी होंगे शामिल

    Sanjeevni Today - ‎14 hours ago‎
    बैठक में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह व संगठन महामंत्री रामलाल हिस्सा लेंगे, जबकि अलग-अलग विषयों पर चर्चा में वरिष्ठ केंद्रीय मंत्री भी हिस्सा लेंगे। बिहार के चुनाव को लेकर भी अलग से बातचीत हो सकती है, लेकिन वह सामान्य ऐजेंडे में नहीं होगा। संघ के प्रचार प्रमुख मनमोहन वैद्य ने कहा है कि बैठक में संघ के 25 वरिष्ठ नेताओं के साथ 15 संगठनों के प्रमुख पदाधिकारी व कार्यकर्ता हिस्सा लेंगे। संघ के कामकाज में विस्तार होने से इस बार बैठक में सबसे ज्यादा 93 प्रमुख कार्यकर्ता भाग लेंगे। यह संख्या पिछली बैठकों से लगभग दो गुनी है। समन्वय बैठकें साल में दो बार जनवरी व सितंबर में होती ...

    RSS-BJP की मीटिंग: पहले ही दिन उठा मंदिर का मुद्दा

    KhabarFast News - ‎5 hours ago‎
    दिल्ली में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) और बीजेपी नेताओं की को-ऑर्डिनेशन कमेटी की मीटिंग चल रही है। तीन दिन तक चलने वाली इस बैठक की शुरुआत में ही विश्व हिंदू परिषद (VHP) ने राम मंदिर का मुद्दा उठाया। VHP नेताओं ने सरकार से कहा है कि राम मंदिर के मुद्दे पर लोगों के बीच गलत मैसेज जा रहा है, इसलिए सरकार को इस पर पॉजिटिव तरीके से आगे बढ़ना चाहिए, जिससे लोगों में कोई गलतफहमी न रहे। खास बात यह है कि बीजेपी के वरिष्ठ नेता और मार्गदर्शक मंडल के सदस्य लालकृष्ण आडवाणी बैठक से नदारद दिखे। दिल्ली के वसंत कुंज स्थित मध्यांचल भवन में हो रही इस बैठक के पहले दिन गृह मंत्री राजनाथ ...

    आज संघ-भाजपा की अहम बैठक में PM हो सकते हैं शामिल

    news india network - ‎14 hours ago‎
    2014_12$largeimg223_Dec_2014_105916463 copy नई दिल्‍ली: दिल्ली में आज से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS)की एक अहम बैठक होने जा रही है. तीन दिन तक चलने वाली इस बैठक में पीएम के भी शामिल होने की संभावना है. मोदी सरकार बनने के बाद ये पहली बार है कि आरएसएस के सभी संगठनों की एक समन्वय बैठक हो रही है. इस दौरान संघ के अनुषंगिक संगठनों के नेता देश भर में बने माहौल के बारे में बीजेपी नेताओं को बताएंगे. इस बैठक में संघ प्रमुख मोहन भागवत के साथ भैयाजी जोशी, दत्तात्रेय होसबोले, कृष्णगोपाल के साथ 15 आनुषंगिक संगठनों के प्रमुख नेता रहेंगे. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, संगठन महामंत्री रामलाल, ...

    RSS और बीजेपी की बैठक आज, पीएम मोदी भी होंगे शामिल

    Samachar Jagat - ‎11 hours ago‎
    नई दिल्ली। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और बीजेपी की बैठक आज शुरू होगी। पीएम मोदी प्रधानमंत्री बनने के बाद इस बैठक में पहली बार शामिल होंगे। यह बैठक तीन दिवसीय होगी। बैठक में मुख्यतौर पर संघ प्रमुख मोहन भागवत हिस्सा लेंगे। उनके अलावा संगठन के सभी वरिष्ठ नेता और आरएसएस से जुड़े अनेक संगठनों के प्रमुख हिस्सा ले रहे हैं। पीएम मोदी बैठक के आखिरी दिन इसमें शामिल होंगे। हालांकि भाजपा के वरिष्ठ नेता और मार्गदर्शक मंडल के सदस्य लालकृष्ण आडवाणी आमंत्रित सूची में शामिल नहीं है। इस बैठक में भाजपा सहित संघ के संगठनों के बीच समन्वय बनाने पर विचार-विमर्श और प्रमुख मुद्दों व ...

