Are you the publisher? Claim or contact us about this channel


Embed this content in your HTML

Search

Report adult content:

click to rate:

Account: (login)

More Channels


Channel Catalog


Channel Description:

This is my Real Life Story: Troubled Galaxy Destroyed Dreams. It is hightime that I should share my life with you all. So that something may be done to save this Galaxy. Please write to: bangasanskriti.sahityasammilani@gmail.comThis Blog is all about Black Untouchables,Indigenous, Aboriginal People worldwide, Refugees, Persecuted nationalities, Minorities and golbal RESISTANCE.

older | 1 | .... | 126 | 127 | (Page 128) | 129 | 130 | .... | 303 | newer

    0 0
  • 06/28/15--01:25: Terrorism Explained
  • Terrorism Explained
     
    While people might give different definitions of terrorism, my understanding of Terrorism is as follows:
     
    1. Killing innocent men, women and children and damaging their dwellings, who were not even involved in the conflict between the parties.
     
    2. Creating a situation by killing a person or few from their own group and religion and plotting it in such a way, so as to give an understanding that this act or crime was carried out by another group. This will result in creating tension and riots to kill innocent people of other group and damage their properties and source of living.
     
    3. Another well-known and most affective tool is to desecrate a place of worship of a particular community to make them come into action. When the affected community gets enraged and comes on the roads; the persons who actually desecrate the religious place and waiting for this to happen and well organized with the support of law enforcing authorities will oppress that community.  
     
    This strategy is being used mostly everywhere for the sake of material gains, political gains based upon hatred towards others against the humanity.
     
    4. The above strategy is being used by, individuals, groups and even Governments of different states and its results of damage and sufferings are in proportion accordingly.,
     
    5. Now leaving aside the culprits who really started this sedition, common people from their own religious group shall get instigated attack, killing and looting the other opposite group who are innocent and their crime is only that they are from the other religion or group. Now it is going to be a chain reaction and there shall be people from the other group involving themselves in the same activities to inflict on the other group.
     
    6. In the end, the result will be the suffering of minorities and they will be suppressed, by the majority group, by their governments, law enforcing authorities and finally the court of law, where selected are awarded with death punishments and others shall go for life imprisonment or punishment for years.
     
    7. This will also have ongoing effect on their families and their children who will suffer and might even start hating other group, decide to take revenge. Revenge on whom?
     No one knows the real culprits or the culprits could be their own Governments. Now the persons affected go crazy and do not care for their lives and start killing looting the innocents of other group and the story goes on and on between the groups to make their life miserable.
     
    8. There is another example; two antisocial elements gamblers, murderers who does not care for faith or religion but of different religions get into a rift, fight and murder. Now this becomes a religious issue. Politicians who take religion as their weapon make use of this opportunity and killing and looting of the related community starts. Even the Law enforcing authorities where among them there is no proportionate representations collude with the majority group and further make minorities suffer.
     
    9. Another important aspect of terrorism is the one sided Media. They work for the interest of their parties and add fuel to the fire to aggravate the riots.  
     
    10. There is another strategy set up by the law enforcing authorities of the Governments. The target the persons who are from antisocial elements, or even emotional leaders of the minority group visible by their speeches and demonstrations against the atrocities committed by the other groups. These undercover law-enforcing authorities themselves approach such persons and offer arms and ammunitions to enable them to take actions in revenge. When those people are trapped and buy those weapons from them, the law enforcing authorities conduct operation and arrest them with weapons and ammunition in their possession, thereby there is no chance for them to escape at all. Next day you will read in national newspapers on headlines about the wonderful vigilance and bravery of the police and they will be awarded too. Sometimes such sting operations will be conducted in higher level, so as to blame the government of other countries too.
     
    11. Every country has their own unit with all provisions of money, arms, ammunition and men in their countries as well as other countries to start terrorism or sedition in other enemy countries either to create unrest, weaken or topple the government in that country with all the above mentioned strategies. As a government is involved in it, the losses inflicted shall be high in proportion.
     
    I will call every thing mentioned above "TERRORISM"
     
    Now who is Responsible for it?
     
    It is the party, who prepares the strategy and plans to start the trouble and that party always remain safe and achieve their objectives and goals, while from targeted group, innocent people shall suffer .
     
    The Democracy did not solve this problem and it will not unless the people are well educated and are aware of these maneuvers. Unless government and law enforcing authorities are honest, impartial, and proper representation of all communities is given in government and law enforcing authorities.
     
    Now coming back to the handling of such situations by Muslims, I shall place the following:
     
    Terrorism of any kind is not permitted in Islam. Allah has mentioned in Holy Book Quran that Fitna is more severe than a murder. (Holy Quran 2:217, 2:191)
     
    "Fitna" is a term in Arabic for tumult, terrorism, conspiracy and oppression.
     
    Therefore, Muslims are not supposed to answer the Terrorism with Terrorism, Oppression with Oppression and we should not kill innocent people as per the command of Allah. (Holy Quran 8:25)
     
    Allah has also mentioned in Holy Quran; killing an innocent person is like killing the whole of humanity and saving a person's life is like saving the whole of humanity. (Holy Quran 5:32)
     
    As per commandments of Allah only the oppressors and invaders are to be confronted in defense and again they are not supposed to make any excesses. Killing of innocent men, women and children is forbidden and damaging property is not allowed. (Holy Quran 4:112)
     
    When Muslims are ruled by Oppressors, they should leave that country and if they cannot they should bear it, face it with the prevailing laws and if that does not help, place their complaints before the creator Allah. Allah says the cry of the oppressed reaches Him without any barriers. Let Allah take care of the oppressors in this world and hereafter. After all our life in this world is short, let us constraint ourselves in the absence of leadership, support and power. (Holy Quran 24:26)
     
    Trouble started by a government of another country is to be handled by their government and not by individuals taking law into their hands.
     
    As per the sayings of our Holy Prophet peace be on him, A Muslim is one whose neighbors are safe from his tongue and hands. He even stressed a Muslim is filling his stomach with fire if his neighbor is hungry. A neighbor is a neighbor irrespective of his religion as per him and he said forty houses on either side of his house is a neighbor.
     
    Again, Our Holy Prophet peace be on him said: A Muslim is one who feels whatever is good for him is good for others and whatever is bad for him is bad for others too.
    Whosoever has done good equal to the weight of an atom (or a small ant), Shall see it (its reward) And whosoever has done evil equal to the weight of an atom (or a small ) ant), Shall see it (Its punishment)." (99.7-8)  (Sahih Bukhari Book#56, Hadith #839)
     
    Now tell me, does Terrorism fits in Islam?
     
    Even though many of the points mentioned above were placed in Websites and told by responsible religious scholars, the Media will not propagate them. Hence the non- Muslim community is not aware of it and they think all the Muslims are supporting Terrorism and it is permitted in their religion of Islam and all the Muslims are Terrorists. Allah Forbid.
     
    Your comments are welcomed. If convinced, please pass on this message of understanding to others both Muslims and Non Muslims.

    __._,_.___

    Posted by: Abu Taha <abutaharahman@yahoo.com>

    0 0

    Unequal justice

    Dr Mohammad Manzoor Alam
    A democracy is known by its fair play to all its citizens and equality before law. Sadly, it has become a pattern in India that some go scot free and others are heavily punished for committing the same crime. The judiciary, helped by government, has gone soft in cases involving the rich and the resourceful and hard in those involving the poor, the resourceless, the minorities.

    The revelation by former Special Public Prosecutor Rohini Salian, assigned the 2008 Malegaon blasts, said that right after the NDA came into power, she began to be pressurised to go soft on the Hindutva activists charged with these attacks. Unable to meet the government's demand, she has resigned. She has said an NIA (National Investigation Agency) official had personally met her with the demand.

    Families of victims (all Muslims) have said they were not surprised to know about Salian's disclosure. The state was not interested in delivering justice right from the beginning as all the accused were well-known people connected to RSS and allied violent, Hindu right-wing organisations. In this case the late Hemant Karkare, then chief of Maharashtra Anti-Terror Squad (ATS), had found the involvement of retired and serving officers of the Indian Army as well.

    After the takeover of Modi government victims and their families were apprehensive that more aggressive attempts would be made to derail the case. Congress leader Digvijay Singh has said that during UPA rule the Sangh and its political arm, BJP, had been trying to put pressure on Manmohan Singh to help soften the case against the Hindutva votaries charged with this crime. BJP's top leaders had tried to bully the UPA government before they came down to polite arguments.

    To say the least, it is not the sign of a democracy's health when the justice delivery system is sought to be undermined by powerful people. Following similar tampering with cases in Gujarat courts against perpetrators of the anti-Muslim pogrom of 2002, the Supreme Court had fruitfully and laudably transferred some of the cases to courts outside the state. It immensely helped the cause of justice.

    The attempts to derail justice this time are more ominous and difficult to deal with. Such insidious and mala fide acts by government agencies are systemic and deeply entrenched in power, beyond the capability of weak and vulnerable victims to rectify. Only institutional checks and larger public movements can effectively stop them. Nothing of that sort, regrettably, is in sight at the moment.

    All that we have is the hope that good sense will prevail in the government and it will refrain from sinking further in the morass of corruption and cronyism in which it has got caught so early in its tenure. The NDA government stands charged with the same sins within a year of its rule which took nearly eight years to catch the UPA. The government will do well to avoid such controversies and let justice prevail for the good of the country and for its own good.


    0 0
    0 0

        Major Bradshaw Failing Dispute Resolution with Gurkha Representatives

     

               Anglo Nepalese War with   Reference to Gurkha Rule over Uttarakhand & Himachal -9

    History of Gorkha /Nepal Rule over Kumaun, Garhwal and Himachal (1790-1815) -130    

       History of Uttarakhand (Garhwal, Kumaon and Haridwar) -651

                              By: Bhishma Kukreti (A History Student)

     

                  East India Company and Gurkha Rulers were expansionists and both were opportunists for expanding their territories for any reasons.  

            For resolving the Butbal disputes the Company deputed Major Bradshaw to talk with Nepalese representatives –Krishna Pundit and Raghunath Pundit.  The conference was totally failures as both the parties were least bothered to accept other's arguments and logics. Major Bradshaw wrote to Company that the Company had logical rights on Butbal and Syuraj.

        After some time, Company handed over Bradshaw the responsibility of resolving Saran and Tirhut border Disputes.

               Major reached Saran and told to Nepal Vakil /advocate to hand over the disputed land (twenty two villages) to East India till the dispute was   resolved. Major Bradshaw promised that if the right of Nepal on twenty villages were proved logically the Company would return the land. Nepal representatives either believed on cunning Bradshaw or they were under compulsion they handed over the disputed land to the Company. East India Company never looked after from that time for resolving the issue.

           On 4th March 1814, the Company ordered Major Bradshaw to resolve the issue for ever. Company also ordered Bradshaw to get back Saran land from Nepal. He was asked to take necessary action against Nepal if needed. Bradshaw reached to disputed land. Bradshaw called again the Nepalese representative for discussion. Nepalese representatives refused to come for discussion with Bradshaw and cleared that those twenty two villages were handed over to east India Company for temporary basis. Nepalese representatives asked Bradshaw to vacate the land immediately. After asking Bradshaw to vacate land, the Nepalese representatives left for Kathmandu.

                                            Protest from Hastings

                 Governor General Hastings was annoyed by the information that Nepalese representatives were not agreeing for handing over the land to the Company. He sent a letter and threatened that Nepal should take off its administrators form the land and cautioned if Nepal government did not take off administration from the land Company would take stern action against Nepal (Sanwal).

                     East India Company Army Action

     

      After dispatching letter to Nepal, Company head office sent three artilleries for helping major Bradshaw. Company ordered major Bradshaw that he should wait for a reasonable time for answer from Nepal. Later on he was asked to capture the land from Nepal.

     Company deputed Colonel Richardson with seventeen Army companies to Gorakhpur, Gorakhpur magistrate was asked to send warning letter to Nepal for vacating Butbal and Syuraj. If Nepal government did not agree the Colonel was asked to take army action against Nepal for capturing Butbal and Syuraj territories.

                  Nepal government answered through letter that Yong had cleared that Nepal had right on Butbal and Syuraj. Nepal government refused to vacate Butbal and Syuraj. Nepal government informed that Nepal was ready to resolve the border issue by talk and was ready to send its representatives to Kolkata. The letter reached on 4th May 1814. However, East India Company Magistrate of Gorakhpur captured the territories before the letter reached to Gorakhpur Magistrate. Initially Nepalese army resisted but later on Ambar Singh Thapa asked his army to go back towards Nepal.  