    RSS-BJP की बैठक में विहिप ने उठाया राम मंदिर का मुद्दा

    khaskhabar.comहिन्दी - ‎10 hours ago‎
    बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भी पहुंचने के आसार हैं, जबकि केंद्रीय संसदीय बोर्ड के सदस्य विभिन्न सत्रों में आएंगे। एक दर्जन प्रमुख मंत्रियों को भी उनके विषय से संबंधित बैठक में बुलाया जाएगा। पीएम मोदी तीनों दिन में से किसी एक दिन बैठक में शामिल रहेंगे। भाजपा के वरिष्ठ नेता और मार्गदर्शक मंडल के सदस्य लालकृष्ण आडवाणी आमंत्रित सूची में शामिल नहीं हैं। संगठन के बडे पदाधिकारियों की बैठक में सभी अहम मुद्दों पर विचार मंथन किया जा रहा है। बैठक बुधवार सुबह नौ बजे शुरू हुई। तीन दिन चलने वाली बैठक में आठ से नौ सत्र होंगे, जिनमें संघ के विभिन्न संगठन अपने कामकाज ...

    RSS-BJP बैठक: वीएचपी ने उठाया राम मंदिर व अनुच्‍छेद 370 का मुद्दा

    haribhoomi - ‎13 hours ago‎
    राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उससे जुड़े संगठनों की तीन दिवसीय बैठक बुधवार से शुरू हो गई। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, बैठक में राम मंदिर और अनुच्छेद 370 का मुद्दा उठा है। इसके अलावा आरएसएस और उसके सहयोगी संगठनों ने मांग की है कि वन रैंक वन पेंशन योजना को जल्द से जल्द लागू किया जाए। बैठक में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, अरुण जेटली, राजनाथ सिंह, अनंत कुमार, जेपी नड्डा, राम माधव जैसे दिग्गज नेता भी मौजूद हैं। विश्व हिंदू परिषद ने कहा है कि राम मंदिर को लेकर जनता में गलत संदेश जा रहा है। मामले में सरकार को सकारात्मक तरीके से आगे बढ़ना चाहिए ताकि लोगों में इस मामले को ...

    वीएचपी ने उठाया राम मंदिर का मुद्दा

    Daily Hindi News - ‎9 hours ago‎
    नई दिल्‍ली (डेली हिंदी न्‍यूज़)। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उससे जुड़े संगठनों के शीर्ष पदाधिकारियों की बुधवार से तीन दिवसीय बैठक शुरू हो गई है, जिसमें विभिन्न मुद्दों पर विचार मंथन किया जाएगा। दो से चार सितंबर तक चलने वाली इस बैठक में संघ प्रमुख मोहन भागवत, संगठन के सभी वरिष्ठ नेता और आरएसएस से जुड़े अनेक संगठनों के प्रमुख हिस्सा ले रहे हैं। bjp-rs-meeting जानकारी के अनुसार, इस बैठक में आज विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) ने राम मंदिर का मुद्दा उठाया है। वीएचपी ने राम मंदिर बनाने की मांग की और कहा कि राम मंदिर को लेकर लोगों के बीच गलत संदेश जा रहा है। राम मंदिर पर सरकार को ...

    आज से बीजेपी और RSS की समन्वय समिति की 3 दिवसीय बैठक शुरू

    Shri News - ‎12 hours ago‎
    नई दिल्ली (एसएनएन): राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और उससे जुड़े संगठनों की तीन दिवसीय बैठक आज एमपी सरकार के मध्यांचल भवन में सुबह नौ बजे से शुरू हो गई है. इस बैठक में संघ प्रमुख मोहन भागवत, संगठन के सभी वरिष्ठ नेता और RSS से जुड़े अनेक संगठनों के प्रमुख हिस्सा ले रहे हैं. पीएम मोदी बैठक के आखिरी दिन शामिल होंगे. बैठक में आगामी बिहार विधानसभा चुनाव, गुजरात में आरक्षण आंदोलन, धार्मिक जनगणना के आंकड़े, वन रैंक वन पेंशन समेत कई मुद्दों पर चर्चा होगी. इस बैठक में बीजेपी सहित संघ के संगठनों के बीच समन्वय बनाने पर विचार विमर्श होगा. चर्चा के दौरान जनगणना के आंकड़ों और एक रैंक एक ...
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Add us to your address book


    http://www.hastakshep.com/donate-to-hastakshep

    https://www.facebook.com/hastakshephastakshep

    https://twitter.com/HastakshepNews


    आपको यह संदश इसलिए मिला है क्योंकि आपने Google समूह के "हस्तक्षेप.कॉम" समूह की सदस्यता ली है.
    इस समूह की सदस्यता समाप्त करने और इससे ईमेल प्राप्त करना बंद करने के लिए, hastakshep+unsubscribe@googlegroups.com को ईमेल भेजें.

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    देश
    02, SEP, 2015, WEDNESDAY 11:15:00 PM

    भारत-पाक सीमा क्षेत्रों से (जम्मू कश्मीर) ! न ही बुबाई, न ही कटाई तो कैसे हो पेट की भरपाई। सच में लगातार कई हफ्ते हो गए ..

    विदेश

    पाकिस्तान में होने वाली भारतीय फिल्मों की प्रदर्शनी पर रोक लगाने की मांग

    02, SEP, 2015, WEDNESDAY 10:31:15 PM

    पाक थिएटर आर्टिस्ट इफ्तिखार ठाकुर की दलील है- भारत, पाकिस्तान में आतंकवादियों को फंडिंग कर रहा है, ऐसे में भारतीय फिल्मों का पाकिस्तान में प्रदर्शन उचित नहीं 

    खेल

    बांग्लादेश में हो सकता है अगला क्रिकेट एशिया कप

    02, SEP, 2015, WEDNESDAY 09:23:40 PM

    ढाका ! बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (बीसीबी) के अध्यक्ष नजमुल हसन ने बुधवार को कहा है कि बांग्लादेश लगातार तीसरी बार एशिया कप की मेजबानी कर सकता है। वेबसाइट 'बीडीन्यूज24 डॉट कॉम' के अनुसार, बांग्लादेश इससे पहले 2012 और 2103 में एशिया कप का 

    प्रादेशिकी

    गुमशुदा की तलाश से लेकर कैंसर के इलाज तक की गुहार

    02, SEP, 2015, WEDNESDAY 11:21:00 PM

    रायपुर ! छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आम तौर पर राजधानी रायपुर में रहने के दौरान नियमित रूप से प्रत्येक गुरुवार को 'जनदर्शनÓ में आम जनता से मुलाकात कर उनकी समस्याएं सुनते हैं। ..

    अर्थजगत

    जेट लाइट का जेट एयरवेज में विलय होगा

    02, SEP, 2015, WEDNESDAY 09:16:10 PM

    मुंबई ! विमानन कंपनी जेट एयरवेज ने बुधवार को कहा कि उसकी किफायती सहायक कंपनी जेट लाइट का उसमें विलय हो जाएगा। कंपनी के मुताबिक, दोनों कंपनियों के निदेशकों ने बुधवार को जेट लाइट के जेट एयरवेज में विलय के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी 
    -- 


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0
  • 09/02/15--18:18: The South African Gandhi

  • Between the atom 
    and the sky
    top logo
    September 2015
    Dear Palash 

    You are receiving our inaugural newsletter because you are a valued reader of our books. We shall bother you every month with our slanted take on the world, and about how it appears to us. Sometimes it appears as it did perhaps to Tuka in the 1630s, as he sat on Bhandara Hill in Dehu and sang to no-one in particular and yet to everyone: Anuraniya thokadha/ Tuka aakasha revadha. In Dilip Chitre's felicitous translation:

    Too scarce to occupy an atom 
    Tuka is as vast as the sky 

    Navayana breathes someplace between the atom and the sky. 

    There are many ways of supporting Navayana-and one of the best ways of sustaining us is by buying books directly from our website as you have done. For that, thank you. 

    The South African Gandhi
    Now, let us tell you about a forthcoming title we are rather excited about: The South African Gandhi: Stretcher-Bearer of Empire written by two outstanding South African scholars of Indian origin, Ashwin Desai and Goolam Vahed. Commissioned by Navayana two years ago, this book has been in the making for over seven years and unmasks the many falsehoods we have been made to believe about the transformation of a man into a Mahatma on South African soil by our nationalist historians, with Indian history neatly divided as 'before' and 'after' Gandhi. Co-published by Stanford University Press, this title will be available in bookstores and e-commerce websites from 2 October 2015-a modest birthday gift for Mohandas Gandhi, the man who proudly defended his participation in war by saying: 'No Indian has cooperated with the British government more than I have for an unbroken period of twenty-nine years of public life ... I put my life in peril four times for the cause of the Empire.' (Ah, did we hear someone say Ambedkar was a British stooge?)
    book1
    Well, we even have a YouTube book trailer with Gandhiji's favourite bhajan,Vaishnava jan to tene kahiye sung cloyingly by Lata Mangeshkar blended to Gandhi's favourite jam in South Africa: 'Rule Britannia'. For this, a salaam to the inventive editor-filmmaker Tarun Bhartiya. Before this film starts trending (oh yes, we do live in hope), be among the first to view and, of course, share it: for no experience today seems complete until and unless we have 'shared' it (a word so callously stripped of its originary meaning). 