     

     

    ** Most of references and details were taken from Dr Dabral

     

    Copyright@ Bhishma Kukreti Mumbai, India, bckukreti@gmail.com28/6/2015

    History of Garhwal – Kumaon-Haridwar (Uttarakhand, India) to be continued… Part -652

    *** History of Gorkha/Gurkha /Nepal Rule over Kumaun, Garhwal and Himachal (1790-1815) to be continued in next chapter 

     

    (The History of Garhwal, Kumaon, Haridwar write up is aimed for general readers)

    XX

                        Reference

     

    Atkinson E.T., 1884, 1886, Gazetteer of Himalayan Districts …

    Hamilton F.B. 1819, An Account of Kingdom of Nepal and the territories

    Colnol Kirkpatrik 1811, An Account of Kingdom of Nepal

    Dr S.P Dabral, Uttarakhand ka Itihas part 5, Veer Gatha Press, Dogadda

    Bandana Rai, 2009 Gorkhas,: The Warrior Race

    Krishna Rai Aryal, 1975, Monarchy in Making Nepal, Shanti Sadan, Giridhara, Nepal

    I.R.Aryan and T.P. Dhungyal, 1975, A New History of Nepal , Voice of Nepal

    L.K Pradhan, Thapa Politics:

    Gorkhavansavali, Kashi, Bikram Samvat 2021 

    Derek J. Waller, The Pundits: British Exploration of Tibet and Central Asia page 172-173

    B. D. Pande, Kumaon ka Itihas

    Sharma , Nepal ko Aitihasik Rup Rekha

    Chaudhari , Anglo  –Nepalese Relations

    Pande, Vasudha , Compares Histriographical Traditions of Gorkha Rule in Nepal and Kumaon

    Pradhan , Kumar, 1991, The Gorkha Conquests , Oxford University Press

    Minyan Govrdhan Singh , History of Himachal Pradesh

    A.P Coleman, 1999, A Special Corps

    Captain Thomas Smith, 1852,Narrative of a Five Years Residence at Nepal Vol.1

    Maula Ram/Mola Ram  , Ranbahadurchandrika and Garhrajvanshkavya

    J B Fraser , Asiatic Research

    Shyam Ganguli, Doon Rediscovered

    Minyan Prem Singh, Guldast Tabarikh Koh Tihri Garhwal

    Patiram Garhwal , Ancient and Modern

    Tara Datt Gairola, Parvtiy Sanskriti

    John Premble, Invasion of Nepal

    Chitranjan Nepali, Bhimsen Thapa aur Tatkalin Nepal

    Sanwal, Nepal and East India Company


    0 0

    DrAjay Srivastava
    DrAjay Srivastava 1:00pm Jun 28
    मोदी को वही लोग गाली दे रहे है :-
    १. जिनका दो नम्बर का दो नम्बर का धन्धा चोपट हो रहा है l 
    २. जिनको सब्सिडी का पैसा हडपने का मौका नहीं मिल रहा l 
    ३. जिनको रोज टाइम से ऑफिस पहुंचना पड़ता है l
    ४. ऑफिस में पूरा दिन मेहनत से काम करना पड़ता है l 
    ५. जिन लोगो का 2g, 3g और कोयला g का कमीशन मारा गया l 
    ६. मारा हुआ बैंकों का कर्ज (NPA)चुकाना पड़ रहा है l
    ७. जिनकी असलियत जनता खासतौर से युवा जान गए है l और उनका पुनः सत्ता में लौटना असंभव लग रहा है l 
    ८. जो चारा क्या गोला-बारूद,तोप,कफ़न व् देश की इज्जत भी खा जाते थे l 
    ९. जो समाज में समरसता नहीं चाहते ,आरक्षण से जातियों में वैमनस्यता चाहते है तथा मुस्लिमो का अनुचित पक्ष (अपिजमेंट) से हिन्दू-मुस्लिमो को लड़ाना चाहते है l 
    १०. जो लोग कांग्रेसियों (नेहरु खानदान) के षड्यंत्रों को समझ नहीं सकते l 
    (संछेप में सभी हरामखोर, रिश्वतखोर,कमीशनखोर, मुफ्तखोर, कामचोर, चन्दाचोर, भ्रष्ट, बेईमान, कम-अकल व्यभिचारी,कामान्ध लोग )
    Original Post
    Palash Biswas
    Palash Biswas 4:53pm Jun 19
    http://palashscape.blogspot.in/2015/06/blog-post_902.html
    Palash Scape,the Real India: आपातकाल कब खत्म हुआ जी? जर जोरु जमीन जलजंगल जमीन सबकुछ निशाने पर...
    palashscape.blogspot.com
    कैसे नहीं दोगे जमीन,देखते नहीं कि सड़कों पर उतरने लगे हैं युद्धक विमान कि झीलों और समुंदरों की गहराइ...

    0 0
  • 06/28/15--01:35: Article 13
  •    
    Gajanan Sirsat
    June 28 at 1:31am
     
    माझ्या सर्व आंबेडकरवादी बहुजन भावांनो आणि बहिनींनो आपनास ईंडियन सोश्यालिष्ट रिपब्लिकन असोशिएशन कडुन तसेच सम्यक मानवसेवा केंद्रा कडुन सप्रेम जयभिम...जयशिवराय...नमोबुद्धाय. 
    भावांनो काही दिवसापासुन आंबेडकरवादी बहुजन चळवळ fb व whtasapp च्या रुपाने फोपावत आहे. 
    आपले जास्तित जास्त तरुन तरुनि लिहायला लागले आहेत , बाबासाहेबांच्या साहीत्याबद्दल वाचन वाढले आहे तसेच सर्व बहुजन नेत्यांचे साहीत्य वाचुन त्याचा fb व whatsapp माध्यमातुन प्रचार होत आहे. 
    हि खुपच आनंदाची बाब आहे. 

    पन हे सर्व कार्य करता करता आपले चळवळीचे कार्यकर्ते कुठेतरी भरकटल्या सारखे वागु लागले आहेत 
    थोड्याफार प्रमानात आंबेडकरवादी चळवळीचा गाभा ,मतितार्थ विसरु लागले आहेत, असे वाटु लागले आहे. 

    हे सर्व लिहायचे कारन की आंबेडकरवादी बहुजनांची चळवळ ही समाजकेंद्रीत चळवळ आहे, व्यक्तिकेंद्रीत नाही , हाच मतितार्थ आम्हि विसरत चाललो आहोत. 

    कारन आजकाल आपन चळवळीबद्दल एखादा लेख किंवा त्यावर एखादी प्रतिक्रीया देतो , आणि नेमका त्या लेखाला किंवा त्यवरिल प्रतिक्रीयेला कुनी एखाद्या जातीयवादी प्रवुत्तीच्या व्यक्तीने आव्हान दिले किंवा ऊलट प्रतिक्रीया दिली , कि लगेच आम्हि हि आपल्या भावा बहिनींना त्या पोस्ट वर बोलावुन त्याला नमवायचे प्रयत्न करतो आनि तेही मग कुठल्याही भाषेत. 
    आणि हे ईतके दिवस चालु राहते की आपन जातीयवाद्यांच्या जाळ्यात आपोआप अडकतो, मग त्यांचे फोन कॉलस , पोलीस कार्यवाही यांना तोंड देता देता शेवटी काही दिवस आपले लिखान थांबवतो किंवा आपली ID बदलवुन टाकतो. 

    परंतु मि माझ्या बांधवाना सांगु ईच्छितो की आपन जे काही चळवळीबद्दल लीहीतो ते आपल्याच बहुजन समाजासाठी लिहीतो , कुन्या एखाद्या किंवा काही जातीयवादी व्यक्तींसाठी नव्हे , त्यामुळे त्या काही व्यक्तींनी विरोध जरी केला तर त्यांना सैंविधानीक भाषेत पुराव्यासहीत समजावुन सांगन्याचा प्रयत्न करा , आणि समजतच नसेल शिविराळ भाषेवर ऊतरत असेल तर अश्यांना block करा किंवा unfriend करा. 
    व पुढे चला. 
    कारन चळवळ अजुन खुप पुढे न्यायची आहे , सर्व बहुजन समाज आंबेडकरवादी व बहुजन नेत्यांच्या विचारांसोबत जोडायचा आहे , 
    आणि हे काम आंबेडकरवादी चळवळीच्या कार्यकर्त्यांनाच करायचे आहे , हे लक्षात ठेवा. 

    म्हनुन एखाद्या किंवा काही जातीयवाद्यांना महत्व न देता , आपल्या कार्यकर्त्यानी अशांना दुर्लक्षित करावे व जे बहुजन आंबेडकरवादी विचांरासोबत येवु ईच्छितात त्यांना सोबत घेवुन चळवळ पुढे न्यावि. 

    एवढे करुनहि काहि जात्यंध मुद्दामहुन तुमच्या मार्गात अडथडा आनत असतिल तर ईंडियन सोश्यालिष्ट रिपब्लिकन असोशिएशन आपल्या पाठीसी खंबिरपने ऊभी असेल , याची मी आपनास ग्वॉही देतो. 
    एवढेच नव्हे तर जातीयवाद्यांना जशास तसे ऊत्तर देन्यास आम्हि सक्षम असु. 
    आपन आपले चळवळीतले योगदान कायम ठेवा. 

    " आंबेडकरवादी बहुजन चळवळ व्यक्तिकेंद्रीत नव्हे तर समाजकेंद्रीत बनवा". 

    आम्हि आपल्या सोबत नेहमिच असु. 

    जयभिम....जयशिवराय...नमोबुद्धाय. 

    आपलाच भाऊ 

    गजानन सिरसाट (भाऊ) 
    रा .अध्यक्ष : ईंडियन सोश्यालिष्ट रिपब्लिकन असोशिएशन. 
    व. 
    धम्मसेवक : सम्यक मानवसेवा केंद्र.

    0 0

    Guwahati : A moderate earthquake measuring 5.6 on the Richter scale jolted Assam and the rest of north east India at around 6.35 am on Sunday.

     
    The epicentre was located near Kokrajhar at a depth of 10 kilometres  on latitude 26.5 degree north and longitude 90.1 degree east, MET officials said.
     
    The quake rattled doors and windows forcing people to rush out of their houses, police said.
     
    Tremors were felt in Bhutan, Bangladesh, Nepal and eastern part of India.
     
    There was no immediate report of any loss of life or damage to property.
    In April this year, tremors had been felt at Guwahati and its neighbouring areas in Assam following the devastating tremor in Nepal.
    - See more at: http://newspostlive.com/Description/?NewsID=2258&sthash.YSvsZMID.mjjo#sthash.YSvsZMID.URyCCT3r.dpuf

    0 0

    अमरीका, लोकतंत्र, आतंकवाद व धार्मिक अतिवाद

    -प्रो0 नदीम हसनैन 

        बहुत से पाठकों को यह शीर्षक ही बड़ा अटपटा लगेगा लेकिन यह इस निबन्ध की एक पड़ताल का विश्लेषण करने का प्रयास है। जो अमरीका के आतंकवाद, लोकतंत्र व धार्मिक अतिवाद के गठजोड़ पर आधारित है। वर्षों के बड़े प्रोपेगंडा के कारण बहुत से लोग यह मानने लगे हैं कि अमरीका संसार में लोकतंत्र का सबसे बड़ा प्रहरी व प्रोत्साहक है और संसार में हर दशा में लोकतांत्रिक व्यवस्था की स्थापना चाहता है धार्मिक अतिवाद व आतंकवाद के विरोध में लड़ी जा रही लड़ाई का पड़ताल करें और यह भी देखने का प्रयास करें कि भारत में उसकी क्या भूमिका रही है। 
        वर्षों की अंदेखी, उदासीनता व हाशिए पर रहने के बाद दक्षिण एशिया का क्षेत्र अंतर्राष्ट्रीय पटल पर तेजी के साथ उभरा है। इस क्षेत्र में भारत, पाकिस्तान, बंग्लादेश, श्रीलंका, नेपाल व मालदीप आते हैं। तेल के बड़े भण्डारों व सामरिक महत्व के कारण खाड़ी के देश अधिक महत्वपूर्ण माने जाते रहे। तत्पश्चात अमरीका, योरोपीय यूनियन, चीन व जापान जैसे महत्वपूर्ण देशों ने दक्षिण एशिया की ओर देखना शुरू किया और 9/11 की घटना के बाद तो अमरीका का ध्यान पूरे तौर पर इस ओर हुआ। ''आतंकवाद''से अमरीका ने सहयोगी देशों की सहायता से इस पूरे क्षेत्र को शक्ति संरचना कर अपने काबू में करना शुरू किया और पाकिस्तान व अफगानिस्तान में यह काफी हद तक सफल भी रहा। साथ ही उसने भारत के अपने रिश्तों को भी मजबूत करने का पूरा प्रयास किया जिससे कि चीन के प्रभाव को भी रोका जा सके। 
        चोम्सकी, जो वर्तमान संसार में सबसे सम्मानित बुद्धिजीवी माने जाते हैं, 2013 के अपने लेख में कहते हैं कि अमरीका विश्व की सबसे बड़ी आतंकी शक्ति का संचालन कर रहा है। चोम्सकी अमरीकी नागरिक हैं तथा प्रख्यात एम0आई0टी0 मेसोच्यूसेट इंस्टीटयूट आॅफ टेक्नोलाॅजी में वर्षों से प्रोफेसर रहे हैं। हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि अमरीकी व्यवस्था हमेशा कुछ विरोधी व भिन्न मतावलंबितयों को भी बरदाश्त करती रही है जिससे कि संसार को दिखाया जा सके कि अमरीका में असहमति को कितना सम्मान दिया जाता है। इससे मुझे अपने अमरीकी प्रवास में 2006-07 की एक घटना याद आती है हाऊज (अमरीकी राष्ट्रपति का कार्यालय/ आवास) के सामने टेंट लगाये थे या प्लेकार्ड लिए बैठे थे। सबसे अगली कतार में एक अमरीकी महिला एक बड़ा सा पोस्टर लिए बैठी जिस को उस समय मेकअप में दिखाया था और बड़े-बड़े अक्षरों में उसके नीचे लिखा था ''विश्व का सबसे बड़ा आतंकवादी''। अमरीकी स्वार्थो पर हमला नहीं करती। चोक्सी व हरमेन का यह भी मानना है कि तीसरी दुनिया में जो भी क्षेत्र अमरीका के प्रभाव में हैं वहाँ वहाँ आतंक का जमावड़ा है। इन विद्वानों ने दस्तावेजों के साथ यह दिखाया है कि किस प्रकार लातेनी अमरीका के गरीब देशों में कठपुतली शासक अमरीका के समर्थन से आतंक के द्वारा अवामी इच्छाओं का दमन करते रहे हैं। वह यह निष्कर्ष निकालते हैं कि आज भूमंडलीय स्तर पर जितना भी आतंकवाद है। अमरीकी विदेशी नीति का परिणाम है। मेकार्ड व स्टाई बर जैसे विशेषज्ञों का यह मानना है कि 9/11 घटना से पहले भी व बाद में भी अमरीका अल कायदा को धन व हथियारों से सीरिया, लीबिया, बोसनिया, चेचेनिया, इरान जैसे अनेकों देशों में अपनी कार्यवाही के लिए सहायता देता रहा हैं ध्यान देने की बात यह है कि ये सभी देश अमरीका के समर्थक नहीं रहे हैं। कहा जाता है कि विश्व में 74 प्रतिशत देशों में जहाँ आतंकी तरीकों को प्रशासनिक सहमति हासिल है, अमरीका की कठपुतली सरकारें हैं। क्या यह मजाक नहीं लगता कि जो महाशक्ति दुनिया में सुबह से शाम तक शांति की बात करती हो, गले-गले तक आतंकी गतिविधियों में लिप्त रहती है। 
        अमरीका के द्वारा लोकतंत्र व लोकतांत्रिक व्यवस्था को प्रोत्साहन देने के दावों की कलई कई बार खुल चुकी है। एक बार फिर इस की पड़ताल कर ली जाये। यदि हम दुनिया का नक्शा उठा कर देखें तो पाते हैं कि लातीनी अमरीका के देशों से लेकर, 
    मध्यपूर्व, दक्षिणी अफ्रीका तथा दक्षिणी एशिया के देशों तक अमरीका की सहायता से लोकतंात्रिक सरकारों का तख्ता पलट कर तानाशाही सत्ता को कभी सफलता पूर्वक और कभी असफल प्रयासों का सहारा लिया गया है। यहाँ पर कुछ विशिष्ट उदाहरणों के द्वारा इस बात को प्रमाणित किया जा रहा है। 
        अमरीका का हमेशा कहना रहा है कि वह लोकतांत्रिक तरीकों से चुनी गई सरकारों को कभी नहीं हटाने का प्रयास करेगा चाहे वह कोई वामपंथी सरकार क्यों न हो। 1970 में दक्षिणी अमरीका के देश चिली में डाॅ. एलेन्डे की वामपंथी सरकार अंतर्राष्ट्रीय पर्यवेक्षण में होने वाले चुनाव के द्वारा बनाई गई लेकिन उस को बहुत दिन चलने नहीं दिया गया और सी आईए के द्वारा उस का तख्ता पलट कर फौजी शासन स्थापित कर दिया गया जिस ने इस के विरोध में होने वाले जन आन्दोलन को कुचल दिया। ऐसा ही कुछ निकारागुआ में भी किया गया। 1984 में पारदर्शी चुनाव के द्वारा वहाँ पर एक प्रगतिशील वामपंथ की ओर झुकाव वाली सरकार का गठन किया गया लेकिन अमरीका को निकारागुआ की क्यूबा व सोवियत यूनियन से दोस्ती अच्छी नहीं लगी। अमरीका को इस बात का डर भी खाये जा रहा था कि कहीं निकारागुआ का उदाहरण दूसरे शोषित लातीनी अमरीका के देशों को वामपंथ की ओर न मोड़ दे। अमरीका ने निकारागुआ के लिए ऐसे हालात पैदा कर दिए कि उसे अपना ध्यान व संसाधन अपनी सुरक्षा में लगाना पड़ गया और इस प्रकार आर्थिक संकटों से जूझती हुई सरकार को गिरा दिया गया। क्यूबा पर तो लगातार अमरीकी प्रयास जारी रहा। फोडेल कास्त्रो को मारने का कई बार प्रयास भी किया गया। लेकिन क्यूबा की वामपंथी सरकार को गिराया नहीं जा सका।
        यह सूची इतनी लम्बी है कि दर्जनों पन्ने सियाह हो जाएँगे इस लिए निम्न संक्षिप्त सारणी के द्वारा यह बात आगे बढ़ाई जा रही है  जिस से पाठकों को यह अन्दाजा भली भाँति हो जाएगा कि विश्व के अनेक क्षेत्रों में लोकतंत्र का गला घोंट कर तानाशाहों को किस प्रकार मजबूत किया गया और उनकी सत्ता को कैसे जायज़ ठहराया गया 
    1    लातीनी अमरीका:
        पिनोशेट (चिली), नोरेगा (पनामा), 
        डुवेलियर (हैती), बेनजे़र (बोलेविया)
    2    ऐशिया:
        ओमान, कतर, बहरैन के शेख 
        सऊदी अरब के बादशाह 
        सुहारतों (इण्डोनेशिया) 
        जि़याउलहक़ व मुशर्रफ़ (पाकिस्तान) 
        बादशाह रज़ाशाह पहेलवीं (ईरान)
    3    अफ्रीका:
        बादशाह हसन (मोराक्को) 
        गफ्फार नुमैरी (सुडान) 
        होसनी मुबारक (मिश्र) 
        द0 अफ्रीका के नस्लवादी शासक
    4    योरोप:
        फ्रानको (स्पेन) 
        सालाज़ार (पुर्तगाल)     