    To you, we offer this beautifully produced hardback (6.25 x 9.25 inches) in advance for a special price of Rs 495 inclusive of postage (the list price is Rs 595). This offer is valid only till 20 September-so, well, don't think of saying 'later'. Book your copy now and be amongst the first to read what may be one of the most discussed works of 2015–16. 
    book1
    While at it, do also get this very important critique titled The Pariah Problem byRupa Viswanath. The reviewer in Business Standard, who happens to be a DMK spokesperson, says 'the book has been able to put together a very important story about the struggle of a community, the colonial apathy, the interface with missionaries and an ever-growing assertion of basic human rights'. 

    The Last Mile Boys 
    Sure, there are e-commerce sites driven by big money that perhaps offer better discounts and delivery options: they send you an email and you can track the delivery status on your smartphone. At Navayana, we neither have the resources nor the inclination to be so unctuous; but we do the best we can. Anyone who publishes books, and wishes to sell them, seems complicit and compromised. There perhaps is no greater irony than selling Julian Assange's When Google Met WikiLeaks or André Schiffrin's The Business of Words on Amazon, yet we helplessly do-despite knowing how their staff are pushed at a 'bruising workplace'. In this tainted world, we do not claim to be holier than others. We have no means to ensure that the person who comes to deliver these books to you, the one who walks/bikes/pedals the last mile, has been well paid or is even offered a glass of water, or if the floor workers who fold the 16-page forms of paper in printing presses in the Okhla Industrial Estate in Delhi are getting a just wage. But today, it would be disingenuous to join Tuka and say: I swallowed my death, gave up the corpse/ I gave up the world of fantasy. Yet, in utter self-interest, we do encourage you, your friends and foes, lovers and comrades, to buy our books directly from us. 

    See you again in October-with more of our news, slanted views and maybe another poem. Let us end with what we began, Tuka's abhang-

    I have dissolved God, the self, and the world 
    To become one luminous being 
    Says Tuka, now I remain here 
    Only to oblige

    We remain here to oblige you. But please remember the ways in which you can oblige us too.
    facebook twitter
    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0
  • 09/02/15--21:06: हंगामा खूब है बरपा लेकिन जनता अब भी तमाशबीन है! कामरेड! हड़ताल तो हो गयी कामरेड,पर हम मुद्दों पर बात शुरु ही कहां कर सके हैं कि बदलाव की शुरुआत हो? बहुत खतरनाक है कि जनता को हिंसा की खबरों में बहुत मजा आता है और सुगंधित कंडोम की चिंता उसे सबसे ज्यादा है,अपने हकहकूक की कतई नहीं। यह बेहद खतरनाक है कि रोज रोज खून की नदियां लबालब बहती रहे,जिस किसी को देश बेचना हो ,बेचता रहे,जनता नींदभर सोती रहे।उसे खबर भी नहीं हो कि यह उसीका देश है जो जल रहा है और बात उसी के हकहकूक की हो रही है,जिसे रौंदने का पूरा इंतजाम है। हुक्मरान के लिए यह फिजां बहार है। कि जनता के मुद्दे और मसले हाशिये पर हैं और जिन्हें साथ होना चाहिए वे ही आपस में लहूलुहान है।जैसे बंगाल में हुआ। जैसे बंगाल में हड़ताल के मुद्दों पर कोई बहस नहीं है। पलाश विश्वास

  • हंगामा खूब है बरपा लेकिन जनता अब भी तमाशबीन है!कामरेड!


    हड़ताल तो हो गयी कामरेड,पर हम मुद्दों पर बात शुरु ही कहां कर सके हैं कि बदलाव की शुरुआत हो?


    बहुत खतरनाक है कि जनता को हिंसा की खबरों में बहुत मजा आता है और सुगंधित कंडोम की चिंता उसे सबसे ज्यादा है,अपने हकहकूक की कतई नहीं।



    यह बेहद खतरनाक है कि  रोज रोज खून की नदियां लबालब बहती रहे,जिस किसी को देश बेचना हो ,बेचता रहे,जनता नींदभर सोती रहे।उसे खबर भी नहीं हो कि यह उसीका देश है जो जल रहा है और बात उसी के हकहकूक की हो रही है,जिसे रौंदने का पूरा इंतजाम है।

    हुक्मरान के लिए यह फिजां बहार है।

    कि जनता के मुद्दे और मसले हाशिये पर हैं


    और जिन्हें साथ होना चाहिए वे ही आपस में लहूलुहान है।जैसे बंगाल में हुआ।


    जैसे बंगाल में हड़ताल के मुद्दों पर कोई बहस नहीं है।



    पलाश विश्वास

    Farmers associated with Karnataka State Farmer Facilitators Union stage a demonstration to press for their demands in Bengaluru, on Sep 1, 2015

    Ganesh Tiwari's photo.