        तुर्की व यूनान की फ़ौजी सत्ता इन तथा इन जैसे अनेक दूसरे उदाहरणों से यह प्रमाणित हो जाता है कि अमरीकी लोकतंत्र का मुखौटा कितना महीन है और लोकतंत्र को आगे बढ़ाने के इस के दावे कितने खोखले हैं वरना फौजी शासकों, बादशाहों तथा नस्लवादी शासकों को सभी प्रकार के समर्थन देकर उन की सत्ता को बचाना क्या अर्थ रख सकता है। जाहिर है अपने आर्थिक, राजनैतिक व सामरिक हितों के सामने लोकतंत्र की कोई कीमत नहीं है। सऊदी अरब व ईरान के निर्मम व जालिम बादशाहों को वर्षों तक अमरीका ने बचाया क्योंकि वे उस की कठपुतली थे। ईरान के अवाम ने बादशाह के विरोध में बगावत किया, कुरबानी दी और उसे खदेड़ दिया। यह अलग बात है कि ईरान में चुनाव वो करवाती है लेकिन लोकतंत्र पर लगाम है। सऊदी अरब में बादशाहत अब भी बनी हुई है, अभिव्यक्ति की आजादी नहीं है, महिलाओं की हालत बहुत खराब है तथा धार्मिक कट्टरता ने अवाम, विशेष कर अल्पसंख्यकों को पैरों के नीचे दबा रखा है लेकिन अमरीका के आर्थिक व सामरिक हित सर्वाेपरि हैं। 
        अजीब विडंबना है कि संसार भर में आतंकवादी गतिविधियों में प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप में अमरीका का हाथ देखा जा सकता है और इस्लाम के नाम पर होने वाली आतंकी गतिविधियों में तो सीधे अमरीका की भूमिका देखी जा सकती है। चूँकि अमरीका के आर्थिक व सामरिक हितों को सब से अधिक खतरा इस्लामी चरमपंथियों से था इस लिए उस ने विश्व मीडिया शक्ति को इस्लामी आतंकवाद का डर दिखाने को लगा दिया। बहुतों को इस बात पर विश्वास भी हो गया कि मुस्लिम आतंकवाद विश्व शांति के लिए सब से बड़ा खतरा है। जब हकीकत यह है कि मुस्लिम आतंकवाद विश्व आतंकवाद का केवल एक छोटा सा अंशमात्र है। अमरीका के सुप्रसिद्ध समाजशास्त्री प्रोफेसर चाल्र्स कुर्ज़मैन ने अपने अध्ययन ष्ज्ीम उपेेपदह डंतजलते रू ॅील जीमतम ंतम ेव मिू उनेसपउ ज्मततवतपेजेघ्ष् के द्वारा यह स्थापित किया है कि मुस्लिम आतंकवाद को बहुत बढ़ा चढ़ाकर पेश किया गया। उन्होंने यह सवाल भी किया कि हमने इस बात पर क्यों विश्वास किया कि उनकी संख्या बहुत बड़ी है और हम इतना क्यों डरे हुए थे। पिछले पाँच वर्षों की घटनाओं ने प्रोफेसर कुर्जमैन की बात को सही साबित कर दिया। आज पूरे योरोप व अमरीका में प्ेसंउवचीवइपं अर्थात इस्लाम का डर जीवन की एक हकीकत बन चुका है और समाज के दिन प्रतिदिन जीवन में देखा जा सकता है। 
        तथाकथित मुस्लिम या इस्लामी आतंकवाद की ताकत व फैलाव चाहे जितना हो लेकिन आज यह स्थापित हो चुका है कि इसके पीछे काफी हद तक इस्लाम की वह चरमपंथी व्याख्या है जो साम्राजी के नाम से जानी जाती है और जिसका प्रमुख स्रोत सऊदी अरब है जो साम्राजी विचारधारा को ही सच्चा इस्लाम मान कर उसके प्रचार व प्रसार पर अरबों डालर खर्च करता रहा है। अब इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि पाकिस्तान व अफगानिस्तान के तालिबान से लेकर नाइजीरिया के अलशबाब व बोकोहरम व इराक-सीरिया के इस्लामिक स्टेट (आई0एस0) तक सभी विचारधारा से प्रोत्साहित होते हैं। योरोप व अमरीका सहित समूचे विश्व में सऊदी पेट्रोडालर की सहायता से मस्जिदों व मदरसों पर कब्जा किया जा रहा है और वहीं से साम्राजी विचारधारा को ही सही इस्लाम के रूप में प्रसारित व प्रचारित किया जा रहा है। कैसा मज़ाक है, कि वह अमरीका जो सुबह से शाम तक इस्लामी आतंकवाद की रट लगाए रहता है, मुस्लिम संसार में अपने को ही गले से लगाये हुए हैं। बादशाहत, धार्मिक अतिवाद व पूँजीवाद के इस अजीबों गरीब मिश्रण को अमरीका ही 
    साध सकता है। संतोष की बात यह है कि अपने सभी प्रयासों के बावजूद समूचे विश्व की आबादी का एक छोटा सा हिस्सा ही इस विचारधारा के प्रभाव में है लेकिन जिस तेजी के साथ यह फैल रहा है शांति के लिए बड़ा खतरा बन सकता हैं।
            यह हम कैसे भूल जाएँ कि अफगानिस्तान में सोवियत रूस के विरोध में अमरीका ने ही तालीबान को प्रोत्साहन व समर्थन दिया था और पाकिस्तान के फौजी शासकों के द्वारा उन के मदरसों को बढ़ावा मिला था। भारत में हिन्दुत्व व चरमपंथी हिन्दु शक्तियों के पीछे भी अप्रत्यक्ष रूप से अमरीका को देखा जा सकता है। भारत के मजदूर-किसान-दलित-आदिवासी की एकता आदि को तोड़ने के लिए जिस प्रकार से राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ तथा उस के अनुषंगी संगठन लगे हुए हैं उसे कोई भी देख सकता है। स्वदेशी व भारतीयता का गला फाड़ फाड़ कर नारा लगाने वालों की जब केन्द्र में सत्ता स्थापित हुई तो कारपोरेट सेक्टर के हित ही देशहित हो गये और सांप्रदायिक तनाव के धुएँ में असली मुद्दों को छुपाने का प्रयास हो रहा है। पूँजीवादी फासीवाद हमारे देश में दस्तक दे रहा है। हमें इतिहास से सबक लेकर यह नहीं भूलना चाहिए कि फासीवाद लोकतांत्रिक चुनावों के कंधों पर चढ़ कर ही आता रहा है। हिटलर व मुसोलनी इस के उदाहरण हैं। लोकतंत्रीकरण व लोकतंात्रिक मुकाबला कर सकती है। एक व्यक्ति ही सब कुछ कर देगा, यह सोच ही  फासीवाद व तानाशाही की ओर उठा पहला कदम है जिसके लिए हमें सचेत रहना है।    
         
    -प्रो0 नदीम हसनैन 

            मोबाइल: 09721533337
    प्रस्तुतकर्ता पर  

    0 0

    महात्मा गांधी की हत्या सबसे पहली आतंकी वारदात

    वरिष्ट पत्रकार सुभाश गताडे से आतंकवाद के मुद्दे पर की गई बातचीत के अंश
                                                                                                        -राजीव यादव 
     देश में आतंकवादी घटनाओं की शुरुआत कहाँ से मानते हैं?

        अगर आजाद भारत की बात करें तो मेरी समझ से महात्मा गांधी की हत्या सबसे पहली आतंकी घटना है, और वहीं से कमसे कम भारत के सन्दर्भ में आतंकवाद की शुरूआत मानी जा सकती है। ब्रिटिश उपनिवेशवाद के खिलाफ भारत की अवाम के संघर्ष के नेता गांधी जिन्होंने साम्प्रदायिक राजनीति की निरन्तर मुखालिफत की एवं समावेशी राजनीति की हिमायत की, उनकी हत्या में नाथूराम गोड्से ने भले ही गोली चलाई हो, लेकिन हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि उसके लिए लम्बी साजिश रची गई थी, जिसमें हिन्दुत्ववादी संगठनों का हाथ था। गांधी की हत्या को लेकर एक बात अक्सर भुला दी जाती है कि उन्हें मारने के लिए इसके पहले इन्हीं संगठनों की तरफ से कई कोशिशें हुई थीं, और इस आखरी कोशिश में वे कामयाब हुए।
         यह जो आतंकवाद है यह कितना देशी है और कितना वैश्विक है?
        मेरे खयाल से यह प्रश्न बहुत प्रासंगिक नहीं है। आतंकवाद के देशी रूप भी
    हो सकते हैं और उसके वैश्विक रूप भी हो सकते हैं, मूल बात यह समझने की है कि आप उसे किस तरह परिभाषित करते हैं। यूँ तो आतंकवाद को कई ढंग से परिभाषित किया जा सकता है, राज्यसत्ता द्वारा निरपराधों पर किए जाने वाले जुल्म-अत्याचार को भी इसमें जोड़ा जाता है, मगर इसकी अधिक सर्वमान्य परिभाषा है जब राजनैतिक मकसद से कोई समूह, कोई गैर राज्यकारक अर्थात नानस्टेट एक्टर हिंसा या हिंसा के तथ्य fact of violence का इस्तेमाल करे और निरपराधों को निशाना बनाए। इसके तहत फिर हम साध्वी प्रज्ञा, कर्नल पुरोहित जैसे हिन्दुत्ववादी गिरोहों की हिंसक कार्रवाइयों को भी समेट सकते हैं या किसी जिहादी संगठन द्वारा निरपराधों को निशाना बना कर की गई कार्रवाई को भी देख सकते हैं या किसी जियनवादी गिरोह द्वारा फिलिस्तीनी बस्ती में मचाए कत्लेआम को भी देख सकते हैं या किसी ब्रेविक द्वारा अंजाम दिए गए मासूमों के कत्लेआम को भी समेट सकते हैं।
        मोदी के आने के बाद आतंकवाद की राजनीति और संस्थाबद्ध होगी या रुकेगी। रुक जाने का सन्दर्भ यह है कि क्या वह दूसरी राजनीति करेंगे?
        मोदी जो हिन्दुत्व की लहर पर सवार होकर प्रधानमंत्री बने हैं, उनके सत्तारोहण को हम बहुंसंख्यकवाद की राजनीति की जीत के तौर पर देख सकते हैं। यह भी स्पष्ट है कि आजादी के बाद पहली दफा हिन्दुत्व की ताकतों को अपने बलबूते सत्ता सँभालने का मौका मिला है, जिसे एक तरह से राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के हिन्दू राष्ट्र के एजेण्डे की बढ़ती स्वीकार्यता के तौर पर व्याख्यायित किया जा रहा है। आजादी के बाद यह पहली दफा हुआ है कि संसद में अल्पसंख्यक समुदायांे का न्यूनतम प्रतिनिधित्व है, यहाँ तक कि सत्ताधारी पार्टी के सांसदों में भारत के सबसे बड़े अल्पसंख्यक समुदाय से एक भी  प्रतिनिधि नहीं है। अब इस समूची परिस्थिति में जाहिर है कि ऐसी ताकतें-जो हिन्दुत्ववादी संगठनों से ताल्लुक रखती थीं, उस विचार से प्रेरित थी, मगर साथ ही साथ आतंकी घटनाओं में मुब्तिला थीं-उनकी रणनीति में फर्क अवश्य आएगा। एक तो वह कोशिश करेंगी कि उनके जो तमाम कार्यकर्ता जेल में बन्द हैं, उन्हें रिहा करवाया जाए, उनके खिलाफ जारी केस को कमजोर किया जाए और फिर उन्हें नए अधिक वैध एवं स्वीकार्य रूपों में पेश किया जाए। दूसरी यह भी सम्भावना है कि चूंकि राज्यसत्ता में उनके विचारों के हिमायती बैठे हों, वह और अधिक आक्रामक हों, आतंकी घटनाओं को खुद अंजाम दें मगर उसका दोषारोपण अल्पसंख्यक समुदायों पर अधिक निर्भीकता से करें। आप चाहें नांदेड़ में संघ कार्यकर्ताओं द्वारा अंजाम दी गई आतंकी घटना (अप्रैल 2006) को देखें या मालेगांव की घटना (सितम्बर 2006 और सितम्बर 2008) को देखें हम बार-बार यही पाते हैं कि उनकी लगातार कोशिश रहती आई है कि खुद घटना को अंजाम दो, मगर उसे इस ढंग से डिजाइन करो कि अल्पसंख्यक पकड़ में आएँ। दूसरी तरफ इस्लामिक ताकतों का वह हिस्सा-जो आतंकी घटनाओं में मुब्तिला रहा है-वह नई बदली हुई परिस्थितियों में नए ध्रुवीकरण को अंजाम देने या मजबूती दिलाने के लिए कुछ आततायी कार्रवाइयों को अंजाम दे सकता है। हाल के समय में इस्लामिक स्टेट के नाम पर जो सरगर्मी बढ़ी है या अल कायदा की तरफ से भारत में अपना पैर जमाने की जो कोशिशें की जा रही
    हैं, वह भी असर डालेंगी। कुल मिला कर आनेवाला समय ऐसे सभी लोगों, समूहों के लिए चुनौती भरा होगा जो हर किस्म के आतंकवाद-फिर चाहे राज्य आतंकवाद हो या गैर राज्यकारकों द्वारा अंजाम दिया जा रहा आतंकवाद हो (जिसका महत्वपूर्ण हिस्सा विशिष्ट धर्म से अपने आप को प्रेरित कहते हुए हिंसा को अंजाम देना होता है)-की मुखालिफत करते हैं और एक आपसी सद्भावपूर्ण समाज की रचना चाहते हैं।
        क्या कानूनों के सेलेक्टिव प्रयोग से इससे शिकार लोगों में राज्य के प्रति नफरत पैदा हो रही है?
        1950 में जब संविधान निर्माताओं ने देश की जनता को संविधान सौंपा तो यह संकल्प लिया गया था कि जाति, वर्ग, धर्म, नस्ल, जेण्डर आदि आधारों पर अब किसी के साथ भेदभाव नहीं होगा, कानून के सामने सभी समान होंगे। आजादी के साठ साल से अधिक वक्त गुजर जाने के बाद हम इन संकल्पों एवं वास्तविकता के बीच गहरे अन्तराल से रूबरू हैं, जब हम पाते हैं कि दमित, शोषित, उत्पीडि़त समुदायों एवं लोगों पर महज इसी वजह से कहर बरपा हो रहा है कि वह संविधान द्वारा प्रदत्त अधिकारों की बहाली के लिए प्रयासरत है और ऐसे लोग, तबके जो सत्ता एवं सम्पत्ति के इदारों पर कुंडली मार कर बैठे हैं, उनके प्रति राज्यसत्ता का रुख नरम है। जाहिर है कि इस दोहरे व्यवहार से जनता के व्यापक हिस्से में राज्य के प्रति गुस्सा बढ़ रहा है।
        आतंकवाद की राजनीति के आर्थिक आधार क्या हैं? क्या यह वैश्विक आर्थिक मंदी से जुड़ा हुआ है?
        आतंकवाद को महज आर्थिक मंदी से जोड़ना नाकाफी होगा, वह इस वजह से भी इन दिनों बलवती जान पड़ता है क्योंकि परिवर्तनकामी ताकतें एवं आन्दोलन कमजोर पड़ रहे है। अस्सी के दशक के उत्तरार्द्ध में सोवियत संघ के बिखराव की शुरूआत एवं अन्ततः उसके विघटन ने समाजवाद के विचार एवं प्रयोग को जो जबरदस्त क्षति पहुँचाई है और पूँजीवाद की अंतिम जीत को प्रचारित किया है, उसने भी दुनिया में तरह-तरह के नस्लवादी आन्दोलनों, आतंकी समूहों के फलने फूलने का रास्ता सुगम किया है। जरूरत इस बात की दिखती है कि जनता के हालात में आमूलचूल बदलाव चाहने वाली ताकतें नए सिरेसे संगठित हों, एक समतामूलक राजनीति को मजबूती प्रदान करें तो हम साथ ही साथ इन दिनों सर उठाए आतंकवाद को हाशिए पर जाता देख सकते हैं।
          सजा होने की सम्भावना आतंकवादी घटनाओं में बहुत कम है ऐसा लगता है कि न्यायिक प्रक्रिया बहुत धीरे चलाई जा रही है ताकि आरोपियों को अधिक समय तक जेल में रखा जा सके। इस पर आप क्या सोचते हैं?
        अगर राज्यसत्ता इच्छाशक्ति का परिचय दे तो आतंकवादी घटनाओं में भी मुकदमे तेजी से चलाए जा सकते हैं और दोषियों को दंडित किया जा सकता है। ऐसा प्रतीत होता है कि ऐसे मसलों पर राज्यसत्ता में बैठे लोग-या तो अपने एकांगी विचारों के चलते या ढुलमुल रवैयों के परिणाम स्वरूप सख्त रुख अपनाने से बचते हैं, जिसके चलते ऐसे मुकदमे सालों साल चलते हैं। अगर यौन अत्याचार के मसले को लेकर स्पीडी ट्रायल की बात की जा सकती है तो आतंकी घटनाआंे के मामले में भी हमें इसी किस्म की माँग करनी चाहिए, ताकि असली दोषी को सजा हो और मूलतः निरपराध जेल की यातना से बचें। आप अक्षरधाम आतंकी हमले को देखें जिसे लेकर बारह साल तक कइयों को जेल में सड़ना पड़ा और अन्ततः सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप के बाद सभी बेदाग बरी हुए। अदालत का कहना था कि इन लोगों पर 'आतंकवाद की धाराओं के तहत मुकदमा चलाने का निर्णय बिना दिमाग के लिया गया था। ध्यान रहे कि वर्तमान प्रधानमंत्राी उन दिनों गुजरात में गृह मंत्रालय का कार्यभार सँभाल रहे थे। अब अगर स्पीडी ट्रायल होता तो उनकी बेगुनाही जल्दी सामने आती और उन्हें तथा उनके परिवारजनों को इतना अधिक समय दुख में नहीं गुजारना पड़ता।
        खुफिया एजेंसियों की निष्पक्षता के बारे में बार-बार सवाल उठता रहा है, देश में आई.बी. और रॉ में अल्पसंख्यकों को जाने से रोका जा रहा है इसको कैसे देखा जाए। क्या इनको सही प्रतिनिधित्व मिल जाने से समस्याएँ हल हो जाएगी?
        देश की खुफिया एजेंसियों के कामों में निष्पक्षता को सुनिश्चित करना हो, उसमें अल्पसंख्यक समुदायों के आगमन को रोकने के मसले को सम्बोधित करना हो तो यह बहुत जरूरी है कि उसके कामों में पारदर्शिता लाई जाए और उन्हें जनता के प्रति जवाबदेह बनाया जाए। कुछ समय पहले पश्चिमी एशियाई मामलों के जानकार एवं वर्तमान उपराष्ट्रपति डाॅ. हामिद अन्सारी ने रिसर्च एण्ड एनलिसिस विंग अर्थात 'रॉ'द्वारा आयोजित आर एन कॉव स्मृति व्याख्यान में इसी मसले को उठाया था। डाॅ. अन्सारी का
    कहना था कि गुप्तचर एजंेसियों के संचालन में अधिक निगरानी एवम् जवाबदेही की आवश्यकता है। उनके मुताबिक यह जनतांत्रिक समाजांे का तकाजा होता है कि बेहतर शासन के लिए वह ऐसी प्रक्रियाओं को संस्थागत करें जिसके अन्तर्गत गुप्तचर एजेंसियों को संसद के सामने जवाबदेह बनाया जा सकता है। उन्होंने इस बात पर जोर दिया था कि ''राज्य के गुप्तचर और सुरक्षा ढाँचे''को लेकर अब तक सिर्फ कार्यपालिका और राजनैतिक देखरेख होती रही है, जिसमें इसके दुरुपयोग की सम्भावना बनी रहती है। इनमें जवाबदेही के अभाव की चर्चा के सन्दर्भ में उन्होंने कारगिल प्रसंग का जिक्र किया जिसमें गुप्तचर एजेंसियों की बड़ी नाकामी सामने आई थी। ध्यान रहे कि आधिकारिक तौर पर कारगिल पर पाकिस्तानी आक्रमण की खबर पहली दफा गुप्तचर एजेंसियों की तरफ से नहीं बल्कि उस इलाके मंे अपने मवेशी चराने के लिए ले जाने वाले गड़रियों से हुई थी। देश की सुरक्षा को जोखिम में डालने वाली इतनी बड़ी लापरवाही के बावजूद किसी भी गुप्तचर  अधिकारी को दण्डित नहीं किया गया था और विभिन्न एजेंसियों ने एक दूसरे पर दोषारोपण करके मामले की इतिश्री कर दी थी।
        हिंदुत्व से उपजे आतंकवाद की सच्चाई क्या है?
        जैसा कि मैं पहले ही चर्चा कर चुका हूँ कि आजाद भारत की पहली आतंकी कार्रवाई को हिन्दुत्ववादी आतंकी गोड्से एवं उसके गिरोह ने अंजाम दिया था यह धारा भले ही मद्धिम हुई हो, लेकिन दबी नहीं है। इस तथ्य से भी बहुत कम लोग वाकि़फ है कि बँटवारे के वक्त राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दो कार्यकर्ता बम बनाते वक्त कराँची के अपने मकान में मारे गए थे और ट्यूशन पढ़ाने के लिए लिए गए उपरोक्त मकान में विस्फोटकों का जखीरा बरामद हुआ था। साठ के दशक के उत्तरार्द्ध में बने जीवनलाल कपूर कमीशन ने गांधी हत्या की साजिश के लिए प्रत्यक्ष सावरकर को जिम्मेदार ठहराया था। कहने का तात्पर्य यह है कि अपने आप को 'चरित्र निर्माण के लिए प्रतिबद्ध कहलाने वाले'हिन्दुत्ववादी संगठन भी वक्त पड़ने पर आतंकवाद का सहारा लेते रहे हैं। 90 के दशक के उत्तरार्द्ध में हम पाते हैं कि इसे नए सिरेसे उभारा जा रहा है और अधिक स्वीकार्यता प्रदान करने के लिए उसे 'इस्लामिस्ट आतंकवाद'की प्रतिक्रिया के तौर पर प्रोजेक्ट किया जा रहा है। दूसरी अहम बात यह है कि हिन्दु धर्म और हिन्दुत्व समानार्थी नहीं है (अधिक स्पष्टीकरण के लिए सावरकर की बहुचर्चित किताब 'हिन्दुत्व'को देखा जा सकता है), जिस तरह इस्लाम और राजनैतिक इस्लाम को समानार्थी नहीं कहा जा सकता, वही हाल हिन्दुइज्म अर्थात हिन्दु धर्म और हिन्दुत्व का है। यह फर्क स्पष्ट करना इसलिए जरूरी है क्योंकि जबभी हिन्दु आतंकवादी गिरफ्तार होते हैं या उसकी चर्चा होती है, संघ परिवारी संगठनों की तरफ से हल्ला किया जाता है कि आप धर्मविशेष को बदनाम कर रहे हैं। यह सर्वथा गलत है। इक्कीसवीं सदी की पहली दहाई की तमाम घटनाएँ इस बात को प्रमाणित करती हंै कि हिन्दुत्व आतंकवाद एक परिघटना है, जो भारत के सेक्युलर एवं जनतांत्रिक स्वरूप के लिए जबरदस्त खतरा बन कर उपस्थित है। जाहिर है कि जो बात अक्सर प्रचारित की जाती है कि हिन्दू आतंकी नहीं हो सकता, यह बात तथ्यों से परे है। जिस तरह हर समुदाय में अच्छे बुरे लोग होते हैं, वही हाल आतंकवाद से प्रभावित होने को लेकर भी देख सकते हैं। हमारी कोशिश होनी चाहिए कि देश का कानून सभी के लिए समान हो, किसी आतंकी को इसलिए नहीं बक्शा जाए कि वह विशिष्ट समुदाय से है, किसी आतंकी गिरोह के सरगनाओं, मास्टरमाइंडों को इसलिए न बचाया जाए कि वह बहुसंख्यक समुदाय से ताल्लुक रखते हैं। अपराध सिर्फ अपराध होता है, उसके किसी खास समुदाय द्वारा अंजाम देने से उसकी तीव्रता कम नहीं होती है।
     मो0-09452800752
     लोकसंघर्ष पत्रिका के जून2015 अंक प्रकाशित
    प्रस्तुतकर्ता पर  