    आज मेरे इकलौते बेटे एक्सकैलिबर स्टीवेंस  का जन्मदिन है।हम उसके लिए कोई बेहतर दुनिया की शक्लसूरत बना नहीं सके हैं।फिरभी उसे जन्मदिन मुबारक ताकि हम जो कर न सकें ,वह कर दिखायें।


    नवउदारवादी राजनीतिक आर्थिक जमाने में कामरेड महासचिव प्रकाश कारत ने परमाणु संधि पर यूपीए सरकार से अलगाव का फैसला एकदम सही किया था।


    अफसोस कि आज तक इस देश की जनता को न परमाणु संधि के बारे में कुछ मालूम है और न देश और नागरिकों की संप्रभुता के बारे में कोई परवाह है।


    न जनता को मालूम है उस सियासत हुकूमत और मजहब के त्रिशुल के बारे में जो उसके दिलोदिमाग में शूली और सलीब हैं।


    अपने ही कामरेड को सही फैसले के लिए कटघरे में खड़ा करके सत्ता समीकरण साधते रहे कामरेड और देश बंटता ही रहा।


    जाति धर्म पहचान के नाम पर बंटता चला गया देश तो मुद्दों पर बहस जनता तक ले जाने की जिम्मेदारी मीडिया पर छोड़कर लाल रंग खिलेगा सत्ता की दलाली में विचारधारा को तिलांजलि देकर?


    बिना जनता के बीच जाये, बिना जनता से कुछ सीखें,बिना जनता की आवाज बुंलद किये,बिना जनता की भाषा,लोक और मुहावरों को समझें,आप जनता के हक हकूक कि लड़ाई लड़ लेंगे,जनता को साथ लिये बिना हवा में तलवारबाजी करते हुए जबकि बहुजन आपको जाति के नाम पर गरियाते हैं और लाल रंग से भागते हैं?आप सर्वहारा की बात तो करते हैं लेकिन सर्वहारा से मीलों दूर भागते हैं।


    आपने 1991 से लेकर अब तक कुछ भी नहीं किया सत्ता में भागेदारी के सिवाय,मुझे अफसोस है कि आपके आंदोलन का समर्थन पूरी ताकत के साथ करता हूं,लेकिन मुझे यह सच सार्वजनिक कहना होगा क्योंकि सच कहनेवालों से कामरेडों को संघ परिवार के मुकाबले कहीं ज्यादा परहेज है।यह खतरनाक है।


    सच कहने वालों के लिए न राजनीति में कोई जगह है और न वामपंथ में सच की कोई हैसियत है,यह बहुत खतरनाक है।


    अंबेडकरी समाजवादी खेमे में सच कहना मना है।


    कैसे राजनीतिक कैडर हैं?

    कैसा राजनीतिक संगठन है ?


    कैसा आंदोलन है?

    कैसी हड़ताल है?


    निजीकरण,अबाध पूंजी,विनिवेश और एफडीआई से जनता को कोई तकलीफ नहीं है।जनता निजीकरण को विकास समझ रही है।जनता पीपीपी माडल के हक में जनादेश दे रही है।हत्यारा रब है इन दिनों।


    जनता को नहीं मालूम कि जल जंगल जमीन नागरिकता और मानवाधिकार क्या है और उनका क्या हो रहा है।


    यह कैसा नाबालिग लोकतंत्र है कि जनता को न कानून मालूम है और न अपने हकहकूक के बारे में कुछ मालूम है?


    नागरिक को नहीं मालूम कि उसका बन क्या रहा है।

    झूठे मक्कार,हद दर्जे के बेईमान,पहलवान,सूदखोर महाजन, जमींदार, हत्यारे,बलात्कारी- कोई भी हो सकता है जनता का रहनुमा।


    यह कैसा नाबालिग लोकतंत्र है?