    0 0

    तालिबानी हिन्दू बनाने की मुहिम-5

        14 जनवरी 2001 वह तारीख है जब डायमण्ड इण्डिया का पहला अंक प्रकाशित हुआ, शुरू-शुरू में लोगों को लगा कि यह कोई हीरा पन्ना विक्रेताओं की पत्रिका है, बिल्कुल व्यावसायिक नाम, लेकिन अन्दर सारी सामग्री बाजार और बाजारीकरण के खिलाफ! इसे जल्दी ही लोकप्रियता हासिल हो गई, हमारी टीम के सहज और देशज लेखन को लोगों ने पसंद किया, हमने कई खोजपरक रिपोर्टें छापीं, घटनाओं परिघटनाओं को दूसरे नजरिए से देखने की तीसरी दृष्टि को जनता ने हाथों हाथ लिया। लोग कहते थे कि जब वे डायमण्ड इण्डिया पढ़ते हैं, तो उन्हें लगता है कि वे हमसे बातें कर रहे हैं, हमने छोटे-छोटे गाँवों तक इसे पहँुचाया, यहाँ भी संघ परिवार से पंगा बरकरार रहा, राजस्थान में आरएसएस का मुखपत्र 'पाथेयकण'गाँव गाँव पहँुचता है, उसमें संघ अपनी विचारधारा के अनुसार सारा प्रोपेगंडा जन-जन तक पहँुचाने में सफल रहता है। किसी ने भी उसको काउन्टर करने की कोशिश नहीं की, लेकिन डायमण्ड इण्डिया ने यह करना शुरू किया, हमने उनके सघन प्रभाव वाले गाँवों में अपने लिए बड़ी संख्या में पाठक ढूँढ़े, लोगों के पास अब दोनों तरह की आवाजें पहँुच रही थीं, इसे एक विकल्प के रूप में भी स्वीकार किया जा रहा था। हमने साम्प्रदायिकता और जातिवाद पर चोट करने में कभी कोताही नहीं बरती। पत्रिका की माँग लगातार बढ़ रही थी, हम उत्साहित थे, हमने 'डायमण्ड कैसेट्स'नाम से एक ऑडियो डिवीजन भी खोल दिया, उस वक्त तक कैसेट्स का बड़ा जोर था, लोग टेप रिकार्ड्स के जरिये इन्हें सुनते-सुनाते थे, हमारा पहला कैसेट निकला भारत पुत्रों जागो। यह एक लम्बा भाषण था, जो मैंने आरएसएस और अन्य हिन्दू एवं मुस्लिम कट्टरपंथियों के खिलाफ दलित आदिवासी युवाओं के एक कैडर कैम्प में दिया था, निसंदेह मेरा भाषण काफी उत्तेजक और भड़काऊ किस्म का था ( मैं भी क्या करूँ संघ से मिले कट्टरता के संस्कार मेरा आज तक पीछा नहीं छोड़ रहे हैं) इस भाषण के कैसेट ने काफी हंगामा मचाया, यह वह दौर था जब संघ परिवार द्वारा देश भर में घुमा घुमा कर विषवमन कर रही दो महिला साध्वियों के भाषण काफी तहलका मचाए हुए थे, मेरे भाषण को उनका जवाब माना गया, मजेदार स्थितियाँ यह थीं कि बहुत सारे चैराहों पर एक तरफ फायरब्रांड हिंदुत्ववादी ऋतम्भरा और उमा भारती के कैसेट्स चीखते थे तो दूसरी तरफ पान की केबिनों पर मेरा कैसेट चिल्लाता था, थक हार कर संघ समर्थकों ने अपने कैसेट्स वापस ले लिए, तो मेरे समर्थकों ने भी मेरा भाषण 'भारत पुत्रों जागो'बजाना बंद कर दिया, इस तरह हमने उग्रपंथी तत्वों को उन्हीं की जबान और भाषा शैली में जवाब दे दिया था, डायमण्ड इण्डिया के जरिये हम मुद्रित अक्षरों के जरिये लड़ाई पहले से ही छेड़े हुए थे।
        मेरे बाकी के साथियों को विचारधारा इत्यादि से ज्यादा मतलब नहीं था, वे तो लोगांे द्वारा मिल रहे रिस्पांस से ही बेहद खुश थे, मगर यह खुशी अस्थाई साबित हुई, आरएसएस का जाल इतना फैला हुआ है कि उसका कई बार तो अंदाजा लगाना ही कठिन हो जाता है, अब तक उन्होंने मेरी हरकतों को या तो नजरंदाज किया था। अथवा उन पर छोटी मोटी प्रतिक्रियाएँ दी थी, लेकिन इस बार उन्होंने संगठित वार किया, उन्हें मालूम था कि डायमण्ड इण्डिया का पूरा समूह सरकारी नौकरीपेशा है, इसलिए उन्होंने हमारे बाकी साथियों को पकड़ना प्रारंभ किया। चूँकि मैं नौकरी छोड़ चुका था, शेष सभी सरकारी सेवा में थे, इसलिए चिंता होना स्वाभाविक ही था। आने वाला समय उनके लिए मुश्किलात भरा हो सकता है, यही सोच कर हमने तय किया कि पैसा तो सभी साथियों का लगा रहेगा लेकिन नाम हटाये जाएँगे, ताकि उन पर कोई विपत्ति ना आ पड़े।
        अब डायमण्ड इण्डिया की पूरी जिम्मेदारी मेरे कन्धों पर ही आ गई थी, लेकिन बाकी साथी भी गाहे बगाहे मदद कर देते थे। दूसरी तरफ संघ परिवार के लोग हमारे प्रकाशन के खिलाफ जगह-जगह आग उगलने लग गए थे, वे लोगांे को सदस्य नहीं बनने के लिए भड़काते रहते थे। उनका एक ही उद्देश्य था कि किसी तरह यह पत्रिका बंद हो जाए। आगे का समय डायमण्ड इण्डिया के लिए काफी कष्टप्रद साबित होने जा रहा था, अब संघी हमारे विचारों की हत्या करने पर उतारू हो गए थे। हमारे खिलाफ ऐसा दुष्प्रचार किया गया कि उसका जवाब देते-देते हमारी जान निकलने लगी। इसी ऊहापोह में अप्रैल का महीना आ गया, इस माह का अंक निकाल कर मैं भीलवाड़ा स्थित ऑफिस में बैठा हुआ अखबार पढ़ रहा था। आज की 'राजस्थान पत्रिका'में एक खबर छपी थी कि राजसमन्द की जनावद ग्राम पंचायत में 'मजदूर-किसान शक्ति संगठन'ने एक जनसुनवाई आयोजित की है, जिसमें लाखों रुपये का घोटाला ग्रामीण विकास के कामों में उजागर हुआ है, मुझे जनसुनवाई की इस अद्भुत तकनीक के बारे में और भी जानने की इच्छा पैदा हुई। खबर के मुताबिक अगले दिन ब्यावर के सुभाष गार्डन में 'सूचना के अधिकार पर पहला राष्ट्रीय अधिवेशन'होने जा रहा था, मैंने इसमें जाने का फैसला किया। कल सुबह जल्दी वहाँ जाना है।
    चोरीवाड़ो घणों होग्यो रे, 
    कोई तो मुंडे बोलो 

        6 अप्रैल 2001 को सूचना के अधिकार के पहले राष्ट्रीय अधिवेशन की रिपोर्टिंग करने के लिए पहँुचा। पत्रकार होने के सम्पूर्ण अहंकार के साथ मैं ब्यावर पहँुचा, सोचा कि मीडिया के लिए बैठने के लिए अलग व्यवस्था होगी, लेकिन वहाँ तो ऐसा कुछ भी नहीं था, बड़े से मंच पर बहुत सारे लोग बैठे थे, जिनमें से लोकसभा के अध्यक्ष रहे रवि राय, हिंदी पत्रकारिता के दिग्गज प्रभाष जोशी और राजस्थान के तत्कालीन मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को मैं पहचान पाया, बाकी के रंग बिरंगे मंचासीनों को पहली ही बार देखा था। नीचे पंडाल में हजारों लोग मौजूद थे, कई सारे स्टाल लगे हुए थे, जिनमें साहित्य और खाने पीने के सामान बिक रहे थे, मेले का सा दृश्य था।
        मैंने संचालन कर रही टीम के पास पहँुच कर बात करने का प्रयास किया, तीन चार लोग मिलकर मंच चला रहे थे, उनमें एक लड़की भी थी, साड़ी पहने हुए, मैंने उसे अपना परिचय दिया, डायमण्ड इण्डिया की एक प्रति भी दी और प्रेसनोट भेजने का आग्रह किया। उक्त लड़की ने कोई खास रुचि नहीं दिखाई, पत्रिका हाथ में ले ली और हाँ हूँ में जवाब दे कर मुझे वहाँ से टरका दिया। मुझे अजीब सा लगा, पहले तो मैंने उसे ही अरुणा रॉय समझ लिया था, उसके उपेक्षापूर्ण व्यवहार से मुझे निराशा हुई, बाद में पता चला कि उन मोहतरमा का नाम सौम्या किदाम्बी है, जो उस दिन किसी घमंड की वजह से नहीं बल्कि अपनी अतिव्यस्तता और काम के अत्यधिक बोझ के चलते मुझसे शीघ्रातिशीघ्र पिंड छुड़वाने की कोशिश में थीं। बाद के दिनों में इस पहली मुलाकात को याद करके हम लोग काफी हँसे।
        सूचना के अधिकार के इस प्रथम अखिल भारतीय सम्मलेन में शिरकत करना मेरे लिए अच्छा और नया अनुभव था, मैंने प्रचुर मात्रा में वहाँ से साहित्य खरीदा, कई लोगों से मुलाकात की और भीलवाड़ा लौट आया। मई के अंक में हमारी कवर स्टोरी थी 'चोरीवाड़ो घणों होग्यो रे, कोई तो मुंडे बोलो' (चोरियाँ और घोटाले बहुत हो गए हैं, कोई तो इनके खिलाफ मुँह खोलो और जोर लगा कर बोलो) दरअसल यह एक बहुत ही शक्तिशाली मारवाड़ी गीत था, जिसे मजदूर-किसान शक्ति संगठन के लोगों ने मंच से गाया था। गीत गाँव के छोटे चोर से लेकर दिल्ली में बैठे बड़े बड़े घोटालेबाजों का पर्दाफाश करते हुए लोगों से अपनी खामोशी तोड़ने का आह्वान करने वाला था, उफ इतनी ताकतवर प्रस्तुति! मेरे लिए इसे सुनना एक युग की यात्रा करने जैसा था, राजस्थानी भाषा की मिठास लिए यह गीत मेरे मन और मस्तिष्क पर कई दिनों तक छाया रहा। इतनी कड़वी हकीकत और नंगी सच्चाई बयान की गई थी कि उसकी प्रशंसा के लिए मेरे पास कोई शब्द ही नहीं थे, जिन महानुभाव की अगुवाई में इसे गाया गया, उनका नाम शंकर सिंह बताया गया था, ब्यावर के ही निकटवर्ती लोटियाना गाँव के निवासी प्रसिद्ध रंगकर्मी। मैं तो इस आदमी के गाने के तौर तरीके का दीवाना होकर लौटा। मन ही मन सोच लिया कि इनसे तो फुरसत से फिर मिलना है, कब, कहाँ और कैसे अभी तय नहीं था, लेकिन मिलन की अदम्य लालसा जरूर गहरे में उतर चुकी थी। इसी अधिवेशन में पहली बार मंच पर अरुणा रॉय को बोलते सुना और निखिल डे को मंच के नीचे से संचालन करते देखा और उनकी आवाज भी सुनी। मैं प्रभावित हुए बिना नहीं रह सका, कुछ भी हो लेकिन ये लोग बड़े ही पावरफुल अंदाज में अपनी बातें पूरी निर्भीकता से रख रहे थे। मैंने वापस आकर इस 
    अधिवेशन पर 12 पेज की स्टोरी छापी, उस अंक की 10 कॉपी देव डूंगरी नामक गाँव में भेजी जो कि मजदूर किसान शक्ति संगठन (एमकेएसएस) का मुख्यालय है।
        इसी बीच हमने 11 मई को अपने मित्र घीसूलाल विश्नोई के बुलावे पर दरीबा ग्राम पंचायत की जनसुनवाई कर डाली, जनहित संघर्ष समिति के बैनर तले हुई इस जनसुनवाई में पैनल मेम्बर के रूप में मैं भी शामिल हुआ, हमें कोई आइडिया तो था नहीं कि जनसुनवाई कैसे की जाती है, फिर भी कर डाली, वह भी रात के वक्त! घीसू लाल विश्नोई के घर का चबूतरा ही जन सुनवाई का मंच बन गया, तकरीबन 300 ग्रामीणों की मौजूदगी में तीन घंटे तक यह प्रक्रिया चली। सरपंच बंसीलाल के कार्यकाल में कराये गए विकास कार्यों में हुई अनियमितताओं की परत दर परत पोल खुलने लगी। रात 11 बजे जनसुनवाई खत्म करके जब हम लोग विश्नोई के मकान की छत पर बैठकर खाना खा रहे थे, तब नीचे जनसुनवाई स्थल पर सरपंच समर्थक और सरपंच विरोधी लोगों में लाठी भाटा जंग प्रारम्भ हो गई, जब वे आपस में लड़ लिए तो उन्हें हमारी याद आई। उन्हें अचानक ज्ञान हो गया कि वहाँ के लोग तो वर्षों से मिल जुल कर साथ-साथ रह रहे हैं, पर हम जैसे बाहरी तत्वों की वजह से गाँव वाले परस्पर लड़ रहे हैं, बाद में पुलिस ने आ कर हमें बचाया और वहाँ से बड़ी मुश्किल से भीलवाड़ा पहँुचाया। हालाँकि यह एक जोखिम भरा अनुभव था, लेकिन भ्रष्टाचार के जो मामले उजागर हुए, उनकी विस्तृत रिपोर्ट विकास अधिकारी, पंचायत समिति-सुवाना को कार्यवाही की मांग के साथ हमने भिजवाई, इस रिपोर्ट की एक प्रति मजदूर किसान शक्ति संगठन को भी भेजी गयी।
        सूचना के अधिकार अधिवेशन पर कवर स्टोरी वाला डायमण्ड इण्डिया का अंक और दरीबा ग्राम पंचायत की जनसुनवाई रिपोर्ट जब देवडूंगरी पहँुची तो यह मजदूर किसान शक्ति संगठन के लोगों के लिए कौतूहल और आश्चर्य का विषय हो गया, चर्चा हुई कि हमारे कार्यक्षेत्र में ये कौन लोग थे जो जातिवाद, भ्रष्टाचार और साम्प्रदायिकता के खिलाफ इतने मुखर तरीके से आवाज उठाते हुए लिख रहे हैं। मजदूर किसान शक्ति संगठन की सेंट्रल कमेटी ने तय किया कि डायमण्ड इण्डिया निकालने वाले लोगों से कोई कार्यकर्ता जाकर मिले और उनके साथ काम का एक रिश्ता बनाया जाए। दूसरी तरफ हम लोग भी चाह रहे थे कि इन लोगों के साथ मिल कर कुछ काम किया जाए। दोनों तरफ इच्छा थी मिलने मिलाने की, ध्येय भी एक ही था, मंजिल की ओर सफर हम सब लोगों को एक ही तरफ ले जा रहा था, लेकिन राहें अभी तक एक ना थी, अभी तो ढंग से मुलाकात भी नहीं हुई थी, लेकिन मुलाकात होनी ही थी, उसे कौन टाल सकता था।
        खैर, उस वक्त तो बात आई गई हो गई, हम भी अपने आप में मस्त और वे लोग भी अपने काम में व्यस्त, लेकिन मिलन का संयोग जल्दी ही बन गया और एक साम्प्रदायिक घटना की बदौलत हम मिल गए। हुआ यह कि भीलवाड़ा जिले की आसीन्द तहसील मुख्यालय पर स्थित गुर्जर समाज के अंतर्राष्ट्रीय धर्मस्थल सवाईभोज मंदिर परिसर में 400 साल से मौजूद रही एक कलंदरी मस्जिद को आरएसएस से प्रभावित उग्र गुर्जर युवाओं के एक समूह ने ढहा दिया आसीन्द अयोध्या बनने की राह पर था।
    आसीन्द बना अयोध्या: बाबरी से बराबरी 
       आसीन्द के निकटवर्ती गाँव गोविन्दपुरा में गुर्जर समाज के आराध्य एवं राजस्थान के सुप्रसिद्ध लोकदेवता देवनारायण का भव्य मंदिर बना हुआ है, यहीं पर बगडावत महाभारत हुआ था, जहाँ पर देवनारायण के पूर्वजों ने अपने दुश्मनों से लम्बी लड़ाई लड़ी थी, इस जगह पर कभी किसी मुगल बादशाह ने अपने संक्षिप्त प्रवास के दौरान नमाज अदा करने के लिए एक मस्जिद निर्मित करवाई थी, जो अब तक मौजूद थी। इस बारे में राजस्थानी की प्रख्यात लेखिका स्वर्गीय लक्ष्मी कुमारी चुण्डावत ने अपने विशाल ग्रन्थ'बगडावत महाभारत'में एक जगह लिखा है कि-'मुझे सवाईभोज मंदिर समूह के बीचों बीच मस्जिद का होना आश्चर्यजनक लगता है'मतलब यह है कि मस्जिद के अस्तित्व को सवाईभोज पर प्रामाणिक ग्रन्थ लिखने वाली लेखिका भी स्वीकार कर रही थीं। इस मस्जिद में वर्षों से शायद ही कभी नमाज पढ़ी गई थी, लेकिन वह वहाँ मौजूद थी, लेकिन जैसे-जैसे गुर्जर समाज में राजनैतिक और सामाजिक चेतना आने लगी और उनका भगवाकरण हुआ वैसे-वैसे इस मस्जिद का ढाँचा कतिपय युवाओं को अखरने लगा, वहाँ के लोगो ने इस जीर्ण शीर्ण धर्म स्थल का विध्वंस करने की तैयारी कर ली और मई जून 2001 को एक दिन यह कर भी दिया। मैंने कई बार सवाईभोज मंदिर को देखा था और उस मंदिर समूह के मध्य स्थित उक्त मस्जिद को भी देखा था।
        मुझे जैसे ही मस्जिद को गिरा दिए जाने की खबर मिली, मैं सवाईभोज जा धमका, जब मैं पहँुचा, तब तक मस्जिद पूरी तरह से तोड़ी जा चुकी थी और उसका मलबा पास में ही स्थित तालाबनुमा गड्ढे में डाल कर पानी भर कर उसे छिपा लिया गया था। अब कलंदरी मस्जिद की जगह पर पीर पछाड़ हनुमान (बजरंग बली) की मूर्ति स्थापित की जा चुकी थी, मैंने जल्दी से कुछ फोटो ली और भीलवाड़ा लौट आया। जब इस विध्वंस की खबर मीडिया तक पहँुची और आसीन्द के मुस्लिम समाज ने इसके विरोध में आवाज उठाई, तो देश भर में यह बात फैलने लगी। कई सारे चैनल्स और अखबारों के प्रतिनिधि आसींद पहुँचने लगे, आसींद एक अंतर्राष्ट्रीय मुद्दा हो गया, उन दिनों प्रतिदिन मैं भी आसींद जाता था। आसीन्द उस वक्त अयोध्या बना हुआ था और कलंदरी मस्जिद बाबरी मस्जिद की बराबरी कर रही थी, हंगामा तो होना ही था। आखिर यहाँ भी एक मस्जिद शहीद की गई थी अयोध्या की ही भाँति। मीडिया का बढ़ता दबाव और प्रशासनिक अदूरदर्शिता के चलते क्षेत्र में भयंकर तनाव फैल चुका था। वैसे भी भीलवाड़ा जिला गुर्जर समाज के लोगों की बहुलता वाला जिला है। वे जो कर दें वह सही माना जाता है, अब यह जो हुआ उसे भी अधिसंख्य लोग मौन स्वीकृति दिए हुए थे, सेकुलर किस्म के लोग भी चुप ही थे, कुछ तो वोट के डर से और कुछ लट्ठ के डर से। कौन पंगा ले? मैं जानता था कि यह कृत्य सम्पूर्ण गुर्जर समाज का नहीं है, इसमें अगुवाई संघ परिवार से जुड़े गुर्जर यूथ की अग्रणी भूमिका रही है। मैंने निश्चय किया कि कोई और बोले या नहीं बोले मुझे इस पर अपनी राय स्पष्ट रखनी होगी। मैं जरुर बोलूँगा, पर सवाल यह था कि किसके सामने?  मैं इसी ऊहापोह में आसींद पहँुचा ही था कि पता चला कि किन्ही मानवाधिकार संगठनांे की एक टीम आई हुई है और डाक बंगले में जिला कलेक्टर के साथ बातचीत करने गई है। मैं भी वहाँ पहँुचा, खिड़की से जो पहला चेहरा दिखा, वह पहचान में आ गया था, अरे ये तो मजदूर किसान शक्ति संगठन वाले लोग हैं, बाद में मिलने और परिचय से पता चला कि यह पीपुल्स यूनियन फॉर सिविल लिबर्टीज की फैक्ट फाइंडिंग टीम है, जो मस्जिद गिराई जाने की सच्चाई का पता लगाने पहँुची है। इसमें नीलाभ मिश्र, कविता श्रीवास्तव, निखिल डे और शंकर सिंह इत्यादि लोग शामिल हैं। उनकी खबर पाकर वहाँ पर कुछ अखबारों के प्रतिनिधि और टी.वी. चैनल्स के स्ट्रिंगर्स भी आ गए। जिला कलेक्टर और मीडिया कर्मियों से फ्री होने के बाद हम लोगों ने विस्तृत बातचीत की, मैंने उन्हें बताया कि इस सवाईभोज मंदिर परिसर में सदियों से बिना किसी तकलीफ के यह प्राचीन मस्जिद मौजूद रही है, जिसे अकारण ही तोड़ दिया गया और उस स्थान पर पीरपछाड़ हनुमानजी स्थापित किए जा चुके हैं, मैं इस घटना के तुरंत बाद घटनास्थल पर पहँुचा हूँ।
        मैंने मानवाधिकार संगठनों की इस टोली को वहाँ मस्जिद के होने से सम्बंधित कई दस्तावेज और फोटो उपलब्ध करवाए, क्यांेकि मंदिर ट्रस्ट ने वहाँ कभी भी कोई मस्जिद होने की बात को सिरे से ही नकार दिया था। मैंने यह भी कहा कि आज भी मंदिर परिसर में लक्ष्मी कुमारी चुण्डावत की किताब बिक रही है, उसमें भी इस मस्जिद का जिक्र है। मैंने यह भी कहा कि कलंदरी की इस शहादत का सबसे प्रमुख आरोपी कांग्रेस के एक बड़े नेता का बेहद नजदीकी है, संयोग से ये नेताजी आजकल राजस्थान कांग्रेस के खेवनहार हैं। कभी-कभी जातिवाद का जोर इतना हो जाता है कि जातिहित में लोग अपनी विचार धाराओं का भी त्याग कर देते हैं। सवाई भोज मस्जिद मामले में गुर्जर समाज पूरी तरह एकजुट था, किसी भी पार्टी या विचारधारा से ताल्लुक रखने वाला व्यक्ति क्यों ना हो, वह अपनी जाति के लिए कुर्बान होने को तैयार था। उन दिनों मुझे आसीन्द का यह मंदिर अकाल तख्त की याद दिलाता था, लोग चीखती हुई खाड़कू जबान में धमकियाँ देते थे कि जो भी मस्जिद की बात करेंगे, उन्हें काट डाला जाएगा। मैंने हर बार की तरह इस बार भी किसी की परवाह नहीं की, मैंने सच को उजागर करने की कोशिशंे जारी रखीं और अपनी हैसियत के मुताबिक आवाज भी बुलंद करने की कोशिश की। मैंने मानवाधिकार संगठनों की तथ्यान्वेशी टीम को यह भी बताया कि यहाँ पर कट्टरपंथियों ने ना केवल मस्जिद गिराई है, बल्कि अब इसी इलाके में स्थित बाडिया दरगाह पर हर साल होने वाला उर्स भी नहीं होने दे रहे हैं। मैंने यह भी आशंका प्रकट की कि अगर कोई अल्पसंख्यक भूलवश भी सवाईभोज क्षेत्र में चला जाए तो उसकी जान खतरे में पड़ सकती है, क्योंकि यहाँ पर इस वक्त देश भर से कई बाहुबलियों ने डेरा डाल रखा है और यह बात सच भी थी। किसी आम आदमी को अकेले इस परिसर में जाने से ही भय लगने लगा था, इस दौरान कई मीडियाकर्मी और पुलिसकर्मी उग्र युवाओं के हाथों पिट चुके थे। कुल मिलाकर आतंक का जबरदस्त माहौल था, ऐसे में अकेले ही जूझना पड़ रहा था, अंजाम तो साफ दिखता था पर अंजाम की फिक्र किसे थी। सदैव की तरह वही तसल्ली थी कि जो भी होगा सो देखा जाएगा, हालाँकि कुछ भी हुआ नहीं, मेरी अलोकप्रियता में थोड़ी बढ़ोत्तरी जरूर हो गई और हिन्दू 
    विरोधी होने का प्रमाणपत्र भी हासिल हो गया। कहते हैं कि कालांतर में सवाईभोज के इस मंदिर के पुजारी दलित हुआ करते थे, आज भी ज्यादातर देवनारायण मंदिरों के पुजारी दलित समुदाय के ही लोग होते हैं, लेकिन पिछले एक दशक से उन्हें मंदिरों से हटाया जा रहा है। ऐसे ही इस सबसे बड़ेे मंदिर से भी दलित बाहर कर दिए गए, अब तो दलित भी इस मंदिर से दूर ही रहते है, कभी कभार कोई भूला भटका मंदिर देखने चला जाए तो वह अलग बात है। हालाँकि दलित पुजारियों के पास राजशाही काल का ताम्रपत्र भी है। आजकल ग्रामीण भारत के कथित धार्मिक स्थल दलितों के भेदभाव के सबसे बड़ेे अड्डे बन गए है। 
        कलंदरी कांड के बाद इस जगह को पवित्र करने के लिए किए गए अश्वमेध यज्ञ में दलितों की भागीदारी के सवाल को बहुत ही अपमानजनक तरीके से नकार दिया गया, उन्हें तमाम कोशिशों के बावजूद आहुति मंडप में नहीं बैठने दिया गया। यज्ञ के मुख्य आयोजक खडे़शवरी बाबा ने साफ ऐलान किया कि यज्ञ में अवर्ण और शूद्र वर्ग को नहीं बैठाया जाएगा। मैं इस बात के पक्ष में नहीं था कि दलित यज्ञ में बैठें लेकिन यह एक टेस्ट था जिसके जरिए यह पता लगाना था कि 'हिन्दू-हिन्दू भाई भाई'का जाप करने वाले लोग इन धार्मिक रीति रिवाजों में भी दलितों को बराबरी का मौका देते हैं या नहीं। आप आश्चर्य करेंगे कि दलित यज्ञ में बैठने की माँग उठा रहे थे। इसका यहाँ के सारे हिन्दुत्ववादी संगठन विरोध कर रहे थे खुल करके और बाबा तो हम जैसों को श्राप देने पर ही उतारू थे, हमने इस सिद्ध पुरुष माने गए खड़ेशवरी महाराज से बात करने का निश्चय किया और चल पड़े आसीन्द की ओर।
    अष्वमेध का घोड़ा
        इन सिद्ध महापुरुष के नाम के आगे श्री श्री 1008 एवं पूज्यपाद लिखा जाता है। इनकी खासियत यह है कि ये वर्षों से खड़े हुए हैं, नीचे नहीं बैठे हैं, मौन भी रहते हैं, इनके भक्त इन्हें दाता कह कर सम्मान देते हंै, इन्होंने आसीन्द के सवाईभोज से लगाकर बनेड़ा तहसील के दांता पायरा गाँव तक जितने भी यज्ञ करवाए हैं, उनसे दलितों को दूर रखने में सफलता पाई है। इनसे मिलने जब हम सब साथी पहँुचे और बाबा जी से बात करनी चाही तो पता चला कि दाता तो कुछ बोलेंगे नहीं फिर भी मिल लो, वे इशारों में ही संकेत देंगे। मैं और जगपुरा वाले गिरधारी जी तथा अन्य साथी इस वार्तालाप हेतु आगे हुए, वाकई बाबाजी तो कुछ भी नहीं बोले, सिर्फ हमें आग्नेय नेत्रों से घूर-घूर कर देखते रहे। उनके भक्तों ने हमारा सामान्य ज्ञान बढ़ाया कि अगर दाता चाहें तो अभी का अभी आप लोगों को यहीं पर 'भस्म'कर सकते हैं। एक बार तो मेरी भी भस्म होने की इच्छा हो आई, मैंने कहा हम यज्ञ में दलितों को शामिल करवा कर जाएँगे या भस्म होकर ही, बिना भस्म हुए यहाँ से जाएँगे नहीं, चाहे तो हमें यज्ञ की आहुति में डाल कर भस्म करें अथवा मन्त्रों के जरिए करें, या तो दलित भी इस यज्ञ का हिस्सा होंगे अथवा हम भस्म होने को तत्पर हंै, खैर, भस्म तो क्या करते बेचारे, खुद ही भस्म भभूत शरीर के चुप खड़े थे, लेकिन इस विवाद का असर अश्वमेध यज्ञ के इस पूरे आयोजन पर पड़ा और ज्यादातर यज्ञ वेदिकाएँ खाली रह गईं, इस तरह कलयुग के अश्वमेध का घोड़ा बीच में ही रुक गया। कथित धार्मिक लोग जो कि वास्तव में अधिकतर पाखंडी थे, उन्हें बहुत बुरा लगा। बाद में इन्हीं महाराज के सानिध्य में दांता पायरा में हुए यज्ञ में भी दलितों के प्रति यही भेदभाव दोहराया गया। यहाँ इन बाबाजी का आश्रम भी बना है, आश्रम के लिए श्रमदान दलितों से करवाया गया। यज्ञ में धुँआ निकालने के लिए लकडि़याँ दलितों से मँगवाई गईं, दलितों के नाम चंदे की रसीदें भी काटी गईं, मगर जब यज्ञ वेदिकाओं में आहुतियाँ देने के लिए युगलों की आवश्यकता हुई तो वे 108 हवनकुंडों में से एक पर भी दलित जोड़े को बिठाने को राजी नहीं हुए। इलाके के ग्रामीण जिला प्रशासन के पास शिकायत लेकर पहँुचे मगर सुनवाई नहीं हुई, तब वे मेरे पास आए, हमारे पहँुचने भर की देर थी, प्रशासन और बाबाजी सब हरकत में आ गए। उन्हें लग गया कि यज्ञ विरोधी तत्व आ गए हैं, आयोजन बिगड़ जाएगा, इसलिए आनन फानन में एक समझौता कमेटी बनाई गई, बनेड़ा उपखंड कार्यालय में समझौता वार्ता हुई, मैंने प्रस्ताव रखा कि 108 में से 8 हवन कुंडों पर दलित युगल बैठेंगे। यज्ञ कमेटी ने इस माँग को सिरे से ही नकार दिया और एक लिखित प्रस्ताव निकाल कर पढ़कर सुनाने लगे, जिसमें लिखा था कि दलितों के लिए अलग हवन कुंड बनाए जाएँगे तथा कोई भी दलित भोजनशाला की तरफ नहीं जाएगा। उपखंड प्रशासन की मौजूदगी में पटवारी द्वारा पढ़े गए इस अपमानजनक प्रस्ताव ने मुझे आग बबूला कर दिया, मैंने प्रशासन को संबोधित करके कहा कि क्या सार्वजनिक स्थल पर किए जा रहे इस आयोजन में इस प्रकार का भेदभाव किया जा सकता है। मैं वहीं अड़ गया कि हमें अब यज्ञ में नहीं बैठना है, हम चाहते है कि ऐसा प्रस्ताव लाने वालों के विरुद्ध अजा, जजा (अत्याचार निवारण) अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया जाए, बात बनने के बजाए बिगड़ गई। प्रशासन ने यज्ञ समिति को साफ कह दिया कि अपना सामान तुरंत समेटो, अब यह यज्ञ नहीं हो सकता। बाद में यज्ञ समिति के लोग यज्ञ में दलितों की भागीदारी के लिए भी राजी हो गए पर दलितों ने इसे स्वीकार नहीं किया, हमारी सिर्फ यही माँग रही कि सार्वजनिक भूमि पर यह यज्ञ नहीं किया जाए।
        अंततः यज्ञ तो हुआ लेकिन किसी व्यक्ति विशेष की खातेदारी जमीन में करना पड़ा। यज्ञ हेतु बनाई गई समिधाएँ और यज्ञ का झंडा बहुत दिनों तक वहीं लहराता रहा, जो बाद में अपने आप ही फट भी गया, परम पूज्य 'दाता'जिला कलेक्टर के पास गए और वहाँ रो पड़े, इससे उनके भक्त काफी भड़क गए। शिवसेना कमांडो फोर्स के जिला प्रमुख ने मुझे भावनात्मक धमकी भरा फोन किया कि पहले के जमाने में राक्षस यज्ञ बिगाड़ देते थे और अब कलियुग में तुम जैसे लोग यज्ञ में विघ्न डालते हैं, आज तुम्हारी वजह से पहली बार दाता की आँखों में आँसू आ गए हैं। मैंने उनकी बात सम्पूर्ण धैर्य के साथ सुनी और बस इतनी सी बात कह कर फोन काट दिया कि-आप मुझे राक्षस कहें या कुछ और मुझे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है, रही बात आपके दाता की आँखों में आए आँसूओं की तो ऐसे लोगों की वजह से देश के मेरे करोड़ों करोड़ दलित भाई बहनों की आँखों में आँसू है। मैं किनके आँसू देखँू और किनके साथ रोऊँ, मुझे किसी दाता या बाबा की आँख के आँसू से ज्यादा चिंता मेरे लोगों की आँखों के आँसुओं की है। यह यज्ञ सरकारी जमीन पर नहीं होगा और कहीं कर लो, हमें कोई दिक्कत नहीं है। इसके बाद यज्ञ समिति के एक संरक्षक और क्षेत्र के नामी गिरामी एक भाजपा नेता की धमकी आई कि इन धर्मद्रोहियों को गोली मार देंगे, हमने उसी भाषा में जवाब भेज दिया कि हमारी बंदूकों में भी गोलियाँ ही भरी हुई हैं, हम कौन भूसा भरे, हाथों पे हाथ धरे बैठे हैं, तैयार हैं हम भी, जब चाहे तब जोर आजमाइश कर लें। उन्हें तो लगा था कि गोली के नाम पर ही हम बेहोश हो जाएँगे, लेकिन जब ईंट का जवाब पत्थर से मिलने की संभावना बनी तो वे महाशय इस पूरी लड़ाई से ही अलग हो गए, कुल मिलाकर उस सार्वजनिक स्थान पर हमने यज्ञ नहीं होने दिया।
       -भँवर मेघवंशी
      ...........शेष अगले अंक में 
    लेखक की शीघ्र प्रकाश्य आत्मकथा 
    'हिन्दू तालिबान 
    मोबाइल: 09571047777
    लोकसंघर्ष पत्रिका के जून2015 अंक प्रकाशित
    प्रस्तुतकर्ता पर  