    यह कैैसा लोकतंत्र है कि चूंकि अखबारों में सबसे ज्यादा बंधुआ मजदूर हैं और मीडिया में नर्क गुलजार है तो चौथा खंभा लड़खड़ा गया है और किसी संपादक की कोई रीढ़ नहीं है,सारे के सारे डरे हुए हैं कि अगर मेहनतकशों के हकहकूक बहाल हुए तो सबसे पहले मजीठिया बराबर देना है?


    यह कैसा नाबालिग लोकतंत्र है? मेहनतकशों के हकहकूक के खिलाफ बदलाव के सारे चमकदार दादा दीदी लामबंद हैं?


    यह कैसा नाबालिग लोकतंत्र है? कि सारे के सारे जनप्रतिबद्ध रीढ़दार पत्रकार और संपादक गधों के सींग हैं?


    यह कैसा नाबालिग लोकतंत्र है?

    कि जनता निजीकरण में आजादी समझती है?


    यह कैसा नाबालिग लोकतंत्र है?

    कि जनता शेयर बाजार में सबकुछ दांव लगा लेती  है?


    यह कैसा नाबालिग लोकतंत्र है?

    कि जनता विदेशी पूंजी से लेकर विदेशी हुकूमत के हक में है?


    यह कैसा नाबालिग लोकतंत्र है?

    कि जनता निजीकरण में आजादी समझती है?


    यह कैसा नाबालिग लोकतंत्र है?

    विनिवेश,विनियंत्रण,विनियन और खुलकर बेदखली को विकास के लिए अनिवार्य आर्थिक सुधार समझती है जनता और जनता मेहनतकशों के साथ भी नहीं है?


    यह बहुत खतरनाक है।


    बहुत खतरनाक है कि जनता को हिंसा की खबरों में बहुत मजा आता है और सुगंधित कंडोम की चिंता उसे सबसे ज्यादा है,अपने हकहकूक की कतई नहीं।


    रंगबिरंगे कार्ड धरने और उनका मनचाहा इस्तेमाल और बाजार में खरीददारी के पैसे,क्या यही है लोकतंत्र?


    यह बेहद खतरनाक है कि  रोज रोज खून की नदियां लबालब बहती रहे,जिस किसी को देश बेचना हो ,बेचता रहे,जनता नींदभर सोती रहे।उसे खबर भी नहीं हो कि यह उसीका देश है जो जल रहा है और बात उसी के हकहकूक की हो रही है,जिसे रौंदने का पूरा इंतजाम है।


    सबसे खतरनाक बात यह है कि न जनता को और न मेहनतकशों को अपने हक हकूक के बारे में कुछ मालूम है और न दंगाइयों की राजनीति को,अपना अपना घर भरने की राजनीति को इसकी कोई परवाह है।



    चाट मसाला सेक्स परोसता हुआ मीडिया,जिहादी कत्लेआम के एजंडा को जनसरोकार बनाता हुआ मीडिया,फिर भी आप इन्हींको बयान जारी करके राजधानियों से जनांदोलन करते रहेंगे और जनता के बीच जाने की तकलीफ नहीं करेंगे तो जनता लुटती रहेगी,मरती खपती रहेगी इसीतरह और न लोकतंत्र होगा और न बदलाव।


    कहीं से कोई मतवाला बच्च आयेगा और गिन गिनकर कुनबों समेत करोड़ों जनता लूटकर हुक्मरान का बाजा बजाते हुए देश को फिर ज्वालामुखी के मुहाने छोड़ जायेगा जाति धर्म के नाम,विचारधारा खामोश देखती रहेगी क्योंकि उसे न जमीन पर खड़े होने की तमीज है और न हकीकत के मुकाबले जनता को गोलबंद करने की समझ है।लगातार यही हो रहा है।


    दंगाइयों को कत्लेआम की खुली छूट लोकतंत्र है।


    देश बेचने का हक जनादेश है और जनता के हिस्से में कयामतों के सिवाय कुछ भी नहीं।


    कायनात की रहमतों,बरकतों और नियामतों से भी जनता बेदखल और इसी बेदखली का नाम एकमुश्त राजनीति और अर्थव्यवस्था है।


    किसी को अंदाजा भी नहीं है कि सरेआम चांदमारी हो रही है चूंते हुए सामग्रिक विकास के नाम पर,समता और न्याय के नाम पर, समरसता और धर्म,राष्ट्र और अस्मिता के नाम पर।


    जो सर्वहारा हैं वे कहीं भी साथ खड़े नहीं हैं और एक दूसरे के खिलाफ जिहादी तेवर में लामबंद है तो कैसी राजनीति कर रहे हैं आप कि न जनता को गोलबंद कर पा रहे हैं और न देश दुनिया जोड़ पा रहे हैं?