    0 0

    Railway Board permits Bhartiya Rail Dalit Mazdoor Association (BRDMA ) to hold meetings on Railway lands , community halls, railway institutes in 11 cities to welcome winning members of Parliament Vide Railway Board's letter No. 2009 /LML/18/II/Pt.II , New Delhi Dated 27.06.2014 . The letter is herewith attached for download . The first meeting is being held on 29.06.15 at Railway Indraprasth Community Center , North Eastern Railway , New Loco Colony , Lahartara , Varanasi . . 10 such kinds of meeting will be held over Indian Railway in Mumbai , Chennai , Hyderabad , Lucknow , Kolkata , Guwahati , New Delhi , Bilaspur , Jaipur and Bangalore . 
    All railway employees are requested to participate in the meetings . BRDMA mission is to destroy recognized federations AIRF and NFIR of Indian Railway and support BRMS to get recognition in 2018 . AIRF and NFIR are cheat . 
    Rajendra Ram , National General Secretary , Bhartiya Rail Dalit Mazdoor Association





    0 0

    विडियो – गौहत्या का आरोप लगाकर एक मुसलमान को सरे-आम पीटा

    पश्चिमी उत्तर प्रदेश जनपद शामली का यह वीडियो यह बताने के लिये काफी है कि आंतकवाद सिर्फ मुंह पर कपड़ा बांधकर किसी शहर में बम फोड़ देना ही नहीं होता बल्कि किसी इंसान को कानून और प्रशासन से बेपरवाह अपनी खाप संगठन के कानून पर सजा देना भी होता है। जो व्यक्ति इस वीडियो में है जिसकी पिटाई की जा रही है उसका नाम रियाज है, और जो इस व्यक्ति की बेरहमी से पिटाई कर रहे हैं वे बजरंगदल के सदस्य के कार्यकर्ता है,

    विडियो – गौहत्या का आरोप लगाकर एक मुसलमान को सरे-आम पीटा

    पश्चिमी उत्तर प्रदेश जनपद शामली का यह वीडियो यह बताने के लिये काफी है कि आंतकवाद सिर्फ मुंह पर कपड़ा बांधकर किसी शहर में बम फोड़ देना ही नहीं होता बल्कि किसी इंसान को कानून और प्रशासन से बेपरवाह अपनी खाप संगठन के कानून पर सजा देना भी होता है। जो व्यक्ति इस वीडियो में है जिसकी पिटाई की जा रही है उसका नाम रियाज है, और जो इस व्यक्ति की बेरहमी से पिटाई कर रहे हैं वे बजरंगदल के सदस्य के कार्यकर्ता है,

    bajrangdal-activist-beating-a-muslim-man-publicly 2

    रियाज पर गौकशी करने के का आरोप था, गाय के नाम जिस तरह से एक समुदाय को आतंकित किया जा रहा है वह देश हित में नही है। किसी ने गाय काटी या चोरी की उसकी सजा कानून तय करता है ये दक्षिणपंथी और अघोषित आंतकवादी संगठन नहीं। अगर यह देश कानून से चलता है तो फिर इन घटनाओं पर प्रतिंबध लग जाना चाहिये अन्यथा यह देश हिंदू पाकिस्तान बनने के लिये तैयार बैठा जिसका खामियाजा कल को हर कोई भुगतेगा।

    एक व्यक्ति को सरे आम मारा पीटा जा रहा है और पुलिस खामोश है यह क्या उन पुलिस वालों से सवाल नहीं पूछा जाना चाहिये कि कैसे चंद लोगों ने कानून को मजाक बना दिया, उसका तमाशा बना दिया। यह खून जो रियाज के चेहरे से बह रहा है किसी भले ही किसी व्यक्ति का हो मगर यह खून कानून का भी है, और किसी रियाज के जिस्म पर पड़ने वाले इस तरह का डंडा इस देश के संविधान पर चोट कर रहा है।

    संभल जाईये अब भी वक्त है, आगे वक्त बहुत खराब आने वाला है क्योंकि इन ताकतों ने कसम खाई है कि वे इस देश की गंगा जमुनी संस्कृति के ताबूत में कील ठोंकेंगे।

    पश्चिमी उत्तर प्रदेश जनपद शामली का यह वीडियो यह बताने के लिये काफी है कि आंतकवाद सिर्फ मुंह पर कपड़ा बांधकर...


    0 0

    वसुंधरा राजे सिंधिया का जो बयान लीक हुआ है, वह उन्होंने अगस्त 2011 में दिया था. उन दिनों वो राजस्थान में विपक्ष की नेता थीं. बयान की शुरुआत में वसुंधरा ने लिखा 'मैं यह बयान ललित मोदी की इमिग्रेशन एप्लिकेशन के समर्थन में दे रही हूं. लेकिन बयान इस कड़ी शर्त पर है कि मेरे इस सहयोग का पता भारतीय अधिकारियों को नहीं चलना चाहिए.'बयान में वसुंधरा ने कहा - 'भारतीय राजनीति में मेरे दखल और समझ के कारण मुझे इस बात में कोई शक नहीं है कि ललित जिस तरह के हमले का सामना कर रहे हैं, वह राजनीति से प्रेरित है. भारतीय राजनीति के अंदर मौजूद कुछ तत्व अपने प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ बदला लेकर अपना हित साधना चाहते हैं. देश में ललित के खिलाफ अभी जो कुछ चल रहा है, उसके पीछे यही मंशा है.'वसुंधरा ने आगे लिखा कि - '2008 के चुनावी अभियान के दौरान ललित मेरे मुख्य समर्थकों में से एक रहे हैं. ललित की कामयाबी के कारण कांग्रेस के पुराने नेता और क्रिकेट में दखल रखने वाले पुराने लोगों को जलन हुई. अब तक वे ललित को भाजपा समर्थक और कांग्रेस विरोधी घोषित कर चुके हैं.'

    वसुंधरा राजे सिंधिया पर आरोप है कि ललित मोदी के लिए गुप्त गवाह वसुंधरा ने ब्रिटेन की निचली इमीग्रेशन अदालत को दिए अपने बयान में ललित मोदी को इमिग्रेशन दिए जाने का समर्थन किया. निचली कोर्ट ने इसी आधार पर ललित मोदी को ब्रिटेन में ही रहने की इजाजत दी थी कि भारत में उनकी जान को खतरा है. 
    खबरों के मुताबिक ब्रिटेन के अपर ट्रिब्यूनल ने भी अपने फैसले में ललित मोदी के पक्ष में दी गई गवाहियों को ही आधार बनाया. ट्रिब्यूनल ने कहा- 'ललित मोदी की जान को खतरा है. राजनीतिक पृष्ठभूमि के कारण भारत सरकार ने उनकी सुरक्षा का स्तर घटा दिया है. यह बात विश्वसनीय गवाहों से साबित होती है.'बताया जाता है कि वसुंधरा राजे भी उन विश्वसनीय गवाहों में से एक थीं और इन गवाहों के बयान के चलते ही ब्रिटेन की अदालत ने भी ललित मोदी को वहां रुकने की इजाजत दी.




    0 0

    "पुरोगामी महाराष्ट्रात शाहू जयंती 


    दिनी दलित अत्याचार"


    पुणे जिल्ह्यातील इंदापूर तालुक्यातिल शेवटच्या टोकावर लाखेवाडी हे एक छोटंसं गाव आहे या गावामध्ये मातंग समाज कमी प्रमाणात राहतो आहे जातिवादाचा कायमचा डाग लागलेला हा परिसर कु प्रसिद्ध आहे १९७२ मध्ये बावडा दलित बहिष्कार प्रकरण देशभर गाजलं होतं.त्यामध्ये माजी सहकार मंत्री हर्षवर्धन पाटील यांचे वडील शहाजिराव बाजीराव पाटील यांना सक्त कारावासाची शिक्षा झाली होती.
    तसेच गेल्या तिन वर्षापूर्वी चन्द्रकांत गायकवाड नावाच्या जांभ येथील दलित कार्यकर्त्याची गोळ्या घालून ह्त्या करण्यात आली होती.१५ऑगस्ट२०१० मध्ये निरानरसिंहपुर येथील दलित वस्तीवर भ्याड हल्ला झाला होता.असाआहे इंदापूर तालुक्यातील दलित अत्याचाराचा थोडक्यात इतिहास
    अशा अनेक घटना घडत असतात पण काही दलित चमचां मार्फत जातीयवाद्यांच्या ताकदीची भीती घालून प्रकरण दडपली जातात आणि आवाज दाबला जातो हे त्रिवार सत्य 
    लाखेवाडी मध्ये एका शेतामध्ये भिंगारदिवे आड़नावाचं दलित कुठुंब आपल्या शेतामध्ये शेती करून उदरनिर्वाह करुण आपली उपजीविका करत आहे.
    खेडोपाडी एखादया दलिताकडे सहा एकर जमीन असने म्हणजे या भागात गुन्हाचं आहे
    दलितानी आमच्या शेतात राबावं आमची गुलामगिरी करावी ही जातीयवाद्यांची मानसिकता आहे.दलिताने जमीन आम्हाला विकावी आणि त्याने भूमिहीन होउन आमची गुलामी करावी अशी सवर्ण समाजाची तीव्र मानसिकता आहे म्हणून गेल्या अनेक वर्षापासून भिंगारदिवे कुठुंबा वर शिंगाडे व इतर बांधकरी नको नको ते हतकंडे वापरून भिंगारदिवे कुठुंबाने जमीन विकावी असा शिंगाडे व इतरांचा मानस आहे.त्या दृष्टीकोनातुन कोणत्या ना कोणत्या कारणाने भांडन काढने सार्वजनिक हातपंपावर पानी भरण्यास मज्जाव करने, रस्त्यावर काटे टाकने,लहान मुले शाळेत जात असताना त्यांच्या अंगावर गाडी घालून भीती घालने,लज्जा उत्पन्न होईल असे वर्तन करने असे प्रकार करूनही दलित कुठुंब शेती विकत नाही.म्हणून शेळगाव येथील २०ते२५ गुंड पैलवान भाड्याने आणून काल सायं पाच वाजता दलित कुठुंबावर भ्याड हल्ला केला त्यामध्ये सहाजन गंभीर जख्मी असून त्यांचेवर उपचार चालु आहेत.

    कोनाला या प्रकरणा बद्दल माहीत हवी असल्यास 
    पी.आय.शिंदे मो.9923052999 क्रमांकावर कॉल करून घडलेल्या प्रकाराचा जाब विचारा....

    आपला
    सुनील झेंडे
    बहुजन समाज पार्टी
    इंदापूर विधानसभा
    मो.9545574414
    9421079693
    7841075561


    0 0

    Raju Bhaiya's photo.

    मौन मोदी करत ललितासन ...
    चुप्पासन करे घनघोर 
    पब्लिक सब जाने खूब मचेगा शोर ..
    भारत में वर्ल्ड फेमस मिस काल भारतीय जुमला पार्टी जिसका आजकल बैड लक खराब है मगर इस्तीफ़ा देने का कोई प्रावधान नहीं ..सिर्फ काले कारनामो की क्लीन चिट मिलती है..
    ‪#‎अबकी_बार_हाहाकार‬


    0 0



    Santosh Suryawanshi
     ब्राह्मन हिंदू नाही तो वैदिक आहे! संस्कृताचा अधिकारी आहे.भारतीयांना (obc sc st nt vjnt) कुठे तो अधिकार !
    दोघे भिन्न होय.



    0 0

    35 साल के वार्ड पंच ने की 6 साल की बच्ची से शादी, 
    अब हो गया परिवार सहित गांव से गायब
    ============================
    Rajasthan- चित्तौड़गढ़Jun 27, 2015, 
    गंगरार/चित्ताैड़गढ़। गंगरार क्षेत्र की सोनियाना ग्राम पंचायत के 35 साल के वार्ड पंच ने पिछले दिनों 6 साल की मासूम से शादी कर ली। जैसे ही इसकी खबरें और फोटोज सोशल मीडिया पर वायरल हुए, प्रशासन को खबर लगी, तब से ही शादी करने वाला यह वार्ड पंच परिवार सहित गायब हो गया है।
    असल में गंगरार के रतनलाल जाट की काफी समय से शादी नहीं हो रही थी। शादीशुदा होने का ठप्पा लगाने के लिए ही उसने 6 साल की बालिका से पिछले दिनों 22 जून को गुपचुप शादी रचा ली। इससे पहले इसके पास नाता प्रथा से विवाह का प्रस्ताव आया था। जबकि जानकारों का कहना है कि इसे नाता प्रथा का विवाह नहीं कहा जा सकता, क्योंकि उस स्थिति में तो शादी करने वाले का पूर्व में ही बाल विवाह हो चुका होता है।
    बालिका के माता-पिता की मौजूदगी में हुई शादी

    बालिका की शादी उसके माता-पिता की मौजूदगी में करवाई गई। बताया जा रहा है कि बालिका से रतनलाल जाट ने कुछ घंटों के लिए शादी की, ताकि उसे शादीशुदा होने की योग्यता मिल जाए। इसके बाद उसने बच्ची को उसके परिवार के पास ही छोड़ दिया। बताया जा रहा है कि यह शादी भी उसने बच्ची के माता-पिता को पैसे देकर रचाई। जैसे ही प्रशासन को पता चला, वह बच्ची को उसके माता-पिता के पास कुछ घंटों बाद ही छोड़कर चला गया।
    पांच सदस्‍यीय टीम ने की जांच
    गंगरार एसडीएम ज्ञानमल खटीक तक भी पहुंची। इस पर उन्होंने पांच सदस्यीय एक टीम का गठन कर जांच के आदेश दिए। टीम में शामिल तहसीलदार गोपाललाल बंजारा, बीडीओ रूपलाल रैगर, गंगरार सीआई ज्ञानेंद्रसिंह मय जाब्ता शुक्रवार को गणेशपुरा गांव में पहुंचे।
    पंडित भी था उप सरपंच का पति 
    जांच दल गांव में पहुंचा तो आरोपी वार्ड पंच के घर पर ताला जड़ा हुआ था। माता-पिता सहित पूरा परिवार गायब था। उल्लेखनीय यह भी है कि शादी की रस्में कराने वाला पंडित भी सोनियाना ग्राम पंचायत के उप सरपंच का पति है।
    क्‍या है नाथा प्रथा
    राजस्थान में दशकों से बाल विवाह की प्रथा चल रही है। हालांकि शारदा एक्ट के तहत फिलहाल यह गैर कानूनी है, लेकिन फिर भी चोरी-छिपे कई परिवारों में ऐसा होता रहता है। इस बाल विवाह के बाद जब बच्चे बड़े होते हैं और लड़का कहीं बाहर चला जाता है तो कई बार वह बाल विवाह में बनी पत्नी को साथ ले जाने से मना कर देता है। इस पर नाता प्रथा के तहत फैसला होता है कि वह दूसरी शादी तो कर सकता है, लेकिन पहली पत्नी को वह खर्च के रूप में कुछ राशि देता है। यह राशि 50 हजार रुपए से ऊपर कितनी भी हो सकती है। यानी सामाजिक रूप से तलाक।

    गंगरार क्षेत्र की सोनियाना ग्राम पंचायत के 35 साल के वार्ड पंच ने पिछले दिनों 6 साल की मासूम से शादी कर ली। जैसे ही इसकी खबरें और फोटोज सोशल मीडिया पर वायरल हुए, प्रशासन को...


    0 0


    हिन्दुओं और मुस्लिमों के देशों में जब लड़कियां पैदा होती है तो उसे शुरुवात से ही पता होता है उसके अधिकार उसकी दुनिया कितनी सीमित है ....उसे क्या-क्या करना और झेलना है अपनी जिंदगी में. .इन महान धर्म वालों के देशों में महिलाओं को जितना पुरुषों पर निर्भर रहना पड़ता है,पुरी जिंदगी एक खूंटे से बंधे पशु के समान वो भी किसी विकाशशील देश में ढूंढे से न मिलेगा..... शिक्षा,जाँब और आगे बढ़ने से रोकना,घर की औरतों को,मारना पीटना ये सब तो गलत है ही नही..डेली रूटीन है....घर-घर की कहानी है यहाँ। लड़कियां भी अब उसी में खुश रहने,मुसकुराने लगी है..देश में पैदा होने की नियति मानकर.. जैसे खुदको पिंजरे में बंद होकर भी हिरनी समझने और कुलांचे मारने में गौरवतींत होना हो.. उसे पिंजरे के बाहर कदम रखने की सख्त मनाही है..अंदर ही खुश हो लो..,गा-बजा लो चाहे जितना.. .अब तो हालात इतने बुरे हैं कि,वो स्वयं पिंजरे की मांग करने लगती हैं...गाँवों की नही शहरी लड़कियां भी..भले वो शिक्षित हों..ग्रेजुएट हो.. आये दिन रेप,गैंगरेप, फांसी लटका के मारना ,तेजाब फैंकना,जला के मारना,आनर किलिंग और भी तमाम तरीके हैं..जो इनके देशों को छोड़कर और कहीं नही होते.. ..एकदम कॉपीराइट है इनका तमाम जाहिलीपन में....और ये रीती-रिवाज की तरह हंसी-ख़ुशी से चलते रहते हैं. देवी और कदमों के निचे जन्नत कहने वालों में और जानवरों में मामूली फर्क है बस.. और सबसे बुरा निराशाजनक तो ये है कि, जिनसे आस होनी चाहिए सुधार करने की वो पीढ़ी तो अब रेडीमेड जाहिल ही पैदा होने लगी है.... पैदा होने के साथोसाथ पुराने घटिया तौर-तरीके, जीवन-पद्धति को अपने-आप आत्मसात करने लगी है धर्म-ईश्वर और बढ़ों की खींची लकीर मानकर.. धर्म,संस्कृति-संसकार ढोते-ढोते दिमागी रुप से सड़कर एकदम बेकार हो चूंके हैं सबके सब.. शायद अब ये नही समझने,सुधरने वाले..और ये कौमे जिस तरह से झंडा उठाये और भी तमाम आपसी मारकाट में लगी हैं अपने-अपने देशों में... इनका,इनके ईश्वर,धर्म का यहाँ तक कि,इनकी पूरी नश्ल का भी खत्म होने का खतरा है..इसी सदी में नहीं आनेवाली सदियों में...खत्म ही होजाये तो अच्छा.. तब वापस आएंगे वही अंग्रेज फिर से रिचर्स करने...इन जाहिलों की सभ्यता के खात्मे का..वैसे उन्हें पहले से पता है.ये कहाँ तक जानेवाले हैं..सबकुछ कंट्रोल में है उनके..जब चाहे वो कुछ भी कर भी सकते हैं इन जाहिलों के साथ...अगर चाहें तो... आधी आबादी को गुलाम बनाकर रखते हुए..देश,धर्म,भगवान-खुदाओं को और अपने सारे कुकर्मों-कार्यों को श्रेष्ट साबित करने की दलील खूब देते हैं...लेकिन... सभ्य शब्दों में दीजियेगा भाई लोगन... बहुत सी महिलायें भी पढ़ने वाली हैं...

    0 0

    आँस्ट्रेलियात वायटर या ठिकाणी कडाक्याच्या थंडीमुळे प्रत्येक वर्षी बर्फाचा गोळा तयार होतो . 
    तेथील लोक आपल्या मुलांना वैज्ञानिक दृष्टिकोन ठेऊन असे का होते याविषयी शिकवतात . कारण तिकडे अंधश्रध्दा पसरवणारे ब्राम्हण नाहीत .
    पण जर तिथे अंधश्रध्दा पसरवणारे ब्राम्हण असते तर नक्कीच त्यांनी , "हे पवित्र शिवलिंग आहे, याची पूजा करा , शिवजी तुमच्यावर प्रसन्न होतील " असं सांगून अंधश्रध्दा पसरवली असती ....
    संकलन विवेक कुराडे पाटील

    Vivek Kurade Patil's photo.


    0 0

    সিধুকে সমবেদনা জানিয়ে পত্র..
    http://www.prothom-alo.com/roshalo/article/564772

    শ্রদ্ধেয় সিধু দাদা,পত্রের শুরুতে আপনাকে জানাই সিরিজ-জয়ের আনন্দে উদ্বেলিত হৃদয় থেকে আন্তরিক শুভেচ্ছা। আশা করি ভালো নেই। ভালো থাকার কথাও নয়! পূর্ণশক্তির দল নিয়ে দুবারের বিশ্বচ্যাম্পিয়ন ভারতের ওয়ানডে সিরিজ হারের চেয়ে দুঃখজনক খবর আপনার কাছে আর কী-ই বা হতে পারে!...

older | 1 | .... | 126 | 127 | (Page 128) | 129 | 130 | .... | 303 | newer