    कारपोरेट सीमेंट से बनी दीवारों को पहले तोड़िये।


    राजनीतिक ध्रूवीकरण धर्म और अस्मिता के आधार पर हो रहा है।जात पांत जनसंख्या के आंकड़े पर गिरोहबंदी हो रही है और इसे राजनीति मान रही है जनता।उसी हिसाब से एक दूसरे के खिलाफ गिरोहबंद हो रही है जनता।


    हुक्मरान के लिए यह फिजां बहार है।

    कि जनता के मुद्दे और मसले हाशिये पर हैं

    और जिन्हें साथ होना चाहिए वे ही आपस में लहूलुहान है।

    जैसे बंगाल में हुआ।

    जैसे बंगाल में हड़ताल के मुद्दों पर कोई बहस नहीं है।


    सारा फोकस अखाड़े पर है कि कौन सियासत में किसे पटखनी दे रहा है और हंगामा खूब है बरपा लेकिन जनता अब भी तमाशबीन है।


    इस देश की जनता को और मेहनतकश तबके को बधाई कि आखिरकार हकहकूक के लिए कोई आवाज तो बुलंद हुई है।


    बधाई कि 1991 के नवउदारवादी सत्ययुग के रामराज में लापता स्वराज के लिए देशभर में गुहार की शुरुआत हो गयी है।


    मेहनतकशों के हक हकूक के लिए राष्ट्व्यापी  हड़ताल की अभूतपूर्व कामयाबी की असल उपलब्धि यही है।


    फिरभी चिंता की बात यह है कि यह हड़ताल आम हड़ताल नहीं बन सकी और राजनीति और कारपोरेट मीडिया की मेहरबानी कि यह आम हड़ताल भी पार्टीबद्ध राजनीति सी लग रही है,जिसमें जनता की भागेदारी और मेहनतकशों की रहनुमाई दिखी नहीं है।


    फिरभी चिंता की बात है कि अब भी बिना जनता की भागेदारी के पार्टी,संगठन और बेलगाम भीड़ के दम पर बदलाव की बात सोच रहे हैं।भूल गये कि मजमा खड़ा करने से आंदोलन खड़ा नहीं होता।


    भूल गये बेलगाम भीड़ दंगाई भीड़ होती है जो कत्लेआम का बहाना बन जाती है।


    शुक्र है कि पार्टीबद्ध हिंसा के अलावा मेहनतकशों के हकहकूक की हड़ताल के बहाने दंगा अभी हुआ नहीं है।


    जनता के बीच जाने की तकलीफ उठाये बिना,जनता के मुहावरों में जनता के बीच बदलाव के मुद्दों पर खुली बहस के बिना कोई आंदोलन आंदोलन नहीं होता।


    जनता की भागेदारी हो जाये,मेहनतकशों की रहनुमाई हो जाये तो कामरेड बदलाव को रोक सकें,ऐसा कोई माई का लाल नहीं है।


    दंगाई भीड़ की राजनीति सत्ता की राजनीति है,बदलाव की नहीं।

    हमें भीड़ नहीं,हमें समझदार जनता की जरुरत है।


    वरना यूं समझिये कि बात तो हुई लेकिन बात चली नहीं कहीं।


    हड़ताल कामयाब तो हुई लेकिन मेहनतकशों को मालूम ही नहीं चला कि बात उसीके हकहकूक की हो रही है,कामरेड!


    मुद्दों पर फोकस होता तो बंगाल में हिंसा हड़ताल की सबसे बड़ी खबर नहीं होती।


    किस्सा फिर वही है कि गांवों से शहरों को घेरने की बात हो रही थी और गांवों का सिरे से सफाया हो गया।


    कत्लेआम हो गया।


    जनता को तब भी मालूम न हुआ और आज भी मालूम नहीं है कि दोस्त कौन है और दुश्मन कौन।


    किस्सा फिर वही है कि आर्थिक मुद्दों पर बहस करने की हमारी तमीज ही नहीं है।


    यूं समझें कि अमेरिका,ब्रिटेन और सभी विकसित देशों में राजनीति से राजनय अलग है।


    चुनावों में बहस न राजनीति पर होती है और न राजनय पर।बहस चलती है अर्थव्यवस्था पर।


    देश के आर्थिक मुद्दों पर,घरेलू मसलों पर।

    दंगाई राजनीति नहीं होती है और न वहां राजनीति मजहबी होती है।


    चुनी हई सरकार के जिम्मे छोड़ दी जाती है राजनय।मसलों पर खुली बहस होती है और सत्ता का कोई समीकरण नहीं होता राजनीति का नाम।राजनीति आंतरिक लोकतंत्र होती है जिसके तहत जनता अपने उम्मीदवार और रहनुमा चुनते हैं।


    शुरु से अत्यंत संवेदनशील राजनय हमारे यहां सबसे खतरनाक राजनीति है,जो अंध राष्ट्रवाद है।


    हुकूमत को जो काम गोपनीयता से अंजाम देने होते हैं,वह मजहबी जिहाद में तब्दील है और देश की सुरक्षा,एकता और अखंडता की कीमत पर अंध राष्ट्रवाद की मजहबी जिहादी राजनीति का खुल्ला कारोबार है सरहदों के आर पार आत्मघाती धमाकों की तरह।


    हमारी समझ से परे है कि किसी आजाद देश के नागरिक और हुक्मरान राजनीतिक समीकरण साधने के लिए सरहद को दांव पर कैसे लगाते हैं और कैसे राजनीति युद्ध और गृहयुद्ध में तब्दील है।


    कैसे राजनीति अपने ही देश और अपनी ही जनता के कत्लेाम पर आमादा है,यह हमारी समझ से परे है।


    हमें न दादा की भाषा समझ में आ रही है और न दीदी की तुकबंदी।


    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0


    Dear Friends, 
     
    We are glad to inform all comrades and friends that Roma has been granted  final bail on the last case today by the court of Additional District Judge, Sonbhadra. For the last two weeks we have been awaiting for this judgment.  The prosecution was creating all sorts of delaying tactics to block the bail since they exhausted all their arguments in proving their lies and false apprehensions.We have been actually fighting against the state administrations rather than the district administration only.It is a remarkable achievement for our defense lawyers team to get all the bails in 11 cases with serious charges from the trial court itself. Our lawyers and comrades are now busy in finalizing the bail documents (sureties) so that it can go for scrutiny by today's court hour. Hopefully, the scrutiny work will be completed by tomorrow and final release warrant can be sent to Mirzapur Jail by tomorrow evening. Then Roma can come out from Jail day after (5th Sept') morning and would leave for Delhi straightway. Police has been trying to put some new charges to block her release since granting of her final bail became imminent after the 24th August bail order on main cases. So, it will not be advisable for her to stay back in Sonbhadra at present. Her return to Sonbhadra will have to be planned meticulously. That we can discuss after she rejoins us. At this happy moment after these straining and agonizing  65 days we would  like to express our sincere gratitude to all known and unknown friend and comrades who tirelessly worked for the release of our very beloved three women comrades. Now we have to  work with a new zeal to get our four community leaders from Kanhar Dam areas released. Their bail applications are now in Allahabad H.C. We can not have our real celebration before they come out. Now let us hope Roma will be out in a few days to join her comrades and friends and of course her ailing mother. Long live the victory of Working People's Struggle! Inquilab Zindabad !
    In solidarity,

    Ashok choudhary
    AIUFWP


    -- 

    In solidarity, 
    Sanjeev Kumar

    Coordinator
    Delhi Forum
    Address: F- 10/12, (Basement), Malviya Nagar,
    New Delhi INDIA - 110017
    Phones: 011-26680883 / 26680914 / +91-9958797409 (Mobile)
    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

    0 0

    Bengali Refugees in Dandakranya demand RESERVATION.

    Bengali refugees belonging to scheduled caste in Bengal are not considered SC in Chhattisgargh,Uttara Pradesh,Rajasthan,Madhya Pradesh,uttarakhand,Andhra,Karnataka,Tamilnadu and everywhere in Dandakranya excluding Orissa.

    Bengali refugees are demanding reservation.In UP Mulayam reccomended reservation as CM and later Mayawati withdrew the reservation.

    In Chhatishgargh reservation for refugees has been withdrawn.

    ND Tiwari sanctioned reserrvation for Bengali students in UP as CM but neither in UP nor in Uttarakhand reservation in job is allowed for refugees.



    In Up and Uttarakhand refugees had been agitating fordecades without any result.

    Now it is the turn of Dandakarnya refugees..In Pakhanjor under Kanker district of Chhattisgargh Bengali refugees organised a massive raly to push their demand for reservation with Bengali teachers in schools in Bengali colonies.
    Palash Biswas

    --
    Pl see my blogs;


    Feel free -- and I request you -- to forward this newsletter to your lists and friends!

older | 1 | .... | 189 | 190 | (Page 191) | 192 | 193 | .... | 303 | newer